कोरोना अपडेट : 24 घंटे में 41 हजार नए मामले, 541 लोगों की मौत    |    बड़ी खबर : इस BJP सांसद को पुलिस ने किया गिरफ्तार, जाने क्या है मामला...    |    CG कोरोना अपडेट : प्रदेश में आज रायपुर में मिले सर्वाधिक मरीज, 203 मरीजों ने जीती कोरोना से जंग, देखें जिलेवार आंकड़े    |    आईसीएमआर अपडेट : आज शाम तक मिले इतने कोरोना पॉजिटिव, देखे जिलेवार आकड़े    |    बड़ी खबर : जेल में बैरक की दीवार ढही, 22 कैदी गंभीर रूप से घायल    |    CG कोरोना अपडेट : प्रदेश में आज एक्टिव मरीजो की संख्या हुई 2 हजार से कम, 243 मरीजों ने जीती कोरोना से जंग, देखें जिलेवार आंकड़े    |    बड़ी खबर: पान मसाला कंपनी पर आयकर का शिकंजा, 400 करोड़ रुपए के काले कारोबार का हुआ खुलासा    |    आईसीएमआर अपडेट : आज शाम तक मिले इतने कोरोना पॉजिटिव, आकडों में आज रायपुर से मिले सर्वाधिक    |    जज की संदिग्ध मौत पर सुप्रीम कोर्ट ने लिया संज्ञान, सरकार से एक हफ्ते में मांगा जवाब    |    CG कोरोना अपडेट : प्रदेश में आज मिले सिर्फ इतने ही मरीज, 270 मरीजों ने जीती कोरोना से जंग, नही हुई किसी की मृत्यु, देखें जिलेवार आंकड़े    |
 पत्नी की हत्या कर आत्मसमर्पण करने थाने पहुंचा पति, गांव में फैली सनसनी

पत्नी की हत्या कर आत्मसमर्पण करने थाने पहुंचा पति, गांव में फैली सनसनी

बेमेतरा। बेमेतरा जिले के चंदनू थानांतर्गत ग्राम बुचीपुर में एक युवक ने आपसी विवाद पर अपनी पत्नी की धारदार हथियार से मारकर हत्या कर दी। हत्या के बाद आरोपी थाने पहुंचकर घटना की जानकारी देते हुए आत्मसमर्पण किया। इस घटना से गांव में सनसनी फैली हुई है। 

मिली जानकारी के अनुसार आरोपी रामचरण साहू का कुछ माह पूर्व ही  विवाह हुआ था। बताया जा रहा है कि विवाह के बाद से आरोपी का अपनी पत्नी से अक्सर विवाद हुआ करता था। विवाद का कारण आरोपी द्वारा पत्नी के चरित्र पर संदेह करना बताया जा रह है। आज सुबह भी दोनों के बीच विवाद हुआ। लेकिन इस बार आरोपी आवेष में आकर धारदार हथियार से पत्नी पर हमला कर उसकी हत्या कर दी। हत्या के बाद आरोपी खुद थाने भी पहुंचा और घटना की जानकारी देते हुए आत्मसमर्पण कर दिया। 
विधायक के खिलाफ सोशल मीडिया में पोस्ट करने पर असम राइफल्स के जवान को पुलिस ने किया गिरफ्तार

विधायक के खिलाफ सोशल मीडिया में पोस्ट करने पर असम राइफल्स के जवान को पुलिस ने किया गिरफ्तार

बेमेतरा जिले में पुलिस ने असम राइफल्स के एक जवान को गिरफ्तार किया है। जवान पर आरोप है कि वो लगातार स्थानीय कांग्रेस विधायक आशीष छाबड़ा और पुलिस प्रशासन के खिलाफ सोशल मीडिया में लाइव आकर और पोस्ट कर अभद्र टिप्पणी करता था। जिसकी शिकायत लंबे समय से पुलिस को मिल रही थी।
जिसके बाद कोतवाली पुलिस ने शनिवार को आरोपी जवान को गिरफ्तार कर लिया है। लेकिन पुलिस जैसे ही गिरफ्तार जवान को कोर्ट से लेकर जेल जाने लगी, वैसे ही गुस्साए कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने जमकर बवाल किया है। इतना ही नहीं कांग्रेस कार्यकर्ता तो जवान को मारने तक दौड़ गए और पुलिस के साथ ही झूमाझटकी करने लगे।
3 लोगों ने दर्ज कराया था मामला
जानकारी के मुताबिक जवान सुरेंद्र सिंह चौहान लंबे समय से फेसुबक और अन्य सोशल मीडिया के माध्यम से कांग्रेस विधायक, पुलिस और आम लोगों पर अभद्र टिप्पणी करता था। जिसके चलते कोतवाली थाना मे 3 लोगों ने जवान के खिलाफ केस दर्ज कराया था। सुरेंद्र सिंह इन दिनों असम में पदस्थ और छुट्‌टी पर अपने घर बेमेतरा आया हुआ था।
पुलिस के सामने मारने का प्रयास
पुलिस की गाड़ी को ही रोक-रोककर जवान को मारने का प्रयास करगे लगे। इस दौरान कांग्रेस कार्यकर्ता जमकर हंगामा करते रहे। हालांकि पुलिस किसी तरह से वहां से निकल गई। लेकिन माहौल को शांत कराने के लिए पुलिस को काफी मशक्कत करने पड़ी, तब जाकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं को शांत किया जा सका।
हवालात में भी बनाया वीडियो
इधर, कांग्रेसी कार्यकर्ता जवान पर टिप्पणी और बवाल कर रहे थे। उधर जवान ने पुलिस हिरासत में ही एक वीडियो बनाकर वायरल किया है। जिसमें वह कह रहा है कांग्रेस विधायक आशीष छाबड़ा के समर्थक मुझे गाली दे रहे हैं और मुझे मारना चाहते हैं। मामले को लेकर बेमेतरा एसडीओपी राजीव शर्मा ने बताया कि जवान के खिलाफ पूर्व से मामला दर्ज किया गया था। जिसके बाद उस गिरफ्तार कर शनिवार को जेल दाखिल कर दिया गया है।

 

नए एस.पी. कुजूर ने किया कार्यभार ग्रहण

नए एस.पी. कुजूर ने किया कार्यभार ग्रहण

बेमेतरा: बेमेतरा जिले में नए पुलिस अधीक्षक के रूप में अरविन्द कुमार कुजूर ने आज शनिवार को अपना कार्यभार ग्रहण किया। इसके उपरांत उन्होने पुलिस अधीक्षक कार्यालय के स्टॉफ से परिचय प्राप्त किया। भारतीय पुलिस सेवा वर्ष 2010 बैच के अधिकारी कुजूर इसके पहले मुंगेली में पुलिस अधीक्षक के रूप में कार्य कर चुके है।

अब छतीसगढ़ के इस जिले में भी रविवार को सभी दुकानें रात्रि 8:00 बजे तक खुलेंगीं

अब छतीसगढ़ के इस जिले में भी रविवार को सभी दुकानें रात्रि 8:00 बजे तक खुलेंगीं

बेमेतरा: कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी भोसकर विलास संदीपान ने आज एक आदेश जारी कर कंडिका 01 मे प्रतिबंधित गतिविधियों को छोड़कर अन्य सभी प्रकार की स्थाई एवं अस्थाई दुकानें, शाॅपिंग, व्यवसायिक प्रतिष्ठान, सुपर मार्केट/सुपर बाजार, फल एवं सब्जी मंडी/बाजार, अनाज मंडी, शो-रूम, क्लब, मदिरा दुकाने (आबकारी भाग द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुरुप), ठेला, सेलून, ब्यूटी पार्लर, स्पा, पार्क, सिनेमा/मल्टीप्लेक्स/छबिगृह, स्विमिंग पुल, व जिम इत्यादि रविवार सहित सभी दिवस कोविड-19 एप्रोप्रिएट बिहेवियर का पालन सुनिश्चित करते हुए उनके प्रचलित समय से शाम 8ः00 बजे तक खोले जा सकेंगे।

जिले मे आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 30, 34 सहपठित एपिडेमिक डिसीजेज एक्ट 1897 यथासंशोधित 2020 द्वारा प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए बेमेतरा जिले में आमजनता के आवागमन एवं अन्य सार्वजनिक गतिविधियों पर आगामी आदेश पर्यंत युक्तियुक्त प्रतिबंध अधिरोपित किए गए हैं। कोविड-19 संक्रमण की स्थिति में क्रमशः सुधार होने से उपरोक्त आदेश में आंशिक संशोधन करते हुए पूर्ववती कंडिका 02, 04, 26, 27 को विलोपित करते हुए नवीन कंडिका 02, 26 अन्तः स्थापित की जाती है।

कंडिका 26 मे प्रतिदिन शाम 8:00 बजे से प्रातः 6:00 बजे तक रात्रिकालीन लॉकडाउन रहेगा, जिसके दौरान होटल/रेस्टोरेंट से होम डिलीवरी तथा थोक माल/वेयरहाउस/कार्गो/फल/सब्जी की लोडिंग/अनलोडिंग की अनुमति निर्धारित समयावधि में रहेगी। मेडिकल इमरजेंसी को छोड़कर अन्य समस्त सार्वजनिक गतिविधियों पर प्रतिबंध रहेगा। इस आदेश का उल्लंघन करने वाले व्यक्ति/प्रतिष्ठानों पर भारतीय दंड संहिता 1860 की धारा 188, आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 51-60 तथा अन्य सुसंगत विधि अनुसार कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

 व्यापारी के पुत्र की हत्या करने वाले आरोपी नौकर सहित तीन गिरफ्तार

व्यापारी के पुत्र की हत्या करने वाले आरोपी नौकर सहित तीन गिरफ्तार

बेमेतरा। साजा थाना क्षेत्र के ग्राम माटरा में आरोपी नौकर ने अपने दो साथियों के साथ मिलकर एक व्यापारी के पुत्र की हत्या कर दी। मामले में पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड पर जेल भेज दिया है।  मृतक यामेश वर्मा 25 वर्ष निवासी माटरा है। बताया जाता है कि आरोपी कुलेश्वर पटेल और चांद उर्फ छत्रपाल वर्मा मृतक के पास काम करते थे। जिससे यामेश ने उन दोनों का मजूदरी का पैसा पिछले एक वर्ष से नहीं दिया था। इस बात पर यामेश और आरोपियों के बीच कहासुनी भी होती थी। वहीं 15 दिन पहले मृतक ने आरोपियों के साथ हाथापाई भी किया था।
 
इस बात से नाराज आरोपियों ने अपने दोस्त ग्राम कसही निवासी जितेन्द्र पटेल को बुलाया और यामेश की हत्या करने की साजिश रची। जिसके बाद आरोपियों ने किसी बहाने मृतक यामेश को बारगांव बेरला के एक सूनसान स्थान पर बुलाया और गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी। हत्या करने के बाद आरोपियों ने लाश को स्कूल के सेप्टिक टैंक में फेंक दी। आरोपियों ने हत्या करने के बाद मृतक के मोबाइल को लेकर बारगांव, धमधा फिर पाटन और धमधा के शिवनाथ नदी के पास घुमते रहे। पुलिस ने शक के आधार पर सभी नौकरों के कॉल डिटेल निकाले। जिससे आरोपी कुलेश्वर और छत्रपाल का मोबाइल लोकेशन बारगांव, धमधा, पाटन और शिवनाथ नदी के पास एक्टिव होना पाया गया। जिससे पुलिस ने आरोपियों को हिरासत में लेकर पूछताछ किया। तो आरोपियों ने अपना गुनाह कबूल किया है। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ धारा 364,302,120बी, 34 के तहत अपराध दर्ज कर जेल भेज दिया है।
कोविड महामारी से मुखिया की मृत्यु होने पर ‘आशा व ‘स्माइल‘ योजना के तहत दिया जाएगा ऋण

कोविड महामारी से मुखिया की मृत्यु होने पर ‘आशा व ‘स्माइल‘ योजना के तहत दिया जाएगा ऋण

बेमेतरा । अनुसूचित जाति एवं पिछड़ा वर्ग के ऐसे परिवार जिनके मुखिया की मृत्यु कोरोना महामारी से हो गई हो। उनको आर्थिक सहायता प्रदान करने राष्ट्रीय अनुसूचित जाति वित्त विकास निगम एवं राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग वित्त विकास निगम से आशा‘ और ‘स्माइल‘ नाम से योजना प्रारम्भ की है। जिसके तहत पात्र हितग्राहियों का चयन किया जाएगा।
मुख्य कार्यपालन अधिकारी प्रवीण लाटा ने बताया कि उक्त योजनाओं का लाभ ऐसे परिवार को मिलेगा जिनके कमाऊ मुखिया की मृत्यु कोविड-19 के संक्रमण के कारण हुई हो। इसके तहत परियोजना लागत के 20 प्रतिशत तक क्रेडिट लिंक्ड कैपिटल सब्सिडी जो प्रति लाभार्थी अधिकतम पांच लाख रूपए प्रति यूनिट तक है। उनके साथ किसी भी आवश्यकता आधारित स्वरोजगार उपक्रम के लिए मृतक के पात्र निकटतम रिश्तेदार को उसके परिवार का समर्थन करने के लिए दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि इसके लिए पात्रता का निर्धारण किया कि जिसके तहत आवेदक को अनुसूचित जाति व अन्य पिछड़ा वर्ग से होना चाहिए। उसकी वार्षिक पारिवारिक आय तीन लाख रूपए तक होनी चाहिए। यह भी आवश्यक है कि जिस व्यक्ति की कोविड-19 से मृत्यु हुई, वह परिवार का कमाने वाला व्यक्ति था। मृतक की आयु 18 से 60 वर्ष के बीच होनी चाहिए। जिसकी आय कुल घरेलू आय में सबसे अधिक अनुपात में योगदान करती है। अंत्यावसायी सीईओ प्रवीण लाटा ने यह भी बताया कि कोविड से मृत्यु के प्रमाण के तौर पर स्वीकार्य दस्तावेज रजिस्ट्रार जन्म और मृत्यु या स्थानीय नगर निकाय से जारी मृत्यु प्रमाण पत्र या श्मशान भूमि, कब्रिस्तान में स्थानीय प्राधिकरण से जारी की गई रसीद या मृत्यु ग्राम क्षेत्र में हुई हो तो गांव के प्रखण्ड विस्तार अधिकारी का पत्र भी स्वीकार किया जा सकता है।
इसके तहत परियोजना की प्रति इकाई लागत पांच लाख रूपए और अनुदान राशि 20 प्रतिशत या अधिकतम एक लाख रूपए तक जो भी कम हो, प्रावधानित किया गया है। आवेदक मृतक का निकट रिश्तेदार होना चाहिए। जो परिवार का पालन पोषण करेंगा। इसके लिए मृतक परिवार के सदस्य जो ऋण लेने के इच्छुक हैं। वे कलेक्टर कार्यालय परिसर में स्थित जिला अंत्यावसायी सहकारी विकास समिति कक्ष क्रमांक-82 में 25 जून तक सम्पर्क कर नाम दर्ज करा सकते हैं और विस्तृत जानकारी ले सकते हैं।
 

राजीव गांधी किसान न्याय योजना के अंतर्गत किसानो को मिलेंगे ये लाभ जानिए

राजीव गांधी किसान न्याय योजना के अंतर्गत किसानो को मिलेंगे ये लाभ जानिए

बेमेतराधान के अलावा खरीफ की प्रमुख फसल मक्का, सोयाबीन, अरहर तथा गन्ना उत्पादन कृषकों को प्रति वर्ष प्रति एकड़ 9 हजार रूपये आदान सहायता राशि दी जाएगी। इस के इच्छुक कृषकगण क्षेत्रीय ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी से सत्यापन उपरांत संबंधित सेवा सहकारी समिति में 30 सितम्बर तक राजीव गांधी किसान न्याय योजना के पोर्टल https://rgkny.cg.nic.in में पंजीयन करा सकते है। इसी प्रकार वर्ष 2020-21 में जिस रकबे से किसान ने न्यूनतम समर्थन मूल्य पर धान विक्रय किया था, यदि वह धान के बदले कोदो-कुटकी, गन्ना, अरहर, मक्का, सोयाबीन, दलहन, तिलहन, सुगंधित धान, अन्य फोर्टिफाइड धान, केला, पपीता लगाता है अथवा वृक्षारोपण करता है, तो उसे प्रति एकड़ 10 हजार रूपये आदान सहायता राशि दी जाएगी। वृक्षारोपण करने वाले कृषकों को तीन वर्षों तक आदान सहायता राशि दी जाएगी। समस्त श्रेणी के भू-स्वामी एवं वन पट्टाधारी कृषक योजना का लाभ प्राप्त करने हेतु पात्र होगें। संस्थागत भू-धारक कृषक एवं रेगहा, बटाईदार कृषक योजना अंतर्गत पात्र नही होंगे। इस संबंध में उपसंचालक कृषि बेमेतरा ने मैदानी अमले को व्यापक प्रचार-प्रसार करते हुए शत-प्रतिशत कृषकों का पंजीयन सुनिश्चित करने के निर्देश जारी किये गये है। कृषकों के पंजीकृत, वास्तविक बोये गये रकबे के आधार पर निर्धारित राशि प्रति एकड़ की दर से अनुपातिक रूप से उनके बैंक खाते में प्रत्यक्ष लाभ हस्तानांतरण (डीबीटी) के माध्यम से सहायता राशि अंतरित की जाएगी।

नसबंदी ऑपरेशन के दौरान गलत नस कटने से महिला की हुई मौत, तीन के खिलाफ FIR

नसबंदी ऑपरेशन के दौरान गलत नस कटने से महिला की हुई मौत, तीन के खिलाफ FIR

बेमेतरा। छत्तीसगढ़ के बेमेतरा के एक निजी अस्पताल में नसबंदी सर्जरी के दौरान आंत कटने से महिला की मौत का मामला सामने आया है। इस मामले में सिटी कोतवाली पुलिस ने तीन डॉक्टरों पर गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज किया है, जिसमें एक महिला डॉक्टर भी शामिल है। मामला बीते वर्ष 24 फरवरी 2020 का है, जहां नवागढ़ विकासखंड के ग्राम गनियारी की रहने वाली महिला सुनीता साहू नसबंदी के लिए बेमेतरा हेल्थ केयर में गई थी। आरोप है कि नसबंदी करने के दौरान डॉक्टर ने लापरवाही पूर्वक उसकी आंत में छेद कर दी, जिसकी उसकी हालत बिगड़ती गई। इसके बाद उन्हें रायपुर रिफर कर दिया गया, जहां उसकी मौत हो गई। मामले की शिकायत मृतक महिला के पति के द्वारा जिला प्रशासन से की गई, जिसके बाद से एसडीएम बेमेतरा और स्वास्थ्य विभाग की टीम जांच करने बेमेतरा हेल्थ केयर पहुंचे थे। जांच के दौरान पता चला जिस हेल्थ केयर में नसबंदी का ऑपरेशन हुआ क्या वहां किसी प्रकार के ऑपरेशन करने की अनुमति ही नहीं है। संचालक के द्वारा जनरल प्रैक्टिस के नाम पर अस्पताल संचालित कर उसमें ऑपरेशन की सुविधा रख दी गई। जांच टीम ने 5 मार्च 2020 को बेमेतरा हेल्थ केयर की लेबर रूम व ऑपरेशन रूम को सील कर दिया था। वहीं मामले में महिला के पति खुमान साहू ने लापरवाही पूर्वक इलाज को लेकर पुलिस में भी शिकायत दर्ज कराया था, जिसमें 1 साल से अधिक समय बीत जाने के बाद नसबंदी ऑपरेशन करने वाले सिमगा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बीएमओ डॉ. चंदन, डॉ. तोरण ताम्रकार और अस्पताल संचालिका नेहा वर्मा के ऊपर एफआईआर दर्ज कर ली है। 

नसबंदी के दौरान महिला की मौत के मामले 3 डॉक्टर्स के खिलाफ FIR , जानिए क्या था पूरा मामला

नसबंदी के दौरान महिला की मौत के मामले 3 डॉक्टर्स के खिलाफ FIR , जानिए क्या था पूरा मामला

छतीसगढ़: बेमेतरा जिले में नसबंदी के दौरान महिला की मौत हो गई थी इस मामले में 3 डॉक्टरों पर केस दर्ज किया गया है। फरवरी 2020 में नसबंदी के दौरान नस कटने से महिला की मौत हो गई थी। अब हेल्थ केयर हॉस्पिटल के डॉक्टरों पर केस दर्ज किया गया है। डॉक्टर्स के खिलाफ गैर इरादतन हत्या की धारा के तहत मामला दर्ज किया गया है। 

ये है पूरा मामला

 

बेमेतरा मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डा. सतीश शर्मा द्वारा भी जांच के बाद अपनी रिपोर्ट में यह बात कही गई थी कि उक्त निजी चिकित्सालय में नसबंदी ऑपरेशन किए जाने के लिए अधिकृत नहीं है, उसके बाद भी वहां के डाक्टरों द्वारा महिला की नसबंदी ऑपरेशन किया गया और लापरवाही के चलते महिला की अंतड़ी में गहरे जख्म हो गए, जिसकी वजह से ही अत्यधिक रक्तस्राव होने के चलते महिला की स्थिति गंभीर हुई और महिला की मौत हो गई। हालांकि कोतवाली बेमेतरा में मामला तो दर्ज किया गया है, लेकिन फिलहाल किसी तरह की कार्रवाई अभी हो नहीं पाई है, जल्द ही चिकित्सकों की गिरफ्तारी की बात भी कोतवाली प्रभारी बेमेतरा द्वारा कही गई है।

प्रमिला साहू पति खुमान साहू (25) ग्राम गनियारी की रहने वाली थी उक्त महिला का नसबंदी ऑपरेशन 18 फरवरी 2020 को हेल्थ केयर चिकित्सालय में किया गया था। इसके बाद 19 फरवरी को महिला की स्थिति बिगड़ने पर डाक्टरों ने स्वजनों को सलाह दी कि उन्हें उचित उपचार के लिए दूसरा चिकित्सालय ले जाना अच्छा होगा|

डॉक्टर की सलाह पर स्वजनों द्वारा महिला को नारायणा हास्पिटल रायपुर में भर्ती कराया गया, किंतु महिला की स्थिति गंभीर होने की वजह से 29 फरवरी 2020 को उसकी मौत हो गई। इसके बाद महिला के स्वजनों ने बेमेतरा के उक्त चिकित्सकों के ऊपर उपचार में लापरवाही बरतने का आरोप लगाकर अपनी शिकायत दर्ज कराई गई थी। शिकायत के आधार पर तथा महिला की मौत के बाद पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट सहित फॉरेंसिक रिपोर्ट मिलने के बाद उक्त तीनों चिकित्सकों के खिलाफ धारा 304 ए और 34 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

मुख्यमंत्री बघेल इस जिलावासियों को देंगे 172 करोड़ के विकास कार्यों की सौगात

मुख्यमंत्री बघेल इस जिलावासियों को देंगे 172 करोड़ के विकास कार्यों की सौगात

 बेमेतरा। प्रदेश के मुख्यमंत्री शनिवार 12 जनू को दोपहर 12 बजे अपने राजधानी स्थित निवास कार्यालय मे आयोजित वर्चुअल कर्यक्रम के माध्यम से बेमेतरा जिले में 172 करोड़ 65 लाख रूपए लागत के 172 कार्यों का लोकार्पण और भूमिपूजन मुख्य अतिथि के रुप मे विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से करेंगे। इन कार्यो में 145 करोड़ 91 लाख रूपए के लागत से 134 विकास कार्यों का भूमिपूजन और 26 करोड़ 74 लाख रूपए के 38 कार्यों का लोकार्पण शामिल है। जिला पंचायत बेमेतरा के सभाकक्ष मे लोकार्पण और भूमिपूजन कार्यों का कार्यक्रम आयोजित होगा। कार्यक्रम की अध्यक्षता महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेड़िया करेंगी। विशिष्ट अतिथि के रुप मे प्रदेश के कृषि पशुपालन और जलसंसाधन मंत्री रविन्द्र चौबे , संसदीय सचिव गुरुदयाल सिंह बन्जारे, विधायक बेमेतरा आशीष कुमार छाबड़ा शामिल होंगे।

तीसरी लहर की आशंकाओं के बीच लापरवाही पड़ेगी भारी : कलेक्टर

तीसरी लहर की आशंकाओं के बीच लापरवाही पड़ेगी भारी : कलेक्टर

बेमेतरा। लॉकडाउन में थोड़ी छूट से बाजारों और बैंकों में उमड़ी भीड़ से प्रशासन चिंतित है। इस पर कलेक्टर ने अप्रसन्नत जाहिर करते हुए सभी जिला वासियों से आग्रह किया कि आप सभी कोविड के गाइडलाइन का अनिवार्य रूप से पालन करें नही तो और भी भयावह स्थिति निर्मित होंगी। कलेक्टर शिव अनंत तायल ने दो टूक कहा अगर ऐसी ही स्थिती बनी रहीं और हम अपनें स्वभाव में परिवर्तन ना करें तो तीसरी लहर आने में जरा भी देर नही लगेगीं।जैसा कि चिकित्सा विशेषज्ञों ने तीसरी लहर की आशंका जाहिर की है इन आशंकाओं के बीच में इस तरह लापरवाही निश्चित ही हम सब पर भारी पड़ेगी और इसका खमियाजा पूरे समाज को ही भुगतना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि हाल के दिनों में देखा गया है कि लोग अनावश्यक रूप से बाजारों में भीड़ कर रहें है। सोशल डिस्टनेसिंग का पालन नही कर रहे है। जिससे ना केवल कोविड गाइडलाइन का उल्लंघन बल्कि हम संक्रमण को बढ़ाने में मदद कर रहें हैं। संक्रमण के विस्तार को रोकना केवल प्रशासन की जिम्मेदारी नही है बल्कि प्रत्येक व्यक्ति का भी यह कर्तव्य है कि अपनें एवं पूरे समाज के लिए इन नियमों का पालन करें। आप सब के सहयोग और लगभग महीनें भर से ऊपर लॉक डाउन से जिलें में संक्रमण की दर में बड़ी मुश्किल से कमी आई है। जिसे यथासंभव हमें बनाए रखना है। इसके लिए आप सब का सहयोग अति आवश्यक है। आज की स्थिति में जो संक्रमण दर अप्रैल माह में लगभग 46 प्रतिशत था अब वह घटकर महज 4 प्रतिशत रह गया है। इसका यह मतलब नही है कि अब कोरोना नही होगा। अगर हमारे बीच कोई एक भी संक्रमित व्यक्ति रहेगा तो उसे एक से 100 बनने में देर नही लगती है। इसके लिए हमें कोविड गाइडलाइन के पालन के साथ ही कोविड एप्रोप्रिएट बिहेवियर नियमों का अनिवार्य रूप से पालन करना होगा। जिसमें सोशल डिस्टेंसिंग,मास्क की अनिवार्यता और साबुन से हाथ धोना,सेनेटाइजर का सतत उपयोग शामिल है। सभी व्यपारियों बंधुओं से भी आग्रह हैं कि आप अपनें दुकानों में भी अनिवार्य रूप से इन नियमों का पालन करें और ग्राहकों को भी प्रेरित करें।

अब ले सकेंगे चाट -गुपचुप का स्वाद, खुलेंगे सेलून, ब्यूटी पार्लर देखें आदेश की कॉपी

अब ले सकेंगे चाट -गुपचुप का स्वाद, खुलेंगे सेलून, ब्यूटी पार्लर देखें आदेश की कॉपी

बेमेतरा    बेमेतरा जिले में 31 मई तक लॉकडाउन लगाया गया था. इस आदेश को कलेक्टर निरस्त कर दिया है. जारी आदेश के अनुसार जिले में सभी प्रकार की स्थायी और अस्थायी दुकानें, शॉपिंग मॉल, डिपार्टमेंटल स्टोर्स, व्यवसायिक प्रतिष्ठान, दुग्ध वितरण, सेलून, ब्यूटी पार्लर सुबह 6 बजे से शाम 6 बजे तक खोले जाएंगे. नगर पालिका, नगर पंचायत क्षेत्र रेस्टोरेंट, होटल, ढाबा में टेक-अवे और होम डिलीवरी सुबह 6 बजे से शाम 6 बजे तक की जा सकेगी, नगर पालिका, नगर पंचायत क्षेत्र से बाहर (ग्रामीण अंचल/राष्ट्रीय राजमार्ग में) रेस्टोरेंट, होटल, ढाबा में टेक-अवे और होम डिलीवरी सुबह 6 बजे से रात 8 बजे तक की जा सकेगी, शहरी, ग्रामीण क्षेत्रों के सभी प्रकार के साप्ताहिक बाजार आगामी आदेश बंद रहेंगे, समाचार पत्रों का वितरण सुबह 6 बजे से सुबह 8 बजे तक और शाम को समाचार पत्रों का वितरण 5 बजे से 6:30 बजे तक किया जा सकेगा, सभी पान, सिगरेट, ठेला, चौपाटी, चाट, समोसा, गुपचुप, गन्ना रस, फास्ट-फूड इत्यादि के विक्रय के लिए ठेलों का संचालन सुबह 6 बजे से शाम 6 बजे तक किया जा सकेगा. कोरोना नियमों का पालन करना अनिवार्य होगा. ठेला के संचालन स्थल पर डस्टबीन रखा जाना अनिवार्य होगा. किसी प्रकार के खाद्य सामाग्री स्थल पर न फैलाया जाये और न ही किसी प्रकार की अस्वच्छता हो इसका पूर्ण ध्यान रखा जाना आवश्यक होगा, जिले की समस्त प्रकार के देशी और विदेशी मदिरा दुकानों का संचालन शाम 6 बजे तक होगा. इस संबंध में पूर्व में जारी निर्देश यथावत रहेंगे. सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना अनिवार्य होगा, सिनेमा, मल्टीप्लेक्स, छबिगृह, सभी जिम, स्विमिंग पूल आगामी आदेश पर्यंत बंद रहेंगे. 

 

रायपुर से समाचार पत्र लेकर कबीरधाम जा रही गाड़ी में लगी आग

रायपुर से समाचार पत्र लेकर कबीरधाम जा रही गाड़ी में लगी आग

बेमेतरा। राजधानी रायपुर से कबीरधाम के लिए समाचार पत्र लेकर निकले वाहन छोटा हाथी में बेमेतरा के प्रताप चौक में आग लग गई। आग इतनी तेज थी कि समाचार पत्रों के साथ गाड़ी भी जलकर ख़ाक हो गई।


जानकारी के अनुसार ड्राइवर प्रमोद वर्मा के साथ रोज की तरह अखबार लेकर रायपुर से निकला था। सुबह लगभग साढ़े तीन बजे प्रताप बेमेतरा पहुंचा। समाचार पत्र अनलोड करने के बाद ड्राइवर ने प्रताप चौक पहुँचकर देखा तो वाहन पूरी तरह से आग की लपटों से घिरा हुआ था।


फायर ब्रिगेड को वाहन घण्टे भर बाद पहुंची तब तक वाहन व न्यूज पेपर जलकर राख हो गया था। वाहन मालिक ने बेमेतरा सिटी कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज कराई है। वाहन में बेमेतरा नवागढ़ कबीरधाम सहित आसपास के क्षेत्र के लिए समाचरत पत्र थे। वाहन में आग लगने के कारण का पता किया जा रहा है। ऐसी आशंका जताई जा रही हैं कि वाहन में लगे बैटरी में शार्ट सर्किट की वजह से आग लगी होगी।

बेमेतरा जिले में इस तारीख तक बढ़ा लॉकडाउन , जाने क्या क्या खुले रहेंगे

बेमेतरा जिले में इस तारीख तक बढ़ा लॉकडाउन , जाने क्या क्या खुले रहेंगे

बेमेतरा। कलेक्टर व जिला दंडाधकारी शिव अनंत तायल ने एक आदेश जारी कर कोविड-19 पॉजिटिव प्रकरणों की संख्या में लगातार वृद्धि होने के कारण उत्पन्न परिस्थितियों के अनुक्रम में बेमेतरा जिला अंतर्गत सम्पूर्ण क्षेत्र को 31 मई 2021 सुबह 6.00 बजे तक कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है।
बेमेतरा जिले में व्यवसायिक गतिविधियों पर अधिरोपित प्रतिबंधों एवं सम्पूर्ण जिले को कंटेनमेंट जोन घोषित करने से कोविड-19 पॉजिटिव प्रकरणों की संख्या में उल्लेखनीय गिरावट दर्ज की गई है, किन्तु भीड़-भाड़ में वृद्धि होने पर कोविड-19 संक्रमण बढऩे की आशंका अभी भी विद्यमान है। आम जनता के लिए आवश्यक वस्तुओं एवं सेवाओं की आपूर्ति सुनिश्चित करने के साथ-साथ श्रमिकों, निम्न आय वर्ग एवं छोटे-बड़े व्यवसायीगण के हितों की सुरक्षा के लिए निर्बंधनों में समुचित रियायत दिया जाना भी जरूरी है। उपरोक्त परिस्थितियों में समुचित विचारोपरांत कोरोना वायरस की चेन को तोडऩे तथा सभी वर्गों के हितों की सुरक्षा के लिए युक्तियुक्त पुनरीक्षिण निर्बंधन अधिरोपित करते हुये सम्पूर्ण बेमेतरा जिले में कंटेनमेंट जोन की अवधि बढ़ाया जाना व्यापक लोकहित में आवश्यक प्रतीत होता है।
अत: दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 144, आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 30, 34 सहपठित ऐपिडेमिक एक्ट 1987 यथासंशोधित 2020 द्वारा प्रदत्त शक्तियों के अधीन मैं, शिव अनंत तायल, कलेक्टर व जिला दंडाधिकारी, जिला बेमेतरा निम्नलिखित आदेश प्रसारित करता हूं:-
बेमेतरा जिला अंतर्गत सम्पूर्ण क्षेत्र 17 मई 2021 सुबह 6:00 से 31 मई 2021 के सुबह 6:00 बजे तक पूर्ववत कंटेनमेंट जोन रहेगा। उपरोक्त दर्शित अवधि में बेमेतरा जिले की सभी सीमायें पूर्णत: सील रहेंगी।

उपरोक्त समयावधि में निम्नलिखित गतिविधियॉ पूर्णत: प्रतिबंधित रहेंगी:-

सभी व्यवसायों का संचालन सुबह 6:00 बजे से दोपहर 2:00 बजे तक होगा।
जिला अंतर्गत संचालित समस्त शराब दुकानें और बार बंद रहेंगे, किन्तु ऑनलाईन एप्लीकेशन के माध्यम से होम डिलीवरी की अनुमति रहेगी।
सभी पार्क, रिसॉर्ट तथा समूह उपस्थिति वाले सभी धार्मिक स्थल, सांस्कृतिक एवं पर्यटन स्थल आम जनता के लिए पूर्णत: प्रतिबंधित रहेंगे।
बेमेतरा जिला अंतर्गत सभी कार्यालय विशिष्ट आदेश को छोड़कर सामान्यत: आम जनता के लिए बंद रहेंगे, शासकीय कार्यालयों में अधिकारियों/कर्मचारियों की पूर्ण उपस्थिति रहेगी। कार्यालयीन और आम जनता विषयक अति-आवश्यक प्रयोजन के लिए सभी कार्यालय खोले जायेंगे। इस अवधि में शासकीय कार्यालयों में आम जनता का प्रवेश निषेध रहेगा। उप पंजीयक कार्यालय आवश्यक स्टॉफ सहित पूर्ववत टोकन/ऑनलाईन सिस्टम के साथ संचालित होंगे। टेलीकॉम, रख-रखाव से जुड़े कार्यालय/वर्कशॉप, लोडिंग-अनलोडिंग का कार्य, खाद्य सामग्री के थोक परिवहन, धान मिलिंग हेतु परिवहन की अनुमति पूर्ववत रहेगी। स्कूल व कॉलेज विद्यार्थियों के लिए बंद रहेंगे। छात्रावास में केवल परीक्षा देने वाले विद्यार्थियों को निवास की अनुमति होगी। शासन से अनुमति प्राप्त समस्त परीक्षाओं को छोड़कर कोचिंग क्लासेंस सहित अन्य समस्त शैक्षणिक गतिविधियॉ बंद रहेंगी।
सभी प्रकार के सभा, जुलूस, धरना प्रदर्शन, सामाजिक, धार्मिक और राजनैतिक आयोजन इत्यादि पूर्णत: प्रतिबंधित रहेंगे, किन्तु विवाह कार्यक्रम वर अथवा वधू के निवास-गृह में ही आयोजित करने तथा कोविड-19 प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन की शर्त के अधीन आयोजित में शामिल होने वाले व्यक्तियों की अधिकतम संख्या पूर्ववत 10 रहेगी। इसी प्रकार अंत्येष्टि, दशगात्र, मृत्यु इत्यादि संबंधी कार्यक्रम में शामिल होने वाले व्यक्तियों की अधिकतम संख्या 10 रहेगी। सभी प्रकार की थोक मंडियॉ और थोक सब्जी बाजार आम जनता के लिए बंद रहेंगे, किन्तु आवश्यक वस्तुओं/माल की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए गोडाउन/मंडियों में थोक माल/कार्गो/फल/सब्जी लोडिंग-अनलोडिंग की अनुमति रात 10 बजे से सुबह 6:00 बजे तक रहेगी। आम उपभोक्ताओं को पूर्ववत स्ट्रीट वेंडर के माध्यम से फल/सब्जियॉ प्रत्येक दिवस सुबह 6:00 बजे से दोपहर 2:00 बजे तक उपलब्ध रहेंगी।
सभी पान/सिगरेट, ठेला तथा चौपाटी, चाट, समोसा, गुपचुप, गन्ना रस, फास्ट-फूड इत्यादि के विक्रय के लिए ठेलों का संचालन पूर्णत: प्रतिबंधित रहेगा। होटलों व रेस्टोरेंट्स से केवल स्विगी, जोमेटो इत्यादि ऑनलाईन एप्लीकेशन के माध्यम से होम डिलीवरी/टेक-अवे की अनुमति रहेगी, किन्तु ग्राहकों के लिए इन-हाउस डाइनिंग पूर्णत: प्रतिबंधित रहेगा। होम डिलीवरी के लिए होटल एवं रेस्टोरेंट्स से डिलीवरी का समय सुबह 6:00 बजे से रात 9:00 बजे तक रहेगा तथा आम जनता के लिए होम डिलीवरी रात 10:00 बजे तक ही की जा सकेगी। भीड़-भाड़ या निर्देशों का उल्लंघन होने पर होटलों एवं रेस्टोरेंट्स को नियमानुसार 30 दिवस हेतु सील करने की कार्यवाही की जाएगी।
लोक सेवा केन्द्र/च्वाईस सेंटर दोपहर 2:00 बजे तक खोले जाएंगे, किन्तु मास्क तथा फिजिकल डिस्टेंसिंग का कड़़ाई से पालन करना अनिवार्य होगा। उल्लंघन की दशा में अर्थदण्ड के साथ-साथ केन्द्र की आई.डी. निलंबित की जाएगी। कृषि क्षेत्र में बीज, उर्वरक, कीटनाशक विक्रय के लिए दुकान/गोडाउन तथा कृषि मशीनरी के विक्रय/मरम्मत के लिए दुकानों को सुबह 6:00 बजे से दोपहर 2:00 बजे तक खुलने की अनुमति होगी। उपरोक्त अवधि में कृषि सामग्री के परिवहन हेतु भी अनुमति रहेगी।
वाहन मरम्मत/पंक्चर सुधार, स्टेशनरी शॉप, लॉन्ड्री सर्विसेस, आटा-चक्की, पैकेजिंग मटेरियल व संबंधित इकाइयों के संचालन के लिए सुबह 6:00 बजे से दोपहर 2:00 बजे तक अनुमति रहेगी। वाहन विक्रय हेतु शो-रूम नहीं खुलेंगे, किन्तु वाहन रिपेयरिंग वर्कशाप खुल सकेगें तथा। उपयुक्त कोविड व्यवहार का पालन अनिवार्य होगा।
समस्त प्रकार की एकल दुकानें और एकल किराना/डेली नीड्स दुकानें, फल/सब्जी, अन्डा, मछली, मांस, पोल्ट्री तथा दुग्ध/दुग्ध उत्पाद संबंधी दुकानें दोपहर 2:00 बजे तक खोली जा सकेगी, किन्तु मॉल/सुपर मार्केट/सुपर बाजार में स्थित दुकाने नहीं खुलेगी। किसी दुकान में मास्क/फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं होने या भीड़-भाड़ होने की दशा में अर्थदंड के साथ 30 दिवस के लिए दुकान नियमानुसार सील की जावेगी। संबंधित दुकानदार फल/सब्जी, अन्डा, मास, मछली, पोल्ट्री व किराना सामग्री/ग्रॉसरी की होम डिलीवरी को प्राथमिकता देगें। स्थापित बाजारों में स्थित दुकाने रविवार को छोड़कर अन्य दिनों में उनके सामान्य समय सुबह 6:00 बजे से खुलते हुये दोपहर 2:00 बजे तक खोली जा सकेगी, मास्क तथा फिजिकल डिस्टेंसिंग का कड़ाई से पालन अनिवार्य होगा। किसी दुकान में फिजिकल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन करते हुये भीड़-भाड़ की स्थिति निर्मित होने या राज्य शासन/इस कार्यालय की ओर से जारी निर्देशों का उल्लंघन होने पर नियमानुसार अर्थदण्ड अधिरोपित करने और 30 दिवस के लिए दुकान सील करने की कार्यवाही की जाएगी। निर्माण गतिविधियों संबंधित दुकानें जैसे हार्डवेयर, प्लंबिंग, इलेक्ट्रिकल, ए.सी. कूलर संबंधी स्थानीय/एकल दुकाने रविवार को छोड़कर शेष सभी दिवस सुबह 6:00 बजे से दोपहर 2:00 बजे तक खोली जा सकेगी।
ई-कामर्स एप्लीकेशन जैसे अमेजॉन, फ्लिपकार्ट इत्यादि के माध्यम से वस्तुओं की होम डिलीवरी तथा कोरियर डिलीवरी की जा सकेगी। थोक किराना/अनाज बाजार तथा आलू, प्याज विक्रेता सुबह 6:00 बजे से दोपहर 2:00 बजे तक दुकान का संचालन कर सकेंगे। को-मॉर्बिड/गर्भवती अधिकारियों/कर्मचारियों को एक्टिव ड्यूटी से छूट देते हुये सभी पोस्ट ऑफिस, सभी बैंकों और बीमा कार्यालय भारत सरकार के द्वारा निर्धारित समयावधि में कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते हुये संचालित रहेंगे। सभी अस्पताल, मेडिकल दुकानों, क्लिनिक और पशु-चिकित्सालय को उनके निर्धारित समय में संचालन की अनुमति होगी। मेडिकल दुकान संचालक मरीजों के लिए दवाओं की होम डिलीवरी को प्राथमिकता देगें। दुग्ध पार्लर व दुग्ध वितरण तथा न्यूज पेपर हॉकर की ओर से समाचार पत्रों के वितरण की समयावधि सुबह 6:00 बजे से शाम 6:30 बजे तक शॉप खोलने की अनुमति होगी। पैट शॉप/एक्वेरियम को केवल पशुओं को पशुचारा विक्रय के लिए सुबह 6:00 बजे से दोपहर: 2:00 बजे तक शॉप खोलने की अनुमति होगी।
औद्योगिक संस्थानों एवं निर्माण इकाईयों को यथासंभव अपने कैम्पस के भीतर (ऑनसाइट) मजदूरों को रखकर व अन्य आवश्यक व्यवस्था करते हुये उद्योगों के संचालन व निर्माण कार्यो की अनुमति होगी। लोक निर्माण, जल संसाधन, वन, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, ग्रामीण यांत्रिकी सेवायें तथा महात्मा गांधी नरेगा इत्यादि अंतर्गत श्रमिकों की आवश्यकता वाले सभी ऑन-साइट कार्यो एवं निजी निर्माण गतिविधियों के संचालन के लिए अनुमति रहेगी, किन्तु श्रमिकों की सुरक्षा एवं कोविड-19 प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन अनिवार्य होगा।
पेट्रोल पम्प, गैस एजेन्सी एवं मेडिकल दुकानें पूर्ण समयावधि के लिए खुल सकेंगे, किन्तु गैस एजेंसियॉ टेलीफोनिक या ऑनलाईन आर्डर के माध्यम से ग्राहकों को सिलेन्डरों की होम डिलीवरी को प्राथमिकता देगें। इन एजेन्सीयों में कार्यरत कर्मचारी। उपयुक्त कोविड व्यवहार का पालन सुनिश्चित करते हुये ड्यूटी करेगें। शासकीय उचित मूल्य दुकानों को जिला खाद्य अधिकारी, बेमेतरा द्वारा पूर्व निर्धारित समयावधि में। उपयुक्त कोविड व्यवहार का पालन सुनिश्चित करते टोकन व्यवस्था के साथ खुलने की अनुमति होगी। प्रत्येक रविवार को पूर्ण लॉकडाउन रखा जाएगा, जिसके दौरान केवल अस्पताल, क्लिनिक, मेडिकल दुकान, पेट्रोल पम्प तथा इस आदेश द्वारा निर्धारित समयावधि में शासकीय उचित मूल्य दुकानें, एल.पी.जी. पैट शॉप, न्यूजपेपर, दुग्ध/फल/सब्जी तथा अनुमति प्राप्त अन्य वस्तुओं/सेवाओं की होम डिलीवरी के संचालन की ही अनुमति होगी तथा अन्य सेवायें प्रतिबंधित होंगी, उल्लंघन पर वैधानिक कार्यवाही की जावेगी।
सभी संचालित दुकानों में नि:शुल्क मास्क वितरण अथवा विक्रय के लिए मास्क रखना तथा दुकान में कार्यरत कर्मचारियों एवं ग्राहकों के उपयोग के लिए सेनिटाईजर रखना अनिवार्य होगा। होम डिलीवरी व्यवस्था में संलग्न सभी व्यक्तियों को नियमित अंतराल में कोविड-19 जांच तथा 45 वर्ष से अधिक अवस्था वाले व्यक्तियों को कोविड-19 वैक्सीनेशन कराना आवश्यक होगा। साथ ही होम डिलीवरी के दौरान कर्मचारियों को मास्क धारण करना एवं फिजिकल डिस्टेंसिंग का कड़ाई से पालन करना अनिवार्य होगा। प्रतिदिन शाम 5:00 बजे से सुबह 6:00 बजे तक रात्रिकालीन लॉकडाउन (कोरोना कफ्र्यू) लागू रहेगा, जिसके दौरान इस आदेश द्वारा अनुमति प्राप्त गतिविधियॉ जैसे होटल/रेस्टोरेंट से होम डिलीवरी तथा थोक माल/कार्गो/फल/सब्जी की लोडिंग अनलोडिंग की अनुमति निर्धारित समयावधि में रहेगी। आपालकालीन आवागमन को छोड़कर अन्य समस्त गतिविधियों पर प्रतिबंध रहेगा।
कोविड संक्रमण के रोकथाम के लिए जिले में समस्त कार्य जैसे कांटेक्ट ट्रेसिंग, एक्टिव सर्विलांस, होम आईसोलेशन, दवाई वितरण कार्य में संलग्न सभी शासकीय कर्मचारियों की उपस्थिति पूर्वानुसार अनिवार्य होगी। कोविड केयर सेंटर से डिस्चार्ज होने वाले मरीजों के परिवहन में संलग्न वाहन पूर्वानुसार संचालित रहेगें। उपरोक्त अवधि में रेल, बस व हवाई यात्रा के लिए रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड व एयरपोर्ट पर आने-जाने वाले यात्रियों को कोई पास की आवश्यकता नहीं होगी। यात्रियों को निवास/स्टेशन तक आने-जाने के लिए उनके पास उपलब्ध यात्रा टिकट ही उनका ई-पास मान्य किया जाएगा। अपरिहार्य परिस्थितियों में बेमेतरा जिले से अन्यत्र जिले/अंतर्राज्यीय यात्रा में जाने वाले यात्रियों को 48 घंटा पूर्व ई-पास/मैनुअल पास के माध्यम से पूर्व अनुमति लिया जाना अनिवार्य होगा तथापि प्रतियोगी/अन्य परीक्षाओं में सम्मिलित होने वाले परीक्षार्थियों के लिए उनका एडमिट कार्ड तथा रेलवे/टेलीकॉम/ एयरपोर्ट संचालन एवं रख-रखाव कार्य या हास्पिटल या कोविड-19 ड्यूटी में संलग्न कर्मचारियों/ चिकित्सकों की दशा में नियोक्ता की ओर से जारी आई.डी. कार्ड ई-पास के रूप में मान्य किया जा सकेगा।
कोविड-19 जांच अथवा कोविड-19 टीकाकरण के लिए मेडिकल दस्तावेज या आधार कार्ड/विधिमान्य परिचय पत्र या ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन दिखाने पर कोविड-19 टीकाकरण केन्द्र अस्पताल/पैथालॉजी लैब आवागमन की अनुमति होगी, किन्तु अनावश्यक भ्रमण सख्त प्रतिबंधित रहेगा। आपात स्थिति में यात्रा के दौरान 04 पहिया वाहनों में ड्रायवर सहित अधिकतम 03, ऑटो में ड्रायवर सहित अधिकतम 03 एवं दो पहिया वाहन में अधिकतम 02 व्यक्तियों को यात्रा की अनुमति होगी। रेलवे स्टेशन, एयरपोर्ट, बस स्टैंड, हास्पीटल आवागमन के लिए ऑटो/टैक्सी परिचालन की अनुमति रहेगी, किन्तु अन्य प्रयोजन के लिए परिचालन पूर्णत: प्रतिबंध रहेगा। इस निर्देश का उल्लंघन किये जाने पर 15 दिवस के लिए वाहन जब्त करते हुये चालानी व अन्य कानूनी कार्यवाही की जाएगी। मीडियाकर्मी यथासंभव वर्क फ्रॉम होम द्वारा कार्य संपादित करेंगे। अत्यावश्यक स्थिति में कार्य के लिए बाहर निकलने पर अपना आई-कार्ड साथ रखेंगे तथा फिजिकल डिस्टेंसिंग एवं मास्क संबंधी निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करेगें।
यह आदेश कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक, अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, अनुविभागीय अधिकारी, उप पुलिस अधीक्षक, मुख्य चिकित्सा व स्वास्थ्य अधिकारी तथा उनके अधीनस्थ समस्त कार्यालय, अस्पताल, तहसील कार्यालय, पुलिस थाना व चैंकी, नगर पालिका/पंचायत, जनपद कार्यालय के लिए लागू नहीं होगा। इसके अतिरिक्त कानून व्यवस्था से संबंधित अधिकारी, विद्युत, पेयजल आपूर्ति, अग्निशमन, नगर पालिका सेवायें जिनमें सफाई सिवरेज तथा कचरे का डिस्पोजल भी शामिल है, पर लागू नहीं होगा। परंतु इन कार्यालयों में उपरोक्त अवधि में आम जनता का प्रवेश निषेध रहेगा। राज्य शासन या इस कार्यालय के विशेष आदेश द्वारा अनुमति प्राप्त किसी अन्य सेवा के संचालन की अनुमति होगी।

उपरोक्त बिन्दुओं को छोड़कर जिले में समस्त गतिविधियॉ पूर्णत: प्रतिबंधित रहेगी।
इस आदेश का उल्लंघन करने वाले व्यक्ति/प्रतिष्ठानों पर भारतीय दण्ड सहिता 1860 की धारा 188, आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 51-60 तथा अन्य सुसंगत विधि अनुसार कड़ी कार्यवाही की जाएगी। यह आदेश अल्प समयावधि में लागू किया जाना आवश्यक है, वर्तमान परिवेश में इस आदेश से प्रभावित होने वाले व्यक्तियों को सम्यक समय में तामीली नहीं होने के कारण यह आदेश एकपक्षीय रूप से जारी किया जाता है। इस आदेश का व्यापक रूप से प्रचार-प्रसार व कड़ाई से पालन सुनिश्चित किया जावे। किसी भी प्रकार की संशय की स्थिति में जिला मजिस्ट्रेट बेमेतरा द्वारा जारी निर्देश अंतिम व सर्व संबंधितों को मान्य होगा। यह आदेश 17 मई सुबह 6:00 बजे से 31 मई 2021 को सुबह 6:00 बजे तक प्रभावशील होगा।
 

बेमेतरा जिले मे अब 17 की सुबह 6 बजे तक लाॅकडाउन, कलेक्टर ने जारी किया आदेश

बेमेतरा जिले मे अब 17 की सुबह 6 बजे तक लाॅकडाउन, कलेक्टर ने जारी किया आदेश

बेमेतरा। कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी शिव अनंत तायल ने एक आदेश जारी कर सम्पूर्ण बेमेतरा जिला को 05 मई प्रातः 06ः00 से 17 मई प्रातः 06ः00 बजे तक निम्नांकित शर्तो के अधीन कंटेनमेंट जोन (लाॅकडाउन) घोषित किया गया है। बेमेतरा 01 मई द्वारा क्रमशः फल, सब्जी, अण्डा एवं ग्राॅसरी (चावल, दाल, आटा, खाद्य तेल, नमक एवं अन्य खाद्य सामाग्री), पेट्रोल पम्प व बैंकों को कोरोना प्रोटोकाॅल का पालन करते हुये सामान्य रूप से संचालित किये जाने संबंधी आदेश पारित किये गये थे, इसी तरह स्टेशनरी, फोटोकाॅपीयर व कम्प्यूटर शाॅप को उपरोक्त निबंधनों के तहत समयावधि प्रातः 08ः00 बजे से दोपहर 12ः00 बजे तक रविवार को छोड़कर प्रत्येक कार्यदिवस कार्य संचालन की अनुमति कोरोना प्रोटोकाॅल का पालन करते हुये जारी की गयी थी। बेमेतरा जिला अंतर्गत सम्पूर्ण क्षेत्र को 05 मई प्रातः 06.00 बजे तक कंटेनमेंट जोन घोषित करते हुये जिला बेमेतरा में सार्वजनिक आवागमन एवं अन्य गतिविधियों पर कड़े प्रतिबंध आरोपित किये गये थे।
बेमेतरा जिले में कोविड-19 पाॅजिटिव प्रकरणों की संख्या की समीक्षा करने पर प्रकरणों की संख्या में लगातार वृद्धि परिलक्षीत होने के कारण उत्पन्न परिस्थितियों के अनुक्रम में इस कार्यालय द्वारा 05 मई के प्रातः 06ः00 बजे तक प्रभावशील किया गया था तथा सम्पूर्ण जिला बेमेतरा को कंटेनमेंट जोन घोषित करते हुये सार्वजनिक आवागमन एवं अन्य गतिविधियों पर कड़े प्रतिबंध अधिरोपित किये गये थे।
बेमेतरा जिले के अंतर्गत उपरोक्त अवधि में लगाये गये प्रतिबंधों तथा अधिरोपित शर्तो व जिले को घोषित कंटेनमेंट जोन के परीणामों का आंकलन करने पर तथा भारत सरकार गृह मंत्रालय/स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग छ.ग. शासन से प्राप्त अनुदेशों के तारतम्य में बेमेतरा जिले में कोरोना वायरस का चेन तोड़ने करने पुनः बेमेतरा जिले में कंटेनमेंट जोन की अवधि को बढ़ाया जाना आवश्यक प्रतीत होता है।
दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 144, आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 30, 34 सहपठित ऐपिडेमिक एक्ट 1987 यथासंशोधित 2020 द्वारा प्रदत्त शक्तियों के अधीन सम्पूर्ण बेमेतरा जिला को 05 मई प्रातः 06ः00 से 17 मई के प्रातः 06ः00 बजे तक निम्नांकित शर्तो के अधीन कंटेनमेंट जोन घोषित किया जाता है, इस अवधि में बेमेतरा जिले की सम्पूर्ण सीमायें पूर्णतः सील रहेंगी। इस अवधि में कृषि क्षेत्र, बीज उर्वरक, कीटनाशक, कृषि मशीनरी एवं उनकी मरम्मत के लिए दुकानों व गोदामों को खुलने व उर्वरक ट्रकों की आवाजाही प्रातः 06ः00 बजे से अपरान्ह 02ः00 बजे तक अनुमति रहेगी। किराना सामाग्री, ग्राॅसरी की होम डिलीवरी प्रातः 06ः00 बजे से दोपहर 02ः00 बजे तक केवल स्ट्रीट वेंडर्स/चलित ठेला/पिकअप/मिनी ट्रक एवं अन्य उपयुक्त छोटे वाहन के माध्यम से की जा सकेगी। दैनिक आवश्यकताओं के सामाग्री की होम डिलीवरी बिना दुकान खोले की जा सकेगी तथा सुपर मार्केट में स्थित दुकाने इस अवधि में नहीं खुलेगी अर्थात बंद रहेगी। बैंक और डाकघर 50 प्रतिशत कर्मचारियों के साथ सभी प्रकार के व्यवसायिक लेन-देन के लिए खुलने के लिए अनुमति होगी, परंतु इन संस्थानों में कोरोना प्रोटोकाॅल का पूर्णतः पालन पूर्ववत आदेशों के अनुरूप करना आवश्यक होगा। डाक/डाक सेवायें (कोरियर) के लिए अनुमति होगी, परंतु ई-काॅमर्स की सेवायें बंद रहेंगी। इलेक्ट्रीशियन/प्लम्बर/ऐसी, कूलर मैकेनिक/सेनेटरी फिटिंग की घरेलू सेवायें तथा इनकी मरम्मत की अनुमति होगी, परंतु इनसे संबंधित दुकानें बंद रहेंगी। एल.पी.जी. गैस सिलेंडर की दुकानें केवल टेलिफोनिक या आॅनलाईन आर्डर लेंगे तथा ग्राहकों को सिलेण्डरों की घर पहंुच सेवा उपलब्ध करायेंगे। फल, सब्जी, अण्डा, पोल्ट्री, मटन, मछली, डेयरी एवं डेयरी उत्पाद प्रातः 06ः00 बजे से दोपहर 02ः00 बजे तक केवल स्ट्रीट वेंडर्स/चलित ठेला/पिकअप/मिनी ट्रक एवं अन्य उपयुक्त छोटे वाहन के माध्यम से की जा सकेगी तथा इनसे संबंधित दुकानें बंद रहेंगी। ठेला द्वारा घुम-घुमकर समान विक्रय किया जायेगा। सभी संस्थानों में कार्यरत व्यक्तियों को नियमित अंतराल में कोविड-19 की जांच तथा पात्र व्यक्तियों को कोविड-19 का वैक्सीनेशन कराना अनिवार्य होगा। दुग्ध पार्लर व दुग्ध वितरण तथा न्यूज पेपर हाॅकर द्वारा सामाचार पत्रों के वितरण की समयावधि प्रातः 06ः00 बजे से 08ः00 बजे तक सायंकालिन अखबार सायं 05ः00 बजे से 06ः30 बजे तक ही वितरण की जा सकेगी। यह भी स्पष्ट किया जाता है कि दुग्ध वितरण के लिए कोई पार्लर/दुकान नहीं खोले जायेंगे, केवल दुग्ध दुकान/पार्लर के सामने फिजिकल डिस्टेंसिंग व मास्क आदि का प्रयोग कर निर्धारित अवधि में दुग्ध क्रय-विक्रय किया जा सकेगा। आटा चक्की की दुकानें प्रातः 06ः00 बजे से दोपहर 02ः00 बजे तक खोले जा सकेंगे। रजिस्ट्री कार्यालय (पंजीयन विभाग) न्यूनतम कर्मचारियों के साथ टोकन सिस्टम के आधार पर (50 प्रतिशत कर्मचारियों की उपस्थिति के साथ) कोरोना गाईडलाईन के तहत खोलने की अनुमति होगी। आॅनलाईन, होम डिलीवरी की अनुमति पूर्ववत रहेगी। शहर (नगरीय क्षेत्र) में रेस्टोरेंट, हाॅटल का संचालन इस अवधि में नहीं होगा। अर्थात ग्राहकों के लिए इन-हाउस डाईनिंग तथा टेक अवे की सुविधा पूर्णतः प्रतिबंधित रहेंगी। निर्देशों का पालन न करने व अत्यधिक भीड-भाड होने पर संबंधित संस्थान सील की जा सकेगी। सभी शासकीय विभागों, लोक निर्माण, जलसंसाधन, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी, वन, ग्रामीण यांत्रिकी सेवा, मनरेगा आदि के श्रममूलक कार्य निर्धारित अवधि तक चलेंगी तथापि निजी कंस्ट्रक्सन इस अवधि में नहीं होंगी तथा औद्योगिक संस्थानों एवं निर्माण ईकाईयों को अपने कैम्पस के भीतर (व्देपजम) मजदूरों को रखकर व अन्य आवश्यक व्यवस्था करते हुये उद्योगों के संचालन व निर्माण की अनुमति रहेगी तथा लाॅकडाउन की शर्तो का कड़ाई से पालन करना अनिवार्य होगा। सभी अस्पताल, मेडिकल दुकानें, क्लीनिक्स तथा पशु चिकित्साल को उनके निर्धारित समयावधि में खुलने के अनुमति होगी। मेडिकल दुकान संचालक मरीजों को दवाओं की होम डिलीवरी को प्राथमिकता देंगे। नजर के चश्मे की दुकान प्रातः 08ः00 बजे से दोपहर 02ः00 बजे तक कोरोना प्रोटोकाॅल का पालन करते हुये अपना कार्य संपादन कर सकेंगे। बेमेतरा जिले के अंतर्गत सभी केन्द्रीय, शासकीय, सार्वजनिक, अर्द्धसार्वजनिक व निजी कार्यालय इस अवधि में बंद रहेंगे तथापि जिन विभागों के अधिकारियों/कर्मचारियों की सेवायें कोरोना कोविड-19 के कान्टेक्ट ट्रेसिंग, एक्टीव सर्विलांस, वैक्सीनेशन तथा कोरोना जागरूकता एवं अन्य सुसंगत कार्यो हेतु लगायी गयी है वे इस प्रतिबंध से प्रभावित नहीं होंगे। टेलिफोन संचालन एवं रख-रखाव से जुड़े कार्यालय/वर्कशाॅप, लोडिंग-अनलोडिंग का कार्य, खाद्य सामाग्री के थोक परिवहन तथा धान मिलिंग हेतु परिवहन, एवं शासन से अनुमति प्राप्त समस्त परीक्षाओं को छोड़कर अन्य समस्त शैक्षणिक गतिविधियां बंद रहेंगी, किन्तु चिकित्सालय व ए.टी.एम. पूर्ववत संचालित रहेंगे। सामाग्रीयों के लोडिंग-अनलोडिंग का कार्य रात्रि 11ः00 बजे से प्रातः 04ः00 बजे तक की जा सकेगी। उक्त अवधि के प्रत्येक रविवार को अत्यावश्यक सेवायें (हास्पीटल, क्लीनिक, मेडिकल सेवाओं को छोड़कर) समस्त प्रकार की गतिविधियां प्रतिबंधित रहेंगी। कंटेनमेंट घोषित अवधि में बाजार/हाॅटल/रेस्टोरेंट/मैरिज पैलेस/माॅल क्लब, स्वीमिंग पूल/सुपर मार्केट/सभी धार्मिक स्थल/कोचिंग क्लासेस, स्कूल एवं महाविद्यालय/पान व सिगरेट, शराब की दुकाने/पर्यटन स्थल/मोबाईल शाॅप/नाई की दुकाने(सेलून)/उद्यान/मण्डी (लोडिंग-अनलोडिंग की अवधि को छोड़कर) जिम/सामुदायिक आयोजन/जुलूस, सभा, राजनैतिक आयोजन पूर्णतः प्रतिबंधित रहेंगी। यह आदेश कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक, अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, अनुविभागीय अधिकारी, उप पुलिस अधीक्षक, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी तथा उनके अधीनस्थ समस्त कार्यालय, अस्पताल, तहसील कार्यालय, पुलिस थाना व चैंकी, नगर पालिका/पंचायत, जनपद कार्यालय हेतु लागू नहीं होगा। इसके अतिरिक्त कानून व्यवस्था से संबंधित अधिकारी, विद्युत, पेयजल आपूर्ति, अग्निशमन, नगर पालिका सेवायें जिनमें सफाई सिवरेज तथा कचरे का डिस्पोजल भी शामिल है, पर लागू नहीं होगा। परंतु इन कार्यालयों में उपरोक्त अवधि में आमजनता का प्रवेश निषेध रहेगा। इस अवधि में राज्य शासन या इस कार्यालय के विशेष आदेश द्वारा अनुमति प्राप्त किसी सेवा का संचालन किया जा सकेगा। कोविड केयर संेटर से डिस्चार्ज होने वाले मरीजों के परिवहन में संलग्न वाहन पूर्व अनुसार संचालित रहेंगे। पेट शाॅप, एक्वेरियम केवल पशुचारा देने हेतु प्रातः 06ः00 बजे से प्रातः 09ः00 बजे तक खोलने की अनुमति होगी। मीडियाकर्मी अपना कार्य यथासंभव वर्क फ्राम होम से संचालित करेंगे। अत्यावश्यक स्थिति में कार्य हेतु बाहर आने पर अपना आई.कार्ड. साथ रखेंगे तथा मास्क व फिजिकल डिस्टेंसिंग संबंधी निर्देशों का पालन करना अनिवार्य होगा।
उपरोक्त बिन्दुओं को छोड़कर जिले में समस्त गतिविधियां पूर्णतः प्रतिबंधित रहेंगी।
इन आदेशों का उल्लंघन करने वाले व्यक्तियों पर भा.द.स. 1860 की धारा 188, आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 51-60 तथा अन्य सुसंगत विधि अनुसार कड़ी कार्यवाही की जावेगी। यह आदेश अल्प समयावधि में लागू किया जाना आवश्यक है वर्तमान परिवेश में इस आदेश से प्रभावित होने वाले व्यक्तियों को सम्यक समय में तामीली नहीं होने के कारण यह आदेश एकपक्षीय रूप से जारी किया जाता है इस आदेश का व्यापक रूप से प्रचार-प्रसार व कड़ाई से पालन सुनिश्चित किया जावे किसी भी प्रकार की संशय की स्थिति में जिला मजिस्ट्रेट बेमेतरा द्वारा जारी निर्देश अंतिम व सर्व संबंधितों को मान्य होगा। यह आदेश 05 मई 2021 प्रातः 06ः00 बजे से 17 मई 2021 को प्रातः 06ः00 बजे तक प्रभावशील होगा।
 

 कोरोना से स्वस्थ्य हुए मरीज ने कोविड केयर सेंटर को दान में दिए 10 वेपराइजर मशीन

कोरोना से स्वस्थ्य हुए मरीज ने कोविड केयर सेंटर को दान में दिए 10 वेपराइजर मशीन

बेमेतरा। जिले में हाल ही के दिनों में कोरोना से ठीक होने वाले लोगों की संख्या बढ़ी है, साफ है, अगर सतर्कता बरतें, नियमों का पालन करें और सही समय पर सही इलाज मिले तो यह चुनौती इतनी कठिन नहीं रह जाएगी। कोविड केयर सेंटर से 7 दिनों में कोरोना को हराकर डिस्चार्ज हुए 55 वर्षीय जितेंद्र साहू अब पूरी तरह स्वस्थ्य है। कोरोना वॉरियर जितेंद्र साहू सिंघौरी के पुत्र निखिल साहू जो कंट्रक्शन का व्यवसायी ने पिता के कोरोना संक्रमण से ठीक होने पर अस्पताल को 10 वेपराइजर मशीन दान किए है। इस मौके पर आज सिविल सर्जन वंदना भेले, देवजानी शिवारे मेट्रनर, अस्पताल सलाहकार आरती दत्ता को कोविड केयर मरीजों को भाप लेने के लिए वेपराइजर मशीन दान कर महामारी से निपटने के योगदान दिया।

कोरोना वॉरियर बने जितेंद्र ने बताया 10 अप्रैल को अचानक तबीयत ठीक नहीं लगने बुखार की शिकायत आने पर उन्होंने टेस्ट कराया तो एंटीजन में रिपोर्ट पॉजिटिव आईद्य चिकित्सकों की सलाह से 7 दिनों तक होम आईसोलेशन में रहकर दवाईयां ली लेकिन अचानक 18 अप्रैल को सांस लेने में तकलीफ के साथ ऑक्सीजन लेवल में गिरावट आने लगी। परिजनों ने देर न करते हुए तुरंत जिला अस्पताल के मातृ शिशु अस्पताल के कोविड वार्ड में भर्ती कराया गया। कोविड केयर सेंटर में चिकित्सकों ने ऑक्सीजन स्पोर्ट देते हुए आईसीयू वार्ड में मरीज का इलाज शुरु किया।

लगातार 7 दिनों की इलाज व स्टॉफ के सहयोग से जितेंद्र साहू ने कोरोना मात देकर घर लौट आया। वर्तमान जिला प्रशासन द्वारा एमसीएच बिल्डिंग को कोविड केयर सेंटर में 200 बेड अस्पताल संचालित की जा रही है। यहां 100 बिस्तर ऑक्सीजन बेड, 80 जनरल बेड, 10 एचडीयू बेड व 10 आईसीयू बेड की व्यवस्था कोविड मरीजों के लिए जिला स्तर पर की जा रही हैजिसमें कोरोना पॉजिटिव मरीजों का देखभाल वह इलाज किया जाता है। यहां पर ऑक्सीजन युक्त बिस्तर के साथ आईसीयू व कोरोनाके मरीज का इलाज संबंधित संपूर्ण सुविधा उपलब्ध है। यहां डॉक्टर एवं स्टाफ 24 घंटा अपनी ड्यूटी में खरा उतरे हैं। यहां भर्ती होने वाले मरीज पूर्ण रूप स्वस्थ होकर अपने घर जा रहे हैं। डॉ दिपक मिरे का कहना है सीएमएचओ डॉ एसके शर्मा के मार्गदर्शन में कोविड टेस्ट से लेकर इलाज कराने के लिए मरीजों की प्रबंधन में बेहतर कार्य किया जा रहा है।

डॉ मिरे का कहना है , अस्पताल आने में देरी करने वाले मरीजों को ठीक होने में 7 दिन से ज्यादा समय लग जाता है। इस लिए कोरोना मरीजों को सरकारी अस्पताल में दी जा रही निशुल्क इलाज की सुविधाओं का लाभ उठाना चाहिए।कोविड केयर केंद्र में आने को लेकर किसी तरह की भी देरी मरीज के जीवन में संकट डाल सकता है। उन्होंने बताया जिले से औसत 350 से 400 होम आईसोलेशन व अस्पताल से डिस्चार्ज हो रहे हैं जबकि पॉजिटिव मरीजों की संख्या में गिरावट आने से 300 से कम मरीज कोरोना संक्रमण प्रति दिन हो रहे हैं। यानी कि बेहतर इलाज व मरीजों के सकारात्मक सोच की वजह से पूर्णतः ठीक होकर घर को जा रहे है।

जितेंद्र साहू का कहना है यहां के डॉक्टर स्टाफ बहुत अच्छे से देखभाल कर रहे हैं। साथ ही यहां समय-समय पर नाश्ता व भोजन की व्यवस्था बहुत अच्छी है।उन्हें आईसीयू वार्ड में भर्ती किया गया था । 24 अप्रैल तक लगातार इलाज चला और पूर्णता स्वस्थ होने के उपरांत छुट्टी दी गई। यहां देखभाल बहुत अच्छे से की गईद्य साथ ही डॉक्टरों द्वारा इलाज व व्यवस्था प्रबंध बहुत अच्छे से हुआ।जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग के प्रबंधन व मरीजों के प्रति सकारात्मक व्यवहार से खुश होकर अन्य मरीजों के लिए गर्म भाप लेने वेपराइजर मशीन उपलब्ध कराने के निवेदन को अस्पताल प्रबंधन ने स्वीकार किया है।
स्वास्थ्य विभाग ने एमबीबीएस उत्तीर्ण 296 नए डॉक्टरों की पदस्थापना की है

स्वास्थ्य विभाग ने एमबीबीएस उत्तीर्ण 296 नए डॉक्टरों की पदस्थापना की है

बेमेतरा। स्वास्थ्य विभाग ने एमबीबीएस उत्तीर्ण 296 नए डॉक्टरों की पदस्थापना की है। इन नए डॉक्टरों को प्रदेश के विभिन्न शासकीय मेडिकल कॉलेज अस्पतालों, जिला चिकित्सालयों, मातृ और शिशु अस्पतालों, सिविल अस्पतालों, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों तथा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में पदस्थ किया गया है। प्रदेश भर में बड़ी संख्या में इन डॉक्टरों की नियुक्ति से वर्तमान कोविड-19 संकट के दौरान संक्रमितों के इलाज और प्रबंधन में मदद मिलेगी। नवपदस्थ सभी डॉक्टरों को दस दिनों के भीतर अपने-अपने पदस्थापना वाले अस्पतालों में कार्यभार ग्रहण करने के निर्देश दिए गए हैं। छत्तीसगढ़ चिकित्सा और दंत चिकित्सा स्नातक प्रवेश नियम के तहत इनकी पदस्थापना एम.बी.बी.एस. प्रवेश के समय निष्पादित शासकीय ग्रामीण सेवा के अनुबंध के अनुसार संविदा आधार पर दो वर्ष के लिए की गई है।
छत्तीसगढ़ चिकित्सा व दंत चिकित्सा स्नातक प्रवेश नियम के तहत अनुबंधित डॉक्टरों को एम.बी.बी.एस. प्रवेश के समय निष्पादित अनुबंध के अनुसार संविदा आधार पर दो वर्ष की शासकीय सेवा करना अनिवार्य है। बंध-पत्र (ड्ढशठ्ठस्र) के उल्लंघन पर बंध-पत्र की राशि की वसूली, विश्वविद्यालय से अंतिम डिग्री प्रदान नहीं किए जाने और राज्य मेडिकल काउंसिल में पंजीयन नहीं किए जाने के साथ ही पाठ्यक्रम अवधि के दौरान शासन की ओर से भुगतान की गई संपूर्ण छात्रवृत्ति, शिष्यवृत्ति की राशि की वसूली भू-राजस्व के बकाया के रूप में किए जाने का प्रावधान है। अति आवश्यक संधारण तथा विछिन्नता निवारण अधिनियम, 1979 (एस्मा एक्ट, 1979) एवं एपिडेमिक एक्ट, 1897 के कण्डिका-03 में निहित प्रावधानों के तहत नवपदस्थ डॉक्टरों की ओर से निर्धारित समय-सीमा में अपने पदस्थापना स्थान में कार्यभार ग्रहण नहीं किए जाने पर उनके विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाएगी। उनसे अनुबंध की राशि की वसूली भू-राजस्व के बकाया राशि की भांति करने के साथ राज्य मेडिकल बोर्ड में पंजीयन रद्द करने को कार्यवाही भी की जाएगी।
 

 कोविड-19 से निपटने और सफल संचालन के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त

कोविड-19 से निपटने और सफल संचालन के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त

बेमेतरा। कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण से रोकथाम/आपातकालीन स्थिति से निपटने और आवश्यक समन्वय/सफल संचालन के लिए मुख्य चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी जिला बेमेतरा मे भण्डार का पंकज जैन सहायक अभियंता लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी परियोजना उप खण्ड क्रमांक एक साजा को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है।
 कोरोना की सभी जांच दरों में की गई कमी, स्वास्थ्य विभाग ने जारी किए आदेश

कोरोना की सभी जांच दरों में की गई कमी, स्वास्थ्य विभाग ने जारी किए आदेश

बेमेतरा। कोविड संक्रमण की रोकथाम के लिए राज्य शासन ने आम जनता को राहत देने की दृष्टि से निजी पैथोलॉजी लैबों और अस्पतालों में कोविड-19 की जांच के लिए आरटीपीसी आर तथा एंटीजन रैपिड टेस्ट की दरों में काफी कमी की है। निजी लैबों और अस्पतालों में रैपिड एंटीजन टेस्ट के लिए 150 रूपए का शुल्क तय किया गया है। इसमें जांच, कन्जुमेबल्स, पीपीई किट इत्यादि शुल्क शामिल हैं। प्रदेश के लैबों/अस्पतालों में आर टी पी सी आर जांच के लिए 550 रूपए की दर निर्धारित की गई है। दोनों जांच के लिए संभावित मरीज के घर से सैंपल संकलित किए जाने पर अतिरिक्त शुल्क 200 रूपए लिए जाएंगे। ट्रूनाट टेस्ट के लिए जांच शुल्क 1300 और मरीज के घर जाकर लेने पर 200 रुपए अतिरिक्त लगेंगे।

स्वास्थ्य विभाग ने कल इस संबंध में आदेश में जारी किए है। आदेश में कहा गया है कि सभी निजी चिकित्सालयों एवं पैथोलाॅजी केन्द्रों में जांच दरों केा मरीज प्रतीक्षालय, बिलिंग काउंटर पर प्रदर्शित किया जाना अनिवार्य होगा। यह आदेश छत्तीसगढ़ एपिडेमिक डीजिस कोविड 19 रेगुलेशन 2020 की कंडिका 3 के एवं महामारी अधिनियम 1887 की कंडिका 2 के तहत प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए जारी किया गया है।
कलेक्टर ने आदेश जारी कर कहा कि लॉक डाउन के दौरान अधिकारी ...

कलेक्टर ने आदेश जारी कर कहा कि लॉक डाउन के दौरान अधिकारी ...

बेमेतरा । कलेक्टर ने आज एक आदेश जारी कर कहा कि कोरोना वायरस कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण की रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग के अलावा जिले के सभी विभाग के अधिकारी/कर्मचारी लगे हैं, यह एक अपात स्थिति है, जिसमे सभी की सक्रिय भूमिका आवश्यक है। अतः जिले के समस्त डाॅक्टर्स, नर्सेस, स्वास्थ्य अधिकरी एवं अन्य विभाग के जिला स्तरीय अधिकारी एवं उनके अधिनस्त को यह निर्देश दिये है कि वे कोरोना संक्रमण के प्रभावी नियंत्रण व रोकथाम के लिए सौंपे गए कार्यों का निर्वहन पूरी निष्ठा एवं तत्परता से संपादित करें तथा इस दौरान मुख्यालय में अनिवार्य रुप से उपस्थित रहे, ताकि उन्हे आवश्यकतानुसार कोरोना वायरस की आपातकालीन परिस्थिति मे कार्य के लिए नियुक्त किया जा सके। अनुपस्थिति की दशा मे संबंधित अधिकारी/कर्मचारी पर कठोर अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाएगी। 

रायपुर-दुर्ग-राजनांदगांव के बाद अब इस जिले में भी 10 से 19 अप्रैल तक लॉकडाउन; बिना कोविड टेस्ट के किसी को एंट्री नहीं

रायपुर-दुर्ग-राजनांदगांव के बाद अब इस जिले में भी 10 से 19 अप्रैल तक लॉकडाउन; बिना कोविड टेस्ट के किसी को एंट्री नहीं

रायपुर, दुर्ग और राजनांदगांव के बाद बेमेतरा जिले में भी लॉकडाउन लग दिया गया हैं। बेमेतरा जिला कोरोना का बड़ा हॉटस्पॉट बना हुआ हैं। कलेक्टर शिव अनंत तायल ने 10 अप्रैल शाम 6 बजे से 19 अप्रैल सुबह 6 बजे तक लॉकडाउन लगाने के आदेश जारी कर दिया हैं। साथ ही यह भी निर्देश दिया है कि इस दौरान बिना कोरोना टेस्ट के किसी को भी जिले में प्रवेश नहीं दिया जाएगा।
जानिए क्या है गाइडलाइन में
• बेमेतरा जिले की सभी सीमाएं पूरी तरह से सील रहेगी।
• केवल मेडिकल दुकानों को खोलने की अनुमति होगी।
• किराना दुकानें और सब्जी की दुकानें बंद रहेगी।
• पेट्रोल-डीजल सामान्य व्यक्ति को नहीं दिया जाएगा।
• सिर्फ सरकारी प्रशासनिक, पुलिस और आपात ड्यूटी में लगे लोगों को हो पेट्रोल मिलेगा।
• चश्मे की दुकानें खुली रहेंगी।
• अन्य राज्यों से अथवा प्रदेश के अन्य जिलों से बेमेतरा के अलावा अन्य जिलों से बसें और अन्य यात्री वाहनों को शहर में प्रवेश की अनुमति नहीं।
• जिले से प्रदेश के अन्य जिलों अथवा अन्य राज्यों हेतु संचालित लंबी दूरी की सार्वजनिक परिवहन सेवा ऑनलाइन बुकिंग के आधार पर संचालित होगी।
• प्रदेश अथवा जिलों से आने वाले यात्रियों का ब्योरा CMHO कार्यालय में बस संचालक को उपलब्ध कराना होगा।
• दूसरे क्षेत्रों से आने वाले यात्रियों का कोरोना टेस्ट अनिवार्य होगा।
• बस स्टैंड में कैंप लगाये जाएंगे, सबके टेस्ट की जवाबदेही बस संचालक की होगी
• अतिआवश्यक सेवाओं के परिवहन को अनुमति होगी।
• केवल वाहन चालक और हेल्पर को ही वाहन में अनुमति होगा।
• ग्रामीण क्षेत्रों में स्थानीय अमले का दल बनाकर लॉकडाउन का पालन सुनिश्चित कराया जाएगा।
• विवाह और अंत्येष्टि में 50 के अंदर की ही अनुमति मिल सकेगी।
• सभी परीक्षाओं को अनुमति, परीक्षार्थी के साथ अभिभावक भी जा सकेंगे।
• ट्रेन से अथवा फ्लाइट से परिवहन के लिए जाने वाले लोगों को टिकट दिखाने पर अनुमति दी जाएगी।
• मोबाइल रिचार्ज दुकानें बंद रहेंगी।
• घर जाकर दूध बांटने वाले विक्रेता सुबह 6 से 7 बजे एवं शाम 6 से 7 बजे जा सकेंगे
• औद्योगिक संस्थानों को प्रतिबंध से छूट रहेगी।
• चार पहिया वाहनों में ड्राइवर सहित अधिकतम तीन एवं दो पहिया वाहनों में केवल दो व्यक्तियों को यात्रा की अनुमति।
• वैक्सीनेशन और टेस्टिंग के लिए केंद्र तक जाने की अनुमति होगी।
• सारी छूट कंटेनमेंट क्षेत्र में लागू नहीं होगी।
• आदेश के उल्लंघन होने पर धारा 188 के अंतर्गत कार्रवाई की जाएगी।
• जिले में संचालित शराब की दुकानें बंद रहेगी।
• सभी धार्मिक, सांस्कृतिक एवं पर्यटन स्थल आम जनता के लिए पूरी तरह से बंद रहेंगे।
• जुलूस, सामाजिक सभा, धार्मिक, राजनैतिक आयोजन पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेंगे।

 

लॉक डाउन ब्रेकिंग: छत्तीसगढ़ के इस जिले में लॉक डाउन लगाने का जारी हुआ आदेश

लॉक डाउन ब्रेकिंग: छत्तीसगढ़ के इस जिले में लॉक डाउन लगाने का जारी हुआ आदेश

बेमेतरा, छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा लॉक डाउन के निर्णय कलेक्टर के द्वारा लिए जाने के आदेश के बाद प्रदेश के बेमेतरा जिले के शहरी सीमाओं में लॉक डाउन की घोषणा कर दी गई है।
कलेक्टर शिव अनंत तायल ने बताया है कि यह लॉक डाउन जिले के तीन नगरीय निकाय क्षेत्रों में ही लगाई गई है। कलेक्टर द्वारा यह निर्णय गुरुवार को मिले 118 कोरोना मरीजों के देखते हुए लिया गया है।
आपको बता दे गुरुवार को ही सरकार ने आदेश जारी करते हुए यह कहा था कि किस जिले में लॉक डाउन होगा यह स्थानीय कलेक्टर तय करेंगे।
आदेश में दुकानों के खुलने का समय निर्धारित किया गया है. यहां दुकानें सुबह 6 बजे से 2 बजे तक ही खुलेंगी. इसके बाद दुकान खोलने पर कार्रवाई होगी. लेकिन अतिआवश्यक सेवाएं जारी रहेंगी.


 

शासन के आदेश पर नवोदय विद्यालय मे अध्यापन कार्य हुआ बन्द

शासन के आदेश पर नवोदय विद्यालय मे अध्यापन कार्य हुआ बन्द

बेमेतरा । बेमेतरा के खिलोरा स्थित नवोदय विद्यालय के प्राचार्य लक्ष्मी सिंह की ओर से जानकारी दी गई है कि मंगलवार को एक दैनिक अखबार के बेमेतरा संस्करण में प्रकाशित- लापरवाही पड़ रही भारी बिना आदेश नवोदय विद्यालय का संचालन शुरु होने से बच्चों और पालकों पर मंडरा रहा कोरोना का खतरा उक्त प्रकाशित विवरण तथ्यहीन और आधारहीन है। राज्य सरकार के आदेशानुसार विद्यालय तत्काल प्रभाव से बंद किए गए। छात्रों को राज्य सरकार के आदेशानुसार अभिभावकों के सहमति पत्र के साथ ही विद्यालय बुलाया गया था। स्कूल बंद करने का कारण राज्य सरकार के आदेश का पालन करना था, जिसमे यह आदेश था कि स्कूल को तत्काल प्रभाव से बंद किया जाए और इसी का पालन करते हुए बेमेतरा जिला चिकित्सालय की टीम बुलाकर विद्यार्थियों की जांच के उपरांत रिपोर्ट नेगेटिव आने पर छात्रों को पालकों की सहमति के साथ रवाना किया गया। 

 सावधान: होली पर्व के मद्देनजर खाद्य दुकानों का जारी है औचक निरीक्षण

सावधान: होली पर्व के मद्देनजर खाद्य दुकानों का जारी है औचक निरीक्षण

बेमेतरा। होली की त्यौहारी सीजन को ध्यान में रखते हुए कलेक्टर शिव अनंत तायल के निर्देशानुसार तथा अनुविभागीय अधिकारी सह अभिहीत अधिकारी के मार्गदर्शन में खाद्य एवं औषधि प्रशासन, बेमेतरा (छ.ग.) की टीम द्वारा जिला बेमेतरा के अंतर्गत किराना दुकान, मिठाई दुकान, ढाबा, गन्ना जूस सेंटर का आदि का औचक निरीक्षण किया जा रहा है, साथ ही खाद्य सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए अधिकारीयों द्वारा खाद्य कारोबारकर्ताओ को प्रतिष्ठान में साफ सफाई रखने व किसी भी तरह से अमानक खाद्य पदार्थ का विक्रय नही करने का निर्देश दिया जा रहा है। गुरूदेव स्टोर्स बेमेतरा से मैदा फर्म महाजन किराना स्टोर्स बेरला से टाफी, फर्म दीपेश एण्ड कंम्पनी बेरला से मैदा व सुजी का, फर्म गुरूदेव किराना नवागढ़ से हल्दी पाउडर, नंदजी लाल किराना एण्ड जनरल स्टोर्स नवागढ़ से सोयाबीन खाद्य तेल का नमूना लिया गया।

कार्यवाही खाद्य सुरक्षा अधिकारी रोशन वर्मा, राजू कुर्रे एवं श्री जितेन्द्र कुमार नेले की टीम द्वारा की जा रही है। जिले में त्यौहारी सीजन को ध्यान में रखते हुए कारर्वाई लगातार जारी रहेगी। जिसे जन सामान्य को सुरक्षित खाद्य पदार्थ उपलब्ध हो सके। अमानक खाद्य प्रदार्थो का निमार्ण,विक्रय,भण्डारण करने वाले खाद्य कारोबारकर्ताओं, निर्माणकर्ताओं को सक्षम न्यायालय द्वारा जुर्माने से दण्डित किया जा रहा है।
 
 बेमेतरा जिले में होली पर्व को लेकर जारी हुए दिशा निर्देश, सभी प्रकार के सार्वजनिक कार्यक्रम रहेंगे प्रतिबंधित

बेमेतरा जिले में होली पर्व को लेकर जारी हुए दिशा निर्देश, सभी प्रकार के सार्वजनिक कार्यक्रम रहेंगे प्रतिबंधित

बेमेतरा| कलेक्टर ने आज एक आदेश जारी कर कहा कि  बेमेतरा जिले में कोविड-19 संक्रमण के मद्देनजर वर्तमान में प्रतिदिन कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ती जा रही है। जिसका एहतियात के तौर पर सावधानी बरतने आम जनता को होली त्यौहार मनाने दिशा निर्देश जारी किए हैं। 

कनेक्टर शिव अनंत तायल ने कहा कि होली पर्व मे सभी प्रकार के सार्वजनिक कार्यक्रम प्रतिबंधित रहेंगे। कोविड-19 नियंत्रण के लिए भारत सरकार से जारी निर्देश का पालन किया जाना अनिवार्य होगा। शासन से समय-समय पर जारी निर्देशों, मापदंडो व गाईड लाईन का अक्षरशः पालन करना होगा। होली त्यौहार पर समूह में 10 से अधिक लोगों का एक साथ धूमना प्रतिबंधित रहेगा। होलिका दहन कार्यक्रम में सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क, सेनेटाईजर का उपयोग करना अनिवार्य होगा। समिति प्रबंधक, संचालक के खिलाफ कड़ी कानूनी कार्यवाही की जाएगी। यह ध्यान रखा जाए कि होलिका दहन बिजली के तार के नीचे नहीं किया जाए। जिले में होली त्यौहार पर कलर की दुकानों में भीड़ नहीं लगाये तथा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन अनिवार्य होगा, साथ ही मास्क लगाया जाना अनिवार्य होगा नहीं तो संबंधित दुकानदार ओर खरीददार के खिलाफ जुर्माना लगाया जाएगा। 
 
+ Load More