अच्छी खबर : सितंबर से देश में ही होगा स्पूतनिक-वी का उत्पादन...    |    कोरोना अपडेट : 24 घंटे में 41 हजार नए मामले, 541 लोगों की मौत    |    बड़ी खबर : इस BJP सांसद को पुलिस ने किया गिरफ्तार, जाने क्या है मामला...    |    CG कोरोना अपडेट : प्रदेश में आज रायपुर में मिले सर्वाधिक मरीज, 203 मरीजों ने जीती कोरोना से जंग, देखें जिलेवार आंकड़े    |    आईसीएमआर अपडेट : आज शाम तक मिले इतने कोरोना पॉजिटिव, देखे जिलेवार आकड़े    |    बड़ी खबर : जेल में बैरक की दीवार ढही, 22 कैदी गंभीर रूप से घायल    |    CG कोरोना अपडेट : प्रदेश में आज एक्टिव मरीजो की संख्या हुई 2 हजार से कम, 243 मरीजों ने जीती कोरोना से जंग, देखें जिलेवार आंकड़े    |    बड़ी खबर: पान मसाला कंपनी पर आयकर का शिकंजा, 400 करोड़ रुपए के काले कारोबार का हुआ खुलासा    |    आईसीएमआर अपडेट : आज शाम तक मिले इतने कोरोना पॉजिटिव, आकडों में आज रायपुर से मिले सर्वाधिक    |    जज की संदिग्ध मौत पर सुप्रीम कोर्ट ने लिया संज्ञान, सरकार से एक हफ्ते में मांगा जवाब    |

पिकअप गाड़ी में नारियल्र बुच की रस्सियों के नीचे मिला एक करोड़ 40 लाख का गांजा

 पिकअप गाड़ी में नारियल्र बुच की रस्सियों के नीचे मिला एक करोड़ 40 लाख का गांजा
Share

महासमुंद। बागबाहरा पुलिस ने मंगलवार को एक पिकअप गाड़ी से 1.40 करोड़ रुपए कीमत 7 क्विंटल गांजा के साथ बिहार के दो युवक को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए दोनों युवक बिहार के रहने वाले हैं। ये दोनों झारखंड पासिंग की गाड़ी में नारियल बूच की रस्सी के बंडलों के नीचे गांजा छुपाकर ले जा रहे थे, जिसे पिथौरा चौक के पास पकड़ा गया । बता दें कि कोमाखान पुलिस ने भी एक दिन पहले 8 क्विंटल 1.60 करोड़ रुपए का गांजा के साथ चार तस्करों को गिरफ्तार किया था। अनलॉक के बाद गांजा की तस्करी बढ़ गई है। आए दिन पुलिस तस्करों को गिरफ्तार कर रही है, इसके बावजूद तस्करों के हौसले बुलंद है। पुलिस के लिए यह बड़ी चुनौती बन गई है कि ओडिशा से गांजा की तस्करी कैसे रोके। उक्त मामले का खुलासा करते हुए पुलिस अधीक्षक दिव्यांग पटेल ने बताया कि गांजा तस्करी के आरोप में ग्राम भगवतपुर थानाचांदी जिला भोजपुर बिहार निवासी छोटेलाल यादव पिता रामबचन यादव (28) एवं ग्राम कुसुम्ही पोस्ट जमोड़ी थाना तरारी जिला भोजपुर बिहार निवासी रविन्द्र तिवारी पिता भगवान तिवारी (52) को गिरफ्तार किया है। ये दोनों आरा बिहार गांजा लेकर जा रहे थे।

पिकअप में गांजा लेने बिहार से आए थे ओडिशा
जानकारी ने अनुसार गांजा तस्कर 17 जुलाई को जिला आरा से पिकअप गाड़ी क्रमांक जेएच 10 बीजी 5116 को खाली लेकर रांची, टाटानगर, भुवनेश्वर, कटक, पदमपुर होते हुए जिला गजपति ओडिशा 19 जुलाई को पहुंचे थे। यहां पहुंचने के बाद तस्करों ने पूर्व में जान पहचान के व्यक्ति को अपनी गाड़ी में नारियल बूच की रस्सियों के बंडलों को भरकर उसे गांजा लाने के लिए दिया। तस्कर गांव में ही रुके रहे है। दूसरे दिन यानी 20 जुलाई सुबह दलाल से गांजा लेकर तस्कर रुट बदलकर खरियारोड, कोमाखन होते हुए बागबाहरा के रास्ते बिहार जाने के लिए निकले थे। 20 तारीख की शाम साढ़े पांच बजे जैसे हीबागबाहरा पिथौरा चौक पहुंचे, उसी समय पुलिस ने धर दबोचा।

पहले ट्रेन व बाइक से कर चुके है तस्करी
एसपी ने बताया कि तस्कर पहले से ट्रेन व बाइक में तस्करी को अंजाम दे चुके हैं। 10 से 20 किलो पीट्?ठू बैग में गांजा लेकर बिहार गए है, इसलिए इनकी पहचान ओडिशा के कुछ दलालो से है। जब आरोपी गाड़ी लेकर ग्राम गजपित आया और नारियल बूच की रस्सी भरकर गांजी भरने के लिए गाड़ी को ओडिशा के एक व्यक्ति को दिया था। गाड़ी आने के पूर्व ये लोग गांव में ही इंतजार कर रहे थे।

23 बोरियों में भरा था गांजा
मुखिबर से सूचना मिली थी कि एक पिकअप गाड़ी में गांजा लेकर ओडिशा से बागबाहरा की ओर आ रहा है। सूचना पर टीम ने पिथौरा चौक के पास घेराबंदी कर गाड़ी को रोककर पूछताछ किया। पिकअप में सवार दोनों ने बताया कि ओडिशा से नारियल बूच की रस्सी लेकर आरा बिहार जाना बताया। इस बात को लेकर पुलिस को शंका हुई और गाड़ी को चैक किया तो, देखा कि नारियल बूच की रस्सी थी। टीम ने रस्सी को हटाकर देखा तो कुछ बोरियां दब हुई मिली। बोरियों को बाहर निकला, तो कुल 23 बोरियों में 70 पैकेट करीब 700 किलोगांजा मिला। पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर गांजा जब्त किया गया ।

तस्करी पर रख रही टीम नजर
गांजा तस्करी के बढ़ते अपराधों पर एसपी ने कहा कि तस्करों पर नजर रखनें मुखिबरों को अलर्ट कर दिया गया है। बार्डर पर भी मुखिबर व टीम तैनात है। कभी-कभी तस्कर दूसरे रास्ते से प्रवेश कर छग के अंदर आ जाते है, लेकिन इसकी जानकारी मुखबिर से मिल ही जाती है और किसी न किसी थाना प्रभारी के द्वारा कार्रवाई की जाती है।

गांजा की तस्करी जड़ से खत्म करना पुलिस के लिए बड़ी चुनौती
ओडिशा से गांजा की तस्करी छग सहित मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, उत्तरप्रदेश, बिहार, राजस्थान, झारखंड, दिल्ली, हरियाणा, पंजाब व गुजरात के बड़े व छोटे-छोटे शहरों में होती है। तस्कर गांजा खरीदने ओडिशा आते है, जबकि यहां की दूरी 15 से 2000 किलोमीटर है, इसके बावजूद तस्कर जान जोखिम में डालकर तस्करी करते हैं। पुलिस की लगातार कार्रवाई से पकड़े जाने के बाद भी तस्करों के बीच जरा सा भी भय नहीं है। वे बेखौफ होकर तस्करी कर रहे हैं। इधर, गांजा की तस्करी रोकने के लिए पुलिस भर्सक प्रयास कर रही है, लेकिन तस्कर रुक नहीं रहे हैं। आए दिन नए- नए पैतरे अजमा कर तस्करी को अंजाम दे रहे हैं। तस्करों की तस्करी पर रोक लगाना पुलिस के लिए बड़ी चुनौती बनी हुई है। इस संबंध में एसपी ने कहा कि तस्करों को रोकने के लिए भर्सक प्रयास किया जा रहा है, इसलिए प्रतिदिन गांजा की खेप पकड़ी जा रही है।


Share

Leave a Reply