कोरोना अपडेट 01 जुलाई : राजधानी रायपुर में फिर हुई कोरोना से मौत, रायपुर में लगातार बढ़ रहे हैं कोरोना के नए मरीज, जाने आज प्रदेश में कितने मरीजों की हुई पहचान    |    कोरोना अपडेट 30 जून : छत्तीसगढ़ में फिर शुरू हुआ कोरोना से मौत का तांडव, आज भी रायपुर से मिले सर्वाधिक मरीज, देखें जिलेवार आंकड़े    |    कोरोना अपडेट 29 जून : राजधानी रायपुर में कोरोना मरीजों की संख्या हुई 226, आज प्रदेश में मिले इतने मरीज, देखें जिलेवार आंकड़े    |    कोरोना अपडेट 28 जून : छत्तीसगढ़ में एक्टिव मरीजों की संख्या पहुंची 851, प्रदेश में आज इतने नए मरीजों की हुई पहचान, देखें जिलेवार आंकड़े    |    कोरोना अपडेट 27 जून : प्रदेश में आज नए मरीजो की संख्या पहुची सौ के पार, एक्टिव मरीज हुए अब इतने, देखें जिलेवार आंकड़े    |    कोरोना अपडेट 26 जून : कम टेस्ट के बावजूद मिले कल से ज्यादा मरीज, एक्टिव मरीज भी पहुचे सात सौ के करीब, देखें जिलेवार आंकड़े    |    कोरोना अपडेट 25 जून : प्रदेश में हो रही है चौथी लहर की आहट आज मिले सौ के करीब कोरोना मरीज, देखें जिलेवार आंकड़े    |    वडोदरा में मिले एकनाथ शिंदे और देवेंद्र फडणवीस, क्या महाराष्ट्र में सरकार बनाने की तैयारी में है भाजपा!    |    कोरोना अपडेट 24 जून : राजधानी रायपुर में हुआ कोरोना विस्फोट, प्रदेश में कोरोना मरीजों की संख्या पहुंची 600 के पार, देखें जिलेवार आंकड़े    |    कोरोना अपडेट 23 जून : छत्तीसगढ़ में कोरोना मरीजों की संख्या पहुंची 600 के पार, आज प्रदेश में मिले इतने नए कोरोना मरीज, देखें जिलेवार आंकड़े...    |

अज्ञात ट्रक ने 12 गायो को रौंदा

अज्ञात ट्रक ने 12 गायो को रौंदा
Share

बिलाईगढ़ : बिलाईगढ़ विधानसभा के धोबनीडीह में अज्ञात ट्रक ने 12 गायों को रौंद दिया। जिसने यह हादसा देखा, उसका दिल दहल गया। आसपास के लोगों को घटना की जानकारी हुई। तत्काल सरपंच ने भटगांव थाना को सूचना दी, इसके बाद मौके पर भटगांव पुलिस पहुंचकर जांच कर रही है।

गौरतलब इस सड़क हादसा में 9 गायों की मौत हो गई और 3 गाय की स्थिति बेहद गंभीर है। जबकि वही सड़क किनारे पड़े कई गायों को कुत्ते नोंच-नोंचकर खा रहे थे।एक तरफ सरकार गायों की रक्षा के लिए गौठान और कांजी हाउस जैसे भवन निर्माण कर रहें है तो वही लापरवाह ग्रामीणों की वजह से आवारा पशुएँ सड़क हादसों का शिकार हो रहे है। अमूमन इस तरह के घटना खास तौर पर बरसात के समय में ही देखने को मिलता है। क्योंकि आवारा पशु बरसात के दिनों में घास चरने सड़क किनारे अपना बसेरा बनाकर बैठ जाता है।
 



Share

Leave a Reply