कोरोना अपडेट: प्रदेश में आज 12665 ने जीती कोरोना से जंग, कुल 6577 नए मरीज मिले 149 मृत्यु भी, देखे जिलेवार आकड़े    |    लॉन्च हुई 2डीजी दवा, कोरोना संक्रमण से जंग में कैसे करेगी मदद? जानिए सब कुछ    |    आईसीएमआर अपडेट : राज्य में मिले 5294 कोरोना पॉजिटिव, 21 जिलों में सौ से अधिक मिले मरीज, देखे जिलेवार आकड़े    |    सेक्स रैकेट : पुलिस ने छापा मारकर देह व्यपार का किया खुलासा, मौके से दो युवक और दो युवती गिरफ्तार    |    दो पक्षों के बीच विवाद में गोली लगने से एक महिला की मौत, तीन अन्य घायल    |    चक्रवाती तूफान तौकते हुआ विनाशकारी, 5 राज्यों में अब तक 11 लोगों की मौत    |    बड़ी खबर: जानिए आखिर किस मामले में सीबीआई ने 4 नेताओं को किया गिरफ्तार    |    ममता बनर्जी के मंत्रियों-नेताओं पर सीबीआई ने कसा शिंकजा, यहां जानें क्या है मामला    |    रक्षा मंत्री व केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने लॉन्च की कोरोना की स्वदेशी दवा 2DG    |    कोरोना अपडेट: देश में 24 घंटों में 2 लाख 81 हजार नए मामले आए, 4106 लोगों की हुई मौत    |

किस बात पर थरूर ने प्रधानमंत्री से मांगी माफ़ी... पढ़े पूरी खबर

किस बात पर थरूर ने प्रधानमंत्री से मांगी माफ़ी... पढ़े पूरी खबर
Share

नई दिल्ली । अपने बांग्लादेश प्रवास के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दिए एक भाषण पर गलत टिप्पणी करने के लिए कांग्रेस नेता शशि थरूर ने माफी मांगी है। बता दें, थरूर ने शनिवार सुबह एक ट्वीट के जरिये अपनी गलती स्वीकारते हुए लिखा, `जब मैं गलत होता हूं तो स्वीकार करने में कोई समस्या नहीं होती।` उन्होंने अपने ट्वीट में आगे सॉरी भी लिखा।
क्या है पूरा मामला
प्रधानमंत्री मोदी ने बांग्लादेश की 50 वीं वर्षगांठ के अवसर पर ढाका में अपने भाषण के दौरान कहा था, ‘मैं 20-22 साल का था, जब मैंने अपने दोस्तों के साथ मिलकर बांग्लादेश की स्वतंत्रता के लिए सत्याग्रह किया था। मुझे यहां तक कि गिरफ्तार किया गया था।’ बस फिर क्या था कुछ समाचार पत्रों के शीर्षक पढ़ने के बाद कांग्रेस नेता थरूर इस नतीजे पर पहुंच गए कि ढाका में अपने भाषण के दौरान बांग्लादेश की आजादी में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की महत्वपूर्ण भूमिका को दरकिनार कर दिया।
थरूर को लगा कि प्रधानमंत्री मोदी ने अपने भाषण में बांग्लादेश की आजादी को लेकर केवल अपना योगदान बताया। दरअसल, थरूर ने अपने ट्वीट में इस बात को स्वीकारा कि वह केवल समाचार पत्रों के शीर्षक पढ़कर इस नतीजे पर पहुंच गए। उन्होंने पूरी खबर पढ़ने की जुगत नहीं की और प्रधानमंत्री के खिलाफ जल्दबाजी में एक ट्वीट कर दिया।
कांग्रेस नेता ने किया था यह ट्वीट
माफी मांगने वाले ट्वीट से पहले शुक्रवार को शशि थरूर ने ट्वीट कर कहा था, ‘अंतरराष्ट्रीय शिक्षा: हमारे पीएम बांग्लादेश को भारतीय फेक न्यूज का स्वाद चखा रहे हैं। हैरानी की बात यह है कि हर कोई जानता है कि बांग्लादेश को किसने आजाद कराया।’
गौरतलब है कि थरूर के अलावा अन्य नेताओं ने भी बिना जाने समझे प्रधानमंत्री के बयान को लेकर उनकी खिंचाई की थी। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मोदी द्वारा बांग्लादेश के स्वतंत्रता संघर्ष में शामिल होने वाले बयान पर कहा, ‘यह सबसे तेज गेंदबाज से भी तेज फेंकते हैं। लोगों ने अब विश्वास करना छोड़ दिया है। विदेश में जाकर इस प्रकार की बातें कहना हास्यास्पद है।’
वहीं, पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के बेटे अभिजीत ने ट्वीट किया, ‘आज पीएम मोदी बांग्लादेश की स्वतंत्रता के 50 वर्ष का समारोह मनाने गए! क्या उन्होंने कभी हमारी पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी और मेरे पिता स्वर्गीय प्रणब मुखर्जी की भूमिका को स्वीकार किया? शायद इसलिए नहीं क्योंकि उनका अपना राजनीतिक एजेंडा है जिसे पूरा करने के लिए वह बेचैन हैं।’
अपने भाषण में प्रधानमंत्री ने क्या कहा था?
पीएम मोदी ने अपने भाषण में कहा गया था कि उन्होंने बांग्लादेश की मुक्ति के लिए सत्याग्रह किया था और इसके लिए उन्हें जेल भी हुई थी। साथ ही उन्होंने यह भी कहा, ‘बांग्लादेश के स्वाधीनता संग्राम को भारत के कोने-कोने से, हर पार्टी से, समाज के हर वर्ग से समर्थन प्राप्त था। तत्कालीन प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी जी के प्रयास और उनकी महत्वपूर्ण भूमिका सर्वविदित है। उसी दौर में 6 दिसंबर 1971 को अटल बिहारी वाजपेयी जी ने कहा था कि हम न केवल मुक्ति संग्राम में अपने जीवन की आहुति देने वालों के साथ लड़ रहे हैं, हम इतिहास को भी एक नई दिशा देने के लिए प्रयत्न कर रहे हैं।’
उल्लेखनीय है कि भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध के बाद वर्ष 1971 में बांग्लादेश ने अपनी स्वतंत्रता हासिल की थी। बांग्लादेश अब अपनी आजादी की स्वर्ण जयंती मना रहा है।
 


Share

Leave a Reply