कोरोना अपडेट : प्रदेश के इस जिले में कोरोना ने ढाया कहर, छत्तीसगढ़ में कल के मुकाबले आज बढ़ी नए कोरोना मरीजों की संख्या    |    बड़ा हादसा: खाई में गिरी मेटाडोर ,10 की मौत व 15 घायल, पीएम मोदी ने जताया शोक    |    कोरोना अपडेट : प्रदेश में आज 2 की हुई मृत्यु, आज इतने मरीजों की हुई पहचान, देखे जिलेवार आकड़े    |    मौसम अलर्ट: उत्तर-पूर्वी मानसून की आहट से इन राज्यों पर मंडराया बारिश का खतरा    |    बड़ी खबर: पटाखे की गोदाम में लगी भयानक आग से 5 की गई जान, 9 लोग घायल    |    कोरोना अपडेट : प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में फिर पैर पसारने लगा है कोरोना, छत्तीसगढ़ में आज इतने मरीजों की हुई पहचान    |    बदल गए पेंशन के नियम, 30 नवंबर तक ये काम ना किया तो रुक जाएगी पेंशन    |    कोरोना अपडेट : प्रदेश के इस जिले में हुआ कोरोना विस्फोट, धीरे धीरे फिर से बढ़ रहे है एक्टिव मरीजो की संख्या, देखें जिलेवार आंकड़े    |    बड़ी खबर: राज्यपाल की बिगड़ी तबियत, दिल्ली AIIMS में भर्ती    |    कोरोना अपडेट : प्रदेश के इन दो जिलों में हुआ कोरोना विस्फोट, आज प्रदेश में मिले इतने नए मरीज, देखें जिलेवार आंकड़े    |
Previous123456789...4748Next
राहुल से मिलने पहुंचे सीएम चन्नी, जारी है मीटिंग...

राहुल से मिलने पहुंचे सीएम चन्नी, जारी है मीटिंग...

नई दिल्ली: पंजाब के मुख्यमंत्री चरनजीत सिंह चन्नी दिल्ली पहुंचे हैं। दरअसल पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद राजनीतिक माहौल पूरी तरह गरमाया हुआ है। इसके मद्देनजर चन्नी राहुल गांधी के साथ मीटिंग कर रहें है।

बताया जा रहा है कि यह मुलाकात राहुल गांधी की आवास पर हो रही है। इस मुलाकात के दौरान पंजाब के राजनीतिक हालातों पर चर्चा किए जाने की संभावना है। आपको बता दे कि इससे पहले बीते दिन उपमुख्यमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने भी राहुल गांधी के साथ मुलाकात की थी।

कैप्टन ने किया नई पार्टी बनाने का ऐलान तो सिद्धू ने साधा निशाना, कहा...

कैप्टन ने किया नई पार्टी बनाने का ऐलान तो सिद्धू ने साधा निशाना, कहा...

चंडीगढ़: कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बुधवार को ऐलान किया कि वह एक नयी पार्टी बना रहे हैं और इसके नाम और चुनाव चिह्न को निर्वाचन आयोग की मंजूरी मिल जाने पर वह इसकी घोषणा करेंगे। कैप्टन की इस घोषणा पर पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने निशाना साधते हुए उन्हें `जयचंद` कहा।

दरअसल मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद कयास लगाए जा रहे थे कि अमरिंदर सिंह भाजपा में शामिल हो सकते हैं। वहीं अमित शाह से मुलाकातों के दौर ने इस कयास को और पुख्ता कर दिया था। लेकिन उन्होंने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में नई पार्टी बनाने की घोषणा कर दी। साथ ही उन्होंने दावा किया कि कांग्रेस के कई लोग उनसे संपर्क में हैं। वहीं सिद्धू ने पूर्व मुख्यमंत्री को ‘जयचंद’ करार देते हुए कहा कि वह मुख्यमंत्री के तौर पर भाजपा और अकाली दल के साथ मिले हुए थे।

सिद्धू ने अमरिंदर सिंह पर निशाना साधते हुए कहा कि वह ‘फूंके हुए कारतूस’ और राज्य की राजनीति के ‘जयचंद’ हैं। दोनों नेताओं के बीच ट्विटर पर भिडंत देखने को मिली। अमरिंदर सिंह ने कहा कि अगर सिद्धू प्रदेश कांग्रेस को बर्बाद करने पर आमादा हैं तो वह उनके काम को आसान बना रहे हैं।

सिद्धू ने ट्वीट किया, ‘क्या आपको सुशासन के कारण बड़े बेआबरू होकर हटना पड़ा? आपको पंजाब के राजनीतिक इतिहास के जयचंद के रूप में याद किया जाएगा। आप निश्चित तौर पर एक फूंके हुए कारतूस हैं।’ सिद्धू ने सवाल किया, ‘क्या यह तुच्छ बात थी कि आपको जवाबदेह ठहराने के लिए तीन सदस्यीय समिति का गठन किया गया? विधायक आपके खिलाफ क्यों थे? क्योंकि हर कोई जानता था कि आप बादल परिवार से मिले हुए हैं। आप मुझे हराना चाहते हैं। क्या आप पंजाब को जिताना चाहते थे?’ उन्होंने आगे कहा, ‘आप पंजाब के न्याय और विकास को रोकने वाली नकारात्मक शक्ति थे।’

सिद्धू ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री ने पहले भी अपनी पार्टी बनाई थी और चुनाव लड़ने पर उन्हें सिर्फ 856 वोट मिले। इस पर जवाब देते हुए अमरिंदर सिंह ने कहा, ‘सिद्धू, बेवकूफी भरी बातें करना आपकी आदत हो गई है। आप जिन 856 वोटों का मजाक बना रहे हैं वो मुझे खरड़ (क्षेत्र) से नामांकन वापस लेने के बाद मिले थे, क्योंकि मैं समाना से निर्विरोध जीत गया था। इसमें क्या बात है या फिर आपको बात समझ नहीं आती।’ उन्होंने यह भी कहा कि सिद्धू को उन पर हमला करने में समय जाया करने की बजाय अपने काम पर ध्यान देना चाहिए।

चुनावी रणनीतिकार की भविष्वाणी : दशकों तक मजबूत रहेगी भाजपा

चुनावी रणनीतिकार की भविष्वाणी : दशकों तक मजबूत रहेगी भाजपा

नई दिल्ली: साल 2024 में होने वाले लोक सभा चुनाव से पहले चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर (पीके) विपक्षी दलों को एकजुट करने में जुटे हैं। लेकिन इस बीच उनका कहना है कि अगले कई दशक तक भारतीय जनता पार्टी का दबदबा रहने वाला है और विपक्षी पार्टियों को कई दशकों तक बीजेपी से लड़ना होगा।

दशकों तक बीजेपी के दबदबे की भविष्यवाणी करने के साथ ही प्रशांत किशोर ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर भी निशाना साधा और कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी मोदी युग के अंत का इंतजार करना उनकी गलती है। उन्होंने कहा कि संभवतः वह किसी वहम में हैं कि भाजपा सिर्फ मोदी लहर तक ही सत्ता मे रहने वाली है।

प्रशांत किशोर ने इस साल पश्चिम बंगाल विधान सभा चुनाव में टीएमसी की जीत में अहम भूमिका निभाई थी, लेकिन इसके बाद उन्होंने ऐलान किया था कि वह ममता बनर्जी के साथ काम नहीं कर रहे हैं। हालांकि अब वह पर्दे के पीछे रहकर काम रहे हैं और गोवा में अगले साल होने वाले विधान सभा चुनावों में टीएमसी की जमीन तलाशने पहुंचे हैं।

हाल ही में खबर आई थी कि प्रशांत किशोर जल्द ही कांग्रेस ज्वाइन कर सकते हैं और उन्होंने सोनिया गांधी के अलावा राहुल गांधी और प्रियंका गांधी से भी मुलाकात की थी। प्रशांत किशोर को कांग्रेस में शामिल करने को लेकर पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने वरिष्ठ नेताओं से राय भी मांगी थी। हालांकि कई दौर की वार्ता के बाद भी बात न बनने पर अब प्रशांत किशोर एक बार फिर से टीएमसी के साथ काम कर रहे हैं।

राजनीति के केंद्र में रहेगी भाजपा : प्रशांत किशोर
प्रशांत किशोर ने गोवा के म्यूजियम में एक कार्यक्रम के दौरान कहा, `भाजपा आने वाले कई दशक तक भारतीय राजनीति के केंद्र में बनी रहेगी और इससे फर्क नहीं पड़ता है कि वह हारे या जीते। ठीक वैसे ही जैसे कांग्रेस के 40 साल थे। उसी तरह भाजपा कहीं नहीं जा रही है।` उन्होंने कहा, `भारत में जब एक बार आप 30 फीसदी वोट पा लेते हैं तो इतनी जल्दी कहीं नहीं जा रहे। आप इस भ्रम में न रहें कि लोग गुस्सा हो रहे हैं और वे मोदी को उखाड़ फेकेंगे। हो सकता है लोग मोदी को हटा दें, लेकिन भाजपा फिर भी राजनीति के केंद्र में बनी रहेगी और कई दशक तक आपको बीजेपी का सामने करना पड़ेगा।`

इसके साथ ही प्रशांत किशोर ने राहुल गांधी पर निशाना साधा और कहा कि वह मोदी की ताकत नहीं समझ रहे हैं। वह सोचते हैं कि कुछ समय की बात है, लोग मोदी को सत्ता से बेदखल न कर देंगे, लेकिन यह नहीं होने वाला है।` उन्होंने कहा, `जब तक आप मोदी की ताकत समझ नहीं लेते और उनकी मजबूती को मान नहीं लेते, तब तक आप उनका सामना नहीं कर पाएंगे। लोग मोदी की ताकतों को समझने में ज्यादा समय नहीं दे रहे और वे ये नहीं समझ रहे हैं कि मोदी इतने पॉपुलर कैसे हो रहे हैं। उनका सामना करने के लिए इसका पता होना बहुत जरूरी है।`

बड़ी खबर: शाह से मुलाकात करेंगे कैप्टन, इन मुद्दों पर होगी चर्चा

बड़ी खबर: शाह से मुलाकात करेंगे कैप्टन, इन मुद्दों पर होगी चर्चा

नई दिल्ली: पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने तीन कृषि कानूनों का समाधान निकालने के प्रयास शुरू कर दिए हैं। गुरुवार को वह कानूनों के विरोध में चल रहे आंदोलन को समाप्त कराने के लिए दिल्ली में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात करेंगे। इस दौरान उनके साथ पंजाब के कृषि विशेषज्ञ और कुछ किसान भी मौजूद रहेंगे।

कैप्टन ने कहा है कि वह इसका समाधान निकाल सकते हैं। अभी तक किसान नेताओं की केंद्र के साथ चार अधूरी बैठकें हुई हैं लेकिन परदे के पीछे दोनों के बीच वार्ता चल रही है। चंडीगढ़ में मंगलवार को एक होटल में पत्रकारों से बातचीत करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री ने इस बात का खुलासा करते हुए कहा कि किसान आंदोलन के समाधान के लिए कोई पूर्व-निर्धारित फॉर्मूला नहीं हो सकता है, बातचीत के दौरान कुछ सामने आएगा।

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार और किसान दोनों ही कृषि कानूनों से उत्पन्न संकट का अब समाधान चाहते हैं। उन्होंने यह स्पष्ट किया कि वह अभी तक इस मामले में किसी भी किसान नेता से नहीं मिले हैं। इसके पीछे की वजह यह है कि किसान नहीं चाहते हैं कि उनके आंदोलन में कोई राजनेता शामिल हो। पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह इससे पहले भी केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से किसानों के आंदोलन को लेकर वार्ता कर चुके हैं।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष साय ने कहा- कांग्रेस के लोग एक तरफ़ मारपीट करके आतंक फैला रहे हैं, तो दूसरी तरफ़ मीडिया और पत्रकार जगत के दमन में लगे हुए हैं

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष साय ने कहा- कांग्रेस के लोग एक तरफ़ मारपीट करके आतंक फैला रहे हैं, तो दूसरी तरफ़ मीडिया और पत्रकार जगत के दमन में लगे हुए हैं

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने मंगलवार को महासमुन्द के आबकारी दफ़्तर में कांग्रेस विधायक और संसदीय सचिव की मौज़ूदगी में हुई मारपीट की घटना को प्रदेश के राजनीतिक इतिहास का सबसे काला अध्याय बताते हुए कांग्रेस, प्रदेश सरकार और विधानसभा अध्यक्ष से उन्हें कांग्रेस, संसदीय सचिव व विधानसभा की सदस्यता से बर्ख़ास्त करने की मांग की है। श्री साय ने जशपुर ज़िला कांग्रेस द्वारा कुनकुरी थाना प्रभारी को सभी न्यूज़ एजेंसी के ख़िलाफ़ एफ़आईआर करने के लिए पत्र लिखे जाने और कांग्रेस विधायक यूडी मिंज द्वारा थाना प्रभारी को सौंपे जाने को कांग्रेस के अलोकतांत्रिक, असहिष्णु और अधिनायकवादी राजनीतिक चरित्र का परिचायक बताया है।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री साय ने कहा कि विधायक और संसदीय सचिव चंद्राकर की मौज़ूदगी में मंगलवार को जो कुछ हुआ, वह कांग्रेस के चरित्र की एक बानग़ी है। संसदीय सचिव के नाते प्रदेश सरकार का एक अंग होकर मारपीट करने वालों को अपने साथ लेकर आबकारी दफ़्तर पहुँचने की बात पीड़ित कर्मचारी ने अपनी शिकायत में कही है और यह भी कहा है कि विधायक और उनके समर्थकों ने कमरा बंद करके बेदम पीटा, जिससे पीड़ित बुरी तरह घायल हो गया। उसकी जान भी जा सकती थी।प्रशासनिक अधिकारियों व कर्मचारियों के साथ मारपीट और उन पर जानलेवा हमला करती कांग्रेस नेताओं और जनप्रतिनिधियों और उनकी गुण्डावाहिनियों की आपराधिक क़रतूतों के चलते जंगलराज जैसा आलम पूरे प्रदेश में देखा जा रहा है। कांग्रेस के लोग सत्ता की धौंस दिखाकर प्रदेश को अराजकता के गर्त में धकेल रहे हैं।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री साय ने कहा कि जशपुर के कांग्रेस कार्यकर्ता सम्मेलन में कांग्रेस के पूर्व जिलाध्याक्ष से कांग्रेस के ही भूपेश गुट द्वारा की गयी मारपीट से जुड़ी ख़बरें व वीडियो प्रसारित होने पर कांग्रेस के लोगों का मीडिया के ख़िलाफ़ प्रलाप करना समझ से परे है। यह मीडिया, सोशल मीडिया के प्रति कांग्रेस और उसकी सरकार के दुराग्रहों का परिचायक है। कांग्रेस के लोग ऐसी हरक़तें करके अब मीडिया को खुले तौर पर धमकाने में लगे हैं। श्री साय ने कहा कि टुकड़ा-टुकड़ा गैंग की अभिव्यक्ति की आज़ादी का झंडा उठाए देशभर में प्रलाप करती कांग्रेस आज अपने असहिष्णु चरित्र का परिचय दे रही है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल अनेक मौक़ों पर मीडिया के प्रति अपने दुराग्रह का प्रदर्शन करते देखे-सुने और पढ़े गए हैं, अब कांग्रेस के बाकी लोग भी उसी रास्ते उसी चरित्र का परिचय देने में लगे हैं।
 

भाजपा आदिवासी नृत्य महोत्सव पर सवाल खड़ा करके आदिवासी संस्कृति के संरक्षण का विरोध कर रही : सुशील आनंद शुक्ला

भाजपा आदिवासी नृत्य महोत्सव पर सवाल खड़ा करके आदिवासी संस्कृति के संरक्षण का विरोध कर रही : सुशील आनंद शुक्ला

रायपुर, भाजपा आदिवासी नृत्य महोत्सव पर सवाल खड़ा कर के आदिवासी संस्कृति के संरक्षण का विरोध कर रही है। प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला ने पूछा कि भारतीय जनता पार्टी को आदिवासियों से इतनी चिढ़ क्यों है? छत्तीसगढ़ में आदिवासी वर्ग की 32 प्रतिशत आबादी है राज्य के बड़े भू-भाग में आदिवासी रहते है। राज्य में विविध आदिवासी संस्कृतियां पुरातन समय से है। 15 साल तक छत्तीसगढ़ में भारतीय जनता पार्टी की सरकार थी। भारतीय जनता पार्टी ने कभी आदिवासी संस्कृति को बढ़ावा देने का प्रयास नहीं किया। आज जब मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में कांग्रेस की सरकार आदिवासियों की संस्कृति के साथ-साथ उनके आर्थिक शैक्षणिक उन्नति के लिये प्रयास कर रही है तो भारतीय जनता पार्टी को पीड़ा हो रही है। प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि राज्य में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद आदिवासियों की आर्थिक उन्नति के लिये वनोपजों के संग्रहण की परिधि को बढ़ाया गया। 7 वनोपजों की जगह 52 वनोपज की खरीदी शुरू की गयी। तेंदूपत्ता संग्राहकों को मानदेय 2500 से 4000 रु. किया गया। आदिवासियों की अधिग्रहित की गयी जमीनें वापस किया गया, 4.5 लाख वन अधिकार पट्टों के पुर्नसर्वेक्षण की प्रक्रिया शुरू की गई। बस्तर, सरगुजा के युवाओं को सरकारी नौकरी में अधिक भागीदारी देने के उद्देश्य से बस्तर सरगुजा में कनिष्ठ चयन बोर्ड का गठन किया गया। आदिवासी वर्ग के सम्मान के लिये विश्व आदिवासी दिवस पर शासकीय अवकाश घोषित किया गया। भारतीय जनता पार्टी चाहती तो वह भी 15 साल के शासनकाल में आदिवासी समाज के कल्याण के लिये योजना बनाती। भाजपा ने योजना तो नहीं बनाया आदिवासियों से 2003 के चुनाव में किया गया वायदा हर आदिवासी परिवार से एक को सरकारी नौकरी देने का और हर आदिवासी परिवार को 10 लीटर दूध वाली जर्सी गाय देने का वायदा भी पूरा नहीं किया था। आज भी भाजपा आदिवासी नृत्य महोत्सव का विरोध इसलिये कर रही है क्योंकि 2018 के विधानसभा चुनाव में इस वर्ग की अधिकांश विधानसभा सीट भाजपा हार गई थी। 

पेट्रोल-डीजल के बढ़ती दामों से जनता परेशान, इन मुद्दे पर चर्चा करने से डरते है नरेंद्र मोदी : वंदना राजपूत

पेट्रोल-डीजल के बढ़ती दामों से जनता परेशान, इन मुद्दे पर चर्चा करने से डरते है नरेंद्र मोदी : वंदना राजपूत

रायपुरत्यौहार सिर पर है और महंगाई की मार बढ़ती ही जा रही है प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता वंदना राजपूत ने कहा कि पेट्रोल ,डीजल तथा रसोई गैस सिलेंडर के दामों में बढोत्तरी पर पुरजोर विरोध करते हुए कहा कि महंगाई का विकराल रूप से माताएँ एवं महिलाएं चिंतित एवं परेशान है त्योहारों के इस सीजन में रिकॉर्डतोड़ महंगाई ने हर घर का बजट बिगाड़ कर रखा दिया है। पिछले साल त्योहारों पर कोरोना की मार थी तो इस बार बेलगाम महंगाई की मार त्योहारों पर दिखाई पड़ रही है।

वंदना राजपूत ने कहा कि कोरोनाकाल और उसके बाद पेट्रोल और डीजल का हर नए दिन के साथ रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंचना महंगाई की आग में घी का काम कर रहा है। पेट्रोल के दाम 106 रुपये लगभग हो गया है वही पेट्रोल 104 रुपये पहुंच गया पेट्रोल हो, डीजल हो या सीएनज-पीएजी हो, हर चीज़ का दाम बढ़ता जा रहा है। इन सबके महंगा हो जाने से ट्रांसपोर्टेशन भी महंगा हो रहा है, जिसका सीधा असर गरीबों के जेब पर पड़ रहा है। बढ़ती महंगाई ने महिलाओं के किचन का बजट बिगड़ गया है। दिपावली त्यौहार को लेकर पहले महिलाएं बहुत ही उत्साहित रहती थी। लेकिन बढ़ती महंगाई से महिलाएं हताश हो गई है आमदनी चौवन्नी और खर्च रूपये हो गया। मोदी की मेहरबानी से दिवाली, दिवाला बन गया है।
वंदना राजपूत ने कहा कि महंगाई ने जनता की जीना दूभर कर दी है और आम इंसान की कमर तोड़ दी है। बढ़ती महंगाई के लिए सबसे ज्यादा जिम्मेदार पेट्रोल और डीजल के बढ़ते दाम हैं, पेट्रोल डीजल के बढ़ते दामों से हर चीज के दाम बढ़ते ही जा रहे हैं। पहले मोदी सरकार महंगाई पर घंटों भाषण देते थे अब महंगाई पर चुप हो गये। नरेंद्र मोदी ही नही भाजपा के कोई भी नेता चाहे वो वित्त मंत्री सीता रमण हो या रमन सिंह हो, या राज्यसभा सभा सांसद सरोज पांडे, राज्य मंत्री रेणुका सिंह सभी महंगाई के मुद्दे पर चर्चा करने से डरते है।
वंदना राजपूत ने कहा कि एक ओर जनता महंगाई की मार से परेशान है। तो दूसरी ओर सरकार लगातार लोगों अच्छे दिन का सब्जबाग दिखाने की कोशिश में जुटी है। सरकारों के वादे और दावों के बीच पेट्रोल-डीजल से लेकर खाने के तेल के ऐतिहासिक दाम आम आदमी का तेल निकाल रहे है। केन्द्र सरकार बेलगाम महंगाई को नियंत्रण करने के लिए अभी तक कोई भी आवश्यक कदम नहीं उठाये है जो बहुत ही चिंता की विषय है। बहुत हुई महंगाई की मार जनता हो गई लाचार है।

कांग्रेस की मुश्किलें बढ़ी, इतने कार्यकर्ता बीजेपी में हुए शामिल, वित्त मंत्री ने दिलाई सदस्यता

कांग्रेस की मुश्किलें बढ़ी, इतने कार्यकर्ता बीजेपी में हुए शामिल, वित्त मंत्री ने दिलाई सदस्यता

खरगोन: MP कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है, चुनाव से पहले 200 कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस का साथ छोड़ दिया। मध्यप्रदेश में जोर-शोर से उपचुनाव का प्रचार जारी है। बीजेपी और कांग्रेस दोनों पार्टी के नेता ताबड़तोड़ जनसंपर्क कर वोट की अपील कर रहे हैं। इस बीच कांग्रेस को आज बड़ा झटका लगा है।


बीजेपी नेता सचिन बिरला की अगुवाई में 200 कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने बीजेपी की सदस्यता ली। विधायक निवास में आयोजित कार्यक्रम में बीजेपी में शामिल हुए। इस दौरान वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा भी कार्यक्रम में मौजूद रहे।

बड़ी खबर: कैप्टन अमरिंदर सिंह पंजाब में बड़े सियासी धमाके की तैयारी, इस तारीख को कैप्टन की प्रेस कांफ्रेंस

बड़ी खबर: कैप्टन अमरिंदर सिंह पंजाब में बड़े सियासी धमाके की तैयारी, इस तारीख को कैप्टन की प्रेस कांफ्रेंस

चंडीगढ़: पंजाब में बड़े सियासी धामके की तैयारियां चल रही हैं। पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह बुधवार सुबह 11 बजे चंडीगढ़ में प्रेस कांफ्रेंस करेंगे, कयास लगाए जा रहे हैं कि वे कांग्रेस को विधिवत तौर पर अलविदा कहकर अपनी नई पार्टी का एलान कर दें। वहीं कैप्टन के एलान के बाद से पंजाब कांग्रेस में हलचल तेज हो गई है। इसके अलावा कैप्टन भाजपा से गठजोड़, बीएसएफ के अधिकार क्षेत्र में बढ़ोतरी और अरूसा आलम के आईएसआई से रिश्ते को पर भी अपनी राय रखेंगे।

कैप्टन को भाजपा के साथ गठबंधन से गुरेज नहीं है लेकिन कांग्रेस उन्होंने कुबूल नहीं है। भाजपा के साथ भी कैप्टन अमरिंदर सिंह की नई राजनीतिक पार्टी का गठबंधन सशर्त होगा। अमरिंदर के लिए किसानों का मुद्दा बेहद अहम हैं। इनके समाधान के बगैर वह भाजपा से नाता नहीं जोड़ेंगे। अपने आधिकारिक फेसबुक पेज पर कैप्टन ने लिखा था कि केंद्र सरकार को पहले किसानों के समस्याओं का समाधान करना चाहिए, इसके बाद भारतीय जनता पार्टी से किसी भी राजनीतिक समझौते पर चर्चा की जाएगी। पंजाब में भाजपा को एक कद्दावर नेता की तलाश है। ऐसे में यह स्पष्ट है कि कैप्टन को अपने साथ लाने से पहले भाजपा को किसानों का मुद्दा हल करना होगा।

नाराज नेताओं पर नजर
वहीं कैप्टन की नई पार्टी में दूसरे दलों के नाराज नेता हिस्सेदार होंगे। पंजाब कांग्रेस के कई नेता भी कैप्टन की पार्टी का हिस्सा बन सकते हैं। विधानसभा टिकट बंटवारे के दौरान पंजाब कांग्रेस में असंतोष पनपने की आशंका है। अगर ऐसा होता है तो अमरिंदर सिंह इस अवसर को भुनाने की कोशिश जरूर करेंगे। वहीं शिअद से नाराज टकसाली नेताओं पर भी कैप्टन का फोकस है। हाल ही में कैप्टन अमरिंदर सिंह ने यह दावा किया था कि कई विधायक उनके संपर्क में हैं।

अरूसा पर छिड़ी रार पर भी रखेंगे पक्ष
वहीं अपनी पाकिस्तानी मित्र अरूसा आलम पर डिप्टी सीएम सुखजिंदर रंधावा के बयान के बाद भड़के कैप्टन ने सोमवार को ही कई बड़ी राजनीतिक हस्तियों के साथ अरूसा की फोटो शेयर की थी। 17 साल से अरूसा और कैप्टन के बीच दोस्ती है। कैप्टन ने अरूसा से अपनी दोस्ती को कभी नहीं छिपाया। दोनों की दोस्ती की चर्चा अमरिंदर सिंह की बायोग्राफी ‘कैप्टन अमरिंदर सिंह द पीपल्स महाराजा’ में एक अध्याय में है, जिसे मशहूर पत्रकार खुशवंत सिंह ने लिखा है। बुधवार की प्रेस कांफ्रेंस में कैप्टन अरूसा से जुड़े सवालों पर भी अपना पक्ष रख सकते हैं।

बीएसएफ मुद्दे पर केंद्र का समर्थन कर चुके हैं कैप्टन
पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बीएसएफ के अधिकार क्षेत्र को बढ़ाने के केंद्र के फैसले का समर्थन किया था। उन्होंने कहा था कि हमारे सैनिक कश्मीर में मारे जा रहे हैं। हम देख रहे हैं कि पाकिस्तान समर्थित आतंकियों द्वारा पंजाब में अधिक से अधिक हथियार और ड्रग्स पहुंचाए जा रहे हैं। बीएसएफ की बढ़ी मौजूदगी और ताकत ही हमें मजबूत बनाएगी। हमें केंद्रीय सुरक्षा बलों को राजनीति में नहीं घसीटना चाहिए। इससे इतर पंजाब सरकार इस मुद्दे के विरोध में विधानसभा सत्र बुलाने की तैयारी में है।

इस मशहूर राजनेता की राजनीति में फिर वापसी, कहा-मैं वापस आ गया हूं, अब मचेगी...........

इस मशहूर राजनेता की राजनीति में फिर वापसी, कहा-मैं वापस आ गया हूं, अब मचेगी...........

पटना: तीन साल बाद वापस बिहार लौटे राजद प्रमुख लालू यादव अपने पहले वाले सियासी अंदाज में लौट चुके हैं। इसकी शुरुआत उन्होंने पटना पहुंचने से पहले दिल्ली में बिहार कांग्रेस प्रभारी भक्त चरण दास के खिलाफ टिप्पणी से कर दी थी। मंगलवार को लालू यादव ने सुबह-सुबह ट्वीट कर केंद्र, राज्य और कांग्रेस पर हमला बोला। लालू यादव ने कहा कि देश की जनता विकल्प चाहती है और इसमें सबसे ज्यादा आगे कांग्रेस पार्टी की भूमिका होनी चाहिए। कांग्रेस की भूमिका राष्ट्रीय स्तर पर होनी चाहिए। कांग्रेस पार्टी के विषय में जो लोग बोलते हैं, किसी ने कांग्रेस पार्टी की हमसे ज्यादा मदद की है क्या? राजद मुखिया लालू यादव ने महंगाई और पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि देश में अब घी से महंगा तेल बिकेगा।

नीतीश कुमार पर भड़के लालू यादव
राजद प्रमुख लालू यादव एक के बाद एक ट्वीट कर एनडीए सरकार पर निशाना साधा। लालू यादव ने दूसरे ट्वीट में लिखा `नीतीश कुमार का गुणगान किया जा रहा है। बीजेपी और पीएम मोदी को सब पता है। हर कोई नारा लगा रहा है कि नीतीश कुमार जैसा प्रधानमंत्री होना चाहिए। उन्हें पीएम मटेरियल बताया जा रहा है। ये अहंकार और लालच है।`

दोनों सीट पर राजद की जीत पक्की- लालू यादव
कुशेश्वर स्थान और तारापुर में होने वाले उपचुनाव में रैली करने को लेकर लालू यादव ने कहा कि वह बुधवार (27 अक्तूबर) को दोनों विधानसभा क्षेत्रों का दौरा करेंगे। उन्होंने ट्वीट किया मंं अभी बीमारी में चल रहा था, लेकिन बिहारवासियों का मोह मुझे खींच कर लाया कि ऐसा महसूस हुआ कि वो लोग मुझे बुला रहे हैं इसलिए मैं निरोग हो गया। उन्होंने कहा कि इन दोनों सीटों का बहुत महत्व है, निश्चित रूप से इनके यहां भगदड़ मचेगी और हम लोग सरकार बनाएंगे।

तेजस्वी ने पार्टी को संभाला
लालू यादव ने भाजपा-जदयू पर तंज कसते हुए कहा कि बेईमानी से ये कब तक टिकेंगे? हम दोनों सीटों पर शानदार वोट से जीत रहे हैं। लालू यादव ने अपने छोटे बेटे की भी प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि मेरी गैरमजूदगी में तेजस्वी ने पार्टी को संभाला और अच्छा काम किया।

चंद्राकर  ने कहा कपोल कल्पित पोर्टल न्यूज़ के माध्यम से कांग्रेस को बदनाम करने की साजिश रची जा रही, ऐसे पोर्टलो के खिलाफ दर्ज हो FIR

चंद्राकर ने कहा कपोल कल्पित पोर्टल न्यूज़ के माध्यम से कांग्रेस को बदनाम करने की साजिश रची जा रही, ऐसे पोर्टलो के खिलाफ दर्ज हो FIR

रायपुर, छत्तीसगढ़ में जन-जन के दिलों में राज करने वाली भूपेश सरकार के लगातार विकास उन्मुखी कार्यों से जलन करने वाले तथाकथित विरोधी तत्वों ने अब मीडिया को माध्यम बनाकर कपोल कल्पित लेख जारी कराए जा रहे हैं। इन लेख के माध्यम से जहां कांग्रेस को कमजोर करने की कोशिश की जा रही है वही बेबुनियाद और बनाई हुई मनगढ़ंत बातों के माध्यम से सीधे तौर पर छत्तीसगढ़ के मुखिया भूपेश बघेल पर हमला किया जा रहा है ऐसी हरकत करने वाले तत्वों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करा कर उन्हें सलाखों के पीछे भेजने का काम छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी पिछड़ा वर्ग विभाग करेगी। उक्त बातें अपने प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी पिछड़ा वर्ग विभाग के प्रदेश अध्यक्ष डॉ चौलेश्वर चंद्राकर ने कही है।
कांग्रेस पिछड़ा वर्ग विभाग के प्रदेश अध्यक्ष डॉ चंद्राकर ने कहा कि गत दिनों एक पोर्टल न्यूज़ के माध्यम से आपत्तिजनक लेख प्रकाशित की गई है जिसमें कपोल कल्पित बातों की भरमार है। वही इस लेख से आपसी सौहार्द सामंजस्य के वातावरण को बिगाड़ने का काम किया गया। ऐसा लेख आपसी भाईचारा के लिए खतरा है। जारी पोर्टल न्यूज़ में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नाम पर ऐसे आपत्ति पूर्ण निराधार आरोप है जो मुख्यमंत्री के मानसम्मान के विपरीत है। यह पोर्टल न्यूज़ सुनियोजित ढंग से सरकार को अस्थिर बदनाम करने के लिए बनाया गया है। कांग्रेस पिछड़ा वर्ग विभाग के प्रदेश अध्यक्ष डॉ चंद्राकर ने कहा है कि यह पोर्टल न्यूज़ विध्नसंतोषी तत्वों ने जारी कराई गई है जो नहीं चाहते कि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार जनता की सेवा कर आगे बढ़े। यह समाचार छत्तीसगढ़ के पिछड़ा वर्ग से बनाए गए मुख्यमंत्री के मान सम्मान को ठेस पहुंचाने वाला समाचार है जिसे पिछडावर्ग कांग्रेस कदापि बर्दाश्त नहीं करेंगी। कांग्रेस पिछड़ा वर्ग विभाग के प्रदेश अध्यक्ष डॉ चंद्राकर ने कहा है कि उन्होंने छत्तीसगढ़ के सभी जिला अध्यक्षों को निर्देशित कर दिया है कि वह अपने अपने जिले से संबंधित थानों व एसपी को जाकर इस तरह के कपोल कल्पित समाचार के माध्यम से मुख्यमंत्री व कांग्रेस पार्टी को बदनाम करने वाले पोर्टल न्यूज़ पर एफआईआर दर्ज करा कर कड़ी कार्रवाई की मांग करें।
 

छत्तीसगढ़ में हुक्का बार और सरकारी शराब दुकान रमन सरकार की देन : धनंजय

छत्तीसगढ़ में हुक्का बार और सरकारी शराब दुकान रमन सरकार की देन : धनंजय

रायपुर, नेता प्रतिपक्ष के बयान पर कांग्रेस ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक को स्पष्ट करना चाहिए कि भाजपा गांजा तस्करी और हुक्का बार बंद करने के पक्ष में है कि नहीं? छत्तीसगढ़ में सरकारी शराब की दुकान और हुक्का बार कल्चर लाने वाले रमन भाजपा की ही सरकार है। छत्तीसगढ़ की संस्कृति कला आचार-विचार के विपरीत 15 साल तक रमन भाजपा की सरकार ने काम किया है। मुख्यमंत्री की सरकार छत्तीसगढ़ को नशा मुक्त बनाने के लिए प्रयास कर रही है। गांजा तस्कर, ड्रग तस्कर, हुक्का बार, शराब तस्कर के ऊपर कड़ी कार्यवाही के निर्देश दिए हैं। शराबबंदी के लिए तीन कमेटियों का गठन किया गया है सामाजिक कमेटी, प्रशासनिक कमेटी और राजनीतिक कमेटी जिसमें सभी दल के विधायकों को आमंत्रित किया गया है। दुर्भाग्य की बात है शराबबंदी के नाम से बनी राजनीतिक कमेटी में भाजपा के विधायक अब तक शामिल नहीं हुए हैं और भाजपा के नेता शराबबंदी के नाम से आरोप-प्रत्यारोप की राजनीति कर घड़ियाली आंसू बहा रहे हैं।
प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि छत्तीसगढ़ के पड़ोसी राज्य मध्यप्रदेश में भाजपा की सरकार महिलाओं के लिए अलग से शराब की दुकान खोलने की योजना ला रही है। गुजरात के फाइव स्टार होटलों में शराब परोसे जा रहे हैं। बिहार में शराब की तस्करी जोरों पर है। भाजपा शासित राज्यों में अवैध रूप से गांजा, ड्रग्स, शराब की तस्करी खुलेआम हो रही है। ऐसे में भाजपा नेताओं को स्पष्ट तौर पर छत्तीसगढ़ की जनता को बताना चाहिए कि मुख्यमंत्री ने शराबबंदी के लिए गठित राजनीतिक कमेटी में पूर्व मुख्यमंत्री एवं विधायक डॉ रमन सिंह, नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक, बृजमोहन अग्रवाल, अजय चंद्राकर सहित भाजपा के विधायक क्यों शामिल नहीं हुए हैं?
प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सरकार के अब तक के कार्यकाल में छत्तीसगढ़ में 70 से अधिक शराब की दुकानें आधा सैकड़ा से अधिक बीयर बार को बंद किया गया है। जहां पर जनता की आपत्ति आती है उस दुकान को तत्काल स्थानांतरित कर दिया जाता है। शराबबंदी के लिए गठित सामाजिक कमेटी की बैठक हो चुकी है। सभी समाज प्रमुख नोटबंदी की तरह शराबबंदी करने के खिलाफ है, क्योंकि 15 साल के रमन भाजपा शासनकाल में जिस प्रकार से रमन सिंह ने गांव-गांव तक घर-घर तक शराब को पहुंचाने का काम किया है। कांग्रेस सरकार लोगों को शराब की लत को छुड़ाने जागरूकता के माध्यम से लोगों को शराब की बुराईयों से अवगत करा शराब से दूर करना है। शराब की बुराई को पहले निकालना होगा और स्वास्थ्यगत परेशानियों से उनको बचाना होगा इसलिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार शराबबंदी की ओर स्टेप बाय स्टेप आगे बढ़ रही है।
 

धान ख़रीदी का समय सिर पर, लेकिन अभी तक ठोस व्यवस्था तय नहीं; मुख्यमंत्री बघेल बजाय यहाँ के किसानों की फ़िक्र करने के नौटंकी रचाकर उत्तरप्रदेश में सियासी लफ़्फ़ाजियाँ करते घूम रहे: भाजपा

धान ख़रीदी का समय सिर पर, लेकिन अभी तक ठोस व्यवस्था तय नहीं; मुख्यमंत्री बघेल बजाय यहाँ के किसानों की फ़िक्र करने के नौटंकी रचाकर उत्तरप्रदेश में सियासी लफ़्फ़ाजियाँ करते घूम रहे: भाजपा

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने प्रदेश सरकार को हर हाल में आगामी 01 नवंबर से धान ख़रीदी शुरू करने के लिए आग़ाह करते हुए कहा है कि विपक्ष में रहते कांग्रेस के नेता तत्कालीन प्रदेश सरकार के ख़िलाफ़ प्रलाप करते घूमते थे, अब सत्ता में आने के बाद वे ख़ुद धान ख़रीदी का काम 01 नवंबर से शुरू क्यों नहीं कर रहे हैं? मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पर दोगले मापदंड अपनाकर किसानों के साथ पाखंड और अन्याय करने के लिए निशाना साधते हुए श्री साय ने कहा कि धान ख़रीदी का समय सिर पर आ गया है, सरकार अभी भी ठोस व्यवस्था तय नहीं कर पाई है और मुख्यमंत्री बघेल बजाय यहाँ के किसानों की फ़िक्र करने के कांग्रेस के ‘ख़ानदान’ के प्रति स्वामीभक्ति दिखाने और सियासी नौटंकी रचाकर उत्तरप्रदेश में सियासी लफ़्फ़ाजियाँ करते घूम रहे हैं।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री साय ने कहा कि प्रदेश के ज़्यादातर हिस्सों में धान की ज़ल्दी पकने वाली फसल पककर तैयार हो गई है और किसानों ने उनकी कटाई भी कर ली है, लेकिन कुर्सी बचाने की आपसी कलह में उलझी प्रदेश सरकार ने अभी तक समर्थन मूल्य पर धान ख़रीदी की तारीख़ तक घोषित नहीं की है। इसके चलते अपनी कटी हुई फसल की सुरक्षा को लेकर किसान चिंतित हैं। प्रदेश सरकार की बदनीयती और कुनीतियों ने किसानों के पास न तो ख़लिहान रहने दिया और छापे मार-मारकर उनकी माई-कोठियाँ भी ख़त्म कर दी, जिनसे वे अपनी फसल को मौसम की मार, चोरी और चूहों से सुरक्षित रख पाते थे। श्री साय ने आरेप लगाया कि प्रदेश सरकार सूखत के चक्कर में हर साल धान ख़रीदी देर से शुरू करने के षड्यंत्र रच रही है। किसानों की फसल में कटने के समय जो नमी रहती है, वह नमी महीनेभर तक फसल कटकर यूँ ही पड़ी रहने के कारण 10 प्रतिशत तक कम हो जाती है और किसानों को इससे प्रति क्विंटल 200 रुपए तक का नुक़सान उठाना पड़ता है। श्री साय ने कहा कि अपने किसान विरोधी चरित्र के चलते प्रदेश की कांग्रेस सरकार सत्ता में आने के बाद से ही किसानों के साथ खुला अन्याय कर रही है। केंद्र सरकार द्वारा धान के समर्थन मूल्य में पिछले और मौज़ूदा वर्षों में की गई 390 रुपए प्रति क्विंटल बढ़ोतरी के सीधे लाभ से भी प्रदेश सरकार छल-कपट करके किसानों को वंचित रख रही है और अब धान ख़रीदी विलंब से करके सूखत का नुक़सान भी प्रदेश के किसानों के मत्थे मढ़कर उन्हें दोहरी मार झेलने के लिए विवश कर रही है।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री साय ने कहा कि भाजपा मौज़ूदा ख़रीफ सत्र की शुरुआत से ही प्रदेश सरकार को धान ख़रीदी के लिए पुख़्ता व्यवस्था तय कर लेने, किसानों को उनकी उपज का एकमुश्त पूरा भुगतान करने, 2500 रुपए प्रति क्विंटल के अलावा केंद्र द्वारा बढ़ाए गए समर्थन मूल्य का सीधा लाभ किसानों को देने, बारदानों का पूरा इंतज़ाम कर लेने के लिए आग़ाह करती आई है, लेकिन प्रदेश सरकार को सियासी लफ़्फ़ाजियों से ही फ़ुर्सत नहीं है, और किसानों के कल्याण के लिए कोई पहल करने की साफ़ नीयत अब भी इस सरकार में दूर-दूर तक कहीं नज़र नहीं आ रही है। श्री साय ने कहा कि पिछले वर्ष तक केंद्रीय पूल में लिए जाने वाले चावल की मात्रा को कम बताकर प्रदेश सरकार और कांग्रेस प्रलाप करती रही, जबकि तीन-तीन बार मोहलत लेकर भी प्रदेश सरकार अपने हिस्से का चावल केंद्रीय पूल में जमा नहीं करा सकी थी। अब इस वर्ष प्रदेश के किसानों के हितों को ध्यान में रखकर केंद्र सरकार 60.65 लाख मीटरिक टन चावल केंद्रीय पूल में लेने को सहमत हो गई है तो प्रदेश सरकार और कांग्रेस के लोग उसना चावल के लिए रूदाली-रूदन का शोर मचा रहे हैं। श्री साय ने कहा कि प्रदेश सरकार धान ख़रीदी से बचने के चाहे जितने षड्यंत्र और बहाने रचे, किसानों के साथ अन्याय करने की उसकी कपटपूर्ण चालें अब भाजपा क़तई नहीं चलने देगी।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री साय ने कहा कि प्रदेश की तुग़लक़ी कांग्रेस सरकार को अपने नाकारापन का ठीकरा केंद्र पर फोड़ने की बुरी लत लगी हुई है। धान ख़रीदी समय पर वह नहीं करती, ख़रीदी केंद्रों से धान का समयबद्ध उठाव, परिवहन और सुरक्षित भंडारण वह नहीं करती, कमीशनखोरी के चलते कस्टम मिलिंग का काम महीनों वह लटकाए रहती है और अन्नदाताओं के परिश्रम से उपजे अन्न की बर्बादी वह करती है, लेकिन हर बात के लिए केंद्र की सरकार को कोसती है। श्री साय ने कहा कि प्रदेश के किसानों को रुला-रुलाकर ख़ैरात की तरह उनकी उपज का मूल्य किश्तों में देने की शर्मिंदगी तो इस सरकार को महसूस होती नहीं, उल्टे बिना बज़ट प्रावधान, विधानसभा के अनुमोदन और कैबिनेट की मंज़ूरी के कांग्रेस के राजनीतिक स्वार्थ और वोटों की फसल काटने के लिए छत्तीसगढ़ के आर्थिक संसाधनों को अपनी निजी सम्पदा मानकर उत्तरप्रदेश में जाकर लुटाने में भी इस सरकार को कोई झिझक नहीं हुई।
 

छत्तीसगढ़ की प्रत्येक कन्या को स्कूटी दे सरकार : दीक्षा अग्रवाल

छत्तीसगढ़ की प्रत्येक कन्या को स्कूटी दे सरकार : दीक्षा अग्रवाल

अंबिकापुर, भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेशाध्यक्ष अमित साहू के निर्देशानुसार छत्तीसगढ़ की कन्या शक्ति के नेतृत्व में प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नाम सरगुजा जिले में भी कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा गया।
विगत दो सालों से सरस्वती साईकल योजना का लाभ लाभार्थियों को नहीं पहुचा है। इस विषय का स्मरण कराने व गहरी निद्रा में पड़े छत्तीसगढ़ सरकार को जगाने साईकल चला कर कन्याशक्ति की बहनें कलेक्टरेट पहुंची।
भाजयुमो प्रदेश कन्याशक्ति संयोजिका दीक्षा अग्रवाल ने बताया कि कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा द्वारा यूपी में चुनावी घोषणा करके कहा गया कि चुनाव जीतने पर प्रत्येक लड़की को इलेक्ट्रिक स्कूटी बांटी जाएगी, जिसका प्रचार घूम-घूम के यूपी चुनाव समन्वयक भूपेश बघेल (मुख्यमंत्री,छत्तीशगढ़) द्वारा किया जा रहा है। जो कि घोर निंदनीय है। उन्होने बताया कि छत्तीसगढ़ में भूपेश बघेल की कांग्रेस सरकार बनने के पश्चात सरस्वती साईकल योजना को बंद कर दिया गया। अर्थात भाजपा सरकार द्वारा जो छात्राओं के हित में योजनाएं चलाई जा रही थी वो बंद कर दी गयी है। वही दूसरी ओर अपने प्रदेश की छात्राओं के साथ मुख्यमंत्री के द्वारा भेद भाव किया जा रहा है, प्रदेश की प्रत्येक कन्या को मिलने वाले लाभ से उन्हें वंचित रखा जा रहा है।
भाजयुमो यह मांग करती है कि चूंकि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार है अत: प्राथमिकता के आधार पर स्कूटी बांटने की शुरुआत सर्वप्रथम छत्तीसगढ़ प्रदेश से की जाए तथा प्रत्येक कन्या को उसका अधिकार मिले साथ ही गत 2 वर्षो की सरस्वती साईकल योजना के लाभार्थियों को जिन्हें अभी तक साईकल नही मिली है उन्हें भी साईकल के जगह अब स्कूटी बांटी जाए।
ज्ञापन सौंपने वालों में प्रिया सिंह, पूनम राजपूत, नेहा राजवाड़े, देवंती सिंह, स्नेहा दास, रिया लकड़ा, मुस्कान दास, प्रतिभा, आगरिया, काजल विश्वकर्मा, संजना भूमिया, रीना भूमिया, ममता लकड़ा, अमृता तिर्की, मांडवी भगत, प्रीति, संजना पैंकरा, आलिया भगत, सशिमा पैंकरा, रवीना सिंह, नेहा पैंकरा समेत अन्य कार्यकर्ता उपस्थित थे।
 

बड़ी खबर: प्रियंका गांधी की एक और घोषणा, कहा..............

बड़ी खबर: प्रियंका गांधी की एक और घोषणा, कहा..............

नोएडा: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने यूपी चुनाव को लेकर कुछ न कुछ घोषणाएं कर रही हैं। सोमवार सुबह भी ट्वीट कर एक वादा किया है।
उन्होंने कहा है कि अगर आगामी चुनाव के बाद यूपी में कांग्रेस की सरकार बनी तो सूबे में किसी भी बीमारी का 10 लाख तक का मुफ्त इलाज होगा।
प्रियंका गांधी ने सोमवार को एक ट्वीट कर कहा-कोरोना काल में और अभी प्रदेश में फैले बुखार में सरकारी उपेक्षा के चलते यूपी की स्वास्थ्य व्यवस्था की जर्जर हालत सबने देखी। सस्ते व अच्छे इलाज के लिए घोषणापत्र समिति की सहमति से यूपी कांग्रेस ने निर्णय लिया है कि सरकार बनने पर कोई भी हो बीमारी मुफ्त होगा 10 लाख तक इलाज सरकारी।

उंगली कटा के शहीद बनना चाहते हैं भूपेश बघेल - श्रीचंद सुंदरानी

उंगली कटा के शहीद बनना चाहते हैं भूपेश बघेल - श्रीचंद सुंदरानी

रायपुर | पूर्व प्रवक्ता व भाजपा जिला अध्यक्ष श्रीचंद सुंदरानी ने प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के हुक्का बार बंद करने के आदेश पर कटाक्ष करते हुए कहा की भूपेश बघेल "उंगली कटा कर शहीद का दर्जा प्राप्त करना चाहते हैं"।  उन्होंने कहा कि भुपेश बघेल एसपी की बैठक में हुक्का बार बंद करने का आदेश तो दिया, परंतु राजधानी में उनकी नाक के नीचे चल रहे अवैध शराब आहतों की बात भी नहीं की। और उस पर तुर्रा यह कि पुलिस अधिकारी छोटे रेस्टोरेंट और बार में चल रहे  हुक्का व्यापारियों पर कार्यवाही का दिखावा करते हैं परंतु सत्ता के करीबी लोगों के  बड़े संस्थानों में जाने की उनकी हिम्मत नहीं जुटा पा रहे है।  भूपेश बघेल अधिकारियों को चेतावनी देते हैं कि छत्तीसगढ़ में बाहर से गांजे की एक पत्ती भी नहीं आनी चाहिए।  परंतु गांजा तस्करों द्वारा जवारा विसर्जन में कुचले गए श्रद्धालुओं से न मिलने जाते है न उनके लिए कोई राहत की घोषणा करते है। 

    भाजपा जिला अध्यक्ष श्रीचंद सुन्दरनी ने कहा कि राजधानी रायपुर में खुलेआम नशीले पदार्थ की बिक्री आम हो गई है।  पहले सिर्फ शराब समस्या थी, परंतु आजकल हेरोइन, चरस ,कोकिन तक रायपुर में आराम से मिल  रहे हैं । जिससे युवक खासकर नाबालिग इसकी गिरफ्त में आते जा रहे हैं जिसकी परिणति है कि राजधानी में अपराध अपने चरम स्तर पर है। अभी कुछ दिन पहले रात भर  खुले रहने वाले केंद्रों से लौटे युवकों ने विधानसभा उपाध्यक्ष के बेटे को पीट दिया। नशीले पदार्थ की आसान उपलब्धता के कारण छुरेबाजी, लूटमार की घटनाएं दिनदहाड़े हो रही हैं । नशे में अपराधियों ने हत्या कर उसके वीडियो तक बनाकर जारी की है। अभी कुछ दिन पहले रायपुर पुलिस ने विज्ञप्ति जारी कर बताया कि पिछले 10 महीने में 9000 से अधिक लोग दुर्घटना के शिकार हो गए।  इनमें से दुर्घटनाग्रस्त होने वाले या करने वाले लगभग 40% व्यक्ति नशे में थे। 
 भाजपा जिला अध्यक्ष श्रीचंद सुंदरानी ने कहा कि भाजपा लगातार निगाह रखेगी कि सरकार छोटे बड़े सभी लोगों पर निष्पक्ष कार्रवाई करें। उन्होंने कहा यदि भूपेश सरकार की मंशा सचमुच  छत्तीसगढ़ को नशा मुक्त करने की है तो वह अवैध आहतें बंद कराएं । बिना अपने पराए का भेद किया सभी स्थानों पर समान रूप से कार्रवाई की जाए।  नशीले पदार्थ मिलने वाले क्षेत्र के थाना प्रभारी, एएसपी ,एसपी और वरिष्ठ अधिकारियों की जिम्मेदारी तय की जाए।
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सरकार के सुपोषण अभियान का नतीजा छत्तीसगढ़ सुपोषण के मामले में 21 राज्यों में नंबर वन

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सरकार के सुपोषण अभियान का नतीजा छत्तीसगढ़ सुपोषण के मामले में 21 राज्यों में नंबर वन

रायपुर | एनएफएसएस डाटा के सर्वे में छत्तीसगढ़ सुपोषण के मामले में 21 राज्यों में अव्वल नंबर प्राप्त करने पर कांग्रेस ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार को बधाई दी। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शपथ लेने के बाद पत्रकारों से चर्चा के दौरान कहा था कि राज्य में नक्सल से बड़ी समस्या 37.7 प्रतिशत बच्चों के कुपोषित होना है। अगर हम छत्तीसगढ़ के विकास की परिकल्पना करते हैं और हमारे राज्य का आने वाला भविष्य 37.7 प्रतिशत बच्चे कुपोषित रहे तो हमारी विकास की अवधारणा अधूरी है। मुख्यमंत्री माननीय भूपेश बघेल ने बच्चों को कुपोषण से मुक्ति दिलाने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी के 150वीं जयंती के दिन 2 अक्टूबर 2019 को कुपोषण मुक्ति महाअभियान मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान की शुरुआत की, जिसके बेहतर परिणाम मिले हैं। देश के 21 राज्यों में एनएफएचएस-4 के द्वारा किए गए सुपोषित बच्चो के सर्वे में छत्तीसगढ़ 21 राज्यो में सुपोषित बच्चो के मामले में नम्बर वन है। 2015-16 में एनएफएचएस-4 के डाटा सर्वे में 37.7 प्रतिशतबच्चे कुपोषित थे।2021 के सर्वे में छत्तीसगढ़ में कुपोषण में 18.86 प्रतिशत की कमी आई है। छत्तीसगढ़ को छोड़कर बाकी 20 राज्यों में कुपोषण बढ़ी है और छत्तीसगढ़ में कुपोषण में कमी आई है।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार बच्चों के कुपोषण को दूर करने के लिए स्कूल एवं आंगनबाड़ी में गर्म भोजन बच्चों के रूचि के अनुसार खाद्य सामग्री उपलब्ध करा रही है दूध अंडा सोयाबीन की बड़ी, दलिया, चना, फल-फ्रुट और अन्य प्रकार के प्रोटीन युक्त आहार के साथ-साथ मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान के माध्यम से गर्म भोजन उपलब्ध करा रही है। मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लीनिक, मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य क्लीनिक, मलेरिया मुक्त बस्तर अभियान, आंगनबाड़ी के माध्यम से गर्म भोजन का टिफिन घर तक पहुंचाया गया जन जागरूकता के माध्यम से कुपोषण के खिलाफ एक मजबूत रणनीति के साथ लड़ाई लड़ी गई जिसका सुखद परिणाम है कि 3 साल के भीतर छत्तीसगढ़ सुपोषण के मामले में 21 राज्यों में अव्वल नम्बर पर पहुंच गया है।
छत्तीसगढ़: कांग्रेस राष्ट्रीय महासचिव के सामने कार्यकर्ताओ ने की धक्का-मुक्की, टीएस जिंदाबाद के लगे नारे...

छत्तीसगढ़: कांग्रेस राष्ट्रीय महासचिव के सामने कार्यकर्ताओ ने की धक्का-मुक्की, टीएस जिंदाबाद के लगे नारे...

रायगढ़, समीपस्थ जिले जशपुर मे हो रहे काँग्रेस कार्यकर्ता सम्मेलन में जमकर हंगामा होने की खबर है। यहां कांग्रेस कार्यकर्ता सम्मेलन शुरू होते ही बवाल मच गया।
जानकारी के मूताबिक कांग्रेस के पूर्व जिलाध्यक्ष पवन अग्रवाल ने जैसे ही भाषण देना शुरू किया और भाषण में प्रदेश के स्वास्थ मंत्री टीएस सिंहदेव को लेकर बोलना शुरू किया तो किसी ने उनसे माइक छीन लिया और मंच से धक्का भी दे दे दिया। इतने में यहाँ हंगामा शुरू हो गया। बताया जा रहा है कि दोनो खेमे में अभी भी हंगामा जारी है और खास बात यह कि सारा कुछ राष्ट्रीय महासचिव सप्तगिरि शंकर उल्का और जिले के दोरों विधायको के सामने हुआ।

बता दें कि राष्ट्रीय महासचिव के जशपुर आते ही गुटबाजी शुरू हो गयी थी। टीएस समर्थक देर शाम से ही राष्ट्रीय महासचिव की मौजूदगी में टीएस सिंहदेव और कांग्रेस के पूर्व जिलाध्यक्ष पवन अग्रवाल के समर्थन में नारे लगाने शुरू कर दिए थे। आज भी जब सम्मेलन की शुरुआत हुई तो टीएस सिंहदेव के समर्थक सामने आ गए और टीएस बाबा जिंदाबाद के नारे लगाने लगे। पूर्व जिलाध्यक्ष पवन अग्रवाल ने अपने भाषण में पार्टी की ओर से उनकी की गई उपेक्षा का जिक्र करना शुरू कर दिया और टीएस सिंहदेव के बारे में बोलने लगे तभी अचानक काँग्रेस अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष इफ्तिखार हसन उन्हें मंच पर ही समझाने पहुँच गए और इसी बीच दोनो के बीच धक्का मुक्की शुरू हो गयी। लगभग 20 मिनट तक हंगामा होता रहा।
सिंघदेव के समर्थकों का तेवर देख शुरू से ही अनुमान लगाए जा रहे थे कि समनेलन में हंगामा होगा और ठीक वैसा ही हुआ। सम्मेलन की शुरुआत जोरदार हंगामे से हुई।
 

 

VIDEO: प्रियंका गांधी वाड्रा को महिलाये खिला रही थी खाना तभी प्रियंका गांधी ने बोली ये बात..........

VIDEO: प्रियंका गांधी वाड्रा को महिलाये खिला रही थी खाना तभी प्रियंका गांधी ने बोली ये बात..........

नई दिल्ली: कांग्रेस की राष्ट्री य महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने 23 तारीख शनिवार को बाराबंकी में कांग्रेस की तीन प्रतिज्ञा यात्राओं को हरी झंडी दिखाई. इस दौरान उन्होंने कांग्रेस पार्टी की यूपी में सात प्रतिज्ञाओं का ऐलान भी किया. उन्होंने पार्टी की सरकार बनने पर किसानों का पूरा कर्ज माफ करने और 20 लाख युवाओं को सरकारी नौकरी देने की प्रतिज्ञा दोहराई. अपनी प्रतिज्ञाओं के जरिये प्रियंका गांधी ने महिलाओं, किसानों, बेरोजगारों, संविदा कर्मियों और कोरोना की मार से आर्थिक रूप से तबाह हुए परिवारों के लिए कई अहम ऐलान किए. इसी दौरान प्रियंका गांधी ने खेतों में महिलाओं से मुलाकात की.

इस दौरान प्रियंका गांधी को महिलाओं ने खाना खिलाया. न्यूज एजेंसी ने इसका एक वीडियो भी जारी किया है, जिसमें महिलाएं अपने हाथ से प्रियंका गांधी को खिलाते हुए नजर आ रही हैं. वहीं, प्रियंका गांधी भी उन महिलाओं के गले लगाकर अपने हाथ से खाना खिला रही हैं. जब महिलाएं प्रियंका गांधी को ज्यादा खाना खिलाने लगीं तो उन्होंने कहा कि 'मेरे भाई ने कहा है कि मोटी हो रही हो, कम खाओ.' उसके बाद महिलाएं हंसने लगती हैं.

मीडिया से दौरान बात करते हुए प्रियंका गांधी ने कहा, 'मैं समझना चाहती हूं कि महिलाएं किन परिस्थितियों में काम कर रही हैं. वे अपनी बेटियों को कैसे बड़ी कर रही हैं और क्या वे उन्हें पढ़ाने में सक्षम हैं.'


बता दें, प्रियंका गांधी ने हालही ऐलान किया था कि कांग्रेस पार्टी यूपी विधानसभा चुनाव में 40 फीसदी टिकटें महिलाओं के देगी. बाराबंकी में आज उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी लड़कियों को स्मार्ट फोन और स्कूटी देगी. उन्होंने कहा कि कांग्रेस की सरकार बनने पर किसानों का पूरा कर्जा माफ होगा, 2500 रुपये में गेहूं-धान (प्रति क्विंटल) की खरीद होगी और गन्ना किसान अपनी फसल के लिए 400 रुपये प्रति क्विंटल की दर से कीमत पाएगा.


साथ ही उन्होंने कहा, ‘बिजली बिल सबका साफ हाफ, कोरोना काल का बकाया साफ होगा यानी हर व्यक्ति की बिजली का बिल आधा और कोरोना काल का बकाया माफ होगा.' उन्होंने कोरोना से प्रभावित परिवारों के लिए कहा, ‘‘ दूर करेंगे कोरोना की आर्थिक मार, परिवार को देंगे 25 हजार.'

 

चुनाव प्रचार रोकने गई पुलिस टीम पर हमला, दो दर्जन पुलिसकर्मी घायल

चुनाव प्रचार रोकने गई पुलिस टीम पर हमला, दो दर्जन पुलिसकर्मी घायल

पटना: चुनाव प्रचार रोकने गई पुलिस की टीम पर मुखिया प्रत्याशी के समर्थकों और ग्रामीणों ने हमला कर दिया। इसमें दोनों ओर से कई राउंड फायरिंग की गई, जिसमें एक युवक की मौत हो गई। जबकि एक इंस्पेक्टर समेत 23 पुलिसवाले जख्मी बताए जा रहे हैं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार बिहार में पटना के धनरुआ में शुक्रवार रात ग्रामीणों और पुलिस के बीच जबरदस्त झड़प हो गई। बचाव के लिए पुलिस की तरफ से फायरिंग की गई जिसमें 1 युवक की मौत हो गई है, जबकि, 3 लोग घायल हैं। वहीं, ग्रामीणों के हमले में करीब 23 पुलिसकर्मी घायल हैं। सर्किल इंस्पेक्टर और धनरुआ थानेदार का को गंभीर चोटें आईं हैं। कुछ पुलिस वालों की हालत गंभीर बताई जा रही है. रिपोर्ट के अनुसार पुलिस ने अपने बचाव में करीब 30-40 राउंड फायरिंग की।

प्राप्त जानकारी के अनुसर मामला धनरुआ के मोरियावां गांव का है। यहां मुखिया पद का एक उम्मीदवार प्रचार का समय (शाम 5 बजे) खत्म होने के बाद भी इलाके में प्रचार कर रहा था। इसकी जानकारी जब धनरुआ थाना पुलिस को हुई तो वो प्रचार रोकने के लिए पहुंच गई। उस वक्त पुलिस टीम की संख्या काफी कम थी। आरोप है कि मुखिया पद के उम्मीदवार और उसके बेटे ने अपने समर्थकों को भड़काया। इसके बाद समर्थकों ने पुलिस टीम पर हमला कर दिया। उस वक्त किसी तरह पुलिस टीम जान बचाकर वापस थाने आई। वापस लौटकर पुलिस टीम ने वरिष्ठत अधिकारियों को पूरे घटनाक्रम की जानाकारी दी, जिसके बाद अध‍िकारी पुलिस फोर्स के साथ घटनास्थील पहुंचे। पुलिस फोर्स को देखकर ग्रामीण भड़क गए। इससे पहले कि पुलिस कार्रवाई करती ग्रामीणों ने हमला बोल दिया।

Previous123456789...4748Next