कोरोना अपडेट: प्रदेश में आज 12665 ने जीती कोरोना से जंग, कुल 6577 नए मरीज मिले 149 मृत्यु भी, देखे जिलेवार आकड़े    |    लॉन्च हुई 2डीजी दवा, कोरोना संक्रमण से जंग में कैसे करेगी मदद? जानिए सब कुछ    |    आईसीएमआर अपडेट : राज्य में मिले 5294 कोरोना पॉजिटिव, 21 जिलों में सौ से अधिक मिले मरीज, देखे जिलेवार आकड़े    |    सेक्स रैकेट : पुलिस ने छापा मारकर देह व्यपार का किया खुलासा, मौके से दो युवक और दो युवती गिरफ्तार    |    दो पक्षों के बीच विवाद में गोली लगने से एक महिला की मौत, तीन अन्य घायल    |    चक्रवाती तूफान तौकते हुआ विनाशकारी, 5 राज्यों में अब तक 11 लोगों की मौत    |    बड़ी खबर: जानिए आखिर किस मामले में सीबीआई ने 4 नेताओं को किया गिरफ्तार    |    ममता बनर्जी के मंत्रियों-नेताओं पर सीबीआई ने कसा शिंकजा, यहां जानें क्या है मामला    |    रक्षा मंत्री व केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने लॉन्च की कोरोना की स्वदेशी दवा 2DG    |    कोरोना अपडेट: देश में 24 घंटों में 2 लाख 81 हजार नए मामले आए, 4106 लोगों की हुई मौत    |

IDBI Bank को PCA Framework से बाहर निकाला गया

IDBI Bank को PCA Framework से बाहर निकाला गया
Share

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने IDBI बैंक को प्रॉम्प्ट करेक्टिव एक्शन (Prompt Corrective Action-PCA) फ्रेमवर्क से बाहर निकाल दिया है। IDBI बैंक को इसके वित्तीय प्रदर्शन में सुधार के परिणामस्वरूप चार साल के बाद इस ढांचे से हटा दिया गया है। भारतीय रिजर्व बैंक ने मई, 2017 में IDBI बैंक को PCA ढांचे के तहत सूचीबद्ध किया था। इसका कारण यह है कि बैंक ने पूंजी पर्याप्तता (capital adequacy), उत्तोलन अनुपात (leverage ratio), परिसंपत्ति की गुणवत्ता (asset quality) और परिसंपत्तियों पर रीटर्न (return on assets) के लिए सीमाएं तोड़ दी थीं। मार्च, 2017 के महीने में शुद्ध एनपीए 13% से अधिक था। 31 दिसंबर, 2020 के अंत तक, यह नोट किया गया था कि बैंक नियामक पूंजी, उत्तोलन अनुपात और शुद्ध एनपीए पर पीसीए मापदंडों का उल्लंघन नहीं कर रहा था। इसने उस तिमाही में 378 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ दर्ज किया। इस प्रकार, इसे नियामक फ्रेमवर्क से हटा दिया गया था। Prompt Corrective Action (PCA) यह एक फ्रेमवर्क है जिसके तहत कमजोर वित्तीय मैट्रिक्स वाले बैंकों को केंद्रीय बैंक द्वारा नियमन के तहत रखा जाता है। आरबीआई द्वारा 2002 में यह फ्रेमवर्क पेश किया गया था। यह उन बैंकों के लिए एक संरचित प्रारंभिक हस्तक्षेप तंत्र है जो खराब गुणवत्ता वाले हैं या घाटे की वजह से कमजोर हैं। PCA को बैंकिंग क्षेत्र में नॉन-परफॉर्मिंग एसेट्स (एनपीए) के मुद्दे की जांच के उद्देश्य से लॉन्च किया गया था। यह फ्रेमवर्क केवल वाणिज्यिक बैंकों पर लागू होता है। 


Share

Leave a Reply