Corona Update 04 Oct : प्रदेश में आज इतने मरीजों की हुई पुष्टि, इस जिले से मिले सबसे ज्यादा मामले, देखिए जिलेवार आंकड़ें    |    Corona Update 3 Oct : राज्य में कोरोना से 1 की मौत...इस जिले से मिले सबसे ज्यादा मामलें...देखें जिलेवार आंकड़ें    |    Corona Update 2 Oct : प्रदेश में आज मिले कोरोना के इतने मरीज, फिर इस जिले से सामने आए सर्वाधिक मामलें...देखें जिलेवार आंकड़े    |    TRANSFER BREAKING : लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग में बड़ी फेरबदल, कई अधिकारी कर्मचारी इधर से उधर...देखें पूरी लिस्ट    |    Corona Update 30 Sept : प्रदेश में आज इतने मरीजों की हुई पुष्टि, इस जिले से मिले सबसे ज्यादा मामले, देखिए जिलेवार आंकड़ें    |    कोरोना को लेकर राहत की खबर...24 घंटे में मिले इतने नए कोरोना के मरीज...देखिए जिलेवार आकड़े    |    कोरोना को लेकर राहत की खबर...24 घंटे में मिले इतने नए कोरोना के मरीज...देखिए जिलेवार आकड़े    |    Corona Update 26 September : छत्तीसगढ़ में आज मिले कोरोना के इतने नए मरीज...देखें जिलेवार आंकड़े    |    कोरोना को लेकर राहत की खबर...24 घंटे में मिले इतने नए कोरोना के मरीज...देखिए जिलेवार आकड़े    |    Corona Update 24 September : छत्तीसगढ़ में आज मिले कोरोना के इतने नए मरीज...देखें जिलेवार आंकड़े    |
कांग्रेसी नेता ने की आत्महत्या, सुसाइड नोट में सीएम से लगाई परिवार के सुरक्षा की गुहार

कांग्रेसी नेता ने की आत्महत्या, सुसाइड नोट में सीएम से लगाई परिवार के सुरक्षा की गुहार

 बिलासपुर : छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में एक कांग्रेसी नेता ने आत्महत्या कर ली है. नेता ने पेड़ से फंसी खुद की जान ले ली. मरने से पहले एक सुसाइड नोट भी छोड़ा जिसमे उन्होंने सरकार से अपने परिवार की सरक्षा की बात कही. और साथ ही में अपने परिवार वालों इ माफ़ी भी मांगी. वर्त्तमान में पुलिस इस घटना की जाँच कर रही है. मामला सरकंडा थाना क्षेत्र का है.

जानकारी के अनुसार सरकंडा थाना क्षेत्र में रहने वाले 52 वर्षीय रज्जब अली कांग्रेस के नेता हैं. रज्जब अली लंबे समय से कांग्रेस से जुड़े हुए हैं. मंगलवार को उनकी लाश पेड़ से लटकती मिली परिजनों के साथ ही मोहल्ले वालों को जानकारी लगने पर घटनास्थल पर भीड़ लग गई. पुलिस जानकारी मिलते ही मौके पर पहुंची. पुलिस ने शव को पेड़ से नीचे उतार कर मृतक के जेब की तलाशी ली. जिसमें एक सुसाइड नोट भी मृतक की जेब से निकला.

सीएम से लगाई परिवार की सुरक्षा की गुहार
मृतक ने सुसाइड नोट में अपने परिवार को अच्छे से रहने और मुस्लिम समाज द्वारा साथ देने की बात लिखी है. साथ ही मृतक ने प्रदेश के मुख्यमंत्री से खुद को कांग्रेस कार्यकर्ता बता परिवार की सुरक्षा की गुहार भी लगाई है. हालांकि किसी का भी नाम मृतक ने अपने सुसाइड नोट में नही लिखा है. पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम करवाया है. शव लेकर जाते समय परिजनों ने थोड़ी देर के लिए शनिचरी रपटा के पास शव गाड़ी में रखकर रोड जाम कर धरना दे दिया था. पर पुलिस वालों की समझाइश पर और लिखित शिकायत लेने व उचित कार्यवाही की समझाइश पर परिजनों ने जाम खोल दिया.

छत्तीसगढ़: फेस्टिव सीजन में यात्रियों के लिए राहत के कोच.. ट्रेनों की बढ़ी डिमांड, 18 ट्रेनों में लगेंगे एक्सट्रा कोच

छत्तीसगढ़: फेस्टिव सीजन में यात्रियों के लिए राहत के कोच.. ट्रेनों की बढ़ी डिमांड, 18 ट्रेनों में लगेंगे एक्सट्रा कोच

 बिलासपुर: त्योहारी सीजन में यात्रियों को कंफर्म बर्थ की सुविधा की दिक्कतें हो रही है। ऐसे में रेलवे ने 18 ट्रेनों में करीब एक माह के लिए एक्सट्रा कोच लगाने का फैसला लिया है। इससे यात्रियों को सफर करने में आसानी होगी और उन्हें कंफर्म बर्थ मिलने की उम्मीद है। रेलवे ने ट्रेनों में यात्रियों की बढ़ती डिमांड को देखते हुए यह फैसला लिया है। इसी तरह रेलवे ने दुर्ग-निज़ामुद्दीन-दुर्ग हमसफर एक्सप्रेस में दो एसी थ्री और दुर्ग-अजमेर-दुर्ग एक्सप्रेस में स्थाई रूप से एक एसी थ्री अतिरिक्त कोच की सुविधा उपलब्ध कराने की व्यवस्था की है।

कोरोना काल के दो साल बाद देश के साथ ही प्रदेश भर में उत्साह और उमंग का माहौल है। यही वजह है कि नवरात्र पर्व के साथ ही दशहरा और दीपावती के साथ ही छठ पर्व मनाने के लिए लोग तैयारी कर रहे हैं। ऐसे में लगातार यात्री ट्रेनें कैंसिल होने के चलते त्योहारी सीजन में सफर करने वाले लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है और उन्हें कंफर्म बर्थ के लिए मारामारी करनी पड़ रही है। स्थिति यह है कि ज्यादातर ट्रेनों में वेटिंग लिस्ट 250 से 350 तक पहुंच गया है। बाहर जाने वाले अधिकांश यात्री पहले से अपना टूर प्लान बनाकर बर्थ कंफर्म करा लिया है, जिसके चलते ट्रेनों में बर्थ के लिए मशक्कत करनी पड़ रही है।

एक महीने तक सफर होगा आसान।

एक महीने तक सफर होगा आसान।

रेलवे ने दी राहत, 18 ट्रेनों में लगेंगे एक्सट्रा कोच
रेलवे ने यात्रियों की दिक्कतों को ध्यान में रखते हुए सुध ली है और 18 ट्रेनों में एक्सट्रा कोच लगाने का फैसला लिया है। जारी आदेश के अनुसार 22867/ 22868 दुर्ग-निजामुद्दीन, दुर्ग द्विसप्ताहिक एक्सप्रेस, 18201/18202 दुर्ग – नौतनवा- दुर्ग एक्सप्रेस, 18203/18204 दुर्ग – कानपुर- दुर्ग एक्सप्रेस, 18205/18206 दुर्ग – नौतनवा – दुर्ग एक्सप्रेस, 18207/18208 दुर्ग – अजमेर – दुर्ग एक्सप्रेस, 20847/20848 दुर्ग – उदमपुर – दुर्ग एक्सप्रेस, 18213/18214 दुर्ग – अजमेर – दुर्ग एक्सप्रेस, 12853/12854 दुर्ग – भोपाल – दुर्ग अमरकंटक एक्सप्रेस, 18241/18242 दुर्ग- अम्बिकापुर – दुर्ग एक्सप्रेस, 18756/18755 अम्बिकापुर – शहडोल – अम्बिकापुर एक्सप्रेस, 18237/18238 कोरबा – अमृतसर- कोरबा छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस, 18234/18233 बिलासपुर – इंदौर – बिलासपुर एक्सप्रेस, 20843/20844 बिलासपुर – भगत की कोठी – बिलासपुर एक्सप्रेस, 20845/20846 बिलासपुर-बीकानेर – बिलासपुर एक्सप्रेस, 18236/18235 बिलासपुर – भोपाल – बिलासपुर एक्सप्रेस, 18247/18248 बिलासपुर- रीवा -बिलासपुर एक्सप्रेस, 18239/18240 कोरबा- इतवारी- कोरबा एक्सप्रेस, 12856/12855 इतवारी- बिलासपुर – इतवारी एक्सप्रेस में एक्सट्रा कोच लगाए जाएंगे।

ट्रेनों में यात्रियों की बढ़ी डिमांड तो रेलवे ने एक्सट्रा कोच से कंफर्म बर्थ उपलब्ध कराने किया प्रयास।

ट्रेनों में यात्रियों की बढ़ी डिमांड तो रेलवे ने एक्सट्रा कोच से कंफर्म बर्थ उपलब्ध कराने किया प्रयास।

दो एक्सप्रेस ट्रेनों में स्थाई कोच
रेलवे प्रशासन की ओर से यात्रियों की बेहतर सुविधा व एसी थ्री कोच में यात्रा करने वाले अधिकाधिक यात्रियों को कंफ़र्म बर्थ उपलब्ध कराने के लिए गाड़ी संख्या 22867/22868 दुर्ग-निज़ामुद्दीन-दुर्ग हमसफर एक्सप्रेस गाड़ी में दो अतिरिक्त स्थायी कोच और 18213/ 18214 दुर्ग-अजमेर-दुर्ग एक्सप्रेस में एक एसी थ्री अतिरिक्त स्थायी कोच की सुविधा उपलब्ध कराई गई है। यह सुविधा1नवंबर से दुर्ग से छूटने वाली 22867 दुर्ग-निज़ामुद्दीन हमसफर एक्सप्रेस और 2 नवंबर से निज़ामुद्दीन से छूटने वाली 22868 निज़ामुद्दीन-दुर्ग हमसफर एक्सप्रेस ट्रेन में उपलब्ध रहेगी। इसी तरह 6 नवंबर से दुर्ग से छूटने वाली 18213 दुर्ग-अजमेर एक्सप्रेस और 7 नवंबर से अजमेर से छूटने वाली 18214 अजमेर-दुर्ग एक्सप्रेस ट्रेन में एक्सट्रा कोच उपलब्ध रहेगी।

छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, पीएससी के रिजल्ट पर लगाई रोक, इस दिन होगी अगली सुनवाई

छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, पीएससी के रिजल्ट पर लगाई रोक, इस दिन होगी अगली सुनवाई

 बिलासपुर। छत्तीसगढ़ हाई कोर्ट ने फैसला लिया है। छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग में इंटरव्यू के अंतिम दिन परिणाम घोषित करने की परंपरा टूट गई। हाईकोर्ट ने परिणाम पर रोक लगा दी है. पिछले दिनों आरक्षण के संबंध में हाईकोर्ट के आदेश के परिप्रेक्ष्य में यह रोक लगाई गई है। इस मामले में अगली सुनवाई 17 अक्टूबर को होगी. 171 पदों के लिए 20 सितंबर से इंटरव्यू की शुरुआत हुई थी.

मुख्य परीक्षा के बाद 509 उम्मीदवारों का चयन इंटरव्यू के लिए किया गया था. 30 सितंबर को इंटरव्यू का अंतिम दिन था. वर्ष 2013 से यह परंपरा थी कि इंटरव्यू के अंतिम दिन ही परिणाम जारी किया जाता था. इस बार यह परंपरा टूट गई. हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस अरूप कुमार गोस्वामी और जस्टिस पीपी साहू की डिविजन बैंच ने इस महीने 19 सितंबर को अपने फैसले में 58% आरक्षण को रद्द कर दिया है.

हाईकोर्ट ने 50% से ज्यादा आरक्षण को असंवैधानिक बताया है. छत्तीसगढ़ पीएससी ने 58% आरक्षण के मुताबिक पदों का आरक्षण तय करते हुए एक दिसंबर 2021 को विज्ञापन जारी किया था. अब हाईकोर्ट के आदेश के मुताबिक नए सिरे से आरक्षण की प्रक्रिया तय करना होगा. इस संबंध में एक याचिका की सुनवाई के बाद जस्टिस पार्थ प्रतीम साहू ने नतीजे पर रोक लगा दी है.

पटवारी सस्पेंड, इस वजह से गिरी गाज, SDM ने की कार्रवाई

पटवारी सस्पेंड, इस वजह से गिरी गाज, SDM ने की कार्रवाई

 बिलासपुर। Suspend लापरवाही मामले में एक और पटवारी पर गाज गिरी है। SDM ने पटवारी को सस्पेंड कर दिया है। पटवारी का नाम भुवनेश्वर पटेल है, जो सीपत के जांजी तहसील में पदस्थ थे। जमीन बंटवारे को लेकर सीपत तहसीलदार ने प्रतिवेदन प्रस्तुत करने के लिए उन्हें निर्देश दिया गया था, लेकिन 18 जुलाई के निर्देश को 16 सितंबर तक पूरा नहीं किया गया। भुवनेश्वर पटेल को सस्पेंड कर तहसील कार्यालय सीपत में अटैच किया गया है।

 

यात्रियों के लिए बड़ी खुशखबरी, तीन अक्टूबर से बिलासपुर – इंदौर फ्लाइट की शुरुआत

यात्रियों के लिए बड़ी खुशखबरी, तीन अक्टूबर से बिलासपुर – इंदौर फ्लाइट की शुरुआत

 बिलासपुर। हवाई सेवा के मामले में बिलासपुर जल्द ही इंदौर से भी जुड़ जाएगा। तीन अक्टूबर से बिलासपुर( bilaspur) इंदौर फ्लाइट की शुरुआत हो रही है, जो हफ्ते में चार दिन उपलब्ध होगी।

बिलासा बाई केंवटिन एयरपोर्ट से फिलहाल जबलपुर, प्रयागराज, दिल्ली और भोपाल के लिए फ्लाइट की सुविधा उपलब्ध थी। अब हवाई सेवा के नक्शे में इंदौर का भी नाम जुड़ जाएगा। बिलासपुर से बड़ी संख्या में लोग उज्जैन जाते हैं। यह फ्लाइट शुरू होने से उनके लिए आसानी( easy) होगी।

इंदौर के लिए फ्लाइट 11.35 बजे उड़ान भरेगी और 1.25 बजे पहुंचेगी

बिलासपुर से इंदौर के लिए फ्लाइट 11.35 बजे उड़ान भरेगी और 1.25 बजे पहुंचेगी। इसी तरह इंदौर के बिलासपुर के लिए फ्लाइट 1.55 बजे उड़ान भरेगी और 3.45 बजे पहुंचेगी। बिलासपुर एयरपोर्ट प्रबंधन ने नए फ्लाइट की लिए तैयारी शुरू कर दी है। केंद्रीय नागर विमानन मंत्रालय से मंजूरी के बाद एलायंस एयर कंपनी ने नई फ्लाइट सेवा का ऐलान किया है।

आरक्षण पर अर्जेंट हियरिंग आज, हाईकोर्ट के फैसले को दी चुनौती

आरक्षण पर अर्जेंट हियरिंग आज, हाईकोर्ट के फैसले को दी चुनौती

 बिलासपुर। प्रदेश में 58% आरक्षण को निरस्त करने के हाईकोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई है। सामाजिक कार्यकर्ता बीके मनीष ने हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ स्पेशल लीव पिटीशन दायर की है।छत्तीसगढ़ ( chhattisgarh) केलोक सेवा आयोग द्वारा राज्य सिविल सेवा के सफल अभ्यर्थियों की सूची 30 सितंबर को जारी होने की संभावना पर अर्जेंट हियरिंग का आवेदन किया है। मुख्य न्यायाधीश उनके आवेदन से सहमत हुए तो जल्दी ही इसको सुनवाई के लिए लिस्ट करने का आदेश जारी कर सकते हैं। आदिवासी समाज के नेता योगेश ठाकुर और जांजगीर-चांपा जिला पंचायत की सदस्य विद्या सिदार की ओर से भी दो याचिकाएं सर्वोच्च न्यायालय में दाखिल करने की तैयारी है।

IPS मुकेश गुप्ता को हाईकोर्ट से बड़ा झटका, पदोन्नति निरस्त करने के आदेश को ठहराया सही

IPS मुकेश गुप्ता को हाईकोर्ट से बड़ा झटका, पदोन्नति निरस्त करने के आदेश को ठहराया सही

 बिलासपुर। आईपीएस मुकेश गुप्ता के प्रमोशन निरस्त करने के मामलें में हाईकोर्ट की डिवीजन बैंच में सुनवाई हुई। चीफ जस्टिस अरूप कुमार गोस्वामी और जस्टिस दीपक तिवारी की डिवीजन बेंच ने सुनवाई के बाद प्रमोशन निरस्त करने के सरकार के फैसले को सही ठहराया है। इसके साथ ही कैट से उन्हें दी गई राहत के आदेश को भी निरस्त कर दिया गया है। कैट फिर सिंगल बैंच के द्वारा मुकेश गुप्ता के पक्ष में आदेश जारी किया गया था। जिसके खिलाफ शासन ने डबल बैंच में अपील की थी।

मुकेश गुप्ता ने शासन के आदेश के खिलाफ केंद्रीय प्रशासनिक अभिकरण में केस लगाया था। कैट ने उनके पक्ष में आदेश दिया और शासन के प्रमोशन निरस्त करने के आदेश पर रोक लगा दी थी। राज्य शासन ने कैट के इस फैसले को अवैधानिक बताते हुए हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी, जिस पर हाईकोर्ट ने रोक लगा दी थी। सभी पक्षों की सुनवाई के बाद हाईकोर्ट की सिंगल बेंच ने मुकेश गुप्ता के पक्ष में आदेश दिया और कैट के फैसले को सही ठहराया था।

राज्य शासन ने हाईकोर्ट की सिंगल बेंच के आदेश को डिवीजन बेंच को अपील की थी। शासन का पक्ष रखते हुए उपमहाधिवक्ता जितेंद्र पाली ने बताया था कि उन्हें केंद्र सरकार के परमिशन के बिना ही प्रमोशन दिया गया था। जबकि, इसके लिए केंद्र सरकार से अनुमति लेनी चाहिए थी। सभी पक्षों को सुनने के बाद डिवीजन बेंच ने फैसला सुरक्षित रखा था, जिस पर आज आदेश जारी करते हुए शासन की अपील को स्वीकार कर लिया है।

ये था मामला

निलंबित मुकेश गुप्ता को राज्य शासन ने पूर्व में 2018 में प्रमोशन देकर ADG से DG बना दिया था। तब प्रदेश में भाजपा की सरकार थी। इसके बाद कांग्रेस ने चुनाव जीता। सरकार ने उनके खिलाफ हुई शिकायतों के आधार पर जांच कराई। आरोप सही पाए गए और उनके खिलाफ अलग-अलग कई आपराधिक प्रकरण दर्ज किए गए। इसके साथ ही साल 2019 में उनके प्रमोशन आदेश को निरस्त कर दिया गया।

 
यात्रीगण कृपया ध्यान दें...रेलवे ने 74 ट्रेनों के समय सारिणी में किया बदलाव...देखें लिस्ट

यात्रीगण कृपया ध्यान दें...रेलवे ने 74 ट्रेनों के समय सारिणी में किया बदलाव...देखें लिस्ट

 बिलासपुर। छत्तीसगढ़ ट्रेन में सफर करने के लिए यह खबर बहुत जरूरी है। दरअसल, SECR ने 74 ट्रेनों के समय सारिणी में बदलाव कर दिया है।ट्रेनों की संयबद्धता और गति बढ़ाने की कवायद के चलते एक अक्टूबर से नई समय सारिणी( time) लागू की जा रही है।

देखें 74 ट्रेनों के समय सारिणी

इस दिन बिलासपुर आएंगे पीएम मोदी...एम्स का करेंगे विधिवत उद्घाटन

इस दिन बिलासपुर आएंगे पीएम मोदी...एम्स का करेंगे विधिवत उद्घाटन

 बिलासपुर: आखिरकार देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का बिलासपुर दौरा फाइनल हो (PM Modi will visit Bilaspur) ही गया. 5 अक्टूबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बिलासपुर दौरे पर आ रहे हैं. बिलासपुर दौरे पर वह बिलासपुर एम्स (PM Modi will inaugurate AIIMS Bilaspur) व हाइड्रो इंजीनियरिंग कॉलेज का लोकार्पण करेंगे. इसको लेकर बिलासपुर में तैयारियां शुरू हो गई हैं. सोमवार को खबर की पुष्टि करते हुए सदर विधायक सुभाष ठाकुर ने कहा कि प्रधानमंत्री कार्यालय से सूचना मिल गई है और 5 तारीख को पीएम मोदी का बिलासपुर दौरा तय हो गया है.

उन्होंने बताया कि इस दौरे के दौरान बिलासपुर नगर के लुहणू मैदान में एक विशाल जनसभा को भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संबोधित करेंगे. बता दें कि इससे पहले लगभग पांच साल पहले 3 अक्टूबर को देश के प्रधानमंत्री बिलासपुर आए थे और एम्स की आधारशिला यहां पर रखी थी. ऐसे में अब लगभग पांच साल के भीतर यह विशालकाय एम्स बनकर बिलासपुर में तैयार हो गया है और प्रधानमंत्री एक बार फिर इसका लोकार्पण करने के लिए बिलासपुर आ रहे हैं.

एम्स में मिलेगी ये सुविधाएं: गौरतलब है कि अखिल भारतीय आर्युविज्ञान संस्थान (एम्स) बिलासपुर अब जनता की सुविधा के लिए तैयार हो गया है. एम्स बिलासपुर के अस्पताल परिसर को पांच अलग-अलग ब्लॉक में विभाजित किया गया है. इसमें पहला ए ब्लॉक होगा, जिसमें 150 आईपीडी बेड स्थापित होंगे. उसके बाद बी ब्लॉक में 10 सुपर स्पेशलिटी बेड (Facilities at AIIMS Bilaspur) स्थापित होंगे. ब्लॉक सी में लैब, रेडियोलॉजिस्ट और पैथ लैब स्थापित कर दी गई है. ब्लॉक डी में दो ऑपरेशन थियेटर, दो जनरल ऑपरेशन थियेटर और एक गायनी ऑपरेशन थियेटर स्थापित होगा. इसके साथ यहां 10 बेड की व्यवस्था भी की गई है. अस्पताल परिसर का अंतिम और लास्ट ब्लॉक ई होगा, जिसमें 16 बिस्तर आईसीयू स्थापित कर दिए गए हैं.

मेडिकल कॉलेज व नर्सिंग संस्थान भी शुरू: एम्स बिलासपुर में अलग-अलग आठ होस्टल स्थापित हो चुके हैं. सभी नर्सिंग स्टॉफ, चिकित्सकों को रिहायशी की सुविधा एम्स बिलासपुर के अंदर दी जा रही है. एम्स में 12 जनवरी 2021 को ही एमबीबीएस की कक्षाएं शुरू कर दी गई थी और 50 सीटों पर बच्चों को पढ़ाया जा रहा था. अब इस वर्ष 100 सीटों को शुरू करने की तैयारी कर दी गई है. इसके साथ ही नर्सिंग कॉलेज में भी 60 सीटों पर नर्सिंग स्टाफ व अन्य को प्रशिक्षित किया जाएगा. एम्स परिसर में चार बड़े-बड़े सभागार 120 बच्चों की बैठने की क्षमता के साथ बनकर तैयार है.

बहू के साथ जेठ का था अवैध संबंध...भाई ने पैसा देकर करवा दी हत्या

बहू के साथ जेठ का था अवैध संबंध...भाई ने पैसा देकर करवा दी हत्या

बिलासपुर: तखतपुर थाना क्षेत्र में 24 सिंतबर को एक अधेड़ का शव मिला था, जिसकी गुत्थी सुलझाते हुए पुलिस ने 3 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने बताया कि मृतक के भाई ने ही गांव के दो लोगों को पैसा देकर उसकी हत्या करवा दी।

जानकारी के अनुसार मृतक सुंदरलाल कौशिक उम्र 52 साल, ग्राम खम्हरिया का निवासी था। वह 22 सितंबर को अपने फुफेरे भाई विनय कौशिक के घर देवरी जाने के लिए निकला था। इसके बाद से वह वापस नहीं लौटा था, परिजनों ने उसे ढूंढा, लेकिन वह नहीं मिला।

इस बीच पुलिस को 24 सितंबर को शिव तालाब की झाड़ियों में एक अधेड़ का शव मिला। जिसकी शिनाख्त सुंदरलाल कौशिक के रूप में हुई। पुलिस ने मामले में हत्या का अपराध दर्ज कर जांच शुरू की।

पुलिस को जांच के दौरान पता चला कि सुंदरलाल कौशिक अक्सर अपने ममेरे भाई विनय के घर जाता था। घटना के दिन भी वह भाई के घर जाने के लिए निकला था। इसके बाद उसका कुछ पता नहीं चला और उसकी लाश मिली। इसी संदेह के आधार पुलिस ने विनय कौशिक से पूछताछ की। पूछताछ में आरोपी विनय ने बताया कि वह गांव में खेती-किसानी करता है।

मृतक सुंदरलाल उसका ममेरा भाई था। वह उसकी खेती का काम देखता था और हमेशा घर आना-जाना करता था। उसने विनय की पत्नी से अवैध संबंध बना लिया था। इसकी जानकारी होने के बाद विनय ने उसकी हत्या करने की योजना बनाई। उसने गांव के ही दो व्यक्ति चंद्रपाल कौशिक और पिल्लू कौशिक को साजिश में शामिल किया और उन्हें 50 हजार रुपए में हत्या की सुपारी दे दी। जिससे दोनों ने उसकी हत्या करने के बाद शव को तालाब की झाड़ियों में फेंक दिया था। पुलिस ने मामले में तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

13 साल की लड़की से कलेक्ट्रेट कर्मी ने किया रेप...फिर इंस्टाग्राम में भेजने लगा अश्लील मैसेज..परिजनों ने मोबाइल चेक किया तो हुआ खुलासा

13 साल की लड़की से कलेक्ट्रेट कर्मी ने किया रेप...फिर इंस्टाग्राम में भेजने लगा अश्लील मैसेज..परिजनों ने मोबाइल चेक किया तो हुआ खुलासा

 बिलासपुर। जिले में 13 साल की लड़की से रेप करने वाले कलेक्ट्रेट कर्मी (collectorate personnel) को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपी युवक ने करीब साल भर इंस्टाग्राम पर दोस्ती किया, फिर गिफ्ट देने का झांसा देकर लड़की को अपने घर ले गया था और उससे दुष्कर्म किया था। इसके बाद से वह इंस्टाग्राम में गंदे-गंदे मैसेज भी करने लगा था। केस दर्ज होने के बाद से वह फरार हो गया था और एक माह से महाराष्ट्र में छिपा था। घटना सिविल लाइन थाना क्षेत्र की है।

मुंगेली जिले के लोरमी निवासी अनिरुद्ध राजपूत (31) कलेक्ट्रेट में कम्प्यूटर ऑपरेटर है। वह सिविल लाइन क्षेत्र के गवर्नमेंट क्वार्टर में रहता है। उसी मोहल्ले में रहने वाली 13 साल की लड़की को देखकर उसकी नीयत बिगड़ गई। तब बच्ची 7वीं में पढ़ती थी। जून 2021 में उसने लड़की को गिफ्ट देने के बहाने बुलाया और अपने कमरे में ले जाकर दुष्कर्म किया। आरोपी ने लड़की को डराया-धमकाया और किसी को बताने पर जान से मारने की धमकी भी दी थी। उसके डर से लड़की ने किसी को कुछ नहीं बताई थी।

 

लड़की का मोबाइल देखने पर हुआ खुलासा

लड़की से रेप करने के बाद आरोपी अनिरुद्ध उसे इंस्टाग्राम पर अश्लील मैसेज करता था और उसे परेशान करने लगा था। उसकी हरकतों से लड़की तंग आ गई थी। लेकिन, वह डर से परिजनों को कुछ नहीं बताई थी। लड़की का मोबाइल देखने के बाद परिजनों को उसकी हरकतों की जानकारी हुई। उन्होंने लड़की को समझाइश देकर पूछताछ की। इसके बाद नाराज परिजनों ने आरोपी युवक की जमकर पिटाई भी की थी, जिसकी वजह से आरोपी भाग गया था। इधर, मामला सामने आने के बाद परिजन ने उसके खिलाफ पुलिस से शिकायत की। लड़की का बयान दर्ज करने के बाद पुलिस ने आरोपी युवक पर केस दर्ज कर लिया।

नंबर ट्रैस करने पर गिरफ्तार हुआ फरार आरोपी 

इस घटना के बाद से पुलिस आरोपी युवक की तलाश कर रही थी। लेकिन, वह दो माह से मोबाइल बंद कर फरार था। पुलिस उसके परिजन और करीबियों के संपर्क में थी। कुछ दिन पहले ही उसने महाराष्ट्र के शिरडी से कॉल किया था। वह धर्मशाला में रहकर लंगर में खाना खाता था। पुलिस ने नंबर ट्रैस करके उसे दबोच लिया। पूछताछ में पता चला कि आरोपी युवक एक माह से शिरडी में छिपा था।

जिला न्यायाधीश लिखित परीक्षा का परिणाम जारी...यहां देखिए रिजल्ट

जिला न्यायाधीश लिखित परीक्षा का परिणाम जारी...यहां देखिए रिजल्ट

 बिलासपुर: छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय द्वारा छत्तीसगढ़ उच्चतर न्यायिक सेवा (भर्ती एवं सेवा शर्ते) नियम, 2006 के नियम (5) (ग) के अंतर्गत जिला न्यायाधीश (प्रवेश स्तर) सीधी भर्ती हेतु आयोजित लिखित परीक्षा 14 नवंबर 2021 के परिणाम की घोषणा कर दी गई है।

परीक्षार्थी अपना रिजल्ट छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय, बिलासपुर की वेबसाइट https://highcourt.cg.gov.in पर देख सकते हैं।

रायपुर कलेक्टर और एसएसपी को हाईकोर्ट ने जारी किया नोटिस...जानिये क्या है मामला

रायपुर कलेक्टर और एसएसपी को हाईकोर्ट ने जारी किया नोटिस...जानिये क्या है मामला

 बिलासपुर। नागरिक समिति की अवमानना याचिका पर रायपुर कलेक्टर और एसएसपी को नोटिस जारी किया गया है। ध्वनि प्रदूषण मामले में नियमों का सही ढंग से पालन नहीं करने को लेकर छत्तीसगढ़ नागरिक संघर्ष समिति की तरफ से बिलासपुर हाईकोर्ट ने अवमानना याचिका दायर की थी।

रायपुर शहर में प्रतिबंध के बावजूद गाड़ियों में बड़े-बड़े स्पीकर लगाकर बज रहे धुमाल डीजे के मामले में छत्तीसगढ़ नागरिक समिति ने छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट में अवमानना याचिका दायर की गई। याचिका की सुनवाई में न्यायमूर्ति पी. सेम कोशी और न्यायमूर्ति पी.पी.साहू की युगल पीठ ने दोनों अधिकारियों के विरुद्ध नोटिस जारी किया है। समिति की तरफ से अधिवक्ता सूर्या डांगी ने पक्ष रखा।

क्या अवमानना हुई

छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय ने पूर्व में नितिन सिंघवी द्वारा दायर याचिका में कोर्ट ने आदेशित किया था कि था कलेक्टर और एसपी यह सुनिश्चित करेंगे कि किसी भी वाहन पर साउंड बॉक्स रख कर ना बजे. गाड़ियों पर साउंडबॉक्स रखकर डीजे बजाने पर साउंड बॉक्स जप्त करना है और बिना मजिस्ट्रेट के आदेश के उन्हें नहीं छोड़ा जाना है. साउंड बॉक्स मिलने पर वाहन का रिकॉर्ड रखा जाए. दूसरी बार उसी गाड़ी पर साउंड बॉक्स बजाये जाने पर उस वाहन का परमिट निरस्त किया जावे और बिना उच्च न्यायलय के आदेश के कोई नया परमिट जारी नहीं किया जाये।

नहीं करते आयोजकों के खिलाफ कार्यवाही

पूर्व में दायर की गई जनहित याचिका में कोर्ट ने आदेशित किया था कि अगर कोई आयोजक पुलिस द्वारा मना करने के बावजूद भी डीजे बजाना बंद नहीं करता तो ध्वनि विस्तारक यंत्र जप्त करना है तथा उस आयोजक के विरुद्ध हाईकोर्ट में अवमानना याचिका दायर करना है। याचिका में बताया गया कि पुलिस ध्वनि विस्तारक यंत्र जप्त कर लेती है परंतु आयोजकों के खिलाफ हाईकोर्ट में अवमानना याचिका दायर नहीं करती। गत वर्ष राखी थाना और पुरानी बस्ती थाना में पुलिस द्वारा मना करने के बावजूद भी डीजे बजाया गया। इस साल भी कई प्रकरण हुए, गणेश उत्सव के दौरान 3 सितंबर की रात को शंकर नगर चौक पर गणेश उत्सव समिति द्वारा बजाए जा रहे डीजे को जप्त किया गया परंतु आयोजकों के खिलाफ हाईकोर्ट में अवमानना याचिका नहीं दायर की गई। पूर्व में दायर की गई जन हित याचिका में कोर्ट द्वारा कई निर्देश दिए गए थे पर आदेश के बावजूद सडकों पर धुमाल डी.जी बजते है। गणेश उत्सव के दौरान पांच दिन सडकों पर रात दिन धुमाल-डी.जी बजते रहे।

पहले भी की गई है अवमानना याचिका द्दायर

समिति ने सडकों पर बज रहे डी जी धुमाल और कोर्ट के आदेश का पालन नहीं करने के कारण पहले भी अवमानना याचिका द्दायर की थी। इससे पहले अधिवक्ता व्यास मुनि द्विवेदी ने भी अवमानना याचिका द्दायर की थी। कलेक्टर व पुलिस अधीक्षक ने अंडरटेकिंग दी थी की वो कोर्ट के आदेश का अक्षरतः पालन करवाएंगे, परन्तु कोर्ट के आदेश की अवमानना की गई। गणेश उत्सव के दौरान पुलिस की मनाही के बावजूद, पुलिस की मौजूदगी में ही सैकड़ों की संख्या में धुमाल डीजे बजे।

इससे पहले इसी मामले में 7 अप्रैल को कोर्ट ने राज्य को पालिसी बनाने और ध्वनि प्रदूषण पर शिकायत के लिए टोल फ्री नंबर जारी करने के निर्देश दिये थे। कोर्ट ने कहा था कि ध्वनि प्रदूषण को लेकर कोर्ट के पूर्व आदेश का अक्षरस पालन किया जाये।

पूर्व कलेक्टर और एसपी द्वारा दिए गए वचन पत्र को नए कलेक्टर और एसपी को समिति सोपे

कोर्ट ने नोटिस जारी करने के साथ-साथ छत्तीसगढ़ नागरिक संघर्ष समिति को आदेशित किया है कि वह पूर्व में दायर की गई अवमानना याचिका में रायपुर कलेक्टर और एसपी द्वारा दी गई अंडरटेकिंग की प्रति कलेक्टर तथा पुलिस अधीक्षक सौपे जिसमे अधिकारियों ने कोर्ट के आदेश का शबत: पालन करवाने की अंडरटेकिंग दी गई थी।गणेश विसर्जन के दौरान महिलाएं फोन कर सहयोग मांगती रहे।

समिति के डॉ राकेश गुप्ता ने चर्चा में बताया की गणेश विसर्जन के दोनों दिन उन्हें कई गर्भवती महिलायें फ़ोन कर डीजे की ध्वनि से छुटकारा पाने के लिए सहयोग मांगती रहीं। महिलाएं कहती रही की पुलिस खड़ी है पर कुछ नहीं कर रही। इन तथ्यों को ध्यान में रखते हुए उन्होंने समिति के सदस्यों से चर्चा की तथा शीघ्र ही अवमानना याचिका दायर की।पुलिस कर देती है 121 में फोन करने वाले का नाम उजागर।

डॉ गुप्ता ने बताया कि डीजे के लिए जारी किए गए नंबर और 121 में फोन करने पर आयोजकों को पुलिस शिकायतकर्ता का नाम बता देती है। जिससे बाद में आयोजकों द्वारा शिकायतकर्ता को परेशान किया जाता है। शहर में कई शिकायतकर्ता इसी कारण से परेशान किए गए। इस कारण से आम जनता ने 121 में शिकायत करना बंद कर दिया है। दीनदयाल नगर के ऐसे ही एक प्रकरण में एक महिला द्वारा पुलिस को फोन करने पर पुलिस ने डीजे बजवाने वाले आयोजकों को महिला का नाम बता दिया, जिसके बाद महिला को परेशान किया गया तथा उसके घर के सामने दूसरे दिन थाली बजाई गई। याचिका में यह तथ्य भी कोर्ट को बताया गया।

पुलिस द्वारा ज्यादा स्तर पर ध्वनि प्रदूषण की अनुमति दी गई

याचिका में बताया गया की साइलेंस जोन में अर्थात अस्पताल स्कूल के आसपास दिन के समय 50 डेसिबल से अधिक ध्वनि नहीं निकलनी चाहिए परंतु पुलिस द्वारा प्रेस विज्ञप्ति जारी करके साइलेंट जोन में 60 डेसीबल तक डीजे बजाने की अनुमति दी गई जो कि नाइस रूल्स के विरुद्ध है।कैमरे के डाटा सुरक्षित रखे।

समिति की तरफ से याचिका में बताया गया है कि उन्होंने कलेक्टर व एसपी को लिखित में निवेदन किया है कि गणेश विसर्जन के दौरान गाड़ियों में बजाए गए धुमाल-डीजे की सड़कों में लगे कैमरा से ली गई फोटो के डाटा को सुरक्षित रखवाया जावे ताकि उनके विरुद्ध कार्यवाही की जा सके।

बार में बवाल...छालीवुड एक्ट्रेस से मारपीट, युवती ने नाखून से नोंचा, थाने पहुंचा मामला

बार में बवाल...छालीवुड एक्ट्रेस से मारपीट, युवती ने नाखून से नोंचा, थाने पहुंचा मामला

 बिलासपुर: छत्तीसगढ़ एक्ट्रेस के साथ मारपीट का मामला सामने आया है। दरअसल एक पार्टी में किसी की जूती से उनका पैर लगा, जिस पर उन्होंने युवती को ऐसा करने कि लिए मना किया। इतने में गाली देते हुए युवती ने नाखून से एक्ट्रेस का चेहरा नोंच दिया। पुलिस ने मामले में केस दर्ज कर लिया है। घटना तारबाहर थाना क्षेत्र की है।

जानकारी के मुताबिक भिलाई के न्यू कुर्सीपार में रहने वाली 26 वर्षीय सान्या कम्बोज छत्तीसगढ़ी एक्ट्रेस हैं। वे 18 सितंबर से बिलासपुर में हैं। सान्या 18 सितंबर की रात अपने दोस्त हुरेन खान के साथ पार्टी करने लिंक रोड स्थित अमिगोस बार गई थी। यहां डांस फ्लोर पर सान्या अपने दोस्त के साथ डांस कर रही थी, तभी उनके पैर को किसी ने जूती से दबा दिया। पलट कर देखने पर पीछे लड़की खड़ी थी। सान्या ने उसे मना किया, तब लड़की ने गाली देना शुरू कर दिया।

रेल यात्रियों की बढ़ी परेशानी...रेलवे ने रद्द की 66 ट्रेनें...ये है वजह

रेल यात्रियों की बढ़ी परेशानी...रेलवे ने रद्द की 66 ट्रेनें...ये है वजह

 बिलासपुर।  सीजन में रेल यात्रियों की परेशान बढ़ने वाली है। दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे ने एक साथ 66 ट्रेनों को रद्द कर दिया है।

बताया कि रायगढ़-झारसुगुड़ा सेक्शन में चौथी लाइन का कार्य व ईब स्टेशन को चौथी लाइन से जोड़ने हावड़ा सेक्शन की 66 ट्रेनों को रद कर दिया गया। दोनों प्रमुख दिशाओं में परिचालन के लिए ट्रेनें ही नहीं बची हैं। आने वाले दिनों में यात्रियों को भारी परेशानियों से गुजरना होगा।

वहीं यात्रियों के लिए राहत की खबर ( good news) 

अनूपपुर-मनेंद्रगढ़, मनेंद्रगढ़-अंबिकापुर, और अंबिकापुर-शहडोल ट्रेन फिर से पटरी पर दौड़ेगी। रेल प्रबंधन ने बहाल हुई ट्रेनों के टाइम टेबल जारी किया है। ये ट्रेन 25 और 26 सितंबर से शुरू ट्रेनें होंगी।

जबलपुर-इंदौर के बीच प्रतिदिन चलने वाली

रेल मंत्रालय द्वारा गाड़ी संख्या 22191/22192 इंदौर-जबलपुर-इंदौर के बीच प्रतिदिन चलने वाली ओवर नाइट एक्सप्रेस का दिनांक 21.09.2022 से शुजालपुर स्टेशन पर प्रायोगिक तौर पर दोनो दिशाओं में छः माह के लिए ठहराव प्रदान किया गया है। गाड़ी की समय-सारणी- गाड़ी संख्या 22191 इंदौर-जबलपुर एक्सप्रेस शुजालपुर स्टेशन पर 21.42 बजे पहुँचकर, 21.44 बजे गन्तव्य के लिए प्रस्थान करेगी। इसी प्रकार गाड़ी संख्या 22192 जबलपुर-इंदौर एक्सप्रेस शुजालपुर स्टेशन पर 06.39 बजे पहुँचकर, 06.41 बजे गन्तव्य के लिये प्रस्थान करेगी।

छत्तीसगढ़ में 58% आरक्षण को HC ने किया खारिज, सरकार फैसले को SC में देगी चुनौती

छत्तीसगढ़ में 58% आरक्षण को HC ने किया खारिज, सरकार फैसले को SC में देगी चुनौती

 बिलासपुर: छत्तीसगढ़ सरकार आरक्षण मामले में हाईकोर्ट के फैसले को अब सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देगी। दरअसल, सोमवार को छत्तीसगढ़ हाई कोर्ट ने यहां लागू 58 प्रतिशत आरक्षण को लेकर महत्वपूर्ण फैसला करते हुए इसे खारिज कर दिया है। जिसके बाद हाईकोर्ट के फैसले से सरकार असंतुष्ट है। अब हाईकोर्ट के फैसले को राज्य सरकार सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देगी। राज्य सरकार ने कहा कि अजा-जजा के हितों के लिए अंतिम सीढ़ी तक लड़ाई लड़ेंगे।

बता दें कि छत्तीसगढ़ सरकार ने 2012 में 58 फीसदी आरक्षण की अधिसूचना जारी की थी, जिसे हाई कोर्ट ने रद्द कर दिया है। कोर्ट ने कहा कि आरक्षण को 50 से बढ़ाकर 58 फीसदी करना असंवैधानिक है। कोर्ट ने आबादी के अनुसार आरक्षण देने को भी गलत माना है। इस अधिसूचना के बाद प्रदेश में सारी सरकारी नियुक्तियां इसी आधार पर हुईं। महाधिवक्ता ने कहा कि चूंकि कोर्ट ने इन नियुक्तियों को लेकर कुछ नहीं कहा है, इसलिए ये यथावत रहेंगी।

उच्च न्यायालय ने आरक्षण को लेकर 2012 में लगाई गई याचिकाओं की सुनवाई करते हुए यह फैसला दिया। तब तत्कालीन राज्य शासन ने आरक्षण 59 प्रतिशत करने की अधिसूचना जारी की थी। इसके खिलाफ गुरु घासीदास साहित्य एवं संस्कृति एकेडमी, पीआर खुंटे और सत्यनाम सेवा संघ रायपुर सहित अन्य ने हाई कोर्ट में याचिका लगाकर इस अधिसूचना को चुनौती दी थी। इन याचिकाओं के बाद 17 और याचिकाएं दायर की गईं, जिन पर हाईकोर्ट में एक साथ सुनवाई हुई।

याचिकाकर्ताओं का तर्क था कि सरकार ने राज्य की आबादी के हिसाब से आरक्षण का रोस्टर जारी कर दिया है। इसके मुताबिक अनुसूचित जनजाति को 20 की जगह 32 फीसदी, अनुसूचित जाति को 16 की जगह 12 फीसदी और ओबीसी को 14 फीसदी आरक्षण का प्रावधान किया गया है। इससे आरक्षण का दायरा संविधान द्वारा निर्धारित 50 फीसदी से ज्यादा हो गया।इससे नौकरी और शैक्षणिक संस्थानों में प्रवेश में समस्याएं आ रही हैं।

गौरतलब है कि इन याचिकाओं पर 2012 से लगातार सुनवाई चल रही थी। 6 जुलाई 2022 को कोर्ट ने मामले में सभी पक्षों को सुनने के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया था। सोमवार को मामले में कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया। इसमें सरकार के नोटिफिकेशन को खारिज करते हुए नियम को खत्म कर दिया।

राज्य सरकार ने 2012 की तत्कालीन रमन सरकार को यह आरोप लगाकर कठघरे में खड़ा कर दिया कि उसने हाईकोर्ट में सही तरीके से तथ्य प्रस्तुत नहीं किए। तत्कालीन सरकार ने जानबूझकर अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के विकास एवं आवश्यकताओं की अनदेखी की।

जिला न्यायाधीश प्रवेश स्तर सीधी भर्ती परीक्षा के लिए प्रवेश पत्र जारी

जिला न्यायाधीश प्रवेश स्तर सीधी भर्ती परीक्षा के लिए प्रवेश पत्र जारी

 बिलासपुर: जिला न्यायाधीश ने (प्रवेश स्तर) के पद के लिए आवेदन आमंत्रित किया। सीधी भर्ती के लिए पात्र उम्मीदवार अपने प्रवेश पत्र छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय के वेबसाइट https://highcourt.cg.gov.in से डाउनलोड कर सकते है। बता दें कि यह परीक्षा 25 सितंबर 2022 को आयोजित की जाएगी।

छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट का महत्वपूर्ण फैसला, शैक्षणिक संस्थाओं में 58प्रतिशत आरक्षण असंवैधानिक…,50 फीसदी के अंदर होना चाहिए रिजर्वेशन

छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट का महत्वपूर्ण फैसला, शैक्षणिक संस्थाओं में 58प्रतिशत आरक्षण असंवैधानिक…,50 फीसदी के अंदर होना चाहिए रिजर्वेशन

 बिलासपुर। छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट की डिवीजन बेंच ने अपने महत्वपूर्ण फैसले में प्रदेश के इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेजों में 58% आरक्षण को असंवैधानिक करार दिया है। याचिकाकर्ताओं की दलीलों को स्वीकार करते हुए चीफ जस्टिस अरूप कुमार गोस्वामी और जस्टिस पीपी साहू की बेंच ने कहा कि किसी भी स्थिति में आरक्षण 50% से ज्यादा नहीं होना चाहिए।

हाईकोर्ट में राज्य शासन के साल 2012 में बनाए गए आरक्षण नियम को चुनौती देते हुए अलग-अलग 21 याचिकाएं दायर की गई थी, जिस पर कोर्ट ने करीब दो माह पहले फैसला सुरक्षित रखा था, लेकिन सोमवार को निर्णय आया है। राज्य शासन ने वर्ष 2012 में आरक्षण नियमों में संशोधन करते हुए अनुसूचित जाति वर्ग का आरक्षण प्रतिशत चार प्रतिशत घटाते हुए 16 से 12 प्रतिशत कर दिया था। वहीं, अनुसूचित जनजाति का आरक्षण 20 से बढ़ाते हुए 32 प्रतिशत कर दिया। इसके साथ ही अन्य पिछड़ा वर्ग के आरक्षण को 14 प्रतिशत यथावत रखा गया। अजजा वर्ग के आरक्षण प्रतिशत में 12 फीसदी की बढ़ोतरी और अनुसूचित जाति वर्ग के आरक्षण में चार प्रतिशत की कटौती को लेकर हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की गई थी।

इसके साथ ही कोर्ट में अलग-अलग 21 याचिकाएं दायर कर शासन के आरक्षण नियमों को अवैधानिक बताया गया। याचिकाकर्ताओं की तरफ से अधिवक्ता मतीन सिद्धिकी, विनय पांडेय और अधिवक्ता श्याम टेकचंदानी की ओर से कहा गया कि शासन का फैसला शीर्ष अदालत के निर्देशों और कानूनी प्रावधानों के खिलाफ है और इसे रद्द किया जाना चाहिए।

गुरु घासीदास साहित्य समिति ने अनुसूचित जाति का प्रतिशत घटाने का विरोध किया था। समिति का कहना था कि राज्य शासन ने सर्वेक्षण किए बिना ही आरक्षण का प्रतिशत घटा दिया है। इससे अनुसूचित जाति वर्ग के युवाओं को आगे चलकर नुकसान उठाना पड़ेगा। हाईकोर्ट की डिवीजन बेंच ने सभी पक्षों को सुनने के बाद 7 जुलाई को फैसला सुरक्षित रखा था, जिस पर हाईकोर्ट ने अहम फैसला सुनाया है।

59 लाख की गबन मामले में प्रधान आरक्षक गिरफ्तार, फंड शाखा प्रभारी के साथ मिलकर दी वारदात को अंजाम…

59 लाख की गबन मामले में प्रधान आरक्षक गिरफ्तार, फंड शाखा प्रभारी के साथ मिलकर दी वारदात को अंजाम…

 बिलासपुर। एसपी दफ्तर के फंड शाखा की प्रभारी ने प्रधान आरक्षक के साथ मिलकर 59 लाख रुपये का गबन करने का मामला प्रकाश में आया है। मामले में सिविल लाइन पुलिस ने प्रधान आरक्षक को गिरफ्तार किया है। वहीं पुलिस फरार महिला फंड प्रभारी की तलाश कर रही है।

बता दें कि एसपी दफ्तर के फंड शाखा प्रभारी मधुशीला सुरजाल जो एएसआई के पद पदस्थ है। उन्होंने लंबे समय से फंड शाखा की रकम में हवलदार संजय श्रीवास्तव के साथ मिलकर रकम की हेरफेर की। जब एसएसपी पारुल माथुर की नजर फाइलों की जांच के दौरान इस गड़बड़ी पर पड़ी, तो उन्होंने पतासाजी की तो पता चला कि

जीपीएफ़ समेत अन्य मद में रकम निकालने के लिए यदि कोई पुलिस कर्मचारी आवेदन देता है तो उसमें कूटरचना कर अधिक रकम फंड प्रभारी मधुशीला सुरजाल के द्वारा निकाल ली जाती है। वहीं इस मामले में एसएसपी पारुल माथुर ने फंड शाखा प्रभारी मधुशीला सुरजाल को लाइन अटैच करते हुए डीएसपी हेड क्वार्टर राजेश श्रीवास्तव को मामले की जांच के निर्देश दिए है।

तेज़ रफ्तार का कहर, ऑटो से टकराई तेज रफ्तार KTM...एक की मौके पर मौत...दूसरा घायल

तेज़ रफ्तार का कहर, ऑटो से टकराई तेज रफ्तार KTM...एक की मौके पर मौत...दूसरा घायल

 बिलासपुर। ऑटो से टक्कर में तेज रफ्तार बाइक सवार युवक की मौत हो गई और दूसरा युवक गंभीर रूप से घायल हो गया। बताया जा रहा है कि युवक KTM बाइक पर सवार थे और उसकी स्पीड 100 के करीब थी। तभी सामने से आ रही ऑटो से बाइक टकरा गई और युवक बाइक सहित गिर गए।घटना सकरी थाना क्षेत्र की है।

जानकारी के अनुसार सिविल लाइन थाना क्षेत्र के कुदुदंड निवासी गौरव सनाड्य (24) किराना दुकान चलाता था। वह अपने दोस्त राकेश दास के साथ KTM बाइक( bike) से कोटा गया था। कोटा में काम निपटाकर दोनों घर लौट रहे थे। अभी उनकी बाइक सकरी थाना क्षेत्र के भरनी-परसदा के पास पहुंची थी। उसी समय सामने से ऑटो आ रही थी। युवकों की बाइक और ऑटो दोनों काफी तेज रफ्तार( high speed) में थे। देखते ही देखते अचानक दोनों में टक्कर हो गई।

सिर में चोट लगने की वजह से गौरव की मौके पर ही मौत

सिर में चोट लगने की वजह से गौरव की मौके पर ही मौत हो गई। वहीं, दुर्घटना के बाद आटो भी सड़क से उतरकर पलट गई। घायल राकेश को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

दर्दनाक हादसा: दीवार गिरने से मासूम बच्ची की मौत, महिला की हालत गंभीर

दर्दनाक हादसा: दीवार गिरने से मासूम बच्ची की मौत, महिला की हालत गंभीर

 बिलासपुर: छत्तीसगढ़ की न्यायधानी बिलासपुर में मंगलवार की देर शाम दीवार गिरने से मासूम बच्ची की मौत हो गई और उसकी दादी गंभीर रूप से घायल है, जिन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बताया जा रहा है कि बच्ची कमरे में अपनी दादी के साथ खेल रही थी, तभी बारिश की वजह से मिट्‌टी की दीवार गिर गई और ये हादसा हो गया। घटना कोटा थाना क्षेत्र की है।

दीवार के नीचे दबी दादी और पोती
जानकारी के मुताबिक, कोटा क्षेत्र के ग्राम अमाली निवासी हितेश्वर विश्वकर्मा मजदूरी का काम करता है। घर में उसकी पत्नी, एक साल की बेटी नव्या विश्वकर्मा और मां रोमतीन बाई (63) रहती हैं। मंगलवार की देर शाम अचानक मिट्‌टी की दीवार गिर गई, जिससे नव्या के साथ रोमतीन भी दीवार के नीचे में दब गई।

आवाज सुनकर पहुंची मां
दीवार गिरने के बाद कमरे में जोर की आवाज आई, जिसे सुनकर नव्या की मां दौड़ती हुई कमरे में गई, जहां दीवार में उसकी बेटी व सास दब गई थी। उसने शोर मचाकर आसपास के लोगों को बुलाया। जानकारी मिलते ही हितेश्वर भी घर पहुंचा। इस बीच पुलिस के डॉयल 112 को कॉल किया। तब तक लोगों ने मलबे में दबे महिला और मासूम बच्ची को बाहर निकाला।

अस्पताल में बच्ची की मौत, मां की हालत गंभीर
आनन-फानन में पुलिस कर्मी आशीष वस्त्रकार ने दादी और उसकी पोती को इलाज के लिए कोटा स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया, जहां जांच के बाद मासूम बच्ची नव्या को मृत घोषित कर दिया गया। वहीं, गंभीर रूप से घायल रोमतीन को प्राथमिक उपचार के बाद CIMS रेफर कर दिया गया।

बारिश की वजह से गिरी दीवार
बताया जा रहा है कि, हितेश्वर का मकान कच्ची मिट्‌टी से बना है। बारिश के चलते दीवार गीली हो गई थी। पिछले दो दिन से हो रही बारिश के चलते दीवार का नीचे का हिस्सा दब गया था। मंगलवार की शाम अचानक दीवार गिर गई और यह हादसा हो गया। पुलिस इस मामले की जांच कर रही है।

कोटा में दिल दहला देने वाली घटना, ट्रेन के सामने युवक ने कूदकर दी जान.. दो हिस्सों में कटा शरीर

कोटा में दिल दहला देने वाली घटना, ट्रेन के सामने युवक ने कूदकर दी जान.. दो हिस्सों में कटा शरीर

 बिलासपुर : कोटा में युवक ने ट्रेन के सामने कूदकर आत्महत्या कर ली जिसका शरीर दो हिस्सों में कट गया। सूचना मिलने पर कोटा पुलिस मौके पर पहुंचे। मृतक की पहचान ग्राम अजयपुर निवासी भरत लाल यादव उम्र 32 वर्ष के रूप में हुई। करगी रोड-सलका रेलवे स्टेशन के बीच डिपरापारा के पास ट्रेन के सामने कूदकर युवक ने आत्महत्या कर ली।

जिसका शरीर दो हिस्सों में कट गया। सूचना मिलने पर कोटा पुलिस मौके पर पहुंचे। मृतक भरत लाल यादव पिता पुन्नी लाल यादव उम्र 32 वर्ष निवासी ग्राम अजयपुर के रूप में हुई। कोटा पुलिस के अनुसार मृतक दिमाकी रूप से विक्षिप्त था जो इलाज के लिए अपने ससुराल ग्राम घोरामार आया हुआ था।दरअसल, कोटा पुलिस को सूचना मिली थी कि करगी रोड-सलका रेलवे स्टेशन के बीच डिपरापारा के पास ट्रैक पर एक युवक का शव पड़ा हुआ है।

जिसके दो टुकड़े हो रखे हैं। इस पर कोटा पुलिस के वहां पहुँची। पुलिस ने शव की तलाशी ली जिसमें मृतक की जेब में आधार कार्ड मिला जिससे मृतक की पहचान भरत लाल यादव पिता पुन्नी लाल यादव उम्र 32 वर्ष निवासी ग्राम अजयपुर के रूप में की गई। जिसके बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया।कोटा पुलिस ने बतलाया की मृतक दिमाकी रूप से विक्षिप्त था जिससे इलाज के लिए उसके ससुराल ग्राम घोरामार लेकर आये थे। मृतक नहाने जा रहा हूँ बोलकर मोटरसाइकिल से घर से निकला हुआ था।

पर मृतक करगी रोड-सलका स्टेसन के बीच डिपरापारा के पास ट्रेन के सामने कूदकर आत्महत्या कर ली। कोटा पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज आगे की कार्यवाही में जुट गई हैं।

जमीन विवाद में छोटे भाई ने बड़े भाई और भतीजों को चाकू से गोद डाला

जमीन विवाद में छोटे भाई ने बड़े भाई और भतीजों को चाकू से गोद डाला

 बिलासपुर। जमीन विवाद में छोटे भाई ने खूनी खेल खेला सगे बड़े भाई और दो भतीजो पर हसिया और चाकू से जानलेवा हमला कर उन्हें गोद डाला मरणासन्न स्थिति में पहुचे बड़े भाई और एक भतीजे की हालत गम्भीर है सूचना पाकर मौके पर पहुचे पुलिस डायल 112 के आरक्षक ने ततपरता दिखाते हुए तीनो घायलों को सिम्स पहुचाया। बचने के लिए अंधेरे का फायदा उठाकर भाग रहे आरोपी को 112 के चालक ने दौड़ाकर पकड़ा। देर रात आरोपी को सीपत थाना के सुपुर्द किया गया । सीपत पुलिस ने मामले में धारा 307 के तहत अपराध कायम किया है।

मामला सीपत थाना क्षेत्र के ग्राम मोहरा का है घायल मनहरण साहू पिता संतराम साहू उम्र 58 वर्ष और उसके छोटे भाई आरोपी गौरीशंकर साहू के बीच पिछले एक साल से जमीन विवाद चल रहा है। दोनों का मकान गांव में अगल-बगल है । गुरुवार की रात 10 बजे दोनों भाइयों के बीच एक बार फिर जमीन को लेकर झगड़ा हुआ। तैश में आकर आरोपी गौरी शंकर साहू ने अपने बड़े भाई मनहरण साहू पर धारदार हसिया से जानलेवा कर दिया। हमले में घायल मनहरण साहू लहूलुहान होकर गिर गया। मनहरण साहू के दोनों बेटे सरोज साहू उम्र 35 वर्ष,संदीप साहू उम्र 28 वर्ष पिता को बचाने पहुचे। खुंखार हो चुके गौरी शंकर साहू ने दोनों भतीजो पर चाकू से हमला कर दिया।

सूचना पर पुलिस डायल 112 तक पहुंची। जानकारी मिलते ही बिना समय गवाए आरक्षक रमेश राठौर और चालक अश्विनी साहू मोहरा पहुचे। इस दौरान भाइयों और भतीजों के बीच नी संघर्ष जारी था। आरक्षक रमेश और चालक ने घायलों को 112 में बिठाया। आरोपी को दौड़ाकर धर दबोचा। डायल 112 घायलों को सबसे पहले बिलासपुर सिम्स में भर्ती कराया। घायलों में एक की हालत गंभीर है। इसके बाद 112 वाहन में पकड़कर बैठाए गए आरोपी गौरीशंकर साहू को देर रात सीपत पुलिस के हवाले किया। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ धारा 302 के तहत मामला दर्ज किया है।

डायल 112 के आरक्षक की सक्रियता से बड़ा हादसा टला

मोहरा में भाई भतीजो के बीच का विवाद और भी आगे बढ़ सकता था। आरोपी भागने के फिराक में था। लेकिन समय रहते पुलिस डायल 112 के आरक्षक रमेश राठौर और चालक अश्विनी पहुंच गए। दोनों ने सजगता के साथ सूझबूझ दिखाते हुए मौके घायलों को बचाने के साथ आरोपी को धर दबोचा।।

13 साल की छात्रा से उसके ही दोस्तों ने बनवाया न्यूड VIDEO, फिर कर दिया वायरल

13 साल की छात्रा से उसके ही दोस्तों ने बनवाया न्यूड VIDEO, फिर कर दिया वायरल

 बिलासपुर: 13 साल की छात्रा को उसके ही स्कूल के दो दोस्तों ने धमकी देकर न्यूड VIDEO बनवा लिया और फिर सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। बताया जा रहा है कि छात्रा 8वीं में पढ़ती है, जबकि आरोपी स्टूडेंट्स 12वीं के छात्र हैं। फिलहाल पुलिस ने इस संबंध में दोनों आरोपियों पर FIR दर्ज कर ली है। मामला बिलासपुर के सरकंडा थाना क्षेत्र का है।

इंस्टाग्राम पर हुई दोस्ती
जानकारी के मुताबिक, दोनों लड़कों की इंस्टाग्राम पर छात्रा से दोस्ती हुई थी। इसके बाद वे आपस में चैटिंग करने लगे। इस दौरान एक लड़के ने छात्रा से उसका न्यूड वीडियो बनाकर भेजने के लिए कहा। इस पर छात्रा ने मना कर दिया। इस पर आरोपी लड़के ने उसे धमकी दी कि वह चैटिंग की जानकारी स्कूल में फैलाकर बदनाम कर देगा।

धमकी से डर छात्रा ने बनाया वीडियो
इस पर छात्रा डर गई और उसने खुद का न्यूड वीडियो बनाया और आरोपी लड़के के मोबाइल पर भेज दिया। इसके बाद आरोपी ने दूसरे लड़के को वीडियो दिखाया। उसने भी छात्रा को धमकी दी और वीडियो मंगवा लिया। आरोप है कि दोनों लड़कों ने छात्रा के न्यूड वीडियो को सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया।

सहेलियों ने पेरेंट्स को दी जानकारी
छात्रा का न्यूड VIDEO सोशल मीडिया में वायरल होने लगा, तो उसकी सहेलियों को इसका पता चला। उन्होंने घर में अपने पेरेंट्स को इसकी जानकारी दी। वहां से छात्रा के परिजनों को इसके बारे में पता चला। उन्होंने बेटी से पूछताछ की तो सारा मामला सामने आ गया। फिलहाल दोनों आरोपी लड़के फरार हैं।

निलंबित आईपीएस मुकेश गुप्ता फिर सुर्खियों में, प्रमोशन पर सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने सुरक्षित रखा फैसला…

निलंबित आईपीएस मुकेश गुप्ता फिर सुर्खियों में, प्रमोशन पर सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने सुरक्षित रखा फैसला…

 बिलासपुर। निलंबित आईपीएस मुकेश गुप्ता के प्रमोशन मामले में राज्य सरकार की ओर से हाईकोर्ट में याचिका दायर की गई थी. सभी पक्षों की बहस पूरी होने के बाद हाईकोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा है.

दरअसल, कैट द्वारा प्रमोशन के पक्ष में आदेश के विरुद्ध राज्य शासन के द्वारा अपील दायर की गई थी. बीते 4 जुलाई को सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने प्रमोशन पर स्टे दिया था. आज शासन की ओर से सुप्रीम कोर्ट के सीनियर वकील मुकुल रोहतगी ने बहस की है.बता दें कि राज्य शासन ने मुकेश गुप्ता के 3 साल पूर्व हुए प्रमोशन को निरस्त कर दिया था. इसके खिलाफ मुकेश गुप्ता ने कैट में याचिका दायर की थी. कैट ने सुनवाई के बाद मुकेश गुप्ता की पदस्थापना का आदेश दिया था, जिसे राज्य शासन ने हाईकोर्ट में चुनौती दी थी.

+ Load More