कोरोना अपडेट 01 जुलाई : राजधानी रायपुर में फिर हुई कोरोना से मौत, रायपुर में लगातार बढ़ रहे हैं कोरोना के नए मरीज, जाने आज प्रदेश में कितने मरीजों की हुई पहचान    |    कोरोना अपडेट 30 जून : छत्तीसगढ़ में फिर शुरू हुआ कोरोना से मौत का तांडव, आज भी रायपुर से मिले सर्वाधिक मरीज, देखें जिलेवार आंकड़े    |    कोरोना अपडेट 29 जून : राजधानी रायपुर में कोरोना मरीजों की संख्या हुई 226, आज प्रदेश में मिले इतने मरीज, देखें जिलेवार आंकड़े    |    कोरोना अपडेट 28 जून : छत्तीसगढ़ में एक्टिव मरीजों की संख्या पहुंची 851, प्रदेश में आज इतने नए मरीजों की हुई पहचान, देखें जिलेवार आंकड़े    |    कोरोना अपडेट 27 जून : प्रदेश में आज नए मरीजो की संख्या पहुची सौ के पार, एक्टिव मरीज हुए अब इतने, देखें जिलेवार आंकड़े    |    कोरोना अपडेट 26 जून : कम टेस्ट के बावजूद मिले कल से ज्यादा मरीज, एक्टिव मरीज भी पहुचे सात सौ के करीब, देखें जिलेवार आंकड़े    |    कोरोना अपडेट 25 जून : प्रदेश में हो रही है चौथी लहर की आहट आज मिले सौ के करीब कोरोना मरीज, देखें जिलेवार आंकड़े    |    वडोदरा में मिले एकनाथ शिंदे और देवेंद्र फडणवीस, क्या महाराष्ट्र में सरकार बनाने की तैयारी में है भाजपा!    |    कोरोना अपडेट 24 जून : राजधानी रायपुर में हुआ कोरोना विस्फोट, प्रदेश में कोरोना मरीजों की संख्या पहुंची 600 के पार, देखें जिलेवार आंकड़े    |    कोरोना अपडेट 23 जून : छत्तीसगढ़ में कोरोना मरीजों की संख्या पहुंची 600 के पार, आज प्रदेश में मिले इतने नए कोरोना मरीज, देखें जिलेवार आंकड़े...    |
सिर के मुंहासों से राहत दिलाने में मदद करेंगे ये पांच घरेलू नुस्खे

सिर के मुंहासों से राहत दिलाने में मदद करेंगे ये पांच घरेलू नुस्खे

बालों को अच्छी तरह से न धोना, हेयर स्टाइल प्रोडक्ट्स का अधिक इस्तेमाल करना, सिर में पसीना आने के बाद उसे न साफ करना आदि की वजह स्कैल्प के रोमछिद्र बंद हो सकते हैं, जिस वजह से सिर में मुंहासे हो सकते हैं। यह एक कष्टदायक समस्या है क्योंकि इसके कारण दर्द और जलन जैसी समस्याएं होती हैं। आइए आज हम आपको पांच ऐसे घरेलू नुस्खे बताते हैं, जिन्हें अपनाकर आप सिर के मुंहासों से जल्द राहत पा सकते हैं।

टमाटर के रस का करें इस्तेमाल
टमाटर का रस सिर के मुंहासों के उपचार के लिए एक बेहतरीन घरेलू नुस्खा है। सैलिसिलिक एसिड से भरपूर टमाटर आपके सिर के श्च॥ स्तर को संतुलित करके मुंहासों को धीरे-धीरे कम करने में मदद कर सकता है। लाभ के लिए एक कटोरी में टमाटर का रस निकालें, फिर उससे रूई के टुकड़े को भिगोकर सिर के मुंहासों पर हल्के हाथ लगाएं। एक घंटे के बाद अपने सिर को माइल्ड शैंपू और पानी से धोकर साफ करें।

लहसुन लगाएं
लहसुन सैलिसिलिक एसिड, एंटी-ऑक्सिडेंट, एंटी-फंगल और एंटी-वायरल गुणों से समृद्ध होता है, जो सिर के मुंहासों से राहत दिलाने में काफी मदद कर सकते हैं। शायद इससे आपके सिर से लहसुन की महक आए, लेकिन यह इसे स्वस्थ और मुंहासों से मुक्त बना सकता है। राहत के लिए लहसुन की कुछ कलियों को पानी में उबाल लें, फिर इस पानी को ठंडा करके अपने स्कैल्प पर लगाएं। 30 मिनट के बाद अपने सिर को माइल्ड शैंपू से साफ करें।

सेब का सिरका आएगा काम
सेब का सिरका एंटी-माइक्रोबियल गुणों से भरपूर होता है, जो सिर में मुंहासें पैदा करने वाले बैक्टीरिया को खत्म करने में मदद करते हैं। इसके अतिरिक्त, यह सिर के पीएच स्तर को संतुलित करके इसे बहुत अधिक तैलीय या बहुत शुष्क होने से भी बचाता है। लाभ के लिए एक कटोरी में तीन चम्मच सेब का सिरका और पानी मिलाएं, फिर शैंपू करने के बाद इस मिश्रण को अपने सिर पर लगाएं। एक मिनट बाद फिर से अपना सिर धोएं।

एलोवेरा करेगा मदद
एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-बैक्टीरियल गुणों से भरपूर एलोवेरा भी सिर के मुंहासों से राहत दिलाने में काफी मदद कर सकता है। यह मुहांसो के कारण होने वाली सिर में जलन और खुजली से भी जल्द राहत दिलाकर स्कैल्प को हाइड्रेट रखने समेत स्वस्थ बालों के विकास को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है। लाभ के लिए ताजा एलोवेरा जेल सीधे अपने स्कैल्प पर लगाएं और 15-30 मिनट के बाद अपने सिर को सिर्फ पानी से धो लें।

टी ट्री ऑयल से भी दूर होंगे सिर के मुंहासें
एंटी-फंगल और एंटी-बैक्टीरियल गुणों से समृद्ध टी ट्री ऑयल सिर के मुंहासों का इलाज काफी प्रभावी तरीके से कर सकता है। यह सिर के रोमछिद्रों को खोलकर मुंहासों को कम कर सकता है। लाभ के लिए टी ट्री ऑयल की दो-तीन बूंदों को जोजोबा ऑयल में मिलाएं, फिर इसे अपने स्कैल्प पर लगाकर हल्के हाथों से मसाज करें। एक घंटे बाद सिर को माइल्ड शैंपू से साफ करें।
 

दिनभर एसी में रहने वाले हो जाएं सावधान,  हो सकती है ये गंभीर परेशानिया

दिनभर एसी में रहने वाले हो जाएं सावधान, हो सकती है ये गंभीर परेशानिया

एसी में हवा खान किसे अच्छा नहीं लगता है खासकर गर्मियों के मौसम में एसी में रहने का एक अलग ही आनंद होता है। एसी आपको चिलचिलाती धूप से राहत देती है घर हो या ऑफिस, आज के समय में एक बड़ी संख्या में लोग अपना ज्यादातर समय एसी के सामने बैठकर गुजारते हैं। एसी की ठंडी हवा भले ही आपको चिलचिलाती धूप से राहत दिला सकती है, पर क्या आप जानते हैं उसका आपकी सेहत पर क्या बुरा असर पड़ता है। जी हां, एसी में ज्यादा देर रहना आपके स्वास्थ्य के लिए खतरनाक हो सकता है। आइए जानते हैं कैसे।

एसी में रहने के नुकसान-

जोड़ों में दर्द की समस्या-
लंबे समय तक कम तापमान में बैठे रहने से जोड़ों में अकड़न बढ़ जाती है।

झुर्रियां-
एसी वातावरण को ठंडा करने के साथ उस जगह का मॉइस्चर भी सोख लेता है, लंबे समय तक एसी में रहने के कारण ये त्वचा की नमी के साथ शरीर में भी पानी की कमी होने लगती है। इससे त्वचा पर झुर्रियां दिखने लगती हैं।

आंखें और त्वचा का शुष्क होना-
जो लोग दफ्तर में घंटों कम्प्यूटर के सामने बैठकर काम करते हैं, उन्हें आंखों में खुजली या सूखेपन की शिकायत रहती है। ऐसा इसलिए क्योंकि ऑफिस में लगे एसी ठंडी हवा तो देते हैं लेकिन वातावरण से नमी खत्म कर देते हैं। नमी रहित यह हवा हमें गर्मी और उमस से तो राहत दिलाती है, लेकिन आंखों में मौजूद आवश्यक नमी को खत्म कर देती है। इसी तरह एसी की हवा में पानी कम पिया जाता है, जिससे त्वचा में रूखापन बढ़ जाता है।

ब्लडप्रेशर-
लंबे समय तक एसी की ठंडी हवा में बैठने से हमारे शरीर का तापमान कृत्रिम तरीके से काफी लो हो जाता है। जिसकी वजह से शरीर की कोशिकाएं संकुचित होने लगती हैं और रक्त संचार प्रभावित होने लगता है। जो बाद में सिरदर्द, चक्कर, उल्टी आना और लो ब्लड प्रेशर का कारण बनता है।

सर्द-गर्म के नुकसान-
एसी के ठंडे तापमान से एकदम निकल कर जब हम सामान्य तापमान में जाते हैं तो शरीर इतनी जल्दी ऊपर-नीचे होते तापमान के साथ तालमेल नहीं बिठा पाता। जिसकी वजह से व्यक्ति को बुखार, चिड़चिड़ापन, थकान के साथ लू लगने का खतरा भी बढ़ जाता है।

सांस की समस्या-
एसी की सफाई अगर लंबे समय तक न की जाए तो इसमें धूल-मिट्टी इकट्ठी होकर कमरे में फैलने लगती है। जो सांस संबंधी रोगों को बढ़ाने का काम कर सकती है।


एसी में बैठते समय बरतें ये सावधानियां-
-एसी का इस्तेमाल करने से पहले उसकी सर्विस जरूर करवा लें, ताकि धूल-मिट्टी साफ हो सके। पानी की निकासी होती रहे।
-जिस कमरे में एसी चलता हो, कभी-कभी उसके खिड़की-दरवाजे खोल कर रखें, ताकि धूप व ताजी हवा कमरे में आ सके।
-देर तक एसी के ठीक सामने ने बैठें। उसे बहुत कम तापमान पर न चलाएं।
-जिस कमरे में एसी चलता हो, वहां पानी से भरा एक बर्तन हमेशा रखें। ऐसा करने से वातावरण में नमी बरकरार रहेगी। आंखें और त्वचा शुष्क नहीं हो पाएंगी।
-हर दो घंटे में कुछ समय के लिए एसी बंद कर दें। इससे कमरे का तापमान संतुलित रखने में मदद मिलती है।
-एसी से सीधे धूप में बाहर न निकलें। बाहर निकलने से पहले कुछ मिनट रुककर शरीर को सामान्य तापमान पर आने दें।
 

शानदार लुक्स वाला smartphone हुआ लांच..कम कीमत के साथ मिलेगी हाई बैटरी...जानिए फीचर्स…

शानदार लुक्स वाला smartphone हुआ लांच..कम कीमत के साथ मिलेगी हाई बैटरी...जानिए फीचर्स…

 दिल्ली। New Smartphone अगर आप भी नया स्मार्टफोन खरीदने की प्लानिंग कर रहे हैं तो आप कम कीमत में शानदार लुक्स और हाई बैटरी वाला फ़ोन काम कीमत में खरीद सकते हैं। प्रीमियम एंड्रॉयड स्मार्टफोन्स बनाने वाले ब्रांड वनप्लस ने कल अपना नया स्मार्टफोन, OnePlus Nord 2T लॉन्च कर दिया है। फीचर्स के हिसाब से इस मोबाइल की कीमत भी काफी कम है। आइए OnePlus Nord 2T के सभी फीचर्स, इसकी कीमत और सेल की तारीख, सबके बारे में जानते हैं.. New Smartphone

कीमत

इस 5G स्मार्टफोन की कीमत 28,999 रुपये है और इसे अमेजन (Amazon) से 5 जुलाई से खरीदा जा सकता है। आपको बता दें कि ये कीमत 8GB RAM और 128GB स्टोरेज वाले बेस मॉडल की है और इसके 12GB RAM और 256GB स्टोरेज वाले मॉडल को 33,999 रुपये की कीमत पर खरीदा जा सकता है।

फीचर्स और बैटरी 
OnePlus Nord 2T में आपको कई कमाल के फीचर्स दिए जा रहे हैं लेकिन इसकी बैटरी ने यूजर्स को काफी खुश किया है। मीडियाटेक डायमेंसिटी 1300 चिपसेट (Mediatek Dimensity 1300 Chipset) पर काम करने वाले इस स्मार्टफोन में आपको 5000mAh तो नहीं पर 4500mAh की बैटरी दी जा रही है।

ये स्मार्टफोन 80W के फास्ट चार्जिंग सपोर्ट के साथ लॉन्च किया गया है और अब तक केवल 10R स्मार्टफोन में ये फीचर दिया गया है और उस फोन की कीमत 38,999 रुपये है। कंपनी का दावा है कि इस फोन में एक बंडल्ड चार्जर भी है जो तीस मिनट में फोन को 100 प्रतिशत चार्ज कर देगा।

स्टोरेज और कैमरा
12GB तक RAM और 256GB के स्टोरेज के साथ ये स्मार्टफोन एक ट्रिपल रीयर कैमरा सेटअप के साथ आया है जिसमें OIS सपोर्ट वाला 50MP का Sony IMX766 प्राइमेरी कैमरा, 8MP का अल्ट्रा-वाइड कैमरा और 2MP का टर्शीएरी सेंसर शामिल होगा। इस फोन में इलेक्ट्रॉनिक इमेज स्टेबिलाइजेशन (EIS) सपोर्ट वाला 32MP का कैमरा भी दिया जा रहा है।

 सोना 1375 रुपये चमका, चांदी टूटी

सोना 1375 रुपये चमका, चांदी टूटी

मुंबई : अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कीमती धातुओं में गिरावट के बीच घरेलू स्तर पर सोना के आयात पर शुल्क में की गयी 4.75 प्रतिशत की भारी बढोतरी से आज सोना 1375 रुपये प्रति दस ग्राम चमककर 52हजारी होने को बेताव दिखा जबकि चाँदी 563 रुपये प्रति किलोग्राम उतर गयी।
अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सोना हाजिर 0.16 प्रतिशत टूटकर 1804डॉलर प्रति औंस पर और अमेरिकी सोना वायदा 0.22 प्रतिशत की गिरावट लेकर 1800 डॉलर प्रति औंस पर रहा। इसी तरह से चाँदी हाजिर 2.09 प्रतिशत उतरकर 19.82 डॉलर प्रति औंस पर रही।

देश के सबसे बड़े वायदा बाजार एमसीएक्स में सोना 1375 रुपये की बढ़त के साथ 51892 रुपये प्रति दस ग्राम पर और सोना मिनी 1293 रुपये बढ़कर 51881 रुपये प्रति दस ग्राम पर रहा। हालांकि चाँदी 563 रुपये टूटकर 58324 रुपये प्रति किलोग्राम पर तथा चाँदी मिनी 531 रुपये गिरकर 58756 रुपये प्रति किलोग्राम बोली गयी।

सरकार ने सोना के आयात को हतोत्साहित करने के उद्देश्य से उस पर शुल्क को 10.75 प्रतिशत से बढ़ाकर 15 प्रतिशत कर दिया है जिसके कारण कीमती धातुओं में तेजी आयी है।
 

घर पर बना सकते हैं तरह-तरह के स्वादिष्ट बिस्किट, जानिए पांच आसान रेसिपी

घर पर बना सकते हैं तरह-तरह के स्वादिष्ट बिस्किट, जानिए पांच आसान रेसिपी

बिस्किट दुनियाभर में अलग-अलग स्वाद में लोकप्रिय हो चुके हैं, जिनका मजा आप अपनी पसंदीदा चाय या फिर कॉफी के साथ ले सकते हैं। आइए आज हम आपको पांच तरह के बिस्किट की रेसिपी बताते हैं, जिन्हें आप घर पर बहुत आसानी से कुछ ही मिनटों में तैयार कर सकते हैं। यकीनन ये बिस्किट आपको और आपके परिवार को बेहद पसंद आएंगे।

केसर पिस्ता बिस्किट
सबसे पहले एक कटोरे में घी और चीनी मिला लें, फिर इसमें केसर-दूध का मिश्रण, इलायची का पाउडर और जायफल का पाउडर डालकर अच्छी तरह मिलाएं। इसके बाद इसमें मैदा और दूध डालकर नरम आटा गूंथ लें, फिर आटे को बेलिए और उसके ऊपर पिस्ता और बादाम छिड़ककर उसे चौकोर आकार में काट लें। अब 15 मिनट तक बिस्किट को बेक करें और जब ये ठंडे हो जाएं तो इन्हें एक एयरटाइट कंटेनर में स्टोर करें।

चॉकलेट और ओट्स बिस्किट
इसे बनाने के लिए सबसे पहले एक कटोरे में मैदा, बेकिंग पाउडर और बेकिंग सोडा को मिलाकर एक तरफ रख दें। इसके बाद एक अलग कटोरे में मक्खन और चीनी को साथ फेंटें, फिर इसमें अंडा, वनिला एसेंस, मैदे का मिश्रण, ओट्स, चॉकलेट चिप्स और कद्दूकस किया हुआ सेब डालकर अच्छी तरह मिलाएं। अब इस मिश्रण को घी लगी बेकिंग शीट पर चौकोर आकार में रखें और 15 मिनट तक बेक करने के बाद बिस्किट को ठंडा करके खाएं।

नानखटाई
सबसे पहले एक कटोरे में मैदा, बेकिंग सोडा और बेकिंग पाउडर को मिलाकर एक तरफ रख दें। अब एक अलग कटोरे में घी और पिसी हुई चीनी को मिलाएं, फिर इसमें मैदे का मिश्रण, सूजी, पिसा हुआ बादाम, पिसा हुआ पिस्ता और इलायची पाउडर मिलाकर नरम आटा गूंथ लें। इसके बाद आटे को बेलकर गोल आकार में काट लें, फिर बेकिंग ट्रे पर रखकर इन्हें 20-25 मिनट तक बेक करें।

आटा बिस्किट
सबसे पहले एक कटोरे में साबुत अनाज का आटा, दालचीनी पाउडर और चीनी को मिलाएं, फिर इसमें थोडा़ मक्खन मिलाकर नरम और मुलायम आटा गूंथ लें। अब आटे को एक पेपर में लपेट कर आधे घंटे के लिए फ्रिज में रख दें, फिर उसे फ्रिज से निकालकर बेलिए और बिस्किट के आकार में काटकर दोबारा 10 मिनट के लिए फ्रिज में रखें। इसके बाद पहले से गर्म ओवन में 10 मिनट तक बिस्किट को बेक करें और उनका आनंद लें।

बटर बिस्किट
सबसे पहले एक कटोरे में मक्खन को चिकना और फूलने तक फेंटें, फिर इसमें पिसी हुई चीनी डालकर फेंटें, फिर इसमें मैदा और थोड़ा सा नमक मिलाएं। इसके बाद आटे को बेलिए और उसके ऊपर बादाम छिड़ककर उसे चौकोर या फिर किसी भी आकार में काट लें। अब सारे बिस्किट को बेकिंग शीट से ढकी बेकिंग ट्रे पर रखें और उसे पहले से गर्म ओवन में 10 मिनट तक बेक करें। इसके बाद बिस्किट को ठंडा करके परोसें।
 
 

हर महिला के पास जरूर होने चाहिए ये पांच तरह के बैग

हर महिला के पास जरूर होने चाहिए ये पांच तरह के बैग

बैग न सिर्फ उपयोगी होते हैं बल्कि एक महत्वपूर्ण फैशन एक्सेसरी भी है। खासतौर से महिलाओं के लिए क्योंकि उनके ज्यादात्तर आउटफिट में जेब नहीं होती है, जिस वजह से उन्हें अपने साथ एक बैग कैरी करना पड़ता है, जिसमें वह अपनी हर जरूरत की चीज को रखती हैं। वैसे बाजार में अलग-अलग तरह के बैग उपलब्ध हैं, लेकिन आज हम आपको पांच ऐसे बैग के बारे में बताने जा रहे हैं, जो हर महिला के पास जरूर होने चाहिए।
टोटे बैग
बाजार में उपलब्ध सबसे लोकप्रिय बैगों में से एक टोटे बैग बड़े होते हैं, जिसे महिलाएं अपने किसी भी तरह के आउटफिट के साथ कैरी कर सकती हैं। आमतौर पर कपड़े या फिर लैदर से बने टोटे बैग कैरी करने के लिए आरामदायक होते हैं और दैनिक इस्तेमाल या जब आप खरीदारी के लिए बाहर जाते हैं तो उसके लिए भी यह एकदम सही हैं। अच्छी बात यह है कि टोटे बैग पर्यावरण के अनूकुल होते हैं।
शोल्डर बैग
क्लासिक शोल्डर बैग 1990 के दशक के दौरान बहुत लोकप्रिय था और अभी भी आधुनिक पीढ़ी के बीच लोकप्रिय है क्योंकि यह स्टाइलिश है और आपके आउटफिट में एक अतिरिक्त स्टाइल शामिल करता है। आजकल बाजार में कई तरह के डिजाइन और मध्यम आकार में शोल्डर बैग मौजूद है, जिनमें से आप अपने पसंदीदा शोल्डर बैग खरीदकर कॉलेज, ऑफिस या फिर किसी छोटी ट्रेवलिंग ट्रिप के लिए कंधे पर टांग कर ले जा सकती हैं।
स्लिंग बैग
स्लिंग बैग का आकार छोटा होता है, इसलिए महिलाएं इसे कहीं भी जाते समय आसानी से कैरी कर सकती हैं और उसमें अपनी जरूरी चीजें जैसे चाबियां, मोबाइल, पैसे और दवाइयां आदि रख सकती हैं। इस बैग्स में एडजस्टेबल स्ट्रैप होता हैं, जिन्हें आप अपने कंफर्ट अनुसार बड़ा या छोटा करके कंधे पर टांग सकती हैं। यह बैग रोजमर्रा के इस्तेमाल के लिए बिल्कुल सही है और आपके लगभग हर आउटफिट के साथ भी जचेगा।
बैकपैक
बैकपैक में महिलाएं अपना लैपटॉप, हल्के कपड़े और किताबें आदि बहुत ही आसानी से कैरी कर सकती हैं। वैसे आजकल बाजार में बैकपैक की भी कई तरह की वैरायटी उपलब्ध हैं और आपको यह अलग-अलग आकार और सुविधाओं से युक्त भी मिल सकता है, इसलिए जब भी बैकपैक खरीदने जाए तो अपनी जरूरत को ध्यान में रखें। बेहतर होगा कि आप सोबर रंग, हल्का और वाटरप्रूफ बैकपैक ही खरीदें।
फैनी पैक
1990 के दशक की शुरुआत में लोकप्रिय हुए फैनी पैक या बेल्ट बैग दोबारा से चलन में आ गए हैं, जिन्हें आमतौर पर कमर के चारों ओर बांधकर कैरी कर सकते हैं और अपने हाथों को मुक्त करके सुविधा प्रदान कर सकते हैं। बाइकिंग या क्लबिंग के दौरान पर्स ले जाने की बजाय फैनी पैक कैरी कर सकती हैं। यकीनन यह आपको फैशनेबल लुक भी देंगे। वहीं, कैजुअल आउटफिट पर तो ये काफी सूट करते हैं।