• -

और पढ़ें

COVID-19 :

Confirmed :

Recovered :

Deaths :

Maharashtra / 211987 Tamil Nadu / 114978 Delhi / 100823 Gujarat / 36858 Uttar Pradesh / 28636 Rajasthan / 20922 West Bengal / 22987 Madhya Pradesh / 15284 Haryana / 17770 State Unassigned / 5034 Karnataka / 25317 Andhra Pradesh / 21197 Bihar / 12525 Telangana / 25733 Jammu and Kashmir / 8675 Assam / 12523 Odisha / 10097 Punjab / 6491 Kerala / 5623 Uttarakhand / 3161 Chhattisgarh / 3305 Jharkhand / 2877 Tripura / 1692 Ladakh / 1005 Goa / 1813 Himachal Pradesh / 1078 Manipur / 1390 Chandigarh / 492 Puducherry / 1043 Nagaland / 644 Mizoram / 197 Arunachal Pradesh / 270 Sikkim / 125 Dadra and Nagar Haveli and Daman and Diu / 408 Andaman and Nicobar Islands / 147 Meghalaya / 88 Lakshadweep / 0

   BIG BREAKING : एंटी करप्शन ब्यूरो की बड़ी कार्यवाही, पटवारी सहित दो अधिकारियों को रिश्वत लेते रंगे हाथ किया गिरफ्तार    |    भारतीय सेना में महिला अधिकारियों को स्थायी कमीशन एवं कमांड पोस्ट संबंधी अपने आदेश पर अमल के लिए उच्चतम न्यायालय ने केंद्र सरकार को दिया एक माह का समय    |    गोधन न्याय योजना: गौ ग्राम स्वावलंबन अभियान छत्तीसगढ़ के पदाधिकारियों ने जताया आभार : गृहमंत्री से मुलाकात कर सौंपा अभिनंदन पत्र    |    एम्स में काम करने वाली नर्स को शादी का झांसा देकर 34 लाख की ठगी करने वाला आरोपी गिरफ्तार, पढ़ें पूरी खबर    |    एम्स की महिला डॉक्टर सहित इस राज्य की राजधानी में मिले 86 नए कोरोना संक्रमित मरीज    |    स्वास्थ्य विभाग द्वारा 5 जुलाई की स्थिति में रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन वाले विकासखंडों की अधिसूचना जारी    |    बड़ी खबर: प्रदेश में आज 92 नए कोरोना संक्रमित मरीज मिले ,देखे किस किस जिले से है    |    छत्तीसगढ़ के इन जनपद व ग्राम पंचायतों को मिला दीनदयाल उपाध्याय पंचायती राज सशक्तीकरण राष्ट्रीय पुरस्कार, दिल्ली में जारी हुई सूची, देखें सूची    |    बड़ी खबर: बड़ी संख्या में पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों का तबादला आदेश जारी, देखे पूरी लिस्ट    |    जेपी नड्डा ने साधा निशाना: गौरवशाली वंश परंपरा से जुड़े राहुल के लिए समिति मायने नहीं रखती    |
Previous12345Next
कोरोना के चलते पैन कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करने की समय सीमा बढ़ी

कोरोना के चलते पैन कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करने की समय सीमा बढ़ी

नईदिल्ली, केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने वैश्विक महामारी कोविड-19 से उत्पन्न स्थिति को ध्यान में रखते हुए पैन कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करवाने की समय सीमा बढ़ाकर अगले वर्ष 31 मार्च 2021 तक कर दी है। आयकर विभाग ने सोमवार को यह जानकारी दी। विभाग के अनुसार अब 31 मार्च 2021 तक पैन कार्ड को आधार कार्ड से लिंक कराया जा सकता है। इससे पहले भी कई बार तारीख बढ़ाई जा चुकी है। इस बार कोरोना महामारी और उन लोगों को ध्यान में रखते हुए समय सीमा बढ़ाई गई है जो किसी कारण से अभी तक पैन कार्ड को आधार कार्ड से लिंक नहीं करवा पाए थे।पहले ये समय सीमा 30 जून थी और लिंक नहीं कराने वाले पैनकार्ड धारक पर 10 हजार रुपये जुर्माना का प्रावधान था।

 

रिलायंस का मार्केट कैप 11.5 लाख करोड़ रुपये के पार

रिलायंस का मार्केट कैप 11.5 लाख करोड़ रुपये के पार

नईदिल्ली। मुकेश अंबानी के नेतृत्व वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज़ लिमिटेड का बाजार पूंजीकरण आज 11.5 लाख करोड़ रुपये के स्तर को पार कर गया। बीएसई पर सोमवार को कंपनी के शेयर का भाव 2.55 फीसदी की बढ़त के साथ 1833.10 अंक के रेकॉर्ड उच्च स्तर पर पहुंच गया। एनएसई पर कंपनी का शेयर 2.55 फीसदी की बढ़त के साथ 1833.50 के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया। इससे सुबह के कारोबार में कंपनी का बाजार पूंजीकरण 26150.05 करोड़ रुपये बढ़कर 1159318.60 करोड़ रुपये हो गया। देश की सबसे मूल्यवान कंपनी आरआईएल ने पिछले महीने 11 लाख करोड़ रुपये के बाजार पूंजीकरण की उपलब्धि हासिल की थी और इस मुकाम पर पहुंचने वाली देश की पहली कंपनी बनी थी। आरआईएलके शेयर सोमवार को 1801.15 अंक के स्तर पर खुले और दिन के कारोबार के दौरान 1,833.10 रुपये के स्तर पर पहुंच गए। यह कंपनी के शेयरों का पिछले 52 हफ्तों का सबसे शानदार प्रदर्शन है। कंपनी का शेयर शुक्रवार को करीब दो फीसदी की तेजी के साथ 1787.50 रुपये के स्तर पर बंद हुआ था। इंटेल कैपिटल के जियो प्लेटफॉर्म्स में 0.39 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने की घोषणा के बाद कंपनी के शेयर में उछाल आया था। 


शुक्रवार को अमेरिका की कंपनी इंटेल कैपिटल द्वारा जियो प्लेटफार्म्स में 1,894.50 करोड़ रुपये में 0.39 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदने के सौदे की घोषणा हुई। जियो प्लेटफॉर्म्स में अप्रैल से अब तक विभिन्न वैश्विक कंपनियों को अलग-अलग हिस्सेदारी बेचकर रिलायंस इंडस्ट्रीज कुल 1.17 लाख करोड़ रुपये से अधिक की राशि जुटा चुकी है।

जियो प्लेटफॉर्म्स में सबसे पहले 22 अप्रैल को फेसबुक ने हिस्सेदारी खरीदी थी। उसके बाद सिल्वर लेक, विस्टा इच्टिी, जनरल अटलांटिक, केकेआर, मुबाडला ने निवेश किया। सिल्वर लेक ने एक बार की खरीदारी के बाद अतिरिक्त निवेश भी किया। बाद में अबू धाबी इन्वेस्टमेंट अथॉरिटी (एडीआईए), टीपीजी, एल कैटरटन और पीआईएफ ने जियो प्लेटफार्म्स में हिस्सेदारी खरीदी। रिलायंस इंडस्ट्रीज ने इसके साथ ही 53,124 करोड़ रुपये के राइट्स इश्यू भी जारी किया। इस निवेश से प्राप्त राशि के बाद कंपनी कर्जमुक्त बन गई।
सेंसेक्स शुरुआती कारोबार में 300 अंक से अधिक चढ़ा, निफ्टी 10,700 अंक के पार

सेंसेक्स शुरुआती कारोबार में 300 अंक से अधिक चढ़ा, निफ्टी 10,700 अंक के पार

मुंबई। बंबई शेयर बाजार (बीएसई) का संवेदी सूचकांक 'सेंसेक्सÓ सोमवार को शुरुआती कारोबार में 300 अंक से अधिक चढ़कर 36,331.71 अंक पर पहुंच गया। विदेशी कोषों का प्रवाह बढऩे और एशियाई बाजारों में खरीदारी का जोर रहने से कारोबार की शुरुआत तेजी के साथ हुई।बीएसई सेंसेक्स कारोबार खुलने के साथ ही 36,389.01 अंक की ऊंचाई छूने के बाद शुरुआती दौर में 310.29 अंक यानी 0.86 प्रतिशत बढ़कर 36,331.71 अंक रहा। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी सूचकांक इस दौरान 99.70 अंक यानी 0.94 प्रतिशत बढ़कर 10,707.05 अंक पर रहा।सेंसेक्स में शामिल शेयरों में इंडसइंड बैंक करीब चार प्रतिशत वृद्धि के साथ सबसे तेज बढ़त वाला शेयर रहा। इसके बाद एचडीएफसी बैंक, बजाज फाइनेंस, टेक महिन्द्रा, स्टेट बैंक, एक्सिस बैंक, आईटीसी और टेक महिन्द्रा के शेयरों में भी बढ़त का रुख रहा। इसके विपरीत बजाज आटो, पावर ग्रिड, टाइटन और हिन्दुस्तान यूनिलीवर के शेयरों में गिरावट रही। बीएसई सेंसेक्स इससे पिछले सत्र में यानी बीते शुक्रवार को कारोबार की समाप्ति पर 177.72 अंक बढ़कर 36,021.42 अंक पर बंद हुआ था। वहीं निफ्टी 55.65 अंक की वृद्धि के साथ 10,607.35 अंक पर बंद हुआ। इस दौरान विदेशी संस्थागत निवेशकों ने बाजार में शुद्ध खरीदारी की। शुरुआती आंकड़ों के मुताबिक विदेशी निवेशकों ने शुक्रवार को 857.29 करोड़ रुपये की लिवाली की। कारोबारियों का कहना है कि कोविड- 19 की दवा जल्द आने, वृहद आर्थिक परिवेश में सुधार दिखने और प्रमुख वैश्विक बाजारों में खरीदारी तेज होने से घरेलू बाजार में तेजी का रुख बना हुआ है। हालांकि, कोविड-19 के बढ़ते मामलों से चिंता भी बरकरार है। शंघाई, हांग कांग, टोक्यो और सोल के बाजारों में चार प्रतिशत की तेजी रही। उम्मीद की जा रही है कि सरकार आर्थिक गतिविधियां बढ़ाने के लिये और प्रोत्साहन दे सकती है। इस बीच, अंतरराष्ट्रीय बाजार में ब्रेंट क्रूड तेल का वायदा भाव 0.63 प्रतिशत बढ़कर 43.07 डालर प्रति बैरल पर पहुंच गया।
रिलायंस इंडस्ट्रीज समेत सेंसेक्स की टॉप-10 कंपनियों का मार्केट कैप 1.37 लाख करोड़ रुपये बढ़ा

रिलायंस इंडस्ट्रीज समेत सेंसेक्स की टॉप-10 कंपनियों का मार्केट कैप 1.37 लाख करोड़ रुपये बढ़ा

नईदिल्ली। सेंसेक्स की टॉप-10 कंपनियों के मार्केट कैप में बीते सप्ताह 1,37,508.61 करोड़ रुपये का इजाफा हुआ। सबसे अधिक फायदे में टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) और रिलायंस इंडस्ट्रीज रहीं। बीते सप्ताह बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 850.15 अंक या 2.41 प्रतिशत के लाभ में रहा।


समीक्षाधीन सप्ताह में टीसीएस का बाजार पूंजीकरण 31,294.89 करोड़ रुपये बढ़कर 8,25,149.40 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। इसी तरह रिलायंस इंडस्ट्रीज का बाजार मूल्यांकन 28,464.11 करोड़ रुपये की बढ़ोतरी के साथ 11,33,168.55 करोड़ रुपये रहा। एचडीएफसी की बाजार हैसियत 20,519.86 करोड़ रुपये बढ़कर 3,27,120.52 करोड़ रुपये और आईटीसी की 15,057.98 करोड़ रुपये बढ़कर 2,54,879.41 करोड़ रुपये पर पहुंच गई। 

सप्ताह के दौरान भारती एयरटेल का बाजार मूल्यांकन 11,347.56 करोड़ रुपये की वृद्धि के साथ 3,17,022.44 करोड़ रुपये पर और एचडीएफसी बैंक का 10,211.92 करोड़ रुपये की बढ़ोतरी के साथ 5,89,765.72 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। इसी तरह आईसीआईसीआई बैंक का बाजार पूंजीकरण 7,780.46 करोड़ रुपये की बढ़ोतरी के साथ 2,33,782.89 करोड़ रुपये रहा।

इन्फोसिस का बाजार पूंजीकरण 6,154.48 करोड़ रुपये बढ़कर 3,24,803.13 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। हिंदुस्तान यूनिलीवर की बाजार हैसियत 4,193.95 करोड़ रुपये बढ़कर 5,10,392.76 करोड़ रुपये पर और कोटक महिंद्रा बैंक की 2,483.4 करोड़ रुपये बढ़कर 2,67,831.17 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। शीर्ष दस कंपनियों की सूची में रिलायंस इंडस्ट्रीज पहले स्थान पर कायम रही। उसके बाद क्रमश टीसीएस, एचडीएफसी बैंक, हिंदुस्तान यूनिलीवर, एचडीएफसी, इन्फोसिस, भारती एयरटेल, कोटक महिंद्रा बैंक, आईटीसी और आईसीआईसीआई बैंक का स्थान रहा।
कोरोना के दबाव में आ सकता है शेयर बाजार, पढ़े पूरी खबर

कोरोना के दबाव में आ सकता है शेयर बाजार, पढ़े पूरी खबर

मुंबई। घरेलू शेयर बाजारों में लगातार तीन सप्ताह की मजबूती के बाद तेजी से बढ़ते कोरोना संकट के कारण आने वाले सप्ताह में दबाव देखा जा सकता है।

आर्थिक गतिविधियाँ दुबारा शुरू होने से पिछले सप्ताह निवेशक लिवाल रहे जिससे बीएसई का सेंसेक्स करीब चार महीने बाद 36 हजार अंक के पार बंद होने में सफल रहा। यह लगातार तीसरा सप्ताह था जब शेयर बाजार में तेजी रही लेकिन पिछले दो-तीन दिन में देश में कोरोना वायरस के नये मामले जिस तेजी से बढ़े हैं, यदि यही क्रम जारी रहा तो आने वाले सप्ताह में बाजार की तेजी पर ब्रेक लग सकता है।

गत सप्ताह सेंसेक्स 850.15 अंक यानी 2.42 फीसदी की मजबूती के साथ सप्ताहांत पर 36,021.42 अंक पर पहुँच गया। सप्ताह के पहले दो दिन बाजार में गिरावट रही जबकि आखिरी के तीन दिन तेजी देखी गई।
 
नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 224.35 अंक यानी 2.16 प्रतिशत की साप्ताहिक तेजी के साथ 10,607.35 अंक पर पहुँच गया। दिग्गज कंपनियों के विपरीत मझौली कंपनियों में निवेशकों का विश्वास जहाँ कम रहा वहीं छोटी कंपनियों में उन्होंने शुद्ध रूप से बिकवाली की। सप्ताह के दौरान बीएसई का मिडकैप 0.23 प्रतिशत चढ़कर सप्ताहांत पर 13,288.70 अंक पर बंद हुआ। स्मॉलकैप 0.22 फीसदी की गिरावट में 12,603.02 अंक पर बंद हुआ।
सोना आयात चालू वित्त वर्ष में अप्रैल-मई के दौरान घटकर 7.914 करोड़ डॉलर रहा

सोना आयात चालू वित्त वर्ष में अप्रैल-मई के दौरान घटकर 7.914 करोड़ डॉलर रहा

नई दिल्ली। चालू खाता घाटा (सीएडी) पर असर डालने वाले, सोने का आयात वित्त वर्ष 2020-21 के पहले दो महीनों के दौरान उल्लेखनीय रूप से घटकर 7.914 करोड़ डॉलर का रह गया। वाणिज्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, इस गिरावट का कारण कोविड-19 महामारी के मद्देनजर मांग में भारी कमी का होना है। वर्ष 2019-20 की इसी अवधि में सोने का आयात 8.75 अरब डॉलर का हुआ था। सोने के आयात में गिरावट से देश के व्यापार घाटे ? (आयात और निर्यात के बीच के अंतर) को कम करने में मदद मिली है। आयात और निर्यात के बीच का अंतर, उक्त अवधि के दौरान घटकर 9.91 अरब डॉलर रह गया जो साल भर पहले 30.7 अरब डॉलर का था। भारतीय रिजर्व बैंक ने कहा कि व्यापार घाटे के कम होने की वजह से, भारत ने जनवरी-मार्च तिमाही में 0.6 अरब डॉलर अथवा सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के 0.1 प्रतिशत के बराबर चालू खाता अधिशेष बचा है जबकि वर्ष भर पहले समान अवधि में 4.6 अरब डॉलर अथवा जीडीपी का 0.7 प्रतिशत का घाटा दर्ज किया गया था। पिछले वर्ष दिसंबर से सोने के आयात में गिरावट आ रही है। मार्च, अप्रैल और मई में यह गिरावट क्रमश: 62.6 प्रतिशत, 99.93 प्रतिशत और 98.4 प्रतिशत रही। भारत सोने का सबसे बड़ा आयातक है, जो मुख्य रूप से आभूषण उद्योग की मांग को पूरा करता है। मात्रा के संदर्भ में, देश सालाना 800-900 टन सोने का आयात करता है। अप्रैल-मई 2020 में रत्न और आभूषण निर्यात 82.46 प्रतिशत घटकर 1.1 अरब डॉलर रहा। इसी तरह, 2020-21 के पहले दो महीनों के दौरान चांदी का आयात भी 30.7 प्रतिशत घटकर 43.789 करोड़ डॉलर रहा|

Reliance Jio का JioMeet वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग ऐप लॉन्च, Zoom को देगा टक्कर

Reliance Jio का JioMeet वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग ऐप लॉन्च, Zoom को देगा टक्कर

Reliance Jio ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग ऐप Zoom को टक्कर देने के लिए JioMeet सर्विस लॉन्च की है। मुकेश अंबानी की टेलीकॉम कंपनी ने गुरुवार रात अपने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग ऐप को थोड़ी धूमधाम से लॉन्च किया और अब यह सर्विस ऐप के रूप में Google Play और App Store पर उपलब्ध है। रिलायंस जियो ने पिछले कुछ महीनों में लगातार फंडरेज़ के बाद अपना पहला नया प्रोडक्ट जारी किया है और यह Zoom, Google Meet, Microsoft Teams और अन्य लोकप्रिय वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग टूल्स के खिलाफ अखाड़े में उतर रहा है।

JioMeet डायरेक्ट कॉल (1: 1 कॉलिंग) के साथ-साथ 100 प्रतिभागियों के साथ मीटिंग आयोजित करने की क्षमता रखता है। Reliance Jio के अनुसार, ऐप एंटरप्राइज़-ग्रेड होस्ट कंट्रोल देत है। आप अपने फोन नंबर या ईमेल आईडी के साथ साइन-अप कर सकते हैं और एचडी क्वालिटी में अपनी मीटिंग्स कर सकते हैं। इसे इस्तेमाल करना मुफ्त है और आप प्रति दिन असीमित मीटिंग्स कर सकते हैं। इसके अलावा इसमें मीटिंग्स पासवर्ड से सुरक्षित भी हो सकती हैं और यह ज़ूम जैसे वेटिंग रूम फीचर का समर्थन भी करता है।

Reliance Jio ने अप्रैल से लेकर जून तक लगातार फंडरेज़ किया, जिसमें कंपनी ने Facebook के साथ डील से शुरुआत की और सोशल मीडिया दिग्गज को जियो में 9.99 प्रतिशत हिस्सेदारी मिली। JioMeet को न केवल ब्राउज़र (केवल Chrome या Firefox) से इस्तेमाल किया जा सकता है, बल्कि यह ऐप के रूप में Windows, Mac, iOS और Android पर भी उपलब्ध है। आप इनके लिंकJio की वेबसाइट में देख सकते हैं।

इस प्लेटफॉर्म का इंटरफेस बहुत ही सरल है, जो वास्तव में ज़ूम की तरह ही दिखता है, लेकिन एक क्विक रिव्यू से पता चला है कि यह अन्य प्रमुख वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग ऐप्स की तरह ही काम करता है। JioMeet का कहना है कि ऐप पांच डिवाइसों पर मल्टी-डिवाइस लॉग-इन सपोर्ट करता है और कॉल पर रहते हुए आप डिवाइसों के बीच आसानी से स्विच कर सकते हैं। इसमें सेफ ड्राइविंग मोड नाम का एक फीचर भी है और साथ ही स्क्रीन शेयरिंग जैसी बेसिक सुविधाएं भी हैं।

भले ही अब यह ऐप जनता के लिए उपलब्ध है, लेकिन Jio कुछ महीनों से इसका टेस्ट कर रहा था और आप Google Play पर कमेंट को देख सकते हैं कि यह कैसे एक इनविटेशन कोड के साथ ही काम करता था। लेकिन अब आपको केवल JioMeet के लिए साइन-अप करना है और आप इसे मुफ्त में इस्तेमाल कर सकते हैं।
 

BSNL ‘Work@Home’ ब्रॉडबैंड प्लान का फायदा अब 26 जुलाई तक

BSNL ‘Work@Home’ ब्रॉडबैंड प्लान का फायदा अब 26 जुलाई तक

भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) ने अपने Work@Home ब्रॉडबैंड प्लान में विस्तार का ऐलान किया है और इसके अलावा कंपनी ने अपने दो पुराने 299 रुपये और 491 रुपये के ब्रॉडबैंड प्लान को दोबारा लॉन्च किया है। कंपनी का Work@Home प्रमोशनल ब्रॉडबैंड प्लान मार्च में लॉन्च किया गया था, जिसका उद्देश्य कोरोना वायरस लॉकडाउन के दौरान बीएसएनएल लैंडलाइन ग्राहकों को मुफ्त में इंटरनेट कनेक्शन देना था। हालांकि, बाद में इस प्लान को मई तक एक्सटेंड कर दिया गया और अब एक बार फिर इस प्लान को जुलाई तक बढ़ा दिया गया है। इसके अलावा 299 रुपये और 491 रुपये वाले प्रमोशनल ब्रॉडबैंड प्लान भी 25 सितंबर तक के लिए उपलब्ध करा दिए गए हैं।

Work@Home plan की जानकारी देते हुए BSNL Chennai साइट पर एक सर्कुलर ज़ारी किया गया है, जिसमें बताया गया है कि इस ब्रॉडबैंड प्लान का विस्तार अब 26 जुलाई तक कर दिया गया है। आपको बता दें, इस प्लान के तहत बीएसएनएल के सभी लैंडलाइन सब्सक्राइबर्स को प्रतिदिन हाई-स्पीड 5 जीबी डेटा दिया जाता है, जिसमें उन्हें 10 एमबीपीएस डाउनलोड स्पीड मिलती है। हालांकि, 5 जीबी डेटा से ज्यादा का उपयोग करने के बाद यह स्पीड 1Mbps तक घट जाती है। इस प्लान में ग्राहकों को फ्री ईमेल आइडी के साथ 1 जीबी तक की स्टोरेज स्पेस मिलती है। इसके अलावा इस प्लान के लिए आपको कोई अतिरिक्त शुल्क व सिक्योरिटी डिपॉज़िट भी नहीं भरना पड़ता। कॉलिंग के लिए कोई बदलाव नहीं किया गया है, कॉलिंग चार्ज लैंडलाइन प्लान के मुताबिक लगाया जाएगा।

बीएसएनएल का 299 रुपये और 491 रुपये वाला ब्रॉडबैंड प्लान पिछले साल दिसंबर में प्रमोशनल बेसिस पर लॉन्च किया गया था। लेकिन अब एक बार फिर इस प्लान को पेश किया गया है, जिसकी उपलब्धता 90 दिनों तक की होगी। पहले जब इस प्लान को लॉन्च किया गया था, तब इसकी वैधता 25 मार्च तक थी।

BSNL Chennai द्वारा सर्कुलर ज़ारी किया गया है, जिसमें जानकारी दी गई है कि इन दोनों प्लान को फिर से पेश किया गया है जिसकी शुरुआत 27 जून से हो गई है और ये 90 दिनों तक वैध रहेंगे। कंपनी ने प्रमोशनल ऑफर डेडलाइन के साथ इन दोनों प्लान को वेबसाइट पर 25 सितंबर तक लिस्ट किया है। यह प्लान केवल अंडमान और निकोबार को छोड़कर सभी सर्कल्स में लाइव हो चुके हैं। कुछ सर्कल्स में इस प्लान की वैधता 24 सितंबर के साथ लिस्ट है।

प्लान बेनेफिट्स
299 रुपये वाले BSNL Broadband Plan या 50GB_CUL Plan में सब्सक्राइबर्स को 20 एमबीपीएस की स्पीड से 50 जीबी मुफ्त डेटा मिलेगा। डेटा सीमा पूरी हो जाने के बाद ग्राहक 1 एमबीपीएस की स्पीड से डेटा पाएंगे। इस प्लान में हर नेटवर्क पर अनलिमिटेड कॉल की सुविधा होगी। आईएसडी कॉल के लिए 1.1 मिनट प्रति यूनिट की दर से शुल्क लगेगा। BSNL का कहना है कि वह नए ब्रॉडबैंड कनेक्शन के लिए 500 रुपये की राशि सिक्योरिटी डिपॉजिट के तौर पर लेगी। प्रमोशन के तौर पर पेश किया गया 299 रुपये वाला ब्रॉडबैंड प्लान 6 महीने के लिए उपलब्ध है। इसके बाद यूज़र्स को 2GB CUL प्लान पर अपग्रेड कर दिया जाएगा, जिसका शुल्क 399 रुपये प्रति माह है। 2GB CUL प्लान में ग्राहकों को हर दिन 8 एमबीपीएस की स्पीड से 2 जीबी डेटा मिलता है।

491 रुपये वाले BSNL ब्रॉडबैंड प्लान को 120GB_CUL Plan के नाम से जाना जाता है। इसमें 20 एमबीपीएस की स्पीड से इंटरनेट मिलता है। इस दौरान कुल 120 जीबी डेटा मिलेगा। डेटा सीमा खत्म हो जाने के बाद इंटरनेट की स्पीड 1 एमबीपीएस हो जाएगी। 299 रुपये वाले प्लान की तरह यह प्लान भी अनलिमिटेड वॉयस कॉलिंग सुविधा के साथ आता है। इसके बाद ग्राहकों को 3GB CUL Plan पर शिफ्ट कर दिया जाएगा जिसमें 499 रुपये प्रति महीने का शुल्क है। 3GB CUL Plan में 8 एमबीपीएस की स्पीड से हर दिन 3 जीबी डेटा मिलेगा। बीएसएनएल की वेबसाइट पर दोनों प्लान लाइव हैं।
 

जियो प्लेटफॉर्म्स को मिला 12वां निवेशक, 1894 करोड़ का निवेश करेगी इंटेल कैपिटल

जियो प्लेटफॉर्म्स को मिला 12वां निवेशक, 1894 करोड़ का निवेश करेगी इंटेल कैपिटल

नई दिल्ली। रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के जियो प्लेटफॉर्म्स में लगातार कंपनियों की ओर से निवेश बढ़ता ही जा रहा है। कंपनी ने आज घोषणा की है कि इंटेल कैपिटल जियो प्लेटफॉर्म्स में 1,894.50 करोड़ रुपये का निवेश करेगा। इस निवेश के साथ ही जियो प्लेटफॉर्म्स में 0.39 फीसदी इच्टिी की हिस्सेदारी इंटेल कैपिटल की हो जाएगी। दुनिया भर में बेहतरीन कम्प्यूटर चिप बनाने के लिए इंटेल को जाना जाता है।

अब तक जियो प्लेटफॉर्म्स में 11 कंपनियां निवेश कर चुकी हैं और इंटेल कैपिटल जियो प्लेटफॉर्म्स में निवेश करने वाली 12वीं कंपनी है। इसके निवेश के साथ ही कंपनी का कुल निवेश 1,17,588.45 करोड़ रुपये हो जाएगा। जियो प्लेटफॉर्म्स में निवेश 22 अप्रैल को फेसबुक से शुरू हुआ था, उसके बाद सिल्वर लेक, विस्टा इच्टिी, जनरल अटलांटिक, केकेआर, मुबाडला और सिल्वर लेक ने अतिरिक्त निवेश किया था। बाद में अबू धाबी इन्वेस्टमेंट अथॉरिटी ( ्रष्ठढ्ढ्र), टीपीजी, एल कैटरटन और पीआईएफ ने भी निवेश की घोषणा की थी।
 
इंटेल कैपिटल इनोवेटिव कंपनियों में विश्व स्तर पर निवेश करने के साथ, क्लाउड कंप्यूटिंग, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और 5 जी जैसे प्रौद्योगिकी क्षेत्रों में काम करती है, जहां जियो भी कार्यरत है। इंटेल कैपिटल, इंटेल कॉर्पोरेशन की निवेश शाखा है। इंटेल दो दशकों से अधिक समय से भारत में काम कर रही है और आज बेंगलुरु और हैदराबाद में अत्याधुनिक डिजाइन सुविधाओं के साथ वहां हजारों कर्मचारियों काम कर रहे हैं।

जियो प्लेटफॉर्म्स, रिलायंस इंडस्ट्रीज़ लिमिटेड की फ़ुली ओन्ड सब्सिडियरी है। ये एक नेक्स्ट जनरेशन टेक्नॉलोजी कंपनी है जो भारत को एक डिजिटल सोसायटी बनाने के काम में मदद कर रही है। इसके लिए जियो के प्रमुख डिजिटल एप, डिजिटल ईकोसिस्टम और भारत के नंबर प्त1 हाइ-स्पीड कनेक्टिविटी प्लेटफ़ॉर्म को एक-साथ लाने का काम कर रही है। रिलायंस जियो इंफ़ोकॉम लिमिटेड, जिसके 38 करोड़ 80 लाख ग्राहक हैं, वो जियो प्लेटफ़ॉर्म्स लिमिटेड की होल्ली ओन्ड सब्सिडियरी बनी रहेगी। 

जियो एक ऐसे डिजिटल भारत का निर्माण करना चाहता है जिसका फ़ायदा 130 करोड़ भारतीयों और व्यवसायों को मिले। एक ऐसा डिजिटल भारत जिससे ख़ास तौर पर देश के छोटे व्यापारियों, माइक्रो व्यवसायिओं और किसानों के हाथ मज़बूत हों। जियो ने भारत में डिजिटल क्रांति लाने और भारत को दुनिया की सबसे बड़ी डिजिटल ताकतों के बीच अहम स्थान दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।
शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 200 अंक से अधिक मजबूत, निफ्टी 10,600 अंक के पार

शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 200 अंक से अधिक मजबूत, निफ्टी 10,600 अंक के पार

मुंबई। रिलायंस इंडस्ट्रीज, हिंदुस्तान यूनिलीवर और कोटक बैंक जैसी बड़ी कंपनियों के शेयरों में बढ़त से शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 200 अंक से अधिक मजबूत खुला। बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 36,110.21 अंक के उच्चस्तर को छूने के बाद 204.90 अंक या 0.57 प्रतिशत की बढ़त के साथ 36,048.60 अंक पर कारोबार कर रहा था। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी शुरुआती कारोबार में 75.80 अंक या 0.72 प्रतिशत की बढ़त के साथ 10,627.50 अंक पर था। सेंसेक्स की कंपनियों में बजाज ऑटो का शेयर दो प्रतिशत के लाभ में था। एशियन पेंट्स, भारती एयरटेल, हिंदुस्तान यूनिलीवर, रिलायंस इंडस्ट्रीज और कोटक बैंक के शेयर भी लाभ में थे। वहीं दूसरी ओर टाटा स्टील, एचडीएफसी, महिंद्रा एंड महिंद्रा और बजाज फाइनेंस के शेयर नुकसान में थे।
सोने की कीमतों में भारी गिरावट और चांदी भी 1168 रुपये कमजोर

सोने की कीमतों में भारी गिरावट और चांदी भी 1168 रुपये कमजोर

नई दिल्ली। रुपये के मूल्य में सुधार आने के बाद बृहस्पतिवार को दिल्ली सर्राफा बाजार में सोने का भाव 488 रुपये यानी करीब 500 रुपये की गिरावट के साथ 49,135 रुपये प्रति 10 ग्राम रह गया। एचडीएफसी सिक्योरिटीज ने यह जानकारी दी है। बुधवार को सोना 49,623 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था। चांदी की कीमत भी 1,168 रुपये की हानि के साथ 50,326 रुपये प्रति किलोग्राम रह गयी। बुधवार को चांदी 51,494 रुपये प्रति किलोग्राम पर बंद हुई थी।

एचडीएफसी सिक्योरिटीज के वरिष्ठ विश्लेषक (जिंस) तपन पटेल ने कहा, रुपये के मूल्य में सुधार आने से सोने की कीमतों में गिरावट आई। बृहस्पतिवार को रुपये का भाव 56 पैसे के सुधार के साथ 75.04 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ। अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोना 1,769 डॉलर प्रति औंस और चांदी 17.90 डॉलर प्रति औंस पर अपरिवर्तित बनी रही।

कमजोर हाजिर मांग के कारण कारोबारियों ने अपने सौदों की कटान की जिससे वायदा कारोबार में बृहस्पतिवार को सोना की कीमत 0.07 प्रतिशत की गिरावट के साथ 48,223 रुपये प्रति 10 ग्राम रह गई। एमसीएक्स में सोने के अगस्त माह में डिलीवरी वाले अनुबंध की कीमत 34 रुपये अथवा 0.07 प्रतिशत की गिरावट के साथ 48,223 रुपये प्रति 10 ग्राम रह गई जिसमें 12,737 लॉट के ?लिए कारोबार हुआ। सोने के अक्टूबर माह में डिलीवरी वाले अनुबंध की कीमत 33 रुपये अथवा 0.07 प्रतिशत की गिरावट के साथ 48,356 रुपये प्रति 10 ग्राम रह गई जिसमें 6,607 लॉट के ?लिए कारोबार हुआ। हालांकि, वैश्विक स्तर पर न्यूयॉर्क में सोना भाव 0.04 प्रतिशत बढ़कर 1,779.10 डॉलर प्रति औंस हो गया।

मंगलवार रात न्यूयॉर्क में सोने की कीमत 8 साल के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई थी। इसका भाव प्रति औंस 1800 डॉलर से कुछ ऊपर था। इससे बुधवार को घरेलू बाजार में सोने की कीमत में तेजी आई। मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के वीपी (कमोडिटीज रिसर्च) नवनीत दमानी के मुताबिक कोरोना वायरस के फिर से सिर उठाने की आशंका के कारण सोना करीब 8 साल के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया। इसने सोने को मार्च 2016 के बाद सबसे अधिक तिमाही रिटर्न के रास्ते में डाल दिया।

बैंक ऑफ अमेरिका सिक्योरिटीज की हाल में आई एक रिपोर्ट में कहा गया है कि अगले कुछ वर्षों में स्टॉक्स और बॉन्ड्स में बेहतर रिटर्न की उम्मीद नहीं है। इसलिए निवेशकों का रुझान सोने की तरफ हुआ है। रिपोर्ट के मुताबिक 2021 के अंत तक सोने की कीमत 3000 डॉलर प्रति औंस तक जा सकती है। मौजूदा एक्सचेंज रेट के हिसाब से भारतीय मुद्रा में यह राशि 82 हजार रुपये प्रति 10 ग्राम बैठती है। जानकारों का कहना है कि हॉन्ग कॉन्ग के मुद्दे पर अनिश्चितता, कोरोना के दूसरे दौर के संक्रमण से ग्लोबल इकनॉमी के सुस्त पडऩे की आशंका से भी सोने की कीमत में बढ़ रही है।
चीन को एक और बड़ा झटका, 40 करोड़ डॉलर के आयात का बहिष्कार करेगी JSW- पार्थ जिंदल

चीन को एक और बड़ा झटका, 40 करोड़ डॉलर के आयात का बहिष्कार करेगी JSW- पार्थ जिंदल

नई दिल्ली,विभिन्न क्षेत्रों में कारोबार करने वाली कंपनी जेएसडब्ल्यू (JSW) समूह ने सीमा पर जारी तनाव के बीच चीन से 40 करोड़ डॉलर के आयात को अगले 24 महीने में शून्य पर लाने का फैसला किया है। समूह की सहयोगी इकाई जेएसडब्ल्यू सीमेंट के प्रबंध निदेशक पार्थ जिंदल ने गुरुवार को इसकी जानकारी दी।
उन्होंने गलवान घाटी में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुए हालिया टकराव का उल्लेख करते हुए कहा कि यह कार्रवाई (आयात के बहिष्कार) भारतीय मिट्टी पर उन्होंने (चीन ने) जो किया, उसका परिणाम है।
14 अरब डॉलर की कंपनी जेएसडब्ल्यू समूह का स्वामित्व पार्थ के पिता सज्जन जिंदल के पास है। समूह इस्पात, ऊर्जा, सीमेंट और बुनियादी संरचना जैसे मुख्य क्षेत्रों में कारोबार करती है।

पार्थ ने एक ट्वीट में कहा कि जेएसडब्ल्यू समूह चीन से सालाना 40 करोड़ डॉलर का आयात करता है। अब इसे बंद करने का फैसला किया गया है।

उन्होंने ‘#Boycott China’ के साथ कहा कि चीन के सौनिकों द्वारा हमारे जवानों पर अकारण किया गया हमला आंखें खोलने वाला है और स्पष्ट कार्रवाई की जरूरत बताता है। हम (जेएसडब्ल्यू समूह) चीन से सालाना 40 करोड़ डॉलर का शुद्ध आयात करते हैं। हम इसे अगले 24 महीने में शून्य पर लाने का संकल्प लेते हैं।

 

शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 300 अंकों से ज्यादा चढ़ा, निफ्टी 10,500 के पार

शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 300 अंकों से ज्यादा चढ़ा, निफ्टी 10,500 के पार

मुंबई। प्रमुख शेयर सूचकांक सेंसेक्स में गुरुवार को शुरुआती कारोबार के दौरान 300 अंकों से अधिक की बढ़त हुई। इस दौरान वैश्विक शेयर बाजारों में तेजी, सकारात्मक वृहद आर्थिक आंकड़ों और कोविड-19 की वैक्सीन आने की उम्मीद से स्थानीय बाजार को मजबूती मिली। शुरुआती कारोबार में 30 शेयरों पर आधारित सेंसेक्स ने 35,724.32 के उच्च स्तर को छुआ और फिर 249.01 अंक या 0.70 प्रतिशत की बढ़त के साथ 35,663.46 पर कारोबार कर रहा था। एनएसई निफ्टी 76.50 अंक या 0.73 प्रतिशत बढ़कर 10,506.55 पर पहुंच गया। सेंसेक्स में सबसे अधिक चार प्रतिशत की बढ़त ओएनजीसी में हुई। इसके अलावा एमएंडएम, इंडसइंड बैंक, एचडीएफसी बैंक, एसबीआई और टाइटन भी तेजी के साथ कारोबार कर रहे थे। दूसरी ओर टेक महिंद्रा और एचयूएल में गिरावट देखने को मिली। पिछले सत्र में सेंसेक्स 498.65 अंक या 1.43 प्रतिशत बढ़कर 35,414.45 पर और निफ्टी 127.95 अंक या 1.24 प्रतिशत बढ़कर 10,430.05 पर बंद हुआ था। शेयर बाजार के अनंतिम आंकड़ों के मुताबिक विदेशी संस्थागत निवेशक बुधवार को शुद्ध विक्रेता थे और उन्होंने 1,696.45 करोड़ रुपये की इक्विटी बेची। व्यापारियों के अनुसार वैश्विक शेयर बाजारों में तेजी और विनिर्माण के सकारात्मक आंकड़ों के कारण स्थानीय बाजार को मजबूती मिली।
SBI एटीएम कार्डधारकों के लिए बुरी खबर : अब एसबीआई के एटीएम कार्ड पर लगेगा चार्ज, पढ़े पूरी खबर

SBI एटीएम कार्डधारकों के लिए बुरी खबर : अब एसबीआई के एटीएम कार्ड पर लगेगा चार्ज, पढ़े पूरी खबर

नईदिल्ली। कोरोना काल में देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई ने अपने सभी एटीएम कार्डधारकों को 30 जून 2020 तक शुल्क मुक्त लेनदेन की सौगात दी थी। लेकिन 1 जुलाई से यह सुविधा खत्म कर दी गई है। इसका मतलब है कि अगर ग्राहकों को एटीएम से एक निश्चित सीमा ले अधिक बार लेनदेन करने पर चार्ज देना होगा। एसबीआई की बेवसाइट में कहा गया है कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की घोषणा के मद्देनजर बैंक ने 30 जून, 2020 तक एसबीआई और दूसरे बैंकों के एटीएम से किए गए लेनदेन पर एटीएम सर्विस चार्ज में छूट देने का फैसला किया है। इससे साफ है कि 1 जुलाई से इस तरह के लेनदेन पर चार्ज लगेगा।


अगर आप एसबीआई के ग्राहक हैं तो ये चार्ज और लिमिट एटीएम ट्रांजेक्शन पर लागू होंगी। एसबीआई की वेबसाइट के मुताबिक जिन ग्राहकों का औसत मासिक बैलेंस 25 हजार रुपये तक है, वे बैंक के एटीएम से पांच बार और किसी दूसरे बैंक के एटीएम से तीन बार बिना किसी चार्ज के ट्रांजेक्शन कर सकते हैं। यह व्यवस्था मेट्रो शहरों यानी दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, चेन्नई, हैदराबाद और बेंगलूरु के लिए है। यानी मेट्रो शहरों में रहने वाले ग्राहक एक महीने में बिना चार्ज के 8 ट्रांजैक्शन (फाइनेंशियल और नॉन फाइनेंशियल) कर सकते हैं। गैर मेट्रो शहरों में रहने वाले ग्राहक तीन के बजाय पांच बार किसी अन्य बैंक के एटीएम का इस्तेमाल कर सकते हैं। यानी वे महीने में कुल 10 ट्रांजैक्शन मुफ्त कर सकते हैं। 

एसबीआई के जिन ग्राहकों का औसत मासिक बैलेंस 25 हजार से एक लाख तक है, उनके लिए बैंक के एटीएम से बिना चार्ज ट्रांजैक्शन की कोई सीमा नहीं है। लेकिन उनके लिए दूसरे बैंकों के एटीएम से ट्रांजैक्शन की सीमा है। बैंक की बेवसाइट के मुताबिक ऐसे ग्राहकों को मेट्रो शहरों में तीन और गैर-मेट्रो शहरों में 5 मुफ्त लेनदेन की सुविधा होगी। 

एक लाख रुपये से अधिक मासिक बैलेंस वाले ग्राहकों के लिए मुफ्त ट्रांजैक्शन की कोई सीमा नहीं है। ऐसे ग्राहक एसबीआई और किसी दूसरे बैंक के एटीएम से अनलिमिटेड ट्रांजैक्शन कर सकते हैं और इसके लिए उन्हें कोई चार्ज नहीं देना होगा। 

अगर कोई ग्राहक अपनी लिमिट से ज्यादा बार ट्रांजैक्शन करता है तो उस पर चार्ज लगेगा। बैंक की बेवसाइट के मुताबिक एसबीआई के एटीएम पर वित्तीय लेनदेन पर 10 रुपये के चार्ज के साथ जीएसटी लगेगा। अगर एसबीआई का ग्राहक किसी और बैंक के एटीएम पर लेनदेन करता है तो प्रति ट्रांजैक्शन 20 रुपये चार्ज और जीएसटी लगेगा। इसी तरह एसबीआई के एटीएम पर नॉन फाइलनेंशियल ट्रांजैक्शन पर 5 रुपये चार्ज और जीएसटी लगेगा। किसी और बैंक के एटीएम से ऐसा करने पर 8 रुपये चार्ज और जीएसटी देना होगा। जीएसटी 18 फीसदी की दर से लगेगा।
आम आदमी को एक और बड़ा झटका: महंगा हुआ एलपीजी सिलेंडर

आम आदमी को एक और बड़ा झटका: महंगा हुआ एलपीजी सिलेंडर

नईदिल्ली। पैट्रोल डीजल में बढ़ोतरी के बाद सरकार ने आम आदमी को एक और बड़ा झटका दिया है। जुलाई महीने की शुरुआत रसोई गैस के बढ़े हुए दाम के साथ हुई है। बता दें कि देश में गैस सिलेंडर के रेट की हर महीने समीक्षा होती है, इसके बाद इनके नए सिरे से रेट तय किए जाते हैं। कई बार इसमें घट-बढ़ होती है, तो कई बार यह स्थिर भी रहते हैं। लेकिन 1 जुलाई से गैस के रेट में बढ़ोत्तरी की गई है। गैस सिलेंडर के रेट इंडियन ऑयल कार्पोरेशन (आइओसी) तय करती है। इस महीने 14.2 किलो वाले गैस के रेट में बढ़ोत्तरी का फैसला लिया गया है।

वहीं मई में गैस सिलेंडर के रेट में भारी कमी की गई थी। आइये जातने हैं कि देश के चारों महानगरों में इस बढ़ोत्तरी के बार नए रेट क्या हैं। इससे पहले दिल्ली में जून महीने के दौरान 14.2 किलोग्राम वाले गैर-सब्सिडाइज्ड एलपीजी सिलेंडर के दाम में 11.50 रुपये प्रति सिलेंडर की बढ़ोत्तरी की गई, वहीं, मई में यह 162.50 रुपये तक सस्ता हुआ था।

दिल्ली में अब गैस सिलेंडर के नए रेट दिल्ली में 1 जुलाई 2020 से गैस का सिलेंडर 1 रुपये महंगा मिलेगा। अभी तक यह सिलेंडर दिल्ली में 593 रुपये का मिल रहा था, जो अब 594 रुपये में मिलेगा। कोलकाता में गैस सिलेंडर का रेट सबसे ज्यादा बढ़ा है। यहां पर गैस सिलेंडर के रेट में 4.5 रुपये प्रति गैस सिलेंडर की बढ़त की गई है। यहां पर अभी तक 616 रुपये का गैस सिलेंडर मिल रहा था, जो अब 620.50 रुपये का मिलेगा। मुम्बई में गैस सिलेंडर का नया रेट मुम्बई में गैस सिलेंडर का नया रेट 3.5 रुपये बढ़ा कर तय किया गया है। यहां पर अभी तक गैस सिलेंडर 590.50 रुपये का मिल रहा था, जो अब 594 रुपये का मिलेगा। चेन्नई में गैस सिलेंडर का नया रेट चेन्नई में गैस सिलेंडर का नया रेट 4 रुपये बढ़ाकर तय किया गया है। यहां पर अभी तक यह गैस सिलेंडर 606.50 रुपये का मिल रहा था, जो अब 610.50 रुपये का मिलेगा।
5जी की दौड से अब चीनी कंपनी हुवावे को बाहर करने की तैयारी, गृह मंत्री की अगुवाई में हुई वरिष्ठ मंत्रियों की बैठक

5जी की दौड से अब चीनी कंपनी हुवावे को बाहर करने की तैयारी, गृह मंत्री की अगुवाई में हुई वरिष्ठ मंत्रियों की बैठक

नई दिल्ली, एलएसी पर तनाव का जवाब आर्थिक झटके से दे रही मोदी सरकार अब चीन की बड़ी कंपनी हुवावे को झटका देने की तैयारी में है। सोमवार को चीन के 59 एप पर प्रतिबंध लगाने के बाद अब हुवावे को देश में 5जी सेवा से पूरी तरह से दूर रखने पर मंथन किया जा रहा है। सूत्रों के मुताबिक सोमवार को गृह मंत्री अमित शाह की अगुवाई में हुई वरिष्ठ मंत्रियों की बैठक में हुवावे को बाहर करने पर सैद्घांतिक सहमति बन गई है। इस बैठक में विदेश मंत्री जयशंकर, संचार मंत्री रविशंकर प्रसाद, वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल भी मौजूद थे।


सोमवार देर शाम हुई इस बैठक में हुवावे को 5जी योजना से जोडऩे या ना जोडऩे पर लंबी मंत्रणा हुई। सूत्रों का कहना है कि बैठक में सुरक्षा कारणों से हुवावे को इस योजना से दूर रखने का फैसला लिया गया है। वैसे भी सरकार ने जिस प्रकार सोमवार को चीन के कई एप पर प्रतिबंध लगाया है, उससे देखते हुए हुवावे को 5जी योजना की प्रक्रिया से जोड़े रखने की संभावना नहीं है। वह भी तब जब हुवावे को ट्रायल की इजाजत देने से पहले और बाद में भारी विवाद हुआ था।


बीते साल 31 दिसंबर को हुवावे को ट्रायल में हिस्सा लेने की अनुमति पर सरकार में भी मतभेद थे। इस संबंध में बनाई गई उच्च स्तरीय समिति ने हुवावे की 5जी में भागीदारी का विरोध किया था। समिति ने कहा था कि इस कंपनी के चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) और सरकार से बेहद नजदीकी संबंध हैं। इस कारण यह कंपनी संवदेनशील सूचनाओं को लीक कर सकती है। समिति ने इसी आशंका से अमेरिका सहित कई देशों की ओर से हुवावे पर लगाए गए प्रतिबंध का हवाला भी दिया था। हालांकि सरकार ने इसके बावजूद चीनी कंपनी को ट्रायल की अनुमति दी थी।

 

फेयर एंड लवली के बाद अब लॉरियेल भी सभी प्रोडक्ट से हटाएगी गोरे जैसे शब्द

फेयर एंड लवली के बाद अब लॉरियेल भी सभी प्रोडक्ट से हटाएगी गोरे जैसे शब्द

नईदिल्ली। कृत्रिम सौंदर्य प्रसाधन बनाने वाली फ्रांस की कंपनी लोरियल ग्रुप ने शुक्रवार को कहा कि वह त्वचा के रखरखाव से संबंधित अपने उत्पादों से श्वेत, गोरे और हल्के जैसे शब्दों को हटायेगी। यूनिलीवर ने भी एक दिन पहले इसी तरह की घोषणा की थी और कहा था कि वह अपने लोकप्रिय ब्रांड फेयर एंड लवली से फेयर शब्द को हटायेगी। 

नस्लीय रुढिय़ों के खिलाफ उठती आवाजों के बीच त्वचा के गोरेपन से संबंधित सौंदर्य प्रसाधन बनाने वाली कंपनियां दबाव में हैं। यह ऐसे समय में महत्वपूर्ण हो जाता है, जब अमेरिका से शुरू हुआ 'ब्लैक लाइव्स मैटरÓ आंदोलन कई देशों में फैल चुका है।

कंपनी ने एक बयान में कहा, लॉरियल ग्रुप त्वचा का रंग बदलने वाले उत्पादों को लेकर उठ रही आपत्तियों को स्वीकार करती है। इसे लेकर कंपनी त्वचा संबंधी अपने सभी उत्पादों से गोरे, गोरेपन, श्वेत, सफेद, हल्का आदि शब्दों को हटाने का निर्णय लेती है। 

कई और कंपनियों भी इस तरह के कदम उठा रही हैं। अमेरिकी की स्वास्थ्य देखभाल और एफएमसीजी कंपनी जॉनसन एण्ड जॉनसन ने भी त्वचा को गोरा बनाने वाली क्रीम की भारत सहित दुनियाभर में बिक्री को रोक दिया। वहीं कोलकाता स्थित एफएमसीजी कंपनी इमामी ने भी कहा है कि वह स्थिति का मूल्यांकन कर रही है। कंपनी गोरापन लाने वाले ब्रांड फेयर एण्ड हैंडसम का उत्पादन करती है।
शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 300 से अधिक अंक चढ़ा

शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 300 से अधिक अंक चढ़ा

मुंबई। इन्फोसिस, रिलायंस इंडस्ट्रीज, एचडीएफसी बैंक और आईसीआईसीआई बैंक जैसी बड़ी कंपनियों के शेयरों में बढ़त से शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 300 से अधिक अंक मजबूत खुला। सकारात्मक वैश्विक रुख से भी बाजार को मजबूती मिली। बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स शुरुआती कारोबार में 355.04 अंक या 1.02 प्रतिशत की बढ़त के साथ 35,197.14 अंक पर कारोबार कर रहा था। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 100.55 अंक या 0.98 प्रतिशत की बढ़त के साथ 10,389.45 अंक पर था। सेंसेक्स की कंपनियों में इंडसइंड बैंक का शेयर चार प्रतिशत से अधिक के लाभ में था। इन्फोसिस, टीसीएस, आईसीआईसीआई बैंक, रिलायंस इंडस्ट्रीज, आईटीसी और एचडीएफसी बैंक के शेयर भी लाभ में थे। वहीं दूसरी ओर कोटक बैंक, हिंदुस्तान यूनिलीवर और सनफार्मा के शेयर नुकसान में थे।
कंपनी अपने फेयर एंड लवली  प्रोडक्ट के नाम में करने जा रही है ये बदलाव

कंपनी अपने फेयर एंड लवली प्रोडक्ट के नाम में करने जा रही है ये बदलाव

नयी दिल्ली, तेल, साबुन, सर्फ जैसे रोजमर्रा की जरूरत का सामान बनाने वाली कंपनी हिंदुस्तान यूनिलीवर ने बृहस्पतिवार को कहा कि वह त्वचा की देखभाल से जुड़े अपने लोकप्रिय बांड 'फेयर एंड लवली से 'फेयर शब्द हटाएगी।कंपनी ने कहा कि त्वचा देखभाल से जुड़े उसके दूसरे उत्पादों के मामले में भी नया समग्र दृष्टिकोण अपनाया जाएगा जिसमें हर रंग-रूप का ख्याल रखा जाएगा।हिंदुस्तान यूनिलीवर लि. (एचयूएल) ने एक बयान में कहा, ''कंपनी ब्रांड को आगे सुदंरता के दृष्टिकोण से और समावेशी बनाने के लिये कदम उठा रही है। इसके तहत कंपनी अपने ब्रांड 'फेयर एंड लवली से 'फेयर शब्द हटाएगी। नये नाम के लिये नियामकीय मंजूरी की प्रतीक्षा है। हम अगले कुछ महीनों में नाम में बदलाव की उम्मीद कर रहे हैं। कंपनी इस बदलाव के तहत 'फेयर एंड लवली फाउंडेशन के लिये भी नये नाम की घोषणा करेगी। इस फाउंडेशन का गठन 2003 में महिलाओं को उनकी शिक्षा-दीक्षा पूरी करने में मदद के लिये वजीफा देने के इरादे से किया गया था।एचयूएल के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक संजीव मेहता ने कहा, ''फेयर एंड लवली में बदलाव के अलावा एचयूएल के त्वचा देखभाल से जुड़े अन्य उत्पादों में भी सकारात्मक खूबसूरती का नया दृष्टिकोण प्रतिबिंबित होगा। उन्होंने कहा कि 2019 में हमने फेयर एंड लवली से दो चेहरों वाली तस्वीर हटाते हुए अन्य बदलाव किये थे। साथ ही हमने ब्रांड 'कम्युनिकेशनÓ के लिये 'फेयरनेसÓ की जगह 'ग्लो का उपयोग किया जो स्वस्थ्य त्वचा के आकलन के लिहाज ज्यादा समावेशी है। मेहता ने दावा किया कि बदलाव को ग्राहकों ने काफी पसंद किया है। उन्होंने कहा कि नये नाम को लेकर नियम की मंजूरी की प्रतीक्षा है। अगले कुछ महीनों में संशोधित नाम के साथ उत्पाद बाजार में उपलब्ध होगा।

 

शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 344 अंक टूटा, निफ्टी में भी 99 अंक का नुकसान

शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 344 अंक टूटा, निफ्टी में भी 99 अंक का नुकसान

मुंबई। जून के डेरिवेटिव्स अनुबंधों के निपटान से पहले एचडीएफसी बैंक, एचडीएफसी, इन्फोसिस तथा आईसीआईसीआई बैंक के शेयरों में गिरावट से बृहस्पतिवार को सेंसेक्स 300 से अधिक अंक के नुकसान के साथ खुला। कारोबारियों ने कहा कि कमजोर वैश्विक रुख से भी बाजार की धारणा प्रभावित हुई। बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 34,499.78 अंक के निचले स्तर को छूने के बाद 343.59 अंक या 0.99 प्रतिशत के नुकसान के साथ 34,525.39 अंक पर कारोबार कर रहा था।इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 99.10 अंक या 0.96 प्रतिशत के नुकसान के साथ 10,206.20 अंक पर था। सेंसेक्स की कंपनियों में इन्फोसिस का शेयर सबसे अधिक तीन प्रतिशत नीचे आया। एचडीएफसी बैंक, एक्सिस, बैंक, इंडसइंड बैंक, एशियन पेंट्स, आईसीआईसीआई बैंक तथा एचडीएफसी के शेयर भी नुकसान में थे। वहीं दूसरी ओर बजाज ऑटो, आईटीसी, एनटीपीसी, अल्ट्राटेक सीमेंट और रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर लाभ में थे।
Previous12345Next