कोरोना अपडेट: प्रदेश में आज 12665 ने जीती कोरोना से जंग, कुल 6577 नए मरीज मिले 149 मृत्यु भी, देखे जिलेवार आकड़े    |    लॉन्च हुई 2डीजी दवा, कोरोना संक्रमण से जंग में कैसे करेगी मदद? जानिए सब कुछ    |    आईसीएमआर अपडेट : राज्य में मिले 5294 कोरोना पॉजिटिव, 21 जिलों में सौ से अधिक मिले मरीज, देखे जिलेवार आकड़े    |    सेक्स रैकेट : पुलिस ने छापा मारकर देह व्यपार का किया खुलासा, मौके से दो युवक और दो युवती गिरफ्तार    |    दो पक्षों के बीच विवाद में गोली लगने से एक महिला की मौत, तीन अन्य घायल    |    चक्रवाती तूफान तौकते हुआ विनाशकारी, 5 राज्यों में अब तक 11 लोगों की मौत    |    बड़ी खबर: जानिए आखिर किस मामले में सीबीआई ने 4 नेताओं को किया गिरफ्तार    |    ममता बनर्जी के मंत्रियों-नेताओं पर सीबीआई ने कसा शिंकजा, यहां जानें क्या है मामला    |    रक्षा मंत्री व केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने लॉन्च की कोरोना की स्वदेशी दवा 2DG    |    कोरोना अपडेट: देश में 24 घंटों में 2 लाख 81 हजार नए मामले आए, 4106 लोगों की हुई मौत    |

किसानो के हित में बृजमोहन अग्रवाल ने सरकार से की शीघ्र मुआवजे की मांग, जानिए पूरा मामला

 किसानो के हित में बृजमोहन अग्रवाल ने सरकार से की शीघ्र मुआवजे की मांग, जानिए पूरा मामला
Share

रायपुर। प्रदेश में हो रही बेमौसम बारिश और ओला वृष्टि से रबी फसल और सब्जियों की खेती को हुए नुकसान पर किसानों को आरबीसी 6-4 के तहत अतिशीघ्र मुआवजा देने की मांग विधायक एवं पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने मुख्यमंत्री भुपेश बघेल से की है। 

बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि बीते कुछ दिनों से प्रदेश के जशपुर, कोरिया,सरगुजा, महासमुंद,कवर्धा,  बेमेतरा, धमतरी, बालोद, कोरबा, दुर्ग,कांकेर,रायगढ़, जगदलपुर, रायपुर सहित विभिन्न जिलों में हवा-तूफान के साथ असमय बरसात तथा ओला वृष्टि हुई है। यह क्रम निरंतर जारी है। इस वजह से बहुत से किसानों के धान व दलहन तिलहन की फसल खराब हो गई है। सब्जियों, फलों और फूलों  की खेती करने वाले किसानों को भी बड़ा नुकसान हुआ है। वे गंभीर आर्थिक संकट में फस गए है। ये किसान खेती के लिए कर्ज लिए हुए है पर इन हालातों के चलते अब उनकी स्थिति कर्ज चुकाने की बिल्कुल भी नही है।

उन्होंने कहा कि किसानों ने सरकार को 2500 रुपये प्रति क्विंटल के हिसाब से जो धान बेचा है उसमें उन्हें प्रति क्विंटल 1815 और 1835 ही प्राप्त हुआ है। अंतर की राशि अभी तक उन्हें नहीं मिली है। जबकि सरकार ने फरवरी के बजट सत्र से 5000 करोड़ की राशि स्वीकृत कर चुकी है। आज किसानों का वक्त बुरा है ऐसे में सरकार द्वारा यह राशि भी नही दिये जाने से उनकी हालत और भी खराब हो गई है। यह राशि भी किसानों के खातों में अविलंब जमा करना चाहिए।तथा किसानों को उनके फसलों की बीमा राशि  भुगतान की कार्यवाही भी जल्द की जानी चाहिए। बृजमोहन ने राज्य सरकार से आग्रह करते हुए कहा कि बेमौसम बरसात और ओलावृष्टि से प्रभावित किसानों की खेती के नुकसान का सर्वे कराकर  आरबीसी 6/4 पीड़ित किसानों को अतिशीघ्र मुआवजा दिया जाए। 

Share

Leave a Reply