COVID-19 :

Confirmed :

Recovered :

Deaths :

Maharashtra / 1609516 Andhra Pradesh / 789553 Karnataka / 776901 Tamil Nadu / 694030 Uttar Pradesh / 459154 Delhi / 336750 Kerala / 353473 West Bengal / 329057 Odisha / 274181 Telangana / 226124 Bihar / 206961 Assam / 202073 Rajasthan / 177123 Gujarat / 161848 Madhya Pradesh / 162178 Chhattisgarh / 165279 Haryana / 152174 Punjab / 128590 Jharkhand / 97414 Jammu and Kashmir / 88958 Uttarakhand / 58601 Goa / 41031 Puducherry / 33452 Tripura / 29797 Himachal Pradesh / 19357 Manipur / 16062 Chandigarh / 13743 Arunachal Pradesh / 13778 Meghalaya / 8649 Nagaland / 8020 Ladakh / 5695 Andaman and Nicobar Islands / 4141 Sikkim / 3643 Dadra and Nagar Haveli and Daman and Diu / 3194 Mizoram / 2280 State Unassigned / 0 Lakshadweep / 0

   केंद्र सरकार का बड़ा ऐलान: 30 लाख सरकारी कर्मचारियों को दिवाली बोनस देने की हुई घोषणा    |    नहीं बन सकती थी माँ तो प्रेमी के साथ मिलकर बच्चे का कर लिया अपहरण, जाने कहा का है यह मामला    |    दर्दनाक हादसा: 40 फीट गहरी खाई में गिरी यात्रियों से भरी बस, ड्राइवर समेत 5 लोगों की मौत    |    BIG BREAKING : कोरबा बना कोरोना हॉट स्पॉट, प्रदेश में आज 2507 नए मरीजों की हुई पहचान, 10 की मौत    |    सेवा परमो धर्म : पीएम मोदी का राष्ट्र के नाम संबोधन की मुख्य बाते , पढ़े ये खबर    |    BREAKING NEWS: पीएम मोदी देश को कर रहे है संबोधित, देखे LIVE    |    दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे के 25 साल पूरे: शाहरुख और काजोल ने इस तरह से किया सेलिब्रेट    |    ट्रक-बाइक की भिड़ंत में चार युवकों की मौत, हिरासत में ट्रक चालक    |    एसटीएफ को बड़ी कामयाबी: छापेमारी में 1.62 करोड़ रुपये की नगदी और सोने के आभूषण जब्त, जांच में जुटी एसटीएफ    |    हाथरस कांड में आया एक नया मोड़: नाबालिग निकला एक आरोपी, सीबीआई ने कब्जे में ली मार्कशीट    |

संवैधानिक संकट खड़ा करके बाद में उससे मुकरना प्रदेश सरकार का राजनीतिक चरित्र बनता जा रहा है : भाजपा

संवैधानिक संकट खड़ा करके बाद में उससे मुकरना प्रदेश सरकार का राजनीतिक चरित्र बनता जा रहा है : भाजपा
Share

साय का कटाक्ष : राज्यपाल का अपमान करने के बाद अपनी सफाई में कोई कहानी गढ़ने में गृह मंत्री को इतने दिन लग गए!
रायपुर, भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष ने प्रदेश के गृहमंत्री द्वारा प्रदेश के हालात को लेकर राजभवन में आहूत बैठक में अपनी अनुपस्थिति को लेकर दी गई सफाई पर कहा है कि उनका बैठक में नहीं जाना प्रदेश के संवैधानिक प्रमुख के अपमान का विषय तो है ही, क्योंकि क्वारेंटाइन होने की बात कहकर राज्यपाल अनुसुइया उईके द्वारा बुलाई गई बैठक में नहीं जाने वाले गृह मंत्री साहू उसी दिन मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा बुलाई गई बैठक में शरीक़ हुए। श्री साय ने कहा कि संवैधानिक संकट खड़ा करके बाद में उससे मुकरना प्रदेश सरकार का राजनीतिक चरित्र बनता जा रहा है, और गृह मंत्री को इस संवैधानिक संकट के बाद अपनी सफाई में कोई कहानी गढ़ने में इतने दिन का समय लग गया।
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री साय ने कहा कि प्रदेश सरकार कई मौकों पर राजभवन से टकराव के रास्ते पर चलती नज़र आई है। अभी प्रदेश सरकार का राज्यपाल की सहमति लिए बिना राजभवन के सचिव का तबादला करना न केवल संवैधानिक प्रमुख के अपमान का मामला है, अपितु यह संवैधानिक मर्यादा के उल्लंघन का परिचायक भी है। लेकिन प्रदेश सरकार सत्तावादी अहंकार में इतनी चूर हो चुकी है कि वह संवैधानिक मर्यादाओं का पालन करना तक ज़रूरी नहीं समझ रही है। श्री साय ने कहा कि राज्यपाल के अपमान का कोई इरादा नहीं होने का दावा करने से पहले गृह मंत्री अपने और अपनी सरकार के राजनीतिक चरित्र पर मंथन कर लें कि क्या प्रदेश सरकार राजभवन से टकराव के रास्ते पर चलकर संवैधानिक संकट खड़ा करने पर आमादा नहीं है? श्री साय ने कहा कि क्वारेंटाइन होने की बात कहकर राज्यपाल द्वारा आहूत बैठक स्थगित कराना और फिर मुख्यमंत्री की बैठक में शामिल होना क्या संवैधानिक संकट के न्योता नहीं दे रहा है? जब राज्यपाल की बैठक क्वारेंटाइन होने के कारण स्थगित कराई जा सकती है, तो क्या मुख्यमंत्री की बैठक भी नहीं टाली जा सकती थी? श्री साय ने कहा कि ऐसा नहीं करके प्रदेश सरकार ने यह संदेश देने की कोशिश की है कि उसके सामने संवैधानिक मान-सम्मान का कोई मोल नहीं है। फिर सवाल यह भी उठता है कि क्वारेंटाइन होते हुए मुख्यमंत्री और गृह मंत्री का कोई बैठक लेना क्या कोविड-19 की गाइडलाइन के उल्लंघन का मामला नहीं है?
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री साय ने लगातार बढ़ती नक्सली हिंसा के साथ ही तमाम तरह के अपराधों में बढ़ोतरी को क़ानून-व्यवस्था का मसला नहीं माने जाने पर भी गृह मंत्री साहू को आड़े हाथों लिया और कहा कि कांग्रेस की सरकार के शासनकाल में जिस तरह अपराधी तत्वों और माफिया गुंडों का बोलबाला बढ़ा है और प्रदेश के नागरिकों व महिलाओं के साथ ही वन्य प्रणियों तक की सुरक्षा दाँव पर लगी हुई है, प्रदेश के गृह मंत्री का इसे क़ानून-व्यवस्था का मसला नहीं मानना हैरत भरा है। श्री साय ने कहा कि उनके अपने गृह ज़िले में दो किसान आत्महत्या के लिए विवश हो जाते हैं, नाबालिग बच्चियों से लेकर वृद्ध महिलाएँ तक सामूहिक दुष्कर्म की शकार हो रही हैं और जान तक गवाँ रही हैं, नेशनल क्राइम ब्यूरो के आँकड़े प्रदेश सरकार की विफलता जगज़ाहिर कर रहे हैं, राजनीतिक सत्ता का संरक्षण पाकर माफिया-गुंडे सरेआम क़ानून के राज का चीरहरण कर रहे हैं, इसके बाद भी गृह मंत्री इन मामलों को क़ानून-व्यवस्था और शांति व सुरक्षा का मसला नहीं मानकर यह साबित कर रहे हैं कि प्रदेश सरकार अपनी ज़िम्मेदारियों के निर्वहन में क़तई गंभीर नहीं है। श्री साय ने कहा कि प्रदेश सरकार क़ानून-व्यवस्था का राज क़ायम करने की इच्छाशक्ति से शून्य हो चली है और प्रदेश को अपराधगढ़ बनाकर अराजकता की ओर धकेल रही है।
 


Share

Leave a Reply