कोरोना अपडेट: छ ग में आज 15 हजार से अधिक मिले, 109 की मृत्यु के साथ रायपुर में रिकॉर्ड तोड़ 4168 समेत इन जिलो से इतने मरीज    |    क्या देश में है रेमडेसिविर दवा की कमी? जानिए केंद्र सरकार ने इसको लेकर क्या जवाब दिया है    |    रात्रि 8.30 बजे राज्य को करेंगे संबोधित मुख्यमंत्री, लॉकडाउन की चर्चा हुई तेज...    |    छग कोरोना अपडेट: आईसीएमआर के मुताबिक आज शाम तक 10748 नये मरीजो की हुई पुष्टि, रायपुर से अकेले 3293 समेत बाकी इन जिलो से...    |    छत्तीसगढ़ से राज्य सभा की ये सांसद हुई कोरोना संक्रमित, दिल्ली AIIMS में हुई भर्ती    |    इस दिन इतने समय के लिए पुरे भारत में बंद रहेगी आरटीजीएस की सुविधा    |    देश में पिछले 24 घंटे में 1.61 लाख कोरोना के नए मरीज मिले, 879 की गई जान, जानिये क्या है टीकाकरण का हाल    |    BIG BREAKING : छत्तीसगढ़ में आज कोरोना से मौत का आंकड़ा 100 के पार, प्रदेश में आज साढ़े 13 हजार नए मरीजों की हुई पहचान, देखें जिले वार आंकड़े    |    BIG BREAKING : राजधानी के इन 14 निजी अस्पतालों को सरकार ने पूरी तरह से कोरोना अस्पताल किया घोषित, देखें आदेश    |    BIG BREAKING : राजधानी में आज रिकॉर्ड तोड़ 11491 नए कोरोना मरीजों की हुई पहचान, राजधानी में आज 72 कोरोना मरीजों की हुई मौत    |

सीमा विवाद के चलते ग्रामीणों के दो पक्षों के बीच मारपीट, लिया बलवा का रूप कई लोग घायल

सीमा विवाद के चलते ग्रामीणों के दो पक्षों के बीच मारपीट, लिया बलवा का रूप कई लोग घायल
Share

बालोद। सीमा विवाद को लेकर दो गांवों के ग्रामीणों में आपसी तनातनी ने आज बलवा रूप ले लिया। पटवारी को सीमांकन प्रस्ताव देने पहुंचे ग्रामीण आपस में ही भिड़ गए। झूमझटकी में कई लोग जख्मी हो गए जिन्हें इलाज के लिए शासकीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहीं मामले की जानकारी के बाद पुलिस आवश्यक कार्यवाही में जुटी हुई है।

गुरुर ब्लॉक के ग्राम पंचायत पेंवरो और ग्राम पंचायत घोघोपूरी के ग्रामीणों के बीच झूमाझटकी हुई है। दरअसल दोनों गांवों के बीच एक नाला है जिसे लेकर पूरा विवाद खड़ा हुआ है। दोनों गांव के ग्रामीण चाहते हैं कि नाला उनके गांव की सीमा में दिया जाए। पटवारी को इसके लिए दोनों पक्षों से प्रस्ताव मिले हैं जिसके बाद वह भी दुविधा में हैं। इसके चलते सीमांकन का कार्य अटका हुआ है।

जिस गांव में होगा नाला वहां के ग्रामीणों को ही मिलेगा रोजगार-
लॉकडाउन के चलते ग्रामीण इलाकों में आर्थिक संकट की स्थिति निर्मित हो गई है। भारत सरकार रोजगार गारंटी कार्यक्रम के तहत जॉब कार्डधारियों को रोजगार उपलब्ध करा रही है। जिसमें ग्रामसभा के माध्यम से रोजगार कार्य का चयन कर शासन को भेजा जाता है। तत्पश्चात शासन से स्विकृति मिलने पर काम शुरू किया जाता है। आने वाले समय में नाले से संबंधित कार्यों का प्रस्ताव मिलने पर उसी गांव के लोगों को वहां काम मिलेगा जिस गांव में नाला है। यही वजह है कि दोनों गांव के ग्रामीणों के बीच विवाद की स्थिति बन गई है।


Share

Leave a Reply