कोरोना अपडेट : छत्तीसगढ़ के न्यायधानी से आज मिले सर्वाधिक मरीज, प्रदेश में हुई इतने नए मरीजों की पहचान, देखें जिलेवार आंकड़े    |    मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट, आज इन राज्यों में बारिश की संभावना...    |    कोरोना अपडेट : प्रदेश के इन दो जिलों में हुआ कोरोना विस्फोट, प्रदेश में आज इतने नए मरीजों की हुई पहचान, देखें जिलेवार आंकड़े    |    कोरोना : देश में कोरोना मामलों में बढ़ोतरी ने फिर पैदा की चिंता    |    राजधानी में गिरा पारा, इन राज्यों में भारी बारिश का येलो अलर्ट जारी...    |    कोरोना अपडेट : छत्तीसगढ़ के इस जिले में फटा कोरोना बम, प्रदेश में आज इतने नए कोरोना मरीजों की हुई पहचान, देखें जिलेवार आंकड़े    |    CG कोरोना अपडेट : प्रदेश के इस जिले में सर्वाधिक मरीज, आज इतने कोरोना मरीजों की हुई पहचान, देखें जिलेवार आंकड़े    |    बड़ी खबर: कोरोना से हुई मौत के लिए सरकार ने तय किया मुआवजा, पीड़ित परिवार को मिलेंगे इतने हजार रुपये    |    मौसम विभाग ने जारी किया ऑरेंज अलर्ट, इन राज्यों में भारी बारिश की संभावना...    |    कोरोना अपडेट : प्रदेश के इस जिले में फटा कोरोना बम, छत्तीसगढ़ में आज इतने कोरोना मरीजों की हुई पहचान, देखें जिलेवार आंकड़े    |
Just36News
Popups
क्या आप भी है चाऊमीन खाने के शौकीन, तो हो जाइये सावधान, आपके शरीर हो रहा है ये नुकसान

क्या आप भी है चाऊमीन खाने के शौकीन, तो हो जाइये सावधान, आपके शरीर हो रहा है ये नुकसान

ज्यादातर लोगों को चाइनीज डिश बहुत पसंद आती है. ऐसे में चाऊमीन तो बच्चे से लेकर बड़ों तक सभी की फेवरेट होती है. इसलिए बहुत से लोग जब बाहर खाना खाने जाते हैं तो खाने में चाऊमीन या फिर हक्का नूडल्स जरूर खाते हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि जाऊमीन खाने के फायदे कम और नुकसान ज्यादा होते हैं. हम यहां आपको बताएंगे कि चाऊमीन खाने के क्या-क्या नुकसान हो सकते हैं. चलिए जानते हैं.

जानें चाऊमीन खाने के नुकसान
*  क्या आपको पता है कि चाऊमीन में स्वाद के लिए खतरनाक एसिड का इस्तेमाल किया जाता है. वहीं इस तरह के फास्ट फूड बनाने में अजीनोमोटो का अधिक इस्तेमाल के अलावा अन्य खतरनाक रसायनों का प्रयोग किया जाता है. वहीं चाऊमीन खाने से आपके शरीर की स्वाद ग्रंथियों को नुकसान पहुंचता है. इतना ही नहीं, ये आपकी सेहत को भी नुकसान पहुंचाता है.
*  चाऊमीन मैदा की बनी हुई होती है. वहीं चाऊमीन के साथ मिलाकर खाई जाने वाली सॉस कई बार एक्सपायर हो चुकी होती है या फिर ये बहुत ही घटिया किस्म की होती है. वहीं इस तरह की सॉस खाने से आपको कब्ज की समस्या हो सकती है. जिसके कारण आपको लंबे समय तक कई बीमारियों से जूझना पड़ सकता है.
*  चाऊमीन मैदे की बनी होती है. इसलिए आंतों में चिपकती है और पेट में दर्द जैसी समस्या पैदा कर सकती है. वहीं अगर आप चाऊमीन खाते हैं तो इससे आपका पेट भी पूरी तरह साफ नहीं होता है. इसके अलावा मैदे के टुकड़े शरीर के अपेंडिक्स पर असर डाल सकते हैं.
*  अगर आप हफ्ते में चार से पांच बार चाऊमीन खाते हैं तो इसका सेवन आपकी पाचन क्षमता कमजोर कर सकता है. इसलिए चाऊमीन का सेवन करने से बचना चाहिए.

Disclaimer: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों व दावों की just36news पुष्टि नहीं करता है | इनको केवल सुझाव के रूप में लें | इस तरह के किसी भी उपचार/दवा/डाइट पर अमल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें |

क्या आप चाहते हैं बेबी प्लान करना, तो अपने पति और अपने डाइट में रखे इन बातों का खास ध्यान, मिलेगा काफी फायदा

क्या आप चाहते हैं बेबी प्लान करना, तो अपने पति और अपने डाइट में रखे इन बातों का खास ध्यान, मिलेगा काफी फायदा

जब बच्चा प्लान करने की बात आती है तो सबसे पहले औरतों को कहा जाता है, अपने खानपान पर विशेष ध्यान दें लेकिन क्या आपको यह पता है कि औरतों के साथ साथ पुरुषों को भी अपने खान-पान पर विशेष ध्यान देने की जरूरत होती है, ताकि आपका होने वाला बच्चा स्वस्थ और तंदुरुस्त हो. होने वाले पिता की डाइट स्वस्थ बच्चे के लिए कितनी महत्वपूर्ण है आइये जानते हैं.

बच्चे की सेहत जुड़ी है पिता की डाइट से
यह तो हम सभी जानते हैं कि अगर डाइट अच्छी होती है तो पुरुषों की स्पर्म क्वालिटी और स्पर्म काउंट बेहतर होता है. लेकिन डाइट सही न हो तो बच्चे के विकास पर इसका असर पड़ता है. ऐसे बच्चों में बर्थ डिफेक्ट का भी खतरा रहता है.

लो स्पर्म काउंट से हो सकता है गर्भपात
गर्भपात का कारण सिर्फ महिलाओं का स्वास्थ्य ही नहीं है, लो स्पर्म काउंट या स्पर्म की क्वालिटी अच्छी नहीं होने से भी महिलाओं को बार बार गर्भपात का सामना करना पड़ सकता है.

क्या खाएं स्वस्थ बच्चे के लिए
महिलाओं की तरह पुरुषों में भी फोलिक एसिड की जरूरत होती है. अपने आहार में फोलेट से भरपूर भोजन जैसे हरी पत्तेदार सब्जियां, जिंक और विटामिन सी शामिल करें. ब्रोकली, पत्तेदार साग, गाजर, पपीता, ब्राउन राइस, फोर्टिफाइड अनाज और स्प्राउट्स भी फोलिक एसिड के अच्छे स्रोत हैं. जिंक के स्तर को बनाए रखें क्योंकि जिंक की अधिक मात्रा भी स्पर्म की मोबिलिटी पर असर करती है.

कॉफी और विटमिन ई
महिलाओं को सलाह दी जाती है कि कॉफी के सेवन से दूर रहना लेकिन पुरुष को अच्छी स्पर्म मोबिलिटी के लिए दिन में चार से पांच कप कॉफी पीनी चाहिए. साथ ही विटामिन ई से भरपूर चीजों का सेवन भी करना चाहिए.

इन चीज़ों से रहें दूर
शराब, धूम्रपान और नशीली दवाओं से बचें क्योंकि ये सभी स्पर्म की गुणवत्ता और मात्रा को प्रभावित करते हैं. पुरुषों में बांझपन की समस्या लगभग महिला जैसी ही होती है इसलिए नशीली चीज़ों और धूम्रपान से बचने की सलाह दी जाती है. शराब या बीयर का अत्यधिक उपयोग हॉर्मोन के स्तर को प्रभावित करता है और टेस्टोस्टेरोन के स्तर को कम करता है.

Disclaimer: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों व दावों की just36news पुष्टि नहीं करता है | इनको केवल सुझाव के रूप में लें | इस तरह के किसी भी उपचार/दवा/डाइट पर अमल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें |

 

 बंद बैंक बंद : अक्टूबर में छुट्टियों की भरमार, यहां देखें पूरी लिस्ट

बंद बैंक बंद : अक्टूबर में छुट्टियों की भरमार, यहां देखें पूरी लिस्ट

नई दिल्ली: अगर आप अक्टूबर महीने में बैंक से जुड़ा कोई जरूरी काम करवाने वाले हैं तो यह खबह जरूर पढ़ें. दरअसल अक्टूबर महीने में कई त्योहार होने की वजह से कई दिन बैंक बंद रहेंगे.  कुल मिलाकर 21 बैंक अवकाश हैं जिनकी अगले महीने उम्मीद की जा सकती है. अलग अलग राज्यों में बैंक की छुट्टियां अलग अलग हो सकती हैं. इन 21 छुट्टियों में 14 छुट्टियां आरबीआई ने घोषित की हैं. 

इसके अलावा चार रविवार और दूसरा और चौथा शनिवार भी शामिल है. आरबीआई छुट्टियों की सूची राज्यवार समारोहों, धार्मिक छुट्टियों और त्योहार समारोहों के आधार पर जारी करता है. अक्टूबर में छुट्टियां 1, 2, 3, 6, 7, 9, 10, 12, 13, 14, 15, 16, 17, 18, 19, 20, 22, 23, 24, 26 और 31 तारीख को पड़ेंगी.

यहां आरबीआई के आदेश के अनुसार अक्टूबर 2021 के महीने की छुट्टियों की पूरी लिस्ट
1 अक्टूबर - बैंक खातों का अर्धवार्षिक समापन (गंगटोक)
2 अक्टूबर – महात्मा गांधी जयंती (सभी राज्य)
3 अक्टूबर - रविवार
6 अक्टूबर – महालय अमावस्ये (अगरतला, बेंगलुरु, कोलकाता)
7 अक्टूबर- लैनिंग्थौ सनमही (इम्फाल) का मेरा चौरेन हौबा
9 अक्टूबर - दूसरा शनिवार
10 अक्टूबर - रविवार
12 अक्टूबर - दुर्गा पूजा (महा सप्तमी) / (अगरतला, कोलकाता)
13 अक्टूबर - दुर्गा पूजा (महा अष्टमी) / (अगरतला, भुवनेश्वर, गंगटोक, गुवाहाटी, इंफाल, कोलकाता, पटना, रांची)
14 अक्टूबर - दुर्गा पूजा/दशहरा (महानवमी)/अयुत पूजा (अगरतला, बेंगलुरु, चेन्नई, गंगटोक, गुवाहाटी, कानपुर, कोच्चि, कोलकाता, लखनऊ, पटना, रांची, शिलांग, श्रीनगर, तिरुवनंतपुरम)
15 अक्टूबर - दुर्गा पूजा/दशहरा/दशहरा (विजया दशमी)/(इंफाल और शिमला को छोड़कर सभी बैंक)
16 अक्टूबर - दुर्गा पूजा (दसैन) / (गंगटोक)
17 अक्टूबर - रविवार
18 अक्टूबर - कटि बिहू (गुवाहाटी)
19 अक्टूबर - ईद-ए-मिलाद/ईद-ए-मिलदुन्नबी/मिलाद-ए-शरीफ (पैगंबर मोहम्मद का जन्मदिन)/बारावफात/(अहमदाबाद, बेलापुर, भोपाल, चेन्नई, देहरादून, हैदराबाद, इंफाल, जम्मू, कानपुर, कोच्चि , लखनऊ, मुंबई, नागपुर, नई दिल्ली, रायपुर, रांची, श्रीनगर, तिरुवनंतपुरम)
20 अक्टूबर- महर्षि वाल्मीकि का जन्मदिन / लक्ष्मी पूजा / ईद-ए-मिलाद (अगरतला, बेंगलुरु, चंडीगढ़, कोलकाता, शिमला)
22 अक्टूबर - ईद-ए-मिलाद-उल-नबी के बाद शुक्रवार (जम्मू, श्रीनगर)
23 अक्टूबर - चौथा शनिवार
24 अक्टूबर - रविवार
26 अक्टूबर - परिग्रहण दिवस (जम्मू, श्रीनगर)
31 अक्टूबर- रविवार
 लगातार दूसरे दिन भी सस्ता हुआ सोना और चांदी, जाने आज का भाव

लगातार दूसरे दिन भी सस्ता हुआ सोना और चांदी, जाने आज का भाव

मुंबई। वैश्विक बाजार में लौटी रौनक के बावजूद स्थानीय स्तर पर मांग फिसलने से आज घरेलू सर्राफा बाजार में सोना 145 रुपये प्रति दस ग्राम और चांदी 609 रुपये प्रति किलोग्राम गिरकर लगातार दूसरे दिन सस्ती रही।

अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सोना हाजिर 0.43 प्रतिशत चढ़कर 1750.01 डॉलर प्रति औंस पर पहुंच गया। हालांकि अमेरिकी सोना वायदा 1747.70 डॉलर प्रति औंस पर सपाट रहा। इसी तरह चांदी हाजिर भी 0.15 प्रतिशत की तेजी के साथ 22.52 डॉलर प्रति औंस बोली गई।
 
वैश्विक स्तर पर कीमती धातुओं में आई तेजी का असर देश के सबसे बड़े वायदा बाजार एमसीएक्स में नहीं देखा गया। इस दौरान सोना 145 रुपये सस्ता होकर 45911 रुपये प्रति दस ग्राम और सोना मिनी 141 रुपये कमजोर होकर 45942 रुपये प्रति दस ग्राम रह गया। साथ ही चांदी 609 रुपये की बड़ी गिरावट लेकर 60180 रुपये प्रति किलोग्राम और चांदी मिनी 568 रुपये उतरकर 60441 रुपये प्रति किलोग्राम पर आ गई।
रिलेशनशिप में आने के बाद इन बातो को ना करे ignore, वरना रिलेशनशिप में आ सकती है खटास

रिलेशनशिप में आने के बाद इन बातो को ना करे ignore, वरना रिलेशनशिप में आ सकती है खटास

अक्सर शादीशुदा जिंदगी या फिर लव रिलेशनशिप में पार्टनर्स के बीच उतार-चढ़ाव आते रहते हैं. ये एक ऐसा रिश्ता है जिसमें हर घड़ी दोनों को एक दूसरे की जरूरत होती है. लेकिन जीवन में कभी कभी ऐसा भी समय आता है जब दोनों के बीच झगड़े भी हो जाते हैं. इसके कई कारण हो सकते हैं, लेकिन ज्यादातर मामलों में दोनों एक दूसरे को मना लेते हैं और हाथ थामकर आगे बढ़ते रहते हैं.


आमतौर पर तो ऐसा ही होता है. क्योंकि कहते हैं कि रिश्ते में अटूट प्यार हो, तो सब बातें भुलाई जा सकती है. लेकिन अगर प्यार और विश्वास में जरा भी कमी आती है, तो बात बिगड़ जाती है. क्या आप जानते हैं, शादीशुदा जिंदगी या लव रिलेशनशिप में छोटी-मोटी लड़ाई झगड़ों की वजह से ही नहीं, कुछ और बातें भी हैं, जो आपके पार्टनर संग आपके रिश्ते को खराब कर सकती है?

रिस्पेक्ट इज फर्स्ट
जब हम किसी दूसरे को रिस्पेक्ट देंगे, तभी वो हमें रिस्पेक्ट देगा. ये एक सर्वमान्य नियम है. इसे हम ना जाने क्यों अपने रिलेशनशिप पार्टनर या लाइफ पार्टनर के साथ संबंधों पर लागू नहीं करते हैं. अगर आप अपने लाइफ पार्टनर या रिलेशनशिप पार्टनर को सम्मान नहीं देंगे. तो ये आपके प्यार भरे रिश्ते के लिए खतरनाक हो सकता है. ऐसा करने से बचें, रिस्पेक्ट योअर पार्टनर.


विश्वास की कमी
प्यार की नींव विश्वास के रिश्ते पर टिकी होती है, जिस दिन ये नींव हिल जाती है, उसी दिन से रिश्ते में दरार आना शुरू हो जाती है. इसलिए ऐसा कोई काम ना करें जिससे आपके रिश्ते में विश्वास की कमी आ जाए. रिश्ते में विश्वास खोने से आप प्यार ही नहीं खोते, बल्कि रिश्ता भी खो सकते हैं.


रोकना-टोकना, पाबंदी लगाना
एडल्ट होने के बाद हर कोई चाहता है कि वह अपने जीवन के फैसले खुद लें, उसे कहां जाना है, क्या करना है, किससे मिलना है. ये सब वो खुद तक करने में सक्षम है. लेकिन लव रिलेशनशिप या शादीशुदा जिंदगी में भी ये देखने को मिलता है कि लोग ये मानकर चलते हैं उसके सारे फैसले मैं करूं, या फिर उसने मुझसे क्यों नहीं पूछा? ऐसे में लोग अपने पार्टनर पर कई तरह की पाबंदियां थोंप देते हैं. ऐसे में रिश्ते में खटास आना लाजमी है.

टाइम की कमी होना
हम चाहते हैं कि हमारा पार्टनर हर मुश्किल वक्त में हमारे साथ खड़ा हो, लेकिन क्या हम ऐसा उसकी तरफ से भी सोचते हैं? मतलब क्या पता उसे जब हमारी जरूरत हो, तब हम उसके पास ना रहते हों? प्यार के रिश्ते में अगर दोनों पार्टनर के पास एक दूसरे के लिए टाइम ना हो तो बिना किसी लड़ाई-झगड़े की नौबत आए रिश्ते में दरार पड़ सकती है. इसलिए ऐसी नौबत ना आने दें. अपने पार्टनर को टाइम दें, उसके साथ वक्त बिताए, उसकी जरूरत को समझें, उसे प्यार दें.

Chanakya Niti: सेहत और धन के मामले में इन बातों का हमेशा रखना चाहिए

Chanakya Niti: सेहत और धन के मामले में इन बातों का हमेशा रखना चाहिए

चाणक्य नीति के अनुसार धन और सेहत के मामले में व्यक्ति को हमेशा ही गंभीर और सतर्क रहना चाहिए. अच्छी सेहत में ही सफलता के राज छिपे हुए हैं. व्यक्ति प्रतिभाशाली है और सहेत से कमजोर है तो उसे सफलता प्राप्त करने में मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है. इसलिए सेहत के मामले में किसी भी प्रकार की लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए.

चाणक्य नीति कहती है कि धन के मामले में भी लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए. जो लोग धन आने पर उसकी सुरक्षा नहीं करते, उसके व्यय पर ध्यान नहीं देते, इसके साथ धन का उचित उपयोग नहीं करते, उन्हें आगे चलकर दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. आचार्य चाणक्य कहते हैं कि धन और सेहत के मामले में व्यक्ति को अधिक गंभीर रहना चाहिए. जो लोग इस बात पर ध्यान नहीं देते हैं, उन्हें धन और सेहत के मामले में दिक्कतों को सामना करना पड़ता है. चाणक्य ने चाणक्य नीति में सेहत और धन को लेकर कुछ जरूरी बातें बताई हैं, जिन्हें हर व्यक्ति को जानना चाहिए-

खानपान और जीवनशैली पर ध्यान दें
चाणक्य नीति कहती है कि व्यक्ति को सेहत के मामले में उसी प्रकार से गंभीर रहना चाहिए जैसे एक सुरक्षा कर्मी अपने किले की रक्षा करता है. शरीर को रोग से बचने के लिए हर संभव प्रयास करने चाहिए. जो लोग इस बात का ध्यान नहीं रखते हैं, उन्हें बहुत जल्द रोग घेर लेते हैं. रोग से बचने के लिए व्यक्ति को अपने खानपान और जीवनशैली पर ध्यान देना चाहिए. व्यक्ति को यदि स्वस्थ्य रहना है तो पौष्टिक आहार लेना चाहिए. पौष्टिक आहर सेहत को तंदुरुस्त रखता है, इसके साथ ही कठोर अनुशासन का पालन करना चाहिए. हर महत्वपूर्ण चीज का समय निर्धारित करना चाहिए.

धन की सुरक्षा करनी चाहिए
चाणक्य नीति कहती है कि धन की सुरक्षा को लेकर व्यक्ति को अत्यंत गंभीर रहना चाहिए. धन की रक्षा न करने पर धन चला जाता है. धन अवगुणों से भी बहुत जल्द नष्ट होता है. इसलिए व्यक्ति को बुरी आदतों से दूर रहना चाहिए. प्रतिभा, ज्ञान, दान और दया से धन की देवी लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं.