कोरोना अपडेट : प्रदेश के इस जिले में कोरोना ने ढाया कहर, छत्तीसगढ़ में कल के मुकाबले आज बढ़ी नए कोरोना मरीजों की संख्या    |    बड़ा हादसा: खाई में गिरी मेटाडोर ,10 की मौत व 15 घायल, पीएम मोदी ने जताया शोक    |    कोरोना अपडेट : प्रदेश में आज 2 की हुई मृत्यु, आज इतने मरीजों की हुई पहचान, देखे जिलेवार आकड़े    |    मौसम अलर्ट: उत्तर-पूर्वी मानसून की आहट से इन राज्यों पर मंडराया बारिश का खतरा    |    बड़ी खबर: पटाखे की गोदाम में लगी भयानक आग से 5 की गई जान, 9 लोग घायल    |    कोरोना अपडेट : प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में फिर पैर पसारने लगा है कोरोना, छत्तीसगढ़ में आज इतने मरीजों की हुई पहचान    |    बदल गए पेंशन के नियम, 30 नवंबर तक ये काम ना किया तो रुक जाएगी पेंशन    |    कोरोना अपडेट : प्रदेश के इस जिले में हुआ कोरोना विस्फोट, धीरे धीरे फिर से बढ़ रहे है एक्टिव मरीजो की संख्या, देखें जिलेवार आंकड़े    |    बड़ी खबर: राज्यपाल की बिगड़ी तबियत, दिल्ली AIIMS में भर्ती    |    कोरोना अपडेट : प्रदेश के इन दो जिलों में हुआ कोरोना विस्फोट, आज प्रदेश में मिले इतने नए मरीज, देखें जिलेवार आंकड़े    |
Previous123456789...2021Next
आलेख: त्योहारों का मतलब सिर्फ खरीदारी- आलोक पुराणिक

आलेख: त्योहारों का मतलब सिर्फ खरीदारी- आलोक पुराणिक

करवा चौथ निकल गया जी, दीवाली आने वाली है।
करवा चौथ पर क्या करना चाहिए था जी शॉपिंग, ओके।
दीवाली से पहले क्या करना चाहिए-वही शॉपिंग, ओके।
ऐन दीवाली के दिन क्या करना चाहिए, जी शॉपिंग।
पर दीवाली के दिन तो इतनी भीड़ होती है बाजारों में।
तो ऑनलाइन शॉपिंग करो जी फ्लिपकार्ट, एमेजन काहे के लिए हैं।
दीवाली के बाद क्या करना चाहिए।
बताया न, शॉपिंग शॉपिंग शॉपिंग।
तो क्या त्योहारों का मतलब शॉपिंग ही होता है।
जी बिल्कुल शॉपिंग मतलब त्योहार। त्योहार मतलब शॉपिंग, सिंपल इसमें ज्यादा दिमाग क्या लगाना। शॉपिंग में दिमाग का इस्तेमाल घातक होता है।
ओके दीवाली के बहुत दिनों बाद क्या करना चाहिए।
जी शॉपिंग, वही शॉपिंग, फिर शॉपिंग, फिर फिर शॉपिंग। इधर शॉपिंग उधर शॉपिंग।
उफ्फ! शॉपिंग के अलावा और कुछ न कर सकते क्या।
जी बिल्कुल कर सकते हैं, शॉपिंग के अलावा आप शॉपिंग की तैयारी कर सकते हैं।
उफ्फ! शॉपिंग के बाद हम कुछ न कर सकते हैं।
जी बिल्कुल कर सकते हैं, शॉपिंग के बाद हम यह प्लान कर सकते हैं कि अभी क्या क्या खरीदना बाकी है।
हे भगवान! शॉपिंग शॉपिंग शॉपिंग, लो साल खत्म हो लेगा। शॉपिंग ही करते रह जायेंगे क्या।
न न न अगले साल की शुरुआत भी शॉपिंग से कीजिये, हैप्पी न्यू ईयर शॉपिंग। ये शॉपिंग, वो शॉपिंग, शॉपिंग ही शॉपिंग दे दनादन।
इतने त्योहार पर्वों का जिक्र हुआ, और कोई बात ही न हुई, उनका क्या महत्व है। उनका इतिहास क्या है, यह बातें तो कोई करता ही नहीं।
अमिताभ बच्चन बताते हैं कि खरीदिये, खरीदिये, त्योहार पर ये खरीदिये, वो खरीदिये। खरीदते ही जाइए। खरीदना ही जीवन है।
आप करवा चौथ का, दीवाली का आध्यात्मिक महत्व बतायें।
आध्यात्मिक महत्व यह है कि इन त्योहारों पर खूब खरीदिये दे दनादन। फिर उन सारे आइटमों को कुछ दिन बाद त्याग दीजिये, जिन्होंने त्यागा उन्होंने ही भोगा फिर से नया आइटम। अभी आपने लेटेस्ट फोन खऱीदा किसी कंपनी का, एक हफ्ते में त्याग दीजिये उसे, बिल्कुल। फिर उसी कंपनी का नया मोबाइल ले आइये, आपका दिल लगा रहेगा।
ओफ्फो तो दिल को यह न समझायें कि छोड़ो क्या रखा नये-नये आइटमों में। संतोष करना चाहिए।
संतोष क्या होता है। संतोष तो सत्तर के दशक की किसी फिल्म का नाम लगता है। क्यों चाहिए संतोष। आपने संतोष कर लिया, तो आफत हो जायेगी। फिर मोबाइल फोन कंपनियां कैसे चलेंगी। सोचिये। न न न न, संतोष बिल्कुल नहीं चाहिए। फाइन कर देना चाहिए हर उस आदमी पर जो संतोष की बात करे, न न न।
कमाल है, पैसे कहां से आयेंगे खरीदने के लिए।
खर्च कर मारिये, खरीद मारिये-ये सलाह देने वाले काश! यह भी बतायें कि कमायें कैसे।
जी ऐसे छोटे-मोटे मुद्दों पर ध्यान न देते वो, बड़े मुद्दों पर ध्यान देते हैं-खरीदिये खरीदिये।
 

गांधी जयंती विशेष: चीन के रास्ते जापान से आए थे बापू के तीनों बंदर, पढ़ें उनके हर दिलचस्प किस्से

गांधी जयंती विशेष: चीन के रास्ते जापान से आए थे बापू के तीनों बंदर, पढ़ें उनके हर दिलचस्प किस्से

गांधी जी के तीन बंदर अब अपने आप में एक कहावत बन चुके हैं। महात्मा गांधी के तीन विचारों को दर्शाने वाले ये बंदर बताते हैं कि हर व्यक्ति को बुराई से दूर रहना चाहिए। न बुरा देखा जाए, न बुरा कहा जाए और न बुरा सुना ही जाए। राष्ट्रपिता के इन विचारों का वैज्ञानिक आधार भी है जो बताता है कि गलत विचार कहना, सुनना और बोलना किस तरह हमारी शारीरिक और मानसिक सेहत पर असर करते हैं।
बुरा मत देखो : नकारात्मक कंटेंट देखने वालों का व्यवहार बदलने लगता
हंगरी के एक प्रोफेसर जॉर्ज गर्बनर ने 1960 में कल्टीवेशन थ्योरी दी थी। इसमें बताया गया कि व्यावसायिक टीवी कार्यक्रमों में दिखाया जाने वाला सामाजिक व्यवहार किस तरह लोगों के दिलोदिमाग पर असर करता है। ऐसे लोग मीन वर्ल्ड सिंड्रोम के शिकार हो जाते हैं और उन्हें दुनिया में दुख, षड्यंत्र, अनहोनी की आशंकाएं ज्यादा दिखने लगती हैं। उदाहरण के लिए, धारावाहिक देखने वाले लोगों की मानसिकता महिलाओं के प्रति ठीक वैसी हो जाती है, जैसे धारावाहिकों में उन्हें चित्रित किया जाता है।
बुरा मत बोलो : कड़वे बोल अवसाद लाते, इम्युनिटी घटाते
बोलने का सीधा संबंध सोचने से है, जैसे व्यक्ति बोलता है, उसका असर उनके दिमाग और शरीर पर होता है। एक बड़े वैज्ञानिक अध्ययन से पता लगा कि जब लोग खुद में ही नकारात्मकता से बात करते (सेल्फ टॉक) हैं तो मानसिक प्रक्रियाएं प्रभावित होती हैं। ब्राजील के रियो डी जेनेरियो में स्थित संघीय विश्वविद्यालय के शोध में पाया गया कि सामाजिक व पारिस्थितिकीय कारकों की वजह से व्यक्ति की मानसिक प्रक्रिया प्रभावित होती है, जो अंतत: मानसिक अबसाद में पहुंचा देती है। इसके अलावा, गुस्सा, कड़वे बोल व अन्य उत्तेजित विचारों से फेफड़े तेजी से सांस भरने लगते हैं और मांसपेशियां स्वत: चलने लगती हैं। इससे शरीर का संतुलन बिगड़ता है जो प्रतिरक्षा पर असर करता है।
बुरा मत सुनो : बेहतर व्यवहार के लिए सुनने की सीमा तय करनी होगी
हार्वर्ड बिजनेस समीक्षा के मुताबिक, सुनने की क्षमता आपके व्यक्तिगत ही नहीं पेशेवर व्यवहार के लिए भी बेहद जरूरी है।पर आपको जो कुछ भी सुन रहे हैं, उसे सिद्धांतों के आधार पर तोलना पड़ेगा और गैर - सिद्धांतिक विचारों से दूरी बनानी पड़ेगी। कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के शोधार्थी बिलियम क्रिस्ट का कहना है कि सुनने की क्षमता ही सामाजिक संबंध स्थापित करने की पहली शर्त है इसलिए व्यक्ति को दूसरों की बात बहुत धैर्य से सुननी चाहिए मगर उसे यह चुनाव भी करना होगा कि वह किस तरह के विचारों के जरिए यह संबंध स्थापित करना चाहता है क्योंकि यह सब उसके सामाजिक और मानसिक व्यवहार को प्रभावित करता है।
इस तरह बापू को मिले तीन बंदर
माना जाता है कि बापू के यह तीन बंदर चीन से आए थे। एक रोज एक प्रतिनिधिमंडल गांधी जी से मिलने आया, मुलाकात के बाद प्रतिनिधिमंडल ने गांधी जी को भेंट स्वरूप तीन बंदरों का सेट दिया। गांधीजी इसे देखकर काफी खुश हुए। उन्होंने इसे अपने पास जिंदगी भर संभाल कर रखा। इस तरह ये तीन बंदर उनके नाम के साथ हमेशा के लिए जुड़ गए। गांधी जी के तीन बंदर को अलग-अलग नाम से जाना जाता है।
1. मिजारू बंदर- दोनों हाथों से अपनी दोनों आंखें बंद रखा यह बंदर बुरा न देखने का संदेश देता है।
2. किकाजारू बंद- अपने दोनों हाथों से दोनों कानों को बंद रखा यह बंदर बुरा न सुनने की बात कहता है।
3. इवाजारू बंदर- अपने दोनों हाथों से अपना मुंह बंद करने वाले बंदर का संदेश बुरा न बोलने से जुड़ा है।
बुद्धिमान बंदरों का जापान से नाता
तीन संदेश देते तीन बंदरों को जापानी संस्कृति में शिंटो संप्रदाय द्वारा काफी सम्मान दिया जाता है। माना जाता है कि ये बंदर चीनी दार्शनिक कन्फ्यूशियस के थे और आठवीं शताब्दी में ये चीन से जापान पहुंचे। उस वक्त जापान में शिंटो संप्रदाय का बोलबाला था। जापान में इन्हें ''बुद्धिमान बंदर'' माना जाता है और इन्हें यूनेस्को ने अपनी वर्ल्ड हेरिटेज लिस्ट में शामिल किया है।
 

लेख: रोटी का जिक्र और मेवे का फिक्र- सहीराम

लेख: रोटी का जिक्र और मेवे का फिक्र- सहीराम

अपने यहां अचानक यह चिंता सामने आने लगी है कि अफगानिस्तान में आयी अस्थिरता से मेवे महंगे हो जाएंगे। बेचारे अफगानी तो गोलियां खा रहे हैं और आपको मेवे खाने की चिंता हो रही है। उन्हें चिंता हो रही है कि तालिबान से कैसे बचें और आपको चिंता हो रही है कि मेवे कैसे मिलें। भैया अफगानिस्तान के मेवे तो न रूसी खा सके और न अमेरिकी। मेवों के इंतजार में बीस साल वहां रूसी पड़े रहे और बीस साल अमेरिकी। चालीस साल तो यूं ही गुजर गए। फिर कोई पांच-छह साल तो अफगानियों ने तालिबान की बंदूक के साये में भी गुजारे ही हैं। वे जान की चिंता करें कि मेवों की चिंता करें।
मेवे खाना इतना आसान नहीं होता। खुद वहां की जनता नहीं खा पा रही और आपको चिंता सता रही है कि मेवे महंगे हो जाएंगे। वैसे भी गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर के काबुली वाले अब अपने यहां नहीं आते। अब तो अपने यहां अफगानी शरणार्थी आते हैं। अलबत्ता बेटियों के लिए उनके दिल भी उतने ही तड़पते हैं, जितना काबुली वाले का दिल तड़पता था। वैसे भी अब अफगानिस्तान से मेवे आने का इंतजार कौन करता है। अब कहां अफगानिस्तान के मेवे मशहूर रह गए, अब तो वहां की अफीम मशहूर है, हेरोइन मशहूर है। दुनिया वालों की चिंता अब यह है कि तालिबान के आ जाने के बाद वहां अफीम की खेती बढ़ जाएगी और दुनिया को हेरोइन से पाट दिया जाएगा।
फिर भी अपने यहां चिंता यह है कि अफगानिस्तान में आयी अस्थिरता से मेवे महंगे हो जाएंगे। अरे भैया यहां रोटी महंगी हो रही है, उसकी चिंता कर लो यार। सरसों के तेल की कीमतें बाबा रामदेव के बिजनेस की तरह छलांग लगा रही हैं। उस सरसों के तेल की महंगाई की चिंता कोई नहीं कर रहा। बाजार में सब्जी खरीदने जाओ तो घीया, टिंडा और तौरी जैसी मौसमी सब्जियां तक पचास रुपए किलो से कम नहीं मिलती। इसकी कोई चिंता नहीं कर रहा।
सब्जी पैदा करने वाले किसान की सब्जी मंडी में कौडिय़ों के भाव बिकती है और तंग आकर वह उन्हें सड़क पर फेंक देता है या खेतों में सडऩे के लिए छोड़ देता है। भाई किसान की चिंता तो मत करो क्योंकि किसान की चिंता करने का मतलब आज सरकार का विरोध करना हो गया है और सरकार का विरोध करने का मतलब सिर फुड़वाना हो गया है। लेकिन महंगाई की चिंता तो कर लो। सरकारी कंपनियां तो सस्ते में बिक रही हैं और रोटी महंगी हो रही है। रोटी के लिए अन्न उगाने वाले की जान सस्ती है और रोटी खाने वाले की जान भी सस्ती है, लेकिन रोटी महंगी है।
लेकिन चिंता यह सता रही है कि अफगानिस्तान में आयी अस्थिरता से मेवे महंगे हो जाएंगे। समस्या यही है कि मेवे खाने वालों की चिंता की तो चिंता कर ली जाती जाएगी, पर रोटी खाने वाले की चिंता को चिंता नहीं माना जाएगा।
नोट: उपरोक्त लेख लेखक के अपने व्यक्तिगत विचार है.
 

9/11 वर्ल्ड ट्रेड सेंटर हमले को 20 साल, लेकिन दर्द आज भी है....

9/11 वर्ल्ड ट्रेड सेंटर हमले को 20 साल, लेकिन दर्द आज भी है....

9/11 हमले का दर्द आज भी कई लोग झेल रहे हैं। दुनिया की सबसे ताकतवर देश में शुमार
अमेरिका पर 9/11 में हुए हमले ने समूची दुनिया को हिला कर रख दिया था। इस आतंकी हमले में करीब 3000 लोगों की मौत हुई। 9 /11 हमले में 19 आतंकियों ने 4 प्लेन हाईजैक किए थे। जिसमें से एक मिशन
फैल हो गया था। इस भयावह हमले के पीछे अलकायदा सरगना ओसामा बिन लादेन की साजिश थी। जिसका बदला अमेरिका ने लादेन को उसके घर में घुसकर सितंबर 2011 में मारा था। 20 साल बाद भी 9/11 हमले का प्रभाव घायल हुए लोगों में सामने आ रहा है। आइए जानते हैं इस हमले जुड़े तथ्य के बारे में –
- जब यह घटना घटी थी तब जॉर्ज बुश अमेरिका के राष्ट्रपति थे। उस दौरान बुश ने कहा था, ‘हम युद्ध के मैदान में हैं। जब हम उन गुनहगारों को पकड़ लेंगे तो वो मुझे पसंद नहीं आएंगे। इन्हें इसकी कीमत चुकाना होगी।‘

- फायर कर्मियों को वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर आग को काबू पाने में करीब 100 दिन लगे थे।

- हादसे में सिर्फ 290 लोगों के शव को आराम और सही सलामत निकाल सकें।

- ट्विन टावर को बनाने में करीब 60 लोगों की जान गई थी।

- दोनों टॉवर में करीब 110 - 110 मंजिलें थीं। हर दिन 239 लिफट चलती थी।

- यह जानकर आश्चर्य होगा कि इस हमले में करीब 90 देशों से अधिक नागरिकों की जान गई।

- ट्विन टावर के ध्वस्त होने के बाद करीब 18 लाख टन मलबा इकट्ठा हो गया था। जिसे साफ करने में करीब 75 करोड़ डॉलर का खर्च आया था।

- 11 सितंबर 2001 में हुए हमले के दौरान मौत से ज्यादा कई लोग घायल हुए थे और बीमारी की चपेट में आ गए थे। हमले के बाद तुरंत राष्ट्रपति ने घायलों, पीड़ितों मृतकों के परिवारों को मुआवजा राशि देने की घोषणा की थी। लेकिन 7 सितंबर 2021 को एक रिपोर्ट जारी की गई। जिसमें 20 साल बाद भी जांच जारी है। और दो पीड़ितों को ढूंढा गया है। हालांकि उनकी पहचान उजागर नहीं की गई है।

- 9/11 हमले के बाद कैंसर पीड़ितों को कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है।

 

आलेख: सरकार क्यों लीज पर देने जा रही है संपत्ति- चंद्रभूषण

आलेख: सरकार क्यों लीज पर देने जा रही है संपत्ति- चंद्रभूषण

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सरकारी संसाधनों को लीज पर देकर अगले चार वर्षों में छह लाख करोड़ रुपये जुटाने की घोषणा की है। नैशनल मॉनिटाइजेशन पाइपलाइन (एनएमपी) नाम की यह योजना इसी साल लाने की बात उन्होंने इस बार के अपने बजट भाषण में कही थी। एनएमपी का सीधा संबंध पिछले साल घोषित नैशनल इन्फ्रास्ट्रक्चर पाइपलाइन (एनआईपी) से है। एनआईपी सौ लाख करोड़ रुपये से ज्यादा की एक बृहद इन्फ्रास्ट्रचर योजना है, जिसको अभी 111 लाख करोड़ रुपये की बताया जा रहा है। दरअसल, मोदी सरकार बहुत बड़े आंकड़ों के जरिये दुनिया को यह संकेत देना चाहती है कि भारत में इन्फ्रास्ट्रक्चर के स्तर पर कुछ वैसा ही घटित हो रहा है, जैसा 1930 के दशक में अमेरिका में हुआ था, या फिर पिछले तीसेक वर्षों में चीन में हुआ है।
क्या पैसा आएगा?
इसके लिए 100 करोड़ रुपये से ऊपर की 7320 ढांचागत परियोजनाओं को एक ही सूची में डाल दिया गया है और इनको अमल में उतारने का काम केंद्र सरकार (39 प्रतिशत), राज्य सरकारों (40 प्रतिशत) और प्राइवेट सेक्टर (21 प्रतिशत) को मिलकर करना है। नैशनल मॉनिटाइजेशन पाइपलाइन इसी के लिए पैसा जुटाने की एक कवायद है। यह योजना अभी घोषित तो हो गई है लेकिन इससे पैसे कितने आएंगे, इसका अंदाजा लगाना मुश्किल है। एनआईपी के लिए सरकारी धन एनएमपी के अलावा सरकारी खजाने और विनिवेश से आना है। इसमें सरकारी खजाने का भरना या खाली रहना अर्थव्यवस्था की गति और उससे होने वाले टैक्सेशन पर निर्भर करता है। लेकिन एनएमपी और विनिवेश से, यानी सरकारी परिसंपत्तियों को निजी उपयोग के लिए देने पर आने वाले पैसों को लेकर कुछ समझ बनानी हो तो पिछले साल के एक आंकड़े पर गौर कर सकते हैं।
सन 2020 के बजट भाषण में वित्त मंत्री ने विनिवेश के जरिये अगले (अभी पिछले) वित्त वर्ष में 2 लाख 10 हजार करोड़ रुपये जुटाने की घोषणा की थी। लेकिन वास्तव में खींच-तानकर यह रकम 19,499 करोड़ रुपये तक पहुंच पाई, जो लक्ष्य का बमुश्किल 9 फीसदी था। इस हकीकत को ध्यान में रखकर ही मौजूदा वित्त वर्ष में विनिवेश का लक्ष्य 1 लाख 75 हजार करोड़ रखा गया। हालात तब से अब तक कुछ सुधरे जरूर हैं, पर इतने नहीं कि इस वित्त वर्ष के बचे हुए सात महीनों में एनएमपी के मद में 88 हजार करोड़ रुपये और जुटाए जा सकें।
तो एक मामला नैशनल मॉनिटाइजेशन पाइपलाइन से जुड़े लक्ष्यों के यथार्थपरक होने से जुड़ा है। लेकिन लोगों में चर्चा इस बात की ज्यादा है कि सरकार इतने लंबे समय में खड़े किए गए महत्वपूर्ण संसाधनों को औने-पौने किसी को भी बेच देने पर आमादा है। विनिवेश के मामले में ऐसा हमने बार-बार होते देखा है। मोदी सरकार इस किस्से को ज्यादा तूल न पकडऩे देने को लेकर सतर्क है लिहाजा वित्त मंत्री ने अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस में जोर देकर कहा कि एनएमपी में ब्राउनफील्ड यानी पहले से खड़े संसाधन प्राइवेट सेक्टर को लीज पर दिए जाएंगे। उन्हें बेचा नहीं जाएगा, उनका स्वामित्व सरकार के ही पास बना रहेगा।
ये संसाधन कौन से हैं? सबसे ज्यादा सड़कें (कुल संभावित रकम का 27 प्रतिशत), फिर रेलवे (25 प्रतिशत), बिजली (15 प्रतिशत), तेल और गैस पाइपलाइनें (8 प्रतिशत) और टेलिकॉम (6 प्रतिशत)। बचे 19 प्रतिशत में हवाई अड्डे, बंदरगाह, गोदाम और स्पोर्ट्स स्टेडियम वगैरह शामिल हैं। ध्यान रहे, इन ढांचागत संसाधनों का काफी बड़ा हिस्सा पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप के तहत बिल्ड-ऑपरेट-ट्रांसफर की शर्तों से बंधा हुआ है। ऐसे मामलों में तो कोई लीज भी नहीं है फिर भी सारा कुछ बिल्ड-ऑपरेट में उलझा रह जाता है, ट्रांसफर की नौबत ही नहीं आती। एक छोटा सा उदाहरण दिल्ली और नोएडा को जोडऩे वाले एक पुल का ले लें।
इसे बनाने वाली कंपनी ने अपनी लागत और मुनाफा काफी पहले निकाल लिया, फिर नोएडा टोलब्रिज नाम से शेयर बाजारों में अपना रजिस्ट्रेशन भी करा लिया। सड़क और पुल का मालिकाना सौंपने की बात यूपी सरकार की ओर से ही आ सकती थी, लेकिन कंपनी ने उसी को मैनेज कर लिया था। साल दर साल उसकी टोल वसूली चलती जा रही थी। हारकर कुछ नागरिक मामले को अदालत में ले गए तो वहां भी मुकदमा लंबा खिंचने लगा। फिर एक दिन फैसला आ गया कि कंपनी अपनी वसूली पूरी कर चुकी है, अब वह अपना टोल हटा ले। उसके बाद भी कुछ समय तक टोल चलता रहा। फिर लोगों ने जमा होकर उसे हटवाया तो बात बनी।
मिट्टी के मोल संपत्ति
कोई नहीं जानता कि छह लाख करोड़ जुटाने के लिए सरकारी संसाधन जब लीज पर दिए जाएंगे तो यह लीज कितने साल की होगी। निश्चित रूप से यह अवधि काफी लंबी होगी क्योंकि ये संसाधन किसी प्राइवेट पार्टी को अभी की हालत में अतिरिक्त पैसे नहीं देने वाले। इन्हें प्रॉफिटेबल बनाने के लिए उसे इनके इर्दगिर्द कुछ और ढांचे खड़े करने होंगे। मसलन, एक टोलदार सड़क से अतिरिक्त कमाई करने के लिए सड़क किनारे की जगहों का बेहतर उपयोग करना होगा- जैसे उन्हें ढाबों और मनोरंजन की जगहों के लिए सब-लीज पर देना। लेकिन ऐसे काम लंबी लीज की मांग करते हैं।
सरकारें संसाधनों का मालिकाना अपने हाथ में बने रहने की बात जरूर करती हैं लेकिन यह एक हवा-हवाई मामला ही हुआ करता है। एक जमीन को 99 साल की लीज पर देने के बाद उस पर अपने मालिकाने की बात आप पांच पीढ़ी आगे के लिए कर रहे होते हैं, जब दुनिया कुछ की कुछ हो चुकी होगी। यहां सौदे को आकर्षक बनाने के लिए सरकार के पास अकेला रास्ता उसे सस्ते से सस्ता रखने का है। मसलन, 2.86 लाख किलोमीटर लंबे देशव्यापी ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क की लीज से 26,300 करोड़ आने की उम्मीद की गई है। यह रकम 9 लाख रुपये प्रति किलोमीटर से भी कम पड़ रही है, जो एक तरह से अपनी संपत्ति को मिट्टी के मोल निकाल देने जैसा ही है। देखें, कितना पैसा इससे जुटता है, कितनी नौकरियों की भरपाई हो पाती है।

 

छत्तीसगढ़ के वर्तमान राजनितिक हलचल पर आलेख... ”तो फैसला सुरक्षित है”

छत्तीसगढ़ के वर्तमान राजनितिक हलचल पर आलेख... ”तो फैसला सुरक्षित है”

दिल्ली से छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सहित उनके मंत्री, विधायक, महापौर, जिला अध्यक्ष विजेता की तरह लौट आए हैं। ऊपरी तौर पर ऐसा लगता है कि छत्तीसगढ़ में नेतृत्व की समस्या का समाधान हो गया है लेकिन दिल्ली से लौटे स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव के इस बयान से कि फैसला आलाकमान के पास सुरक्षित है,साफ हो जाता है कि दिल्ली में राहुल गांधी के साथ बातचीत के बाद जो फैसला होना था, वह नहीं हुआ है। वह किसी और समय के लिए टाल दिया गया है। टीएस सिंहदेव के मुताबिक इसमें वक्त लगेगा। सवाल उठता है कि यह फैसला क्यों टाल दिया गया है। नेशनल लेवल पर पंजाब का मामला पहले ही सुर्खियों में है। वहां नवजोत सिध्दू को कांग्रेस अध्यक्ष बनाकर माना गया कि यह सही फैसला है, समस्या का समाधान हो गया लेकिन अब पता चल रहा है कि समस्या का समाधान नहीं हुआ है। राजस्थान की समस्या का समाधान भी नहीं हुआ है। ऐसे में छत्तीसगढ़ के मामले में कोई फैसला जल्दी में लिया नहीं जा सकता। छत्तीसगढ़ में सबसे मजबूत सरकार है, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल बहुत अच्छा काम कर रहे हैं। उन्होंने साबित किया है कि विधायकों का बहुमत उनके साथ है। वह सबसे लोकप्रिय नेता हैं। ऐसे नेता को हटाना नई मुसीबत मोल लेने के समान होता। इसलिए छत्तीसगढ़ में यथास्थिति बनाई रखी गई है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राहुल गांधी को छत्तीसगढ़ माडल को देखने के लिए बुलाया है। यानी उन्होंने राहुल गांधी को उनका काम देखने के लिए बुलाया है। मुख्यमंत्री का काम देखकर हो सकता है कि राहुल गांधी छत्तीसगढ़ में नेतृत्व परिवर्तन की सोचे नहीं। टीएस सिंहदेव ऐसे नेता नहीं है जो आलाकमान की बात न माने। उन्होंने तो पहले ही कहा है कि आलाकमान उनके विषय में जो फैसला करेगा, वह उन्हें मंजूर होगा। भूपेश बघेल ने भी यही कहा है कि आलाकमान का फैसला वह भी मानेंगे। भूपेश बघेल सिर्फ इतना चाहते हैं कि उनके विषय में कोई फैसला करने से पहले राहुल गांधी छत्तीसगढ़ आकर उनका काम देख लें। अभी राहुल गांधी छत्तीसगढ़ के दौर पर कब आऐंगे,यह तय नहीं हुआ है। यह अगले महीने हो सकता है।राहुल गांधी एक बार छत्तीसगढ़ में कुछ दिन रहकर भूपेश बघेल के नेतृत्व में हुए काम को खुद देख लेंगे तो उनके लिए फैसला करना आसान होगा कि यहां के लिए मुखिया के तौर पर भूपेश बघेल ठीक है या कोई और। लोकल व नेशनल मीडिया के अ्रनुसार तो भूपेश बघेल को हटाना कांग्रेस नेतृत्व की बड़ी गलती होगी। फिर भी कांग्रेस में आलाकमान कोई भी फैसला ले सकता है, उनके फैसले को पार्टी के भीतर कोई चुनौती नहीं दे सकता.आलाकमान जो भी फैसला करेगा, उसे सबको मानना ही होगा। 

मुख्यमंत्री के जन्म दिवस 23 अगस्त पर विशेष-लेख : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के विजन ने दिया विकास का यूनिक मॉडल

मुख्यमंत्री के जन्म दिवस 23 अगस्त पर विशेष-लेख : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के विजन ने दिया विकास का यूनिक मॉडल

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल का मानना है कि भारत के नक्शे में सिर्फ एक अलग राज्य के रूप में एक भौगोलिक क्षेत्र की मांग नहीं थी, बल्कि इसके पीछे सदियों की पीड़ा थी। ये छत्तीसगढ़िया सपनों और आकांक्षाओं को पूरा करने की मांग थी। आम छत्तीसगढ़िया की तासीर और उनकी अपेक्षाएं बिलकुल अलग हैं, बरसो की उपेक्षा और तिरस्कार, पिछड़ेपन का दंश के बावजूद अपनी आस्मिता और स्वामिमान को बचाकर चलना यहां की खासियत है। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल को इन्हें समझने में जरा भी देर नहीं लगी। उन्होंने छत्तीसगढ़ में न केवल सांस्कृतिक उत्थान के लिए छत्तीसगढ़ के त्यौहारों को महत्व दिया बल्कि छत्तीसगढ़ के किसानों, मजदूरों सहित सभी वर्गाे के हितों को और अधिक मजबूत करने के लिए न्याय योजनाओं की श्रृखला शुरू की। उनके विकास के छत्त्ीसगढ मॉडल में है माटी की सौंधी महक।
मुख्यमंत्री श्री बघेल के विकास के छत्तीसगढ़ माडल में आवश्यक अधोसंरचना विकास के साथ-साथ लोगों के सामाजिक-आर्थिक विकास पर ज्यादा जोर दिया जा रहा है, विकास का संतुलित स्परूप ही इस मॉडल की विशेषता है। उन्होंने आम छत्तीसगढ़िया की आखों में खुशहली और उनके चेहरे चमक में लाने के लक्ष्य को लेकर सरकार बनते ही कई ऐतिहासिक फैसले लिए। उन्होंने बरसों से छत्तीसगढ़ के साथ हुए अन्याय को न्याय योजनाओं के जरिए न्याय देने की पहल की है। चाहे ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाना हो, चाहे किसानों की कर्ज मुक्ति की बात हो या धान का वाजिब मूल्य देने की बात हो, अपने वायदे से वे कभी नहीं डिगे। उन्होंने हमेशा साहसिक फैसले लेकर छत्तीसगढ़ और छत्तीसगढ़िया दोनो के हितों की रक्षा की।
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के विकास के छत्तीसगढ़ी माडल में सबके लिए न्याय की अवधारणा है। यहां सिर्फ किसानों, मजदूरों, श्रमिकों के लिए ही न्याय नहीं है, न्याय की बयार, वनवासियों, और मध्यम वर्ग और उद्यमियों तक भी पहुंच रही है। हर वर्ग को राहत पहुंचाने के लिए अनेक फैसले लिए गए हैं। अन्नदाता किसानों का मान बढ़ाने के लिए न्याय की पहल की गई किसानों को उनकी उपज का वाजिब मूल्य दिलाने के लिए राजीव गांधी किसान न्याय योजना की शुरूआत हुई। मध्यम वर्ग को न्याय देने के लिए छोटे भू-खंडों के क्रय विक्रय के साथ ही भूमि के क्रय विक्रय की गाइड लाइन दरों में 30 प्रतिशत की कमी के साथ ही रियल इस्टेट सेक्टर को नया बूूम देने के लिए 75 लाख तक के मकानों की खरीदी पर पंजीयन राशि में छूट दी गई। वनवासियों को न्याय देने की पहल के तहत वनोपजों की संग्रहण मजदूरी तथा समर्थन मूल्य में वृद्धि के साथ समर्थन मूल्य पर खरीदी जाने वाली लघु वनोपजें 7 से बढ़ाकर 52 की गयी, जिसके कारण 13 लाख से अधिक आदिवासियों और वन आश्रित परिवारों को लाभ मिल रहा है। उद्योगों को राहत देने कई फैसले लिए गए।
पिछले ढाई सालों पर नजर डालें तो राज्य में विकास का एक अलग स्वरूप नजर आ रहा है। छत्तीसगढ़ विकास का मॉडल देश में एक अलग पहचान के रूप में स्थापित हो रहा है। इस विकास मॉडल के केन्द्र में गांव और किसान हैं। गांवों के गौरव को फिर से जगाने और हर हाथ को काम से जोड़ने का लक्ष्य रखकर सुराजी गांव योजना और गोधन न्याय योेेेजना, राजीव गांधी किसान न्याय योजना और राजीव गांधी भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना जैसी योजनाए प्रारंभ की गई है। लाख उत्पाद और मछली पालन को कृषि का दर्जा दिया गया। कोदो-कुटकी का समर्थन मूल्य घोषित करने के साथ ही लघु धान्य फसलों को बढ़ावा देने के लिए मिलेट मिशन भी शुरू करने का निर्णय लिया गया है।
मुख्यमंत्री श्री बघेल का कहना है कि नरवा-गरवा-घुरवा-बारी को छत्तीसगढ़ के सर्वांगीण विकास से, ग्रामीण अर्थव्यवस्था और अस्मिता से जोड़ना निश्चित तौर पर यह हमारी प्राथमिकता है। हम छत्तीसगढ़ के बुनियादी विकास की बात करते हैं और उसी दिशा में सारे प्रयास किए गए हैं, जिसके कारण आर्थिक मंदी और कोरोना जैसे संकट के दौर में भी, छत्तीसगढ़ की अर्थव्यवस्था अपनी पटरी पर बनी रही। जब देश और दुनिया के बाजारों में सन्नाटा था, तब छत्तीसगढ़ में ऑटो-मोबाइल से लेकर सराफा बाजार तक में उत्साह था। हमारे कल-कारखाने भी चलते रहे और गौठान भी। हमारे फैसले छत्तीसगढ़ को न सिर्फ तात्कालिक राहत देते हैं बल्कि दूरगामी महत्व के साथ, चौतरफा विकास के रास्ते खोलते हैं।
देश में पहली बार किसानों को विभिन्न फसलों के लिए इनपुट सब्सीडी देने की शुरूआत हुई। न्याय की यह बयार यहीं नहीं रूकी। गोधन न्याय योजना में इसे और बढ़ाया गया पशुपालकों और ग्रामीणों से गोबर खरीदी का काम शुरू हुआ। इस योजना से लगभग 76 प्रतिशत भूमिहीन कृषि मजदूर लाभान्वित हो रहे हैं। इससे इन वर्गाे को जहां आय का जरिया मिला वहीं गांव की महिला समूहों को वर्मी कम्पोस्ट और सुपर कम्पोस्ट से जोड़कर उन्हें भी स्वावलंबन से जोड़ा गया है। सुराजी गांव योजना में बनाए गए गौठानों में रूरल इंडस्ट्रियल पार्क की अवधारणा ने यहां ग्रामोद्योग और परम्परागत हस्तशिल्पियों के रोजगार का नया द्वार खोल दिया है। यहां प्रोसेसिंग प्लांट लगाने के साथ ही इन उत्पादों की मार्केटिंग के लिए व्यापारियों की भी मदद ली जा रही है।
ग्रामीण अर्थ व्यवस्था को मजबूत करने के लिए खेती किसानी के साथ-साथ कृषि आधारित उद्योंगों को प्राथमिकता दी जा रही है। सभी विकास खंडों में फूड पार्क बनाने का लक्ष्य रखा गया है। लघुवनोपज से वनवासियों को अधिक से अधिक लाभान्वित करने के लिए इन वनोपजों के वेल्यूएडिशन पर जोर दिया जा रहा है। कोरोना काल में देश में सबसे अधिक लघु वनोपज का समर्थन मूल्य पर संग्रहण छत्तीसगढ़ में किया गया। सुराजी गांव योजना में गौठानों में रूरल इंड्रस्ट्रीयल पार्क के जरिए ग्रामीणों और युवाओं को उत्पादक गतिविधियों से जोड़ा जा रहा है। गांवों में सिंचाई क्षमता के विकास के लिए नरवा कार्यक्रम हाथ में लिया गया है।
पिछले ढाई सालों में ऐसे अनेक छोटे-बड़े नवाचार हुए हैं, जिसका लाभ लोगों को मिल रहा है। डेनेक्स कपड़ा फैक्ट्री से लेकर वनोपज संग्रह में महिला स्व-सहायता की भूमिका, देवगुड़ी के विकास से लेकर स्थानीय उपजों के वेल्यूएडिशन तक बहुत से काम किए गए हैं। छत्तीसगढ़ के कोयले से अगर बिजली बनती है तो उसके लाभ में सीधे हिस्सेदारी आम जनता की होनी चाहिए। यही वजह है कि घरेलू बिजली उपभोक्ताओं के लिए बिजली बिल हाफ योजना लागू की गई है। इस योजना के तहत प्रदेश के 39 लाख से अधिक घरेलू उपभोक्ताओं को विगत 27 महीने में 1822 करोड़ रू. का लाभ मिल चुका है।
कोरोना से लड़ने के लिए प्रदेश में बड़े पैमाने पर स्वस्थ्य सुविधाएं विकसित की गयी। कोरोना काल में देश के 10 राज्यों को आक्सीजन की सप्लाई की गई। कांकेर, कोरबा तथा महासमुंद में नए मेडिकल कॉलेज भी खोलने की स्वीकृति दी गयी है। बस्तर में कुपोषण मुक्ति से लेकर मलेरिया उन्मूलन तक सफलता का नया कीर्तिमान रचा गया है। मुख्यमंत्री हाट-बाजार क्लीनिक योजना, मुख्यमंत्री स्लम स्वास्थ्य योजना और दाई-दीदी मोबाइल क्लीनिक जैसी पहल का लाभ लाखों लोगों को मिला है।
प्रदेश की नई औद्योगिक नीति में पिछड़े क्षेत्रों में औद्योगिकीकरण को प्रोत्साहित करने के प्रावधान किए गए हैं। हर विकासखंड में फूडपार्क स्थापित करने की दिशा में कार्यवाही शुरू की गयी है। गरीब परिवारों के बच्चों को अंगेजी माध्यम में शिक्षा देने के लिए स्वामी आत्मानंद इंग्लिश मीडियम स्कूल योजना शुरू की गई है, जिसके तहत 172 शालाओं का संचालन किया जा रहा है। कोरोना से जिन बच्चों के पालकों का निधन हुआ है, उन बच्चों को निःशुल्क शिक्षा देने के लिए ‘महतारी दुलार योजना’ शुरू की गई है।
प्रदेश के ग्रामीण अंचल, वन अंचल, बसाहटों, कस्बों और शहरों में रहने वाले लोगों का जीवन आसान बनाने के लिए आगामी दो वर्षों में 16 हजार करोड़ की लागत से सड़कों का नेटवर्क बनाया जा रहा है। सिर्फ एक साल 2020-21 में ‘प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना’ के तहत प्रदेश में 4 हजार 228 किलोमीटर सड़कें बनाई गईं। इतना काम पिछले किसी एक साल में नहीं हुआ। पूरे ढाई साल में 8 हजार 545 किलोमीटर सड़कें बनाई, जो एक बड़ी उपलब्धि है।

 

15 अगस्त की ये 15 ख़ास बातें क्या आप जानते हैं?

15 अगस्त की ये 15 ख़ास बातें क्या आप जानते हैं?

आज 15 अगस्त है यानी हमारा स्वतंत्रता दिवस, यहां जानिए 15 अगस्त की खास 15 रोचक बातें।
1. भारत के स्वाधीनता आंदोलन का नेतृत्व महात्मा गांधी ने किया था। लेकिन जब देश को 15 अगस्त 1947 में आजादी मिली तो वे इसके जश्न में शामिल नहीं हुए थे।

2. महात्मा गांधी उस दिन दिल्ली से हजारों किलोमीटर दूर बंगाल के नोआखली में थे, जहां वे हिन्दुओं और मुस्लिमों के बीच हो रही सांप्रदायिक हिंसा को रोकने के लिए वे अनशन कर रहे थे।
3. जब तय हो गया कि भारत 15 अगस्त को आजाद होगा, तो जवाहरलाल नेहरू और सरदार वल्लभ भाई पटेल ने महात्मा गांधी को एक पत्र भेजा। इस पत्र में लिखा था, '15 अगस्त हमारा पहला स्वाधीनता दिवस होगा। आप राष्ट्रपिता हैं, इसमें शामिल हों आप अपना आशीर्वाद दें।'

4. गांधीजी ने इस पत्र का जवाब भिजवाया, 'जब कलकत्ता में हिन्दू-मुस्लिम एक-दूसरे की जान ले रहे हैं, ऐसे में मैं जश्न मनाने के लिए कैसे आ सकता हूं? मैं दंगा रोकने के लिए अपनी जान दे दूंगा।'

5. जवाहरलाल नेहरू ने ऐतिहासिक भाषण 'ट्रिस्ट विद डेस्टनी' 14 अगस्त की मध्यरात्रि को वायसराय लॉज (मौजूदा राष्ट्रपति भवन) से दिया गया था।

6. तब नेहरू प्रधानमंत्री नहीं बने थे। इस भाषण को पूरी दुनिया ने सुना, लेकिन गांधी उस दिन 9 बजे सोने चले गए थे।
7. 15 अगस्त 1947 को लॉर्ड माउंटबेटन ने अपने कार्यालय में काम किया। दोपहर में नेहरू ने उन्हें अपने मंत्रिमंडल की सूची सौंपी और बाद में इंडिया गेट के पास प्रिंसेज गार्डन में एक सभा को संबोधित किया।

8. हर स्वतंत्रता दिवस पर भारतीय प्रधानमंत्री लाल किले से झंडा फहराते हैं, लेकिन 15 अगस्त 1947 को ऐसा नहीं हुआ था। लोकसभा सचिवालय के एक शोध पत्र के मुताबिक नेहरू ने 16 अगस्त 1947 को लाल किले से झंडा फहराया था।
9. भारत के तत्कालीन वायसराय लॉर्ड माउंटबेटन के प्रेस सचिव कैंपबेल जॉनसन के अनुसार मित्र देशों की सेनाओं के सामने जापान के आत्मसमर्पण की दूसरी वर्षगांठ 15 अगस्त को पड़ रही थी, इस कारण इसी दिन भारत को आजाद करने का फैसला किया गया था।


10. 15 अगस्त तक भारत और पाकिस्तान के बीच सीमा रेखा का निर्धारण नहीं हुआ था। इसका फैसला 17 अगस्त को रेडक्लिफ लाइन की घोषणा से हुआ, जो कि भारत और पाकिस्तान की सीमाओं को निर्धारित करती थी।
11. भारत 15 अगस्त को आजाद जरूर हो गया लेकिन उस समय उसका अपना कोई राष्ट्रगान नहीं था, हालांकि रवीन्द्रनाथ टैगोर 'जन-गण-मन' 1911 में ही लिख चुके थे, लेकिन यह राष्ट्रगान 1950 में ही बन पाया।

12. 15 अगस्त भारत के अलावा 3 अन्य देशों का भी स्वतंत्रता दिवस है- दक्षिण कोरिया जापान से 15 अगस्त 1945 को आजाद हुआ। ब्रिटेन से बहरीन को 15 अगस्त 1971 को आजादी मिली थी और फ्रांस ने कांगो को 15 अगस्त 1960 को स्वतंत्र घोषित किया था।

13. 15 अगस्त 1872 को ब्रिटिश राज से भारत को आजादी दिलाने में शामिल रहने वाले महर्षि अरबिंदो घोष का जन्म हुआ था।

14. 15 अगस्त 1772 को ईस्ट इंडिया कंपनी ने विभिन्न जिलों में अलग सिविल और आपराधिक अदालतों के गठन का फैसला लिया था।

15. 15 अगस्त 1854 को ईस्ट इंडिया रेलवे ने कलकत्ता (वर्तमान में कोलकाता) से हुगली तक पहली यात्री ट्रेन चलाई थी हालांकि आधिकारिक तौर पर इसका संचालन 1855 में शुरू हो सका था।

 

खबरे एक साथ : देखें 13 अगस्त की दिन भर की महत्वपूर्ण खबरें

खबरे एक साथ : देखें 13 अगस्त की दिन भर की महत्वपूर्ण खबरें

सम्बंधित न्यूज़ को पढ़ने के लिए नीचे दिए गए हेड लाइन पर क्लिक करें....  

 कोरोना अपडेट : छत्तीसगढ़ में आज इतने कोरोना मरीजों की हुई पहचान, एक्टिव मरीजो की संख्या हुई 1500 से कम, देखें जिलेवार आंकड़े

होटल में चल रहे सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ : एक अफसर समेत दो युवतियां गिरफ्तार

बड़ी खबर रायपुर: शराब दुकान से 15 लाख रुपयों से अधिक की बिक्री राशि का गबन, दो कर्मचारियों के खिलाफ मामला दर्ज

बड़ी खबर छत्तीसगढ़: शराब के नशे में धुत्त पटवारी ने मवेशियों से भिड़ा दी गाड़ी, हुआ घायल 

 बड़ी खबर रायपुर: सूने मकान का ताला तोड़कर लाखों की चोरी,जांच में जुटी पुलिस

बड़ी खबर रायपुर: नौकरी की तलाश में निकली युवती से गैंगरेप, झांसा देकर पति को कर दिया था रवाना 

BREAKING: तीसरी लहर की आशंका..राज्य सरकार ने 20 तक जुलूसों पर लगाया प्रतिबंध

VIDEO: शतक जड़ने के बाद कुछ इस तरह केएल राहुल का हुआ स्वागत, यहाँ देखे विडियो

मौनी रॉय की ग्लैमरस तस्वीरों और वीडियो ने सोशल मीडिया मे लगाई आग, यहाँ देखे

2000 रुपये सस्ता हुआ सोना! जानें आज कितना है 10 ग्राम गोल्ड का रेट

 

खबरे एक साथ : देखें 12 अगस्त की दिन भर की महत्वपूर्ण खबरें

खबरे एक साथ : देखें 12 अगस्त की दिन भर की महत्वपूर्ण खबरें

सम्बंधित न्यूज़ को पढ़ने के लिए नीचे दिए गए हेड लाइन पर क्लिक करें....  

कोरोना अपडेट : छत्तीसगढ़ में आज इस जिले में हुआ कोरोना विस्फोट, इतने कोरोना मरीजों की हुई पहचान, देखें जिलेवार आंकड़े

BREAKING NEWS CG: चार तस्करों से 50 किलो गांजा बरामद

काम वाली बाई के सजगता से पकड़ाया चोर

नशीली दवा देकर ढोंगी वैद्य करता था महिला से दुष्कर्म, मरीज बनकर गई पुलिस ने दबोचा

छत्तीसगढ़ में कोरोना का कहर : कक्षा 12 वीं की छात्रा की रिपोर्ट पॉजिटिव आते ही मचा स्कूल में हड़कंप

लॉकडाउन पर बड़ा फैसला : अब सिर्फ रविवार को ही लॉकडाउन, सोमवार से शनिवार तक...

बॉयफ्रेंड के साथ सेक्स के दौरान बेटी ने किया डिस्टर्ब तो माँ ने कर दी बेटी की हत्या

बड़ी खबर : अब छत्तीसगढ़ के ये पूर्व आईएएस हुए बीजेपी में शामिल, राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा ने भाजपा का गमछा पहनाकर उनका पार्टी में स्वागत किया

फटाफट निपटा लें अपने बैंकों से जुड़े सारे काम, कल से 4 दिनों के लिए बंद रहेंगे बैंक

मुख्यमंत्री युवा स्व-रोजगार योजना अंतर्गत ऋण के लिए आवेदन आमंत्रित

खबरे एक साथ : देखें 11 अगस्त की दिन भर की महत्वपूर्ण खबरें

खबरे एक साथ : देखें 11 अगस्त की दिन भर की महत्वपूर्ण खबरें

सम्बंधित न्यूज़ को पढ़ने के लिए नीचे दिए गए हेड लाइन पर क्लिक करें.... 

कोरोना अपडेट : छत्तीसगढ़ के इस जिले में हुआ कोरोना विस्फोट, इतने कोरोना मरीजों की हुई पहचान, देखें जिलेवार आंकड़े

बड़ा हादसा: हिमाचल में फिर भूस्खलन से कोहराम, मलबे में दबे 40 लोग, मदद को पहुंच रहीं सेना और एनडीआरएफ की टीमें

क्या आप भी कल टीका लगवाने जा रहे है तो रायपुर में इन जगहों पर ये वैक्सिन रहेगी उपलब्ध

बड़ी खबर : मेडिकल कॉलेज में रैगिंग का मामला सामने आया, इस बैच के सात छात्र अगले एक वर्ष के लिए निलंबित

स्वतंत्रता दिवस समारोह 2021 : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल राजधानी में करेंगे ध्वजारोहण, विधानसभा अध्यक्ष, मंत्रीगण और संसदीय सचिव यहाँ फहराएंगे तिरंगा

शादी का झांसा देकर बनाया शारीरिक संबंध, गर्लफ्रेंड प्रेग्नेंट हुई तो हुआ फरार

बड़ी खबर रायपुर: भीख मांगने के बहाने के दुकान में घुसकर 3 किलों चांदी चोरी,जांच में जुटी पुलिस

सीबीआइ ने 100 करोड़ की धोखाधड़ी मामले में 9 लोगों को किया गिरफ्तार

सहदेव के साथ गाए गाने को बादशाह ने किया लांच, विडियो मचा रहा है धूम, देखे विडियो

अब सप्ताह के इस दिन सिर्फ दूसरी डोज वालों का होगा टीकाकरण...

खबरे एक साथ : देखें 10 अगस्त की दिन भर की महत्वपूर्ण खबरें

खबरे एक साथ : देखें 10 अगस्त की दिन भर की महत्वपूर्ण खबरें

सम्बंधित न्यूज़ को पढ़ने के लिए नीचे दिए गए हेड लाइन पर क्लिक करें....

कोरोना अपडेट : छत्तीसगढ़ के इस जिले में हुआ कोरोना विस्फोट, प्रदेश में आज इतने कोरोना मरीजों की हुई पहचान, देखें जिलेवार आंकड़े

BIG BREAKING : लोकसभा से पास हुआ OBC आरक्षण संशोधन बिल, अब राज्यों को मिलेगा ये अधिकार.........

जिले के स्वामी आत्मानंद शासकीय उत्कृष्ट अंगेजी माध्यम स्कूल में संविदा भर्ती के लिए साक्षात्कार हेतु तिथि हुई निर्धारित

कोरोना वैक्सीन : राजधानी रायपुर के इन वैक्सीन सेंटरों में कल लगाये जायेंगे वैक्सीन, देखें सेंटरों की सूची

छत्तीसगढ़ : फ़िल्मी स्टाइल में रिवाल्वर दिखाकर व्यापारी से लूटपाट करने वाला एक आरोपी गिरफ्तार

कोरोना रिटर्न्स : जिले के इन क्षेत्रों को किया गया कन्टेनमेंट जोन घोषित, देखें कहीं आप भी तो नहीं हैं इस क्षेत्र में

बड़ी खबर भिलाई : शहर के सूर्या मौल में स्थित स्कैरी हाउस में नाबालिग युवती के साथ हुआ दुष्कर्म, मौल में मचा हड़कंप

वायरल विडियो रायपुर : नाबालिक बच्चों को बैठाकर दोपहिया चलाने वाले शख्स पर यातायात पुलिस ने की त्वरित कार्यवाही

BIG BREAKING : राजधानी रायपुर में बड़े पैमाने पर पुलिसकर्मियों का तबादला आदेश हुआ जारी, देखें आदेश

BREAKING NEWS: गुटखा फैक्ट्री में पुलिस का छापा 359 बोरा पान मशाला जब्त,संचालक गिरफ्तार

पत्नी ने पति संग सेक्स करने से किया इंकार, तो पति ने गुस्से में दी ऐसी सजा, जाने क्या......

मामूली विवाद पर बेटी ने मां की कराटे बेल्ट से गला घोंटकर की हत्या, जानिए क्या है पूरा मामला

प्रदेश के इस जिले में 2 सरकारी स्कूलों के 20 बच्चे हुए कोरोना संक्रमित, प्रशासन में मचा हड़कंप

एक्ट्रेस निया शर्मा ने बेकलेस टॉप में ढाया कहर, ट्रोल करने वालों को विडियो शेयर कर कही ये बड़ी बात

दुखद खबर: फिल्म की शूटिंग के दौरान बिजली का झटका लगने से मशहूर स्टंटमैन की सेट पर मौत!

खबरे एक साथ : देखें 9 अगस्त की दिन भर की महत्वपूर्ण खबरें

खबरे एक साथ : देखें 9 अगस्त की दिन भर की महत्वपूर्ण खबरें

सम्बंधित न्यूज़ को पढ़ने के लिए नीचे दिए गए हेड लाइन पर क्लिक करें....

BIG BREAKING : अब इस लोकप्रिय अभिनेत्री ने 35 वर्ष की उम्र में दुनिया को कहा अलविदा, फिल्म जगत में शोक की लहर

कोरोना अपडेट : छत्तीसगढ़ में त्योहारों के आते ही बढ़ने लगा है कोरोना संक्रमण, आज इतने कोरोना मरीजों की हुई पहचान

बड़ी खबर : विदेशी नागरिक अब भारत में टीकाकरण के पात्र होंगे

डेंगू से 13 वर्षीया बच्ची की मौत...

बड़ी खबर छत्तीसगढ़ : तेज रफ्तार कार और मोटरसाइकिल में हुई जबरदस्त भिड़ंत, कार के उड़े परखच्चे, 2 लोगों की मौके पर हुई मौत

कोतवाली थाना क्षेत्र में 20 लाख के ब्राउन शुगर समेत दो तस्करों को पुलिस ने किया गिरफ्तार, पढ़ें पूरी खबर

बड़ी खबर छत्तीसगढ़ : जिले के तीन स्कूलों में 11 बच्चे पाए गए कोरोना संक्रमित, स्कूल प्रशासन में मचा हड़कंप

छत्तीसगढ़ : युवती से छेड़छाड़ करने वाला मौलाना बिहार से हुआ गिरफ्तार

बड़ी खबर छत्तीसगढ़ : तेज रफ्तार ट्रेक्टर अनियंत्रित होकर जा गिरी पानी से भरे गड्ढे में, चार की हुई मौत, पढ़ें पूरी खबर

बड़ी खबर : पत्नी ने पति पर धारदार हथियार से किया हमला पति की हुइ मौत, जाने क्या है पूरा मामला

लॉकडाउन ब्रेकिंग : प्रदेश में कल से 17 अगस्त तक लगा लॉकडाउन, राज्य सरकार ने जारी किया आदेश, देखें आदेश

मानवता हुई शर्मशार : अंधविश्वास में 8 वर्षीय बच्ची की हत्या कर आंख का बनाया ताबीज, और फिर किया ये.......

BIG BREAKING : बीच चौराहे पर आतंकियों ने बीजेपी किसान मोर्चा के अध्यक्ष व उनकी पत्नी को गलियों के भुना, इलाके में दहशत का माहोल

बड़ी खबर : दहेज की मांग पूरी नहीं करने पर ससुराल वालों ने नवविवाहिता के साथ किया सामूहिक दुष्कर्म, जाने कहाँ की है यह घटना

बड़ी खबर : भारत को टोक्यो ओलंपिक 2020 में गोल्ड मेडल दिलाने वाले नीरज चोपड़ा के भारत लौटते ही एयरपोर्ट पर उमड़ी भीड़, देखें विडियो

खबरे एक साथ : देखें 8 अगस्त की दिन भर की महत्वपूर्ण खबरें

खबरे एक साथ : देखें 8 अगस्त की दिन भर की महत्वपूर्ण खबरें

सम्बंधित न्यूज़ को पढ़ने के लिए नीचे दिए गए हेड लाइन पर क्लिक करें....   

CG कोरोना अपडेट : प्रदेश में आज इस जिले में हुआ कोरोना विस्फोट कल से कम हुए मामले, 89 मरीजों ने जीती कोरोना से जंग, देखें जिलेवार आंकड़े

बड़ी खबर: IGI एयरपोर्ट को बम से उड़ाने की धमकी, अलकायदा के नाम से पुलिस को मिला मेल, दिल्ली में सुरक्षा बढ़ाई गई

अब पल भर में Whatsapp पर मिल जाएगा कोविड-19 वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट, जानें तरीका

नाबालिग से दुष्कर्म के आरोपी को 20 साल सश्रम कारावास

तेज रफ्तार अनियंत्रित टे्रलर वाहन ने खड़ी ट्रक को मारी टक्कर,चार ट्रको में लगी आग

फेसबुक के माध्यम से छग समेत देश के कई राज्यों की महिलाओं को फंसाकर करोड़ों की ठगी करने वाला नाइजीरियन नागरिक दिल्ली से गिरफ्तार

LOCKDOWN 2021: राज्य सरकार ने लॉकडाउन की पाबंदियां सख्त की, मुख्यमंत्री ने कही ये बात

मुख्यमंत्री बघेल ने की कृषि यंत्रों की पूजा, मुख्यमंत्री निवास में हरेली की धूम...

अरबाज़ खान की गर्लफ्रेंड ने शेयर की अपनी लेटेस्ट फोटोज, यहाँ देखे

देश की सबसे सस्ती कार पर 40,000 रु.की छूट, माइलेज भी है ज्यादा

खबरे एक साथ : देखें 7 अगस्त की दिन भर की महत्वपूर्ण खबरें

खबरे एक साथ : देखें 7 अगस्त की दिन भर की महत्वपूर्ण खबरें

सम्बंधित न्यूज़ को पढ़ने के लिए नीचे दिए गए हेड लाइन पर क्लिक करें....  

CG कोरोना अपडेट : प्रदेश में आज इस जिले में हुआ कोरोना विस्फोट कल से बढे है मामले, 162 मरीजों ने जीती कोरोना से जंग, देखें जिलेवार आंकड़े

प्रधानमंत्री इस तारीख को पीएम-किसान योजना की अगली किश्त जारी करेंगे

BIG BREAKING : अब राहुल गांधी का ट्विटर अकाउंट अस्थायी तौर पर हुआ सस्पेंड, जाने क्या है मामला

सेक्स रैकेट का पर्दाफाश, महिला दलाल समेत 8 आरोपी पकड़े गए, आपत्तिजनक सामान और कैश बरामद

रायपुर के महाराजा होटल में गन्दगी का अम्बार, कोरोना गाइडलाइन का भी धड़ल्ले से उल्लंघन, जुर्माना

झगडे के बाद बच्चे के प्राइवेट पार्ट में प्रेशर गन से भरी हवा, नाबालिग की फट गई आंत

LOCKDOWN 2021: प्रदेश मे 2 दिन का लॉकडाउन, रात 11 बजे से सुबह 5 बजे तक लागू रहेगा नाइट कर्फ्यू

आर्थिक तंगी के बावजूद परिवार ने लाकर दिया था 7.5 हजार रुपए का जैवलिन, ऐसी रही है नीरज चोपड़ा के संघर्ष की कहानी

'बिग बॉस’ में ग्लैमर का तड़का लगाने आ रही हैं नेहा मलिक

खूब बिक रही इस कंपनी की SUV, सबसे कम समय में 3 लाख गाड़ियां बेची

खबरे एक साथ : देखें 6 अगस्त की दिन भर की महत्वपूर्ण खबरें

खबरे एक साथ : देखें 6 अगस्त की दिन भर की महत्वपूर्ण खबरें

सम्बंधित न्यूज़ को पढ़ने के लिए नीचे दिए गए हेड लाइन पर क्लिक करें....   

चिटफंड कम्पनियों से धन वापसी हेतु निवेशकों से आवेदन की जमा तिथि 6 अगस्त से बढ़ाकर अब इतनी कर दी गई

CG कोरोना अपडेट : प्रदेश में आज राजधानी में मिले सर्वाधिक संक्रमित, 156 मरीजों ने जीती कोरोना से जंग, देखें जिलेवार आंकड़े

BREAKING NEWS: जिले के तीन वार्ड कंटेमेंट जोन घोषित, आदेश जारी

बड़ी खबर : राजधानी रायपुर के इस थाना क्षेत्र में बदमाश ने आरक्षक को मारा चाकू, पढ़ें पूरी खबर

LOCKDOWN 2021 : स्वास्थ्य मंत्री ने तीसरी लहर के आशंका के बीच लॉकडाउन लगाने के दिए संकेत

अजीबोगरीब मामला: मां बनने के लिए पत्नी ने जेल में बंद बलात्कारी पति की हाईकोर्ट से मांगी बेल

कोरोना के संकट के समय भाजपा के नेता थे गायब, भाजपा नेताओं का फोटो जीवी चेहरा हुआ बेनकाब

बड़ी खबर: खेल रत्न पुरस्कार का नाम बदला मेजर ध्यानचंद के नाम पर होगा अवॉर्ड

VIDEO: वनमानुष ने चश्मा लगाकर दिया गजब पोज़ देख कर आप भी हो जायेंगे हैरान, यहाँ देखे विडियो

रिक्त पदों पर भर्ती के लिए आवेदन 20 अगस्त तक

खबरे एक साथ : देखें 5 अगस्त की दिन भर की महत्वपूर्ण खबरें

खबरे एक साथ : देखें 5 अगस्त की दिन भर की महत्वपूर्ण खबरें

सम्बंधित न्यूज़ को पढ़ने के लिए नीचे दिए गए हेड लाइन पर क्लिक करें....  

CG कोरोना अपडेट : प्रदेश में आज इस जिले में हुआ कोरोना विस्फोट, 188 मरीजों ने जीती कोरोना से जंग, देखें जिलेवार आंकड़े

बड़ी खबर: रायपुर में इस जगह के नेकी की दीवार में लगी आग

मदिरा प्रेमी ध्यान दें इस तारीख को बंद रहेंगी शराब दुकान

सूने दुकान का ताला तोड़कर नगदी 56 हजार रुपये एवं सोने,चांदी के गहने चोरी

बड़ी खबर रायपुर: न्यायालय परिसर से हथकड़ी से हाथ निकालकर भागा मुजरिम, जांच में जुटी पुलिस

फोन पर बात करते-करते युवक 120 फीट गहरे कुएं में जा गिरा, मौके पर मौत, आस-पास के इलाके मे मचा हड़कंप

गांव के पुराने गौरव को फिर से स्थापित करना राज्य सरकार का लक्ष्य : भूपेश बघेल

टोक्यो ओलंपिक खुशखबरी : रवि ने दिलाई चांदी, प्रधानमंत्री ने ट्विट कर जाने क्या कहा ...

सेक्स रैकेट में फंस चुकी है फिल्म जगत की ये 5 अभिनेत्रियाँ, इसमे से एक को मिल चुका है राष्ट्रीय पुरस्कार

सप्ताह के चौथे दिन भी सोने और चांदी की कीमतों में भारी गिरावट, देखें आज के भाव

खबरे एक साथ : देखें 4 अगस्त की दिन भर की महत्वपूर्ण खबरें

खबरे एक साथ : देखें 4 अगस्त की दिन भर की महत्वपूर्ण खबरें

सम्बंधित न्यूज़ को पढ़ने के लिए नीचे दिए गए हेड लाइन पर क्लिक करें....  

CG कोरोना अपडेट : प्रदेश में आज इस जिले में हुआ कोरोना विस्फोट, 109 मरीजों ने जीती कोरोना से जंग, देखें जिलेवार आंकड़े

BREAKING : पीड़ित परिवार से मिलने पहुंचे मुख्यमंत्री का विरोध, भाषण के दौरान मंच से गिरे

चिटफंड से संबंधित आवेदन 6 तक आमंत्रित

छत्तीसगढ़ में कोरोना का कहर : यहां 6 स्कूली बच्चे मिले कोरोना पॉजिटिव

बड़ी खबर: रायपुर में पिस्टल, कट्टा एवं जिंदा कारतूस के साथ 2 युवक गिरफ्तार

शराब के नशे में बना आईपीएस: नहीं कर पाया स्टेटस मेंटेन और खाली पैर देखकर आरक्षक ने मांगा परिचय पत्र तो...

बड़ी खबर : रायपुर में एक महिला पर युवकों ने चढ़ाई कार

मानवता शर्मसार: 12 साल की मासूम के साथ दुष्कर्म कर पेड़ मे लटकाया

अनन्या पांडे ने करवाया लेटेस्ट फोटोशूट, सोशल मीडिया मे खूब वाइरल, यहाँ देखे

खत्म नहीं हुई है कोरोना की दूसरी लहर: 8 राज्यों में अभी भी `आर-वैल्यू` ज्यादा

खबरे एक साथ : देखें 3 अगस्त की दिन भर की महत्वपूर्ण खबरें

खबरे एक साथ : देखें 3 अगस्त की दिन भर की महत्वपूर्ण खबरें

सम्बंधित न्यूज़ को पढ़ने के लिए नीचे दिए गए हेड लाइन पर क्लिक करें.... 

CG कोरोना अपडेट : प्रदेश में आज इस जिले में हुआ कोरोना विस्फोट, 177 मरीजों ने जीती कोरोना से जंग, देखें जिलेवार आंकड़े

स्पा और मसाज सेंटरों के लिए सरकार ने जारी की नई गाइडलाइंस

BREAKING NEWS: तहसील ऑफिस के सामने किसान ने खाया जहर, अस्पताल ले जाते वक्त दम तोड़ा, जानिए क्या है पूरा मामला

कॉल गर्ल के साथ अय्यासी के चक्कर में लाखों रूपए गवां बैठा स्कूली छात्र, जानिए आखिर क्या है पूरा मामला

BIG NEWS : रायपुर के इस ज्वलेरी शॉप से चोरों ने नए अंदाज में की लाखों की चोरी

बड़ी खबर : छत्तीसगढ़ के इस जिले में 12वीं की 2 छात्राएं और 10 वीं का एक छात्र मिला कोरोना संक्रमित, अभिभावक सहमे, स्कूल 15 दिनों के लिए बंद

लेडी एसआई ने 16 साल की नाबालिग लड़की के साथ बलात्कार करने वाले आरोपी को पकड़ने सोशल मीडिया में बुना ऐसा जाल, पढ़कर आप भी हो जायंगे हैरान

छात्रा के साथ प्रोफेसर ने की छेड़खानी, ऑनलाइन क्लास में किया ये गलत काम

इस पॉपुलर सिंगर और रैपर पर उन्ही की पत्नी ने कराया घरेलू हिंसा का मामला दर्ज

SBI समेत कई बैंकों ने अचानक ही बंद कर दिए हजारों ग्राहकों के अकाउंट, आरबीआई के निर्देश पर हुई कार्रवाई

खबरे एक साथ : देखें 2 अगस्त की दिन भर की महत्वपूर्ण खबरें

खबरे एक साथ : देखें 2 अगस्त की दिन भर की महत्वपूर्ण खबरें

सम्बंधित न्यूज़ को पढ़ने के लिए नीचे दिए गए हेड लाइन पर क्लिक करें....  

CG कोरोना अपडेट : प्रदेश में आज इस जिले में हुआ कोरोना का कहर, 234 मरीजों ने जीती कोरोना से जंग, देखें जिलेवार आंकड़े 

राजधानी में कोरोना मरीजों की संख्या में अचानक वृद्धि से, इन इलाकों को कन्टेनमेंट जोन घोषित किया गया

कैशलेस पेमेंट को बढ़ावा देने प्रधानमंत्री मोदी ने देश में ई-रुपी (e-RUPI) की शुरुआत की, क्या होगा इससे फायदा, पढ़े पूरी खबर

पुलिस महकमे में बड़ा फेरबदल : 11 इंस्पेक्टरो के साथ 7 SI का तबादला, देखें पूरी सूची

रायपुर पुलिस की एक और कार्यवाई : महंगे ब्रांड की अंग्रेजी शराब के साथ 2 अंतर्राज्यीय शराब तस्कर गिरफ्तार

CG में मर्डर: धारदार हथियार से मारकर युवक की हत्या कर दलदल में फेंक दी लाश, जांच में जुटी पुलिस

राजधानी के आदर्श नगर में लूटपाट के दौरान हुई हत्या के मामले को सुलझाते हुए पुलिस ने 3 आरोपियों को किया गिरफ्तार

भाभी से झगड़े के बाद घर छोड़ आई नाबालिग, कुछ घंटे के भीतर ही 6 लोगों ने किया गैंगरेप

छह माह के अंदर पूरी होगी सिलगेर घटना की जांच : भूपेश बघेल

लाइव स्ट्रीम में न्यूड होकर बैठी थीं 'गंदी बात' फेम एक्ट्रेस गहना, VIDEO देखकर हर कोई हुआ हैरान

 

Previous123456789...2021Next