कोरोना अपडेट: प्रदेश में आज 14250 नए मरीजो की हुई पहचान, रायपुर में 4 हजार के करीब समेत इन जिलो से मिले इतने ..    |    खतरनाक हुआ कोरोना, RT-PCR टेस्ट को भी दे रहा है गच्चा, CT-Scan और ब्रोंकोस्कोपी की लेनी पड़ रही मदद    |    कोरोना अपडेट: आईसीएमआर के मुताबिक आज प्रदेश में 11694 मरीजो की पुष्टि, अकेले रायपुर से 3 हजार से अधिक समेत बाकी इन जिलो से...    |    यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कोरोना वायरस से संक्रमित, खुद दी जानकारी    |    बड़ी खबर: सीबीएसई बोर्ड परीक्षा को लेकर प्रधानमंत्री ने बुलाई उच्चस्तरीय बैठक, शिक्षा मंत्री भी रहेंगे मौजूद    |    सरकार ने रेमडेसिविर को लेकर कही ये बड़ी बात, अब सिर्फ ये ही कर सकेंगे इस्तेमाल    |    कोरोना अपडेट: कोरोना ने तोड़े सारे रिकॉर्ड देश में 24 घंटे में 1.85 लाख नए मरीज, 1027 की मौत    |    कोरोना अपडेट: छ ग में आज 15 हजार से अधिक मिले, 109 की मृत्यु के साथ रायपुर में रिकॉर्ड तोड़ 4168 समेत इन जिलो से इतने मरीज    |    क्या देश में है रेमडेसिविर दवा की कमी? जानिए केंद्र सरकार ने इसको लेकर क्या जवाब दिया है    |    रात्रि 8.30 बजे राज्य को करेंगे संबोधित मुख्यमंत्री, लॉकडाउन की चर्चा हुई तेज...    |
भारत में अब तक इतने  करोड़ लोगों को कोरोना का टीका लगाया गया

भारत में अब तक इतने करोड़ लोगों को कोरोना का टीका लगाया गया

भारत में अब तक 11 करोड़ से अधिक लोगों को कोविड-19 वैक्सीन की खुराक दी जा चुकी है। गौरतलब है कि इससे पहले भारत मात्र 85 दिनों के भीतर 10 करोड़ लोगों का टीकाकरण करने वाला सबसे तेज़ देश बना था। गौरतलब है कि सरकार ने 1 अप्रैल, 2021 से 45 वर्ष से अधिक आयु के लोगों का टीकाकरण शुरू किया है।

टीकाकरण की लागत कितनी है?
टीकाकरण अभियान सभी 10,000 सरकारी अस्पतालों में मुफ्त चलेगा।
लेकिन लाभार्थी को 20,000 निजी टीकाकरण केंद्रों पर अपना टीकाकरण कराने के लिए भुगतान करना होगा। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा अभी तक टीकों का शुल्क तय नहीं किया गया है।
कोविड-19 टीकाकरण का पहला चरण
कोविड-19 टीकाकरण अभियान का पहला चरण 16 जनवरी, 2021 को शुरू किया गया था। यह अभियान पूरे देश में 3006 टीकाकरण केंद्रों पर शुरू किया गया था। पहले चरण में केवल स्वास्थ्य कर्मियों और फ्रंटलाइन श्रमिकों का टीकाकरण शुरू किया गया था। चरण 1 के तहत, लगभग 1,26,71,163 लोगों को अब तक टीका की पहली खुराक दी गयी है। उनमें से, लगभग 14 लाख लोगों ने दूसरी खुराक भी प्राप्त की है। टीकाकरण अभियान में 50 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को भी शामिल किया गया है।

दूसरा चरण
कोविड-19 टीकाकरण के दूसरे चरण के तहत, 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को टीका लगाया जा रहा है।
इसके अलावा, दिशानिर्देशों के अनुसार, 45 वर्ष से अधिक आयु के लोगों और रोगों से पीड़ित लोगो का टीकाकरण भी किया जा रहा है।
COVAXIN
COVAXIN भारत बायोटेक द्वारा निर्मित एक सरकारी समर्थित टीका है। इसकी प्रभावकारिता दर 81% है। COVAXIN वैक्सीन के चरण तीन परीक्षणों में 27,000 से अधिक प्रतिभागियों ने भाग लिया है। COVAXIN दो खुराक में दिया जाता है। खुराक के बीच का समय अंतराल चार सप्ताह है। COVAXIN को मृत COVID-19 वायरस से तैयार किया गया था।

COVISHIELD
COVISHIELD वैक्सीन एस्ट्राज़ेनेका द्वारा निर्मित है। स्थानीय रूप से, COVISHIELD सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया द्वारा निर्मित किया जा रहा है। यह चिम्पांजी के एडेनोवायरस नामक एक सामान्य कोल्ड वायरस के कमजोर संस्करण से तैयार किया गया था। COVID-19 वायरस की तरह दिखने के लिए वायरस को संशोधित किया गया है। यह दो खुराक में लगाया जाता है।

 

टीका उत्सव (Teeka Utsav) के पहले दिन इतने लाख लोगों को टीका लगाया गया

टीका उत्सव (Teeka Utsav) के पहले दिन इतने लाख लोगों को टीका लगाया गया

टीके उत्सव के पहले दिन देश भर में 27 लाख 69 लोगों का टीकाकरण करवाया गया। 11 अप्रैल, 2021 को देश भर में टीका उत्सव शुरू हुआ था। यह उत्सव 4 दिन तक चलेगा। टीका उत्सव (Teeka Utsav) एक टीका पर्व है। यह 11 अप्रैल, 2021 और 14 अप्रैल, 2021 के बीच आयोजित किया जायेगा। इस उत्सव का मुख्य उद्देश्य अधिक से अधिक लोगों का टीकाकरण करना है। यह COVID-19 वैक्सीन के शून्य अपव्यय पर भी ध्यान केंद्रित करेगा।

भारत में COVID-19 टीकाकरण अभियान
वर्तमान में, तीन राज्य अधिकतम COVID -19 खुराक प्राप्त कर रहे हैं। वे महाराष्ट्र, राजस्थान और गुजरात हैं।
COVAXIN और COVISHIELD दो प्रमुख COVID-19 टीके हैं जो वर्तमान में भारत में इस्तेमाल किये जा रहे हैं।
अब तक, भारत ने कैरेबियाई, अफ्रीका और एशिया के 84 देशों में टीकों की 64 मिलियन खुराकें भेज दी हैं। भारतीय COVID-19 टीकों के प्रमुख प्राप्तकर्ता देश मैक्सिको, कनाडा और ब्राजील हैं।
भारत सरकार ने अपने टीकाकरण कार्यक्रम के तहत जुलाई 2021 तक 250 मिलियन लोगों को “उच्च प्राथमिकता” श्रेणी में शामिल करने की योजना बनाई है।
COVAXIN
COVAXIN भारत बायोटेक द्वारा निर्मित एक सरकारी समर्थित टीका है। इसकी प्रभावकारिता दर 81% है। COVAXIN वैक्सीन के चरण तीन परीक्षणों में 27,000 से अधिक प्रतिभागियों ने भाग लिया है। COVAXIN दो खुराक में दिया जाता है। खुराक के बीच का समय अंतराल चार सप्ताह है। COVAXIN को मृत COVID-19 वायरस से तैयार किया गया था।

COVISHIELD
COVISHIELD वैक्सीन एस्ट्राज़ेनेका द्वारा निर्मित है। स्थानीय रूप से, COVISHIELD सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया द्वारा निर्मित किया जा रहा है। यह चिम्पांजी के एडेनोवायरस नामक एक सामान्य कोल्ड वायरस के कमजोर संस्करण से तैयार किया गया था। COVID-19 वायरस की तरह दिखने के लिए वायरस को संशोधित किया गया है। यह दो खुराक में लगाया जाता है। 

 फिर आई सोने और चांदी के कीमतों में गिरावट

फिर आई सोने और चांदी के कीमतों में गिरावट

नई दिल्ली। घरेलू सर्राफा बाजार में मंगलवार को सोने की हाजिर कीमत में गिरावट दर्ज की गई। एचडीएफसी सिक्युरिटीज के अनुसार, राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में मंगलवार को सोने के हाजिर भाव में 130 रुपये प्रति 10 ग्राम की गिरावट दर्ज की गई। इस गिरावट से दिल्ली में सोने की कीमत गिरकर 46,093 रुपये प्रति 10 ग्राम पर आ गई है। सिक्युरिटीज के अनुसार, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कीमती धातुओं में गिरावट के चलते घरेलू स्तर पर सोने की कीमतों में गिरावट दर्ज हुई। गौरतलब है कि पिछले सत्र में सोना 46,223 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था।

सोने के साथ ही मंगलवार को चांदी के भी घरेलू हाजिर भाव में गिरावट दर्ज गई। चांदी में 305 रुपये प्रति किलोग्राम की गिरावट दर्ज की गई। इस गिरावट से चांदी का भाव 66,040 रुपये प्रति किलोग्राम रह गया है। गौरतलब है कि पिछले सत्र में  चांदी 66,345 रुपये प्रति किलोग्राम के भाव पर बंद हुई थी।

अंतरराष्ट्रीय कीमतों की बात करें, तो सोने का वैश्विक भाव मंगलवार को गिरावट के साथ 1,726 डॉलर प्रति औंस पर ट्रेड करता दिखाई दिया। वहीं, चांदी का वैश्विक भाव 24.89 डॉलर प्रति औंस पर स्थिर ट्रेड करता दिखाई दिया।आइए अब घरेलू वायदा बाजार में सोने की कीमतें जानते हैं। एमसीएक्स एक्सचेंज पर मंगलवार को शुरुआती सत्र में सोने के भाव में मामूली गिरावट दिखी, लेकिन बाद में इसमें बढ़त देखी गई। मंगलवार शाम एमसीएक्स पर चार जून, 2021 के सोने का वायदा भाव 0.18 फीसद या 85 रुपये की बढ़त के साथ 46,504 रुपये प्रति 10 ग्राम पर ट्रेड करता दिखाई दिया।
भारत का विदेशी मुद्रा भंडार इतने  बिलियन डॉलर की कमी के साथ 576.869  अरब डॉलर पर पहुंचा, जानिए क्या है मामला

भारत का विदेशी मुद्रा भंडार इतने बिलियन डॉलर की कमी के साथ 576.869 अरब डॉलर पर पहुंचा, जानिए क्या है मामला

2 अप्रैल, 2021 को समाप्त हुए सप्ताह के दौरान भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 2.415 बिलियन डॉलर की वृद्धि के साथ 576.869 अरब डॉलर पर पहुँच गया है। विश्व में सर्वाधिक विदेशी मुद्रा भंडार वाले देशों की सूची में भारत चौथे स्थान पर है, इस सूची में चीन पहले स्थान पर है। इसे फोरेक्स रिज़र्व या आरक्षित निधियों का भंडार भी कहा जाता है भुगतान संतुलन में विदेशी मुद्रा भंडारों को आरक्षित परिसंपत्तियाँ’ कहा जाता है तथा ये पूंजी खाते में होते हैं। ये किसी देश की अंतर्राष्ट्रीय निवेश स्थिति का एक महत्त्वपूर्ण भाग हैं। इसमें केवल विदेशी रुपये, विदेशी बैंकों की जमाओं, विदेशी ट्रेज़री बिल और अल्पकालिक अथवा दीर्घकालिक सरकारी परिसंपत्तियों को शामिल किया जाना चाहिये परन्तु इसमें विशेष आहरण अधिकारों , सोने के भंडारों और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष की भंडार अवस्थितियों को शामिल किया जाता है। इसे आधिकारिक अंतर्राष्ट्रीय भंडार अथवा अंतर्राष्ट्रीय भंडार की संज्ञा देना अधिक उचित है।

2 अप्रैल, 2021 को विदेशी मुद्रा भंडार
विदेशी मुद्रा संपत्ति (एफसीए): $536.438 बिलियन
गोल्ड रिजर्व: $34.023 बिलियन
आईएमएफ के साथ एसडीआर: $1.486 बिलियन
आईएमएफ के साथ रिजर्व की स्थिति: $4.923 बिलियन

 

WhatsApp ने लॉन्च किए Vaccine के स्टिकर पैक, COVID-19 वैक्सीन के लिए करेगा जागरूक

WhatsApp ने लॉन्च किए Vaccine के स्टिकर पैक, COVID-19 वैक्सीन के लिए करेगा जागरूक

फेसबुक के इंस्टेंट मैसेजिंग प्लैटफॉर्म वॉट्सऐप (WhatsApp) ने नए स्टिकर पैक लॉन्च कर दिए हैं, जिसे Vaccines for All कहा गया है. इसे कंपनी ने COVID-19 वैक्सीन के बारे में जागरूकता फैलाने की दिशा में और दुनिया भर के स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के प्रयासों की सराहना करने के रूप में पेश किया है. वॉट्सऐप ने बताया, WhatsApp ऐप विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के साथ मिलकर ‘Vaccines for All’ (सभी के लिए वैक्सीन) नाम का स्टिकर पैक लॉन्च कर रहा है. हम उम्मीद करते हैं कि इन स्टिकर्स के ज़रिए लोग एक-दूसरे से जुड़ पाएंगे’.

वॉट्सऐप ने अपने ब्लॉग में बताया कि इस मुश्किल दौर में लोगों की जान बचाने वाले हेल्थकेयर हीरोज़ के प्रति अपना सम्मान दिखाने के लिए भी स्टिकर्स का इस्तेमाल किया जाएगा.
 

घर के किचन की चिपचिपी टाइल्स टाइल्स को आसान तरीके से साफ़ करें, जाने कैसे

घर के किचन की चिपचिपी टाइल्स टाइल्स को आसान तरीके से साफ़ करें, जाने कैसे

अधिकतर लोग घर की साफ-सफाई पर ध्यान देते हैं। घर को संवारकर रखना पसंद करते हैं जिससे कि घर बिलकुल परफेक्ट और साफ नजर आए। लेकिन घर के किचन की चिपचिपी टाइल्स इसे अधूरा कर देती है। यदि आपके भी किचन की टाइल्स चिपचिपी और गंदी है तो यह आपके घर की शोभा को बिगाड़ सकती है। तो ऐसे में क्या करना चाहिए? यदि आप भी चाहती हैं किचन की टाइल्स को आसान तरीके से साफ़ करना तो इस लेख में हम आपको बता रहे हैं कुछ आसान और बेहतरीन टिप्स सांद्रता वाला ब्लीच का घोल तैयार करें। इसे इस्तेमाल करने से पहले ग्लव्स पहन लें। इस घोल से टाइल्स को अच्छी तरह रगड़कर धोएं।

सिरके के घोल से करें टाइल्स को साफ

इसके लिए आप पानी में सिरका, नमक और बैकिंग सोडा मिलाकर घोल तैयार करें। इस घोल से अपने किचन की टाइल्स को साफ करें। इस घोल से आपकी टाइल्स चमक उठेगी।

पानी में डिटर्जेंट मिलाकर दाग साफ़ करने से आपको अच्छे परिणाम मिल सकते हैं और टाइल्स चमक सकती हैं। इस घोल से आप ब्रश की मदद से अपने किचन की टाइल्स को साफ करें।