कोरोना अपडेट: प्रदेश में आज 12665 ने जीती कोरोना से जंग, कुल 6577 नए मरीज मिले 149 मृत्यु भी, देखे जिलेवार आकड़े    |    लॉन्च हुई 2डीजी दवा, कोरोना संक्रमण से जंग में कैसे करेगी मदद? जानिए सब कुछ    |    आईसीएमआर अपडेट : राज्य में मिले 5294 कोरोना पॉजिटिव, 21 जिलों में सौ से अधिक मिले मरीज, देखे जिलेवार आकड़े    |    सेक्स रैकेट : पुलिस ने छापा मारकर देह व्यपार का किया खुलासा, मौके से दो युवक और दो युवती गिरफ्तार    |    दो पक्षों के बीच विवाद में गोली लगने से एक महिला की मौत, तीन अन्य घायल    |    चक्रवाती तूफान तौकते हुआ विनाशकारी, 5 राज्यों में अब तक 11 लोगों की मौत    |    बड़ी खबर: जानिए आखिर किस मामले में सीबीआई ने 4 नेताओं को किया गिरफ्तार    |    ममता बनर्जी के मंत्रियों-नेताओं पर सीबीआई ने कसा शिंकजा, यहां जानें क्या है मामला    |    रक्षा मंत्री व केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने लॉन्च की कोरोना की स्वदेशी दवा 2DG    |    कोरोना अपडेट: देश में 24 घंटों में 2 लाख 81 हजार नए मामले आए, 4106 लोगों की हुई मौत    |
  चार जुआरी गिरफ्तार, 52 पत्ते एवं 6450 रुपये नकद बरामद

चार जुआरी गिरफ्तार, 52 पत्ते एवं 6450 रुपये नकद बरामद

कांकेर।  जिले के पखांजुर पुलिस द्वारा जुआ एक्ट के तहत कार्यवाही करते हुए 04 जुआरियों दिपक हालदार पिता उत्तम हालदार साकिन पीव्ही 55, जयंत डे पिता कार्तिक डे साकिन नया बाजार पखांजूर , संजीब धरामी पिता रंजन धरामी साकिन पीव्ही 06, रंजन मंडल पिता सुधन मंडल साकिन पीव्ही 06 को गिरफ्तार किया है। 

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार मुखबीर के माध्यम से सूचना मिला थी कि ग्राम कोयगांव में कुछ लोग रूपये पैसा का दावं लगाकर ताश के पत्ते से हार-जीत का जुआ खेल रहे है, मुखबीर सूचना तस्दीक कार्यवाही पर हमराह स्टाफ के द्वारा रविवार रात्रि 08 बजे घेराबंदी एवं रेड कार्यवाही करते हुए दिपक हालदार पिता उत्तम हालदार साकिन पीव्ही 55, जयंत डे पिता कार्तिक डे साकिन नया बाजार पखांजूर , संजीब धरामी पिता रंजन धरामी साकिन पीव्ही 06, रंजन मंडल पिता सुधन मंडल साकिन पीव्ही 06, जुआ खेलते उनके कब्जे से ताश के 52 पत्ते एवं 6450 रुपये नकद बरामद कर जुआरियों को गिरफ्तार कर जुआ एक्ट के तहत वैधानिक कार्यवाही किया गया है।
आकाशीय बिजली व आंधी तूफान के क़हर ने उजाड़ा कई ग्रामीण परिवारों का घर

आकाशीय बिजली व आंधी तूफान के क़हर ने उजाड़ा कई ग्रामीण परिवारों का घर

 कांकेर। कोयलीबेड़ा विकाशखण्ड के अंतर्गत देवपुर पंचायत के आसपास आंधी तूफान ने ऐसा क़हर ढाया की ग्रामीणों के घरों से छत और घरो पेड पौधे फसलों को तबाह कर दिया । वही साथ ही आकाशीय बिजली गिरने से किसानों के मवेशियों की भी मौत हो गई। ऐसे में एक ओर जहां कोरोना संक्रमण की मार से ग्रामीण क्षेत्रों में जिंदगी जीना दूभर हो गया वही इस प्रकार का प्राकृतिक आपदाओं से जो दोहरा नुकसान हुआ ग्रामीण किसानों के मानो कमर तोड़ दिया।


ऐसे में अब अगर कोई चारा ग्रामीणों के पास बचा है वो है शासन प्रशासन से मुवाबजे की गुहार लगाना जो ये ग्रामीण किसानों के पास आखरी चारा बचा है । ऐसे में न इनके पास खाने पीने की व्यवस्था है न रोजगार का न ही सर छुपाने के लिए कोई जगह ऐसे में ये लोग जाए तो जाए कहा, अब तक कोई इनकी मदत और हालचाल पूछने कोई नही पहुँचा, फ़िलहाल सभी मदत की उम्मीद लिए राह तक रहे है।

 कोरोना संक्रमित नक्सल दम्पति ने इलाज के लिए संगठन छोड़कर पुलिस से किया सम्पर्क

कोरोना संक्रमित नक्सल दम्पति ने इलाज के लिए संगठन छोड़कर पुलिस से किया सम्पर्क

कांकेर। जिले के थाना कोयलीबेड़ा अंर्तगत कामतेड़ा बीएसएफ कैम्प में 01 महिला एवं 01 पुरूष नक्सली एलओएस सदस्य अर्जुन ताती एवं लक्ष्मी पद्दा के द्वारा तबियत खराब होने से स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करने हेतु प्रतिबंधित सीपीआई माओवादी संगठन छोड़कर पुलिस से सम्पर्क किया। जिनका कांकेर अस्पताल लाकर जांच करवाने पर दोनो सदस्य कोरोना पॉजिटिव पाये जाने से कांकेर कोविड अस्पताल में ईलाज हेतु भर्ती किया गया है।      

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार दोनो नक्सलियों ने अपना परिचय अर्जुन ताती पिता मोडिंग ताती उम्र 28 वर्ष साकिन तोड़का थाना गंगालूर जिला बीजापुर तथा लक्ष्मी पद्दा पिता खरिया पद्दा पति अर्जुन ताती उम्र 22 वर्ष साकिन आलदण्ड थाना छोटेबेठिया जिला उत्तर बस्तर कांकेर निवासी जो नक्सली संगठन के परतापुर एरिया कमेटी अंतर्गत मेंढ़की एलओएस के सदस्य होना बताया एवं स्वास्थ्य खराब होने के कारण संगठन छोड़कर आये हैं। 

पुलिस महानिरीक्षक बस्तर रेंज सुन्दरराज पी. द्वारा नक्सली दम्पती अर्जुन ताती एवं लक्ष्मी पद्दा के द्वारा तबियत खराब होने से स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करने हेतु प्रतिबंधित सीपीआई माओवादी संगठन छोड़कर पुलिस से सम्पर्क करने के निर्णय का स्वागत किया है।

कलेक्टर कांकेर चंदन कुमार द्वारा कोरोना संक्रमित माओवादी दम्पती को बेहतर उपचार हेतु कोविड अस्पताल प्रबंधन को आवश्यक दिशा निर्देश दिया गया।

पुलिस अधीक्षक कांकेर एमआर. आहिरे ने बताया कि नक्सली दम्पती अर्जुन ताती एवं लक्ष्मी पद्दा को ईलाज के पश्चात स्वास्थ्य ठीक होने के उपरांत पूछताछ कर आत्मसमर्पण संबंधित विधि अनुसार अग्रिम कार्यवाही की जावेगी। उप पुलिस महानिरीक्षक कांकेर रेंज विनीत खन्ना द्वारा अन्य स्थानीय मााओवादी कैडर को भी बाहरी माओवादी कैडर के चंगुल से मुक्त होकर शासन के समक्ष आत्मसमर्पण करने हेतु अपील की गई।
 छत्तीसगढ़ में फिर आकाशीय बिजली गिरने से दो की हुई मौत

छत्तीसगढ़ में फिर आकाशीय बिजली गिरने से दो की हुई मौत

कांकेर। जिले में आंधी तूफान और गरज चमक के साथ हुई तेज बारिश के बीच पखांजूर व बांदे थाना क्षेत्र आकाशीय बिजली गिरने से दो ग्रामीणों की मौत हो गई। 

प्राप्त जानकारी के अनुसार बांदे थाना क्षेत्र के बांदे निवासी रामनंद पवार ने थाना में सूचना दिया कि 11 मई को उसकी बेटी जैमनी पवार तेंदूपत्ता तोडऩे के लिए जंगल की ओर गई थी, गरज चमक के साथ तेज बारिश शुरू हो गई तो बचने एक पेड़ के नीचे चली गई। जहां गाज गिरने से उसकी मौत हो गई। वहीं पखांजूर थाना क्षेत्र के ग्राम आलोर निवासी जगनाथ यादव किसी काम से जा रहा था अचानक बारिश होने पर वह बारिश से बचने पेड़ के नीचे चला गया, जहां आकाशीय बिजली के चपेट में आ गया। इलाज के दौरान उसकी भी मौत हो गई।
 मुखबिरी के शक में नक्सलियों ने की ग्रामीण की हत्या

मुखबिरी के शक में नक्सलियों ने की ग्रामीण की हत्या

कांकेर। पालूरमेटा गांव में नक्सलियों ने बीती रात पुलिस मुखबिरी के शक में एक ग्रामीण की गला रेतकर हत्या कर दी। घटना की आमाबेड़ा थाना प्रभारी बीआर ध्रुव ने पुष्टि की है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार थाना क्षेत्रान्तर्गत पालूरमेटा गांव में बीती रात 15 से 20 नक्सली पहुंचे थे, जिसमें से 3 नक्सली गांव में सुखधर गावड़े को घर से निकालकर अपने साथ ले गए। बाद में उस पर पुलिस के लिए मुखबिरी करने का आरोप लगाते हुए गला रेतकर हत्या कर दी। नक्सल वारदात के बाद गांव में दहशत का माहौल है। ग्रामीणों ने किसी तरह पुलिस को घटना की जनाकारी दी है।
 छत्तीसगढ़: बलात्कार के फरार आरोपी उपनिरीक्षक पर पांच हजार ईनाम घोषित

छत्तीसगढ़: बलात्कार के फरार आरोपी उपनिरीक्षक पर पांच हजार ईनाम घोषित

कांकेर। जिले के भानुप्रतापपुर में बलात्कार के आरोपी उपनिरिक्षिक किशोर तिवारी अभी तक फरार है, उनको गिरफ्तार करवाने वाले को पांच हजार रूपए का इनाम दिया जाएगा। उक्त आदेश पुलिस अधीक्षक एमआर आहिरे ने जारी किया है। 

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार भानुप्रतापपुर के अपराध क्रमांक 96/2021 धारा 376 (डी), 506, 34 भादवि, 3 (2), व्ही एससी/एसटी एक्ट, 04, 06 पॉक्सो एक्ट के प्रकरण में फरार आरोपी उपनिरिक्षिक किशोर तिवारी द्वारा अपने अन्य 02 साथियों के साथ प्रार्थिया नाबालिग पीडि़ता के साथ प्रकरण के आरोपियों द्वारा बलात्कार कर जान से मारने की धमकी दिया गया है। आरोपी घटना बाद रिपोर्ट दिनांक 04 अप्रेल 2021 से सकुनत से फरार है, जिसकी पतासाजी की जा रही है, किन्तु अथक प्रयास के उपरांत भी फरार आरोपी का कोई पता नहीं चला है। पुलिस अधीक्षक एमआर आहिरे ने पुलिस रेग्युलेशन के पैरा 80 (ए) में निहित प्रावधानों के तहत आदेश जारी किया है।
 बड़ी खबर छत्तीसगढ़: नक्सलियों और सुरक्षा बलों के बीच मुड़भेड़ में 2 नक्सलियों की मौत

बड़ी खबर छत्तीसगढ़: नक्सलियों और सुरक्षा बलों के बीच मुड़भेड़ में 2 नक्सलियों की मौत

गढ़चिरौली/पखांजूर। कांकेर,पखांजुर छत्तीसगढ़-महाराष्ट्र सीमावर्ती गढ़चिरौली जिले में सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हुई है। जवानों ने दो नक्सली को ढेर कर दिया है। वहाँ अभी जंगल में रूक-रूक कर फायरिंग हो रही है। 

जानकारी के अनुसार बैकअप पार्टी स्पॉट के लिए छोड़ा हुआ है। बताया जा रहा है कि ष्ट-60ैंडो और नक्सलियों के बीच जांबिया गट्टा इलाके में मुठभेड़ जारी है। जवानों ने तर्थतोड़ फायरिंग कर 2 नक्सली को मार गिराया। 

गौरतलब हो कि गट्टा पुलिस थाना क्षेत्र में सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हुई है। 8 दिन पहले इसी थाने पर नक्सलियों ने हमला किया था, वहीं आज मुठभेड़ में सुरक्षबलों ने नक्सलियों को जवाब दिया।
 बड़ी खबर: अमेजन, फ्लिफकार्ट व् स्थानीय ऑनलाइन दुकानों को होम डिलीवरी की अनुमति नहीं

बड़ी खबर: अमेजन, फ्लिफकार्ट व् स्थानीय ऑनलाइन दुकानों को होम डिलीवरी की अनुमति नहीं

उत्तर बस्तर कांकेर। कलेक्टर ने ई-काॅमर्स जैसे- अमेजन और फ्लिफकार्ट और स्थानीय ऑनलाइन दुकानों को होम डिलीवरी सर्विस की अनुमति दी गई थी। जिसे कलेक्टर चन्दन कुमार ने तत्काल प्रभाव से प्रतिबंधित कर दिया गया है। जोमेटो और स्वीगी जैसे सेवा प्रदाताओं से खाद्य सामग्री आपूर्तिके लिए अनुमति होगी। परिवहनकर्ताओं को रात्रि 11 बजे से सुबह 6 बजे तक स्थानीय गोदामों में समान की लोडिंग-अनलोडिंग के लिए अनुमति होगी। यह आदेश तत्काल प्रभावशील हो गया है।
 नक्सली मोबाइल टॉवर गिराने के असफल प्रयास के बाद लगाई आग

नक्सली मोबाइल टॉवर गिराने के असफल प्रयास के बाद लगाई आग

कांकेर। जिले में नक्सलियों के भारत बंद के दौरान बैनर पोस्टर के माध्यम से अन्दरूनी क्षेत्रों में व आसपास में अपनी उपस्थिति दर्ज कराते हुए जमकर उत्पात मचाया है, वहीं दूसरी तरफ नक्सलियों ने बीती रात्रि में ग्राम पीढ़ापाल में मोबाइल टॉवर को गिराने में असफल होने के बाद टॉवर के मशीनरी को आग के हवाले कर दिया है। 

ग्रामीणों से मिली जानकारी के अनुसार ग्राम पीढ़ापाल में स्थित जियो व आइडिया के एक साथ लगाये गये टॉवर को बीती रात्रि में 10 से 15 वर्दीधारी नक्सलियों ने अपना निशाना बनाया। नक्सलियों ने टॉवर में लगे नट बोल्ड को निकालकर टॉवर गिराने का प्रयास किया गया, इसमें सफल नही होने पर नक्सलियों ने टॉवर के मशीनरी पर आग लगा दी है।  

कांकेर एसपी एमआर अहिरे ने बताया कि आगजनी की जानकारी मिली है, सुरक्षाबलों की टीम को मौके के लिए रवाना कर दिया गया है।  
बड़ी खबर छत्तीसगढ़: गैंगरेप मामले में उपनिरीक्षक को सेवा से किया गया बर्खास्त

बड़ी खबर छत्तीसगढ़: गैंगरेप मामले में उपनिरीक्षक को सेवा से किया गया बर्खास्त

कांकेर। जिले में पदस्थ उपनिरीक्षक किशोर तिवारी को आज सेवा से बर्खास्त कर दिया गया है। उपनिरीक्षक किशोरी तिवारी पर अपने दोस्तों के साथ मिलकर नाबालिग लड़की के साथ गैंगरेप की वारदात को अंजाम देने का आरोप था। घटना की शिकायत के बाद पुलिस ने एक महिला समेत तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है, लेकिन आरोपी सब इंस्पेक्टर फरार चल रहा है। अभी तक वह पुलिस की गिरफ्त में नहीं आया है।


बस्तर आईजी सुंदरराज पी.के निर्देश पर डीआईजी विनोद खन्ना ने बर्खास्तगी की कार्रवाई की है। इससे पहले उप निरीक्षक किशोर तिवारी को शिकायत मिलने के बाद तत्काल निलंबित कर दिया गया था। इस मामले में भानुप्रतापपुर थाने में धारा 376(डी) 506 भादवि., 3(2) (1) एसटी/एससी एक्ट 04, 06 पास्को एक्ट के तहत अपराध दर्ज किया गया है।
BIG BREAKING : छत्तीसगढ़ के अब इस जिले में जारी हुआ 5 मई तक लॉकडाउन बढ़ाने का आदेश, देखें विस्तृत आदेश

BIG BREAKING : छत्तीसगढ़ के अब इस जिले में जारी हुआ 5 मई तक लॉकडाउन बढ़ाने का आदेश, देखें विस्तृत आदेश

कांकेर | छत्तीसगढ़ में कोरोना के बढ़ते प्रकोप के चलते प्रदेश के जिलों में लॉकडाउन 5 मई तक बढ़ाया जा रहा है | इस कड़ी में प्रदेश के कांकेर जिले में भी जिला कलेक्टर ने लॉकडाउन 5 मई तक बढ़ाने का आदेश जारी कर दिया  है | 

देखें विस्तृत आदेश :-

 बैंक-ए.टी.एम. पूर्ववत संचालित होंगे, आवश्यक सेवाओं से जुड़े सभी लेन-देन के लिए समय निर्धारित...

बैंक-ए.टी.एम. पूर्ववत संचालित होंगे, आवश्यक सेवाओं से जुड़े सभी लेन-देन के लिए समय निर्धारित...

उत्तर बस्तर कांकेर। जिले में कोविड-19 पाॅजीटिव प्रकरणों की संख्या में लगातार वृद्धि होने के कारण उत्पन्न परिस्थितियों को दृष्टिगत रखते हुए कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी द्वारा सम्पूर्ण जिला उत्तर बस्तर कांकेर में 19 अप्रैल के सायं 06 बजे से 26 अप्रैल प्रातः 06 बजे तक कन्टेमेंट जोन घोषित किया गया है। इस अवधि में जिले के समस्त बैंकों के संचालन हेतु जारी निर्देशानुसार जिला उत्तर बस्तर कांकेर अंतर्गत समस्त बैंक एवं ए.टी.एम. पूर्ववत संचालित रहेंगे तथा ए.टी.एम. कैश रिफिलिंग, कार्यालयीन कार्य, दवा एवं चिकित्सकीय प्रयोजन को अनुमति दी गई है।

उक्त आदेश के अनुक्रम में यह प्रतिस्थापित किया गया है कि उपरोक्त अवधि में आवश्यक सेवाओं से जुड़े सभी लेन-देन जैसे-चिकित्सा उपकरण एवं चिकित्सा संबंधी, पेट्रोल, डीजल पंप, एलपीजी, पीडीएस, उद्योग, व्यवसाय एवं उनके श्रम भुगतान, चिकित्सा ऑक्सीजन आपूर्तिकर्ता, तरल ऑक्सीजन उत्पादक एवं शासकीय कार्यों से संबंधित लेन-देन को भी प्रातः 10 बजे से दोपहर 01 बजे तक संचालन की अनुमति होगी। पूर्व में जारी आदेश का शेष अंश यथावत् रहेगा, यह आदेश तत्काल प्रभावशील हो गया है।
प्रवासी मजदूरों को क्वारिनटाइन सेन्टरों में ठहराने के निर्देश

प्रवासी मजदूरों को क्वारिनटाइन सेन्टरों में ठहराने के निर्देश

कांकेर। बेहतर रोजगार एवं स्वरोजगार की दृृष्टि से जो लोग छत्तीसगढ़ राज्य या बस्तर संभाग से बाहर परिवार सहित या व्यक्तिगत रूप से गये थे, अब वे कोरोना संक्रमण की व्यापकता को देखते हुए अपने गृह ग्राम व जिला वापस आ रहे है। अतः ऐसी स्थिति में उन्हें नगरीय, ग्रामीण क्षेत्रों में स्थापित क्वारिनटाइन सेन्टरों में ठहराने के लिए कलेक्टर चंदन कुमार ने जिले के सभी एसडीएम, जनपद सीईओ और बीएमओ को निर्देशित करते हुए क्वारिनटाइन सेन्टरों में सम्पूर्ण व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए निर्देशित किया है। अनुविभागीय अधिकारियों को निर्देशित करते हुए उन्होंने कहा है कि प्रत्येक क्वारिनटाइन सेन्टर के लिए प्रभारी अधिकारी नियुक्त कर उसी गांव में पदस्थ कर्मचारियों में से एक दल गठित किया जावे, जिसमें हल्का पटवारी, ग्राम पंचायत सचिव, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, शिक्षक, ग्रामीण कृृषि विस्तार अधिकारी, वन रक्षक में से होंगे। यदि पूर्व में कोरोना बचाव दल गांव, नगरीय क्षेत्रों में गठित किया गया हो तो उस दल को भी क्वारिनटाइन सेन्टरों की व्यवस्था की जिम्मेदारी दी जा सकती है।
क्वारिनटाइन सेन्टर में मजदूरों के निवास करने को दृृष्टिगत रखते हुए उनके सोने की व्यवस्था, प्रकाश व्यवस्था, पेयजल व्यवस्था, पंखे की व्यवस्था और जलपान भोजन इत्यादि की व्यवस्था सहित साफ-सफाई, स्वच्छता पर विशेष ध्यान देने के लिए निर्देशित किया गया है। क्वारिनटाइन सेन्टरों में सेनेटाइजर व हाथ धोने के लिए साबुन की व्यवस्था रखने के लिए भी निर्देशित किया गया है।
 

 सार्वजनिक स्थलों में बिना मास्क एवं फेसकवर नहीं लगाने वाले 4684 व्यक्तियों से चालानी कार्यवाही में 10 लाख रूपये की वसूली

सार्वजनिक स्थलों में बिना मास्क एवं फेसकवर नहीं लगाने वाले 4684 व्यक्तियों से चालानी कार्यवाही में 10 लाख रूपये की वसूली

कांकेर। कलेक्टर चन्दन कुमार के निर्देशानुसार सार्वजनिक स्थलों में मास्क अथवा फेसकवर नहीं लगाने वाले व्यक्तियों के विरूद्ध जिला प्रशासन द्वारा लगातार चालान की कार्यवाही करते हुए अर्थदण्ड से दण्डित किया जा रहा है। सार्वजनिक स्थानों में मास्क नहीं लगाने वाले 4684 व्यक्तियों से 27 फरवरी से 18 अप्रैल तक 10 लाख 09 हजार 190 रूपये की वसूली की गई है। नगर पालिका क्षेत्र कांकेर में 959 व्यक्तियों के विरूद्ध चालान की कार्यवाही किया जाकर 01 लाख 76 हजार 01 सौ रूपये वसूल किये गये हैं। इसी प्रकार नगर पंचायत नरहरपुर में 178 व्यक्तियों से 61 हजार 150 रूपये, नगर पंचायत चारामा में 598 व्यक्तियों से 01 लाख 43 हजार 07 सौ रूपये, नगर पंचायत पखांजूर में 1137 व्यक्तियों से 03 लाख 24 हजार 08 सौ रूपये, नगर पंचायत भानुप्रतापपुर में 983 व्यक्तियों से 01 लाख 71 हजार 810 रूपये और नगर पंचायत अंतागढ़ में 829 व्यक्तियों के विरूद्ध चालान की कार्यवाही कर 01 लाख 31 हजार 630 रूपये की वसूली की गई है।  

 

बड़ी खबर छत्तीसगढ़ : बलात्कार का आरोपी सीआरपीएफ जवान गिरफ्तार, पांच साल से विधवा महिला का कर रहा था शारीरिक शोषण

बड़ी खबर छत्तीसगढ़ : बलात्कार का आरोपी सीआरपीएफ जवान गिरफ्तार, पांच साल से विधवा महिला का कर रहा था शारीरिक शोषण

कांकेर | शादी का प्रलोभन देकर बलात्कार के आरोपी सीआरपीएफ के जवान को दुर्गुकोंदल पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। गढ़चिरोली महाराष्ट्र में सीआरपीएफ में पदस्थ जवान बलराम जैन गांव की 2 बच्चो की माँ विधवा महिला से शादी करने का झांसा देकर 2016 से दैहिक शोषण करते आ रहा था।

शादी करने का दबाव बनाने पर उक्त महिला को जान से मारने की धमकी देता था। महिला ने अंतत: तंग आकर 2 माह पूर्व दुर्गुकोंदल थाने में मामला दर्ज करवाया, जिसके बाद से लगातार आरोपी जवान की तलाश में जुटी पुलिस ने आज राजनांदगांव के मानपुर से आरोपी जवान को गिरफ्तार कर लिया है।
लॉकडाउन ब्रेकिंग : छत्तीसगढ़ का अब इस जिले में इस तारीख तक टोटल लॉकडाउन का हुआ आदेश जारी, देखें आदेश

लॉकडाउन ब्रेकिंग : छत्तीसगढ़ का अब इस जिले में इस तारीख तक टोटल लॉकडाउन का हुआ आदेश जारी, देखें आदेश

कांकेर | छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले से लॉक डाउन को ले कर एक बड़ी खबर सामने आई है | खबर मिली है कि कांकेर मिले में भी लॉक डाउन का आदेश जारी हो गया है | जिला कलेक्टर चंदन कुमार ने कांकेर जिले में कोरोना के बढ़ते संक्रमण को ध्यान में रखते हुए जिले में सूपर्ण लॉकडाउन का ऐलान किया है। साथ ही जिला अंतर्गत संपूर्ण क्षेत्र को 19 अप्रैल प्रातः 6 बजे से 26 अप्रैल को रात्रि 12 बजे तक के लिए कन्टेन्मेंट जोन घोषित किया है। इस दौरान जिले की सभी सीमाएं पूर्णतः सील रहेगी। लॉक डाउन की अवधि के दौरन जिन सेवाओं को छुट दी गई है वो विस्तृत आदेश आदेश में देखा जा सकता है | 

देखें विस्तृत आदेश :-

इस जिले में व्यापारिक प्रतिष्ठानों, दुकानों, होटल, रेस्टोरेंट इत्यादि को प्रातः 06 बजे से शाम 06 बजे तक संचालन की अनुमति

इस जिले में व्यापारिक प्रतिष्ठानों, दुकानों, होटल, रेस्टोरेंट इत्यादि को प्रातः 06 बजे से शाम 06 बजे तक संचालन की अनुमति

उत्तर बस्तर कांकेर । कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी चन्दन कुमार द्वारा 31 मार्च एवं 05 अप्रैल 2021 को जारी आदेशानुसार जिला उत्तर बस्तर कांकेर अंतर्गत स्थित समस्त व्यापारिक प्रतिष्ठानों एवं दुकानों के संचालन के लिए समय-सीमा निर्धारित किया गया है, जिसमें आज आंशिक संशोधन आदेश जारी किये गये हैं। जिसके अनुसार जिले के अंतर्गत समस्त व्यापारिक प्रतिष्ठान, स्थाई एवं अस्थाई दुकानें, होटल, रेस्टोरेंट, बार को प्रातः 06 बजे से सांय 06 बजे तक संचालन की अनुमति होगी। मेडिकल स्टोर्स, पैथालाॅजी लैब, निजी अस्पताल, क्लीनिक एवं पेट्रोल पंप पूर्ववत् संचालित होंगे। दुग्ध पार्लर, वितरण को प्रातः 06 से सांय 07 बजे तक संचालन की अनुमति होगी। देशी, विदेशी शराब दुकानों को सांय 06 बजे तक ही संचालन की अनुमति होगी। जिले में नगरीय क्षेत्रों के बाहर संचालित ढाबा, होटल समय-सीमा के प्रतिबंध से मुक्त रहेंगे, किन्तु सायं 06 बजे के बाद केवल टेक अवे (पार्सल) की अनुमति होगी।
जिले में सांय 06 बजे के बाद अनावश्यक गतिविधियाॅ प्रतिबंधित होंगी। निर्धारित अवधि के बाद किसी भी प्रकार का परिवहन, निजी वाहन से घूमना प्रतिबंधित होगा। केवल आपात चिकित्सा एवं आवश्यक सेवाओं से जुड़े व्यक्तियों को प्रतिबंध से छूट होगी, तत्संबंध में आवश्यक दस्तावेज, पहचान पत्र दिखाना अनिवार्य होगा। जिले में सांय 06 बजे के बाद पार्क, पर्यटन स्थल, अन्य किसी भी स्थान में घूमना, भ्रमण प्रतिबंधित होगा। उक्त समयावधि के बाद जिले के समस्त जीम बंद रहेंगे। जिले में सांय 06 बजे के बाद कोचिंग संस्थानों को संचालन की अनुमति नहीं होगी। अन्य प्रदेश, जिले के वाहनों को कांकेर जिले से गुजरने हेतु समय-सीमा के प्रतिबंध से छूट होगी। उक्त वाहनों को जिले में स्थाई, अस्थाई रूप से ठहरने की अनुमति नहीं होगी ।
निर्धारित अवधि में व्यापारिक प्रतिष्ठानों, दुकानों के संचालकों को कर्मचारियों एवं ग्राहकों के फिजिकल डिस्टेसिंग तथा मास्क की अनिवार्यता के साथ संचालन की अनुमति होगी। आदेश का उल्लंघन करने वाले प्रतिष्ठानों, व्यक्तियों पर भारतीय दण्ड संहिता 1860 की धारा 188, आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 51-60 तथा अन्य सुसंगत विधि अनुसार कार्यवाही की जावेगी। यह आदेश 14 अप्रैल 2021 से आगामी आदेश पर्यन्त तक संपूर्ण जिला उत्तर बस्तर कांकेर में प्रभावशील होगा।
 

 छत्तीसगढ़ का बजट न्याय की अवधारणा को आगे बढ़ाने वाला : भूपेश बघेल

छत्तीसगढ़ का बजट न्याय की अवधारणा को आगे बढ़ाने वाला : भूपेश बघेल

उत्तर बस्तर कांकेर। मुख्यमंत्री ने लोकवाणी की 17वीं कड़ी में कहा कि छत्तीसगढ़ का बजट न्याय की अवधारणा को आगे बढ़ाने वाला है। इसमें कोरोना काल के सबक ग्लोबल इंसानियत तथा लोकल संसाधनों से स्थानीय लोगों के सशक्तीकरण पर जोर दिया गया है। ‘नया बजट-नए लक्ष्य’ विषय पर श्रोताओं के सवालों का जवाब देते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ में इस वर्ष सभी वर्ग के लोगों के हित को ध्यान में रखकर बजट पेश किया गया है। 

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि राजीव गांधी किसान न्याय योजना का उद्देश्य प्रदेश में विभिन्न फसल लेने वाले किसान भाइयों को किसी न किसी तरीके से सशक्त बनाना है। पहले साल हमने 2500 रूपए प्रति क्विंटल की दर से धान का भुगतान किया। दूसरे साल समर्थन मूल्य पर खरीदी के नि यम के अनुसार समर्थन मूल्य का भुगतान किया और राजीव गांधी किसान न्याय योजना के माध्यम से धान, मक्का, गन्ना आदि फसल लेने वाले लगभग 19 लाख किसानों को 5 हजार 628 करोड़ का भुगतान किया गया। इस साल हमने 20 लाख 53 हजार किसानों से 92 लाख मीट्रिक टन धान खरीदी की है, जो प्रदेश के इतिहास में धान खरीदी का सबसे बड़ा कीर्तिमान है।इस वर्ष भी हमने राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत किसानों को नगद सहायता देने के लिए 5 हजार 703 करोड़ रूपए का बजट प्रावधान रखा है। इसके अलावा चिराग योजना के तहत 7 आदिवासी बहुल जिलों और मुंगेली जिले के 14 विकासखण्डों में पोषण सुरक्षा व किसानों की आर्थिक स्थिति में सुधार के लिए 150 करोड़ रूपए का बजट प्रावधान रखा गया है। किसानों को बिना ब्याज ऋण देने के लिए इतिहास में सबसे बड़ा लक्ष्य 5 हजार 900 करोड़ रूपए ऋण वितरण का रखा है, जिसके लिए बजट प्रावधान किया गया है। किसानों को रियायती तथा निःशुल्क बिजली देने के लिए 2 हजार 500 करोड़ रूपए का प्रावधान रखा गया है। वहीं सिंचाई पम्पों के ऊर्जीकरण पर लगभग 1000 करोड़ रूपए खर्च होंगे। सोलर पम्पों के लिए 530 करोड़ रूपए का प्रावधान है तो लगभग 35 हजार लंबित सिंचाई पम्प कनेक्शन देने का काम भी पूर्ण किया जाएगा, जिसमें करीब 350 करोड़ रूपए खर्च होंगे। उद्यानिकी फसलों के विकास के लिए अनुदान सहायता पर 495 करोड़ रूपए खर्च किए जाएंगे। किसानों की जेब में जो पैसा डाला जा रहा है, वह उनकी शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वावलम्बन और खुशहाली में लगे। इस तरह किसानों की आय बढ़ाने, खेती को लाभ का धंधा बनाने के लिए हमारी सरकार कृत-संकल्पित है। 

भूमिहीन श्रमिकों को नियमित आय से जोड़ने नवीन न्याय योजना : 
मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि ग्रामीण कृषि भूमिहीन श्रमिकों की सहायता हेतु नवीन न्याय योजना का उद्देश्य भूमिहीन श्रमिकों को नियमित आय सुनिश्चित करना है। हमने न्याय को जरूरतमंद तबकों की आय से जोड़ा है क्योंकि एक निश्चित आय मिलने से ही किसी व्यक्ति का जीवन संवारा जा सकता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि गोधन न्याय योजना अंतर्गत 2 रूपए प्रति किलो की दर से गोबर खरीदने का काम जारी रहेगा। गोबर खरीदी पर हमने राज्य सरकार की तरफ से हालांकि लगभग 90 करोड़ रूपए का भुगतान किया है, लेकिन मुझे यह कहते हुए खुशी है कि गौठानों के माध्यम से स्व-सहायता समूहों ने वर्मी खाद उत्पादन तथा बिक्री, गोबर दीया निर्माण आदि कार्यों से लगभग 950 करोड़ रूपए की आय प्राप्त की है। वैसे तो हमारा प्रयास है कि स्वावलम्बी गौठानों का विकास तेजी से हो, लेकिन गौठान योजना के लिए बजट में 175 करोड़ रूपए का प्रावधान किया गया है, जिससे गौठानों की गतिविधियां बेहतर ढंग से संचालित होती रहें। 

मुख्यमंत्री ने बीजापुर में नक्सली हिंसा में शहीद जवानों को दी श्रद्धांजलि : 
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बीजापुर में नक्सली हिंसा में शहीद जवानों को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि यह घटना बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है। इस घटना में सीआरपीएफ तथा राज्य पुलिस बल के हमारे साथी हताहत हुए हैं। जिन वीर जवानों की शहादत हुई है, उन्हें मैं अपनी ओर से तथा राज्य की 2 करोड़ 80 लाख जनता की ओर से सादर श्रद्धा सुमन अर्पित करता हूं। हमारे सुरक्षा बल के जवान बहुत ही बहादुरी के साथ नक्सलवादियों से लड़े और वीर गति को प्राप्त हुए। हमारा संकल्प है कि इन अमर शहीदों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। छत्तीसगढ़ को नक्सलवाद से मुक्ति दिलाने के लिए भारत सरकार की मदद से निर्णायक अभियान जारी रखा जाएगा। मैं आप सबसे अपील करता हूं कि नक्सलवादी हिंसा में शहीद हुए हमारे वीर जवानों के परिवारों के दुःख में सहभागी बनें। राज्य सरकार ने प्रत्येक शहीद के परिवार को 80 लाख रूपए की आर्थिक सहायता तथा उनके आश्रितों को नौकरी दिलाने की पहल की है। यह कर्त्तव्य निर्वाह का एक छोटा सा प्रयास है। हम महात्मा गांधी के सत्य, अहिंसा और सत्याग्रह के रास्ते पर विश्वास करते हैं। लोकतांत्रिक मूल्यों, सिद्धांतों और तौर तरीकों पर विश्वास करते हैं। नक्सलवादी हिंसा के खिलाफ लड़ाई में आप सबके सहयोग और समर्थन की अपील करता हूं। 

वैश्विक महामारी से निपटने संयम, धीरज, सावधानी तथा कड़े सुरक्षा उपायों की जरूरत : 
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना या कोविड-19 की दूसरी लहर के देश-दुनिया और प्रदेश में बढ़ते प्रकोप के विषय में मेरा मानना है कि इस वैश्विक महामारी से निपटने के लिए हमें बहुत संयम, धीरज, सावधानी तथा कड़े सुरक्षा उपायों की जरूरत है। राज्य सरकार द्वारा स्थिति का मुकाबला करने के लिए जांच, उपचार, टीकाकरण तथा जागरूकता अभियान चलाने जैसी सारी व्यवस्थाएं की गई हैं। सावधानी बरतने में कोताही करने से न सिर्फ व्यक्ति बल्कि उसका परिवार और उसके संपर्क में आने वाले अनेक लोग कोरोना संक्रमण का शिकार हो जाते हैं। इसलिए मैं आप सबसे अपील करता हूं कि जितना अधिक संभव हो उतना अधिक घर पर रहें। अलग-अलग जिलों में जिस तरह से नियंत्रण के प्रयास जिला प्रशासन द्वारा किए जा रहे हैं, उसमें सहयोग प्रदान करें। पात्रता के अनुसार टीका लगाने में किसी भी तरह का भ्रम नहीं रखें। बिल्कुल स्पष्ट मानें कि टीकाकरण एक सुरक्षित उपाय है और पात्रता अनुसार सभी को अनिवार्य रूप से टीका लगवाना है। जिन्होंने पहला डोज ले लिया है, वे दूसरे डोज का ध्यान रखें और किसी भी स्थिति में दूसरे डोज की अवहेलना न करें। टीका लगाने से संक्रमण की तीव्रता तथा क्षति में कमी आती है, पर पूर्ण स्वस्थ रहने के लिए टीका लगाने के बाद भी सुरक्षा उपायों का पालन करते रहें। मास्क लगाना, साबुन-पानी से बार-बार हाथ धोना, हाथों को सेनेटाइजर से साफ करना, अपनी निजी इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए डॉक्टरों के परामर्श से विटामिन-सी, विटामिन-डी, जिंक का उपयोग, गर्म पानी के गरारे करना, भाप लेना आदि उपाय करते रहें। भीड़ में जाने से बचें अर्थात फिजिकल डिस्टेनसिंग नियमों का पालन करें। विभिन्न समाजों तथा संगठनों के प्रमुख लोगों, विशेषज्ञों से परामर्श के बाद जिला प्रशासन द्वारा अपने-अपने जिलों में लॉकडाउन की कार्यवाही की जा रही है। स्थानीय परिस्थितियों के अनुसार जिला प्रशासन द्वारा जो भी उपाय किए जा रहे है, वे सब आपकी सुरक्षा के लिए हैं। इन सभी उपायों को पूरी गंभीरता के साथ अपनाएं। पिछले दौर में आपने देखा है कि आप सबके सहयोग तथा सुरक्षा उपायों को अपनाने से कोरोना संक्रमण में काफी हद तक कमी आई थी। हम सब मिलकर एक बार फिर पूरी गंभीरता से सुरक्षा के उपाय करें तो हम फिर कोरोना से निजात पा सकते हैं। यह समय किसी भी तरह से दहशत अथवा गलत जानकारी फैलाने का नहीं है बल्कि समझदारी से मानवता की सेवा करने का है। आप अपना ध्यान रखकर बेहतर तरीके से यह काम कर सकते हैं। मुझे विश्वास है कि आपका पूरा सहयोग मिलेगा। 

लोकवाणी में अनेक श्रोताओं ने नए बजट में किए गए प्रावधानों को काफी महत्वपूर्ण बताया। श्रोताओं ने मुख्यमंत्री धरसा योजना, 11 नई तहसील, 5 एसडीएम ऑफिस खोलने, 3 नए मेडिकल कॉलेज, 6 नवीन महाविद्यालय एवं बस्तर संभाग के सभी जिलों में बस्तर टाइगर के नाम से विशिष्ट पुलिस बल का गठन, छात्रावास आश्रमों में महिला एवं गार्ड की भर्ती, स्वच्छता दीदीयों का मानदेय बढ़ाकर 6000 करने, मत्स्य पालन को कृषि का दर्जा देने के प्रावधानों के लिए मुख्यमंत्री को धन्यवाद दिया। 

आदिवासी समाज सहित परंपरागत वन निवासियों को भी उनके अधिकार दिलाने का सिलसिला शुरू : 
मुख्यमंत्री ने कहा कि बस्तर में बदलाव की सबसे बड़ी जरूरत वहां के लोगों के स्वाभिमान को वापस लौटाने व स्वावलम्बन दिलाने की थी। आदिवासी समाज की जिंदगी को समझने की थी। सारे संसाधन उनके आसपास होते हुए भी उन्हें इसका लाभ नहीं मिल पा रहा था। जिसकी शुरूआत हमने की। दो साल पहले तक मात्र 7 लघु वनोपजों की खरीदी समर्थन मूल्य पर होती थी। हमने उसे बढ़ाकर 52 तक पहुंचा दिया। तेंदूपत्ता संग्रहण को उनकी आय का मुख्य जरिया बताया जाता था। लेकिन वर्ष 2018 तक मात्र 2500 रू. प्रति मानक बोरा मजदूरी दी जाती थी। हमने आते ही इसे बढ़ाकर 4 हजार रूपये प्रति मानक बोरा कर दिया। बहुत बड़े पैमाने पर वन अधिकारों के दावे खारिज करते हुए बहुत बड़ी आबादी को बहुत बुनियादी अधिकारों से वंचित किया गया था। हमने निरस्त दावों की समीक्षा कराई और बहुत बड़े पैमाने पर वन अधिकार पट्टे दिए। इस तरह आदिवासी समाज ही नहीं बल्कि परंपरागत वन निवासियों को भी उनके अधिकार दिलाने का सिलसिला शुरू हुआ। हमने वनों की तरह ही ग्रामीण अंचलों में भी परंपरागत रोजगार के अवसरों को बढ़ावा दिया। हमने दो सालों में एक ऐसी संरचना बना ली है, जिससे अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, ओबीसी सहित आर्थिक रूप से कमजोर तबकों को तत्काल सहायता मिले। उनकी जेब में नकद राशि जाए, जो उनकी क्रय शक्ति के साथ उनका स्वावलम्बन बढ़ाए, साथ ही उनके भीतर उद्यमशीलता का विकास करे। हमारे प्रदेश में विभिन्न प्रकार के खाद्यान्न, वनोपज तथा हाथ की कला से बहुत ही उम्दा, वस्तुएं बनाने की परिपाटी है। परंपरागत ज्ञान के रूप में ये चीजें आज भी जनमानस में है जिसे बढ़ाने के लिए हमने कुछ नए फैसले लिए हैं। 

नए बजट में रूरल इंडस्ट्रियल पार्क की स्थापना का प्रावधान : 
शहरी क्षेत्रों में पौनी-पसारी योजना की तर्ज पर एक कदम और आगे बढ़ते हुए अब ग्रामीण क्षेत्रों में रूरल इंडस्ट्रियल पार्क की स्थापना का प्रावधान नए बजट में किया गया है। छत्तीसगढ़ के स्थानीय कृषि उत्पादों जैसे ढेकी का कूटा चावल, घानी से निकला खाद्य तेल, कोदो, कुटकी, मक्का से लेकर सभी तरह की दलहन फसलें, विविध वनोपज जैसे इमली, महुआ, हर्रा, बहेरा, आंवला, शहद एवं फूलझाडू इत्यादि व वनोपज से निर्मित उत्पाद तथा टेराकोटा, बेलमेटल, बांसशिल्प, चर्मशिल्प, लौहशिल्प, कोसा सिल्क तथा छत्तीसगढ़ी व्यंजनों जैसी सभी सामग्रियों को एक ही छत के नीचे विपणन की सुविधा प्रदान की जाएगी। इसके लिए राज्य एवं राज्य के बाहर सी-मार्ट स्टोर की स्थापना की जाएगी, जो विशिष्ट छत्तीसगढ़ी ब्राण्ड के रूप में मशहूर होंगे। योजना के माध्यम से स्थानीय उत्पादकों को अधिक लाभांश दिलाने की व्यवस्था भी की जाएगी। 

न्यूनतम समर्थन मूल्य पर लघु वनोपज क्रय करने वाले राज्यों में छत्तीसगढ़ प्रथम 
मुख्यमंत्री ने कहा कि चालू सीजन के दौरान न्यूनतम समर्थन मूल्य पर 112 करोड़ की लागत के 4 लाख 74 हजार क्विंटल लघु वनोपज का संग्रहण किया गया है। ट्राईफेड नई दिल्ली द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार न्यूनतम समर्थन मूल्य पर लघु वनोपज क्रय करने वाले राज्यों में छत्तीसगढ़ का प्रथम स्थान है। नए बजट में हमने घोषित किया है कि राज्य के अनुसूचित क्षेत्रों में कोदो, कुटकी एवं रागी को न्यूनतम समर्थन मूल्य पर अन्य लघु वनोपज की भांति उपार्जित किया जाएगा। इसके अलावा 12 लाख 50 हजार तेंदूपत्ता संग्राहक परिवारों को आकस्मिक मृत्यु अथवा दुर्घटना की स्थिति में सुरक्षा प्रदान करने के लिए ‘शहीद महेंद्र कर्मा तेंदूपत्ता संग्राहक सामाजिक सुरक्षा योजना’ प्रारंभ की गई है। वर्ष 2021-22 के बजट में इस हेतु 13 करोड़ का प्रावधान रखा गया है। विशेष केन्द्रीय सहायता पोषित स्थानीय विकास कार्यक्रमों हेतु 359 करोड़ तथा आदिवासी क्षेत्रों में बुनियादी सुविधाओं के विकास हेतु 170 करोड़ का प्रावधान रखा गया है। 

छत्तीसगढ़ में मछली पालन और लाख पालन को मिला कृषि का दर्जा : 
मुख्यमंत्री ने लोकवाणी में कहा कि मछली पालन और लाख पालन को कृषि के समकक्ष दर्जा देने से इस क्षेत्र में काम करने वाले लाखों लोगों को संबल मिलेगा। कृषि का दर्जा मिलने से इन्हें ब्याज रहित ऋण तथा विभिन्न योजनाओं का लाभ मिल सकता है। हमने राज्य में उपलब्ध जल क्षेत्रों में से 95 प्रतिशत जल क्षेत्र का उपयोग 2 लाख से अधिक मछुवारा परिवारों को बेहतर आय दिलाने के लिए किया है। परंपरागत मछली पालन करने वालों के अलावा नए लोग तथा युवा अब इस काम से जुड़कर अपना भविष्य बना सकते हैं। तेलघानी विकास बोर्ड, चर्म शिल्पकार विकास बोर्ड, लौह शिल्पकार विकास बोर्ड तथा रजककार विकास बोर्ड के माध्यम से परंपरागत कर्मकारों के कल्याण के कदम उठाए जाएंगे। 

कांकेर, कोरबा और महासमुन्द में नए मेडिकल कॉलेज और चंदूलाल चन्द्राकर मेडिकल कॉलेज दुर्ग का होगा शासकीयकरण : 
मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारा पूरा जोर शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य केन्द्रों के उन्नयन पर है। वहां आधुनिक सुविधाओं के विकास पर है। सरकारी क्षेत्र में हम 4 मेडिकल कॉलेज ला रहे हैं। तीन मेडिकल कॉलेज कांकेर, कोरबा और महासमुन्द में नए खुलेंगे तो चंदूलाल चन्द्राकर मेडिकल कॉलेज दुर्ग का शासकीयकरण किया जाएगा। रामानुजगंज में 100 बिस्तर, नवा रायपुर में 50 बिस्तर, ग्राम सन्ना (जिला-जशपुर), शिवरीनारायण (जिला जांजगीर-चांपा) रिसाली (जिला दुर्ग) में 30-30 बिस्तर के अस्पताल खोलने तथा 37 स्वास्थ्य केन्द्रों के भवन निर्माण का प्रावधान भी किया गया है। इसके अलावा मुख्यमंत्री हाट-बाजार क्लीनिक योजना, मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य योजना, दाई-दीदी मोबाइल क्लीनिक योजना, हमर लैब योजना आदि के माध्यम से हम जन-जन तक चिकित्सा सेवाएं पहुंचा रहे हैं। उन्होंने कहा कि मुझे खुशी है कि शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार और सुविधाओं में विस्तार के हमारे प्रयासों को शिक्षाविद् करीब से देख रहे हैं। 

00 जल-जीवन मिशन के माध्यम से 45 लाख 48 हजार ग्रामीण घरों में दिए जाएंगे नल कनेक्शन : 
मुख्यमंत्री ने कहा कि हम सजावटी और दिखावटी अधोसंरचनाओं पर विश्वास नहीं करते बल्कि सुविधा विहीन अंचल का अभाव जल्दी से जल्दी दूर करने पर विश्वास करते है। जवाहर सेतु योजना, मुख्यमंत्री ग्राम सड़क योजना, मुख्यमंत्री धरसा विकास योजना के साथ ही राम वन गमन परिपथ का विकास, नदी तट वृक्षारोपण, विवेकानंद गुरूकुल उन्नयन योजना, सड़क सुरक्षा निर्माण योजना आदि के लिए हमने बजट प्रावधान रखा है। जल-जीवन मिशन के माध्यम से 45 लाख 48 हजार ग्रामीण घरों में नल कनेक्शन, नगरीय क्षेत्रों में जल आवर्धन योजना, मिनीमाता अमृतधारा नल योजना के माध्यम से गौठानों में नलकूप खनन के लिए पर्याप्त प्रावधान रखा गया है। 5 वर्षों में सिंचाई क्षमता दोगुनी करने का लक्ष्य रखा गया है। नए औद्योगिक क्षेत्रों के विकास, स्काडा योजना, शहरी विद्युतीकरण योजना, मुख्यमंत्री मजरा टोला विद्युतीकरण योजना के लिए पर्याप्त प्रावधान रखा गया है। उन्होंने कहा कि जल्द से जल्द प्रदेश में सड़क, बिजली, पानी जैसी बुनियादी अधोसंरचना हर क्षेत्र के निवासियों को उपलब्ध हो जाए। प्रदेश में सूचना प्रौद्योगिकी अधोसंरचना, ऑनलाइन सेवाओं के विकास के लिए बहुत से कदम उठाए जा रहे हैं। इनके लिए बजट प्रावधान भी किया गया है। मैं चाहूंगा कि हमारे युवा स्वयं को शिक्षण व प्रशिक्षण के माध्यम से तैयार रखें। आपके रोजगार व स्वरोजगार के सारे रास्ते खोलने के लिए हम पुरजोर प्रयास कर रहे हैं। इसमें स्थानीय उद्योगों का भी सहयोग लेने की रणनीति अपनाई जा रही है। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि हमने जिन योजनाओं का उल्लेख किया है, उसके लिए पर्याप्त बजट प्रावधान भी किया है। इन योजनाओं के क्रियान्वयन पर शासन और प्रशासन पूरा ध्यान दे रही हैं। जन-जन का विकास हमारा मुख्य ध्येय है।
 
निःशुल्क आयुष्मान कार्ड बनाने की अंतिम अवधि 30 अप्रैल तक बढ़ी

निःशुल्क आयुष्मान कार्ड बनाने की अंतिम अवधि 30 अप्रैल तक बढ़ी

उत्तर बस्तर कांकेर। शासन के निर्देशानुसार ‘‘आपके द्वार आयुष्मान‘‘ अभियान के तहत् च्वाईस सेंटरों के माध्यम से निशुल्क आयुष्मान कार्ड बनाने की अंतिम अवधि 31 मार्च से बढ़ाकर 30 अपै्रल तक कर दिया गया है। आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जनआरोग्य योजना एवं डाॅ. खूबचंद बघेल स्वास्थ्य सहायता योजना अंतर्गत सामाजिक, आर्थिक एवं जातीय जनगणना, वर्ष 2011 (एस.ई.सी.सी.) के पात्र परिवारों, अन्त्योदय, प्राथमिकता एवं ए.पी.एल. राशन कार्डधारी परिवारों का आयुष्मान कार्ड च्वाईस सेंटरों के माध्यम से निःशुल्क बनाया जा रहा है। जिन हितग्राहियों का पात्रता रखते हुये भी आयुष्मान कार्ड च्वाईस सेंटरों के माध्यम से किसी कारण वश नहीं बन पा रहा होगा जैसे- छोटे बच्चे, बुजूर्ग व्यक्ति जिनके अंगूठे या उंगलियों के निशान आधार कार्ड से मिलान नहीं हो पाना एवं अन्य प्रकार कि समस्या होने पर, उस स्थिति में अपने परिवार का राशन कार्ड, आधार कार्ड एवं मोबाइल नम्बर साथ में लेकर निम्न स्थानों में जाकर अपना आयुष्मान कार्ड निःशुल्क बनवा सकते हैंः- विकासखंड कांकेर में जिला चिकित्सालय कांकेर, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र धनेलीकन्हार, पंचायत भवन पटौद, विकासखंड अंतागढ़ में सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र अंतागढ़ और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र आमाबेड़ा, विकासखंड भानुप्रतापपुर में सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र भानुप्रतापपुर, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र कोरर, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र भानबेड़ा, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र कंेवटी, विकासखंड चारामा में सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र चारामा, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय पुरी, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय कोटतरा, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय लखनपुरी, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय हाराडुला, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय हल्बा, विकासखंड दुर्गूकोंदल में सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र दुर्गूकोंदल, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र कोन्डे, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र कोड़ेकुर्से, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र दमकसा, विकासखंड कोयलीबेड़ा में सिविल अस्पताल पखांजूर, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र कोयलीबेड़ा, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बांदे, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बड़गांव, उप स्वास्थ्य केंद्र चारगांव और विकासखंड नरहरपुर में सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र नरहरपुर, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र अमोड़ा, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र सारवंडी एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र सरोना में निःशुल्क आयुष्मान कार्ड बनाने के लिए पंजीयन करवाया जा सकता है। इस संबंध में अधिक जानकारी के लिए अपने ग्राम पंचायत के सचिव एवं स्वास्थ्य कार्यकर्ता, मितानिन से संपर्क किया जा सकता है।उल्लेखनीय है कि कांकेर जिले में लगभग 9,17,453 हितग्राहियों का आयुष्मान कार्ड बनाया जाना है, जिसके विरूद्ध 4,30,625 हितग्राहियों का आयुष्मान कार्ड बनाने के लिए पंजीयन किया जा चुका हैै जो कि लक्ष्य का 47 प्रतिशत है।

च्वाइस सेंटरों में एपीएल परिवारों का भी बनेगा आयुष्मान कार्ड

च्वाइस सेंटरों में एपीएल परिवारों का भी बनेगा आयुष्मान कार्ड

उत्तर बस्तर कांकेर । आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना और डाॅ. खूबचंद बघेल स्वास्थ्य सहायता योजना अंतर्गत जिले में आयुष्मान कार्ड बनाने का कार्य किया जा रहा है। जिले में अब तक 3 लाख 78 हजार 500 परिवारों का आयुष्मान कार्ड बनाया जा चुका है। अंतागढ़ विकासखण्ड में 21 हजार 923, भानुप्रतापपुर में 41 हजार 657, चारामा में 56 हजार 308, दुर्गूकोंदल में 29 हजार 605, कांकेर में 55 हजार 673, कोयलीबेड़ा में 84 हजार 151, नरहरपुर में 54 हजार 348 और शहरी क्षेत्र में 34 हजार 766 परिवारों का पंजीयन आयुष्मान कार्ड बनाने के लिये किया जा चुका है। कलेक्टर श्री चन्दन कुमार ने जिले के नागरिकों से अपील किया है कि योजना का लाभ उठाने के लिए नजदीकी शिविर में उपस्थित होकर आयुष्मान कार्ड अवश्य बनवायें। उल्लेखनीय है कि योजनांतर्गत बीपीएल परिवारों (सामाजिक, आर्थिक एवं जातीय जनगणना वर्ष 2011 के एस.ई.सी.सी. के पात्र परिवारों) और अन्त्योदय एवं प्राथमिकता राशन कार्डधारी परिवारों को प्रतिवर्ष 05 लाख रूपये और एपीएल परिवारों को 50 हजार रूपये तक निःशुल्क इलाज की सुविधा आयुष्मान कार्ड से प्राप्त हो रही है।
जिले में आयुष्मान कार्ड बनाने का कार्य स्वास्थ्य केंद्रों एवं च्वाइस सेंटरों में किया जा रहा है। च्वाइस सेंटरों में पहले बीपीएल परिवारों का ही आयुष्मान कार्ड बनाने का कार्य किया जा रहा था, लेकिन अब शासन द्वारा दिये गये निर्देशानुसार एपीएल परिवारों का भी पंजीयन आयुष्मान कार्ड बनाने के लिए की जा रही है अर्थात एपीएल परिवार भी च्वाइस सेंटर में आयुष्मान कार्ड बनवा सकते हैं। पात्रता रखने वाले जिन हितग्राहियों का आयुष्मान कार्ड च्वाइस सेंटरों के माध्यम से नहीं बन पा रहा है अथवा छोटे बच्चे, बुजुर्ग व्यक्ति जिनके अंगूठे या उंगलियों के निशान आधार कार्ड से मिलान नहीं हो पा रहा है, ऐसी स्थिति में वे व्यक्ति अपने परिवार का राशन कार्ड, आधार कार्ड एवं मोबाइल नम्बर साथ में लेकर स्वास्थ्य केंद्रों में आयुष्मान कार्ड बनवा सकते हैं, इसके लिए जिला प्रशासन द्वारा विकासखण्डवार स्थल चिन्हांकित किये गये हैं। कांकेर विकासखंड में जिला चिकित्सालय कांकेर, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र धनेलीकन्हार, ग्राम पंचायत भवन पटौद तथा अंतागढ़ विकासखंड में सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र अंतागढ़, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र आमाबेड़ा और भानुप्रतापपुर विकासखंड में सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र भानुप्रतापपुर, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र कोरर, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र भानबेड़ा और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र कंेवटी तथा चारामा विकासखंड में सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र चारामा, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय पुरी, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय कोटतरा, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय लखनपुरी, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय हाराडुला, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय हल्बा और दुर्गूकोंदल विकासखण्ड में सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र दुर्गूकोंदल, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र कोन्डे, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र कोड़ेकुर्से, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र दमकसा एवं कोयलीबेड़ा विकासखंड में सिविल अस्पताल पखांजूर, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र कोयलीबेड़ा, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बांदे, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बड़गांव एवं उप स्वास्थ्य केंद्र चारगांव तथा नरहरपुर विकासखंड में सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र नरहरपुर, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र अमोड़ा, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र सारवंडी एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र सरोना में उपस्थित होकर निःशुल्क आयुष्मान कार्ड बनवा सकते हैं।
 

बड़ी खबर छत्तीसगढ़: बिना कपड़ो के झोपड़ी में मिली एक युवती की लाश, पुलिस कर रही मामले की जाँच

बड़ी खबर छत्तीसगढ़: बिना कपड़ो के झोपड़ी में मिली एक युवती की लाश, पुलिस कर रही मामले की जाँच

कांकेर। छत्तीसगढ़ के कांकेर में धारदार हथियार से वार कर एक युवती की हत्या कर दी गई। उसका शव देर रात खेत में बनी झोपड़ी में नग्न हालत में मिला है। आशंका है कि दुष्कर्म के बाद उसकी हत्या की गई होगी। हालांकि इसकी पुष्टि नहीं हो सकी है। पोस्टमार्टम होने के बाद ही स्पष्ट हो सकेगा। फिलहाल कोतवाली थाना पुलिस ने गांव के ही एक युवक पर हत्या का मामला दर्ज किया है। इसके बाद से युवक गायब है।
 
जानकारी के मुताबिक, मालगांव निवासी 19 साल की युवती गुरुवार सुबह करीब 11 बजे अपने छोटे भाइयों और पड़ोसी युवक गंगेश्वर मंडावी के साथ खेत की रखवाली के लिए गई थी। गंगेश्वर वहां पर फेंसिंग के तार ठीक करने के लिए गया था। बताया जा रहा है कि उसने गुड़ाखू लाने के लिए बच्चों को दुकान पर भेज दिया। दोपहर करीब 1 बजे बच्चे लौटे तो युवती नहीं मिली। उन्होंने गंगेश्वर से पूछा तो उसने झोपड़ी में ताला लगाकर जाने की बात कही। फिलहाल पुलिस ने शव का पंचनामा कर पीएम के लिए भेज दिया है।
 बड़ी खबर: ट्रेन से कटकर युवती का सिर हुआ धड़ से अलग, मामले की जांच में जुटी पुलिस

बड़ी खबर: ट्रेन से कटकर युवती का सिर हुआ धड़ से अलग, मामले की जांच में जुटी पुलिस

कांकेर। कांकेर जिले में भानुप्रतापपुर-दुर्ग रेलवे लाईन के गुदुम रेलवे स्टेशन के पास एक अज्ञात युवती की लाश पटरियों पर मिली। युवती का सिर ट्रेन से कटकर धड़ से अलग हो गया था। घटना की सूचना पर मौके पर पहुंची डौंडी थाना पुलिस मामले की जांच कर रही है। 

सूत्रों से आज मिली जानकारी के अनुसार गुदुम रेलवे स्टेशन के पास एक युवती की लाश पटरियों पर मिली। शव का सिर दोनों पटरियों के बीच में तथा धड़ पटरियों के बाहर पड़ा मिला। घटना की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंचकर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। युवती ने आत्महत्या की है या फिर यह एक हादसा है या फिर उसकी हत्या हुई है इसका पता लगाने पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। हालांकि पुलिस को इस मामले में आत्महत्या की आशंका है। फिलहाल शव की शिनाख्त नहीं हो पायी है। 
छत्तीसगढ़: तेंदूपत्ता गोदाम में लगी भीषण आग, लाखों का तेदूपत्ता जलकर हुआ खाक

छत्तीसगढ़: तेंदूपत्ता गोदाम में लगी भीषण आग, लाखों का तेदूपत्ता जलकर हुआ खाक

कांकेर। जिला मुख्यालाय से सात किलोमीटर दूर माकड़ी स्थित वन विभाग के तेंदूपत्ता गोदाम में भीषण आग लग गई है। जंगल में लगी आग ने तेंदूपत्ता गोदाम को अपनी चपेट में ले लिया और तेदूपत्ता गोदाम नम्बर तीन को अपनी चपेट में ले लिया। घटना की सूचना फायर ब्रिगेड को दी गई, सूचना पर फायर ब्रिगेड की टीम मौके पर पहुंची और आग पर काबू पाने का प्रयास किया लेकिन पूरा तेदूपत्ता जलकर खाक हो गया। तेदूपत्ता गोदाम में आग लगने की सूचना मिलते ही कलेक्टर चन्दन कुमार भी मौके पर पहुंचे थे। इस आग से लाखों रुपये के नुकसान होने की आशंका जताई जा रही है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार तेंदूपत्ता गोदाम के नजदीक जंगल में आग लगी थी जो कि फैलते हुए तेंदूपत्ता गोदाम तक पहुंच गई और गोदाम में रखा पूरा तेंदूपत्ता जलकर खाक हो गया है। इस संबंध में वन विभाग का कहना है कि गुरूवार की देर शाम को आग जंगल से होते हुए गोदाम तक पहुंच गई, जिसकी खबर लगते ही वन अमला फायर ब्रिगेड की टीम के साथ मौके पर पहुंचा और आग पर काबू पाने की कोशिश में जुट गया। 

माकड़ी के डीएफओ अरविंद पीएम ने बताया कि तेदूपत्ता गोदाम नम्बर तीन में आग लगी है। इस आग से कितना नुकसान हुआ है, इसका आंकलन किया जायेगा इसके बाद ही नुकसान का पूरा ब्योरा मिल पायेगा। 
अतिथि शिक्षक भर्ती के लिए दस्तावेजों का परीक्षण 9 मार्च से

अतिथि शिक्षक भर्ती के लिए दस्तावेजों का परीक्षण 9 मार्च से

उत्तर बस्तर कांकेर। जिले में संचालित एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालयों में प्रतिनियुक्ति एवं अतिथि शिक्षकों की भर्ती के लिए राज्य स्तर से आयुक्त आदिम जाति कल्याण विभाग रायपुर ने गत 21 सितम्बर 2020 को विज्ञापन जारी किया था, जिसके आधार पर अभ्यर्थियों द्वारा आवेदन किये गये हैं। जिले में संचालित एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालयों में अतिथि शिक्षकों की भर्ती के लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता रखने वाले पात्र अभ्यर्थियों के दस्तावेजों का सत्यापन 9 से 12 मार्च तक शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय कांकेर में प्रातः 11 बजे से दोपहर 3 बजे तक किया जावेगा। पी.जी.टी. हिन्दी, पी.जी.टी. अंग्रेजी एवं टी.जी.टी सामाजिक विज्ञान विषय के अतिथि शिक्षक के दस्तावेजों का सत्यापन 9 मार्च को तथा टी.जी.टी हिन्दी और टी.जी.टी. गणित विषय के अतिथि शिक्षक के दस्तावेजों का सत्यापन 10 मार्च को एवं टी.जी.टी. अंग्रेजी तथा टी.जी.टी. विज्ञान विषय के अतिथि शिक्षक के दस्तावेजों का सत्यापन 12 मार्च को किया जायेगा।
 

टिकरापारा में हत्या: आपसी विवाद में फावड़ा मारकर पड़ोसन की हत्या, न्यायाधीश ने आरोपी को दी ये सजा

टिकरापारा में हत्या: आपसी विवाद में फावड़ा मारकर पड़ोसन की हत्या, न्यायाधीश ने आरोपी को दी ये सजा

कांकेर। जिले के हल्बा चौकी क्षेत्र के टिकरापारा में आपसी विवाद के चलते अपने पड़ोसन जैनबाई की फावड़ा से मारकर हत्या करने वाले आरोपी शोभीराम मंडावी को प्रथम अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। 

पढ़ें : बड़ी खबर : बच्चों को मिला गेंद जैसे दिखने वाला बम, बच्चों ने उठाया तो हुआ विस्फोट, 1 बच्चे की मौत, 2 घायल

प्राप्त जानकारी के अनुसार हत्या के आरोपी शोभीराम मंडावी अपने पड़ोस में रहने वाले जीवनलाल यादव के साथ गाली गलौज कर रहा था। जिसे सुनकर जीवनलाल की पत्नी जैनबाई यादव अपनी बहू के साथ उसे समझाने के लिए पहुंची, जिस पर शोभीराम आक्रोशित होकर अनाप शनाप बोलने लगा।
 
 
इसी बीच शोभीराम मंडावी घर के अंदर से फावड़ा लेकर आया और जैनबाई के गले पर वार कर दिया, जिससे जैनबाई बुरी तरह से घायल हो गई। इसके बाद आरोपी जैनबाई यादव की बहू को फावड़ा लेकर दौड़ाने लगा, किसी तरह उसने वहां से भागकर अपनी जान बचाई। घटना के बाद घायल जैनबाई को तुरंत हल्बा के स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया गया।
 
 
जहां प्राथमिक उपचार के बाद उसे नरहरपुर अस्पताल रेफर कर दिया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।  मामले की शिकायत हल्बा पुलिस चौकी में की गई, पुलिस ने आरोपी शोभीराम के खिलाफ केस दर्ज कर 18 सितंबर 2019 को उसे गिरफ्तार कर लिया और न्यायालय में प्रस्तुत किया गया।

 
अतिरिक्त शासकीय अधिवक्ता तुकेश्वर राणा ने बताया कि प्रथम अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश विजय कुमार मिंज ने सभी साक्ष्यों के आधार पर आरोपी शोभीराम को जैनबाई की हत्या के आरोप में दोषी पाया और उसे आजीवन कारावास की सजा सुनाई है।
+ Load More