कोरोना अपडेट : 24 घंटे में 41 हजार नए मामले, 541 लोगों की मौत    |    बड़ी खबर : इस BJP सांसद को पुलिस ने किया गिरफ्तार, जाने क्या है मामला...    |    CG कोरोना अपडेट : प्रदेश में आज रायपुर में मिले सर्वाधिक मरीज, 203 मरीजों ने जीती कोरोना से जंग, देखें जिलेवार आंकड़े    |    आईसीएमआर अपडेट : आज शाम तक मिले इतने कोरोना पॉजिटिव, देखे जिलेवार आकड़े    |    बड़ी खबर : जेल में बैरक की दीवार ढही, 22 कैदी गंभीर रूप से घायल    |    CG कोरोना अपडेट : प्रदेश में आज एक्टिव मरीजो की संख्या हुई 2 हजार से कम, 243 मरीजों ने जीती कोरोना से जंग, देखें जिलेवार आंकड़े    |    बड़ी खबर: पान मसाला कंपनी पर आयकर का शिकंजा, 400 करोड़ रुपए के काले कारोबार का हुआ खुलासा    |    आईसीएमआर अपडेट : आज शाम तक मिले इतने कोरोना पॉजिटिव, आकडों में आज रायपुर से मिले सर्वाधिक    |    जज की संदिग्ध मौत पर सुप्रीम कोर्ट ने लिया संज्ञान, सरकार से एक हफ्ते में मांगा जवाब    |    CG कोरोना अपडेट : प्रदेश में आज मिले सिर्फ इतने ही मरीज, 270 मरीजों ने जीती कोरोना से जंग, नही हुई किसी की मृत्यु, देखें जिलेवार आंकड़े    |
BIG BREAKING : रायपुर में लगातार बढ़ रहे है कोरोना के मामले, आज 18 हुए स्वस्थ, देखे पुरे जिले की स्थिति

BIG BREAKING : रायपुर में लगातार बढ़ रहे है कोरोना के मामले, आज 18 हुए स्वस्थ, देखे पुरे जिले की स्थिति

रायपुर | राजधानी रायपुर में आज 12 कोरोना मरीजों की पहचान हुई है। वही हॉस्पिटल से 10 और होम आइसोलेशन से 08 कुल 18 मरीज स्वस्थ हुए है। जबकि आज किसी मरीज की मौत नहीं हुई, इस प्रकार मौत का कुल आकड़ा 3138 हुआ, साथ ही अब रायपुर में एक्टिव मरीज 115 है। आज तक रायपुर में 157678 मरीजो की पहचान हुई है और 154425 मरीजों ने कोरोना से जंग जीती है।
आपको बता दे छत्तीसगढ़ प्रदेश में आज कुल 102 नए कोरोना मरीजों की पहचान की गई है | जिसमे जिला रायपुर से सर्वाधिक 12 मरीज मिले है| आज प्रदेश में कुल 203 कोरोना संक्रमित मरीज कोरोना की जंग जीत कर स्वस्थ्य हुए है | राज्य में आज कुल 01 कोरोना संक्रमितों की मौत हुई है | प्रदेश में अब कुल एक्टिव मरीजों की संख्या 1863 है | आज प्रदेश में 38644 टेस्ट हुए है |


 

विवेकानंद एडीजी के पद पर पदोन्नत, चार एडिशनल एसपी की हुई नई पोस्टिंग

विवेकानंद एडीजी के पद पर पदोन्नत, चार एडिशनल एसपी की हुई नई पोस्टिंग

रायपुर, भारतीय पुलिस सेवा के अफसर विवेकानंद एडीजी के पद पर पदोन्नत हो गए हैं। इससे परे चार एडिशनल एसपी की नई पोस्टिंग हुई है।
गृह विभाग से जारी आदेश के मुताबिक धर्मेन्द्र कुमार छवई को प्रभारी सेनानी नारायणपुर से अमलेश्वर, उमेश चौधरी को एआईजी पीएचक्यू, और चैनदास टंडन को एसपी बिलासपुर रेडियो जोन, और सुरजनराम भगत को उप सेनानी महासमुंद से कांकेर पदस्थ किया गया है।
दूसरी तरफ 96 बैच के अफसर विवेकानंद एडीजी के पद पर पदोन्नत हो गए हैं। वे दुर्ग आईजी के पद पर हैं।
 

 एटीएम मशीन का शटर तोड़कर 30 हजार रुपये चोरी, अज्ञात चोर के खिलाफ मामला दर्ज

एटीएम मशीन का शटर तोड़कर 30 हजार रुपये चोरी, अज्ञात चोर के खिलाफ मामला दर्ज

रायपुर। एटीएमबुथ का शटर तोड़कर नगदी चोरी कर लेने की रिपोर्ट खमतराई थाने में दर्ज करायी गई है। मिली जानकारी के अनुसार अमलेश्वर दुर्ग निवासी रुपेन्द्र साहू 32 वर्ष ने थाने में शिकायत दर्ज करायी है कि वह टीएसआई प्राईवेट कंपनी रायपुर में जिला कार्यपालक मशीनरी के पद पर कार्य करता है। कंपनी द्वारा भारतीय स्टेट बैंक का मशीन कई स्थानों पर लगाया गया है। जिसमें एटीएम मशीन खमतराई ओव्हरब्रिज के नीचे लगा हुआ है। 30 जुलाई रात्रि 3.55से 4.05 बजे के बीच किसी ने एटीएम बुथ में घुसकर एटीएम का शटर तोड़कर एक एटीएम मशीन से 10 हजार रुपये तथा दूसरे से 20 हजार कुल 30 हजार रुपये की चोरी कर लिया है। मामले की जानकारी एटीएम मशीन में कैश डालने गए टीम से मिला। जिसके बाद मामले की शिकायत थाने में दर्ज करायी गई है। पुलिस ने अज्ञात आरोपियों के खिलाफ अपराध कायम कर जांच में जुटी है।
 रायपुर में कारोबारी से ठगी: फूड कंपनी का एजेंसी देने के नाम पर कारोबारी से लाखों रूपये की ठगी

रायपुर में कारोबारी से ठगी: फूड कंपनी का एजेंसी देने के नाम पर कारोबारी से लाखों रूपये की ठगी

रायपुर। फूड प्रोडक्ट का फेसबुक पर फर्जी विज्ञापन देकर एंजेसी देने के नाम पर एक व्यक्ति से सात लाख रुपये की ठगी करने की रिपोर्ट आजाद चौक थाने में दर्ज करायी गई है।

मिली जानकारी के अनुसार समता कालोनी आजाद चौक निवासी मोती सचदेव 66 वर्ष पिता सुदामामल सचदेव ने थाने में शिकायत दर्ज करायी है कि वह व उसकी पत्नी कमला सचदेव एमआर फूड के नाम से कंपनी चलाते है। छोटे भाई श्रवण सचदेव ने हाल ही में फेसबुक पर यमी फूड कंपनी के फूड प्रोडक्टस का एक ऐड देखा। इसे मोनिका सोनी नाम की लड़की ने पोस्ट किया था। छत्तीसगढ़ राज्य के लिए एजेंसी लेने के लिए उस पर दिए नंबर पर संपर्क किया। इस पर 10 जुलाई को उनकी बात मुकेश कुमार सिन्हा नाम के व्यक्ति से हुई। उसने खुद को यमी फूड्स कंपनी को  छग.प्रदेश का एरिया सेल्स मैनेजर बताया। अगले दिन 11 जुलाई को मुकेश समता कॉलोनी स्थित कारोबारी सचदेव के पास पहुंचा। उसने सचदेव की बात अपनी कंपनी के राजी थॉमस नाम के आदमी से करवाई।
 
थॉमस ने कारोबारी सचदेव से कहा कि वह उनको छत्तीसगढ़ का डीलर बना देगा। दोनों के बीच डील तय हुई कि एजेंसी लेने के लिए फूड प्रोडक्ट का ऑर्डर देना होगा और रकम एडवांस देनी होगी। 12 जुलाई को मोतीलाल सचदेव के मेल पर राजी थॉमस ने एक फर्जी सुपर डिस्ट्रीब्यूटर एप्रेसल एग्रीमेंट भेजा। इस लेटर पेड के बदले थॉमस ने 5 लाख रुपए मांगे। सामान आर्डर एवं अन्य चार्ज करके कुल मिलाकर थॉमस के बताए आसीआईसीआई बैंक के दिल्ली ब्रांच के खाते में 7 लाख रुपए जमा करवा दिए। तीन दिनों तक कंपनी के इन अफसरों ने रायपुर के कारोबारी से कोई संपर्क नही किया ,अब सभी के फोन भी बंद है। मामले की शिकायत पर पुलिस जांच में जुटी है।

 
 रायपुर में रिश्वत लेते आरक्षक का वीडियो हुवा सोशल मीडिया में वायरल, एसएसपी ने किया लाइन अटैच

रायपुर में रिश्वत लेते आरक्षक का वीडियो हुवा सोशल मीडिया में वायरल, एसएसपी ने किया लाइन अटैच

रायपुर। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में एक आरक्षक के द्वारा रिश्वत लेते वीडियों सोशल मीडिया में जमकर वायरल हो रहा है। वीडियों वायरल होने के बाद आरक्षक को एसएसपी अजय यादव ने लाईन अटैच कर दिया गया है। आरक्षक का नाम गंगा प्रसाद है जो पूर्व में उरला थाने में पदस्थ है।

दरअसल उरला थाने में पदस्थ आरक्षक गंगा प्रसाद का एक वीडियो इन दिनों जमकर वायरल हो रहा है। हालांकि ये वीडियों कब बनाया गया हैं और किसने इस वीडियों को शूट किया है इसकी जानकारी अभी नहीं मिल पायी है। वीडियों के संबंध में दावा किया जा रहा हैं कि, ये वीडियों आरक्षक के द्वारा एक ढाबे में बैठकर कबाडियों और जुआरियों से रिश्वत लेने के दौरान किसी ने इसका स्टींग कर लिया था। वीडियो शूट करने के बाद जैसे वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हुआ तो एसएसपी अजय यादव ने तत्काल प्रभाव से आरक्षक गंगा प्रसाद को लाइन अटैच कर दिया गया है। बताया जा रहा हैं कि, आरक्षक गंगा प्रसाद पिछले 10 सालों से उरला थाने में ही पदस्थ थे। आज इन्हें विदाई देने के लिए एक समारोह भी उरला में रखा गया है।
 BIG BREAKING : आज रायपुर में मिले कल से ज्यादा मरीज, 11 हुए स्वस्थ, देखे पुरे जिले की स्थिति

BIG BREAKING : आज रायपुर में मिले कल से ज्यादा मरीज, 11 हुए स्वस्थ, देखे पुरे जिले की स्थिति

रायपुर | राजधानी रायपुर में आज 08 कोरोना मरीजों की पहचान हुई है। वही हॉस्पिटल से 05 और होम आइसोलेशन से 06 कुल 11 मरीज स्वस्थ हुए है। जबकि आज किसी मरीज की मौत नहीं हुई, इस प्रकार मौत का कुल आकड़ा 3138 हुआ, साथ ही अब रायपुर में एक्टिव मरीज 121 है। आज तक रायपुर में 157666 मरीजो की पहचान हुई है और 154407 मरीजों ने कोरोना से जंग जीती है।
आपको बता दे छत्तीसगढ़ प्रदेश में आज कुल 125 नए कोरोना मरीजों की पहचान की गई है | जिसमे जिला बस्तर से सर्वाधिक 15 मरीज मिले है| आज प्रदेश में कुल 243 कोरोना संक्रमित मरीज कोरोना की जंग जीत कर स्वस्थ्य हुए है | राज्य में आज कुल 03 कोरोना संक्रमितों की मौत हुई है | प्रदेश में अब कुल एक्टिव मरीजों की संख्या 1965 है | आज प्रदेश में 42714 टेस्ट हुए है |

 

रायपुर का ये क्षेत्र हुआ कंटेनमेंट जोन घोषित

रायपुर का ये क्षेत्र हुआ कंटेनमेंट जोन घोषित

रायपुर, कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी रायपुर द्वारा कोविड-19 के रोकथाम एवं नियंत्रण हेतु नगर पालिक निगम, रायपुर के जोन क्रमांक 10 के अंतर्गत गुरुतेग बहादुर नगर, महावीर नगर, रानी दुर्गावती वार्ड क. 50, रायपुर (थाना न्यू राजेन्द्र नगर) में 02 से अधिक नये कोरोना पॉजिटिव पाये जाने के फलस्वरूप उक्त क्षेत्र को कन्टेनमेंट जोन घोषित किया गया है।
इस कन्टेनमेंट जोन की परिसीमाएं पूर्व में राजेश हेयर ड्रेसर तक, पश्चिम में आर.एन. प्रसाद के मकान तक, उत्तर में सतगुरु किराना स्टोर तक तथा दक्षिण में निर्माणाधीन मकान तक निर्धारित की गई है। कलेक्टर ने कंटेनमेंट जोन में आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित करने हेतु अधिकारियों को जिम्मेदारी सौंपी है।
 

 9 अगस्त को असंगठित कामगार कांग्रेस द्वारा संसद घेराव

9 अगस्त को असंगठित कामगार कांग्रेस द्वारा संसद घेराव

रायपुर। असंगठित कामगार कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष माननीय अरविंद सिंह जी ,प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महामंत्री माननीय चंद्रशेखर शुक्ला जी ,मध्य प्रदेश के विधायक एवं छत्तीसगढ़ असंगठित कामगार कांग्रेस के प्रभारी  पंचूलाल जी ,प्रदेश अध्यक्ष आलोक पांडे जी के दिशा निर्देश में जूम मीटिंग रखी गई थी । जिसमें विभिन्न मुद्दों पर चर्चा हुआ 9 अगस्त को दिल्ली में संसद घेराव का निर्णय विभिन्न मांगो लेकर लिया गया जिसमें प्रमुख कारण लॉकडाउन में असंगठित मजदूरों कि केंद्र सरकार द्वारा जो अनदेखी की गई जिसके फलस्वरूप असंगठित कामगार कांग्रेस द्वारा मजदूरों की ऑनलाइन पेमेंट न्याय योजना के तहत मांग की गई थी । परंतु अभी तक मजदूरों को किसी भी प्रकार की मदद नहीं की गई कई मजदूरों द्वारा एक जगह से दूसरी जगह पलायन किया जा रहा है जिसमें  कुछ मजदूरों कीतो मृत्यु भी हो गई ।
 
ऐसे परिवारों को केंद्र सरकार के द्वारा उनके भरण-पोषण बच्चों की पढ़ाई लिखाई का खर्चा उठाना था वह भी केंद्र सरकार के द्वारा नहीं की गई वर्तमान में कई ऐसे ऑटो चालक रिक्शा चालक  टैक्सी चालक लोग हैं जो अपने रोजी रोटी के लिए प्राइवेट फाइनेंस कंपनी से ब्याज में लेकर गाड़ी फाइनेंस कराते हैं परंतु अभी विगत 2 वर्षों से करोना महामारी के कारण लॉकडाउन के कारण उनको काफी आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ रहा है ।पर भी प्राइवेट फाइनेंस कंपनियों के द्वारा ब्याज पर चक्रवृद्धि ब्याज जोड़कर उन्हें परेशान किया जा रहा है । ऐसे भिन्न मुद्दों को लेकर सैकड़ों कार्यकर्ता के साथ असंगठित कामगार कांग्रेस 9 अगस्त को संसद का घेराव करेंगे।। जिस पर असंगठित कामगार कांग्रेस के भवन सनिर्माण संघ के प्रदेश संयोजक राजीव अवस्थी ने माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं प्रदेश अध्यक्ष से मांग की की बलोदा बाजार स्थित सीमेंट प्लांट एवं अन्य उद्योगों के द्वारा आसपास के किसानों उसे प्लांट के विस्तार के लिए भूमि लिया एवं उन्हें पूर्ण आश्वासन दिया था कि आप लोगों को जमीन की पूर्ण मुआवजा एवं परिवार से किसी एक सदस्य को नौकरी दी जाएगी परंतु ना ही किसानों को उनकी जमीन का अच्छे से मुआवजा दिया गया नाही उनके परिवार वालों को नौकरी दी गई जिससे कि उनके साथ भाइयों को आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ रहा है । विगत दिनों एक सीमेंट प्लांट में हादसा हुआ था जिसमें सुरक्षा मानकों की कमी पाई गई थी एवं उनके परिवार वालों को 17 लाख मुआवजा दिया गया था परंतु आज भी ऐसे उद्योग है । जहां श्रमिकों के सुरक्षा मानकों का ध्यान नहीं दिया जाता और दुर्घटनाएं होती रहती है जिसके लिए संगठित कामगार कांग्रेस द्वारा न्यायिक लड़ाई लड़ी जाएगी कोर्ट के माध्यम से भी एवं दिल्ली में केंद्रीय मंत्रियों से भी मिलकर ऐसे उद्योगों के ऊपर कार्यवाही की मांग करेंगे जिस पर राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं प्रदेश अध्यक्ष ने इन मामलों को भी 9 अगस्त को अपनी मांगों में शामिल करने एवं केंद्रीय मंत्रियों से चर्चा मैं शामिल की जाएगी
 छत्तीसगढ़ कंटेनमेंट जोन : इन जिलों में मिले एक परिवार में 4 और दूसरे में 3 कोरोना पॉजिटिव मरीज, इलाके कंटेनमेंट जोन घोषित

छत्तीसगढ़ कंटेनमेंट जोन : इन जिलों में मिले एक परिवार में 4 और दूसरे में 3 कोरोना पॉजिटिव मरीज, इलाके कंटेनमेंट जोन घोषित

छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले में कोरोना संक्रमण धीरे-धीरे पांव पसारने लगा है। कोरोना मरीजों की संख्या एक बार फिर से चिंताजनक हो रही है। जिला प्रशासन ने रिसाली और दुर्ग निगम क्षेत्र के एक-एक वार्ड को कंटेनमेंट जोन बनाया है।

जिले के रिसाली निगम क्षेत्र के वार्ड-23 आशीष नगर पश्चिम में एक ही परिवार के चार लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। वहीं दुर्ग निगम क्षेत्र के बोरसी में बम्लेश्वरी कॉलोनी में एक ही परिवार के तीन लोग संक्रमित पाए गए है।

नगर निगम रिसाली के कमिश्नर प्रकाश सर्वे ने बताया कि पहले आशीष नगर पश्चिम में पहले तीन लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। बुधवार को एक और की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसलिए उस क्षेत्र को कंटेनमेंट बना दिया गया है। सुरक्षा की दृष्टि से वहां बेरिकेडिंग की गई है।

वहीं नगर निगम दुर्ग में बोरसी के बम्लेश्वरी कॉलोनी को कंटेनमेंट जोन बनाया गया है। यहां भी एक ही परिवार के तीन लोग संक्रमित मिले है। इनकी ट्रैवल हिस्ट्री का भी प्रशासन पता कर रहा है।

कंटेनमेंट जोन में क्या खुला, क्या बंद
चिन्हांकित क्षेत्र के अंतर्गत सभी दुकानें और अन्य व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद।
प्रभारी अधिकारी द्वारा कंटेनमेंट जोन में घर पहुंच सेवा के माध्यम से आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति की जायेगी।
कंटेनमेंट जोन के अंतर्गत सभी प्रकार के वाहनों पर प्रतिबंध रहेगा।
मेडिकल इमरजेंसी को छोड़कर अन्य किसी कारणों से बाहर निकलना प्रतिबंधित रहेगा।
जिला चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा संबंधित क्षेत्र में स्वास्थ्य की निगरानी और निर्देश के अनुसार सैंपल जांच के लिए लिये जाएंगे।
कंटेनमेंट जोन की निगरानी लगातार पुलिस पेट्रोलिंग की जायेगी।
ये भी पढ़ें- लॉकडाउन लॉकडाउन : पूरे प्रदेश में 2 अगस्त तक लॉकडाउन, इन सेवाओं को रहेगी छूट, महामारी को देखते हुए राज्य की सरकार ने किया ऐलान, देखे आदेश की कॉपी

कोरोना संक्रमित 100 एक्टिव मरीज
जिले में कोरोना मरीजों के मिलने की दर स्थिर बनी हुई है। वहीं रिकवरी रेट भी बढ़ा है। फिलहाल रिकवरी रेट 98 प्रतिशत के करीब है। अब तक जिले में कुल 96,499 कोरोना संक्रमित मिले हैं। इनमें से 94,608 रिकवर हो गए हैं। और 1791 मरीज की मौत हो गई। जिले में अभी भी 100 एक्टिव मरीज मौजूद है।
 रायपुर में कोरोना की तीसरी लहर: बच्चों में लगातार बढ़ रहा कोरोना और डेंगू का संक्रमण

रायपुर में कोरोना की तीसरी लहर: बच्चों में लगातार बढ़ रहा कोरोना और डेंगू का संक्रमण

रायपुर। राजधानी रायपुर में बच्चों में कोरोना और डेंगू का संक्रमण के मामले सामने आने लगे है। जानकारी के मुताबिक सरकारी और निजी लैबों में एंटीबॉडी टेस्ट करवाने वाले बच्चों में इसके लक्षण मिले है। इसे देखते हुए तीसरी लहर में बच्चों के कोरोना संक्रमित होने की आशंका बलवती होने लगी है। आशंका से ग्रस्त अभिभावक अपने बच्चों का टेस्ट करवा रहे है ताकि समय पर उन्हें सही इलाज मिल सके। कई बच्चों में कोरोना और डेंगू जैसे लक्षण दिखने लगे है। रोजाना काफी बड़ी संख्या में लोग कोरोना की जांच करवा रहे है। कोरोना का कहर अब तो मासूम बच्चों पर भी पडऩे लगा है। रायपुर में बच्चों में कोरोना संक्रमण के मामले सर्वाधिक सामने आए हैं। स्वास्थ्य विभाग लगातार कोरोना पर लगाम लगाने में लगा है, रोजाना तेज़ी से वेक्सिनेशन भी किया जा रहा है। लेकिन कुछ लोगों की लापरवाही और कोताही बच्चों की ओर संक्रमण को खींचता जा रहा है। कोरोना की संभावित तीसरी लहर को रोकने के लिए सरकार और स्वास्थ्य विभाग के साथ बच्चों के सरकारी अस्पताल और निजी अस्पताल भी तेज़ी से काम कर रहा है।  
  मानसून की द्रोणिका सक्रिय होने से आज राजधानी समेत प्रदेश के कई जिलों में होगी भारी बारिश, अलर्ट जारी

मानसून की द्रोणिका सक्रिय होने से आज राजधानी समेत प्रदेश के कई जिलों में होगी भारी बारिश, अलर्ट जारी

रायपुर। मानसून की द्रोणिका एवं निम्र दाब का क्षेत्र मजबूत चक्रवात होने के कारण आज प्रदेश के कई जिलों में भारी वर्षा होने की संभावना का अलर्ट मौसम विभाग ने जारी किया है। पिछले चार दिनों से सावन की झड़ी के साथ ही मूसलाधार वर्षा जारी है। जिसके चलते नदी नाले उफ ान पर है। वहीं आज भी मौसम विभाग ने कई जिलों में भारी बारिश को लेकर अलर्ट जारी किया है। वहीं बीते 3 दिनों में प्रदेश भर में अब तक 52.8 मिमी बारिश हुई है।

प्रदेश भर में बारिश को लेकर जारी हुआ अलर्ट
सुकमा जिले में सर्वधिक 981.6 मिमी बारिश, जो कि 86 फीसदी अधिक है। प्रदेश के 15 जिलों में सामान्य वर्षा हुई है। वहीं 6 जिलों में सामान्य से अधिक और 5 जिलों में सामान्य से कम बारिश हुई। आज भी प्रदेश भर में बारिश को लेकर अलर्ट जारी है। अधिकाशं जिलों में हल्की बारिश की संभावना ।

1 जून से अब तक राज्य में 542.6 मिमी औसत वर्षा दर्ज
राज्य के राजस्व और आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा बनाए गए राज्य स्तरीय नियंत्रण कक्ष द्वारा संकलित जानकारी के मुताबिक 1 जून 2021 से अब तक राज्य में 542.6 मिमी औसत वर्षा दर्ज की जा चुकी है। राज्य के विभिन्न जिलों में 1 जून से आज 29 जुलाई तक रिकार्ड की गई वर्षा के अनुसार सुकमा जिले में सर्वाधिक 851.7 मिमी और बालोद जिले में सबसे कम 396.5 मिमी औसत वर्षा दर्ज की गई है।
BIG BREAKING : आज रायपुर में मिले सिर्फ इतने मरीज, 19 हुए स्वस्थ, देखे पुरे जिले की स्थिति

BIG BREAKING : आज रायपुर में मिले सिर्फ इतने मरीज, 19 हुए स्वस्थ, देखे पुरे जिले की स्थिति

रायपुर | राजधानी रायपुर में आज 05 कोरोना मरीजों की पहचान हुई है। वही हॉस्पिटल से 08 और होम आइसोलेशन से 11 कुल 19 मरीज स्वस्थ हुए है। जबकि आज किसी मरीज की मौत नहीं हुई, इस प्रकार मौत का कुल आकड़ा 3138 हुआ, साथ ही अब रायपुर में एक्टिव मरीज 124 है। आज तक रायपुर में 157658 मरीजो की पहचान हुई है और 154396 मरीजों ने कोरोना से जंग जीती है।
आपको बता दे छत्तीसगढ़ प्रदेश में आज कुल 130 नए कोरोना मरीजों की पहचान की गई है | जिसमे जिला जांजगीर- चाम्पा से सर्वाधिक 14 मरीज मिले है| आज प्रदेश में कुल 270 कोरोना संक्रमित मरीज कोरोना की जंग जीत कर स्वस्थ्य हुए है | राज्य में आज कुल 00 कोरोना संक्रमितों की मौत हुई है | प्रदेश में अब कुल एक्टिव मरीजों की संख्या 2086 है | आज प्रदेश में 40501 टेस्ट हुए है |

 

ई-कॉमर्स नियमों से बना रहेगा ऑनलाइन-ऑफलाइन बाजारों का सह-अस्तित्व : कैट

ई-कॉमर्स नियमों से बना रहेगा ऑनलाइन-ऑफलाइन बाजारों का सह-अस्तित्व : कैट

रायपुर। कन्फ़ेडरेशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने केंद्रीय वाणिज्य एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्री पीयूष गोयल से ई-कॉमर्स नियमों को तत्काल लागू करने की पुरजोर मांग करते हुए एक पत्र भेजा है। कैट ने पत्र में कहा है कि केंद्र सरकार के उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय के प्रस्तावित ई-कॉमर्स नियम निश्चित रूप से ई-कॉमर्स व्यवसाय को कुछ बड़ी कंपनियों के चंगुल से न केवल मुक्त करेंगे, बल्कि बड़ी संख्या में छोटी और बड़ी ई-कॉमर्स कंपनियों को व्यापार के समान अवसर भी देते हुए ई-कॉमर्स परिदृश्य को बिल्कुल तटस्थ बना देंगे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के डिजिटल इंडिया मिशन में एक बड़ी निर्णायक भूमिका भी निभाएंगें। वहीं यह नियम बाजार की दुकानों और ऑनलाइन व्यापार के सह-अस्तित्व के लिए भी एक सामंजस्यपूर्ण वातावरण भी बनाएंगे जिससे देश के आम ग्राहक को फायदा होगा। कैट ने श्री गोयल को भेजे पत्र में यह भी कहा है, कि पिछले अनुभवों के आधार पर ई-कॉमर्स नियमों के कार्यान्वयन में देरी नहीं होनी चाहिए या किसी अन्य तंत्र को अब बीच में नहीं लाना चाहिए। क्योंकि इस स्तर पर नियमों का कार्यान्वयन बहुत महत्वपूर्ण है। देश के ई-कॉमर्स व्यापार में कुछ बड़ी कंपनियों के क़ानून एवं नियमों के खिलाफ व्यापार करने के कारन देश भर में एक लाख से अधिक छोटी दुकानें बंद हो गई हैं, जिसके परिणामस्वरूप अधिक बेरोजगारी भी हुई है।

कैट के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमर पारवानी एवं प्रदेश अध्यक्ष जितेन्द्र दोशी ने कहा कि अमेज़न एवं फ्लिपकार्ट द्वारा नीति और कानून के बार-बार उल्लंघन के मद्देनजर, कर्नाटक उच्च न्यायालय ने दोनों कंपनियों के खिलाफ कठोर टिप्पणियां करने और जल्द ही राखी से शुरू होने वाले त्योहारी सीजन का अपहरण ये बड़ी ई-कॉमर्स कंपनियां न कर सकें। इसके लिए यह आवश्यक है की ई-कॉमर्स के नियमों को जल्द से जल्द लागू किया जाए। जिससे एक निष्पक्ष एवं स्वस्थ प्रतिस्पर्धा के लिए सभी स्टेकहोल्डर्स के लिए एक समान स्तर का व्यापारिक वातावरण उपलब्ध हो सके।

दिसंबर, 2020 में दिल्ली उच्च न्यायालय ने अमेज़ॅन को एफडीआई नियमों का उल्लंघन करने के लिए एक आदेश में जिम्मेदार माना था। और अब कर्नाटक उच्च न्यायालय की डिवीजन बेंच ने 23 जुलाई को दिए एक फैसले में अमेज़ॅन और फ्लिपकार्ट के बिज़नेस मॉडल पर कड़ी टिप्पणी करते हुए कहा की यदि वे दोनों किसी भी वैधानिक प्रावधान के उल्लंघन में शामिल नहीं हैं, तो उन्हें जांच का सामना करने में शर्म महसूस नहीं करनी चाहिए। बल्कि उन्हें सीसीआई जांच का स्वागत करना चाहिए। अदालत ने तह भी कहा कि इन दोनों की दायर रिट अपील सीसीआई द्वारा की जाने वाली जांच की कार्रवाई को रोकने का एक प्रयास है। उच्च न्यायालय ने यह भी कहा कि अमेज़ॅन और फ्लिपकार्ट दोनों जानबूझकर जांच में भाग नहीं ले रहे हैं, और जांच को कुचलने की कोशिश कर रहे हैं। उच्च न्यायालय ने यह भी नोट किया कि बाजार की गतिशीलता कुछ महीनों में भी बदल सकती है, इसलिए कोई भी पिछला मामला जहां फ्लिपकार्ट/अमेज़ॅन को सीसीआई द्वारा दोषमुक्त किया गया हो, कोई असर नहीं पड़ता। यह सिर्फ एक जांच है और हाई कोर्ट ने कई जगहों पर दोहराया कि अपीलकर्ता एक जांच को कुचलने की कोशिश कर रहे हैं और अब अमेज़ॅन और फ्लिपकार्ट ने कर्नाटक उच्च न्यायालय की डिवीजन बेंच द्वारा पारित आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट के समक्ष अपील की है। उपरोक्त अवलोकन और दोनों कंपनियों का एक साथ आचरण इस तथ्य को स्थापित करता है कि निश्चित रूप से उनके व्यापार मॉड्यूल में कुछ गड़बड़ है जो प्रचलित कानून या नीति के खिलाफ है।

श्री पारवानी और श्री दोशी ने आगे कहा कि कुछ निहित स्वार्थ वाले लोगों द्वारा एक गलत धारणा बनाने में का प्रयास कर रहे हैं की ई-कॉमर्स नियम कुछ विशेष ईकॉमर्स कंपनियों के खिलाफ हैं जो एक खुला झूठ है। उन्होंने कहा की ये ई-कॉमर्स नियम उन सभी व्यापार पर लागू होते हैं, चाहे वे भारतीय हों या विदेशी मूल, जो ई-कॉमर्स के किसी भी माध्यम से अपनी व्यावसायिक गतिविधियों का संचालन कर रहे हैं। कैट ने उम्मीद जताई है, कि सरकार जल्द ही ई-कॉमर्स नियमों को अधिसूचित करेगी।

महिला के पेट में मिला सात महीने का दुर्लभ स्टोन बेबी

महिला के पेट में मिला सात महीने का दुर्लभ स्टोन बेबी

रायपुर: गरियाबंद निवासी एक 26 वर्षीय महिला कुछ दिनों पूर्व पेट में दर्द और पेट में पानी भरने के कारण होने वाले सूजन एसाइटिस की समस्या के साथ पं. जवाहर लाल नेहरू स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय के स्त्री एवं प्रसूति रोग विभाग में भर्ती हुई। जांच में महिला के पेट में दुर्लभ लिथोपेडियन का पता चला जिसे स्टोन बेबी भी कहा जाता है। स्त्री एवं प्रसूति रोग विभागाध्यक्ष प्रो. डॉ. ज्योति जायसवाल के नेतृत्व में स्टोन बेबी को बाहर निकालने के लिये पेट की सर्जरी की गई जिसमें करीब सात महीने के विकसित दुर्लभ स्टोन बेबी (मृत) को बाहर निकाला गया। सर्जरी के बाद महिला के पेट की परेशानी खत्म हो गई इसलिए अब वह डिस्चार्ज लेकर घर जाने को तैयार है। विभागाध्यक्ष डॉ. ज्योति जायसवाल के मुताबिक बच्चेदानी के बाहर पेट यानी एब्डोमन में भ्रूण का विकास होकर स्टोन बेबी में बदल जाने की स्थिति बहुत ही दुर्लभ है। इस प्रकार के केस का प्रकाशन (पब्लिकेशन) भी मेडिकल जर्नल में बहुत ही कम देखने को मिलता है।

डॉ. ज्योति जायसवाल के अनुसार लिथोपेडियन या स्टोन बेबी तब बनता है जब गर्भावस्था, गर्भाशय के बजाय पेट में (एब्डामिनल प्रेगनेंसी) होती है। जब यह गर्भावस्था अंततः विफल हो जाती है और भ्रूण के पास पर्याप्त रक्त की आपूर्ति नहीं होती है तो शरीर के पास भ्रूण को बाहर निकालने का कोई तरीका नहीं होता है। नतीजन, शरीर अपनी स्वयं की प्रतिरक्षा प्रक्रिया का उपयोग करके भ्रूण को पत्थर में बदल देता है जो शरीर को किसी भी ऐसी विदेशी वस्तु से बचाता है जिससे शरीर को कोई नुकसान न हो। ऊतकों का इस प्रकार का कैल्सिफिकेशन मां को संक्रमण से बचाता है। कई बार इससे शरीर को कोई नुकसान नहीं होता लेकिन कई बार इसके पेट के अंदर रहने के कारण दूसरी समस्याएं भी जन्म लेने लगती हैं।

कैल्सीफिकेशन : कैल्सीफिकेशन एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें शरीर के ऊतकों में कैल्शियम का निर्माण होता है, जिससे ऊतक सख्त हो जाते हैं। यह एक सामान्य या असामान्य प्रक्रिया हो सकती है।

गरियाबंद में महिला की 15 दिन पहले नॉर्मल डिलीवरी हुई थी जिसमें महिला ने लगभग साढ़े सात महीने के एक अत्यंत कम वजनी एवं अपरिपक्व जीवित शिशु को जन्म दिया था। शिशु उपचार उपरांत भी नहीं ठीक हो पाया और उसकी मृत्यु हो गई। इस प्रकार महिला के पेट में दो बेबी थे। एक जो बच्चेदानी (यूट्रस) के अंदर सामान्य शिशुओं की तरह पल रहा था एवं जीवित जन्म लिया और दूसरा बच्चेदानी के बाहर एवं पेट (आंत व आमाशय के आसपास) के अंदर स्टोन (मृत) में तब्दील हो चुका था।

26 वर्षीय इस महिला को राजधानी के एक अन्य अस्पताल से सोनोग्राफी की रिपोर्ट के साथ रेफर किया गया था। सोनोग्राफी रिपोर्ट के आधार पर इस बात की जानकारी मिली कि महिला के पेट के अंदर लगभग सात महीने का स्टोन बेबी है जो गर्भाशय के बाहर पेट में स्थित है और कैल्शियम के जमाव से पत्थर (लिथोपेडियन) में तब्दील हो चुका है।

डॉ. ज्योति जायसवाल ऑपरेशन के संबंध में जानकारी देती हुई बताती हैं कि स्त्री रोग विभाग में भर्ती होने के बाद महिला का एक्स रे, सीटी एंजियो, एम. आर. आई. कराया गया। स्टोन बेबी का पता लगने पर वैस्कुलर सर्जरी विभाग के डॉक्टरों से ओपिनियन लिया गया। साथ ही इस केस की जानकारी भी दी गई कि यदि बच्चा आमाशय और आंत की नसों से चिपका होगा तो सर्जरी के समय वैस्कुलर सर्जन की जरूरत पड़ सकती है। सर्जरी विभाग के डॉक्टरों को भी ऑपरेशन के दौरान इस संभावना के अंतर्गत साथ में रखा गया कि यदि बच्चेदानी के बाहर बच्चा अंतड़ियों और ओमेंटम के बीच में लिपटा हुआ होगा तो सर्जन की भी जरूरत पड़ेगी। बीते शुक्रवार को सुबह ऑपरेशन हुआ। ऑपरेशन के दौरान देखा गया कि स्टोन बेबी का आंवल बाहर था। आंवल यूट्रस के बाहर रूडीमेंटरी हार्न के टिश्यू से ब्लड सप्लाई ले रही थी। रूडीमेंटरी हार्न को काट करके स्टोन बेबी के साथ निकाल दिया गया। ऑपरेशन में ज्यादा दिक्कतें नहीं आई क्योंकि पेट के अंदर बेबी ने आस-पास के अंगों को प्रभावित नहीं किया था। इस ऑपरेशन में डॉ. ज्योति जायसवाल के साथ डॉ. रुचि गुप्ता, डॉ. स्मृति नाईक और डॉ. प्रियांश पांडे, एनेस्थीसिया से डॉ. मुकुंदा शामिल रहे।


शरीर अपने बचाव के लिये अनुकूलन कर लेती है :
डॉ. ज्योति बताती हैं बतौर डॉक्टर मैंने मेडिकल कॉलेज रायपुर में यह तीसरा केस देखा है। इससे पहले जब मैं पी. जी. स्टूडेंट थी तब 22 साल पहले एक केस देखा था। उसके बाद कुछ सालों पूर्व एक और केस यहां आया था। संभवतः यह तीसरा केस है। इस केस में संभवतः दोनों प्रेगनेंसी एक साथ हुई हो और करीब एक डेढ़ महीने पहले उसका विकास बंद हो गया हो इसलिए गर्भाशय का जीवित बच्चा जिसने जन्म लिया वह साढ़े सात महीने का और यह करीब सात महीने का दिखाई दे रहा है। एब्डॉमिनल प्रेगनेंसी में पेट के अंदर बहुत कम बच्चे जीवित रह पाते हैं। ऐसा भी नहीं होता कि बच्चा पेट के अंदर इतना बड़ा हो गया हो कि डिलीवरी का टाइम आ गया हो और मरा नहीं। यह भी दुर्लभ है। पुराने मेडिकल लिटरेचर में ऐसे रेयर केस मिले हैं जिसमें एब्डॉमिनल प्रेगनेंसी जीवित पैदा हुई हो लेकिन ऐसे केस में आंवल कहीं न कहीं से ब्लड सप्लाई ले रही होती है। सामान्य प्रेगनेंसी में आंवल, बच्चेदानी के दीवार के अंदर से चिपकी होती है और वहां से खून लेकर बच्चे को बड़ा करती है। इस केस में बच्चा बच्चेदानी के रूडीमेट्री हार्न के अंदर से ब्लड सप्लाई ले रही थी। शरीर स्वयं को बचाने के लिये यह अनुकूलन कर लेती है ताकि स्टोन में तब्दील हो जाने से मां के शरीर को कोई नुकसान न हो।


अपने आप में बेहद दुर्लभ एवं जटिल किस्म के इस केस को मेडिकल जर्नल में प्रकाशन के लिये मरीज के परिजनों से स्वीकृति ले ली गई है। मेडिकल कॉलेज में भविष्य में चिकित्सा छात्रों के अध्ययन के लिए भी परिजनों की स्वीकृति पर स्टोन बेबी को सुरक्षित रख लिया गया है।

 बड़ी खबर : रायपुर में बेहोशी की हालत में युवती को कार से फेंक कर भागे आरोपी

बड़ी खबर : रायपुर में बेहोशी की हालत में युवती को कार से फेंक कर भागे आरोपी

रायपुर। राजधानी रायपुर में सुबह एक युवती को कार से बाहर फेंककर एक युवक तेजी से कार भगाकर फरार हो गया। प्रत्यक्षदर्शियों ने तत्काल डायल 112 नंबर पर फोन कर पुलिस को इस घटना के बारे में जानकारी दी। इसके बाद फौरन पुलिस की टीम मौके पर पहुंच गई और युवती को एंबुलेंस से इलाज के लिए अंबेडकर अस्पताल भिजवा दिया।

पुलिस ने बताया कि उरला थाना क्षेत्र में यह संगीन अपराध हुआ है। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि सुबह करीब 6:30 बजे के आस-पास एक युवती को महामाया स्टील कंपनी के पास उरला-सरोरा रोड के बीच में एक युवक कार से फेंक कर तेजी से कार भगाकर वहां से फरार हो गया। किसी ने भी कार का नंबर नहीं देखा। हालांकि, कार सवार आरोपित के फरार होते ही वहां पहुंचे लोगों ने युवती को बेहोशी की हालत में देखकर तत्काल पुलिस को फोन किया। उसकी हालत खराब लग रही थी।

तत्काल घटनास्थल पर पहुंची पुलिस ने 108 नंबर पर फोन कर एंबुलेंस बुलवाई और युवती को इलाज के लिए तत्काल आंबेडकर अस्पताल पहुंचाया। इस दौरान पुलिस की टीम ने भी युवती से उसका नाम-पता जानने की कोशिश की, लेकिन वह कुछ बता पाने की स्थिति में नहीं थी। पुलिस मामले की जांच में जुट गई है।

बताया जा रहा है कि युवती की उम्र तकरीबन 19 वर्ष है। पुलिस ने बताया कि उरला का यह इलाका सूनसान पड़ता है, जहां कोई रिहायशी क्षेत्र नहीं है और मजदूर वर्ग के लोग ही यहां रहते हैं। लिहाजा, इसी वजह से आरोपित या आरोपितों ने इस जगह को चुना होगा। प्रथम दृष्टि यह अपहरण सहित अन्य गंभीर अपराधों को अंजाम देने का मामला नजर आ रहा है। हालांकि, वास्तविक तस्वीर तो युवती के होश में आने के बाद ही साफ हो सकेगी।
तेंदुए की ख़ाल के साथ दो आरोपी गिरफ्तार

तेंदुए की ख़ाल के साथ दो आरोपी गिरफ्तार

रायपुर: ग्राम टेमरी के पास वीआईपी रोड से पुलिस ने तेंदुए की खाल की तस्करी करते हुए 2 कारोबारियों को गिरफ्तार किया। आरोपी माना इलाके में खाल बेचने आए थे। मुखबिरों से सूचना मिलने के बाद पुलिस ने घेराबंदी करके इन्हें पकड़ा। आरोपियों से जब्त खाल की कीमत 10 लाख से ज्यादा आंकी गई है। दोनों ने रायपुर के एक कारोबारी से खाल खरीदने की बात कबूल की है।

पुलिस उस व्यक्ति की तलाश कर रही है, जिसने आरोपियों को खाल दिया। इस बीच, घटना की जानकारी मिलने के बाद रात में ही वन विभाग के अधिकारी भी जांच के लिए पहुंचे। पुलिस जांच कर रही है कि तेंदुए की खाल कहां से लाई गई है? आरोपियों ने खुद तेंदुआ को मारकर खाल निकाला है या फिर दूसरे राज्य से मंगाए हैं। माना पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ भारतीय वन्य जीव संरक्षण अधिनियम के तहत केस दर्ज किया है। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि माना इलाके में तेंदुए की खाल के साथ सरसींवा के मनीष अग्रवाल और आनंद नगर, रायपुर के निखिल कुमार सिंह को गिरफ्तार किया।

उनसे खाल को लेकर पूछताछ की जा रही है। दोनों खाल लेकर माना इलाके में घूम रहे थे। दोनों ने कोरिया के मनोज कुशवाहा उर्फ विक्रम से खाल खरीदना बताया। पुलिस उसकी तलाश की जा रही है।

BIG BREAKING : आज रायपुर में आज कल से ज्यादा मिले मरीज, 16 हुए स्वस्थ, देखे पुरे जिले की स्थिति

BIG BREAKING : आज रायपुर में आज कल से ज्यादा मिले मरीज, 16 हुए स्वस्थ, देखे पुरे जिले की स्थिति

रायपुर | राजधानी रायपुर में आज 15 कोरोना मरीजों की पहचान हुई है। वही हॉस्पिटल से 07 और होम आइसोलेशन से 09 कुल 16 मरीज स्वस्थ हुए है। जबकि आज किसी मरीज की मौत नहीं हुई, इस प्रकार मौत का कुल आकड़ा 3138 हुआ, साथ ही अब रायपुर में एक्टिव मरीज 138 है। आज तक रायपुर में 157653 मरीजो की पहचान हुई है और 154377 मरीजों ने कोरोना से जंग जीती है।
आपको बता दे छत्तीसगढ़ प्रदेश में आज कुल 164 नए कोरोना मरीजों की पहचान की गई है | जिसमे जिला जांजगीर- चाम्पा से सर्वाधिक 18 मरीज मिले है| आज प्रदेश में कुल 327 कोरोना संक्रमित मरीज कोरोना की जंग जीत कर स्वस्थ्य हुए है | राज्य में आज कुल 01 कोरोना संक्रमितों की मौत हुई है | प्रदेश में अब कुल एक्टिव मरीजों की संख्या 2226 है | आज प्रदेश में 36208 टेस्ट हुए है |


 

एकता महिला स्व-सहायता समूह की इन दीदीयों के हौसलों के आगे लोहा भी नरम पड़ गया, जानिए क्या है मामला

एकता महिला स्व-सहायता समूह की इन दीदीयों के हौसलों के आगे लोहा भी नरम पड़ गया, जानिए क्या है मामला

रायपुर । छत्तीसगढ़ की महिलाएं अब पुरूषों का व्यवसाय माने जाने वाले कई क्षेत्रों को अपनाकर आत्मनिर्भर बन रही हैं। महासमुन्द जिले के विकासखंड बागबाहरा के अंदरूनी गाँव कोमाखान में छत्तीसगढ़ राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत संचालित बिहान की दीदीयां लोहे की तार फेंसिंग के निर्माण कार्य से जुड़ी हैं। एकता महिला स्व-सहायता समूह की इन दीदीयों के हौसलों के आगे लोहा भी नरम पड़ गया है। बिहान समूह की दीदीयों ने कुछ माह में ही 169 बण्डल फेंसिंग तार का विक्रय कर एक लाख 90 हजार 365 रूपए की आमदनी अर्जित की है। इनके बनाए फेंसिंग तार की सरकारी और गैर सरकारी संस्थाओं में बहुत माँग है।
आत्मनिर्भर बनकर ये महिलाएं न सिर्फ अपने परिवार की आर्थिक स्थिति को मजबूत बना रहीं है, बल्कि दूसरों को भी रोजगार प्रदान कर उन्हें आगे बढ़ने में मदद कर रही हैं। महिलाएं फेसिंग तार के साथ आचार, पापड़, निरमा, साबुन, फिनाइल का भी निर्माण करती हैं। समूह की महिलाओं ने बताया कि फेंसिंग तार का काम मुश्किल है, पर मास्टर ट्रेनर द्वारा प्रशिक्षण देने से आसान लगने लगा।
उल्लेखनीय है कि ग्रामीण क्षेत्र में निवासरत महिला एवं युवतियों को स्व-सहायता समूह के रूप में गठित कर उन्हें विभिन्न आजीविका गतिविधियों का प्रशिक्षण देकर स्वरोजगार से जोड़ा जा रहा है। राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत महासमुंद जिले मंे 5 हजार 223 महिला स्व-सहायता समूह काम कर रही हैं। इनमें 55 हजार 910 महिलाएं मोमबत्ती, दीया, वाशिंग पाउडर, फिनॉयल, बाँस की टोकरी सहित अन्य सामग्रियां बनाकर आत्मनिर्भर बनी हैं। इसके साथ ही बिहान दीदीयां सिलाई-कढ़ाई करने, जैविक खाद बनाने और खुद बनाए सामानों को बजार में बेचने का काम करती हैं।
 

 BIG BREAKING : रायपुर में गणेशोत्सव को लेकर कलेक्टर ने जारी की गाइडलाइन, इन 26 नियमों का करना होगा खास पालन

BIG BREAKING : रायपुर में गणेशोत्सव को लेकर कलेक्टर ने जारी की गाइडलाइन, इन 26 नियमों का करना होगा खास पालन

रायपुर। कोरोना संकट के बीच प्रदेश में गणेशोत्सव काफी सतर्कता के साथ मनेगा। राजधानी रापयुर में जिला प्रशासन की तरफ से इस बाबत सख्त गाइड लाइन जारी किया गया है। जिला प्रशासन ने मूर्ती की ऊंचाई से लेकर पंडाल की साइज तक निर्धारित कर दिये हैं। जिला प्रशासन ने आयोजकों के लिए 26 तरीके से गाइडलाइन जारी किये हैं, जिसका इस्तेमाल किये बगैर गणेश प्रतिमा स्थापित नहीं किया जा सकेगा। अपर कलेक्टर से जारी आदेश में कहा गया है कि जो भी आयोजक शर्तों का उल्लंघन करेगा, उसके खिलाफ कार्रवाई की जायेगी।
-मूर्ति की उंचाई एवं चौड़ाई 4x4 फिट से अधिक न हो। 
-मूर्ति स्थापना वाले पंडाल का आकार 15x15 फिट से अधिक न हो।
-पंडाल के सामने कम से कम 5000 वर्ग फिट की खुली जगह हो । 
-पंडाल एवं सामने 5000 वर्गफिट की खुली जगह में कोई भी सड़क अथवा गली का हिस्सा प्रभावित न हो। 
-मंडप / पंडाल के सामने दर्शकों के बैठने हेतु पृथक से पंडाल न हो, दर्शको एवं आयोजको के बैठने के लिए कुर्सी नहीं लगाये जायेगे।
-किसी भी एक समय में मंडप एवं सामने मिलाकर 20 व्यक्ति से अधिक न हो। 
-मूर्ति स्थापित करने वाले व्यक्ति अथवा समिति एक रजिस्टर संधारित करेगी जिसमें दर्शन के लिए आने वाले सभी व्यक्तियों का नाम पता मोबाइल नंबर दर्ज किया जायेगा ताकि उनमें से कोई भी व्यक्ति कोरोना संक्रमित होने पर कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग किया जा सके।
-मूर्ति स्थापित करने वाले व्यक्ति अथवा समिति 04 सीसीटीवी लगायेगा, ताकि उनमें से कोई भी व्यक्ति कोरोना संक्रमित होने पर कांटेक्ट ट्रेसिंग किया जा सके।
-10. मूर्ति दर्शन अथवा पूजा में शामिल होने वाला कोई भी व्यक्ति बिना मास्क के नहीं जायेगा ऐसा पाये जाने पर संबंधित एवं समिति के विरूद्ध वैधानिक कार्यवाही किया जायेगा।
-मूर्ति स्थापित करने वाले व्यक्ति अथवा समिति द्वारा सैनेटाइजर थर्मल स्क्रिनिंग, आक्सीमीटर, हेंडवाश एवं क्यू मैनेजमेंट सिस्टम की व्यवस्था की जायेगी।थर्मल स्क्रिनिंग में बुखार पाये जाने अथवा कोरोना से संबंधित कोई भी सामान्य या विशेष लक्षण पाये जाने पर पंडाल में प्रवेश नहीं देने की जिम्मेदारी समिति की होगी।
-व्यक्ति अथवा समिति द्वारा फिजिकल डिसटेंसिंग आगमन एवं प्रस्थान की पृथक से व्यवस्था बांस बल्ली से बेरिकेटिंग कराकर कराया जायेगा।
-यदि कोई व्यक्ति जो मूर्ति स्थापना स्थल पर जाने के कारण संक्रमित हो जाता है तो ईलाज का संपूर्ण खर्च मूर्ति स्थापना करने वाला व्यक्ति अथवा समिति करेगा।
-कंटेनमेंट जोन में मूर्ति स्थापना की अनुमति नहीं होगी। यदि पूजा की अवधि के दौरान भी उपरोक्त क्षेत्र कंटेनमेंट क्षेत्र घोषित हो जाता है तो तत्काल पूजा समाप्त करनी होगी।
-मूर्ति स्थापना के दौरान, विसर्जन के समय अथवा विसर्जन के पश्चात् किसी भी प्रकार के भोज, भंडारा, जगराता अथवा सांस्कृतिक कार्यक्रम करने की अनुमति नहीं होगी।
-मूर्ति स्थापना के समय स्थापना के दौरान, विसर्जन के समय अथवा विसर्जन के पश्चांत किसी भी प्रकार के वाद्य यंत्र, ध्वनि विस्तारक यंत्र डीजे बजाने की अनुमति नहीं होगी। मूर्ति स्थापना एवं विसर्जन के दौरान प्रसाद, चरणामृत या कोई भी खाद्य एवं पेय पदार्थ वितरण की अनुमति नहीं होगी।
-मूर्ति विसर्जन के लिए एक से अधिक वाहन की अनुमति नहीं होगी।
-मूर्ति विसर्जन के लिए पिकअप, टाटाएस (छोटाहाथी) से बड़े वाहन का उपयोग प्रतिबंधित होगा।
-मूर्ति विसर्जन के वाहन में किसी भी प्रकार के अतिरिक्त साज-सज्जा, झांकी की अनुमति नहीं होगी।
-मूर्ति विसर्जन के लिए 04 से अधिक व्यक्ति नहीं जा सकेगे एवं वे मूर्ति के वाहन में ही बैठेगे। पृथक से वाहन ले जाने की अनुमति नहीं होगी।
-मूर्ति विसर्जन के लिए प्रयुक्त वाहन पंडाल से लेकर विसर्जन स्थल तक रास्ते में कही रोकने की अनुमति नहीं होगी।
-विसर्जन के लिए नगर निगम द्वारा निर्धारित रूट मार्ग एव तिथि एवं समय का पालन करना होगा। शहर के व्यस्त मार्गों से मूर्ति विसर्जन वाहन को ले जाने की अनुमति नहीं होगी। सामान्य रूप से सभी वाहन रिंग रोड के माध्यम से ही गुजरेगे । 
-विसर्जन के मार्ग में कही भी स्वागत, भंडारा, प्रसाद वितरण पंडाल लगाने की अनुमति नहीं होगी।
-सूर्यास्त के पश्चात एवं सूर्योदय के पहले मूर्ति विसर्जन के किसी भी प्रक्रिया की अनुमति नहीं होगी।
-उपरोक्त शर्तों के साथ घरों में मूर्ति स्थापित करने की अनुमति होगी, यदि घर से बाहर मुर्ति स्थापित किया जाता है तो कम से कम 7 दिवस पूर्व नगर निगम के संबंधित जोन कार्यालय में निर्धारित शपथ पत्र मय आवेदन देना होगा एवं अनुमति प्राप्त होने के उपरांत ही मूर्ति स्थापित करने की अनुमति होगी।
-इन सभी शर्तों के अतिरिक्त भारत सरकार, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय, छत्तीसगढ़ शासन, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग, छत्तीसगढ़ शासन, सामान्य प्रशासन विभाग तथा जिला प्रशासन, रायपुर द्वारा समय समय पर जारी निर्देश / आदेश का पालन अनिवार्य रूप से किया जाना होगा।
 
 पुलिस विभाग में बड़ा फेरबदल : 38 आरक्षकों का हुआ ट्रांसफर, पुलिस अधीक्षक ने जारी की सूची

पुलिस विभाग में बड़ा फेरबदल : 38 आरक्षकों का हुआ ट्रांसफर, पुलिस अधीक्षक ने जारी की सूची

रायपुर। छत्तीसगढ़ पुलिस विभाग में लगातार तबादले का सिलिसिला जारी हैं। गौरेला पेण्ड्रा मरवाही जिले में पुलिस विभाग में बड़ा फेरबदल हुआ है। पुलिस अधीक्षक त्रिलोक बंसल ने 38 पुलिसकर्मियों का तबादला किया है।
 
बच्चे हमारे भविष्य है, इनकी बेहतरी के लिए करेंगे हर संभव प्रयास : भूपेश बघेल

बच्चे हमारे भविष्य है, इनकी बेहतरी के लिए करेंगे हर संभव प्रयास : भूपेश बघेल

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से आज उनके निवास कार्यालय में चन्दूलाल चन्द्राकर स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय दुर्ग में अध्ययनरत छात्रों एवं उनके पालकों ने मुलाकात की। पालकों ने मेडिकल कॉलेज में अध्ययनरत बच्चों के भविष्य को सुरक्षित करने के उद्देश्य से राज्य शासन द्वारा की जा रही पहल और कॉलेज के अधिग्रहण के निर्णय के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का आभार जताया। पालकों ने कहा कि बच्चों के भविष्य को सुरक्षित रखने के लिए राज्य सरकार ने न सिर्फ ऐतिहासिक निर्णय लिया है, बल्कि राजधर्म का भी पालन किया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि बच्चे हमारे भविष्य है। इनके भविष्य को बेहतर बनाने के लिए शासन हर संभव प्रयास करेगा।

गौरतलब है कि चंदूलाल चंद्राकर स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय दुर्ग में 2017 बैच के 180 छात्र चतुर्थ वर्ष में अध्ययनरत है। यहां इन बच्चों का अध्यापन कार्य प्रभावित होने की वजह से मुख्यमंत्री बघेल की पहल पर राज्य शासन द्वारा बच्चों को अन्य मान्यता प्राप्त मेडिकल कॉलेज में पुनः आबंटन (रिएलोकेट) किए जाने का आदेश छत्तीसगढ़ शासन के चिकित्सा शिक्षा विभाग द्वारा जारी किया गया है। हॉस्पिटल बोर्ड के राज्य अध्यक्ष और आईएमए मेडिकल स्टूडेंट नेटवर्क के राज्य संयोजक डॉ. राकेश गुप्ता ने मुख्यमंत्री को बताया कि 2017 के पूर्व बैच के लगभग 300 मेडिकल छात्र इंटर्नशिप पूरा कर रहे हैं, अब वे पीजी नीट की परीक्षा में बैठेंगे। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार की इस पहल एवं संवेदनशीलता से 480 छात्रों का भविष्य सुरक्षित हुआ है। मेडिकल छात्र अक्षत ने कॉलेज के एमबीबीएस के छात्रों के रिएलोकेशन के निर्णय के लिए मुख्यमंत्री का आभार जताया। उन्होंने मुख्यमंत्री से आग्रह किया कि छात्रों को उनके गृह जिले के शासकीय जिला चिकित्सालयों एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में इंटर्नशिप करने का अवसर भी दिया जाना चाहिए, इससे इंटर्नशिप के दौरान उन्हें ज्यादा सीखने का मौका मिलेगा। डॉ. राकेश गुप्ता का कहना है कि किसी भी राज्य में निजी मेडिकल कॉलेज के लिए एमसीआई तभी अनुमति देती है, जब राज्य सरकार की ओर से यह लिखित में दिया जाता है कि वह इस कॉलेज में अध्ययनरत बच्चों के हितों की पूरी तरह से सुरक्षा करेगी। कई राज्यों में निजी मेडिकल कॉलेजों की मान्यता समाप्त होने के बाद अध्ययनरत छात्रों के भविष्य को सुरक्षित रखने के लिए राज्य सरकार द्वारा इस तरह के कदम उठाए गए हैं। उन्होंने उत्तराखंड के मामले में सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का भी उल्लेख करते हुए बताया कि जिसमें कहा गया है कि राज्य सरकार मेडिकल छात्रों के भविष्य को सुरक्षित रखने के लिए नैतिक रूप से जवाबदार है।

यहां यह भी उल्लेखनीय है कि छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा राज्य की जनता, छात्रों के हितों तथा प्रदेश में तेजी से चिकित्सा शिक्षा के विस्तार के उद्देश्य से चन्दूलाल चन्द्राकर स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय दुर्ग के अधिग्रहण का निर्णय लिया गया है। आमतौर पर किसी चिकित्सा महाविद्यालय की अधोसंरचना को तैयार करने में ही करीब 500 करोड़ रूपए की लागत और काफी समय लग जाता है। मेडिकल कॉउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा मान्यता प्राप्त 150 सीट वाले चंदूलाल चंद्राकर स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय दुर्ग के राज्य शासन द्वारा अधिग्रहण से आधी से कम लागत में ही एक और शासकीय मेडिकल कॉलेज का लाभ प्रदेश की जनता और छात्रों को तत्काल मिल सकेगा। इस अवसर पर डॉ. बसंत आंचल, डॉ. प्रवीण चंद्राकर, डॉ. छत्तर सिंह, डॉ. रूपल पुरोहित, विश्वजीत मित्रा, डॉ. अक्षत तिवारी सहित छात्र व पालक उपस्थित थे।

BIG BREAKING : आज रायपुर में मिले इतने नए मरीज, 10 हुए स्वस्थ, देखे पुरे जिले की स्थिति

BIG BREAKING : आज रायपुर में मिले इतने नए मरीज, 10 हुए स्वस्थ, देखे पुरे जिले की स्थिति

रायपुर | राजधानी रायपुर में आज 09 कोरोना मरीजों की पहचान हुई है। वही हॉस्पिटल से 0 और होम आइसोलेशन से 10 कुल 10 मरीज स्वस्थ हुए है। जबकि आज किसी मरीज की मौत नहीं हुई, इस प्रकार मौत का कुल आकड़ा 3138 हुआ, साथ ही अब रायपुर में एक्टिव मरीज 139 है। आज तक रायपुर में 157638 मरीजो की पहचान हुई है और 154361 मरीजों ने कोरोना से जंग जीती है।
आपको बता दे छत्तीसगढ़ प्रदेश में आज कुल 128 नए कोरोना मरीजों की पहचान की गई है | जिसमे जिला बस्तर से सर्वाधिक 18 मरीज मिले है| आज प्रदेश में कुल 254 कोरोना संक्रमित मरीज कोरोना की जंग जीत कर स्वस्थ्य हुए है | राज्य में आज कुल 02 कोरोना संक्रमितों की मौत हुई है | प्रदेश में अब कुल एक्टिव मरीजों की संख्या 2390 है | आज प्रदेश में 38998 टेस्ट हुए है |


 

मुख्यमंत्री ने नन्हें गायक सहदेव को दी शाबासी

मुख्यमंत्री ने नन्हें गायक सहदेव को दी शाबासी

रायपुर, मुख्यमंत्री से आज शाम उनके निवास कार्यालय रायपुर में सुकमा जिले के छिन्दगढ़ ब्लॉक के ग्राम पंचायत कुरमापार के नन्हें गायक सहदेव दिरदो ने मुलाकात की। उद्योग और वाणिज्य मंत्री कवासी लखमा सहदेव को अपने साथ लेकर आए थे। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सहदेव दिरदो को अपनी अनोखी गायन शैली से देश के जाने-माने सिंगर सहित आम लोगों का ध्यान आकर्षित करने और छत्तीसगढ़ का नाम रौशन करने के लिए बधाई और शुभकामनाएं दी।
गौरतलब है कि सहदेव दिरदो का गाया गाना-मेरे बचपन का प्यार भूल नहीं जाना रे, इन दिनों सोशल मीडिया पर काफी चर्चित है। सहदेव के इस गाने को सुनकर बॉलीवुड के प्रसिद्ध सिंगर बादशाह ने सहदेव को दिल्ली आमंत्रित किया था, जहां उन्होंने इस गाने की प्रस्तुति दी थी। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और मंत्री कवासी लखमा के कहने पर सहदेव दिरदो ने अपने निराले अंदाज में गाना सुनाया। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने सहदेव के गायन शैली की तारीफ की और उज्ज्वल भविष्य की शुभकामनाएं दी। सहदेव वर्तमान में कक्षा सातवीं में अपने गांव के स्कूल में ही अध्ययनरत है। सोशल मीडिया के जरिए वायरल हुए उसके गाने को लोग काफी पसंद कर रहे हैं।
 

बड़ी खबर : अलग अलग स्कूलोें में पदस्थ व्याख्याताओं और प्राचार्यों को विकासखंड शिक्षा अधिकारी बनाया गया , देखें आदेश

बड़ी खबर : अलग अलग स्कूलोें में पदस्थ व्याख्याताओं और प्राचार्यों को विकासखंड शिक्षा अधिकारी बनाया गया , देखें आदेश

रायपुर,  शिक्षा विभाग ने बड़े पैमाने पर प्रदेश के अलग अलग स्कूलोें में पदस्थ व्याख्याताओं और प्राचार्यों को विकासखंड शिक्षा अधिकारी बना दिया है. इसके साथ ही अलग अलग ब्लाकों में पदस्थापना दिया है. इस संबंध में स्कूल शिक्षा विभाग के अवर सचिव जनक कुमार ने आदेश जारी कर दिया है. 

 

 

साइबर सेल ने किया अफ्रीका और नाईजिरिया तक फैले ऑनलाइन फ्रॉड नेटवर्क का भंडाफोड़

साइबर सेल ने किया अफ्रीका और नाईजिरिया तक फैले ऑनलाइन फ्रॉड नेटवर्क का भंडाफोड़

रायपुर । छत्तीसगढ़ पुलिस की साइबर सेल ने पांच राज्य (महाराष्ट्र, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल और राजस्थान) के साथ वेस्ट अफ्रीका और नाईजिरिया तक फैले ऑनलाइन फ्रॉड नेटवर्क का भन्दा फोड़ किया है, जिसमें मुंबई, नई मुंबई (पनवेल), राजस्थान (पाली), दिल्ली, नोएडा, पश्चिम बंगाल के दर्जनों बैंक अकाउंट में लगभग 15 लाख रुपये फ्रीज़ करवाए गए।
मामले में आरोपी डोसों ईषुफ पिता आस्टिन उम्र 35 वर्ष निवासी वेस्ट आफ्रिका हाल सेक्टर 34 खारघर नवी मुंबई व जगदीश पाॅल पिता राजकुमार पाॅल उम्र 35 वर्ष निवासी घोड़बंदर मुंबई को नवी मुंबई खारघर पुलिस थाने की सहायता से गिरफ्तार करने में सफलता मिली है एवं अपराधी को ट्रांजिट रिमांड पर रायपुर कोर्ट में पेश कर रायपुर सेंट्रल जेल निरूद्ध है।
मामले में एक अन्य आरोपी, आरोपियों के गिरफ्तार होने की सूचना मिलने पर परिवार सहित दिल्ली से भागा सामने पुलिस बेरीकेटिंग के पास तेज रफ्तार से ट्रक में जा घुसा, जिसमें आरोपी की अस्पताल पहुचने पर मृत्यु हो गई एवं अन्य एक आरोपी अस्पताल में भर्ती है।
मामले में लगभग 55 करोड़ की रकम को देश के विभिन्न राज्यों से ऑनलाइन फ्रॉड कर विभिन्न बैंक अकाउंट से निकाल अफ्रीका स्थित यूनाइटेंड बैंक ऑफ अफ्रीका में ठगी के बड़ा हिस्से को मुंबई स्थित हवाला ऑपरेटर के माध्यम से अफ्रीका भेजा जाता है। ठगी के धंधे में अफ्रीका के बहुत से ठगों ने मुंबई,नवी पनवेल,ठाणे को अपना अड्डा बना लिया जहां से फर्जी ईमंेल मोबाईल कॉल आदि करके देश भर में ठगी करते है एवं फेक वीजा बनाने की भी जानकारी प्राप्त हुई है।
00 प्रकरण का संक्षिप्त विवरण :
देवेंन्द्र नगर रायपुर निवासी आवेदक मोहम्मद आसीफ फारूखी संचालक (ताज एटीएम) आयुर्वेदा प्राईवेट लिमिटेड कंपनी दिनांक 24.05.2021 को डेबिट जान्सन नामक व्यक्ति ने अपने मोबाईल नम्बर से व्हाटसएप्प किया की उनकी कंपनी को एक सामान की जरूरत है। वह इंडिया में सामान देने वाले को ढूंड रहे हैं। यदि आप रूचि रखते हैं तो बतायें। इसके पश्चात अपना परिचय देते हुए अपनी कंपनी (आफ्रिका) के बारे में बताया जो कि जानवारों की दवाई एवं इंसानों के दिल व दिमाग में होने वाली बिमारीयों की दवाईयां बनाती है जिसका कच्चा माल इंडिया में मिलता है उनके पुराने सप्लायर का अनुबंध समाप्त हो गया है एवं उन्हें नये सप्लायर की आवश्यकता है। प्रार्थी द्वारा इस सप्लाई के लिये हाँ कहने पर आरोपी द्वारा मुंबई की एक कंपनी रोहित इंटरप्राईजेस का काॅन्टेक्ट नम्बर एवं पता दिया गया। आरोपी द्वारा 5500 डालर प्रति लीटर हार्डिलेक आर्गनिक एक्सटेक्ट खरीदने की बात कही गई एवं प्रतिमाह 100 से 300 लीटर की खपत बतायी। इसके बाद उसने अपनी कंपनी के बाॅस क्लाड एलन का नम्बर ई मेल दिया। डील फायनल होने के बाद सैम्पल एवं माल की सप्लाई के लिये प्रार्थी ने रोहित इंटरप्राईजेस को खरीदी के लिये आर्डर दिया एवं 7 जून से 18 जून तक बैंक खाता क्रमांक 172805002156 आईसीआईसीआई बैंक मुंबई ब्रांच थाणे व खाता क्र 021463300002572 यस बैंक मुंबई ब्रान्च थाणे में 06 ट्रांजेक्षन में कुल 1764000 रूपए ट्रान्सफर किया। पैसा देने के बाद भी उक्त कंपनी के द्वारा 15 दिवस बीत जाने के बाद भी सामान नहीं भेजा गया व कंपनी के संचालकों ने अपना मोबाईल उठाना, मैसेज का रिप्लाई देना भी बंद कर दिया। प्रार्थी को स्वयं के साथ 1764000/- रूपए की धोखाधड़ी होने का एहसास हुआ और उसने 10 जुलाई को राज्य सायबर पुलिस थाना में लिखित में आवेदन प्रस्तुत किया। जिसके लिखित आवेदन पर 10 जुलाई को ही अपराध क्रमांक 01/2021 धारा 420,34 भादवि 66(डी) आईटी एक्ट के तहत अपराध पंजीबद्ध किया गया।
प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए विशेष पुलिस महानिदेशक आर.के.विज के मार्गदर्शन में निरीक्षक निशीथ अग्रवाल, उप निरीक्षक अपराजिता सिंह राणा, प्रधान आरक्षक संदीप झा एवं आरक्षक भुनेश्वर साहू की चार सदस्य टीम गठित की गई एवं आरोपियों के पतासाजी हेतु टीम को दिल्ली, मुंबई रवाना किया गया।
आरोपियों से पूछताछ करने पर उनके द्वारा बताया गया कि वे ठगी की रकम को फर्जी कंपनी के करंट बैंक अकाउंट से चेक व एटीएम द्वारा आहरण कर दिल्ली एवं आफ्रिका ट्रांसफर किया करते थे, जिसके आधार पर अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी होना शेष है। साक्ष्यों के आधार पर आरोपी डोसो पिता आस्टिन उम्र 35 वर्ष निवासी वेस्ट आफ्रिका हाल सेक्टर 34 मुंबई, नवी मुबंई व जगदीश पाॅल पिता राजकुमार पाॅल उम्र 35 वर्ष निवासी घोड़बंदर मुंबई को विधिवत गिरफ्तार किया गया।
 

+ Load More