अच्छी खबर : सितंबर से देश में ही होगा स्पूतनिक-वी का उत्पादन...    |    कोरोना अपडेट : 24 घंटे में 41 हजार नए मामले, 541 लोगों की मौत    |    बड़ी खबर : इस BJP सांसद को पुलिस ने किया गिरफ्तार, जाने क्या है मामला...    |    CG कोरोना अपडेट : प्रदेश में आज रायपुर में मिले सर्वाधिक मरीज, 203 मरीजों ने जीती कोरोना से जंग, देखें जिलेवार आंकड़े    |    आईसीएमआर अपडेट : आज शाम तक मिले इतने कोरोना पॉजिटिव, देखे जिलेवार आकड़े    |    बड़ी खबर : जेल में बैरक की दीवार ढही, 22 कैदी गंभीर रूप से घायल    |    CG कोरोना अपडेट : प्रदेश में आज एक्टिव मरीजो की संख्या हुई 2 हजार से कम, 243 मरीजों ने जीती कोरोना से जंग, देखें जिलेवार आंकड़े    |    बड़ी खबर: पान मसाला कंपनी पर आयकर का शिकंजा, 400 करोड़ रुपए के काले कारोबार का हुआ खुलासा    |    आईसीएमआर अपडेट : आज शाम तक मिले इतने कोरोना पॉजिटिव, आकडों में आज रायपुर से मिले सर्वाधिक    |    जज की संदिग्ध मौत पर सुप्रीम कोर्ट ने लिया संज्ञान, सरकार से एक हफ्ते में मांगा जवाब    |
जिले में कोरोना से मृत व्यक्तियों के परिवार को मिल रहा शासन की विभिन्न योजनाओं का लाभ

जिले में कोरोना से मृत व्यक्तियों के परिवार को मिल रहा शासन की विभिन्न योजनाओं का लाभ

सूरजपुर जिले के विकासखण्ड रामानुजनगर, ग्राम पंचायत मदनपुर के निवासी श्री आनन्द राम आ. स्व. श्री शम्भू राम जिनके परिवार में 3 सदस्य इनकी पत्नि व दो बच्चे थे। श्री आनन्द राम शा. उ. मा. विद्यालय मदनपुर में अंशकालीन स्वीपर (सफाई कामगार) के पद पर कार्यरत थे। अपने परिवार का भरण-पोषण करने के लिए कृषि कार्य भी करते थे। पिछले दो वर्षों से श्री आनन्द राम कैंसर बीमारी से जूझ रहे थे जिनका उपचार डॉ. भीमराव अम्बेडकर स्मृति अस्पताल, रायपुर में चल रहा था। परिवार की आय का मुख्य स्त्रोत के रूप में स्वयं श्री आनन्द राम ही थे। जिस कारण उनके परिवार का भरण पोषण एवं उपचार हेतु आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ रहा था। माह अप्रैल 2021 में डॉ. भीमराव अम्बेडकर स्मृति अस्पताल, रायपुर में उपचार के दौरान श्री आनन्द राम कोरोना (कोविड-19) बीमारी से भी संक्रमित हुए, जिस कारण दुर्भाग्यवश 16 अप्रैल 2021 को उनका निधन हो गया। श्री आनन्द राम के निधन होने उपरान्त उनके परिवार को और भी कठनाईयों का सामना करना पड़ रहा था। कलेक्टर के निर्देशानुसार जिले में कोरोना से मृत व्यक्तियों के परिवारजनों की सहायता के लिए सर्वे कराया गया था जिसमें श्री आनन्द राम के परिवार को भी चिन्हांकित किया गया था।

  जिला प्रशासन द्वारा स्व. श्री आनन्द राम के परिवार की समस्याओं को कम करने हेतु छ.ग. शासन के विभिन्न विभागों द्वारा संचालित योजनाओं के अन्तर्गत आर्थिक सहयोग कुल राशि 1,22,000.00 रू. (श्रम विभाग द्वारा मुख्यमंत्री असंगठित कर्मकार मृत्यु एवं दिव्यांग सहायता योजनान्तर्गत 1 लाख रू., पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा श्रद्धांजलि योजनान्तर्गत 2 हजार रू., समाज कल्याण विभाग द्वारा परिवार सहायता योजनान्तर्गत 20 हजार रू.) स्व. श्री आनन्द राम की पत्नि श्रीमती चंदा सिंह को शा.उ. मा. विद्यालय में अंशकालीन स्वीपर पद नियुक्ति, उनके दोनों बच्चों को शिक्षा विभाग द्वारा संचालित महतारी दुलार योजनान्तर्गत शासकीय स्वामी आत्मानन्द इंग्लिश मिडियम स्कूल, भूनेश्वरपुर में निशुल्क शिक्षण हेतु प्रवेश कर लाभांवित किया गया।

  स्व. श्री आनन्द राम की पत्नि श्रीमती चंदा सिंह द्वारा बताया गया कि उक्त विभागों द्वारा प्राप्त राशि से उपचार हेतु लिया गया कर्ज चुकाया गया व दोनों बच्चों के भविष्य को सुरक्षित रखने के उद्देश्य से बैंक में 25-25 हजार रु. जमा किया गया। अंशकालीन स्वीपर पद पर नियुक्ति होने के कारण आत्मनिर्भर भी है। दोनों बच्चों को शासकीय स्वामी आत्मानन्द इंग्लिश मिडियम स्कूल निशुल्क शिक्षण हेतु प्रवेश मिल जाने से अब उनके शिक्षा की भी चिन्ता नहीं है। जिस हेतु श्रीमती चंदा सिंह द्वारा कलेक्टर एवं जिला प्रशासन को धन्यवाद ज्ञापित किया।

  कलेक्टर डॉ गौरव कुमार सिंह ने कोरोना से मृत हुए जिले के व्यक्तियों के परिवारों को हर संभव लाभ पहुचाने अपनी कटिबद्धता प्रकट की है।

अनियंत्रित होकर सड़क किनारे पलटा रेत परिवहन कर रहा हाईवा, चालक व क्लीनर हुए घायल

अनियंत्रित होकर सड़क किनारे पलटा रेत परिवहन कर रहा हाईवा, चालक व क्लीनर हुए घायल

लखनपुर। लखनपुर थाना क्षेत्र के कुंवरपुर बांध मोड़ के समीप रेत का परिवहन कर रहा हाईवा 9 जुलाई दिन शुक्रवार की शाम लगभग 4:00 बजे दुर्घटनाग्रस्त हो गया। मिली जानकारी के मुताबिक हाइवा क्रमांक सीजी 15 AC 5822 चालक जगदीश प्रसाद शर्मा क्लीनर संदीप उदयपुर थाना क्षेत्र के ग्राम कवलगिरी से रेत लेकर अंबिकापुर जाने के दौरान कुंवरपुर बांध मोड के समीप विपरीत दिशा से आ रहे वाहन को साइड देते हुए हाईवा चालक ने वाहन पर से नियंत्रण खो दिया और वाहन अनियंत्रित होकर सड़क किनारे जा पलटी, जिसमें चालक जगदीश प्रसाद शर्मा व क्लीनर संदीप को चोटें आई हैं।


घटना की जानकारी लखनपुर पुलिस को दी गई है। गौरतलब है कि सरगुजा जिले के लखनपुर उदयपुर क्षेत्र ग्राम कवलगिरी चैनपुर तराजू जमगला सहित अन्य क्षेत्रों से रेत माफियाओं के के द्वारा 6 पहिया 10 पहिया वाहनों में रेत का पोकलेन मशीन से अवैध उत्खनन का परिवहन किया जा रहा है साथ ही ऊंचे दामों में रेत की बिक्री तस्करों के द्वारा की जा रही है। विभागीय कार्रवाई के अभाव में रेत माफियाओं के हौसले बुलंद हैं।

गड्ढे में गिरने से 3 साल के मासूम की मौत, जिला प्रशासन ने दी आर्थिक सहायता

गड्ढे में गिरने से 3 साल के मासूम की मौत, जिला प्रशासन ने दी आर्थिक सहायता

सूरजपुर: ग्राम पंचायत नया करकोली के प्राथमिक व माध्यमिक विद्यालय का निर्माणाधीन बाउंड्रीवॉल में कालम के लिए खोदे गड्ढे में लगातार हो रही बारिश का पानी भर हुआ था, उसमें तीन वर्षीय बच्चे चिराग के गिरने से मौत हो गई ।

कलेक्टर डॉ. गौरव कुमार सिंह के निर्देश पर तत्काल आरबीसी 6(4) के राजस्व संहिता के तहत 4 लाख रुपये आर्थिक सहायता के रूप में पिता बेसाहू को प्रदाय किया गया है। बेसाहू तथा उसके पत्नी को सामाजिक सुरक्षा पेंशन भी स्वीकृत किया गया है। पंचायत ने भी परिवार को आर्थिक मदद के साथ चावल भी व्यवस्था की है।

 

 छत्तीसगढ़: कलेक्टर ने जारी किया आंशिक संशोधन के साथ लॉकडाउन आदेश

छत्तीसगढ़: कलेक्टर ने जारी किया आंशिक संशोधन के साथ लॉकडाउन आदेश

सूरजपुर। जिले में कोविड - 19 धनात्मक प्रकारणों की संख्या में गिरावट को देखते हुए कार्यालयीन आदेश 14 जून 2021 के माध्यम से दुकानों, गतिविधियों को प्रतिबंध  से छुट प्रदान करते हुए संचालन की अनुमति प्रदान की गई है। कार्यालयीन आदेश 10जून 2021 की कुछ कण्डिकाओं में आंशिक संशोधन करते हुए जिला-सूरजपुर अंतर्गत कलेक्टर डॉ. गौरव कुमार सिंह आदेश प्रसारित किया हैं।
 
जिसमें आदेश की कण्डिका क्रमांक 2 में संशोधन करते हुए वैवाहिक कार्यक्रम निवसा गृह एवं होटल, मैरिज हॉल में कोविड -19 प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन करने की शर्त पर आयोजित करने की अनुमति होगी। भारत सरकार, गृह मंत्रालय के आदेश क्रमांक/40-3/2020-डी.एस.1 (ए), दिनंाक 29.04.2021 अनुसार आयोजन में शामिल होने वाले व्यक्तियों की अधिकतम संख्या 50 रहेगी। वैवाहिक कार्यक्रम में सम्मिलित होने वाले सभी व्यक्यिों को कोराना (कोविड-19) टेस्ट कराना अनिवार्य होगा। इसी प्रकार अन्त्येष्टि, दशगात्र इत्यादि मृत्यु सम्बन्धी कार्यक्रम में शामिल होने वाले व्यक्तियों की अधिकतम संख्या 50 रहेगी।

जारी आदेश में कहा गया है कि कण्डिका क्रमांक 3 में सशोधन करते हुए दुकानो, गतिविधियों के संचालन पर रविवार को लगाया गया प्रतिबंध समाप्त किया गया है। उक्त आदेश की शेष कण्डिकाएॅ यथावत् रहेगी।
कलेक्टर ने जारी किया लॉक डाउन का आंशिक संशोधित आदेश, अब इनको भी मिली अनुमति

कलेक्टर ने जारी किया लॉक डाउन का आंशिक संशोधित आदेश, अब इनको भी मिली अनुमति

सूरजपुर। कलेक्टर ने जिले में कोविड-19 धनात्मक प्रकरणा की संख्या में गिरावट को देखते हुए 10 जून को दुकानों, गतिविधियों को प्रतिबंध से छूट प्रदान करते हुए संचालन की अनुमति प्रदान की है। इसी आदेश की कण्डिका क्रं 1(1), 1(4) एवं 3 में आंशिक संशोधन करते हुए कलेक्टर ने संशोधन आदेश जारी कर बताए कि जिम को प्रतिबंध से मुक्त करते हुए संचालन की अनुमति दी गई है। साथ ही सैलून, ब्यूटी पार्लर को खोलने की अनुमति भी प्रदान की गई है।
संशोधन आदेश में कहा गया हैं कि सभी प्रकार के स्थाई एवं अस्थाई दुकानें, व्यवसायिक प्रतिष्ठान, सभी ठेला-गुमटी, फल एवं सब्जी मंडी या बाजार, अनाज मंडी, शो-रुम, मदिरा दुकानें प्रातः 8 से रात्रि 8 बजे तक (रविवार को छोड़कर) खोलने की अनुमति प्रदान की गई है। आदेश की उक्त शेष कंडिकाएं यथावत् रहेंगी।
 

CG LOCKDOWN BREAKING : शनिवार और रविवार को टोटल लॉकडाउन का कलेक्टर ने जारी किया आदेश, देखें आदेश

CG LOCKDOWN BREAKING : शनिवार और रविवार को टोटल लॉकडाउन का कलेक्टर ने जारी किया आदेश, देखें आदेश

सूरजपुर | कोविड-19 पॉजिटिव प्रकरणों की संख्या में लगातार वृद्धि होने के कारण उत्पन्न परिस्थितियों के अनुक्रम में जिला अंतर्गत सम्पूर्ण क्षेत्र को 10 जनू 2021 रात्रि 12.00 बजे तक कन्टेनमेंट जोन घोषित करते हुए सार्वजनिक आवागमन एवं अन्य गतिविधियों पर सख्त प्रतिबंध अधिरोपित किये गये हैं, फलस्वरूप जिले में कोविड-19 धनात्मक प्रकरणों की संख्या में उल्लेखनीय गिरावट दर्ज की गई है जिसको देखते हुए कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी डॉ. गौरव कुमार सिंह आदेश जारी किया है जिसमें निम्न गतिविधियाँ पूर्णत: प्रतिबंधित रहेंगी जैसे- स्विमिंग पुल, जिम, सिनेमा हॉल, थियेटर बंद रहेंगे। स्कूल एवं कॉलेज विद्यार्थियों हेतु बंद रहेंगे। छात्रावास में केवल परीक्षा देने वाले विद्यार्थियों को आवास की अनुमति होगी। शासन से अनुमति प्राप्त समस्त परीक्षाओं को छोड़कर कोचिंग क्लासेस एवं अन्य समस्त शैक्षणिक गतिविधियाँ बंद रहेंगी।  सभी प्रकार की सभा, जुलूस, धरना प्रदर्शन, सामाजिक, राजनैतिक एवं धार्मिक आयोजन इत्यादि पूर्णत: प्रतिबंधित रहेगा। सभी धार्मिक स्थल, सांस्कृतिक एवं पर्यटन स्थल इत्यादि व अन्य सार्वजनिक स्थल समूह आयोजन आम जनता हेतु पूर्णत: प्रतिबंधित रहेंगे। सैलून, ब्यूटी पार्लर बंद रहेंगे। जिले में संचालित होने वाले साप्ताहिक हाट बाजार लगाने, खोले जाने की अनुमति नहीं होगी। यह आदेश दिनांक 10 जून 2021 रात्रि 12.00 बजे से लागू होगा।

जारी आदेश में कहा गया हैं कि वैवाहिक कार्यक्रम निवास गृह एवं होटल, मैरिज हॉल में कोविड-19 प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन करने की शर्त पर आयोजन करने की अनुमति होगी। आयोजन में शामिल होने वाले व्यक्तियों की अधिकतम कुल संख्या 20 रहेगी। वैवाहिक कार्यक्रम में सम्मिलित होने वाले सभी व्यक्तियों को कोरोना (कोविड-19) टेस्ट कराना अनिवार्य होगा। इसी प्रकार अंत्येष्टि, दशगात्र इत्यादि मृत्यु संबंधी कार्यक्रम में शामिल होने वाले व्यक्तियों की अधिकतम कुल संख्या 20 रहेगी।
सभी प्रकार के स्थायी एवं अस्थायी दुकानें, व्यवसायिक प्रतिष्ठान, सभी ठेला गुमटी, फल एवं सब्जी मंडी, बाजार, अनाज मंडी, शो-रूम, मदिरा दुकानें प्रात: 08.00 बजे से संध्या 06.00 बजे तक (शनिवार व रविवार को छोड़कर) खुले रहेंगे।
हॉटलों एवं रेस्टोरेंटस से ऑनलाईन, टेलीफोनिक ऑर्डर पर होम डिलीवरी तथा टेक अवे की अनुमति होगी, किन्तु इन हाउस डायनिंग पूर्ववत प्रतिबंधित रहेगी। हॉटलों एवं रेस्टोरेट्स से डिलीवरी का समय रात्रि 09.00 बजे तक तथा आम जनता, ग्राहक के निवास तक होम डिलीवरी का अधिकतम समय 10.00 बजे तक ही रहेगा। किसी होटल में इन हाउस अतिथियों के लिये हॉटल किचन या स्वयं के रेस्टोरेंट्स के उपयोग की अनुमति रहेगी। 
जिले में संचालित समस्त केन्द्रीय, शासकीय, सार्वजनिक अद्र्धशासकीय एवं निजी कार्यालयों को अपने निर्धारित क्षमता के 50 प्रतिशत कर्मचारियों के चक्रानुक्रम में उपस्थिति तथा अधिकारियों की शत प्रतिशत उपस्थिति के साथ खोले जाने एवं कार्य सम्पादित करने की अनुमति होगी, किन्तु आम जनता का प्रवेश पूर्वानुसार प्रतिबंधित रहेगा। टेलीकॉम, रेलवे संचालन व रख-रखाव से जुड़े कार्यालय, वर्कशॉप, रेक प्वांइट पर लोडिंग-अनलोडिंग का कार्य खाद्य सामग्री के थोक परिवहन, धान मिलिंग हेतु परिवहन, लघु वनोपज के संग्रहण व परिवहन की अनुमति रहेगी। सभी अस्तपाल मेडिकल दुकानें, क्लीनिक एवं पशु चिकित्सालय को उनके निर्धारित समय में संचालन की अनुमति होगी। मेडिकल दुकान संचालक मरीजों के लिये दवाओं की होम डिलीवरी को प्राथमिकता देंगे। पंजीयन कार्यालय सोशल डिस्टेंसिंग मास्क संबंधी अनिवार्यता एवं कार्यालय को सेनेटाइज करते हुये 50 प्रतिशत कर्मचारियों के साथ टोकन सिस्टम के माध्यम से कार्य करने की शर्त पर खोले जाने की अनुमति होगी। 
पेट्रोल पंप गैस एजेंसी एवं मेडिकल दुकानें पूर्ण समयावधि तक खुल सकेंगे, किन्तु गैस एजेंसियाँ, टेलीफोनिक या ऑनलाईन आर्डर के माध्यम से ग्राहकों को गैस सिलेन्डरों की होम डिलीवरी को प्राथमिकता देंगे। शासकीय उचित मूल्य दुकानों को निर्धारित समयावधि में मास्क धारण करने, फिजिकल डिस्टेंसिंग नियमित सेनेटाईजेशन एवं भीड़भाड़ नहीं होने देने की शर्त का कड़ाई से पालन करते हुए टोकन व्यवस्था के साथ खोलने की अनुमति होगी। खाद्य अधिकारी एवं उनके स्टाफ इसका सतत् पर्यवेक्षण करेंगे एवं स्वयं इस सम्बन्ध में यथायोग्य आदेश जारी कर सकेंगे।
सभी संचालित दुकानों में नि:शुल्क वितरण, विक्रय हेतु मास्क रखना तथा दुकान में कार्यरत कर्मचारियों एवं ग्राहकों के उपयोग हेतु सेनेटाईजर रखना अनिवार्य होगा। होम डिलीवरी व्यवस्था में संलग्न सभी व्यक्तियों को नियमित अंतराल में कोविड-19 जाँच कराना आवश्यक होगा। साथ ही होम डिलीवरी के दौरान मास्क धारण करना एवं फिजिकल डिस्टेंसिंग का कड़ाई से पालन करना अनिवार्य होगा। किसी दुकान को फिजिकल डिस्टेंसिंग के साथ कोविड-19 सम्बन्धी प्रोटोकाल का पालन न करते हुए भीड़-भाड़ एकत्रित कर या राज्य शासन, इस कार्यालय द्वारा जारी निर्देशों का उल्लंघन करने पर नियमानुसार अर्थदण्ड अधिरोपित करने एवं 30 दिवस हेतु दुकान सील करने की कार्यवाही की जायेगी। 
प्रतिदिन संध्या 06.00 बजे से प्रात: 08.00 बजे तक रात्रिकालीन लॉकडाउन लागू रहेगा, किन्तु इस दौरान थोक माल, वेयर हाउस, फल, सब्जी की लोडिंग-अनलोडिंग की अनुमति रात्रि 10.00 बजे से प्रात: 05.00 बजे तक रहेगी। आपातकालीन आवागमन को छोड़कर अन्य समस्त गतिविधियों पर प्रतिबंध रहेगा।  प्रत्येक शनिवार एवं रविवार को पूर्ण लॉकडाउन रखा जायेगा। इस दौरान केवल अस्पताल, क्लीनिक मेडिकल दुकान पेट्रोल पम्प तथा इस आदेश द्वारा निर्धारित समयावधि में शासकीय उचित मूल्य दुकानें, एल.पी.जी.,पैट शॉप न्यूज पेपर, दुग्ध, फल, सब्जी तथा अनुमति प्राप्त अन्य वस्तुओ, सेवाओं की होम डिलीवरी के संचालन की अनुमति होगी।  आपात स्थिति में यात्रा के दौरान चार पहिया वाहनों में ड्राईवर सहित अधिकतम 03, ऑटो में ड्राईवर सहित अधिकतम 03 एवं दो पहिया वाहन में अधिकतम 02 व्यक्तियों को यात्रा की अनुमति होगी।
आम जनता से यह अपेक्षा की जाती है कि अति आवश्यक होने पर ही घरों से बाहर निकलें एवं निकलते समय अनिवार्य रूप से दोहरे मास्क धारण करते हुए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। इस आदेश का उल्लंघन करने वाले व्यक्तियों, प्रतिष्ठानों पर भारतीय दण्ड संहिता 1860 की धारा 188 आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 की धारा 51-60 तथा अन्य सुसंगत विधि अनुसार कड़ी कार्यवाही की जावेगी।
 
कलेक्टर ने कोरोना की संभावित तीसरी लहर के विषय में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की ली समीक्षा बैठक

कलेक्टर ने कोरोना की संभावित तीसरी लहर के विषय में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की ली समीक्षा बैठक

सूरजपुर। कलेक्टर ने कोराना की संभावित तीसरी लहर के विषय में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की समीक्षा बैठक ली। बैठक में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. आर एस सिंह, सिविल सर्जन डाॅ. शशि तिर्की, शिशु एवं बाल रोग विशेषज्ञ डाॅ. प्रियंक पटेल, डॉ. सीमा गुप्ता एवं टीकाकरण अधिकारी डॉ. मरकाम उपस्थित रहे।


कोरोना की संभावित तीसरी लहर को देखते हुए कलेक्टर ने तैयारियों के पांच स्तम्भ बताए जिसमें स्वास्थ्यगत अवसंरचना, मानव संसाधन, दवाएँ, प्रशिक्षण एवं प्रचार-प्रसार। सभी डॉक्टरों को इन पाँचों स्तंभों में से एक-एक की जिम्मेदारी सुनिश्चित करते हुए कलेक्टर ने सभी से अलग अलग प्लानिंग करने को कहा। साथ ही कार्य को जमीनी स्तर पर क्रियान्वयन के निर्देश दिए। स्वास्थ्य अवसंरचना के अंतर्गत स्थान का चयन कर लिया गया है जहाँ-जहाँ ऑक्सीजन बेड लगाया जाना है। एमसीएच सूरजपुर एवं एमसीएच भैयाथान में क्रमशः 100 एवं 50 ऑक्सीजन बेड की व्यवस्था की जाएगी तथा सभी सीएचसी के 20 में से 10-10 बेड तीसरी लहर के लिए बच्चों के लिए आरक्षित की जाएगी।


इसके अतिरिक्त एमसीएच सूरजपुर में 5 वैंटिलेटर, रेडियंट वार्मर, 10 आईसीयू एवं 10 एचडीयू आदि की भी व्यवस्था की जाएगी। मानव संसाधन के लिए डॉक्टरों एवं नर्सों की भर्ती की प्रक्रिया की जाएगी। अलग-अलग वर्गों के बच्चों के लिए अलग-अलग उम्रानुसार मेडिसिन किट बनाए जायेंगे। डॉक्टरों, नर्सों, मितानिन, सचिव, सरपंच, आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं, सुपरवाईजरो अन्य जनप्रतिनिधियों आदि को ट्रेनिंग के माध्यम से प्रशिक्षित किया जाएगा। ट्रेनिंग के लिए एम्स एवं अन्य प्रतिष्ठित संस्थानों के डाॅक्टरों की मदद ली जाएगी। कलेक्टर ने रायपुर के बालगोपाल हॉस्पिटल के डॉ. भट्टर से बात कर उनकी टीम को सूरजपुर आकर प्रशिक्षण देने हेतु आग्रह किया है एवं जल्द ही उनकी टीम द्वारा हमारे जिले के डॉक्टरो को वेंटिलेटर, बाइ-पेप, सी-पेप आदि संचाचित करने की ट्रेनिंग प्राप्त करने के सौभाग्य प्राप्त होगा। इसके अतिरिक्त जनता में जागरूकता फैलाने के लिए पॉम्पलेट्स, वीडियो, वाॅल राइटिंग, सोशल मीडिया आदि के माध्यम से अभियान चलाए जाने के निर्देश दिए।


कोरोना के मरीजों में जानलेवा बन रहे ब्लैक फंगस के संक्रमण के खतरे को ध्यान में रखते हुए कलेक्टर डाॅ. सिंह ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को सचेत रहने के निर्देश दिए। ध्यातव्य है कि पिछले दिनों जिले में एक फंगस का एक मामला आया था।

सीएमएचओ डाॅ. आर एस सिंह ने बताया कि ब्लैक फंगस या काला फफूंद या म्यूकर माइकोसिस एक दुर्लभ और घातक फंगल संक्रमण है। भारत में यह कोविड 19 से संक्रमित रोगियों को संक्रमित कर रही है। ध्यातव्य है कि 9 मई 2021 को इंडियन काउंजिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने ब्लैक फंगस की जाँच, निदान और प्रबंधन के लिए एडवाइजरी जारी की है।


सीएमएचओ ने बताया कि ये कोई संक्रमण बीमारी नहीं है और मुख्य रूप से उन्हीं लोगों में देखने को मिलता है, जिन लोगों की इम्यून शक्ति बहुत हो कमजोर होती है तथा जो लंबे समय तक स्टेरॉयड की उपयोग करते हैं। ब्लैक फिगस मुख्य रूप से मिट्टी, पौधे, सड़े-गले फलों और सब्जियों में पाये जाते हैं। यह सांस के द्वारा अंदर जाती है और साइनस या फेफड़े को प्रभावित करती है। ब्लैक फंगस के लक्षण है, जिसमें चेहरे कि एक तरफ सूजन, सरदर्द, नाक या साइनस में जमाव, नाक में या मुंह के ऊपरी हिस्से में काले घाव का जल्दी से गंभीर रूप लेना, बुखार आना आदि।


कलेक्टर ने लोगों से अपील की हैं कि वे सेल्फ मेडिकेसन न करें, लक्षण दिखने पर डॉक्टर से सलाह लें तथा अपने व अपने परिवारों को स्वस्थ रखें। उन्होंने कहा कि यह रोग अक्सर आँखों, नाक, त्वचा और फेफड़ों को प्रभावित करता है। यदि यह मस्तिष्क में फैल जाए तो रोगी की मृत्यु भी हो सकती है। यदि यह आँख को प्रभावित करता है तो आँख को हटाना ही मस्तिष्क में आगे फैलने से रोकने का एकमात्र उपाय है। अतः जरा भी लक्षण दिखने से तुरंत डॉक्टर से सलाह लें।

 बड़ी खबर: नदी में नहाने गए दो बच्चे गहरे पानी में डूबे, खोजबीन जारी

बड़ी खबर: नदी में नहाने गए दो बच्चे गहरे पानी में डूबे, खोजबीन जारी

सूरजपुर। जिले के रेड नदी में नहाने गए चार बच्चे गहरे पानी में चले गए। तेज बहाव में आते ही बच्चे मदद के लिए चिल्लाने लगे,जिसके बाद ग्रामीणों ने दो बच्चों को सुरक्षित निकाल लिया है,वही दो बच्चे लापता हो गए हैं। रेस्क्यू टीम बच्चों को अब तक तलाश रही है.मौके पर एसपी राजेश कुकरेजा पहुंचे हुए हैं। साथ ही एसडीएम और एडिशनल एसपी भी मौके पर मौजूद हैं। गौरतलब हो कि स्पॉट पर कई लोगों की डूबकर मौत हो चुकी है।
बड़ी खबर छत्तीसगढ़ : कोरोना से मृत शासकीय कर्मचारियों के परिवार को मिली अनुकम्पा नियुक्ति

बड़ी खबर छत्तीसगढ़ : कोरोना से मृत शासकीय कर्मचारियों के परिवार को मिली अनुकम्पा नियुक्ति

सूरजपुर  छ.ग. शासन के संवेदनशील मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की अनुकम्पा नियुक्ति में शिथिलता की घोषणा के परिपालन में सूरजपुर जिले के अन्तर्गत कोविड काल में शिक्षा विभाग के दिवंगत शासकीय कर्मियों के परिजनों को अनुकम्पा नियुक्ति प्रदान करने हेतु नवपदस्थ कलेक्टर श्री गौरव कुमार सिंह ने पहल की। जिस पर जिला शिक्षा अधिकारी श्री विनोद कुमार राय ने तत्काल कार्यवाही करते हुये कोविड काल में शिक्षा विभाग के दिवंगत कर्मियों के परिजनों को अनुकम्पा नियुक्ति के आदेश जारी कर दिये।

     जिस पर कलेक्टर ने जिला शिक्षा अधिकारी की उपस्थिति पर कलेक्टर सभा कक्ष में श्री मंगल सिंह आ. स्व. श्री पन्नेलाल सिंह, श्री परमानन्द सिंह आ. स्व. श्री पवन साय, श्री शैलेन्द्र सिंह आ स्व. श्री भगवान सिंह, निहारिका देवांगन आ. स्व. श्री अशोक कुमार देवांगन, श्री रोहित कुमार श्रीवास्तव माता स्व. श्रीमती अनुपमा श्रीवास्तव, श्री ओम प्रकाश आ.स्व. श्री इन्द्रपाल सिंह, वेदप्रकाश मेहता आ.स्व. श्री श्यामबिहारी मेहता को लिपिक पद एवं श्री राहुल सिंह आ. स्व. श्री रामस्वरूप सिंह का भृत्य पद पर नियुक्ति का आदेश प्रदान किया। 

      इस भावुक समय पर कलेक्टर श्री गौरव कुमार सिंह ने परिजनों को संबोधित करते हुये कहा कि दिवंगत शासकीय कर्मियों को हम ला तो नहीं सकते, फिर भी उनके जीवकोपार्जन एवं परिवार के संरक्षण हेतु यह नियुक्ति पत्र देकर अपने दायित्व को पूर्ण कर रहें हैं। जिला प्रशासन कोविड काल में दिवंगत शासकीय सेवकों के परिजनों के साथ सदैव खड़ा है। कलेक्टर के उद्बोधन से परिजनों में आत्मविश्वास का संचार हुआ और उन्होंने इस नियुक्ति के लिये कलेक्टर एवं जिला शिक्षा अधिकारी को भूरि-भूरि प्रशंसा करते हुये साधुवाद ज्ञापित किया है।

BIG BREAKING : सफ़र के दौरान मंत्री टीएस सिंहदेव के हेलीकॉप्टर का शीशा हुआ क्रैक, जाने फिर क्या हुआ

BIG BREAKING : सफ़र के दौरान मंत्री टीएस सिंहदेव के हेलीकॉप्टर का शीशा हुआ क्रैक, जाने फिर क्या हुआ

सूरजपुर | छत्तीसगढ़ के सूरजपुर इलाके से एक बड़ी खबर सामने आई है। खबर है कि स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव के हेलीकॉप्टर का शीशा क्रैक हो गया | जानकारी के अनुसार आज स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव जिस हेलीकॉप्टर में धरसेड़ी गांव गए थे, वापसी के दौरान उसका शीशा क्रैक हो गया। हालांकि इस घटना में किसी को चोट लगने की खबर नहीं मिली है। इस घटना के बाद मंत्री टीएस सिंहदेव सड़क मार्ग से अंबिकापुर के लिए रवाना हुए।

बता दें कि सूजरपुर जिले के धरसेड़ी गांव में कुएं की खुदाई के दौरान तीन लोग दब गए थे, जिनकी मौत हो गई। मृतकों के परिजनों से मिलने के लिए आज मंत्री टीएस सिंहदेव गांव पहुंचे थे। इस दौरान उन्होंने मृतकों के परिजनों से मुलाकात की। वहीं, वापसी के दौरान उनके हेलीकॉप्टर का शीशा क्रैक हो गया।

 बड़ी खबर सूरजपुर : रणबीर शर्मा के विरूद्ध पीडि़त लड़के के पिता ने थाने में दर्ज कराई शिकायत

बड़ी खबर सूरजपुर : रणबीर शर्मा के विरूद्ध पीडि़त लड़के के पिता ने थाने में दर्ज कराई शिकायत

सूरजपुर। छत्तीसगढ़ के सूरजपुर में एक नाबालिग लड़के के साथ दुव्र्यवहार व मारपीट करने के मामले में फंसे कलेक्टर रणबीर शर्मा की मुश्किलें और बढऩे लगी है। मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद जहां रणबीर शर्मा को सूरजपुर जिला के कलेक्टर पद से तत्काल हटाने की कार्यवाही की गई, वहीं अब पीडि़त लड़के के पिता ने भी रणबीर शर्मा के खिलाफ सूरजपुर थाने में शिकायत दर्ज कराई है। 

पीडि़त लड़का साहिल गुप्ता 13 वर्ष के पिता राजेश गुप्ता ने 23 मई को सूरजपुर थाने में जाकर कलेक्टर रणबीर शर्मा के खिलाफ लिखित शिकायत दर्ज कराई है। अपनी शिकायत में उन्होंने कहा कि उनका लड़का साहिल उनके लिए दवा लेने के लिए मेडिकल दुकान गया था । चूंकि शहर में लॉकडाउन लगा हुआ है और बिना कारण के घर से बाहर निकलने वालों के खिलाफ जिला प्रशासन द्वारा कार्यवाही की जा रही है। इस दौरान पुलिस ने साहिल को भी पकड़ा और कलेक्टर के पास ले गये। कलेक्टर ने साहिल से घर से बाहर निकलने की वजह पूछी जिस पर उसने बताया कि वह दवाई लेकर घर जा रहा है। साहिल की बात कलेक्टर ने बहाना बताते हुए एक पुलिस कर्मी का डंडा लेकर उसकी पिटाई कर दी। कलेक्टर द्वारा की गई पिटाई से साहिल के पैर सूज गया है उसे चलने में दिक्कत हो रही है। साहिल के पिता राजेश ने इस शिकायत के साथ कलेक्टर रणबीर शर्मा के खिलाफ कार्रवाही किए जाने की मांग की है।
IAS रणबीर शर्मा ने किशोर से माफ़ी मांगा कर दिया नया मोबाइल फोन

IAS रणबीर शर्मा ने किशोर से माफ़ी मांगा कर दिया नया मोबाइल फोन

रायपुर, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की फटकार के बाद सूरजपुर कलेक्टर रणबीर शर्मा ने किशोर को नया मोबाइल दिया और मारपीट की घटना के लिए माफी मांगीl किशोर ने कहा, कि वो अब संतुष्ट हैं, और किसी से कोई शिकायत नहीं हैl

आपको बता दे श्री बघेल ने किशोर के साथ मारपीट का मामला प्रकाश में आते ही कलेक्टर रणबीर शर्मा को पद से हटा दिया और उन्हें किशोर को नया मोबाइल देने के लिए कहा थाl कलेक्टर ने किशोर की मोबाइल तोड़ दी थीl

READ ALSO:-

सूरजपुर थप्पड़ कांड: मुख्यमंत्री के निर्देश पर युवक को मिलेगा नया मोबाइल 

कलेक्टर का थप्पड़ ट्विटर में कर रहा ट्रेंड, लोगो ने कहा

BIG BREAKING : थप्पड़ मार कलेक्टर को तत्काल प्रभाव से हटाया, इन्हें दिया सूरजपुर का चार्ज

 

विवादों से घिरे आईएएस रणवीर से अब एसोसिएशन भी नाराज, पहले भी कर चुके हैं बड़ी लापरवाहियां

विवादों से घिरे आईएएस रणवीर से अब एसोसिएशन भी नाराज, पहले भी कर चुके हैं बड़ी लापरवाहियां

सूरजपुर। सूरजपुर में लागू लॉकडाउन के दौरान कलेक्टर रणवीर शर्मा ने एक युवक को थप्पड़ मारा और पुलिस ने उसकी पिटाई कर दी। घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस घटना को गंभीरता से लेते हुए सूरजपुर कलेक्टर को तत्काल प्रभाव से कलेक्टर पद से हटाने के निर्देश दे दिए। मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद राज्य सरकार ने रणबीर शर्मा को सूरजपुर कलेक्टर पद से हटाकर संयुक्त सचिव (प्रतीक्षारत) मंत्रालय में पदस्थ किया गया है। वहीँ रायपुर जिला पंचायत सीईओ गौरव कुमार सिंह को सूरजपुर का नया कलेक्टर बनाया गया है।


उल्लेखनीय है कि आईएएस रणबीर शर्मा की इस करतूत से आईएएस एसोसिएशन भी नाराज है। अधिकारियों के इस संगठन ने सोशल मीडिया में एक ट्वीट के जरिए रणबीर शर्मा की हरकत पर निंदा जाहिर की है। एसोसएशन ने लिखा है कि मुश्किल के इस दौर में एक आईएएस का व्यवहार जनता के प्रति बेहद जिम्मेदार होना चाहिए।


गौरतलब है कि रणबीर शर्मा पहले भी कई विवादों से घिरे रह चुके है। साल 2012 बैच के आईएएस शर्मा सबसे पहले विवाद में तब आए जब उन्होंने पेंड्रा-मरवाही एसडीएम रहते हुए जंगली भालू पर पुलिस वालों को गोली चलाने के निर्देश दिए थे। जनवरी 2014 में ग्राम भर्रीडांड निवासी युवक भूपेंद्र सिंह लाश मिली थी, जिसे भालू ने मारा था। ग्रामीणों ने पुलिस और वनविभाग को जानकारी दी। देर रात भालू उसी शव के पास आया और उसे खाने लगा। ग्रामीण वहां से भाग गए मगर इस घटना के 24 घंटे के भीतर ही कुछ और लोगों पर भालू ने हमला किया था। तब सूचना पर रणवीर शर्मा वहां पहुंचे। साथ में पुलिस भी थी, भालू को जब खदेड़ा नहीं जा सका तो शर्मा के आदेश पर पुलिस ने इंसास रायफल से भालू पर फायरिंग की और वो वहीं मर गया।


ज्ञातव्य है कि वाइल्ड एनिमल प्रोटेक्शन एक्ट 1972 के तहत टाइगर, पैंथर, भालू की जान लेने पर सात साल तक की सजा का प्रावधान है। इन जानवरों के आदमखोर होने की दशा में भी पीसीसीएफ वाइल्ड लाइफ की अनुमति के बिना जान नहीं ली जा सकती। इस बारे में बेहद कड़े नियम हैं। गोली मारने के पहले निर्देश हैं कि पहले वन्य प्राणी को जाल में फंसाकर या बेहोश करने वाली गन का इस्तेमाल कर काबू में करने का प्रयास किया जाए। पेण्ड्रा में ऐसा प्रयास करने का सोचा भी नहीं गया। तब वन विभाग के प्रमुख पीसीसीएफ रामप्रकाश ने कहा था कि रिपोर्ट में यदि यह प्रमाणित हो गया कि भालू को जीवित पकडऩा संभव था, लेकिन ऐसा नहीं किया गया तो कानूनी कार्रवाई की जाएगी। लेकिन इसके बाद भी शर्मा अलग-अलग पदों पर बनते चले गए।


लेकिन, इसके बाद भी उन्होंने अपनी इस करतूत पर लगाम नहीं लगाया और जुलाई 2015 में रिश्वत लेते एंटी करप्शन की टीम ने रंगे हाथों पकड़ा था। उस वक्त वे कांकेर जिले के भानुप्रतापपुर में प्रशिक्षु आईएएस के तौर पर एसडीएम बनाये गए थे। चौगेल में पदस्थ पटवारी सुधीर लकड़ा ने शिकायत की थी कि एसडीएम रणवीर शर्मा जमीन के खरीद-फरोख्त मामले में जांच रोकने और कार्रवाई नहीं करने के लिए रकम की मांग कर रहे थे। पटवारी की शिकायत के मुताबिक रणवीर शर्मा ने 40 हजार मांगे थे, 30 में डील हुई थी। इसकी जानकारी पटवारी ने एंटी करप्शन ब्यूरो को दी थी। पटवारी ने पहली किश्त के रूप में 20 हजार रुपए एसडीएम कार्यालय के चपरासी गणेश राम शोरी के माध्यम से शर्मा को पहुंचा दिए और बात रिकॉर्ड कर ली। पटवारी ने दूसरी किश्त के 10 हजार रुपए दोबारा चपरासी के हाथ एसडीएम को भेजे। जैसे पैसे शर्मा के चेंबर में पहुंचे एंटी करप्शन की टीम ने उसे पकड़ लिया। बाद में राज्य शासन ने एक आदेश जारी कर रणवीर को एसडीएम के पद से हटाकर मंत्रालय में अवर सचिव बना दिया था।

सूरजपुर में एक बार फिर हुआ थप्पड़ काण्ड अब SDM ने भी जड़ा तमाचा, युवक से उठक-बैठक भी कराई

सूरजपुर में एक बार फिर हुआ थप्पड़ काण्ड अब SDM ने भी जड़ा तमाचा, युवक से उठक-बैठक भी कराई

रायपुर, सूरजपुर कलेक्टर रणबीर शर्मा के थप्पड़ कांड के बाद अब सूरजपुर के ही एसडीएम का वीडियो वायरल हो गया है. एसडीएम प्रकाश राजपूत ने लॉकडाउन में बाहर घूमते हुए युवक को तमाचा जड़ दिया. साथ ही एसडीएम ने युवक से उठक-बैठक भी कराई. एक ट्विटर यूजर विश्वम्भर चौबे ने ये वीडियो सीएम भूपेश बघेल को टैग करते हुए लिखा है कि 'कलेक्टर साहब के थप्पड़ कांड के बाद अब SDM साहब को भी देख लीजिए. ये सूरजपुर के SDM प्रकाश राजपूत हैं.. #lockdown में बाहर घूमते युवक को थप्पड़ मार समझाइश दे रहे हैं. गजब थप्पड़मार प्रशासन है भाई... बता दें कि सीएम भूपेश बघेल ने कलेक्टर थप्पड़ कांड में आज कड़ा एक्शन लिया है.थप्पड़ कांड के बाद सूरजपुर कलेक्टर रणबीर शर्मा को हटा दिया गया है. गौरव कुमार सिंह को सूरजपुर का नया कलेक्टर बनाया गया है. कलेक्टर रणबीर शर्मा को मंत्रालय में संयुक्त सचिव की जिम्मेदारी सौंपी गई है. 

BIG BREAKING : थप्पड़ मार कलेक्टर को तत्काल प्रभाव से हटाया, इन्हें दिया सूरजपुर का चार्ज

BIG BREAKING : थप्पड़ मार कलेक्टर को तत्काल प्रभाव से हटाया, इन्हें दिया सूरजपुर का चार्ज

रायपुर, भारतीय प्रशासनिक सेवा के दो अधिकारियो की नवीन पदस्थापना आदेश जारी किया गया है। जिसके तहत रायपुर जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी गौरव कुमार सिंह को सूरजपुर जिले का नया कलेक्टर पदस्थ किया गया है. वही रणवीर शर्मा को कलेक्टर सूरजपुर से स्थानांतरित करते हुए तत्काल प्रभाव से मंत्रालय में संयुक्त सचिव के पद पर पदस्थ किया गया है. सूरजपुर जिले के कलेक्टर रणबीर शर्मा को तत्काल प्रभाव से हटा दिया गया है.

 

सीएम भूपेश बघेल ने ट्वीट कर कहा है कि 'सोशल मीडिया के माध्यम से सूरजपुर कलेक्टर रणबीर शर्मा द्वारा एक नवयुवक से दुर्व्यवहार का मामला मेरे संज्ञान में आया है. यह बेहद दुखद और निंदनीय है. छत्तीसगढ़ में इस तरह का कोई कृत्य कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. कलेक्टर रणबीर शर्मा को तत्काल प्रभाव से हटाने के निर्देश दिए हैं. किसी भी अधिकारी का शासकीय जीवन में इस तरह का आचरण स्वीकार्य नहीं है. इस घटना से क्षुब्ध हूँ. मैं नवयुवक व उनके परिजनों से खेद व्यक्त करता हूँ.

 Read Also:- कलेक्टर का थप्पड़ ट्विटर में कर रहा ट्रेंड, लोगो ने कहा

कलेक्टर का थप्पड़ ट्विटर में कर रहा ट्रेंड, लोगो ने कहा

कलेक्टर का थप्पड़ ट्विटर में कर रहा ट्रेंड, लोगो ने कहा

रायपुर। सूरजपुर कलेक्टर का युवक को थप्पड़ मारने वाला वीडियो सोशल मीडिया में ट्रेंड कर रहा है। यूजर्स ने इस घटना की कड़ी निंदा की है। इस मामले को IAS एसोसिएशन ने भी संज्ञान में लिया है। IAS एसोसिएशन ने ट्वीट कर कलेक्टर के व्यवहार की कड़े शब्दों में निंदा की है।
IAS एसोसिएशन ने लिखा कि IAS एसोसिएशन कलेक्टर सूरजपुर, छग के व्यवहार की कड़ी निंदा करता है। कलेक्टर सूरजपुर का व्यहार अस्वीकार्य है। यह सेवा और सभ्यता के मूल सिद्धांतों के खिलाफ है। सिविल सेवकों को सहानुभूति रखनी चाहिए।


ट्विटर में कर रहा ट्रेंड
लॉकडाउन का जायजा लेने निकले सूरजपुर कलेक्टर ने एक युवक को जोरदार थप्पड़ जड़ दिया। वहीं उसका मोबाइल को पटकर तोड़ दिया। इसका वीडियो अब सोशल मीडिया में ट्रेंड कर रहा है। ट्वीटर यूजर्स #SuspendRanbirSharmaias लिख रहे हैं। कई यूजर्स ने कलेक्टर के रवैये पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है।
दरअसल कलेक्टर रणबीर शर्मा खुद से एक बाइक सवार को रोककर बाहर निकलने का कारण पूछा और जवाब सुनने के दौरान ही उन्होंने उस लड़के का मोबाइल छीनकर सड़क पर पटक दिया और एक थप्पड़ जड़ दिया। जबकि लड़का बार बार ये कह रहा है कि वो जरूरी काम से घर से निकला था, लेकिन किसी ने उसकी एक नही सुनी। ये मामला शनिवार दोपहर का है।
जानकारी के अनुसार पीड़ित युवक का नाम अमन मित्तल है, उसकी दादी का इलाज सूरजपुर के कोविड अस्पताल में चल रहा है। बताया गया कि अमन अपनी दादी को खाना देकर लौट रहा। वहीं कलेक्टर के पूछने पर उसने पर्ची भी दिखाई, लेकिन साहब तो अपनी ही धुन में थे। फिर क्या मोबाइल पटक दिया और तमाचा भी जड़ दिया।
हालाकि बाद में कलेक्टर रणबीर शर्मा ने सोशल मिडिया के माध्यम से माफ़ी भी मांग ली है, पर जनता का गुस्सा बना हुआ है और उसे ससपेंड करने की बात कह रहे है.
 

कोविड अस्पताल की व्यवस्था पर प्रशासन सख्त, लगी तहसीलदारों की ड्यूटी

कोविड अस्पताल की व्यवस्था पर प्रशासन सख्त, लगी तहसीलदारों की ड्यूटी

सूरजपुर, कोरोना सक्रमंण की वृद्धि और मृत्यु दर पर अकुंश लगाने जिला प्रशासन व्यवस्था को सुधार करने और मरीजों के इलाज के लिए विशेषज्ञ डाॅक्टरों की शिट वाइज ड्यूटी लगाई गयी है। जो नियमित समय अन्तराल में मरीजों का इलाज और स्थिति का अवलोकन करेंगे। कलेक्टर रणबीर शर्मा ने कोविड मरीजों का बेहतर इलाज प्राप्त हो सके इसके लिए उन्होंने व्यवस्था दुरूस्त करने और निगरानी रखने की तहसीलदारों की शिट वाइज ड्यूटी लगाई है।
कलेक्टर स्वयं नियमित निरीक्षण कर चिकित्सा अमला को समझाईश देकर मनोबल भी बढ़ा रहे हैंै। उन्होंने सभी ड्यूटीरत डाॅक्टरों और चिकित्सा अमला को पूरे सेवाभाव से कार्य करने कहा है। मृत्यु दर को रोकने हर संभव प्रयास रोकने के निर्देश दिए है।
कलेक्टर ने अस्पताल प्रबंधन को साफ-सफाई व्यवस्था, भोजन, पानी की व्यवस्था नियमित रूप से करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने लापरवाही बरतने वाले चिकित्सीय कर्मचारियों पर सख्त कार्रवाई करने सीएमएचओ को निर्देशित किया।

 मदिरा दुकानों में काउंटर से मदिरा विक्रय आगामी आदेश तक पूर्णत: प्रतिबंधित होगा

मदिरा दुकानों में काउंटर से मदिरा विक्रय आगामी आदेश तक पूर्णत: प्रतिबंधित होगा

सूरजपुर। कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी रणबीर शर्मा ने 4 मई 2021 की कंडिका 24 (9) में उल्लेख अनुसार जिले की समस्त मदिरा दुकानें 15 मई 2021 के रात्रि 12.00 बजे तक बंद रखी जायेंगी। छ.ग. शासन वाणिज्यिक कर (आबकारी) विभाग एवं आबकारी आयुक्त, छत्तीसगढ़ रायपुर 09 मई 2021 के अनुपालन में उपर्युक्त आदेश में आंशिक संशोधन करते हुए लॉकडाउन अवधि में आगामी आदेश पर्यंत अवैध मदिरा निर्माण, विक्रय, परिवहन एवं धारण पर अंकुश लगाने के उद्देश्य से 10 मई 2021 से जिला सूरजपुर की समस्त देशी, विदेशी, कंपोजिट मदिरा दुकानों से ऑनलाइन आर्डर पर मदिरा की होम डिलीवरी की व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए प्रात: 09.00 बजे से रात्रि 08.00 बजे तक उक्त मदिरा दुकानों को खोले जाने की अनुमति प्रदान की जाती है। डिलिवरी बॉय के माध्यम से मदिरा की होम डिलिवरी हेतु प्रबंध संचालक, छत्तीसगढ़ स्टेट मार्केटिंग कार्पोरेशन लिमिटेड के द्वारा निर्धारित प्रक्रिया अपनाई जाये। लॉकडाउन अवधि में आगामी आदेश पर्यन्त मदिरा दुकानों में काउंटर से मदिरा विक्रय प्रतिबंधित रहेगा।

उक्त आदेश के माध्यम से अधिरोपित अन्य प्रतिबंध यथावत् लागू रहेगे। इस आदेश का उल्लंघन करने वाले व्यक्ति, प्रतिष्ठानों पर भारतीय दण्ड संहिता 1860 की धारा 188 आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 की धारा 51-60 तथा सुसंगत विधि अनुसार कड़ी कार्यवाही की जावेगी।

लॉकडाउन के दौरान शराब दुकानें बंद रहने पर जहरीली शराब और सिरप के सेवन से कतिपय जिलों में हुई मौतों के मद्देनजर शासन द्वारा सामाजिक दूरी के सिद्धांतों का पालन करते हुए मदिरा की होम डिलीवरी का निर्णय लिया गया है। प्लेस्टोर पर उपलब्ध सीएमएमसीएल ऑनलाईन एप के माध्यम से होगा। जब नया ग्राहक एप में रजिस्टर करेगा तब उसे अपना एड्रेस देने के साथ ही अपना लोकेशन भी देना होगा। पुराने रजिस्टर्ड ग्राहकों को शराब ऑर्डर करते समय अपना लोकेशन देना होगा। ऑनलाइन पेमेंट के लिए पेमेंट का गेट वे दिया हुआ होगा। ग्राहकों को मदिरा का ऑनलाइन पेमेंट देना होगा, जिसमें शराब का मूल्य, डिलीवरी शुल्क और पेमेंट गेटवे का शुल्क सम्मिलित होगा। वर्तमान में पे यू और एसबीआई का एमओएक्स गेटवे होंगे ।

ग्राहक जब ऑर्डर करेगा तो उसको ऑनलाइन पेमेन्ट करना होगा जो उसके एप्प, वैलेट में जमा होगा। जब दुकान का सुपरवाइजर ऑर्डर फाइनल करेगा तब अंतत: ग्राहक का पैसा कट जाएगा। यदि किसी कारण वश ग्राहक को पूरे माल की डिलीवरी नहीं मिल पाती है तो उसके द्वारा शेष बचे पैसे को एप, वैलेट से रिफंड करने का या एप में ही पड़े रहने देने का ऑप्शन होगा। यदि ग्राहक शेष पैसे एप में ही पड़े रहने देगा तो अगली बार ऑनलाइन शराब का ऑर्डर करते समय उस पैसे का उपयोग कर सकेगा ।

ऑनलाइन ऑर्डर के लिए एप 24 घंटे खुला रहेगा। ऑर्डर्स की डिलीवरी प्रात: 09.00 बजे से रात्रि 08.00 बजे तक की जावेगी। किंतु सायं 05.00 बजे के बाद किए गए ऑर्डर्स अगले दिन वितरित होंगे।
विवाह कार्यक्रम में कोरोना गाइडलाइन नियमों के उल्लंघन पर एफआईआर दर्ज

विवाह कार्यक्रम में कोरोना गाइडलाइन नियमों के उल्लंघन पर एफआईआर दर्ज

सूरजपुर। कोरोना संक्रमण के नियंत्रण, बचाव और उसके फैलाव को रोकने के लिए शासन और प्रशासन से आवश्यक निर्धारित गाईडलाइन जारी किए गए हैं।
कोरोना के गाईडलाइन के आदेश का पालन कराने, समझाईश देने और जागरूक करने निरंतर जिला प्रशासन और पुलिस अमला से किया जा रहा है। लेकिन लोगों से उल्लंघन और अवहेलना किया जा रहा है। जिला प्रशासन ने लॉकडाउन अवधि में विवाह में व्यक्तिों की निर्धारित संख्या तय की थी। लेकिन अब कोरोना संक्रमण के बढ़ोतरी को देखकर संपूर्ण जिले में विवाह कार्यक्रम को निरस्त करने का आदेश जारी किया है।
8 मई को भैयाथान तहसील के अंतर्गत ग्राम गंगोटी में राम किशुन सिंह दुल्हन के बड़े पिता और रमेश सिंह दुल्हन के पिता विवाह कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। जहां लॉकडाउन और शादी में निर्धारित संख्या का उल्लंघन करते पाया गया। निरीक्षण के दौरान पाया गया कि निर्धारित संख्या से 50-60 से अधिक लोगों को शाम 7 बजे बुलाकर भोज कराया जा रहा था। जिस पर भैयाथान एसडीएम प्रकाश सिंह राजपूत के निर्देश पर तहसीलदार प्रतीक जायसवाल, पुलिस अमला और हल्का पटवारी ने निरीक्षण किया गया।
हल्का पटवारी ने शादी प्रारंभ होने से पूर्व भी निर्धारित गाईडलाइन का पालन और अनुमति का पालन करने सूचना दी गई थी। आदेश की अवहेलना और नियमों का उल्लंघन करने पर राम किशुन सिंह और रमेश सिंह पर त्वरित कार्रवाई करते हुए एफआईआर दर्ज किया गया है। कार्यवाही के दौरान तहसीलदार प्रतीक जयसवाल, पुलिस अमला और हल्का पटवारी मौजूद थे।
 

 साईं मोबाईल शॉप को किया गया सील

साईं मोबाईल शॉप को किया गया सील

सूरजपुर । कोरोना संक्रमण के निरंतर वृद्धि के रोकथाम, नियंत्रण व फैलाव को रोकने के लिए संपूर्ण जिले में लॉकडाउन लगाया गया है। जिला प्रशासन व पुलिस अमला की ओर से लॉकडाउन के नियमों का पालन कराने और जागरूक करने का कार्य निरंतर किया जा रहा है, लेकिन कुछ लापरवाह दुकानदारों के द्वारा लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन कर दुकान खोला जा रहा है, जिस पर कार्रवाई करते हुए आज देवनगर स्थित साईं मोबाइल दुकान संचालक द्वारा लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करते पाया गया, जिस पर नायब तहसीलदार अंकिता तिवारी और थाना प्रभारी बसंत खलखो द्वारा त्वरित कार्रवाई करते हुए साईं मोबाईल दुकान को सील कर दिया गया है तथा लॉकडाउन के निर्धारित नियमों का कड़ाई से पालन करने समझाइश दिया गया है। 

 लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करने पर दुकान की गई सील

लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करने पर दुकान की गई सील

सूरजपुर। जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन द्वारा कोरोना संक्रमण के रोकथाम बचाव एवं उसके फैलाव को रोकने के लिए आम नागरिकों को निरंतर जागरूक कर रहा है। लेकिन कुछ नागरिकों के द्वारा कोरोना के नियमों के गाईडलाइन एवं जिले में लगे लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन किया जा रहा है। जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन द्वारा इस पर निरंतर कार्य किया जा रहा है। 

इसी के परिपालन में आज लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करने पर भैयाथान रोड स्थित  गुप्ता स्टील और अनुष्का गारमेंट्स को सील कर दिया गया है। दोनों दुकानदार हाफ शटर खोलकर ग्राहकों को समान का विक्रय कर रहे थे। जिस पर जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन द्वारा त्वरित कार्रवाई करते हुए दोनों दुकान को सील कर दिया गया है। कार्यवाही के दौरान तहसीलदार नंदजी पांडे, नायाब तहसीलदार  ओपी सिंह, नगरपालिका की टीम सहित पुलिस अमला उपस्थित थे। 
 कलेक्टर का बड़ा फैसला : कल से आयोजित होने वाले शादियां आगामी आदेश तक निरस्त करने के दिए निर्देश

कलेक्टर का बड़ा फैसला : कल से आयोजित होने वाले शादियां आगामी आदेश तक निरस्त करने के दिए निर्देश

सूरजपुर। कलेक्टर रणबीर शर्मा ने कोरोना संक्रमण के निरंतर बढ़ोत्तरी को ध्यान में रखते हुए जिले में कल से आयोजित होने वाले शादी आगामी आदेश तक निरस्त करने के निर्देश दिए हैं।

कलेक्टर ने जिले में सभी अनुविभागीय अधिकारी राजस्व एवं तहसीलदार द्वारा जितनी भी शादी की अनुमति दी गई है, उनमें से आज आयोजित होने वाली शादी को छोड़कर कल से आयोजित होने वाली समस्त शादी की अनुमति तत्काल प्रभाव से निरस्त करने की व्यवस्था सुनिश्चित करने कहा है। उन्होंने इस आशय का लिखित में आदेश भी जारी करने कहा है एवं संबंधित से पावती अनिवार्य रूप से प्राप्त करने कहा है। कलेक्टर ने आदेश का उल्लंघन करने वाले व्यक्तियों के विरुद्ध आवश्यक वैधानिक कार्यवाही भी करने निर्देशित किया है।
 छापामार कार्यवाही: मेडिकल स्टोर संचालक के अनाधिकृत अस्पताल को प्रशासन ने किया सील

छापामार कार्यवाही: मेडिकल स्टोर संचालक के अनाधिकृत अस्पताल को प्रशासन ने किया सील

अम्बिकापुर। मेडिकल स्टोर संचालन के साथ ही अनाधिकृत रूप से अस्पताल खोल मरीजो का ईलाज करने वाले मेडिकल स्टोर पर जिला प्रशासन की टीम ने छापामार कार्यवाही कर मेडिकल स्टोर को सील कर दिया गया।

कलेक्टर संजीव कुमार झा के निर्देशानुसार प्रशासन की टीम ने चठिरमा स्थित व्यापारी मेडिकल स्टोर में दबिश देकर छापामार कार्यवाही की । कार्यवाही के दौरान स्टोर संचालक अजीत व्यापारी से मेडिकल स्टोर में अनाधिकृत रूप से मरीजों का उपचार करते पाया गया। मेडिकल स्टोर्स से संलग्न मकान में 9 बेड की व्यवस्था और ग्लूकोज बॉटल चढ़ाए जाने के पर्याप्त साक्ष्य प्राप्त हुए। 

अजीत व्यापारी ने बीएएमएस की डिग्री प्रस्तुत की जिसका नवीनीकरण नही किया गया है। मेडिकल स्टोर्स के आस . पास बहुत सारे मेडिकल वेस्ट लापरवाही पूर्वक खुले में फेंका हुआ था। व्यापारी मेडिकल स्टोर संचालक को अनाधिकृत रूप से मरीजो का ईलाज करना और मेडिकल वेस्ट के प्रबंधन में घोर लापरवाही बरतने पर उक्त भवन को एसडीएम ने सील कर दिया है।

कार्यवाही के दौरान तहसीलदार ऋतुराज बिसेन, नायब तहसीलदार किशोर वर्मा और नवापारा के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉ आयुष जायसवाल मौजूद थे।
 
होम आइसोलेशन के नियमों का उल्लंघन करने पर भेजा, कोविड केयर सेंटर

होम आइसोलेशन के नियमों का उल्लंघन करने पर भेजा, कोविड केयर सेंटर

सूरजपुर। जिला प्रशासन कोरोना संक्रमण के नियंत्रण एवं रोकथाम के लिए निरंतर प्रयास कर रहा है लेकिन जो मरीज कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं, उन्हें कोविड केयर सेन्टर एवं होम आइसोलेशन में भी रखा गया है। जबकि होम आइसोलेशन में देखा गया हैं कि कई मरीज लापरवाहीपूर्वक इधर-उधर घूमते हुए भी नजर आते हैं एवं होम आइसोलेशन नियमों का पालन तक नहीं कर रहे हैं।
इसी के परिप्रेक्ष्य में आज भैयाथान एसडीएम प्रकाश सिंह राजपूत और तहसीलदार प्रतिक जायसवाल ने भैयाथान तहसील अंतर्गत ग्राम दर्रीपारा निवासी कोविड पॉजिटिव व्यक्ति विजय राजवाड़े ने होम आइसोलेशन के नियमों का पालन नहीं करते पाया गया तथा लापरवाहीपूर्वक बाहर घूमते-फिरते पाया गया। जिसकी शिकायत की सूचना पर एसडीएम भैयाथान में तत्काल कार्यवाही करते हुए संबंधित को कोविड केयर सेंटर सूरजपुर भेजा गया है।
 

 छत्तीसगढ़ लॉकडाउन 2021: छत्तीसगढ़ के इस जिले में 5 मई तक बढ़ाया गया लॉकडाउन

छत्तीसगढ़ लॉकडाउन 2021: छत्तीसगढ़ के इस जिले में 5 मई तक बढ़ाया गया लॉकडाउन

सूरजपुर। सूरजपुर कलेक्टर ने 5 मई तक लाॅकडाउन बढ़ाने का आदेश जारी किया है। हालांकि लाॅकडाउन में थोड़ी राहत दी है। जिला प्रशासन ने स्ट्रीट वेंडर द्वारा सब्जी, फल, किराना समान बेचने की छूट दी है। कलेक्टर रणबीर शर्मा ने लाॅकडाउन का नया आदेश जारी किया है। बता दें  सूरजपूर के अलावा अन्य जिलों में आज शाम तक लाॅकडाउन बढ़ाने के आदेश आ सकते हैं। 
 
+ Load More