कोरोना अपडेट : छत्तीसगढ़ के न्यायधानी से आज मिले सर्वाधिक मरीज, प्रदेश में हुई इतने नए मरीजों की पहचान, देखें जिलेवार आंकड़े    |    मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट, आज इन राज्यों में बारिश की संभावना...    |    कोरोना अपडेट : प्रदेश के इन दो जिलों में हुआ कोरोना विस्फोट, प्रदेश में आज इतने नए मरीजों की हुई पहचान, देखें जिलेवार आंकड़े    |    कोरोना : देश में कोरोना मामलों में बढ़ोतरी ने फिर पैदा की चिंता    |    राजधानी में गिरा पारा, इन राज्यों में भारी बारिश का येलो अलर्ट जारी...    |    कोरोना अपडेट : छत्तीसगढ़ के इस जिले में फटा कोरोना बम, प्रदेश में आज इतने नए कोरोना मरीजों की हुई पहचान, देखें जिलेवार आंकड़े    |    CG कोरोना अपडेट : प्रदेश के इस जिले में सर्वाधिक मरीज, आज इतने कोरोना मरीजों की हुई पहचान, देखें जिलेवार आंकड़े    |    बड़ी खबर: कोरोना से हुई मौत के लिए सरकार ने तय किया मुआवजा, पीड़ित परिवार को मिलेंगे इतने हजार रुपये    |    मौसम विभाग ने जारी किया ऑरेंज अलर्ट, इन राज्यों में भारी बारिश की संभावना...    |    कोरोना अपडेट : प्रदेश के इस जिले में फटा कोरोना बम, छत्तीसगढ़ में आज इतने कोरोना मरीजों की हुई पहचान, देखें जिलेवार आंकड़े    |

बड़ी खबर: पान मसाला कंपनी पर आयकर का शिकंजा, 400 करोड़ रुपए के काले कारोबार का हुआ खुलासा

बड़ी खबर: पान मसाला कंपनी पर आयकर का शिकंजा, 400 करोड़ रुपए के काले कारोबार का हुआ खुलासा
Share

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने उत्तर भारत के एक पान मसाला उत्पादन समूह पर छापेमारी में 400 करोड़ रुपए से अधिक के बेनामी लेनदेन पकड़े जाने की बात कही है। इनकम टैक्स विभाग ने गुरुवार को कानपुर, दिल्ली, नोएडा, गाजियाबाद और कोलकाता में कंपनी के 31 परिसरों में छापेमारी की। यह समूह रियल स्टेट बिजनेस भी करता है।
सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेज (CBDT) ने समूह के नाम का खुलासा किए बिना कहा, ''शुरुआती आंकड़े 400 करोड़ से अधिक के बेनामी लेनदेन की ओर इशारा कर रहे हैं।'' सीबीडीटी आईटी डिपार्टमेंट के लिए पॉलिसी तैयार करता है। सीबीडीटी की ओर से कहा गया है, ''समूह पान मसाला की बेनामी बिक्री और रियल स्टेट के बेनामी कारोबार से बड़ी रकम अर्जित कर रहा है।'' मुखौटा कंपनियों के माध्यम से पैसा वापस लाया जाता था।
छापेमारी के दौरान 52 लाख रुपए कैश और 7 किलो सोना भी बरामद किया गया। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की कार्रवाई में कागजों में मौजूद कंपनियों के नेटवर्क का पता चला, जिनके डायरेक्टर्स के पास कोई आर्थिक साधन नहीं है। इन कंपनियों ने रियल स्टेट समूह को तीन साल में 266 करोड़ रुपए का कथित लोन और अडवांस दिया। बयान में कहा गया है कि 115 मुखौटा कपनियों का नेटवर्क पाया गया है।

 


Share

Leave a Reply