कोरोना अपडेट: प्रदेश में आज 14250 नए मरीजो की हुई पहचान, रायपुर में 4 हजार के करीब समेत इन जिलो से मिले इतने ..    |    खतरनाक हुआ कोरोना, RT-PCR टेस्ट को भी दे रहा है गच्चा, CT-Scan और ब्रोंकोस्कोपी की लेनी पड़ रही मदद    |    कोरोना अपडेट: आईसीएमआर के मुताबिक आज प्रदेश में 11694 मरीजो की पुष्टि, अकेले रायपुर से 3 हजार से अधिक समेत बाकी इन जिलो से...    |    यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कोरोना वायरस से संक्रमित, खुद दी जानकारी    |    बड़ी खबर: सीबीएसई बोर्ड परीक्षा को लेकर प्रधानमंत्री ने बुलाई उच्चस्तरीय बैठक, शिक्षा मंत्री भी रहेंगे मौजूद    |    सरकार ने रेमडेसिविर को लेकर कही ये बड़ी बात, अब सिर्फ ये ही कर सकेंगे इस्तेमाल    |    कोरोना अपडेट: कोरोना ने तोड़े सारे रिकॉर्ड देश में 24 घंटे में 1.85 लाख नए मरीज, 1027 की मौत    |    कोरोना अपडेट: छ ग में आज 15 हजार से अधिक मिले, 109 की मृत्यु के साथ रायपुर में रिकॉर्ड तोड़ 4168 समेत इन जिलो से इतने मरीज    |    क्या देश में है रेमडेसिविर दवा की कमी? जानिए केंद्र सरकार ने इसको लेकर क्या जवाब दिया है    |    रात्रि 8.30 बजे राज्य को करेंगे संबोधित मुख्यमंत्री, लॉकडाउन की चर्चा हुई तेज...    |

दुर्लभ बीमारियों के लिए राष्ट्रीय नीति 2021 के संबंध में मंत्रालय ने कहा कि...

दुर्लभ बीमारियों के लिए राष्ट्रीय नीति 2021 के संबंध में मंत्रालय ने कहा कि...
Share

नईदिल्ली। यह हाल ही में समाचार पत्र में प्रकाशित लेख के संबंध में है जिसमें कहा गया है कि दुर्लभ बीमारियों से ग्रसित रोगों के रोगियों को सरकार की आयुष्मान भारत योजना के तहत इलाज मिलेगा। इस संबंध में यह स्पष्ट करना है कि हाल ही में अधिसूचित "दुर्लभ बीमारियों के लिए राष्ट्रीय नीति 2021" में राष्ट्रीय आरोग्य निधि योजना के तहत 20 लाख रुपये तक की वित्तीय सहायता का प्रावधान है, उन दुर्लभ बीमारियों के लिए जिन्हें एक बार उपचार (दुर्लभ बीमारी नीति में समूह 1 के तहत सूचीबद्ध रोग) की आवश्यकता होती है। इस वित्तीय सहायता के लिए लाभार्थी को बीपीएल परिवार से होना जरूरी नहीं है। यानी बीपीएल के बाहर का व्यक्ति भी इसका लाभ उठा सकता है लेकिन यह लाभ लगभग 40% आबादी को दिया जाएगा, जो आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (पीएमजेएवाई) के तहत पात्र हैं। दुर्लभ बीमारियों के इलाज के लिए यह वित्तीय सहायता राष्ट्रीय आरोग्य निधि (आरएएन) योजना के तहत प्रस्तावित है, न कि आयुष्मान भारत पीएमजेएवाई के तहत। इसके अलावा, रेयर डिजीज पॉलिसी में एक क्राउडफंडिंग तंत्र की भी परिकल्पना की गई है जिसमें कॉरपोरेट्स और आम लोगों को दुर्लभ बीमारियों के इलाज के लिए एक मजबूत आईटी प्लेटफॉर्म के माध्यम से वित्तीय सहायता देने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। एकत्रित की गई धनराशि का उपयोग सेंटर ऑफ एक्सेलेंस द्वार सभी तीन श्रेणियों की दुर्लभ बीमारियों के उपचार के लिए किया जाएगा और शेष वित्तीय संसाधनों का उपयोग अनुसंधान के लिए भी किया जा सकता है।  


Share

Leave a Reply