कोरोना अपडेट: प्रदेश में आज 12665 ने जीती कोरोना से जंग, कुल 6577 नए मरीज मिले 149 मृत्यु भी, देखे जिलेवार आकड़े    |    लॉन्च हुई 2डीजी दवा, कोरोना संक्रमण से जंग में कैसे करेगी मदद? जानिए सब कुछ    |    आईसीएमआर अपडेट : राज्य में मिले 5294 कोरोना पॉजिटिव, 21 जिलों में सौ से अधिक मिले मरीज, देखे जिलेवार आकड़े    |    सेक्स रैकेट : पुलिस ने छापा मारकर देह व्यपार का किया खुलासा, मौके से दो युवक और दो युवती गिरफ्तार    |    दो पक्षों के बीच विवाद में गोली लगने से एक महिला की मौत, तीन अन्य घायल    |    चक्रवाती तूफान तौकते हुआ विनाशकारी, 5 राज्यों में अब तक 11 लोगों की मौत    |    बड़ी खबर: जानिए आखिर किस मामले में सीबीआई ने 4 नेताओं को किया गिरफ्तार    |    ममता बनर्जी के मंत्रियों-नेताओं पर सीबीआई ने कसा शिंकजा, यहां जानें क्या है मामला    |    रक्षा मंत्री व केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने लॉन्च की कोरोना की स्वदेशी दवा 2DG    |    कोरोना अपडेट: देश में 24 घंटों में 2 लाख 81 हजार नए मामले आए, 4106 लोगों की हुई मौत    |
 दुनिया कह रही थी धोखेबाज तब विराट कोहली ने दिलाया सम्मान, शायद भूल गए स्टीव स्मिथ और ऑस्ट्रेलियाई फैन

दुनिया कह रही थी धोखेबाज तब विराट कोहली ने दिलाया सम्मान, शायद भूल गए स्टीव स्मिथ और ऑस्ट्रेलियाई फैन

नई दिल्ली। बॉर्डर-गावसकर ट्रोफी की शुरुआत से ठीक पहले भारतीय और ऑस्ट्रेलियाई खिलाडिय़ों ने रंगभेद के खिलाफ अभियान ब्लैक लाइव्स मैटर का सपॉर्ट किया था। ऑस्ट्रेलिया की ओर से अच्छे खेल और मैदान पर व्यवहार को लेकर तमाम बातें कही गई थीं, लेकिन वो बातें ही थीं। सीरीज जैसे-जैसे आगे बढ़ी कंगारू खिलाडिय़ों और दर्शकों ने अपना रंग दिखाना शुरू कर दिया। मीडिया ने जहां मैदान के बाहर टीम इंडिया को अनुशासनहीन दिखाने की कोशिश की तो दर्शकों ने अपशब्दों का इस्तेमाल किया। कप्तान टिम पेन, डेविड वॉर्नर और स्टीव स्मिथ सहित कई खिलाडिय़ों ने तो इतना बुरा बर्ताव किया कि उन्हें माफी तक मांगनी पड़ी है।

तब विराट ने दिलाई थी इज्जत-
खैर, यही वह स्टीव स्मिथ हैं, जिन्हें दुनिया धोखेबाज कह रही थी। वह जहां जाते थे लोग चीटर-चीटर कहकर चिढ़ाना शुरू कर देते थे। साउथ अफ्रीका में हुए सेंडपेपर कांड के बाद वर्ल्ड कप-2019 खेलने इंग्लैंड पहुंचे स्टीव स्मिथ की नाक में इंग्लिश दर्शकों ने दम कर रखा था। इंटरनैशनल खिलाड़ी भी बहुत खुलकर सपॉर्ट नहीं कर रहे थे। उस वक्त टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने मैच के दौरान न केवल स्मिथ का हौसला बढ़ाया, बल्कि दर्शकों से उन्हें इज्जत भी दिलाई। हालांकि, लगता है स्मिथ और उनकी टीम कोहली के उस दिल जीतने वाले व्यवहार को भूल चुके हैं। 

व्यवहार और रणनीति कहीं से भी नहीं जेंटलमैन-
मेलबर्न टेस्ट के बाद से लेकर सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर जो कुछ भी हुआ उसे देखकर लगता है कि न तो स्टीव स्मिथ बदले हैं और न तो ऑस्ट्रेलियाई टीम ने सेंडपेपर कांड से कुछ सीख ली है। कंगारू खिलाडिय़ों ने भारतीय टीम से न केवल गाली-गलौच की, बल्कि जानलेवा रणनीति के अनुसार तेज गेंदबाज जानबूझकर बॉडी लाइन बोलिंग करते दिखे। रिजल्ट यह रहा कि मोहम्मद शमी, आर. अश्विन, रविंद्र जडेजा, ऋषभ पंत, उमेश यादव, हनुमा विहारी समेत कई अहम भारतीय खिलाड़ी चोटिल हो गए हैं।

स्मिथ का व्यवहार गली बॉयज की तरह-
स्मिथ भले ही क्रिकेट रेकॉर्ड के तौर पर दिग्गजों की लिस्ट में शामिल हैं, लेकिन उनका और उनकी मौजूदगी में टीम का व्यवहार गली बॉयज की तरह ही नजर आता है। यही नहीं, भारत की हार पहले ही सुनिश्चित करने वाले शेन वॉर्न तक कॉमेंट्री के दौरान अपशब्दों का इस्तेमाल कर लेते हैं। सचिन तेंडुलकर, राहुल द्रविड़, सौरभ गांगुली, एमएस धोनी को तो छोडि़ए आक्रामक छवि वाले विराट कोहली और रोहित शर्मा तक शायद ही ऐसा व्यवहार करें।

इसलिए विराट कहीं बेहतर-
शुरुआती करियर में बैड बॉय की छवि रखने वाले विराट कोहली को विपक्षी खिलाड़ी (स्टीव स्मिथ) को इज्जत दिलाने के लिए आईसीसी 'स्पिरिट ऑफ क्रिकेट अवॉर्ड देती है तो स्मिथ जैसे क्रिकेटरों के व्यवहार से साबित होता है कि वे सिर्फ जेंटलमैन क्रिकेट खेलने का ढोंग रचते आए हैं। खैर, अब जब माफी मांग ही ली है तो ब्रिस्बेन टेस्ट में कुछ बेहतर व्यवहार की उम्मीद की जा सकती है।
 टीम इंडिया को एक और बड़ा झटका: रविंद्र जडेजा और हनुमा विहारी के बाद अब ये खिलाड़ी हुआ बाहर

टीम इंडिया को एक और बड़ा झटका: रविंद्र जडेजा और हनुमा विहारी के बाद अब ये खिलाड़ी हुआ बाहर

नई दिल्ली। रविंद्र जडेजा और हनुमा विहारी के बाद ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ चौथे टेस्ट से बाहर होने के बाद भारतीय क्रिकेट टीम को एक और झटका लगा है। जसप्रीत बुमराह भी पेट की मांसपेशियों में खिंचाव के कारण ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ चौथे टेस्ट से बाहर हो गए हैं। 
 

मीडिया रिपोर्ट्स में दावा बीसीसीआई के सूत्रों के हवाले से बुमराह के आखिरी टेस्ट में नहीं खेलने का दावा किया जा रहा है।बुमराह की स्कैन रिपोर्ट में स्ट्रेन नजर आ रहा है और भारतीय टीम प्रबंधन उन्हें खिलाकर कोई खतरा नहीं मोल लेना चाहता। भारत को इंग्लैंड के खिलाफ चार टेस्ट मैचों की घरेलू सीरीज खेलनी है इसी को देखते हुए टीम प्रबंधन बुमराह की चोट के बढऩे का खतरा मोल नहीं लेना चाहता।
 

जसप्रीत बुमराह को सिडनी में फील्डिंग के दौरान एबडॉमिनल स्ट्रेन हो गया था। वह ब्रिसबन टेस्ट में नहीं खेलेंगे। हालांकि इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज के लिए वह उपलब्ध रह सकते हैं।

उम्मीद की जा रही है कि दो टेस्ट मैच खेलने वाले मोहम्मद सिराज ही भारतीय तेज गेंदबाजी आक्रमण की अगुआई करेंगे। इसके साथ ही नवदीप सैनी भी टीम का हिसासा होंगे। शार्दुल ठाकुर और टी. नटराजन को भी 15 जनवरी से शुरू हो रहे टेस्ट मैच के लिए प्लेइंग इलेवन में जगह मिल सकती है।
 

ध्यान देने की बात है कि ऑस्ट्रेलिया दौरे पर भारतीय टीम के कई खिलाड़ी चोट की वजह से बाहर हो चुके हैं। तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी और उमेश यादव के अलावा बल्लेबाज केएल राहुल भी सीरीज से पहले ही बाहर चुके हैं। वहीं सिडनी टेस्ट में चोट के बाद रविंद्र जडेजा भी ब्रिसबने टेस्ट में नहीं खेलेंगे।
 दर्द में रहते हुए पंत ने जड़े ताबड़तोड़ 97 रन: शतक से चूके लेकिन बना डाला ये बड़ा रिकॉर्ड

दर्द में रहते हुए पंत ने जड़े ताबड़तोड़ 97 रन: शतक से चूके लेकिन बना डाला ये बड़ा रिकॉर्ड

सिडनी/नई दिल्ली। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच बॉर्डर गावस्कर सीरीज का तीसरा मुकाबला सिडनी में खेला जा रहा है। सिडनी टेस्ट मैच का पांचवा दिन काफी रोमांचक रहा है। सिडनी टेस्ट के पांचवे दिन की शुरूआत में ही टीम इंडिया को अजिंक्य रहाणे के रूप में पहला झटका लगा। इसके बाद बल्लेबाजी को आए ऋषभ पंत। ऋषभ पंत को पहली पारी के दौरान चोट कोहनी पर गेंद लगी थी। पहली पारी में चोटिल होने के बाद पंत दूसरी पारी में विकेटकीपिंग के लिए नहीं आए थे। लेकिन दूसरी पारी में पंत बल्लेबाजी को जरूर आए।

ऋषभ पंत को हनुमा विहारी से पहले बल्लेबाजी के लिए भेजा गया था। ऋषभ पंत से फैंस को काफी उम्मीदें थी और वो उन उम्मीदें पर खड़े भी उतरे। पांचवे दिन के पहले सेशन में ऋषभ पंत ने ताबड़तोड़ बल्लेबाजी की। हालांकि, वो अपने शतक से तीन रन से चूक जरूर गए, लेकिन टीम इंडिया उनकी बल्लेबाजी के दम पर ही मजबूत परिस्थिति में पहुंची है। ऋषभ पंत जब पुजारा के साथ मिलकर बल्लेबाजी कर रहे थे, तब एक बार ऐसा भी लगा कि टीम इंडिया यह मैच अपने नाम कर सकती है। वहीं अपनी इस पारी के दौरान ऋषभ पंत ने अपने नाम एक बड़ा रिकॉर्ड भी दर्ज कर लिया है।

ऋषभ पंत ऑस्ट्रेलिया में किसी भी एशियन विकेटकीपर द्वारा सबसे अधिर रन बनाने वाले विकेटकीपर बन गए हैं। उन्होंने इस मामलें में टीम इंडिया के पूर्व विकेटकीपर सैयद किरमानी को पीछे छोड़ा है। सैयद किरमानी ने बतौर विकेटकीपर 471 रन बनाए थे। ऋषभ पंत ने इस मैच की पहली पारी में 36 रनों की पारी के दम पर ऑस्ट्रेलिया में अपने 400 रन पूरे किए थे। इसके बाद 97 रनों की पारी के दम पर उन्होने सैयद को पीछे छोड़ दिया। इस पारी के बाद ऋषभ पंत के ऑस्ट्रेलिया में 512 रन हो गए हैं और उनका औसत 56।88 का है।

वहीं किसी टेस्ट मैच की चौथी पारी में सबसे अधिक रन बनाने वाले भारतीय विकेटकीपरों की बात करें तो उसमें शुरूआती दो स्थानों पर ऋषभ पंत का ही नाम है। इससे पहले पंत ने इंग्लैंड के खिलाफ ओवर के मैदान पर 114 रनों की पारी खेली थी। वहीं इस मैच में उन्होंने 97 रनों की पारी खेली और दूसरे स्थान पर उनकी यह पारी है। महेंद्र सिंह धोनी द्वारा साल 2007 में लॉर्डस के मैदान पर खेली गई 76 रनों की पारी लिस्ट में तीसरे स्थान पर हैं। इस मैच में भी पंत ने 25 से अधिक का स्कोर किया है। ऐसे में वो ऑस्ट्रेलिया में लगातार 10 पारियों में 25+ का स्कोर करने वाले मेहमान बल्लेबाज बन गए हैं।
सौरव गांगुली की स्वास्थ्य को ले कर आई एक अच्छी खबर, डॉक्टरों ने कहा भी उनकी हालत स्थिर

सौरव गांगुली की स्वास्थ्य को ले कर आई एक अच्छी खबर, डॉक्टरों ने कहा भी उनकी हालत स्थिर

कोलकाता दिल का हल्कादौरा पड़ने के बाद अस्पताल में भर्ती कराए गए भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के अध्यक्ष सौरव गांगुली का उपचार कर रहे चिकित्सकों ने रविवार को कहा कि उनकी हालत स्थिर है। शनिवार को गांगुली के हृदय की तीन धमनियों में अवरोध पाया गया था, जिसके बाद एक में स्टेंट लगाया गया था।

पढ़ें : बड़ी खबर : छत्तीसगढ़ के इस पर्यटन स्थल में लगी भीषण आग, 10 से अधिक दुकाने जलकर खाक

गांगुली जिस निजी अस्पताल में भर्ती हैं, वहां से रविवार देर रात जारी बुलेटिन में कहा गया है, गांगुली की कोरोनरी एंजियोग्राफी दोपहर तीन बजे की गयी और उनकी इकोकार्डियोग्राफी कल फिर की जाएगी। इसमें बताया गया है कि गांगुली का रक्तचाप 110/80 है तथा उनके शरीर में ऑक्सीजन का स्तर 98 फीसदी है।

पढ़ें : BIG BREAKING : शहर के श्मशान घाट हादसे में अब तक 25 लोगों के शव बरामद, 3 लोगों को किया गया गिरफ्तार

चिकित्सकों ने कहा कि गांगुली की स्थिति को देखने के बाद उनकी एक और एंजियोप्लास्टी करने के बारे में फैसला लिया जाएगा। अस्पताल की प्रवक्ता ने एक सवाल के जवाब में कहा कि मेडिकल बोर्ड बाईपास सर्जरी के विकल्प के बारे में विचार नहीं कर रहा है। उन्होंने कहा, आगे के उपचार के बारे में हमारी विशेषज्ञ समिति कल फैसला लेगी।

पढ़ें : बड़ी खबर छत्तीसगढ़ : पत्नी ने अपने पति की टंगिया मारकर की हत्या, अपने 3 बच्चों को भी कुँए में फेका, पढ़ें पूरी खबर 

बुलेटिन के अनुसार नौ सदस्यीय मेडिकल बोर्ड सोमवार को बैठक करेगा और गांगुली के परिवार के सदस्यों के साथ आगे की उपचार योजना पर चर्चा करेगा। गांगुली ने रात दस बजे भोजन किया। इस बीच, पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी के प्रशंसक हाथों में पोस्टर लिए एकत्र हुए। उन पोस्टरों पर लिखा था दादा लौट आओ। सौरव गांगुली को सीने में दर्द की शिकायत के बाद शनिवार को अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

 इस खिलाडी के लिए खुशखबरी लाया नया साल, हो सकती है आईपीएल में वापसी

इस खिलाडी के लिए खुशखबरी लाया नया साल, हो सकती है आईपीएल में वापसी

नई दिल्ली। भारत के पूर्व तेज गेंदबाज एस श्रीसंत को 10 जनवरी से शुरू हो रहे सैयद मुश्ताक अली टी-20 क्रिकेट टूर्नामेंट के लिए केरल की टीम में शामिल किया गया है। मैच फिक्सिंग के आरोपों में सात साल का प्रतिबंध झेल चुके श्रीसंत का यह पहला टूर्नामेंट होगा। भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने आईपीएल में स्पॉट फिक्सिंग में कथित भागीदारी के कारण श्रीसंत पर प्रतिबंध लगाया था। हालांकि आईपीएल 2021 में श्रीसंत खेलते हुए नजर आ सकते हैं। यह बात उन्होंने खुद बताई है। श्रीसंत ने कहा है कि कुछ आईपीएल फ्रेंचाइजी ने मुझसे बात की है। उन्होंने मुझे फिट रहने और सेलेक्शन के लिए उपलब्ध रहने को कहा है। उन्होंने आखिरी बार आईपीएल 2013 में राजस्थान रॉयल्स के लिए खेला था।

37 वर्षीय तेज गेंदबाज श्रीसंत को सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में केरल के लिए पेस अटैक की अगुवाई करेंगे। इस मही ने शुरू होने वाले घरेलू टी20 टूर्नामेंट से पहले उन्होंने हाल ही में वार्म अप मैचों में हिस्सा लिया। वह पहले की तरह ही आक्रामक दिख रहे हैं।

दो बार वर्ल्ड कप जीतने वाली टीम का हिस्सा रहे-
श्रीसंत ने इंटरनेशनल क्रिकेट में बैन होने से पहले 27 टेस्ट में 87 विकेट लिए हैं। वह 2011 वर्ल्ड कप विजेता टीम के सदस्य ने 53 वनडे मैचों में 75 बल्लेबाजों को आउट किया है। वह 2007 में टी20 वर्ल्ड जीतने वाली टीम का हिस्सा भी थे।
 धुआंधार बल्लेबाज रोहित शर्मा को मिली नए साल के पहले दिन बड़ी खुशखबरी: बनाए गए टीम इंडिया के उपकप्तान

धुआंधार बल्लेबाज रोहित शर्मा को मिली नए साल के पहले दिन बड़ी खुशखबरी: बनाए गए टीम इंडिया के उपकप्तान

नई दिल्ली। रोहित शर्मा को लेकर इस वक्त एक बड़ी खबर सामने आ रही है की रोहित शर्मा को बीसीसीआई ने भारतीय टेस्ट टीम का उपकप्तान नियुक्त किया है। रोहित शर्मा चोट की वजह से एडिलेड और मेलबर्न टेस्ट में नहीं खेले थे। दूसरा टेस्ट खत्म होने के बाद वो क्वारंटीन पीरियड खत्म कर टीम इंडिया से जुड़े। ऐसे सवाल खड़े किये जा रहे थे कि क्या रोहित शर्मा को सिडनी टेस्ट में मौका मिलेगा? लेकिन अब बीसीसीआई ने उन्हें उपकप्तान बनाकर इन सभी अटकलों को खत्म कर दिया है। विराट कोहली की गैरमौजूदगी में अजिंक्य रहाणे टीम की कमान संभाल रहे हैं और अब रोहित शर्मा उनके सहयोग के लिए उपकप्तान बनाए गए हैं। बता दें दूसरे टेस्ट में टीम इंडिया की उपकप्तानी चेतेश्वर पुजारा संभाल रहे थे।

पढ़िए पूरी खबर-
बता दें बीसीसीआई ने आखिरी दो टेस्ट मैचों के लिए टीम में कुछ अहम बदलाव किये हैं। चोटिल उमेश यादव की जगह टी नटराजन को टेस्ट टीम में मौका मिला है। वहीं मोहम्मद शमी की जगह शार्दुल ठाकुर को टीम में जोड़ा गया है। भारत की आखिरी दो टेस्ट मैचों के लिए टीम इंडिया- अजिंक्य रहाणे (कप्तान), रोहित शर्मा (उपकप्तान), मयंक अग्रवाल, पृथ्वी शॉ, केएल राहुल, चेतेश्वर पुजारा, हनुमा विहारी, शुभमन गिल, ऋद्धिमान साहा, ऋषभ पंत, जसप्रीत बुमराह, नवदीप सैनी, कुलदीप यादव, रवींद्र जडेजा, आर अश्विन, मोहम्मद सिराज, शार्दुल ठाकुर और टी नटराजन। 
तैयार हुआ टीम इंडिया का 2021 शेड्यूल: देखें कब, कहां कौन सा मैच

तैयार हुआ टीम इंडिया का 2021 शेड्यूल: देखें कब, कहां कौन सा मैच

नई दिल्ली। दुनिया भर के क्रिकेट प्रशंसकों के लिए साल 2020 अच्छा नहीं था, क्योंकि मार्च में कोरोना वायरस के प्रकोप के कारण सभी क्रिकेट गतिविधियों को रद्द करना पड़ा था। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट जुलाई में इंग्लैंड में वेस्टइंडीज की मेजबानी के साथ फिर से शुरू हुआ। भारतीय क्रिकेट टीम की आखिरी अंतर्राष्ट्रीय सीरीज फरवरी 2020 में न्यूजीलैंड के खिलाफ थी और अब नवंबर में ऑस्ट्रेलिया में खेली जा रही है।
 

2020 में कोरोना संक्रमण के कारण खिलाड़ियों को मजबूरन ब्रेक लेना पड़ा था। हालांकि वर्ष 2021 भारतीय टीम को लगभग पूरे साल एक्शन में देखने के लिए तैयार है। भारत के पास वर्ष 2021 के लिए बड़ी सीरीज और टूर्नामेंटों की मेजबानी के साथ इंग्लैंड टी 20 विश्व कप 2021 के चुनौतीपूर्ण दौरे और एशिया कप 2021 के लिए पूरा बिजी शेड्यूल है।
 
 
भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) टीम इंडिया के लिए आधिकारिक शेड्यूल जारी करना अभी बाकी है, लेकिन इनसाइडपोर्ट की एक रिपोर्ट के अनुसार विराट कोहली एंड कंपनी को 16 एकदिवसीय, 23 T20I और 14 टेस्ट मैच 2021 में खेलने होंगे, जिसमें एशिया कप और टी-20 विश्व कप के मैच शामिल नहीं हैं।

2021 में टीम इंडिया के कार्यक्रम पर एक नजर:

भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया- जनवरी
भारत की 2021 ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ चल रही टेस्ट सीरीज के साथ जारी रहेगी। चार मैचों की सीरीज वर्तमान में 1-1 के स्तर पर है, जिसमें दो और टेस्ट बाकी हैं। तीसरा टेस्ट सिडनी में 07 जनवरी से शुरू होगा और चौथा और अंतिम मैच 15 जनवरी से ब्रिसबेन में खेला जाएगा।

भारत का इंग्लैंड दौरा- फरवरी से मार्च
ऑस्ट्रेलिया दौरे के समापन के बाद टीम इंडिया चार टेस्ट, तीन वनडे और पांच टी-20 समेत एक पूरी सीरीज की मेजबानी इंग्लैंड के खिलाफ करने के लिए स्वदेश लौट आएगी।

आईपीएल 2021- अप्रैल से मई
इंडियन प्रीमियर लीग का अगला संस्करण अप्रैल और मई के बीच खेला जाएगा। भारत में COVID-19 स्थिति के कारण UAE में 2020 संस्करण का मंचन किया गया था, लेकिन यदि स्थिति नियंत्रण में है, तो टूर्नामेंट को 2021 में भारत वापस लाया जा सकता है।

श्रीलंका और एशिया कप का भारत दौरा (जून-जुलाई)
भारत तीन मैचों की एकदिवसीय सीरीज और पांच टी-20 के लिए इंडियन प्रीमियर लीग के समापन के बाद श्रीलंका का दौरा करेगा। भारत एशिया कप में हिस्सा लेने के लिए श्रीलंका में अपने दौरे का विस्तार करेगा, जहां वे दो साल के लंबे अंतराल के बाद अपने खिताब का बचाव करेंगे और कट्टर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान से भिड़ेगा।

भारत का जिम्बाब्वे दौरा (जुलाई)
श्रीलंका दौरे के बाद भारत को सीमित ओवरों की सीरीज के लिए जिम्बाब्वे दौरे पर जाना है। यह दौरा 2020 में होने वाला था, लेकिन COVID-19 के कारण रद्द कर दिया गया था। कुछ युवा खिलाड़ियों और नए चेहरों को ज़िम्बाब्वे सीरीज में खुद को साबित करने का मौका मिल सकता है।

भारत का इंग्लैंड दौरा (अगस्त से सितंबर)
घर में इंग्लैंड की मेजबानी करने के बाद भारत अगस्त में पांच मैचों की टेस्ट सीरीज के लिए यात्रा करेगा। टेस्ट सीरीज साल 2021 में टीम इंडिया के लिए सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक होगी।

भारत का दक्षिण अफ्रीका दौरा (अक्टूबर)
भारत आईसीसी टी-20 विश्व कप 2021 से पहले अक्टूबर के महीने में दक्षिण अफ्रीका की मेजबानी करेगा।

आईसीसी टी 20 विश्व कप 2021
भारत टी-20 विश्व कप 2021 का मंचन करेगा और शोपीस इवेंट में पसंदीदा में से एक के रूप में शुरू करेगा।

भारत का न्यूजीलैंड दौरा (नवंबर-दिसंबर)
टीम इंडिया नवंबर-दिसंबर में दो टेस्ट और तीन T20I के लिए न्यूजीलैंड की मेजबानी करेगी।

भारत का दक्षिण अफ्रीका दौरा (दिसंबर)
टीम इंडिया दिसंबर में दक्षिण अफ्रीका के दौरे के साथ वर्ष का अंत करेगी, जहां वे तीन टेस्ट और कई टी-20 खेलेंगे।
 दशक के सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटर बने कोहली, धोनी को क्रिकेट भावना सम्मान

दशक के सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटर बने कोहली, धोनी को क्रिकेट भावना सम्मान

दुबई। भारतीय कप्तान विराट कोहली ने सोमवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) का दशक का शीर्ष सम्मान अपने नाम किया जब उन्होंने पिछले 10 साल के सर्वश्रेष्ठ पुरुष क्रिकेटर के लिए सर गारफील्ड सोबर्स ट्रॉफी जीती। कोहली को दशक का सर्वश्रेष्ठ एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर भी चुना गया। पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने आईसीसी का दशक का खेल भावना पुरस्कार जीता। 

प्रशंसकों ने 2011 में नॉटिंघम टेस्ट में इयान बेल के अजीब हालात में रन आउट होने के बाद उन्हें वापस बुलाने के लिए धोनी को इस पुरस्कार के लिए चुना। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद ने ट्विटर पर कोहली के इस पुरस्कार के लिए चुने जाने की घोषणा की। कोहली ने आईसीसी पुरस्कारों के समय के दौरान अपने 70 में से 66 अंतरराष्ट्रीय शतक जड़े। इस दौरान उनके नाम पर सर्वाधिक अर्धशतक (94), सर्वाधिक रन (20396) के अलावा 70 से अधिक पारी खेलते हुए सर्वाधिक औसत (56.97) का रिकॉर्ड भी रहा। कुल मिलाकर 32 साल के कोहली ने एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों में 12040 रन, टेस्ट क्रिकेट में 7318 रन और टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में 2928 रन बनाए हैं और सभी प्रारूपों में मिलाकर उनका औसत 50 से अधिक का है। कोहली इसके अलावा 2011 विश्व कप जीतने वाली भारतीय टीम के सदस्य भी रहे। कोहली ने बयान में कहा, सबसे पहले तो यह पुरस्कार मिलना मेरे लिए बड़े सम्मान की बात है। पिछले एक दशक में जो लम्हा मेरे दिल के सबसे करीब है वह निश्चित तौर पर 2011 में विश्व कप, 2013 में चैंपियन्स ट्रॉफी और 2018 में आस्ट्रेलिया में श्रृंखला जीतना है। सर्वश्रेष्ठ एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर चुने जाने पर कोहली ने कहा, एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से मैं काफी जल्दी जुड़ गया था। मैंने पहले एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय टीम में जगह बनाई और इसके कुछ साल बाद मैंने टेस्ट पदार्पण किया। उन्होंने कहा, इसलिए मुझे काफी पहले ही अपने खेल को समझने का मौका मिला। और मैं पहले भी कह चुका हूं कि मेरा एकमात्र इरादा और मानसिकता टीम के लिए विजयी योगदान देना था और मैंने अपने प्रत्येक मैच में सिर्फ ऐसा करने का प्रयास किया। कोहली ने कहा, अपने इस सफर के दौरान मैंने कभी आंकड़ों और संख्या पर ध्यान नहीं दिया और आप मैदान पर जो कुछ भी करते हो यह उसका नतीजा है और मेरे लिए यह जीत के रास्ते पर चलते हुए हासिल की गई उपलब्धियां हैं। कोहली आईसीसी के पुरस्कार समय के दौरान एकदिवसीय क्रिकेट में 10000 से अधिक रन बनाने वाले एकमात्र बल्लेबाज रहे। उन्होंने इस दौरान 39 शतक और 48 अर्धशतक जड़े और 61.83 की औसत से रन बनाए। वैश्विक संचालन संस्था ने आस्ट्रेलिया के स्टार बल्लेबाज स्टीव स्मिथ को दशक का सर्वश्रेष्ठ टेस्ट क्रिकेटर जबकि अफगानिस्तान के स्टार स्पिनर राशिद खान को दशक का सर्वश्रेष्ठ टी20 क्रिकेटर चुना। आस्ट्रेलिया की एलिस पैरी ने महिला पुरस्कारों में बाजी मारते हुए आईसीसी की दशक की सर्वश्रेष्ठ महिला क्रिकेटर के अलावा दशक की सर्वश्रेष्ठ एकदिवसीय और टी20 महिला क्रिकेटर के पुरस्कार भी अपने नाम किए।
 क्रिकेट प्रशंसकों के लिए बुरी खबर: पूर्व गेंदबाज ने दुनिया को कहा अलविदा- शिमला से था गहरा नाता

क्रिकेट प्रशंसकों के लिए बुरी खबर: पूर्व गेंदबाज ने दुनिया को कहा अलविदा- शिमला से था गहरा नाता

नई दिल्ली। क्रिकेट प्रशंसकों के लिए एक बुरी खबर सामने आई है। इंग्लैंड के पूर्व क्रिकेटर रॉबिन जैकमैन ने दुनिया को अलविदा कह दिया। जैकमैन क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद कमेंट्री करने लगे थे और खासे मशहूर थे। आईसीसी ने जैकमैन के निधन पर बयान जारी किया है, जिसमें कहा है कि इंग्लैंड के पूर्व गेंदबाज और महान कमेंटेटर रॉबिन जैकमैन के निधन से हम दुखी हैं।
 
 
इस मुश्किल वक्त में हम उनके परिवार के साथ खड़े हैं। जैकमैन 75 साल के थे। क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद रॉबिन जैकमैन साउथ अफ्रीका में कमेंट्री करने लगे थे और पत्नी के साथ वहीं रहते थे। जैकमैन का भारत से भी खास रिश्ता है। उनका जन्म 13 अगस्त 1945 को शिमला में हुआ था। जहां उनके पिता सेकंड गुरखा राइफल्स में मेजर के पद पर तैनात थे। उनका परिवार 1946 में इंग्लैंड लौट गया। जैकमैन ने इंग्लैंड के लिए 4 टेस्ट और 15 वनडे खेले। टेस्ट में उन्होंने 14 जबकि वनडे में 19 विकेट अपने नाम किए।
 

रॉबिन जैकमैन शुरुआत में अपने अंकल मशहूर कॉमेडियन पैट्रिक सारगिल की तरह एक्टर बनना चाहते थे,  लेकिन असफलता के बाद उन्होंने क्रिकेट में अपना करियर बनाने का फैसला किया। जैकमैन ने अपने करियर में 399 प्रथम श्रेणी मैच खेले, जिनमें उन्होंने 1402 विकेट लिए। ये मैच उन्होंने 1966 से 1982 के बीच लिए। इसके अलावा उन्होंने 288 लिस्ट ए मुकाबलों में भी हिस्सा लिया। इनमें जैकमैन के खाते में 439 विकेट दर्ज हुए।

न्यूजीलैंड के पूर्व गेंदबाज और कमेंटेटर डैनी मॉरिसन ने जैकमैन के निधन पर शोक जताया है। उन्होंने कहा, सुबह प्यारे साथी रॉबिन जैकमैन के निधन की बुरी खबर के साथ उठा। खुशकिस्मत हूं कि उनके साथ इतना शानदार समय बिताने का मौका मिला। साउथ अफ्रीकी क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान एबी डिविलियर्स ने भी जैकमैन के निधन पर शोक जताया है।
 क्रिसमस पर सचिन तेंडुलकर बने सैंटा, शेयर किया एक वीडियो

क्रिसमस पर सचिन तेंडुलकर बने सैंटा, शेयर किया एक वीडियो

नई दिल्ली। क्रिसमस के अहम मौके पर महान क्रिकेटर सचिन तेंडुलकर, रोहित शर्मा, फुटबॉलर क्रिस्टियानो रोनाल्डो, लियोनेल मेसी सहित तमाम दिग्गज खिलाडिय़ों ने अपने चाहने वालों को शुभकामनाएं दी हैं। सचिन तेंडुलकर ने एक वीडियो शेयर किया है, जिसमें वह सैंटा बने दिख रहे हैं। इसी तरह से मेसी, रोनाल्डो, बेकहम सहित तमाम दिग्गजों ने तस्वीरें और वीडियो अपने सोशल मीडियो पेज पर शेयर किए हैं।
 
 IPL को मिल सकती है बड़ी सौगात: T20 वर्ल्ड कप पर भी होगा बड़ा फैसला

IPL को मिल सकती है बड़ी सौगात: T20 वर्ल्ड कप पर भी होगा बड़ा फैसला

अहमदाबाद। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड यानी बीसीसीआइ के लिए आज यानी 24 दिसंबर का दिन काफी अहम है, क्योंकि बोर्ड की वार्षिक आम सभा यानी एजीएम का आयोजन होना है। अहमदाबाद में होने वाली इस बड़ी बैठक में कई बड़े फैसले लिए जाने हैं, जिसमें आइपीएल और अगले साल भारत में होने वाले टी20 विश्व कप को लेकर बड़ा ऐलान हो सकता है। इसके लिए भी पदाधिकारी अहमदाबाद पहुंच चुके हैं।  
 
 
बीसीसीआइ की एजीएम में दो नई आइपीएल टीमों को शामिल करने पर भी फैसला लिया जा सकता है। इसके अलावा विभिन्न क्रिकेट समितियों का गठन भी इस एजेंडे में शामिल होगा। अगले साल अक्टूबर-नवंबर में भारत में होने वाले टी-20 विश्व कप के आयोजन के लिए कर (Tax) में  पूरी छूट की गारंटी देने के लिए आइसीसी ने बीसीसीआइ को 31 दिसंबर तक की समय सीमा दी है। ऐसे में ये मुद्दा भी अहम है। 
 
 
बता दें कि अगर बीसीसीआइ ने आइसीसी को कर छूट नहीं दी तो फिर टी20 वर्ल्ड कप 2021 में यूएई में खेला जाएगा। इससे पहले भी वैश्विक टूर्नामेटों को कर में छूट देने की परंपरा रही है, लेकिन मौजूदा कर कानूनों के तहत खेल आयोजनों को ऐसी रियायत नहीं मिलती। ऐसे में अब देखना ये होगा कि इस मसले पर बीसीसीआइ की एजीएम में क्या फैसला लिया जाता है।
 
 
इस बीच बीसीसीआइ के नए उपाध्यक्ष राजीव शुक्ला के चयन की भी इस बैठक में औपचारिक घोषणा होगी जो सर्वसम्मति से चुने गए हैं। वहीं, बृजेश पटेल आइपीएल चेयरमैन बने रहेंगे। ऐसी भी अटकलें हैं कि बीसीसीआइ के अध्यक्ष सौरव गांगुली से उनके विज्ञापनों और उससे जुड़े हितों के टकराव के मामले पर भी सवाल किए जा सकते हैं, लेकिन अभी इस पर कोई स्पष्टता नहीं है।
 
 
बोर्ड के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, `इस समय आइपीएल में 10 टीमें रखना 2021 के लिए संभव नहीं है। इसके लिए निविदा की प्रक्रिया और नीलामी लंबा समय लेगी और इतने कम समय में यह मुमकिन नहीं। यह सही होगा कि मंजूरी ले ली जाए और 2022 में 94 मैचों का टूर्नामेंट हो।` आइसीसी के मंचों पर बीसीसीआइ के सचिव और गांगुली बोर्ड के प्रतिनिधि बने रहेंगे।
 
 
बीसीसीआइ अगर 2028 लॉस एंजिलिस ओलंपिक में क्रिकेट को शामिल करने का समर्थन करता है तो उसकी स्वायत्ता खत्म हो जाएगी और वह राष्ट्रीय खेल महासंघ होने के नाते खेल मंत्रालय के अंतर्गत आ जाएगा। बीसीसीआइ की विभिन्न समितियों का गठन भी लंबे समय से बंद है। समझा जाता है कि नई क्रिकेट सलाहकार समिति का गठन होगा जो तीन नए चयनकर्ता चुनेगी।
अश्विन के आगे घुटने टेका आस्ट्रेलिया, पहली पारी में 191 रन में हुआ ढेर भारत को 62 रन की बढ़त

अश्विन के आगे घुटने टेका आस्ट्रेलिया, पहली पारी में 191 रन में हुआ ढेर भारत को 62 रन की बढ़त

भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया लाइव क्रिकेट स्कोर: भारत ने पिंक बॉल से खेले जा रहे डे-नाइट टेस्ट के दूसरे दिन ऑस्ट्रेलिया को पहली पारी में 191 रन पर आउट करके 53 रन की बढत ले ली। टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए भारत ने पहली पारी में 244 रन बनाए थे। ऑस्ट्रेलियाई टीम के लिए मार्नस लाबुशेन (47) और टिम पेन (नाबाद 73) को छोड़कर कोई बल्लेबाज टिक नहीं सका। स्टंप्स तक भारत ने एक विकेट के नुकसान पर नौ रन बना लिए थे। पृथ्वी शॉ फिर फेल हुए।


बतौर नाइटवॉचमैन जसप्रीत बुमराह को तीसरे नंबर पर प्रमोट किया गया। आखिरी ओवर्स में टीम इंडिया कोई अहम विकेट नहीं गंवाना चाहती क्योंकि एक विकेट गिरते ही आज का दिन वही समाप्त कर दिया जाएगा।


इसके पहले ऑस्ट्रेलिया की तरफ से कप्तान टिम पेन ने नाबाद 73 रन बनाए. उन्होंने 99 गेंदों का सामना कर 10 चौके मारे. मार्नस लाबुशैन ने 47 रनों का योगादान दिया। इन दोनों के अलावा कैमरून ग्रीन (11) और मिशेल स्टार्क (15) और नाथन लॉयन (10) ही दहाई के आंकड़े में पहुंच सके. स्टीव स्मिथ ने 29 गेंदों पर एक रन बनाया. भारत के लिए रविचंद्रन अश्विन ने चार विकेट लिए. उमेश यादव ने तीन, जसप्रीत बुमराह ने दो विकेट लिए.

एडिलेड टेस्ट में अश्विन ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों के लिए बड़ा खतरा साबित हो रहे हैं. अश्विन ने पहली पारी में अब तक 4 कंगारू बल्लेबाजों को पवेलियन लौटा दिया. अश्विन ने सबसे पहले स्टीव स्मिथ (1) फिर ट्रेविस हेड (7) उसके बाद डेब्यू कर रहे कैमरन ग्रीन (11) को भी पवेलियन भेज दिया. इसके बाद अश्विन ने नाथन लियोन (10) को भी आउट कर दिया.

 

  विराट कोहली ने तोड़ा 51 साल पुराना रिकॉर्ड, पढ़े पूरी खबर

विराट कोहली ने तोड़ा 51 साल पुराना रिकॉर्ड, पढ़े पूरी खबर

नई दिल्ली। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच एडिलेड में खेले जा रहे पहले टेस्ट मैच के पहला दिन टीम इंडिया के लिए मिलाजुला रहा। कप्तान विराट कोहली ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया, लेकिन टीम की शुरुआत अच्छी नहीं रही और पृथ्वी शॉ (0) और मयंक अग्रवाल (17) बल्ले से कुछ खास प्रदर्शन नहीं कर सके। इसके बाद, चेतेश्वर पुजारा (43) और कप्तान कोहली (74) ने तीसरे विकेट के लिए 68 रनों की अच्छी साझेदारी की और टीम को मजबूत प्रदान की। पुजारा नाथन लॉयन की गेंद पर आउट हुए। हालांकि, कोहली एक छोर पर डटे रहे और उन्होंने रहाणे के साथ मिलकर चौथे विकेट के लिए 88 रन जोड़े, लेकिन वह दुर्भाग्यपूर्ण तरीके से रनआउट हो गए।  कोहली ने अपनी 74 रनों की पारी के दौरान भारत के पूर्व कप्तान टाइगर पटौदी के 51 साल पुराने रिकॉर्ड को ध्वस्त किया, जबकि एक खास मामले में विराट ने महेंद्र सिंह धोनी को भी पीछे छोड़ दिया है। 

ऑनएयर वॉर्न ने किया पुजारा पर विवादित कमेंट, फैन्स ने कर दिया ट्रोल-
दरअसल, विराट कोहली बतौर कप्तान ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट मैचों में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज बन गए हैं। 74 रनों की पारी के साथ ही विराट के नाम अब ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 851 रन हो गए हैं। उन्होंने पूर्व कप्तान टाइगर पटौदी के 51 साल पुराने रिकॉर्ड को तोड़ दिया है। पटौदी ने कप्तान के तौर पर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 10 टेस्ट मैचों में 829 रन बनाए थे। इसके अलावा, विराट कोहली बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी में भी बतौर कप्तान सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज बन गए हैं और उन्होंने महेंद्र सिंह धोनी को इस मामले में पीछे छोड़ दिया है। धोनी ने इस ट्रॉफी में कप्तान करते हुए 813 रन बनाए थे। 

टीम मैनेजमेंट के बर्ताव से दुखी होकर क्क्र्य तेज गेंदबाज मोहम्मद आमिर ने इंटरनैशनल क्रिकेट को कहा अलविदा-
विराट कोहली पिंक बॉल से खेल जा रहे डे-नाइट टेस्ट मैच में अपने शतक की तरफ तेजी से बढ़ रहे थे, लेकिन रहाणे के साथ हुए मिक्सअप के चलते उनको अपना विकेट रनआउट के रूप में गंवाना पड़ा। भारत की टीम ने पहले दिन का खेल खत्म होने पर 6 विकेट के नुकसान पर 233 रन बनाए। टीम की तरफ से ऋद्धिमान साहा और अश्विन अभी क्रीज पर मौजूद हैं। ऑस्ट्रेलिया की तरफ से पहले दिन सबसे सफल गेंदबाज मिचले स्टार्क रहे, जिन्होंने 2 विकेट चटकाए।
 टेस्ट सीरीज में विराट और रोहित की आधी-अधूरी हिस्सेदारी चिंताजनक

टेस्ट सीरीज में विराट और रोहित की आधी-अधूरी हिस्सेदारी चिंताजनक

नई दिल्ली। भारत-पाकिस्तान और ऑस्ट्रेलिया-इंग्लैंड के बीच टेस्ट सीरीज में दिखने वाली प्रतिद्वंद्विता इस सदी में भारत और ऑस्ट्रेलिया की टेस्ट सीरीज में देखी जाने लगी है। यही वजह है कि अभी इस टेस्ट सीरीज का बेसब्री से इंतजार किया जा रहा है।विराट कोहली की अगुआई वाली भारतीय टीम ने 2018-19 की टेस्ट सीरीज में पहली बार ऑस्ट्रेलिया को उनके घर में 2-1 से दचक कर टीम ऑस्ट्रेलिया की प्रतिशोध की ज्वाला को और धधका दिया है। टीम इंडिया के लिए सीरीज जीतकर यह साबित करने का मौका है कि वह किसी खिलाड़ी विशेष पर निर्भर टीम नहीं है। एक दौर था, जब भारतीय टीम जीत के लिए स्पिनरों पर निर्भर रहती थी और विदेशी दौरों पर अनुकूल माहौल और विकेट नहीं मिलने पर जीत उसकी पहुंच से दूर बनी रहती थी। लेकिन पिछले कुछ सालों में टीम इंडिया बहुत बदली है और वह दुनिया भर में दबदबे वाला क्रिकेट खेल रही है। उसके लिए इस बात का कोई मायने नहीं रह गया है कि मेजबान देश किस तरह के विकेट तैयार कर रहा है। अब वह उनके बनाए माहौल में भी अपना बेस्ट देना सीख गई है। इसकी वजह पेस अटैक का जानदार बनना है।

भारत के तेज गेंदबाज यह भरोसा बनाने में कामयाब हो गए हैं कि उनमें प्रतिद्वंद्वी टीम के 20 विकेट निकालने का माद्दा है। यह भरोसा ही है कि अब भारतीय टीम मैनेजमेंट विदेशी जमीन पर खेले जाने वाले टेस्ट मैचों में एक ही स्पिनर खिलाने लगा है। ऑस्ट्रेलिया की पेस तिकड़ी पैट कमिंस, मिशेल स्टार्क और हेजलवुड को हमेशा ही खतरनाक माना जाता रहा है। पर अब जसप्रीत बुमराह की अगुआई वाला पेस अटैक भी उन्हें बराबरी की टक्कर देने का दम रखता है और यह बात वह पिछले दौरे पर साबित कर चुका है। भारतीय पेस अटैक के दमदार होने का अंदाजा इससे लगा सकते हैं कि स्टीव स्मिथ कह रहे हैं कि हमारे खिलाफ यदि शॉर्ट पिच गेंदें डाली गईं, तो हममें उसका सामना करने की क्षमता है। आप याद करें, क्या पहले कभी ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज भारतीय पेसरों को इस तरह भाव देते नजर आते थे? इसका तो यही मतलब है कि वे भारतीय तेज गेंदबाजी को तवज्जो देने को मजबूर हो गए हैं। यह सही है कि जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी और उमेश यादव का साथ देने के लिए इस बार अनुभवी गेंदबाज ईशांत शर्मा नहीं होंगे। पर नवदीप सैनी या सिराज में से किसी एक को खिलाकर अटैक की धार बनाए रखी जा सकती है। भारतीय मुख्य कोच रवि शास्त्री ने भारतीय पेस अटैक को दुनिया का सर्वश्रेष्ठ बताया था। इसकी वजह शायद पिछले दौरे पर उनका ऑस्ट्रेलिया के पेस गेंदबाजों से बेहतर प्रदर्शन था। इस सीरीज के एडिलेड और पर्थ में खेले गए टेस्ट में तो ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज भारतीय पारी के सभी 40 विकेट निकालने में कामयाब हो गए थे। लेकिन मेलबर्न और सिडनी में वे समझ नहीं पा रहे थे कि भारतीय बल्लेबाजों को कैसे आउट करें।

वहीं भारतीय गेंदबाजों ने इन दोनों टेस्ट में भी परचम फहराकर भारत को पहली बार ऑस्ट्रेलिया में सीरीज जिताने में अहम भूमिका निभाई। इस सीरीज में ऑफ स्पिनर अश्विन ने भी पहले टेस्ट में छह विकेट निकालकर अपना लोहा मनवाया था, पर बाकी टेस्ट वे नहीं खेल सके थे। इस बार वह पूरी तरह फिट हैं, हालांकि उनके मुकाबले नाथन लियोन घर में ज्यादा कारगर साबित होते रहे हैं, और वह एक खतरा हो सकते हैं। इस सीरीज में भारत के सामने कुछ अनसुलझे सवाल जरूर हैं। पहला सवाल तो यही है कि मयंक अग्रवाल के साथ पारी की शुरुआत किससे कराई जाए। अगर रोहित शर्मा होते तो यह सवाल ही नहीं उठता। इसके लिए पृथ्वी शॉ और शुभमन गिल दो दावेदार हैं। पृथ्वी के पक्ष में यह बात जाती है कि उन्हें टेस्ट खेलने का अनुभव है और वे पूरी निडरता के साथ खेलते हैं। उन्हें इस बात की परवाह नहीं होती कि सामने कौन गेंदबाज है। पर उनकी दिक्कत उनका डिफेंस है। इस कमी की वजह से आईपीएल में अच्छी शुरुआतों को वह बड़ी पारी में नहीं बदल सके थे। क्रिकेट इतिहास के सर्वश्रेष्ठ ओपनरों में एक गावस्कर को लगता है कि शुभमन गिल को मौका देना चाहिए। आखिरी दो टेस्ट के लिए रोहित शर्मा के आने पर उनका खेलना ओपनरों के प्रदर्शन पर निर्भर करेगा। टीम इंडिया मैनेजमेंट के सामने विकेट कीपर के तौर पर ऋद्धिमान साहा और ऋषभ पंत में से किसे खिलाया जाए, यह उलझन भी होगी। साहा की विकेट कीपिंग बहुत बेहतर है, पर धीमे विकेट पर स्टंप्स के करीब खड़े होते समय बेहतर कलेक्शन वाले खिलाड़ी की जरूरत पड़ती है।

ऑस्ट्रेलिया में विकेट तेज होने से विकेट कीपर स्टंप्स से दूर खड़े होंगे। ऐसे में ऋषभ पंत को खिलाना बेहतर विकल्प होगा। दिन-रात के अभ्यास मैच में शतक ठोककर वह अपना दावा मजबूत कर भी चुके हैं। वैसे भी पंत 2018-19 के दौरे में अपने नाबाद शतक से भारत को सीरीज जिताने में अहम भूमिका निभा चुके हैं। इसमें कोई दो राय नहीं कि साहा की बल्लेबाजी भी अच्छी है, पर इस मामले में वह पंत से कोसों दूर नजर आते हैं। विराट कोहली की कप्तानी हो या बल्लेबाजी, वह सभी में अपना प्रभाव छोडऩे में हमेशा सफल रहते हैं। उनकी पहले टेस्ट के बाद अनुपस्थिति जरूर खलेगी। जहां तक उनकी गैरमौजूदगी में कप्तानी की बात है तो अजिंक्य रहाणे इस जिम्मेदारी को निभाने में पूरी तरह सक्षम हैं।

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ धर्मशाला टेस्ट और अफगानिस्तान के खिलाफ खेले गए इकलौते टेस्ट में वह अपनी कप्तानी में भारत को जीत भी दिला चुके हैं। पर विराट की बल्लेबाजी की भरपाई करना थोड़ा मुश्किल होगा। विराट कोहली की गैरमौजूदगी में चेतेश्वर पुजारा के साथ रहाणे को अतिरिक्त प्रयास करने होंगे। याद रहे, पिछली सीरीज जिताने में भी पुजारा ने 521 रन बनाकर अहम भूमिका निभाई थी। ये दोनों डटे रहे तो सीरीज का परिणाम भारत के पक्ष में आ सकता है।
BIG BREAKING : भारतीय टीम के पूर्व विकेटकीपर-बल्लेबाज पार्थिव पटेल ने क्रिकेट से लिया सन्यास, जाने ट्विट कर क्या कहा उन्होंने

BIG BREAKING : भारतीय टीम के पूर्व विकेटकीपर-बल्लेबाज पार्थिव पटेल ने क्रिकेट से लिया सन्यास, जाने ट्विट कर क्या कहा उन्होंने

नई दिल्ली | भारत के पूर्व विकेटकीपर-बल्लेबाज पार्थिव पटेल ने बुधवार (9 दिसंबर) को अपने 18 साल के क्रिकेट करियर से संन्यास ले लिया है| पार्थिव ने सोशल मीडिया के जरिये बताया कि वह आज क्रिकेट के सभी फॉर्मेस से संन्यास ले रहे हैं| 35 साल के पार्थिव ने भारत के लिए 25 टेस्ट, 38 वनडे और दो टी20 इंटरनेशनल खेले हैं| घरेलू क्रिकेट में गुजरात के लिए खेलते हुए पार्थिव ने 194 फर्स्ट क्लास मैच खेले हैं|

पढ़ें : BIG BREAKING : DSP से बीच सड़क पर वर्दी और पिस्तौल की हुई लूट, तमंचा दिखा कर दिया लूट को अंजाम, जाने कहा की है यह खबर

पार्थिव पटेल ने 2002 में भारतीय क्रिकेट टीम में डेब्यू किया था और इसी के साथ वह टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू करने वाले सबसे कम उम्र के विकेटकीपर बने थे| उन्होंने 17 साल और 153 दिन की उम्र में डेब्यू किया था| पार्थिव ने टेस्ट क्रिकेट में 31.13 की औसत से 934 रन बनाए हैं| वहीं, वनडे में 23.7 औसत से 736 रन बनाए हैं| इसके अलावा बतौर विकेटकीपर टेस्ट में 62 कैच लपके और 10 स्टम्पिंग की| पार्थिव के करियर की शुरुआत अच्छी रही थी, लेकिन 2004 में दिनेश कार्तिक और महेंद्र सिंह धोनी के उदय के बाद उन्होंने अपना स्थान गंवा दिया|

पढ़ें : BIG BREAKING : अब इस फ़िल्मी सितारे ने फांसी लगा कर की आत्महत्या, फिल्म इंडस्ट्री में शोक की लहर

रिटायरमेंट का ऐलान करते हुए पार्थिव पटेल ने अपने टि्वटर पर पूर्व कप्तान और बीसीसीआई के मौजूदा अध्यक्ष सौरव गांगुली का शुक्रिया अदा किया, जिनकी कप्तानी में पटेल ने डेब्यू किया था| ''मैं आज क्रिकेट के सभी प्रारूपों से विदा ले रहा हूं| भारी मन से अपने 18 साल के क्रिकेट के सफर का समापन कर रहा हूं|'' पार्थिव ने कहा, ''मुझे सुकून है कि मैंने गरिमा, खेल भावना और आपसी सामंजस्य के साथ खेला| मैंने जितने सपने देखे थे, उससे ज्यादा पूरे हुए| मुझे उम्मीद है कि मुझे याद रखा जाएगा|''

पढ़ें : राजधानी के राजातालाब स्थित मकान में जुआ खेलते 09 जुआरियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार, पढ़ें पूरी खबर

पार्थिव पटेल ने लिखा, ''मैं खास तौर पर दादा का ऋणी हूं, मेरे पहले कप्तान, जिन्होंने मुझ पर काफी विश्वास जताया|'' इसके साथ-साथ उन्होंने बीसीसीआई को भी शुक्रिया कहा| उन्होंने लिखा, ''17 साल की उम्र में बीसीसीआई ने उन्हें खेलने का मौका दिया, उसके लिए मैं हमेशा शुक्रगुजार रहूंगा|'' उन्होंने कहा, ''मैं आईपीएल टीमों और उनके मालिकों को भी धन्यवाद देना चाहता हूं, जिन्होंने मुझे टीम में शामिल किया और मेरा ध्यान रखा|''

कोरोना वैक्सिन पर ट्वीट कर फंसे क्रिकेटर हरभजनसिंह, ट्वीट के बाद भडके यूजर्स

कोरोना वैक्सिन पर ट्वीट कर फंसे क्रिकेटर हरभजनसिंह, ट्वीट के बाद भडके यूजर्स

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस के मामले एक करोड़ के करीब पहुंच गए हैं। 95 लाख से ज्यादा लोग अबतक इस जानलेवा बीमारी से संक्रमित हो चुके हैं। वहीं अब कोरोना वायरस महामारी के इलाज के लिए वैक्सीन की उम्मीद बढऩे लगी है। दुनियाभर में एक आस जगी है कि जल्द ही इस बीमारी से लडऩे का एक कारगर हथियार हमारे पास होगा। इस बीच भारतीय क्रिकेटर हरभजन सिंह ने एक ऐसा ट्वीट किया, जिसके बाद वह ट्विटर पर ट्रोल हो रहे हैं। भज्जी ने ट्वीट किया, फाइजर और बायोटेक वैक्सीन की ऐक्सूरेसी- 94 प्रतिशत, मोडेर्ना वैक्सीन- 94.5 प्रतिशत, ऑक्सफर्ड वैक्सीन- 90 प्रतिशत....भारतीयों की रिकवरी रेट (बिना वैक्सीन)- 93.6 प्रतिशत...क्या भारतीयों को वाकई वैक्सीन की जरूरत है।

भज्जी के ट्वीट के बाद यूजर्स उनपर भड़क गए हैं। भारतीय ऑफ स्पिनर ने ट्वीट करते हुए वैक्सीन की कारगर क्षमता बताते हुए पूछा है कि क्या वास्तव में हमें कोरोना वैक्सीन की जरूरत भी है?

उन्होंने लिखा है, फाइजर और बायोटेक वैक्सीन की ऐक्सूरेसी- 94 त्न मोडेर्ना वैक्सीन- 94.5त्न ऑक्सफर्ड वैक्सीन- 90त्नभारत में रिकवरी दर (बिना वैक्सीन)- 93.6त्न क्या हमें वास्तव में वैक्सीन की जरूरत भी है?

हरभजन के इस ट्वीट के बाद यूजर्स ने उन्हें ट्रोल करना शुरू कर दिया है। एक यूजर ने उनपर तंज कसते हुए जवाब दिया है, जब भारतीय बल्लेबाज 350 रन चेज कर सकते हैं तो फिर हमें स्पेशलिस्ट गेंदबाजों की क्यों जरूरत पड़ती है, पार्ट टाइम गेंदबाज से भी काम चल सकता है, जब स्पिनर गेंदबाजी कर रहा होता है तो हम पैड क्यों लगाते हैं, हमारी हड्डियां इतनी मजबूत होती तो हैं।
कोहली ने तोड़ा सचिन का रिकॉर्ड, पढ़े पूरी खबर

कोहली ने तोड़ा सचिन का रिकॉर्ड, पढ़े पूरी खबर

नई दिल्ली। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टीम इंडिया भले ही सीरीज हार चुकी है, लेकिन कप्तान विराट कोहली ने बुधवार को खेले जा रहे तीसरे वनडे में एक और रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया। कोहली ने मैच में 23 रन बनाते ही सबसे तेज 12 हजार रन बनाने का रिकॉर्ड कायम अपने नाम कर लिया। इस मामले में वे सचिन तेंदुलकर से आगे निकल गए हैं। सचिन ने 12 हजार रन बनाने के लिए 309 मैच खेले थे। वहीं, कोहली सचिन से 58 मैच पहले ही यह रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया। इससे पहले सबसे तेज 10 हजार बनाने का रिकॉर्ड भी विराट ने ही तोड़ा था। इस वनडे से पहले कोहली ने 250 वनडे में 59.29 की औसत से 11,977 रन बनाए।यदि कोहली एक सेंचुरी लगा देते हैं, तो वे ऑस्ट्रेलिया के रिकी पोंटिंग के रिकॉर्ड की बराबरी कर लेंगे। पोंटिंग ने अब तक 71 इंटरनेशनल सेंचुरी लगाई हैं। वहीं, कोहली 70 सेंचुरी के साथ तीसरे नंबर पर हैं। सबसे ज्यादा इंटरनेशनल सेंचुरी लगाने का रिकॉर्ड सचिन तेंदुलकर के नाम है।

सचिन का एक और रिकॉर्ड निशाने पर-
वनडे में एक सेंचुरी लगाने के साथ ही कोहली तेंदुलकर के ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सबसे ज्यादा सेंचुरी लगाने के रिकॉर्ड की भी बराबरी कर लेंगे। तेंदुलकर ने वनडे में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 9 सेंचुरी लगाई है। जबकि, कोहली और रोहित शर्मा ने 8-8 सेंचुरी लगाई। इस लिस्ट में चौथे नंबर पर वेस्टइंडीज के पूर्व क्रिकेटर डेसमंड हेन्स का नाम है। उन्होंने 6 सेंचुरी लगाई हैं।

कोहली 12 हजार के क्लब में शामिल होने वाले दूसरे भारतीय-
इससे पहले कोहली के नाम वनडे में सबसे तेज 8000 रन, 9000 रन, 10000 रन और 11,000 रन बनाने का भी रिकॉर्ड है। वनडे इंटरनेशनल में सबसे ज्यादा रन सचिन ने बनाए हैं। कोहली वनडे में 12 हजार रन बनाने वाले छठे बल्लेबाज बने। साथ ही वे 12 हजार के क्लब में शामिल होने वाले दूसरे भारतीय बन गए।

श्रीलंका के 3 बल्लेबाजों ने 12 हजार से ज्यादा रन बनाए हैं-
प्लेयरदेश-मैच-(इनिंग्स)-ODI रन
सचिन तेंदुलकर-भारत-463-(452)-18,426
कुमार संगकारा-श्रीलंका-404-(380)-14,234
रिकी पोंटिंग-ऑस्ट्रेलिया-375-(365)-13,704
सनथ जयसूर्या-श्रीलंका-445-(433)-13,430
महेला जयवर्धने-श्रीलंका-448-(418)-12,650
विराट कोहली-भारत251-(242)-12,000
 
  विराट कोहली पर भड़के गौतम गंभीर, बोले- ऐसी कप्तानी मेरे समझ से बाहर

विराट कोहली पर भड़के गौतम गंभीर, बोले- ऐसी कप्तानी मेरे समझ से बाहर

नई दिल्ली। भारत के पूर्व दिग्गज ओपनर गौतम गंभीर  ने ऑस्ट्रेलिया से मिली लगातार दूसरी हार के बाद भारतीय कप्तान विराट कोहली  की खुलकर आलोचना की है। उन्होंने कोहली की उस रणनीति को खराब कप्तानी बताया, जिसके तहत दूसरे वनडे में पावरप्ले में जसप्रीत बुमराह से महत दो ओवर करवाए गए थे। गंभीर ने कहा कि हम लगातार विकेट लेने की बात कर रहे हैं, लेकिन जब प्रमुख गेंदबाज को मौका ही नहीं देंगे तो विकेट कैसे मिलेगा।

गेंदबाजों को लेकर खराब रणनीति-
गंभीर ने कहा कि उन्हें यह बात समझ में नहीं आई कि कोहली ने नई गेंद से जसप्रीत बुमराह को सिर्फ दो ओवर क्यों दिए। उन्होंने क्रिकइन्फो के एक शो में विराट कोहली पर निशाना साधते हुए कहा, मैं ईमानदारी से कहूं तो कप्तानी को नहीं समझ सकता। हम इस बारे में लगातार बात कर रहे हैं कि अधिक से अधिक विकेट लेना है और हमें ऐसी (ऑस्ट्रेलिया की) बैटिंग लाइन अप को तोडऩा है, लेकिन अपने महत्वपूर्ण गेंदबाज (जसप्रीत बुमराह) से नई गेंद से दो ओवर ही करा रहे हैं। सामान्यत: वनडे में 4-3-3 ओवरों के स्पेल होते हें। 3 बेहतर माना जाता है और किसी बोलर से अधिकतम एक स्पेल में 4 ओवर करवाए जाते हैं।

यह टी-20 नहीं, वनडे है-
उन्होंने आगे कहा, अगर आप नई गेंद के साथ दो ओवर गेंदबाजी कराके अपने प्रमुख तेज गेंदबाज को रोकते हैं तो मैं कप्तानी के बारे में समझ नहीं सकता। मैं शायद उस कप्तानी को समझा भी नहीं सकता। यह टी 20 क्रिकेट नहीं है। भारत की हार हुई, क्योंकि खराब कप्तानी थी।ज् उल्लेखनीय है कि दोनों ही वनडे में भारतीय गेंदबाज छोटे-छोटे स्पेल करते दिखे और गेंदबाजी में तेजी से बदलाव दिखा।

टीम सिलेक्शन पर उठाया सवाल-
टीम सिलेक्शन पर सवाल उठाते हुए उन्होंने कहा, च्वह वॉशिंगटन सुंदर या शिवम दूबे को वनडे में शामिल कर सकते थे। इससे पता चलता कि वे वनडे में कैसा प्रदर्शन करते हैं। अगर ये दोनों ऑस्ट्रेलिया में नहीं हैं तो यह कहीं न कहीं से टीम चयन में खराबी भी है। जब तक आप किसी को मौका नहीं देंगे तो आप कैसे जान पाएंगे कि वह इंटरनैशनल लेवल पर कितना अच्छा है।

दोनों मैचों में भारत को मिली हार-
ऑस्ट्रेलिया ने रविवार को सिडनी क्रिकेट ग्राउंड (एससीजी) पर खेले गए दूसरे वनडे मैच में भारत के खिलाफ 50 ओवरों में 4 विकेट खोकर 389 रनों का विशाल स्कोर बनाया। इस लक्ष्य को पाना भारतीय टीम के लिए नामुमकिन साबित हुआ। वह 51 रनों से मैच हार गई। मेहमान टीम पूरे ओवर खेलने के बाद नौ विकेट खोकर 338 ही बना सकी। इसी के साथ ऑस्ट्रेलिया ने तीन मैचों की वनडे सीरीज में 2-0 की अजेय बढ़त ले ली है। पहले वनडे में भी ऑस्ट्रेलिया ने 374 रनों का विशाल स्कोर खड़ा किया था।
 
फैंस के लिए बड़ी खुशखबरी, कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में हुई क्रिकेट की एंट्री

फैंस के लिए बड़ी खुशखबरी, कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में हुई क्रिकेट की एंट्री

क्रिकेट फैंस के लिए एक बड़ी खुशखबरी है। 2022 में बर्मिंघम में होने वाले कॉमनवेल्थ गेम्स में क्रिकेट को भी शामिल कर लिया गया है। इसके लिए कॉमनवेल्थ गेम्स फेडरेशन और इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल ने योग्यता प्रक्रिया की घोषणा कर दी है। 2022 में महिलाओं की आठ टीमें कॉमनवेल्थ गेम्स में भाग लेंगी।


बता दें कि कॉमनवेल्थ गेम्स इंग्लैंड में होने वाले हैं। ऐसे में मेजबान टीम के रूप में इंग्लैंड की टीम ने सीधे क्वालीफाई कर चुकी है। इस तरह वह कॉमनवेल्थ गेम्स में शामिल होने वाली पहली टीम बन गई है। अन्य स्थानों के लिए आईसीसी महिला टी-20 टीम रैंकिग देखी जाएगी, जो एक अप्रैल 2021 से लागू होगी।

केवल एक जगह के लिए कॉमनवेल्थ गेम्स क्वालीफायर करवाए जाएंगे। इसकी आखिरी तारीख 31 जनवरी 2022 होगी। महिला क्रिकेट टीमें पहली बार बर्मिंघम में होने वाले इस टूर्नामेंट में खेलेगी, जिसमें कुल आठ देश शामिल होंगे। सभी मुकाबले इंग्लैंड के एजबेस्टन में खेले जाएंगे। मालूम हो कि इससे पहले 1998 में पहली बार क्वालालंपुर में पुरुषों की टीमों ने हिस्सा लिया था।


 

IPL Final 2020 : दिल्ली कैपिटल्स ने जीता टॉस, किया पहले बैटिंग का फैसला

IPL Final 2020 : दिल्ली कैपिटल्स ने जीता टॉस, किया पहले बैटिंग का फैसला

MI vs DC IPL Final 2020: इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 13वें सीजन की दो सबसे मजबूत टीमें- दिल्ली कैपिटल्स और मुंबई इंडियंस मंगलवार को दुबई इंटरनेशनल क्रिकेट स्टेडियम में खिताब के भिड़ने जा रही है मैदान में टास हो चूका है दिल्ली ने टॉस जीत कर पहले बल्लेबाजी करने का निर्णय लिया है |
दिल्ली ने इससे पहले कभी फाइनल नहीं खेला है. लीग में मौजूदा आठ टीमों में से वह इकलौती टीम थी जो फाइनल नहीं खेली थी. श्रेयर अय्यर की कप्तानी वाली दिल्ली ने 13वें सीजन में इस सूखे को तो खत्म कर ही दिया है, लेकिन क्या वो अनुभवी मुंबई के सामने खिताबी सूखा खत्म कर पाएगी यह देखना दिलचस्प होगा. खिताबी मुकाबले से पहले इस सीजन में यह दोनों टीमें तीन बार आमने-सामने हो चुकी हैं और तीनों बार मुंबई ने बाजी मारी है. लीग चरण के दोनों मैचों में मुंबई को जीत मिली थी. प्लेऑफ में पहले क्वालीफायर में भी इन दोनों टीमों का सामना हुआ था, जिसमें मुंबई ने फिर दिल्ली को हराया था और सीधे फाइनल में जगह बनाई थी.


दिल्ली कैपिटल प्लेइंग इलेवन:
मार्कस स्टोइनिस, शिखर धवन, अजिंक्य रहाणे, श्रेयस अय्यर (कप्तान), शिम्रोन हेटमायर, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), अक्षर पटेल, रविचंद्रन अश्विन, कैगिसो रबाडा, प्रवीण दुबे, एनरिच नॉर्टजे


मुंबई इंडियंस प्लेइंग इलेवन: क्विंटन डिकॉक (विकेटकीपर), रोहित शर्मा (कप्तान), सूर्यकुमार यादव, इशान किशन, हार्दिक पांड्या, कीरोन पोलार्ड, क्रुणाल पांड्या, नाथन कूल्टर नाइल, जयंत यादव, ट्रेंट बोल्ट, जसप्रीत बुमराह