• -

और पढ़ें

COVID-19 :

Confirmed :

Recovered :

Deaths :

Maharashtra / 211987 Tamil Nadu / 114978 Delhi / 100823 Gujarat / 36858 Uttar Pradesh / 28636 Rajasthan / 20922 West Bengal / 22987 Madhya Pradesh / 15284 Haryana / 17770 State Unassigned / 5034 Karnataka / 25317 Andhra Pradesh / 21197 Bihar / 12525 Telangana / 25733 Jammu and Kashmir / 8675 Assam / 12523 Odisha / 10097 Punjab / 6491 Kerala / 5623 Uttarakhand / 3161 Chhattisgarh / 3305 Jharkhand / 2877 Tripura / 1692 Ladakh / 1005 Goa / 1813 Himachal Pradesh / 1078 Manipur / 1390 Chandigarh / 492 Puducherry / 1043 Nagaland / 644 Mizoram / 197 Arunachal Pradesh / 270 Sikkim / 125 Dadra and Nagar Haveli and Daman and Diu / 408 Andaman and Nicobar Islands / 147 Meghalaya / 88 Lakshadweep / 0

   BIG BREAKING : एंटी करप्शन ब्यूरो की बड़ी कार्यवाही, पटवारी सहित दो अधिकारियों को रिश्वत लेते रंगे हाथ किया गिरफ्तार    |    भारतीय सेना में महिला अधिकारियों को स्थायी कमीशन एवं कमांड पोस्ट संबंधी अपने आदेश पर अमल के लिए उच्चतम न्यायालय ने केंद्र सरकार को दिया एक माह का समय    |    गोधन न्याय योजना: गौ ग्राम स्वावलंबन अभियान छत्तीसगढ़ के पदाधिकारियों ने जताया आभार : गृहमंत्री से मुलाकात कर सौंपा अभिनंदन पत्र    |    एम्स में काम करने वाली नर्स को शादी का झांसा देकर 34 लाख की ठगी करने वाला आरोपी गिरफ्तार, पढ़ें पूरी खबर    |    एम्स की महिला डॉक्टर सहित इस राज्य की राजधानी में मिले 86 नए कोरोना संक्रमित मरीज    |    स्वास्थ्य विभाग द्वारा 5 जुलाई की स्थिति में रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन वाले विकासखंडों की अधिसूचना जारी    |    बड़ी खबर: प्रदेश में आज 92 नए कोरोना संक्रमित मरीज मिले ,देखे किस किस जिले से है    |    छत्तीसगढ़ के इन जनपद व ग्राम पंचायतों को मिला दीनदयाल उपाध्याय पंचायती राज सशक्तीकरण राष्ट्रीय पुरस्कार, दिल्ली में जारी हुई सूची, देखें सूची    |    बड़ी खबर: बड़ी संख्या में पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों का तबादला आदेश जारी, देखे पूरी लिस्ट    |    जेपी नड्डा ने साधा निशाना: गौरवशाली वंश परंपरा से जुड़े राहुल के लिए समिति मायने नहीं रखती    |
Previous12Next
ड्रेसिंग टेबल पर नहीं, फ्रिज में रखने पर ये ब्यूटी प्रोडक्ट कभी नहीं होंगे खराब

ड्रेसिंग टेबल पर नहीं, फ्रिज में रखने पर ये ब्यूटी प्रोडक्ट कभी नहीं होंगे खराब

महिलाएं अच्छी तरह से जानती हैं कि ब्रांडेड ब्यूटी प्रोडक्ट्स कितने ज्यादा कीमती होते हैं। आप भले ही मेकअप लगाएं या नहीं, मगर आपकी अल्मारी में एक-दो प्रोडक्ट्स जरूर होंगे जो यूं ही रखे-रखें बेकार हो चुके होंगे। कई सारी महिलाएं नहीं जानती कि ब्यूटी प्रोडक्ट्स को अगर लंबा चलाना है, तो उन्हें फ्रिज में रखा जाना चाहिए। 

ज्यादातर महिलाएं अपने कॉस्मैटिक को या तो बाथरूम कैबिनेट में या मेकअप पाउच में रखती हैं। लेकिन इन दोनों ही जगहों पर आपके ब्यूटी प्रोडक्ट्स खराब हो सकते हैं। आइए जानते हैं कि कौन से वो ब्यूटी प्रोडक्ट्स हैं, जिन्हें फ्रिज में रखकर लंबे समय तक यूज किया जा सकता है...

सनस्क्रीन

सर्दियों की शुरुआत होते ही हम अपनी सनस्क्रीन से दूरी बना लेते हैं। हम इन्हें अल्मारी के किसी कोने में यूं ही फेंक देते हैं। लेकिन अगर आपको इसे अलगी गर्मी तक यूज करना है, तो बेहतर होगा कि इसे फ्रिज में रख दें। 

फेशियल मिस्ट और स्प्रे

कोल्ड फेशियल मिस्ट या स्प्रे लगाने से त्वचा फ्रेश फील करती है। इसे फ्रिज में रखे से यह लंबे समय तक आराम से चलता है। 

लिपस्टिक

आपकी लिपस्टिक लंबे समय तक चले इसके लिए इसे ठंडे स्थान पर रखें। बहुत ज्यादा गर्मी लिपस्टिक के लिए खतरनाक है, क्योंकि इससे उसमें मौजूद प्राकृतिक तेल खराब हो सकता है। यही नहीं ज्यादा गर्मी लिपस्टिक में मौजूद कैमिकल को भी खराब होने से बचाता है। 

मस्कारा

क्या आप जानती हैं कि लिक्विड मस्कारा की एक छोटी शेल्फ लाइफ होती है। यदि मस्कारा को बहुत अधिक समय तक गर्म तापमान में रखा जाता है, तो उसमें बैक्टीरिया पैदा होने के चांस बढ़ जाते हैं। भले ही आप इसे फ्रिज में रखें या न रखें, हमेशा याद रखें कि इसे हर तीन महीने में बदल दिया जाना चाहिए। 

आई क्रीम

फ्रिज में रखने से जब आपकी आई क्रीम ठंडी हो जाती है, तो यह पफनेस को कम करने में ज्यादा असरदार साबित होती है। इसके अलावा ऐसा करने से यह अधिक समय तक चलती भी है और अधिक प्रभावी भी होती है।

 
ये 10 बड़ी गलतियां आपके स्मार्टफोन की लाइफ को तेजी से कर रही हैं कम, जानें

ये 10 बड़ी गलतियां आपके स्मार्टफोन की लाइफ को तेजी से कर रही हैं कम, जानें

नई दिल्ली: आजकल आये दिन नए-नए स्मार्टफोन लॉन्च हो रहे हैं. इंटरनेट इतना सस्ता हो चुका है कि लोग फ़ोन में घुसे रहते हैं. हर जगह विडियो और फोटो कंटेंट की भरमार है. लेकिन फ़ोन को यूज़ करने समय लोग इसकी देखभाल तक करना भूल जाते हैं, जिसकी वजह से स्मार्टफोन की लाइफ कम होती जा रही है. अगर आप अपने स्मार्टफोन की लाइफ बढ़ाना चाहते हैं तो आज ही ये 10 गलतियां करना बंद कर दें


1. लोकल चार्जर का इस्तेमाल बंद करें


अक्सर देखने में आता है कि लोग किसी भी चार्जर से अपना फ़ोन चार्ज करने लग जाते हैं, जोकि सबसे बड़ी गलती होती है, क्योंकि हर फोन का अपना अलग चार्जर होता है, और यदि आपका चार्जर खराब भी हो गया हो तो उसी पावर का चार्जर आपको खरीदना चाहिए लेकिन याद रहे लोकल चार्जर का इस्तेमाल बिलकुल न करें इससे आपकी बैटरी और फोन दोनों को नुकसान पहुंचता है.


2. प्रोटेक्टिव केस निकाल कर करें फोन को चार्ज


फोन को चार्ज करते हुए इस बात का ध्यान रखें कि आपके फोन का प्रोटेक्टिव केस निकला हुआ हो. अगर आप केस के साथ फोन को चार्ज पर लगाएंगे तो बैटरी गरम होने की समस्या भी आ सकती है और अगर समय रहते उसे चार्जिंग से नहीं हटाया गया तो बैटरी फट भी सकती है. इसलिए हमेशा फोन को उसके कवर से निकाल कर चार्ज करें.


3. गीले हाथों से फ़ोन का इस्तेमाल न करें


अक्सर लोग अपने गीले हाथों से फ़ोन को यूज़ करने लग जाते हैं जोकि सही नहीं है, अगर आपनी की बूंदें आपके फ़ोन में चली गई तो अच्छा ख़ासा नुकसान आपको उठाना पड़ सकता है.


4. रात में चार्जिंग पर लगाकर ना छोड़ें फोन


अपने फोन को कभी भी पूरी रात चार्जिंग पर लगाकर ना छोड़े. इसे बैटरी ओवरचार्ज होकर फट सकती है. साथ ही फोन की परफॉर्मेंस पर भी असर पड़ता है.


5. इस्तेमाल में लाएं बैटरी सेवर मोड


आज कल सभी स्मार्टफोन्स में बैटरी सेवर मोड का ऑप्शन होता है. ये आपके फोन की बैटरी को बचाता है. ऐसे में चार्जिंग के समय फोन में बैटरी सेवर मोड को ऑन रखें. इससे कम समय में आपकी बैटरी चार्ज हो जाएगी.


6. फ्लाइट मोड पर करें चार्जिंग


फोन चार्ज करते समय आप अपने स्मार्टफोन में फ्लाइट मोड ऑन कर दें. इससे फोन कॉल, इन्टरनेट, GPS जैसे फंग्शंस बंद हो जाएंगे और फोन तेजी से चार्ज होगा.


7. फोन को ना करें फुल चार्ज


अक्सर देखा जाता है कि लोग फोन को उसकी मैक्सिमम लिमिट 100 पर्सेंट तक चार्ज करते हैं. आपको बता दें कि ऐसा करने से आपकी बैटरी जल्दी जल्दी कंज्यूम होती है ऐसा रिपोर्ट्स में सामने आया है. फोन को 80 या ज्यादा से ज्यादा 85 पर्सेंट तक ही चार्ज करें.


8. थर्ड पार्टी एप्स को कहें ना


फोन की बैटरी को अगर ठीक रखना है तो थर्ड पार्टी एप्स के इस्तेमाल से बचें. ये एप्स बैकग्राउंड में भी चलते रहते हैं. जिससे बैटरी की खपत ज्यादा होती है.


9. लाइट वर्जन एप का करें इस्तेमाल


इस समय भारी भरकम एप्स की भरमार है पर कई एप्स ने अपने लाइट वर्जन को लॉन्च किया है. जैसे फेसबुक ने अपने फेसबुक लाइट और फेसबुक मेसेंजर लाइट वर्जन को लॉन्च किया है. लाइट वर्जन वाले एप्स आपका डाटा और बैटरी दोनों बचाते हैं.


10. पावर बैंक से चार्ज करते समय ना करें फोन का इस्तेमाल


अक्सर सफर में लोग फोन की चार्जिंग के लिए पावर बैंक का इस्तेमाल करते हैं और उस दौरान उसे इस्तेमाल भी करते रहते हैं. आपको बता दें कि इस स्मार्टफोन की परफॉर्मेंस बैटरी डिस्पले को एक साथ नुकसान पहुंचता है. अगर आप भी ऐसा करते हैं तो अपनी ये आदत तुरंत बदल दें. 

अगर आपको भी Kitchen Garden का है शौक तो लगाये यह बेहतरीन और उपयोगी पौधे

अगर आपको भी Kitchen Garden का है शौक तो लगाये यह बेहतरीन और उपयोगी पौधे

घर में बगीचा रखने के शौकीन लोगों के लिए बारिश का मौसम एकदम सही मौसम है। इस मौसम में आप बागवानी का भरपूर मजा ले सकते हैं, साथ ही प्रकृति की खूबसूरती महसूस करने का यह सबसे अच्छा समय है।

इस बारिश में यदि आप किचन गार्डन में नए पौधे लगाने के बारे में सोच रहे है तो आइए, जानते हैं कुछ ऐसे ही पौधों के बारें में, जिन्हें लगाकर आप अपना किचन गार्डन बेहतरीन बना सकते हैं।

1. पुदीना : इसे लगाना बहुत आसान है। पुदीना की पत्तियों को निकालकर बची हुई जड़वाली डंडियों को अपने गमलों में खोंस दीजिए। बस कुछ ही दिनों में हरा-हरा पुदीना लहलहाने लगेगा।


2. धनिया पत्ती : एक मुट्ठी पुराना धनिया लेकर उसे लकड़ी के गुटके से मसल लें। जब वह दो भागों में टूट जाए तब उसे अपनी क्यारी में फैला दीजिए।

3. हरी मिर्च : इसे उगाने के लिए आपको छायादार जगह की जरूरत होगी। सूखी मिर्च से बीजों को निकालकर क्यारी या गमलों में छिड़क दें।

4.अदरक- अगस्त-सितंबर में इसकी बुवाई होती है। यह अपनी जड़ों में लगता है। पुरानी अदरक की गाँठों की थोड़े-थोड़े अंतराल पर बुआई कर दें। इस पर पानी देते रहें। कुछ दिनों बाद आपकी क्यारी में हरे रंग की पत्तियां निकल आएंगी।

5. अजवाइन : इस पौधे को बहुत कम पानी की आवश्यकता होती है। अजवाइन को क्यारियों में डाल दें, इसे उगाने के लिए बस इतना ही काफी है।

6. सौंफ : मसालों की रौनक सौंफ है। बस चौड़े गमलों में सौंफ छिड़क दीजिए। इसकी बिलकुल बारीक लहराती हरी-भरी खुशबूदार पत्तियां ऊपर से कच्ची सौंफ के सुंदर गुच्छे आ जाएंगे।

7.ऐलोवेरा का पौधा : ऐलोवेरा के सेहत लाभ से हम सभी परिचित है। यह आपके सौंदर्य को निखारने के साथ-साथ आपको तंदरूस्त रखने में भी मददगार है।

8. इसके अलावा जीरा, तुलसी, मीठा नीम (कड़ी पत्ता) जैसे पौधे आप अपने घर में उगा सकती हैं। पेड़ छोटे हों या बड़े, इनकी देखभाल की बहुत जरूरत होती है। इन पर आपके प्यार और स्नेह का भी असर होता है। अतः प्रकृति के साथ संवेदात्मक और प्यारभरा रिश्ता बनाए रखिए, क्योंकि ये नन्हे पौधे आपके सभी भावों के प्रति सजग होते हैं। बस इस तरह सजाइए अपना किचन गार्डन।

 

Remove China Apps: एक ऐसा App जो आपके स्मार्टफोन को दिलाएगा TikTok और दूसरे चाइनीज ऐप से मुक्ति

Remove China Apps: एक ऐसा App जो आपके स्मार्टफोन को दिलाएगा TikTok और दूसरे चाइनीज ऐप से मुक्ति

नई दिल्ली, लोगों ने अब कई कारणों से या तो चीनी उत्पादों पर भरोसा करना बंद कर दिया है या TikTok जैसे चीनी ऐप्स को अनइनस्टॉल करना शुरू कर दिया है. सोशल मीडिया पर टिक टॉक वर्सेज यू-ट्यूब का वॉर सामने आने के बाद टिकटॉक एप को नुकसान हुआ है. अब OneTouch Apps Labs ने रिमूव चाइना ऐप 'Remove China Apps’ नामक एक ऐप भी डेवलप कर दिया है. यह एप्लिकेशन अब गूगल प्ले स्टोर पर भी उपलब्ध है.


ऐप को अब तक 100K से अधिक डाउनलोड मिल चुके हैं और 24,000 से अधिक यूजर ने इसके रिव्यू लिखे हैं. ऐप को प्ले स्टोर पर सॉलिड '4.8-स्टार रेटिंग' मिल चुकी है. जैसा कि नाम से ही पता चलता है यह ऐप मूल रूप से आपके स्मार्टफोन के उन ऐप्स को स्कैन करता है जो चीनी डेवलपर्स द्वारा विकसित किए गए हैं.


यह ऐप सिर्फ 3.5 एमबी का है और इसमें किसी विज्ञापन का भी झंझट नहीं है. यह अपने आप में दिखाता है कि डेवलपर इस ऐप से पैसे नहीं कमाना चाहते हैं बल्कि वह सिर्फ चीनी ऐप का बायकॉट करना चाहते हैं.


यदि आप इसे ऐप को आज़माना चाहते हैं, तो अपने एंड्रॉइड स्मार्टफोन पर प्ले स्टोर पर जाएं और ‘Remove China Apps’को खोजें. अपने फोन पर ऐप डाउनलोड कर इंस्टॉल करें और ओपन करें. ऐप को यह स्कैन करने की परमिशन दें कि आपके फोन में कोई चाइनीज ऐप तो नहीं है. अब, जिस ऐप को आप अनइंस्टॉल करना चाहते हैं, उसके बगल में 'लाल बिन' आइकन पर टैप करें और ऐप से छुटकारा पाने के प्रोसेस को कनफर्म करें.

 

ये काम करने से AC चलाने के बाद भी बिजली का बिल आएगा कम

ये काम करने से AC चलाने के बाद भी बिजली का बिल आएगा कम

इस समय देश में गर्मी काफी तेजी से बढ़ रही है. लॉकडाउन की वजह से लोग अपने-अपने घरों में है. गर्मी के मौसम में AC (एयर कंडिशनर) ही राहत दिला सकता है. गर्मी से बचने के लिए लोग AC का इस्तेमाल सबसे ज्यादा करते हैं. लेकिन लम्बे समय तक AC के चलने से बिजली की खपत काफी बढ़ जाती है. आइए में यहां हम आपको कुछ खास ऐसे टिप्स बता रहे हैं जो AC चलाते समय बिजली की बचत कर सकते हैं.


22- 24 डिग्री सेल्सियस पर सेट करें AC का तापमान


AC चलाते समय तापमान 22-24 डिग्री सेल्सियस पर सेट करने पर बिजली की बचत होती है. आपको बता दें की AC के लिए 24 डिग्री सेल्सियस को एक आदर्श तापमान माना गया है. आप AC को ऑटो मोड पर सेट करें जिससे AC में लगे थर्मोस्टेट की मदद से वह पहले कमरे के तापमान को चेक करता है और जब तापमान एक सही लेवल पर पहुंच जाता है जिसके बाद कंप्रेसर को बंद हो जाता है.


AC की सफाई है बेहद जरूरी


AC जितना साफ़ होगा उतनी ही बेहतर कूलिंग मिलेगी, लेकिन अगर AC का फिल्टर गन्दा हुआ तो हवा को फ़िल्टर के अंदर जाने वाले बाहर निकलने में काफी ताकत लगानी पड़ती है, ऐसे में कम्प्रेसर का काम बढ़ जाता है और बिजली की खपत भी बढ़ जाती है.


AC के साथ पंखा जरूर चलायें


AC चलाते समय पंखा जरूर चालू रखें, ऐसा करने से हवा पूरे कमरे में आसानी से पहंच जायेगी और AC पर भी कम बोझ पड़ता है. इतना ही नहीं कमरा ठंडा होने पर आप AC को बंद कर सकते हैं जिससे बिजली की भी बचत होगी.


एनर्जी सेवर बटन का इस्तेमाल


आजकल ज्यादातर AC में एनर्जी सेवर फीचर दिया होता है, AC चलाने के बाद जब कमरा ठंडा हो जाए तो सेवर बटन को दबा दें इससे AC बिजली की खपत को कम करेगा.

 

क्या आपका बच्चा भी पढ़ाई से जी चुराता है , तो अपनाएं ये पेरेंटिंग टिप्स

क्या आपका बच्चा भी पढ़ाई से जी चुराता है , तो अपनाएं ये पेरेंटिंग टिप्स

कई बच्चों का पढ़ाई में मन नहीं लगता है और वो कोई न कोई बहाना बनाकर पढ़ाई से बचने की सोचते रहते हैं। इसका सीधा असर उनकी पढ़ाई पर पड़ता है। ऐसे में माता-पिता की चिंता बढ़ जाती है। 

अगर आपको भी लगता है कि आपका बच्चा पढ़ाई से बचने के लिए बहाने बनाता है और उसका पढ़ाई में बिलकुल भी मन नहीं लगता है तो आज हम आपको पेरेंटिंग के कुछ ऐसे टिप्स देने जा रहे हैं तो इस काम में आपकी मदद कर सकते हैं। 

साथ बैठें 

अपने बच्चे को पढऩे के लिए मोटिवेट करने का सबसे अच्छा तरीका है कि पढ़ाई करते समय आप भी उसके साथ बैठें। इस समय फोन या लैपटॉप में लगने की बजाय आप उसकी मदद करें या अपने ऑफिस का काम निपटा लें। 

नंबर नहीं, कुछ सीखने की उम्मीद दें 

अक्सर माता-पिता बच्चे को अच्छे नंबर लाने पर जोर देते हैं जबकि ऐसा करने बिलकुल गलत है। आपको अच्छे नंबर लाने की बजाय अपने बच्चे को सीखने के लिए प्रेरित करना चाहिए। उससे पूछें कि उसने स्कूल में क्या किया और आज क्या सीखा।

स्टडी शेड्यूल बनाएं 

अगर आप चाहती हैं कि आपका बच्चा सही समय पर पढ़ाई करे और उसे खेलने-कूदने का भी समय मिले तो उसके लिए एक स्टडी शेड्यूल तैयार करें। इसमे सिर्फ होमवर्क ही न करवाएं बल्कि क्लास में सिखाई और पढ़ाई गई चीजों के बारे में भी बात करें। 

बच्चे के लर्निंग स्टाइल को समझें 

आपके लिए ये समझना बहुत जरूरी है कि आपके बच्चे की सीखने और याद करने की क्षमता कैसी है। वो बोल-बोल कर याद करता है या लिखने से उसे जल्दी याद होता है। इससे आपको पढ़ाने में आसानी होगा।

बच्चों की बात भी सुनें 

अपने बच्चे की बात और विचारों को सुनना एवं उसे महत्व देना बहुत जरूरी है। इससे उसमें आतमविश्वास आएगा। अपनी बात को सही ठहराने के गुर भी आप उसे सिखाएं। 

फेलियर पर न करें गुस्सा 

जिंदगी में हार-जीत को चलती रहती है और पढ़ाई में फेल होने का बोझ बच्चे पर डालना बहुुत गलत है। अगर आपके बच्चे के कम नंबर आते हैं उसे डांटे नहीं और न ही उसके दोस्तों या किसी और के आगे शर्मिंदा करें । बच्चे को दोबारा कोशिश करने और बेहतर परफॉर्म करने के लिए मोटिवेट करें। 

कोई लालच न दें 

बच्चों को पढऩे के लिए प्रेरित करने का सबसे सकारात्मक तरीका है कि आप उनकी तारीफ करें। हालांकि, आपको उन्हें कोई रिश्वत या लालच नहीं देना चाहिए। अगर आप उसे कोई लालच देकर पढऩे के लिए बैठा दें तो वो उस समय तो पढ़ लेगा लेकिन उसके मन में पढ़ाई को लेकर कोई रुचि पैदा नहीं हो पाएगी। 

इन आसान-सी बातों का ध्यान रखकर आप भी अपने बच्चे की पढ़ाई में मदद कर सकते हैं।

 
लॉकडाउन में करिए बच्चों के साथ पढ़ाई और ऐसे सुधारिए हैंडराइटिंग

लॉकडाउन में करिए बच्चों के साथ पढ़ाई और ऐसे सुधारिए हैंडराइटिंग

स्मार्टफोन और मोबाइल के बढ़ते चलन ने लोगों की लिखने की आदत को लगभग खत्म सा कर दिया है. जिसके कारण हैंडराइटिंग की अहमियत कम हो गई है. स्मार्ट दुनिया में पैरेंट्स ने भी बच्चों की हैंडराइटिंग पर ध्यान देना कम कर दिया है. अक्सर पैरेंट्स इस बात की शिकायत करते हैं कि उनके पास बच्चों की हैंडराइटिंग सुधारने का वक्त नहीं है. ऐसे लोगों के लिए लॉकडाउन अच्छा समय है. बच्चों के साथ पढ़ाई करने का और उनकी हैंडराइटिंग को ठीक करने का. आइए जानते हैं कैसे सुधारी जा सकती है बच्चों की हैंडराइटिंग.


क्यों ज़रूरी है अच्छी हैंडराइटिंग?
एग्जाम में अक्सर बच्चों को लगता है कि उन्हें नंबर लाने के लिए सिर्फ पढ़ाई की जरूरत है. परन्तु ऐसा नहीं है एग्जाम पेपर में गंदी लिखावट के कारण भी नंबर कम मिलते हैं. एग्जाम में अच्छे नंबर लाने के लिए लिखावट का सुंदर और स्पष्ट होना बेहद ज़रूरी है. अगर आप भी अपने बच्चे की खऱाब हैंडराइटिंग को उसकी सफलता की राह का पत्थर नहीं बनने देना चाहते हैं तो बच्चों की हैंडराइटिंग को सुधारने में आज ही लग जाइए.

पेंसिल ग्रिप करने का सही तरीका
बच्चे की हैंडराइटिंग सुधारने का सबसे पहला स्टेप है बच्चों को पेंसिल की ग्रिप सही से पकडऩे का तरीका बताना. गलत तरीके से पेंसिल पकडऩे के कारण भी हैंडराइटिंग खराब हो जाती है. छोटे बच्चे को पेंसिल अंगूठे और दूसरी उंगली के बीच में रखकर पेंसिल के ऊपरी भाग को पकड़़कर लिखना सिखाएं.

राइटिंग प्रोजेक्ट्स
बच्चों को पेंसिल और पेपर पर लिखने के लिए प्रोत्साहित करने हेतु उन्हें कुछ खास राइटिंग प्रोजेक्ट्स करने के लिए दें. राइटिंग प्रोजेक्ट्स से बच्चों का मन प्रोत्साहित होता है. आप बच्चों को राइटिंग प्रोजेक्ट्स में निम्न चीजें दे सकती हैं.

- मां-पापा या मामा या फिर किसी दोस्त को लैटर लिखने के लिए कहें.

- किसी रंगीन पेपर पर बच्चे को कविता लिखने के लिए कहें, इसके बाद इसे घर की किसी दीवार पर लगाएं.

- बच्चों को कई तरह के कार्ड बनाने के लिए कहें.

 

कोरोना वाइरस से बचाव के लिए अपनी कार को भी करें इस तरह सेनेटाइस

कोरोना वाइरस से बचाव के लिए अपनी कार को भी करें इस तरह सेनेटाइस

दुनिया इस समय Corona virus की महामारी से लड़ रहा है। शरीर को वायरस से दूर रखने के साथ ही आपको अपनी कार को भी सेनेटाइज करना होगा।


अगर आप सिर्फ साबुन और पानी से अपनी कार धो रहे हैं तो वह संक्रमण मुक्त नहीं होगी, इसके लिए आवश्यक है कि आप अपनी कार को भी SANITIZE करें। आपको अपनी कार भी रोगाणु मुक्त रखना होगा।

संक्रामक वायरस सीटों या दरवाजों की सरफेस पर 2-3 दिनों तक रह सकते हैं और उन्हें छूने से लोग इस वायरस की चपेट में आप सकते हैं।

जरूरी है कि जिस तरह आप कार की बाहरी सफाई करते हैं, उसी तरह इंटीरियर जर्म क्लीनिंग भी आवश्यक है।

अक्सर हम कार को चमकाने में लग जाते हैं, लेकिन भीतरी सफाई पर ध्यान नहीं देते हैं। एक्सपर्टस भी कार को वायरस से मुक्त रखने की सलाह लगातार दे रहे हैं।

इंटीरियर में घर पर अपनी कार को ऐसे करें Sanitize

1. कार की आगे और पीछे की सीटों और रूफ को साफ करें और सैनेटाइज करें।

2. वैक्यूम क्लीनिंग की सहायता से सीटों और रूफ की अच्छीै तरह से सफाई की जा सकती है।

3. कार डोर्स और डोरनॉब्स की अच्छी तरह से सफाई करें।

4. एसी की बाहरी सतह की भी अच्छी तरह से सफाई करें। लॉकडाउन के बाद आप सर्विस सेंटर लेकर एसी के आतंरिक भाग को भी सैनेटाइज करवा सकते हैं।

5. डेश बोर्ड और स्टेयरिंग को भी साफ और सैनेटाइज करना जरूरी है।

6. कार के कांच को आप बाहर से तो साबुन और पानी से धोते हैं लेकिन अंदर की तरफ भी सफाई जरूरी और इन्हें सैनेटाइज भी करें।


 

कोरोना से बचने का बड़ा हथियार Aarogya Setu Mobile App, जानिए कैसे करता है काम

कोरोना से बचने का बड़ा हथियार Aarogya Setu Mobile App, जानिए कैसे करता है काम

कोरोना वायरस की लड़ाई में भारत सरकार ने आरोग्य सेतु (Aarogya Setu) ऐप लांच किया है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी लोगों से इस ऐप को लांच करने की अपील कर चुके हैं। भारत सरकार ने इस ऐप को 2 अप्रैल को लॉन्च किया था।


3 दिन के अंदर ही इसे 50 लाख लोगों ने अपने स्मार्ट फोन में इंस्टाल कर लिया। लॉकडाउन 2 की घोषणा करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सप्तपदी में लोगों से आरोग्य सेतु ऐप इंस्टाल करने की अपील की थी। पिछले 24 घंटे में ही इसे 1 करोड़ नए लोगों ने इसे लाउनलोड किया है। लॉन्चिंग के 13 दिन के भीतर ही इस ऐप के यूजर्स की संख्या 5 करोड़ पार कर गई है।


आइए जानते हैं कैसे काम करता है Aarogya Setu

कोरोना जोखिम के दायरे से बचाएगा ऐप : आरोग्य सेतु ऐप आम लोगों को COVID-19 संक्रमण के बारे में सही और सटीक जानकारी देता है। यह ऐप यूजर को बताता है कि वह कोरोना वायरस से संक्रमित किसी व्यक्ति के संपर्क में तो नहीं आया है। यह ऐप अंग्रेजी और हिंदी समेत कई भाषाओं को सपॉर्ट करता है। इसे ऐंड्रॉयड और iOS दोनों डिवाइस में डाउनलोड किया जा सकता है।


- सबसे पहले गूगल प्ले या ऐप से स्टोर से Aarogya Setu ऐप को इंस्टाल करें।


- आरोग्य सेतु एप को ब्लूरटूथ और जीपीएस डेटा की आवश्यकता पड़ेगी। अपने मोबाइल ऐप को काम करने के लिए इसकी अनुमति दें।

- आरोग्य सेतु कॉन्टैिक्टम ट्रेसिंग के लिए आपके मोबाइल नंबर, ब्लूटूथ और लोकेशन डेटा का उपयोग करता है।

- डाउनलोड करने के बाद ऐप ओपन करें और अपनी भाषा का चुनाव करें।

- अब Register Now ऑप्शन पर क्लिक करें।

अब आपसे कुछ परमिशन मांगी जाएंगी। सभी नियम व शर्तें पढ़ने के बाद I Agree पर क्लिक करें।

- अब आपसे डिवाइस का लोकेशन और ब्लूटूथ ऐक्सेस मांगा जाएगा। इसे Allow करें।

अब अपना मोबाइल नंबर डालें।

- मोबाइल नंबर पर आने वाले OTP को भरकर वेरिफाई करें।

- आप चाहें तो अपनी निजी जानकारी जैसे- नाम, उम्र, प्रोफेशन, ट्रैवल डीटेल आदि बता सकते हैं।

- अगर आप चाहें तो जरूरत और संकट के इस वक्त में खुद को वॉलिंटियर के तौर पर रजिस्टर कर सकते हैं। इसे आप Skip भी कर सकते हैं।

- यह ऐप आपको बताएगा कि आप किसी कोरोना संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में तो नहीं आए। इस ऐप पर कोरोना वायरस से बचाव के तरीके भी बताए गए हैं।


कर सकते हैं सेल्फ एसेसमेंट टेस्ट :

आरोग्य सेतु एप पर आप 'सेल्फर एसेसमेंट टेस्टट' फीचर का प्रयोग कर सकते हैं। इस फीचर का इस्ते माल करने के लिए ऑप्शपन पर क्लिक करें और फिर एप चैट विंडो खोल देगा। इसमें यूजर की सेहत और लक्षण से जुड़े कुछ सवाल किए जाएंगे, जिनके उत्तर आपको देना होंगे।

जोखिम भरे स्थानों से सचेत : इसमें लोकेशन देने के बाद ये आपको कोरोना के जोखिम भरे स्थानों के प्रति भी सचेत करेगा।

 

रंगों से पता चलेगा जोखिम का स्तर :

एप हरे और पीले रंग के कोडों में आपके जोखिम के स्तोर को दिखाता है। यह भी सुझाव देता है कि आपको क्या करना चाहिए।

अगर आपको ग्रीन में दिखाया जाता है और बताया जाता है कि 'आप सुरक्षित हैं' तो कोई खतरा नहीं है। कोरोना से बचने के लिए आपको सोशल डिस्टेंसिंग को बनाए रखना चाहिए और घर पर रहना चाहिए


अगर आपको पीले रंग में दिखाया जाता है और text बताता है कि 'आपको बहुत जोखिम है', लेकिन आपको घबराने की आवश्यकता नहीं है। आप हेल्प लाइन में संपर्क कर सकते हैं।

 

WhatsApp से जुड़ी बड़ी खबर, Status पर डलेगा सिर्फ 15 सेकंड का वीडियो

WhatsApp से जुड़ी बड़ी खबर, Status पर डलेगा सिर्फ 15 सेकंड का वीडियो

देश में लॉकडाउन के चलते सभी लोग अपने घरों में हैं और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का जमकर इस्तेमाल कर रहे हैं।
बड़ी संख्या में लोग वर्क फ्रॉम होम भी कर रहे हैं। इस वजह से डाटा नेटवर्क पर बहुत दबाव पड़ रहा
है। ऐसे में फेसबुक के मालिकाना हक वाली मैसेजिंग एप व्हाट्सएप ने एक बड़ा फैसला किया है।
इस एप पर अब सिर्फ 15 सेकंड का स्टे्टस वीडियो लगाने की अनुमति होगी। जबकि पहले 30 सेकंड तक का स्टेट्स वीडियो डाला जा सकता था।

बताया जा रहा है कि भारत में लॉकडाउन में सर्वर इंफ्रास्ट्रक्चर पर ट्रैफिक को घटाने के लिए यह कदम उठाया गया है। हालांकि, इस बदलाव को लेकर व्हाट्सएप की ओर से अभी तक कोई आधिकारिक बयान नहीं दिया गया है।

इस संबंध में डब्ल्यूबीटाइंफो की ओर से रविवार को एक ट्वीट किया गया। इसमें कहा गया कि आप अब 16 सेकंड के वीडियो को व्हाट्सएप स्टेट्स नहीं बना सकते। सिर्फ 15 सेकंड तक के वीडियो को इसकी इजाजत है। सर्वर इंस्फ्रास्ट्रक्चर के ऊपर से दबाव को घटाने की दिशा में इसे बड़ा कदम माना जा रहा है।
 

व्हाट्सएप्प लेकर आया अपने यूजर्स के लिए एक नया फीचर, आपके लिए है बड़ा फायदेमंद

व्हाट्सएप्प लेकर आया अपने यूजर्स के लिए एक नया फीचर, आपके लिए है बड़ा फायदेमंद

लोगो द्वारा अधिक उपयोग किये जाने वाला व्हाट्सप्प एक नया फीचर अपने ग्राहकों के लिए लेकर आया है|  व्हाट्सएप ने अपने सभी यूजर्स के लिए डार्क मोड फीचर जारी कर दिया है। इस फीचर का यूजर्स को कई दिनों से इंतजार था। व्हाट्सप्प डार्क मोड फीचर आईफोन और एंड्रॉयड दोनों ही यूजर्स के लिए उपलब्ध है। इस लोगो का कलर ब्लैक है।

पढ़े पूरी खबर-
कंपनी ने इसे 3 मार्च को जारी किया है। इस फीचर का लोगों को काफी वक्त से इंतजार था। से ही लोग इसका इंतजार कर रहे थे। कंपनी इस फीचर के जरिए उपभोक्ताओं को ज्यादा बेहतर और रिफ्रेश एहसास प्रदान करना चाहती है।

व्हाट्सएप्प का ये फीचर कम रोशनी में बेहतर विजिबिलिटी प्रदान करता है, जिससे यूजर्स की आंखों पर ज्यादा जोर नहीं पड़ता है। इसे बेहतर तरीके से व्हाट्सएप्प  की यूआई के साथ डिजाइन किया है। इसमें उस रंग का चुनाव किया है, जिसकी मदद से यूजर्स की आंख पर कम से कम प्रभाव पड़े और कम थकावट का एहसास हो।

व्हाट्सएप्प डार्क मोड में न सिर्फ चैट हेड बल्कि चैट बैक ग्राउंड भी डार्क हो जाएगा। हालांकि इसमें कई रंगों का इस्तेमाल किया है, जो आपके कॉन्टैक्ट के अनुसार नजर आएंगे यानी अलग-अलग नाम से लोगों का कॉन्टैक्ट एक ग्रुप में अलग-अलग रंग में नजर आएगा। कंपनी ने इसमें ब्लैक और डार्क ग्रीन कलर का इस्तेमाल किया है।
बाउंसी हेयर की चाहत पूरी करता है प्याज का रस, जानें इसे लगाने का सही तरीका

बाउंसी हेयर की चाहत पूरी करता है प्याज का रस, जानें इसे लगाने का सही तरीका

अगर आप अपने गिरते बालों की समस्या से परेशान हैं या बालों में बढ़ते रुखेपन की वजह से वे दिन- प्रतिदिन पतले होते जा रहे हैं तो आपका परेशान होना स्वाभाविक है। लेकिन इस समस्या को परेशान होकर दूर नहीं किया जा सकता। बल्कि परेशान होने से तो यह समस्या और अधिक बढ़ सकती है। इसका समाधान आपकी रसोई में रखी प्याज में छिपा है। यहां जानें, कैसे प्याज आपके बालों को मोटा, मुलायम और घना बनाने का काम करती है... 

बालों की जड़ों पर काम करे 

-ब्यूटी एक्सपर्ट्स का मानना है कि प्याज में मौजूद पोषक तत्व हमारे बालों की जड़ों को मजबूती देने का काम करते हैं। जो बालों का वॉल्यूम बढ़ाने यानी उन्हें घना बनाने का काम करता है।

-प्याज का रस बालों पर नियमित रूप से इस्तेमाल करने पर बालों को एक्सट्रा पोषण मिलता है। जिससे बाल शाइनी और सॉफ्ट बनते हैं। 

- एक्सपर्ट्स के अनुसार, प्याज में मौजूद डायट्री सल्फर सिर में उन जगहों पर बाल फिर से उगाने का काम करता है, जहां से बाल झड़ चुके हैं। साथ ही उगे हुए बालों को मजबूती देता है, जिससे रोजमर्रा में बालों की खूबसूरती को होनेवाले नुकसान में कमी आती है। 

- हमारी सेहत के लिए सल्फर एक बेहद जरूरी मिनरल है। यह एंजाइम्स और प्रोटीन के उत्पादन में मदद करता है। केराटिन में भी सल्फर पाया जाता है, जो बालों का मुख्य अव्यव या कॉम्पोनेंट है। 

- प्याज के रस में मौजूद सल्फर ना केवल हमारे बालों को पोषण देकर उनकी ग्रोथ में मदद करता है बल्कि बाल बढऩे की प्रक्रिया को भी यह तेज करता है।

ऐंटी-माइक्रोबियल खूबियां 

प्याज का रस बालों को फंगल इंफेक्शन से बचाने और बालों की जड़ों में रुसी या डैंड्रफ की समस्या होने से भी रोकता है। क्योंकि प्याज के रस में ऐंटिबैक्टीरियल प्रॉपर्टीज होती हैं। 

- प्याज का रस बालों की जड़ों में किसी भी तरह के इंफेक्शन को नहीं पनपने देता, इस कारण बाल तेजी से ग्रोथ कर पाते हैं और हेल्दी रहते हैं। 

-प्याज के रस में फ्लेवोनॉइड्स जैसे ऐंटिऑक्सीडेंट्स भी होते हैं। ये हमारे पूरे शरीर को रेडिकल फ्री रखने में मदद करते हैं। इस कारण हेयर डैमेज के चांसेज कम होते हैं और बालों का टैक्सचर स्मूद बनता है। 

ऐसे बनाएं प्याज का रस 

बालों में लगाने के लिए प्याज का रस बनाना है तो सबसे पहले प्याज छील लें और फिर इसे धुल लें। साफ प्याज को छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें। 

- कटे हुए प्याज को पीसकर या जूसर की सहायता से इसका रस बना लें। अब इस रस को कॉटन के कपड़े या बारीक छन्नी की मदद से छान लें। ताकि प्याज के मोटे कण रस से अलग हो जाएं। 

- अब प्याज के इस रस को बालों में लगा लें। अगर आप प्याज की स्मेल से बचने के बारे में सोच रहे हैं तो इस जूस में किसी भी असेंशियल ऑइल की दो-तीन बूंद मिला लें। जैसे, पिपरमिंट, लैवंडर या रोज मैरी असेंशियल ऑइल। ये सभी ऑइल हमारी स्किन के लिए बहुत अच्छे होते हैं। 

- कई लोगों को प्याज का रस लगाने के बाद बालों की जड़ों में इचिंग या इरिटेशन की समस्या हो सकती है। हालांकि यह कुछ देर बाद शांत हो जाती है। लेकिन अगर ऐसा नहीं होता है तो आप तुरंत बाल धो लें और इस जूस को ना लगाएं। क्योंकि हर चीज हर स्किन टाइप को सूट नहीं करती है। 

प्याज के रस का बालों की ग्रोथ में प्रभाव और इसके पोषक तत्वों के बारे में जर्नल ऑफ डर्मेटॉलजी में पब्लिश एक रिसर्च के मुताबिक, बालों में प्याज का रस लगाने पर कुछ लोगों में बहुत बेहतर परिणाम देखने को मिलते हैं। क्योंकि इसके नियमित उपयोग से उनके बाल हेल्दी, डैमेज फ्री और स्मूद हो जाते हैं। साथ ही बाल घने भी बनते हैं।

नेल रिमूवर खत्म हो जाएं तो आजमाएं ये खास टिप्स

नेल रिमूवर खत्म हो जाएं तो आजमाएं ये खास टिप्स

नेल रिमूवर एक छोटी सी लेकिन हर लड़की के मेकअप बॉक्स में एक बहुत ही जरूरी चीज होती है। इसकी अहमियत तब पता चलती है जब आपको किसी पार्टी के लिए तैयार होना हो, पुराना आधा-अधूरा नैल पेंट हटाकर नया लगाना हो और आपको मालूम पड़े की आपका नेल पॉलिश 

रिमूवर तो खत्म हो चुका हैं।

ऐसी स्थिती के लिए यदि आपको ऐसे कुछ घरेलू तरीके पता हो जिससे आप अर्जन्सी में अपनी नेल पॉलिश हटा सकें, तो ये आपके बहुत काम आएंगे। आइए जानें ऐसे ही कुछ आसान से तरीके:

1. अल्कोहल

अगर आपके घर में अल्कोहल है तो आप इसकी मदद से नेल पॉलिश छुड़ा सकती हैं। कॉटन बॉल को लेकर अल्कोहल में डुबा लें और उसे धीरे-धीरे नाखून पर रगड़ें। ऐसा करने से नेल पॉलिश उतर जाएगी।

2. सिरका

सिरके की मदद से भी आप नेल पॉलिश उतार सकती हैं। इसे भी कॉटन बॉल की मदद से नाखूनों पर लगाएं। अगर आपको और बेहतर रिजल्ट चाहिए तो सिरके को एक कटोरी में लेकर उसमें कुछ बूंद नींबू के रस की मिला लें। इस घोल से नेल पॉलिश साफ करें।

3. गर्म पानी

नेल पॉलिश छुड़ाने का ये सबसे आसान तरीका है। एक कटोरी में गर्म पानी ले लें और अपने नाखूनों को 10 मिनट तक उसमें डुबो कर रखें। उसके बाद कॉटन से मल लें। पुराना नेल पॉलिश उतर जाएगा।

4. टूथपेस्ट

यह सुनने में भले ही बहुत मजेदार लग रहा हो लेकिन टूथपेस्ट एक बहुत कारगर उपाय है। थोड़ा सा टूथपेस्ट लेकर नाखूनों पर लगा लें। अब इसे कॉटन की मदद से धीरे-धीर रगड़ें। कुछ ही देर में नाखून साफ हो जाएंगे।

5. नेल पॉलिश

क्या आपको पता है हर नेल पॉलिश में रिमूवल का गुण होता है। अगर आपके पास नेल पॉलिश रिमूवर नहीं है तो आप किसी दूसरे नेल पॉलिश को पुराने नेल पॉलिश पर लगाकर तुरंत पोछ लें। ऐसा करने से पुराना पॉलिश उतर जाएगा।

 
वैलंटाइन्स डे पर अपने खास को दें ये खास गिफ्ट्स, आएगी  रिश्तों में मिठास

वैलंटाइन्स डे पर अपने खास को दें ये खास गिफ्ट्स, आएगी रिश्तों में मिठास

प्यार को सेलिब्रेट करने का मौका देने वाला वैलंटाइन्स डे बस कुछ ही दिन दूर है, ऐसे में अपने लव्ड वन के लिए क्या गिफ्ट लिया जाए इसे लेकर जाहिर सी बात है कि टेंशन हो ही रही होगी। अगर आपने गिफ्ट ले लिया है तो बहुत अच्छा लेकिन अगर आपको यह समझ नहीं आ रहा कि बॉयफ्रेंड/गर्लफ्रेंड या फिर पति/पत्नी को तोहफे में क्या दिया जाए तो नीचे दिए गिफ्ट ऑप्शन्स में से आप सिलेक्शन कर सकते हैं।

परफ्यूम ऐंड वॉच कॉम्बो

परफ्यूम और वॉच दोनों ही ऐसी चीजें हैं जिन्हें लड़कियां बेहद पसंद करती हैं। इन दोनों का कॉम्बो अमेजॉन पर लिया जा सकता है। इसमें ऑफ वाइट कलर की वॉच के साथ परफ्यूम आएगा। पैकिंग एक बॉक्स में होगी जिसमें अंदर पिंक कलर का सैटन क्लोद होगा। सबसे खास बात यह है कि यह गिफ्ट आपको बेहद ही सस्ते दाम में मिल जाएगा।

गिफ्ट करिए रोज लैंप

अपनी प्यार भरी जिंदगी में अगर आपको रोशनी बनाए रखनी है तो आप वैलंटाइन्स यानी 14 फरवरी 2020 वैलंटाइन्स डे के दिन अपनी गर्लफ्रेंड या बॉयफ्रेंड को यह गिफ्ट कर सकते हैं। इसमें आपको एक बंद कांच के जार में एक आर्टिफिशल गुलाब के साथ एलईडी लाइट मिलेगी। रेड रोज जहां आपके प्यार को बयां करेगा वहीं लाइट आपके लव लाइफ को और ब्राइट बनाएगी।

यह कुशन कवर हमेशा दिलाता रहेगा आपके प्यार की याद

यह रेड कुशन कवर आपके प्रेमी या प्रेमिका को हमेशा आपके प्यार की याद दिलाएगा। इस पर जो कोट लिखा है उसका मतलब है 'मैं तुमसे हमेशा प्यार करूंगा'। अब आप ही बताइए भला इस कंफेशन को कौन लव्ड वन पसंद न करेगा।

बॉयफ्रेंड/पति के लिए अच्छा रहेगा यह गिफ्ट

यह खास गिफ्ट आपके बॉयफ्रेंड के लिए खासतौर पर बनाया गया है। सबसे खास बात यह कि इसमें आपको एक बेल्ट और एक पर्स मिलेगा जिसे आपका बॉयफ्रेंड/पति हमेशा पास रखेगा। इससे वह आपकी याद महसूस करते रहेंगे और प्यार की अहमियत को भी समझेंगे।

गर्लफ्रेंड को गिफ्ट करिए यह वाला टेडी बेयर

लड़कियों को टेडी बेयर तो हमेशा से पसंद रहा है, इसलिए अगर आप अपनी गर्लफ्रेंड को कोई अच्छा सा टेडी बियर गिफ्ट करना चाहते हैं तो इस टेडी बेयर को गिफ्ट कर सकते हैं। इस टेडी बेयर की लंबाई 5 फीट है और इसका रंग लाल है, जो प्यार का प्रतीक भी माना जाता है।

 
न्यूट्रिऐंट्स से भरपूर होती है डार्क चॉकलेट, इसे खाने के होते हैं ये 5 फायदे

न्यूट्रिऐंट्स से भरपूर होती है डार्क चॉकलेट, इसे खाने के होते हैं ये 5 फायदे

मारे लिए चॉकलेट सैकेंड स्वीट बन गई है। इसकी बड़ी वजह है इसकी प्रिजर्व क्वालिटी। पहले जहां ज्यादातर लोग रिश्तेदारों के घर जाते हुए मिठाई और फ्रूट्स खरीदते थे, अब वो जगह चॉकलेट ने ले ली है। केक और आइसक्रीम से लेकर शेक्स और ब्यूटी प्रॉडक्ट्स तक सभी पर चॉकलेट फ्लेवर का कब्जा है। ऐसे में मन में यह सवाल आना तो तय है कि आखिर चॉकलेट में ऐसी कौन-सी खूबियां हैं कि हम लोग इस कदर इसके दीवाने हैं...

चॉकलेट से बॉडी को क्या मिलता है?

चॉकलेट और खासतौर पर डार्क चॉकलेट फाइबर, आयरन, मैग्निशियम, कॉपर, जिंक, फॉस्फोरस, पोटैशियम जैसे बॉडी के लिए जरूरी न्यूट्रिऐंट्स से भरपूर होती है। खास बात यह है कि डार्क चॉकलेट में इन न्यूट्रिऐंट्स की मात्रा बहुत ही संतुलित होती है। जिनकी हमें हर दिन जरूरत होती है। 

कोकोआ की खास डोज

डार्क चॉकलेट में करीब 85 प्रतिशत तक कोकोआ होता है। अगर हम इसकी 100 ग्राम की एक चॉकलेट बार की बात करें तो इससे हमारी बॉडी को दिनभर के लिए सभी जरूरी न्यूट्रिऐंट्स मिल जाते हैं। लेकिन इन सबसे साथ ही हमारी बॉडी को 600 कैलरीज भी मिलती हैं। इसलिए पोषण के साथ एनर्जी लेवल बना रहता है।

जरूरी फैटी एसिड से भरपूर

आपको पता होगा कि बॉडी में फैट दो तरह का होता है, एक गुड फैट और एक हार्मफुल फैट। गुड फैट हमारे शरीर को ऐसे फूड्स से मिलता है जो फैटी एसिड से भरपूर होते हैं, इनमें डार्क चॉकलेट भी शामिल है। गुड फैड ब्लड में घुलनशील होता है और कॉलेस्ट्रोल को बैलंस रखने के साथ ही हार्ट को हेल्दी भी रखता है।

ऐंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर

हेल्थ एक्सपर्ट्स का कहना है कि कोकोआ सीड्स उन फूड्स में सबसे अधिक रिच हैं, जो हमारे शरीर को ऐंटीऑक्सीडेंट्स देते हैं। डार्क चॉकलेट, जिसमें कि कोकोआ की मात्रा बहुत अधिक होती है, हमारी बॉडी को ऐंटीऑक्सीडेंट्स जैसे पॉलिफेनॉल्स और फ्लैवनॉल्स देती है। हालांकि ये ऐंटीऑक्सीडेंट्स हमें बेरीज से भी मिलते हैं लेकिन डॉर्क चॉकलेट की तुलना में बेरीज में इनकी मात्रा काफी कम होती है।

ब्लड फ्लो बढ़ाए

डार्क चॉकलेट की एक खूबी यह भी है कि ये ब्लड फ्लो को मैनेज करने में मदद करती है। अब आपके मन में यह सवाल जरूर आएगा कि आखिर डॉर्क चॉकलेट ऐसा कैसे करती है? दरअसल, डार्क चॉकलेट में कोकोआ होता है, जिससे बॉडी को फैटी एसिड्स मिलते हैं। ये फैटी एसिड्स ब्लड में घुल जाते हैं और हमारी आर्ट्ररीज को क्लियर करने का काम करते हैं और ब्लड फ्लो को मैनेज करने में मदद करते हैं।

आईलाइनर लगाते समय महिलाएं करती हैं ये 4 गलतियां, आज ही सुधार लें

आईलाइनर लगाते समय महिलाएं करती हैं ये 4 गलतियां, आज ही सुधार लें

जकल की ट्रेंडी लाइफस्टाइल में आईलाइनर लगाना काफी कॉमन हो गया है. हालांकि इसको लगाने के तरीके बदल गए है. अब ऑकेजन को ध्यान में रखते हुए आईलाइनर के स्टाइल को तय किया जाता है. ऐसे में आईलाइनर लगाना आपका रोज का ब्यूटी स्टेटमेंट बन सकता है. कुछ महिलाएं रोज, तो कुछ केवल खास मौकों पर ही आईलाइनर लगाना पसंद करती हैं.

वहीं बहुत सी महिलाओं को आईलाइनर लगाना बहुत बड़ा टास्क लगता है, ऐसे में इसे लगाना मुश्किल होने के साथ-साथ आपके लुक को बना या बिगाड़ भी सकता है. इसलिए इसे लगाने के लिए सही तकनीक को अपनाना बहुत जरूरी है. आपकी छोटी सी गलती सबकुछ बर्बाद कर सकती है. आइए आपको बताते हैं आईलाइनर लगाते समय कौन सी सामान्य गलतियां करती हैं आप.

लाइनर लगाते समय पलकों को झपकाना

यह सबसे आम लेकिन सबसे बड़ी गलती हो सकती है क्योंकि अगर आपको आईलाइनर लगाते समय अपनी पलकों को टटोलने या झपकाने की आदत है, तो यह आपके मेकअप को बिगाड़ सकती है. ऐसा करने से आपको आईलाइनर में सफाई नहीं मिलेगी. यदि आप लिक्विड आईलाइनर का इस्तेमाल करती हैं तो आंखे झपकाने पर यह आपकी आंखों के अंदर भी जा सकता है जिससे आपकी आंखों को नुकसान पहुंच सकता है.

आंख के निचले हिस्से पर लिक्विड आईलाइनर का इस्तेमाल करना

बहुत से महिलाएं आईलाइनर को आंख के ऊपरी हिस्से की बजाय नीचे की ओर लगाना पसंद करती हैं. वहीं कुछ महिलाएं आंखों के ऊपरी और निचली, दोनों ओर आईलाइनर लगाती हैं. महिलाओं को लगता है कि ऐसा करने से उनकी आंखें बड़ी दिखेंगी लेकिन यह बिल्कुल गलत है. निचली लैश लाइन पर लिक्विड आईलाइनर लगाने से न केवल आपकी आंखें छोटी दिखेंगी बल्कि ओवर भी दिखेंगी. अगर आप अपनी निचली लैश लाइन पर कुछ लगाना चाहती हैं तो काजल का इस्तेमाल करें.

आईलाइनर लगाने के बाद कर्लर का इस्तेमाल करना

आईलाइनर एकमात्र ऐसा ब्यूटी प्रोडक्ट है, जो आपकी लैशेस के सबसे करीब लगता है. यदि आप आईलाइनर लगाने के बाद कर्लर का उपयोग करते हैं, तो इससे यह फीका हो जाएगा या लाइनर को हटा देगा. सिर्फ इतना ही नहीं यह असमान व पैची भी दिखने लगेगा और आपके लुक को खराब कर देगा. इसलिए आईलाइनर लगाने से पहले अपनी पलकों को कर्ल कर लें या फिर आई लैशेज लगा लें और फिर इसका उपयोग करें.

पुराने या सूखे आईलाइनर का उपयोग करना

अगर आप नियमित रूप से आईलाइनर नहीं लगाती हैं तो आप हमेशा अपने आईलाइनर के उपयोग से पहले उसकी जांच जरूर कर लें कि वह ज्यादा पुराना न हो गया हो. पुराना आईलाइनर लगाने से आपकी आंखों को नुकसान पहुंच सकता है. पुराना आईलाइनर आंखों के इंफेक्शन का कारण बन सकता है.

 
'रोज डे' से वैलेंटाइन वीक की हो गयी शुरुआत, गुलाब के अलग-अलग रंगों का क्या है खास महत्व जाने

'रोज डे' से वैलेंटाइन वीक की हो गयी शुरुआत, गुलाब के अलग-अलग रंगों का क्या है खास महत्व जाने

प्यार के हफ्ते की शुरुआत आज से हो चुकी है। युवाओं को इस हफ्ते का खासतौर पर इंतजार रहता है। वैलेंटाइन डे वीक की शुरुआत के साथ ही युवा इस मस्ती भरे हफ्ते में खो जाते हैं। इस हफ्ते की शुरुआत रोज डे के साथ होती है। इस दिन एक-दूसरे को युवा गुलाब देते हैं। लेकिन क्या आपने कभी ये सोचा है कि आखिर इस हफ्ते की शुरुआत रोज डे से ही क्यों होती है। शायद नहीं, तो चलिए आपको इसकी वजह बताते हैं। दरअसल, इसके पीछे जो बड़ी वजह मानी जाती है वो ये कि प्राचीन काल में विक्टोरियाई लोग अपनी भावनाएं जताने के लिए एक-दूसरे को गुलाब का फूल देते थे। वैसे तो गुलाब कई रंगों का होता है, लेकिन लाल रंग के गुलाब का इस्तेमाल सबसे ज्यादा प्यार का इजहार करने के लिए किया जाता था। ऐसे में प्यार की शुरुआत गुलाब का देकर ही की जाती है। वहीं लाल गुलाब को देना सबसे ज्यादा सही माना जाता है।
रेड रोज यानि लाल गुलाब को प्यार का प्रतीक माना जाता है। उदाहरण के लिए अगर किसी से प्यार का इजहार करना है, तो आप रेड रोज देकर इस बात को बोल सकते हैं।
पिंक रोज ये किसी का आभार, कृपा या फिर उसके महत्व को मानने के रूप में पिंक रोज दिया जाता है। इस फूल के जरिए एक तरह का खुशी का इजहार किया जा सकता है।
वहीं येलो रोज को दोस्ती का प्रतीक माना जाता है। पीले रंग के रोज का इस्तेमाल दोस्ती कायम रखने या दोस्ती जताने के लिए भी किया जाता है।

 

सुबह-सुबह म्यूजिकल अलार्म बजेगा तो दिनभर मूड अच्छा रहेगा

सुबह-सुबह म्यूजिकल अलार्म बजेगा तो दिनभर मूड अच्छा रहेगा

रातभर की नींद पूरी करने के बाद भी अगर सुबह आपकी नींद नहीं खुलती, सुस्ती और आलस आता रहता है और फ्रेशनेस महसूस नहीं होता तो मधुर म्यूजिकल अलार्म आपकी मदद कर सकता है। जी हां, अगर नींद से जागने के लिए आप ऐसा अलार्म लगाएं जिसमें से म्यूजिकल आवाज आती है तो इससे न सिर्फ आपकी सुस्ती और आलस दूर होगा बल्कि दिनभर आपका मूड भी अच्छा रहेगा।
अलार्म तय करता है सुस्ती दूर होगी या नहीं
एक रिसर्च में कहा गया है कि सुबह जिस तरह का अलार्म सुनकर लोग जागते हैं, वही तय करता है कि उनकी सुस्ती दूर होगी या नहीं। शोधकर्ताओं ने पाया है कि एक अच्छा म्यूजिकल अलार्म आपको पूरे दिन तरोताजा रखता है। इसके उलट तेज आवाज वाला अलार्म सुनने से सुबह के वक्त सुस्ती बढ़ सकती है। यह रिसर्च उन लोगों के लिए काम की है जो सुबह उठते ही काम पर लग जाते हैं।
सजगता का स्तर बेहतर होता है
'पीएलओएस वन नाम के जर्नल में इस रिसर्च को प्रकाशित किया गया है जिसे ऑस्ट्रेलिया की आरएमआईटी यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने किया है। रिसर्च में बताया गया है कि म्यूजिकल अलार्म सुनकर अगर किसी व्यक्ति की नींद खुलती है तो इससे उस व्यक्ति में सजगता का स्तर बेहतर हो सकता है यानी वो ज्यादा अलर्ट रह सकता है।
मधुर आवाज सुनकर हम अच्छे से जाग पाते हैं
ऑस्ट्रेलिया की आरएमआईटी यूनिवर्सिटी में असोसिएट प्रफेसर एडरियान डायर ने कहा, 'नींद से जागने पर 'बिप बिप की तेज और कर्कश आवाज से दिमाग की गतिविधियां भ्रमित हो जाती हैं जबकि मधुर आवाज जैसे बीच बॉयज का गाना गुड वाइब्रेशन्स से हम अच्छे से जाग पाते हैं। रिसर्च में ये भी बताया गया है कि म्यूजिकल अलार्म सुनकर उठना उन लोगों के लिए खास मायने रखता है जो जागते ही खतरनाक हालात में काम करने के लिए पहुंच जाते हैं। जैसे- दमकल विभाग के कर्मचारी, पायलट के रूप में विमान उड़ाने का कार्य, अस्पताल या कोई अन्य आपात कार्य जिसमें लोगों को बेहद चौकन्ना रहना पड़ता है।
 

सर्दी के दिनों में सुबह जल्दी उठना जरूरी हो, तो अपनाएं यह 5 उपाय सुबह उठाने में मिलेगी मदद

सर्दी के दिनों में सुबह जल्दी उठना जरूरी हो, तो अपनाएं यह 5 उपाय सुबह उठाने में मिलेगी मदद

र्दी का मौसम और सुबह-सुबह की नींद...भई वाह, जैसे सोने पर सुहागा, वहीं सर्दी का मौसम और सुबह जल्दी उठना...ऊफ्फ, आफत की सुबह। लेकिन तब क्या किया जाए, जब सर्दी के इन दिनों में सुबह जल्दी उठना जरूरी हो? न नींद खुलती है न रजाई से निकलने का मन होता है। लेकिन टेंशन मत लीजिए, यह 5 उपाय करेंगे आपकी मदद इस कठिन काम में

1 अलार्म - हां-हां, जानते हैं कि अलार्म बजते ही बंद कर दिया जाता है और आप दोबारा नींद के आगोश में चले जाते हैं। लेकिन इस बार आपको अपने दिमाग को यह समझाइश देनी होगी, कि अलार्म बजने का मतलब बिस्तर से उठना ही है। इसमें कोई कोताही बरती गई, तो बड़ा नुकसान हो सकता है।
2 मोबाइल - आपको जानकर आश्चर्य होगा लेकिन सुबह जल्दी नींद खुलने के बाद भी जब आप उठ न पाएं, तो अपना मोबाइल चेक करें। जी हां, मोबाइल ऑपरेट करते समय आप होश में होते हैं और आपका दिमाग सक्रिय रूप से उसमें संलग्न होता है। वॉट्सएप और फेसबुक चेक करें, या फिर कोई जरूरी काम जो अधूरा हो। देखिए कैसे नींद छू मंतर होती है।
3 बिस्तर छोड़ें - सुबह नींद खुलते या अलार्म बजते ही तेजी से बिस्तर छोड़ दें और मुस्कुराएं। इस तरह से आपके दिन की शुरुआत सकारात्मक होगी और दोबारा सोने के बजाए आपका दिनचर्या बढ़ाने का मन होगा।
4 पानी पिएं - अपने बिस्तर के पास पानी भरकर रखें और नींद खूलते ही बिस्तर से उठकर सबसे पहले गिलास भरकर पानी पिएं। इससे आपका रासा आलस और नींद तुरंत गायब हो जाएगा और अब आप दिन की शुरुआत कर सकते हैं।
5 अलार्म रखें दूर - अलार्म लगाने के बाद घड़ी को अपने पास कभी न रखें, वरना आप उसे बजते ही बंद कर देंगे। अलार्म अगर दूर होगा, तो आपको उसे बंद करने के लिए भी बिस्तर से उठना ही होगा, और यह आपकी नींद उड़ाने के लिए काफी है।
 
घर पर बाल स्ट्रेट करना चाहते है तो अपनाये ये इजी टिप्स, नहीं पड़ेगा पार्लर जाना

घर पर बाल स्ट्रेट करना चाहते है तो अपनाये ये इजी टिप्स, नहीं पड़ेगा पार्लर जाना

स्ट्रेट बाल हर तरह के आउटफिट को सूट करते हैं। जितना ये ट्रडिशनल लुक के साथ जंचते हैं, उतना ही वेस्टर्न वियर के साथ भी। यूं तो बाल स्ट्रेट कराने के लिए आमतौर पर महिलाएं ब्यूटी पार्लर जाती हैं। लेकिन केमिकल प्रोडक्ट्स की बजाय आप घर पर ही हर्बल तरीके से भी स्ट्रेट बाल पा सकती हैं। इससे आपके बालों पर एक्स्ट्रा केमिकल और हीट का यूज नहीं होगा... 
बालों की ऐंठन को कम करता है गर्म तेल
कुछ दिन तक रोज बालों में गर्म तेल लगाने से बाल सीधे होने लगते हैं। गर्म तेल बालों की ऐंठन और कर्ल को सीधा करने का काम करता है। अगर आप नारियल तेल, ऑलिव ऑयल या फिर बादाम के तेल में से एक को यूज करती हैं तो आपको ज्यादा फायदा होगा। तिल का तेल भी इसमें आपके खूब काम आएगा। इसके लिए तेल लें और उसे हल्का गर्म कर लें। अब हल्के हाथों से बालों पर 15 से 20 मिनट तक स्कैल्प पर मसाज करें। करीब आधे घंटे बाद बालों को किसी माइल्ड शैंपू से क्लीन कर गीले बालों पर ही कंघी कर लें।
मुल्तानी मिट्टी का पेस्ट 
मुल्तानी मिट्टी के इस्तेमाल से भी बाल नेचरल रूप से स्ट्रेट हो जाते हैं। मुल्तानी मिट्टी को अंडे के सफेद भाग के साथ मिला लीजिए। इसमें एक चम्मच चावल का आटा भी मिला लें। इसमें पानी डालकर एक गाढ़ा पेस्ट बना लें। इस मिक्सचर को बालों में ऊपर से नीचे लगा लीजिए। उसके बाद किसी मोटे दांत वाली कंघी से कंघी कर लीजिए। एक घंटे के लिए इसे ऐसे ही छोड़ दीजिए और फिर धो लीजिए। इसके बाद बालों पर दूध का स्प्रे कर लें। 15 मिनट के लिए छोड़कर फिर धो लें। दो से तीन बार में ही इस प्रोसेस को अपनाने से बाल स्ट्रेट होने लगेंगे।
 
 
कोकोनट मिल्क और लेमन जूस 
कोकोनट मिल्क और लेमन जूस को किसी कटोरी में अच्छी तरह से मिक्स करके कुछ घंटों के लिए िफ्रज में रख दें। अब इन्हें अपने बालों पर मास्क की तरह लगाएं। तकरीबन 15 से 20 मिनट लगा रहने दें। फिर बालों को स्टीम दीजिए। अब बालों को किसी बेहतर शैंपू से धो लें और बालों के सूखने के बाद पाएं खूबसूरत स्ट्रेट बाल, वो भी बेहतरीन चमक के साथ।
बेसन, मुल्तानी मिट्टी और सिरका 
बेसन, मुलतानी मिट्टी और सिरका ले लें। इसके लिए लगभग 4 बड़े चम्मच बेसन और इतनी ही मात्रा में मुल्तानी मिट्टी को ले लीजिए। अब इसमें आधा कप सिरका मिलाएं। तैयार किए गए इस पेस्ट को 10 से 15 मिनट बालों पर लगाएं और शैंपू से बालों को धो लें।
Previous12Next