कोरोना अपडेट: प्रदेश में हो रही है कोरोना की रफ़्तार कम आज 10144 ने जीती कोरोना से जंग, कुल 4888 नए मरीज मिले 144 मृत्यु भी, देखे जिलेवार आकड़े    |    आईसीएमआर अपडेट : राज्य में मिले 4166 कोरोना पॉजिटिव, 19 जिलों में सौ से अधिक मिले मरीज, देखे बाकी जिलों के आकड़े    |    उपभोक्‍ता कार्य, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय ने उचित मूल्य की दुकानों के खुला रखने को लेकर कही ये बात    |    पीएम मोदी ने दिए ऑडिट के आदेश, पढ़े पूरी खबर    |    कोरोना अपडेट: देश में 24 घंटे में 3.11 लाख लोग हुए संक्रमित, 4 हजार से ज्यादा मौत    |    कोरोना अपडेट: प्रदेश में हो रही है कोरोना की रफ़्तार कम आज 11475 ने जीती कोरोना से जंग, कुल 7664 नए मरीज मिले 129 मृत्यु भी, देखे जिलेवार आकड़े    |    आईसीएमआर अपडेट : राज्य में मिले 6918 कोरोना पॉजिटिव, आज रायगढ़ में सर्वाधिक, देखे बाकी जिलों के आकड़े    |    स्वास्थ्यकर्मियों को वैक्सीन की पहली खुराक देने में छत्तीसगढ़ बना नंबर वन, दूसरे नंबर पर ये प्रदेश    |    राहुल गांधी का पीएम पर तंज, कहा- आपने तो मां गंगा को रुला दिया    |    प्रधानमंत्री मोदी का राज्यों को सख्त आदेश, तुरंत इंस्टॉल किए जाएं स्टोरेज में पड़े वेंटिलेटर्स    |

कोरोना मरीज की मौत की पाँच दिनों तक इत्तिला नहीं करना और शव को सड़ी-गली दशा में रखना निकृष्टतम कार्यप्रणाली अमानवीयता की पराकाष्ठा :गौरीशंकर

कोरोना मरीज की मौत की पाँच दिनों तक इत्तिला नहीं करना और शव को सड़ी-गली दशा में रखना निकृष्टतम कार्यप्रणाली अमानवीयता की पराकाष्ठा :गौरीशंकर
Share

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व विधानसभा अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल ने बिलासपुर के पं. सुंदरलाल शर्मा विश्वविद्यालय स्थित आइसोलेशन सेंटर में भर्ती मरीज की मौत के बाद भी पाँच दिनों तक परिजनों को इसकी इत्तिला नहीं दिए जाने और मरच्युरी में शव को सड़ी-गली दशा में रखे जाने पर इसे प्रदेश सरकार और स्वास्थ्य विभाग की निकृष्टतम कार्यप्रणाली का परिचायक और अमानवीयता की पराकाष्ठा बताया है। श्री अग्रवाल ने कहा कि कोविड सेंटर्स में मरीजों की तो दुर्दशा तो हो ही रही है, प्रदेश सरकार के कारिंदे कोरोना संक्रमितों के शवों की दुर्गति करने में ज़रा भी हिचकिचाहट महसूस नहीं कर रहे हैं।

पूर्व विधानसभा अध्यक्ष श्री अग्रवाल ने कहा कि यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है कि कोरोना संक्रमित पाए जाने पर बिलासपुर के सिम्स अस्पताल से उक्त आइसोलेशन सेंटर में शिफ्ट मरीज नीलमणि शर्मा की तबीयत लगातार बिगड़ रही थी और वहां के ज़िम्मेदार लोग परिजनों को उनके स्वस्थ होने की जानकारी देकर ग़ुमराह करते रहे। इधर हालत और बिगड़ने पर शर्मा को संभागीय कोविड अस्पताल रिफर किया गया और इस दौरान उनकी मौत हो गई। श्री अग्रवाल ने कहा कि शर्मा की खैरियत जानने आइसोलेशन सेंटर पहुँचे परिजनों को उनके बारे में कोई जानकारी नहीं मिली और इसकी शिकायत के बाद भी कोई जानकारी नहीं मिली तो कोनी थाना में इसकी शिकायत की गई और तब परिजनों को शर्मा के कोविड अस्पताल में भर्ती किए जाने की जानकारी हुई। वहाँ पहुँचने के बाद भी परिजन काफी परेशान होते रहे और तब उन्हें शर्मा की 10 अप्रैल को ही मौत हो जाने की जानकारी हुई। श्री अग्रवाल ने कहा कि कोरोना संक्रमितों की मौत के बाद शवों की ऐसी दुर्गति करने और परिजनों को पाँच दिनों तक मौत की सूचना तक नहीं देने का ऐसा संवेदनहीन और अमानवीय कृत्य करने वाली प्रदेश सरकार आख़िर किस मुँह से कोरोना के ख़िलाफ़ ज़ंग लड़ने की बात कर रही है? प्रदेशभर में कोविड सेंटर्स में मरीजों की दुर्दशा के रोज वीडियो वायरल हो रहे हैं, कोरोना मृतकों के सम्मानपूर्वक दाह संस्कार तक की व्यवस्था नहीं कर पाने वाली प्रदेश सरकार को इस बात पर कब शर्म महसूस होगी कि उसके कारिंदे कोरोना मृतकों के शवों को एंबुलेंस के बजाय कचरा वाहन से श्मशानघाट पहुँचाकर शवों का अपमान और शोकाकुल परिजनों की भावनाओं का इतना घिनौना मखौल उड़ा रहे हैं। 


Share

Leave a Reply