कोरोना अपडेट: प्रदेश में लगातार कम हो रहे है मरीज आज मिले सिर्फ इतने, 813 हुए स्वस्थ, 5 की मृत्यु, देखें जिलेवार आंकड़े    |    आईसीएमआर अपडेट: राज्य में आज शाम विभिन्न जिलों से कुल 556 कोरोना पॉजिटिव मिले, आज भी रायपुर से सर्वाधिक, देखें जिलेवार स्थिति    |    बड़ी खबर: ईडी ने माल्या, मोदी और चौकसी के 9371.17 करोड़ रुपए की संपत्ति बैंकों को दी    |    बड़ी खबर: रिंग रोड टोल प्लाजा के पास कार पलटने से चार की मौत, दो घायल    |    बड़ा हादसा: युवकों समेत नदी में जा डूबी कार, एक की हुई मौत 7 की बची जान    |    कोरोना अपडेट: प्रदेश में लगातार कम हो रहे है मरीज आज मिले सिर्फ इतने, 852 हुए स्वस्थ, 7 की मृत्यु, देखें जिलेवार आंकड़े    |    आईसीएमआर अपडेट : राज्य में आज शाम विभिन्न जिलों से कुल 476 कोरोना पॉजिटिव मिले, आज भी रायपुर से सर्वाधिक, देखें जिलेवार स्थिति    |    मोदी के साथ बैठक में शामिल होंगे फारूक अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती    |    योगी सरकार का बड़ा ऐलान: शूटर दादी के नाम पर रखा जाएगा नोएडा का शूटिंग रेंज का नाम    |    बच्चों के कपड़े उतरवाकर पुलिस ने लगवाई उठक-बैठक और फिर गाड़ी के पीछे दौड़ाया    |
कोरोना के बाद अब हो रही है ये अजीब बीमारी, इस तरह रखें अपना ख्याल

कोरोना के बाद अब हो रही है ये अजीब बीमारी, इस तरह रखें अपना ख्याल

पूरी दुनिया में लोग कोरोना वायरस से परेशान हैं. भारत में भले ही कोरोना के केसों में कमी आ रही हो लेकिन कोरोना की तीसरी लहर को लेकर लोगों के मन में डर है. जिस तरह से कोरोना की दूसरी लहर ने लोगों को प्रभावित किया है लोगों को मन में अब इस बीमारी को लेकर दहशत है. कोरोना में बहुत सारे लोगों ने अपनों को खोया है. हालांकि, काफी लोग कोरोना वायरस को मात देकर घर भी लौटे हैं. लेकिन जो लोग ठीक हुए हैं उनमें कई तरह की मानसिक परेशानियां देखने को मिल रही हैं. कई रिपोर्ट्स और सर्वे में इस बात खुलासा हुआ है कि कोरोना संक्रमित मरीजों को याददाश्त से जुड़ी परेशानी हो रही है. कोरोना दिमाग पर अटैक कर रहा है. जो लोग कोरोना से रिकवर हुए हैं उनमें से बहुत सारे लोग दिमागी गफलत से जूझ रहे हैं. इनमें ज्यादातर बुजुर्ग लोग हैं, जो गंभीर संक्रमण की वजह से आईसीयू में एडमिट रहे हैं. जानते हैं कोराना के बाद क्यों हो रही है याददाश्त से जड़ी परेशानी और इससे कैसे बचा जा सकता है.


कोरोना के बाद याददाश्त संबंधी दिक्कत?
डॉक्टर्स का मानना है कि सार्स-कोव-2 वायरस फेफड़ों पर हमला करता है, जिससे शरीर में भरपूर मात्रा में ऑक्सीजन नहीं पहुंच पाता और ऑक्सीजन की कमी हो जाती है. ऑक्सीजन की कमी होने पर मरीज के मस्तिष्क में भी ऑक्सीजन का प्रवाह कम हो जाता है. ऐसी स्थिति में याददाश्त भी प्रभावित होती है. एक्सपर्ट्स का कहना है कि कोरोना की रिपोर्ट नेगेटिव आने के करीब 1 महीने बाद तक याददाश्त से जुड़ी दिक्कतें सामने आ रही हैं.


याददाश्त से जुड़ी समस्या होने पर इन बातों का ध्यान रखें
1- योग और अध्यात्म के लिए समय निकालें और ध्यान करें.
2- रात में समय पर सोने की कोशिश करें और 8 से 9 घंटे की नींद जरूर लें.
3- आपको नकारात्मक बातों से दूर रहना है. साथ ही डर और अफवाह फैलाने वाले लोगों से भी दूरी बना कर रखें.
4- ऐसी डाइट लें जिसमें प्रोटीन, मिनरल, विटामिन और पौष्टिक तत्व शामिल हों.
5-सिगरेट और शराब से दूरी बना कर रखें. इनका सेवन न करें तो बेहतर होगा.
6- अपनी पसंद के काम करें और खुश रहने की कोशिश करें
7- तनाव को दूर करने की कोशिश करें.
8- अपना पसंदीदा म्यूजिक सुनें और किताब पढ़ें.


Disclaimer:
इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों व दावों की Just36News पुष्टि नहीं करता है. इनको केवल सुझाव के रूप में लें. इस तरह के किसी भी उपचार/दवा/डाइट पर अमल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें.

 

breaking news: भारत में `डेल्टा प्लस` वेरिएंट के 40 नए मामले दर्ज

breaking news: भारत में `डेल्टा प्लस` वेरिएंट के 40 नए मामले दर्ज

नई दिल्ली: देश में जानलेवा कोरोना वायरस की दूसरी लहर के नए मामले तो घटते जा रहे हैं, लेकिन अब कोरोना के डेल्टा प्लस वेरिएंट ने राज्य सरकारों को चिंता में डाल दिया है। सूत्रों के मुताबिक देश में `डेल्टा प्लस` वेरिएंट के अबतक 40 मामले दर्ज किए गए हैं। ज्यादातर केस महाराष्ट्र, केरल और तमिलनाडु से सामने आए हैं। हालांकि डेल्टा प्लस वेरिएंट के मामले मध्य प्रदेश में भी हैं।


भारत उन दस देशों में से एक है, जहां अब तक `डेल्टा प्लस` वेरिएंट मिला है। 80 देशों में `डेल्टा वेरिएंट` का पता चला है। भारतीय सार्स कोव-2 जीनोमिक्स कंसोर्टियम (आईएनएसएसीओजी) ने सूचना दी है कि डेल्टा प्लस वेरिएंट वर्तमान में चिंताजनक वेरिएंट (वीओसी) है, जिसमें तेजी से प्रसार, फेफड़े की कोशिकाओं के रिसेप्टर से मजबूती से चिपकने और `मोनोक्लोनल एंटीबॉडी` प्रतिक्रिया में संभावित कमी जैसी विशेषताएं हैं।


भारतीय सार्स कोव-2 जीनोमिक्स कंसोर्टियम (आईएनएसएसीओजी) राष्ट्रीय प्रयोगशालाओं का एक समूह है जिसे केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने गठित किया है। आईएनएसएसीओजी वायरस के नए वेरिएंट और महामारी के साथ उनके संबंधों का पता लगा रहा है। मोटे तौर पर, दोनों भारतीय टीके कोविशील्ड और कोवैक्सीन डेल्टा वेरिएंट के खिलाफ प्रभावी हैं, लेकिन वे किस हद तक और किस अनुपात में एंटीबॉडी बना पाते हैं, इसकी जानकारी बहुत जल्द साझा की जाएगी।


कोरोना वायरस का `डेल्टा प्लस` वेरिएंट भारत के अलावा, अमेरिका, ब्रिटेन, पुर्तगाल, स्विट्जरलैंड, जापान, पोलैंड, नेपाल, चीन और रूस में मिला है। भारत के अलावा 9 और देशों में डेल्टा प्लस वेरिएंट का पता चला है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रतिक्रिया के बारे में एक परामर्श जारी किया है कि महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और केरल को इस मुद्दे पर पहल की शुरुआत करनी चाहिए।
सबसे बड़ा खतरा है कोरोना का डेल्टा वेरिएंट : फाउची
व्हाइट हाउस के मुख्य चिकित्सा सलाहकार डॉ. एंथनी फाउची ने आगाह किया है कि कोरोना वायरस का बेहद संक्रामक वेरिएंट `डेल्टा` महामारी का सफाया करने के अमेरिका के प्रयासों के लिए सबसे बड़ा खतरा है। फाउची ने कहा कि अमेरिका में सामने आने वाले कोविड-19 के नए मामलों में से 20 फीसदी से अधिक में संक्रमण की वजह डेल्टा वेरिएंट है। उन्होंने कहा कि दो हफ्ते पहले तक नए मामलों में से दस फीसदी में यह वेरिएंट पाया गया था।

हवाई सफर करने वालों के लिए खुशखबरी, इन लोगों को इंडिगो दे रही छूट

हवाई सफर करने वालों के लिए खुशखबरी, इन लोगों को इंडिगो दे रही छूट

इंडिगो उन सभी यात्रियों को शुल्क में बुधवार से 10 फीसदी की छूट देगी, जिन्होंने कोविड-19 के टीके की कम से कम एक खुराक लगवा ली है। विमानन कंपनी ने बयान में बताया कि छूट आधार (बेस) शुल्क पर दी जाएगी और यह छूट केवल सीमित वर्ग में उपलब्ध है।
जिन यात्रियों ने बुकिंग के समय छूट प्राप्त की है, उन्हें हवाई अड्डे के चेक-इन काउंटर के साथ-साथ बोर्डिंग गेट पर स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी कोविड-19 टीकाकरण का एक वैध प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा। इसमें कहा गया है, 'वे हवाई अड्डे के चेक-इन काउंटर/बोर्डिंग गेट पर आरोग्य सेतु मोबाइल एप्लीकेशन के जरिए भी टीकाकरण कराने का प्रमाण पत्र दिखा सकते हैं।'
इसमें कहा गया है, 'यह छूट टीकाकरण करा चुके 18 वर्ष और उससे अधिक आयु के केवल उन लोगों के लिए उपलब्ध है, जो बुकिंग के समय भारत में स्थित हों और जिन्होंने देश में कोविड-19 टीके की (कम से कम एक खुराक) लगवा ली है।'
इंडिगो के मुख्य रणनीति और राजस्व अधिकारी संजय कुमार ने कहा कि, 'हमें लगता है कि देश में सबसे बड़ी विमानन कंपनी होने के नाते राष्ट्रीय टीकाकरण अभियान के साझे लक्ष्य के लिए अधिक से अधिक लोगों को प्रोत्साहित करके अभियान में योगदान देना हमारी जिम्मेदारी है।'
 

खुशखबरी: Jio जल्द लाने जा रहा है सस्ते 5G स्मार्टफोन, जानें क्या होगी कीमत और फीचर्स

खुशखबरी: Jio जल्द लाने जा रहा है सस्ते 5G स्मार्टफोन, जानें क्या होगी कीमत और फीचर्स

पिछले दिनों ही खबर आई थी कि Jio ने सस्ते 5G स्मार्टफोन पर काम करना शुरू कर दिया है और इसे जल्द ही बाजार में उतारा जाएगा. बता दें कि Jio और Google के बीच एक साझेदारी हुई है और इस साझेदारी के तहत दोनों कंपनियां मिलकर सस्ते 5G स्मार्टफोन का निर्माण कर रही हैं. सामने आई रिपोर्ट के अनुसार इस सस्ते 5G स्मार्टफोन के लिए यूजर्स को ज्यादा इंतजार नहीं करना होगा. क्योंकि 24 जून को Reliance AGM 2021 का आयोजन है और कंपनी की इस सलाना कॉन्फ्रेंस में अपकमिंग स्मार्टफोन से पर्दा उठाया जाएगा. इससे पहले इसके कई फीचर्स और कीमत से जुड़ी लीक्स सामने आ चुकी हैं.
Reliance AGM 2021: ऐसे देख सकते हैं लाइव इवेंट
Reliance AGM 2021 का आयोजन 24 जून को दोपहर 2 बजे किया जाएगा और इस सलाना कॉन्फ्रेंस में कंपनी कई बड़ी घोषणाओं समेत सस्ता 5G स्मार्टफोन भी पेश कर सकती है. Reliance AGM 2021 वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग ऐप JioMeet के माध्यम से ऑनलाइन आयोजित की जाएगी. इस कॉन्फ्रेंस में Reliance के सभी शेयरहोल्डर्स हिस्सा लेंगे. आप घर बैठे इसका लाइव स्ट्रीम देख सकते हैं. जो कि कंपनी के सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर उपलब्ध होगा.
Jio-Google 5G स्मार्टफोन से उठेगा पर्दा
Reliance AGM 2021 में कंपनी कई बड़ी घोषणाएं कर सकती है लेकिन फिलहाल सबकी नजर Jio-Google 5G स्मार्टफोन पर है. जो कि अब तक का सबसे सस्ता 5G स्मार्टफोन होगा और इसे 3,000 रुपये से कम कीमत में लॉन्च किया जा सकता है. इसके साथ ही कंपनी JioBook से भी पर्दा उठा सकती है. हालांकि, अभी तक कंपनी ने अपकमिंग डिवाइसेज या Jio-Google 5G स्मार्टफोन के लॉन्च को लेकर कोई आधिकारिक खुलासा नहीं किया है. लेकिन यह सस्ता Jio-Google 5G स्मार्टफोन कई खास फीचर्स से लैस होगा जो कि यूजर्स के लिए उपयोगी होंगे. बता दें कि पिछले साल Google ने Jio में $337 करोड़ का निवेश किया था जिसकी घोषणा कंपनी ने Reliance AGM के दौरान की थी. दोनों कंपनियां मिलकर एंड्राइड फोन बना रही है जो कि अफोर्डेबल प्राइस वाला 5G स्मार्टफोन होगा और अधिक से अधिक लोग 5G से जुड़ सकेंगे.
 

इन बातों से पता चलता है कि पार्टनर के मन में कम हो रहा है आपके लिए प्यार

इन बातों से पता चलता है कि पार्टनर के मन में कम हो रहा है आपके लिए प्यार

किसी भी रिलेशनशिप को परफेक्ट बनाने की कोई सटीक ट्रिक नहीं है लेकिन फिर भी आपसी समझ और कोशिश रिश्ते को मजबूत बनाए रखती है। लम्बे समय तक रिलेशनशिप में रहते हुए कपल एक-दूसरे के पार्टनर ही नहीं बल्कि दोस्त भी बन जाते हैं लेकिन कभी-कभी ऐसा होता है कि रिश्ते में ज्यादा समय में रहते हुए किसी एक का प्यार धीरे-धीरे कम होने लगता है। ऐसे में कुछ बातों से जाना जा सकता है कि आपके लिए आपके पार्टनर का प्यार कम होता जा रहा है।

सम्मान का खत्म होना
किसी भी रिश्ते की नींव सम्मान पर टिकी होती है। पार्टनर के लिए प्यार और सम्मान, ये दो चीजें हैं। ऐसे में कई बार ऐसा होता है कि कपल एक-दूसरे से प्यार तो करते हैं लेकिन इज्जत नहीं करते। जैसे पार्टनर के प्रोफेशन, काम, विचारों या बातों की इज्जत न करते हुए हमेशा मजाक उड़ाना। ऐसे में अगर आपके रिश्ते में भी ये चीजें शुरू होने लगी हैं, तो समझ जाएं कि आपके लिए आपके पार्टनर के मन में इज्जत खत्म हो रही है।

एक-दूसरे के साथ वक्त बिताना बोरिंग लगना
हमेशा मिलने पर पार्टनर के साथ मिलने का क्रेज खत्म हो जाता है। ऐसा हमेशा नहीं होता लेकिन कई लोगों को इस बात से परेशानी होती है। ऐसे में अगर आप भी यह महसूस करें कि अब बहुत टाइम बाद मिलने पर भी आपका पार्टनर बोरियत महसूस कर रहा है, तो आपको आगे के रिश्ते के बारे में सोचने की जरूरत है।

बात करते वक्त इरिटेट होना
प्यार के शुरुआती दौर में कपल्स एक-दूसरे से घंटों बातचीत करते हैं। लेकिन वक्त के साथ इसमें कमी आ जाती है, यह आम बात है लेकिन अगर आप महसूस करने लगे कि आपका पार्टनर दिन में एक बार बात करने से ही इरिटेट होने लगा है, तो यह आपके लिए खतरे की घंटी है।

आपके प्रति व्यवहार बदलना
हर व्यक्ति बदलाव के दौर से बदलता है लेकिन अगर पार्टनर का व्यवहार सिर्फ आपके लिए बदला है, तो आपको इस बारे में उनसे बात करने की जरूरत है। बदले हुए व्यवहार में साथी का समय पर घर न आना, आपसे दूर-दूर भागने का प्रयास करना, अक्सर दोस्तों के साथ पार्टी करना जैसी बातें शामिल हो सकती हैं।

 

झगड़े के बाद बिना Sorry के अपने पार्टनर को ऐसे करें माफ, लड़ाई खत्म करने के लिए अपनाएं 5 टिप्स

झगड़े के बाद बिना Sorry के अपने पार्टनर को ऐसे करें माफ, लड़ाई खत्म करने के लिए अपनाएं 5 टिप्स

हर रिश्ते में लड़ाई-झगड़े होते रहते हैं, लेकिन एक समझदार कपल अपनी लड़ाई को लंबा नहीं खीचता, अपनी पुरानी बातों को हमेशा लेकर नहीं बैठता. ऐसे में अगर आप भी उन कपल्स में से एक हो जो ज़रा-ज़रा सी बात पर बहस और झगड़ा करने लगते हैं तो आपको संभलने की जरूरत है. ऐसा कई बार होता है जब आप का पार्टनर कुछ ऐसी हरकतें करता है जो आपको पसंद नहीं आती हैं या जिनसे आपकी भावनाओं को ठेस पहुंचती है. ऐसे में आप हर्ट हो सकते हैं, लेकिन अपने रिश्ते को लंबा चलाने के लिए आपको इन बातों को इग्नोर कर देना चाहिए. हालांकि कई बार ये मूड पर भी निर्भर करता है. जैसे आपका मूड अगर अच्छा है तो पार्टनर की बुरी बातों को भी आप इग्नोर कर देंगे. लेकिन अगर आपका मूड ठीक नहीं है तो आपको जरा सी बात बुरी लग सकती है. ऐसे में आपको लड़ाई-झगड़ा होने के बाद कुछ बातों को हमेशा ध्यान में रखना जरूरी है.


झगड़े के बाद पार्टनर को माफ कर दें-
लड़ाई-झगड़ा होने के बाद सबसे पहले आपको अपने पार्टनर माफ कर देना चाहिए. अगर आफ झगड़े के बाद उदास हैं तो इसकी वजह का पता लगाएं. आपको अपने साथी की कौन सी बात अच्छी नहीं लगती ये जानने की कोशिश करें. पता लगाने के बाद उस बात को अपने पार्टनर के साथ शेयर करें. एक दूसरे से बात करें और कभी भी बातों या झगड़े को अनसुलझा नहीं छोड़ें.

इगो को बीच में न लायें-
कई बार लड़ाई-झगड़े में इगो सामने आ जाता है. दोनों पार्टनर ये सोचते हैं कि हम सही हैं. लेकिन ऐसा नहीं है अगर आपको झगड़ा खत्म करना है तो अपनी गलतियों को मानना होगा. जरूरी नहीं है कि इसके लिए आप या आपका पार्टनर मांफी मांगे. झगड़े के बाद ये अहसास ही काफी है कि आप अपनी गलती मान रहे हैं और चीजों को नॉर्मल करना चाह रहे हैं. अगर आप दोनों ही एक दूसरे के मांफी मांगने का इंतजार कर रहे हैं तो इससे हालात और खराब हो जाएंगे. इसलिए आपको जिद छोड़कर आप खुद पहल करनी होगी.


अपनी जिम्मेदारी समझें-
अगर झगड़े में आपकी वजह से बात आगे बढ़ी है तो उसे स्वीकार करें और बात को खत्म करें. आप ऐसा करके देखिए आपके इस व्यवहार से आपका पार्टनर खुद भी अपनी गलती समझकर मांफी मांग लेगा. अगर आपके रिश्ते पर इसकी आंच आ रही है तो माफी मांगना या किसी से सॉरी कहना गलत नहीं है. किसी भी रिश्ते को बचाने के लिए आपका व्यवहार बहुत बड़ी भूमिका निभाता है.

इमोशन सपोर्ट करें-
अगर आपका पार्टनर आपसे नाराज है, तो वो आपसे इमोशनल सपोर्ट की उम्मीद रखता है. ऐसे में अगर एक दूसरे को झगड़े के वक्त इमोशनली सपोर्ट नहीं करते तो इससे आप दोनों ही ज्यादा हर्ट होते हैं. आप जो उम्मीद कर रहे हैं जब वो पूरी नहीं होती तो आप मन ही मन इज्जत खो देते हैं. किसी भी रिश्ते में ज्यादातर महिलाएं ऐसा महसूस करती हैं और रिश्ता टूटने की ये सबसे बड़ी वजह बनता है. इसलिए आपको एक दूसरे के लिए इमोशनल सपोर्ट रखना बहुत जरूरी है.


चुप न रहें-
कुछ लोग लड़ाई-झगड़े के बाद एक दूसरे से बातचीत करना बंद कर देते हैं. ये खामोशी रिश्ते में एक चट्टान की तरह काम करती है. जिसे तोड़ना काफी मुश्किल हो जाता है. अगर आपके रिश्तेमें में ऐसी परिस्थिति होती है तो आपको समझदारी से काम लेना चाहिए. घर के किसी बड़े को अपने रिश्ते के बारे में बताएं. अपनी खामोशी को तोड़ें और आपस में बातचीत करें. इससे आपकी लड़ाई जल्दी खत्म हो जाएगी. कभी भी चुप न रहें इससे कोई हल नहीं निकल सकता है.