CG CORONA UPDATE : छत्तीसगढ़ में कोरोना के मामलों में बढ़त जारी...जानें 24 घंटे में सामने आए कितने नए केस    |    छत्तीसगढ़ में आज कोरोना के 10 नए मरीज मिले, कहां कितने केस मिले, देखें सूची…    |    प्रदेश में थमी कोरोना की रफ्तार, आज इतने नए मामलों की पुष्टिं, प्रदेश में अब 91 एक्टिव केस    |    CG CORONA UPDATE : छत्तीसगढ़ में कोरोना के मामलों में बढ़त जारी...जानें 24 घंटे में सामने आए कितने नए केस    |    BREAKING : प्रदेश में आज 15 नए कोरोना मरीजों पुष्टि, देखें जिलेवार आकड़े    |    प्रदेश में कोरोना का कहर जारी...कल फिर मिले इतने से ज्यादा मरीज, एक्टिव मरीजों का आंकड़ा पहुंचा 100 के पार    |    छत्तीसगढ़ में मिले कोरोना के 14 नए मरीज...इस जिले में सबसे ज्यादा संक्रमित,कुल 111 एक्टिव केस    |    सावधान : छत्तीसगढ़ में फिर बढ़ रहा कोरोना...जानें 24 घंटे में सामने आए कितने नए केस    |    Corona update: प्रदेश में 2 कोरोना मरीजों की मौत...इलाज के दौरान तोड़ा दम    |    छत्तीसगढ़ में तेजी से पांव पसार रहा कोरोना,कल फिर 8 नए मरीजों की पुष्टि...एक्टिव मरीजों की संख्या हुई 71    |
Previous123456789...6667Next
पीएम मोदी के पहुंचते ही मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय ने किया शपथ ग्रहण, 2 डिप्टी सीएम ने भी ली शपथ

पीएम मोदी के पहुंचते ही मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय ने किया शपथ ग्रहण, 2 डिप्टी सीएम ने भी ली शपथ

रायपुर। मध्यप्रदेश में CM के शपथ ग्रहण समारोह में हुए विलंब के चलते छत्तीसगढ़ में शपथ ग्रहण का समय 2 बजे से 4 बजे कर दिया गया। इस दौरान भोपाल से अन्य प्रमुख नेता भी बारी-बारी से रायपुर पहुंचे। विशेष विमान से यहां पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी के समारोह स्थल पर पहुंचने के तत्काल बाद मुख्यमंत्री विष्णु देव साय ने शपथ ग्रहण किया। छत्तीसगढ़ के राज्यपाल हरिचंदन ने साय को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई।
विष्णु देव साय के अलावा भाजपा प्रेदश अध्यक्ष अरुण साव और विजय शर्मा को डिप्टी सीएम पद की शपथ दिलाई गई। राजधानी रायपुर के साइंस कॉलेज मैदान में आयोजित भव्य समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, बीजेपी अध्यक्ष जेपी नेड्डा मौजूद रहे।
इसके अलावा यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ, असम के मुख्यमंत्री हिमंता विस्वा सरमा, महाराष्ट्र सीएम एकनाथ शिंदे, डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस, अजित पवार, उत्तराखंड के सीएम पुष्कर सिंह धामी, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, ज्योतिरादित्य सिंधिया समेत तमाम बीजेपी नेता मौजूद रहे। छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और पूर्व डिप्टी सीएम टी एस सिंहदेव भी समारोह में शामिल हुए। 

सीएम बघेल बैठक के बाद रवाना हुए दिल्ली : कहा- छत्तीसगढ़ के प्रत्याशियों की सूची जल्द हो जाएगी तैयार

सीएम बघेल बैठक के बाद रवाना हुए दिल्ली : कहा- छत्तीसगढ़ के प्रत्याशियों की सूची जल्द हो जाएगी तैयार

रायपुर। प्रदेश चुनाव समिति की CM हाउस में घंटों तक चली बैठक के बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल दिल्ली के लिए रवाना हो गए। इस पूर्व मीडिया से चर्चा के दौरान विधानसभा चुनाव को लेकर उन्होंने कहा बैठक में सभी आवेदन और प्रत्याशियों को लेकर चर्चा हुई है, जो सर्वे हुए हैं, ब्लॉक और जिलों से रिपोर्ट आई है और नेताओं के जो रिकमेंडेशन है, सभी के बारे में विचार विमर्श हुआ है। मध्यप्रदेश को लेकर बैठक चल रही है बड़े राज्य है, तेलंगाना भी बड़ा है, छत्तीसगढ़ छोटा राज्य है तो जल्द ही हो जाएगा। 

सीएम बघेल ने रायपुर वासियों को दी बड़ी सौगात, 1021.59 करोड़ रुपए के विकास कार्यों का किया भूमिपूजन

सीएम बघेल ने रायपुर वासियों को दी बड़ी सौगात, 1021.59 करोड़ रुपए के विकास कार्यों का किया भूमिपूजन

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बुधवार को रायपुर शहर को 1021 करोड़ 59 लाख रुपए के विकास कार्यों की सौगात देते हुए 7 बड़े विकास कार्यों का भूमिपूजन किया। सीएम बघेल ने तात्यापारा नवीन मार्केट में स्थित छत्तीसगढ़ के स्वप्नदृष्टा श्री खूबचंद बघेल की मूर्ति पर माल्यार्पण करते हुए रायपुर शहर के लोगों को इन विकास कार्यों की सौगात दी।
इस दौरान मुख्यमंत्री ने रायपुर शहर के लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि वर्तमान सरकार आम जनता के हितों को ध्यान में रखते हुए काम कर रही है और सबकी सुविधाओं का ध्यान रखते हुए ही इन विकास कार्यों की स्वीकृति प्रदान की गई है। उन्होंने कहा कि पिछले तीन महीनों में ही छत्तीसगढ़ सरकार ने 36 सौ करोड़ रुपए के विकास कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास किया है। इससे राज्य की जनता को लाभ मिलेगा। सीएम बघेल ने कहा कि खारून नदी क रिवर फ्रंट निर्माण से शहर के लोगों को घूमने फिरने का एक नया स्थान मिलेगा जहां वो अपने परिवार के साथ वक्त बिता सकेंगे। उन्होंने कहा कि पांच साल पहले खूबचंद बघेल और अन्य महान पुरखों के नक्शे कदम पर चलते हुए ही गढ़बो नया छत्तीसगढ़ का ध्येय रखा गया था और इसी के तहत सरकार लोगों की आय में वृद्धि और अधोसंरचना के लगातार निर्माण पर कार्य कर रही है।
कार्यक्रम में उपस्थित लोक निर्माण मंत्री ताम्रध्वज साहू ने अपने संबोधन में एक हजार करोड़ से अधिक के विकास कार्यों की सौगात मिलने पर रायपुर शहर के लोगों को बधाई और शुभकामनाएं दीं। उन्होंने कहा कि पिछले पांच सालों में पूरे प्रदेश में सड़कों और पुल पुलियों का जाल बिछाया गया है। सड़कों के निर्माण से लोगों की तकलीफें दूर होती हैं और जीवन सुगम बनता है।

तात्यापारा नवीन मार्केट में आयोजित इस कार्यक्रम में संसदीय सचिव विकास उपाध्याय, हाउसिंग बोर्ड के अध्यक्ष कुलदीप जुनेजा, छत्तीसगढ़ खनिज विकास निगम के अध्यक्ष गिरीश देवांगन, वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष सलाम रिजवी, जिला पंचायत अध्यक्ष डोमेश्वरी वर्मा, अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू, लोक निर्माण विभाग के सचिव आलोक कटियार के साथ ही अन्य जनप्रतिनिधि और अधिकारी उपस्थित थे।


इन कार्यों का हुआ भूमिपूजन

1.रायपुर शहर के नवीन मार्केट में आयोजित इस भूमिपूजन कार्यक्रम में सीएम भूपेश बघेल ने जीई रोड के शारदा चौक से तात्यापारा चौक तक सड़क चौड़ीकरण के कार्य, जिसकी लंबाई 510 मीटर तथा निर्माण लागत राशि 134.66 करोड़ रुपए है, का भूमिपूजन किया। इस सड़क के चौड़ीकरण से यातायात सुगम होगा तथा शहर के लोगों को इस स्थान पर भारी ट्रेफिक से निजात मिलेगी।

2.रायपुर शहर के रिंग रोड क्र.1 और तेलीबांधा चौक से अग्रसेन धाम चौक लाभांडी तक 6-लेन फ्लाई ओव्हरब्रिज निर्माण कार्य का भूमिपूजन जिसकी निर्माण लागत राशि 473.13 करोड़ रुपए हैं।
3.रायपुर शहर में महादेवघाट और चंदनीडीह में खारुन रिवर फ्रंट के निर्माण, विकास और सौंदर्यीकरण कार्य जिसकी लंबाई 1.55 किमी है और निर्माण लागत राशि 197.36 करोड़ रुपए का भूमिपूजन।
4.रायपुर शहर के एक्सप्रेस-वे (टेमरी) से माना व्ही.आई.पी. मार्ग पर ऐलिवेटेड कॉरिडोर सहित एयरपोर्ट को जोड़ने वाले मार्ग का 6-लेन में निर्माण कार्य, निर्माण लागत राशि 156.27 करोड़ रुपए है का भूमिपूजन।
5.रिंग रोड क्र.1 पर उद्योग भवन महावीर नगर के समीप राष्ट्रीय राजमार्ग-53 पर फ्लाई ओव्हर का निर्माण कार्य, लागत 42.42 करोड़ रुपए का भूमिपूजन।
6.राजस्व एवम आपदा विभाग के अंतर्गत माडर्न तहसील कार्यालय भवन का निर्माण कार्य जिसकी लागत 11.50 करोड़ रुपए है का भूमिपूजन

7.छत्तीसगढ़ राज्य अक्षय ऊर्जा विकास अभिकरण (क्रेडा) के नवा रायपुर सेक्टर 24 कयाबांधा में निर्मित होने वाले प्रधान कार्यालय भवन के निर्माण कार्य का भूमिपूजन। 

प्रियंका गांधी पहुंची राजधानी, सीएम बघेल ने किया स्वागत

प्रियंका गांधी पहुंची राजधानी, सीएम बघेल ने किया स्वागत

रायपुर। कांग्रेस राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी दुर्ग जिले के जयंती स्टेडियम में आयोजित महिला समृद्धि सम्मेलन कार्यक्रम में शामिल होने राजधानी रायपुर पहुंच गई हैं। सम्मेलन में प्रियंका गांधी सभा को संबोधित करते हुए महिलाओं को बड़ी सौगातें दे सकती हैं। साथ ही सीएम भूपेश बघेल दुर्ग जिले को 309 करोड़ रुपये के 186 विकास कार्यों की सौगाते देंगे।
बता दें कि इस कार्यक्रम में राज्य सरकार की योजनाओं से लाभान्वित होने वाली महिलाएं शामिल होंगी। भिलाई नगर में आयोजित महिला समृद्धि सम्मेलन में सीएम बघेल उच्च स्तरीय पुल, ग्रामीण और शहरी सड़कों, स्वास्थ्य अधोसंरचनाओं तथा स्कूल-कॉलेज भवनों का लोकार्पण-भूमिपूजन करेंगे। 

40 सीटों पर नए चेहरों को दिया जाएगा मौका- सीएम भूपेश बघेल

40 सीटों पर नए चेहरों को दिया जाएगा मौका- सीएम भूपेश बघेल

रायपुर। विधानसभा चुनाव में टिकट के बंटवारे काे लेकर कांग्रेस के कई स्तरों पर हुए मंथन के बाद तय किया गया कि पिछले चुनाव में हारे नेताओं को टिकट नहीं दिया जाएगा। प्रदेश की 90 विधानसभा सीट में से 40 पर नए चेहरों को मौका दिया जाएगा। इसमें 50 वर्ष से कम उम्र, युवक कांग्रेस और महिला कांग्रेस की राजनीति में सक्रिय उन नेताओं को मौका दिया जाएगा, जिनकी चुनाव जीतने की संभावना है। कांग्रेस ने टिकट के लिए ब्लाक स्तर पर आवेदन लिया था। यहां से आए 2790 आवेदनों की छंटनी के बाद 273 नाम पैनल में शामिल किए गए हैं।
प्रदेश चुनाव समिति और स्क्रीनिंग कमेटी अब इन नामों को केंद्रीय चुनाव समिति के पैमाने पर कसने का काम कर रही है। उपमुख्यमंत्री टीएस सिंहदेव ने कहा कि केंद्रीय चुनाव समिति ने हर सीट पर दावेदारों का पैनल तैयार करने के लिए एक फार्मेट भेजा है। उसके आधार पर सूची तैयार की जा रही है। तय फार्मेट में नाम नहीं जाने से दिक्कत यह होगी कि केंद्रीय चुनाव समिति सूची को लौटा सकती है। इस तरह की दिक्कत से बचने के लिए पूरी सावधानी बरती जा रही है। प्रदेश में कांग्रेस के 71 विधायक हैं। टिकट तय करने वाली सभी कमेटियों ने माना कि जब प्रदेश में कांग्रेस के पक्ष में लहर थी, उस दौर में हारे नेताओं को मौका देना खतरे से खाली नहीं है। 

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गोधन न्याय योजना के हितग्राहियों को किया 23.93 करोड़ रुपए का भुगतान

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गोधन न्याय योजना के हितग्राहियों को किया 23.93 करोड़ रुपए का भुगतान

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गोधन न्याय योजना के हितग्राहियों को भुगतान किया। मिली जानकारी के मुताबिक हितग्राहियों को 23.93 करोड़ रूपए का भुगतान किया गया। जिसमें गोबर विक्रेताओं को 5.36 करोड़, स्व-सहायता समूहों एवं गौठान समितियों को 2.77 करोड़ रूपए का भुगतान वही स्व-सहायता समूहों और सहकारी समितियों को अतिरिक्त प्रोत्साहन राशि के रूप में 13.55 करोड़ रूपए का भुगतान हुआ. साथ ही गौठान समितियों के 42 हजार 644 सदस्यों को 2.25 करोड़ रूपए का मानदेय दिया गया।

गौरतलब है कि गोधन न्याय योजना के तहत गोबर खरीदी के मामले में स्वावलंबी गौठान समितियों की भागीदारी लगातार बढ़ती जा रही है। राज्य में निर्मित एवं संचालित 10288 गौठानों में से 6252 गौठान स्वावलंबी हो चुके हैं, जो स्वयं की राशि से गोबर विक्रेताओं से गोबर क्रय कर रहे है। स्वावलंबी गौठानों ने अब तक 76 करोड़ 42 लाख रूपए का गोबर स्वयं की राशि से क्रय किया है। 

ब्रह्मकुमारी बहनों ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को बांधी राखी

ब्रह्मकुमारी बहनों ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को बांधी राखी

रायपुर। रक्षाबंधन के पावन अवसर पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निवास कार्यालय में प्रजापिता ब्रह्मकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय रायपुर की ब्रह्मकुमारी दीदी आशा बहन, सविता बहन, वनीषा बहन ने मुलाकात कर मुख्यमंत्री बघेल को राखी बांधी और उनके स्वस्थ, सुदीर्घ और खुशहाल जीवन के लिए मंगलकामनाएं की। मुख्यमंत्री बघेल ने इस स्नेह और सम्मान के लिए ब्रह्मकुमारी दीदीयों का आभार प्रकट किया। ब्रह्मकुमारी बहनों ने इस अवसर पर मुख्यमंत्री को मिष्ठान भेंट कर प्रजापिता ब्रह्मकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय के मुख्यालय माउण्ट आबू में आयोजित होने वाले कार्यक्रम का निमंत्रण भी दिया। मुख्यमंत्री ने ब्रह्मकुमारी दीदीयों को उपहार भी भेंट किए। इस अवसर पर ब्रह्मकुमार महेश भाई और हिरन भाई भी उपस्थित थे। 

पहलवानों की प्रतिभाओं को निखारने रायपुर में खुलेगी राज्य स्तरीय कुश्ती अकादमी- मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

पहलवानों की प्रतिभाओं को निखारने रायपुर में खुलेगी राज्य स्तरीय कुश्ती अकादमी- मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

रायपुर। छत्तीसगढ़ राज्य में अखाड़ों के संरक्षण और संवर्धन के साथ ही पहलवानों की प्रतिभाओं को निखारने के लिए बजरंगबली अखाड़ा प्रोत्साहन योजना आरंभ की जाएगी। इसके साथ ही राजधानी रायपुर में राज्य स्तरीय कुश्ती अकादमी खुलेगी जिसके माध्यम से इस क्षेत्र की प्रतिभाओं को तैयार किया जाएगा। राज्य में कुश्ती को प्रोत्साहन देने के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने ये दो बड़ी घोषणाएं नागपंचमी पर्व के अवसर पर कीं।
इसके पूर्व मुख्यमंत्री भूपेश बघेल राज्य में मल्लखांब जैसे पारंपरिक खेलों को प्रोत्साहित करने के लिए भी अकादमी की घोषणा कर चुके हैं। बजरंगबली अखाड़ा प्रोत्साहन योजना के पीछे मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का उद्देश्य छत्तीसगढ़ में कुश्ती जैसे पारंपरिक खेलों का सुंदर वातावरण पुनः तैयार करना है। साथ ही हमारे प्रदेश की कुश्ती की प्रतिभाओं को राष्ट्रीय तथा अंतरराष्ट्रीय मंच पर लाना है।

बजरंगबली प्रोत्साहन योजना के माध्यम से अखाड़ों का संरक्षण और संवर्धन भी हो सकेगा। जिन अखाड़ों में पहले पहलवानों की कुश्तियां दिखा करती थी जहां पहलवान अपने दांव पेंच दिखाया करते थे लेकिन अब वहां सूना पसरा रहता है। इस योजना के माध्यम से इन अखाड़ों को पुनर्जीवन मिल सकेगा और एक बार पुनः यहां पहलवानों के दांव पेच देखने मिलेंगे और प्रदेश के तथा देश के प्रतिभाशाली पहलवान यहां से भी तैयार हो सकेंगे।


इसके साथ ही राजधानी रायपुर में राज्य स्तरीय कुश्ती अकादमी भी शुरू की जाएगी । इस आकदमी के माध्यम से कुश्ती की प्रतिभाओं को निखारने का प्रयास करेगी। भारत में तथा छत्तीसगढ़ में भी कुश्ती की बड़ी समृद्ध परंपरा रही है। धोबी पछाड़, धाक, झोली जैसे दांवपेच अखाड़ों से निकलकर हमारी जुबान में भी पहुंच गए हैं। इससे पता चलता है कि कुश्ती का खेल हमारी परंपरा का कितना गहरा हिस्सा रहा है इस परंपरा को पुनः सहेजने के लिए ये दो बड़ी घोषणा मुख्यमंत्री ने की है।

खास बात यह है कि यह घोषणा नाग पंचमी के मौके पर हुई है नाग पंचमी का त्यौहार कुश्ती के दंगलों के लिए जाना जाता है। लोग उत्साह से त्योहार के दौरान अखाड़े में जुटते हैं। बजरंगबली अखाड़ा प्रोत्साहन योजना आरंभ होने से अगली नाग पंचमी में बहुत सारे अखाड़ों में पहलवानों की और दर्शकों की धूम दिखेगी और अगली बार छत्तीसगढ़ के लोग नाग पंचमी और ज्यादा उत्साह से मना सकेंगे। 

पुलिस परेड ग्राउंड में सीएम ने किया ध्वजारोहण और ली सलामी

पुलिस परेड ग्राउंड में सीएम ने किया ध्वजारोहण और ली सलामी

देशभर में आज स्वतंत्रता दिवस मनाया जा रहा है। वहीं छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर राजधानी रायपुर के पुलिस परेड ग्राउंड में स्वतंत्रता दिवस समारोह में शामिल होकर ध्वजारोहण किया। इसके बाद सीएम बघेल ने परेड की सलामी ली।

इससे पहले मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज सुबह अपने निवास परिसर में ध्वजारोहण किया। उन्होंने स्वतंत्रता दिवस की सभी लोगों को बधाई और शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू, मुख्यमंत्री सचिवालय के सचिव डॉ. एस. भारतीदासन और अंकित आनंद सहित मुख्यमंत्री सचिवालय के वरिष्ठ अधिकारी एवं कर्मचारी भी उपस्थित थे। 

रायपुर में साइबर थाने की शुरुआत, CM बघेल ने किया उद्घाटन

रायपुर में साइबर थाने की शुरुआत, CM बघेल ने किया उद्घाटन

रायपुर में साइबर थाने की शुरुआत हो चुकी है। मुख्यमंत्री द्वारा रायपुर रेंज में साइबर थाना का वर्चुअली उद्घाटन किया गया है , जिसके पश्चात रायपुर साइबर थाना में प्राप्त शिकायत में प्रथम सूचना पत्र दर्ज की जा रही हैं।
इस दौरान CM ने महिला हेल्प डेस्क और पुलिस इकाइयों के लिए वाहन का फ़्लैग ऑफ किया। साइबर रेंज थाना और नवीन थाना भवनों का सीएम भूपेश बघेल ने उद्घाटन किया।

इस दौरान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ के लिए आज का दिन बहुत महत्वपूर्ण है। स्वतंत्रता दिवस के पूर्व पुलिस विभाग को महत्वपूर्ण सौगातें मिली है। अधिकारियों को जितनी अच्छी सुविधा मिलेगी, उतना ही अपराध को रोकने में मदद मिलेगी। एक समय था जब पुलिस के धमक से चोर भागते हुए रुक जाते थे. पुलिस का इकबाल बने रहना चाहिए। यदि पुलिस का इकबाल ना हो तो कानून व्यवस्था को सामान्य नहीं रख पाएंगे। अपराधियों के मन मे पुलिस का भय बना रहना चाहिए।
बघेल ने कहा कि अब साइबर क्राइम का जमाना आ गया है. यदि पुलिस दो कदम आगे ना सोचे तो क्राइम को नहीं रोका जा सकता। सोच में बदलाव होने की आवश्यकता है। 6 करोड़ 67 लाख के बजट से फायरिंग रेंज लक्ष्य बनाया गया है। इंडोर फायरिंग रेंज से दुर्घटना की संभावना कम है।

सीएम ने कहा कि पौने 5 साल में पुलिस विभाग के नक्सल प्रभावित क्षेत्र में उपलब्धि रही है। आदिवासियों ने पुलिस की प्रशंसा की। यह विभाग की उपलब्धि है। साल 2023 में तीन अधिकारियों को खोया है। उनका बलिदान खाली नहीं जाएगा। बस्तर के लोगों का विश्वास सरकार के ऊपर बना है। इसमें बहुमूल्य योगदान गृह विभाग और जवानों का रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले धरना प्रदर्शन का आप लोगों को अनुभव था, लेकिन सांप्रदायिक माहौल जो प्रदेश में बन रहा है, उसका अनुभव नहीं था। बेमेतरा और कवर्धा में जैसा माहौल बना, उसके लिए आपको सचेत रहना पड़ेगा।

बता दें कि इस दौरान गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू, संसदीय सचिव विकास उपाध्याय, विधायक सत्यनारायण शर्मा, DGP अशोक जुनेजा समेत पुलिस के आलाधिकारी मौजूद थे। 

भूपेश बघेल कैबिनेट की अहम बैठक आज

भूपेश बघेल कैबिनेट की अहम बैठक आज

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में आज मंत्रिपरिषद की बैठक पूर्वान्ह 11.15 बजे से मुख्यमंत्री निवास कार्यालय के केबिनेट हाल में होगी। ऐसी खबरें हैं कि इस बैठक में अनियमित कर्मचारियों के नियमितीकरण सहित अन्य मुद्दों पर चर्चा हो सकती है।
बता दें कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के आश्वासन पर अनियमित कर्मचारियों ने एक महीने से चल रही हड़ताल को खत्म कर दिया था। इसके साथ ही प्रदेश में खाद-बीज की स्थिति और धान खरीदी की तैयारी को लेकर भी चर्चा होगी। कैबिनेट की बैठक अचानक तय हुई है। मंत्रियों को भी इसकी सूचना तत्काल रात में दी गई। 

पाटन स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की धरती : मुख्यमंत्री बघेल

पाटन स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की धरती : मुख्यमंत्री बघेल

 रायपुुर, 30 जुलाई 2023 / पाटन की धरती स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की धरती है। अंग्रेजों के कुशासन के विरूद्ध आवाज उठाने का साहस इस धरती के सपूतों ने किया। हम उन्हें नमन करते है। यह बात दुर्ग जिले के पाटन विकासखंड के ग्राम दरबार मोखली में आयोजित मनवा कुर्मी क्षत्रिय समाज पाटन राज के डॉ. खूबचंद बघेल जयंती समारोह में मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कही।

 

यहां पर उन्होंने स्वतंत्रता संग्राम सेनानी स्वर्गीय श्री घनाराम बंछोर तथा स्वर्गीय श्री गैंदलाल बंछोर की प्रतिमा का अनावरण किया। साथ ही उन्होंने दरबार मोखली में 46 लाख 88 हजार रूपए की लागत से जल संसाधन विभाग के नवनिर्मित रेस्ट हाउस का लोकार्पण किया। साथ ही उन्होंने ग्राम दरबार मोखली और सेमरी एक करोड़ 21 लाख 75 हजार रूपए के विभिन्न निर्माण कार्यों का लोकार्पण भी किया।

 

 

समारोह को संबोधित करते हुए श्री बघेल ने कहा कि मुझे इस बात की गहरी खुशी है कि दरबार मोखली मेरा पड़ोसी गांव है, जहां स्वतंत्रता संग्राम में हमारे पूर्वज शामिल हुए। स्वर्गीय गैंदलाल बंछोर क्षेत्र के पहले वकील थे। गांधी जी से प्रेरणा लेकर वे स्वतंत्रता संग्राम में शामिल हुए। उन्होंने उस दौर में छतर सिंह को जो पत्र लिखे हैं उनके विवरण देखे तो पाएंगे कि कितना कठिन संघर्ष हमारे पूर्वजों ने आजादी की लड़ाई के दौरान किया।

 

 

डॉ. खूबचंद बघेल के गीत ’गजब विटामिन भरे हुए है, छत्तीसगढ़ के बासी मा’ गीत का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि हमारे पूर्वज न केवल अंग्रेजों से स्वतंत्रता चाहते थे, अपितु ऐसी व्यवस्था चाहते थे, जिसे अपनी छत्तीसगढ़ी संस्कृति के प्रति गौरव हो। हमने अपने पूर्वजों के दिखाए रास्ते पर चलकर छत्तीसगढ़ी संस्कृति को सहेजने की दिशा में कार्य किया है।

 

 

हमने बोरे-बासी दिवस मनाकर छत्तीसगढ़ की खान-पान परम्परा तथा मेहनतकश संस्कृति का उत्सव मनाया है। आज पूरे देश में छत्तीसगढ़ की पहचान उसकी सुंदर और विशिष्ट संस्कृति को लेकर हुई है। हमने अपने गीत-संगीत, कला, कौशल को राष्ट्रीय मंच प्रदान किया। पहली बार आदिवासी नृत्य महोत्सव का आयोजन हुआ, जिसमें देश-विदेश के कलाकारों ने हिस्सा लिया। हम छत्तीसगढ़ की ऐतिहासिक पौराणिक धरोहरों को सहेजने का कार्य कर रहे हैं।

 

 

प्रत्येक जिले में छत्तीसगढ़ महतारी की प्रतिमा स्थापित कर रहे हैं, जो हमारे पूर्वजों का सपना था वो अब पूरा हो रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि डॉ. खूबचंद बघेल की 100वीं जयंती के अवसर पर छत्तीसगढ़ राज्य बना था, लेकिन राज्य बनने का सही मायने में एहसास अब हुआ, जब हम अपने सांस्कृतिक मूल्यों को लेकर आगे बढ़ रहे हैं।

 

 

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर नरवा, गरवा, घुरवा, बाड़ी एवं ग्रामीण विकास की योजनाओं की चर्चा भी की। साथ ही विविध क्षेत्रों में हुए सकारात्मक बदलाव की चर्चा भी की। उन्होंने दरबार मोखली में हाई स्कूल के उन्नयन व शीतला तालाब के सौंदर्यीकरण की घोषणा भी की।

 

 

छत्तीसगढ़ मनवा कुर्मी क्षत्रिय समाज के केंद्रीय अध्यक्ष श्री चोवा राम वर्मा ने छत्तीसगढ़़ राज्य के प्रथम स्वप्नद्रष्टा डॉ. खूबचंद बघेल के व्यक्तित्व एवं कृतित्व को विस्तार पूर्वक रेखांकित किया। उन्होंने स्वतंत्रता संग्राम सेनानी स्वर्गीय गैंदलाल बंछोर और स्वर्गीय घनाराम बंछोर के जीवनी पर प्रकाश डाला।

 

 

इस अवसर पर मुख्यमंत्री के ओएसडी श्री आशीष वर्मा, जनपद पंचायत पाटन के उपाध्यक्ष श्री देवेंद्र चंद्रवंशी, जनपद सदस्य श्रीमती वेदना वर्मा, सभापति महिला बाल विकास श्रीमती दुर्गा नेताम, सरपंच श्री आशीष बंछोर, श्री शंकर बघेल एवं श्री राजेश ठाकुर सहित अन्य जनप्रतिनिधि एवं सामाजिक पदाधिकारीगण मौजूद थे।

 

मुख्यमंत्री 31 जुलाई को बेरोजगारी भत्ते के तहत अंतरित करेंगे 31.71 करोड़ रुपए की राशि

मुख्यमंत्री 31 जुलाई को बेरोजगारी भत्ते के तहत अंतरित करेंगे 31.71 करोड़ रुपए की राशि

 रायपुर, 30 जुलाई 2023/ मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल 31 जुलाई को मुख्यमंत्री निवास कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में एक लाख 22 हजार 625 युवाओं को बेरोजगारी भत्ते के तहत 31.71 करोड़ रूपए की राशि अंतरण करेंगे।

 

बेरोजगारी भत्ता योजना के तहत अब तक 80 करोड़ 72 लाख 30 हजार रुपए की राशि इस योजना के अंतर्गत युवाओं के खाते में अंतरित की जा चुकी है। इस प्रकार जुलाई महीने की राशि शामिल करने पर अब तक 112 करोड़ रुपए की राशि युवाओं के खाते में अंतरित हो जाएगी।

 

 

बेरोजगारी भत्ते के आवेदन के साथ ही युवाओं को कौशल प्रशिक्षण के लिए भी चिन्हांकित किया जा रहा है। जो युवा कौशल प्रशिक्षण चाहते हैं उन्हें विभिन्न संस्थाओं में प्रशिक्षित किया जा रहा है। 4228 युवाओं का प्रशिक्षण आरंभ हो चुका है। 1791 युवाओं का प्रशिक्षण शीघ्र ही आरंभ हो जाएगा।

 

मुख्यमंत्री ने युवाओं से प्रदेश को तरक्की के रास्ते पर ले जाने का किया आव्हान

मुख्यमंत्री ने युवाओं से प्रदेश को तरक्की के रास्ते पर ले जाने का किया आव्हान

 रायपुर,मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल आज शाम यहां छत्तीसगढ़ प्रदेश साहू संघ युवा प्रकोष्ठ के नवनियुक्त पदाधिकारियों के शपथ ग्रहण समारोह शामिल होकर अपनी बधाई एवं शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि आपको बड़ी जिम्मेदारी मिली है उसे बेहतर ढंग से निभाना है।

 

साहू समाज एक संगठित समाज है प्रदेश की तरक्की में इस समाज का बड़ा योगदान है। उन्होंने कहा कि समाज को आगे बढ़ाने में पूर्वजों का बड़ा योगदान है। अब समय के साथ-साथ पुरानी परंपराओं में बदलाव लाना बहुत जरूरी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि समाज संगठित होकर शिक्षित होकर आगे बढ़े और हमें छत्तीसगढ़ महतारी की सेवा करनी है। उन्होंने युवाओं से आव्हान किया कि प्रदेश को तरक्की के रास्ते पर ले जाने का काम करें।

 

 

 

मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि समाज को आगे बढ़ाने के लिए शिक्षा बहुत जरूरी है। आज आईटी का दौर है। तरक्की के लिए नवीनतम टेक्नालॉजी का अपनाना जरूरी है। हमें अपने आप को इस बदलते दौर के अनुरूप ढालना पड़ेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने छत्तीसगढ़ में तेलघानी विकास बोर्ड का गठन किया। छत्तीसगढ़ का अनुसरण करते हुए राजस्थान और मध्यप्रदेश में भी यह बोर्ड बन गया है। छत्तीसगढ़ सरकार सामाजिक भवनों के लिए जमीन मात्र 10 प्रतिशत मूल्य पर उपलब्ध करा रही है। इन सामाजिक भवनों का उपयोग आर्थिक और सामाजिक गतिविधियों के लिए किया जा सकता है। साहू समाज के अपने बहुत से सामाजिक भवन भी है।

 

 

 

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए गृहमंत्री श्री ताम्रध्वज साहू ने कहा कि समाज का भविष्य युवा वर्ग है। वें रचनात्मक चिंतन लेकर आगे बढ़े। वर्ष 1990 में सामाजिक नियमावली तैयार की गई थी। समाज की मजबूती के लिए आपस में मिलजुल कर कार्य करने की आवश्यकता है। सरकार की योजनाओं का लाभ समाज के लोंगो को कैसे मिलें, इस दिशा में पहल करना चाहिए। गृहमंत्री ने भक्त माता कर्मा जंयती पर सार्वजनिक अवकाश घोषित करने पर मुख्यमंत्री के प्रति आभार प्रकट किया। उन्होंने नवनियुक्त पदाधिकारियों को अपनी बधाई एवं शुभकामनाएं दी।

 

 

 

विशिष्ट अतिथि नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में पिछले साढ़े चार वर्षो के दौरान प्रदेश का चहुंमुखी विकास हुआ है।किसानों का कर्जा माफ, बिजली बिल हाफ योजना, समर्थन मूल्य पर धान खरीदी, गोधन न्याय योजना, गोधन के संरक्षण के लिए गौठानों का निर्माण जैसे उल्लेखनीय कार्य हुए है। डॉ. डहरिया ने कहा कि भेंट-मुलाकात के दौरान मुख्यमंत्री ने सभी समाज के लोंगो से रू-ब-रू होकर सामाजिक भवन आदि के लिए जमीन एवं राशि उपलब्ध कराई है। प्रदेश में सामाजिक समरसता कायम है। मंत्री ने समाज के नवनियुक्त पदाधिकारियों को अपनी बधाई एवं शुभकामनाएं दी।

 

 

अविश्वास प्रस्ताव के मुद्दों में कोई तथ्य नहीं: सीएम बघेल

अविश्वास प्रस्ताव के मुद्दों में कोई तथ्य नहीं: सीएम बघेल

 रायपुर। छत्तीसगढ़ विधानसभा में राज्य सरकार के खिलाफ विपक्ष की ओर से प्रस्तुत अविश्वास प्रस्ताव ध्वनिमत से अस्वीकृत कर दिया गया।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अविश्वास प्रस्ताव के विरोध में चर्चा के दौरान जवाब में कहा कि जब हमारी सरकार बनी तो हमने ‘गढ़बो नवा छत्तीसगढ़’ की बात की और इसे साकार करने की दिशा में हमारी सरकार निरंतर कार्य कर रही है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा में कहा कि विपक्ष द्वारा प्रस्तुत अविश्वास प्रस्ताव के मुद्दों में कोई तथ्य नहीं है। प्रजातंत्र में विपक्ष का अधिकार होता है कि वे अविश्वास करे। सत्ता पक्ष के पास भी मौका होता है कि अपनी बात रखें। इन्होंने 109 आरोप लगाए पर कोई तथ्य नहीं दिए। पहले जब अविश्वास प्रस्ताव आता था तब नक्सली समस्या पर पहले बात होती थी। इस बार सदस्यों ने नही की। ये हमारी उपलब्धि है।

आप इंद्रावती के उस पार गए क्या ये संभव था। ये इसलिए हुआ कि इस समस्या पर काम हुआ। अभी भेंट मुलाकात में बस्तर में रात रुका, सभी से मिला। जो सबसे बड़ा कमेंट मिला जिसने मेरे दिल को छू लिया। जैन समाज के लोगों से मैंने पूछा कि इन चार सालों में क्या फर्क आया। उन्होंने कहा कि रिश्ता करने में बस्तर में अब दिक्कत नहीं होती है। आसानी से लोग रिश्ता दे देते हैं क्योंकि बस्तर बदल गया है। पहले बस्तर में सड़कें काट दी जाती थी आज सड़के काटी नहीं जाती, ये परिवर्तन बस्तर में देखने को मिला है। पिछली सरकार ने जो स्कूल बंद करा दिए थे, उसे हमने आरम्भ कर दिया। राशन पहुंचाना भी पहले टेढ़ी खीर थी। अब कितना आसान हो गया है। ये बदलाव आया है। जब हमारी सरकार बनी तो हमने गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ की बात की। उन महापुरुषों को, कलाकारों और राजनीतिक दलों के लोगों को नमन करता हूँ जिन्होंने छत्तीसगढ़ निर्माण में अपना योगदान दिया। परिवर्तन केवल सत्ता के लिए नहीं होना चाहिए। यह लोगों के जीवन मे होना चाहिए इसलिए परिवर्तन की मशाल लेकर हमारे नेता परिवर्तन यात्रा में निकले थे। आज हमने किसानों की जिंदगी बदली है। बस्तर, सरगुजा में परिवर्तन हुआ है। महिलाओं के जीवन मे बदलाव आया है। जब बच्चे फर्राटेदार इंग्लिश में बोलते हैं तब संतोष होता है। आरडी तिवारी स्कूल में पहले 56 बच्चे पढ़ रहे थे। अब हजार बच्चे पढ़ रहे हैं। अब ऐसे स्कूल नहीं चल रहे जो गुणवत्ता नही देते, लोग स्वामी आत्मानंद स्कूल में अपने बच्चों को प्रवेश दिला रहे हैं। बस्तर के बच्चों को शिक्षित कर दीजिए, सुपोषित कर दीजिए, वे अपनी जिंदगी स्वयं संवार लेंगे। 20 हजार करोड़ रुपये की इनपुट सब्सिडी हमने किसानों को दी। हमारे प्रदेश का किसान आज बहुत खुशहाल है।

मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि अब मैं डीएमएफ के बारे में जानकारी देता हूं। मुख्यमंत्री बनने के बाद मैंने मीटिंग ली। सभी खदान आदिवासी अंचल में थी। मैंने पूछा कि आदिवासियों के जीवन मे क्या परिवर्तन आया। उन्होंने कहा कि नहीं आया। हमने कहा कि यह होना चाहिए। हमने कहा कि इससे स्कूल बनाओ, सड़क बनाओ। डीएमएफ का तभी सही उपयोग होगा। मलेरिया में हमने बड़ा काम किया और यह काफी घट गया। उल्टी दस्त का एक भी प्रश्न विधानसभा में बस्तर से नहीं लगा। बस्तर में आज डॉक्टर है, नर्स हैं। ब्लड बैंक बनवाये गए हैं।

मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ का संकल्प लेकर जब हम निकले, कितनी बाधा आई। कोरोना आया। सबकी मदद से हमने अपना संकल्प पूरा किया। सबने इसके लिए सहयोग किया। पांच साल में आये परिवर्तन के बारे में उन्होंने बताया। आज जिले 33 हो गए। तहसील भी बढ़ गए। प्रति व्यक्ति आय बढ़ गई। धान खरीदी 56 लाख से 110 लाख मीट्रिक टन हो गई। रकबा भी बढ़ गया। धान खरीदी केंद्र 2400 हो गए। राजीव गांधी न्याय योजना, भूमिहीन ग्रामीण श्रमिक योजना, गोधन न्याय योजना हमने आरम्भ की। 10 हजार से अधिक गौठान बनाये। उर्जिकृत पंप 4 लाख हो गए। एकल बत्ती कनेक्शन 15 लाख से 17 लाख हो गए। आपके समय तो 105 करोड रुपए का ऋण माफ हुआ था, हमने तो 9500 सौ करोड़ का ऋण माफ किया है। केसीसी आपके समय में 14 लाख दिए गए। वह अब बढ़कर 21 लाख हो गए हैं। 245 करोड़ का गोबर खरीदा और 291 करोड़ की सामग्री बेचा, यह घाटे का सौदा नहीं है।

मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि यह कबीर की भूमि है। बाबा गुरु घासीदास की भूमि है। शांति का टापू है। अपनी संस्कृति के लिए हम काम कर रहे हैं।

मुख्यमंत्री बघेल छग विधानसभा में आयोजित उत्कृष्टता अलंकरण समारोह, एमओयू निष्पादन कार्यक्रम और ‘दास्तान-ए-कबीर’’ कार्यक्रम में होंगे शामिल

मुख्यमंत्री बघेल छग विधानसभा में आयोजित उत्कृष्टता अलंकरण समारोह, एमओयू निष्पादन कार्यक्रम और ‘दास्तान-ए-कबीर’’ कार्यक्रम में होंगे शामिल

 मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल आज राजधानी रायपुर में आयोजित कार्यक्रमों सहित दुर्ग जिले के कार्यक्रमों में शामिल होंगे। इस दौरान वे पूर्वान्ह छत्तीसगढ़ विधानसभा में आयोजित उत्कृष्टता अलंकरण समारोह 2022 तथा शासकीय आईटीआई के उन्नयन हेतु एमओयू निष्पादन कार्यक्रम और शाम को मेडिकल कॉलेज परिसर रायपुर स्थित अटल बिहारी वाजपेयी सभागार में आयोजित दास्तान-ए-कबीर कार्यक्रम में सम्मिलित होंगे।

मुख्यमंत्री बघेल निर्धारित दौरा कार्यक्रम के तहत 22 जुलाई को पूर्वान्ह 11 बजे मुख्यमंत्री निवास से प्रस्थान कर छत्तीसगढ़ विधानसभा पहुंचेंगे और वहां 11.30 बजे से 2 बजे तक आयोजित उत्कृष्टता अलंकरण समारोह 2022 तथा शासकीय आईटीआई के उन्नयन हेतु एमओयू निष्पादन कार्यक्रम में शामिल होंगे। वे इसके पश्चात् दोपहर 2.20 बजे छत्तीसगढ़ विधानसभा हेलीपेड से हेलीकॉप्टर द्वारा प्रस्थान कर 2.40 बजे दुर्ग जिले के पाटन विकासखण्ड अंतर्गत अखराभाठा हेलीपेड पहुंचेंगे। वे वहां से कार द्वारा ग्राम सांतरा के लिए रवाना होंगे।  बघेल कार्यक्रम पश्चात् 3.45 बजे पुलिस ग्राउण्ड हेलीपेड रायपुर लौट आएंगे।
मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल रात्रि 8 बजे राजधानी के मेडिकल कॉलेज परिसर स्थित अटल बिहारी वाजपेयी सभागार में आयोजित ‘दास्तान-ए-कबीर’’ कार्यक्रम में सम्मिलित होंगे।

मुख्यमंत्री बघेल आज यू-टयूबर्स और सोशल मीडिया इंफ्लुएंसर्स से, 16 जुलाई को लोक कलाकारों से करेंगे भेंट-मुलाकात

मुख्यमंत्री बघेल आज यू-टयूबर्स और सोशल मीडिया इंफ्लुएंसर्स से, 16 जुलाई को लोक कलाकारों से करेंगे भेंट-मुलाकात

 मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल आम जनता से भेंट-मुलाकात के बाद आज  शाम यू टयूबर्स और सोशल मीडिया इंफ्लुएंसर से भेंट- मुलाकात करेंगे। इसी क्रम में मुख्यमंत्री  बघेल 16 जुलाई को छत्तीसगढ़ के लोक कलाकारों के साथ भेंट-मुलाकात कर रूबरू होंगे।

मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल का मानना है कि अपने योगदान से यू टयूबर्स और सोशल मीडिया इंफ्लुएंसर के साथ-साथ हमारे छत्तीसगढ़ के लोक कलाकार हमारे सुंदर और समृद्ध छत्तीसगढ़ की प्रतिष्ठा बढ़ा रहे हैं। यह रचनात्मक का क्षेत्र है, जिन लोगों ने इस क्षेत्र को अपनी कलात्मक अभिव्यक्ति के लिए चुना है। उनका प्रोत्साहन और उत्साहवर्धन जरूरी है। इसी उद्देश्य से मुख्यमंत्री ने इनके साथ अपनी भेंट-मुलाकात तय की है।

छत्तीसगढ़वासियों का अपनी माटी की संस्कृति के साथ गहरा लगाव है

छत्तीसगढ़ के लोक कलाकारों की हमेशा से लोगों के बीच अच्छी खासी पैठ है। ऐसा हो भी क्यों नहीं क्योंकि छत्तीसगढ़वासियों का अपनी माटी की संस्कृति के साथ गहरा लगाव है। वहीं यू टयूबर्स और सोशल मीडिया इंफ्लुएंसर ने अपनी रचनात्मकता और कल्पनाशीलता से इसे लोकप्रिय बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है।गौरतलब है कि सोशल मीडिया प्लेटफार्म युवाओं के बीच काफी लोकप्रिय है, सूचनाओं के सम्प्रेषण और मनोरंजन जगत में इसकी प्रभावी भूमिका से इंकार नहीं किया जा सकता । छत्तीसगढ़ के लोक कलाकारों का छत्तीसगढ़िया संस्कृति को आगे बढ़ाने में अतुलनीय योगदान रहा है। नए जमाने के चलन के साथ इन कलाकारों ने अपनी प्रस्तुति में रोचकता और लोगों के बीच अपना आकर्षण बनाए रखा है। जनसमुदाय को बड़ी उत्सुकता के साथ इन कलाकारों की प्रस्तुति का इंतजार रहता है।

छत्तीसगढ़ी लोक कलाकार अपना बहुमूल्य योगदान दे रहे है

सोशल मीडिया प्लेटफार्मों के माध्यम से छत्तीसगढ़ राज्य और इसकी गौरवशाली संस्कृति को देश और दुनिया के सामने प्रभावशाली और रोचक ढंग से प्रस्तुत करने में यू टयूबर्स और सोशल मीडिया इंफ्लुएंसर के साथ छत्तीसगढ़ी लोक कलाकार अपना बहुमूल्य योगदान दे रहे हैं, जिसकी जितनी भी सराहना की जाए कम है। इनके द्वारा अपनी रचनात्मकता, सोशल नेटवर्किंग कौशल के साथ प्रभावशाली प्रस्तुति लोगों के बीच विश्वास कायम कर रही हैै। मुख्यमंत्री इन लोगों से  भेंट-मुलाकात कर अपने विचार साझा करेंगे और इनकी बातों को भी पूरी गंभीरता से सुनेंगे।

अपने छत्तीसगढ़िया कल्चर को बढ़ावा दें क्रिएटर्स : भूपेश बघेल

अपने छत्तीसगढ़िया कल्चर को बढ़ावा दें क्रिएटर्स : भूपेश बघेल

 रायपुर, 15 जुलाई 2023 : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने शनिवार शाम सोशल मीडिया क्रिएटर्स से भेंट-मुलाकात की। राजधानी रायपुर के एक हॉटल में ‘कका मीट क्रिएटर्स‘ नाम से आयोजित कार्यक्रम में वे प्रदेशभर से आए सोशल मीडिया क्रिएटर्स से रूबरू हुए। इस दौरान सोशल मीडिया क्रिएटर्स ने मुख्यमंत्री से कई रोचक सवाल भी पूछे और मुख्यमंत्री ने अपने अंदाज़ में उनके जवाब भी दिए।

 

‘कका मीट क्रिएटर्स‘ में कला-संस्कृति, मनोरंजन, खानपान, पर्यटन, बोली-भाखा, रेडियो, वाइल्ड लाइफ, एडवेंचर, सूचना, फोटो- वीडियोग्राफी सहित विभिन्न रचनात्मक गतिविधियों से जुड़े तथा अपनी क्रिएटिविटी से खास पहचान बना चुके सोशल मीडिया क्रिएटर्स, इंफ्लुएंसर और यू-टयूबर्स बड़ी संख्या में मौजूद थे तथा उनमें गजब का उत्साह था। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने टेबल-दर-टेबल क्रिएटर्स तक पहुंचकर उनसे बातचीत की।

 

 

उनके सवालों का जवाब देते हुए मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि अब सबके हाथ में मोबाइल आ गया। हाथ में ही सब खबर मिल जाती है। हर वो आदमी आज कल पत्रकार बन गया है, जिसके पास स्मार्ट फोन है। जिसे कुछ भी लिखना, पढ़ना नहीं आता वह भी अपनी टांग अड़ाता है, इसलिए अच्छे-अच्छे लोग लिखना बंद कर दिए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस दौर में वाट्सएप यूनिवर्सिटी बहुत खतरनाक है।

 

 

कोई आदमी बहुत मेहनत कर जिंदगी भर की तपस्या करने के बाद अपना एक व्यक्तित्व बनाता है, लेकिन वाट्सएप यूनिवर्सिटी वाट लगा देती है। वाट्सएप यूनिवर्सिटी वालों की कोई क्रेडिबिलिटी नहीं होती है। वो तो नेहरू जी के बारे में भी गलत बातें प्रचारित करते हैं। ये वाट्सएप यूनिवर्सिटी किसी की छवि बना भी सकती है और बिगाड़ भी सकती है। सोशल मीडिया बहुत बड़ा मंच है, इसकी भूमिका रचनात्मक हो।

 

 

हाल ही में एक सड़क दुर्घटना में दिवंगत छत्तीसगढ़ के फेमस यू-ट्यूबर देवराज पटेल को याद करते हुए मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि हमारे प्रदेश के सोशल मीडिया क्रिएटर्स बहुत अच्छा काम कर रहे हैं। एक महिला क्रिएटर के सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि आपकी काकी के साथ बहुत सी फिल्में देखी हैं। पाटन क्षेत्र के एक क्रिएटर ने अपना और अपने गांव का नाम बताया तो मुख्यमंत्री ने उनके पिता का नाम लेते हुए पूछा कि आप उनके लड़के हैं क्या।

 

 

महिला सुरक्षा को लेकर वाहनों में पेनिक बटन जैसी व्यवस्था करने के लिए महिला क्रिएटर ने मुख्यमंत्री को धन्यवाद दिया। घूमने के लिए छत्तीसगढ़ में पसंदीदा पर्यटन स्थल के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ में पर्यटन के लिए एक से बढ़कर एक स्थान हैं, घूमने-फिरने के लिए कहीं बाहर जाने की जरूरत नहीं। एक सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि वे पढ़ाई में एवरेज थे। मस्ती भी बहुत करते थे।

 

 

बारिश के दिनों में नाला में बाढ़ आ जाती थी, तो स्कूल बंक बहुत होता था। एक सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर मैं सोशल मीडिया क्रिएटर होता तो खेती-किसानी पर क्रिएटिव बनाता। उन्होंने क्रिएटर्स से कहा कि वे अपने छत्तीसगढ़िया कल्चर को बढ़ावा दें। कलेवा को दिखाते हैं तो मुंह में पानी आ जाता है। एक बाल क्रिएटर ने मुख्यमंत्री से कहा कि गरीब बच्चे पहले पढ़ नहीं पाते थे, आपने ऐसा स्कूल बनवाया है जहां फ्री में एजुकेशन मिलता है। इसके लिए बहुत-बहुत धन्यवाद।

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रायपुर पहुंचने पर हेलीपेड पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने किया स्वागत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रायपुर पहुंचने पर हेलीपेड पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने किया स्वागत

 रायपुर:  प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के आज सुबह राजधानी रायपुर पहुंचने पर पंडित रविशंकर शुक्ल हेलीपेड पर मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने उनकी अगवानी की। उन्होंने प्रधानमंत्री को पुष्प गुच्छ भेंट कर उनका छत्तीसगढ़ में आत्मीय स्वागत किया।गौरतलब है कि प्रधानमंत्री श्री मोदी एक दिवसीय प्रवास पर आज सुबह रायपुर पहुंचे।

 

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने समारोह को किया संबोधित

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने समारोह को किया संबोधित

 रायपुर: मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि यह हमारे लिए बहुत खुशी की बात है कि हमारे प्रधानमंत्री छत्तीसगढ़ के दौरे में आये हैं। प्रभु श्रीराम के ननिहाल और माता कौशल्या की भूमि में मैं उनका स्वागत करता हूँ। प्रधानमंत्री जी से हम अनेक मंचों में मिलते हैं और नीति आयोग आदि की बैठकों में मिलते हैं।

 

हम मांगे भी करते हैं लेकिन उन्हें और दोहराना नहीं चाहता। मैं गडकरी जी के साथ भी बैठता हूँ जितना मांगते हैं उससे ज्यादा ही देते हैं। हम तो मांगते ही रहेंगे लेकिन और ज्यादा नहीं कहना चाहता हूूँ, फिर भी इतना कहना चाहता हूँ कि हमारा राज्य नवोदित राज्य है इसलिए ज्यादा से ज्यादा मदद हमको मिलती रहे।

 

Previous123456789...6667Next