कोरोना अपडेट: प्रदेश में आज 12665 ने जीती कोरोना से जंग, कुल 6577 नए मरीज मिले 149 मृत्यु भी, देखे जिलेवार आकड़े    |    लॉन्च हुई 2डीजी दवा, कोरोना संक्रमण से जंग में कैसे करेगी मदद? जानिए सब कुछ    |    आईसीएमआर अपडेट : राज्य में मिले 5294 कोरोना पॉजिटिव, 21 जिलों में सौ से अधिक मिले मरीज, देखे जिलेवार आकड़े    |    सेक्स रैकेट : पुलिस ने छापा मारकर देह व्यपार का किया खुलासा, मौके से दो युवक और दो युवती गिरफ्तार    |    दो पक्षों के बीच विवाद में गोली लगने से एक महिला की मौत, तीन अन्य घायल    |    चक्रवाती तूफान तौकते हुआ विनाशकारी, 5 राज्यों में अब तक 11 लोगों की मौत    |    बड़ी खबर: जानिए आखिर किस मामले में सीबीआई ने 4 नेताओं को किया गिरफ्तार    |    ममता बनर्जी के मंत्रियों-नेताओं पर सीबीआई ने कसा शिंकजा, यहां जानें क्या है मामला    |    रक्षा मंत्री व केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने लॉन्च की कोरोना की स्वदेशी दवा 2DG    |    कोरोना अपडेट: देश में 24 घंटों में 2 लाख 81 हजार नए मामले आए, 4106 लोगों की हुई मौत    |

15 मिनट में कोरोना वायरस का पता बतानेवाली नई किट का विकास, जानिए मशीन की और क्या है खासियत

15 मिनट में कोरोना वायरस का पता बतानेवाली नई किट का विकास, जानिए मशीन की और क्या है खासियत
Share

वैज्ञानिकों ने कोविड-19 की 15 मिनट में पहचान करनेवाली लैपटॉप के आकार की नई मशीन बनाई है. दावा है कि पोर्टेबल टेस्ट से अत्यंत संक्रामक वैरिएन्ट का भी पता चल सकता है. कोरोना वायरस की जांच करनेवाली मशीन को साल्क इंस्टीट्यूट फोर बायोलोजिकल स्टडीज, कैलिफोर्निया ने विकसित किया है.

लैपटॉप के आकार की मशीन बताएगी कोरोना के नतीजे

निर्वाणा (NIRVANA) टेस्ट एक ही समय में इन्फ्लुएंजा जैसे मिलते-जुलते लक्षणों वाले अन्य वायरस का भी खुलासा कर सकता है. मशीन वायरस के म्यूटेशन को स्पष्ट करने के लिए मात्र तीन घंटे में जेनेटिक सिक्वेंसिंग का भी काम कर सकती है. इससे जन स्वास्थ्य विशेषज्ञों को निर्धारित करने में मदद मिल सकती है कि वायरस कितनी तेजी से फैल रहा है.

प्रेस रिलीज में कहा गया, "ये वायरस का सुराग लगानेवाला और सर्विलांस का तरीका है जिसे महंगे ढांचे की आवश्यकता नहीं होगी. हम एक ही पोर्टेबल टेस्ट से उसी काम को पूरा कर सकते हैं जिसको करने के लिए दो या तीन विभिन्न टेस्ट और मशीनों का इस्तेमाल होता है." वर्तमान में कोविड-19 मरीजों की टेस्टिंग के लिए पोलीमरेज चेन रिएक्शन (पीसीआर) टेस्ट की प्रक्रिया शामिल होती है. पीसीआर टेस्ट को उच्च मानक का टेस्ट समझा जाता है जो वायरस के जेनेटिक मैटेरियल की तलाश करता है.


पोर्टेबल टेस्ट का स्कूल, एयरपोर्ट पर हो सकेगा इस्तेमाल

वैज्ञानिकों का कहना है कि टेस्ट से मात्र 15 मिनट में निगेटिव या पॉजिटिव की रिपोर्ट का खुलासा हो जाएगा. मशीन की टेस्टिंग के नतीजे को मेड पत्रिका में प्रकाशित किया गया है. सऊदी अरब में किंग अब्दुल्लाह साइंस एंड टेक्नोलॉजी के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉक्टर मो ली ने कहा "हमें जल्द ही एहसास हो गया है कि हम इस तकनीक का इस्तेमाल न सिर्फ सार्स-कोव-2 का पता लगाने में कर सकते हैं बल्कि एक ही वक्त में अन्य वायरस की भी पहचान कर सकते हैं."

कोविड-19 की तरह एन्फ्लूएंजा की की जांच करने के लिए ली और इजपिसुआ बेलमोन्टे ने निर्वाणा का डिजाइन तैयार किया है. ली और इजपिसुआ बेलमोन्टे ने कहा है कि मशीन एक वक्त में 96 सैंपल की जांच कर सकती है. उसके छोटे आकार के कारण उसका इस्तेमाल वायरस का पता लगाने में स्कूल या एयरपोर्ट पर किया जा सकता है. इजपिसुआ बेलमोन्टे ने कहा, "महामारी ने दो महत्वपूर्ण सबक सिखाया है: पहला, जल्दी और बड़े पैमाने पर जांच और दूसरा, अपने वैरिएन्ट्स को जानें. हमारी निर्वाणा पद्धति वर्तमान महामारी की इन दो चुनौतियों के लिए आशाजनक समाधान पेश करती है." 


Share

Leave a Reply