कोरोना अपडेट 01 जुलाई : राजधानी रायपुर में फिर हुई कोरोना से मौत, रायपुर में लगातार बढ़ रहे हैं कोरोना के नए मरीज, जाने आज प्रदेश में कितने मरीजों की हुई पहचान    |    कोरोना अपडेट 30 जून : छत्तीसगढ़ में फिर शुरू हुआ कोरोना से मौत का तांडव, आज भी रायपुर से मिले सर्वाधिक मरीज, देखें जिलेवार आंकड़े    |    कोरोना अपडेट 29 जून : राजधानी रायपुर में कोरोना मरीजों की संख्या हुई 226, आज प्रदेश में मिले इतने मरीज, देखें जिलेवार आंकड़े    |    कोरोना अपडेट 28 जून : छत्तीसगढ़ में एक्टिव मरीजों की संख्या पहुंची 851, प्रदेश में आज इतने नए मरीजों की हुई पहचान, देखें जिलेवार आंकड़े    |    कोरोना अपडेट 27 जून : प्रदेश में आज नए मरीजो की संख्या पहुची सौ के पार, एक्टिव मरीज हुए अब इतने, देखें जिलेवार आंकड़े    |    कोरोना अपडेट 26 जून : कम टेस्ट के बावजूद मिले कल से ज्यादा मरीज, एक्टिव मरीज भी पहुचे सात सौ के करीब, देखें जिलेवार आंकड़े    |    कोरोना अपडेट 25 जून : प्रदेश में हो रही है चौथी लहर की आहट आज मिले सौ के करीब कोरोना मरीज, देखें जिलेवार आंकड़े    |    वडोदरा में मिले एकनाथ शिंदे और देवेंद्र फडणवीस, क्या महाराष्ट्र में सरकार बनाने की तैयारी में है भाजपा!    |    कोरोना अपडेट 24 जून : राजधानी रायपुर में हुआ कोरोना विस्फोट, प्रदेश में कोरोना मरीजों की संख्या पहुंची 600 के पार, देखें जिलेवार आंकड़े    |    कोरोना अपडेट 23 जून : छत्तीसगढ़ में कोरोना मरीजों की संख्या पहुंची 600 के पार, आज प्रदेश में मिले इतने नए कोरोना मरीज, देखें जिलेवार आंकड़े...    |

अस्थमा के जोखिम कम करने में मदद कर सकते हैं ये एसेंशियल ऑयल्स...

अस्थमा के जोखिम कम करने में मदद कर सकते हैं ये एसेंशियल ऑयल्स...
Share

अस्थमा की बीमारी शरीर के वायुमार्ग की अंदरूनी दीवारों में सूजन आने और सिकुडऩे के कारण होती है, जिसके परिणामस्वरूप व्यक्ति को सांस लेने में तकलीफ होती है। इस बीमारी से बचने और इसके जोखिमों को कम करने में कुछ एसेंशियल ऑयल्स काफी मदद कर सकते हैं। आइए आपको कुछ ऐसे एसेंशियल ऑयल्स के बारे में बताते हैं, जिनका इस्तेमाल करना अस्थमा के रोगियों के लिए लाभदायक हो सकता है।


लैवेंडर एसेंशियल ऑयल

लैवेंडर ऑयल में मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण अस्थमा से प्रभावित वायुमार्ग को आराम देकर बीमारी के जोखिमों को कम करने में सहायक हैं। लाभ के लिए लैवेंडर ऑयल की कुछ बूंदें डिफ्यूजर में डालें और इसे चालू करके अपने बिस्तर के पास रखें। इससे आपको बहुत जल्द ही राहत मिलेगी। हालांकि, अगर आपको पास डिफ्यूजर नहीं है तो आप रूई के टुकड़े पर दो-तीन बूंद लैवेंडर ऑयल डालें, फिर इसे सूंघें।

रोजमेरी एसेंशियल ऑयल

एक अध्ययन से पता चला है कि रोजमेरी एसेंशियल ऑयल का इस्तेमाल उन लोगों में अस्थमा के लक्षणों को कम कर सकता है, जिन्होंने पारंपरिक उपचार से सुधार नहीं देखा। इस अध्ययन में अस्थमा रोगियों में खांसी और घरघराहट जैसे अस्थमा के लक्षणों में कमी देखी गई है। लाभ के लिए एक रूई के टुकड़े पर थोड़ा सा रोजमेरी एसेंशियल लगाकर उसे कुछ मिनट के लिए सूंघे। हालांकि, इसके लिए पहले अपने डॉक्टर की सलाह जरूर ले लें।

थाइम एसेंशियल ऑयल

थाइम एक हर्ब है, जिससे बने तेल का इस्तेमाल काफी समय से अस्थमा के उपचार के लिए किया जाता आ रहा है। इसका मुख्य कारण यह है कि थाइम एसेंशियल ऑयल में एंटी-ऑक्सीडेंट गुण होते हैं, जो अस्थमा के जोखिम कम करने में सक्षम है। वहीं, इसमें मौजूद एंटी-बैक्टीरियल तत्व अस्थमा के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकते हैं। लाभ के लिए रोजाना थाइम एसेंशियल ऑयल को कुछ मिनट के लिए सूंघे।

रोमन कैमोमाइल एसेंशियल ऑयल

रोमन कैमोमाइल एसेंशियल ऑयल भी कई ऐसे गुणों से समृद्ध होता है, जो अस्थमा के लक्षणों को प्रभावी ढंग से कम करने में मदद कर सकता है। इसके लिए रोमन कैमोमाइल ऑयल की कुछ बूंदें डिफ्यूजर में डालें और इसे चालू करके अपने पास रखें। हालांकि, अगर आपके पास डिफ्यूजर नहीं है तो आप एक रूई के टुकड़े पर थोड़ा सा रोमन कैमोमाइल ऑयल लगाकर उसे कुछ मिनट के लिए सूंघे।
 


Share

Leave a Reply