BIG NEWS : बाल बाल बचे भाजपा सांसद और भोजपुरी स्टार मनोज तिवारी, मनोज तिवारी के हेलीकॉप्‍टर की इमरजेंसी लैंडिंग    |    रजनीकांत की राजनीति में एंट्री को लेकर तेज हुई अटकलें: लैटर में फैंस को भी किया संबोधित    |    भाजपा के वरिष्ठ नेता व गुजरात के पूर्व सीएम केशुभाई पटेल का निधन    |    बड़ी खबर: नहर में डूबने से 6 छात्रों की मौत, साथी को बचाते डूबे सभी    |    मायावती का बड़ा एक्शन: 7 बागी नेताओं को दिखाया पार्टी से बाहर का रास्ता    |    झूठ बोलने में प्रधानमंत्री मोदी का कोई मुकाबला नहीं: राहुल गांधी    |    BIG BREAKING : प्रदेश का ये जिला बना कोरोना हॉट स्पॉट, प्रदेश में आज 1929 नए कोरोना मरीजों की हुई पहचान    |    BIG BREAKING : केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी भी आई कोरोना संक्रमण की चपेट में, ट्विट कर दी जानकारी    |    BIG BREAKING : सेक्स वर्कर्स को राशन उपलब्ध करने के संबंध में सुप्रीम कोर्ट ने लिया बड़ा फैसला, पढ़ें पूरी खबर    |    बड़ी खबर: दुर्गा पूजा पंडाल में लगी भीषण आग, देवी दुर्गा की मूर्ति और शामियाना जल कर खाक    |
नाखून चबाने की आदत कर सकती है आपको बीमार, ऐसे पाएं इससे छुटकारा

नाखून चबाने की आदत कर सकती है आपको बीमार, ऐसे पाएं इससे छुटकारा

अक्सर छोटे बच्चे नाखून चबाना काफी पसंद करते हैं और आप उनकी इस हरकत पर उन्हें डांटते भी होंगे। वैसे सिर्फ बच्चे ही नहीं, कुछ बड़े लोग भी इस गलत आदत का शिकार होते हैं। नाखून चबाने में आपको भले ही कोई कमी नजर न आए लेकिन यही आदत कई बीमारियों को बुलावा देती है। इसलिए जितना जल्दी हो सके, इस आदत से किनारा कर लें।

तो चलिए जानते हैं कि नाखून चबाने की आदत से कैसे पाएं छुटकारा...
छोटे रखें नाखून
यह नाखून चबाने की आदत को छुड़ाने का एक आसान व कारगर उपाय है। जिन लोगों को भी नाखून चबाने की आदत होती है, उन्हें हमेशा अपने नाखून छोटे ही रखने चाहिए। जब आपके नाखून बड़े होंगे ही नहीं, तो फिर आप चबाओगे किसे। वहीं अगर आपको बड़े नाखून रखने का शौक है तो समय-समय पर मेनीक्योर करवाते रहें। जब आपके नाखून देखने में बेहद सुंदर लगेंगे तो आपका नाखून चबाने का मन ही नहीं करेगा।
डाइट पर दें ध्यान
व्यस्क लोगों में नाखून चबाने की आदत की एक मुख्य वजह उनके शरीर में कैल्शियम की कमी भी होती है। इसलिए डाइट में बदलाव आपकी आदत को बदलने में मदद करेगी। आप अपनी डाइट में ऐसी कुछ चीजों जैसे दूध, दही, चीज़, बादाम, बीन्स, हरी पत्तेदार सब्जियों को अवश्य जगह दें।
पहचानें वजह
जहां कुछ लोग कैल्शियम की कमी के चलते नाखून चबाते हैं तो कुछ लोग अत्यधिक तनाव के कारण ऐसा करते हैं। इसलिए यह बेहद आवश्यक है कि आप अपनी इस आदत के पीछे की वजह को पहचानें। अगर इसके पीछे की वजह तनाव है तो स्टेस मैनेजमेंट के उपाय करिए। आदत खुद ब खुद छूट जाएगी।
यह तरीका भी आएगा काम
नाखून चबाने की आदत को छुड़ाने के लिए आपको खुद को कंट्रोल करना सीखना होगा। आप चाहें तो अपनी टेबल के सामने नोट लगाएं या फिर आप मोबाइल में रिमाइंडर लगाएं। इससे आपको खुद को कंट्रोल करने में मदद मिलेगी। वहीं नेल बाइटिंग की इच्छा होने पर आप अपने हाथों को किसी अन्य कामों में लगाएं, जिससे आपको ऐसा करने का मौका ही न मिले।
कड़वी चीजों का प्रयोग
अगर ऊपर लिखे किसी उपाय से आपको फायदा न मिलें तो अंत में आप इस तरीके को अपना सकते हैं। इसके लिए आप अपने नाखूनों पर नेलपेंट, नीम का पेस्ट या फिर किसी अन्य कड़वी चीज लगाएं। ऐसा करने से आप जब भी नेल बाइट करेंगे तो उसका कड़वा टेस्ट आपके मुंह में जाएगा और फिर आपकी यह आदत आसानी से छूट जाएगी।
 

दीवाली पर फिट और खूबसूरत दिखने के लिए लॉकडाउन में बढ़े वजन को कैसे करें कम, जानिए यहां

दीवाली पर फिट और खूबसूरत दिखने के लिए लॉकडाउन में बढ़े वजन को कैसे करें कम, जानिए यहां

फेस्टिव सीजन की शुरुआत हो चुकी है और यह समय परिवार के साथ मस्ती करने व जमकर स्वादिष्ट मिठाईयों और भोजन का लुत्फ उठाने का है. लेकिन त्योहार की मस्ती और खुमारी में कम नींद लेने और एक्सरसाइज की अनदेखी करने से आपकी मेंटेन फिगर को नुकसान पहुंच सकता है. वैसे भी आठ महीने के लॉकडाउन में बहुत से लोगों की बॉडी में कुछ किलोज तो बढ़ ही गए हैं.


दीवाली का त्योहार जहां अच्छे-अच्छे कपड़े पहनकर खूबसूरत दिखने का होता है तो ऐसे में कोई नहीं चाहेगा कि उसकी बॉडी का एक्स्ट्रा फैट उसकी त्योहार की मस्ती को किरकिरा करे. आपकी इस इच्छा का ख्याल हमें है, इसलिए हम आपको बताएंगे कुछ डिटॉक्स प्लान के बारे में जो आपकी बॉडी के एक्स्ट्रा फैट को काफी हद तक बर्न कर देगा. यकीन मानिए 20 दिन के अंदर-अंदर आप आप अपनी फिगर को देख खुद पर जरूर इतराएंगे.


सुबह का काढ़ा


अपने दिन की शुरुआत एक गिलास गर्म पानी में नींबू के रस के साथ करें. यह गर्म पेय शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने में मदद करेगा और आपके मेटाबॉलिज्म को बढ़ावा देगा. आप इस ड्रिंक को और बेहतर बनाने के लिए इसमें एक चम्मच शहद भी मिला सकते हैं.


खाने की मात्रा पर रखें ध्यान


अगर आप कितना खा रहे हैं, इस पर नज़र नहीं रख सकते हैं तो छोटी प्लेटों में खाना शुरू कर दें. छोटी प्लेटों का उपयोग करने से नापी हुई मात्रा में खा पाएंगे, जिससे आप अतिरिक्त कैलोरी का सेवन करने से बच सकते हैं. सभी व्यंजनों का आनंद लें, लेकिन याद रखें कि जंक फूड्स और मीठे भोजन को अनदेखा ही कर दें.


सलाद को जरूर शामिल करें


अपने सभी भोजन में सलाद को जरूर शामिल करें, खासकर जब आप ऑयली भोजन खा रहे हों. सलाद खाने से आपका पेट अधिक समय तक भरा रहेगा. यह भी याद रखें कि सलाद में काफी मात्रा में फाइबर होता है तो शरीर के अतिरिक्त किलो को घटाने में मदद करता है.


प्रोटीन डाइट लें


हम सभी जानते हैं कि प्रोटीन हमारे शरीर के लिए सबसे महत्वपूर्ण पोषक तत्व है. दिवाली से पहले वजन कम करने के लिए अपने दैनिक आहार में कुछ अंडे, हरी पत्तेदार सब्जियां और मछली शामिल करें.


बहुत ज्यादा मात्रा में पानी पीएं


त्योहारी सीजन के दौरान हाइड्रेटेड रहना बेहद जरूरी है.पानी शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने में मदद करता है और अधिक मात्रा में खाने से रोकता है.हर दिन कम से कम 10-12 गिलास पानी पीने की कोशिश करें.


फल खाएं


फल सभी प्रकार के पोषक तत्वों का एक बड़ा स्रोत हैं. जिन लोगों को मीठे की क्रेविंग रहती है उन्हे फलों का सेवन करना चाहिए.


शराब के सेवन से बचें


त्योहार शुरू होने से पहले शराब पीने से बचें. शराब से शरीर में टॉक्सिन्स निकलते हैं, जो आपके लिए अच्छा नहीं है. बहुत अधिक शराब पीन से भी पेट पर फैट जमा होता है.


एक्सरसाइज करें


दिन में एक घंटे का समय निकालकर एक्सरसाइज जरूर करें. व्यायाम करने से शरीर चुस्त भी रहता है और शरीर की अतिरिक्त चर्बी भी कम हो जाती है. 

भारत से नहीं जाएगी हार्ले डेविडसन, हीरो मोटोकॉर्प के साथ की करार की घोषणा

भारत से नहीं जाएगी हार्ले डेविडसन, हीरो मोटोकॉर्प के साथ की करार की घोषणा

हार्ले-डेविडसन ने भारत से अपना कारोबार समेटने के ऐलान के बाद अब हीरो मोटोकॉर्प से करार की घोषणा की है. इसका साफ मतलब है कि हार्ले डेविडसन बाइक की अब भारत से विदाई नहीं होगी. भारत में अब हार्ले-डेविडसन की बाइक्स हीरो मोटो कॉर्प बनाएगी. हीरो मोटो कॉर्प वॉल्यूम के लिहाज से दुनिया की सबसे बड़ी बाइक मेकर कंपनी है.


भारत को वर्ल्ड मार्केट के लिए प्रोडक्शन बेस बनाएगी हार्ले


खबरों में कहा गया है कि हार्वे डेविडसन के साथ हीरो को इस करार में गोल्डमैन सलाह दे रहा है. यह पार्टनरशिप बजाज-ट्राइम्फ के जैसी ही होगी. हार्ले-डेविडसन और हीरो मिल कर प्लेटफॉर्म डेवलप करेंगे और भारत को वर्ल्ड मार्केट के लिए प्रोडक्शन बेस के तौर पर इस्तेमाल करेंगी. यह योजना हार्ले के 'हार्डवेयर प्लान' को भारत में आगे बढ़ाने में मदद करेगी. इस योजना से हार्ले डेविडसन 2025 तक भारत में मुनाफा कमाने वाली कंपनी बन सकती है.


भारत मिड साइज मोटरसाइकिल के मामले में दुनिया का सबसे बड़ा बाजार है. हार्ले को हीरो के साथ करार की वजह से भारत के इस बड़े मार्केट में काफी कम लागत में अपना प्रोडक्ट तैयार करने में मदद मिलेगी. इधर, बजाज-ट्राइम्फ के करार के बाद उनकी मोटरसाइकिल 2022 तक बाजार में आ जाएगी. रॉयल एनफील्ड दो सिलेंडर वाली मोटरसाइकिल लाकर अपने वैल्यू चेन को बढ़ाएगी.

 

जिन्दल स्टील एंड पावर लिमिटेड ने विकसित की रेल की नई ग्रेड, मेट्रो परियोजनाओं और हाई-स्पीड कॉरिडोर के लिए होगी मददगार

जिन्दल स्टील एंड पावर लिमिटेड ने विकसित की रेल की नई ग्रेड, मेट्रो परियोजनाओं और हाई-स्पीड कॉरिडोर के लिए होगी मददगार

रायपुर, जाने-माने उद्योगपति नवीन जिन्दल के नेतृत्व वाली कंपनी जिन्दल स्टील एंड पावर लिमिटेड (जेएसपीएल) ने रेल के एक और नए ग्रेड का विकास किया है। रेलवे बोर्ड की अधीनस्थ “द रिसर्च डिजायंस एंड स्टैंडर्ड्स ऑर्गेनाइजेशन” (आरडीएसओ) ने हाई-स्पीड और हाई-एक्सल लोड एप्लिकेशन के लिए जेएसपीएल द्वारा विकसित रेल के इस ग्रेड को अपनी मंजूरी दे दी है।
जेएसपीएल 60ई1 1175 हीट ट्रीटेड (एचटी) रेल को तीव्र गति और हाई-एक्सल लोड प्रयोगों के लिए सफलतापूर्वक विकसित करने वाली पहली और एकमात्र भारतीय कंपनी है। भारतीय रेलवे ने अनुमान लगाया है कि उसे प्रति वर्ष इस ग्रेड की लगभग 1.8 लाख मेट्रिक टन रेल की आवश्यकता पड़ेगी क्योंकि उसने अपनी सेवाओं को और चुस्त-दुरुस्त एवं सुरक्षित बनाने की कवायद तेज कर दी है। भारतीय रेलवे अपने ट्रैक सिस्टम को अपग्रेड कर रही है ताकि 25 टन एक्सल लोड के साथ 200 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से गाड़ियां दौड़ाई जा सकें।
जेएसपीएल के प्रबंध निदेशक वी.आर. शर्मा ने कहा, `पहले देश में स्पेशल रेलों का आयात किया जा रहा था लेकिन आत्मनिर्भर भारत के सपनों के अनुरूप हम रेलवे और मेट्रो रेल कॉरपोरेशंस की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए देश में ही स्पेशल रेल निर्माण के लिए प्रतिबद्ध हैं। 60ई1 1175 हीट ट्रीटेड (एचटी) का इस्तेमाल डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर और बुलेट ट्रेन समेत हाई-एक्सल लोड एप्लिकेशन में किया जाएगा।`
श्री शर्मा ने कहा कि रेलवे बोर्ड/आरडीएसओ के आकलन के अनुसार जेएसपीएल की क्षमता प्रतिवर्ष 3.24 लाख टन 60ई1 1175 एचटी ग्रेड रेल उत्पादन की है जो मौजूदा स्थितियों में भारतीय रेलवे, मेट्रो रेल कॉरपोरेशंस, हाई-स्पीड कॉरिडोर की आवश्यकताओं को देखते हुए पर्याप्त है। उन्होंने कहा कि जेएसपीएल बांग्लादेश, श्रीलंका और
अफ्रीका के अनेक देशों को रेल की आपूर्ति कर रही है। इसी तरह फ्रांस और यूरोपीय रेलवे को नियमित रूप से विशेष रेल ब्लूम का निर्यात किया जा रहा है। इसके साथ ही जेएसपीएल विश्व स्तर की रेल उत्पादक कंपनी के रूप में स्थापित हो गई है, जो हम सभी भारतीयों के लिए गर्व की बात है।
60ई1 1175 हीट ट्रीटेड (एचटी) रेल 1080 हेड हार्डेंड रेल की ही बेहतरीन ग्रेड है, जिसे आरडीएसओ ने पहले ही मंजूरी दे दी है और जिनका इस्तेमाल मेट्रो रेल कॉरपोरेशंस, हाई-स्पीड कॉरिडोर और बुलेट ट्रेन के लिए हो रहा है। कोलकाता मेट्रो रेल परियोजना और पुणे मेट्रो में इस रेल का इस्तेमाल हो रहा है। ये रेल प्रोफाइल और केमिस्ट्री के लिहाज से यूरोप की आर350एचटी ग्रेड के समान है हालांकि इसे अपेक्षाकृत अधिक कठिन गुणवत्ता जांच से गुजरना पड़ा है।
सितंबर में जेएसपीएल ने यूआईसी 60 किग्रा 880 ग्रेड प्राइम (क्लास-ए) रेल विकसित करने की जानकारी दी थी। इसे अपनी परियोजनाओं के लिए रेलवे ने नियमित आपूर्ति कर्ता का दर्जा प्रदान कर दिया है। जेएसपीएल अपने रायगढ़ स्थित प्लांट में रेल का उत्पादन करती है।
 

टैटू के हैं शौक़ीन, तो बनवाने से पहले और बाद में ये सावधानियां बरतना न भूलें

टैटू के हैं शौक़ीन, तो बनवाने से पहले और बाद में ये सावधानियां बरतना न भूलें

हाथ हो या पैर, पेट हो या गर्दन, आजकल लोग हर जगह पर तरह-तरह के टैटू बनवा रहे हैं. इसका चलन महानगरों में ज़्यादा देखने को मिलता. जहां एक तरफ लोगों में इस चलन को लेकर काफी उत्साह है वहीं मन में बहुत सी दुविधाएं भी. जैसे कि टैटू बनवाते वक्त किस तरह की सावधानी बरतनी चाहिए, बाद में किस तरह की सावधानियां बरतनी चाहिए आदि. आपके इसी कंफ्यूज़न को दूर करने के लिए आज हम आपको उन गलतियों के बारे में बताएंगे जिनसे बचकर आप अपने इस शौक को पूरा कर सकते हैं.


टैटू के बारे में जाने सब कुछ

टैटू को कला के रूप में जाना जाता है. इस कला को लोग अपने शरीर पर अनेक हिस्सों में बनवाते हैं. ब्लैक एंड वाइट टैटू के साथ-साथ रंग-बिरंगे टैटू का भी ट्रेंड है. फूल पत्ती हो या जानवर, अलग शेप्स हो या रोल मॉडल आजकल लोग तरह-तरह के टैटू बनवा रहे हैं. इसके अलावा लोग भगवानों के नाम व उनके चित्र भी टैटू रूप में बनवाते हैं. मार्केट में आज परमानेंट टैटू के अलावा टेंपरेरी टैटूज भी मौजूद हैं. जो लोग परमानेंट टैटूज नहीं बनवाना चाहते वे टेंपरेरी टैटूज की मदद से अपने शौक को पूरा कर सकते हैं. यह टेंपरेरी टैटू स्कीन की ऊपरी लेयर पर बनते हैं. इन्हीं को एपिडर्मिस कहा जाता है. जबकि परमानेंट टैटू स्किन की भीतरी दूसरे लेयर पर बनते हैं जिन्हें डर्मिस कहा जाता है.


इन बातों का रखें ध्यान

- टैटू हमेशा टैटू एक्सपर्ट से ही बनवाएं.
- टैटू आर्टिस्ट का पोर्टफोलियो वेबसाइट पर अच्छे से वेरीफाई करें
- टैटू बनवाते समय ध्यान दें कि आर्टिस्ट ने ग्लब्स पहने हों.
- कुछ लोग सस्ते के चक्कर में क्वालिटी पर ध्यान नहीं देते. यह गलती बिल्कुल ना करें. इससे आपकी स्किन भी खराब हो सकती है.
- जिस सीरिंज से आपका टैटू बने, उसकी एक्सपायरी डेट जरूर जांच लें.
- खाली पेट टैटू बनवाने ना जाएं. इसके अलावा अल्कोहल का सेवन बिल्कुल ना करें.
- अपनी सुविधा के अनुसार ही कपड़े पहन कर जाएं
- टेंपरेरी टैटू हेयर ड्राई और फेविकोल जैसे पदार्थ से तैयार की गई इंक से बनाए जाते हैं. इसीलिए स्किन के पोर्स को हवा नहीं मिल पाती है. ये आपकी सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है. टेंपरेरी टैटूज़ बनवाए भी तो वही जो हफ्ते भर से ज्यादा न चले वरना परमानेंट ही बनवाएं.


टैटू के बाद इन बातों का रखें ध्यान

अगर आप किसी प्रोफेशनल टैटू आर्टिस्ट से अपने टैटू बनवाते हैं तो इससे यह फायदा होता है कि वह टैटू बनाने से पहले आपकी स्किन के नेचर को समझ लेता है और उसी को ध्यान में रखकर टैटू बनाता है. ये आपकी स्किन टाइप को समझ कर ही आपको प्रोडक्ट जैसे कि साबुन, क्रीम, लोशन, एंटी एलर्जी की दवाइयां आदि प्रोवाइड करेगा. ऐसे में आपको स्किन एलर्जी का खतरा एकदम कम हो जाता है. टैटू आपकी त्वचा पर एक स्क्रैच जैसा छपा होता है. जैसे किसी स्क्रैच पर खाल बनने में लगभग हफ्ते 10 दिन का समय लगता है वैसे ही टैटू में भी हफ्ते 10 दिन का वक्त उभरने में लग जाता है. इस दौरान आप धूल मिट्टी, पानी, साबुन से टैटू को बचाएं. अगर आप इसके लिए टैटू कवर का इस्तेमाल करेंगे तो इंफेक्शन नहीं होगा. अगर आपको किसी भी तरह की एलर्जी महसूस हो तो तुरंत स्पेशलिस्ट को दिखाएं. अगर आप समय रहते सावधानी बरतेंगे तो इससे कोई साइड इफेक्ट नहीं होगा. 

Covid-19 : इन 10 चीजों से बढ़ाएं प्रतिरोधक क्षमता, जानिए जरूरी बातें

Covid-19 : इन 10 चीजों से बढ़ाएं प्रतिरोधक क्षमता, जानिए जरूरी बातें

कोरोनावायरस से बचने के लिए तमाम तरह के उपाय आजमाए जा रहे हैं। लेकिन यदि आप अंदर से ही मजबूत होंगे तो आप पर इस संक्रमण का कोई असर नहीं होगा। 'अंदर से मजबूत' से तात्पर्य है कि यदि आपका इम्यून सिस्टम यानी रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत है तो आप किसी भी तरह के संक्रमण को मात देने के लिए सक्षम हैं। इम्यून सिस्टम को मजबूत करने के लिए विशेषज्ञ भी सलाह दे रहे हैं।
अब आपके मन में यह सवाल जरूर आ रहा होगा कि आखिर किन चीजों से इम्यून सिस्टम को मजबूत किया जा सकता है? तो हम आपको बता रहे हैं कुछ ऐसी औषधीय चीजों के बारे में, जो आपके घर में ही मौजूद हैं और इनके प्रयोग से आप खुद की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा सकते हैं। आइए जानते हैं-

दालचीनी

मसालों में मौजूद दालचीनी का इस्तेमाल आपने खाने के स्वाद को बढ़ाने के लिए तो कई बार किया होगा। दालचीनी खाने के स्वाद को बढ़ाने के साथ ही कई स्वास्थ्य समस्याओं को दूर करने का काम भी करती है। दालचीनी का इस्तेमाल इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने के लिए भी किया जा सकता है। दालचीनी में कई एंटीऑक्सीडेंट्स और एंटीबैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं, जो आपकी सेहत के लिए बहुत लाभकारी हो सकते हैं। दालचीनी का इस्तेमाल काढ़ा, चाय या पानी बनाने में किया जा सकता है।
अदरक

अदरक का इस्तेमाल आप अपने रसोई में खूब करते होंगे। इसमें एंटीऑक्सीडेंट्स और एंटीइंफ्लेमेट्री गुण पाए जाते हैं, जो कई बीमारियों से छुटकारा दिलाने में कारगर माने जाते हैं, क्योंकि यह आपके इम्यून सिस्टम को मजबूत करने का काम करता है। यदि आपको सर्दी है या खांसी हो रही है तो अदरक का एक छोटा-सा टुकड़ा आपको इन समस्याओं से आराम दिलाने के लिए काफी है। इसका सेवन आप नियमित रूप से कर सकते हैं। आप चाहे तो अदरक वाली चाय व अदरक को पानी में उबालकर काढ़े के रूप में या सादा अदरक का टुकड़ा भी खा सकते हैं।
लौंग

लौंग इम्युनिटी बढ़ाने का एक अच्छा स्रोत है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट और एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं। यह सेहत से जुड़ीं कई समस्याओं को दूर करने में कारगर साबित होती है। आपने अधिकतर सुना होगा कि यदि खांसी हो रही है तो लौंग का सेवन करें, इससे खांसी-सर्दी ठीक हो जाएगी। जी हां, लौग सर्दी-खांसी से छुटकारा दिलाने के लिए कारगर है।

आंवला

आंवला विटामिन-सी का एक बेहतरीन स्रोत है। यह इम्यून सिस्टम को मजबूत करने का काम करता है। जहां ये सौंदर्य लाभ के लिए जाना जाता है, वहीं इसके स्वास्थ्य लाभ भी बेमिसाल हैं।
अश्वगंधा

आयुर्वेदिक औषधि अश्वगंधा कई रोगों से छुटकारा दिलाने के लिए जानी जाती है। यह रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करती ही है।

लहसुन

घर की रसोई में मौजूद लहसुन खाने के स्वाद को बढ़ाने के लिए प्रयोग में लाई जाती है लेकिन इसके स्वास्थ्य लाभ भी कई हैं। यदि नियमित सुबह इसका सेवन खाली पेट किया जाए तो यह आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को तो बढ़ाती ही है, साथ ही अन्य बीमारियों से भी दूर रखती है।
तुलसी

तुलसी के फायदे अनगिनत हैं। यह आपको कई स्वास्थ्य लाभ देती है। सुबह खाली पेट तुलसी के सेवन से कई लाभ होते हैं। तुलसी सर्दी-जुकाम, बुखार, सूखा रोग, निमोनिया व कब्ज जैसी समस्याओं के लिए भी फायदेमंद हो सकती है।

हल्दी वाला दूध

हल्दी वाले दूध के नियमित सेवन से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। सर्दी-खांसी जैसी समस्याओं से राहत दिलाने के लिए हल्दी वाला दूध बहुत कारगर सिद्ध होता है। यदि नियमित सोने से पहले इसका सेवन करके सोया जाए तो यह आपके इम्यून सिस्टम को मजबूत करने के लिए बहुत फायदेमंद है।
ग्रीन टी

ग्रीन टी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए काफी फायदेमंद मानी जाती है। यदि इसका नियमित सेवन किया जाए तो रोगों से लड़ने की क्षमता मजबूत होती है।

गिलोय

गिलोय इम्यून सिस्टम को मजबूत करने के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है। यह स्वास्थ्यवर्धक गुणों से भरपूर माना जाता है। इसके सेवन से शरीर में संक्रमण से लड़ने की क्षमता मजबूत होती है।