कोरोना अपडेट: प्रदेश में आज 14250 नए मरीजो की हुई पहचान, रायपुर में 4 हजार के करीब समेत इन जिलो से मिले इतने ..    |    खतरनाक हुआ कोरोना, RT-PCR टेस्ट को भी दे रहा है गच्चा, CT-Scan और ब्रोंकोस्कोपी की लेनी पड़ रही मदद    |    कोरोना अपडेट: आईसीएमआर के मुताबिक आज प्रदेश में 11694 मरीजो की पुष्टि, अकेले रायपुर से 3 हजार से अधिक समेत बाकी इन जिलो से...    |    यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कोरोना वायरस से संक्रमित, खुद दी जानकारी    |    बड़ी खबर: सीबीएसई बोर्ड परीक्षा को लेकर प्रधानमंत्री ने बुलाई उच्चस्तरीय बैठक, शिक्षा मंत्री भी रहेंगे मौजूद    |    सरकार ने रेमडेसिविर को लेकर कही ये बड़ी बात, अब सिर्फ ये ही कर सकेंगे इस्तेमाल    |    कोरोना अपडेट: कोरोना ने तोड़े सारे रिकॉर्ड देश में 24 घंटे में 1.85 लाख नए मरीज, 1027 की मौत    |    कोरोना अपडेट: छ ग में आज 15 हजार से अधिक मिले, 109 की मृत्यु के साथ रायपुर में रिकॉर्ड तोड़ 4168 समेत इन जिलो से इतने मरीज    |    क्या देश में है रेमडेसिविर दवा की कमी? जानिए केंद्र सरकार ने इसको लेकर क्या जवाब दिया है    |    रात्रि 8.30 बजे राज्य को करेंगे संबोधित मुख्यमंत्री, लॉकडाउन की चर्चा हुई तेज...    |

बड़ी खबर: पिता की मौत की खबर सुन बेटी ने किया आत्महत्या

 बड़ी खबर: पिता की मौत की खबर सुन बेटी ने किया आत्महत्या
Share

हरियाणा। हरियाणा के कैथल जिले के गांव खानपुर से एक मामला सामने आया है जहां, पिता की मौत की सूचना मिलते ही बेटी ने भी जहरीला पदार्थ खाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। अनाज मंडी चौकी पुलिस ने मृतका के चचेरे भाई बयान दर्ज कर 174 के तहत कार्रवाई की है। बता दें कि 48 वर्षीय बलकार सैनी हलवाई का काम करता था। उनका परिवार अब कुतुबपुर रोड बालाजी नगर में रहता था। उसे कई सालों से कैंसर थी और उसका इलाज चल रहा था। कुछ दिन पहले ही उसे इलाज के लिए चंडीगढ़ पीजीआइ में भर्ती करवाया गया था। बीते दिनों बीमारी के कारण मौत हो गई। मौत की सूचना जैसे ही 24 वर्षीय काजल को प्राप्त हुई तो उसने जहरीला पदार्थ खाकर अपनी जान दे दी। 

जानकारी के अनुसार काजल आइजी कॉलेज में बीएससी फाइनल की छात्रा थी। डेढ साल पहले ही मां शीला देवी की बीमारी के कारण मौत हो गई थी। अब घर में बड़ा भाई और भाभी रह गई हैं। मृतका के परिजनों ने बताय कि काजल हमेशा कहती थी कि वह अपने पिता के साथ ही चली जाएगी, लेकिन उस समय स्वजनों को यह अंदाजा नहीं था कि वह सच में ही ऐसा कर देगी। पिता का अंतिम संस्कार किया गया और अगले दिन बेटी का अंतिम संस्कार हुआ।

 


Share

Leave a Reply