• -

COVID-19 :

Confirmed :

Recovered :

Deaths :

Maharashtra / 230599 Tamil Nadu / 126581 Delhi / 107051 Gujarat / 38419 Uttar Pradesh / 31156 Karnataka / 31105 Telangana / 29536 West Bengal / 25911 Andhra Pradesh / 23814 Rajasthan / 22212 Haryana / 19364 Madhya Pradesh / 16341 Assam / 14033 Bihar / 13978 Odisha / 11201 Jammu and Kashmir / 9261 Punjab / 7140 Kerala / 6535 State Unassigned / 4385 Chhattisgarh / 3526 Uttarakhand / 3305 Jharkhand / 3192 Goa / 2039 Tripura / 1773 Manipur / 1435 Puducherry / 1200 Himachal Pradesh / 1101 Ladakh / 1055 Nagaland / 673 Chandigarh / 523 Dadra and Nagar Haveli and Daman and Diu / 456 Arunachal Pradesh / 287 Mizoram / 203 Andaman and Nicobar Islands / 151 Sikkim / 134 Meghalaya / 113 Lakshadweep / 0

   कोरोना मेडिकल बुलेटिन: प्रदेश में 9 जुलाई को इन- इन जिलो से मिले इतने मरीज साथ ही इतने मरीज हुए स्वस्थ,पढ़े ये खबर    |    BIG BREAKING : रायपुर में मिले 52 नए कोरोना संक्रमित मरीज, डीकेएस हॉस्पिटल के 8 स्टाफ निकले कोरोना संक्रमित    |    त्वरित कार्रवाई से पुलिस के प्रति जनता में बढ़ता है विश्वास : श्री अवस्थी : रायगढ़ और बलौदाबाजार के पुलिसकर्मियों को डीजीपी ने इंद्रधनुष सम्मान से किया सम्मानित    |    BIG NEWS : राजधानी के एक बंद पड़े कंपनी में डकैती करने जा रहे युवकों को मुखबिरी पर पुलिस ने किया गिरफ्तार    |    सावधान: अब एक बार से ज्यादा कोरोना की जांच करवाने वालो पर होगी कार्रवाई, पढ़े पूरी खबर    |    हिरासत में पिता-पुत्र की मौत मामले में पांच और पुलिसकर्मी गिरफ्तार, पढ़े पूरी खबर    |    बड़ी खबर: एक और फिल्म अभिनेता ने दुनिया को कहा अलविदा-जगदीप    |    बड़ी खबर: कानपुर गोलीकांड के मुख्य आरोपी गैंगस्टर विकास दुबे गिरफ्तार, पढ़े पूरी खबर    |    कोरोना बुलेटिन : प्रदेश में आज 65 नए कोरोना संक्रमित मिले, रायपुर से मिले 13 देखे किन किन जिलो से है    |    प्रदेश में मिले 14 नए कोरोना संक्रमित मरीज, देखे किन जिलो से है    |
बड़ी खबर: 225 किलो गांजे के साथ 2 तस्कर गिरफ्तार, पढ़े पूरी खबर

बड़ी खबर: 225 किलो गांजे के साथ 2 तस्कर गिरफ्तार, पढ़े पूरी खबर

सुकमा। जिले के तोंगपाल पुलिस ने 225 किलो गांजा सहित के साथ 02 तस्करों को गिरफ्तार किया है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार मुखबिर की सूचना पर थाने के सामने नाकाबन्दी कर वाहनों की जांच पड़ताल के दौरान कल रात्रि को सफेद रंग की बोलेरो क्रमांक सीजी 18-0539 सुकमा की ओर से आ रही थी उसकी जांच करने पर वाहन में 225 किलो गांजा बरामद कर दो तस्कर वाहन चालक दीपक निहाल निवासी दोरनापाल एवं विप्रो सरकार निवासी मलकानगिरी पीव्ही 117 को गिरफ्तार किया गया है। इस कार्रवाई में थाना प्रभारी इस्पेक्टर विनोद एक्का, सउपनि.पन्ना लाल चंद्रवंशी, प्रधान आरक्षक दया शंकर भोई का योगदान रहा।
 
थाना प्रभारी तोंगपाल विनोद एक्का ने बताया कि मुखबिर की सूचना पर वाहन की चेकिंग के तहत 225 किलो गांजा वाहन क्र0 सीजी 18 के 0539 सफेद रंग की बोलेरो में दोरनापाल से रायपुर जा रहे थे, जिसमें दो तस्करों को पकड़ा गया है।
सड़क निर्माण कार्य में लगे 6 वाहनों को नक्सलियों ने किया आग के हवाले

सड़क निर्माण कार्य में लगे 6 वाहनों को नक्सलियों ने किया आग के हवाले

सुकमा। छत्तीसगढ़ के सुकमा में नक्सलियों ने सड़क निर्माण में लगे वाहनों में आग लगा दी। नक्सलियों ने विकास कार्य ने बाधा डालने के लिए 2जेसीबी, 1 पोकलेन, 3टिप्पर में आग लगा दी। नक्सलियों ने कुल 6 गाडिय़ों को आग के हवाले कर दिया। एसपी शलभ सिन्हा ने इसकी पुष्टि की है। यह घटना जिले के कुकानार थानाक्षेत्र के धनीकोरता गांव की है, जहां भूसारास से मिचवार-कुकानार मार्ग पर नक्सलियों ने की आगजनी की वारदात को अंजाम दिया है। ग्रामीण सूत्रों के हवाले से मिली खबर के मुताबिक कुन्ना के पास सड़क निर्माण में लगी 6 गाडिय़ों में आग लगाई गई है।
अचानक बढ़ा शबरी का जलस्तर ट्रेक्टर ट्राली नदी में फंसी, जाने कहा की है यह घटना

अचानक बढ़ा शबरी का जलस्तर ट्रेक्टर ट्राली नदी में फंसी, जाने कहा की है यह घटना

सुकमा | बस्तर संभाग में मानसून का आगाज लगातार दो दिनों के झमाझम बारिश के साथ शुरू हुई। मानसून के प्रबल प्रभाव से पिछले दो दिनों से जिले के अलग-अलग इलाकों में लगातार बारीश हो रही है हालांकि आज मौसम सुबह से ही साफ है। उसके बावजूद शबरी नदी का जलस्तर अचानक बढ़ गया, जिसके चलते कोंटा में रेत खदान में रेत भरने गया ट्रेक्टर ट्राली देखते ही देखते ट्राली को चारों और से नदी के पानी ने घेर लिया। 

प्राप्त जानकारी के अनुसार आज सुबह रेत के लिए कुछ मजदूर ट्रेक्टर लेकर कोंटा के शबरी नदी के किनारे रेत भरने के लिए गये हुए थे। ट्रेक्टर ट्राली में रेत भरने के दौरान देखते ही देखते शबरी नदी का जलस्तर बढऩा शुरू हो गया। ट्रेक्टर को किसी तरह वहां से निकालने मे कामयाब हो गये, लेकिन ट्राली वही पर फंस गई। वहा पर प्रत्यक्षदर्शीयों ने बताया कि जब आज सुबह 07 बजे वहां गए तो शबरी नदी का पानी सामान्य था। उसके बाद मजदूर ट्रेक्टर ट्राली में रेत भरने लगे गए लेकिन अचानक देखते ही देखते पानी 04 से 05 फीट बढ़ गया। 
 
नक्सलियों को सरकारी कारतूस सप्लायर एएसआई और हेड कांस्टेबल गिरफ्तार

नक्सलियों को सरकारी कारतूस सप्लायर एएसआई और हेड कांस्टेबल गिरफ्तार

सुकमा। जिले के पुलिस ने नक्सलियों के अर्बन नेटवर्क से जुड़े एएसआई आनंद जाटव और हेड कांस्टेबल सुभाष सिंह को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए दोनों आरोपी नक्सलियों को सरकारी कारतूस सप्लाई करते थे। अप्रैल में कांकेर पुलिस ने शहरी नेटवर्क में शामिल ठेकेदार सहित कई लोगों को अपनी गिरफ्त में लिया था। इन्हीं से हुई पूछताछ के दौरान सुकमा से नक्सलियों को कारतूसों सप्लाई होने की जानकारी मिली थी। इसके बाद से सुकमा पुलिस लगातार कई संदिग्ध जवानों पर नजर रख रही थी। 

पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक संदिग्धों के लगातार मोबाइल फोन टेप व ट्रेस किए जा रहे थे। उनकी हर एक गतिविधियों पर पुलिस की नजर बनाए हुए थे। मनोज शर्मा व हरीशंकर स्कॉर्पियो से सुकमा पहुंचे थे। जैसे ही एएसआई बाइक से मलकानगिरी चौक पहुंचा, तभी सबको पकड़ लिया गया। तीनों को पकड़े जाने के बाद पुलिस ने हेड कांस्टेबल को भी इंदिरा कॉलोनी स्थित उसके घर से गिरफ्तार कर लिया। पकड़े गए हेड कांस्टेबल व एएसआई ने दो बार कारतूस बेचे जाने की बात कबूल की है। तीसरी बार वे पुलिस के हत्थे चढ़ गए। हेड कांस्टेबल की ड्यूटी शस्त्रागार में लगी थी। पुलिस ने 04 जून को माओवादियों के लिए गोला बारूद एवं अन्य सामग्री के सप्लाई के सम्बंध में मुखबिर से सूचना मिलने पर धमतरी निवासी मनोज शर्मा व बालोद निवासी हरिशंकर गेडाम को सुकमा मलकानगिरी चौक से घेराबंदी कर पकड़ा गया था। इनके कब्जे से 303 व एसएलआर हथियारों के 395 राउंड कारतूस मिले थे। जिसमे पूछताछ में मनोज शर्मा व हरिशंकर गेडाम की निशानदेही पर दुर्गकोंदल के गणेश कुंजाम व आत्माराम नरेटी को गिरफ्तार किया गया और उन दोनो का सम्पर्क कांकेर के बड़े नक्सली लीडर दर्शन पेद्दा प्रतापपुर एरिया कमेटी सचिव से होने की बात सामने आयी। इनके कब्जे से भी 70 राउंड इंसास और 303 के मिले ।303, एके 47, एसएलआर, इंसास के कुल 695 राउंड् कारतूस बरामद हुए जिस पर कोतवाली थाना सुकमा में अपराध क्रमांक 51/20 दर्ज कर विवेचना की जा रही है। बस्तर आईजी सुंदरराज पी ने बताया कि नक्सलियों को कारतूस बेचने के मामले में दोनों जवानों के संलिप्तता सामने आने पर दोनो को हिरासत में ले कर अग्रिम कार्यवाही की जा रही है। मामले की सूक्ष्मता से जांच करने अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में 09 सदस्यीय एसआईटी गठित की गयी है। अभी इस मामले में और भी खुलासे होने की संभावना।
जिले में दो ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी निलंबित, साथ ही पांच अधिकारीयों पर हुई कार्यवाही, पढ़ें पूरी खबर

जिले में दो ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी निलंबित, साथ ही पांच अधिकारीयों पर हुई कार्यवाही, पढ़ें पूरी खबर

सुकमा | किसानों के कल्याण के लिए संचालित शासन के महत्वपूर्ण योजनाओं के क्रियान्वयन में भारी लापरवाही बरतने के कारण कलेक्टर चंदन कुमार ने दो ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारियों को निलंबित कर दिया हैं। वहीं पांच ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारियों के विरुद्ध एक-एक वेतनवृद्धि रोकने की कार्यवाही की गई है।

कलेक्टर चंदन कुमार की अध्यक्षता में तीन जून को आयोजित कृषि, सहकारिता और राजस्व विभाग के अधिकारियों की संयुक्त बैठक में किसान कल्याण हेतु संचालित योजनाओं के प्रगति की समीक्षा की गई थी। समीक्षा के दौरान प्रधानमंत्री कृषक सम्मान निधि अंतर्गत लाभान्वित किसानों के साथ ही सभी किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड प्रदान करने हेतु दिए गए लक्ष्य को प्राप्त करने में बरती गई लापरवाही के साथ ही रबी फसल के क्षेत्राच्छादन की वास्तविक जानकारी नहीं दिए जाने के कारण कोर्रा क्षेत्र के ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी लकेश कुमार नरेटी और लेदा क्षेत्र के ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी कमलभान सिंह को निलंबित कर दिया गया है। इसके साथ ही जीरमपाल क्षेत्र के राजेन्द्र कुमार दरेन्द्र, नीलावरम क्षेत्र के मनोज कुमार देव, पालेम क्षेत्र के ललित कुमार ओझा, कोंटा क्षेत्र के संतोष कुमार तलाण्डी और मिसमा क्षेत्र के येम कुमार ठाकुर की एक-एक वेतनवृद्धि असंचयी प्रभाव से रोकी गई है । निलंबित कर्मचारियों को नियमानुसार जीवन निर्वाह भत्ते की पात्रता होगी।
 
कोरोना संकट के बीच शादी करना पड़ा भारी, नवदंपत्ति सहित बाराती पहुंचे 14 दिनों के लिए क्वॉरेंटाइन सेंटर, जाने कहा की है ये खबर

कोरोना संकट के बीच शादी करना पड़ा भारी, नवदंपत्ति सहित बाराती पहुंचे 14 दिनों के लिए क्वॉरेंटाइन सेंटर, जाने कहा की है ये खबर

सुकमा |  जिले के तोंगपाल से के पास ग्राम सुघनघाट निवासीे युवक का रिश्ता पड़ोसी उड़ीसा राज्य के मलकानगिरी में तय हुआ था। लॉक डाउन के चलते विवाह की तिथि आगे बढ़ा दी गई थी, लेकिन लॉक डाउन मिली थोड़ी छूट के बाद युवक अपनी दुल्हन को बिहाने के लिए बारात लेकर उड़ीसा गया, जहां उसकी शादी धूमधाम से सम्पन्न हुई। विवाह के बाद युवक जब अपने दुल्हन को लेकर वापस सुकमा के अपने गांव लौटा तो प्रशासन ने बारातियों सहित नवदंपत्ति और उसें परिवार को 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन में डाल दिया है।

मिली जानकारी के अनुसार सुकमा जिले के तोंगपाल से लगे हुए सुघनघाट गांव से बारात पड़ोसी राज्य उड़ीसा के मलकानगिरी गई थी। विवाह के बाद कल देर रात दुल्हन को लेकर बारात वापस अपने गांव लौटी जिसकी सूचना प्रशासन को लगते ही प्रशासन के अधिकारी गांव पहुंच गए और नवदंपत्ति सहित बारातियों को क्वारंटाइन सेंटर लाया गया है। अब नव दंपति और बाराती 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन में रहेंगे। प्रशासन के द्वारा एहतियात के तौर पर नव दंपत्ति एवं बारातियोंं को क्वारंटाइन किया है, क्योंकि उड़ीसा के मलकानगिरी में विगत तीन-चार दिनों से कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 19 तक पहुंच गई है। ऐसे में जिला प्रशासन किसी भी प्रकार का खतरा मोल नहीं लेना चाहती है।
 
जिले के क्वारंटाइन सेंटर से भागने वाले युवक के विरुद्ध हुई एफआईआर, जाने पूरी खबर

जिले के क्वारंटाइन सेंटर से भागने वाले युवक के विरुद्ध हुई एफआईआर, जाने पूरी खबर

सुकमा | जिले के ग्राम पुसपल्ली निवासी 19 वर्षीय तेलामी देवा को क्वारंटाइन सेंटर में रखे गए युवक के वहां से भागने पर उसके विरूध्द आज एफआईआर दर्ज कर उसकी पतासाजी की जा रही है। क्वारंटाइन सेंटर से भागने वाला युवक तेलांगाना से लौटा था, जिसके बाद उसे क्वारंटाइन सेंटर में रखा गया था। 

जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री सिंह ने बताया कि ग्राम पुसपल्ली का 19 वर्षीय तेलामी देवा तेलंगाना राज्य गया हुआ था। इस युवक की वापसी 18 मई को हुई थी। वापसी के बाद इसे क्वारंटाइन किया गया था, किन्तु वह 19 मई को सुबह-सुबह क्वारंटाइन सेंटर से भाग गया। कोरोना के रोकथाम के लिए उठाए जा रहे कदमों के विरुद्ध युवक द्वारा बरती गई लापरवाही को क्षेत्र की जनता के स्वास्थ्य के लिए जोखिम भरा पाए जाने पर उसके विरुद्ध एफआईआर की कार्यवाही गई है।
 
तेज अंधड़ व बारिश से क्वारंटाइन सेंटर पर गिरा पेड़, क्वारंटाइन सेंटर में 40 मजदूर थे मौजूद, जाने कहा की है ये खबर

तेज अंधड़ व बारिश से क्वारंटाइन सेंटर पर गिरा पेड़, क्वारंटाइन सेंटर में 40 मजदूर थे मौजूद, जाने कहा की है ये खबर

सुकमा | जिले के दोरनापाल में कल देर शाम को अचानक मौसम बदला और तेज अंधड़ व बारीश से घरों एवं वाहनों के उपर पेड़ गिर गये वहीं तेज हवा ने कई घरों की छत उड़ा दी तो बारीश ने घर में रखे सामान को खराब कर दिया। इसके अलावा करींगुड़म आश्रम में बनाये गये चरटाईन सेंटर में पेड़ गिर गया, जहां करीब 40 मजदूरों को रखा गया था, लेकिन किसी भी प्रकार के जान-माल का नुकसान नहीं हुआ है। मौके पर पहुंची तहसीलदार की टीम पंहुचकर सुधार कार्य शुरू कर दिया है। साथ ही जिनके घरों को प्रकृतिक आपदा से नुकसान हुआ है, उन्हे मुआवजा देने की बात कही है।

मिली जानकारी के अनुसार शनिवार देर शाम करीब 6.30 बजे मौसम बदलने के साथ ही आसमान मेें गरज-चमक के साथ तेज हवा चलने लगी, हवा इतनी तेज थी कि दोरनापाल स्थित कई घरों की छते ही उड़ा ले गई। साथ ही करींगुड़म आश्रम में बनाये गये चरीटाईन सेंटर भवन पर पेड़ गिर गया। यहां तक कि घर के सामने खड़े टेक्टर व वाहन पर भी पेड़ गिर गऐ। अचानक आए इस तेज अंधड़ से बचाव के लिए लोग कुछ कर पाते कि बारीश शुरू हो गई। रात होने के कारण लोग ज्यादा कुछ नहीं कर पाऐं। हालांकि दो-तीन घंटे के बाद मौसम  ठीक जरूर ठीक हो गया। 
क्वारंटाइन सेंटर का कर्मचारी ने बताया कि जिस वक्त तूफान आया उस समय चरीटाईन सेंटर के कमरों में 40 ग्रामीण मजदूर रूके हुए थे। अचानक तूफान आया तो एक पेड़ भवन पर गिर गया। हालांकि वक्त रहते सभी मजदूरों को दुसरी जगह शिफ्ट किया गया। भवन को नुकसान जरूर हुआ है, लेकिन बड़ा हादसा नही हुआ। 
      दिनभर उमस व तेज गर्मी के बाद देर शाम को मौसम में बदलाव के बाद आसमान में काले बादल छा गए और तेज हवा चलने लगी। एकाएक तेज हवा के साथ बारीश शुरू हो गई। करीब एक घंटे तक तेज बारीश हुई। जिसके बाद मौसम ठंडा हुआ। बारीश से यहां लोगो को गर्मी से राहत जरूर मिली लेकिन दुसरी और इस बारीश ने फसल और वनोपज का नुकसान हुआ है। 
      दोरनापाल तहसीलदार महेन्द्र लहरे ने बताया कि कल शाम को तेज अंधड़ व बारीश के बाद हमारी टीम ने नगर का दौरा किया इसमें किसी भी प्रकार की जनहानि तो नहीं हुई। कुछ घरों पर पेड़ गिर गए, मामूली चोट आई उन्हे अस्पताल भेज दिया गया है। प्रभातिवों का सर्वे किया जा रहा है, आज ही उन्हे मुआवजा राशि उपलब्ध कराया जायेगा।
 
फरार हत्या के तीन आरोपी गिरफ्तार, जादू-टोना के शक में की थी एक युवक की हत्या

फरार हत्या के तीन आरोपी गिरफ्तार, जादू-टोना के शक में की थी एक युवक की हत्या

सुकमा। जिले के ऐर्राबोर पुलिस ने जादू टोना के शक में एक युवक कुहरम भीमा की हत्या करने वाले तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार तीनों आरोपियों ने मिलकर दो माह पहले गांव के एक युवक की जादू टोना के शक में हत्या कर दी थी। इस वारदात को अंजाम देने के बाद तीनों आरोपी फरार हो गए थे।  गौरतलब है कि  ऐर्राबोर पुलिस ने ग्राम गगनपल्ली में दो माह पहले एक युवक कुहरम भीमा की मौत हो गई थी। कुहरम की मौत के बाद परिजनों को आशंक थी कि गांव में ही रहने वाले बोड्डू लच्छा ने जादू टोना कर कुहरम को मारा था। इसी आशंका के पर मृतक के पुत्र कुहरम नरेश ने अपने दो साथियों के साथ मिलकर बोड्डू लच्छा की हत्या कर दी थी और फरार हो गए थे। फिलहाल पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार कर न्यायलय में पेश किया, जहां से तीनों को जेल दाखिल कर दिया है।
हैदराबाद से 400 किलोमीटर पैदल यात्रा कर सुकमा पहुचे एक दर्जन से अधिक मज़दूर, प्रशासन ने किया क्वारन्टीन

हैदराबाद से 400 किलोमीटर पैदल यात्रा कर सुकमा पहुचे एक दर्जन से अधिक मज़दूर, प्रशासन ने किया क्वारन्टीन

सुकमा। पूरी दुनिया में करुणा वायरस का प्रकोप सर चढ़कर बोल रहा है भारत में कई महीनों से लाकडाउन लगा हुआ है यहां सबसे ज्यादा प्रभावित प्रतिदिन कमाने खाने वाले मजदूर हुए हैं छत्तीसगढ़ में मजदूरों की ऐसी मजबूरी की उन्हें 400 किलोमीटर पैदल चलकर आना पड़ रहा है| मजदूरी करने हैदराबाद गए छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले के 17 मजदूर पैदल चलकर 4 दिनों में कोंटा पहुंचे, इस दौरान रास्ते में उन्हें कई समस्याओं का सामना करना पड़ा। हालांकि खाने के लिए गांव-गांव में ग्रामीणों ने व्यवस्था कर दी थी यहां स्वास्थ्य जांच कर क्वारंटाइन किया जाएगा उसके बाद ही उन्हे घर भेजा जाएगा।
 

कोरोना प्रकोप के सबसे ज्यादा प्रभावित मजदूर वर्ग हुआ है क्योंकि अपने घरों से मीलों दूर मजदूर करने गए मजदूरों का सब्र टूट चुका है| अब वो पैदल ही अपने घर जाने के लिए रवाना हो गए है ऐसे ही 17 मजदूर कोंटा पहुंचे हैं| वे मजदूर कोंटा से करीब 400 किलोमीअर दूर हैदराबाद से पैदल चलकर वो भी मात्र 4 दिनों में पहुंचे हैं मजदूरों ने बताया कि 22 अप्रैल को वो हैदराबाद से रवाना हुए थे और रास्ते में उन्हें कई समस्याओं का सामना करना पड़ा, हालांकि खाने की व्यवस्था बीच-बीच में गांव वालों ने कर दी थी. यहां बोर्डर पर उनका स्वास्थ्य जांच हुआ उसके बाद उन्हें क्वारंटाइन किया जाएगा। उसके बाद ही उन्हे गांव भेजा जाएगा। सभी मजदूर सुकमा जिले के तालनार इलाके के रहने वाले हैं।
लॉकडाउन में भी नक्सलियों का सीएए विरोध जारी फेंके पर्चे, सड़क काट कर आवागमन किया ठप्प

लॉकडाउन में भी नक्सलियों का सीएए विरोध जारी फेंके पर्चे, सड़क काट कर आवागमन किया ठप्प

सुकमा, जिले के दोरनापाल-जगरगुण्डा मार्ग पर नक्सलियों ने बीती रात सड़क काट कर आवागमन को ठप्प कर दिया है। बड़े वाहनों की आवाजाही जहां बंद हो गई है, वहीं दोपहिया वाहन किसी तरह गड्ढों को पार कर पा रहे हैं। सड़क काट कर रास्ते में कई जगह नक्सलियों की कोंटा ?एरिया कमेटी ने सीएए के विरोध पर्चे फेंके है।
गौरतलब है कि कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन से जन-जीवन बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। वहीं नक्सल प्रभावित अंदरूनी बीहड़ अंचलों में जहां सामान्य दिनों में भी बड़ी मुश्किल से लोगों तक राशन और अन्य जरूरत की चीजें पहुंचाई जाती है। ऐसे संक्रमण काल में नक्सलियों के द्वारा ग्रामीणों को शासन से नि:शुल्क मिलने वाले चांवल में से आधे चांवल की उगाही कर रहे हंै। ग्रामीणों के हितैषी बताने वाले नक्सलियों का उत्पात अनवरत जारी है।
 

बड़ी खबर : लॉक डाउन के बीच चिंतानाल में मुठभेड़, सुरक्षाबल के जवानों ने मार गिराया 5 लाख का इनामी नक्सली

बड़ी खबर : लॉक डाउन के बीच चिंतानाल में मुठभेड़, सुरक्षाबल के जवानों ने मार गिराया 5 लाख का इनामी नक्सली

सुकमा | छत्तीसगढ़ के सुकमा के चिंतलनार मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने 5 लाख के इनामी नक्सली को ढेर कर दिया है।

मौके से राइफल सहित ग्रेनेड और टिफिन के साथ ई नक्सल सामग्री भी जब्त किए गए हैं। मारे गए नक्सली पर ओडिशा ने भी 4 लाख का इनाम घोषित किया था।
एएसपी नक्सल ऑपरेशन सिद्धार्थ तिवारी ने इसकी पुष्टि की है। उनके मुताबिक डीआरजी के जवान सर्चिंग पर निकले थे। चिंतलनार में नक्सलियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ हो गई। एनकाउंटर में जवानों ने 5 लाख के इनामी नक्सली को मार गिराया। मारे गए नक्सली की पहचान एसीएम पोडिय़म काना उफऱ् नागेश के रूप में हूई हैं। आंध्र उड़ीसा बॉर्डर पर सक्रिय था मारा गया नक्सली नागेश उड़ीसा पुलिस ने भी रखा था ।
 
एक-एक लाख के 2 ईनामी नक्सलियों ने किया आत्मसमर्पण

एक-एक लाख के 2 ईनामी नक्सलियों ने किया आत्मसमर्पण

सुकमा। जिले के नक्सल ऑपरेशन कार्यालय में एक-एक लाख के 02 ईनामी नक्सलियों ने आत्मसमर्पण किया है। आत्मसमर्पित नक्सलियों में एक लाख की ईनामी महिला नक्सली भी है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार ईनामी महिला नक्सली कवासी भीमें नक्सली संगठन में केएएमएस अध्यक्ष के रूप में सक्रिय थी। दूसरा ईनामी नक्सली सोमारू घुरवा डीएएमएस अध्यक्ष के रूप में नक्सली संगठन में सक्रिय था। दोनो ईनामी नक्सलियों पर 01-01 लाख रूपये का ईनाम घोषित था। आज दोनों ही नक्सलियो ने मुख्यधारा से जुडऩे का फैसला लिया और नक्सल ऑपरेशन कार्यालय में एएसपी सिद्धार्थ तिवारी व सीआरपीएफ 02 बटालियन के अधिकारी ताशी ज्ञानिक के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया है। दोनों ही आत्मसमॢपत नक्सलियों को पुलिस ने दस हजार रूपये के प्रोत्साहन राशि के साथ पुनर्वास नीति के तहत समुचित लाभ प्रदान किया जाएगा।
लॉकडाउन के बीच नक्सलियों का कारनामा, सुकमा में पुल उड़ाने की कोशिश

लॉकडाउन के बीच नक्सलियों का कारनामा, सुकमा में पुल उड़ाने की कोशिश

सुकमा। कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिए पूरे देश को लॉकडाउन कर दिया गया है. इस बीच मौका देखकर नक्सली बड़ी वारदात की फिराक में है. छत्तीसगढ़ के सुकमा  जिले में नक्सलियों ने पुल उड़ाने की कोशिश की है. नक्सलियों द्वारा किए गए ब्लास्ट से पुल क्षतिग्रस्त हो गया है. हालांकि  पूल पूरी तरह क्षतिग्रस्त होने से बच गया है मामला दोरनापाल-जगरगुंडा मार्ग के पोलमपल्ली थाना क्षेत्र के गोरगुंडा ग्राम रेंगापारा के पास का है जहाँ नक्सलियों ने विस्पोटक सामाग्री द्वारा पूल को क्षतिग्रस्त किया है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार विस्पोट सोमवार रात तकरीबन 9.30 के आस पास का है विस्पोट की आवाज बहुत ही ज्यादा थी जिसकी आवाज लगभग 7 से 8 किलोमीटर की दूरी पर स्थित ग्रामो तक गई। रेंगापारा के पास बने पुल पर नक्सलियों ने पुल के बीचोबीच एक ब्लास्ट किया है. इस वजह से पुल के दो हिस्सों से क्षतिग्रस्त हो गया है. हालांकि पुल पूरी तरह क्षतिग्रस्त नहीं हुआ है. बताया जाता पहले भी यहां नक्सलियों द्वारा लूटपाट जैसी वारदातों को अंजाम दे चुके है।


दोरनापाल-जगरगुंडा मार्ग पर गोरगुंडा के आस-पास अक्सर नक्सलियों की मौजूदगी रही है. यहां कई बार नक्सलियों ने सड़क काटना, पेड़ गिराकर रास्ता जाम करने के अलावा पोस्टर, बैनर लटकाना यहां तक की लूटपाट की वारदात को भी अंजाम दे चुके है।
सुकमा पुलिस अधीक्षक- शलभ कुमार सिन्हा  
150 किमी पैदल चलकर आंध्र प्रदेश-तेलंगाना से कोंटा पहुंचे मजदूर, पढ़ें पूरी खबर

150 किमी पैदल चलकर आंध्र प्रदेश-तेलंगाना से कोंटा पहुंचे मजदूर, पढ़ें पूरी खबर

सुकमा | जिले में लॉकडाउन होने से मजदूरों को आने-जाने के लिए गाड़ी नहीं मिल रहा है, जिसके चलते आंध्र प्रदेश और तेलंगाना से 150 किमी पैदल चलकर गुरुवार शाम करीब तीन दर्जन मजदूर अपने परिवार के साथ कोंटा पहुंचे, इन सभी मजदूरों को पहले स्थानीय प्रशासन के नुमांईदे ने सीमा पर ही रोक लिया, डॉक्टरों की टीम ने पहले सभी मजदूरों का स्वास्थ्य परीक्षण किया और सभी को कैंप में बिठाकर खाना खिलाया इसके बाद गाड़ी का इंतजाम कर सभी को उनके घर पहुंचाया गया। 

प्राप्त जानकारी के अनुसार कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए जनता कर्फ्यू के बाद देशभर में लॉकडाउन किया गया है। सभी को घरों में ही रहने की हिदायत दी गई, लेकिन मजदूरों के लिए यह फैसला मुसीबत का सबब बन गया है। लॉकडाउन होने से मजदूरों को आने-जाने के लिए गाड़ी नहीं मिल रहा है, लिहाजा मजदूर पैदल सफर करने मजबूर हो रहे हैं। लॉकडाउन की वजह से जिले की सीमा सील कर दी गई है, वाहनों की आवाजाही बंद है, ऐसे में 150 किमी पैदल चलकर करीब 03 दर्जन मजदूर कोंटा पहुंचे। सभी का स्वस्थ्य परीक्षण कर घर वापस भेजा गया है। वहीं दूसरी ओर ऐसी खबर आ रही है कि अभी भी बड़ी संख्या में आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में जिले के मजदूर बडंी संख्या में फंसे हुए है।
 
आंध्रा-तेलंगाना में 20 कोरोना के मरीज मिलने के बाद कोन्टा बॉर्डर सील, जाने पूरी खबर

आंध्रा-तेलंगाना में 20 कोरोना के मरीज मिलने के बाद कोन्टा बॉर्डर सील, जाने पूरी खबर

सुकमा | आंध्रा में 12 तेलंगाना में 8 कोरोना के संक्रमण में मिलने के बाद तीन राज्यों का संगम कहे जाने वाले कोन्टा बॉर्डर को जिला प्रशासन ने शुक्रवार को सील कर दिया है। यहां आने जाने वाले राहगीरों औऱ मजदूरों का हाथ धुलवा कर कोरोना से बचने के उपाय सिखाया जा रहा है।

जिला प्रशाशन ने एहतियातन मद्रास, बेंगलुरू, हैदराबाद, विजयवाड़ा जैसे बड़े शहरों से काम के लिए कई महीनों से रह कर वापस आ रहे मजदूरों कों कोरोना वायरस से बचने के उपाय हाथ धोने का सिस्टम राहगीरो को बताया जा रहा है।
आज सुबह से स्वास्थ्य विभाग की टीम में डॉ सोमेंद्र रात्रे फार्मासिस्ट अविनाश देशमुख अमिता मिश्रा लेब टेक्नीशियंस और अन्य के द्वारा सभी आने जाने वाले लोगो का चेकअप किया जा रहा है। कोन्टा अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व)हिमाचल साहू और तहसीलदार प्यारेलाल नाग के साथ राजस्व विभाग की टीम और थाना प्रभारी आशीष सिंग राजपूत पुलिस टीम के साथ कोन्टा बॉर्डर पहुंचकर मेडिकल केम्प की व्यवस्था के साथ तैनात थे।    
नगर पंचायत अध्यक्ष मौसम जया जिला पंचायत उपाध्यक्ष बोड्डू राजा जनपद पंचायत अध्यक्ष सुन्नम नागेश सभी जिला प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग की संयुक्त प्रयास से कोरोना वायरस के प्रति जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से 10 यात्री बसों के चालक-परिचालक और लगभग 250 यात्रियों को सैनिटाइजर का प्रयोग करने और स्वच्छता संबंधी आदतें बढ़ाने के लिए लोगों को जागरूक किया गया। बसों के संचालकों को हिदायत दी गई कि यात्रियों को सैनिटाइजर उपलब्ध कराए जाएं। बस स्टैंड के सभी बुकिंग काउंटर्स प्रभारियों को भी इस जागरूकता का हिस्सा बनाया गया।
 
सुकमा में महसूस किए गए भूकंप के झटके, कुकानार-तोंगपाल में लोग डर से घर के बाहर निकले, पढ़ें पूरी खबर

सुकमा में महसूस किए गए भूकंप के झटके, कुकानार-तोंगपाल में लोग डर से घर के बाहर निकले, पढ़ें पूरी खबर

सुकमादेश में कोरोना जैसे विपदा के बाद छत्तीसगढ़ में भी मुसीबत कम होने का नाम नहीं  ले रही है। बेमौसम बारिश के बीच आज सुबह जगदलपुर से 34 किलोमीटर दूर भूकंप का तेज झटका महसूस किया गया है। 

मौसम विभाग प्रमुख एचपी चंद्रा ने बताया कि भूकंप का यह झटका जगदलपुर से 34 किलोमीटर दूर दक्षिण पूर्व दिशा में  रिक्टर  पैमाने में 4.2 की तीव्रता के साथ दर्ज किया गया है। भूकंप का यह झटका आज सुबह 11.14 मिनट पर दर्ज किया गया है। श्री चंद्रा ने बताया कि भूकंप की गहराई 10 किलोमीटर मापा गया है तथा इसका केन्द्र भी  इतने ही गहराई पर दर्ज किया गया है।

भूकंप का केन्द्र अक्षांश 18.8 527 और देशांतर में 82.2315 है। इस भूकंप की तीव्रता सुकमा में भी दर्ज किया गया है। इधर जगदलपुर-सुकमा के ठीक पहले चेन्नई से पूर्व दिशा में 471 किलोमीटर दूर भी भूकंप का झटका महसूस किया गया है। भूकंप 4.8 मेग्नीट्यूड का आया है। इस भूकंप की गहराई भी 10 किलोमीटर है। इधर शासन-प्रशासन को भी भूकंप आने की सूचना  दे दी गई है, पूर्व में इस पूरे इलाके को सेफ जोन माना जाता था, लेकिन भूकंप के झटके महसूस होने के बाद अब इन इलाकों को भी भूकंप प्रभावित माना जा रहा है। 

 
  पति कि हत्या कर शव के सामने पत्नि को निर्वस्त्र कर पीटने वाले नक्सली गिरफ्तार

पति कि हत्या कर शव के सामने पत्नि को निर्वस्त्र कर पीटने वाले नक्सली गिरफ्तार

सुकमा। जिला सुकमा में चलाये जा रहे नक्सल उन्मूलन अभियान के तहत  नक्सली आरोपियों की उपस्थिति की मुखबीर की सूचना पर थाना तोंगपाल से थाना प्रभारी विजय पटेल के हमराह जिला बल से 20 का एक बल नक्सली आरोपियों की धरपकड़ हेतु ग्राम प्रतापगिरी की ओर रवाना हुए थे। अभियान के दौरान ग्राम प्रतापगिरी के जंगल में 02 नक्सली आरोपी मुचाकी हिड़मा पिता स्व. मुचाकी सोमडू (जनमिलिशिया सदस्य) उम्र 45 वर्ष निवासी ग्राम कोलेमकोंटा, जैमेर, थाना तोंगपाल, एवं मड़कामी बुधु पिता स्व. मड़कामी जोगा (जनमिलिशिया सदस्य) उम्र 46 वर्ष निवासी ग्राम कोलेमकोंटा, जैमेर, थाना तोंगपाल जिला सुकमा को पकड़ा गया। 

प्राप्त जानकारी के अनुसार उक्त दोनो नक्सली आरोपी  28 फरवरी को थाना तोंगपाल क्षेत्रान्तर्गत ग्राम कोलेमकोंटा, जैमेर निवासी ग्रामीण मुचाकी हड़मा की हत्या करने एवं उसकी पत्नि को निर्वस्त्र कर पीटने की घटना में शामिल थे। घटना के संबंध में थाना तोंगपाल में अपराध क्रमांक 04/20 धारा 147, 148, 149, 302, 294, 323, 435, 120 (बी), भादवि., 25 आर्स एक्ट एवं अपराध क्रमांक 05/20 धारा 147, 148, 149, 354, (ख) 509, 294, 323, 506 (बी), भादवि., 25 आर्स एक्ट का प्रकरण दर्ज था । उक्त दोनों नक्सली आरोपियों को को गिरफ्तार कर 09 मार्च को माननीय न्यायालय सुकमा के समक्ष पेश कर न्यायिक रिमांड पर जेल दाखिल किया गया।
 नक्सलियों ने जवान का अपहरण कर की हत्या , जाने पूरी खबर

नक्सलियों ने जवान का अपहरण कर की हत्या , जाने पूरी खबर

रायपुर। छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में नक्सलियों ने एक डीआरजी के सहायक जवान की हत्या कर दी। बताया जा रहा है कि जवान होली में अपने गांव आया था, जिसकी खबर मिलते ही नक्सलियों ने गांव पहुंचकर उसका अपहरण करने के बाद हत्या कर दी।

मिली जानकारी के अनुसार मृत जवान का नाम कडती कन्ना है। बताया जा रहा है कि होली के अगले दिन अपने गांव आरगट्टा थाना दोरनापाल आया था, जिसकी खबर नक्सलियों को मिल गई। नक्सलियों ने कल देर शाम को जवान को उसके गांव से अपहरण कर ले गये और जंगल में ले जाकर उसकी हत्या कर दी। हत्या के बाद शव को गांव के पास ही फेंक कर चले गये। आज सुबह मृत जवान का खून से लथपथ शव बरामद किया गया। इधर इस घटना से पूरे गांव में दहशत का माहौल है। 
नक्सलियों ने किया आत्मसमर्पित गोपनीय सैनिक की हत्या, जाने कहा की है ये खबर

नक्सलियों ने किया आत्मसमर्पित गोपनीय सैनिक की हत्या, जाने कहा की है ये खबर

सुकमा | तोंगपाल थाना क्षेत्र के पालेंम में गोपनीय सैनिक कवासी हूंगा की नक्सलियों ने गोली मारकर हत्या कर दी है। 

     प्राप्त जानकारी के अनुसार गुप्त सैनिक कवासी हूंगा ग्राम जैमर निवासी था। कुछ समय पहले नक्सलवाद छोड़कर आत्मसमर्पण कर पुलिस के गुप्त सैनिक के रूप में कार्य कर रहा था। कल ग्राम पालेंम में मेला था, वह मेला देखने गया हुआ था। नक्सलियों ने कल रात्रि 03 बजे मेला स्थल पर ही कवासी हूंगा की गोली मारकर हत्या कर दी। घटनास्थल से सीआरपीएफ कैम्प की दूरी 500 मीटर है। बावजूद नक्सलियों ने हत्या जैसी घटना को अंजाम देकर सुरक्षा बल को एक तरह से खुली चुनौती दी है। 03 दिन पहले शनिवार को भी इस क्षेत्र में ग्रामीण मुचाकी हड़मा की नक्सलियों ने हत्या कर दी थी । नक्सलियों ने एक हप्ते में हत्या की दूसरी घटना को अंजाम दिया है। एसपी शलभ सिन्हा ने नक्सलियों द्वारा गोली मारकर हत्या किए जाने की पुष्टि की है। 
 
हार्ट अटैक से हुई सीआरपीएफ जवान की मौत, रेनिंग कैम्प में तैनात था सीआरपीएफ का जवान...

हार्ट अटैक से हुई सीआरपीएफ जवान की मौत, रेनिंग कैम्प में तैनात था सीआरपीएफ का जवान...

सुकमा। जिले के करनपुर ट्रेनिंग कैम्प में तैनात सीआरपीएफ का एक जवान छेड़ी उर्फ इसरार यहां एक ट्रेनिंग के दौरान अपनी दौड़ पूरी होने के तुरंत बाद हार्ट अटैक के कारण कल रविवार को उनकी मौके पर ही मौत हो गई। 

 

प्राप्त जानकारी के अनुसार छेड़ी उर्फ इसरार यूपी के मऊ जिले के निवासी हैं, वे सीआरपीएफ 120 बटालियन मेघालय के वेस्ट गालो हिल्स से ऑन प्रमोशन दोरनापाल में 74 बटालियन में आए थे। उनकी एक ट्रेनिंग जिसमें उन्हें दस किलोमीटर की दौड़ पूरी करनी थी। इस दौड़ को तो उन्होंने बिना किसी परेशानी के पूरा कर लिया लेकिन उसके तुरंत बाद तबियत बिगड़ गई और वे वहीं पर गिर गए। उन्हें अस्पताल ले जाया गया जहां पर उन्हें डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। बताया जा रहा है कि उन्हें हार्ट अटैक आया और उन्होंने मौके पर ही दम तोड़ दिया। उनका पार्थिव शरीर उनके पैतृक गांव भेजा गया हजारों की संख्या में आस पास के गांवों के लोग आज उनकी अंतिम यात्रा में शामिल हुए, जवान को उनके पैतृक गांव में राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई।
जिला अस्पताल सुकमा में पहली बार किया गया सीजेरियन ऑपरेशन, पढ़ें पूरी खबर

जिला अस्पताल सुकमा में पहली बार किया गया सीजेरियन ऑपरेशन, पढ़ें पूरी खबर

सुकमा |  जिले के जिला अस्पताल में पिछले एक सप्ताह के भीतर 03 सफल सीजेरियन ऑपरेशन किया गया। जिसमें एक काफी मुश्किल था। अगर समय रहते ऑपरेशन नही किया होता तो माँ और बच्चे दोनो के जान को खतरा हो सकता था। लेकिन डॉक्टर नरसिह और डॉक्टर एडी पुरैना ने तीनों सफल ऑपरेशन कर यहां के मरीजों का विस्वास जीता है। सुकमा के ग्रमीणों को इसका सीधा फायदा मिलेगा। 

पिछले कई महीनों से जिला अस्पताल में डॉक्टरों की कमी के कारण गर्भवती महिला को सीमावर्ती प्रदेश मलकानगिरी अस्पताल जाना पड़ता था या फिर सुविधाओ के अभाव में जगदलपुर रैफर करना पड़ता था। लेकिन अब धीरे-धीरे जिला अस्पताल में सुविधाएं बढ़ रही है। 
सीएमचो डॉक्टर बंसोड़ ने बताया कि जिला अस्पताल में सुविधाए बढ़ रही है। एक सप्ताह में तीन सीजेरियन ऑपरेशन हुए है। अब रेफर करने के बजाय यही ऑपरेशन किया जा रहा है, आगे और चीजे बेहतर होगी।
 
+ Load More