कोरोना अपडेट : प्रदेश के इस जिले में कोरोना ने ढाया कहर, छत्तीसगढ़ में कल के मुकाबले आज बढ़ी नए कोरोना मरीजों की संख्या    |    बड़ा हादसा: खाई में गिरी मेटाडोर ,10 की मौत व 15 घायल, पीएम मोदी ने जताया शोक    |    कोरोना अपडेट : प्रदेश में आज 2 की हुई मृत्यु, आज इतने मरीजों की हुई पहचान, देखे जिलेवार आकड़े    |    मौसम अलर्ट: उत्तर-पूर्वी मानसून की आहट से इन राज्यों पर मंडराया बारिश का खतरा    |    बड़ी खबर: पटाखे की गोदाम में लगी भयानक आग से 5 की गई जान, 9 लोग घायल    |    कोरोना अपडेट : प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में फिर पैर पसारने लगा है कोरोना, छत्तीसगढ़ में आज इतने मरीजों की हुई पहचान    |    बदल गए पेंशन के नियम, 30 नवंबर तक ये काम ना किया तो रुक जाएगी पेंशन    |    कोरोना अपडेट : प्रदेश के इस जिले में हुआ कोरोना विस्फोट, धीरे धीरे फिर से बढ़ रहे है एक्टिव मरीजो की संख्या, देखें जिलेवार आंकड़े    |    बड़ी खबर: राज्यपाल की बिगड़ी तबियत, दिल्ली AIIMS में भर्ती    |    कोरोना अपडेट : प्रदेश के इन दो जिलों में हुआ कोरोना विस्फोट, आज प्रदेश में मिले इतने नए मरीज, देखें जिलेवार आंकड़े    |
CG NEWS: मामूली विवाद पर एसपी ने की ड्राइवर की पिटाई

CG NEWS: मामूली विवाद पर एसपी ने की ड्राइवर की पिटाई

नारायणपुर: नए-नए विवादों से घिरे रहने वाले आईपीएस उदय किरण पर अब अपने ही ड्राइवर की बेरहमी से पिटाई का मामला सामने आया है। उदय किरण फिलहाल नारायणपुर जिले के एसपी हैं। उन्होंने अपने ड्राइवर आरक्षक जयलाल नेताम को बुरी तरह पीटा है, जिसके बाद नेताम को हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया है। इस घटना के बाद आदिवासी समाज में काफी नाराजगी है। यह ऐसे समय में हो रहा है, जब मुख्यमंत्री भूपेश बघेल बस्तर दौरे पर हैं। इस पूरे घटनाक्रम पर आदिवासी समाज के नेता व पूर्व सांसद सोहन पोटाई ने कहा कि उदय किरण ने लात-घूंसों से आरक्षक की पिटाई की है। वह चलने की स्थिति में नहीं है।

उसे हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया है। पोटाई ने एसपी उदय किरण को तत्काल पद से हटाने और एट्रोसिटी एक्ट के तहत जुर्म दर्ज करने की मांग की है। इस मामले में आदिवासी समाज की बैठक बुलाई गई है, जिसके बाद यदि शासन की ओर से कार्रवाई नहीं की जाएगी तो आंदोलन शुरू किया जाएगा। पोटाई के मुताबिक उदय किरण पर यह पहला आरोप नहीं है। इससे पहले भी बर्बरतापूर्वक पिटाई के मामले सामने आ चुके हैं। यह सरकार की अक्षमता है या पुलिस-प्रशासन निरंकुश हो गया है। बता दें कि हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने महासमुंद की घटना पर आईपीएस उदय किरण के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए हैं। आईपीएस उदय किरण ने मारपीट की बात से साफ़ इंकार किया है। आईपीएस उदय किरण ने कहा-
`सरकारी गाड़ी की सफ़ाई नहीं थी, मैंने उसे डाँटा और कहा कि तुमसे गाड़ी की सफ़ाई नहीं होती तो तुम को लाइन भेज रहा हूँ`

 पत्नी और पिता के बीच अवैध संबंध के शक में युवक ने कुल्हाड़ी मारकर पिता को उतारा मौत के घाट

पत्नी और पिता के बीच अवैध संबंध के शक में युवक ने कुल्हाड़ी मारकर पिता को उतारा मौत के घाट

रायगढ़। रायगढ़ जिले के पुसौर ब्लाक के ग्राम बरदापुटी गांव में एक बेटे ने अपने पिता को कुल्हाड़ी से तबाड़तोड़ हमला कर मौत के घाट उतार दिया है। घटना के बाद से आरोपी युवक फरार हो गया है। 
 


जानकारी के अनुसार पुसौर थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले ग्राम बरदापुटी में 29 सितंबर सुबह करीब साढ़े 7 बजे आरोपी राम बिहारी सारथी 30 वर्ष ने अपने पिता मुखीराम सारथी 60 वर्ष को कुल्हाड़ी मारकर उसकी हत्या कर दी। पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक आरोपी युवक को संदेह था कि उसकी पत्नी और उसके पिता का अवैध संबंध है। इस मामले को लेकर पहले पूर्व में ग्राम प्रधानों के बीच मीटिंग भी आयोजित हो चुकी थी।
बड़ी खबर छत्तीसगढ़: नक्सलियों के खिलाफ रिपोर्ट लिखाने पूरा गांव पहुंचा थाना

बड़ी खबर छत्तीसगढ़: नक्सलियों के खिलाफ रिपोर्ट लिखाने पूरा गांव पहुंचा थाना

नारायणपुर: छत्तीसगढ़ के नारायणपुर जिले के छोटेडोंगर थाना क्षेत्र के मढ़ोनार गांव में नक्सलियों के खिलाफ बगावत शुरू हो गई है। बस्तर का यह पहला मामला है जब नक्सलियों के खिलाफ थाने में रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए पूरा गांव उठ कर थाने पहुंचा। ग्रामीणों में आक्रोश की वजह यह है कि गुरुवार को नक्सलियों द्वारा पीएमजीएसवाई के पुलिया निर्माण में लगे मजदूरों के साथ मारपीट कर निर्माण कार्य करा रहे दल्लीराजहरा निवासी संदीप जाला की हत्या कर निर्माण कार्य में लगे एक जेसीबी, दो ट्रैक्टर व एक सीडी डान मोटरसाइकिल को आग के हवाले कर दिया था। इस घटना को लेकर ग्रामीणों में काफी आक्रोश है। शुक्रवार को मढ़ोनार व आसपास क्षेत्र के करीब 200 की संख्या में ग्रामीण पैदल आठ किमी चलकर छोटेडोंगर नक्सलियों के खिलाफ बेवजह महिला मजदूरों के साथ मारपीट, गांव के सड़क व पुलिया निर्माण को रोकने के विरोध में रिपोर्ट दर्ज कराई। ग्रामीणों का कहना है कि हम गरीब मजदूरी कर अपना और अपने परिवार का जीवनयापन करते हैं परंतु नक्सली बेवजह हमारे साथ मारपीट कर हमें धमकी देते हैं। नक्सली सड़क निर्माण व पुलिया निर्माण कार्य में अड़चन डाल कर गांव की विकास को रोक रहे हैं। सरकार सड़क हम गांव वालों के चलने के लिए बना रही है फिर नक्सली क्यो गांव के विकास कार्यों में बांधा डाल रहे हैं।

पुरूष के साथ ही गांव की महिलाएं भी अपने दुधमुंहे बच्चों को लेकर थाने पहुंची और नक्सलियों के खिलाफ कार्यवाही की मांग की। नक्सलियों के द्वारा महिला मजदूरों से बेवजह मारपीट करने के बाद गांव में काफी आक्रोश है। जिन महिलाओं के साथ नक्सलियों ने मारपीट किया उनका कहना है कि नक्सलियों ने अचानक मढोनार के पुलिया निर्माण के पास पहुंचकर मारपीट शुरू कर दी जब हमारे द्वारा मारपीट की वजह पूछी गई तो नक्सलियों ने कहा कि काम ना करने के लिए कहा गया था फिर क्यो काम किया जा रहा है। पुरे मामले में पुलिस का कहना है कि नक्सलियों द्वारा गांव के गरीब मजदूरों से मारपीट करना ग़लत है गांव के लोग नक्सलियों के आतंक से त्रस्त हो चुके हैं।


नक्सलियों को गांव आने से मना कर चुके हैं ग्रामीण
पिछले कई सालों से मढ़ोनार में नक्सलियों की मौजूदगी नहीं हो रही थी इसका कारण यह है कि गांव वाले नक्सलियों को अपने गांव में आने के लिए मना कर चुके हैं। गांव में नक्सली नहीं आते हैं। जब से सड़क निर्माण कार्य चल रहा है तभी से आ रहे हैं। गांव वाले नक्सलियों का दाना-पानी भी बंद कर चुके हैं किसी तरह का कोई मदद नहीं करते है।


मढ़ोनार में गुरुवार को नक्सलियों द्वारा करीब साढ़े तीन बजे दस्तक देकर पुलिया निर्माण कार्य में लगे वाहनों पर आगजनी कर मुंशी की हत्या की गई।साथ ही पुलिया निर्माण कार्य में कार्य कर रहे महिला मजदूरों के साथ मारपीट की गई, जिसे लेकर ग्रामीण काफी आक्रोशित हैं। ग्रामीणों ने नक्सलियों के खिलाफ मामला दर्ज कर कार्यवाही की मांग की है।

 बड़ी खबर : बाइक में फंसा महिला का गमछा, हादसे में महिला की मौके पर ही मौत

बड़ी खबर : बाइक में फंसा महिला का गमछा, हादसे में महिला की मौके पर ही मौत

नारायणपुर। जिले के बेनूर थाना से 04 किलोमीटर दूर ग्राम नेतानार निवासी मसुराम नेताम अपनी मौसी को लेने बेनूर आया हुआ था। वह अपनी मौसी को लेकर अपने गृहग्राम नेतानार जा रहा था कि बेनूर से 01 किलोमीटर दूर ग्राम भीरागांव पटेलपारा के पास चलती मोटर साइकिल के चक्के में गमछा फंस जाने से मसुराम की मौसी गिर गई जिससे उसके सिर में गम्भीर चोट आई और मौके पर ही उसकी मौत हो गई। घटना की सूचना मिलते ही तत्काल बेनूर थाना प्रभारी निरीक्षक मनोज बंजारे अपने स्टाफ के साथ घटना स्थल पहुंचे और शव का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भेजा गया।
 बड़ी खबर छत्तीसगढ़: नक्सली हमले में असिस्टेंट कमांडेंट और एएसआई शहीद

बड़ी खबर छत्तीसगढ़: नक्सली हमले में असिस्टेंट कमांडेंट और एएसआई शहीद

नारायणपुर। छत्तीसगढ़ के नारायणपुर जिला मुख्यालय से 50 किमी दूर अति नक्सल प्रभावित कडेमेटा कैम्प से छह सौ मीटर की दूरी पर शुक्रवार को नक्सली हमले में आईटीबीपी 45 बटालियन के ई कंपनी के असिस्टेंट कमांडेंट और एएसआई शहीद हो गए है। 

घटना के बाद नक्सलियों ने जवानों के हथियार,वायरलेस सैट और बुलेटप्रूफ जैकेट भी लूटकर ले गए है। घटना की पुष्टि एएसपी नीरज चंद्राकर ने की गई।  मिली जानकारी के अनुसार कड़ेमेटा और कड़ेनार कैम्प के बीच कैम्प से निकले जवानो पर एम्बुस लगाकर नक्सलियो ने किया हमला किया है। आईटीबीपी 45 बटालियन के असिस्टेंट कमांडेंट सुधाकर शिंदे और एएसआई गुरुमुख सिंह नक्सल हमले में शहीद हुए है। सुधाकर शिंदे कडेमेटा कैम्प के प्रभारी थे। रायपुर में इनका परिवार रहता है। मूलत: वे महाराष्ट्र के रहने वाले थे। हाल के दिनों में प्रमोशन पाकर असिस्टेंट कमांडेंट बने थे। मौके पर सर्चिंग के लिए डीआरजी के जवानो को रवाना किया गया है। सूत्रों के मुताबिक जवानों से एक एके-47 हथियार, दो बुलेटप्रूफ जैकेट और वाकी टॉकी लूट कर ले गए है।

सूत्रों के मुताबिक कैम्प से कुछ ही दूरी पर बेचा गांव के पास  जियो मोबाइल का नेटवर्क देता है आईटीबीपी के जवान यही पर आकर मोबाइल से बात करते थे । नक्सलियों को इसकी खबर थी । शुक्रवार करीब तीन बजे आईटीबीपी के असिस्टेंट कमांडेंट और एएस आई बेचा में जियो नेटवर्क में  मोबाइल से बात करने गए हुए थे तभी नक्सलियों ने आईईडी ब्लास्ट कर दिया जिससे दोनों की मौके पर मौत हो गई है।
CG BREAKING: बस्तर के अबूझमाड़ में छलका देशप्रेम

CG BREAKING: बस्तर के अबूझमाड़ में छलका देशप्रेम

नारायणपुर: छत्तीसगढ़ के घोर नक्सल प्रभावित नारायणपुर जिले के अबूझमाड़ में अंदरूनी इलाकों में पहली बार दिनभर शान से तिरंगा लहराता नजर आया। गदर के गीत गाने वाले बच्चे देशभक्ति के गीत गुनगुनाते रहे। स्कूलों और पंचायत भवनों में गरिमामय ढंग से ध्वजारोहण किया गया। आज़ादी के बाद पहली बार कुछ गांवों में स्वतंत्रता दिवस का जश्न मनाया गया। अबूझमाड़ में छलके देशप्रेम की कहानी के पीछे उन बहादुर सपूतों की कुर्बानी याद करना लाजमी है। देश के वीर जवानों ने अपनी शहादत से अबूझमाड़ के कुछ गांवों में शांति स्थापित किया है। माड़ के आकाबेडा,कोहकामेटा,सोनपुर,ओरछा,कुंदला, बासिंग समेत कई गांवों में नक्सली बैकफुट में चले गए है।

यहां पुलिस के थाना और कैम्प स्थापित होने से दस किमी के दायरे में नक्सली सिमट गए है। आज़ादी के 75वे साल में माड़ के कुछ गांवों सही मायने में आज़ाद हुए है। यहां पिछले चार दशकों से नक्सलियों की समांतर सरकार चलती थी। नक्सलियों के द्वारा कई निर्दोष ग्रामीणों को मौत के घाट उतार दिया गया है। फोर्स के जंगलों में उतरने के बाद अबूझमाड़ की आबोहवा भी बदल रही है। पुलिस ग्रामीणों के साथ दोस्तना संबंध स्थापित कर गांवों में विकास के द्वार खोलने में सहभागिता निभा रहीं है।


काले झंडे लगाकर विरोध नही जता पाए नक्सली
नक्सलियों के आधार इलाके में फोर्स की आमद होने से नक्सलियों का इलाका सिमट रहा है। स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस को काला दिवस घोषित कर नक्सलियों के द्वारा गांव-गांव में काला झंडा लगाया जाता है लेकिन इस बार नक्सली अपने मंसूबों पर कामयाब नहीं हो पाए है। शैक्षणिक संस्थाओं और ग्राम पंचायतों में ध्वजारोहण होने के बाद नक्सली तिरंगे झंडे को उतार कर काले झंडे लगाते आए हैं लेकिन पहली बार ऐसा हुआ है कि नक्सलियों के द्वारा अबूझमाड़ के अंदरूनी इलाकों में काले झंडे लगाकर विरोध नहीं जता पाए है।


लालटेन युग से मिली आजादी
दशकों बाद अबुझमाडिय़ा परिवार को सरकार की योजनाओं का लाभ मिल रहा है। गांवों तक पक्की सड़कें बनाई जा रही है। पीने के लिए साफ पानी मिल रहा है। लालटेन युग से आजादी मिल गई है। माड़ के छोटे बड़े गांव में बिजली पहुँच गई है। असल आजादी के मायने अबुझमाडिय़ा परिवार लोग अब समझ रहे है। सरकार के द्वारा अंतिम व्यक्ति तक पहुँच बनाने के लिए गंभीर प्रयास किए जा रहे है। स्वास्थ्य सेवा का लाभ गांव के अंतिम छोर तक पहुँचाने के लिए स्वास्थ्य साथी के युवाओं को लगाया गया है।


सभी स्कूलों में हुआ ध्वजारोहण
अबूझमाड़ ब्लाक के सभी स्कूलों में स्वतंत्रता दिवस गरिमामय ढंग से मनाया गया है। आजादी के पर्व को लेकर गांवों में उत्साह का माहौल है। किसी भी स्कूल से नक्सली उत्पात की जानकारी नही आई है।

छत्तीसगढ़: पुलिया से अनियंत्रित कार नाले में गिरी, हादसे में एक व्यापारी की मौत एक घायल

छत्तीसगढ़: पुलिया से अनियंत्रित कार नाले में गिरी, हादसे में एक व्यापारी की मौत एक घायल

नारायणपुर। जिले के नारायणपुर-कोंडागांव मुख्य मार्ग पर एक कार अनियंत्रित होकर पुलिया से जा गिरी जिसमें एक व्यापारी की मौके पर मृत्यु हो गई, वहीं वाहन चालक गंभीर रूप से घायल हो गया है।  


प्राप्त जानकारी के अनुसार मारुति कार क्रमांक सीजी 04 एमई 2701 ग्राम टिमनार पुलिया से अनियंत्रित होकर गिर गई। जिससे सवार हरेश कुमार निहचलानी मौके पर ही मौत हो गई तथा वाहन चालक गंभीर चोटे आई जिसकी सूचना थाना प्रभारी तोपसिंह नवरंग को मिलते ही तत्काल मौके पर पहुंचकर चालक को वाहन से बाहर निकाला व यातायात पुलिस व संजीवनी के सहयोग से उपचार के लिए जिला अस्पताल भेजा गया। बताया गया कि मृतक रायपुर का निवासी है जो व्यापार की सिलसिले में नारायणपुर जा रहा था। थाना प्रभारी तोपसिंह नवरंग ने बताया आईपीसी की धारा 304ए के तहत मर्ग कायम कर मामले को जांच में लिया गया है।
बड़ी खबर: नक्सली हमले में एक जवान शहीद, 2 घायल

बड़ी खबर: नक्सली हमले में एक जवान शहीद, 2 घायल

नारायणपुर। नारायणपुर जिले में जवानों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ की सूचना है। इस मुठभेड़ में दो जवान घायल हो गए हैं। जानकारी के मुताबिक, मादई और शिव मंदिर के बीच मुख्य मार्ग में मुठभेड़ हुई है। घटना की एएसपी नीरज चंद्राकर ने पुष्टि की है। मुठभेड़ में आईटीबीपी का एक जवान शिवकुमार मीणा शहीद हो गया है। जवान राजस्थान का रहने वाला था।


बस्तर के आईजी पी. सुंदरराज ने जानकारी देते हुए बताया कि आज सुबह नारायणपुर में छोटे डोंगर थाना क्षेत्र के अमदई घाटी के पास नक्सलियों के साथ मुठभेड़ में आईटीबीपी का 2 जवान घायल गए और 1 जवान शहीद हो गया।

 छत्तीसगढ़: नक्सलियों ने मचाया उत्पात, खदान में लगे 5 गाडिय़ों को किया आग के हवाले

छत्तीसगढ़: नक्सलियों ने मचाया उत्पात, खदान में लगे 5 गाडिय़ों को किया आग के हवाले

नारायणपुर।  छत्तीसगढ़ के नारायणपुर में नक्सलियों के आतंक खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। इस कड़ी में एक बार फिर नक्सलियों की हरकत सामने आई है। जहां अमदई खदान में लगे अमदई घाट में नक्सलियों ने एक-एक कर पांच गाडिय़ों को आग के हवाले कर दिया। इसके अलावा माइंस में काम कर रहे दो कर्मचारियों के अपहरण की भी खबर है और निको प्लांट के एक कर्मचारी की भी मौत की भी खबर है।

जानकारी के अनुसार नक्सलियों ने पुलिस में कैंप में हमला कर किया। वहीं 5 गाडिय़ों को आग के हवाले कर दिया। इस घटना के बाद जवानों ने भी मोर्चा संभाला है। मौके पर जवानों ने भी इसका जवाब गोलियों से दिया है। पिछले एक घंटे से कैंप में फायरिंग चल रही है। अभी तक नक्सली घटना को लेकर बड़ा अपडेट मिलना बाकी है। वहीं इलाके में सर्चिंग अभियान तेज करने की खबर है।

 

जिले में प्रतिदिन रात 8 बजे से सुबह 6 बजे तक रहेगा नाईट कर्फ्यु, आदेश जारी

जिले में प्रतिदिन रात 8 बजे से सुबह 6 बजे तक रहेगा नाईट कर्फ्यु, आदेश जारी

नारायणपुर। कलेक्टर साहू ने पूर्व में जारी आदेश के तहत् नारायणपुर जिला अंतर्गत सम्पूर्ण क्षेत्र को 1 जून 2021 से 15 जून 2021 तक दंड प्रक्रिया संहिता 1973 अंतर्गत धारा 144 के तहत् प्रतिबंधात्मक आदेश पारित किया गया था। उक्त आदेश को अधिक्रमित करते हुए आगामी आदेश पर्यन्त निम्नलिखित गतिविधियां पूर्णत: प्रतिबंधित रहेगी। सभी धार्मिक, सांस्कृतिक व पर्यटन स्थल, मैरिज हॉल, सिनेमा हॉल, सभी पार्क, सभी प्रकार की सभा, जुलूस, धरना, खेल, सामाजिक, धार्मिक और राजनैतिक आयोजन तथा अन्य सार्वजनिक स्थल पूर्णत: बंद रहेंगे। स्कूल व कॉलेज विद्यार्थियों के लिए बंद रहेंगे। छात्रावास में केवल परीक्षा देने वाले विद्यार्थियों को आवास की अनुमति होगी।
शासन से अनुमति प्राप्त समस्त परीक्षाओं को छोड़कर कोचिंग और अन्य समस्त शैक्षणिक गतिविधियां बंद रहेगी। सभी अस्पताल, मेडिकल दुकानें, पशु चिकित्सालय, पैथालॉजी/क्लीनिक, लैब, पेट्रोल पंप, दुग्ध, न्यूज पेपर वितरण और पेयजल वितरण को छोड़कर पूर्वत चालू रहेंगी। सभी शासकीय उचित मूल्य दुकानों को खाद्य नियंत्रक रायपुर द्वारा निर्धारित समयावधि में खुलने की अनुमति होगी। मास्क, फिजिकल डिस्टेंसिंग, नियमित सेनिटाईजेशन एवं भीड़-भाड़ नहीं होने देने की षर्त का कड़ाई से पालन कराने की अधीन, टोकन व्यवस्था के साथ अलग-अलग निर्धारित तिथियों में उचित मूल्य दुकानों को खोलने के लिए खाद्य नियंत्रक द्वारा पृथक से आदेश प्रसारित किया जाएं। जिला नारायणपुर अंतर्गत सभी प्रकार की दुकानों/प्रतिश्ठानों को सोमवार से षनिवार तक समय सुबह 8:00 बजे से रात 8:00 बजे तक दुकानों को खोलने की अनुमति दी जाती है। दुकानदार/संचालक अपने प्रतिश्ठान में मास्क व सेनेटाईजर की व्यवस्था स्वयं करेगा और फिजिकल डिस्टेंसिग का कड़ाई से पालन करना अनिवार्य होगा।
सभी प्रकार की दुकानदारों/संचालकों और उसमें कार्यरत कर्मचारियों के लिए आवश्यक होगा, कि वे स्वयं और उनके परिवार के सदस्यों की जिनकी आयु 45 वर्ष से अधिक है को कोविड-19 वैक्सीनेशन कराना अनिवार्य होगा। सभी व्यवसायिक प्रतिष्ठानों में सहज दृश्य स्थान में एक पोस्टर चस्पा करेंगे, जिसमें यह स्पश्ट संदेश होगा, कि बिना मास्क पहने किसी भी ग्राहक को अंदर प्रवेश नहीं दिया जाएगा और न ही उन्हें कोई साम्रगी विक्रय की जाएगी। शर्तो का उल्लंघन करने तथा भीड़-भाड़ होने पर दुकानदार/संचालक स्वयं जिम्मेदार होगें तथा उन्हें एपिडेमिक एक्ट 1897 के अधीन चलान/अर्थदंड अधिरोपित करने के साथ-साथ दुकान को दो सप्ताह के लिए सील किया जाएगा। सभी पानठेला, चाट, समोसा, गुपचुप, चौपाटी, फास्ट-फूट इत्यादि खोलने की अनुमति होगी, किन्तु चौपाटी से होम डिलीवरी तथा टेक अवे की अनुमति होगी। दुग्ध पार्लर व दुग्ध वितरण, ब्रेड विक्रेता तथा न्यूज पेपर हॉकर द्वारा समाचार पत्रों के वितरण की समयावधि सुबह 7:00 बजे से रात 8:00 बजे तक की होगी। स्थानीय व नजदीक के गांव से आने वाले फल, सब्जी के विक्रेताओं को मुख्य नगरपालिका अधिकारी, नारायणपुर द्वारा वार्डो में निर्धारित स्थानों पर ही फल, सब्जी विक्रय करने की अनुमति होगी।
इसके लिए नगरपालिका अधिकारी पूरे शहर में पर्याप्त दूरी बनाते हुए च्वपदज निर्धारित कर चूना से मार्किंग करेंगे। फल/सब्जी विक्रेता को उन्हीं स्थानों में विक्रय करने की अनुमति होगी। जिसके लिए समय सुबह 8:00 बजे से शाम 6:00 बजे तक की होगी। उपरोक्त समयानुसार ग्रामीण क्षेत्रों में सब्जी फल की दुकानें खुलेंगी। साथ ही समस्त सब्जी, फल विक्रेता को प्रत्येक 10 दिवस में कोविड जांच कराना अनिवार्य होगा। पेट्रोल पंप और गैस एजेंसियां सभी उपभोक्ताओं के लिए खोले जाने की अनुमति रहेगी। गैस एजेंसियां होम डिलीवरी को प्राथमिकता देवें। स्थानीय ऑनलाईन शॉप तथा ई-कॉमर्स सेवाओं यथा अमेजॉन, फ्लिफकार्ट इत्यादि को सुबह 10:00 बजे से शाम 6:00 बजे तक होम डिलीवरी के लिए अनुमति प्रदान की जाती है, किन्तु शॉप/स्टोर आम जनता के लिए नहीं खुलेंगे। ऑनलाईन सेवा और होम डिलीवरी में लगे हुए सभी व्यक्तियों को नियमित अंतराल में कोविड-19 जांच कराना अनिवार्य होगा। जिला के रेडी-टू ईट निर्माणकर्ता ईकाईयां सुबह 9:00 बजे से शाम 6:00 बजे तक अपना कार्य संचालित कर सकेंगी। जिले के सभी बैंकों को ए.टी.एम कैश रि-फिलिंग, अन्य सभी लेन-देन अथवा कार्यो के लिए अपने कार्यालयीन समय में खोलने की अनुमति रहेगी। जिले में किसानों को खरीफ वर्ष 2021-22 के लिए ऋण वितरण का कार्य किया जा सकेगा। जिसके लिए किसानों को एन पी एल तैयार करने आवश्यक दस्तावेज जैसे बी-1, ऋण पुस्तिका, ऋण मांग पत्र का प्राप्त करना और दस्तावेजों का परीक्षण कर किसान का हस्ताक्षर के लिए आदिम जाति सेवा सहकारी समितियों को अनुमति दी जाती है।
जिले के डाकघरों को महत्वपूर्ण डाक, पत्र/पार्सल की प्राप्ति व वितरण के लिए कार्यालयीन समय में संचालन की अनुमति होगी। गौण वनोपज से संबंधित कार्य-संग्रहण, विपणन, भंडारण और परिवहन कार्य तथा मनरेगा संबंधित समस्त कार्य की अनुमति होगी। समस्त मिलरों को धान का भंडारण, मिलिंग व चॉवल को पीडीएस दुकानों तक परिवहन की अनुमति होगी। विवाह कार्यक्रम वर अथवा वधू के निवास गृह में ही आयोजित करने एवं शामिल होने वाले व्यक्तियों तथा अंत्योष्टि, दशगात्र, मृत्यु इत्यादि संबंधी कार्यक्रम में शामिल होने वाले व्यक्तियों की अधिकतम संख्या 50 निर्धारित की जाती है। उक्त कार्यों के लिए अनुमति के लिए आवेदनकर्ता कार्यक्रम में शामिल होने वाले व्यक्तियों के नाम सहित उनका पहचान पत्र/आधार कार्ड आवेदन में संलग्न करते हुए अनुविभागीय दंडाधिकारी नारायणपुर से पूर्वानुमति आवश्यक होगी। उक्त कार्यक्रम में शामिल होने वाले प्रत्येक व्यक्ति को सर्वप्रथम कोविड-19 का जांच कराना अनिवार्य होगा। जांच में कोविड-19 पॉजीटिव पाये जाने वाले व्यक्तियों को उपरोक्त कार्यक्रमों शामिल होने की अनुमति नहीं होगी।
इस शर्त के उल्लंघन किये जाने पर संबंधित व्यक्तियों अथवा आवेदनकर्ता के विरूद्ध दंडात्मक कार्यवाही की जाएगी। होटलों व रेस्टोरेंट रात 10:00 बजे तक खुल सकेंगे। आउटसाइड डायनिंग की भी अनुमति होगी, किन्तु डायनिंग हॉल/रूम में उनकी बैठक क्षमता के 50 प्रतिशत से अधिक व्यक्तियों को अनुमति नहीं होगी। होटल, रेस्टोरेंट ऑनलाइन/टेलीफोनिक आर्डर पर होम डिलीवरी तथा टेक-अवे को प्राथमिकता देंगे। होटलों व रेस्टोरेंट से डिलीवरी का समय रात 9:00 बजे तक तथा आम जनता/ग्राहक के निवास तक होम डिलीवरी का अधिकतम समय रात 10:00 बजे तक ही रहेगा। भीड़-भाड़ या निर्देशों का उल्लघंन होने पर होटलों व रेस्टोरेंटस को नियमानुसार एक सप्ताह के लिए सील करने की कार्यवाही की जाएगी। कोविड संक्रमण के रोकथाम के लिए जिले में समस्त कार्य जैसे कांटेक्ट ट्रेसिंग, एक्टिव सर्विलांस, होम आईसोलेशन, दवाई वितरण आदि पूर्वानुसार चलते रहेंगे इन कर्यो में संलग्न सभी कर्मचारियों की उपस्थिति पूर्वानुसार अनिवार्य होगी। कोविड हॉस्पिटल/कोविड केयर सेंटर से डिस्चार्ज होने वाले मरीजों के परिवहन में संलग्न वाहन पूर्वानुसार संचालित रहेंगे। कन्टेमेंट अवधि के दौरान अत्यावश्यक कार्य से अन्य जिले में प्रवास के लिए वांछित दस्तावेज सहित आवेदन करना होगा। जरूरत मंदों को राहत सामग्री पहुंचाने के लिए इच्छुक संस्थाओं/छळव्/व्यक्तियों को कोरोना बचाव के लिए प्रसारित निर्देशो के तहत् एक समय में अधिकतम 4 व्यक्तियों को सुबह 10:00 बजे से रात 8:00 बजे तक संबंधित अनुविभागीय दंडाधिकारी की पूर्वानुमति से राहत सामग्री वितरण की अनुमति होगी।
कोविड-19 टीकाकरण के लिए पंजीयन, कोविड-19 जांच के लिए मेडिकल दस्तावेज या आधार कार्ड/विधिमान्य परिचय पत्र दिखाने पर कोविड-19 टीकाकरण केन्द्र अस्पताल/पैथालॉजी लैब अथवा आने-जाने की अनुमति होगी। सभी कार्यालयें सभी श्रेणी के अधिकारी/कर्मचारियों की षतप्रतिशत उपस्थित अनिवार्य होगी। सभी अधिकारी/कर्मचारी कोविड-19 के संक्रमण के रोकथाम के लिए निर्धारित मापदंड जैसे मास्क लगाना, एक दूसरे से पर्याप्त दूरी बनाये रखना, सेनिटाइजर का समय-समय पर उपयोग करना इत्यादि का कड़ाई से पालन करेंगे। आम जनता के प्रवेश को कोविड-19 के लिए निर्धारित निर्देशों के पालन की शत पर अनुमति होगी। सभी निर्माण कार्य कोविड उपयुक्त व्यवहार के साथ चालू रखने और निर्माण संबंधित सामग्री के परिवहन की अनुमति दी जाती है। लोक सेवा केन्द्र/च्वाईस सेंटर खुले रहेंगे, किन्तु मास्क तथा फिजिकल डिस्टेंसिंग का कड़ाई से पालन करना अनिवार्य होगा। उल्लघंन की दशा में अर्थदण्ड के साथ-साथ केन्द्र की आई.डी. निलंबित की जावेगी। देशी व विदेशी मदिरा की दुकान से नगद विक्रय की अनुमति दी जाती है। जिसके लिए समय सुबह 10:00 बजे से रात 8:00 बजे तक की होगी। प्रत्येक रविवार को सम्पूर्ण लॉकडाउन के साथ दुकाने पूर्णत: बंद रहेगीं तथा सोमवार से शनिवार तक होने वाली साप्ताहिक बाजारें सोशल डिस्टेंसिग के षर्तो के साथ चालू रहेंगी। जिसके दौरान केवल अस्पताल, क्लिनिक, मेडिकल दुकान, पट्रोल पंप तथा इस आदेश द्वारा निर्धारित समयावधि में षासकीय उचित मूल्य दुकानें, एल.पी.जी., पैट शॉप, न्यूजपेपर, दुग्ध तथा अनुमति प्राप्त अन्य वस्तुओं/सेवाओं की होम डिलीवरी के संचालन की अनुमति होगी। प्रतिदिन रात 8:00 बजे से सुबह 6:00 बजे तक नाईट कप्र्यू लागू रहेगा। जिसके दौरान होटल/रेस्टोरेट से होम डिलीवरी तथा थोक माल/फल/सब्जी की लोडिंग/अन-लोडिंग की अनुमति निर्धारित समयावधि में रहेगी। आपातकालीन आवागमन को छोड़कर अन्य समस्त गतिविधियों पर प्रतिबंधित रहेगा।
राज्य शासन के विशेष आदेश द्वारा अनुमति प्राप्त किसी सेवा के संचालन की अनुमति होगी। इस व्यवस्था में संलग्न सभी व्यक्तियों को नियमित अंतराल में कोविड-19 जांच तथा 45 वर्श से अधिक अवस्था वाले व्यक्तियों को कोविड-19 वैक्सीनेशन कराना अनिवार्य होगा। व्यावसायिक संस्थानों तथा सार्वजनिक स्थानों पर कोविड 19 सैम्पलिंग टीम की ओर से कभी भी सैम्पलिंग की जा सकती है, संबंधित व्यक्तियों को सैम्पलिंग कराना अनिवार्य होगा, मोबाईल सर्विलेंस टीम भी समय-समय पर कोविड-19 प्रोटोकाल का पालन सुनिश्चित कराने के लिए भ्रमण पर रहेगी एवं उनके द्वारा नियमानुसार चालानी/दंडात्मक कार्यवाही की जाएगी। इस आदेश का उल्लंघन करने वाले व्यक्ति/प्रतिश्ठानों पर भारतीय दंड संहिता 1860 की धारा 188, आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 की धारा 51-60 तथा अन्य सुसंगत विधि अनुसार कड़ी कार्यवाही की जाएगी।
 

बड़ी खबर: सरेंडर करने वाले 4 नक्सलियों ने किया ये बड़ा खुलासा

बड़ी खबर: सरेंडर करने वाले 4 नक्सलियों ने किया ये बड़ा खुलासा

 नारायणपुर। नारायणपुर में आज फिर 4 नक्सलियों ने आत्मसमर्पण किया है, उन्होंने पुलिस अधीक्षक के समक्ष आत्मसमर्पण करने के बाद कई अहम खुलासे किए| उन्होंने बताया कि अबूझमाड़ के जंगलों में कई बड़े नक्सली कैडर बीमार है। पुलिस अधीक्षक मोहित गर्ग ने पुष्टि करते हुए बताया कि आत्मसमर्पित नक्सली अबूझमाड़ के कुतुल एरिया कमेटी के सदस्य हैं, कमेटी के धुरेबेड़ा और गोमागाल, जनमिलिशिया सदस्य हैं, आत्मसमर्पित नक्सलियों ने बड़े नेताओं के बीमार होने का बड़ा खुलासा किया है।

बता दें कि बीते हाल ही के दिनों में दो बड़े नक्सली कमांडरों की कोरोना के कारण मौत हुई है, नक्सलियों में कोरोना संक्रमण फैलने और कोरोना से कई बड़े नक्सलियों के गंभीर होने का कोत्तागुड़म SP सुनील दत्त ने भी दावा किया था, इसके पहले भी 6 जून और 27 मई को एक-एक नक्सली कमांडर की मौत हुई थी।

मृतक नक्सली कमांडर सोबराय ने भी कई अहम खुलासे भी किए थे। सोबराय ने कई नक्सली नेताओं के नाम का भी खुलासा किया जो कोरोना से पीड़ित हैं। सोबराय के मुताबिक कटम सुदर्शन ऊर्फ आनंद, थिपिरी तिरुपति ऊर्फ चेतन, यापा नारायण ऊर्फ हरि भूषण, कट्टा रामचंद्र रेड्डी ऊर्फ विकल्प भी कोरोना से पीड़ित है। देवेंद्र रेड्डी, मुचाकी उंगल उर्फ सुधाकर, कोडी मंजूला उर्फ निर्मला, पुसम पद्मा और ककरला सुनीता भी कोरोना संक्रमित बताए गए थे।

जिले में शराब दुकानों का संचालन प्रातः 9 से शाम इतने बजे तक

जिले में शराब दुकानों का संचालन प्रातः 9 से शाम इतने बजे तक

नारायणपुर। जिले में लॉकडाउन अवधी/आगामी आदेश पर्यन्त डिलीवरी बॉय के माध्यम से मदिरा की ऑनलाईन होम डिलीवरी तथा पिक-अप काउंटर से मदिरा प्रदाय करने के लिए अनुमति प्रदान की गई है। राज्य शासन एतद् ने देशी मदिरा की फूटकर दुकानों में 1 जून से संचालन का समय प्रातः 9 से शाम 6 बजे तक नगद भुगतान उपरांत मदिरा प्रदाय करने के लिए अनुमति प्रदान की जाती है। होम डिलिवरी/काउंटर बिक्री के दौरान कोविड-19 लॉकडाउन के निर्देशों का पालन किया जाना अनिवार्य होगा। 

जिले में बढ़ी लॉकडाउन की अवधि, शनिवार- रविवार को रहेगा पूर्ण लॉकडाउन

जिले में बढ़ी लॉकडाउन की अवधि, शनिवार- रविवार को रहेगा पूर्ण लॉकडाउन

नारायणपुर । कलेक्टर धर्मेश कुमार साहू ने पूर्व में जारी आदेश के तहत् संपूर्ण नारायणपुर जिले में 31 मई रात्रि 12 बजे तक कंटेनमेंट जोन घोशित किया था। आज हुई जिला स्तरीय बैठक मिें हुई चर्चा और जिले में लगातार कन्टेमेंट जोन घोशित किए जाने और प्रशासनिक प्रयासों के कारण कोरोना वायरस पॉजिटीव प्रकरणों की संख्या में गिरावट एवं संक्रमण दर में तुलनात्मक कमी के फलस्वरूप जिले में आर्थिक गतिविधियों को दृश्टिगत व्यवसायिक और अन्य गतिविधियों में निम्नानुसार छूट के साथ संशोधित आदेश प्रसारित किया जाता है। जिसके तहत् नारायणपुर जिला के सम्पूर्ण क्षेत्रातंर्गत 1 जून से 15 जून तक कुछ रियायत के साथ पूर्ववत् कन्टेमेंट जोन घोशित किया जाता है। 1 जून से 15 जून तक नारायणपुर जिला की सम्पूर्ण सीमाएं सील रहेंगी। कन्टेमेंट तिथि में प्रत्येक षनिवार, रविवार को सभी अस्पताल, मेडिकल दुकानें, पशु चिकित्सालय, पैथालॉजी,क्लीनिक, लैब, पेट्रोल पंप, दुग्ध, न्यूज पेपर वितरण और पेयजल वितरण को छोड़कर पूर्णतः लॉकडाउन रहेगा।
जिले में 01 जून से दी जाने वाली रियायतें :-
जारी आदेश में दी गयी रियायतों में सभी शासकीय उचित मूल्य दुकानों को खाद्य नियंत्रक रायपुर से निर्धारित समयावधि में खुलने की अनुमति होगी। मास्क, फिजिकल डिस्टेंसिंग, नियमित सेनिटाईजेशन और भीड़-भाड़ नहीं होने देने की षर्त का कड़ाई से पालन कराने की अधीन, टोकन व्यवस्था के साथ अलग - अलग निर्धारित तिथियों में उचित मूल्य दुकानों को खोलने के लिए खाद्य नियंत्रक से पृथक से आदेश प्रसारित किया जाए। जिला नारायणपुर अंतर्गत सभी प्रकार की दुकानों, प्रतिश्ठानों को सोमवार से शुक्रवार तक समय प्रातः 8 बजे से षाम 6 बजे तक दुकान खोलने की अनुमति दी जाती है। दुकानदार/संचालक अपने प्रतिश्ठान में मास्क और सेनेटाईजर की व्यवस्था स्वयं करेगा, फिजिकल डिस्टेंसिग का कड़ाई से पालन करना अनिवार्य होगा। सभी प्रकार की दुकानदारों/संचालकों और उसमें कार्यरत कर्मचारियों के लिए आवश्यक होगा कि वे स्वयं और उनके परिवार के सदस्यों की जिनकी आयु 45 वर्श से अधिक है को कोविड-19 वैक्सीनेशन कराना अनिवार्य होगा। 15 जून के पश्चात् संचालक/कार्यरत कर्मचारी के परिवार के सदस्य जिनकी आयु 45 वर्श से अधिक है। वैक्सीनेशन नहीं होने पर दुकान खोलने की अनुमति नहीं दी जाएगी। सभी व्यवसायिक प्रतिश्ठानों में सहज दृश्य स्थान में एक पोस्टर चस्पा करेंगे। जिसमें यह स्पश्ट संदेश होगा कि बिना मास्क पहने किसी भी ग्राहक को अंदर प्रवेश नहीं दिया जाएगा और न ही उन्हें कोई साम्रगी विक्रय की जाएगी। शर्तो का उल्लंघन करने तथा भीड़-भाड़ होने पर दुकानदार/संचालक स्वयं जिम्मेदार होगें । उन्हें एपिडेमिक एक्ट 1897 के अधीन चलान/अर्थदण्ड अधिरोपित करने के साथ-साथ दुकान को दो सप्ताह के लिए सील किया जाएगा। सभी पानठेला, चाट, समोसा, गुपचुप, चौपाटी, फास्ट-फूट इत्यादि के विक्रय पार्सल के माध्यम से ठेलों का संचालन की अनुमति होगी, किन्तु बैठाकर खिलाने की अनुमति नहीं होगी। उल्लंघन किए जाने पर तत्काल प्रभाव से अनुमति निरस्त की जाएगी। दुग्ध पार्लर व दुग्ध वितरण, ब्रेड विक्रेता और न्यूज पेपर हॉकर से समाचार पत्रों के वितरण की समयावधि प्रातः 7 बजे से 10 बजे तक एवं सायं 5 बजे से 7 बजे तक की ही होगी। स्थानीय और नजदीक के गांव से आने वाले फल, सब्जी के विक्रेताओं को मुख्य नगरपालिका अधिकारी, नारायणपुर से वार्डो में निर्धारित स्थानों पर ही फल, सब्जी विक्रय करने की अनुमति होगी। इसके लिए नगरपालिका अधिकारी पूरे शहर में पर्याप्त दूरी बनाते हुए प्वाइंट निर्धारित कर चूना से मार्किंग करेंगे। फल/सब्जी विक्रेता को उन्हीं स्थानों में विक्रय करने की अनुमति होगी। जिसके लिए समय प्रातः 8 बजे से दोपहर 2 बजे तक की होगी। उपरोक्त समयानुसार ग्रामीण क्षेत्रों में सब्जी फल की दुकानें खुलेंगी। साथ ही समस्त सब्जी, फल विक्रेता को प्रत्येक 10 दिवस में कोविड जांच कराना अनिवार्य होगा।
 

यहां वैवाहिक कार्यक्रम में गाईड लाईन का पालन नहीं करने पर लगा 10 हजार का जुर्माना

यहां वैवाहिक कार्यक्रम में गाईड लाईन का पालन नहीं करने पर लगा 10 हजार का जुर्माना

नारायणपुर । कोरोना संक्रमण को देखते हुए जिले में सभी प्रकार की सभा, जुलूस, सामाजिक, धार्मिक और राजनैतिक आयोजन इत्यादि को पूर्णतः प्रतिबंधित किया गया है। वैवाहिक कार्यक्रम आयोजित करने के लिए शासन से जारी गाईड लाईन का पालन करने की शर्त पर अनुमति प्रदान की जा रही है।
जिले में आयोजित होने वाले वैवाहिक कार्यक्रमों में शासन से जारी गाईड लाईन का पालन सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी कलेक्टर धर्मेश कुमार साहू ने एसडीएम दिनेश कुमार नाग और उड़न दस्ता दल को दी है। नारायणपुर विकासखंड के ग्राम बेलगांव में आयोजित एक वैवाहिक कार्यक्रम में बड़ी संख्या में लोग एकत्रित थे, और शासन से कोरोना के संबंध में जारी दिशा-निर्देशों का उल्लंघन कर रहे थे। जिस पर उड़न दस्ता दल ने वैवाहिक कार्यक्रम आयोजित करने वाले व्यक्ति पर 10 हजार का जुर्माना लगाया और समझाईश दी। इस मौके पर नायब तहसीलदार ख्याति नेताम, मुकेश ठाकुर के अलावा उड़नदस्ता दल के सदस्य मौजूद थे।
 

 छत्तीसगढ़: नक्सलियों के 8 जनमिलिशिया सदस्य गिरफ्तार

छत्तीसगढ़: नक्सलियों के 8 जनमिलिशिया सदस्य गिरफ्तार

नारायणपुर। जिले में चलाये जा रहे नक्सल उन्मूलन अभियान के तहत डीआरजी, जिला बल, छसबल, एसटीएफ, आईटीबीपी द्वारा ओरछा और धनोरा थाना से जिला बल एवं डीआरजी की संयुक्त पुलिस पार्टी ने सर्चिंग के दौरान ग्राम रायनार में दबिश देकर संदेही आरोपी केसा राम पोयाम पिता कुमा राम, आयतु पोयाम पिता हिड़मा, मानकू राम दुग्गा, गोमे पोयाम, दशमन पोयाम, पूरन पोयाम, बोलो मण्डावी, सुखराम पोयाम सभी नुलवट्टी जनमिलिशिया सदस्य को गिरफ्तार किया गया।

गिरफ्तार जनमिलिशिया सदस्य ओरछा पुलिस पार्टी को जान से मारने के लिए आईईडी ब्लास्ट कर फायरिंग करने की घटना में शामिल होना तथा नक्सलियों के सहयोग करने में शामिल रहे हैं। धनोरा थाना में कार्यवाही उपरांत शनिवार को न्यायालय में पेश कर रिमांड़ पर जेल दाखिल कर दिया गया है।
 छत्तीसगढ़ : उप जेल में 54 कोरोना पॉजिटिव मिलने पर कलेक्टर-एसपी किया उपजेल का निरीक्षण

छत्तीसगढ़ : उप जेल में 54 कोरोना पॉजिटिव मिलने पर कलेक्टर-एसपी किया उपजेल का निरीक्षण

नारायणपुर। जिला मुख्यालय स्थित उपजेल में कोविड-19 के 02 जेल कर्मचारियो और 52 कैदियों सहित 54 के कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि नारायणपुर सीएमएचओ करने की सूचना के बाद उप जेल में नारायणपुर कलेक्टर धर्मेश कुमार साहू, पुलिस अधीक्षक मोहित गर्ग सहित अन्य अधिकारियों ने उपजेल का निरीक्षण किया। इस दौरान कलेक्टर श्री साहू ने कोविड-19 प्रोटोकाल का पालन करते हुए बैरक में रह रहे कैदियों से बातचीत की और उनसे जेल की व्यवस्थाओं, भोजन, शौचालय एवं दी जा रही दवाईयों के बारे में जानकारी ली। 

कलेक्टर श्री साहू ने जेलर से कहा कि किसी भी मरीज की तबीयत यदि ज्यादा खराब हो तो बिना देर किये उसे कोविड केयर सेंटर में भेजे। इसके साथ ही उन्होंने की सुरक्षा व्यवस्था सीसीटीव्ही, अलार्म आदि की जाानकारी ली और नियमित अंतराल में मॉकड्रिल करने कहा। 

उन्होंने जेलर से जेल में स्थापित क्लीनिक में मरीजों की लिए दवाईयों के स्टॉक एवं उपलब्धता की जानकारी ली, कलेक्टर ने कैदियों के लिए भोजन तैयार किये जाने वाले पाकशाला और बैरक आदि का निरीक्षण किया। इस दौरान डिप्टी कलेक्टर वैभव क्षेत्रज्ञ, फागेश सिन्हा, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एआर गोटा सहित स्वास्थ्य विभाग के अन्य अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।
अब इस जिले में भी 31 तक लाकडाउन,शनिवार और रविवार रहेगा कम्पलीट लाकडाउन, जारी हुआ आदेश

अब इस जिले में भी 31 तक लाकडाउन,शनिवार और रविवार रहेगा कम्पलीट लाकडाउन, जारी हुआ आदेश

नारायणपुर। कलेक्टर धर्मेश कुमार साहू ने पूर्व में जारी आदेश के तहत् संपूर्ण नारायणपुर जिले में 10 मई को आदेश जारी कर 17 मई रात्रि 12ः00 बजे तक दण्ड प्रक्रिया संहिता में प्रदत्त शक्तियों के अधीन नारायणपुर जिला अंतर्गत सम्पूर्ण क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन घोशित करते हुए जिला में सार्वजनिक आवागमन एवं अन्य गतिविधियों पर कड़े प्रतिबंध अधिरोपित किये है। जिला स्तरीय बैठक में हुई चर्चा एवं राज्य शासन के निर्देशानुसार जिले में आम जनता हेतु आवश्यक सामग्रियों के संस्थानों/प्रतिश्ठानों अथवा दुकानों को निर्धारित समय में खोलने की अनुमति लोकहित में दिये जाने का निर्णय लिया गया है। इसके सााथ ही आम जनता हेतु आवश्यक वस्तुओं एवं सेवाओं की आपूर्ति सुनिश्चित करने के साथ-साथ श्रमिकों, निम्न आय वर्ग एवं छोटे-बड़े व्यवसायीगण के हितों की सुरक्षा हेतु निर्बंधनों में रियायत देते हुए देते हुए प्रतिबंधित आदेश जारी किये हैं। जारी आदेश में कहा गया है कि 18 से 31 मई रात्रि 10ः00 बजे तक लाॅकडाउन रहेगा। आदेश में यह भी कहा गया है कि सभी अस्पताल, मेडिकल दुकानें, क्लीनिक एवं पशु चिकित्सालय को उनके निर्धारित समय में खुलने की अनुमति होगी। शासकीय उचित मूल्य दुकानों को खाद्य नियंत्रक रायपुर द्वारा निर्धारित समयावधि में खुलने की अनुमति होगी। मास्क, फिजिकल डिस्टेंसिंग, नियमित सेनिटाईजेशन एवं भीड़-भाड़ नहीं होने देने की शर्त का कड़ाई से पालन कराने की अधीन, टोकन व्यवस्था के साथ अलग - अलग निर्धारित तिथियों में उचित मूल्य दुकानों को खोलने हेतु खाद्य नियंत्रक द्वारा पृथक से आदेश प्रसारित किया जावे। जिला नारायणपुर अंतर्गत सभी प्रकार की दुकानों/प्रतिश्ठानों को सोमवार से शुक्रवार तक समय प्रातः 10ः00 बजे से शाम 5ः00 बजे तक दुकान खोलने की अनुमति दी जाती है। दुकानदार/संचालक अपने प्रतिश्ठान में मास्क एवं सेनेटाईजर की व्यवस्था स्वयं करेगा एवं फिजिकल डिस्टेंसिग का कड़ाई से पालन करना अनिवार्य होगा। शर्तो का उल्लंघन करने तथा भीड़-भाड़ होने पर दुकानदार/संचालक स्वयं जिम्मेदार होगें तथा उन्हें एपिडेमिक एक्ट 1897 के अधीन चलान/अर्थदण्ड अधिरोपित करने के साथ-साथ दुकान को एक सप्ताह हेतु सील किया जावेगा। शनिवार व रविवार को सम्पूर्ण दुकाने पूर्णतः बंद रहेगीं। परन्तु आवश्यक सेवा यथा पेट्रोल पम्प, अस्पताल, मेडिकल दुकान, पी.डी.एस. दुकान, दूध, फल, पेट शाॅप, एल पी जी गैस, न्यूज पेपर, सब्जी एवं अन्य आवश्यक सेवाएं शनिवार एवं रविवार को भी संचालित रहेगीं।
आदेश में कहा गया है कि सभी पान/सिगरेट ठेला तथा चैपाटी, चाट, समोसा, गुपचुप, फास्ट-फूट इत्यादि के विक्रय हेतु ठेलों का संचालन पूर्णतः प्रतिबंधित रहेगा। दुग्ध पार्लर व दुग्ध वितरण, ब्रेड विक्रेता तथा न्यूज पेपर हाॅकर द्वारा समाचार पत्रों के वितरण की समयावधि प्रातः 7ः00 बजे से संध्या 5.00 बजे तक ही होगी। स्थानीय एवं नजदीक के गांव से आने वाले फल, सब्जी के विक्रेताओं को मुख्य नगरपालिका अधिकारी, नारायणपुर द्वारा वार्डो में निर्धारित स्थानों पर ही फल, सब्जी विक्रय करने की अनुमति होगी। इस हेतु नगरपालिका अधिकारी पूरे शहर में पर्याप्त दूरी बनाते हुये बिन्दु निर्धारित कर चूना से मार्किंग करेंगे। फल/सब्जी विक्रेता को उन्हीं स्थानों में विक्रय करने की अनुमति होगी। जिस हेतु समय प्रातः 10ः00 बजे से संध्या 05ः00 बजे तक की होगी। उपरोक्त समयानुसार ग्रामीण क्षेत्रों में सब्जी फल की दुकानें खुलेंगी। जिला के रेडी-टू ईट निर्माणकर्ता ईकाईयां प्रातः 9ः00 बजे से संध्या 5ः00 बजे तक अपना कार्य संचालित कर सकेंगी। पेट्रोल पंप एवं गैस एजेंसियां सभी उपभोक्ताओं के लिए खोले जाने की अनुमति रहेगी। गैस एजेंसिया होम डिलीवरी को प्राथमिकता देवें। स्थानीय आॅनलाईन शाॅप तथा ई-काॅमर्स सेवाओं यथा अमेजाॅन, फ्लिफकार्ट इत्यादि को उपरोक्त समयावधि में होम डिलीवरी हेतु अनुमति प्रदान की जाती है किन्तु शाॅप/स्टोर आम जनता हेतु नहीं खुलेंगे। जिला अंतर्गत संचालित शराब दुकान बंद रहेगें, किन्तु आॅनलाईन एप्लीकेशन के माध्यम से होम डिलीवरी की अनुमति रहेगी। सभी धार्मिक, सांस्कृतिक एवं पर्यटन स्थल, मैरिज हाॅल, सिनेमा हाॅल, जिम, सभी पार्क, सैलून, ब्यूटी-पार्लर तथा अन्य सार्वजनिक स्थल पूर्णतः बंद रहेंगे। जिले के नगरीय/ग्रामीण क्षेत्र में साप्ताहिक हाट-बाजार पूर्णतः प्रतिबंधित रहेंगी। सभी बैंकों को ए.टी.एम कैश रि-फिलिंग, अन्य सभी लेन-देन अथवा कार्यो हेतु 50 प्रतिशत क्षमता के साथ अपने कार्यालयीन समय में खोलने की अनुमति रहेगी। जिले के डाकघरों को महत्वपूर्ण डाक, पत्र/पार्सल की प्राप्ति एवं वितरण हेतु कार्यालयीन समय में संचालन की अनुमति होगी। गौण वनोपज से संबंधित कार्य - संग्रहण, विपणन, भण्डारण एवं परिवहन कार्य तथा मनरेगा संबंधित समस्त कार्य की अनुमति होगी। समस्त मिलरों को धान का भण्डारण, मिलिंग एवं चाॅवल को पीडीएस दुकानों तक परिवहन की अनुमति होगी।
कन्टेमेंट अवधि के दौरान अत्यावश्यक कार्य से अन्य जिले में प्रवास हेतु सीजी पास वांछित दस्तावेज सहित आवेदन करना होगा। होटलों एवं रेस्टोरेंट से केवल आॅनलाईन एप्लीकेशन के माध्यम से होम डिलीवरी की अनुमति पूर्ववत रहेगी, किन्तु ग्राहकों के लिए इन-हाउस डायनिंग पूर्णतः प्रतिबंधित रहेगा। होम डिलीवरी के लिए होटल एवं रेस्टोरेंटस में होम डिलीवरी आर्डर समय रात्रि 9ः00 बजे तक लिया जा सकेगा। तथा आम जनता हेतु होम डिलवरी रात्रि 10ः00 बजे तक ही की जा सकेगी। भीड़-भाड़ या निर्देशों का उल्लघंन होने पर होटलों एवं रेस्टोरेंटस को नियमानुसार एक सप्ताह हेतु सील करने की कार्यवाही की जावेगी। सभी प्रकार की सभा, जुलूस, सामाजिक, धार्मिक एवं राजनैतिक आयोजन इत्यादि पूर्णतः प्रतिबंधित रहेंगे। विवाह कार्यक्रम वर अथवा वधू के निवास गृह में ही आयोजित करने एवं शामिल होने वाले व्यक्तियों तथा अंत्योष्टि, दशगात्र, मृत्यु इत्यादि संबंधी कार्यक्रम में शामिल होने वाले व्यक्तियों की अधिकतम संख्या 10 निर्धारित की जाती है। उक्त कार्यों के लिए अनुमति हेतु आवेदनकर्ता कार्यक्रम में शामिल होने वाले व्यक्तियों के नाम सहित उनका पहचान पत्र/आधार कार्ड आवेदन में संलग्न करते हुए अनुविभागीय दण्डाधिकारी नारायणपुर से पूर्वानुमति आवश्यक होगी। उक्त कार्यक्रम में शामिल होने वाले प्रत्येक व्यक्ति को सर्वप्रथम कोविड-19 का जांच कराना अनिवार्य होगा। जांच में कोविड-19 पाॅजीटिव पाये जाने वाले व्यक्तियों को उपरोक्त कार्यक्रमों शामिल होने की अनुमति नहीं होगी। इस शर्त के उल्लंघन किये जाने पर संबंधित व्यक्तियों अथवा आवेदनकर्ता के विरूद्ध दण्डात्मक कार्यवाही की जावेगी। कोविड संक्रमण के रोकथाम हेतु जिले में समस्त कार्य जैसे कांटेक्ट ट्रेसिंग, एक्टिव सर्विलांस, होम आईसोलेशन, दवाई वितरण आदि पूर्वानुसार चलते रहेंगे इन कर्यो में संलग्न सभी कर्मचारियों की उपस्थिति पूर्वानुसार अनिवार्य होगी। कोविड हाॅस्पिटल/कोविड केयर सेंटर से डिस्चार्ज होने वाले मरीजों के परिवहन में संलग्न वाहन पूर्वानुसार संचालित रहेंगे। जरूरत मंदो को राहत सामग्री पहुंचाने हेतु इच्छुक संस्थाओं/एनजीओ/व्यक्तियों को कोरोना बचाव हेतु प्रसारित निर्देशो के तहत् एक समय में अधिकतम 04 व्यक्तियों को प्रातः 10ः00 बजे से संध्या 5ः00 बजे तक संबंधित अनुविभागीय दण्डाधिकारी की पूर्वानुमति से राहत सामग्री वितरण की अनुमति होगी।
कोविड-19 टीकाकरण हेतु पंजीयन, कोविड-19 जांच हेतु मेडिकल दस्तावेज या आधार कार्ड/विधिमान्य परिचय पत्र दिखाने पर कोविड-19 टीकाकारण केन्द्र अस्पताल/पैथालाॅजी लैब अथवा आने-जाने की अनुमति होगी। यह आदेश कार्यालय कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक, अनुविभागीय दण्डाधिकारी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी एवं उनके अधिनस्थ समस्त कार्यालय, तहसील कार्यालय, थाना/पुलिस चैकी एवं कोविड-19 में ड्यूटीरत अधिकारी/कर्मचारी पर लागू नहीं होगा। इसके अतिरक्त कानून व्यवस्था एवं स्वास्थ्य सेवा से संबंधित अधिकारी, विद्युत पेयजल आपूर्ति एवं नगर पालिका सेवाएं जिसमें सफाई, सीवरेज एवं कचरे का डिस्पोजल इत्यादि भी शामिल है तथा अग्निशमन सेवाओं के संचालन हेतु संबंधित अधिकारियों/कर्मचारियों को कार्यालय संचालन एवं आवागमन की अनुमति होगी, किन्तु इन शासकीय कार्यालयों में उपरोक्त अवधि में आम जनता का प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा। अन्य शासकीय कार्यालय 50 प्रतिशत क्षमता के साथ खुले रहेगें परन्तु आम जनता के लिये प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा। सभी शासकीय कार्यालय में आम जनता द्वारा आवेदन प्रस्तुत करने हेतु ड्राप बाक्स की व्यवस्था रखेगे, जिसमें कोई भी व्यक्ति अपना आवेदन डाल सकेंगे। तथापि कोई भी अधिकारी/कर्मचारी बिना कलेक्टर की अनुमति के अपना मुख्यालय नहीं छोड़ेंगे। सभी निर्माण कार्य कोविड उपयुक्त व्यवहार के साथ चालू रखने एवं निर्माण संबंधित सामग्री के परिवहन की अनुमति दी जाती है। लोक सेवा केन्द्र/च्वाईस सेंटर खुले रहेंगे, किन्तु मास्क तथा फिजिकल डिस्टेंसिंग का कड़ाई से पालन कराना अनिवार्य होगा। उल्लघंन की दशा में अर्थदण्ड के साथ-साथ केन्द्र की आई.डी. निलंबित की जावेगी। राज्य शासन के विशेष आदेश द्वारा अनुमति प्राप्त किसी सेवा के संचालन की अनुमति होगी। इस आदेश का उल्लंघन करने वाले व्यक्ति/प्रतिश्ठानों पर भारतीय दण्ड संहिता 1860 की धारा 188, आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 50 व 60 तथा अन्य सुसंगत विधि अनुसार कड़ी कार्यवाही की जावेगी। यह आदेश 18 मई 2021 से 31 मई .2021 रात्रिः 10ः00 बजे तक प्रभावशील होगा।
 

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सजग अभियान से नन्हे बच्चों को जोड़कर बढ़ा रही क्षमता

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सजग अभियान से नन्हे बच्चों को जोड़कर बढ़ा रही क्षमता

नारायणपुर। राज्य शासन द्वारा और मुख्यमंत्री के मार्गदर्शन में विगत वर्ष लाकडाउन के समय कोरोना संक्रमण के दौरान आंगनबाड़ी केंद्र में पढ़ने वाले बच्चों के बौद्धिक क्षमता विकास और विभिन्न गतिविधियों में शामिल करने के लिए प्रदेश में सजग अभियान शुरू किया गया था। महिला एवं बाल विकास विभाग के साथ समाज सेवी संस्था सेंटर फार लर्निंग रिसोर्सेस सीएलआर द्वारा यूनिसेफ़ के सहयोग से चलाए जा रहे है, सजक कार्यक्रम। सजग अभियान ने सफलतापूर्वक अपने एक साल पूरे कर लिए। नारायणपुर जिले में कोरोना संक्रमण के दौरान बच्चों को शिक्षा से जोड़ने के लिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ता गृह भेंट के माध्यम से अपना कार्य संचालित कर रही है।
कलेक्टर धर्मेश कुमार साहू के मार्गदर्शन और महिला बाल विकास विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी रविकान्त धुर्वे के दिशा-निर्देश में सजग अभियान का बेहतर क्रियान्वयन किया जा रहा है और विभाग द्वारा उपलब्ध शैक्षणिक सामग्री आडियो वीडियो द्वारा बच्चों को ज्ञान की बातें बताई जा रही है, ताकि बच्चे शिक्षा से निरंतर जुड़े रहे। सभी विकास खंड की आंगनबाड़ी कार्यकर्ता अपने अपने कार्य क्षेत्र में साहस का परिचय देते हुए अपनी जिम्मेदारियों का बखूबी निर्वहन कर रही है। गृह भेंट करके नन्हे बच्चों के पूरक पोषण आहार, गर्भवती महिलाओं, किशोरी बालिकाओं को पूरक पोषण आहार का भी वितरण कर रही है और महिलाओं को स्वस्थता साफ सफाई के बारे में जानकारी दी जा रही है। कार्यकर्ता अपने साथ वजन मशीन साथ लेके जाती है और पालकों की उपस्थिति में बच्चों का वजन करतीं हैं। साथ ही कुपोषित बच्चों को सुपोषित करने के लिए अतिरिक्त आहार के बारे में जानकारी भी देती है।
टेक अवे एवं आडियो क्लिप के माध्यम से हितग्राहियों के घर घर जाकर साफ सफाई और कोरोना संक्रमण से सुरक्षित रहने के लिए 18 से अधिक आयु वाले लोगों को टीकाकरण, मास्क लगाने और सोशल डिस्टेंस का अनिवार्य रूप से पालन करने के लिए जागरूक किया जा रहा है। साथ ही टीकाकरण के लाभ के बारे में जानकारी दी जा रही है। साथ ही महिलाओं बच्चों और किशोरों बालिकाओं की समस्याओं को सुना जाता है। यथा संभव निराकरण करने का सार्थक प्रयास किया जा रहा है । आंगनबाड़ी कार्यकर्ता बच्चों में भावी जीवन को गढ़ने के लिए तथा उनमें एक अच्छे नागरिक के गुण लाने के लिए माता पिता एवं उनके परिवार को अपने बच्चों के साथ किस प्रकार का व्यवहार किया जाना चाहिए इसकी भी जानकारी दी जा रही है। महिला बाल विकास विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी रविकांत धुर्वे ने बताया कि सजग अभियान के माध्यम से आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घर-घर जाकर सजग आडियो का प्रत्येक कड़ी परिवार वालों को सुनाते हैं। माता पिता और परिवार के सदस्य उस आडियो को ध्यान से सुनते हैं और उसमें बताए गए गतिविधियां बच्चों में कराई जाती है। पालकों ने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि आडियो से हमें बहुत सारी जानकारी प्राप्त हो रही है। हम अपने बच्चों के सुनहरे भविष्य के लिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के द्वारा बताए गए गतिविधियां को बच्चों को अनिवार्य रूप से कराएंगे।
 

 छत्तीसगढ़ लॉकडाउन : इस जिले में 11 मई तक बढ़ाया गया लॉक डाउन

छत्तीसगढ़ लॉकडाउन : इस जिले में 11 मई तक बढ़ाया गया लॉक डाउन

नारायपणपुर। छत्तीसगढ़ के नारायणपुर जिले से बड़ी खबर आ रही है। यहां11 मई सुबह 6 बजे तक लॉकडाउन बढ़ा दिया गया है। कलेक्टर धर्मेश कुमार साहू लॉकडाउन लगाए जाने का आदेश जारी कर दिया है। 11 मई तक लगने वाले लॉकडाउन में जरूरी सेवाओं को मामूली रियायतें दी गई है। वहीं जिले के सभी सीमाओं को सील कर दिया गया है। अस्पताल, मेडिकल, क्लिनिक एवं पशु चिकित्सालय को अपने निर्धारित समय में खुलने की अनुमति मिली है।

शासकीय उचित मूल्य की दुकान अपने निर्धारित समय पर संचालित होंगे। वहीं सब्जी, फल, किराने की दुकान होम डिलीवरी अपने निर्धारित समय पर संचालन कर सकते है। इस लॉकडाउन का पालन कराने के लिए टीम का गठन भी किया गया है। नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।
 छत्तीसगढ़: बम विस्फोट में शामिल तीन नक्सली गिरफ्तार

छत्तीसगढ़: बम विस्फोट में शामिल तीन नक्सली गिरफ्तार

नारायणपुर। जिले के धौडाई थाना अंर्तगत ग्राम कन्हारगांव कैम्प से डीआरजी की टीम टेमरूगांव की ओर सर्चिंग के लिए निकली थी। डीआरजी टीम टेमरूगांव में दबिश देकर तीन नक्सली मन्दर उर्फ मन्धर कोर्राम पिता जगनू राम उम्र 48 टेमरूगांव जनताना सरकार सदस्य एवं कृषि विभाग का अध्यक्ष, मनबोध कोर्राम पिता सोनारू उम्र 36 टेमरूगांव मिलिशिया सदस्य, मानू राम सलाम पिता गड़वा राम उम्र 34 टेमरूगांव मिलिशिया सदस्य को गिरफ्तार किया है। धौडाई थाना में कार्यवाही के बाद पुलिस ने गिरफ्तार नक्सलियों को आज न्यायालय के समक्ष पेश किया है। 

गिरफ्तार नक्सलियों द्वारा 23 मार्च को ग्राम बकिनतोड़ पुलिया के पास पुलिस वाहन को बम विस्फोट कर क्षति पहुचाने की घटना शामिल रहे है। इस घटना में 05 जवान शहीद होने के साथ ही 22 जवान घायल हुए थे। 
एसडीएम ने वैवाहिक कार्यक्रमों में की छापामार कार्यवाही, वसूले 35 हजार का जुर्माना

एसडीएम ने वैवाहिक कार्यक्रमों में की छापामार कार्यवाही, वसूले 35 हजार का जुर्माना

नारायणपुर | कोरोना महामारी के संक्रमण को देखते हुए जिले में सम्पूर्ण लॉक डाउन लगाया गया है। अत्यावश्यक सेवाओं को छोड़कर सभी दुकानें एवं व्यवसायिक संस्थान बंद हैं। सभी प्रकार की सभा, जुलूस, सामाजिक, धार्मिक एवं राजनैतिक आयोजन इत्यादि को पूर्णतः प्रतिबंधित किया गया है। विवाह कार्यक्रम वर अथवा वधू के निवास गृह में ही आयोजित करने एवं शामिल होने वाले व्यक्तियों की अधिकतम संख्या 20 निर्धारित की गयी है। इसके साथ ही अंत्योष्टि, दशगात्र और मृत्यु संबंधी कार्यक्रम में शामिल होने वाले व्यक्तियों की अधिकतम संख्या भी 20 निर्धारित की गयी है।


कलेक्टर श्री धर्मेश कुमार साहू के निर्देशानुसार पूरे नारायणपुर जिले में प्रशासन द्वारा पूरी मुस्तैदी के साथ लॉकडाउन का पालन करवाया जा रहा है। कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन के तहत जारी निर्देशों के प्रति प्रशासन खूब सतर्क है। एसडीएम श्री दिनेश कुमार नाग के नेतृत्व में डिप्टी कलेक्टर वैभव कुमार क्षेत्रज्ञ, तहसीलदार सुनील सोनपीपरे तथा नायब तहसीलदार ख्याति नेताम की संयुक्त टीम द्वारा जिले में हो रहे सामाजिक कार्यक्रमो में छापेमारी कार्यवाही की गई। एस डी एम श्री दिनेश कुमार नाग ने बताया की संयुक्त टीम द्वारा 5 विवाह कार्यक्रम जिसमे से नारायणपुर नगरीय क्षेत्र के कुम्हारपारा में 2, बुधवारी बाजार पारा में 1 तथा ग्रामीण क्षेत्र में देवगांव एवं गुरिया में छापेमारी की कार्यवाही की गयी। जिसमें कुम्हारपारा, बुधवारी बाजार पारा और गुरिया में आयोजित वैवाहिक कार्यक्रम में लोगों द्वारा शासन की जारी गाईड लाईन का पालन किया जा रहा था। वहीं देवगांव में वैवाहिक कार्यक्रम में लगभग 150-200 लोग शामिल हुए थे, जिन पर चालानी कार्यवाही करते हुए विवाह आयोजित करने वाले व्यक्ति पर 25 हजार और डीजे संचालक पर 10 हजार रूपये का जुर्माना किया गया। एसडीएम श्री दिनेश कुमार नाग ने कहा कि जिला प्रशासन द्वारा जारी गाईड लाईन का पालन नहीं करने वालों पर कार्यवाही नियमित जारी रहेगी। ग्रामीण क्षेत्रों कोरोना फैलने का प्रमुख कारण वैवाहिक एवं अन्य सामाजिक कार्यक्रमों में लोगों द्वारा बरती गयी लापरवाही ही है। उन्होंने इस सब कार्यक्रमों में सीमित संख्या रखते हुए मास्क का उपयोग, हाथों को सेनेटाईज और सोशल एवं फिजिकल डिस्टेंसिंग बनाये रखने की अपील की है।

जिले में वर्तमान में कोरोना संक्रमण की रोकथाम एवं नियंत्रण के संबंध में वैवाहिक कार्यक्रम, अंत्येष्टि जैसे कार्यक्रमों में शामिल होने वाले नागरिकों की संख्या को सीमित किया गया है। नारायणपुर जिले में वैवाहिक कार्यक्रम की अनुमति के लिए केवल आनलाइन आवेदन मान्य किये जायेंगे, इस आशय का आदेश कलेक्टर श्री धर्मेश कुमार साहू ने जारी किए। जारी आदेश में कहा गया है कि शासन के निर्देशानुसार लोक सेवा गारण्टी के अंतर्गत आम जनता को लोक सेवा केंद्रों के माध्यम से सेवाओ को प्रदाय किये जाने के निर्देश है, के परिपालन में जिला नारायणपुर अंतर्गत वैवाहिक कार्यक्रम हेतु लॉक डाउन से छूट का आवेदन को ई-डिस्ट्रिक्ट से लोक सेवा केंद्र/सामान्य सेवा केंद्र के माध्यम से केवल ऑनलाइन माध्यम से लिया जाएगा। आवेदन https://edistrict.cgstate.gov.in/PACE/login.do के माध्यम से ऑनलाइन कर सकते है।

 छत्तीसगढ़: नक्सलियों ने किया आईईडी ब्लास्ट, जवान घायल

छत्तीसगढ़: नक्सलियों ने किया आईईडी ब्लास्ट, जवान घायल

नारायणपुर। छत्तीसगढ़ के नारायणपुर जिले में सोनपुर मार्ग पर नक्सलियों एक आईईडी ब्लास्ट किया। आईईडी की चपेट में आने से एक जवान के घायल होने की खबर है। घायल जवान को उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया है। एएसपी नीरज चंद्राकर ने इसकी पुष्टि की है।
जिले में लॉकडाउन के दौरान रेस्टोरेंट, ढाबा, होटल और भोजनालयों में संचालित रहेगी होम डिलिवरी की सुविधा

जिले में लॉकडाउन के दौरान रेस्टोरेंट, ढाबा, होटल और भोजनालयों में संचालित रहेगी होम डिलिवरी की सुविधा

नारायणपुर। कलेक्टर ने जिले में कोरोना के बढ़ते संक्रमण को ध्यान में रखते हुए जिले में सूपर्ण लॉकडाउन किये जाने की घोषणा बीते दिन आदेश जारी कर की थी। उक्त आदेश में आंशिक संशोधन करते हुए कहा गया है कि जिले में संचालित समस्त रेस्टोरेंट ढाबा, होटल और भोजनालय बंद रहेंगे, किन्तु ग्राहकों की मांग अनुसार होम डिलिवरी की जा सकेगी। इसके लिए प्रात: 11 बजे से दोपहर 2 बजे और रात्रि 8 बजे से 9.30 बजे तक समय निर्धारित किया गया है। इसके साथ ही 45 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्तियों को कोविड-19 का टीकाकरण कार्य के लिए जिले में निर्धारित केन्द्रों पर संचालित किया जा रहा है। निर्धारित केन्द्रों में टीकाकरण के लिए आने वाले व्यक्तियों का आयु सत्यापन दस्तावेज सहित निर्धारित केन्द्रों में टीकारण के लिए आने की अनुमति। आदेश में यह भी कहा गया है कि पूर्व में जारी आदेश यथावत रहेंगे। यह आदेश 19 अप्रैल 2021 को प्रात: 6:00 बजे से प्रभावशील होगा। 

बड़ी खबर: नक्सलियों ने की पंचायत सचिव की गला रेतकर की हत्या

बड़ी खबर: नक्सलियों ने की पंचायत सचिव की गला रेतकर की हत्या

नारायणपुर। जिले के ओरछा ग्राम पंचायत के पंचायत सचिव हरक चौधरी की नक्सलियों ने ग्राम रोहताड़ में जनअदालत लगाकर गला रेतकर हत्या कर दी गई है। प्राप्त जानकारी के अनुसार ओरछा ब्लॉक के अंतर्गत पोचावाड़ा के ग्राम पंचायत सचिव हरक चौधरी ग्रामसभा के लिए आश्रित ग्राम रोहताड़ गए थे। इसी दौरान 20-25 वर्दीधारी नक्सली आए और जनअदालत लगाई और ग्रामसभा का निर्वहन करने गए पंचायत सचिव हरक चौधरी को शुक्रवार की देर शाम कों मौत के घाट उतार दिया है। नारायणपुर एसपी मोहित गर्ग ने बताया कि इस तरह की सूचना मिली है। पूरी जानकारी पता करने के लिए ओरछा थाना प्रभारी को निर्देश दिए गये हैं।

लॉकडाउन छत्तीसगढ़ : प्रदेश के एक और जिले में 19 अप्रैल से इस तारीख तक लगा टोटल लॉकडाउन, जाने किन्हें दी गई छुट

लॉकडाउन छत्तीसगढ़ : प्रदेश के एक और जिले में 19 अप्रैल से इस तारीख तक लगा टोटल लॉकडाउन, जाने किन्हें दी गई छुट

नारायणपुरकलेक्टर धर्मेश कुमार साहू ने नारायणपुर जिले में कोरोना के बढ़ते संक्रमण को ध्यान में रखते हुए जिले में सूपर्ण लॉकडाउन किये जाने हेतु प्रतिबंधात्मक आदेश पारित किया है। इसके तहत नारायणपुर जिला अंतर्गत संपूर्ण क्षेत्र को 19 अप्रैल प्रातः 6 बजे से 26 अप्रैल को रात्रि 12 बजे तक के लिए कन्टेन्मेंट जोन घोषित किया है। अतएव 19 अप्रैल प्रातः 6 बजे से 26 अप्रैल रात्रि 12 बजे तक नारायणपुर जिले की सभी सीमाएं पूर्णतः सील रहेगी।

इस संबंध में कलेक्टर साहू ने आज कलेक्टोरेट के सभाकक्ष में क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों, मीडिया प्रतिनिधियों, व्यापारी संघ और वरिष्ठ अधिकारियों से चर्चा की। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन अवधि में जिलेवासियों को किसी प्रकार की दिक्कत न हो, इस बात का भी ध्यान रखना जरूरी हैं। उन्होंने उपस्थित जनप्रतिनिधियों, संगठन पदाधिकारियों से आग्रह करते हुए कहा कि जिले के ऐसे स्थान जहां कोरोना से ज्यादा लोग प्रभावित हो रहे हैं, वहां के लोगों को जांच के लिए प्रोत्साहित करे। कलेक्टर ने कहा कि जिले में कोरोना के बढ़ते संक्रमण को रोकने हेतु जरूरी है कि अधिक से अधिक कोविड-19 की जांच की जाये। जांच व्यापारिक प्रतिष्ठानों, बखरूपारा, गुडरीपारा और शासकीय कार्यालयों में अनिवार्य रूप से की जाये। ताकि पॉजिटिव पाये गये लोगों को एक स्थान पर रखकर कोरोना के बढ़ते प्रसार को रोका जा सके। लॉकडाउन अवधि में जमाखोरी, कालाबाजारी को रोकने हेतु सुझाव भी मांगे। बैठक में पुलिस अधीक्षक मोहित गर्ग, नगर पालिका अध्यक्ष श्रीमती सुनीता मांझी, जिला पंचायत उपाध्यक्ष देवनाथ उसेण्डी, जनपद पंचायत नारायणपुर अध्यक्ष पंडीराम वड्डे के अलावा अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक नीरज चंद्राकर, एसडीएम दिनेश कुमार नाग सहित पुलिस विभाग के अधिकारीगण, प्रिंट एवं इलेक्ट्रानिक मीडिया के प्रतिनिधि, व्यापारी संघ के पदाधिकारीगण एवं संगठन पदाधिकारी उपस्थित थे।
कलेक्टर धर्मेश साहू ने जिले में कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण से बचाव एवं रोकथाम हेतु शासन द्वारा जारी गाईड लाईन, सोशल मीडिया, दैनिक समाचार पत्रों, प्रिंट एवं इलेक्ट्रीनिक मीडिया के समाचार अनुसार माह अप्रैल के आगामी दिवसों में संक्रमण की तीव्र वृद्धि की संभावना को दृष्टिगत करते हुए तथा जिले में कोविड-19 पॉजिटिव प्रकरणों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी होने के कारण प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए निम्न प्रतिबंधात्मक आदेश पारित किया है। जारी आदेश में कहा गया है कि नारायणपुर जिला अंतर्गत सम्पूर्ण क्षेत्र को 19 अप्रैल 2021 की प्रातः 6.00 बजे से 26 अप्रैल 2021 को रात्रि 12.00 बजे तक के लिए कंटेन्मेंट जोन घोषित किया गया है। 19 अप्रैल 2021 की प्रातः 6.00 बजे से 26 अप्रैल 2021 को रात्रि 12.00 बजे तक नारायणपुर जिले की सभी सीमाएं पूर्णतः सील रहेगी। उक्त अवधि में केवल मेडिकल दुकानों को अपने निर्धारित समय में खोलने की अनुमति होगी। मेडिकल दुकानों के संचालक मरीजों के लिए दवाओं की होम डिलिवरी को प्राथमिकता देंगे। पेट्रोल पंप संचालकों द्वारा केवल शासकीय वाहन/शासकीय कार्य में प्रयुक्त वाहन, 0टी0एम0 केश वैन, अस्पताल/मेडिकल एमरजेन्सी से संबंधित निजी वाहन/एम्बुलेंस, एल0पी0जी0 परिवहन कार्य में प्रयुक्त वाहन, विधिमान्य पास धारित करने वाले वाहन, एडमिट कार्ड/कॉल लेटर दिखाने पर परीक्षार्थी/उनके अभिभावक, परिचय पत्र दिखाने पर मीडियाकर्मी/प्रेस वाहन/न्यूज पेपर हॉकर, दुग्ध वाहन तथा छत्तीसगढ़ में नहीं रूकते हुए एक राज्य से सीधे अन्य राज्य जाने वाले वाहनों को पी.ओ.एल. प्रदान किया जावेगा। अन्य सभी वाहनों हेतु पी.ओ.एल. प्रदान करना पूर्णतः प्रतिबंधित रहेगा।
जारी आदेश में यह भी कहा गया है कि दुग्ध पार्लर व दुग्ध वितरण, ब्रेड विक्रेता तथा न्यूज पेपर हॉकर द्वारा समाचार पत्रों के वितरण की समयावधि प्रातः 6.00 बजे से 9:00 बजे तक एवं संध्या 5.00 बजे से 7:00 बजे तक ही होगी। दुग्ध व्यवसाय हेतु कोई भी दुकान/पार्लर नहीं खोले जायेगें। दुकान/पार्लर के सामने फिजिकल डिस्टेसिंग एवं मास्क संबंधी निर्देशों का पालन करते हुए उपरोक्त समयावधि में केवल दुग्ध विक्रय की अनुमति होगी। इसके अतिरिक्त दुग्ध विक्रेता 24*7 होम डिलीवरी सेवा दे सकेंगे। सब्जी, फल के विक्रय-क्रय करने हेतु समयावधि प्रातः 9:00 बजे से दोपहर 1:00 बजे तक की अनुमति होगी। पेट शॉप/एक्वेरियम को केवल पशुओं को पशुचारा देने हेतु प्रातः 8.00 बजे से 10.00 बजे तक एवं संध्या 5.00 बजे से 6.00 बजे तक खोलने की अनुमति होगी। एल.पी.जी. गैस सिलेण्डर की एजेन्सियां केवल टेलीफोनिक या ऑनलाईन ऑर्डर लेंगे तथा ग्राहकों को सिलेण्डरों की घर पहुंच सेवा उपलब्ध कराएंगे।
आदेश में यह भी कहा गया है कि लॉकडाउन अवधि के दौरान नारायणपुर जिला अंतर्गत संचालित समस्त शराब दुकाने बंद रहेगी। सभी धार्मिक, सांस्कृतिक एवं पर्यटन स्थल आम जनता के लिए पूर्णतः बंद रहेंगे। विवाह कार्यक्रम वर अथवा वधू के निवास गृह में ही आयोजित करने एवं शामिल होने वाले व्यक्तियों की अधिकतम संख्या 20 निर्धारित की जाती है। इसी प्रकार अंत्योष्टि, दशगात्र इत्यादि। मृत्यु संबंधी कार्यक्रम में शामिल होने वाले व्यक्तियों की अधिकतम संख्या 20 निर्धारित की जाती है। उपरोक्त समस्त कार्यों के लिए संबंधित अनुविभागीय दण्डाधिकारी नारायणपुर से पूर्वानुमति आवश्यक होगी। सभी प्रकार की सभा, जुलूस, सामाजिक, धार्मिक एवं राजनैतिक आयोजन इत्यादि पूर्णतः प्रतिबंधित रहेंगे। उपरोक्त अवधि में नारायणपुर जिला अंतर्गत सभी केन्द्रीय/शासकीय/अर्द्ध शासकीय/सार्वजनिक/निजी कार्यालय/बैंक बंद रहेंगे तथापि टेलीकॉम, पोस्टल सेवाएं, खाद्य सामाग्री के थोक परिवहन, धान मिलिंग हेतु परिवहन, उचित मूल्य की दुकानों में खाद्यानों की उपलब्धता सुनिश्चित करने हेतु वेयरहाउस गोदाम से उचित मूल्य दुकान में खाद्यान्न परिवहन एवं शासन से अनुमति प्राप्त समस्त परीक्षाओं को छोड़कर अन्य समस्त शैक्षणिक गतिविधियां बंद रहेंगी किन्तु अस्पताल एवं ए.टी.एम. पूर्ववत संचालित रहेंगे। इसके अतिरिक्त ऐसे निजी वाहन जो इस आदेश के अंतर्गत आवश्यक वस्तुओं/सेवाओं के परिवहन का कार्य कर रहे हों, उन्हे भी आपात स्थिति में परिवहन की छूट रहेगी। लॉकडाउन के दौरान नारायणपुर जिले में संचालित सभी बैंक दिनांक 19 अप्रैल 2021 की प्रातः 6.00 बजे से 26 अप्रैल 2021 को रात्रि 12.00 बजे तक बंद रहेंगी। आपात स्थिति में यात्रा के दौरान 04 पहिया वाहनों में ड्राईवर सहित अधिकतम 03, ऑटो में ड्राईवर सहित अधिकतम 03, एवं दो पहिया वाहनों में 02 व्यक्तियों को यात्रा की अनुमति यात्रा संबंधी दसतावेजों के साथ होगी। बस स्टेण्ड, हॉस्पिटल आवागमन हेतु ऑटो/टैक्सी परिचालन की अनुमति रहेगी किन्तु अन्य प्रयोजन हेतु पूर्णतः प्रतिबंध रहेगा। अपरिहार्य परिस्थितियों में नारायणपुर जिले से अन्यत्र आने-जाने वाले यात्रियों को पास के माध्यम से पूर्व अनुमति लिया जाना अनिवार्य होगा। तथापि प्रतियोगी/अन्य परीक्षाओं में सम्मिलित होने वाले परीक्षार्थियों हेतु उनका एडमिट कार्ड तथा रेलवे/पोस्टल/टेलीकॉम/हॉस्पिटल या कोविड-19 डयूटी में संलग्न अधिकारी/कर्मचारियों /चिकित्सकों/निजि अस्पतालों में कार्यरत चिकित्सक एवं स्वास्थ्य कर्मियों/चिन्हांकित वालेंटिर्यस की दशा में नियोक्ता द्वारा जारी आई0डी0 कार्ड मान्य किया जावेगा तथा आवश्यक परिस्थितियों में संबंधित अनुविभागीय दण्डाधिकारी नारायणपुर द्वारा भी पास जारी किये जायेगें।
कोविड संक्रमण के रोकथाम हेतु जिले में समस्त कार्य जैसे कांटेक्ट ट्रेसिंग, एक्टिव सर्विलांस, होम आईसोलेशन, दवाई वितरण आदि पूर्वानुसार चलते रहेंगे इन कर्र्यों में संलग्न सभी कर्मचारियों की उपस्थिति पूर्वानुसार अनिवार्य होगी। कोविड हॉस्पिटल/कोविड केयर सेंटर से डिस्चार्ज होने वाले मरीजों के परिवहन में संलग्न वाहन पूर्वानुसार संचालित रहेंगे। कोविड-19 टीकाकरण हेतु पंजीयन, कोविड-19 जांच हेतु मेडिकल दस्तावेज या आधार कार्ड/विधिमान्य परिचय पत्र दिखाने पर कोविड-19 टीकाकारण केन्द्र अस्पताल/पैथालॉजी लैब अथवा आने-जाने की अनुमति होगी किन्तु अनावश्यक भ्रमण सख्त प्रतिबंधित रहेगा। मीडियाकर्मी यथासंभव वर्क फ्राम होम द्वारा कार्य संपादित करेंगे। अत्यावश्यक स्थिति में कार्य हेतु बाहर निकलने पर अपना आईकार्ड साथ रखेगें तथा फिजिकल डिस्टेंसिंग एवं मास्क संबंधी निर्देर्शों का कडाई से पालन सुनिश्चित करेंगे। यह आदेश कार्यालय कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक, अनुविभागीय दण्डाधिकारी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी एवं उनके अधिनस्थ समस्त कार्यालय, तहसील कार्यालय, थाना/पुलिस चौकी एवं कोविड-19 में ड्यूटीरत अधिकारी/कर्मचारी पर लागू नहीं होगा। इसके अतिरक्त कानून व्यवस्था एवं स्वास्थ्य सेवा से संबंधित अधिकारी, विद्युत पेयजल आपूर्ति एवं नगर पालिका सेवाएं जिसमें सफाई, सीवरेज एवं कचरे का डिस्पोजल इत्यादि भी शामिल है तथा अग्निशमन सेवाओं के संचालन हेतु संबंधित अधिकारियों/कर्मचारियों को कार्यालय संचालन एवं आवागमन की अनुमति होगी, किन्तु इन शासकीय कार्यालयों में उपरोक्त अवधि में आम जनता का प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा। अन्य शासकीय कार्यालय 50 प्रतिशत क्षमता के साथ खुले रहेगें परन्तु आम जनता के लिये प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा। सभी शासकीय कार्यालय में आम जनता द्वारा आवेदन प्रस्तुत करने हेतु ड्राप बाक्स की व्यवस्था रखेंगे, जिसमें कोई भी व्यक्ति अपना आवेदन डाल सकेंगे। तथापि कोई भी अधिकारी/कर्मचारी बिना कलेक्टर की अनुमति के अपना मुख्यालय नहीं छोड़ेंगे। राज्य शासन के विशेष आदेश द्वारा अनुमति प्राप्त किसी सेवा के संचालन की अनुमति होगी। कोरोना से बचाव के शर्तों के अधीन ग्रामीण क्षेत्रों में कृषि एवं महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के कार्यों के संचालन की अनुमति रहेगी। जरूरत मंदो को राहत सामाग्री पहूँचाने हेतु इच्छुक संस्थाओं/व्यक्तियों को कोरोना बचाव हेतु प्रसारित निर्देशों के तहत एक समय में अधिकतम 04 व्यक्तियों को प्रातः 8.00 बजे से दोपहर 2 बजे तक संबंधित अनुविभागीय दण्डाधिकारी की पूर्वानुमति से राहत सामाग्री वितरण की अनुमति होगी। उपरोक्त ओदश में परिस्थितियों का आंकलन कर समय विस्तार एवं संशोधन किया जा सकेगा। उपरोक्त बिन्दुओं को छोड़कर जिले में समस्त गतिविधियां पूर्णतः प्रतिबंधित रहेगी। यह आदेश 19 अप्रैल को प्रातः 6:00 बजे से प्रभावशील होगा।

+ Load More