COVID-19 :

Confirmed :

Recovered :

Deaths :

Maharashtra / 1282963 Andhra Pradesh / 654385 Tamil Nadu / 563691 Karnataka / 548557 Uttar Pradesh / 374277 Delhi / 260623 West Bengal / 237869 Odisha / 196888 Telangana / 179246 Bihar / 174266 Assam / 165582 Kerala / 154458 Gujarat / 128949 Rajasthan / 122720 Haryana / 118554 Madhya Pradesh / 115361 Punjab / 105220 Chhattisgarh / 93351 Jharkhand / 76438 Jammu and Kashmir / 68614 Uttarakhand / 44404 Goa / 30552 Puducherry / 24895 Tripura / 23786 Himachal Pradesh / 13386 Chandigarh / 10968 Manipur / 9537 Arunachal Pradesh / 8416 Nagaland / 5730 Meghalaya / 4961 Ladakh / 3969 Andaman and Nicobar Islands / 3712 Dadra and Nagar Haveli and Daman and Diu / 2978 Sikkim / 2612 Mizoram / 1759 State Unassigned / 0 Lakshadweep / 0

   BIG BREAKING : प्रदेश में आज 2272 नए कोरोना संक्रमितों की हुई पहचान, 10 कोरोना मरीजों की हुई मौत    |    सोशल मिडिया में वायरल हो रहे निजी अस्पताल में निशुल्क कोरोना इलाज वाले समाचार की क्या है सच्चाई, पढ़े ये खबर    |    कोतवाली थाना क्षेत्र के काली बाड़ी में शराब एवं सट्टा का कारोबार करने वाले 05 आरोपी गिरफ्तार, पढ़ें पूरी खबर    |    BIG BREAKING : राजधानी रायपुर में कार से IPL क्रिकेट में सट्टा खिलवा रहे 7 सटोरी हुए गिरफ्तार, आरोपियों से 10 करोड़ का सट्टा पट्टी जब्त    |    आईपीएल 2020: बैंगलोर के खिलाफ पंजाब कर सकता है बड़ा बदलाव, शामिल होगा विस्फोटक बल्लेबाज    |    किसानों को मजदूर बनाने की साजिश: सीएम भूपेश बघेल    |    Rafale पर CAG की रिपोर्ट, कांग्रेस बोली- अब समझ में आई डील की क्रोनोलॉजी    |    बड़ी खबर: ड्रग्स केस में एनसीबी की रडार पर 50 फिल्मी कलाकार, कई ए-लिस्टर्स एक्टर्स भी शामिल    |    शर्लिन चोपड़ा का बड़ा दावा- बड़े क्रिकेटर्स की बीवियां लेती हैं ड्रग्स    |    कोरोना अपडेट : कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा पहुंचा 57 लाख के पार, पिछले 24 घंटे में 1,129 लोगो की हुई मौत    |
 750 नग कफ सिरप  के साथ पांच युवक हुए गिरफ्तार, जंगल में कफ सिरप कर रहे थे पैक

750 नग कफ सिरप के साथ पांच युवक हुए गिरफ्तार, जंगल में कफ सिरप कर रहे थे पैक

महासमुंद। बसना पुलिस व साइबर सेल की संयुक्ट टीम ने बुधवार को कफ सिरप परिवहन करते हुए पांच युवकों को गिरफ्तार किया है। ये लोग बसना क्षेत्र के कुदारीबाहरा जंगल में सिरप को बोरियों व कार्टून में भर रहे थे। उसी दौरान टीम ने घेराबंदी कर पकड़ा है। इन आरोपियों के कब्ज से टीम ने 750 नग कफ सिरप जप्त किया है। जिसकी कीमत 2 लाख 22 हजार रुपए आंकी गई है। पकड़े गए सभी युवक झारबंद ओडिशा के निवासी है। इन आरोपियों के खिलाफ बसना पुलिस ने 21बी नारकोटिक्स एक्ट के तहत कार्रवाई की है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार लगातार सूचना मिल रही थी कि, कफ सिरप खपाने का काम जिले में चल रहा है। इसी दौरान एसपी प्रफुल्ल ठाकुर को पता चला कि बसना की ओर खपाने का प्लान हो रहा है। इसके बाद उन्होंने बसना व साइबर सेल की संयुक्ट टीम को नजर व कार्रवाई के लिए निर्देशित किया। इसी दौरान मोटर सायकल क्रमांक ---17 ---0752 को बसना थाना क्षेत्रांतर्गत के ग्राम कुदारीबाहरा जंगल की ओर जाते देखा गया। टीम ने मोटर साइिकल सवार का पीछा किया और जंगल पहुंच गए। जहां देखा कि भारी मात्रा में कफ सिरप को संदिग्धों द्वारा एक जगह एकत्रित कर किया जा रहा था, तथा उनके साथी सिरप को कार्टून एवं बोरियों में पैकिंग कर रहे थे। इसके बाद टीम ने घेराबंदी करते हुए सभी को हिरासत में लिया। इस कार्रवाई में सायबर सेल प्रभारी उप निरीक्षक संजय सिंह राजपूत, उनि0 लक्ष्मीनारायण साव थाना बसना, सउनि. सिकांदर भोई प्रआ. प्रकाश नंद, मिनेश ध्रुव, आरक्षक त्रिनाथ प्रधान, ललित यादव, हेमंत नायक, युगल पटेल, संदीप भोई, योगेन्द्र दुबें, छत्रपाल सिन्हा शामिल थे।

ये पांच युवक हुए गिरफ्तार-
टीम ने जंगल में घेराबंदी कर झारबंद ओडिशा निवासी निर्पराज पिता बधु छतर (46), अजीत पिता गजाधर (18), बीरेन्द्र पिता जन पटेल (27), राजेन्द्र पिता पियारी लाल थापा (47) एवं भगवान पिता हिर्सीकेस पटेल (22) को पकड़ा। इनके कब्जे से 03 कार्टून, 2 बोरी में कुल 750 नग कप सिरप जप्त किया गया। पूछताछ के दौरान आरोपियों ने बताया कि क्षेत्र में कप सिरप का सेवन कर नशा करने वाले युवकों को को विक्रय करते थे। ये लोग ओड़शा से प्रति नग 250 रुपए से खरीदकर उसे बसना, सरायपाली सहित आसपास के क्षेत्रों में 300 रुपए की दर से विक्रय करते थे।   
एम्स में कोरोना टेस्ट का लोड बढ़ा, विभाग ने बंद की आरटीपीसीआर टेस्ट

एम्स में कोरोना टेस्ट का लोड बढ़ा, विभाग ने बंद की आरटीपीसीआर टेस्ट

महासमुंदएम्स में आरटीपीसीआर टेस्ट का लोड बढऩे की वजह से स्वास्थ्य विभाग ने पिछले तीन दिनों से आरटीपीसीआर टेस्ट बंद कर दिया है। एंटीजेन और ट्रू नॉट टेस्ट की संख्या बढ़ा दी है। अब जिले में  कोरोना संक्रमितों की पहचान इसी टेस्ट से की जाएगी।

जानकारी के मुताबिक जिले से बड़ी संख्या में कोरोना संक्रमितों की पहचान करने के लिए आरटीपीसीआर टेस्ट कर जांच के लिए एम्स भेजा जा रहा है जिसके चलते एम्स में जांच का दबाव लगातार बढ़ता जा रहा है। यही कारण है कि एम्स ने जिले को आरटीपीसीआर टेस्ट करने से मना कर दिया है। स्वास्थ्य विभाग ने पिछले कुछ दिनों से जिले में जांच की संख्या घटाते हुए टेस्ट बंद कर दिया है और एंटीजेन और ट्रू नॉट जांच की संख्या में इजाफा कर दिया है। बता दें कि जिले में प्रतिदिन 150 लोगों का टेस्ट आरटीपीसीआर से करने का लक्ष्य दिया गया है। लेकिन एम्स मेंं जांच का लोड बढऩे से जांच की संख्या सैकड़ा से घटाकर दहाई कर दी गई है।
 
प्रतिदिन टेस्ट का निर्धारित लक्ष्य
जानकारी के मुताबिक शासन ने कोरोना संक्रमितों की जांच के लिए तीन प्रकार की टेस्ट की सुविधा है जिसमें सभी टेस्ट का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। आरटीपीसीआर टेस्ट प्रतिदिन 150, एंटीजेन 400 और ट्रू नॉट टेस्ट 80 लेना है। जिसमें आरटीपीसीआर टेस्ट बंद होने की वजह से एंटीजेन टेस्ट की संख्या बढ़ाकर साढ़े चार सौ कर दी गई है। ज्ञात हो कि शुरूआत में कोरोना संक्रमितों की पहचान आरटीपीसीआर टेस्ट के माध्यम से की जा रही थी। लेकिन प्रदेशभर में बढ़ते संक्रमितों की संख्या के बाद केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने जिलो में ही जांच की सुविधा शुरू करने ट्रू नॉट मशीन और एंटीजेन कीट की व्यवस्था की है।
 
जांच रिपोर्ट का समय निर्धारित नहीं
चिकित्सकों की माने तो आरटीपीसीआर टेस्ट कोरोना संक्रमितों की पहचान करने में सबसे कारगार टेस्ट है। हालांकि इसकी जांच रिपोर्ट आने में समय अधिक लगता है। टेस्ट करने के बाद रिपोर्ट आने में करीब सप्ताहभर का समय लगता है। क्योंकि इसकी जांच की सुविधा केवल एम्स रायपुर में ही है। जहां पूरे प्रदेशभर से टेस्ट जांच के लिए  जाता है वहीं एंटीजेन और ट्रू नॉट टेस्ट की रिपोर्ट जांच के दो घंटे के भीतर ही मिल जाती है।
 
वर्जन
एम्स में टेस्ट का लोड बढ़ गया था जिसकी वजह से आरटीपीसीआर टेस्ट कुछ दिनों तक बंद करने कहा गया था। पिछले दो-तीन दिनों के लिए जांच बंद की गई थी जिसे आज फिर से शुरू की जाएगी। प्रतिदिन डेढ़ सौ टेस्ट आरटीपीसीआर से लेना है।
डॉ एसपी वारे, सीएमएचओ महासमुंद
 
 प्रशासन के गाइड लाइन का इंतजार कर रहे मूर्तिकाल, इसलिए नहीं ले पा रहे दुर्गा प्रतिमाओं के निर्माण का आर्डर

प्रशासन के गाइड लाइन का इंतजार कर रहे मूर्तिकाल, इसलिए नहीं ले पा रहे दुर्गा प्रतिमाओं के निर्माण का आर्डर

महासमुंद। नवरात्र पर्व को लेकर प्रशासन ने अभी तक कोई गाइडलाइन जारी नहीं किया है। इसे लेकर मूर्तिकार व समिति के लोग संशय में है। अभी तक नवरात्र पर्व को लेकर समितियों ने तैयारियां शुरु नहीं की है। वहीं मूर्तिकार इस बार गणोत्सव में हुए घाटा के कारण बिना आर्डर के मूर्ति नहीं बना रहे हैं। बड़ी मूर्ति का निर्माण नहीं कर रहे हैं। वहीं कुछेक मूर्तिकार गणेशोत्सव में मिली छुट को ध्यान में रखते हुए वे केवल तीन से चार फीट की मूर्ति का निर्माण कर रहे हैं, लेकिन अभी भी उन्हें गाइडलाइन का इंतजार है, ताकि मूर्ति का स्वरूप उसी के अनुसार तैयार किया जा सकें। इधर, समितियां भी तैयारियों को लेकर परेशान है। अनुविभागीय अधिकारी सुनील चंद्रवंशी का कहना है कि नवरात्र पर्व लेकर अभी शासन स्तर से गाइडलाइन जारी नहीं किया गया है। जैसे ही गाइडलाइन जारी होगा, समितियों की बैठक लेकर उसे जानकारी दे दी जाएगी। ज्ञात हो कि कोरोना के कारण सार्वजनिक व धार्मिक आयोजनों पर 100 से अधिक लोगों को एकत्रित होने की अनुमति नहीं है। वर्तमान में कोरोना का संक्रमण बढ़ते चरम पर है। प्रतिदिन पॉजिटिव केस शहर सहित जिले में मिल रहे हैं। नवरात्र पर्व जिले में धूमधाम से मनाया जाता है, लेकिन इस बार नवरात्र में कोरोना का ग्रहण रहेगा। जिसके कारण इस बार नवरात्र पर्व फीका रहेगा। मालूम हो कि  कोरोना के कारण अप्रैल में पडऩे वाले चैत नवरात्र में भी मंदिरों में दर्शन के लिए प्रवेश प्रतिबंधित थे। 

क्या कहते हैं मूर्तिकार-
आर्डर नहीं मिला है, इसलिए नहीं बना रहे मूर्ति 
कुम्हार पारा निवासी पप्पू कश्यप ने बताया कि कोरोना के कारण परिवार चलाना मुश्किल हो गया है। गणेशोत्सव में सबसे ज्यादा मार झेलना पड़ा है। नवरात्र पर्व में भी इस बार मार झेलना पड़ेगा, क्योंकि नवरात्र पर्व में मूर्ति विराजित करने के लिए एवं मूर्ति निर्माण के ेसंबंध में शासन ने गाइडलाइन जारी नहीं किया। इस कारण मूर्ति का निर्माण इस बार नहीं कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि यदि आर्डर मिलेगा, तभी निर्माण किया जाएगा। अभी तक एक भी समितियों ने मूर्ति निर्माण के लिए आर्डर नहीं दिया है। उनका कहना है नवरात्र पर्व को लेकर दो महीना पहले ही मूर्ति निर्माण शुरु हो जाता है। पर्व के 15 दिनों में मूर्तियों में रंग रौगन का काम चलता रहता है। इस बार ढांचा का भी निर्माण नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि गणोत्सव में काफी घाटा हुआ है।

अब तक केवल तीन मूर्ति का मिला आर्डर-
कुम्हार राजेश चक्रधारी ने बताया कि कोरोना संक्रमण की वजह से इस बार आर्थिक तंगी की मार झेलना पड़ रहा है। गणेशोत्सव में इस बार छोटी मूर्तियों की बिक्री हुई है, लेकिन कोरोना के कारण बाजार ठंडा था। बड़ी मूर्तियों का आर्डर नहीं मिला था। नवरात्र पर्व भी सूखा रहेगा, क्योंकि अभी तक केवल दुर्गा माता की मूर्ति निर्माण का तीन ही आर्डर मिल पाया है। उनका कहना है कि नवरात्र पर्व में प्रतिवर्ष 100 से 150 मूर्तियों का निर्माण करतें आ रहे हैं। इस बार तीन मूर्ति का ही बना रहे हैं। इसका ज्यादा असर गाइडलाइन पर है। अभी तक शासन ने गाइडलाइन जारी नहीं किया है, इसलिए समिति वाले संशय में है। गणेशोत्सव पर शासन के कड़े गाइडलाइन के चलते सार्वजनिक तौर पर चौक-चौराहों में समितियों ने गणेश की मूर्ति विराजित नहीं की थी। अब नवरात्र पर्व को लेकर गाइडलाइन का इंतजार है। 

क्या कहते हैं समिति के सदस्य-
अभी तक नहीं हुई है बैठक, गाइडलाइन का इंतजार 
बस स्टैंड दुर्गा समिति के सदस्य भाऊराम साहू ने बताया कि नवरात्र पर्व को लेकर दो महीना पहले ही तैयारियां शुरु हो जाती है। माता का पंडाल सजना शुरु हो जाता है, लेकिन इस बार कोरोना की वजह से ना ही बैठक हो पाई है और ना ही भूमि पूजन। उन्होंने कहा है कि शासन के गाइडलाइन भी जारी नहीं किया है। इसलिए बैठक नहीं हो पाई है। 

शासन के गाइडलाइन के अनुसार करेंगे पूजा अर्चना- 
अंबेडकर चौक दुर्गोत्सव समिति के संरक्षक आलोक चंद्राकर ने बताया कि शासन के गाइडलाइन के अनुसार ही पूजा-अर्चना की जाएगाी। इसके संबंध में अभी तक सदस्यों की बैठक नहीं हुई है। गाइडलाइन जारी होते ही समितियों के सदस्यों की बैठक लेकर इस पर विचार किया जाएगा। 
 पट्रोल पंप में 710 लीटर डीजल भराकर धोखाधड़ी करने वाले दो युवक गिरफ्तार, मुख्य आरोपी फरार

पट्रोल पंप में 710 लीटर डीजल भराकर धोखाधड़ी करने वाले दो युवक गिरफ्तार, मुख्य आरोपी फरार

महासमुंद। तेंदूकोना स्थित पेट्रोल पंप में धोखाधड़ी करने वाले दो युवक को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। वहीं एक मुख्य आरोपी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है। जिसकी पतासाजी की जा रही है। बताया जा रहा है ये दोनों आरोपी पेट्रोल पंप में कंट्रक्शन की गाडिय़ा बताकर ट्रैक्टर में रखे जरीकेन में 710 लीटर लेकर फरार हो गए थे। पेट्रोल पंप के सेल्समैन की रिपोर्ट पर पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ अपराध दर्ज कर लिया है।
 
 
मामले का खुलासा करते हुए बागबाहरा एसडीओपी लितेल सिंह एवं तेंदूकोना थाना प्रभारी हर्ष धुरंधर ने मामले का खुलासा करते हुए बताया कि पेट्रोल पंप में धोखाधड़ी करने वाले फिरोजपुर, कोटला थाना संदौर जिला संगरूर पंजाब वर्तमान में कौहाकुडा निवासी चरणजीत सिंह पिता बहादुर सिंह (32) एवं नयापारा कला थाना पिथौरा निवासी सीताराम पटेल उर्फ गुड्डू पिता लालाराम पटेल (24) को गिरफ्तार किया है। वहीं मुख्य आरोपी की पतासाजी की जा रही है। ये दोनों तेंदूकोना स्थित पेट्रोल पंप में 710 लीटर डीजल भराकर वहां से भाग गए थे। वहीं तीन अन्य वाहनों को महासमुंद से कंट्रक्शन कंपनी के है गाडिय़ों की जरुरत है कहकर उसे भी तेंदूकोना ले आया था।  उन्होंने बताया कि आरोपियों से एक ट्रैक्टर ट्राली 655000 एवं 680  लीटर डीजल बरामद किए हैं। 

पेट्रोल पंप के सैल्समैन ने लिखाई थी रिपोर्ट- 
थाना प्रभारी ने बताया कि पेट्रोल पपं के  सैल्समैन योगश कुमार साहू ने 10 सितंबर को रिपोर्ट दर्ज कराई कि एक दोपहर डेढ़ बजे अज्ञात व्यक्ति काले रंग के मोटर साइकिल में आया और अपने आप को कन्स्ट्रक्शन कंपनी में काम करना बताया। पीछे लाल रंग सोल्ड ट्रेक्टर ट्राली खड़ी है उसमें 03 ड्रम व 01जरीकेन है। सभी में डीजल डालने को कहां। इसके बाद कर्मचारी ने तीनों ड्रम व 1 जरीकेन में कुल 710 लीटर डीजल कीमती 56610 रूपये का डाला। डीजल भरने के बाद ट्रैक्टर को आगे बढ़ाते हुए पीछे खड़े 3 पीकअप गाडी क्रमांक सीजी 06 जीजे 5444, सीजी 06 जीक्यू 5411, सीजी 04 जेडी 7433 में भी डीजल डालने को कहां और नाश्ता करके आने के बाद पैसे दूंगा कहकर निकल गया। कुछ घंटे बाद जब वह नहीं आया तो पीकअप चालकों से पूछा तो वे कन्स्ट्रक्शन कंपनी की गाड़ी नहीं है उन्हें भी वह व्यक्ति सरायपाली से महासमुंद सब्जी लेकर आना है बताकर किराए से लाना बताया है। इसके बाद पेट्रोल पंप के सैल्समैन को ठगी की जानकारी हुई। इसके बाद उसने पुलिस को बताया पूरी जानकारी देते हुए बतायाक  कि 9 तारीख को एक व्यक्ति मोबाइल नंबर देकर दूसरे दिन डीजल भरने गाड़ी भेजने की बात कहीं थी। पुलिस ने सभी आरोपियों के खिलाफ अपराध दर्ज कर जांच में लिया।  

ऐसे पकड़े गए आरोपी-
थाना प्रभारी ने बताया कि धोखाधड़ी करने से पूर्व 9 सितंबर को एक व्यक्ति पेट्रोल पंप आया था। उसने कंट्रक्शन कंपनी का होना बताते हुए 2 से 3 हजार लीटर डीजल की मांग की। डीजल मिल जाने के बाद से अपना नंबर पेट्रोल पंप के सैल्समैन को दिया और दूसरे दिन गाड़ी भेजने की बात कहीं। वारदता को अंजाम देने के बाद मोबाइल नंबर बंद कर दिया। जब धोखाधड़ी का मामला पता चला तो आरोपियों को पकडऩे लगातार उसके मोबाइल नंबर व सीसीटीव कैमरे के फुटेज खंगालने लगे। इसी बीच पता चला कि पट्रोल पंप वाले को दिए हुए नंबर से कौकाकुड़ा निवासी चरणजीत सिंह से उसने अंतिम बार बात की थी। इसके आधार पर टीम ने पहले चरणजी सिंह के यहां पहुंची। जहां टीम  ने देखा कि वहां ट्रैक्टर खड़ा था। उसके बाद से हिरासत में लिया और पूछताछ किया।  इस दौरान उसे अपराध कबूल करते हुए उक्त घटना की जानकारी दी।

कमीशन का खेल, इसलिए दिया घटना को अंजाम- 
पकड़े गए आरोपी ने बताया कि मोबाइल नंबर धारक उसके दुकान में आया और कम रूपये में डीजल देने की बात कहीं। जितना डीजल बिकेगा उतान कमीशन मिलेगा। कमशीन के चक्कर में आरोपी चरणजीत िंसंह ने नयापारा कला पिथौरा के सीताराम को फंसा। वह भी राजी हो गया और वह अपने साथ तीन लोगों को ट्रैक्टर में बिठाकर पेट्रोल पंप ले गया। डीजल भरने के बाद वह बिना रुपए दिए ही रवाना हो गया। 
शहर में फुटा सेक्स रैकेट का भांडा, महिला दलाल समेत 7 लोग गिरफ्तार

शहर में फुटा सेक्स रैकेट का भांडा, महिला दलाल समेत 7 लोग गिरफ्तार

महासमुंद, कॉलेज रोड आश्रम काम्प्लेक्स के पास महासमुन्द के एक मकान में जिस्मफरोशी करने वाली 6 महिला समेत एक ग्राहक को पकड़ा गया है। सिटी कोतवाली पुलिस ने छापा मार कर सात लोगों को गिरफ्तार किया है। सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार जिस्मफरोशी का काम होमगार्ड की एक महिला द्वारा कराया जा रहा था।
महासमुन्द डीएसपी नारद सूर्यवंशी का कहना है कि जिले में तुमगांव में ही पीटा एक्ट अधिसूचित है। इसलिए पकड़े गए लोगों के विरुद्ध 151के तहत प्रतिबंधात्मक कार्रवाई की जा रही है। मोहल्लेवासियों ने संदिग्ध गतिविधियों की पुलिस को सूचना दी थी। दबिश देकर पुलिस ने रंगे हाथों पकड़ा। गौरतलब है कि कोरोना वायरस संक्रमण के दौर में अवैधानिक गतिविधियां और अपराध का ग्राफ तेजी से बढ़ा है।

 

जिले के इस चिन्हित क्षेत्र को किया गया कन्टेनमेंट जोन घोषित, पढ़ें पूरी खबर

जिले के इस चिन्हित क्षेत्र को किया गया कन्टेनमेंट जोन घोषित, पढ़ें पूरी खबर

महासमुंदजिले में कोविड-19 वायरस संक्रमण के रोकथाम के लिए हर स्तर पर व्यापक प्रयास किए जा रहे हैं। कलेक्टर कार्तिकेया गोयल ने ग्राम बड़ेसाजापाली तहसील बसना जिला महासमुंद के संदिग्ध मरीजों की सैम्पल जॉच रिपोर्ट पॉजिटिव पाए जाने ग्राम बड़ेसाजापाली को कन्टेंनमेंट जोन घोषित किया हैं। इसके अलावा उक्त कन्टन्टमेंट जोन के अलावा 3 किलोमीटर की परिधि को बफर जोन घोषित किया गया हैं।

उक्त क्षेत्रों में सभी दुकानें और अन्य वाणिज्यिक प्रतिष्ठान आगामी आदेश पर्यन्त बंद रहेंगे। प्रभारी अधिकारी उक्त क्षेत्र में घर पहुॅच सेवा के माध्यम से आवश्यक वस्तु की आपूर्ति उचित दरों पर सुनिश्चित की जाएगी। सभी प्रकार के वाहनों के आवागमन पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा। मेडिकल इमरजेंसी को छोड़कर अन्य किन्हीं भी कारणों से घर के बाहर निकलना प्रतिबंधित होगा। स्वास्थ्य विभाग के मानकों के अनुरूप व्यवस्था के लिए पुलिस पेट्रोलिंग सुनिश्चित की जाएगी। स्वास्थ्य विभाग के निर्देशानुसार आवश्यक सर्विलांस कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग और सैम्पल जांच आदि की कार्रवाई की जाएगी।
कन्टेनमेंट जोन में तत्काल कार्रवाई के लिए प्रभारी अधिकारी नियुक्त किए गए है, इनमें सम्पूर्ण प्रभार कुणाल दूदावत अनुविभागीय दण्डाधिकारी सरायपाली को दिया गया हैं। दुकानें और वाणिज्यिक प्रतिष्ठान आवागमन पर प्रतिबंध कराने का प्रभार विकास पाटले अनुविभागीय अधिकारी (पुलिस) को सौंपा गया हैं।
इसी तरह केवल एक प्रवेश और निकास की व्यवस्था के लिए बेरिकेटिंग का प्रभार कार्यपालन लोक निर्माण विभाग के कार्यपालन अभियंता एस.आर. सिन्हा को, कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग के लिए सिविल सर्जन डॅा. आर.के परदल को प्रभार सौंपा गया हैं। पर्यवेक्षण अधिकारी तहसीलदारबसना ललिता भगत, इसी प्रकार प्रवेश सहित क्षेत्र की सैनिटाईजिंग व्यवस्था के लिए जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी जी.डी.सोनवानी को, स्वास्थ्य टीम को आवश्यक दवा, मॉस्क, पी.पी.ई किट उपलब्ध कराने का प्रभार खंड चिकित्सा बसना डा जयप्रकाश प्रधान को, घरों का एक्टिव सर्विलांस का प्रभार महिला और बाल विकास विभाग के पर्यवेक्षक दिक्षा बारीक को,खण्ड स्तर पर स्थापित नियंत्रण कक्ष में व्यवस्था के लिए विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी जे.आर.डहरिया को नियुक्त किया गया हैं।
इसके अलावा कंटेनमेंट जोन के लिए गूगल मैप तैयार करने का प्रभार जिला विज्ञान और सूचना अधिकारी आनंद सोनी, ई-जिला प्रबंधक, सीजी स्वान भूपेन्द्र अंम्बिलकर और भू-अभिलेख शाखा के सहायक अधीक्षक आदित्य कुंजाम को सौंपा गया हैं।

इस पर्वत में मिली एक युवक की लाश, मौके पर पहुंची पुलिस

इस पर्वत में मिली एक युवक की लाश, मौके पर पहुंची पुलिस

महासमुंद। सरायपाली क्षेत्र स्थित पर्यटन स्थल घोड़ाधार जलप्रपात में शुक्रवार सुबह एक युवक की लाश बरामद की गई। युवक की पहचान पड़कीपाली निवासी 19 वर्षीय दीपक साव के रूप में की गई है। घटना की सूचना पर पहुंची सिंघोड़ा पुलिस ने लाश का पोस्टमार्टम करा जांच कर रही है। मृतक के परिजन व मित्रों का बयान दर्ज कराया जा रहा।
 हाई बीपी और डायबिटीज वाले एक और कोरोना मरीज की मेकाहारा में मौत

हाई बीपी और डायबिटीज वाले एक और कोरोना मरीज की मेकाहारा में मौत

महासमुंद। मंगलवार को मेकाहारा में उपचार करा रहे एक 30 वर्षीय कोविड-19 के धनात्मक प्रकरण में मृत्यु होने की पुष्टि स्वास्थ्य विभाग ने की है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एस.पी. वारे के मुताबिक उक्त मरीज को हाल ही में कोविड केयर सेन्टर (जी.एन.एम) में भर्ती किया गया था। वे पहले से ही अनियमित रक्तचाप और मधुमेह के मरीज थे। इसके लिए उनकी दवाएं भी चल रही थीं। विकासखण्ड बागबाहरा के ग्राम खम्हरिया का रहने वाले इस मरीज को 8 सितंबर को अचानक सांस की दिक्कत आने लगी। मामले को गंभीरता से लेते हुए जिला स्वास्थ्य विभाग ने उन्हें मंगलवार सुबह करीब 11.25 बजे मेकाहारा रिफर किया। जहां, उसका उपचार जारी रहा। किन्तु रात उनकी तबीयत अधिक खराब हो गई जिससे साढ़े आठ बजे उनकी मृत्यु हो गई। 
 बड़ी खबर छत्तीसगढ़: जमीन विवाद पर एक परिवार के सात लोगों पर कातिलाना हमला, 3 की मौत, 4 गंभीर

बड़ी खबर छत्तीसगढ़: जमीन विवाद पर एक परिवार के सात लोगों पर कातिलाना हमला, 3 की मौत, 4 गंभीर

महासमुंद। छत्तीसगढ़ के महासमुंद जिले अंतर्गत तुमगांव थाना क्षेत्र के ग्राम जोबा में शुक्रवार को सुबह उस समय सनसनी फैल गई जब गांव के लोगों को पता चला कि एक ही परिवार के सात लोगों पर कातिलाना हमला किया गया है। इस हमले में 03 की मौत हो गई, वहीं 04 लोग घायल हो गए है। पुलिस ने हमलावर दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी मृतक परिवार के रिश्तेदार है। 

पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जोबा गांव में रहने वाला गायकवड़ा परिवार का भरा-पूरा परिवार आज सुबह लहुलूहान हालत में पड़ा मिला। परिवार के मुखिया ओस कुमार गायकवाड़ 43 वर्ष की पत्नी जागृति (40 वर्ष), बेटी टीना (16 साल) और बेटा मनीष मृत अवस्था में मिले, जबकि खुद ओस कुमार, उसकी बुजुर्ग मां अनार बाई (65 वर्ष), बेटा ओमन (20 वर्ष) और बेटी गीतांजलि (18 वर्ष) गंभीर रुप से घायल हालत में मिले। घायलों को प्राथमिक उपचार के बाद रायपुर रेफर कर दिया गया है। बताया जा रहा है कि इस परिवार पर कातिलाना हमला करने वाले इसके रिश्तेदार आरोपी परस गायकवाड़ 62 वर्ष और ब्रिजसेन गायकवाड़ 27 वर्ष निकले जिन्हें गिरफ्तार कर लिया है। हमले की वजह जमीन विवाद बताया जा रहा है। स्थानीय लोगों के अनुसार ओस कुमार और आरोपी परिवार के बीच जमीन को लेकर काफी दिनों से विवाद चल रहा था। आरोपी फरसराम हत्या के मामले में जेल भी काट चुका है और करीब तीन माह पूर्व रिहा होकर वापस लौटा है। 
केस खत्म कराने के नाम पर एक लाख रुपए की धोखाधड़ी

केस खत्म कराने के नाम पर एक लाख रुपए की धोखाधड़ी

महासमुंद। एसडीएम न्यायालय में चल रहे प्रकरण समाप्त करने के लिए एक लाख रुपए धोखाधड़ी करने का मामला सामने आया है। ग्राम बड़े डाभा निवासी बाबूलाल पिता सुरीत राम बारिक ने मंजनीमाटी बसना निवासी पोषराम धृतलहरे के खिलाफ थाने में शिकायत की है। प्रार्थी के आवेदन पर जांच के बाद पुलिस ने मामला दर्ज किया है। लिखित शिकायत में बाबूलाल ने कहा है कि उसने बैंक से चार लाख आठ हजार रुपए केसीसी लोन लिया था, जो उनकी बेटी के खाते में जमा हो गया था। जब रुपए की जानकारी अपनी बेटी से लिया तो, पता चला कि उसने रुपए खर्च कर डाले हैं। इसके बाद पैसे के संबंध में जिला पंचायत महासमुंद द्वारा वसूली के लिए अनुविभागीय अधिकारी न्यायालय सरायपाली में वसूली का प्रक्ररण चल रहा है। इसी बीच उसकी मुलाकात मंजनीमाटी निवासी पोषकुमार से हुई। उसने प्रकरण समाप्त कराने के नाम पर एक लाख रुपए लिया।
आपत्तिजनक फोटो वायरल करने की धमकी देकर एक लाख रूपए की मांग, जुर्म दर्ज

आपत्तिजनक फोटो वायरल करने की धमकी देकर एक लाख रूपए की मांग, जुर्म दर्ज

महासमुंद। दो युवकों ने एक महिला मित्र से उनकी आपत्तिजनक तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी देकर रुपयों की मांग की। घटना की शिकायत पीडि़ता द्वारा किए जाने पर दोनों आरोपियों के खिलाफ आईटी एक्ट 67 ए, 385, 509 क, 34 के तहत मामला दर्ज किया गया है।
 

मामला बसना थाना क्षेत्र का है। बसना पुलिस के अनुसार सरसीवां निवासी पंचराम पटेल और बसना के लोहड़ीपुर निवासी  संजय पटेल ने कुछ दिन पूर्व महिला मित्र की आपत्तिजनक तस्वीर खींच ली, जिसके बाद वे दोनों महिला से एक लाख रूपए की मांग कर न देने पर तस्वीर को सोशल मीडिया में वायरल करने की धमकी देते रहे।
 
 
पीडि़ता ने इसकी शिकायत थाना में दर्ज कराई, जिस पर आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया। बसना थाना प्रभारी लेखराम ठाकुर के मुताबिक पीडि़ता की शिकायत पर दोनो आरोपियों के खिलाफ 2 आईटी एक्ट 67 ए, 385, 509 क, 34 के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है।
तीन थाना प्रभारियों का हुआ स्थानांतरण , जारी हुआ आदेश

तीन थाना प्रभारियों का हुआ स्थानांतरण , जारी हुआ आदेश

महासमुंद, पुलिस अधीक्षक ने सोमवार को जिले के थानों में पदस्थ थाना प्रभारियों का स्थानांतरण किया है. जारी आदेश के मुताबिक बसना थाना प्रभारी वीणा यादव को सरायपाली, जबकि सरायपाली थाना प्रभारी मल्लिका बेनर्जी को पटेवा और पटेवा थाना प्रभारी लेखराम ठाकुर को बसना थाना प्रभारी बनाया गया है. वहीं रक्षित निरीक्षक केन्द्र में पदस्थ सिद्धेश्वर प्रताप सिंह को पिथौरा थाना में पदस्थ किया गया है. जारी आदेश में प्रशिक्षु डीएसपी तिलेश्वर यादव को बागबाहरा शहर और अपूर्वा राजपूत को दो माह के लिए पिथौरा थाने का स्वतंत्र प्रभार सौंपा गया है. 

 ड्राइविंग लाइसेंस, परमिट, फिटनेंस व रजिस्ट्रेशन सहित अन्य कार्यों की वैधता 31 दिसबंर तक बढ़ा

ड्राइविंग लाइसेंस, परमिट, फिटनेंस व रजिस्ट्रेशन सहित अन्य कार्यों की वैधता 31 दिसबंर तक बढ़ा

महासमुंद। कोरोना संक्रमण को देखते हुए केंद्रीय परिवहन मंत्री द्वारा ड्राइविंग लाइसेंस, परमिट, फिटनेंस व रजिस्ट्रेशन सहित अन्य दस्तावेजों की वैधता बढ़ा दी गई है। अब सभी दस्तावेजों की वैधता 31 दिसंबर तक है। इससे लाइसेंस बनाने वाले लोगों को काफी राहत मिलेगी, लेकिन महासमुंद जिले में आदेश नहीं पहुंचने के कारण यहां वैधता नहीं बढ़ी है, इसलिए कोरोना काल में भी लोग लाइसेंस व अन्य दस्तावेज बनाने के लिए दफ्तर पहुंच रहे हैं। इससे संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है।

पढ़ें : राजधानी में कोरोना पॉजिटिव मरीज ने ईलाज करवाने से किया इंकार, मामला दर्ज

क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी मोहन साहू ने बताया कि वैधता बढऩे की जानकारी मिली है, लेकिन आदेश नहीं पहुंचा है। जैसे ही आदेश आएगा, लोगों को राहत दी जाएगी। कोरोना संक्रमण के कारण दफ्तर में भीड़ न हो इसलिए कम लोगों को बुलाकर दस्तावेजों का निराकरण किया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि 31 जुलाई के बाद जिनके दस्तावेजों की वैधता समाप्त हो गई है वे परिवहन कार्यालय पहुचंकर उनकी वैधता बढ़ाने में लगे हैं, लेकिन कोरोना के कारण उन्हें ऑनलाइन स्लॉट नहीं मिल पा रहा है, इसलिए वे दफ्तर में लाइसेंस नहीं बनाया पा रहे हैं, एवं अन्य काम भी तेजी से नहीं हो पा रहा है। इसके कारण लोग वैधता को लेकर परेशान है।


दो बार बढ़ी थी लॉकडाउन के दौरान वैधता-
कोरोना संक्रमण के चलते 23 मार्च से प्रदेश में लॉकडाउन किया गया था। इसके साथ ही सारे सरकारी दफ्तर बंद हो गए थे। 23 मार्च के बाद जिनकी दस्तावेजों की समय सीमा समाप्त हो गई थी। उनके लिए 30 जून तक वैधता बढ़ाई गई थी। जून के बाद दफ्तर खुलने लगे, लेकिन काम-काज के चलते संक्रमण न बढ़े इसलिए दस्तावेजों की समय-सीमा 31 जुलाई तक फिर से बढ़ाई गई थी। 31 जुलाई के बाद भी संक्रमण के चलते दफ्तरों में लोग पहुंच नहीं रहे है, लेकिन पेनाल्टी लगने की चिंता सता रही है। वहीं स्थाई लाइसेंस बनाने वाले भी परेशान है। क्योंकि उन्हें ऑनलाइन स्लॉट नहीं मिल पा रहा है। वर्तमान में पुराने ड्राइविंग लाइसेंस बनाने के लिए जिन्हें स्लाट मिला है, उनकी बारी-बारी से लाइसेंस बनाया जा रहा है। प्रतिदिन 60 से 70 लोगों को ही बुलाया जा रहा है। जबकि सामान्य दिनों में 200 लोगों को लाइसेंस बनाने के लिए दफ्तर बुलाया जाता था।  
मंदिर में चोरी की घटना को अंजाम देने वाले फिर पकड़े गए सगे भाई, जेवरात खरीदने वाला भी गिरफ्तार

मंदिर में चोरी की घटना को अंजाम देने वाले फिर पकड़े गए सगे भाई, जेवरात खरीदने वाला भी गिरफ्तार

महासमुंद। दुर्गा मंदिर में चोरी की घटना को अंजाम देने वाले दो सगे भाई एवं चोरी के सामान खरीदने वाले एक युवक पिथौरा पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इनके पास से पुलिस ने चोरी के जेवरात बमराद किए है। चोरो के खिलाफ पुलिस ने धारा 457, 380 के तहत अपराध दर्ज कर जांच में लिया है।
 
 
खास बात यह है कि पकड़े गए दोनों सगे भाई एक महीने पूर्व मंदिर में चोरी करने के आरोप में गिरफ्तार हुए थे। जेल से छुटकर फिर से दोनों भाइयों ने चोरी की घटना को अंजाम दिया है। थाना प्रभारी एनके स्र्णकार ने बताया कि फारेस्ट आफिस स्थित दुर्गा मंदिर के पुजारी तेज प्रताप तिवारी ने थाने ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी 25-26 की दरम्यानी रात अज्ञात चोरों ने मंदिर में प्रवेश कर चांदी का चक्र, सोने की बिंदिया, नथनी, लॉकेट व दान पेटी में रखे चिल्हर रूपये को चुरा लिया है।
 
 
एफआईआर दर्ज के बाद आरोपियों की पतासाजी की जा रही थी, तभी पता चला कि पूर्व में मंदिरों में चोरी करने वाले दो सगे भाई रानीसागर पारा निवासी नकुल पटेल एवं गोकुल पटेल जेल से छुट गए है। इसके बाद टीम ने दोनों भाइयों को हिरासत में लेकर पूछताछ किया। इस दौरान चोरी का अपराध कबूल करते हुए चोरी की घटना को स्वीकार किया और सोने के जेवरात को संजीत मरकाम उर्फ सालिया देवार के पास बेचना बताया। टीम ने संजीत मरकाम को हिरासत में लिया और उसके पास से चोरी के जेवरात बरामद किए। वहीं आरोपियों ने चांदी के चक्र को बाद में बेचने के लिए अपने घर में गड्ढा खोदकर पाठ दिया था। इसे भी टीम ने बरामद कर लिया है। 

पकड़े गए आरोपी है आदतन अपराधी-
थाना प्रभारी ने बताया कि पकड़े गए दोनों सगे भाइयों को एक महीने पूर्व दुर्गा मंदिर में चोरी के आरोप में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। कुछ ही दिन हुए है, दोनों भाइयों को जेल से छुटे। ये दोनों आतदन चोरी के आरोपी है। क्षेत्र में स्थित मंदिरों को आए दिन निशाना बनाते है।
झोलाछाप डॉक्टर की लापरवाही से 13 वर्षीय लड़के की हुई उपचार के दौरान मौत, परिजनों ने लगाया आरोप

झोलाछाप डॉक्टर की लापरवाही से 13 वर्षीय लड़के की हुई उपचार के दौरान मौत, परिजनों ने लगाया आरोप

महासमुंद। कोमाखान थाना क्षेत्र के ग्राम कछारडीह में झोलाछाप डॉक्टर की लापरवाही के चलते 13 वर्षीय बच्चे की मौत हो गई। झोलाछाप चिकित्सक ने पेट दर्ज का ऐसा उपचार किया, कि उसकी हालत नाजुक हो गई। उसके बाद वह सोमवार सुबह स्वयं बागबाहरा के सामुदायिक केंद्र में ले गया। बच्चे की हालत देखकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र वाले भी महासमुुंद रेफर कर दिए, लेकिन यहां इलाज हो पाता, इससे पहले उसकी मौत हो गई। मृतक के माता-पिता ने गांव के चिकित्सक के खिलाफ लापरवाही बरतने तथा न्याय की मांग करते हुए एफआईआर दर्ज करने सिटी कोतवाली पहुंचे, जहां परिजनों को मामले की जांच कोमाखान थाने में होने की बात कहीं। कोतवाली पुलिस ने पुलिस ने मर्ग कायम कर लिया है। मृतक के पिता हेमलाल यादव ने बताया कि रविवार देर रात तीन बजे उनके 13 वर्षीय पुत्र तेजराम यादव का पेट दर्द शुरु हुआ। परिजनों ने उसे उपचार के लिए गांव के ही एक निजी चिकित्सक के भर्ती कराया। घंटों उपचार के बाद भी स्वास्थ्य पर सुधार नहीं आया तो सुबह उसे बागबाहरा सीएचसी भेज दिया। जहां चिकित्सकों ने हालत गंभीर होने पर जिला अस्पताल रेफर किया। बच्चे को उपचार के लिए तत्काल जिला अस्पताल लाया गया, लेकिन उपचार के लिए भर्ती होने से पूर्व ही उसने दम तोड़ दिया। इसके बाद घटना की जानकारी अस्पताल प्रबंधन ने पुलिस को दी। पुलिस ने मर्ग कायम कर लिया है।


सुबह 10 बजे से करना पड़ा शाम तक इंतजार-
अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही के कारण एक बच्चे का शाम तक पीएम नहीं हो पाया। बताया जा रहा है कि कोरोना वरियर्स के सम्मान के कारण चिकित्सक भूल गए थे। बेचारी मां कार्यक्रम के बाहर अपनी आंश्रु बहाते हुए पीएम के लिए आने वाले चिकित्सक का इंताजर कर रही थी। मृतक के पिता ने बताया कि सुबह 10 बजे से वह पीएम का इंतजार कर रहे हैं। उन्हें बस केवल एक ही जवाब मिल रहा था, थोड़ी देर और रूको, डॉक्टर आते ही होंगे। 

मामले की जांच कोमाखान पुलिस करेगी-
इस संबंध में थाना प्रभारी शेर सिंह बंदे ने बताया कि उनके द्वारा मामले में मर्ग कायम कर लिया गया है। चूंकि मामला कोमाखान थाना क्षेत्र का है। इसलिए मामले की जांच वहां की पुलिस करेगी। इसके लिए मामले से संबंधित दस्तावेज कोमाखान पुलिस को भेजा जाएगा।
 
   बड़ी खबर छत्तीसगढ़: सेक्स रैकेट में गिरफ्तार 8 लड़कियों में 2 निकली कोरोना पॉजिटिव, मचा हड़कंप

बड़ी खबर छत्तीसगढ़: सेक्स रैकेट में गिरफ्तार 8 लड़कियों में 2 निकली कोरोना पॉजिटिव, मचा हड़कंप

महासमुंद। छत्तीसगढ़ में कोरोना का प्रकोप जारी है. इसी बीच महासमुंद जिले से देह व्यपार का मामला सामने आया है। पुलिस ने सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ कर 8 लड़कियों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार लड़कियों में कोरोना टेस्ट के दौरान 2 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। उनको कोविड-19 सेंटर में भर्ती कराया गया। जबकि बाकी 6 को क्वारैंटाइन सेंटर भेज दिया गया है। मामला तुमगांव थाना क्षेत्र का है।

गौरतलब हो कि कि पुलिस को लगातार शिकायत मिल रही थी कि एनएच-53 से लगे मालीडीह गांव में वेश्यावृत्ति कराई जा रही है। इस पर पुलिस ने वहां छापा मारा। पुलिस को देखते ही वहां भगदड़ मच गई। इस दौरान पुलिस ने लड़कियों समेत एक दलाल को धर दबोचा। इनको अलग-अलग जगहों से ऑर्डर कर बुलाया गया था।

पकड़ी गई लड़कियों में रायपुर, भाटापारा,तुमगांव और कोलकाता की रहने वाली है। 6 लड़कियों को तुमगांव में ही क्वारैंटाइन किया गया है। दो पॉजिटिव लड़कियों को महासमुंद के कोविड केयर सेंटर में इलाज के लिए भर्ती कराया गया। पुलिस इन लड़कियों के संपर्क में आए अन्य लोगों के बारे में पता कर रही है।
तालाब में मिले शव की गुत्थी सुलझी: पुत्र, बहू और नाती ने की थी हत्या, सभी गिरफ्तार

तालाब में मिले शव की गुत्थी सुलझी: पुत्र, बहू और नाती ने की थी हत्या, सभी गिरफ्तार

महासमुंद। पिलवापाली हत्याकांड मामले में पिथौरा पुलिस ने मृतिका के पुत्र, बहू एवं नाती को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया जहां से तीनों को न्यायिक रिमांड में जेल भेज दिया गया। परिजनों ने मात्र इसलिए उक्त हत्या को अंजाम दिया कि वृद्धा घर के आंगन में हुए एक गड्ढे को पोला पर्व पर मिट्टी का काम नहीं करने की ग्रामीण मनाही के बाद भी काम कर रही थीं। ग्राम पिलवापाली के आश्रित ग्राम झुनगा बारी में विगत तीज के दिन एक वृद्धा का शव तालाब में मिला था। पुलिस ने शव बाहर निकाला तो उसमें बंधा हरी साड़ी का टुकड़ा और साड़ी के साथ बंधे इंट पत्थर वृद्धा के डूबकर मरने की बात का खंडन करते दिख रहे थे।


प्रथम दृष्टया ही मामला हत्या का प्रतीत हो रहा था। इस मामले को थाना प्रभारी एनके स्वर्णकार ने चुनौती के रूप में लिया और गांव में अपने मुखबिर सक्रिय कर दिए। इसके बाद संदेह के आधार पर श्री स्वर्णकार ने एसडीओपी पुपलेश पात्रे के मार्गदर्शन में मृतका के पुत्र मन्नू लाल पटेल को बुलाकर उससे पूछताछ प्रारम्भ की। पुलिसिया पूछताछ में पुलिस द्वारा कुछ साक्ष्य दिखाने के बाद मन्नू टूट गया और पुलिस के सामने अपना अपराध कबूल कर लिया। मृतिका के पुत्र मन्नूलाल ने पूरी घटना में उसकी पत्नी मायावती पटेल एवं पुत्र रामप्रसाद पटेल (24) की संलिप्तता भी स्वीकार की. घटना पोला पर्व के दिन की है। ग्रामीण मान्यता के अनुसार पोला पर्व के दिन किसी के यहां भी मिट्टी का काम करने की सख्त मनाही होती है पर कार्तिकमती के घर में पुत्र एवं नाती अपनी दुपहिया घर के बरामदे में खड़ी करते थे जिससे वहां हुए गड्ढे को वृद्धा ईंट से दबाकर भर रही थी। जिसे पुत्र मन्नू ने रोकने की कोशिश की पर वृद्धा ने उसकी बात अनसुनी कर दी थी। इसके बाद पुत्र ने उसे एक मुक्का मारा और काम करने से रोक दिया। पर अत्यंत वृद्ध हो चुकी मां इस मार से विचलित हो गई। घर में उसे खाना नहीं मिलेगा सोचकर वह पड़ोस की एक दुकान में बिस्कुट लेने गई तब दुकानदार ने उससे खाने के समय बिस्कुट लेने की बात पूछी तब वृद्धा ने उसके साथ हुई मारपीट की घटना दुकानदार को बता दी।

जब यह बात मन्नू और उसके पुत्र को पता चली तब उन्होंने योजना बनाकर रात में ही अपनी माँ कार्तिकमोती की हत्या कर शव को घर में रखी एक पुरानी हरी साड़ी में पत्थर के साथ बांधकर गांव के तालाब में फेंक दिया। बहरहाल, पुलिस ने घटना में मृतिका के पुत्र मन्नूलाल के साथ शामिल पत्नी मायावती एवं पुत्र रामप्रसाद को हत्या एवं जुर्म छुपाने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया। पूरे मामले में प्रशिक्षु डीएसपी अपूर्वा सिंह सहित एएसआई प्रकाश नागरची, प्रआ कुबेर जायसवाल, सुरेश परिहार, आरक्षक मिहिर बीसी, जुनैद खान एवं हीरालाल मिश्रा का योगदान रहा।
 मोहल्ला क्लास में तेलीबांध स्कूल के बच्चे लाउडस्पीकर के बजाए ब्लूटूथ स्पीकर से कर रहे पढ़ाई

मोहल्ला क्लास में तेलीबांध स्कूल के बच्चे लाउडस्पीकर के बजाए ब्लूटूथ स्पीकर से कर रहे पढ़ाई

महासमुंद। ऑनलाइन व मोहल्ला क्लास में लाउडस्पीकर से पढ़ाई के बाद अब एक शिक्षक ने ऑडिया डिवाइस के माध्यम से बच्चों को पढ़ाई कराने नवाचार किया है। शिक्षक ने गांव के बच्चों को टीम बनाकर ब्लूटूथ स्पीकर से पढ़ाई करा रहे हैं। इस डिवाइस में चीप लगा है। जिसमें शिक्षक द्वारा पढ़ाए गए सभी पाठ की ऑडियों को उस चीप में है। जिसे ब्लूटूथ स्पीकर के माध्यम से सुनकर बच्चे पढ़ाई कर रहे हैं।
 
 
यह नवाचार झलप संकुल केंद्र के ग्राम तेलीबांध स्थित शासकीय प्राथमिक स्कूल के शिक्षक खोरबाहरा सोनवानी द्वारा किया है। इस स्कूल की दर्ज संख्या 60 है। वह सभी बच्चों के लिए स्वयं के रूपये से खर्च कर ये ब्लूटूथ स्पीकर खरीदकर बच्चों को दिया हैं। जिसके माध्यम से बच्चे मोहल्ला क्लास में पढ़ाई कर रहे हैं। इस डिवाइस से कोरोना काम में भी शिक्षकों को मोहल्ला क्लास लेने में राहत मिलेगी। उन्हें हर दिन मोहल्ला क्लास लेने की जरुरत नहीं है।
 
 
कोरोना संक्रमण से बचने के लिए ऐसा डिवाइस बनाया गया है। हाल ही में कोरोना का संक्रमण बढ़ते जा रही है, यदि मोहल्ला क्लास में जाकर शिक्षक बच्चों को पढ़ाते है तो, कोरोना संक्रमण फैलने का भय रहेगा। इसलिए ब्लूटूथ स्पीकर के माध्यम से बच्चो मोहल्ला क्लास में पढ़ाई कर सकते हैं।

चीप में सभी विषयों के पाठ का रिकार्डिंग- 
इस चीप में शिक्षक द्वारा सभी विषयों के पाठ को अपनी आवाज में रिकॉर्ड किया है। चीप को ब्लूटूथ स्पीकर में डालकर बच्चे स्वयं मोहल्ला क्लास में पुस्तक देखकर व ऑडियो सुनकर पढ़ सकते हैं। वहां शिक्षकों की भीड़ बढ़ाने की जरुरत भी नहीं है। यदि बच्चे मोहल्ला क्लास के बजाए किसी घर के अंदर भी यदि पढ़ाई कर सकते हैं। उन्हें मोहल्ला या गलियों में बैठने की जरुरत नहीं है।
 
 
इस चीप में हिंदी, गणित, विज्ञान व सामाजिक विज्ञान के पाठों को ऑडियों रिकार्डिंग शिक्षक द्वार किया गया है। शिक्षक ने पूरे गांव में 60 बच्चों के लिए स्वंय के खर्च से 6 स्पीकर बांटे हैं। जिसमें 10 बच्चे एक घर में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर पढ़ाई कर रहे हैं। मोहल्ला क्लास से अधिक सुरक्षित बच्चे अपने घर में ही टीम बनाकर पढ़ाई करेंगे, तो ज्यादा सुरक्षित रहेंगे।

शिक्षक ने स्वंय के खर्च से बांटा वर्क बुक-
तेंलीबांध स्कूल के शिक्षक ने स्पीकर के साथ बच्चों को वर्क बुक का भी वितरण स्वयं के खर्च से किया है। यह वर्क बुक उन्होंने शिक्षा ज्योति पीएलसी समहू द्वारा तैयार किसया है। जिसमें बच्चों को हिंदी और गणित के लिए प्रति उत्साह का वर्क प्रदान किया गया है एवं शिक्षक संगवारी के द्वारा वर्क बुक को हल करने में बच्चों का सहयोग भी कर रहे हैं। शिक्षक द्वारा प्रत्येक बच्चों के घर जाकर वर्कबुक का मूल्यांकन भी कर रहे हैं। इस कार्य को प्रभारी प्रधानपाठक लव शुक्ला एवं संकुल समन्वयक सतीश तिवारी के मार्गदर्शन में किया जा रहा है। इसमे गांव के पालकों द्वारा प्रोत्साहित किया जा रहा है।

जानिए इससे लाभ-
इस डिवाइस के माध्यम से बच्चे सुबह व शाम एक टीम बनाकर पढ़ाई कर सकते हैं। बच्चों को गांव के गलियों व मोहल्लों में खुले स्थान पर पढ़ाई करने से राहत मिलेगी। वहीं शिक्षकों को हर दिन मोहल्ला क्लास में आने की जरुरत नहीं होगी, क्योंकि कोरोना का संक्रमण धीरे-धीरे बढ़ते जा रहा है। यदि एक भी शिक्षक को कोराना हुआ तो, सीधे बच्चों के स्वास्थ्य पर असर पड़ेगा। इसलिए इस डिवाइस के माध्यम से बच्चे घरों में रिकार्डिंग सुनकर पुस्तक के सहारे पढ़ाई कर सकते हैं।
  बालक व बालिका ने फांसी लगाकर दी जान, जांच में जुटी पुलिस

बालक व बालिका ने फांसी लगाकर दी जान, जांच में जुटी पुलिस

महासमुंद। बसना थाना क्षेत्र के ग्राम जामड़ी एवं बिछियातार में 17 वर्षीय बालक व बालिका ने अज्ञात कारण से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। पुलिस ने मर्ग कामय कर जांच में जुट गई है। थाना से मिली जानकारी के अनुसार ग्राम जामड़ी निवासी रजनी पिता ताराचंद निषाद (17) ने शुक्रवार रात अपने घर के सिलिंग फैन में साड़ी का फंदा बनाकर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। इसी प्रकार ग्राम बिछियातार में रूपेश नायक पिता नंदलाल नायक (17) ने भी अपने घर के म्यांर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर लिया। पुलिस ने दोनों ही मामलों में मर्ग कायम कर शव का पीएम कराकर शव परिजनों को सौंप दिया है।
तालाब में मिली वृद्धा की लाश, कमर में बंधा था ईंट

तालाब में मिली वृद्धा की लाश, कमर में बंधा था ईंट

पिथौरा। थाना क्षेत्र के ग्राम पिलवापाली में एक वृद्ध की संदिग्ध परिस्थिति में लाश तालाब में मिली। उसके कमर पर ईंट बंधा हुआ था। सूचना पर पहुंची पुलिस ने मर्ग कायम कर शव का पीएम कराकर परिजनों को सौंप दिया है।
 
 
थाना प्रभारी एनके स्वर्णकार का कहना है कि पीएम रिपोर्ट आने के बाद ही मामले का खुलासा हो पाएगा। वह हत्या है या आत्महत्या। फिलहाल टीम जांच में जुटी है।
 
 
थाना प्रभारी ने बताया कि गुरुवार सुबह ग्रामीणों ने सूचना दी कि ग्राम पिलवापाली के एक तालाब में महिलाए का शव है। टीम तालाब पहुंची और शव को बाहर निकाला तो, उसकी शिनाख्त गांव की कार्तिक मति पति देवचरण पटेल (80) के रूप में हुई। जब उक्त घटना की जानकारी परिजनों को हुई तो तालाब पहुंचे।
 
 
जहां पूछताछ के दौरान परिजनों ने पुलिस को बताया कि वह बुधवार 12 बजे से निकली थी, जो रात को घर वापस नहीं लौटी थी। गांव व रिश्तेदारों के यहां पूछताछ भी किया, लेकिन कुछ पता नहीं चला। बताया जा रहा है कि गांव के तालाब में सुबह से  लाश मिलने से सनसनी फैल गई थी। वहीं ग्रामीण सहम गए थे।  
 तीज पर्व आज: न बेटियां आई, न बहुएं गई, ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना की वजह से घर पर रहकर मनाया जाएगा पर्व

तीज पर्व आज: न बेटियां आई, न बहुएं गई, ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना की वजह से घर पर रहकर मनाया जाएगा पर्व

महासमुंद। ग्रामीण अंचलों में इस बार तीज का पर्व बहुएं व बेटी अपने ससुराल में रहकर पति की दीर्घायु के लिए निर्जला व्रत है।कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए वे इस बार ससुराल में ही पर्व मनाने का महिलाओं ने पूर्व में ही फैसला ले लिया था, इसलिए जिले के अधिकांश गांव में बहुएं व बेटियों ने मायके आने से परहेज किया है।
 
 
गांव में ऐसी महिलाएं भी है, जिसकी उम्र 45-50 है, लेकिन वे आज भी वे तीज का पर्व अपने मायके में मनाती है। उनके उम्र ये पहली बार ऐसा है कि इस पर्व के लिए उन्हें ससुराल में रहकर पर्व को मना रही है। गांव के प्रमुखों ने भी गांव को सुरक्षित रखने के लिए इस बार बेटियों व बहुओं को तीजा लाने व ले जाने से मना किया है।
 
 
गांव के नियमों का पालन करते हुए इस बार स्वयं से मायके नहीं जाने का फैसला लिया है। ज्ञात हो कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए ग्रामीण अंचलों में तीज पर्व के पखवाड़ेभर पूर्व ही तीजा लाने व ले जाने के लिए मुनादी करा दी गई थी। 

जानिए क्या कहती है महिलांए- 
ग्राम खमतराई, सिरपुर, सेनकपाट, भोरिंग व कौंआझर की रहने वाली द्रोपती, उर्मिला, बिंदा, एवं हिराबाई ने बताया कि वें 20 साल से तीज पर्व पर मायके जाते आ रहे हैं। इस बार उनका पहला साल है जो, तीज का पर्व ससुराल में मना रही हैं। पर्व को लेकर पहले से ही तैयारिंया कर रखी है। आज पति की दीर्घायु के लिए वे उपवास हैं। साथ ही पर्व के मद्देनजर ढेर सारे पकवान भी बनाएं है।
 
 
तीज में मायके जाने की बात पर उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण लगातार बढ़ रहा है। यदि चले गए तो, स्वास्थ्य खराब हो सकता है, और जब लौटेंगे तो उसके कारण गांव में भी संक्रमण फैल सकता है। इसलिए, मायके जाने से परहेज कर रहे हैं, क्योंकि अपने स्वास्थ्य के साथ परिवार व गांव का भी ख्याल रखना आवश्यक है। उन्होंने ने कहा कि स्वास्थ्य ठीक रहेगा तो आने वाले कई सालों तक यह पर्व मना सकते हैं। 

करू भात खाकर आज महिलाएं है निर्जला उपवास-
तीज के उपवास के लिए एक दिन पहले महिलाएं करू भात खाती है। इसके बाद वे दूसरे दिन अपने पति की लंबी आयु के लिए निर्जला व्रत रखती है। गुरुवार को व्रती महिलाओं ने करू भात खाकर आज व्रत रखा है। व्रती महिलाओं ने पर्व को लेकर कुछ दिन पूर्व से ही तैयारियों कर रखी थी। कपड़ा, फैंसी आयटम सहित विभिन्न सामानों की खरीददारी भी कर ली है। दो दिन पहले शहर में बाजार गुुलजार रहा। कपड़ा व फैंसी दुकान में महिलाओं ने पर्व के लिए जमकर खरीददारी की। 

खेखसी 2 सौ रुपए किलो-
कड़ु भात को लेकर आज सब्जी बाजार में करेला और खेखसी की भारी मांग रही। बाजार में खेखसी 200 और करेला 60 रुपए प्रतिकिलो के भाव से बिका। करेला 20 रुपए और खेखसी में 40 रुपए प्रतिकिलो
महंगी हो गई।

शहरी क्षेत्रों में भी नहीं पहुंच पाई बहुएं व बहनें मायके- 
शहरी क्षेत्रों में भी अधिकांश बहुएं व बहनें कोरोना के कारण मायके नहीं जा पाई। ये महिलाएं भी आज पर्व ससुराल में रहकर मनाएंगे। हालांकि शहर में तीजा लाने व ले जाने के लिए मुनादी तो नहीं कराई है, लेकिन बस व ट्रेन नहीं चलने के कारण वें अपने मायकें नहीं पहुंच पा रही है। बस संचालक अपने मांगों को लेकर अड़े हुए है, इसलिए बसों को नहीं चला रहे हैं, वहीं केंद्र सरकार ने भी ट्रेनों के परिचालन को बंद रखा है। जो ट्रेनें चल रही है, उसमें कई नियम है, इसलिए लोग इससे कतरा रहे हैं।
तालाब जाने के लिए रास्ता नहीं खोला तो किसान की डंडे से मारकर की हत्या

तालाब जाने के लिए रास्ता नहीं खोला तो किसान की डंडे से मारकर की हत्या

पिथौरा। थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम मुढ़ीपार में एक किसान की हत्या के आरोप में पुलिस ने गांव के ही एक युवक को गिफ्तार कर जेल भेज दिया है। घटना 18अगस्त शाम पांच बजे की है। आरोपी ने डंडे से मृतक के सिर पर जानलेवा हमला कर दिया था, जिससे उसकी उपचार के दौरान बुधवार रात मौत हो गई।
 
 
थाना से मिली जानकारी अनुसार ग्राम मुढ़पार निवासी टीकाराम चौधरी गांव के मेन रोड पर खड़ा था। पोला त्यौहार के दिन ही गांव का संतराम सागर उर्फ संतु सागर डंडा लेकर उसके पासा आया और उसके सिर पर जानलेवा हमला कर दिया। वहां खड़े ग्रामीणों घटना को देखकर आवाज लगाया तो, आरोपी मौके पर से फरार हो गया। इधर, खून से लथपथ टीकाराम को ग्रामीणों व परिजनों ने उपचार के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया, जहां प्राथमिक उपचार के बाद से रायपुर रेफर कर दिया गया।
 
 
परिजनों ने उसे रायपुर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया, जहां उपचार के दौरान बुधवार रात उसकी मौत हो गई। इधर, मौत की खबर जैसे ही पुलिस को लगी, घेराबंदी कर आरोपी संतु सागर को गिरफ्तार किया। 

रास्ता नहीं खोलने नहीं खोलने की बात पर कर दिया हत्या-
थाना प्रभारी एनके स्वर्णकार ने बताया कि मुढ़ीपार तालाब के पास ही मृतक का खेत है। ये खेत तालाब की मेड़ से लगा है। मवेशियों के आने जाने से फसल को नुकसान हो रहा था। जिसे रोकने के लिए मृतक ने मेड में कांटे लगा कर मार्ग बंद कर दिया था। मार्ग बंद होने से निस्तार भी बंद हो गया था।
 
 
जिसका विरोध मुढ़ीपार के ग्रामीणों ने किया और टीका पास जाकर तालाब का मार्ग खोलने कहा लेकिन टीका ने ग्रामीणों को दूसरी मेड से जाने की सलाह दी। इसके बाद ग्रामीण गुस्से में वापस आ गए। ग्रामीणों की वापसी के बाद आरोपी संत राम सागर टीका के पास पहुंचा और रास्ता खोलने की बात कहने लगा। टीका के मना करने पर संतराम ने अपने पास रखे डंडे से मृतक के सिर पर वार कर दिया। जिससे वह घायल हो गया और उपचार के दौरान उसकी गुरवार को मौत हो गई। 
 जिले में बकरा चोर गिरोह सक्रिय, तीन दिनों के अंदर आधे दर्जन गांव से बकरा चोरी

जिले में बकरा चोर गिरोह सक्रिय, तीन दिनों के अंदर आधे दर्जन गांव से बकरा चोरी

महासमुंद। जिले में इन दिनों बकरा चोर गिरोह सक्रिय है। गिरोह ने पिछले तीन दिनों के भीतर करीब आधा दर्जन से अधिक गांवों से बड़ी तादात में बकरा-बकरी चोरी की है।
 
 
करीब दो दिन पूर्व तुमगांव थाना क्षेत्र से 18 नग बकरों की चोरी के बाद बुधवार को पटेवा थाना क्षेत्र के ग्राम गोंगल के एक मवेशी मालिक के घर से दो और जोरातराई में मवेशी मालिक के गोठान से कुल 4 बकरा और 2 बकरी इस तरह अज्ञात चोरों ने 8 बकरों की चोरी कर ली। घटना की जानकारी मवेशी मालिकों को सुबह हुई। जिसकी सूचना मवेशी मालिकों ने थाने में दी है।
 
 
पटेवा थाना प्रभारी लेखराम ठाकुर ने बताया कि मामले जांच की जा रही है। इधर, हाड़ाबंद में भी बकरा चोरी का मामला सामने आया है। जिसमें एक फार्म हाऊस से करीब 24 नग बकरों की चोरी हुई है।

तुमगांव थाना में पहला मामला-
दो दिन पूर्व तुमगांव थाना क्षेत्र के ग्राम खट्टीडीह निवासी रोहित यादव के गोठान से अज्ञात ने कुल 18 बकरों को चोरी कर ली। घटना की जानकारी होने पर इसकी शिकायत उसने तुमगांव थाने में की जिस पर पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ धारा 457, 380 के तहत जुर्म दर्ज किया है। चोरी हुए बकरों की कीमत 30 हजार रुपए बताई गई है।
 चाकू की नोंक पर लूट की घटना को अंजाम देने वाले तीन युवक गिरफ्तार

चाकू की नोंक पर लूट की घटना को अंजाम देने वाले तीन युवक गिरफ्तार

महामसुंद। सिंघोड़ा थाना क्षेत्र के ग्राम छुहियाद में चाकू की नोक पर परिवाहर को बंधक बनाकर लूट की घटना को अंजाम देने वाले तीन युवकों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। ये तीना युवक सारंगढ़ के रहने वाले हैं। पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से नगदी रकम, लूट में प्रयुक्त हथियार बरामद किया है।
 
 
मामले का खुलासा करते हुए पुलिस अधीक्षक प्रफुल्ल ठाकुर ने बताया कि 13 अगस्त रात तीन अज्ञात लोग सिंघोड़ा थाना क्षेत्र के ग्राम छुहिया निवासी रमेश पटेल के घर में घुसकर नकदी रकम 80000, सोने चांदी के जेवरात, 2 नग मोबाइल लूट कर फरार हो गए थे। इस घटना को अंजाम देने के लिए आरोपियों ने पहले परिवार के तीन सदस्यों को बंधक बनाया था। जिसकी रिपोर्ट रमेश पटेल ने सिंघोड़ा थाने में दर्ज कराई थी।
 
 
सूचना मिलते ही पुलिस द्वारा घटनास्थल पर जाकर निरीक्षण किया गया जहां विवेचना के दौरान चाकू की नोक पर बंधक बनाकर लूट की घटना को अंजाम दिए जाने के बाद सामने आई। इसके बाद आरोपियों की छानबीन शुरू की गई। इसी बीच पूछताछ के दौरान सारंगढ़ क्षेत्र के ग्राम भंवरपुर में दूर के रिश्तेदार सुरेंद्र पटेल द्वारा घटना में शामिल होने की बात निकल कर सामने आई। इसके बाद टीम सारंगढ़ और महासमुंद पुलिस द्वारा संयुक्त रूप से कार्रवाई करते हुए सारंगढ़ निवासी सुरेंद्र पटेल, परमेश्वर यादव और राम बाबू चौहान को गिरफ्तार किया। पूछताछ के बाद आरोपियों ने अपराध स्वीकार करते किया और उसके कब्जे से 23000 नगद, एक सोने की फुल्ली, एक सैमसंग मोबाइल सहित घटना में प्रयुक्त बजाज डिस्कवर वाहन लोहे का कट्टा आदि भी बरामद किया गया है। आरोपियों के खिलाफ भारतीय दंड विधान की धारा 498 394 और 25, 27 आम्र्स एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज किया गया है।
जिले के सरकारी इंग्लिश मीडियम स्कूल में आज से ऑनलाईन पढ़ाई शुरू

जिले के सरकारी इंग्लिश मीडियम स्कूल में आज से ऑनलाईन पढ़ाई शुरू

महासमुंदवैश्विक प्रतिस्पर्धा में राज्य के विद्यार्थी अच्छा मुकाम हासिल कर सके, इसके लिए राज्य के हर जिले में गवर्नमेंट उत्कृष्ट इंग्लिश मीडियम स्कूल की स्थापना की जा रही है। कोरोना संकटकाल में बच्चों की पढ़ाई प्रभावित न हो इसकी सार्थक पहल करते हुए जिला महासमुन्द में खोले गये गवर्नमेंट उत्कृष्ट इंग्लिश मीडियम स्कूल में सोमवार से ऑन लाईन कक्षा शुरू हो गयी है। 

READ : प्यार के झूठे जाल में फंसाकर कर युवती का बनाया अश्लील वीडियो, फिर धमकी देकर ऐंठता रहा पैसे

    ऑनलाईन कक्षा की शुरूआत महासमुंद जिले के इंग्लिश मीडियम स्कूल की प्राचार्या सुश्री अमी रूफस ने कक्षा 10 वीं के विधार्थियों को अंग्रेजी विषय की ऑन लाईन कक्षा लेकर की। प्राचार्या सुश्री रूफस ने बताया कि इस स्कूल में पहली कक्षा से लेकर 11 कक्षा तक कुल पुराने व नये 403 बच्चों ने दाखिला लिया है। इसके वर्तमान संचालन के लिए शिक्षकों की व्यवस्था हो गयी है। पहली से लेकर 11 वीं तक कक्षों के लिए 40-40 सीटें है। इसमें गणित, विज्ञान और कॉमर्स के विषय रखें गए है। उन्होंने बताया कि प्रवेश देते समय शासन से मिले दिशा-निर्देशों का पालन किया गया है। स्कूल में स्टॉफ की तत्कालिक व्यवस्था हो गयी है। 

पढ़ें : राजधानी में आधी रात बदमाशों ने मचाया आतंक, वाहनों में की जमकर तोडफ़ोड़
 जिले के कलेक्टर ने पढ़ाई शुरू होने पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि स्कूल सुचारू रूप से संचालित होने पर बच्चों को अच्छा वातावरण मिलेगा। जिले व शहरवासियों को इंग्लिश मीडियम स्कूल के रूप में एक सौगात मिली है। जिला शिक्षा अधिकारी ने कहा कि जिला मुख्यालय में सरकारी इंग्लिश मीडियम स्कूल शुरू होने से दूरगामी अच्छे परिणाम सामने आयेंगे। स्कूल में लैब, लाइब्रेरी हर तरह की सुविधा है। 

+ Load More