कोरोना अपडेट 01 जुलाई : राजधानी रायपुर में फिर हुई कोरोना से मौत, रायपुर में लगातार बढ़ रहे हैं कोरोना के नए मरीज, जाने आज प्रदेश में कितने मरीजों की हुई पहचान    |    कोरोना अपडेट 30 जून : छत्तीसगढ़ में फिर शुरू हुआ कोरोना से मौत का तांडव, आज भी रायपुर से मिले सर्वाधिक मरीज, देखें जिलेवार आंकड़े    |    कोरोना अपडेट 29 जून : राजधानी रायपुर में कोरोना मरीजों की संख्या हुई 226, आज प्रदेश में मिले इतने मरीज, देखें जिलेवार आंकड़े    |    कोरोना अपडेट 28 जून : छत्तीसगढ़ में एक्टिव मरीजों की संख्या पहुंची 851, प्रदेश में आज इतने नए मरीजों की हुई पहचान, देखें जिलेवार आंकड़े    |    कोरोना अपडेट 27 जून : प्रदेश में आज नए मरीजो की संख्या पहुची सौ के पार, एक्टिव मरीज हुए अब इतने, देखें जिलेवार आंकड़े    |    कोरोना अपडेट 26 जून : कम टेस्ट के बावजूद मिले कल से ज्यादा मरीज, एक्टिव मरीज भी पहुचे सात सौ के करीब, देखें जिलेवार आंकड़े    |    कोरोना अपडेट 25 जून : प्रदेश में हो रही है चौथी लहर की आहट आज मिले सौ के करीब कोरोना मरीज, देखें जिलेवार आंकड़े    |    वडोदरा में मिले एकनाथ शिंदे और देवेंद्र फडणवीस, क्या महाराष्ट्र में सरकार बनाने की तैयारी में है भाजपा!    |    कोरोना अपडेट 24 जून : राजधानी रायपुर में हुआ कोरोना विस्फोट, प्रदेश में कोरोना मरीजों की संख्या पहुंची 600 के पार, देखें जिलेवार आंकड़े    |    कोरोना अपडेट 23 जून : छत्तीसगढ़ में कोरोना मरीजों की संख्या पहुंची 600 के पार, आज प्रदेश में मिले इतने नए कोरोना मरीज, देखें जिलेवार आंकड़े...    |

गर्भवती के साथ ही पेट में पल रहे बच्चे की हुई मौत - पीडि़त पक्ष ने लागाये यह आरोप...

गर्भवती के साथ ही पेट में पल रहे बच्चे की हुई मौत - पीडि़त पक्ष ने लागाये यह आरोप...
Share

महोबा : जिला महिला अस्पताल में प्रसव के लिए भर्ती महिला व उसके पेट में पल रहे बच्चे की मौत हो गई। मृतका के पति ने डॉक्टर पर पांच हजार रुपये मांगने और सुविधा शुल्क न देने पर इलाज न करने का आरोप लगाया। घटना से आक्रोशित परिजनों ने महिला अस्पताल में जमकर हंगामा किया इसके बाद ष्षव को रखकर जाम लगा दिया। एसडीएम जितेद्र कुमार ने मामले की जांच कराकर कार्रवाई का भरोसा देते हुए परिजनों को शांत कराया। जानकारी के अनुसार कोतवाली क्षेत्र के छिकहरा गांव निवासी चेतराम की पत्नी तुलसारानी (30) को प्रसव पीड़ा होने पर परिजन महिला अस्पताल लाए। जहां महिला को भर्ती किया गया। कुछ देर बाद प्रसूता की हालत बिगड़ गई। तब डॉक्टर ने उसे रेफर कर दिया लेकिन उसकी अस्पताल में ही मौत हो गई।

उसके पेट में पल रहे बच्चे की भी मौत हो गई। आक्रोशित परिजनों ने डॉक्टर व नर्सों पर इलाज में लापरवाही का आरोप लगाया। मृतका के पति ने बताया कि पहले सब कुछ सही बताते हुए पांच हजार रुपये की मांग की गई। सुविधा शुल्क न देने पर इलाज नहीं किया। स्टाफ से आरजू-मिन्नत भी की गई। जब उसकी पत्नी की सांसें थम गई, तब डॉक्टर ने बाहर ले जाने की बात कही।

जिससे गर्भवती के पेट में पल रहे नवजात की भी मौत हो गई। महिला अस्पताल में हंगामा की सूचना पर एसडीएम सदर जितेंद्र सिंह व कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंच गई। एसडीएम ने परिजनों को समझाकर शांत कराया और जांच के बाद कार्रवाई का भरोसा दिया। पीडि़त ने एसडीएम को तहरीर लिखकर सौंपी।

जिसमें दोषी डॉक्टर व कर्मचारियों के खिलाफ कारवाई की मांग की है। इसके बाद पुलिस ने शव को जिला अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया है। सीएमएस डा. डीके सुल्लेरे का कहना है कि गर्मवती जब अस्पताल आई थी, तब हालत गंभीर थी। जिसे रेफर किया गया था। डॉक्टर व स्टॉफ के सुविधा शुल्क मांगने के मामले की जांच कराई जाएगी। जो भी दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। 


Share

Leave a Reply