• -

और पढ़ें

COVID-19 :

Confirmed :

Recovered :

Deaths :

Maharashtra / 211987 Tamil Nadu / 114978 Delhi / 100823 Gujarat / 36858 Uttar Pradesh / 28636 Rajasthan / 20922 West Bengal / 22987 Madhya Pradesh / 15284 Haryana / 17770 State Unassigned / 5034 Karnataka / 25317 Andhra Pradesh / 21197 Bihar / 12525 Telangana / 25733 Jammu and Kashmir / 8675 Assam / 12523 Odisha / 10097 Punjab / 6491 Kerala / 5623 Uttarakhand / 3161 Chhattisgarh / 3305 Jharkhand / 2877 Tripura / 1692 Ladakh / 1005 Goa / 1813 Himachal Pradesh / 1078 Manipur / 1390 Chandigarh / 492 Puducherry / 1043 Nagaland / 644 Mizoram / 197 Arunachal Pradesh / 270 Sikkim / 125 Dadra and Nagar Haveli and Daman and Diu / 408 Andaman and Nicobar Islands / 147 Meghalaya / 88 Lakshadweep / 0

   BIG BREAKING : एंटी करप्शन ब्यूरो की बड़ी कार्यवाही, पटवारी सहित दो अधिकारियों को रिश्वत लेते रंगे हाथ किया गिरफ्तार    |    भारतीय सेना में महिला अधिकारियों को स्थायी कमीशन एवं कमांड पोस्ट संबंधी अपने आदेश पर अमल के लिए उच्चतम न्यायालय ने केंद्र सरकार को दिया एक माह का समय    |    गोधन न्याय योजना: गौ ग्राम स्वावलंबन अभियान छत्तीसगढ़ के पदाधिकारियों ने जताया आभार : गृहमंत्री से मुलाकात कर सौंपा अभिनंदन पत्र    |    एम्स में काम करने वाली नर्स को शादी का झांसा देकर 34 लाख की ठगी करने वाला आरोपी गिरफ्तार, पढ़ें पूरी खबर    |    एम्स की महिला डॉक्टर सहित इस राज्य की राजधानी में मिले 86 नए कोरोना संक्रमित मरीज    |    स्वास्थ्य विभाग द्वारा 5 जुलाई की स्थिति में रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन वाले विकासखंडों की अधिसूचना जारी    |    बड़ी खबर: प्रदेश में आज 92 नए कोरोना संक्रमित मरीज मिले ,देखे किस किस जिले से है    |    छत्तीसगढ़ के इन जनपद व ग्राम पंचायतों को मिला दीनदयाल उपाध्याय पंचायती राज सशक्तीकरण राष्ट्रीय पुरस्कार, दिल्ली में जारी हुई सूची, देखें सूची    |    बड़ी खबर: बड़ी संख्या में पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों का तबादला आदेश जारी, देखे पूरी लिस्ट    |    जेपी नड्डा ने साधा निशाना: गौरवशाली वंश परंपरा से जुड़े राहुल के लिए समिति मायने नहीं रखती    |

संकल्प व सहयोग का एक वर्ष : खाद्यमंत्री श्री अमरजीत भगत ने पत्रकार वार्ता में दी उपलब्धियों की जानकारी

संकल्प व सहयोग का एक वर्ष : खाद्यमंत्री श्री अमरजीत भगत ने पत्रकार वार्ता में दी उपलब्धियों की जानकारी
Share

रायपुरखाद्यमंत्री श्री अमरजीत भगत ने आज मंत्री के रूप में अपने एक वर्ष का कार्यकाल पूरा होने पर पत्रकारों से चर्चा करते हुए बताया कि 29 जून 2019 को मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की सरकार में श्री अमरजीत भगत ने 13वें मंत्री के रूप में शपथ लिया। उन्हें खाद्य, नागरिक आपूर्ति व उपभोक्ता संरक्षण, संस्कृति, योजना व सांख्यिकी विभाग मंत्रालय का कार्यभार सौंपा गया। इस एक वर्ष में श्री अमरजीत भगत ने अपने दायित्वों का निर्वाह करते हुए, छत्तीसगढ़ सरकार के अनेक निर्णयों को क्रियान्वित करने में सक्रिय योगदान दिया। उनका संकल्प है कि छत्तीसगढ़ में कोई भूखा न सोए, जिसे पूरा करने के लिये उन्होंने लगातार कार्य किया। लोगों को योजनाओं का लाभ मिल रहा है कि नहीं मिल रहा देखने के लिये खुद उनके बीच गए। कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम के लिये लगाए गए लॉकडाउन के दौरान खाद्य व नागरिक आपूर्ति विभाग की भूमिका सबसे महत्वपूर्ण रही। इस दौरान 57 लाख अन्त्योदय, प्राथमिकता, एकल निराश्रित तथा निःशक्तजन राशनकार्डधारियों को 03 माह अप्रैल, मई एवं जून 2020 का चावल निःशुल्क वितरण किया गया। इन राशनकार्डधारियों को माह अप्रैल में 02 माह अप्रैल एवं मई का खाद्यान्न शक्कर, नमक एकमुश्त वितरण किया गया है। इसके अतिरिक्त उपरोक्त राशनकार्डधारियों को अप्रैल से जून 2020 तक निःशुल्क 5 किलो प्रति सदस्य अतिरिक्त खाद्यान्न प्रदाय किया गया।

    श्री भगत ने बताया कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के क्रियान्वयन में छत्तीसगढ़ देश के अग्रणी राज्यों में से एक रहा। इस योजना के तहत अप्रैल व मई माह में शत-प्रतिशत तथा जून में 98 प्रतिशत खाद्यान्न का वितरण गरीब व जरूरतमंदों को किया गया। राज्य सरकार ने छत्तीसगढ़ के सभी राशनकार्डधारी परिवारों को 35 किलो हर महीने चावल देने का वचन पूरा किया है। राज्य के सभी निवासियों को खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए महात्मा गांधीजी की 150 वीं जयंती पर 02 अक्टूबर 2019 से सार्वभौम पीडीएस का शुभारंभ किया गया। सार्वभौम पीडीएस के अंतर्गत सामान्य परिवारों (आयकरदाता एवं गैर आयकरदाता) को भी खाद्यान्न प्रदाय किया जा रहा है।

    श्री भगत ने कहा कि राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लॉकडाउन के दौरान पीडीएस के अंतर्गत प्रचलित 66.22 लाख राशनकार्डों में पंजीकृत 2.46 करोड़ सदस्यों खाद्यान्न सुरक्षा उपलब्ध कराई गई। प्राथमिकता वाले राशनकार्डों पर खाद्यान्न की पात्रता में वृद्धि की गई है। एक सदस्य वाले परिवार को 10 किलो, 2 सदस्य वाले परिवार को 20 किलो, 3 से 5 सदस्य वाले परिवार हेतु 35 किलो तथा 5 से अधिक सदस्य वाले परिवार के लिए प्रत्येक अतिरिक्त सदस्य हेतु 7 किलो अतिरिक्त चावल का वितरण किया जा रहा है। बस्तर संभाग के जिलों में सुपोषण हेतु पीडीएस के माध्यम से उन्हें 17 रूपये प्रति किलो उपभोक्ता दर पर 02 किलो गुणवत्तापूर्ण गुड़ वितरण किया जा रहा है। इससे बस्तर संभाग के 6.04 लाख अंत्योदय, प्राथमिकता, अन्नपूर्णा, एकल निराश्रित एवं निःशक्तजन राशनकार्डधारियों को लाभ हो रहा है। भारत सरकार द्वारा अप्रैल 2019 से अनुदान प्राप्त एवं निजी आश्रम-छात्रावास एवं कल्याणकारी संस्थाओं हेतु खाद्यान्न का आबंटन बंद कर दिया गया था। राज्य सरकार द्वारा ऐसी 471 संस्थाओं में पंजीकृत 43,640 हितग्राहियों को राज्य शासन द्वारा स्वयं के व्यय से चावल आबंटित किया जा रहा है। पूर्व में राज्य के ऐसे 12.90 लाख राशनकार्डधारी परिवार जिनके पास एलपीजी कनेक्शन है, उनकी केरोसिन पात्रता समाप्त कर दी गई थी। केरोसिन और गैस की कीमतों में अंतर और लोगों की जरूरत को देखते हुए अगस्त 2019 से केरोसिन का वितरण पुनः प्रारंभ कर दिया गया है। राज्य के अनुसूचित और माडा क्षेत्र के 25 लाख अंत्योदय एवं प्राथमिकता परिवारों के भोजन में प्रोटीन की कमी पूरा करने हेतु, रियायती दर 5 रूपये प्रतिकिलो की दर पर प्रतिमाह 2 किलो चना प्रदाय किया जा रहा है। अब सामान्य राशनकार्ड पर भी 10 रूपए प्रतिकिलो की दर पर 2 किलो नमक प्रतिमाह प्रदाय किया जा रहा है।

       मंत्री श्री भगत ने कहा कि सरकार ने किसानों का धान समर्थन मूल्य 2500 रूपये प्रति क्विंटल की दर से खरीदने का निर्णय के अनुरूप मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के निर्देश पर मेरे नेतृत्व में यह वादा भी पूरा किया गया। किसानों को उनकी उपज का सही मूल्न्य दिलाने के लिए पहले केन्द्र सरकार द्वारा तय समर्थन मूल्य पर धान खरीदी की गई। समर्थन मूल्य से अंतर की राशि प्रदान करने के लिये पूर्व प्रधानमंत्री श्री राजीव गांधी जी की पुण्यतिथि पर राजीव गांधी किसान न्याय योजना का शुंभारंभ किया गया। खरीफ वर्ष  में धान खरीदी का अभूतपुर्व रिकॉर्ड बनाया गया। खरीफ वर्ष 2019-20 में प्रदेश के 18.38 लाख किसानों से लगभग 84 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई। खरीदे गए धान में से 60.84 लाख टन का उठाव हो चुका है । भारत सरकार द्वारा राज्य सरकार की मांग पर केन्द्रीय पूल से चावल उपार्जन में 4 लाख मीट्रिक टन की वृद्धि की गई है।
      नोवेल कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण से बचाव हेतु लॉकडाउन के दौरान सुनिश्चित किया गया कि लोगों को लॉकडाउन अवधि का राशन एकमुश्त पहले ही मिल जाए। उन्हें भी कोई परेशानी न हो जिनके पास राशनकार्ड नहीं है। सभी के लिये खाद्यान्न व भोजन की उपलब्धता सुनिश्चित की गई। लॉकडाउन के दौरान 42.520 बीपीएल राशनकार्ड एवं 30,519 एपीएल राशनकार्ड कुल 73,039 नवीन राशनकार्ड जारी किये गये। अन्तोयदय, प्राथमिकता, एकल निराश्रित तथा निःशक्तजन राशनकार्डधारियों को लॉकडाउन के दौरान चावल के साथ-साथ पौष्टिक चना भी निःशुल्क वितरित किया गया। अन्य राज्यों से आए श्रमिकों, गरीब, निराश्रितों में से 28.15 लाख लोगों को गरम भोजन एवं 31.81 लाख लोगों को सूखा राशन प्रदान किया गया।

    मंत्री श्री भगत ने भविष्य की कार्ययोजना के बारे में बताया कि राज्य में वाइंट ऑफ सेल डिवाईस के माध्यम से राशन सामग्री का वितरण पीडीएस के जरिए राशन सामग्री के वितरण में पारदर्शिता तथा हितग्राही को अस्थायी प्रवास के दौरान राशन सामग्री प्राप्त करने की सुविधा देने हेतु प्वाइंट ऑफ सेल डिवाईस के माध्यम से राशन सामग्री का वितरण की व्यवस्था की जा रही है। भण्डारण क्षमता का विकास एवं उचित मूल्य दुकानों का निर्माण तथा विस्तार किया जा रहा है। राज्य के अनुसूचित विकासखण्डों और माडा क्षेत्र के 1500 भवनहीन उचित मूल्य दुकानों में नवीन दुकान सह गोदाम निर्माण एवं शहरी क्षेत्र के 200 एवं ग्रामीण क्षेत्र के 100 उचित मूल्य दुकानों में निर्मित दुकान सह गोदाम का नवीनीकरण एवं विस्तारीकरण करने के लिए कार्ययोजना बनाई गयाी है।
    मंत्री श्री भगत ने संस्कृति विभाग के उपलब्धियों के बारे में बताया कि राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव देश का सबसे बड़ा आदिवासी सांस्कृतिक समागम का आयोजन 27 से 29 दिसम्बर 2019 तक रायपुर में किया गया। इसमें देश के 24 राजय और केन्द्र शासित प्रदेश के आदिवासियों की प्रतिभागिता रहीं। साथ ही ’’बेलारूस, थाईलैण्ड, युगाण्डा, मालदीव, श्रीलंका, बांग्लादेश के नृत्य समूहों का भी समावेश रहा। जीवन संस्कार, अनुष्ठान और मेले, कृषि चक्र तथा अन्य पारंपरिक नृत्य आदि चार श्रेणी में प्रतियोगिताएं आयोजित कर 16 पुरस्कार राशि रूपये 41 लाख प्रदान किया गया। आयोजन में लगभग 2,000 कलाकारों द्वारा 125 से भी अधिक पारंपरिक जनजातीय नृत्यों का प्रदर्शन किया गया। इस आयोजन को राष्ट्रीय स्तर पर ख्याति मिली और राष्ट्रीय एकता और सदभावना की दिशा में जागृति उत्पन्न हुई।
       उन्होंने कहा कि साईंस कॉलेज मैदान, रायपुर में पांच दिवसीय राज्योत्सव का आयोजन हुआ। राज्योत्सव पर छत्तीसगढ़ के पारंपरिक लोक जनजातीय नृत्य, संगीत, गीत और वाद्य यंत्रों पर प्रस्तुतियॉं आयोजित की गयी। इस अवसर पर राज्य की विभिन्न विभूतियों के नाम पर स्थापित सम्मानों के अन्तर्गत प्रतिभाओं को राज्य सम्मान से अलंकृत किया गया।




Share

Leave a Reply