प्रदेश में आज मिले 1273 कोरोना संक्रमित, रायपुर से सर्वाधिक मरीजो के साथ इन जिलो से मिले इतने ..    |    कारोबारी के यहां छापे से अधिकारियों के उड़े होश, इतने बड़े पैमाने पर कालेधन का खुलासा    |    लव जिहाद: उर्दू-अरबी न सीखने पर पति करता था पिटाई, पुलिस ने पति को किया गिरफ्तार    |    बड़ी खबर: मजहब छिपाकर की शादी, प्रेमी और उसके परिवार के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज    |    बड़ी खबर: दर्ज हुआ शादी के लिए जबरन धर्म परिवर्तन कराने का पहला मामला, जारी हुआ आरोपी की गिरफ्तारी का फरमान    |    मन की बात में पीएम मोदी ने उदाहरण देकर किसानों को बताए नए कानूनों के फायदे, पढ़े पूरी खबर    |    बड़ी खबर: पिता ने पुत्र को मारी गोली, उपचार के दौरान बेटे की हुई मौत    |    बड़ी खबर: EOW ने 5 लाख रुपया रिश्वत लेते नगर निगम के सिटी प्लानर को किया गिरफ्तार    |    बड़ी खबर: माचिस न देने पर 2 युवकों ने पीट-पीटकर युवक को उतारा मौत के घाट    |    ओवैसी के क्षेत्र में गरजे योगी: कहा- हैदराबाद का नाम बदलकर फिर से होगा भाग्यनगर    |
Previous123456789Next
 पाठ्यपुस्तक निगम के वित्त प्रबंधक ने कोरोना काल में 18500 किलोमीटर घूमकर नियमों का किया उल्लंघन: शुक्ला

पाठ्यपुस्तक निगम के वित्त प्रबंधक ने कोरोना काल में 18500 किलोमीटर घूमकर नियमों का किया उल्लंघन: शुक्ला

रायपुर। एनएसयूआई के प्रदेश उपाध्यक्ष भावेश शुक्ला ने छतीसगढ़ पाठ्यपुस्तक निगम के वरिष्ठ प्रबंधक वित्त आर के मिश्रा 7 महीने में 18500 किलो मीटर की यात्रा के खिलाफ निलंबन और विभागीय जांच की मांग की है।  शुक्ला ने मिश्रा पर शासकीय वाहन से बिलासपुर से रायपुर से बिलासपुर जाते रहे। कोरोना काल मे जहा दुनिया चिंतित थी। कोरोना में बिना पास के आने जाने में दिक्कत थी तब यह बिना अनुमति के आता जाता रहा। इसकी यात्रा से कश्मीर से कन्या कुमारी से कश्मीर दो बार और अरणाचल प्रदेश से गुजरात से अरुणाचाल प्रदेश एक बार आ जा सकते थे। ये गाडियो को लॉक बुक में खड़ा दिखाते रहे। गाड़ी को कुछ किलो मीटर चलता दिखाते रहे और यह गाड़ी भोजपुर टोल प्लाजा बिलासपुर के सरगांव वाली आते जाते रही। वित्त विभाग के इस अधिकारी ने लॉग बुक में कूट रचना की।ओर लिखा कुछ और गया कही और।टोल प्लाजा का गाड़ी का पास होने का रिपोर्ट खुद गवाह बन गया है कि वह लगातार मनमानी करते रहे।  भावेश शुक्ला ने कहा है कि कांग्रेस सरकार में ऐसे भ्रष्टाचार को बिल्कुल बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।  इसकी शिकायत मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की जाएगी।  

हर अपराध में भाजपा से जुड़े लोगों की होती है भूमिका- धनंजय सिंह ठाकुर

हर अपराध में भाजपा से जुड़े लोगों की होती है भूमिका- धनंजय सिंह ठाकुर

रायपुर। मानव तस्करी मामले में भाजपा नेता की गिरफ्तारी होने के बाद कांग्रेस ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि छत्तीसगढ़ में हो रहे हर अपराध में भाजपा से जुड़े नेताओं की भूमिका रहती है। ड्रग माफिया हो, मानव तस्कर हो, शराब तस्कर हो, चिटफंड कंपनियों के घोटालाबाज हो, नक्सलियों के मददगार, अवैध कार्यों के माफियाओं का सरगना हो भाजपा से जुड़े लोग ही पकड़े जाते हैं और भाजपा के बड़े नेताओं के साथ इनकी तस्वीर रहती है इससे स्पष्ट है कि 15 साल के शासन काल में भाजपा के बड़े नेताओं ने अवैध कार्य करने वाले अपराधियों को संरक्षण देकर बचाने का काम किया है। 15 साल के रमन शासनकाल में मानव तस्करी और नशीली पदार्थों के तस्कर भाजपा नेताओं के संरक्षण में फले फूले हैं। भाजपा का अपराध और अपराधियों के साथ चोली दामन का साथ हमेशा रहता है। एक प्रकार से भाजपा अपराधियों की शरणस्थली बन चुकी है। रमन भाजपा शासनकाल में छत्तीसगढ़ से हजारों की संख्या में महिलाएं और बेटियां गायब हुई है। मानव तस्करी के मामले में भाजपा नेत्री की गिरफ्तारी से छत्तीसगढ़ से गायब उन महिलाओं के पीछे भी कहीं न कहीं भाजपा से जुड़े लोगों का हाथ होने का संदेश नजर आता है। इसकी जांच होनी चाहिए।
प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि मानव तस्करी मामले में भाजपा नेत्री की गिरफ्तारी के बाद प्रदेश अध्यक्ष विष्णु देव साय, गंगा पांडेय को पार्टी से निष्कासित कर जिम्मेदारियों से बच नही सकते। भाजपा से जुड़े लोग हमेशा अवैध कार्यो में पकड़े जाते रहे है तब भाजपा के नेता बदलापुर का आरोप लगाकर अपराधियों को बचाने का षड्यंत्र करते है। रमन सरकार के दौरान भी नाबालिक से दुष्कर्म के आरोपों रमन सिंह के ओएसडी गुप्ता के खिलाफ चार साल तक कार्यवाही नही होने दी गई। पीड़िता का एफआईआर तक दर्ज नही किया गया। सरकार बदलने के बाद जब पीड़िता के शिकायत पर कार्यवाही की गई तो भाजपा नेत्री जबिता मंडावी पीड़िता का अपहरण कर लेती है जिसे पुलिस द्वारा छुड़वाया जाता है।
 

 छत्तीसगढ़ में 1 दिसंबर से होगी धान खरीदी, कांग्रेस सरकार  किसानों से अपना वादे पर है अडिग

छत्तीसगढ़ में 1 दिसंबर से होगी धान खरीदी, कांग्रेस सरकार किसानों से अपना वादे पर है अडिग

रायपुर। प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि कांग्रेस सरकार ने किसानों से अपना वादे पर अडिग है। छत्तीसगढ़ में 1 दिसंबर से धान खरीदी होगी। 1 दिसंबर से धान खरीदी शुरू होने जा रही है। टोकन पहले से दिये जा रहे है। ये टोकन 7 दिन के लिये वेलिड होंगे। यदि कोई किसान अपने टोकन पर धान नहीं बेच पाया तो उसे फिर से टोकन जारी कर दिया जायेगा। इस प्रकार धान खरीदी सुव्यवस्थित रूप में चलेगी। सब का धान खरीदा जायेगा। 2500 रूपये में खरीदा जायेगा। भाजपा द्वारा लगातार धान खरीदी में बाधा डालने की कोशिशे की गयी है और की जा रही है। कभी भाजपा की केन्द्र सरकार द्वारा कहा गया सेन्ट्रल पुल में छत्तीसगढ़ के किसान के धान से बना चावल नही लिया जायेगा। इसके लिये चि_ी तक लिख दी थी मोदी सरकार ने। इस साल भाजपा की केन्द्र सरकार ने धान खरीदी के लिये बारदानो की उपलब्धता में बाधा डाली। बारदाने ही नही उपलब्ध कराये लेकिन कांग्रेस की सरकार मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार इन तमाम समस्याओं का मुकाबला करते हुये अपने वादे को पूरा करते हुये किसानो की धान की खरीदी 1 दिसंबर से करने जा रही है। छत्तीसगढ़ में सुव्यवस्थित रूप से धान की खरीदी होगी। धान बिचौलियों और धान दलालों और धान खरीदी में गड़बडिय़ों कर किसानों को परेशान करने वालों को कोई प्रश्रय नही मिलेगा। प्रदेश के बाहर का धान नही, छत्तीसगढ़ के किसानो का उगाया हुआ धान छत्तीसगढ़ के सोसाइटियों में 2500 रूपये में खरीदा जायेगा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार ने धान का दाम 2500 रू. देते हुये पहले साल 80 लाख टन से अधिक और दूसरे साल 83 लाख टन धान की खरीदी की है। भाजपा की 15 साल की सरकार में तो 12 लाख किसानों से ही औसत 50 लाख टन धान ही प्रतिवर्ष खरीदा गया। 


प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि इस साल 21 लाख 50 हजार से अधिक किसानों का पंजीयन हो चुका है जिनसे कांग्रेस सरकार 2500 रू. में धान खरीदने जा रही है। धान का रकबा भी बढ़ा है, किसानों की संख्या भी बढ़ी है। धान खरीदी भी लगातार बढ़ रही है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार ने पहले साल 2018-19 में 15 लाख 71 हजार किसानों से 80 लाख टन से अधिक धान खरीदा और दूसरे साल 2019-20 में 19 लाख 52 हजार किसानों से 83 लाख टन से अधिक धान खरीदा गया। धान खरीदी की सुव्यवस्थित तैयारियों से भाजपा के झूठ की पोल खुल गयी है।
कोरोना वैक्सीन को लेकर राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी से पूछे ये 4 सवाल

कोरोना वैक्सीन को लेकर राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी से पूछे ये 4 सवाल

देश में लगातार कोरोना वायरस का संक्रमण और खतरनाक होता जा रहा है. राजस्थान, गुजरात और दिल्ली में कोरोना की स्थिति बिगड़ने के बाद राज्य सरकार की तरफ से इसकी रोकथाम को लेकर नए कदम उठाने को मजबूर होना पड़ा है. राजस्थान और गुजरात, हिमाचल प्रदेश समेत फिर से कुछ राज्यों में नाइट कर्फ्यू लगाने का ऐलान किया गया है. ऐसे में इस वक्त लोग बेसब्री के साथ कोरोना वैक्सीन के आने का इंतजार कर रहे हैं. ऐसा माना जा रहा है कि कोरोना वैक्सीन देश में मार्च तक या उससे पहले आ सकती है. इस बीच कांग्रेस नेता राहुल गांधी की तरफ से कोरोना वैक्सीन को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से ट्वीट कर चार सवाल किए गए हैं.


राहुल गांधी ने कहा कि पीएम मोदी को जरूर राष्ट्र को यह बताना चाहिए कि-


1-सभी कोरोना वैक्सीन में से भारत सरकार किसे चुनेगी और क्यों?


2-किसे पहले कोरोना वैक्सीन की खुराक दी जाएगी और इसके वितरण की क्या रणनीति रहेगी?


3-क्या वैक्सीन को मुफ्त सुनिश्चित किए जाने के लिए पीएम केयर्स फंड का इस्तेमाल किया जाएगा?


4-कब तक भारतीयों को वैक्सीन दी जाएगी?

 

 

कांग्रेस में कलह पर गुलाम नबी आजाद का बयान, कहा- फाइव स्टार होटलों में बैठकर नहीं लड़े जाते चुनाव

कांग्रेस में कलह पर गुलाम नबी आजाद का बयान, कहा- फाइव स्टार होटलों में बैठकर नहीं लड़े जाते चुनाव

नई दिल्ली, कांग्रेस के भीतर के कलह पर पार्टी के सीनियर नेता गुलाम नबी आजाद का बड़ा बयान सामने आया है. बिना नाम लिए उन्होंने आलाकमान पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि आज कांग्रेस सबसे निचले स्तर पर है. पार्टी के बड़े नेताओं का कार्यकर्ता से संपर्क टूट गया है. फाइव स्टार होटलों में बैठकर चुनाव नहीं लड़ सकते.


गुलाम नबी आजाद ने कहा, “जो लोग वहां होते हैं उनका कनेक्ट लोगों के साथ टूट गया है. ब्लॉक के लोगों के साथ, जिलों के लोगों के साथ कनेक्ट टूट गया है. समस्या ये है कि जब हमारी पार्टी में कोई पदाधिकारी बनता है तो वो लेटर पैड तो छाप देता है और विजटिंग कार्ट बना देता है. वो समझता है कि मेरा काम बस खत्म हो गया. काम तो उस वक्त से शुरू होना चाहिए.”


इतना ही नहीं गुलाम नबी आजाद ने एक शेर भी पढ़ा. उन्होंने कहा, "पार्टी से इश्क होना चाहिए. ये इश्क नहीं आसान बस इतना समझ ली जे, इक आग का दरिया है और डूब के जाना है. लोग समझते हैं कि लड़कियों से प्रेम करना ही इश्क है. भगवान से इश्क, अपने पीर पैगंबर से भी इश्क, अपने धर्म से भी प्यार होता है."


बता दें कि अगले महीने संभावित तौर पर कांग्रेस के अध्यक्ष पद का चुनाव होना है. पहले भी अध्यक्ष पद के चुनाव को लेकर विवाद हो चुका है. नेताओं ने चिट्ठी लिखी थी उस पर भी विवाद हो गया था. अब गुलाम नबी आजाद ने जो बयान दिए हैं उससे ये सवाल खड़ा होता है कि क्या एक बार फिर अध्यक्ष पद को लेकर एक बार फिर विवाद होगा?


 

 राज्य के जेलों में हुई 88 अशासकीय संदर्शकों की नियुक्ति, जेलों के संचालन में मिलेगा सहयोग- ताम्रध्वज साहू

राज्य के जेलों में हुई 88 अशासकीय संदर्शकों की नियुक्ति, जेलों के संचालन में मिलेगा सहयोग- ताम्रध्वज साहू

रायपुर। राज्य के जेलों में  88 अशासकीय जेल संदर्शकों की नियुक्ति की गई है। राज्य में 5 केन्द्रीय जेल, 13 जिला जेल एवं 15 उपजेलों में अशासकीय जेल संदर्शकों की नियुक्ति के संदर्भ में राज्य शासन द्वारा अधिसूचना जारी की गई है। प्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा है कि इस नियुक्ति से जेलों के संचालन में सहयोग मिलेगा।

अधिसूचना के तहत केन्द्रीय जेल रायपुर में तीरथ यादव, वेदप्रकाश सिंह, तुलेश साहू, अश्वनी राजपूत एवं राजू दुबे को नियुक्त किया गया है। केन्द्रीय जेल बिलासपुर में अंकित सिंह, शेख निजामुद्दीज, सैय्यद मोहम्मद शाह, लक्ष्मीनाथ साहू, पुष्पेन्द्र शर्मा एवं संदीप बाजपेयी को, केन्द्रीय जेल जगदलपुर दिनेश यदु, होरी प्रसाद मण्डल, धरमूराम कश्यप, सरला तिवारी, विजेन्द्र ठाकुर एवं उगेश चन्द्र मरकाम को,  केन्द्रीय जेल अम्बिकापुर में सी.डी. कुमार, अजय अरूण मिंज, ज्योति सिंह, सुनील मिश्रा, संदीप गुप्ता एवं निखिल गुप्ताको, केन्द्रीय जेल दुर्ग ओमप्रकाश यादव, ईश्वर सोनवान, भरत साहू, नीतू सिंह, गुरलिन सिंह एवं जय डहरिया को नियुक्त किया गया है।  जिला जेल महासमुन्द में तौकीर खान, शिवानन्द महन्ती को, जिला जेल धमतरी में लखनलाल साहू, जिला जेल में रायगढ़ दीपक पाण्डेय, राजीव कालिया एवं यतीश कुमार गांधी, जिला जेल कोरबा में अरूण शर्मा, जिला जेल जांजगीर-चाम्पा में राधेश्याम थवाईत, ठण्डाराम साण्डे एवं संदीप थवाईत, जिला जेल दन्तेवाड़ा में तुलिका वर्मा, राधा नाग एवं प्रदीप गौतम, जिला जेल कांकेर में विश्राम गावड़े, देवेन्द्र सोनी एवं सुनील गोस्वामी, जिला जेल बैकुण्ठपुर में हर्षवर्धन शुक्ला, राजेन्द्र तिवारी एवं कमल कान्त साहू, जिला जेल जशपुर में रूद्रदाम पाठक एवं सुरेश अग्रवाल, जिला जेल बेमेतरा में जय सोनी, शेषनारायण मिश्रा एवं नवीन ताम्रकार, जिला जेल राजनांदगांव में रमेश डाकलिया, लालचन्द साहू एवं शमीम तिगाला और जिला जेल कबीरधाम में बिलाल खान, पिताम्बर वर्मा एवं सच्चिदानंद केशरवानी को नियुक्त किया गया है। इसी तरह उप जेल बलौदाबाजार में सुनील साहू एवं राकेश वैष्णव, उप जेल गरियाबंद में नरेन्द्र देवांगन एवं शीला ठाकुर, उप जेल सारंगढ़ में राकेश पटेल, उप जेल कटघोरा में चन्द्रहास राठौर एवं हसन अली, उप जेल सक्ती में राजीव जायसवाल, उप जेल मुंगेली में संजय जायसवाल, अरविन्द वैष्णव एवं लोकराम साहू, उप जेल पेण्ड्रारोड में लक्ष्मण राजपूत, उप जेल सुकमा में मनोज चैरसिया, मोहन सिंह एवं राजेन्द्र वर्मा, उप जेल नारायणपुर में राजेश दीवान एवं काण्डेराम मंडावी, उप जेल बीजापुर में अजय सिंह, उप जेल मनेन्द्रगढ़ में अभिषेक वर्मा, उप जेल सूरजपुर में  मनोज अग्रवाल, सतीश चैबे एवं दुर्गा शंकर दीक्षित, उप जेल संजारी बालोद में धीरज उपाध्याय, अनिल सेनानी एवं ढालसिंह देवांगन, उप जेल डोंगरगढ़ में भारत भूषण मेश्राम एवं राजकुमार सेन, उप जेल खैरागढ़ में चन्द्रचुड़मणि सिंह एवं भुनेश्वर साहू की नियुक्ति  अशासकीय संदर्शक के रूप में हुई है।
 भाजपा नेता बताएं 15 साल में रमन सरकार ने धान के सुरक्षित भंडारण के लिए क्या किया: कांग्रेस

भाजपा नेता बताएं 15 साल में रमन सरकार ने धान के सुरक्षित भंडारण के लिए क्या किया: कांग्रेस

रायपुर। प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि धान की बर्बादी पर घडिय़ाली आंसू बहाने वाले भाजपा नेता जवाब दें कि छत्तीसगढ़ में 15 साल सरकार चलाने के दौरान भाजपा सरकार ने धान को सुरक्षित भंडारण के लिये कितने गोडाउन का निर्माण करवाया था? 15 साल में कमीशनखोरी के लिये बिना आवश्यकता के सिर्फ कमीशनखोरी की नियत से बड़ी-बड़ी अट्टालिकायें बनाने वाली तत्कालीन रमन सरकार ने धान के सुरक्षित भंडारण के लिये कोई योजना क्यों नहीं बनाया? धान की रक्षा के लिये कोई निर्माण क्यों नहीं करवाया? भाजपा की रमन सिंह सरकार ने 15 साल धान को संरक्षित करने और धान खरीदी को सुव्यवस्थित करने की कोई व्यवस्था क्यों नहीं बनाई? कांग्रेस सरकार तो धान को सुरक्षित करने के लिये चबूतरे बना रही है। कांग्रेस सरकार में तो स्थिति बहुत बेहतर है। भाजपा शासनकाल में तो इससे ज्यादा धान बारिश में भीगने और सडऩे से खराब हो जाता था। रमन सिंह के शासनकाल में उपार्जित धान के खराब होने का विवरण जारी करते हुये संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि वर्ष 2019-20 में कुल उपार्जित 83.94 लाख मे.टन धान में से 78.80 लाख मे. टन (94.3 प्रतिशत) धान का निराकरण किया जा चुका है। शेष 5.14 लाख मे.टन धान का निराकरण जारी है, जिसे 15 दिसंबर 2020, तक निराकृत कर लिया जायेगा। संपूर्ण धान के निराकरण हुये बिना ही सूखत अथवा खराब धान की मात्रा को लेकर भाजपा नेताओं का बयान आधारहीन और कोरी बयानबाजी है। कांग्रेस सरकार का प्रयास है कि खराब धान की मात्रा न्यूनतम रहे। विगत सत्र के धान का निराकरण लगातार जारी है। आधी अधूरी जानकारी को लेकर लगाये जा रहे भाजपा के आरोप गलत एवं निराधार है। प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि खरीफ विपणन वर्ष 2019-20 में कुल 83.94 लाख मे.टन धान का उपार्जन किया गया जिसमें से 51.70 लाख में. टन धान सीधे समितियों से मिलर को प्रदाय किया जो कुल धान उपार्जन का 62 प्रतिशत है। विगत वर्षो में कुल उपार्जित धान के विरूद्व मिलरो द्वारा उठाव का प्रतिशत एवं धान की मात्रा जारी करते हुये प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि समितियों से सर्वाधिक मात्रा में धान का सीधा उठाव इस वर्ष किया गया है, जिसके कारण शासन को परिवहन राशि की बचत भी हुई है। कांग्रेस सरकार द्वारा सफलतापूर्वक सुव्यवस्थित रूप से धान की खरीदी से भाजपा नेताओं को स्वाभाविक रूप से पेट में पीड़ा हो रही है। अगर भाजपा की सोच सही होती तो भाजपा आगे आकर कांग्रेस सरकार की सफलता को स्वीकार करने का नैतिक साहस प्रदर्शित कर लें। प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि 2500 रू. धान का दाम देने वाली कांग्रेस की भूपेश बघेल सरकार के खिलाफ भाजपा नेताओं का दुष्प्रचार सीधे-सीधे जनता की आंखो में धूल झोकने की कोशिश है। धान खरीदी पर भाजपा किस मुंह से बोल रही है? भाजपा को किसानों और ग्रामीण मतदाताओं से अब कोई  समर्थन इसलिये नहीं मिलेगा क्योंकि छत्तीसगढ़ के लोग भाजपा के किसान विरोधी, गरीब विरोधी चरित्र, मजदूर विरोधी चरित्र को बखूबी समझ चुके है। 

किसान और धान का सम्मान की बड़ी बड़ी बाते करने वाले भाजपा नेताओं से प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने पूछा है कि खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में समर्थन मूल्य पर अनुमानित धान उपार्जन हेतु लगभग 3.50 लाख गठन नये बारदानों की आवश्यकता के विरूद्ध जूट कमिश्नर, कोलकाता के माध्यम से भारत सरकार द्वारा केवल 1.45 लाख गठन नये बारदाने ही क्यो उपलब्ध कराये जा रहे है? शेष बारदानों की व्यवस्था राज्य सरकार द्वारा की जा रही है।
 किसान और धान का अपमान भाजपा की फितरत है: शैलेश त्रिवेदी

किसान और धान का अपमान भाजपा की फितरत है: शैलेश त्रिवेदी

 रायपुर। प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि धान खरीदी पर भाजपा के नेता लगातार झूठ का सहारा ले रहे है। किसानों के हित में ठोस काम करने वाली कांग्रेस सरकार के खिलाफ भाजपा अभी से झूठा प्रचार करने लगी है। 2018 विधानसभा चुनाव हारने के बाद क्या भाजपा नेताओं की सारी याददाश्त चली गयी है क्या? कांग्रेस सरकार ने किसानों और धान का सम्मान किया है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार ने धान का दाम 2500 रू. दिया है। पहले साल 80 लाख टन से अधिक और दूसरे साल 83 लाख टन धान की खरीदी की है। भाजपा की 15 साल की सरकार में तो 15 लाख से भी कम किसानों से औसत 50 लाख टन धान ही प्रतिवर्ष खरीदा गया। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार ने पहले साल 2018-19 में 15 लाख 71 हजार किसानों से 80 लाख टन से अधिक धान खरीदा और दूसरे साल 2019-20 में 19 लाख 52 हजार किसानों से 83 लाख टन से अधिक धान खरीदा गया। इस साल 21 लाख 50 हजार से अधिक किसानों का पंजीयन हो चुका है। कांग्रेस सरकार ने किसानों का कर्ज माफ किया है जिसकी सोच ही कभी भाजपा के पास नहीं थी।


शैलेश त्रिवेदी ने कहा है कि धान की बर्बादी पर घड़ियाली आंसू बहाने वाले धरमलाल कौशिक जवाब दें कि छत्तीसगढ़ में 15 साल सरकार चलाने के दौरान भाजपा सरकार ने धान को सुरक्षित भंडारण के लिये कितने गोडाउन का निर्माण करवाया था। 15 साल में कमीशनखोरी के लिये बिना आवश्यकता के सिर्फ कमीशनखोरी की नियत से बड़ी-बड़ी अट्टालिकायें बनाने वाली तत्कालीन रमन सरकार ने धान के सुरक्षित भंडारण के लिये कोई योजना नहीं बनाया था और न ही निर्माण करवाया। भाजपा की रमन सिंह सरकार ने 15 साल धान को संरक्षित करने और धान खरीदी को सुव्यवस्थित करने की कोई व्यवस्था ही नहीं बनाई। कांग्रेस सरकार तो धान को सुरक्षित करने के लिये चबूतरे बना रही है। कांग्रेस सरकार में तो स्थिति बहुत बेहतर है। भाजपा शासनकाल में तो इससे ज्यादा धान बारिश में भीगने और सड़ने से खराब हो जाता था। 

रमन सिंह के शासनकाल में उपार्जित धान के खराब होने का विवरण जारी करते हुये संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि वर्ष 2019-20 में कुल उपार्जित 83.94 लाख मे.टन धान में से 78.80 लाख मे. टन (94.3 प्रतिशत) धान का निराकरण किया जा चुका है। शेष 5.14 लाख मे.टन धान का निराकरण जारी है, जिसे 15 दिसंबर 2020, तक निराकृत कर लिया जायेगा। संपूर्ण धान के निराकरण हुये बिना ही सूखत अथवा खराब धान की मात्रा को लेकर धरमलाल कौशिक का बयान आधारहीन और कोरी बयानबाजी है। कांग्रेस सरकार का प्रयास है कि खराब धान की मात्रा न्यूनतम रहे।

प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि खरीफ विपणन वर्ष 2019-20 में कुल 83.94 लाख मे.टन धान का उपार्जन किया गया जिसमें से 51.70 लाख में. टन धान सीधे समितियों से मिलर को प्रदाय किया जो कुल धान उपार्जन का 62 प्रतिशत है। विगत वर्षो में कुल उपार्जित धान के विरूद्व मिलरो द्वारा उठाव का प्रतिशत एवं धान की मात्रा जारी करते हुये प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि समितियों से सर्वाधिक मात्रा में धान का सीधा उठाव इस वर्ष किया गया है, जिसके कारण शासन को परिवहन राशि की बचत भी हुई है। कांग्रेस सरकार द्वारा सफलतापूर्वक सुव्यवस्थित रूप से धान की खरीदी से भाजपा नेताओं को स्वाभाविक रूप से पेट में पीड़ा हो रही है। अगर भाजपा की सोच सही होती तो धरमलाल कौशिक आगे आकर कांग्रेस सरकार की सफलता को स्वीकार करने का नैतिक साहस प्रदर्शित कर लें।

सूरजपुर में धान को लेकर धरमलाल कौशिक के बयान पर आंकडे जारी करते हुये प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि सूरजपूर जिले में खरीफ विपणन वर्ष 2019-20 में कुल 1.60 लाख मे.टन धान की खरीदी की गई थी, जिसमें से 1.44 लाख मे.टन धान का उठाव अब तक हो चुका है। जिसका उठाव एवं निराकरण निरंतर प्रगतिरत है तथा 15 दिसंबर 2020 तक शत प्रतिशत निराकरण करने की दिशा में काम किया जा रहा है।

प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि 2500 रू. धान का दाम देने वाली कांग्रेस की भूपेश बघेल सरकार के खिलाफ भाजपा विधायक दल के नेता धरमलाल कौशिक का बयान सीधे-सीधे जनता की आंखो में धूल झोकने की कोशिश है। धान खरीदी पर भाजपा किस मुंह से बोल रही है? भाजपा को किसानों और ग्रामीण मतदाताओं से अब कोई समर्थन इसलिये नहीं मिलेगा क्योंकि छत्तीसगढ़ के लोग भाजपा के किसान विरोधी, गरीब विरोधी चरित्र, मजदूर विरोधी चरित्र को बखूबी समझ चुके है।

किसान और धान का सम्मान की बड़ी बड़ी बाते करने वाले धरमलाल कौशिक से प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने पूछा है कि खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में समर्थन मूल्य पर अनुमानित धान उपार्जन हेतु लगभग 3.50 लाख गठन नये बारदानों की आवश्यकता के विरूद्ध जूट कमिश्नर, कोलकाता के माध्यम से भारत सरकार द्वारा केवल 1.45 लाख गठन नये बारदाने ही क्यो उपलब्ध कराये जा रहे है? शेष बारदानों की व्यवस्था राज्य सरकार द्वारा की जा रही है।

उन्होंने कहा है कि भाजपा ने 2013 के घोषणा पत्र में कहा था कि 2100 रू. समर्थन मूल्य देंगे, नहीं दिया। भाजपा ने कहा था कि 5 साल तक 300 रू. बोनस देंगे, नहीं दिया। भाजपा ने कहा था एक-एक दाना धान खरीदेंगे, नहीं खरीदा। भाजपा ने कहा था 5 हार्सपावर पंपों को मुफ्त बिजली देंगे, नहीं दी। भाजपा ने कहा था कि स्वामीनाथन कमेटी की सिफारिशे लागू करेंगे, किसानों को फसल की लागत पर डेढ़ गुना जोड़कर दाम देंगे, नहीं दिया। भाजपा ने कहा था 2022 तक किसानों की आय दुगुनी करेंगे, अभी तक किसानों की आय बढ़ाने के लिये कुछ भी नहीं किया। भाजपा ने तो किसानों के साथ धोखाधड़ी ही की है। भाजपा किसान हितैषी बनने का स्वांग रचती रही है और किसानों के लिये घड़ियाली आंसू बहाती है। भाजपा के किसान विरोधी चरित्र को छत्तीसगढ़ के किसान बखूबी जानते, समझते है।
भाजपा का बस चले तो धरती ही नही आसमान को भी बेच डाले: कांग्रेस

भाजपा का बस चले तो धरती ही नही आसमान को भी बेच डाले: कांग्रेस

 रायपुर। पूर्व मंत्री एवं भाजपा प्रवक्ता राजेश मूणत के बयान पर कांग्रेस ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि भाजपा प्रवक्ता राजेश मूणत पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार पर आरोप लगाकर अटल और मोदी सरकार सरकारी कम्पनियों उपक्रमों को बेचने की नीति नियत और भाजपा समर्थित चंद उद्योगपतियों के हाथों में भारत के नवरत्न कंपनियों पेट्रोलियम कम्पनी, एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन को सौंपने की साजिश पर पर्दा नहीं डाल सकते। कांग्रेस शासनकाल में मजबूती के साथ खड़ी हुई आधुनिक भारत की अर्थव्यवस्था को और आगे ले जाने की भाजपा की सरकारों में ना ही क्षमता है ना एजेंडा है। 

 

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने भाजपा से पूछा अटल बिहारी बाजपेई सरकार के दौरान हजारों करोड़ के बालको संयंत्र को मात्र 500 करोड़ में क्यों बेचा गया? 500 करोड़ में बालको संयंत्र को खरीदने वाले उद्योगपति ने बालकों में रखे कबाड़ को ही 712 करोड़ में बेचकर मुनाफा कमाया था। देशभर में बालकों की संपत्ति जिसकी कीमत ही हजारों करोड थी वो भी बालको खरीदने वाले को मुफ्त में मिली। अटल सरकार और मोदी सरकार के दौरान बीएसएनएल जो मजबूती के साथ संचार के क्षेत्र में जनता की सेवा कर रहा है, उसको भी कमजोर कर रिलायंस को फायदा पहुंचाने की साजिश रची गई। वर्तमान में मोदी सरकार लाभ दे रहे भारत पैट्रोलियम सहित 135 सरकारी कंपनियों को निजी हाथों में ओने-पौने दाम में सौंप रही है। इससे स्पष्ट हो जाता है कि भाजपा की बस चले तो वह धरती ही नहीं आसमान को ही बेच दे। आम जनता के शुद्ध हवा लेने पर भी टैक्स लगा दे। 
 
 
प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि पहले भाजपा प्रवक्ता राजेश मूणत यह तो बताएं अटल बिहारी वाजपेई की सरकार के दौरान और वर्तमान के मोदी सरकार ने छत्तीसगढ़ में बालको और भिलाई स्टील प्लांट जैसा कोई संयंत्र की स्थापना कही की गयी है क्या? रिजर्व बैंक के रिजर्व फंड से 1 लाख 76 हजार करोड रुपए जबरदस्ती निकाल कर चंद पूंजीपतियों को सौप दी गयी। यह रकम क्या इनके परनाना ने जमा करवायी थी? अटल सरकार के समय बालको को बेचा अब मोदी सरकार बीएसपी एवं नगरनार संयंत्र जो अब तक शुरू भी नही हुआ है उसे भी बेचने की तैयारी कर ली है।
 
 
पूरे देश में भाजपा शासन काल का इतिहास खंगाला जाए तो सरकारी कंपनियों को निजी हाथों में सौंपने के अलावा उपलब्धि के नाम पर कुछ भी नहीं है। भाजपा के 13 साल 3 महीने 13 दिन के कार्यकाल में देश में अब तक कहीं भी नई रेल पटरी नहीं बिछाई गई है, रेलवे स्टेशनों के नाम बदलने के अलावा इनके पास कोई उपलब्धि नहीं है। बस्तर का नगरनार संयंत्र जिसमें बस्तरवासियों की भावनाएं जुड़ी हुई है उसे शुरू होने से पहले ही पूंजीपतियों को बेचने की तैयारी कर ली गई है। भिलाई स्टील प्लांट को भी बेचने की साजिश चल रही है। एचएससीएल जो कोयला खनन काम जो करता था उससे छीन कर अडानी के कंपनी को बढ़ावा दिया जा रहा है। भारत की सरकारी संपत्तियों को चंद उद्योगपतियों के हाथों में बेचकर भारत के एक अरब तेंतीस करोड़ जनता को आर्थिक गुलामी की ओर धकेलने की साजिश रची जा रही है।
बंगाल से ममता सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए बीजेपी ने बनाई ये खास रणनीति

बंगाल से ममता सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए बीजेपी ने बनाई ये खास रणनीति

पश्चिम बंगाल में भले ही 2021 में विधानसभा का चुनाव होना है और इसमें अभी वक्त है लेकिन भारतीय जनता पार्टी अभी से पूरे जोर-शोर के साथ ‘बंगाल मिशन’ में उतर आई है. राज्य की ममता सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए बकायदा बीजेपी की तरफ से खास रणनीति पर काम शुरू कर दिया गया है. टीएमसी सरकार को काउंटर करने के लिए बीजेपी ने शीर्ष पदाधिकारियों को बंगाल के दौरे पर भेजा है ताकि वे वहां की जमीनी हालात से रू-ब-रू करा पाएं.


पार्टी के शीर्ष पदाधिकारियों को भेजे जाने का यह फैसला बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा और केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह के द्वारा किया गया और इनका दौरा विधानसभा चुनाव तक नियमित रूप से होता रहेगा और ताकि वे राज्य ईकाई से तैयारियों का जायजा ले पाएं.


समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा और राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) बीएल संतोष ने नेताओं को यह जिम्मेदारी दी है कि वे राज्य ईकाई स्तर पर अलग-अलग गुटों के लोगों से बात कर वहां के मुद्दों के समझने को कोशिश करें.


बीजेपी की तरफ ऐसा करने के पीछे यह संदेश देने की कोशिश है कि केन्द्रीय नेतृत्व उनकी परेशानियों को सुन रहा है, इसके साथ ही उनमें जोश भी भरा जा रहा है. नेताओं से कहा गया है कि वे अपने दौरे के वक्त राज्य के विभिन्न हिस्सों के हिसाब से विस्तृत रिपोर्ट बनाएं.


उत्तर बंग राष्ट्रीय सचिव हरिश द्विवेदी और राष्ट्रीय संयुक्त महासचिव (संगठन) शिव प्रकाश देख रहे हैं. जबकि, नबदीप की समीक्षा करने की जिम्मेदारी राष्ट्रीय सचिव विनोद तावड़े और संयुक्त महासचिव (संगठन) किशोर बर्मन को दी गई है.


कोलकाता क्षेत्र का फीडबैक राट्रीय महासचिव दुष्यंत गौतम और राज्य महासचिव (संगठन) अमित्व चक्रवर्ती ले रहे हैं. राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय और राष्ट्रीय सचिव सुनीव देवधर से कहा गया है कि वे हुगली और मेदिनीपुर के मुद्दे, वहां पर मजबूती और कमजोरी और राज्य सरकार को काउंटर करने के लिए क्या काम किया जाए इस पर विस्तृत रिपोर्ट सौंपें.

 

किसानों को धान की कीमत 2500रु प्रति क्विंटल एवं आदिवासियों को जमीन लौटाने वाले सक्षम मुख्यमंत्री हैं भूपेश बघेल

किसानों को धान की कीमत 2500रु प्रति क्विंटल एवं आदिवासियों को जमीन लौटाने वाले सक्षम मुख्यमंत्री हैं भूपेश बघेल

रायपुर | भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णु देव साय एवं नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक के बयान पर कांग्रेस ने प्रतिक्रिया व्यक्त की है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा कि निश्चित तौर पर भूपेश बघेल सक्षम और जनहितैषी मुख्यमंत्री हैं जो छत्तीसगढ़ की सर्वांगीण विकास की सोच रखते हैं। तभी तो किसानों को धान की कीमत 2500रु प्रति क्विंटल दे रहे हैं आदिवासियों की जमीन लौटाया हैं।तेंदूपत्ता का मानक दर 2500रु से बढ़ाकर 4000रु प्रति बोरा किए हैं 14580 शिक्षकों की भर्ती, सहित अनेक जनकल्याणकारी फैसले लेकर छत्तीसगढ़ को खुशहाल बना रहे हैं।

पढ़ें : युवक ने फांसी लगा कर की आत्महत्या, भाई को फंदे में लटका देख दूसरे भाई ने की अपने आप को ब्लेड से काटने की कोशिश 

 प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बस्तर के बहुउद्देशीय बोधघाट परियोजना में केंद्र सरकार से मदद मांगी बस्तर के युवाओं के लिए रोजगार सहित बस्तर के विकास के लिए औद्योगिक स्थापना हेतु स्थानीय खनिज संपदा पर 30 परसेंट की छूट की मांग किए हैं इसमें भाजपा नेताओं को तकलीफ क्यों हो रही है? 
 

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के द्वारा केंद्रीय गृह मंत्री को लिखे पत्र का विरोध करके भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय एवं नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने भाजपा के छत्तीसगढ़ विरोधी कृत्यों को ही आगे बढ़ाने का काम किया है। भाजपा के नेता नहीं चाहते कि छत्तीसगढ़ का किसान नौजवान यहां की महिलाएं खुशहाल हो।बीते 7 साल में मोदी सरकार ने ऐसा कोई काम नही किया जिसकी चर्चा हो मोदी सरकार के हर फैसले ने सिर्फ आमजनता को मुसीबत में डालने का काम किया है बीते सात साल में मोदी सरकार ने असफलताओं का नया कीर्तिमान रचा है मोदी सरकार की नाकामी जनविरोधी नीतियों के चलते भाजपा नेताओं के दिमाग मे नकारात्मकता घर बना लिया  है।
 
 
भाजपा नेता इस बात को भलीभांति मानते हैं कि छत्तीसगढ़ सरकार के द्वारा केंद्र सरकार से मांगी गई मदद को केंद्र सरकार पूर्ति करने में अक्षम है। और भाजपा की केंद्र सरकार यदि छत्तीसगढ़ के जन भावनाओं को पूरा नहीं कर पाएंगे ऐसे में भाजपा की किरकिरी होगी और भाजपा नेता जनता को अपना चेहरा नहीं दिखा पाएंगे इससे बचने के लिए भाजपा के नेता छत्तीसगढ़ के विकास विरोधी कृत्यों को आगे बढ़ा रहे हैं।
 

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा कि मोदी सरकार निरंतर छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के समय बाधा अड़चन पैदा करती है पहले 2500 रु के दाम पर धान खरीदी में अड़ंगा लगाया गया उसमें असफल होने के बाद अब किसानों से धान खरीदने के लिये बोरा देने में आनाकानी कर रहे हैं जबकि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार किसानों को 2500रु धान की कीमत देने प्रतिबद्ध है।
 
छत्तीसगढ़ में आर्थिक मंदी की काली छाया नही पड़ना, भाजपा नेताओं के पीड़ा का कारण

छत्तीसगढ़ में आर्थिक मंदी की काली छाया नही पड़ना, भाजपा नेताओं के पीड़ा का कारण

रायपुर | प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सरकार के द्वारा किए गए कार्यों का ही परिणाम है कि जहां देश भर में आर्थिक मंदी का दौर चल रहा है उसी देश में एक प्रदेश अपने नीतियों अपने संसाधनों अपनी योजनाओं के बदौलत आर्थिक मंदी के काली छाया से दूर है |

पढ़ें : राजधानी रायपुर में फिर हुई चाकू बाजी की घटना, दो के खिलाफ अपराध दर्ज, पढ़ें पूरी खबर

दीपावली में छत्तीसगढ़ के जनता ने 30,000 से अधिक वाहन खरीदे 400 करोड़ के इलेक्ट्रॉनिक सामान सहित जरूरत के सामानों को बढ़-चढ़कर खरीदा और हर्ष उल्लास क्या दीपावली मनाया दीपावली की बाद भाजपा नेताओं ने एक बार और छत्तीसगढ़ सरकार के खिलाफ बयानबाजी कर अपने छत्तीसगढ़ विरोधी चरित्र को फिर से उजागर किया है।

पढ़ें : बड़ी खबर: छेडख़ानी का विरोध करने पर युवती को किया आग के हवाले, पुलिस की गिरफ्त में आया मुख्य आरोपी 

संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल कि सरकार ने किसानों का कर्ज माफी किया धान की कीमत 2500प्रति क्विंटल दिया तेंदूपत्ता का मानक दर 2500 से बढ़ाकर ₹4000 प्रति बोरा दिया 31 वनोपज के समर्थन मूल्य में खरीदी,छोटे प्लाटों की रजिस्ट्री पर प्रतिबंध हटाए गोधन न्याय योजना के माध्यम से पशुपालक एवं पशुधन को लाभान्वित किया राजीव गांधी किसान योजना के माध्यम से धान सहित मक्का गन्ना उत्पादकों को लाभान्वित किया इसका असर दीपावली पर दिखा है |
 
 
जहां करोना संकट  के कारण देश भर में रोजी रोजगार व्यापार व्यवसाय सब चौपट है देश आर्थिक संकट से जूझ रहे आर्थिक मंदी से देश पीड़ित है वहीं छत्तीसगढ़ में आर्थिक मंदी की काली छाया का नहीं पड़ने से छत्तीसगढ़ के व्यापारी उद्योगपति मजदूर किसान हर वर्ग खुशहाल है। यही भाजपा के नेताओं की पीड़ा का कारण है . मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सरकार ने छत्तीसगढ़ में जो हर व्यक्ति के विकास और हर परिवार के विकास की नीति के तहत काम किया है इसका ही अच्छा प्रभाव छत्तीसगढ़ में आज दिखाई दे रहा है |
पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर ने कसा तंज, आश्चर्य है छ ग कांग्रेस ने बराक ओबामा के खिलाफ अभी तक FIR दर्ज नहीं कराई

पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर ने कसा तंज, आश्चर्य है छ ग कांग्रेस ने बराक ओबामा के खिलाफ अभी तक FIR दर्ज नहीं कराई

रायपुर, पूर्व मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ विधायक एवं प्रदेश प्रवक्ता अजय चंद्राकर ने कांग्रेस पर तंज कसा है। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा है कि, यह आश्चर्य की बात है कि मोहन मरकाम, टी एस सिंहदेव समेत कांग्रेस के किसी कार्यकर्ता ने ओबामा के खिलाफ ना तो किसी थाने में रिपोर्ट लिखवायी है और ना ही पुस्तक को प्रतिबंधित करने की मांग की है। 

अब होगा न्याय कहने वाले प्रदेश को बताएँ "कब होगा न्याय"?- विष्णुदेव साय

अब होगा न्याय कहने वाले प्रदेश को बताएँ "कब होगा न्याय"?- विष्णुदेव साय

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने मुख्यमंत्री निवास के सामने आत्मदाह करने ग्रामीणों के जुटने की घटना के परिप्रेक्ष्य में प्रदेश सरकार से सवाल किया हैं। उन्होंने कहा कि न्याय के नाम पर राजनीति कर रही प्रदेश सरकार की हक़ीक़त सामने आ गई है। इस घटना से प्रदेश की अन्यायी सरकार की कलंक-गाथा में एक और नया अध्याय जुड़ गया है। श्री साय ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को चेतावनी दी है कि वे सत्ता के मद में इतना न डूबें कि न्याय की गुहार लगाते लोग भी उन्हें नज़र न आएँ। सत्ता के अहंकार में चूर प्रदेश सरकार को श्री साय ने याद दिलाया है कि अग़र प्रदेश के मदांध सत्ताधीशों को अपने वादे याद हों और अपनी ज़ुबान से कहा ‘अब होगा न्याय’ का वादा खोखला होते अग़र उसे ज़रा भी लज्जा अनुभव हो तो प्रदेश के लोगों के साथ लगातार सामने आ रहे अन्याय के मामलों पर अंकुश लगाने की पहल करें। श्री साय ने प्रदेश सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हुए कहा कि 22 महीनों में ही अन्याय इतना बढ़ गया है कि प्रदेशभर के लोग आत्महत्या करने मुख्यमंत्री निवास पहुंच रहे हैं। यह चिंतन का विषय है और सरकार के सामने बड़ा प्रश्न भी खड़ा करता हैं कि कब होगा न्याय?

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री साय ने राजधानी से लगे मांढर गाँव में एक युवक आशीष डहरिया की मौत के मामले में मुख्यमंत्री निवास के समक्ष हुए हंगामे को प्रदेश सरकार की अक्षमता और भटकाव से ग्रस्त कार्यप्रणाली का परिचायक बताते हुए कहा कि चार माह पहले हुई युवक की मौत को लेकर ग्रामीण उद्वेलित हैं और इसे हत्या का मामला मान रहे हैं। इस मामले में महिलाओं-बच्चों समेत लगभग 50 ग्रामीणों का समूह सबके सामने क़ब्र से शव निकालकर फिर से पोस्टमार्टम कराने की मांग को लेकर मंगलवार को राजधानी पहुँचा था। लेकिन मुख्यमंत्री बघेल इन ग्रामीणों से मिलने के बजाय मरवाही जीत के जश्न में मशगूल थे। नाराज़ ग्रामीणों ने वहीं मुख्यमंत्री निवास के सामने सामूहिक रूप से आत्मदाह करने की चेतावनी दी थी। श्री साय ने कहा कि प्रदेश सरकार ने हर मोर्चे पर, हर वर्ग के साथ अन्याय की पराकाष्ठा कर रखी है। ‘अब होगा न्याय’ का सियासी शोर मचाकर प्रदेश के लोगों के साथ यह सरकार केवल छलावा और धोखाधड़ी कर रही है। श्री साय ने चेतावनी दी है कि प्रदेश सरकार अपनी कार्यशैली मं् समय रहते सुधार कर ले अन्यथा प्रदेशभर में अन्याय से पीड़ितों का आक्रोश कभी भी ज्वालामुखी की शक्ल ले लेगा। सवाल यह है कि आख़िर ‘अब होगा न्याय’ कहने वाले प्रदेश को यह बताएँ कि "कब होगा न्याय"?
 

किसानों के नाम पर आई कांग्रेस सरकार किसानों के कारण ही जाएगी, भाजपा का हर कार्यकर्ता किसानों की आवाज बनें

किसानों के नाम पर आई कांग्रेस सरकार किसानों के कारण ही जाएगी, भाजपा का हर कार्यकर्ता किसानों की आवाज बनें

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने किसान मोर्चा के नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष श्यामबिहारी जायसवाल को बधाई देते हुए कहा कि किसान मोर्चा को किसानों के हित को लेकर और अधिक कार्य करने की जरूरत है। आप सब किसानों की आवाज बनकर उनके साथ हमेशा खड़े रहें। श्री साय ने कहा कि किसान विरोधी इस सरकार को करारा जवाब देने की जरूरत है।
विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने किसान मोर्चा के पदभार ग्रहण कार्यक्रम में शामिल होकर किसान मोर्चा के नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष श्री जायसवाल को बधाई दी। श्री कौशिक ने कहा कि प्रदेश में किसानों के साथ लगातार अन्याय हो रहा है जिसके चलते किसानों को आत्महत्या तक करने को विवश होना पड़ रहा है। नकली खाद और अमानक बीज की वजह से किसानों को काफी नुकसान का सामना करना पड़ रहा है। किसानों के नाम पर सत्ता में आई यह सरकार किसानों के कारण ही जाएगी। किसान मोर्चा किसानों की आवाज बनकर काम करें। कार्यक्रम को श्री जायसवाल ने भी संबोधित किया।
इस मौके पर नवनियुक्त अध्यक्ष जायसवाल ने पदभार संभाला। कार्यक्रम में प्रदेश महामंत्री संगठन पवन साय, पूर्व संगठन महामंत्री रामप्रताप सिंह, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष किसान मोर्चा पूनम चन्द्राकर सहित, गौरीशंकर श्रीवास, द्वारकेष पाण्डेय, अनिल पाण्डेय, युधिष्ठिर चन्द्राकर, अजय साहू, के.के. अवधिया, प्रदीप शर्मा और रजत खंडेलवाल उपस्थित रहे।
 

कांग्रेस सरकार की धान खरीदी का भाजपा का विरोध गलत अनुचित एवं अन्यायपूर्ण, भाजपा ने तो किसानों के लिये जो-जो घोषणा पत्र में कहा वहीं नहीं किया था

कांग्रेस सरकार की धान खरीदी का भाजपा का विरोध गलत अनुचित एवं अन्यायपूर्ण, भाजपा ने तो किसानों के लिये जो-जो घोषणा पत्र में कहा वहीं नहीं किया था

रायपुर, धान खरीदी पर भाजपा द्वारा कांग्रेस सरकार के विरोध में की जा रही बयानबाजी को छत्तीसगढ़ के राजनैतिक इतिहास का काला अध्याय निरूपित करते हुये प्रदेश कांग्रेस के संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने पूछा है कि भाजपा को स्पष्ट करना चाहिये कि भूपेश बघेल सरकार से भाजपा का विरोध किस बात का है? 80लाख टन से अधिक धान की रिकार्ड खरीदी से भाजपा का विरोध है? या 2500 रू. किसानों को धान का दाम दिये जाने से भाजपा का विरोध है? या भाजपा शासनकाल की तुलना में 2.5 लाख अधिक किसानों का धान खरीदी किये जाने का विरोध है?
प्रदेश कांग्रेस के संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि कांग्रेस सरकार में छत्तीसगढ़ के किसान समृद्ध हो रहे है तो इसका विरोध भाजपा क्यों कर रही है? रमन सिंह के शासनकाल की तरह हर रोज चार किसान आत्महत्या नहीं कर रहे है तो क्या इसका विरोध भाजपा कर रही है? किसान कर्जमुक्त हो गया इसका विरोध भाजपा कर रही है क्या?
प्रदेश कांग्रेस के संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि भाजपा ने तो 2013 के घोषणा पत्र में कहा था कि एक-एक दाना धान खरीदेंगे और नहीं किया था, सच्चाई तो यही है। भाजपा को 2013 विधानसभा चुनावों के घोषणा पत्र का अंश मीडिया को जारी करते हुये प्रदेश कांग्रेस के संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि भाजपा अपनी गलतियों, अपनी वादाखिलाफी और अपने किसान विरोधी चरित्र को कांग्रेस सरकार पर मढ़ना बंद करें।
प्रदेश कांग्रेस के संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि धान खरीदी का पूरा लाभ केवल राज्य के किसानों को मिले, इसके लिये कांग्रेस सरकार काम कर रही है जो कोचियों की समर्थक भाजपा को नागवार गुजरा रहा है। भाजपा नेता कोचियों के सरगना की तरह व्यवहार कर रहे है।
जिस भाजपा की केन्द्र सरकार ने किसानों का धान 1865 में ही लेने और 2500 रू. धान का दाम देने पर रोक लगाने का आदेश जारी किया, उसी भाजपा के नेता कांग्रेस की सरकार पर 2500रू. में किस्तों में देने का आरोप लगाते है। इससे शर्मनाक दोहरा चरित्र और कुछ हो ही नहीं सकता है।
छत्तीसगढ़ के धान उगाने वाले किसानों के साथ भाजपा की 15 साल की धोखा धड़ी का काला चिट्ठा जारी करते हुये प्रदेश कांग्रेस के संचार विभाग अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने भाजपा की कथनी और करनी में अंतर की तालिका जारी कर बताया सब कुछ स्पष्ट है।

क्या कहा और क्या किया भाजपा की कथनी - करनी का अंतर
धान का 2100 रूपये समर्थन मूल्य देंगे, नहीं दिया
5 साल तक 300 रूपये बोनस देंगे 5 साल, नहीं दिया
धान का एक-एक दाना खरीदेंगे, नहीं खरीदा
5 हार्सपावर पंपो को मुफ्त बिजली देंगे, नहीं दिया
स्वामीनाथन कमेटी की सिफारिशे लागू करेंगे
लागत मूल्य पर 50 प्रतिशत जोंड़कर समर्थन मूल्य देंगे, नहीं दिया
2022 तक किसानों की आय दुगुनी करेंगे, अभी तक कुछ नहीं किया

प्रदेश कांग्रेस के संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि भाजपा सत्ता में थी तब भी किसान विरोधी थी आज ही विपक्ष में है तब भी किसान विरोधी ही है। पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह एवं भाजपा नेता लगातार कांग्रेस सरकार द्वारा किसानों के समृद्धि खुशहाली के युग के सूत्रपात का विरोध कर रहे है। 15 साल तक रमन सरकार में किसानों की आत्महत्या की सैकड़ों घटनाएं हुयी थी। किसान अपनी खेती बाड़ी की जमीन बेचने के लिए मजबूर थे। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार ने किसानों के हित में ऐतिहासिक फैसला लेकर किसानों की खुशहाली और समृद्धि के लिए काम किया। किसानों की जमीनें औने-पौने दामों में बिकना बंद हुआ और कृषि को लाभकारी देखते हुए भाजपा शासनकाल में पंजीकृत लगभग 17 लाख किसानों की तुलना में 2019-20 में साढ़े उन्नीस लाख किसानों ने धान बेचने पंजीयन कराया। इससे स्पष्ट होता है कि इस वर्ष ढाई लाख और लोगों ने खेती किसानी की ओर रुख किया और दस लाख लोगों के हाथों को कृषि कार्य में रोजगार मिला। 2500 रू. का मूल्य पिछले साढ़े 19 लाख से अधिक किसानों तक पहुँचा और इस संख्या में इस साल और बढ़ोत्तरी होने जा रही है। किसानों का नया पंजीयन इस वर्ष भी लगातार जारी है। इस साल किसानों की संख्या भी बढ़ेगी और धान खरीदी भी बढ़ेगी। भाजपा को पीड़ा इस बात की है कि जो 15 साल में रमन सरकार नहीं कर पायी वो काम भूपेश बघेल सरकार ने कर दिखाया। इसी का विरोध भाजपा कर रही है। इसी की पीड़ा भाजपा को है।


 

भाजपा अजा मोर्चा प्रदेशाध्यक्ष नवीन मार्कण्डेय कल करेंगे पदभार ग्रहण

भाजपा अजा मोर्चा प्रदेशाध्यक्ष नवीन मार्कण्डेय कल करेंगे पदभार ग्रहण

रायपुर, भाजपा प्रदेश कार्यालय कुशाभाऊ ठाकरे परिसर में भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेशाध्यक्ष नवीन मार्कण्डेय 5 नवम्बर को दोपहर 2 बजे कार्यभार ग्रहण करेंगे। दोपहर 12 बजे एकात्म परिसर भाजपा कार्यालय रजबंधा मैदान से प्रस्थान कर दोपहर 12.30 बजे देवपुरी स्थित परमपुज्य बाबा गुरुघासीदास जैतखाम परिसर में पूजा अर्चना कर प्रदेश कार्यालय कुशाभाऊ ठाकरे परिसर में कार्यभार ग्रहण करेंगे।
इस अवसर पर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष विष्णुदेव साय,पूर्व मुख्यमंत्री डॉक्टर रमन सिंह,भाजपा प्रदेश संगठन मंत्री पवन साय, धरमलाल कौशिक, पुन्नुलाल मोहले, गुहाराम अजगले, बृजमोहन अग्रवाल, राजेश मूणत, डॉ. कृष्णमूर्ति बांधी, अनुराग सिंहदेव, रामप्रताप सिंह, चंद सुंदरानी, डॉ. भूषणलाल जांगड़े, दयालदास बघेल, श्रीमती कमला पाटले, निर्मल सिन्हा, सरला कोसरिया भारतीय जनता पार्टी के सभी सम्मानित सांसद गण, सभी विधायकगण,भाजपा प्रदेश के सभी पूर्व मंत्रीगण,सभी पूर्व सांसद गण और पूर्व विधायक गण,भारतीय जनता पार्टी के सभी प्रदेश पदाधिकारी गण,भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा के प्रदेश पदाधिकारी गण,अनुचूचित जाति मोर्चा के सभी जिलाध्यक्ष उपस्थित रहेंगे।
उक्त जानकारी भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा के प्रदेश कार्यालय मंत्री आत्माराम बंजारे और प्रदेश मीडिया प्रभारी राम प्रसाद बघेल द्वारा दिया गया।
 

धान खरीदी पर भाजपा लगातार ले रही है झूठ का सहारा, कांग्रेस सरकार ने भाजपा से ज्यादा धान खरीदा और ज्यादा दाम दिया- शैलेश नितिन त्रिवेदी

धान खरीदी पर भाजपा लगातार ले रही है झूठ का सहारा, कांग्रेस सरकार ने भाजपा से ज्यादा धान खरीदा और ज्यादा दाम दिया- शैलेश नितिन त्रिवेदी

रायपुर। धान खरीदी पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय के बयान को बेनकाब करते हुये प्रदेश कांग्रेस के संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि यह बड़े दुख की बात है कि धान खरीदी पर भाजपा में रमन सिंह और विष्णुदेव साय जैसे नेता लगातार झूठ का सहारा ले रहे है। किसानों के हित में ठोस काम करने वाली कांग्रेस सरकार के खिलाफ रोज झूठा प्रचार कर रही है। 2018 विधानसभा चुनाव हारने के बाद क्या भाजपा नेताओं का स्मृतिलोप हो चुका है?
प्रदेश कांग्रेस के संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि 15 साल में भाजपा सरकार ने औसत 50 लाख मिट्रिक टन धान भी नहीं खरीदा लेकिन पिछले साल 2018-19 में भूपेश बघेल जी की सरकार ने 80 लाख मिट्रिक टन से अधिक धान 2500 रू. में खरीदा। 2019-20 में भी 15 लाख 71 हजार की जगह 19 लाख 52 हजार किसानों का पंजीयन किया गया और 83 लाख टन धान कांग्रेस की सरकार के द्वारा खरीदा गया है। कांग्रेस सरकार ने इस साल 2019-20 में धान खरीदी में अपना ही पिछले साल 2018-19 का रिकार्ड तोड़ा।
भाजपा सरकार ने 15 वर्षो में धान खरीदी के आंकड़ों को जारी करते हुये प्रदेश कांग्रेस के संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि भाजपा की रमन सिंह सरकार ने तो 50 लाख टन धान ही प्रति वर्ष खरीदा है। 81.70 लाख मिट्रिक टन से अधिक धान औसत प्रतिवर्ष 2500 रू. समर्थन मूल्य में खरीदने वाली कांग्रेस की भूपेश बघेल सरकार के खिलाफ भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय की बयान सीधे-सीधे जनता की आंखो में धूल झोकने की कोशिश है। धान खरीदी पर भाजपा किस मुंह से बोल रहे है? भाजपा को किसानों और ग्रामीण मतदाताओं इसलिये समर्थन नहीं दिया क्योंकि छत्तीसगढ़ के गांवों के लोग मजदूर किसान भाजपा के किसान विरोधी, गरीब विरोधी चरित्र, मजदूर विरोधी चरित्र को बखूबी समझ चुके है।


भाजपा सरकार द्वारा वर्षवार धान खरीदी, खरीफ विपणन वर्ष खरीदी मात्रा लाख टन
2003-04 27.05
2004-05 28.87
2005-06 35.87
2006-07 37.08
2007-08 33.51
2008-09 37.47
2009-10 44.09
2010-11 50.73
2011-12 59.00
2012-13 70.24
2013-14 78.35
2014-15 62.77
2015-16 59.25
2016-17 69.57
2017-18 56.88

भाजपा सरकार द्वारा औसत धान खरीदी प्रति वर्ष : 50 लाख टन

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार द्वारा धान खरीदी
2018-19 80.37
2019-20 83 लाख टन

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार की औसत धान खरीदी प्रति वर्ष : 81.70 लाख टन


प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि भाजपा ने जितने किसानों का धान नहीं खरीदा जितना धान नहीं खरीदा और जितना दाम नहीं दिया कांग्रेस की सरकार, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी की सरकार उससे ज्यादा धान खरीदी कर चुकी है, उससे ज्यादा किसानों का धान खरीद रही है और उससे ज्यादा दाम दे रही है। कांग्रेस ने 2018 के विधानसभा चुनावों में वादा किया था कि किसानों की कर्जमाफी करेंगे। 11000 करोड़ की कर्जमाफी की। कांग्रेस ने कहा था कि 2500 रू. धान का दाम देंगे। 2018-19 में किसानों का 80.38 लाख टन 2500 रू. की दर से 20095 करोड़ रू. देकर खरीदा गया। कांग्रेस सरकार के द्वारा कर्जमाफी और किसानों को धान का दाम 2500 रू. देने से छत्तीसगढ़ के किसानों को 25095 करोड़ से अधिक की राशि मिलने से विरोधी भाजपा इससे बौखला गयी और भाजपा की केन्द्र सरकार ने राज्य सरकार को पत्र लिखकर 2500 रू. में धान खरीदी करने से मना किया।
प्रदेश कांग्रेस के संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि जिस भाजपा की सरकार ने 15 वर्ष में कभी इतना धान नहीं खरीदा, जितना धान पिछले साल 2018-19 और इस साल 2019-20 में भी कांग्रेस सरकार ने खरीदा है। भाजपा ने 2013 के घोषणा पत्र में कहा था कि 2100 रू. समर्थन मूल्य देंगे, नहीं दिया। भाजपा ने कहा था कि 5 साल तक 300 रू. बोनस देंगे, नहीं दिया। भाजपा ने कहा था एक-एक दाना धान खरीदेंगे, नहीं खरीदा। भाजपा ने कहा था 5 हार्सपावर पंपों को मुफ्त बिजली देंगे, नहीं दी। भाजपा ने कहा था कि स्वामीनाथन कमेटी की सिफारिशे लागू करेंगे, किसानों को फसल की लागत पर डेढ़ गुना जोड़कर दाम देंगे, नहीं दिया। भाजपा ने कहा था 2022 तक किसानों की आय दुगुनी करेंगे, अभी तक किसानों की आय बढ़ाने के लिये कुछ भी नहीं किया।

प्रदेश कांग्रेस के संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि किसानों को 2500 रू. धान का दाम देने का काम कांग्रेस ने किया है। जबकि भारतीय जनता पार्टी ने 2013 के घोषणा पत्र में कहा था कि 2100 रू. समर्थन मूल्य देंगे, 300 रू. बोनस देंगे। 2100 रू. धान का दाम भाजपा सरकार में कभी नहीं मिला। 300 रू. बोनस 5 साल नहीं दिया गया। किसानों को और भाजपा के द्वारा इस मामले में आंदोलन की बात जनतंत्र है उनका अधिकार है आंदोलन करे। भाजपा ने तो किसानों के साथ धोखाधड़ी ही की है। भाजपा किसान हितैषी बनने का स्वांग रचती रही है और किसानों के लिये घड़ियाली आंसू बहाती है। भाजपा के किसान विरोधी चरित्र को छत्तीसगढ़ के किसान बखूबी जानते, समझते है।
 

भाजपा ने सत्ता में रहते किसानों के ऊपर अमानवीय अत्याचार किया, विपक्ष में आते ही खेत सत्याग्रह की नौटंकी कर रही- धनंजय सिंह ठाकुर

भाजपा ने सत्ता में रहते किसानों के ऊपर अमानवीय अत्याचार किया, विपक्ष में आते ही खेत सत्याग्रह की नौटंकी कर रही- धनंजय सिंह ठाकुर

रायपुर, भाजपा के खेत सत्याग्रह पर कांग्रेस ने प्रतिक्रिया व्यक्त की प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि भाजपा सत्ता में रहती है तब किसानों पर अत्याचार करती रही लाठियां बरसाती रही और विपक्ष में आते ही खेत सत्याग्रह की राजनीति कर रही है।भाजपा नेताओं में थोड़ी बहुत भी गैरत बाकी है तो मोदी सरकार से किसानों को वादानुसार स्वामीनाथ कमेटी की सिफारिश के अनुसार लागत मूल्य का डेढ़ गुना समर्थन मूल्य दिलाने एवँ किसान विरोधी तीन काला कानून के खिलाफ किसान हित मे सत्याग्रह करे।


प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार ने किसानों को धान की कीमत 2500 रु क्विंटल दिया तब मोदी भाजपा की सरकार ने अड़ंगा लगाया। उस दौरान छत्तीसगढ़ के भाजपा सांसद एवं विधायक,नेता मौन रहे।वो आज किसानों के हितैषी होने का स्वांग रच रहे हैं।भाजपा के कथनी और करनी में अंतर है मोदी भाजपा की सरकार कभी नही चाहती किसान आर्थिक रूप से मजबूत हो सक्षम बने तभी तो मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सरकार के द्वारा किसानों को धान की कीमत 2500 रु प्रति क्विंटल दिया गया। जिसे रोकने सेंट्रल पुल में चावल लेने के लिए नियम शर्तें लगाई गई अवरोध उत्पन्न किया गया राज्य सरकार को कहा गया कि किसानों को समर्थन मूल्य के अलावा बोनस देंगे तो राज्य से चावल नहीं लेंगे।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि छत्तीसगढ़ में 15 साल सत्ता में रहते भाजपा को किसानों की चिंता नही हुई उस दौरान भाजपा नेता कमीशनखोरी भ्रष्टाचार करने में मशगूल रहे कभी खेत खलिहान की ओर झांका तक नही।रमन सिंह की सरकार रहते छत्तीसगढ़ में किसानों के ऊपर जो अत्याचार हुए हैं उसे छत्तीसगढ़ की जनता भूली नहीं है।रमन सरकार के किसान विरोधी नीति और नियत के चलते रोज तीन किसान आत्महत्या करते थे।रमन सिंह किसानों के खेत को पानी देने के बजाए जलाशय के पानी को उद्योगपतियों को बेचते थे।किसानों की जमीनों पर कब्जा करने भूमि संशोधन विधेयक लाये जिसका कांग्रेस ने पुरजोर विरोध किया। किसानों को हक अधिकार से वंचित करने वाले, किसानों की उपज का वादानुसार 2100रु क्विं दाम एवं 300 रु प्रति क्विं बोनस नही देने वाले,किसानों से वादाखिलाफी करने वाले भाजपा आज खेत सत्याग्रह के नाम से सिर्फ राजनीतिक नौटंकी कर रही है।छत्तीसगढ़ का एक एक किसान भाजपा नेताओं के किसान विरोधी चरित्र से वाक़िफ़ हैं।
 

भाजपा प्रवक्ता एवं पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर ने लगाया आरोप, कांग्रेस की सत्ता आते ही विकास थम गया है और राजधानी से लेकर सुदूर अंचलों तक मफिया राज कायम हो गया है

भाजपा प्रवक्ता एवं पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर ने लगाया आरोप, कांग्रेस की सत्ता आते ही विकास थम गया है और राजधानी से लेकर सुदूर अंचलों तक मफिया राज कायम हो गया है

रायपुर। राजधानी रायपुर में भूमाफिया द्वारा करीब 20 करोड़ रुपए कीमत की सरकारी जमीन भूमाफिया द्वारा बेच दिए जाने का मामला सामने आने पर पूर्व मंत्री व विधयक एवं भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता अजय चंद्राकर ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा है कि कांग्रेस छत्तीसगढ़ में जंगलराज चला रही है। कांग्रेस की शह पर माफिया को सरकारी जमीन लूटने की छूट मिली हुई है। कोटा गुढ़ियारी इलाके में सरकारी जमीन बेचने का मामला इसी संस्कृति का एक उदाहरण है।
भाजपा प्रवक्ता अजय चंद्राकर ने कहा है कि बिना किसी उच्च स्तरीय संरक्षण के राजधानी में सरकारी जमीन पर इस तरह कब्जा कर उसे कैसे बेचा जा सकता है? राज्य में रेत से लेकर शराब और भूमाफिया की समानांतर सत्ता चल रही है। कौड़ियों के दाम सरकारी जमीन बेचने का रास्ता इस सरकार ने दिखाया और भूमाफिया ने कांग्रेस की नीति और नीयत को बखूबी समझते हुए सरकारी जमीन बेचना शुरू कर दिया। यह तो एक बानगी है जो राजधानी में सामने आ गई। बीते दो साल में राज्य में इस तरह कितनी सरकारी जमीन पर डाका डाला गया है, उसके आंकड़े सामने आने पर पता चलेगा कि सुनहरे ख़्वाब दिखाकर सत्ता में आई कांग्रेस जनहित का एक भी काम करने के बजाय केवल लूट खसोट की संस्कृति को ही बढ़ावा देती रही है।
भाजपा प्रवक्ता अजय चंद्राकर ने कहा है कि जब से राज्य में कांग्रेस सत्ता में आई है, तब से छत्तीसगढ़ का विकास पूरी तरह से थम गया है और राजधानी से लेकर सुदूर अंचलों तक मफिया राज कायम हो गया है।
 

Previous123456789Next