कोरोना अपडेट 29 नवम्बर: प्रदेश में आज रायगढ़ और रायपुर में मिले सर्वाधिक मरीज, 21 जिलो में नहीं मिले कोई मरीज, देखें जिलेवार आंकड़े    |    BREAKING NEWS: हंगामे के बीच कृषि कानून वापसी बिल पारित    |    कोरोना अपडेट 28 नवम्बर: प्रदेश में आज कम टेस्ट के बावजूद ज्यादा मिले मरीज, दुर्ग और रायपुर में मिले सर्वाधिक मरीज, देखें जिलेवार आंकड़े    |    BIG NEWS: मस्जिद में कृष्ण की मूर्ति स्थापित करने की महासभा की धमकी के बाद मथुरा में धारा 144 लागू    |    टिकैत ने फिर दी धमकी: दिमाग ठीक कर ले भारत सरकार, नहीं तो 26 जनवरी दूर नहीं…    |    कोरोना अपडेट 27 नवम्बर: प्रदेश का ये जिला बना हुआ है कोरोना का हॉटस्पॉट, आज मिले इतने मरीज, देखें जिलेवार आंकड़े    |    मौसम अलर्ट: इन राज्यों में हो सकती है भारी बारिश, मौसम विभाग ने जारी किया रेड अलर्ट    |    कोरोना अपडेट 26 नवम्बर: प्रदेश में आज मिले इतने मरीज, रायगढ़, रायपुर और जशपुर में लगातार बढ़ रहे है मरीज, देखें जिलेवार आंकड़े    |    बड़ी खबर: कोरोना के नए स्ट्रेन के चलते छह अफ्रीकी देशों से विमान सेवा हुई रद्द    |    26/11 Mumbai Attack की 13वीं बरसी पर राजनेताओं ने शहीदों को दी श्रद्धांजलि    |

कोविड महामारी से मुखिया की मृत्यु होने पर ‘आशा व ‘स्माइल‘ योजना के तहत दिया जाएगा ऋण

कोविड महामारी से मुखिया की मृत्यु होने पर ‘आशा व ‘स्माइल‘ योजना के तहत दिया जाएगा ऋण
Share

बेमेतरा । अनुसूचित जाति एवं पिछड़ा वर्ग के ऐसे परिवार जिनके मुखिया की मृत्यु कोरोना महामारी से हो गई हो। उनको आर्थिक सहायता प्रदान करने राष्ट्रीय अनुसूचित जाति वित्त विकास निगम एवं राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग वित्त विकास निगम से आशा‘ और ‘स्माइल‘ नाम से योजना प्रारम्भ की है। जिसके तहत पात्र हितग्राहियों का चयन किया जाएगा।
मुख्य कार्यपालन अधिकारी प्रवीण लाटा ने बताया कि उक्त योजनाओं का लाभ ऐसे परिवार को मिलेगा जिनके कमाऊ मुखिया की मृत्यु कोविड-19 के संक्रमण के कारण हुई हो। इसके तहत परियोजना लागत के 20 प्रतिशत तक क्रेडिट लिंक्ड कैपिटल सब्सिडी जो प्रति लाभार्थी अधिकतम पांच लाख रूपए प्रति यूनिट तक है। उनके साथ किसी भी आवश्यकता आधारित स्वरोजगार उपक्रम के लिए मृतक के पात्र निकटतम रिश्तेदार को उसके परिवार का समर्थन करने के लिए दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि इसके लिए पात्रता का निर्धारण किया कि जिसके तहत आवेदक को अनुसूचित जाति व अन्य पिछड़ा वर्ग से होना चाहिए। उसकी वार्षिक पारिवारिक आय तीन लाख रूपए तक होनी चाहिए। यह भी आवश्यक है कि जिस व्यक्ति की कोविड-19 से मृत्यु हुई, वह परिवार का कमाने वाला व्यक्ति था। मृतक की आयु 18 से 60 वर्ष के बीच होनी चाहिए। जिसकी आय कुल घरेलू आय में सबसे अधिक अनुपात में योगदान करती है। अंत्यावसायी सीईओ प्रवीण लाटा ने यह भी बताया कि कोविड से मृत्यु के प्रमाण के तौर पर स्वीकार्य दस्तावेज रजिस्ट्रार जन्म और मृत्यु या स्थानीय नगर निकाय से जारी मृत्यु प्रमाण पत्र या श्मशान भूमि, कब्रिस्तान में स्थानीय प्राधिकरण से जारी की गई रसीद या मृत्यु ग्राम क्षेत्र में हुई हो तो गांव के प्रखण्ड विस्तार अधिकारी का पत्र भी स्वीकार किया जा सकता है।
इसके तहत परियोजना की प्रति इकाई लागत पांच लाख रूपए और अनुदान राशि 20 प्रतिशत या अधिकतम एक लाख रूपए तक जो भी कम हो, प्रावधानित किया गया है। आवेदक मृतक का निकट रिश्तेदार होना चाहिए। जो परिवार का पालन पोषण करेंगा। इसके लिए मृतक परिवार के सदस्य जो ऋण लेने के इच्छुक हैं। वे कलेक्टर कार्यालय परिसर में स्थित जिला अंत्यावसायी सहकारी विकास समिति कक्ष क्रमांक-82 में 25 जून तक सम्पर्क कर नाम दर्ज करा सकते हैं और विस्तृत जानकारी ले सकते हैं।
 



Share

Leave a Reply