• -

और पढ़ें

COVID-19 :

Confirmed :

Recovered :

Deaths :

Maharashtra / 211987 Tamil Nadu / 114978 Delhi / 100823 Gujarat / 36858 Uttar Pradesh / 28636 Rajasthan / 20922 West Bengal / 22987 Madhya Pradesh / 15284 Haryana / 17770 State Unassigned / 5034 Karnataka / 25317 Andhra Pradesh / 21197 Bihar / 12525 Telangana / 25733 Jammu and Kashmir / 8675 Assam / 12523 Odisha / 10097 Punjab / 6491 Kerala / 5623 Uttarakhand / 3161 Chhattisgarh / 3305 Jharkhand / 2877 Tripura / 1692 Ladakh / 1005 Goa / 1813 Himachal Pradesh / 1077 Manipur / 1390 Chandigarh / 492 Puducherry / 1043 Nagaland / 636 Mizoram / 197 Arunachal Pradesh / 270 Sikkim / 125 Dadra and Nagar Haveli and Daman and Diu / 407 Andaman and Nicobar Islands / 147 Meghalaya / 88 Lakshadweep / 0

   BIG BREAKING : एंटी करप्शन ब्यूरो की बड़ी कार्यवाही, पटवारी सहित दो अधिकारियों को रिश्वत लेते रंगे हाथ किया गिरफ्तार    |    भारतीय सेना में महिला अधिकारियों को स्थायी कमीशन एवं कमांड पोस्ट संबंधी अपने आदेश पर अमल के लिए उच्चतम न्यायालय ने केंद्र सरकार को दिया एक माह का समय    |    गोधन न्याय योजना: गौ ग्राम स्वावलंबन अभियान छत्तीसगढ़ के पदाधिकारियों ने जताया आभार : गृहमंत्री से मुलाकात कर सौंपा अभिनंदन पत्र    |    एम्स में काम करने वाली नर्स को शादी का झांसा देकर 34 लाख की ठगी करने वाला आरोपी गिरफ्तार, पढ़ें पूरी खबर    |    एम्स की महिला डॉक्टर सहित इस राज्य की राजधानी में मिले 86 नए कोरोना संक्रमित मरीज    |    स्वास्थ्य विभाग द्वारा 5 जुलाई की स्थिति में रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन वाले विकासखंडों की अधिसूचना जारी    |    बड़ी खबर: प्रदेश में आज 92 नए कोरोना संक्रमित मरीज मिले ,देखे किस किस जिले से है    |    छत्तीसगढ़ के इन जनपद व ग्राम पंचायतों को मिला दीनदयाल उपाध्याय पंचायती राज सशक्तीकरण राष्ट्रीय पुरस्कार, दिल्ली में जारी हुई सूची, देखें सूची    |    बड़ी खबर: बड़ी संख्या में पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों का तबादला आदेश जारी, देखे पूरी लिस्ट    |    जेपी नड्डा ने साधा निशाना: गौरवशाली वंश परंपरा से जुड़े राहुल के लिए समिति मायने नहीं रखती    |
Previous12Next
 गुरुपूर्णिमा ही है गुरु और शिष्य के मिलन का पर्व

गुरुपूर्णिमा ही है गुरु और शिष्य के मिलन का पर्व

इस वर्ष 05 जुलाई अर्थात आज गुरुपूर्णिमा का महापर्व है। यह दिन अध्यात्म जगत की सबसे बड़ी घटना के रूप में जाना जाता है। इस दिन गुरु और शिष्य दोनों की आत्माओं का मिलन, समर्पण तथा विसर्जन-विलय होता है। इस दिन गुरु का महाप्राण शिष्य के प्राण में घुलता है और अपने गुरु के महाप्राण में शिष्य के प्राण विलीन हो जाता है। यह महापर्व जानने समझने का कम, अनुभूति के महासागर में डूब जाने का अधिक है। यह पर्व अकथ-कथा है, अबोल-बोल है तथा अमूर्त-मूर्त है, क्योंकि गुरु शिष्य की आत्मा में जीता है। वह होता ही है सदैव शिष्य में। शिष्य का अपना चोला भर होता है, भीतर तो गुरु की महाचेतना ही लहराती रहती है।
सद्गुरु सामान्य नहीं होते, वे महाचेतना के शक्तिपुञ्ज होते हैं, परमात्मा के प्रखर प्रतिनिधि होते हैं। स्वयं परमात्मा इनकी नियुक्ति करता है और उनकी भावी कार्य योजना बनाता है। सद्गुरु भगवत् योजना को लेकर धरती पर अवतरित होते हैं, और कार्य को पूर्णता देकर पुन: वहीं भगवद्धाम में वापस लौट जाते हैं। उनकी कार्य-योजना में अपने शिष्य को खोजना, उसे गढऩा और फिर उसे ढालना प्रमुख होता है। उन्हें सब कुछ योजना के अनुसार करना पड़ता है। उन्हें ही पता होता है कि वे क्या करते हैं और क्या करना है उनके कार्य बड़े अजब-अनूठे व निराले होते हैं। सामान्य ढंग से न तो उसे समझा जा सकता है और न ही उसका अंदाज ही लगाया जा सकता है।
गुरु का हर कार्य अनोखा और अद्भुत होता है। उसकी चाहत व प्रेम असाधारण होते हैं। उसकी चाहत शिष्य की अनन्त गहराई तक पहुँचती है और यह चाहत बीच में आने वाली सभी बाधाओं को रौंदते हुए चलती है तथा पहुँचती वहीं है, जहाँ उसे जाना होता है। जहाँ उसे स्थिर होना होता है। यही गुरु का प्रेम होता है। उनका प्रेम शिष्य का परिष्कार कर उसे प्रेम के लायक बनाता है। शिष्य धुले और उसकी नस-नाडिय़ों में प्रेम का रस बहे। बस, यही तो गुरु चाहते हैं।
समर्थ गुरु की चाहत को पूरा करने का साहस समर्पित शिष्य को जुटाना पड़ता है। उसे इस कार्य में अपने समस्त अस्तित्व के साथ गुरु की शरण में जाना होता है। उसे हर परिस्थिति में, मान-अपमान, लाँछन-तिरस्कार में, यहाँ तक कि मृत्यु तुल्य कष्ट को झेलने के लिए सहर्ष तैयार एवं तत्पर रहना पड़ता है। यदि वह अपने मृत्यु के प्रमााण पत्र में अपने प्राण से हस्ताक्षर करता है, तभी वह अपने इष्ट की चाहत व प्रेम का सच्चा अधिकारी बन सकने की प्रथम शर्त पूर्ण करता है। इसके पश्चात् गुरु का प्रेम जब शिष्य पर बरसता है, कृपा अवतरित होती है, तो शिष्य का जीवन एक नए जन्म की ओर अग्रसर होता है।
गुरु की कृपा पाप को काटने के लिए महाकष्ट के रूप में उतरती है, परन्तु उसकी दया से सांसारिक जीवन सुख-सुविधाओं से भर जाता है। जब वह दया करते हैं, तो मान-सम्मान, प्रतिष्ठा व भौतिक वैभव में बाढ़-सी आ जाती है पर उनकी महाकृपा से जीवन जीने के लिए भी तरस जाता है। स्वामी विवेकानन्द कहते हैं कि जब जीवन में सद्गुरु की कृपा बरसती है, तो कठिनाइयाँ ट्रेन के डिब्बे के समान धड़धड़ाते हुए चलती चली आती है। एक गई नहीं कि दूसरी आ जाती है। गुरु उन पर दया करते हैं जिनका मन और शरीर आध्यात्मिक शक्तियों को धारण और ग्रहण करने लायक नहीं होता और उन्हें उनके सांसारिक वैभव प्रदान करते हैं, परन्तु जिनकी स्थिति इस लायक होती है, वे उन शिष्यों के चित्त में जमे सभी संस्कारों को धूल के समान झाड़ देते है। सत्पात्र शिष्यों पर गुरु-कृपा बरसती है।
शिष्यत्व ग्रहण करने के लिए हमें उन्हीं के कार्यों को निष्काम भाव से करना चाहिए। गुरु स्मरण एवं गुरु कार्य से ही शिष्यत्व की पात्रता आती है। अत: इस गुरुपूर्णिमा से हमें कुछ विशेष करने का संकल्प लेना चाहिए। तभी हमारे सद्गुरु हमारे जीवन में अवतरित होंगे और जीवन धन्य बन सकेगा।
डॉ. प्रणव पण्ड्या

 

लेख: चीन को आर्थिक मोर्चे पर मात देने से ही बनेगी बात-कृष्णमोहन झा

लेख: चीन को आर्थिक मोर्चे पर मात देने से ही बनेगी बात-कृष्णमोहन झा

हम एक बार फिर अपने पडोसी देश चीन के छल का शिकार हो गए। पिछले कुछ दिनो में चीन के साथ सैन्य स्तर की थोड़ी सी वार्ता के बाद ही हम अपने पडोसी देश की बातों में आ गए। उसने हमारी जमीन पर अपना नाजायज कब्जा छोडऩे का हमें आश्वासन दिया और हमने झट यह मान लिया कि अतीत में कई बार हमें अपने छल का शिकार बना चुका हमारा पडोसी देश इस बार हमारे साथ कोई विश्वासघात नहीं करेगा।इधर हम वास्तविक नियंत्रण रेखा पर जारी विवाद का जल्द ही शांतिपूर्ण समाधान निकल आने की उम्मीदों के फलीभूत होने की प्रतीक्षा कर रहे थे और उधर चीन हमारी उम्मीदों पर पानी फेरने की साजिश रचने में जुटा हुआ था और आखिर में वही हुआ जिसकी आशंका को हम हमेशा नकारतेआए हैं।इस बार भी हमारी उम्मीदों पर चीन के धोखे ने पानी फेर दिया। लद्दाख क्षेत्र में 14 हजार फुट की ऊँचाई पर स्थित गलवान घाटी में चीनी सैनिकों ने निहत्थे भारतीय. सैनिकों के साथ जो क्रूरता दिखाई वह उसकी ऐसी शर्मनाक कायराना हरकत थी जिसकी जितनी भी निंदा की जाए कम है। इस हमले में भारतीय सेना के एक कर्नल सहित 20जवान शहीद हो गए। भारतीय सेना की जवाबी कार्रवाई में चीन के भी 43 सैनिक मारे गए और उसे भी काफी नुकसान पहुंचा। आश्चर्य की बात तो यह है कि चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स में दोनों देशों के बीच हुई हिंसक झडप के लिए चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने भारतीय सेना को जिम्मेदार ठहराने में भी कोई देर नहीं की। चीन की इस हरकत पर सारे देश में आक्रोश है देश के कई भागों में चीनी सामान की होली जलाई जा रही है और चीन से आयात किए जाने सामान का बहिष्कार करने के एक अभियान की भी शुरुआत हो चुकी है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि देश की सीमा पर वीर जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। सारा देश भी यही चाहता है कि चीन को इस बार ऐसा सबक सिखाया जाए कि वहदुबारा भारत को धोखा देने की हिमाकत न कर सके। एक कहावत है कि दूध का जला छाछ भी फूंक फूंक पीता है अब जब भी चीन के साथ सीमा विवाद समाधान की उम्मीद करें तो हमें इस कहावत में छिपे भावार्थ को कभी नहीं भूलना चाहिए। चीन की कुटिलता इस बात से भी जाहिर होती है कि उसने भारतीय सेैनिकों पर तब आक्रमण किया जब वे पूरी तरह निहत्थे थे और यही नहीं, भारतीय सैनिकों पर चीन के सैनिकों ने लोहे के कांटेदार तारों में लिपटी लाठियों एवं पत्थरों से हमला करके खुद ही यह साबित कर दिया कि अपनी घृणित मानसिकता का प्रदर्शन करने में भी उन्हें कोई शर्म महसूस नहीं होती। चीन की कुटिलता इस बात से भी जाहिर हो जाती है कि उसने वास्तविक नियंत्रण रेखा पर सोची समझी खुराफात करने के लिए यह नाजुक समय चुना जब भारत में कोरोना वायरस के संक्रमण की रफ्तार रोजाना भयावह गति से बढ़ रही है और उस पर नियंत्रण पाने के सारे उपाय निष्फल सिद्ध हो रहे हैं। वैसे भी जब चीन को जब इस बात के लिए कोई शर्मिंदगी नहीं है किै जिस जानलेवा वायरस ने दुनिया भर में लाखों जिन्दगियों को लील लिया है उसका जन्म उसके अपने वुहान शहर में स्थित एक प्रयोग शाला में हुआ था तब यह तो कल्पना ही व्यर्थ है कि निहत्थे भारतीय सैनिकों पर हमले और उसके लिए यह नाजुक समय चुनने पर उसके अंदर कभी शर्मिंदगी का भाव जागेगा।प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कोरोना संकट की ताज़ा स्थिति पर विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों से चर्चा के दौरान दो टूक कहा है कि भारत की अखंडता और संप्रभुता को कोई चुनौती नहीं दे सकता। हम ऐसी हर चुनौती का प्रतिकार करने में समर्थ हैं। प्रधान मंत्री ने यह भी कहा कि सीमा पर हमारे जो सौनिक मारते मारते मरे हैं उनका बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा।प्रधान मंत्री के इस कथन का आशय यही है कि हम चीन को उसकी इस हिमाकत का मुंहतोड़ जवाब दिए बिना चैन से नहीं बैठेंगे। सीमा पर तैनात सैनिकों को सरकार की ओर से पूरी छूट दे दी गई है। अब सारा देश यह जानने के लिए उत्सुक है कि चीन के साथ हिसाब चुकता करने के लिए सरकार उसके विरुद्धकिस तरह की कार्रवाई करने का मन बना चुकी है यद्यपि चीन के साथ हिंसक झडप में चीन के जो सैनिक मारे गए हैं उनकी संख्या हमारे शहीद सैनिकों से कहीं अधिक है। भारतीय विदेश मंत्रालय ने चीन के कूटनीतिक स्तर पर बातचीत के दौरान जो दबाव बनाया उसके फलस्वरूप चीन को भारत के दस जवानों को भी छोडऩा पड़ा है जिनमें दो अधिकारी भी शामिल हैं लेकिन इस घटना के बाद चीन अपनुी खुराफात से बाज आएगा यह मान लेना हमारी भूल होगी। गौरतलब है कि गलवान घाटी के जिस हिस्से में यह हिंसक झडप हुई उसे चीन अभी भी अपना भूभाग बता रहा है जबकि भारत यह स्पष्ट कह चुका है कि गलवान घाटी भारत का ही हिस्सा है। जाहिर सी बात है कि चीन इतनी आसानी से रास्ते पर नहीं आएगा लेकिन इस मुद्दे पर देश के अंदर जो राजनीति हो रही है उसके लिए यह अवसर उचित नहीं है। प्रधानमंत्री के बारे में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी जो टिप्पणियां कर रहे हैं उनसे तो विपक्ष भी सहमत नहीं है। प्रधान मंत्री ने विगत दिनों जो सर्वदलीय बैठक बुलाई थी उसमें भी कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने ऐसे सवाल, उठाए जो राहुल गांधी पहले ही कर चुके हैं परंतु इस सर्वदलीय बैठक में राकांपा अध्यक्ष शरद पवार और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री व तृणमूलकांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी जैसे विरोधी नेताओं ने भी जब राष्ट्र की संप्रभुता और अखंडता से जुड़े इस मुद्दे पर सरकार के साथ एकजुटता प्रदर्शित की तब कांग्रेस से ऐसे सवालों की अपेक्षा नहीं थी जिनका चीन हमारे देश के विरुद्ध दुष्प्रचार करने में इस्तेमाल कर सकता है।चीन ने वास्तविक सीमारेखा पर जो खुराफात की है उसके पीछे कई कारण हैं लेकिन तात्कालिक कारण तो यही माना जा रहा है कि जिस कोरोना वायरस ने सारी दुनिया में हाहाकार की स्थिति पैदा कर दी है उसकी उत्पत्ति चीन की एक प्रयोगशाला में होने के आरोपों को नकारने की सारी कोशिशों में उसे असफलता हाथ लगी है। दुनिया के कई देश यह मानते हैं कि चीन को इसकी जांच के लिए अंतर्राष्ट्रीय वैग्यानिकों की टीम को अपने यहां अनुमति देना चाहिए। भारत ने इस पहल का समर्थन किया है।चीन ने इस खुराफात के जरिए अंतर्राष्ट्रीय जगत का ध्यान मोडने की कोशिश की है। वह दक्षिण एशिया में भारत के बढते प्रभाव से भी चिन्तित है।उसे यह बात अच्छी तरह मालूम है कि इस इलाके में भारत के पास ही उसके प्रभुत्व को चुनौती देने का साहस और सामर्थ्य है। अमेरिका के साथ भारत की बढती निकटता व जी-7 समूह का दायरा बढ़ा कर इस समूह में भारत को भी शामिल करने की अमेरिकी पहल से भी वह खफा है। इन सब कारणों के अलावा गलवान घाटी इलाके में भारत द्वारा सडक का निर्माण उसकी खीज का एक प्रमुख कारण है। गलवान घाटी से लगा हुआ अक्साई चिन्ता इलाके पर चीन का कब्जा है।पूर्वी लद्दाख में गत 15 वर्षों से भारत जो 255 किलोमीटर लंबी सडक बना रहा है उसके निर्माण पर चीन की आपत्ति को दरकिनार करते हुए सडकका निर्माण कार्य भारत ने नहीं रोका है। विस्तारवादी चीन इस इलाके पर अपना दावा जताता रहा है। इस सडक के बन जाने के बाद भारतीय सैनिकों को पूर्वी लद्दाख में आने जाने में काफ़ी सहूलियत होगी। यही बात चीन को परेशान कर रही है। इसलिए भी चीन ने वास्तव में भारत को परोक्ष धमकी देने की मंशा से यह हमला किया।चीन लगभग दो माहों से वास्तविक नियंत्रण रेखा पर खुराफात करके भारत को परेशान करने की कोशिशों में जुटा हुआ है। हमें उसकी इन कोशिशों को विफल बनाने के लिए हथियारों के प्रयोग से पहले और दूसरे विकल्पों पर भी गंभीरता से सोचना होगा। इनमें सबसे अच्छा विकल्प यह है कि चीन को आर्थिक मोर्चे पर मात दी जाए पर इसके लिए हमें चीन पर अपनी निर्भरता लगातार कम करनी होगी और स्वदेशी के मंत्र को अपने जीवन में उतारना होगा। हमें चीन में निर्मित जीवनोपयोगी वस्तुओं का बहिष्कार केवल वर्तमान विवाद के सुलझ जाने तक नहीं करना है बल्कि हमें अब यह संकल्प ले लेना चाहिए कि हम चीन में निर्मित वस्तुओं का भविष्य में भी कभी इस्तेमाल नहीं करेंगे। इसी सिलसिले में कई प्रदेशों के व्यापारी संगठनों ने चीनी उत्पाद नहीं बेचने का जो फैसला किया है वह स्वागतेय है। हम अतीत में भी ऐसा कर चुके हैं परंतु हम अपने फैसले पर पहले ही अडिग रहे होते तो चीन भी काफी हद तक सुधर गया होता। खैर, तब नहीं तो अब सही।सरकार ने इस दिशा में कदम बढा दिए हैं। सीमा पर हिंसक झडप के बाद रेल मंत्रालय ने चीन की एक कंपनी को दिया गया 471 करोड़ रुपये का ठेका रद्द कर दिया है। गौरतलब है की कंपनियों ने भारत में भारी निवेश कर रखा है।हम चीन को जितना निर्यात करते हैं उसका करीब दोगुना चीन से आयात करते हैं।चीन दीर्घ काल से भारतीय बाजार पर कब्जा जमाने की मंशा पाले हुए है। हमें चीनी उत्पादों पर निर्भरता को न्यूनतम स्तर पर ले जाने का अभियान को कभी विराम नहीं देना चाहिए। चीन से इतने धोखे खाने के बाद हमें यह मान लेना चाहिए कि चीन वह देश नहीं हो सकता जिस पर हम आंख मूंद कर भरोसा कर सकें।

 

इस कठिन समय में विश्व को सत्य और करुणा की आवश्यकता है - मोनिका टॉमस

इस कठिन समय में विश्व को सत्य और करुणा की आवश्यकता है - मोनिका टॉमस

मेरे बचपन की शुरुआती यादें सादगी और स्वतंत्रता के बारे में थीं, ठीक मेरे जन्म-स्थान, कुन्नूर की तरह जहां मैं बड़ी हुई थी। मुझे लगता था जैसे लोगों का चरित्र नगर का ही एक प्रतिबिंब था ... सरल, सच्चा और दयालु। पीछे मुड़कर देखने पर, मुझे लगता है जैसे मेरा मन आज भी उन पहाड़ों की विशालता में भटक़ रहा हो। मैं हमेशा सोचती थी कि जीवन और अस्तित्व कहाँ से आया है! जैसे-जैसे समय बीतता गया, मैं अपनी पढ़ाई और फिर नौकरी के लिए एक बड़े शहर में चली गयी; मेरे पहले के निर्मल जीवन की तुलना में वहां जीवन बिलकुल विपरीत था। उन नए तरीकों से अनुकूल होने की कोशिश करते हुए, मैं उस शांत माहौल को खोज रही थी जो कभी मेरे पास था। लेकिन उस शांत अनुभव की तलाश सरल नहीं थी, क्योंकि लगभग हर चीज जो मुझे मिली वह सतही और दिखावटी थी।

2017 के दौरान, मेरा परिचय फालुन दाफा से हुआ (जिसे फालुन गोंग भी कहा जाता है, जो सत्य, करुणा और सहनशीलता के सिद्धांतों पर आधरित मन और शरीर का साधना अभ्यास है)। कुछ ही हफ्तों में मैं इसके व्यायाम और ध्यान को नियमित रूप से करने लगी, जिससे मुझे ऊर्जावान, बेहद जागरूक और खुद को कई तरीकों से जुड़ा हुआ महसूस होने लगा। मेरे मित्र के सुझाव पर, जिसने मुझे अभ्यास के बारे में बताया था, मैंने फालुन दाफा के संस्थापक श्री ली होंगज़ी द्वारा लिखित पुस्तक ज़ुआन फालुन को पढ़ना शुरू किया। पुस्तक में मुझे उन प्रश्नों के उत्तर मिले जो मैं हमेशा से खोज रही थी। मैंने सत्य, करुणा और सहनशीलता के सिद्धांतों को अपने जीवन में अपनाया और मुझे बहुत से सकारात्मक बदलाव महसूस हुए। मैं समझ गयी कि मौलिक रूप से बदलाव लाने के लिए अपने मन और शरीर का उत्थान करना आवश्यक है।

न्यूयॉर्क की अपनी एक यात्रा के दौरान, मैं चीन की एक लड़की से मिली, हमने थोड़ी बात की और मैंने उसे बताया कि कैसे फालुन गोंग का अभ्यास करने के बाद मैं एक बदले हुए व्यक्ति की तरह महसूस करती हूं। यह सुनने के बाद वह कुछ आशंकित लगी और उसने मुझे बताया कि यह अच्छा नहीं है और इसका अभ्यास नहीं करना चाहिए। यह सुन कर मुझे एक धक्का सा लगा, क्योंकि दुनिया भर के लाखों अन्य लोगों की तरह मुझे भी इस अभ्यास से बहुत लाभ हुआ था। मुझे तब एहसास हुआ कि चीन में फालुन गोंग पर हो रहे अत्याचार के बारे में मुझे बहुत कम जानकारी है।

जानकारी की तलाश में, मैंने पाया कि चीनी कम्युनिस्ट शासन ने जुलाई 1999 से इस अभ्यास को खत्म करने के लिए एक राष्ट्रव्यापी अभियान चलाया था। फालुन गोंग की बढ़ती लोकप्रियता और स्वतंत्रता को कम्युनिस्ट शासन ने एक चुनौती समझा और इसे दबाने के लिए क्रूर दमन आरम्भ कर दिया जो आज तक जारी है। लाखों फालुन गोंग अभ्यासियों को बंदी बना लिया गया, लेबर कैंप में भेजा गया, उनकी जमीन-जायदाद जब्त कर ली गयी। अभ्यासियों को शारीरिक और मानसिक यातनाएं दी जाती हैं और अभ्यास को छोड़ने के लिए ब्रेनवाश किया जाता है। डॉक्यूमेंट्री ह्यूमन हार्वेस्टदेखने के बाद, मुझे जो सबसे भयावह लगा, वह था कि चीनी शासन, सरकारी अस्पतालों की मिलीभगत से, फालुन गोंग अभ्यासियों के अवैध मानवीय अंग प्रत्यारोपण के अपराध में संग्लित है। इस अमानवीय कृत्य में हजारों फालुन गोंग अभ्यासियों की हत्या की जा चुकी है और बड़े पैमाने पर अवैध धन कमाया जा रहा है। 

आज चीन में, फालुन गोंग एक ऐसा विषय है, जिसके बारे में कोई बात नहीं करना चाहता। जिस चीनी लड़की से मैं मिली थी, उसी तरह कई लोग अब भी कम्युनिस्ट पार्टी द्वारा फैलाए गए झूठे प्रचार और मनगढ़ंत जानकारियों पर विश्वास करते हैं, वे या तो डर जाते हैं या फालुन गोंग के विषय में कुछ सुनना नहीं चाहते।

वास्तविकता जानने की कोशिश में, मुझे सच्चाई का पता चला। मुझे मानवाधिकारों के दुरुपयोग के इस मुद्दे पर तथ्यों को स्पष्ट करना और जागरूकता बढ़ाना उचित लगता है, क्योंकि इससे अमानवीय दमन को समाप्त करने में मदद मिलेगी । इस प्रकार लोग सूचित निर्णय ले सकते हैं और झूठे प्रचार से गुमराह नहीं होंगे।

कम्युनिस्ट चीन में प्रचलित परिस्थितियाँ किसी भी आस्था रखने वाले व्यक्ति के लिए बहुत विषम हैं, विशेष रूप से मेरे लिए जो अपने पहाड़ी नगर की अद्भुत यादें संजो कर रखे है, जहां लोग अभी भी शांति और सादगी का जीवन जीते हैं क्योंकि वे आस्था के मूल अधिकार का उपयोग करने के लिए स्वतंत्र हैं! इसके विपरीत मुझे फालुन गोंग के अद्भुत अभ्यास के माध्यम से अपनी खोज के उत्तर मिले। कठिन समय के बीच मुझे सबसे बड़ा उपहार मिला ... और मेरे अनुभवों के माध्यम से मुझे एहसास हुआ, सच्चाई कभी नहीं बदल सकती ... भले ही आपका परिवेश बदल जाए! इस कठिन समय में विश्व को सत्य और करुणा की आवश्यकता है।

(मोनिका टॉमस तमिलनाडु के पहाड़ी नगर कुन्नूर से हैं। उन्होंने मुंबई से अपने मॉडलिंग करियर की शुरुआत की। वर्तमान में, वे न्यूयॉर्क में एक अंतरराष्ट्रीय मॉडलिंग एजेंसी के लिए काम कर रही हैं और एक सफल फैशन मॉडल हैं) 

रविवार को लगेगा कंकण चूड़ामणि सूर्य ग्रहण: शास्त्री

रविवार को लगेगा कंकण चूड़ामणि सूर्य ग्रहण: शास्त्री

नईदिल्ली। अखिल भारतीय ब्राह्मण संरक्षण संघ के प्रदेश अध्यक्ष गोल्ड मेडलिस्ट आचार्य डी.पी.शास्त्री ने 21 जून रविवार को लगने वाले ग्रहण के संबंध में बताया है कि इस दिन कंकण चूड़ामणि ग्रहण है। इस दक्षिण चूड़ामणि सूर्यग्रहण का प्रभाव समस्त भारत और पूर्वी यूरोप आस्टे्रलिया  के केवल उतरी क्षेत्रों प्रशान्त एवं हिन्द्र महासागर मध्य पूर्वी एशिया पाकिस्तान, चीन, बर्मा, फिलीपीन्स में दिखाई देगा जिसका सुतक 12 घण्टें पूर्व लग जाता है। ऐसे तो आकाशीय घटना ग्रह के अनुसार बराबर होता रहता है। लेकिन जिसका प्रभाव धरातल-मानव से जुड़ा हो उसकी  चर्चा है। हमारे ज्योतिष शास्त्र में ऋषि-मुनि द्वारा की गई है। यह ग्रहण आषाढ़ कृष्ण पक्ष अमावस्या रविवार मृगशिरा आद्र्रा नक्षत्र में मिथुन राशि पर घटित हो रहा है। जो सुबह 09-15 से दोपहर 3-04 लगभग 5 घंटा 48 मिनट तक रहेगा जिसमें चार ग्रह का योग मिथुन राशि पर है। भारत की कुंडली में भी यह संयोग ठीक नहीं है। राजनीतिक में तनाव, व्यपार में नुकसान कोरोना महामारी से त्रस्त देश राज्य-सरकार की स्थिति भयावह रहेगी। शनि-गुरु-वक्री होने से भी भूकंप की स्थिति का सामना करना पड़ेगा। धर्म-क्षेत्र मिडिया, फिल्म-जगत् में भी तनाव का महौस रहेगा 29 सितम्बर 2020 के बाद शांति एवं वैश्विक महामारी से मुक्ति, मेडिसीन मिलने का योग बनेगा। विश्व में कही अनहोनी का भी योग वर्तमान में वन रहा है। मंगल के नक्षत्र में होने से जमीन-आग पंट्रोलियम खनिज पदार्थ में नुकसान रहेगा, लेकिन मेष-सिंह, मीन, राशि वालों के लिए लाभदायक रहेगा तथा शेष राशियों के लिए ठीक नहीं है। मिथुन, धनु राशि वाले तनाव एवं नुकसान में रहेंगे। इस ग्रहण के पूर्व ही संपूर्ण जगत त्रस्त है। यह योग अचानक सृष्टि क्रम के अनुसार फल देता है। सनातम परम्परा में धर्म ज्योतिष वेद का नेत्र है। जिससे देखकर हम गणना करते है। ग्रहण काल में सूर्य उपासना आदित्य हृदय स्त्रोत, इस्ट मंत्र जाप  शिव-दुर्गा-विष्णु स्त्रोत का पाठ करना चाहिए। नग्न आँखों से ग्रहण को ना देखें। ग्रहण काल के समय पका हुअ अन्न अशुद्ध हो जाता है। अन्न पदार्थ में कुशा-तुलसी रखें। बच्चें, गर्भवती-स्त्री, बुजुर्ग को सुतक दोष नहीं लगता है। चए ग्रह एक साथ होने से राजनीतिक तथा प्राकृतिक प्रकोप से व्यापार तथा जन-धन हानि होने का योग है। ग्रहण समाप्ति काल के बाद गंगा स्नान, ध्यान तीर्थ स्नान अन्न-जल, दान छाया पात्र काला तील, तेल का दान करना श्रेष्ठ होता है। मिथुन राशि के प्रधान नेता पाकिस्तान मुस्लिम देशों के केन्द्रिय सत्ता में परिवर्तन, यमुना  निकट क्षेत्रों के लिए कढिन चुनौतिपूर्ण समय रहेगा। प्राकृतिक प्रकोप से जन-धन, की हानि है। ग्रहण के बाद भी कुछ समय तक दमिक्ष अकाल जन्म स्थिति रहेगी। जिसका प्रभावा मिथुन संक्रन्ति तक रहेगा। वैश्वक महामारी से धन क्षत्र होगा। इस समय महामाई दुर्गा का ध्यान पूजन करना श्रेष्ठ होगा। वर्ष के अंत तक सब कुछ सामान्य होने की सम्भावना है।
लेख: नेपाल तो कठपुतली और मुखौटा है, आंखें तो है चीन की- शशांक शर्मा

लेख: नेपाल तो कठपुतली और मुखौटा है, आंखें तो है चीन की- शशांक शर्मा

कभी सांस्कृतिक एवं धार्मिक दृष्टि से भारत का सबसे विश्वासपात्र पड़ोसी देश नेपाल अब भारत विरोधी व्यवहार कर रहा है। पड़ोसियों के बीच अनबन होना कोई बड़ी बात भी नहीं है किन्तु जब दुनिया को कोरोना संकट भयभीत किए हुए है और सभी देश अपने नागरिकों को इस महामारी से बचाने का प्रयत्न करने में लगी हैं, ऐसे समय नेपाल संसद विधेयक पारित कर सीमा के क्षेत्रों को अपने नक्शे में मिला लेने की कार्यवाही करे तो थोड़ा आश्चर्य तो होता है। वह भी ठीक उस समय जब चीन की सेना अक्साई चीन के क्षेत्र में अतिक्रमण करने का प्रयास कर रहा हो। जैसे ही यह दोनों घटनाएं मीडिया में प्रसारित होती हैं, वैसे ही देश का एक विशेष समूह जिसमें विरोधी राजनीतिक पार्टियां भी शामिल हैं नरेन्द्र मोदी सरकार पर ग़ैर जि़म्मेदाराना टिप्पणी करने लगते हैं। क्या इन घटनाओं के पीछे एक सोच काम कर रही है या महज़ नेपाल और चीन का भारत विरोधी  व्यवहार एक संयोग ही है?

सबसे पहले देश के उन बौद्धिक टिड्डे दलों की टिप्पणियों की चर्चा करें, जिनके अनुसार मोदी सरकार के पहले नेपाल और भारत के संबंध अति मधुर थे। भारत सरकारों की में विदेश नीतियां कभी आम आदमी की चर्चा का विषय नहीं रहा इसलिए पूर्व काल में सब अच्छा था और मोदी सरकार के समय से ही पड़ोसी देशों से संबंध बिगड़े हैं जैसी चर्चा सोशल मीडिया पर चलाई जा रही हैं। भारत की स्वतंत्रता के पहले ब्रिटिश शासन में वर्ष 1816 में सागौली की संधि हुई थी जिसके जरिए भारत और नेपाल की सीमा रेखा तय की गई थी। स्वतंत्रता के बाद 1950 में तत्कालीन प्रधानमंत्री पं नेहरू ने नेपाल से शांति व मित्रता समझौता किया था, लेकिन इसके बाद ही नेपाल में भारत का विरोध शुरू हो गया था।

नेपाल में 1950 में राजशाही व्यवस्था थी और राणा वंश का शासन था, तब भारत नेपाल में राजनैतिक सुधार करने और लोकतंत्र स्थापना के लिए दबाव बना रहा था। इसका परिणाम हुआ कि 1950 के अंत में नेपाल में जनविद्रोह हो गया, राणा वंश को खत्म कर त्रिभुवन राजा बने। वहां वंशानुगत प्रधानमंत्री पद को समाप्त कर लोकतांत्रिक प्रणाली लागू की गई। 1951 में जब पं नेहरू नेपाल की यात्रा पर गए थे तभी राजा त्रिभुवन ने नेपाल को भारत में विलय करने का प्रस्ताव रखा था लेकिन नेहरू जी ने इसे अस्वीकार कर दिया। आज अगर वह प्रस्ताव स्वीकार कर ली गई होती तो दक्षिण एशिया का परिदृश्य ही अलग होता। ऐसा भी नहीं हुआ कि पं नेहरू के महान त्याग को नेपाली राजनीति में सम्मान मिला। इसके बाद चीन नेपाल में अपनी राजनीति शुरू कर दी। भारत नेपाल के बीच गंडक परियोजना का जमकर विरोध हुआ, 1959 आते आते जब भारत चीन के संबंध बिगडऩे लगे तो नेपाल कांग्रेस चीन से दोस्ती बढ़ाने का प्रस्ताव करने लगी। सह सही बात भी है, हर देश ताकतवर दोस्त चाहता है। नेपाल में चीन की कम्युनिस्ट पार्टी का प्रभाव बढऩे लगा। आखिरकार 2007 में माओवादियों की चीन की सत्ता हथिया ली और भारत में मूक शासन करने वाले दर्शक बन कर तमाशा देखते रहे।

नेपाल ने जिन क्षेत्रों को अपने नक़्शे में शामिल करने का विधेयक पारित किया है, वह विवाद तो 1950 में नहीं था। 1998 में आधिकारिक तौर पर नेपाल सरकार ने कालापानी क्षेत्र पर अपना दावा पेश किया। तब से अब तक 22 वर्ष गुजर चुके, अचानक नेपाल इतना बड़ा फैसला एकतरफा कैसे कर रहा है? इसे समझने के लिए आइंस्टाइन बुद्धि की आवश्यकता नहीं है। स्व.अटलबिहारी वाजपेयी की सरकार ने वर्ष 2000 में प्रधानमंत्री स्तर पर चर्चा कर सीमा विवाद को 2002 तक सुलझाने का संकल्प लिया। इसके बाद वर्ष 2001 में नेपाल के राजा सहित पूरे परिवार की हत्या हो गई, नेपाल की राजनीति में भूचाल आ गया। नेपाल में राजशाही का अंत कर लोकतंत्र की स्थापना करने की मांग होने लगी। इधर नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी और माओवादियों ने राजनीतिक हत्याएं शुरू कर दी।

इस बीच भारत में डॉ मनमोहन सिंह के नेतृत्व में यूपीए की सरकार बनी, यह बताना जरूरी है कि इस सरकार को भारत के कम्यूनिस्ट पार्टियां अपना समर्थन दे रही थी। स्वतंत्रता के बाद भारत का प्रत्येक प्रधानमंत्री नेपाल की यात्रा कर दोनों देशों के परस्पर संबंध को बेहतर करने की दिशा में अपनी भूमिका निभाई, यहां तक कि अल्प समय के लिए प्रधानमंत्री बने मोरारजी देसाई व चन्द्रशेखर ने भी नेपाल की आधिकारिक यात्रा की। क्या यह आश्चर्य का विषय नहीं है कि 2004 से 2014 तक दस साल प्रधानमंत्री रहे डॉ मनमोहन सिंह ने एक बार भी नेपाल की यात्रा नहीं की! यही वह समय था जब नेपाल की सत्ता पर चीन समर्थित माओवादियों का कब्जा हो गया। वहीं नरेन्द्र मोदी 2004 में प्रधानमंत्री बने तब से पिछले 6 वर्षों में उन्होंने छह बार नेपाल की यात्रा की है, इसका मतलब क्या है? हमने अपनी आंखों के सामने नेपाल जैसे मित्र देश को चीन के चंगुल में फंसने के लिए छोड़ दिया। अब वे लोग जिनकी मंशा नेपाल को चीन का उपनिवेश बनाने की थी नेपाल के वर्तमान निर्णय को लेकर नरेन्द्र मोदी सरकार को कटघरे में खड़ा कर रहे हैं।

अब यह समझना आसान है कि नेपाल इस संकट के समय भारत के विरूद्ध कार्यवाही क्यों कर रहा है? नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारत एक वैश्विक शक्ति बनने की राह में है, वहीं दूसरी ओर कोरोना फैलाने का आरोप झेल रहा चीन दुनिया की आंख की किरकिरी बना हुआ है। चीन की अर्थव्यवस्था भी डावाँडोल है और चीनी कम्यूनिस्ट पार्टी की राजनीति में भी संकट हैं, उपर से हांगकांग में चीन का विरोध बढ़ता ही जा रहा है। वहीं भारत ने पाकिस्तान पर सैन्य कार्रवाई करने के बाद जम्मू- कश्मीर में लागू धारा 370 को खत्म कर जो राज्य से केन्द्र शासित प्रदेश बनाने की कार्यवाही की है, उससे चीन परेशान है। उसकी परेशानी पाक अधिकृत कश्मीर के कारण है जहां से होकर चीन का निर्माणाधीन मार्ग गुजरता है और ग्वादर बंदरगाह को जोड़ता है। भारत अब पाक अधिकृत कश्मीर को वापस भारत के नक़्शे पर लाने की दिशा में जुटा हुआ है। पिछले दिनों पीओके क्षेत्र के लिए मौसम की जानकारी देना भारत में शुरू हो गया है। इन तमाम कारणों से बौखलाया चीन लद्दाख से लगे अक्सई चीन क्षेत्र पर कब्जा करने की चाल चल रहा है। इसके पीछे चीन की दबाव बनाने की कूटनीति है।

चीन को इस बात से भी परेशानी है कि भारत ने लिपुलेख तक सड़क बना ली है, इससे भारत से मानसरोवर की यात्रा पर जाने वाले भारतीय के लिए न केवल दूरी कम हो गई, बल्कि चीन से होकर जाने की निर्भरता नहीं रहेगी। संभव है चीन के लोगों का रोजगार इस निर्माण से छीन जाय। भारत की सेना जिस तरह से सीमा पर सड़क व अन्य अधोसंरचना को मजबूत कर रही है, उससे भी चीन को चिढ़ होना स्ववभविक है। ऊपर से कोराना संकट के चलते चीनी अर्थव्यवस्था चौपट हो रही है, ऊपर से दुनिया भर की कंपनियां चीन छोड़कर भारत आने पर विचार कर रहीं हैं। तमाम कारणों से चीन का भारत से नाराज़ होना तो बनता ही है।

अब नेपाल भारत से अपने संबंध क्यों खराब कर रहा है, इस सवाल का जवाब भी चीन की साजिश में है। दरअसल पिछले कुछ महिनों से नेपाल में राजनैतिक घमासान चल रहा है। नेपाली कम्यूनिस्ट पार्टी के वरिष्ठ नेता प्रधानमंत्री के पी शर्मा ' ओलीÓ से इस्तीफ़ा मांग रहे थे, इस पर चीन ने नेपाली कम्यूनिस्ट नेताओं को ओली का विरोध नहीं करने की हिदायत दी। चीन के अतिक्रमण के विरूद्ध भारतीय प्रतिवाद और कोरोना के लिए चीन विरोधी गुट में भारत को शामिल कर लेने और भारत में चीन के आयात को रोकने व आत्मनिर्भर अर्थव्यवस्था की नीति से चीन को होने वाले संभावित नुकसान के विरूद्ध नेपाल का भारत विरोधी रवैया भारत के प्रति चीन का प्रतिकार है।

अभी नेपाल संसद की कार्रवाई हुई उसमें केवल नाम नेपाल का है, उसे मुखौटा समझिए, भारत की ओर जो नेपाल की ओर से आंखें तरेरी जा रही है, वह मुखौचे के पीछे चीन की आंखें हैं। उनके समर्थन में भारत के भी कम्यूनिस्ट अपनी सेवा चीन के षडयंत्र को हमेशा की तरह दे रहे हैं। लेकिन याद रहे आज 1962 वाला भारत नहीं है, वह दुश्मन से डरता नहीं, लड़ता है जरूरत होने पर घर में घुसकर मारता भी है।

 

लेख: आपराधिक कृत्यों से संकट में गजराज- अरविन्द मिश्रा

लेख: आपराधिक कृत्यों से संकट में गजराज- अरविन्द मिश्रा

केरल के मल्लापुरम में एक हथिनी के साथ क्रूरता का जो दृश्य सामने आया, वह इनसानियत को शर्मशार करने वाला है। ऐसी घटनाएं मानवीय आचरण की मर्यादाओं को तिलांजलि देती हैं। आखिर हम किस समाज में जी रहे हैं। क्या मनुष्य अपनी स्वार्थसिद्धि के लिए इतना नैतिक शून्य हो गया है कि न्यूनतम मानवीय मूल्य का भी जीवन में अकाल होता जा रहा है। कम से कम मल्लापुरम में गर्भवती हथिनी के साथ किए गए पाश्विक कृत्य से तो यही सिद्ध होता है। सोचिए किस तरह कुछ लोगों ने भूख शांत करने के लिए इनसानी दायरे में प्रवेश कर आई हथिनी को अनानास में बारूद भरकर खिला दिया। पटाखों की शक्ल में बारूद ने हथिनी की सूंड व शरीर में इतने गहरे जख्म पहुंचा दिए कि गर्भवती हथिनी तड़प-तड़प कर मर गई। ऐसे ही एक विचलित करने वाली घटना हिमाचल के बिलासपुर से सामने आई है, जिसमें एक गर्भवती गाय को आटे में पटाखा देने से उसका जबड़ा उड़ गया। मामले में आरोपी की गिरफ्तारी हुई है।

 

सोशल मीडिया में केरल की घटना को लेकर देश ने काफी आक्रोश व्यक्त किया। महज कुछ घंटों के भीतर ही वृहद ऑनलाइन याचिका अभियान चलाए गए। निश्चित रूप से यह सिर्फ तात्कालिक रूप से भावनात्मक पीड़ा व्यक्त करने मात्र का नहीं बल्कि गंभीर सामूहिक चिंतन का विषय है। देश में विगत कुछ वर्षों में हाथियों के साथ हो रही क्रूरता का आकलन पूर्व केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी द्वारा प्रस्तुत उस तथ्य से किया जा सकता है, जिसमें उन्होंने बताया है कि पिछले 20 साल से एक भी हाथी की मौत प्राकृतिक कारणों से नहीं हुई है। बल्कि जितने भी हाथियों की मृत्यु हो रही है, उसकी वजह मानवीय हिंसा और इनसानी लापरवाही ही प्रमुख है।

 

मेनका गांधी द्वारा प्रस्तुत हाथियों की मौत के आंकड़े इसलिए भी चिंता पैदा करते हैं क्योंकि पिछले कई दशकों से मेनका गांधी हाथियों समेत पशुओं के अधिकारों की लड़ाई में नागरिक संगठनों को नेतृत्व प्रदान करती रही हैं। मल्लापुरम में हाथियों के साथ निर्दयता का यह पहला मामला नहीं है, यहां हाथियों को मौत के घाट उतारने और उससे आर्थिक लाभ अर्जित करने का पूरा संगठित गिरोह संचालित किया जाता रहा है। पशुओं के साथ क्रूरता के लिए यह क्षेत्र दुनियाभर में कुख्यात हो चुका है। देश में सर्वाधिक शिक्षित जिलों में शुमार होने के बाद भी यहां ऐसा शायद ही कोई दिन और सप्ताह रहा हो जब पशु-पक्षियों के सामूहिक संहार के समाचार न आते हों। पक्षियों और जानवरों को मौत के घाट उतारने के लिए यहां ऐसे बर्बर तरीके अपनाए जाते हैं, जो सभ्य समाज में मानवता का निर्वात पैदा होने का प्रमाण देते हैं। इनमें कभी सड़कों, नदी और तालाब में जहरीला रसायन फैलाकर पशु-पक्षियों और जलीय जंतुओं को मौत के घाट उतारने और हाथियों का बीमा कराकर उनके शरीर में जंग लगी कील ठोककर उन्हें मौत देकर मुआवजा व उनके दांत, मांस आदि बेचकर आर्थिक लाभ प्राप्त करने के कृत्य शामिल हैं। यह सब कुछ संगठित गिरोह के रूप में अंजाम दिया जाता है। लंबे समय से पर्यावरण प्रेमी इनके खिलाफ़ आवाज उठा रहे हैं। पशुओं के अधिकारों के प्रति असंवेदनशील केरल सरकार ने शायद ही कभी पशुओं के साथ क्रूरता करने वाले और उन्हें शह देने वाले अधिकारियों पर शिकंजा कसने का प्रयास किया हो। दुर्भाग्य से पशुओं की क्रूरता और विशेष रूप से हाथियों के संरक्षण को लेकर लड़ी जा रही कानूनी लड़ाई भी पिछले कई साल से सुप्रीम कोर्ट में लंबित है। यहां कई नागरिक संगठनों ने हाथियों पर निजी स्वामित्व समाप्त करने की गुहार लगाते हुए उसे अनुसूची-एक में शामिल किए जाने की मांग की है।
हमारे पर्यावरण व पारिस्थितिकी तंत्र की अनुकूलता के लिए हाथियों का होना कितना अहम है, इस पर समय-समय पर अंतर्राष्ट्रीय पर्यावरणीय संस्थाएं प्रकाश डालती रही हैं। हाथियों के विलुप्त होने के पीछे उनसे क्रूरता के साथ पर्यावरण के साथ हो रही छेड़छाड़ भी कम जिम्मेदार नहीं है। उनके परिवेश को हमने तहस-नहस करने का कार्य किया है। वर्ष 2019 में नेचर जियोसाइंस में प्रकाशित एक रिपोर्ट इस संकट की ओर संकेत करती है, जिसमें कहा गया है कि जंगल से हाथी विलुप्त हो गये तो ग्रीन हाउस गैसों की मात्रा 7 प्रतिशत तक बढ़ जाएगी। इससे ओजोन की परत पिघलने जैसे घातक परिणाम सामने आएंगे।

 

दरअसल, हाथियों को बड़े पौधों के बीज को एक स्थान से दूसरे स्थान तक प्रसारित करने में सहायक माना जाता है, यानी इनकी उपस्थिति से पर्यावरण में बड़े वृक्षों की संख्या बढ़ती है। पादप वैज्ञानिकों के मुताबिक भारत में 300 से अधिक पादप प्रजातियां भी हाथियों के साथ विलुप्त हो जाएंगी। ऐसे में आवश्यकता है वन्य जीवों के साथ क्रूरता के ऐसे किसी भी कृत्य पर कड़ाई से रोक लगाने की अन्यथा हाथी सिर्फ किस्से और कहानी का हिस्सा बनकर रह जाएंगे।

 

लेख: कोरोना छीन ले गया होंठों की लाली- शमीम शर्मा

लेख: कोरोना छीन ले गया होंठों की लाली- शमीम शर्मा

कोरोना के कारण और जो कुछ हुआ सो हुआ पर महिलाओं के सोलह-शृंगार पर भी आंच आ गई है। हमारे पुरातन साहित्यिक ग्रंथों में महिलाओं के सोलह-शृंगारों का बार-बार उल्लेख मिलता है, जिसमें बिंदी, सुर्खी, सिंदूर, काजल आदि प्रमुख हैं। पर मास्क ने सुर्खी यानी लिपस्टिक पर कहर ढा दिया है। मुझे नहीं पता कि भविष्य में लिपस्टिक निर्माता क्या बनायेंगे पर यह सवाल ज्यादा विकराल है कि अब महिलाएं अपने अधरों पर लिपस्टिक क्यों और कैसे लगायेंगी? यह उल्लेख भी जरूरी है कि पुराने जमाने की सुर्खी ही आज की लिपस्टिक है। सुर्खी को लाली भी कहते हैं।
कुदरत ने भी होंठों की कमाल रचना की है जैसे कि लाल कमल की दो पंखुडिय़ां हों। हिन्दी साहित्य में भी नखशिख वर्णन करते हुए सबसे अधिक उपमायें आंख व होंठ के लिए सृजित हुई हैं। जिन अधरों पर जायसी, बिहारी-घनानंद जैसे कवियों ने अनेक रचनाएं रचीं, अब कोरोना काल में उन अधरों पर पटाक्षेप हो गया है। रंगबिरंगे मास्क होंठों पर जा विराजे हैं। मास्क ने होंठों को यूं ढक लिया है जैसे गाय-भैंस का दूध निकालने के बाद कोई स्त्री भरी बाल्टी दूध को अचानक पल्लू से ढक लिया करती कि कहीं नजऱ न लग जाये।


अखरोट के पेड़ की छाल 'दनदसा’ का उपयोग सदियों से दांतों को चमकाने के लिए किया जाता है पर इसका असर होंठों पर यह होता है कि वे सुर्ख हो जाते हैं। गज़़ल गायक जगजीत सिंह की ताउम्र एक ही रिक्वेस्ट थी—'होंठों से छू लो तुम मेरा गीत अमर कर दो’ अब तो गीत के अमर होने की सारी संभावनाएं शून्य हो चली हैं।


लड़कियां लाल या संतरी रंग की लिपस्टिक में भी बीस शेड ढूंढ़ लेती हैं पर लड़के शैम्पू की जगह कंडीशनर से नहाकर कहेंगे कि इस शैम्पू में झाग ही नहीं हैं।


होंठ सिर्फ होंठ नहीं हैं बल्कि मुस्कुराहट का माध्यम भी है। हंसी की तो आवाज़ होती है पर होंठों पर फैली मुस्कान का तो देखे बगैर पता नहीं चलता। इसी मुस्कान के बारे में कहा गया है कि लड़की हंसी और फंसी। इस पर एक मनचले की फब्ती है कि एक लड़की स्माइल दे-देकर थक गई, पर मैंने उसे सीट नहीं दी।


 

अनूठा सयोग एक महिने के भीतर लगने वाले हैं 3 बड़े ग्रहण

अनूठा सयोग एक महिने के भीतर लगने वाले हैं 3 बड़े ग्रहण

नईदिल्ली, वैसे तो ग्रहण एक खगोलीय घटना है, लेकिन हिंदू धर्म में इसे बेहद महत्वपूर्ण माना गया है। इस साल 2020 में कुल 6 ग्रहण लगने वाले हैं, जिनमें से कुल तीन ग्रहण अगले 30 दिन यानी एक महीने के भीतर लगने वाले हैं। जून से जुलाई महीने के बीच एक के बाद एक लगातार 3 बड़े ग्रहण लग रहे हैं।

एक महीने में होने वाले इन तीनों ग्रहण पर वैज्ञानिकों और ज्योतिष शास्त्र के विद्वानों ने नजरें गढ़ा रखी हैं। ज्योतिर्विद करिश्मा कौशिक ने आने वाले तीन ग्रहण की समय और तिथि को लेकर विस्तार से जानकारी दी है। ज्योतिषविद ने बताया कि साल का पहला चंद्र ग्रहण 10 जनवरी 2020 को लग चुका है, अब 5 जून 2020 को साल का दूसरा चंद्र ग्रहण लगने जा रहा है। यह एक उपछाया ग्रहण होगा जो भारत समेत एशिया, अफ्रीका और यूरोप में नजर आएगा। 5 जून 2020 को लगने वाला चंद्र ग्रहण रात 11 बजकर 15 मिनट से आरंभ होगा और इसका समापन अगले दिन यानी 6 जून को रात 2 बजकर 34 मिनट पर होगा।

इसके 15 दिन बाद यानी 21 जून 2020 को दूसरा चंद्र ग्रहण लगेगा। यह साल का तीसरा चंद्र ग्रहण होगा। यह ग्रहण भारत समेत सउदी, साउथ-ईस्ट और एशिया में भी पूर्ण रूप से नजर आने की संभावना है। 21 जून को लगने वाला चंद्र ग्रहण सुबह 9 बजकर 15 मिनट आरंभ होगा और दोपहर 2 बजकर 2 मिनट तक रहेगा। ज्योतिर्विद का कहना है कि दोपहर करीब 12 बजे इस ग्रहण का प्रभाव काफी ज्यादा बढ़ जाएगा, इसलिए इस ग्रहण से काफी ज्यादा संभलकर रहने की जरूरत होगी।

इसके बाद एक महीने के भीतर लगने वाले तीसरने ग्रहण की तारीख 5 जुलाई 2020 है। ये भी एक चंद्र ग्रहण ही होगा, लेकिन शायद यह भारत में नजर नहीं आएगा। यह साउथ ईस्ट समेत अफ्रीका और अमेरिका में नजर आ सकता है। यह ग्रहण सुबह 8 बजकर 37 मिनट से लेकर सुबह 11 बजकर 22 मिनट तक रहेगा। सुबह के वक्त चंद्र ग्रहण लगने की वजह से भारत में यह नजर नहीं आएगा। जिन देशों में उस वक्त रात्रि होगी, यह ग्रहण वहीं नजर आने वाला है।
 

क्यों करती हैं महिलाएं वट सावित्री का व्रत, क्या है महत्व एवं पूजन विधि

क्यों करती हैं महिलाएं वट सावित्री का व्रत, क्या है महत्व एवं पूजन विधि

इस व्रत में महिलाएं वट वृक्ष की पूजा करती हैं, सती सावित्री की कथा सुनने व वाचन करने से सौभाग्यवती महिलाओं की अखंड सौभाग्य की कामना पूरी होती है। इस व्रत को सभी प्रकार की स्त्रियां (कुमारी, विवाहिता, विधवा, कुपुत्रा, सुपुत्रा आदि) इसे करती हैं। इस व्रत को स्त्रियां अखंड सौभाग्यवती रहने की मंगलकामना से करती हैं।

पुराणों में यह स्पष्ट किया गया है कि वट में ब्रह्मा, विष्णु व महेश तीनों का वास है। मान्यता अनुसार इस व्रत को करने से पति की अकाल मृत्यु टल जाती है। वट अर्थात बरगद का वृक्ष आपकी हर तरह की मन्नत को पूर्ण करने की क्षमता रखता है।
बरगद या वटवृक्ष : अक्सर आपने देखा होगा की पीपल और वट वृक्ष की परिक्रमा का विधान है। इनकी पूजा के भी कई कारण है। आध्यात्मिक दृष्टि से देखें तो वट वृक्ष दीर्घायु व अमरत्व के बोध के नाते भी स्वीकार किया जाता है। धार्मिक मान्यता है कि वट वृक्ष की पूजा लंबी आयु, सुख-समृद्धि और अखंड सौभाग्य देने के साथ ही हर तरह के कलह और संताप मिटाने वाली होती है।

पीपल के बाद बरगद का सबसे ज्यादा महत्व है। पीपल में जहां भगवान विष्णु का वास है वहीं बरगद में ब्रह्मा, विष्णु और शिव का वास माना गया है। हालांकि बरगद को साक्षात शिव कहा गया है। बरगद को देखना शिव के दर्शन करना है।
हिंदू धर्मानुसार पांच वटवृक्षों का महत्व अधिक है। अक्षयवट, पंचवट, वंशीवट, गयावट और सिद्धवट के बारे में कहा जाता है कि इनकी प्राचीनता के बारे में कोई नहीं जानता। संसार में उक्त पांच वटों को पवित्र वट की श्रेणी में रखा गया है। प्रयाग में अक्षयवट, नासिक में पंचवट, वृंदावन में वंशीवट, गया में गयावट और उज्जैन में पवित्र सिद्धवट है।


आइए जानते हैं सुख-समृद्धि और अखंड सौभाग्य देने वाले वट वृक्ष की विशेषताएं -

* पुराणों में यह स्पष्ट किया गया है कि वट में ब्रह्मा, विष्णु व महेश तीनों का वास है।

* वट पूजा से जुड़े धार्मिक, वैज्ञानिक और व्यावहारिक पहलू हैं।

* वट वृक्ष ज्ञान व निर्माण का प्रतीक है।

* भगवान बुद्ध को इसी वृक्ष के नीचे ज्ञान प्राप्त हुआ था।

* वट एक विशाल वृक्ष होता है, जो पर्यावरण की दृष्टि से एक प्रमुख वृक्ष है, क्योंकि इस वृक्ष पर अनेक जीवों और पक्षियों का जीवन निर्भर रहता है।

* इसकी हवा को शुद्ध करने और मानव की आवश्यकताओं की पूर्ति में भी भूमिका होती है।

* दार्शनिक दृष्टि से देखें तो वट वृक्ष दीर्घायु व अमरत्व के बोध के नाते भी स्वीकार किया जाता है।

* वट सावित्री में स्त्रियों द्वारा वट यानी बरगद की पूजा की जाती है।

* इसके नीचे बैठकर पूजन, व्रत कथा आदि सुनने से मनोकामना पूरी होती है।

* वट वृक्ष का पूजन और सावित्री-सत्यवान की कथा का स्मरण करने के विधान के कारण ही यह व्रत वट सावित्री के नाम से प्रसिद्ध हुआ।
* धार्मिक मान्यता है कि वट वृक्ष की पूजा लंबी आयु, सुख-समृद्धि और अखंड सौभाग्य देने के साथ ही हर तरह के कलह और संताप मिटाने वाली होती है।

* प्राचीनकाल में मानव ईंधन और आर्थिक जरूरतों को पूरा करने के लिए लकड़ियों पर निर्भर रहता था, किंतु बारिश का मौसम पेड़-पौधों के फलने-फूलने के लिए सबसे अच्छा समय होता है। साथ ही अनेक प्रकार के जहरीले जीव-जंतु भी जंगल में घूमते हैं। इसलिए मानव जीवन की रक्षा और वर्षाकाल में वृक्षों को कटाई से बचाने के लिए ऐसे व्रत विधान धर्म के साथ जोड़े गए, ताकि वृक्ष भी फलें-फूलें और उनसे जुड़ी जरूरतों की अधिक समय तक पूर्ति होती रहे।
इस व्रत के व्यावहारिक और वैज्ञानिक पहलू पर गौर करें तो इस व्रत की सार्थकता दिखाई देती है।

वट सावित्री व्रत-पूजा विधि

* प्रात:काल घर की सफाई कर नित्य कर्म से निवृत्त होकर स्नान करें।

* तत्पश्चात पवित्र जल का पूरे घर में छिड़काव करें।

* इसके बाद बांस की टोकरी में सप्त धान्य भरकर ब्रह्मा की मूर्ति की स्थापना करें।

* ब्रह्मा के वाम पार्श्व में सावित्री की मूर्ति स्थापित करें।
* इसी प्रकार दूसरी टोकरी में सत्यवान तथा सावित्री की मूर्तियों की स्थापना करें। इन टोकरियों को वटवृक्ष के नीचे ले जाकर रखें।

* इसके बाद ब्रह्मा तथा सावित्री का पूजन करें।

अब निम्न श्लोक से सावित्री को अर्घ्य दें-

अवैधव्यं च सौभाग्यं देहि त्वं मम सुव्रते।
पुत्रान्‌ पौत्रांश्च सौख्यं च गृहाणार्घ्यं नमोऽस्तुते।।

* तत्पश्चात सावित्री तथा सत्यवान की पूजा करके बड़ की जड़ में पानी दें।

इसके बाद निम्न श्लोक से वटवृक्ष की प्रार्थना करें-

यथा शाखाप्रशाखाभिर्वृद्धोऽसि त्वं महीतले।
तथा पुत्रैश्च पौत्रैश्च सम्पन्नं कुरु मा सदा।।

* पूजा में जल, मौली, रोली, कच्चा सूत, भिगोया हुआ चना, फूल तथा धूप का प्रयोग करें।
* जल से वटवृक्ष को सींचकर उसके तने के चारों ओर कच्चा धागा लपेटकर 3 बार परिक्रमा करें।

* बड़ के पत्तों के गहने पहनकर वट सावित्री की कथा सुनें।

* भीगे हुए चनों का बायना निकालकर, नकद रुपए रखकर सासुजी के चरण स्पर्श करें।

* यदि सास वहां न हो तो बायना बनाकर उन तक पहुंचाएं।
* वट तथा सावित्री की पूजा के पश्चात प्रतिदिन पान, सिन्दूर तथा कुमकुम से सौभाग्यवती स्त्री के पूजन का भी विधान है। यही सौभाग्य पिटारी के नाम से जानी जाती है। सौभाग्यवती स्त्रियों का भी पूजन होता है। कुछ महिलाएं केवल अमावस्या को एक दिन का ही व्रत रखती हैं।

* पूजा समाप्ति पर ब्राह्मणों को वस्त्र तथा फल आदि वस्तुएं बांस के पात्र में रखकर दान करें।
अंत में निम्न संकल्प लेकर उपवास रखें -

मम वैधव्यादिसकलदोषपरिहारार्थं ब्रह्मसावित्रीप्रीत्यर्थं
सत्यवत्सावित्रीप्रीत्यर्थं च वटसावित्रीव्रतमहं करिष्ये।
 

कोरोना वाइरस और लाक डाउन: रियायतों की खुशी के साथ जिम्मेदारी का अहसास भी जरूरी-कृष्णमोहन झा

कोरोना वाइरस और लाक डाउन: रियायतों की खुशी के साथ जिम्मेदारी का अहसास भी जरूरी-कृष्णमोहन झा

देश में कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए गत 55 दिनों से जारी लाक डाउन को चौथी बार बढा दिया गया है और अब यह 31मई तक जारी रहेगा। गौरतलब है कि लाक डाउन 3.0की समय सीमा 17 मई तय की गई थी जिसके समाप्त होने के पूर्व ही लाक डाउन 4.0 की घोषणा कर दी गई।देश में में विगत कुछ दिनों में कोरोना संक्रमण की रफ्तार तेजी से बढा है उसे देखते लाक डाउन की समय सीमा एक बार फिर बढाए जाने के बारे में किसी को भी संशय नहीं था। केंद्र द्वारा लाक डाउन 4.0 की घोषणा किए के पूर्व ही देश के पांच राज्यों कर्नाटक, महाराष्ट्र, पंजाब, मिजोरमऔर तमिलनाडु की राज्य सरकारों ने अपने यहाँ लाक डाउन की अवधि 31 मई तक बढ़ाने की घोषणा कर दी थी। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने लाक डाउन के चौथे चरण के लिए गाइड लाइन भी जारी कर दी है। लाक डाउन 4.0ढेर सारी रियायतें भी अपने साथ लेकर आया है और इन रियायतों के मिल जाने से कई इलाकों में जनजीवन सामान्य होने एवं आर्थिक गतिविधियों में गति आने की संभावनाएं बलवती हो उठी हैं।प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 24 मार्च को राष्ट्र के नाम अपने संदेश में जब संपूर्ण देश में 21 दिन के लाक डाउन की घोषणा की थी तब सरकार के साथ ही देश की जनता भी यह उम्मीद कर रही थी कि यह समय सीमा देश के अंदर कोरोना वायरस के संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए काफी होगी परंतु आज की तारीख़ में देश में कोरोना संक्रमण की जो स्थिति है वह हमें इस कडवी हकीकत को स्वीकार कर लेने के लिए विवश कर रही है कि लाक डाउन के तीन चरण पूरे हो जाने के बाद भी इसकी अवधि पुन: 14 दिनों के लिये बढाने के अलावा और कोई दूसरा रास्ता नहीं था । यह सही है कि केंद्र सरकार ने लाक डाउन के दूसरे, तीसरे और चौथे चरण में रियायतों में क्रमश: बढोत्तरी भी की है परंतु अभी भी यह कहना मुश्किल है कि लाक डाउन 4.0 की अवधि पूर्ण होने के बाद हमें उसे और आगे बढ़ाने की अनिवार्यता महसूस नहीं होगी।


केंद्र सरकार लाकडाउन की समय सीमा तीन बार बढ़ाने के साथ जिस तरह हर बार रियायतों में भी वृद्धि करती रही है उससे यह संदेश अवश्य मिलता है कि सरकार जनजीवन को पहले की तरह सामान्य बनाने की दिशा में धीरे धीरे आगे बढऩा चाहती है इसीलिए लाक डाउन के चौथे चरण में भी सामान्य रेल और विमान सेवाओं को अभी भी स्थगित रखने का फैसला किया गया है।इसके अलावा उन आयोजनों एवं संस्थानों पर भी पहले से लागू पाबंदियों में कोई नई रियायत नहीं दी गई है जहां भीड एकत्र होने की संभावना सबसे अधिक होती है। गौरतलब है कि लाक डाउन 4.0 का रूपरंग तय करने के लिए प्रधानमंत्री ने विगत दिनों सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कांफ्ऱेंसिंग के माध्यम से विस्तृत चर्चा की थी जिसमें कुछ मुख्य मंत्रियों ने लाकडाउन के चौथे चरण का स्वरूप तय करने के लिए अपनी ओर से सुझाव भी दिए थे परंतु कुछ अन्य मुख्यमंत्रियों ने इस संबंध में केवल केन्द्र के निर्देशों के पालन के पक्ष में अपनी राय दी थीं। लाकडाउन 4.0 की विशेषता यह है कि इसमें काफी कुछ राज्य सरकारों की मर्जी पर छोड़ दिया गया है लेकिन उसमें केन्द्र सरकार की अनुमति जरूरी होगी।देश में अभी तक कोरोना संक्रमण की गंभीरता के अनुसार रेड, आरेंज और ग्रीन जोन का निर्धारण केंद्र सरकार द्वारा किया जा रहा परंतु लाक डाउन के चौथे चरण में यह अधिकार अब राज्य सरकारों को दे दिया गयाहै7गौर तलब है कि हाल में ही प्रधान मंत्री द्वारा वीडियो कांफ्ऱेंसिंग के माध्यम से बुलाई गई बैठक में कुछ राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने यह मांग की थी जिसे केंद्र ने स्वीकार कर लिया है। लाकडाउन के चौथे चरण में तीन जोन की जगह पांच जोन होंगे।रेड, आरेंज और ग्रीन जोन के साथ अब केन्टोनमेंट और बफर जोन भी होंगे। इनमें केन्टोनमेंट जोन में सबसे अधिक सख्ती रखी जाएगी। इसमें विशेष बात यह है कि लाक डाउन के चौथे चरण में यद्यपि राज्य सरकारों को काफी अधिकार दे दिए गए हैं परंतु उन्हें सारे फैसले केन्द्र को विश्वास में लेकर ही करने होंगे । किसी भी मामले में अंतिम फैसला केंद्र का ही होगा।लाक डाउन के चौथे चरण में राज्यों को आपसी सहमतिसेअंतर्राज्यीय बस सेवा प्रारंभ करने की अनुमति देने से उन प्रवासी मजदूरों को काफी राहत मिल सकेगी जो अपने गृह राज्य लौटने के लिए कड़ी धूप में मामलों पैदल चलने के लिए विवश थे।लाक डाउन के कारण बेरोजगार हुए प्रवासी मजदूरों केपलायन की समस्या ने सरकार को चिंता में डाल रखा था। सरकार ने उनकी सुविधाजनक घर वापसी के लिए श्रमिक एक्सप्रेस अवश्य चलाई हैं परंतु प्रवासी मजदूरों की बहुत बड़ी संख्या तक अभी भी इस सुविधा का लाभ नहीं पहुंच पा रहा है क्यों कि ये मजदूर प्रशासनिक सख्ती के कारण अब ऐसे रास्तों से गुजर रहे हैं जो रेलवे स्टेशनों से बहुत दूर हैं। शायद इसीलिए लाक डाउन के चौथे चरण में अंतर्राज्यीय बस सेवा पर से पाबंदी हटा ली गई है। अभी यह स्थिति है कि कड़ी धूप में पैदल चलते चलते भूखे प्यासे गरीब मजदूर एक राज्य की सीमा तक पहुंचकर दूसरे राज्य की सीमा के अंदर प्रवेश करना चाहते हैं तो वहां पर तैनात दूसरे राज्य की पुलिस उन्हें रोक देती है।इसी तरह बहुत से मजदूर ट्रकों में सवार होकर गंतव्य तक पहुंचना चाहते हैं जो कि अनजान में मौत को आमंत्रण देने जैसा ही होता है। विगत दिनों अनेक प्रवासी मजदूरों की दुखद मृत्यु भी हो चुकी है। अंतर्राज्यीय बस सेवा प्रारंभ होने से अब प्रवासी मजदूर एक राज्य से दूसरे राज्य में प्रवेश कर सकेंगे। इसके लिए दोनों राज्यों की सरकारों के बीच सहमति होना जरूरी है।अब देखना यह है कि राज्य सरकारें प्रवासी मजदूरों की तकलीफों को देखते हुए इस काम में कितनी रुचि लेती हैं । दरअसल जब प्रवासी मजदूरों को किसी राज्य की पुलिस उस राज्य के अंदर प्रवेश करने से रोकती है तो उसके पीछे यह आशंका होती है कि ये मजदूर कहीं कोरोना संक्रमित तो नहीं हैं। इसलिए इन मजदूरों को क्वेरेन्टीन में रखा जाता है।.अंतर्राज्यीय बस सेवा शुरू होने के बाद पैदल या ट्रक आदि से यात्रा करने वाले मजदूरों को राहत मिल सकेगी। एक बात तो तय है कि कोरोना संकट काल में विभिन्न राज्य सरकारों के बीच आपसी तालमेल अनिवार्य हो गया है। राज्य सरकारों को इस नाजुक समय में टकराव का रास्ता छोडऩा होगा। बहरहाल ,लाक डाउन के चौथे चरण की शुरुआत हो चुकी है और जैसा कि प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्र के नाम अपने संबोधन संकेत दिए थे, इसका स्वरूप वास्तव में पिछले तीन चरणों के लाकडाउन से कई मायनों में अलग है और इसमें जो रियायतें बढाई गई हैं उनसे समाज के सभी वर्गों को राहत महसूस होगी लेकिन इन रियायतों के साथ कई चुनौतियां भी जुड़ी हुई हैं।उन चुनौतियों से पार पाकर ही हम कोरोना संक्रमण पर इस तरह काबू पा सकते हैं कि लाक डाउन के पांचवें चरण में हमसे नाममात्र की बंदिशों के पालन की अपेक्षा की जाए। आज देश में कोरोनासंक्र मण की जो स्थिति है वह हमें चिंतामुक्त हो जाने की अनुमति नहीं देती। लाक डाउन के इस चौथे चरण में हमें अपनी दिनचर्या को पहले की तरह सामान्य बनाने के लिए ढेर सारी रियायतें दी गई हैं परंतु उनका उपयोग हमें इस तरह करना है किलाक डाउन के चौथे चरण में कोरोना वायरस की चेन टूटने सिलसिला प्रारंभ हो सके।निश्चित रूप से लाक डाउन 4.0 में दी गई ढेर सारी रियायतों से जनता काफी राहत महसूस कर रही है परंत इनकी सार्थकता तभी सिद्ध हो सकेगी जब हम इन राहतों का सदुपयोग करते हुए कोरोना संक्रमण को न्यूनतम स्तर करवाने में सफल हो सकें।
 

क्यों मजबूर हैं सरकारें कोरोना से भी अधिक विषैला जहर पिलवाने - विमल शंकर झा

क्यों मजबूर हैं सरकारें कोरोना से भी अधिक विषैला जहर पिलवाने - विमल शंकर झा

छत्तीसगढ़ सहित पूरे देश में कोरोना के चालीस दिनों के लाकडाउन में ढील के बाद शराब दुकानों के सामने उमड़ रही पीने वालों की भीड़ ने आम लोगों को शर्मसार ही नहीं किया है बल्कि उनकी आंखों में पानी लाने के लिए मजबूर कर दिया है । परिजनों के साथ नशे को नाश की जड़ मानने वालों की आंखों का यह पानी कोई खुशी का नहीं वरन पीने-पिलाने वालों की आंखों का पानी मर जाने पर गम और गुस्से तथा अफसोस को लेकर है । सरकार के लाकडाउन - टू में ढील के बाद शराब दुकानों के लाक खोल देने से देश की राजधानी से लेकर प्रदेश की राजधानी तक शराब दुकानों में एक किलोमीटर से तीन किलोमीटर तक कतारों और उन्मादी होती सिरफुटौव्वल वाली भीड़ के चौंकाने वाले दर्दनाक दृश्य दिखाई दे रहे हैं । लोगों को यह यकीन करना मुश्किल हो रहा है कि पीने पिलाने के यह नजारे इसी सुसभ्य, सुशिक्षित औैर सभ्य समाज के हैं ? क्या दारु दुकानों के सामने उमड़ता, घुमड़ता, ललचाया और बौराया भारत सरकारों के रामराज, गांधीराज, विश्व गुरु और महाशक्ति वाला विकसित आधुनिक भारत है ? महात्मा गांधी ने कहा था कि छुआछूत की तरह मद्यपान भी हमारे समाज का अभिशाप है । नशे में व्यक्ति अपना संतुलन खोकर पशुवत आचरण करता है । स्वतंत्रता के साथ इस अभिशाप से मुक्ति के लिए भी नए भारत के निर्माताओं को प्रयास तेज करना होगा । दूरदर्शन पर धार्मिक सीरियल दिखाने और देखने वालों को इस ओर भी ध्यान देने की जरुरत है कि रामायण में कैसे मर्यादा पुरुषोत्त्म भगवान राम एक मनुष्य व राजा के रुप में एक राजा को धर्म, कर्तव्य, त्याग, सुशासन के राजधर्म का पाठ पढ़ाते हैं । और कृष्णा सीरियल में धर्मराज राजा परिक्षित के राज्य में घुसने वाले कलयुग के इजाजत मांगने पर वह कहते हैं कि तुम केवल मदिरालय, वैश्यालय, जुआघर और ईष्यालुओं के स्थान पर ही रह सकते हो । इसी तरह उच्च न्यायालय ने भी कहा है कि एक शराबी ड्रायवर एक आत्मघाती बम की तरह है, जो अपने साथ कई लोगों की जान ले सकता है..। क्या राम और गांधी के नाम पर वोट बैंक से सत्ता हथियाने और लोकप्रियता हासिल करने वाली सरकारें इनके यह तमाम आदर्श भूल गई हैं । क्या उन्हें हाई कोर्ट की इतनी संगीन नसीहत के साथ शराब नियंत्रण और राष्ट्रीय-राजमार्ग के निकट शराब दुकानें नहीं खोलने का सुप्रीम कोर्ट का फरमान भी याद नहीं है । अपने सियासी लाभ के लिए तो वे अदालत की खूब दुहाई देते हैं । शराब दुकानें खोलने को लेकर किसी नारी की तरह अपना पल्लू झाड़ते औैर बच्चों की तरह एक दूसरे को जिम्मेदार बताने वाली केंद्र व राज्य सरकारें क्या यह भी भूल बैठी हैं कि इन दिनों विश्वव्यापी जानलेवा कोरोना का कहर देश में भी चरम पर है । अचानक लगे लाकडाउन से अपने घर लौटने सड़कों पर निकले बेबस लाखों करोड़ों मजदूरों की तरह अब शराब दुकानों के जन-सैलाब से क्या कोरोना संक्रमण का खतरा नहीं बढ़ रहा है । शराब दुकानें खुलने के दूसरे दिन ही चार हजार कोरोना के मरीज बढ़े और सौ से अधिक मौतें हो चुकी हैं । इसके दूसरे दिन तीन हजार से अधिक मरीज बढ़ चुके हैं । शराब दुकानों में सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ रही हैं । पहले की तरह शराब से मारपीट, झगड़े और दुर्घटनाएं जैसीं अराजकता की खबरें आनी शुरु हो गई हैं । सरकारों की मासूमयित और बुद्धिमत्ता देखिए कि वह चालीस दिनों से अपने घरों में कैद, जिनमें अधिसंख्य एडिक्ट हो चुके हैं और अशिक्षित व अल्प शिक्षित भी हैं, से एक से छह फीट की दूरी बनाने की अपील कर रही है । दुकानें खुलने के पहले ऐसा करवाने का दावा भी किया गया था, लेकिन शराबबंदी के गंगाजली वादों की तरह यह दावा भी हवाहवाई हो रहा है । हमारे रहनुमाओं की यह भी क्या कम असंवेदनशीलता नहीं है कि लंबे लाकडाउन में रोजी मजदूरी करने वालों से लेकर कुछ सक्षम लोगों के भी रोजगार छिन गए हैं और खाने पीने के लिए भी पैसे नहीं है लेकिन आनन फानन में खुलवा दी गई सरकारी शराब दुकानें अब फिर उनके लहू की आखिरी बूंदें भी निचोडऩे पर आमादा हैं । कैसी विडंबना है कि एक ओर कोरोना से बचने दवाई के साथ धीमी मौत के लिए दवाई की होम डिलिवरी भी शुरु कर दी गई है । सरकार के लोगों के संरक्षण में लाकडाउन में भी करोड़ों की अवैध शराब पिलवाने वाले हुक्मरान अब शराब के दाम बढ़ाकर अपने किए पर परदा डालने की कोशिश कर रहे हैं । लाखों करोड़ों पियक्कड़, जिन्हें लत लग चुकी है, क्या वे अपने खेत,मकान और जेवरात बेचकर पहले नहीं पी रहे थे, जो अब आगे अपनी बची-खुची जमापूंजी इन रक्त-पसीना चूसक भट्ठियों में नहीं गलाएंगे -लुटाएंगे । राज्य सरकारें शराब से एक बड़ी आय प्राप्ति और नशेडिय़ों के अन्य नशे को अपनाने का हवाला दे रही हैें लेकिन उन्हें यह याद करना चाहिए कि 1930 में अंग्रेजी शासन में शराबबंदी के समय भारतीय नेताओं के ध्यानाकर्षण पर किस तरह करोड़ों के सेल्स टैक्स का नया स्रोत शुरु किया गया । क्या इसी तरह आजाद औैर आधुनिक भारत में नए वैकल्पिक आय के साधन नहीं तलाशे जा सकते हैं ? छह साल से भारतीय संस्कृति और नीति शास्त्र का सबक याद दिलाने वाले पीएम सहित राज्य सरकारों को गांधी के राज्य गुजरात व अराजक राज्य के रुप में प्रचारित मखौल बनाए जा रहे बिहार की शराबबंदी से भी प्रेरित होने की जरुरत है, जहां विकास व सुशासन पहले से सुधरा है । केंद्र व राज्य सरकारों के लिए यह एक दुर्लभ और बड़ा अवसर था, जब वह शराबंदी कर करोड़ों परिवारों को नारकीय जीवन से उबार सकती थी । कोरोना से डरे, सहमे और टूटे चालीस दिनों से घरों में शांति व प्रेम से रह रहे नशा करने वालों का आत्मविश्वास व जिजिविषा बढ़ाकर उन्हें शराब नहीं मिलने से निराशा व खुदकुशी जैसे नकारात्मक विचारों से उबार सकती थी । लाकडाउन के दौरान कई लोग तो नशा करना भी छोड़ चुके थे । हमारे भागय विधाताओं को यह सोचना शुरु कर देना चाहिए कि कोरोना शराब के नुकसान के सामने कुछ भी नहीं है । कोरोना में तो अब महीनेभर में महज हजार डेढ़ हजार मौतें ही हुई लेकिन शराब से तो अनगिनत मर गए और इस नशे से लाखों लोग व उनके परिवार तिल तिल कर मरते हैं । सरकार का मेडिकल बजट बढऩें में शराब एक बड़ा कारण है । यदि सरकारें इसके महाविनाश को दृष्टिगत रख शराबबंदी का ऐतिहासिक कदम उठातीं तो उनका नाम इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में लिखा जाता औैर वाकई में देश में एक आदर्श राज की स्थापना में यह एक बड़ा कदम होता । इस नशे से सदियों से होने वाली आर्थिक, शारीरिक,सामाजिक और नैतिक मानसिक क्षति रुक जाती । लेकिन यह दुर्भाज्य है कि सरकारें एक दूसरे पर पल्ला झाडऩे के साथ रेवन्यू बंद हो जाने व नशा नहीं मिलने पर सुसायड करने जैसे राग अलापते हुए मदिरा दुकानें खुलवाने को लेकर शुरु से ही उतावली व लालायित दिखाई दीं । सच्चाई तो यह है कि वे शराब से मिलने वाली काली कमाई, ड्रिंकिंग टेबल पर अवैध डीलिंग, पियक्कड़ों के बड़े वोट बैंक और चुनावों में चेपटी व चपटी के ब्रह्महास्त्र के लोभ-संवरण को नहीं छोड़ पाईं । कांग्रेस नेता और मध्यप्रदेश के सीएम अर्जुन सिंह का वह चर्चित जुमला लोगों को याद होगा जिसमें उन्होंने छत्तीसगढ़ के एक बड़े शराब उत्पादक व कारोबारी से अपनी व्यासायिक यारी पर कहा था कि आपने कभी मेरी राजनीति चमकाने के लिए अपनी आसवनी बहा दी थी, आज में आपकी आसवनी के लिए अपनी राजनीति बहा दूंगा ..। इसी तरह जब भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष बंगारु लक्ष्मण संसद के अंदर रिश्वत के बंडल देते पकड़ाए थे, उसके पहले राजधानी के एक बड़े होटल में हुई वाईन पार्टी में नोटों व्यवस्था से लेकर सारी रणनीति बनी थी । शराब को लेकर कुछ साल पहले छत्तीसगढ़ में भी शराब को लेकर विधानसभा पटल पर सत्तापक्ष व विपक्ष के बीच हुई एक डीलिंग की बड़ी चर्चा थी । दरअसल यह है शराब और इसे स्वार्थवश पोषित करने वालों का असल चरित्र । शराबंदी के कर्तव्यपथ पर उनकी यह मजबूरी आड़े आ रही है । अभी भी बहुत समय नहीं हुआ है, केंद्र औैर राज्य सरकार चाहे तो देशव्यापी विरोध व शराब से फैलती अराजकता व चौतरफा नुकसान का हवाला देकर शराबबंदी का निर्णय लेकर अपने कर्तव्य का पालन कर एक बड़े वर्ग को अंधेरी गलियों में जाने से रोक सकती है । शराब के फायदे गिनाने वाले मुल्क के रहनुमाओं को यह भी याद रखने की जरुरत है कि देश की इस जहर को पीने वाली पचास फीसदी आबादी में सात से आठ हजार लोग रोजाना गाल के गाल में समा जाते हैं । इससे अधिक लोग लिवर सिरोसिस जैसी बीमारी के शिकार हो जाते हैं । शराबबंदी कर सरकार इससे होने वाले रेवेन्यू के नुकसान को टैक्सेस और जीएसटी बढ़ाकर भरपाई कर सकती है । आखिर क्या वजह है कि छह अरब लीटर लीटर शराब का उत्पादन करवाने कर्णधार कई मोह्ल्ले टोलों को कुछ लीटर पानी नहीं पिलवा पा रहे हैं ।

 

मदर्स डे स्पेशल: इस बार बाजार को ‘अम्मां’ याद आएगी - मनोज कुमार

मदर्स डे स्पेशल: इस बार बाजार को ‘अम्मां’ याद आएगी - मनोज कुमार

ज्यादतर लोग भूल गए हैं कि आज 10 मई है। 10 मई मतलब वैष्विक तौर पर मनाया जाने वाला ‘मदर्स डे’। ‘मदर्स डे’ मतलब बाजार का डे। इस बार यह डे, ड्राय डे जैसा होगा। बाजार बंद हैं। मॉल बंद है। लोग घरों में कैद हैं तो भला किसका और कौन सा ‘मदर्स डे’। अरे वही वाला मदर्स डे जब चहकती-फुदकती बिटिया अम्मां से नहीं, मम्मी से गले लगकर कहती थी वो, लव यू ममा... ममा तो देखों मैं आपके लिए क्या गिफ्ट लायी हूं... इस बार ये सब कुछ नहीं हो पाएगा। इस बार मम्मी, मम्मा नहीं बल्कि मां और अम्मां ही याद आएगी। ‘मदर्स डे’ सेलिब्रेट करने वाले बच्चों को इस बार अम्मां के हाथों की बनी खीर पूड़ी से ही संतोष करना पड़ेगा। मम्मा के लिए गिफ्ट लाने वाले बच्चे अब अम्मां कहकर उसके आगे पीछे रसोई घर में घूूमेंगे। बच्चों से ज्यादा इस बार बाजार को अम्मां याद दिलाएगी। मां के लाड़ को, उसके दुलार को वस्तु बना दिया था बाजार ने। यह घर वापसी का दौर है। रिष्तों को जानने और समझने का दौर है। कोरोना के चलते संकट बड़ा है लेकिन उसने घर वापसी के रास्ते बना दिए हैं। ‘मदर्स डे’ तो मॉल में बंद रह गया लेकिन किचन से अपनी साड़ी के पल्लू से जवान होती बिटिया के माथे से पसीना पोंछते और उसे दुलारने का मां का खालीपन इस ‘मदर्स डे’ पर भरने लगा है।
साल 2020 के शुरूआत में ही कोरोना ने दस्तक देना शुरू कर दिया था। दबे पांव मौत के इस साये से हम बेखौफ थे लेकिन दिन गुजरने के साथ हमारी घर वापसी होने लगी। मार्च के दूसरे पखवाड़े में तो लोग लॉकडाउन हो चुके थे। कुछ दुस्साही लोगों को परे कर दे ंतो अधिसंख्य अपने घरों में थे। भारतीय परिवारों में मार्च के बाद से छोटे छोटे पर्व की शुरूआत हो जाती है। अक्षय तृतीया के साथ ही शादी-ब्याह का सिलसिला भी शुरू हो जाता है। लेकिन कोरोना ने सब पर पाबंदी लगा दी। कह दिया घर में रहो। अपनों को जानो और अपनों को समझने की कोषिष करो। इसी दरम्यान वैष्विक रूप से मनाया जाने वाला ‘मदर्स डे’ भी आकर निकलने वाला है। बाजार ठंडे हैं। शॉपिंग मॉल के दरवाजों पर ताले जड़े हैं। ऑन लाईन भी ममा को प्यार करने वाला तोहफा नहीं मिल रहा है। सही मायने में इस बार ‘मदर्स डे’ की जगह मातृ दिवस होगा। बच्चे मां के हाथों का बना खाना खाकर तृप्त हो रहे हैं। मां स्वयं को धन्य मान रही है कि ममा से वह एक बार फिर अम्मां बन गई है। कोई नकलीपन उन्हें छू तक नहीं पा रहा है। ना महंगे तोहफे हैं और ना बड़े होटल में ‘मदर्स डे’ की कोई पार्टी। सच में इस बार अम्मां का दिन है। डे की जगह उत्सव का दिन।
‘मदर्स डे’ तो नहीं मना पा रहे हैं। लेकिन एक सवाल मन में है कि क्या जो लोग बड़े उत्साह से ‘मदर्स डे’ पर महंगे तोहफे अपनी ममा को दिया करते थे, आज वे अपनी अम्मां के पैर छूकर आषीर्वाद ले रहे हैं? शायद नहीं क्योंकि ‘मदर्स डे’ बाजार का दिया दिन है। जिनके जेब में दम है, उनके लिए ‘मदर्स डे’ है और जो कंगाल हैं, उनके लिए बाजार में कोई जगह नहीं है। ‘मदर्स डे’ मनाने वाले हमारे बच्चे अपनी संस्कृति और परम्परा से कब के बेगाने हो चुके हैं। माता-पिता के चरण स्पर्ष करना उन्हें गंवारा नहीं है। वे हर बार, हर बात पर उपहार देकर अपना प्यार जताते हैं। इस बहाने ही सही, अपने बड़े और कमाऊ बन जाने का एहसास भी माता-पिता को कराते हैं। यह प्यार नहीं है बल्कि अर्थ और शक्तिवान बन जाने का प्यार है। अम्मां प्यार नहीं करती है। वह स्नेह करती है। बाजार इस बार हार गया है। कोरोना ने उसे भी परास्त कर दिया है। अम्मां जीत गई है। हालांकि बच्चों के लिए बार बार और हर बार अम्मां को हारना ही पसंद है।
दो दषक से ज्यादा समय से बाजार ने समाज को निगल लिया है। समाज अब अपनी नजर से नहीं चलता है। समाज की चलती भी नहीं है। समाज की मान्य परम्परा और स्वभाव तिरोहित होते जा रहे हैं। बाजार समाज को निर्देषित कर रहा है। एक हद तक नियंत्रित भी। बाजार कहता है वह सर्वोपरि हो चुका है। हमारी समूची जीवनषैली को बाजार ने बदल दिया है। हम और आप वही सोचते हैं। वही करते हैं। वही देखते और सुनते हैं। जो बाजार हमें देखने सुनने को कहता है। कौन सा कपड़ा हमारे देह को फबेगा, यह हम तय नहीं करते हैं। बाजार तय करता है कि हमें क्या पहनना है। भले ही उस पहनावे में हम भोंडे और बदषक्ल दिखें। बदषक्ली और बदजुबानी हमारी जीवनषैली बन चुकी है। इसे हम फैषन कहते हैं। बाजार कहता है कि ऐसा नहीं करोगे तो पिछड़ जाओगे। हम आगे बढ़ने के फेर में कितने पीछे चले जा रहे हैं, इस पर हम बेखबर हैं।
नए जमाने की ममा अपने बच्चों को स्तनपान कराने से बचती है क्योंकि उसकी ब्यूटी खराब हो जाएगी। वह अपने नन्हें बच्चे को नैफी पहनाना पसंद करती है। वह इस बात से भी बेखबर है कि बच्चे को मालिष की जरूरत है। खान-पान के लिए उसके पास वक्त नहीं है। बाजार कहता है कि जैसे नैफी खरीदो वैसे ही उसके लिए महंगे ब्रांड के तेल ले आओ। आया रखो क्योंकि तुम आफिस में काम करती थक जाती हो। तुम्हारे लिए यही बच्चा ‘मदर्स डे’ का आगे गिफ्ट लेकर आएगा। दोनों खुष और बाजार आनंद में। बाजार अम्मां को अपनी गिरफ्त में नहीं ले पाता है तो कहता है ये पुराने जमाने की हैं। अब जमाना बदल गया है। इन्हें कुछ भी नहीं मालूम। लेकिन एक अम्मां है जो टकटकी लगाए देख रही है। उसे ममा कहलाना पसंद नहीं है। उसका दुलार अम्मां सुन लेने में है। वह जानती है कि दादी-नानी के हाथों की मॉलिष से बच्चा खिलखिला उठता है। आया तो एक टूल है। उसके पास हुनूर है। दुलार नहीं। उसके पास मां का प्यार भी नहीं है। वह नौकरी करती है। अम्मां हौले से नए जमाने की बेटी-बहू को समझाती है मां का दूध बच्चे के लिए अमृत होता है। इससे मां की सुंदरता निखरती है। कम नहीं होती है। उसके पास अनुभव का खजाना है। वह अपने आपमें किताब है। एक चलती फिरती जीवन की पाठषाला है।
कोरोना तुझे ममा से अम्मां के पास ले आने के लिए शुक्रिया तो बोलना चाहता हूं लेकिन बोल नहीं पाऊंगा। तूने अम्मां को उसके बच्चे लौटाए। ‘मदर्स डे’ के नए मायने समझाए। प्रकृत्ति को उसका वैभव वापस किया। लोगों का जिंदगी का अर्थ भी समझाने में तूने अपना रोल अदा किया। लेकिन फिर भी हम तुझे नाषुक्र कहेंगे क्योंकि तूने किसी का पिता, किसी का बेटा और किसी की मां तो किसी से उसकी बहन छीन लिया। तूने काम कुछेक अच्छे किए लेकिन तेरा अपराध इससे कम नहीं हो जाता है। हम तुझे याद करेंगे लेकिन उस तरह से जिसने दिया बहुत कुछ तो उससे ज्यादा छीन भी लिया। खैर, बाजार को इस बार अम्मां याद आ रही है क्योंकि बाजार से मदर गायब है। इस बार ‘मदर्स डे’ नहीं लेकिन किचन की मां का उत्सव हमें याद रहेगा। आंगन में तुलसी के पौधे को पानी देते। राधा-ष्याम के लिए भजन गाती अम्मां जब आंखें तरेर कर कहती है चुप हो जाओ तो लगता है हर घर में, सही मायने में ‘मदर्स डे’ का उत्सव हो गया है।


- मनोज कुमार
वरिष्ठ पत्रकार

 

 

समस्त तिथियों से सबसे विशेष स्थान प्राप्त है अक्षय तृतीया को, जानिए इस दिन का महत्व एवं इस वर्ष का शुभ मुहूर्त

समस्त तिथियों से सबसे विशेष स्थान प्राप्त है अक्षय तृतीया को, जानिए इस दिन का महत्व एवं इस वर्ष का शुभ मुहूर्त

पौराणिक मान्यता है कि इस तिथि में आरंभ किए गए कार्यों को कम से कम प्रयास में ज्यादा से ज्यादा सफलता मिलती है। अक्षय तृतीया में 42 घटी और 21 पल होते हैं। ‘अक्षय तृतीया’ के रूप में प्रख्यात वैशाख शुक्ल तीज को स्वयं सिद्ध मुहूर्तों में से एक माना जाता है।

अध्ययन आरंभ करने के लिए यह सर्वश्रेष्ठ दिन है। सोना खरीदने के लिए यह श्रेष्ठ काल माना गया है। अक्षय तृतीया कुंभ स्नान व दान पुण्य के साथ पितरों की आत्मा की शांति के लिए आराधना का दिन भी माना गया है।

अक्षय तृतीया के पावन पर्व को कई नामों से पहचाना जाता है। वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया को 'अक्षय तृतीया' या 'आखातीज' कहते हैं। 'अक्षय' का शाब्दिक अर्थ है- जिसका कभी नाश (क्षय) न हो अथवा जो स्थायी रहे। स्थायी वही रह सकता है जो सदा शाश्वत है।
इस पृथ्वी पर सत्य केवल परमात्मा है जो अक्षय, अखंड और सर्वव्यापक है यानी अक्षय तृतीया तिथि ईश्वर की तिथि है। इसी दिन नर-नारायण, परशुराम और हयग्रीव का अवतार हुआ था इसलिए इनकी जयंतियां भी अक्षय तृतीया को मनाई जाती है।

परशुरामजी की गिनती 7 चिंरजीवी विभूतियों में की जाती है। इसी वजह से यह तिथि 'चिरंजीवी तिथि' भी कहलाती है। चार युग- सतयुग, त्रेतायुग, द्वापर युग और कलयुग में से त्रेतायुग का आरंभ इसी अक्षय तृतीया से हुआ है।
अंकों में विषम अंकों को विशेष रूप से '3' को अविभाज्य यानी ‘अक्षय’ माना जाता है। तिथियों में शुक्ल पक्ष की ‘तीज’ यानी तृतीया को विशेष महत्व दिया जाता है। वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को समस्त तिथियों से सबसे विशेष स्थान प्राप्त है।

भारतीय शास्त्रों में 4 अत्यंत शुभ सिद्ध मंगल मुहूर्त माने गए हैं, जो निम्न है- 1. गुड़ी पड़वा। 2. अक्षय तृतीया। 3. दशहरा। 4. दीपावली के पूर्व की प्रदोष। शास्त्रों में अक्षय तृतीया को स्वयंसिद्ध मुहूर्त माना गया है। अक्षय तृतीया के दिन मांगलिक कार्य जैसे-विवाह, गृहप्रवेश, व्यापार अथवा उद्योग का आरंभ करना अति शुभ फलदायक होता है। तिथि का उन लोगों के लिए विशेष महत्व होता है। जिनके विवाह के लिए ग्रह-नक्षत्र मेल नहीं खाते।

इस शुभ तिथि पर सबसे ज्यादा विवाह संपन्न होते हैं। अक्षय तृतीया पर सूर्य व चंद्रमा अपनी उच्च राशि में रहते हैं। सही मायने में अक्षय तृतीया अपने नाम के अनुरूप शुभ फल प्रदान करती है।

अक्षय तृतीया इस बार 26 अप्रैल 2020 को है लेकिन इस दौरान भारत में लॉकडाउन रहेगा। आइए जानिए सबसे अच्छे मुहूर्त...

अक्षय तृतीया 2020 शुभ मुहूर्त

तृतीया तिथि प्रारम्भ – सुबह 11 बजकर 51 मिनट बजे से (25 अप्रैल 2020)
अक्षय तृतीया तिथि समाप्त – अगले दिन दोपहर 01 बजकर 22 मिनट तक (26 अप्रैल 2020)

अक्षय तृतीया पूजा मुहूर्त – सुबह 5 बजकर 45 मिनट से दोपहर 12 बजकर 19 मिनट तक (26 अप्रैल 2020)

अक्षय तृतीया पर सोना खरीदने का समय – रात 11 बजकर 51 मिनट (25 अप्रैल 2020) से सुबह 05 बजकर 45 मिनट तक (26 अप्रैल 2020)
अक्षय तृतीया पर सोना खरीदने का समय – सुबह 5 बजकर 45 मिनट से दोपहर 1 बजकर 22 मिनट तक (26 अप्रैल 2020)

अक्षय तृतीया 2020 शुभ चौघड़िया मुहूर्त

प्रातः मुहूर्त (चर, लाभ, अमृत) – सुबह 7 बजकर 23 मिनट से दोपहर 12 बजकर 19 मिनट तक

अपराह्न मुहूर्त (चर, लाभ, अमृत) – दोपहर 12 बजकर 19 मिनट से शाम 5 बजकर 14 मिनट तक
शाम मुहूर्त (लाभ) – शाम 6 बजकर 53 मिनट से रात 8 बजकर 14 मिनट तक

रात्रि मुहूर्त (शुभ, अमृत, चर) – रात 9 बजकर 36 मिनट से रात 1 बजकर 40 मिनट तक

उषाकाल मुहूर्त (लाभ) – सुबह 4 बजकर 23 मिनट से सुबह 5बजकर 45 मिनट तक

 

 

हनुमान जन्मोत्सव 2020 : जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, कथा और 5 मंत्र

हनुमान जन्मोत्सव 2020 : जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, कथा और 5 मंत्र

हनुमान जंयती के दिन बजरंग बली की विशेष पूजा अर्चना की जाती है, पुराणों के अनुसार इन्हें भगवान शिव का 11वां रूद्र अवतार माना जाता है। हनुमान जी के पिता का नाम वनरराज केसरी और माता का नाम अंजना था....
आइए जानते हैं हनुमान जंयती 2020 शुभ मुहूर्त, महत्व, पूजा विधि...

हनुमान जयंती 2020 तिथि

8 अप्रैल 2020

हनुमान जयंती 2020 शुभ मुहूर्त

पूर्णिमा तिथि प्रारंभ- दोपहर 12 बजकर 1 मिनट से (7 अप्रैल 2020)
पूर्णिमा तिथि समाप्त - अगले दिन सुबह 8 बजकर 4 मिनट तक (8 अप्रैल 2020)


हनुमान जी की पूजा विधि

1. हनुमान जी की पूजा में ब्रह्मचर्य का विशेष रूप से ध्यान रखा जाता है। इसलिए आपको हनुमान जंयती के एक दिन पहले से ही ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए।

2. इसके बाद एक चौकी पर गंगाजल छिड़कें और उस पर लाल रंग का कपड़ा बिछाएं..
3.कपड़ा बिछाने के बाद भगवान श्री राम और माता का स्मरण करें और एक चौकी पर भगवान राम, सीता और हनुमान जी की प्रतिमा स्थापित करें।

4.इसके बाद हनुमान जी के आगे चमेली के तेल का दीपक जलाएं और उन्हें लाल पुष्प, चोला और सिंदूर अर्पित करें।

5. ये सभी चीजें अर्पित करने के बाद , हनुमान चालीसा , हनुमान जी के मंत्र और श्री राम स्तुति का पाठ अवश्य करें।

6. इसके बाद हनुमान जी की विधिवत पूजा करें और यदि संभव हो तो इस दिन रामयाण का पाठ भी अवश्य करें।
7. हनुमान जी की विधिवत पूजा करने के बाद उनकी धूप व दीप से आरती अवश्य उतारें।

8. इसके बाद हनुमान जी की आरती उतारें और उन्हे गुड़ चने और बूंदी के प्रसाद का भोग लगाएं ।

9. भोग लगाने के बाद हनुमान जी से क्षमा याचना अवश्य करें। क्योंकि अक्सर पूजा में जानें अनजाने कोई न कोई भूल हो जाती है।

10.अगर हो सके तो इस दिन बंदरो को गुड़ और चना अवश्य खिलाएं। इस दिन बंदरों को गुड़ और चना खिलाना काफी शुभ माना जाता है।

हनुमान जी जन्म कथा

राम भक्त हनुमान जी को कलयुग का सबसे प्रभावशाली देवता और भगवान शिव का 11वां रूद्र अवतार माना जाता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार जिस समय जिस समय असुरों और देवताओं ने अमृत प्राप्ति के लिए समुद्र मंथन किया था। तब अमृत के लिए देवता और असुर आपस में ही झगड़ा होने लगा। इसके बाद भगवान विष्णु ने मोहनी रूप धारण किया। जब भगवान शिव ने भगवान विष्णु के मोहिनी रूप को देखा तो भगवान शंकर वासना में लिप्त हो गए। उस समय भगवान शिव ने अपने वीर्य का त्याग कर दिया। उस वीर्य को पवनदेव ने अंजना के गर्भ में स्थापित कर दिया।
जिसके बाद अंजना के गर्भ से हनुमान जी ने जन्म लिया था। वनराज केसरी और अंजना ने भगवान शिव की घोर तपस्या की थी। उनकी तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान शिव ने उन्हें वरदान दिया था कि वह अंजना के कोख से जन्म लेंगे। हनुमान जी को वायुपुत्र भी कहा जाता है। क्योंकि जिस समय हनुमान जी ने सूर्य को निगल लिया था। उस समय इंद्र ने उन पर व्रज से प्रहार किया था। जिसके बाद पवनदेव ने तीनों लोकों से वायु का प्रवाह बंद कर दिया था। इसके बाद सभी देवताओं ने हनुमान जी को आर्शीवाद दिया था।

हनुमान जी के मंत्र

1.ॐ अं अंगारकाय नमः

 

2.मनोजवं मारुततुल्यवेगं, जितेन्द्रियं बुद्धिमतां वरिष्ठ।
वातात्मजं वानरयूथमुख्यं, श्रीरामदूतं शरणं प्रपद्ये॥

 

3.ॐ हं हनुमते नम:

 

4.अतुलितबलधामं हेमशैलाभदेहं दनुजवनकृशानुं ज्ञानिनामग्रगण्यम्।
सकलगुणनिधानं वानराणामधीशं रघुपतिप्रियभक्तं वातजातं नमामि॥


5.ॐ हं हनुमते रुद्रात्मकाय हुं फट

 

सम्पादकीय: कोरोना संक्रमण को लेकर कठघरे में चीन - नीरज श्रीवास्तव

सम्पादकीय: कोरोना संक्रमण को लेकर कठघरे में चीन - नीरज श्रीवास्तव

कोरोना महामारी पर इटली की मदद को पहुंची चीनी रेडक्रॉस टीम ने वहां पहुंचने पर इटैलियन प्रयासों की आलोचना करते हुए कहा : 'इटली में न तो क्वारंटाइन ढंग से किया जा रहा है, न ही देशव्यापी लॉकडाउन को गंभीरता से ले रहे हैं। 12 मार्च को चीन के विदेश मंत्रालय के आधिकारिक प्रवक्ता लिजियन झाओ ने ट्वीट कर कहा था : 'कोविड-19 वायरस का उद्गम स्थल अमेरिका है। जाहिर है झाओ का यह आरोप उटपटांग है क्योंकि अगर वाकई अमेरिका ने इस तरह का कुछ काम किया होता तो सबसे पहले अपनी आबादी के बचाव के लिए सुरक्षा उपाय अपनाए होते, वह भी यह बात भलीभांति जानते हुए कि वायरस अंतत: उसके अपने इलाके तक भी आन पहुंचेगा। ऐसे में जो विकट स्थिति वहां आज बन गई है, उसमें खुद को न पाता।
इस आरोप पर अमेरिकी राष्ट्रपति इस कदर नाराज हुए कि उन्होंने 18 मार्च को प्रेस वार्ता करते हुए न केवल कड़ी नाराजगी जाहिर करते हुए इसे नकारा बल्कि कोविड-19 को 'चाइनीज़ वायरस का नाम दे डाला। इस शब्द को उन्होंने आगे कई बार दोहराया भी है। 18 मार्च को ब्राज़ील के राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो का बेटा एडुअर्डो बोल्सोनारो कोरोना पॉजीटिव पाया गया। उन्होंने ट्वीट किया, जिसका भाव था कि कोरोना महामारी में चीन की भूमिका ठीक वैसी लीपापोती वाली रही है जैसी चैर्नोबिल परमाणु बिजलीघर हादसे में तत्कालीन सोवियत संघ सरकार की रही थी यानी चीजों को ढांपना। उन्होंने आगे कहा : यह गलती सरासर चीन की है और जवाब है जांच करने की आजादी।
बोल्सनारो के यह शब्द ट्रंप के कहे शब्दों की प्रतिध्वनि जैसे ही हैं, इस पर उत्तेजित होकर ब्रासीलिया स्थित चीनी दूतावास ने गुस्साए प्रतिकर्म में ट्वीट किया कि बोल्सनारो को वस्तुत: 'मैंटल वायरस चिपक गया है जबकि वे कुछ दिन पहले अमेरिका गए थे। चीनी दूतावास के ट्वीट में कहा गया : 'अफसोस है कि आप ऐसे व्यक्ति हैं, जिनके अंदर किसी तरह का अंतर्राष्ट्रीय दूरअंदेशी भरा या सामान्य ज्ञान नहीं है, हमारा आपको परामर्श है कि जल्दबाजी में ब्राजील में अमेरिका के प्रवक्ता न बनें या सतही बात न करें। पॉजीटिव पाए गए एडुअर्डो अपने पिता के मुख्य विदेश नीति सलाहकार भी हैं और विदेश मामलों पर देश की संसदीय कमेटी के मुखिया भी हैं। उपरोक्त प्रसंग दो चीजों की ओर इंगित करते है : पहला, चीन हरचंद तरीके से नकार रहा है कि कोविड-19 का उद्गम वुहान से हुआ है। दूसरा, चीन वायरस को लेकर बनी धारणा को यह कहकर घुमाने में लगा है कि चीनी प्रशासन ने बाकी चीन के अंदर कोरोना का फैलाव रोकने में वीरतापूर्ण काम कर दिखाया है और अब वह दूसरे देशों को वायरस की रोकथाम अपनी सीमा तक रखने में मदद की पेशकश कर रहा है।
उपरोक्त दोनों ही बिंदु गलत हैं और इसे सिद्ध करने के सबूत हैं। 1 जनवरी को चीनी प्रकाशन ग्लोबल टाइम्स में छपे एक लेख में कहा गया : 'वुहान के सी-फूड (समुद्री जीवों की मांस मंडी) को 27 दिसम्बर के बाद से बंद कर दिया है, जब 27 लोग अनजाने वायरस के कारण हुए निमोनिया से ग्रस्त पाए गए हैं। इनमें ज्यादातर इस मंडी में काम करने वाले दुकानदार या कर्मी हैं।Ó 22 फरवरी को अखबार में छपे एक अन्य लेख में बताया गया : 'दिसंबर के उत्तरार्द्ध में वुहान सी-फूड मंडी से शुरू हुए वायरस का फैलाव बड़े स्तर पर हो गया है।Ó
अब सवाल है : चीनी प्रशासन ने उस वक्त क्या किया जब वुहान में दिसम्बर के पहले दिनों में वायरस ने अपना प्रकोप दिखाना शुरू किया था उत्तर है : कुछ नहीं। इस तरह तीन हफ्ते से ज्यादा का समय खो दिया जाता है। 23 जनवरी को वुहान में लॉकडाउन की घोषणा की जाती है, नतीजा यह कि और तीन सप्ताह हाथ से निकल गए। इस तरह देखा जाए तो जब वुहान में पहली बार वायरस की पहचान हुई तब से लेकर चीनी प्रशासन ने लगभग 7-8 हफ्तों तक न कोई ठोस काम किया न ही बाकी की दुनिया को इसकी कोई आधिकारिक चेतावनी जारी की और इस दौरान यह वायरस दुनियाभर में फैल गया, जिससे अभूतपूर्व स्तर का वैश्विक संकट उत्पन्न हो गया है।
यहां यह सवाल करने से कोई खुद नहीं रोक नहीं पाएगा कि अगर यह वायरस अमेरिका या किसी अन्य देश ने चीन पहुंचाया होता तो क्या चीन इतने दिनों तक इस पर चुप्पी साधे रखता इसका उत्तर सीधा है : नहीं। इसके अलावा जब चीन के अपने समाचारपत्र ग्लोबल टाइम्स की खबर कहती है कि वुहान में दिसम्बर माह के शुरू में वायरस का फैलाव वृहद स्तर पर हुआ था तो 23 जनवरी को वुहान का लॉकडाउन करना यानी लगभग 7-8 हफ्ते बाद साहसिक फैसला कैसे हुआ इसके अतिरिक्त, जैसा कि विश्वभर का मीडिया बताता है कि चीनी प्रशासन ने ली वेनलियांग नामक 34 वर्षीय उस डॉक्टर को तंग किया और चुप करा दिया, जिसने सबसे पहले 30 दिसंबर को अपनी खोज के बाद कोरोना वायरस को लेकर चेतावनी दी थी। वुहान केंद्रीय अस्पताल में काम करते हुए संक्रमित होने, खुद उसकी मौत 7 फरवरी को हो जाती है।
कोरोना वायरस की असली कहानी में बताया जाना चाहिए कि इस वायरस का उद्गम वुहान की सी-फूड मार्किट से हुआ है और चीनी प्रशासन ने कई हफ्तों तक इसके फैलाव की जानकारी बाकी दुनिया से दबा कर रखी। जब तक कि उसके लिए और आगे छुपाकर रखना असंभव नहीं बन गया। इस तरह चीन ने इस वायरस का निर्यात दुनियाभर में किया है, जो अब इसको नियंत्रित करने में बुरी तरह से हाथ-पांव मार रहा है। इसी बीच अपने देश में कोरोना वायरस पर नियंत्रण पा लेने के बाद चीनी अब अमेरिका पर कोविड-19 बनाने का इल्जाम लगाने में मशगूल हैं। चीन ने यह समस्या न केवल अपने लिए खड़ी की बल्कि पूरे विश्व के लिए हाहाकारी स्तर का जीवन-मरण की बन आई है, हजारों लोग मारे जा चुके हैं और आर्थिकी तबाह हो गई है। इस चूक के लिए विश्व को चीन की बनाई काल्पनिक कहानी पर यकीन करके उसको कठघरे से बाहर नहीं करना चाहिए।
पूरी दुनिया, खासकर भारत को इस संकट से कुछ महत्वपूर्ण शिक्षा लेनी होगी। उसमें एक यह है कि सामरिक महत्व की वस्तुओं के लिए चीन पर निर्भरता, खासकर भारतीय दवा उद्योग के लिए दवाओं में इस्तेमाल होने वाले अवयवों की आपूर्ति करना बंद करना होगा क्योंकि इनका 70 प्रतिशत चीन से आयात किया जाता है। सामरिक वस्तुओं में आत्मनिर्भरता बनानी होगी भले ही इसके लिए लागत ज्यादा क्यूं न आए। वैसे भी चीनी नेताओं का रिकार्ड रहा है कि कालांतर में वे सामरिक वस्तुओं का निर्यात उन देशों को रोक देते हैं, जिन्हें सबक सिखाना होता है (जैसे कि रेयर अर्थ मिनरल्स में किया है)
उम्मीद की जाए कि कोरोना वायरस का संकट अंतत: भारत के नीति-नियंताओं को यह अहसास करवा देगा कि मोबाइल में 5-जी सर्विस का ठेका चीनी कंपनी हुआवे को न दिया जाए। हम सामरिक महत्व के दूरसंचार नेटवर्क को चीन जैसे गैर-भरोसेमंद और विरोधी रहे देश को सौंपना गवारा नहीं कर सकते।
 

कैसे करें होलिका दहन की पूजा, यहां जानिए विधि, मुहूर्त और कथा

कैसे करें होलिका दहन की पूजा, यहां जानिए विधि, मुहूर्त और कथा

आइए जानते हैं इस साल कब मनाई जाएगी होली, कब होगा होलिका दहन, क्या है शुभ मुहूर्त...

कब मनाई जाएगी होली
10 मार्च, मंगलवार को रंगों का त्योहार होली मनाई जाएगी।

कब होगा होलिका दहन?
9 मार्च, सोमवार को होलिका दहन किया जाएगा।

होलिका दहन 2020 शुभ मुहूर्त

संध्या काल में- 06 बजकर 22 मिनट से 8 बजकर 49 मिनट तक
भद्रा पुंछा - सुबह 09 बजकर 50 मिनट से 10 बजकर 51 मिनट तक
भद्रा मुखा : सुबह 10 बजकर 51 मिनट से 12 बजकर 32 मिनट तक

यह है सही विधि
होलिका दहन होने के बाद होलिका में जिन वस्तुओं की आहुति दी जाती है, उनमें कच्चे आम, नारियल, भुट्टे या सप्तधान्य, चीनी के बने खिलौने, नई फसल का कुछ भाग है। सप्तधान्य हैं गेहूं, उड़द, मूंग, चना, जौ, चावल और मसूर।

होलिका दहन करने से पहले होली की पूजा की जाती है। इस पूजा को करते समय पूजा करने वाले व्यक्ति को होलिका के पास जाकर पूर्व या उत्तर दिशा की ओर मुख करके बैठना चाहिए। पूजा करने के लिए निम्न सामग्री को प्रयोग करना चाहिए-

एक लोटा जल, माला, रोली, चावल, गंध, पुष्प, कच्चा सूत, गुड़, साबुत हल्दी, मूंग, बताशे, गुलाल, नारियल आदि का प्रयोग करना चाहिए। इसके अति‍रिक्त नई फसल के धान्यों जैसे पके चने की बालियां व गेहूं की बालियां भी सामग्री के रूप में रखी जाती हैं।

इसके बाद होलिका के पास गोबर से बनी ढाल तथा अन्य खिलौने रख दिए जाते हैं।

होलिका दहन मुहूर्त समय में जल, मौली, फूल, गुलाल तथा ढाल व खिलौनों की चार मालाएं अलग से घर से लाकर सु‍‍रक्षित रख ली जाती हैं। इनमें से एक माला पितरों के नाम की, दूसरी हनुमानजी के नाम की, तीसरी शीतलामाता के नाम की तथा चौथी अपने घर-परिवार के नाम की होती है।

कच्चे सूत को होलिका के चारों ओर तीन या सात परिक्रमा करते हुए लपेटना होता है। फिर लोटे का शुद्ध जल व अन्य पूजन की सभी वस्तुओं को एक-एक करके होलिका को समर्पित किया जाता है। रोली, अक्षत व पुष्प को भी पूजन में प्रयोग किया जाता है। गंध-पुष्प का प्रयोग करते हुए पंचोपचार विधि से होलिका का पूजन किया जाता है। पूजन के बाद जल से अर्घ्य दिया जाता है।

सुख और समृद्धि के लिए पढ़ें होली का शुभ मंत्र -

होली पर कई सारे टोटके और मंत्र आजमाए जाते हैं। लेकिन सही मायनों में मात्र एक ही मंत्र है जिसके जप से होली पर पूजा की जाती है और इसी शुभ मं‍त्र से सुख, समृद्धि और सफलता के द्वार खोले जा सकते हैं।
अहकूटा भयत्रस्तै:कृता त्वं होलि बालिशै: अतस्वां पूजयिष्यामि भूति-भूति प्रदायिनीम:

इस मंत्र का उच्चारण एक माला, तीन माला या फिर पांच माला विषम संख्या के रूप में करना चाहिए।

होलिका दहन कथा

शास्त्रों के अनुसार होलिका दहन की परंपरा भक्त और भगवान के संबंध का अनोखा एहसास है। कथानक के अनुसार भारत में असुरराज हिरण्यकश्यप राज करता था। उनका पुत्र प्रहलाद भगवान विष्णु का अनन्य भक्त था, लेकिन हिरण्यकश्यप विष्णु द्रोही था।


हिरण्यकश्यप ने पृथ्वी पर घोषणा कर दी थी कि कोई देवताओं की पूजा नहीं करेगा। केवल उसी की पूजा होगी, लेकिन भक्त प्रहलाद ने पिता की आज्ञा पालन नहीं किया और भगवान की भक्ति लीन में रहा। हिरण्यकश्यप ने पुत्र प्रहलाद की हत्या कराने की कई बार कोशिश की, लेकिन वह सफल नहीं हो पाया तो उसने योजना बनाई। इस योजना के तहत उसने बहन होलिका की सहायता ली। होलिका को वरदान मिला था, वह अग्नि से जलेगी नहीं।

योजना के तहत होलिका प्रहलाद को गोद में लेकर अग्नि में बैठ गई, लेकिन भगवान ने भक्त प्रहलाद की सहायता की। इस आग में होलिका तो जल गई और भक्त प्रहलाद सही सलामत आग से बाहर आ गए। तब से होलिका दहन की परंपरा है।
 

कोरोना वायरस के डर से बेरंग न करें अपनी होली, बस अपनाएं ये खास टिप्स

कोरोना वायरस के डर से बेरंग न करें अपनी होली, बस अपनाएं ये खास टिप्स

कोरोना वायरस का खौफ इस समय पूरी दुनिया में फैला हुआ है. लोग इतना डर गए हैं कि भीड़ भाड़ वाले इलाके में जाने से डर रहे हैं. ऐसे में होली के त्योहार को लेकर लोगों में चिंता बढ़ गई है. ऐसे में अटकलें ये भी लगाई जा रही हैं कि इस खतरनाक वायरस का प्रकोप होली के त्योहार में और ज्यादा बढ़ सकता है. हालांकि सिर्फ कोरोनावायरस ही नहीं किसी भी प्रकार के वायरस से बचने के लिए लोगों को सतर्क रहने की जरूरत होती है.
दरअसल होली में लोग एक जगह पर जमा होते हैं और साथ ही पानी का भी खूब इस्तेमाल करते हैं. ऐसी स्थिति में वायरस का संक्रमण लोगों को इफेक्ट कर सकता है लेकिन ऐसा भी नहीं है कि किसी चीज के डर से होली के त्योहार का आनंद ही न लिया जा सके. पर्व-त्योहार के जश्न में हम कई बार चीजों को अनदेखा कर देते हैं. होली के मौके पर हमें विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है. आइए आपको बताते हैं कुछ खास टिप्स के बारे में जिन्हें ध्यान में रखकर आप कोरोनावायरस या फिर किसी दूसरे प्रकार के इंफेक्शन से बचाव करते हुए होली खेल सकें.
होली का त्योहार वैसे तो रंग और गुलाल का होता है लेकिन इंफेक्शन और वायरस से बचाव के लिए इस बार पानी वाली होली से दूर रहना की सही होगा. गंदे पानी से होली खेलने से बचें.
कोरोना के संक्रमण से बचने के लिए सूखी होली कारगर हो सकती है. जितना हो सके हर्बल रंगों के साथ ही होली खेलें. रंग लगाने के लिए गुलाल का इस्तेमाल करें.
होली के जश्न में स्वास्थ्य लक्षणों को नजरअंदाज न करें. इस दौरान ध्यान रखें कि नाक या आंखों से पानी न आए. इन्हें इग्नोर करने की गलती बिल्कुल भी न करें और ऐसा होने पर तुरंत डॉक्टर से सलाह लें.
कोशिश करें कि भीड़ वाली जगह पर कम जाएं. बेहतर होगा कि अपने घर पर ही एक दूसरे के साथ होली खेलें. बच्चों को होली की भीड़ वाली पार्टी से दूर रखें. उन्हें होली के गंदे पानी से बचाकर रखें.होली के दिन अगर बाहर से कोई मेहमान आपके घर आ रहा है तो उसे सेनेटाइजर इस्तेमाल कराने के बाद ही रंग लगाने दें. सार्वजनिक जगहों पर जाते वक्त मास्क पहनना बिल्कुल न भूलें. होली की पार्टी में मास्क और चश्मा पहनकर जाएं. सूखे रंगों के साथ होली खेलें.
इस होली पर एक दूसरे को पूरी तरह से गीले रंगों में भिगोने की जगह माथे पर गुलाल से तिलक लगाकर होली मनाएं.
होली के दिन बाजार की बनी मिठाइयों के जगह घर की बनी मिठाइयों का इस्तेमाल करें.
होली खेलने के बाद अच्छे से नहाएं और साफ कपड़े पहनें.

 

देश में ऐसे कई स्थान हैं जहां कि होली देखने और खेलने का अपना अलग ही मजा है, आइये जाने कौन कौन सी है वो जगह

देश में ऐसे कई स्थान हैं जहां कि होली देखने और खेलने का अपना अलग ही मजा है, आइये जाने कौन कौन सी है वो जगह

भारत में होली का त्योहार बहुत ही मजेदार और रंगिला होता है। कई लोग होली मनाने के लिए अपने घर या शहर से बहार जाते हैं। कई लोग जो गांव छोड़कर शहरों में काम कर रहे हैं वे अपने गांव जाते हैं। हालांकि देश में ऐसे कई स्थान हैं जहां कि होली देखने और खेलने का अपना अलग ही मजा है। ऐसे 11 स्थान हम आपके लिए चुन कर लाएं हैं।

1. ब्रज मंडल की होली : ब्रज मंडल में मथुरा, बरसाना, गोकुल, वृंदावन, गोवर्धन नंदगाव आदि कई गांव और शहर आते हैं। इसमें से बरसाना और नंदगाव की होली देखने और उसमें शामिल होना का अपना अलग ही मजा है। यहां लट्ठमार होली का शानदार आयोजन होता है।


2. मुंबई की होली : मायानगरी मुंबई को पहले बॉम्बे कहा जाता था। यहां जिस तरह गणेश उत्सव की धूम रहती है उसी तरह यहां होली की धूम भी रहती है। यहां गोविंदा होली मनाई जाती है। महाराष्ट्र और गुजरात के क्षेत्रों में गोविंदा होली अर्थात मटकी-फोड़ होली खेली जाती है। इस दौरान रंगोत्सव भी चलता रहता है।

3. आनंदपुर साहिब की होली : पंजाब में होली को 'होला मोहल्ला' कहते हैं। पंजाब में होली के अगले दिन अनंतपुर साहिब में 'होला मोहल्ला' का आयोजन होता है। ऐसा मानते हैं कि इस परंपरा का आरंभ दसवें व अंतिम सिख गुरु, गुरु गोविंदसिंहजी ने किया था। इस दौरान शारीरिक शक्ति का प्रदर्शन किया जाता है।


4. उदयपुर, जयपुर की होली : राजस्थान के उदयपुर में 'रॉयल होली उत्सव' मनाया जाता है। होली से पहले उदयपुर, मेवाड़ राज परिवार के घोड़ों के शानदार जुलूस निकलते हैं जिसके बाद शहर सुंदर रंगों से सराबोर हो जाता है। इसी तरह की होली का आयोजन जयपुर में भी होती है। जयपुर होली उत्सव में हाथी और घोड़ों को वस्त्र और रंगों से सजाया गया है। समारोह में हाथी प्रतियोगिता और टग-ऑफ-युद्ध शामिल हैं। यहां की होली को देखने के लिए भी देश-विदेश से लोग एकत्रित होते हैं।

5. भगोरिया उत्सव : मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के आदिवासियों में होली की खासी धूम होती है। मध्यप्रदेश में झाबुआ के आदिवासी क्षेत्रों में भगोरिया नाम से होलिकात्वस मनाया जाता है। भगोरिया के समय धार, झाबुआ, खरगोन आदि क्षेत्रों के हाट-बाजार मेले का रूप ले लेते हैं और हर तरफ फागुन और प्यार का रंग बिखरा नजर आता है। देश विदेश से लोग यहां की होली को देखने आते हैं।

6. इंदौर की होली : आजकल मध्यप्रदेश के शहर इंदौर की होली भी प्रसिद्ध हो चली है। इंदौर की सड़कों पर हजारों लोगों को नृत्य करते और रंग खेलते देखा जा सकता है। पूरे शहर में लोग एक ही स्थान पर एक साथ इकठ्ठे होते हैं और होली खेलते हैं।


7. पुरूलिया की होली : पश्चिसम बंगाल के पुरुलिया में होली को रंगीन पाउडर और पारंपरिक चाउ नृत्य से मनाया जाता है। नृत्य कुछ ऐसा होता है जिसे आपने पहले नहीं देखा होगा। यहां की होली देखने के लिए भी देश विदेश से लोग एकजुट होते हैं।

8. हम्पी : कर्नाटक के हम्पी में होली का उत्सव भी बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। हम्पी 2 दिनों के लिए होली के रंगों और ढोल की आवाज से धड़कता है। होली के रंगों के बीच ऐतिहासिक विरासत और स्मारकों को देखना अद्भुत होता है।


9. गोवा की होली : गोवा के मछुआरा समाज इसे शिमगो या शिमगा कहता है। गोवा की स्थानीय कोंकणी भाषा में शिमगो कहा जाता है। यहां समुद्र के किनारे होली मनाना बहुत ही शानदार और अद्भुत अनुभव होता है। यहां होली मानने के लिए स्पेशल पैकेज रहते हैं।

10. मणिपुर और असम : मणिपुर में इसे योशांग या याओसांग कहते हैं। यहां धुलेंडी वाले दिन को पिचकारी कहा जाता है। असम इसे 'फगवाह' या 'देओल' कहते हैं। त्रिपुरा, नगालैंड, सिक्किम और मेघालय में भी होली की धूम रहती है। मणिपुर में रंगों का यह त्योहार 6 दिनों तक मनाया जाता है। साथ ही इस पर्व पर यहां का पारंपरिक नृत्य 'थाबल चोंगबा' का आयोजन भी किया जाता है। अद्भुत प्राकृतिक सौंदर्य के बीच यहां का थाबल चोंगबा नृत्य के साथ होली खेलना बहुत ही शानदार होता है।

11. कुमाउनी होली : उत्तराखंड और हिमाचल में होली को भिन्न प्रकार के संगीत समारोह के रूप में मनाया जाता है। यहां की कुमाउदी होली जग प्रसिद्ध है। कुमाउनी होली तीन प्रकार से खेली जाती है। पहला बैठकी होली, दूसरा खड़ी होली और तीसरा महिला होली। बसंत पंचमी के दिन से ही होल्यार प्रत्येक शाम घर-घर जाकर होली गाते हैं और यह उत्सव लगभग 2 महीनों तक चलता है।

 

6 मार्च को है रंगभरी एकादशी, इस दिन करे ये काम...

6 मार्च को है रंगभरी एकादशी, इस दिन करे ये काम...

फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी रंगभरी एकादशी के नाम से भी जानी जाती है, हालांकि इसे आमलकी एकादशी भी कहते हैं। इस वर्ष रंगभरी एकादशी 06 मार्च दिन शुक्रवार को है।

रंगभरी एकादशी का दिन भगवान शिव की नगरी काशी के लिए विशेष होता है। इस दिन भगवान शिव माता गौरा और अपने गणों के साथ रंग-गुलाल से होली खेलते हैं। इस हर्षोल्लास के पीछे एक विशेष बात भी है। आज का दिन भगवान शिव और माता गौरी के वैवाहिक जीवन में बड़ा महत्व रखता है।

रंगभरी एकादशी का महत्व

रंगभरी एकादशी के दिन काशी में बाबा विश्वनाथ का विशेष श्रृंगार होता है और उनको दूल्हे के रूप में सजाते हैं। इसके बाद बाबा विश्वनाथ जी के साथ माता गौरा का गौना कराया जाता है। रंगभरी एकादशी के दिन ही भगवान शिव माता गौरा को विवाह के बाद पहली बार काशी लाए थे। इस उपलक्ष्य में भोलेनाथ के गणों ने रंग-गुलाल उड़ाते हुए खुशियां मनाई थी। तब से हर वर्ष रंगभरी एकादशी को काशी में बाबा विश्वनाथ रंग-गुलाल से होली खेलते हैं और माता गौरा का गौना कराया जाता है।
रंगभरी एकादशी का मुहूर्त

फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि का प्रारंभ 05 मार्च दिन गुरुवार को दोपहर 01 बजकर 18 मिनट पर हो रहा है, जो अगले दिन शुक्रवार 06 मार्च को 11 बजकर 47 मिनट तक है। ऐसे में रंगभरी एकादशी 06 मार्च दिन शुक्रवार को मनाई जाएगी।

रंगभरी एकादशी के दिन स्नान आदि से निवृत्त होने के बाद पूजा स्थान पर भगवान शिव और माता गौरी की मूर्ति स्थापित करें। इसके बाद माता गौरी और भगवान शिव की अक्षत, धूप, पुष्प, गंध आदि से पूजा-अर्चना करें। इसके बाद माता गौरी और भगवान शिव को रंग तथा गुलाल अर्पित करें। फिर घी के दीपक या कपूर से दोनों की आरती करें। पूजा के समय माता गौरी को श्रृंगार का सामान अर्पित करें, तो यह खुशहाल जीवन के लिए शुभ होगा।

 

होलाष्टक 2 मार्च से आरंभ, कदापि न करें ये काम

होलाष्टक 2 मार्च से आरंभ, कदापि न करें ये काम

इस साल 2 मार्च, 2020 से लगने वाला होलाष्टक 9 मार्च को खत्म होगा। 8 दिनों तक चलने वाले होलाष्टक को अशुभ माना गया है।
होली से पहले आठ दिनों तक चलने वाला होलाष्टक इस बार 2 मार्च से शुरू होने जा रहा है। हिंदू धर्म में होलाष्टक के दिनों को अशुभ माना गया है। होलाष्टक की शुरुआत फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि से होती है।
इसका समापन फाल्गुन की पूर्णिमा को होता है और इसी दिन होलिका दहन की परंपरा है। इस साल 2 मार्च, 2020 से लगने वाला होलाष्टक 9 मार्च को खत्म होगा।

एक पौराणिक कथा के अनुसार प्रह्लाद की भक्ति से नाराज होकर हिरण्यकश्यप ने होली से पहले के आठ दिनों में उन्हें अनेक प्रकार के कष्ट और यातनाएं दीं। इसलिए इसे अशुभ माना गया है।

होलाष्टक में नहीं करने चाहिए ये 5 काम

शादी: ये किसी के भी जीवन के सबसे महत्वपूर्ण लम्हों में से एक होता है। यह वो मौका होता है जब आप किसी के साथ पूरा जीवन व्यतीत करने के वादे करते हैं। यहां से जिंदगी का एक अलग पन्ना भी शुरू होता है। इसलिए शादी को बहुत ही शुभ माना गया है। यही कारण है कि हिंदू धर्म मे होलाष्टक में विवाह की मनाही है। अत: इन दिनों में विवाह का कार्यक्रम नहीं किया जाना चाहिए।

नामकरण संस्कार: किसी नवजात बच्चे के नामकरण संस्कार को भी होलाष्टक में नहीं किया जाना चाहिए। हमारा नाम ही पूरे जीवन के लिए हमारी पहचान बनता है। नाम का असर भी हमारे जीवन पर अत्यधिक पड़ता है। इसलिए यह बहुत जरूरी है कि इसे शुभ काल में किया जाए।

विद्या आरंभ: बच्चों की शिक्षा की शुरुआत भी इस काल में नहीं की जानी चाहिए। शिक्षा किसी के भी जीवन के सबसे शुभ कार्यों में से एक है। इसलिए जरूरी है कि जब अपने बच्चे को किसी गुरु के देखरेख में दिया जाए तो वह शुभ काल हो। इससे बच्चे की शिक्षा को लेकर अच्छा असर होता है और तेजस्वी बनता है।

संपत्ति की खरीद-बिक्री: ये कार्य भी होलाष्टक काल में नहीं किया जाना चाहिए। इससे अशांति का माहौल बनता है। संभव है कि आपने जो संपत्ति खरीदी या बेची है, वह बाद में आपके लिए परेशानी का सबब बन जाए। इसलिए कुछ दिन रूककर और होलाष्टक खत्म होने के बाद ही इन कार्यों को हाथ लगाएं।

नया व्यापार और नई नौकरी: आप नया व्यापार शुरू करना चाहते हैं या फिर कोई नई नौकरी ज्वाइन करना चाहते हैं तो बेहतर है इन दिनों में इसे टाल दें। आज की दुनिया में व्यवसाय या नौकरी किसी के भी अच्छे जीवन का आधार है। इसलिए होलाष्टक के बाद इन कार्यों को करें। इससे सकारात्मक ऊर्जा आपके साथ रहेगी और आप सफलता हासिल कर सकेंगे।

 

Previous12Next