BIG BREAKING : प्रदेश में कोरोना से मौत की रफ्तार फिर बढ़ी, आज इतने कोरोना मरीजों की हुई मौत, प्रदेश में आज इतने नए मरीज मिले    |    बड़ी खबर : सहायक प्राध्यापक लिखित परीक्षा परिणाम जारी    |    बड़ी खबर : अब संसद की कैंटीन में नहीं मिलेगा सांसदों को इस रेट में खाना, जाने क्या है वजह    |    प्रधानमंत्री 20 जनवरी को इस राज्य में पीएमएवाई आर्थिक सहायता राशि जारी करेंगे    |    भारत किस देश के साथ कर रहा है वायुसैनिक अभ्यास, पढ़े पूरी खबर    |    शर्मनाक हरकत: 13 साल की नाबालिग से दुष्कर्म के बाद किया जिंदा दफन, पढ़े पूरी खबर    |    इस टीवी एक्ट्रेस ने पायलट पर लगाया शादी का झांसा देकर दुष्कर्म करने का आरोप, पढ़े पूरी खबर    |    देश में अब पराक्रम दिवस के रूप में मनाई जायेगी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती    |    योगी की तस्वीर के साथ छेड़छाड़ कर सोशल मीडिया पर पोस्ट करने वाले आरोपी की जमानत खारिज    |    3 बड़े कारोबारियों के 28 ठिकानों पर इंकम टेक्स का छापा: 200 से अधिक अधिकारियों की टीम मौजूद    |

दुनिया कह रही थी धोखेबाज तब विराट कोहली ने दिलाया सम्मान, शायद भूल गए स्टीव स्मिथ और ऑस्ट्रेलियाई फैन

 दुनिया कह रही थी धोखेबाज तब विराट कोहली ने दिलाया सम्मान, शायद भूल गए स्टीव स्मिथ और ऑस्ट्रेलियाई फैन
Share

नई दिल्ली। बॉर्डर-गावसकर ट्रोफी की शुरुआत से ठीक पहले भारतीय और ऑस्ट्रेलियाई खिलाडिय़ों ने रंगभेद के खिलाफ अभियान ब्लैक लाइव्स मैटर का सपॉर्ट किया था। ऑस्ट्रेलिया की ओर से अच्छे खेल और मैदान पर व्यवहार को लेकर तमाम बातें कही गई थीं, लेकिन वो बातें ही थीं। सीरीज जैसे-जैसे आगे बढ़ी कंगारू खिलाडिय़ों और दर्शकों ने अपना रंग दिखाना शुरू कर दिया। मीडिया ने जहां मैदान के बाहर टीम इंडिया को अनुशासनहीन दिखाने की कोशिश की तो दर्शकों ने अपशब्दों का इस्तेमाल किया। कप्तान टिम पेन, डेविड वॉर्नर और स्टीव स्मिथ सहित कई खिलाडिय़ों ने तो इतना बुरा बर्ताव किया कि उन्हें माफी तक मांगनी पड़ी है।

तब विराट ने दिलाई थी इज्जत-
खैर, यही वह स्टीव स्मिथ हैं, जिन्हें दुनिया धोखेबाज कह रही थी। वह जहां जाते थे लोग चीटर-चीटर कहकर चिढ़ाना शुरू कर देते थे। साउथ अफ्रीका में हुए सेंडपेपर कांड के बाद वर्ल्ड कप-2019 खेलने इंग्लैंड पहुंचे स्टीव स्मिथ की नाक में इंग्लिश दर्शकों ने दम कर रखा था। इंटरनैशनल खिलाड़ी भी बहुत खुलकर सपॉर्ट नहीं कर रहे थे। उस वक्त टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने मैच के दौरान न केवल स्मिथ का हौसला बढ़ाया, बल्कि दर्शकों से उन्हें इज्जत भी दिलाई। हालांकि, लगता है स्मिथ और उनकी टीम कोहली के उस दिल जीतने वाले व्यवहार को भूल चुके हैं। 

व्यवहार और रणनीति कहीं से भी नहीं जेंटलमैन-
मेलबर्न टेस्ट के बाद से लेकर सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर जो कुछ भी हुआ उसे देखकर लगता है कि न तो स्टीव स्मिथ बदले हैं और न तो ऑस्ट्रेलियाई टीम ने सेंडपेपर कांड से कुछ सीख ली है। कंगारू खिलाडिय़ों ने भारतीय टीम से न केवल गाली-गलौच की, बल्कि जानलेवा रणनीति के अनुसार तेज गेंदबाज जानबूझकर बॉडी लाइन बोलिंग करते दिखे। रिजल्ट यह रहा कि मोहम्मद शमी, आर. अश्विन, रविंद्र जडेजा, ऋषभ पंत, उमेश यादव, हनुमा विहारी समेत कई अहम भारतीय खिलाड़ी चोटिल हो गए हैं।

स्मिथ का व्यवहार गली बॉयज की तरह-
स्मिथ भले ही क्रिकेट रेकॉर्ड के तौर पर दिग्गजों की लिस्ट में शामिल हैं, लेकिन उनका और उनकी मौजूदगी में टीम का व्यवहार गली बॉयज की तरह ही नजर आता है। यही नहीं, भारत की हार पहले ही सुनिश्चित करने वाले शेन वॉर्न तक कॉमेंट्री के दौरान अपशब्दों का इस्तेमाल कर लेते हैं। सचिन तेंडुलकर, राहुल द्रविड़, सौरभ गांगुली, एमएस धोनी को तो छोडि़ए आक्रामक छवि वाले विराट कोहली और रोहित शर्मा तक शायद ही ऐसा व्यवहार करें।

इसलिए विराट कहीं बेहतर-
शुरुआती करियर में बैड बॉय की छवि रखने वाले विराट कोहली को विपक्षी खिलाड़ी (स्टीव स्मिथ) को इज्जत दिलाने के लिए आईसीसी 'स्पिरिट ऑफ क्रिकेट अवॉर्ड देती है तो स्मिथ जैसे क्रिकेटरों के व्यवहार से साबित होता है कि वे सिर्फ जेंटलमैन क्रिकेट खेलने का ढोंग रचते आए हैं। खैर, अब जब माफी मांग ही ली है तो ब्रिस्बेन टेस्ट में कुछ बेहतर व्यवहार की उम्मीद की जा सकती है।

Share

Leave a Reply