कोरोना अपडेट: प्रदेश में आज 12665 ने जीती कोरोना से जंग, कुल 6577 नए मरीज मिले 149 मृत्यु भी, देखे जिलेवार आकड़े    |    लॉन्च हुई 2डीजी दवा, कोरोना संक्रमण से जंग में कैसे करेगी मदद? जानिए सब कुछ    |    आईसीएमआर अपडेट : राज्य में मिले 5294 कोरोना पॉजिटिव, 21 जिलों में सौ से अधिक मिले मरीज, देखे जिलेवार आकड़े    |    सेक्स रैकेट : पुलिस ने छापा मारकर देह व्यपार का किया खुलासा, मौके से दो युवक और दो युवती गिरफ्तार    |    दो पक्षों के बीच विवाद में गोली लगने से एक महिला की मौत, तीन अन्य घायल    |    चक्रवाती तूफान तौकते हुआ विनाशकारी, 5 राज्यों में अब तक 11 लोगों की मौत    |    बड़ी खबर: जानिए आखिर किस मामले में सीबीआई ने 4 नेताओं को किया गिरफ्तार    |    ममता बनर्जी के मंत्रियों-नेताओं पर सीबीआई ने कसा शिंकजा, यहां जानें क्या है मामला    |    रक्षा मंत्री व केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने लॉन्च की कोरोना की स्वदेशी दवा 2DG    |    कोरोना अपडेट: देश में 24 घंटों में 2 लाख 81 हजार नए मामले आए, 4106 लोगों की हुई मौत    |
छत्तीसगढ़: बगैर अतिरिक्त छूट के इस जिले में 16 दिन और बढ़ा लॉकडाउन

छत्तीसगढ़: बगैर अतिरिक्त छूट के इस जिले में 16 दिन और बढ़ा लॉकडाउन

अम्बिकापुर। जिले में व्यावसायिक गतिविधियो पर अधिरोपित प्रतिबंधों और समूर्ण जिले को कंटेममेन्ट जोन घोषित करने के बावजूद कोविड-19 प्रकरणों की संख्या में वृद्धि और मौतो की संख्या को देखते हुए गंभीर खतरा उत्पन्न होने की आशंका अभी भी बनी हुई है। इसे देखते हुए कलेक्टर संजीव कुमार झा ने बिना अतिरिक्त छूट के जिले में कंटेन्मेंट जोन की अवधि 31 मई की रात्रि 12 बजे तक बढ़ा दिया गया है।
जारी आदेशानुसार इस अवधि में जिले की सीमाएं पूर्ववत सील रहेंगी और प्रतिबंध लागू रहेगा। इनके अतिरिक्त सभी गतिविधियां रहेगी, प्रतिबंधित- मेडिकल दुकान, क्लिनिक, पशु चिकित्सालय व शासकीय उचित मूल्य की दुकान निर्धारित समय पर खुलेंगें। दवाई की होंम डिलिवरी को प्राथमिकता देनी होगी। आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए गोडाउन में लोडिंग और अनलोडिंग करने की अनुमति रात्रि 10 बजे से सुबह 5 बजे तक होगी।
विवाह कार्यक्रम वर अथवा वधु के घर में ही आयोजित करने की शर्त पर आयोजन में शामिल होने वाले व्यक्तियों की संख्या अधिकतम 10 होगी। इसी प्रकार अन्त्येष्टि, दशगात्र कार्यक्रम मं, भी शामिल होने वाले व्यक्तियों की अधिकतम संख्या 10 होगी। फल, सब्जी, अंडा, मछली पोल्ट्रीएमटन किराना सामान की होंम डिलिवरी प्रातः 6 बजे से दोपहर 2 बजे तक केवल स्ट्रीट वेंडर, ठेले वाले, पिक अप, मिनी ट्रक या अन्य छोटे वाहनों से की जा सकेगी। स्थानीय ई कामर्स जैसे बड़ा भल, क्लिकर आदि से होंम डिलिवरी की अनुमति होगी। होटल और रेस्टोरेंट से जोमैटोएस्वीगी इत्यादि ऑनलाइन एप्लिकेशन के माध्यम से होंम डिलिवरी की अनुमति होगी। होटल और रेस्टोरेंट से होंम डिलिवरी के लिए समय प्रातः 6 बजे से रात्रि 8 बजे तक होगी। पेट्रोल पंप सभी सेवाओ के लिए अपने निर्धारित समयानुसार खुल सकेंगे। इसी प्रकार फ्लोर मिल भी अपने निर्धारित समयानुसार खुलेंगें । दुग्ध पार्लर दुग्ध वितरण व नयूज पेपर हॉकर के लिए समय प्रातः 6 बजे से प्रातः 8 बजे तक तथा सायंकाल 5 बजे से 6ः30 बजे तक रहेगा। पैटशॉप और एक्वेरियम केवल पशुओं के चारा देने के लिए प्रातः 6ः बजे से प्रातः 8 बजे तक और सायं 5 बजे से 6ः30 बजे तक खुलेंगें। एलपीजी गैस सिलेंडर एजेंसियां केवल टेलिफोनिक या ऑनलाइन बुकिंग के माध्यम से आर्डर लेकर सिलिंडर की घर पहुंच सेवा देगे। औद्योगिक संस्थानों एवं निर्माण इकाइयों को अपने कैंपस के भीतर मजदूरों को रखकर व अन्य व्यवस्था करते हुए उद्योग संचालन व निर्माण कर सकेंगे। शराब की होंम डिलीवरी की अनुमति होगी। टेलीफोन, पोस्ट ऑफिस, रेल्वे और एयरपोर्ट संचालन व रख-रखाव से जुड़े कार्यालय, वर्कशॉप, रेक पॉइंट पर लोडिंग एवं अनलोडिंग, खाद्य सामग्री का परिवहन, धान मिलिंग के लिए परिवहन का कार्य रात्रि 10 बजे से प्रातः 6 बजे तक होगी। अस्पताल और एटीएम कैश वेन पूर्वत चलते रहेंगे। बैंक और पोस्ट ऑफिस में को-मॉर्बिड , गर्भवती महिला अधिकारी-कर्मचारी को छूट देते हुए न्यूनतम 50 प्रतिशत स्टाफ के साथ समस्त सेवाओं के लिए कार्य की अनुमति प्रातः 10 बजे से दोपहर 2 बजे तक होगी। कोविड रोकथाम के समस्त कार्य संचालित रहेंगे। बसए रेलए हवाई यात्रा के लिए कोई पास की जरूरत नही होगी। चार पहिया वाहन में ड्राइवर सहित अधिकतम 3ए ऑटो में 3 और दो पहिया वाहन में अधिकतम दो व्यक्तियों के आवागमन की अनुमति होगी। प्रतियोगी या अन्य परीक्षाओं के परीक्षार्थियों के लिए उनका एडमिट कार्ड ही पास होगा।
फ्लोर मिल अपने निर्धारित समय पर खुल सकेंगे और टोकन सिस्टम से सेवा प्रदान करना होगा। कृषि खाद, बीज, कृषि उपकरण, यंत्र और कृषि दवाई से संबंधित दुकाने प्रातः6 बजे से अपरान्ह 2 बजे तक खुलेंगे। बिना दुकान खोले एसी, कूलर एवं पंखे की सप्लाई घर पहुंच सेवा के माध्यम से की जा सकेगी। इनके मरम्मत कार्य घर में जाकर कर सकेंगे। डाक और कुरियर सेवाओ के संचालन की अनुमति होगी। पंजीयन कार्यालय सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क संबंधी अनिवार्यता एवं कार्यालय को सेनिटाइज कर 50 प्रतिशत कर्मचारियों के साथ टोकन सिस्टम के माध्यम से खुलेगी । इसके साथ ही डाक एवं कुरियर सेवायें संचालन की भी अनुमति रहेगी। संभागायुक्त, पुलिस महानिरीक्षक, पुलिस अधीक्षक, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, एसडीएम, एसडीओपी, तहसील, थाना, मुख्य चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी और अधीनस्थ कार्यालय सहित अन्य महत्वपूर्ण सेवाएं प्रदान करने वाले कार्यालय खुले रहेंगे। लेकिन आम जनता का प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा। जारी आदेश 16 मई से प्रभावशील होगा।
 

 बड़ी खबर : लॉकडाउन में आभूषण दुकान खोलने पर लगा 20 हजार का जुर्माना

बड़ी खबर : लॉकडाउन में आभूषण दुकान खोलने पर लगा 20 हजार का जुर्माना

अम्बिकापुर। लॉकडाउन अवधि में दुकान खोलकर आभूषण बेचने पर जिला प्रशासन ने दुकान संचालक पर 20 हजार रुपए का जुर्माना वसूला और लॉक डाउन अवधि में दुकान बंद रखने की समझाईश दी ।

एसडीएम प्रदीप साहू ने बताया कि गुरुवार को निरीक्षण के दौरान अम्बिकापुर के सदर रोड स्थित कन्हैया अलंकार मंदिर ज्वेलरी शॉप का दुकान संचालक बाहर से दुकान बंद कर अंदर ज्वेलरी बेचते पाया गया। इस पर लॉकडाउन नियमो का उल्लंघन करने के कारण दुकान संचालक पर 20 हजार रुपए का जुर्माना लगाया।

ज्ञात हो कि अक्षय तृतीया के अवसर पर ग्रामीण क्षत्रो में बड़ी संख्या में विवाह का आयोजन होने वाला है । जिससे सोने - चांदी के आभूषण की मांग बढ़ गई है। इसका फायदा उठाने के लिए आभूषण दुकान संचालक नियमो का उल्लंघन कर रहे है।

कलेक्टर संजीव कुमार झा के निर्देशानुसार विभिन्न टीमों से निगम क्षेत्रों और ग्रामीण क्षेत्रों में नियमो के उल्लंघन करने वालो पर कार्यवाही की जा रही है। लॉकडाउन अवधि में बेवजह घूमने वालों और बिना मास्क के आने-जाने वालों पर जुर्माना लगाया जा रहा हैं। कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए दुकानों को बंद रखने की समझाईश दी जा रही है।
 
 छत्तीसगढ़ : प्रशासनिक अमले पर पर हमला करने वाले 8 लोगो पर एफआईआर दर्ज

छत्तीसगढ़ : प्रशासनिक अमले पर पर हमला करने वाले 8 लोगो पर एफआईआर दर्ज

अम्बिकापुर। लॉकडाउन का फायदा उठाकर अतिक्रमण करने वालों पर कार्यवाही करने गईं प्रशासन के टीम पर हमला करने वाले 8 ग्रामीणों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। वही एसडीएम से दो लोगो पर धारा 151 के तहत कार्यवाही की ।

नायब तहसीलदार किशोरो वर्मा ने बताया कि अम्बिकापुर जनपद अंतर्गत ग्राम बढ़नीझरिया में भूमि अतिक्रमण कर निर्माण कार्य करने की सूचना पर बुधवार को राजस्व और पुलिस की टीम के साथ मौके पर दबिश दी । उन्होंने ग्रामीणों को अतिक्रमण हटाने की समझाईश दी। इस पर ग्रामीण उग्र होकर टीम पर ईंट, पत्थर, सब्बल से हमला कर दिए। ग्रामीणों ने पटवारी के साथ मार-पीट की और शासकीय वाहन और दस्तावेज को क्षतिग्रस्त कर आधा घंटे तक बंधक बना लिए। मामले की सूचना पर एसडीएम और सीएसपी मौके पर पहुंचकर टीम को ग्रामीणो से मुक्त कराकर दस्तावेज वापस कराया। 

प्रशासनिक अमले पर मार-पीट करने और शासकीय वाहन और दस्तावेज को नुकसान पहुंचाने पर नायब तहसीलदार से राजकुमार, सुखसाय, नधिरत, इंद्र कुंवर, मनिरथ, दिलकुंवर, टिबन और सुशीला सभी निवासी बढ़नीझरिया के खिलाफ गांधीनगर थाने में एफआईआर दर्ज कराया गया। इन सभी पर भारतीय दंड संहिता की धारा 147, 148, 149, 186, 294, 332, 353, 427 और 506 अधिरोपित की है।
 
 मेडिकल कॉलेज के कोविड वार्ड से कैदी फरार, प्रहरी निलंबित

मेडिकल कॉलेज के कोविड वार्ड से कैदी फरार, प्रहरी निलंबित

अंबिकापुर। अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज के कोविड वार्ड से सोमवार को एक कैदी फरार हो गया। कोरोना संक्रमित होने के बाद उसे 5 दिन पहले ही अस्पताल में भर्ती कराया गया था। वार्ड के बाहर एक जेल प्रहरी की ड्यूटी भी लगाई गई थी, लेकिन उसे कैदी के भागने का पता ही नहीं चला। घटना की जानकारी सुबह लगी तो एक घंटे बाद अफसरों को सूचना दी। जेल प्रशासन ने प्रहरी को निलंबित कर दिया है। कैदी हत्या के आरोप में जेल में बंद था।

प्राप्त जानकारी के अनुसार सरगुजा के धौरपुर में चंदेश्वरपुर निवासी संतोष यादव हत्या के आरोप में अंबिकापुर सेंट्रल जेल में बंद था। कोरोना संक्रमण को देखते हुए उसकी 5 मई को जांच की गई। इस पर डॉक्टर की सलाह से उसे अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज के कोविड वार्ड में अन्य विचाराधीन कैदियों के साथ भर्ती करा दिया गया। सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए जेल प्रहरी मनीष बंछोर की ड्यूटी कोविड वार्ड के बाहर लगाई गई थी। 

जेल प्रहरी मनीष बंछोर की ड्यूटी रात 2 बजे से सुबह 6 बजे तक थी। सुबह जब ड्यूटी पूरी होने लगी तब मनीष को कैदी के भागने का पता चला। पहले तो वह खुद ही उसकी तलाश करता रहा, लेकिन जब नहीं मिला तो करीब एक घंटे बाद जेल गेट प्रहरी मनोज सिंह और गार्ड इंचार्ज शंकर प्रसाद तिवारी को सूचना दी गई। इस संबंध में धौरपुर थाना प्रभारी को सूचित किया गया और एफआईआर दर्ज कराई गई। वहीं मनीष को निलंबित कर दिया गया है।
जिले में नियमों के उल्लंघन पर 9 हजार रुपए की चालनी कार्यवाही

जिले में नियमों के उल्लंघन पर 9 हजार रुपए की चालनी कार्यवाही

अम्बिकापुर । ककलेक्टर के निर्देशानुसार ग्रामीण क्षत्रो में भी नियम तोडऩे वालों पर कार्यवाही की जा रही है। इसी कड़ी में दरिमा तहसीलदार भूषण सिंह मंडावी के नेतृव में राजस्व और पुलिस की टीम की ओर से सोमवार को विभिन्न ग्रामो में दबिश देकर नियमो का उल्लंघन करने वालो पर कुल 9 हजार 400 रुपए की चालानी कार्यवाही की गई।
तहसीलदार मंडावी ने बताया कि बिना मास्क के तथा बेवजह घूमने वालोए दुकान खोल सामग्री बेचने वालों तथा पेट्रोल पंप में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं। करने पर कार्यवाही की गई। उन्होंने बताया कि एक विवाह आयोजक की ओर से विवाह में शामिल होने बीएमओ को दी गई 10 लोगों की सूची में से एक 65 वर्षीय व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव निकाला, जिसे मेडिकल कॉलेज अम्बिकापुर शिफ्ट किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि निरीक्षण के दौरान ग्राम अडची में एक नाबालिग किशोरी की विवाह की तैयारी कीजा रही थी। किशोरी के परिजनों को समझाईश देकर बाल विवाह रुकवाया गया। इस दौरान नायब तहसीलदार संजीत पांडेय और महिला व बाल विकास विभाग के सीडी पीओ भी मौजूद थे।
 

 छत्तीसगढ़: अवैध अस्पताल में सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन कर मरीजो को चढ़ाया जा रहा था ग्लूकोज, अस्पताल सील

छत्तीसगढ़: अवैध अस्पताल में सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन कर मरीजो को चढ़ाया जा रहा था ग्लूकोज, अस्पताल सील

अम्बिकापुर। क्लिनिक के साथ एक कमरे में सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन करते हुए अवैध रूप से अस्पताल संचालित करने का मामला सामने आया है जहाँ कर मरीजो को खाट में लिटा कर बॉटल चढ़ाया जा रहा था। जिस पर जिला प्रशासन की टीम ने छापामार कार्यवाही करते हुए क्लिनिक को सील कर अस्पताल संचालक पर 50 हजार रुपए का जुर्माना लगाया गया। 

कलेक्टर संजीव कुमार झा के निर्देशानुसार एसडीएम प्रदीप साहू के नेतृत्व में राजस्व और स्वास्थ्य विभाग की टीम से शनिवार को अम्बिकापुर जनपद के सरगवां स्थित आधुनिक क्लिनिक में दबिश देकर निरीक्षण किया गया। एसडीएम ने बताया कि क्लिनिक संचालक द्वारा यूनानी चिकित्सा पद्धति के प्रमाण पत्र के आधार पर क्लिनिक के साथ अस्पताल का संचालन कर रहा था।क्लिनिक एवं अस्पताल में बिना सोशल डिस्टेंसिंग के करीब 100 लोग मौजूद थे। क्लिनिक के एक कमरे में खाट के बेड में मरीजो को भर्ती कर दीवार के सहारे बॉटल भी चढ़ाया जा रहा था। अवैध रूप से अस्पताल चलाने और कोरोना गाईडलाइंस का अनुपालनन नही करने पर टीम ने क्लिनिक को सील कर संचालक पर 50 हजार रुपए का जुर्माना लगाया गया।
 
 बड़ी खबर: सामाजिक कार्यक्रमो में डीजे बजाने पर होगी जब्ती, घर वाले पर लगेगा जुर्माना

बड़ी खबर: सामाजिक कार्यक्रमो में डीजे बजाने पर होगी जब्ती, घर वाले पर लगेगा जुर्माना

अम्बिकापुर। कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रसार को देखते हुए जिले में शादी, षष्ठी सहित अन्य सामाजिक कार्यक्रमो में डीजे बजाना प्रतिबंधित कर दिया गया है। किसी भी सामाजिक कार्यक्रम में डीजे का उपयोग किया जाता है तो निगरानी दल से जब्ती की कार्यवाही की जाएगी। डीजे का उपयोग करने वालो पर जुर्माना भी लगाया जाएगा। कलेक्टर संजीव कुमार झा ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में इस समय शादी ब्याह कार्यक्रम जोरो से चल रहा है। जिसमे डीजे का प्रयोग करने से भीड़ की स्थिति निर्मित हो रही है। इससे कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ते जा रहा है। कोरोना संक्रमण को रोकने प्रतिबंधित आदेश का पालन जरूरी है। इसलिए किसी भी सामाजिक कार्यक्रम में डीजे बजाना प्रतिबंधित किया गया है। नियम तोड़ने पर सख्त कार्यवाही होगी।
 
पटवारी अब गांव-गांव जाकर कराएंगे ये काम

पटवारी अब गांव-गांव जाकर कराएंगे ये काम

अम्बिकापुर । शादी-व्याह सहित अन्य सामाजिक कार्यक्रमों में प्रतिबंधित आदेश का पालन ग्रामीणों की ओर से नहीं करने के परिणामस्वरूप कोरोना संक्रमण गॉंव में तेजी से बढ़ रहा है। सामाजिक कार्यक्रम में भीड़ पर बंदिश लगाने अब पटवारी गांव-गांव जाकर नियम का पालन नहीं करने वालों पर कार्यवाही करेंगे और गॉंव में होने वाले सभी सामाजिक कार्यक्रमों की जानकारी भी जुटाएंगे। कलेक्टर संजीव कुमार झा ने शुक्रवार को ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना निगरानी के प्रभावी प्रबंधन के लिए अधिकारियों की ऑनलाइन बैठक में यह निर्देश दिए। उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रो में कोरोना निगरानी दल सहित लॉकडाउन नियमो का कड़ाई से पालन सनिश्चित करने के लिए विस्तार से समीक्षा की।
कलेक्टर ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रो में प्रतिबंधित आदेश का प्रभावी क्रियान्वयन हेतु तहसीलदार और थाना प्रभारी टीम गठित कर गांव के साप्ताहिक और अन्य छोटे बाजारों को किसी भी स्थिति में लगाने न दें। गॉंव में जिन स्थानों पर लोग इक_ा होते है खास कर युवा उन स्थानों का चिह्नकन कर नियमित निरीक्षण करें और जुर्माना की कार्यवाही करें। इसी प्रकार शादी-व्याह पर भी कड़ी नजर रखें। बड़े टेंट-पंडाल लगाकर शादी करने वालो पर ज्यादा जुर्माना लगाए एजब्ती की कार्यवाही करें। उन्होंने कहा कि कार्यवाही धैर्यपूर्वक समझाईश देने के तौर पर हो। कार्यवाही में पुलिस बीट के इंचार्ज को भी शामिल करें। पुलिस अपने सूचना तंत्र को मजबूत करें, ताकि गांव मे होने वाले कोई भी कार्यक्रम की सूचना समय पर मिल सके।
कलेक्टर ने कहा कि एसडीएम, एसडीओपी और टीआई गांव में निगरानी को प्रभावी बनाने रणनीति बनाये। शहर के नजदीकी गांव के लोग ज्याद आना-जाना करते है, जो मुख्य मार्ग के साथ छोटे और कच्चे मार्गो का भी उपयोग करते है। इस लिए इन मार्गो पर भी निगरानी हो। इस समय शहर के आस-पास के क्षेत्रों में महुआ शराब की बिक्री बढ़ गई है। इसे भी सख्ती से रोकें। उन्होंने कहा कि गांव में सख्ती बरतने पर जमाखोरी, कालाबाजारी कर सामग्री के मूल्य बढ़ाने की कोशिश होगी जिस पर कड़ी कार्यवाही करनी होगी। उन्होंने कहा कि तहसीलदार और टीआई प्रत्येक गांव में पुलिस पेट्रोलिंग के लिए रूट चार्ट तैयार करें। प्रतिदिन रूट के अनुसार गांव में पहुंचकर स्पीकर में रिकार्डिंग चलाये कि कोरोना संक्रमण से बचने लॉकडाउन नियमों के पालन करें, नियम तोडऩे वालों पर कार्यवाही होगी।
कलेक्टर ने ग्रामीण निगरानी दल के गठन की समीक्षा करते हुए कहा कि ग्राम प्रभारी, क्लस्टर प्रभारी बनाने के बाद वाट्सअप ग्रुप भी बनाये। सभी जनपद पंचायत कार्यालय में बनाये गए ब्लॉक स्तरीय कंट्रोल रूम में अनिवार्य रूप से दो-दो सीसीटीवी कैमरे लगवाएं, ताकि जिला स्तर से भी मॉनिटरिंग हो सके। बीएमओ सीएचसी में कम से कम 20 बेड को कोविड वार्ड अवश्य तैयार रखें। कोरोना के लक्षणए होंम आईसोलेशन, ओक्सिजन लेवल, तथा दवाई संबंधी जानकारी में लिए गांव में दीवाल लेखन, बैनर, जनपद के चौक-चौराहों पर होर्डिंग लगवएं। बैठक में पुलिस अधीक्षक टीआर कोशिमा ने कहा कि महुआ शराब की बिक्री और परिवहन पर सख्त कार्यवाही करें। प्रतिदिन कार्यवाही जारी रहे। इसी प्रकार चेक पोस्ट पर भी निगरानी पुख्ता रखे।
 

छत्तीसगढ़ बड़ी खबर : सामने आया 3 तलाक का मामला, पुलिस ने दर्ज किया अपराध

छत्तीसगढ़ बड़ी खबर : सामने आया 3 तलाक का मामला, पुलिस ने दर्ज किया अपराध

अंबिकापुर। छत्तीसगढ़ में तीन तलाक का एक और मामला सामने आया है। नवविवाहिता ने मामले की शिकायत थाने में दर्ज कराई है। शिकायत में महिला ने ससुराल वालों पर गर्भपात का भी आरोप लगाया है।
यह मामला अंबिकापुर का है। पति ने तीन तलाक देकर नवविवाहिता को घर से बाहर निकाल दिया। शिकायत के बाद पुलिस ने पति समेत सास, ससुर और ननद पर केस दर्ज किया है।
जानकारी के अनुसार पीड़िता ने बताया कि बीते कई दिनों से पति उसके साथ मारपीट भी कर रहा था। परिवार वालों ने जबरदस्ती गर्भपात भी कराया।
 

विवाह में लगाए गए टेन्ट पंडाल जब्त, दो विवाह आयोजको पर एक-एक हजार का जुर्माना

विवाह में लगाए गए टेन्ट पंडाल जब्त, दो विवाह आयोजको पर एक-एक हजार का जुर्माना

अम्बिकापुर । ग्रामीण क्षत्रो में भी नियम तोडने वालों पर कार्रवाई की जा रही है । इसी कड़ी में दरिमा तहसीलदार भूषण सिंह मण्डावी के नेतृव में राजस्व और पुलिस की टीम से गुरुवार को ग्राम सोनबरसा में हो रहे शादी घर का निरीक्षण किया गया।
शादी घर में अनुमति से ज्यादा भीड़ पाया गया व नियम के खिलाफ घसिया बाजा शादी समारोह में लगाया गया था जिसमें बाजा वालो की ही संख्या 10 था। इसके साथ ही टेंट लगाकर भीड़ इकट्ठा की गई थी , जिसकी जब्ती की कार्रवाई कर ग्राम पंचायत के सुपुर्द किया गया । नियम के खिलाफ विवाह समारोह आयोजन करने पर शादी घर के प्रमुख से चालानी कार्रवाई करते हुए 1000 का जुर्माना लगाया गया। इसी प्रकार ग्राम टपरकेला में भी कोविड नियमों का पालन न कर विवाह का आयोजन किया जा रहा था । जिस पर विवाह समारोह आयोजक पर एक हजार रूपये की चालानी कार्रवाई की गई।
इसीप्रकार अम्बिकापुर तहसीलदार ऋतुराज बिसेन के नेतृत्व में गुरुवार को निरीक्षण के दौरान भिट्ठीकला स्थित लक्ष्मी गारमेंट में लॉकडाउन के दौरान दुकान संचालक से कपड़ा विक्रय किया जा रहा था। तहसीलदार ने इसे लॉकडाउन का उल्लंघन मानते हुए दुकान को सील करने कीकार्रवाई की ।
 

कोरोना गाइडलाइंस का पालन नही करने वाले 4 हजार 234 लोगों से अब तक इतने रुपये का जुर्माना वसूला

कोरोना गाइडलाइंस का पालन नही करने वाले 4 हजार 234 लोगों से अब तक इतने रुपये का जुर्माना वसूला

अम्बिकापुर । कलेक्टर के निर्देशानुसार निगरानी दलो ने शहर भ्रमण कर नियमों का कड़ाई से अनुपालन करवाया जा रहा है। नगर निगम अम्बिकापुर के प्रमुख चैक.चैराहों तथा मार्गों पर लोगों के बेवजह बाहर निकलने वालो पर निगरानी रखी जा रही है। कोरोना गाइडलाइंस का पालन नही करने वाले 4 हजार 234 लोगों से अब तक 9 लाख 24 हजार 980 रुपये का जुर्माना वसूला गया है।
उल्लेखनीय है कि कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने 13 अप्रैल प्रातः 6 बजे से पूरे जिले को कंटेन्मेंट जोन घोषित कर प्रतिबंधात्मक आदेश लागू किया गया है। नियमों का पालन कराने जिला प्रशासन के अधिकारी.कर्मचारी डटे हुए हैं। निगरानी दलों ने कोविड गाइडलाइंस का उल्लंघन करने वालों पर चालानी कार्यवाही भी की जा रही है।
 

 CG BREAKING: नशेड़ी युवकों ने मितानिनों से छीना वैक्सीन

CG BREAKING: नशेड़ी युवकों ने मितानिनों से छीना वैक्सीन

अंबिकापुर, अंबिकापुर के कवलगिरी पंचायत में मितानिनों से कोरोना वैक्सीन छीनने का मामला सामने आया है।
कोरोना वैक्सीन का विरोध कर रहे नशेड़ी युवकों ने वैक्सीन का एक एम्पुल छीन लिया।
मितानिनों से की गालीगलौज की भी की। युवकों ने वैक्सीन के बॉक्स को फेंकने की भी कोशिश की। सोमवार देर रात युवकों को गिरफ्तार कर लिया गया है।
 

कोविड वार्ड में बड़ी लापरवाही: कोरोना मरीज की मौत के बाद मर्च्यूरी में रख दी गई थी लाश, खाना भिजवाते रहे परिजन

कोविड वार्ड में बड़ी लापरवाही: कोरोना मरीज की मौत के बाद मर्च्यूरी में रख दी गई थी लाश, खाना भिजवाते रहे परिजन

अंबिकापुर, अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज के कोविड वार्ड में लापरवाही का मामला सामने आया है। संक्रमित मरीज की मौत के बाद भी परिजनों को इसकी सूचना नहीं दी गई। करीब 17 घंटे बाद परिजनों को मरीज की मौत की जानकारी हुई।
मरीज के परिजन कोविड वार्ड में भर्ती अपने परिजन के लिए खाना भिजवाते रहे मगर करीब 17 घंटे पहले ही मरीज की मौत हो चुकी थी ऐसे में जब अस्पताल प्रबंधन से किसी तरह की सूचना नहीं मिली तो मरीज के परिजन खुद पीपीई कीट पहनकर आईसीयू पहुंचे। यहां मरीज को न पाकर जब परिजनों ने हंगामा शुरू किया तब उन्हें पता चला कि मरीज की मौत के बाद शव को मर्च्यूरी में रख दिया गया है।
वहीं लापरवाही की इस घटना के बाद अब मेडिकल कॉलेज अस्पताल प्रबंधन हर बार की ही तरह जांच और कार्रवाई की बात कह रहा है। दरअसल सूरजपुर जिले के रहने वाले एक वृद्ध को पहले मेडिकल कॉलेज अस्पताल के आइसोलेसन वार्ड में भर्ती कराया गया था। पॉजिटिव आने पर मरीज को आईसीयू में दाखिल किया गया था।
मरीज के परिजन दो टाइम तक मरीज को खाना पहुंचाने के लिए अस्पताल कर्मियों को देते रहे और अस्पताल कर्मी मरीज के परिजनों को खाना पहुंचाने के लिए आश्वस्त भी करते रहे। मगर करीब 17 घंटे बाद एक बार भी परिजनों की बात मरीज से नहीं हुई तो उन्होंने खुद पीपीई किट पहनकर आईसीयू में मरीज कि तलाश की।
तब मरीज वहां मौजूद नहीं था ऐसे में वार्ड बॉय ने जानकारी दी कि मरीज की मौत करीब 17 घंटे पहले ही हो चुकी है और उसके शव को मर्च्यूरी में रख दिया गया है। परिजनों ने इसे गंभीर लापरवाही बताते हुए इसकी शिकायत मेडिकल कॉलेज अस्पताल प्रबंधन से की है। इधर मेडिकल कॉलेज अस्पताल प्रबंधन मामले की जांच कर कार्रवाई की बात कह रहा है।
 

बिना अधिकार कोविड वैक्सीनेशन करने पर जिले के इस नेत्रालय पर प्रशासन ने जड़ा सील

बिना अधिकार कोविड वैक्सीनेशन करने पर जिले के इस नेत्रालय पर प्रशासन ने जड़ा सील

अम्बिकापुर । अनाधिकृत रूप से कोविड वैक्सीनेशन करने पर जिला प्रशासन ने अम्बिकापुर के कमलेश नेत्रालय पर रविवार को सीलबंदी की कार्यवाही की गई। कलेक्टर संजीव कुमार झा के निर्देशानुसार एसडीएम प्रदीप साहू के नेतृव में राजस्व एवं स्वास्थ्य विभाग की टीम ने रविवार को दोपहर में केदारपुर स्थित कमलेश नेत्रालय में दबिश दी। टीम ने पहुंचने पर पाया कि वहां 18 से 44 वर्ष के करीब 10 लोग टीकाकारण के लिए उपस्थित थे। टीम के निरीक्षण में 1 खाली कोविड वैक्सीन का वॉयलए एक आधा वायल तथा पंजी में 2 मई की तिथि में टीकाकारण के लिए हितग्रहियों के नामएपता उम्र आदि की इंद्राज की गई थी। एसडीएम प्रदीप साहू ने बताया कि कमलेश नेत्रालय को केवल 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगो के टीकाकारण की अनुमति दी गई है। किंतु अस्पताल प्रबंधन ने 18 से 44 वर्ष के लोगो का भी टीकाकरण किया जा रहा था। उन्होंने बताया कि एक महिला प्रत्यक्षदर्शी के अनुसार प्रशासन के टीम के पहुंचने से पहले 18 से 44 वर्ष के 10 लोगो का टीकाकरण किया जा चुका था। जिला प्रशासन की टीम ने मौजूद साक्ष्य और गवाह के आधार पर पंचनामा तैयार किया गया और कमलेश नेत्रालय पर अनाधिकृत रूप से टीकाकरण करने पर आगामी आदेश पर्यंत सीलबंदी की कार्यवाही की गई।
कार्यवाही में तहसीलदार ऋतुराज सिंह बिसेन, नायब तहसीलदार किशोर वर्मा सहित स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी मौजूद थे।
 

निर्धारित दर से अधिक राशि लेने वाले अस्पताल में 10 दिन के लिए मरीजो का पंजीयन निरस्त

निर्धारित दर से अधिक राशि लेने वाले अस्पताल में 10 दिन के लिए मरीजो का पंजीयन निरस्त

अम्बिकापुर। कोरोना मरीज के ईलाज में शासन से निर्धारित दर से अधिक राशि वसूलने वाले एक निजी अस्पताल में 10 दिन के लिए मरीजो का पंजीयन सीएमएचओ ने निरस्त कर दिया है। 


सीएमएचओ डॉ पीएस सिसोदिया ने बताया कि अम्बिकापुर के केदारपुर स्थित एकता हॉस्पिटल को कोविड-19 मरीजो के ईलाज की अनुमति शासन के नियमो के तहत दी गई है। अस्पताल प्रबन्धन से कोरोना मरीज के इलाज के लिए शासन से निर्धारित दर से अधिक राशि लिए जाने की शिकायत मय दस्तावेज प्राप्त हुई थी। शिकायत के बारे में तीन दिन में स्पष्टीकरण मांगा गया था। किंतु अस्पताल प्राबन्धन से कोई जवाब नही दिया गया जो शासन के नियमो का उल्लंघन है। इसलिए उक्त संस्था में कोविड-19 मरीजो का पंजीयन 10 दिन के लिए निरस्त कर दिया गया है।

 
BIG BREAKING : प्रदेश के अब इस जिले में 5 मई रात्रि 12 बजे तक लॉकडाउन बढ़ने का आदेश हुआ जारी, देखें क्या सेवाएं रहेंगी खुली

BIG BREAKING : प्रदेश के अब इस जिले में 5 मई रात्रि 12 बजे तक लॉकडाउन बढ़ने का आदेश हुआ जारी, देखें क्या सेवाएं रहेंगी खुली

अंबिकापुरजिले में व्यावसायिक गतिविधियो पर अधिरोपित प्रतिबंधों एवं समूर्ण जिले को कंटेममेन्ट जोन घोषित करने के बावजूद कोविड- 19 प्रकरणों की संख्या में वृद्धि एवं इस महामारी से मौतो की संख्या को देखते हुए तथा गंभीर खतरा उत्पन्न होने की आशंका के परिणाम स्वरूप कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी श्री संजीव कुमार झा के द्वारा जिले में कंटेन्मेंट जोन की अवधि को  5 मई  2021 रात्रि  12 बजे तक बढ़ा दिया गया है। इस अवधि में जिले की सीमाएं पूर्ववत सील रहेंगी तथा प्रतिबंध लागू रहेगा। आदेश में बढ़े हुए लॉकडाउन अवधि में कुछ गतिविधियो को सशर्त अनुमति दी गयी है शेष पूर्व जारी आदेशानुसार यथावत रहेंगे।


इसकी मिली अनुमति- पूर्व आदेश में मिली छूट के अलावा कुछ अन्य गतिविधियां को सशर्त  अनुमति दी गई है। आवश्यक वस्तुओं तथा माल की आपूर्ति  सुनिश्चित करने के लिए गो डाउन में लोडिंग एवं अनलोडिंग की अनुमति रात्रि 11 बजे से प्रातः 4 बजे तक होगी। फल, सब्जी,पोल्ट्री, मटन, अंडा, मछली एवं किराना सामान की होम डिलिवरी  प्रातः 6 बजे से दोपहर 2 बजे तक केवल स्ट्रीट वेंडर, ठेले वाले, पिक-अप ,मिनी ट्रक या अन्य उपयुक्त छोटे वाहनों के माध्यम से की जा सकेगी। इस हेतु वाहनों में बैनर या बड़ा स्टिकर  लगाना होगा। स्थानीय ऑनलाईंन शॉप तथा ई-कामर्स सेवाएं  जैसे अमेजॉन, फ्लिपकार्ट इत्यादि उपरोक्त समयावधि में होम डिलिवरी कर सकेंगे लेकिन आम जनता के लिए शॉप बंद रहेंगे।

इसके साथ ही होटलों एवं रेटोरेंट से  स्वीगी, जोमैटो इत्यादि ऑन लाईन एप्लिकेशन के माध्यम से होम डिलिवरी  प्रातः 6 बजे से रात्रि 8 बजे तक कर सकेंगे। ग्राहकों के लिए  ईंन-हाउस  डायनिंग या टेक-अवे  पूर्णतः प्रतिबंधित रहेगा। इस ब्यवस्था मे लगे सभी व्यक्तियों को नियमित अंतराल पर कोविड-19 टेस्ट  तथा 45 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्तियो को कोविड-19 वेक्सीनेशन कराना होगा। होटलों, रेस्टोरेंट तथा दुकान में होंम डिलीवरी के दौरान भीड़-भाड़  या नियमो का उल्लंघन होने पर  30 दिन के लिए सीलबंदी की कार्यवाही की जाएगी। आपात स्थिति में चार पहिया वाहन में अब ड्राइवर  सहित अधिकतम 3 व्यक्तियों को आवागमन की अनुमति होगी। टेलीकॉम, पोस्ट ऑफिस, रेल्वे एवं एयरपोर्ट संचालन और रख-रखाव से जुड़े कार्यालय, वर्कशॉप,रेल्वे  रेक पॉइंट पर लोडिंग-अनलोडिंग का कार्य, खाद्य सामग्री के थोक परिवहन, धान मिलिंग का परिवहन कार्य रात्रि 10ः00 बजे से प्रातः 6ः00 बजे तक की जा सकेगी। आदेश में दी गई अनुमति 26 अप्रैल 2021 रात्रि 12 बजे से लागू होगी।

 बड़ी खबर: लॉकडाउन में दुकान खोल सामान बेचने पर 3 दुकाने सील

बड़ी खबर: लॉकडाउन में दुकान खोल सामान बेचने पर 3 दुकाने सील

अम्बिकापुर। कलेक्टर संजीव कुमार झा के निर्देशानुसार निगरानी दल टीम सुबह से ही शहर भ्रमण कर नियमों के अनुपालन का पड़ताल किया जा रहा है।

शुक्रवार को एसडीएम प्रदीप साहू के नेतृत्व में नगर के प्रमुख मार्गों और स्थानों का निरीक्षण किया गया। इस दौरान खरसिया रोड स्थित अजय ट्रेडर्स, रितेश एजेंसी और गोयल एजेंसी से दुकान खोलकर सामान बेचने पर तीनो दुकानो पर सीलबंदी की कार्यवाही की । 

इसीप्रकार जोड़ा पीपल, गुदरी बाजार, सदर रोड, आकाशवाणी चौक, ब्रम्ह रोड, जय स्तंभ चौक, पुराना बस स्टैंड और सत्तीपारा में अनावश्यक रूप से घूमने वाले लगभग 19 लोगों पर चालानी कार्यवाही कर 4 हजार 800 रुपए जुर्माना वसूला गया। दल ने लॉकडाउन में घूम-घूमकर सब्जी-फल बेचने वालों से जुर्माना वसूली के साथ समझाईश दिया गया ।

एसडीएम प्रदीप साहू ने लोगो को समझाईश देते हुए कहा कि ठेले वाले 24 अप्रैल से सब्जी-फल घूम-घूमकर सुबह 6 बजे से 2 बजे तक बेच सकते हैं। लोग आने घर के पास ही फल-सब्जी खरीद सकते हैं। लोगों को जागरूक होने की आवश्यकता है। सब्जी-फल को घूम-घूमकर बेचने संबंधी नियम 24 अप्रैल से लागू होगा। अतः सभी लोग अपने घरों में रहें और जिला प्रशासन से समय समय पर जारी आदेशों का पालन करें। कोरोना के खिलाफ लड़ाई में आप सभी की सहायता और सहभागिता आवश्यक है।
BIG BREAKING : बिलासपुर के बाद अब इस जिले में लॉकडाउन बढ़ाने का आदेश हुआ जारी, पढ़ें पूरी खबर

BIG BREAKING : बिलासपुर के बाद अब इस जिले में लॉकडाउन बढ़ाने का आदेश हुआ जारी, पढ़ें पूरी खबर

सरगुजा | प्रदेश के सरगुजा जिले में भी लॉकडाउन बढ़ा दिया गया है | यहां 23 से बढ़ाकर 26 अप्रैल तक लॉकडाउन की मियाद कर दी गई है | लगातार बढ़ते कोरोना संक्रमण के चलते प्रशासन ने यह फैसला लिया है। इस अवधि में सब्जी, फल, अंडे व ग्रासरी को खोले जाने की अनुमति होगी। कलेक्टर सरगुजा संजीव झा ने आदेश जारी कर दिया है।

बेटे ने की थी मां की गला दबाकर हत्या गिरफ्तार

बेटे ने की थी मां की गला दबाकर हत्या गिरफ्तार

विश्रामपुर। दिन पहले एक महिला के अंधे कत्ल की गुत्थी सुलझाते हुए पुलिस ने उसके बड़े बेटे को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। बेटे ने ही गला घोंटकर मां की हत्या की थी और थाने में उसके अज्ञात कारण से मृत्यु की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। पुलिस ने जब जांच की तो सच्चाई सामने आई।
पूछताछ में आरोपी ने बताया कि उसकी मां का चाल-चलन ठीक नहीं था तथा वह घर बेचने नहीं दे रही थी। इस कारण से उसने 12 अप्रैल को नए घर में सोते समय उसकी गला घोंटकर हत्या कर दी।
बिश्रामपुर थाना क्षेत्र के ग्राम लक्ष्मणपुर कुम्दा निवासी सितंबर राजवाड़े ने 12 अप्रैल को रिपोर्ट दर्ज कराई कि उसकी मां अमरेश बाई पति स्व. रामदयाल 55 वर्ष मृत हालत में घर में पड़ी है। उसकी कैसे मौत हुई यह पता नहीं चल सका है। पुलिस ने शव का पीएम कराया तो गला दबाकर हत्या की पुष्टि हुई।
पुलिस ने मृतिका के पड़ोसियों से जब पूछताछ की तो उन्होंने बड़े बेटे सितंबर के साथ विवाद की बात बताई। इस पर पुलिस ने सितंबर राजवाड़े को हिरासत में लेकर कड़ाई से पूछताछ की तो उसने 12 अप्रैल की रात करीब 1 बजे मां की हत्या करने की बात स्वीकार कर ली।
इसके बाद पुलिस ने उसके खिलाफ धारा 302 के तहत अपराध दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने शुक्रवार को उसे न्यायालय में पेश किया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया। पूरी कार्रवाई सूरजपुर एसपी के निर्देश पर की गई।
कार्रवाई में विश्रामपुर थाना प्रभारी सुभाष कुजूर, एएसआई लक्ष्मी गुप्ता, केडी बनर्जी, उमेश सिंह, प्रधान आरक्षक आनंद सिंह, संजय सिंह यादव, आरक्षक अकरम मोहम्मद, अखिलेश पाण्डेय, देवनंदन राजवाड़े, अजय प्रताप सिंह, संजय राजपूत, रविशंकर पाण्डेय, नागेश नाहक, रौशन सिंह व महिला सैनिक उर्मिला पटेल सक्रिय रहे, पुलिस की पूछताछ में आरोपी ने बताया कि पिता की मृत्यु के बाद उसकी मां लक्ष्मणपुर कुम्दा बस्ती स्थित नए घर में अकेले रहकर शराब बनाकर पीती और लोगों को भी पिलाती थी। मोहल्ले में घूमती रहती थी तथा उसका चाल-चलन भी ठीक नहीं था। इस कारण उसकी बदनामी हो रही थी।
उसने मां को पुराने घर में साथ रहने कहा था लेकिन वह नहीं मानी। वहीं उसके छोटे भाई के नाम से सड़क दुर्घटना के एक प्रकरण में कोर्ट द्वारा 3 लाख रुपए बतौर जुर्माना भरने नोटिस भी आया था। रुपए की व्यवस्था के लिए वह और उसका भाई नए घर को 4 लाख में बेचना चाह रहे थे लेकिन मां ने यह कहते हुए मना कर दिया था कि उसके पिता की निशानी है। मां के चाल-चलन से हो रही बदनामी और घर बेचने देने में रोड़ा बन रही मां की उसने हत्या की योजना बनाई। प्लान के अनुसार 12 अप्रैल की रात करीब 9 बजे वह पुराने घर से मुर्गा बनाकर मां को खिलाने लाया। जब जाने लगा तो उसने दरवाजे को खुला छोड़ दिया था। बेटे के जाने के बाद मां मुर्गा-शराब पीने-खाने के बाद सो गई। इधर रात करीब 1 बजे सितंबर राजवाड़े चोरी-छिपे घर में घुसा ओर सो रही मां का गला दबा दिया। जब वह जमीन पर गिरकर छटपटाने लगी तो वहीं रखे गमछे से उसका गला दबाकर हत्या कर दी और फरार हो गया। फिर पुलिस को गुमराह करने उसने थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी।
 

जिले में कोरोना को शिकस्त देकर 15 व्यक्ति लौटे अपने घर

जिले में कोरोना को शिकस्त देकर 15 व्यक्ति लौटे अपने घर

अम्बिकापुर । मेडिकल कॉलेज के चिकित्सा अधीक्षक ने बताया है कि 5 दिन की हॉस्पिटालाईजेशन तथा लक्षण रहित पाए जाने पर 15 मरीजों को 15 अप्रैल को डिस्चार्ज कर दिया गया है। कोविड अस्पताल अम्बिकापुर में 15 अप्रैल की स्थिति में 91 मरीज भर्ती हैं जिनका ईलाज जारी है। कोविड-19 अस्पताल में 7 मरीज आइसीयू में, 12 एचडीयू में, ऑक्सीजन के साथ 64 तथा बिना ऑक्सीजन के साथ 10 मरीज भर्ती है। चिकित्सकों और पैरामेडिकल स्टाफ की ओर से मरीजों की सतत् निगरानी कर उपचार किया जा रहा है। मरीजों का बी.पी. पल्स. और ऑक्सीजन सेचूरेशन और अन्य वाईटल्स सामान्य है।
 

 लॉकडाउन छत्तीसगढ़: लॉकडाउन में लोकल बसों के परिचालन पर प्रशासन ने लगाई रोक

लॉकडाउन छत्तीसगढ़: लॉकडाउन में लोकल बसों के परिचालन पर प्रशासन ने लगाई रोक

अंबिकापुर। प्रदेश में तेजी से बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए सरगुजा जिला प्रशासन ने बड़ा फैसला लिया है। प्रशासन ने सभी लोकल बसों के परिचालन पर रोक लगा दी है। जारी आदेश के अनुसार लॉकडाउन के दौरान जिले के अंदर चलने वाली सभी बसें बंद रहेंगी। हालांकि प्रशासन ने अंतर्राज्यी बसों को छूट दी है।
 कलेक्टर व एसपी ने सड़क पर उतरकर लॉकडाउन की स्थित का लिया जायजा, बेवजह घूमने वालों पर सख्ती के निर्देश

कलेक्टर व एसपी ने सड़क पर उतरकर लॉकडाउन की स्थित का लिया जायजा, बेवजह घूमने वालों पर सख्ती के निर्देश

अम्बिकापुर। कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक टीआर कोशिमा ने मंगलवार को देर शाम अम्बिकापुर के प्रमुख चौक -चैराहों और मार्गों पर जिले में लगाए गए लॉकडाउन क की स्थिति का जायजा लिया। उन्होंने प्रतिबन्धात्मक आदेश में दी गई अनुमति के परे बाहर निकलने वालों पर सख्ती बरतने और चालानी कार्यवाही के निर्देश दिए।

कलेक्टर संजीव कुमार झा ने निरीक्षण के दौरान कलेक्टर ने घड़ी चौक और खरसिया नाका में बेवजह घूमने वालों तथा वाहन चालकों को फटकार लगाकर अधिकारियों को चालानी कार्यवाही के निर्देश दिए। इस दौरान उन्होंने कहा कि जो लोग अनुमति के तहत बाहर निकल रहे है । उन्हें मास्क पहनने और शारीरिक दूरी का अनिवार्य रूप से पालन कराएं।

उल्लेखनीय है कि कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने मंगलवार प्रातः 6 बजे से पूरे जिले के कंटेन्मेंट जोन घोषित कर प्रतिबंधात्मक आदेश लागू किया गया है। नियमों का पालन कराने जिला प्रशासन के अधिकारी-कर्मचारी डटे हुए हैं। सुबह से ही अधिकारी सड़क पर उतरकर स्थिति का जायजा लेते रहे। इसके साथ ही जिले की सीमा और प्रमुख मार्गों पर बने चेक पोस्ट पर पुलिस का पहरा भी सख्त है।
निरीक्षण के अम्बिकापुर एसडीएम प्रदीप साहू, तहसीलदार ऋतुराज बिसेन और अन्य अधिकारी - कर्मचारी मौजूद थे।
 
 लॉकडाउन: छत्तीसगढ़ के इस जिले में हुआ 13 से 23 तक लॉकडाउन का आदेश जारी

लॉकडाउन: छत्तीसगढ़ के इस जिले में हुआ 13 से 23 तक लॉकडाउन का आदेश जारी

सरगुजा। दुर्ग, रायपुर, बेमेतरा, राजनांदगांव व कोरिया जिले के बाद अब सरगुजा जिले में भी लॉकडाउन  लगाने का निर्णय लिया गया है। कलक्टर सरगुजा ने एक आदेश जारी कर 13 अप्रैल से 23 अप्रैल तक सख्त लॉकडाउन के निर्देश दिए हैं।

इस दौरान सरगुजा जिले के सभी सीमाएं सील होंगीं। 13 अप्रैल की सुबह 6 बजे से 23 अप्रैल की रात 12 बजे तक यह लॉकडाउन होगा। आवश्यक सेवाओं की दुकानों को छोड़कर सब बंद रहेंगे।

छत्तीसगढ़ में कोरोना भयावह रूप लेता जा रहा है। यहां हर दिन 10 हजार से अधिक कोरोना संक्रमित मिल रहे हैं। इसी कड़ी में सरगुजा में भी कोरोना संक्रमितों की संख्या में हर दिन इजाफा होता जा रहा है।

यहां 200 से अधिक मरीज रोजाना मिल रहे हैं। संक्रमितों की लगातार बढ़ती संख्या को देखते हुए सरगुजा कलक्टर संजीव कुमार झा ने 10 दिन का सख्त लॉकडाउन लगाने का फैसला किया है। इसके तहत 13 अप्रैल से सुबह 6 बजे से 23 अप्रैल की रात 12 बजे तक आवश्यक सेवाओं व दुकानों को छोड़कर अंबिकापुर शहर समेत पूरा जिला बंद रहेगा।

मेडिकल व पेट्रोल पंप को बंद से मुक्त रखा गया है। पेट्रोल पंप पर शासकीय वाहन व अति आवश्यक सेवाओं से जुड़े वाहनों को ही पेट्रोल मिल पाएगा।

कलेक्टर ने जारी किया ये आदेश-
1. सरगुजा जिला  अंतर्गत आने वाले सभी क्षेत्र को 13 से 23 अप्रैल तक कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। ऐसी स्थिति में जिले की सभी सीमाएं सील रहेंगीं।
2. सिर्फ मेडिकल दुकानों को निर्धारित अवधि में खुलने की अनुमति होगी, मेडिकल दुकान संचालक मरीजों को दवा की होम डिलीवरी को प्राथमिकता देंगे।
3. पेट्रोल पंप संचालकों द्वारा केवल शासकीय व शासकीय कार्य में प्रयुक्त वाहन, एटीएम कैश वैन, अस्पताल-मेडिकल व इमरजेंसी से संबंधित वाहन, दुग्ध वाहन तथा परिचय पत्र दिखाने पर मीडियाकर्मी/प्रेस वाहन/न्यूज पेपर हॉकर को ही पीओएल प्रदान किया जाएगा।
4. जिले के सभी साप्ताहिक व हाट-बाजार बंद रहेंगे।
5. दुग्ध पार्लर व दुग्ध वितरण, पेट शॉप, एक्वेरियम समेत न्यूज पेपर के हॉकरों को सुबह 6 से 8 बजे तथा शाम 5 से 6.30 बजे तक ही वितरण की अनुमति होगी।
6. एलपीजी गैस सिलेंडर की एजेंसियां फोन पर बुकिंग करने के बाद घर पहुंच सेवा देंगे।
7. इस दौरान समस्त शराब दुकानें बंद रहेंगीं तथा औद्योगिक संस्थानों व निर्माण इकाइयों को कैंपस के भीतर आवश्यक व्यवस्था करते हुए संचालन की अनुमति हेागी।
8. सभी धार्मिक, सांस्कृतिक व पर्यटन स्थल आम जनता के लिए पूर्णत: बंद रहेंगे। वहीं सभी प्रकार की सभा जुलूस व सामाजिक-राजनीतिक आयोजन भी बंद रहेंगे।
9. जिले के सभी केंद्रीय, शासकीय, अद्र्धशासकीय, सार्वजनिक, निजी कार्यालय एवं बैंक बंद रहेंगे।
10. शादी एवं दशगात्र में मात्र 20 व्यक्तियों के शामिल होने की ही अनुमति होगी। नियमों का पालन नहीं करने वालों के खिलाफ नियमानुसार कड़ी कार्रवाई की जाएगी।
11. आपात की स्थिति में फोरव्हीलर वाहन में ड्राइवर समेत 4, ऑटो में ड्राइवर समेत 3 तथा बाइक में 2 व्यक्तियों को बैठने की अनुमति होगी
बड़ी खबर : प्रदेश के इस जिले के निजी अस्पतालों में भी अब आयुष्मान कार्ड से कोरोना का मुफ्त ईलाज शुरू

बड़ी खबर : प्रदेश के इस जिले के निजी अस्पतालों में भी अब आयुष्मान कार्ड से कोरोना का मुफ्त ईलाज शुरू

अंबिकापुरकोरोना संक्रमित मरीजो की बढ़ती संख्या को दृष्टिगत रखते हुए अब जिले के सभी निजी अस्पतालों में भी आयुष्मान कार्ड से कोरोना का मुफ्त ईलाज की सुविधा प्रारम्भ की गई है। यह सुविधा मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के मार्गदर्शन और नगरीय प्रशासन एवं विकास तथा जिले के प्रभारी मंत्री डॉ शिवकुमार डहरिया के निर्देशनुसार जिला प्रशासन सरगुजा द्वारा प्रयास किया गया है। निजी अस्पतालों में आयुष्मान कार्ड से मुफ्त ईलाज मिलने से गरीब तबके के मरीजांे को बड़ी राहत मिलेगी।
उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने सभी संभाग मुख्यालयों में समाज प्रमुखों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये संवाद के दौरान अपनी संवेदनशीलता का परिचय देते हुए  कोरोना के ईलाज की व्यवस्था को सुलभ और विस्तारित करने के निर्देश अधिकारियों को दिए थे। मुख्यमंत्री के मंशानुसार जिला प्रशासन सरगुजा द्वारा आयुष्मान कार्ड से निजी अस्पतालों में निःशुल्क ईलाज की कवायद शुरू की। इस व्यवस्था से शासकीय अस्पतालों के साथ ही निजी अस्पतालों में भी मरीज निःशुल्क ईलाज करा सकेंगे। मरीज के डिस्चार्ज होने पर  बिल का भुगतान आयुष्मान कार्ड से ही होगा। इसमें इलाज का पूरा खर्च मरीज के आयुष्मान खाते से ब्लॉक कर निजी अस्पतालों को प्रदान किया जाएगा।

अब कोविड पॉजिटिव मरीज का घर नेगेटिव रिपोर्ट आने तक रहेगा कंटेनमेंट

अब कोविड पॉजिटिव मरीज का घर नेगेटिव रिपोर्ट आने तक रहेगा कंटेनमेंट

अम्बिकापुर। कलेक्टर झा ने मंगलवार को यहां कलेक्टोरेट सभाकक्ष में समय सीमा की बैठक लेकर विभागीय कार्यो की समीक्षा की। उन्होंने कोविड टीकाकरण की समीक्षा करते हुए कहा कि इस बार ऐसे देखने को मिल रहा है, कि किसी परिवार के एक सदस्य के कोविड पॉजिटिव आने पर उस परिवार के सभी सदस्य पॉजिटिव निकल रहे हैं। संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए कोविड पॉजिटिव मरीज के घर को तब तक कंटेनमेंट में रखें जब तक कि परिवार के सभी सदस्यों का रिपोर्ट नेगेटिव नहीं आ जाता। कंटेनमेंट में रखे गए घर के सदस्यों को घर से बाहर घूमना पूर्णत: प्रतिबंधित करें।
कलेक्टर ने कहा कि कांटेक्ट ट्रेसिंग दल के सदस्य हमेशा सक्रिय रहें। प्रतिदिन एंटीजन रिपोर्ट आने के हर 2 घंटे का रिपोर्ट लेकर कांटेक्ट ट्रेसिंग पूरा करें। इसी प्रकार आरटीपीसीआर रिपोर्ट आने के 4 घंटे के भीतर पॉजिटिव मरीज के कांटेक्ट ट्रेसिंग करना सुनिश्चित करें ताकि मरीज के संपर्क में आए व्यक्ति की कोविड जांच तत्काल किया जा सके और संक्रमण फैलने से रोका जा सके। उन्होंने कहा कि होमआइसोलेशन के मरीजों की कड़ी निगरानी करें। उन्हें समय पर दवाई एवं चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराएं। उन्होंने महिला व बाल विकास विभाग के अधिकारी को निर्देशित किया कि पूर्व की तरह सभी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता होमआइसोलेशन में रहने वाले मरीजो के घर-घर जाकर दवाई पहुंचाएं। स्वास्थ्य विभाग पर्याप्त मात्रा में दवाई उपलब्ध कारना सुनिश्ति करें।
 

+ Load More