कोरोना अपडेट: प्रदेश में आज 12665 ने जीती कोरोना से जंग, कुल 6577 नए मरीज मिले 149 मृत्यु भी, देखे जिलेवार आकड़े    |    लॉन्च हुई 2डीजी दवा, कोरोना संक्रमण से जंग में कैसे करेगी मदद? जानिए सब कुछ    |    आईसीएमआर अपडेट : राज्य में मिले 5294 कोरोना पॉजिटिव, 21 जिलों में सौ से अधिक मिले मरीज, देखे जिलेवार आकड़े    |    सेक्स रैकेट : पुलिस ने छापा मारकर देह व्यपार का किया खुलासा, मौके से दो युवक और दो युवती गिरफ्तार    |    दो पक्षों के बीच विवाद में गोली लगने से एक महिला की मौत, तीन अन्य घायल    |    चक्रवाती तूफान तौकते हुआ विनाशकारी, 5 राज्यों में अब तक 11 लोगों की मौत    |    बड़ी खबर: जानिए आखिर किस मामले में सीबीआई ने 4 नेताओं को किया गिरफ्तार    |    ममता बनर्जी के मंत्रियों-नेताओं पर सीबीआई ने कसा शिंकजा, यहां जानें क्या है मामला    |    रक्षा मंत्री व केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने लॉन्च की कोरोना की स्वदेशी दवा 2DG    |    कोरोना अपडेट: देश में 24 घंटों में 2 लाख 81 हजार नए मामले आए, 4106 लोगों की हुई मौत    |

पीपल के पेड़ में जल चढ़ाने से विवाह बाधा होती है दूर, जानिए कैसे

पीपल के पेड़ में जल चढ़ाने से विवाह बाधा होती है दूर, जानिए कैसे
Share

पीपल के पेड़ की मान्यता भारतीय सनातन धर्म में अत्यधिक है. पीपल शनिदेव के दोषों को दूर करने, भगवान विष्णु को प्रसन्न करने और विवाह बाधा दूर करने में सहायक है.
भगवान श्रीकृष्ण ने भगवद गीता में स्वयं कहा है, वृक्षों में मैं पीपल हूं. यही कारण है कि कुछ अत्यंत पूजनीय वृक्षों में पीपल का स्थान सर्वोच्च है. पीपल की पूजा न सिर्फ देवताओं को प्रसन्न करने के लिए की जाती है, बल्कि ग्रह-नक्षत्रों के दोषों को शांत करने के लिए भी की जाती है. ग्रहजनित पीड़ाओं को दूर करने में पीपल के समान कोई अन्य वृक्ष नहीं है. यह समस्त दशाओं को अनुकूल बनाने की क्षमता रखता है.
वैज्ञानिक दृष्टि से पीपल चौबीस घंटे आक्सीजन छोड़ने वाला पेड़ है. ऐसा विश्वास है कि पीपल की निरंतर पूजा अर्चना कर परिक्रमा करते हुए जल चढ़ाने से संतान की प्राप्ति होती है. व्यक्ति को मनोवांछित फल प्राप्त होते हैं. इसके साथ ही अदृश्य आत्माएँ तृप्त होकर सहायक हो जाती हैंं. इस पेड़ पर ही पितरों का वास माना गया है. किसी मनोकामना की पूर्ति के लिए भी इसके चारों ओर कच्चा सूत लपेटते हुए परिक्रमा करने की प्रथा है.
ऐसी मान्यता है कि पीपल के वृक्ष के जड़ में लगातार 43 दिन तक जल डालने और दीपक जलाने से विवाह के शीघ्र तय होने के योग बनते हैं. रविवार को तथा निषेध काल में जल नहीं चढ़ाना चाहिए. इस समय नकारात्मक शक्तियों का वास होता है. 


Share

Leave a Reply