कोरोना अपडेट: प्रदेश में आज 12665 ने जीती कोरोना से जंग, कुल 6577 नए मरीज मिले 149 मृत्यु भी, देखे जिलेवार आकड़े    |    लॉन्च हुई 2डीजी दवा, कोरोना संक्रमण से जंग में कैसे करेगी मदद? जानिए सब कुछ    |    आईसीएमआर अपडेट : राज्य में मिले 5294 कोरोना पॉजिटिव, 21 जिलों में सौ से अधिक मिले मरीज, देखे जिलेवार आकड़े    |    सेक्स रैकेट : पुलिस ने छापा मारकर देह व्यपार का किया खुलासा, मौके से दो युवक और दो युवती गिरफ्तार    |    दो पक्षों के बीच विवाद में गोली लगने से एक महिला की मौत, तीन अन्य घायल    |    चक्रवाती तूफान तौकते हुआ विनाशकारी, 5 राज्यों में अब तक 11 लोगों की मौत    |    बड़ी खबर: जानिए आखिर किस मामले में सीबीआई ने 4 नेताओं को किया गिरफ्तार    |    ममता बनर्जी के मंत्रियों-नेताओं पर सीबीआई ने कसा शिंकजा, यहां जानें क्या है मामला    |    रक्षा मंत्री व केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने लॉन्च की कोरोना की स्वदेशी दवा 2DG    |    कोरोना अपडेट: देश में 24 घंटों में 2 लाख 81 हजार नए मामले आए, 4106 लोगों की हुई मौत    |
मुठभेड़ में एक नक्सली देर, हथियार बरामद

मुठभेड़ में एक नक्सली देर, हथियार बरामद

दंतेवाड़ा। जवानों और नक्सलियों के बीच मुस्तलनार के जंगलो में मुठभेड़ की खबर सामने आ रही है। 1 घण्टे तक दोनों तरफ से गोली बारी हुई है। मुठभेड़ में 1 नक्सली ढेर हो गया है। मारे गये नक्सली से 2 देशी हथियार, आईईडी बम, वायर,4 पिठ्ठू के साथ दैनिक उपयोग की सामग्री बरामद की गई है।

मारे गये नक्सली की शिनाख्त प्लाटून नम्बर 16 रामचन्द्र कड़ती के रूप में हुई है। इंटेलिजेंस रिपोर्ट के आधार पर जवानों की पार्टी निकली थी। घटना गीदम थानाक्षेत्र की है। दंतेवाड़ा एसपी अभिषेक पल्लव ने मामले की पुष्टि की है।

 छत्तीसगढ़: कोरोना से 10 से ज्यादा नक्सलियों की मौत, लूट रहे दवाएं-वैक्सीन

छत्तीसगढ़: कोरोना से 10 से ज्यादा नक्सलियों की मौत, लूट रहे दवाएं-वैक्सीन

दंतेवाड़ा। कोरोना का कहर सभी पर टूटा है, चाहे वो आम जनता हो, मंत्री-नेता या फिर अभिनेता, कोई भी इस कहर से नहीं बचा है। वहीँ अब कोरोना संक्रमण जंगली इलाकों में रहने वाले नक्सलियों तक भी पहुंच गया है। बीते कुछ दिनों में यहां 10 से ज्यादा नक्सलियों ने इस महामारी से दम तोड़ा है। इनमें से 8 के शव जलाए जाने की जानकारी भी सुरक्षा एजेंसियों को मिली है। 

दंतेवाड़ा एसपी डॉक्टर अभिषेक पल्लव का का कहना है कि जिन नक्सलियों की मौत हुई है, वे दक्षिण बस्तर इलाके के हैं। उनके नामों के बारे में पता किया जा रहा है। पल्लव का दावा है कि सुकमा में तो नक्सलियों ने संक्रमण से लड़ने के लिए वैक्सीन और दवाएं भी मंगवाई हैं। उन्होंने नक्सलियों से अपील की है कि जो नक्सली बीमार हैं, वे आकर सरेंडर करें। पुलिस इलाज कराएगी।

दंतेवाड़ा पुलिस को सूचना मिली है कि कोरोना और फूड पॉइजनिंग अब नक्सलियों के सामने बड़ी मुसीबत बन रही है। जिन नक्सलियों की मौत हुई है, उनमें कुछ बड़े कैडर के बताए जा रहे हैं।पुलिस को यह जानकारी भी मिली है कि कुछ दिन पहले कोंटा और दोरनापाल इलाके में नक्सलियों ने कोरोना वैक्सीन और दवाइयां लूटी थीं।

दो दिन पहले दक्षिण बस्तर डिवीजन, दरभा डिवीजन और पश्चिम बस्तर डिवीजन में 100 से ज्यादा नक्सलियों के कोरोना संक्रमित होने की जानकारी मिली थी। इनमें 25 लाख रुपए की इनामी सुजाता, जयलाल और दिनेश भी शामिल हैं। अकेले दक्षिण बस्तर में ही दंतेवाड़ा, बीजापुर और सुकमा जिले आते हैं। इन इलाकों में सरकार ने भी आंध्र प्रदेश स्ट्रेन को लेकर अलर्ट जारी किया है। अफसरों ने भी नक्सलियों के उसी स्ट्रेन से संक्रमित होने की आशंका जताई है।
 
 एनएमडीसी कर्मियों को विशाखापट्नम, हैदराबाद एवं आन्ध्रप्रदेश जाने पर लगी रोक

एनएमडीसी कर्मियों को विशाखापट्नम, हैदराबाद एवं आन्ध्रप्रदेश जाने पर लगी रोक

दंतेवाड़ा। देश में कोरोना की दूसरी लहर दिन ब दिन खतरनाक होती जा रही है, लगातार बढ़ते कोरोना के मामले के बीच जिला प्रशासन की चिंता भी बढ़ गई है, जिला प्रशासन द्वारा कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों के कारण जिले में पाबंदियों को लागू कर दिया गया है। नए आन्ध स्ट्रेन के संक्रमण के कारण एनएमडीसी परियोजना क्षेत्र में कार्यरत अधिकारी-कर्मचारी एवं उनके परिवार के सदस्यों को विशाखापट्नम, हैदराबाद एवं आन्ध्रप्रदेश के शहरों में जाने पर सख्ती से रोक लगा दी गई है।

जिला प्रशासन के द्वारा एनएमडीसी किसी भी अधिकारी/कर्मचारी अति आवश्यक नहीं होने पर अवकाश स्वीकृत नहीं किये जाने का आदेश दिया है। आन्ध्रप्रदेश से आने वाले सभी अधिकारी/कर्मचारी एवं ठकेदारों को अपनी परियोजना में प्रवेश न दिया जावे। आवश्यक होने पर एसडीओ बड़े बचेली की अनुमति पश्चात कोविड टेस्ट कराकर अनिवार्यत: 10 दिवस का संस्थागत कारेंटाईन की शर्त पर ही जिले में प्रवेश दिया जा सकेगा।
जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन के अधिकारियों और जवानों ने निकला फ्लेग मार्च

जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन के अधिकारियों और जवानों ने निकला फ्लेग मार्च

दंतेवाड़ा। कोविड संक्रमण के लगातार बढ़ रहे मामलों के मद्देनजर जिले में 18 अप्रैल को सुबह 6 बजे से 6 मई सुबह 6 बजे तक लॉकडाउन घोषित किया गया है। जिसे ध्यान रखते हुए जिला प्रशासन तथा पुलिस प्रशासन के अधिकारियों और जवानों ने गीदम से दंतेवाड़ा तक मुख्य मार्ग में फ्लेग मार्च कर आम नागरिकों और व्यावसायियों से लॉकडाउन में सहयोग प्रदान करने धन्यवाद दिया। इस दौरान अधिकारियों ने कोविड संक्रमण से बचाव करने के लिए मास्क का उपयोग करने, सोशल डिस्टेंस का पालन करने, साबुन से हाथ की धुलाई करने और घर में ही सुरक्षित रहने की समझाईश नागरिकों को दी। इस दौरान एसडीएम अबिनाश मिश्रा, अपर पुलिस अधीक्षक जायसवाल, डिप्टी कलेक्टर प्रीति दुर्गम, सीएमओ एल एस मरकाम, सहित जिला प्रशासन, नगर निगम के अधिकारी और पुलिस अधिकारी तथा पुलिस जवान मौजूद थे। 

इनामी नक्सली समेत 7 नक्सलियों ने किया आत्मसमर्पण...

इनामी नक्सली समेत 7 नक्सलियों ने किया आत्मसमर्पण...

दंतेवाड़ा । नक्लसियों के खिलाफ सुरक्षाबलों का अभियान जारी है। इसी बीच कई नक्सली हिंसा का रास्ता छोड़कर मुख्यधारा से जुड़ने लगे है। प्रदेश में चल रहे लोन वर्राटू अभियान से प्रभावित होकर कुल 346 नक्सलियों ने अपने हथियार डाल दिए है।
इसी कड़ी में इस अभियान से प्रभावित होकर एक लाख का इनामी डीएकेएमएस अध्यक्ष कोसा मंडावी सहित 7 नक्सलियों ने बड़ेगुडरा के सीआरपीएफ कैंप में जाकर दंतेवाड़ा एसपी अभिषेक पल्लव के समक्ष आत्मसमर्पण किया है। लोन वर्राटू अभियान के तहत अब तक 93 इनामी सहित कुल 346 नक्सली आत्मसमर्पण कर चुके हैं। बता दें कि नक्सलियों के पुनर्वास के लिए लोन वर्राटू अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के तहत नक्सली आत्मसमर्पण कर समाज की मुख्यधारा से जुड़कर प्रदेश के विकास में सहयोग करते हैं। 7 नक्सलियों ने एसपी अभिषेक पल्लव के सामने आत्मसमर्पण की इच्छा जाहिर की। एसपी के सामने इन नक्सलियों ने सीआरपीएफ कैंप में आत्मसमर्पण किया। पिछले 6 महीनों से दंतेवाड़ा के विभिन्न गांव के नक्सली संगठन में सक्रिय सदस्यों की घर वापसी हो रही है। थाना और कैम्पों, ग्राम पंचायतों में नाम चस्पा कर संबंधित क्षेत्र के सक्रिय नक्सलियों के खोखली विचारधारा को छोड़कर लोन वर्राटू अभियान चलाया जा रहा है। आत्मसमर्पण करने वाले नक्सलियों में डीएकेएमएस अध्यक्ष कोसा मंडावी, मिलिशिया सदस्य हिरमा सोरी, सीएनएम सदस्य हूंगा करटाम, मिलिशिया सदस्य मडक़ा राम मिलिशिया सदस्य कुंजाम, बामन कवासी, डीकेएमएस सदस्य मासा कवासी और मिलिशिया सदस्य हिड़माराम कवासी शामिल है।
 

 भारत बंद : नक्सलियों की किया भारत बंद का ऐलान, लगाए पोस्टर-बैनर

भारत बंद : नक्सलियों की किया भारत बंद का ऐलान, लगाए पोस्टर-बैनर

दंतेवाड़ा। बस्तर में नक्सलियों के खिलाफ सुरक्षाबलों के चलाए जा रहे अभियान का नक्सलियों ने विरोध करते हुए आज भारत बंद का ऐलान किया है। वहीं कल देर रात सुकमा के निर्माण कार्य में लगे वाहनों को आग के हवाले कर दिया। सरकार की ओर से चलाए जा रहे ऑपरेशन प्रहार का नक्सली लगातार विरोध कर रहे हैं। इसे लेकर नक्सलियों ने 26 अप्रैल सोमवार को भारत बंद का आह्वान किया है। नक्सलियों ने सड़कों पर पोस्टर और बैनर लगाए हैं। जहां नक्सलियों ने बैनर लगाया है, वहां से सीआरपीएफ-195 बटालियन का कैंप महज 500 मीटर की दूरी पर है। नक्सलियों ने इन बैनर में भारतीय सेना की तैनाती का भी विरोध जताया है। बैनर-पोस्टर में लोगों से अपील की गई है कि वह इस अघोषित युद्ध के खिलाफ सड़क पर उतरे। साथ ही दंडकारण्य में सेना की तैनाती का विरोध करें।

जानकारी के मुताबिक, जिले के बारसूर पल्ली मार्ग पर सातधार के पास नक्सलियों ने कई जगह पोस्टर और बैनर लगाए हैं। मार्ग पर भारतीय सेना की ओर से जो होर्डिंग लगाई गई है, नक्सलियों ने उसी से बैनर को बांधा है। बैनर-पोस्टर में लोगों से अपील की गई है कि वह इस अघोषित युद्ध के खिलाफ सड़क पर उतरे। साथ ही दंडकारण्य में सेना की तैनाती का विरोध करें। इन बैनर-पोस्टर को लगाने की जिम्मेदारी पूर्व बस्तर डिवीजन कमेटी ने ली है।

चार दिन से लगातार उत्पात मचा रहे हैं नक्सली
भारत बंद की घोषणा से चार दिन पहले से ही नक्सली लगातार उत्पात मचा रहे हैं। जवानों की हत्या के साथ ही कैंप पर हमला और सड़क निर्माण कार्य में लगे वाहनों को जलाया है। यहां तक कि पैसेंजर ट्रेन को डिरेल कर यात्रियों की भी जान लेने का प्रयास किया है।

25 अप्रैल को सुकमा के नेशनल हाइवे पर रविवार की शाम अंधेरा होते ही नक्सलियों ने जमकर उत्पतात मचाया। एनएच 30 पर दरभागुड़ा और लेंड्रा के बीच हाईवा और ट्रेलर जैसी 7 गाड़ियों को आग लगा दी। पुलिस और स्थानीय सूत्रों के मुताबिक ये घटना शाम 7 बजे के बाद हुई। इस घटना में ट्रक और ट्रेलर जैसे बड़े वाहर पूरी तरह जल गए। इन इलाकों में नक्सली रविवार को भारत बंद करने की धमकी पहले ही दे चुके थे।
मुख्यमंत्री राहत कोष में अधिकारियों-कर्मचारियों के वेतन से एक दिन की राशि कटौती के संबंध में दिशा-निर्देश जारी

मुख्यमंत्री राहत कोष में अधिकारियों-कर्मचारियों के वेतन से एक दिन की राशि कटौती के संबंध में दिशा-निर्देश जारी

दंतेवाड़ा। कोविड-19 से प्रभावित प्रदेश के जरूरतमंद लोगों की सहायता के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष में स्वेच्छा से योगदान के लिए अधिकारियों-कर्मचारियों के माह अप्रैल के वेतन से एक दिन की राशि कटौती के संबंध में वित्त विभाग द्वारा दिशा-निर्देश जारी किया गया है।
इस संबंध में वित्त विभाग की ओर से 22 अप्रैल को मंत्रालय से सभी अपर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव, सचिव, अध्यक्ष राजस्व मंडल, विभागाध्यक्ष, बजट नियंत्रण अधिकारी, समस्त कार्यालय प्रमुख, आहरण संवितरण अधिकारी और कोषालय अधिकारियों को परिपत्र जारी किया गया है। परिपत्र में कहा गया है कि मुख्यमंत्री की ओर से कोविड-19 से प्रभावित प्रदेश के जरूरतमंद लोगों की सहायता के लिए 13 अप्रैल 2021 को शासकीय अधिकारियों-कर्मचारियों से मुख्यमंत्री सहायता कोष अंश दान देने की अपील की है। इसके अनुक्रम में राज्य के आईएएस एसोसिएशन, राज्य प्रशासनिक सेवा के सदस्यों, राजपत्रित अधिकारी संघ और अन्य विभिन्न संगठनों की ओर से अधिकारियों-कर्मचारियों के अप्रैल माह के वेतन से एक दिन के वेतन की कटौती करते हुए मुख्यमंत्री सहायता कोष में जमा कराने का अनुरोध किया गया है।
वित्त विभाग की ओर से अधिकारियों-कर्मचारियों के अप्रैल माह के वेतन से एक दिन के वेतन की राशि कटौती कर बजट शीर्ष में जमा कराने की सुविधा ई-पेरोल सॉफ्टवेयर युटिलिटीज मेन्यू के अंतर्गत रिलीफ फंड अपडेट ऑप्शन में मुख्य शीर्ष 8443 सिविल जमा राशियां, लघु शीर्ष 800 अन्य जमा राशियां और योजना क्रमांक 0001 मुख्यमंत्री राहत कोष उपलब्ध कराई गई है। परिपत्र में कहा गया है कि अप्रैल माह के वेतन से एक दिन की राशि का कटौती सुनिश्चित करते हुए वेतन देयक तैयार कर कोषालय में प्रस्तुत करने का उत्तरदायित्व संबंधित कार्यालय प्रमुख-आहरण और संवितरण अधिकारी को होगा। तदनुसार कार्यवाही किया जाना सुनिश्चित करें।
 

LOCKDOWN BREAKING : छत्तीसगढ़ के एक और जिले में लगा 10 दिन का लॉकडाउन, देखें विस्तृत आदेश

LOCKDOWN BREAKING : छत्तीसगढ़ के एक और जिले में लगा 10 दिन का लॉकडाउन, देखें विस्तृत आदेश

दंतेवाड़ाप्रदेश में कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते प्रदेश में लॉकडाउन का सिलसिला चालू है। एक के बाद एक जिलों में संक्रमण की चेन तोड़ने लॉक डाउन लगाया जा रहा है। लगभग आधा छत्तीसगढ़ लॉक हो चुका है, और कई जिलों में लॉक डाउन की प्रक्रिया चालू है। इसी बीच दंतेवाड़ा और नारायणपुर जिले में भी कलेक्टर ने पूर्ण लॉकडाउन लगा दिया है। केवल मेडिकल दुकानों को निर्धारित समय में खोलने की अनुमति मिली है।

दंतेवाड़ा जिले में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। महामारी के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए 18 से 27 अप्रैल तक लॉकडाउन लगा दिया गया है। 18 अप्रैल की सुबह 6 बजे से 27 अप्रैल रात 12 बजे तक जिला लॉक रहेगा। जिले की सभी सीमाओं को सील कर दिया गया है। दंतेवाड़ा कलेक्टर दीपक सोनी ने आदेश जारी किया है।

 

 

 अंधविश्वासी शिक्षक ने तेंदुए की खाल का बनाया था बिस्तर, वन विभाग ने किया गिरफ्तार

अंधविश्वासी शिक्षक ने तेंदुए की खाल का बनाया था बिस्तर, वन विभाग ने किया गिरफ्तार

दंतेवाड़ा। वन्य जीवों की तस्करी के खिलाफ वन विभाग की कार्रवाई जारी है। इसी बीच दंतेवाड़ा जिले के पातररास से वन विभाग ने एक शिक्षक के घर से तेंदुए की खाल बरामद की है। मुखबिर की सूचना पर वन विभाग ने कार्रवाई की है। 

जानकारी के अनुसार वन विभाग के एसडीओ अशोक सोनवानी को मुखबिर से सूचना मिली थी कि पातररास में एक शिक्षक संतोष जायसवाल अपने घर पर तेंदुए की खाल छिपा रखा है, जिसे वह जल्द बेचने की तैयारी में है। आरोपी शिक्षक संतोष जायसवाल दंतेवाड़ा के भोगाम में प्राथमिक विद्यालय में वर्ग 03 का शिक्षक है। जिसने वर्षभर पहले 25 हजार में तेंदुए की खाल को तस्करी के नीयत से खरीदी थी। पर उसे बेचने के लिए उसे ग्राहक नही मिल रहे थे।

वन विभाग दंतेवाड़ा के एसडीओ अशोक सोनवानी ने मामले के संबंध में बताया कि आरोपी तेंदुआ की खाल को ही सोने का बिस्तर बनाया था। अंधविश्वास के चलते शिक्षक का मानना था कि इस तरह सोने से मनोकामना पूरी होती है। मनोकामना पूर्ण होते ही वह खाल को बेच देना चाहता था। जिससे शिक्षक ने इस खाल को खरीदा था, उसे भी पकड़ने की तैयारी में वन विभाग जुट गया है। बता दें कि बस्तर में वन्य प्राणियों पर तस्करी की वजह से गहरा संकट मंडरा रहा है।
 छत्तीसगढ़ लॉकडाउन: छत्तीसगढ़ के इस नगर पालिका क्षेत्र में हुआ 14 से 28 तक लाकडॉउन का ऐलान

छत्तीसगढ़ लॉकडाउन: छत्तीसगढ़ के इस नगर पालिका क्षेत्र में हुआ 14 से 28 तक लाकडॉउन का ऐलान

दंतेवाड़ा। नगर पालिका क्षेत्र बचेली एवं किरन्दुल के सीमा क्षेत्र के अतंर्गत संक्रमण से बचाव एवं स्वास्थ्य गत आपात कालीन स्थिति को नियंत्रण में रखने हेतु 14 अप्रैल प्रात: 05 बजे से 28 अप्रैल रात्रि 12 बजे तक सभी गतिविधियों पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाई गयी है। 

एसडीएम बडे बचेली प्रकाश भारद्वाज के निर्देशानुसार क्षेत्र में आम नागरिकों की सामान्य रूप से आवाजाही पूर्ण रूप से प्रतिबंधित रहेगी किरन्दुल एवं बचेली क्षेत्र के समस्त शासकीय अर्द्धशासकीय कार्यालय को तत्काल प्रभाव से बंद करने का आदेशित किया गया है, तथा सभी कर्मचारी अपने घर से ही शासकीय कार्यों का निष्पादन करेंगे। आवश्यकता पडऩे पर कार्यालय प्रमुख उन्हें कार्यालय में बुला सकेंगे क्षेत्र की सभी दुकानें व्यवसायिक प्रतिष्ठान, गोदाम, साप्ताहिक हाट-बाजार आदि सम्पूर्ण गतिविधियों से बंद रहेंगी। 

घर पहुंच सेवा के माध्यम से आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति उचित दरों पर सुनिश्चित की जावेगी, सभी प्रकार के आवागमन पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा। मेडिकल इमरजेंसी को छोड़कर अन्य किन्हीं भी कारणों से घर के बाहर निकलना प्रतिबंधित रहेगा। स्वास्थ्य विभाग के मानकों के अनुरूप व्यवस्था हेतु पुलिस, पेट्रोलिंग सुनिश्चित की जावेगी। स्वास्थ्य विभाग के निर्देशानुसार आवश्यक सर्विलांस, कान्टैक्ट ट्रैसिंग एवं सैम्पल जांच आदि की कार्यवाही की जावेगी।
दंतेवाड़ा में फिर हुआ पुलिस-नक्सली मुठभेड़, इस बार इनामी नक्सली हुआ ढेर

दंतेवाड़ा में फिर हुआ पुलिस-नक्सली मुठभेड़, इस बार इनामी नक्सली हुआ ढेर

दंतेवाड़ा। छत्तीसगढ़ में बस्तर संभाग के दंतेवाड़ा में डीआरजी और कटेकल्याण एरिया कमेटी के नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हुई। इस मुठभेड़ में 1 लाख रुपये का इनामी नक्सली ढेर हो गया है। जवानों ने नक्सली का शव बरामद कर लिया है। एसपी डॉ अभिषेक पल्लव ने पुष्टि की है।
जानकारी के मुताबिक मुठभेड़ में एक नक्सली ढेर हो गया है। नक्सली का नाम वेट्टी हुंगा है। जवान पहले से ही नक्सली की तलाश कर रहे थे। आखिरकार नक्सली मुठभेड़ में ढेर हो गया।
डीआरजी के जवानों ने मारे गए नक्सली से एक 8mm पिस्टल, 1 देसी कट्टा, 2 किलो की एक आईईडी, नक्सली साहित्य, पिठ्ठू सहित अन्य नक्सल सामग्री भी जावनों ने बरामद किया है।
 

 बंधक जवान के सुरक्षित होने की तस्वीर नक्सलियो ने की जारी, सामाजिक कार्यकर्ता और पत्रकारों का एक दल हुआ रवाना

बंधक जवान के सुरक्षित होने की तस्वीर नक्सलियो ने की जारी, सामाजिक कार्यकर्ता और पत्रकारों का एक दल हुआ रवाना

दंतेवाड़ा। तर्रेम मुठभेड़ के बाद नक्सलियों द्वारा बंधक बनाये गये जवान की तस्वीर जारी कर नक्सलियों ने यह प्रमाण दिया है कि जवान राकेश्वर सिंह सुरक्षित है। वहीं जवान की मासूम बच्ची ने भी अपने पिता की रिहाई के लिए अपील की है। इसके अलावा बस्तर में युवा भी अपह्रत जवान को रिहा करने की मांग को लेकर एकजुट हुए हैं। 

वहीं दूसरी ओर कोबरा बटालियन के अपह्रत जवान राकेश्वर सिंह को छोड़े जाने के लिए जेल बंदी रिहाई समिति के सदस्य सामाजिक कार्यकर्ता और पत्रकारों का एक दल भी रवाना हो गए हैं। सामाजिक कार्यकर्ता और पत्रकारों का दल नक्सलियों की मांद में घुसकर जवान को छोड़े जाने की अपील करेगा। 
चैत्र नवरात्रि में मांई दंतेश्वरी मंदिर में श्रद्धालुओं व आम नागरिकों का प्रवेश प्रतिबंधित

चैत्र नवरात्रि में मांई दंतेश्वरी मंदिर में श्रद्धालुओं व आम नागरिकों का प्रवेश प्रतिबंधित

दंतेवाड़ा । मंदिर समिति मांई दंतेश्वरी मंदिर दंतेवाड़ा ने चैत्र नवरात्र के संबंध में आवश्यक बैठक रखा गया। जिसमें चैत्र नवरात्र के आयोजन के संबंध में विभिन्न महित्वपूर्ण गतिविधियों के बारे में चर्चा की गयी। इस बार भी ऑनलाईन दर्शन के माध्यम से श्रद्धालु मांई का दर्शन कर कर सकेंगे। कोविड-19 कोरोना वायरस के संक्रमण को मद्देनजर रखते हुए चैत्र नवरात्रि पर्व 2021 के दौरान आम नागरिकों की सुरक्षा और स्वास्थ्य के मद्देनजर मां दंतेश्वरी मंदिर दंतेवाड़ा में चैत्र नवरात्र पर्व 13 अप्रैल से 21 अप्रैल तक मंदिर में आयोजन किये जायेंगे परन्तु भक्त जन मंदिर आकर मांई का दर्शन नहीं कर पाएंगे।नवरात्र के दौरान श्रद्धालुओं, आम नागरिकों का मंदिर में प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा। यदि कोई व्यक्ति मंदिर के अंदर मोबाईल या कैमरा के माध्यम से फोटो लेते हुए पाया जाता है तो उस पर 1 हजार रुपए का जुर्माना लगाया जाएगा। माता की आरती और ज्योत का लाईव दर्शन श्रद्धालु अपने घर बैठ कर कर पाएंगे। इसका सीधा प्रसारण स्थानीय चैनल, एल ई डी स्क्रीन, तथा जिले के अधिकृत वेबसाइट, फेसबुक, ट्विटर पेज तथा अन्य माध्यमों से किया जाएगा। इस बारे में मन्दिर समिति के सदस्यों ने कहा कि वर्तमान में नॉवेल कोरोना वायरस के तेजी से फैलते प्रभाव को देखते हुए तथा नवरात्रि के दौरान मां दंतेश्वरी मंदिर दंतेवाड़ा में दर्शन करने वाले अधिकांश दर्शनार्थी श्रद्धालु दंतेवाड़ा जिले के अलावा समीपस्थ जिले के ग्रामीण क्षेत्रों से मेला स्थल पहुंचते हैं। अत: शासन की ओर से नॉवेल कोरोना वायरस संक्रमण के कारण वर्तमान में मेला समारोह आयोजन पर रोक लगायी गयी है। इसके साथ ही जिले के ग्रामीण इलाकों के मंदिर परिसरों में लगने वाले चैत्र नवरात्रि मेला भी स्थगित रहेगा। भक्तगण स्वेच्छा से ऑनलाइन दान कर सकेंगे जिसके लिए अथवा व्यवस्थापक टेम्पल एस्टेट दंतेवाड़ा के नाम से एसबीआई खाता क्रमांक 37596357458 आईएफएससी कोड नंबर- SBIN0000545 के माध्यम से दान किया जा सकता है। इस दौरान दंतेवाड़ा विधायक देवती कर्मा, अध्यक्ष जिला पंचायत तुलिका कर्मा, उपाध्यक्ष जनपद पंचायत दंतेवाड़ा सुनीता भास्कर, अध्यक्ष नगर पालिका परिषद पायल गुप्ता, कलेक्टर दीपक सोनी, सीईओ जिला पंचायत अश्विनी देवांगन, एसडीएम अबिनाश मिश्रा और मंदिर के पुजारी सहित मंदिर समिति के सदस्य और क्षेत्र के विभिन्न समाज प्रमुख तथा अधिकारी और कर्मचारी मौजूद थे।
 

बिना जानकारी के एक्सपायरी दवाइयों का किया जा रहा था डंप, सीएमएचओ ने दिए जांच के आदेश

बिना जानकारी के एक्सपायरी दवाइयों का किया जा रहा था डंप, सीएमएचओ ने दिए जांच के आदेश

दंतेवाड़ा । दंतेवाड़ा में बिना जानकारी के एक्सपायरी दवाइयों को जमीन में डंप करने का ताजा मामला सामने आया है। इसकी खबर फैलते ही खलबली मच गई। वहीं मामले का तूल पकड़ने के बाद अब मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने जांच के आदेश दिए हैं।
यह मामला सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कटेकल्याण का है। जानकारी के अनुसार स्टोर कीपर विभाग की जानकारी के बिना ही जमीन में एक्सपायरी दवाइयों को डंप कर रहा था। वहीं इसकी खबर फैलते ही स्वास्थ्य कर्मियों में हड़कंप मच गया। फिलहाल सीएमएचओ ने मामले में जांच के आदेश दिए हैं।
 

मदिरा प्रेमी ध्यान दे शहर में इस दिन  dry day घोषित

मदिरा प्रेमी ध्यान दे शहर में इस दिन dry day घोषित

दंतेवाड़ा । कलेक्टर की ओर से जारी आदेशानुसार आबकारी विभाग की ओर से 29 मार्च को होली के अवसर पर शुष्क दिवस घोषित किया गया है। अत: उक्त दिनांक 29 मार्च को जिले के समस्त देशी मदिरा दुकान सी.एस. 2 (घ) और विदेशी मदिरा दुकान एफ.एल.1 (घ) तथा एफ.एल.7 सैनिक केन्टीन फुटकर पूर्णत: बंद रखने का निर्देश जारी किया गया है। 

उचित मूल्य दुकान संचालन के लिए आवेदन 24 मार्च तक

उचित मूल्य दुकान संचालन के लिए आवेदन 24 मार्च तक

दंतेवाड़ा । अनुविभागीय अधिकारी बड़े बचेली के द्वारा ग्राम पंचायत बड़े कमेली के शासकीय उचित मूल्य दुकान संचालन किए जाने के लिए दुकान आबंटन किया जाना प्रस्तावित हैं। उक्त संबंध में आवेदन प्रस्तुत करने के लिए अंतिम अवसर देते हुए दुकान संचालन के लिए इच्छुक एजेन्सी यथा वृहदाकार आदिम जाति बहुउद्देशीय सरकारी समितियां, ग्राम पंचायत, महिला स्व-सहायता समूह, वन सुरक्षा समितियां, राज्य शासन की ओर से विनिर्दिष्ट, सार्वजनिक उपक्रम, अन्य उपभोक्ता सहाकारी समितियां और प्राथमिक कृषि शाख समितियां से विहित प्रारूप में 10 मार्च से 24 मार्च तक कार्यालयीन दिवस और समय में एसडीएम बड़ेबचेली के कार्यालय में आवेदन आमत्रित किया गया है। 

भीषण गर्मी लू से उत्पन्न स्थिति से निपटने के लिए नोडल अधिकारी की नियुक्ति

भीषण गर्मी लू से उत्पन्न स्थिति से निपटने के लिए नोडल अधिकारी की नियुक्ति

दंतेवाड़ा । राजस्व व आपदा प्रबंधन विभाग के निर्देश में जिले के डिप्टी कलेक्टर आस्था राजपूत को माह मार्च-जून के दौरान भीषण गर्मी लू (Heat Wave) प्राकृतिक आपदा से उत्पन्न स्थिति से निपटने के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। राजपूत का मोबाईल नम्बर 94791-50879, दूरभाष नम्बर 07856-252412 और ई-मेल आईडी [email protected] है। 

 बड़ी खबर छत्तीसगढ़: आईईडी ब्लास्ट में एक जवान शहीद, एसपी ने की पुष्टि

बड़ी खबर छत्तीसगढ़: आईईडी ब्लास्ट में एक जवान शहीद, एसपी ने की पुष्टि

दंतेवाड़ा। छत्तीसगढ़ में दंतेवाड़ा जिले के पहुरनार में नक्सलियों के आईईडी ब्लास्ट किया है, जिसके चपेट में आने से एक जवान शहीद हो गया। शहीद जवान का नाम लक्ष्मीनाथ द्विवेदी है। इलाके में चल रहे पुल निर्माण कार्य की सुरक्षा में जवान की ड्यूटी लगी थी। नक्सलियों ने जवानों को निशाना बनाने के लिए आईईडी पहले से प्लांट कर रखी थे। एसपी ने इसकी पुष्टि कर दी है। 
1 माह में 14 मौत के बाद भी नहीं जागा प्रशासन

1 माह में 14 मौत के बाद भी नहीं जागा प्रशासन

दंतेवाड़ा । नक्सल प्रभावित दक्षिण बस्तर दंतेवाड़ा जिले में कटेकल्याण ब्लाक के सुरनार में पिछले माह भर में 8 बच्चे और 6 ग्रामीणों की मौत होने के बाद भी स्वास्थ्य विभाग नहीं जागा है। सुरनार के 8 बच्चों में 2 की ही मौत की पुष्टि हो पाई है। मेडिकल काॅलेज में 2 बच्चों को निमोनिया होना बताया था बाकी बच्चों की मौत कैसे हुई यह परिजनों को भी मालूम नहीं है।
मृतक बच्चे के पिता बामन ने बताया सर्दी बुखार के लक्षण के बाद बच्चे की मौत हुई है। 24 जनवरी से अब तक सुरनार के गायतापारा में 4, डडापारा में 2, पटेलपारा में 2 और ओमेलपारा में 4 बच्चों की मौत हुई है। वहीं 6 ग्रामीणों में सोनू, भीमा, बुधराम , बामन , भूरिया की भी मौत हुई है। 6 ग्रामीणों में मरने वालों में 28 वर्ष से लेकर 48 वर्ष के ग्रामीण शामिल हैं। 6 ग्रामीणों में 2 की मौत शरीर मे सूजन से होना बताया जा रहा है। जबकि एक की मौत अचानक खेत में काम करने के दौरान होने की बात कही जा रही है। डेढ़ महीने में गांव में दर्जनों की मौत के बाद सुरनार के लोगों में दहशत का माहौल है। सुरनार में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र है। लेकिन यहां नियमित रूप से स्वास्थ्यकर्मी डॉक्टर नहीं पहुंचते हैं। ग्रामीणों ने बताया स्वास्थ्यकर्मी के आने का कोई निश्चित समय भी नहीं है। सुरनार के सरपंच कृष कुमार ने बताया बच्चों की मौत की जानकारी स्वास्थ्य विभाग को दी गई है। सुरनार में शिविर लगाकर जांच करने की मांग की गई है। सरपंच ने बताया डॉ. जगदंबा पंडा को हमने जानकारी दी है। इधर डॉ. जगदंबा पंडा ने बताया उनकी ड्यूटी कोरोना में जिला अस्पताल में लगी हुई है,। सुरनार से सूचना मिली थी जानकारी जिले के डॉक्टरों को दी गई है सुरनार में जल्द शिविर लगेगा।  सीएचएमओ बीरेंद्र ठाकुर ने बताया सुरनार में बच्चों की मौत कैसे हुई इसकी जांच करवाएंगे साथ ही सुरनार में स्वास्थ्य शिविर लगाकर लोगों के स्वास्थ्य की जांच करवाई जाएगी।
 

 छत्तीसगढ़: सुरनार में महीने भर में 8 बच्चों की मौत, 6 वयस्कों ने भी तोड़ा दम

छत्तीसगढ़: सुरनार में महीने भर में 8 बच्चों की मौत, 6 वयस्कों ने भी तोड़ा दम

दंतेवाड़ा। नक्सल प्रभावित दक्षिण बस्तर दंतेवाड़ा जिले में कटेकल्याण ब्लाक के सुरनार में पिछले माह भर में 8 बच्चे और 6 ग्रामीणों की मौत होने के बाद भी स्वास्थ्य विभाग नहीं जागा है। सुरनार के 8 बच्चों में 2 की ही मौत की पुष्टि हो पाई है। मेडिकल काॅलेज में 2 बच्चों को निमोनिया होना बताया था बाकी बच्चों की मौत कैसे हुई यह परिजनोंको भी मालूम नहीं है। 

मृतक बच्चे के पिता बामन ने बताया सर्दी बुखार के लक्षण के बाद बच्चे की मौत हुई है। 24 जनवरी से अब तक सुरनार के गायतापारा में 4, डडापारा में 2, पटेलपारा में 2 और ओमेलपारा में 4 बच्चों की मौत हुई है। वहीं 6 ग्रामीणों में सोनू, भीमा, बुधराम , बामन , भूरिया की भी मौत हुई है। 6 ग्रामीणों में मरने वालों में 28 वर्ष से लेकर 48 वर्ष के ग्रामीण शामिल हैं। 6 ग्रामीणों मंय 2 की मौत शरीर मे सूजन से होना बताया जा रहा है। जबकि एक की मौत अचानक खेत में काम करने के दौरान होने की बात कही जा रही है। 

डेढ़ महीने में गांव में दर्जनों की मौत के बाद सुरनार के लोगों में दहशत का माहौल है। सुरनार में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र है। लेकिन यहां नियमित रूप से स्वास्थ्यकर्मी डॉक्टर नहीं पहुंचते हैं। ग्रामीणों ने बताया स्वास्थ्यकर्मी के आने का कोई निश्चित समय भी नहीं है।
 
सुरनार के सरपंच कृष कुमार ने बताया बच्चों की मौत की जानकारी स्वास्थ्य विभाग को दी गई है। सुरनार में शिविर लगाकर जांच करने की मांग की गई है। सरपंच ने बताया डॉ. जगदंबा पंडा को हमने जानकारी दी है। 

इधर डॉ. जगदंबा पंडा ने बताया उनकी ड्यूटी कोरोना में जिला अस्पताल में लगी हुई है,। सुरनार से सूचना मिली थी जानकारी जिले के डॉक्टरों को दी गई है सुरनार में जल्द शिविर लगेगा। 

सीएचएमओ बीरेंद्र ठाकुर ने बताया सुरनार में बच्चों की मौत कैसे हुई इसकी जांच करवाएंगे साथ ही सुरनार में स्वास्थ्य शिविर लगाकर लोगों के स्वास्थ्य की जांच करवाई जाएगी।
 
पुलिस को मिली बड़ी सफलता : तीन लाख का इनामी नक्सली समेत 3 ने किया आत्मसमर्पण

पुलिस को मिली बड़ी सफलता : तीन लाख का इनामी नक्सली समेत 3 ने किया आत्मसमर्पण

दंतेवाड़ापुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है। दंतेवाड़ा में एक इनामी समेत तीन नक्सलियों ने सरेंडर किया है। एक नक्सली पर तीन लाख का इनाम घोषित किया गया था। तीनों नक्सलियों ने एसपी अभिषेक पल्लव के समक्ष समर्पण किया है। सरेंडर करने वाले नक्सली कई बड़ी घटनाओं में शामिल रहे हैं।

 छत्तीसगढ़: आत्मसमर्पित महिला नक्सली ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

छत्तीसगढ़: आत्मसमर्पित महिला नक्सली ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

दंतेवाड़ा। आत्मसमर्पित महिला नक्सली ने फांसी लगाकर जान दे दी। दंतेवाड़ा जिले के पुलिस अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि आत्मसमर्पण करने वाली महिला नक्सली पांडेय कवासी ने जिला मुख्यालय स्थित डीआरजी कार्यालय के महिला विश्राम कक्ष में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। आत्महत्या का कारण अभी अज्ञात है, पुलिस मामले की छानबीन कर रही है। 

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि इस महीने की 19 तारीख को महिला नक्सली जोगी काव्यासी और महिला नक्सली पांडेय कवासी ने इस महीने की 19 तारीख को आत्मसमर्पण किया था, जो जिले में चल रहे लोन वर्राटू (कम बैक होम) अभियान से प्रभावित था।

उन्होंने कहा कि पांडे कवासी एक अन्य महिला नक्सली जोगी काव्या के साथ डीआरजी कार्यालय के महिला विश्राम कक्ष में रह रहे थे, जब से उन्होंने आत्मसमर्पण किया था। इस दौरान सुरक्षा के लिए दो महिला पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया था।
 
सहायिका पद के लिए आवेदन 10 मार्च तक

सहायिका पद के लिए आवेदन 10 मार्च तक

दंतेवाड़ा । एकीकृत बाल विकास परियोजना अन्तर्गत वर्तमान में 01 सहायिका पद नामत: आंगनबाड़ी केन्द्र कांवडग़ाव कोटवारपारा रिक्त है। उक्त पद पर विभागीय नियमानुसार नियुक्ति की जानी है। इसके लिए संबंधित ग्राम पंचायत से इच्छुक सभी आवेदनकर्ताओं से 10 मार्च को शाम 5:30 बजे तक कार्यालय में सीधे अथवा डाक द्वारा आवेदन निश्चित प्राप्त में आमंत्रित किये जाते है। किसी भी प्रकार की अतिरिक्त जानकारी/आवेदन पत्र का प्रारूप प्राप्त किये जाने के लिए सभी इच्छुक आवेदकनकर्ता कार्यालयीन दिवसों में कार्यालयीन समय पर कार्यालय, एकीकृत बाल विकास परियोजना विभाग में संपर्क कर सकते हैं।

15 लाख रुपए के पांच इनामी सहित छह नक्सलियों ने किया समर्पण

15 लाख रुपए के पांच इनामी सहित छह नक्सलियों ने किया समर्पण

दंतेवाड़ा । बस्तर में चलाए जा रहे नक्सल विरोधी अभियान और घर वापसी अभियान के तहत लगातार नक्सली लाल आतंक का रास्ता छोड़ मुख्यधारा में प्रवेश कर रहे हैं आज भी बड़ी बड़ी घटनाओं में शामिल 15 लाख रुपए के इनामी पांच इनामी सहित छह नक्सलियों ने नक्सलवाद से तौबा कर मुख्यधारा में प्रवेश किया दक्षिण बस्तर दंतेवाड़ा पुलिस अधीक्षक अभिषेक पल्लव ने 7 महीने पहले घर वापसी अभियान की शुरुआत की थी और इन 7 महीनों में 88 इनामी नक्सली सहित कुल 316 नक्सलियों ने अब तक समर्पण किया है बस्तर के नक्सली अब आंध्र प्रदेश उड़ीसा तेलंगाना के नक्सलियों की खोखली विचारधारा को समझ चुके हैं और छत्तीसगढ़ सरकार की चलाई जा रही पुनर्वास नीति का लाभ लेते हुए लगातार लाल आतंक का रास्ता छोड़ मुख्यधारा में जोड़ रहे हैं समर्पण करने आए सभी नक्सलियों को छत्तीसगढ़ सरकार की तरफ से दी जाने वाली प्रोत्साहन राशि दस दस हजार रुपये दी गई समर्पण करने आए नक्सलियों से नक्सल गतिविधियों की अहम जानकारी निकलकर दक्षिण बस्तर दंतेवाड़ा पुलिस के सामने आ सकती है दंतेवाड़ा पुलिस को आज एक और बड़ी कामयाबी हासिल हुई है। 

छत्तीसगढ़ : वेलेंटाइन-डे के खास मौके पर 14 सरेंडर नक्सलियों ने अपनी प्रेमिकाओं के साथ रचाई शादी

छत्तीसगढ़ : वेलेंटाइन-डे के खास मौके पर 14 सरेंडर नक्सलियों ने अपनी प्रेमिकाओं के साथ रचाई शादी

दंतेवाड़ा। जिले में वेलेंटाइन-डे के खास मौके पर 14 सरेंडर नक्सलियों ने अपनी प्रेमिकाओं के साथ शादी रचाई। कारली हैलीपैड में आयोजित इस विवाह कार्यक्रम में मौजूद 08 लाख का इनामी आत्मसमर्पित नक्सली प्रदीप स्वयं को रोक नहीं पाया। वह काफी भावुक हो गया और दंतेवाड़ा एसपी डॉ अभिषेक पल्लव के पास पहुंचकर बोलने लगा कि साहब मेरी पत्नी सोढ़ी गंगे सुकमा जिले के गोन्डेरास की रहने वाली है।
 
 
जो अभी जगदलपुर की जेल में है, उससे मैं बहुत प्यार करता हूं, आज आपने सभी आत्मसमर्पित नक्सलियों का घर बसवाया। अब मेरी पत्नी को जेल से छुड़वा दीजिये साहब। मैं उसे नक्सल संगठन के दोबारा शामिल नहीं होने दूंगा। एसपी ने प्रदीप की बातें सुनीं और उसे आश्वस्त किया है कि इसके लिए वे जरूर पहल करेंगे। 
 
 
प्रदीप ने बाताया कि वह जबेली निवासी है, पहले नक्सल दबाव के कारण संगठन में शामिल हुआ था। अभी वह डीआरजी की टीम में काम करता है। नक्सल संगठन में रहते हम दोनों को प्रेम हुआ था। नक्सलियों से इजाजत लेकर हमने शादी की, लेकिन बाद में मैंने आत्मसर्मपण किया। पत्नी को सुकमा में पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। उसके बाद से पत्नी जेल में ही है, पत्नी छूट जाएगी तो हम साथ रहेंगे।
+ Load More