कोरोना अपडेट : छत्तीसगढ़ में जारी है कोरोना से मौत का तांडव, प्रदेश में आज 15 हजार के करीब मरीजों की हुई पहचान, राजधानी से मिले सर्वाधिक मरीज    |    बंगाल चुनाव: EC की नई गाइडलाइंस जारी, प्रचार का समय कम करने से लेकर आपराधिक मामला दर्ज करने तक का आदेश    |    BIG BREAKING : केंद्रीय मंत्री जावड़ेकर भी आये कोरोना की चपेट में, सोशल मीडिया में दी जानकारी    |    ICMR कोरोना अपडेट: राज्य में आज शाम तक 12079 कोरोना मरीजो की हुई पुष्टि, अकेले रायपुर से 2921 समेत बाकी इन जिलो से...    |    इस राज्य में सरकार ने लागू किया वीकेंड लॉकडाउन, मास्क नहीं पहनने पर लगेगा बड़ा जुर्माना    |    BIG BREAKING : नहीं होगी ऑक्सीजन की कमी, पीएम केयर्स फंड से अस्पतालों में लगेंगे प्लांट    |    कोरोना की चपेट में सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस शाह का पूरा स्टाफ...    |    कोरोना अपडेट : देश में 24 घंटे में सामने आए 2.16 लाख मामले, 1184 मौतें    |    BIG BREAKING : प्रदेश में कोरोना से मौत ने लगाई शतक, प्रदेश में आज 15 हजार से अधिक नए मरीजों की हुई पहचान, राजधानी से इतने    |    कोरोना अपडेट: ICMR के मुताबिक आज प्रदेश में शाम तक 11819 मरीज मिले, अकेले रायपुर जिले से 2870 समेत बाकी इन जिलो से    |
हाईवा की चपेट में आने से एक मौत, तीन गंभीर

हाईवा की चपेट में आने से एक मौत, तीन गंभीर

करतला निवासी श्यामलाल कंवर शुक्रवार को अपने परिवार के प्रभाव गजेंद्र और 8 वर्षीय राजेश के साथ दिवाली की खरीदारी करने भैंसमा बाजार आया था। वे चारों एक ही बाइक में सवार थे। दिवाली के लिए दिया, प्रसाद और पटाखा लेकर वे शाम को अपने गांव के लिए लौट रहे थे। वे भैंसमा बाजार से थोड़ी दूर आगे मुख्य मार्ग पर पहुंचे थे कि करतला की ओर से आ रही तेज रफ्तार हाईवा के चालक ने उनकी बाइक को ठोकर मार दिया। घटना में बाइक समेत सभी चारों लोग गिर गए। इसमें श्यामलाल कंवर की हाईवा के नीचे आने से मौके पर ही मौत हो गई, जबकि अन्य तीनों गंभीर रूप से घायल हो गए। घटना की सूचना मिलते ही उरगा पुलिस मौके पर पहुंची, जहां से सभी घायलों को जिला अस्पताल भिजवाया। दुर्घटनाकारित हाईवा का चालक मौके से वाहन समेत भाग निकला। पुलिस ने उसके खिलाफ केस दर्ज कर पतासाजी शुरू कर दी है।

टीवी देखने से मना किया, तो लगा ली फांसी

टीवी देखने से मना किया, तो लगा ली फांसी

दीपका थाना अंतर्गत ग्राम रंजना निवासी 18 वर्षीय रोशन कुमार गुरुवार की रात घर पर टी वी देख रहा था। इस दौरान परिजन ने उसे ज्यादा रात तक टीवी देखने से मना किया। इस बात से नाराज होकर रोशन घर से बाहर निकल गया। बाद में उसने गांव के एक पेड़ पर फांसी लगा ली। सुबह ग्रामीणों ने परिजन को इसकी जानकारी दी। इसके बाद दीपका पुलिस को सूचना दी। 
राशनकार्डो के डेटा एंट्री एवं त्रुटि सुधार 30 अक्टूबर तक

राशनकार्डो के डेटा एंट्री एवं त्रुटि सुधार 30 अक्टूबर तक

खाद्य विभाग द्वारा राशनकार्डो के डेटा एंट्री एवं त्रुटि सुधार की कार्रवाई के लिए राज्य के सभी कलेक्टरों को पत्र प्रेषित कर 30 अक्टूबर तक पूर्ण कराने के निर्देश दिए गए हैं। खाद्य विभाग द्वारा कलेक्टरों को जारी पत्र में कहा गया है कि राशनकार्ड नवीनीकरण में प्राप्त आवेदन पत्रों की त्रुटि रहित डेटा एंट्री का कार्य 20 अक्टूबर 2019 तक पूर्ण कराने के निर्देश पूर्व में जारी किए गए थे।


खाद्य विभाग द्वारा कलेक्टरों को राशनकार्ड में नाम जोड़ने, नाम त्रुटि सुधार करने, मुखिया का नाम सुधार करने, दावा आपत्ति की एंट्री पूर्ण कराने एवं अप्राप्त आवेदनों की डेटा एंट्री 30 अक्टूबर 2019 तक अनिवार्य रूप से पूर्ण कराने के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देशित करने कहा गया है। पत्र में यह भी कहा गया है कि राशनकार्डों के डेटा एंट्री एवं सुधार के लिए अंतिम अवसर प्रदान किया जा रहा है। इसके बाद और समय-सीमा में वृद्धि नहीं की जाएगी। 30 अक्टूबर 2019 तक की गई डेटा एंट्री एवं त्रुटि सुधार के आधार पर राशनकार्ड नवीनीकरण का डेटा विभागीय वेबसाइट में अंतिम मान्य किया जाएगा।

अपर संचालक खाद्य द्वारा जारी पत्र के अनुसार खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत नवीन राशनकार्ड बनाने तथा राशनकार्डो में नाम जोड़ने की कार्रवाई निरंतर जारी रहेगा। 30 अक्टूबर के बाद भी नवीन राशनकार्ड बनाने एवं राशनकार्ड में सदस्य जोड़ने, अंतरित करने की कार्यवाही राशनकार्ड नियम 2016 के प्रावधानों के अनुसार की जाएगी
फर्जी नामों पर बुक करते थे e-टिकट,सतर्कता दल ने किया खुलासा

फर्जी नामों पर बुक करते थे e-टिकट,सतर्कता दल ने किया खुलासा

अहमदाबाद। पश्चिम रेलवे की सतर्कता दल ने फर्जी नामों पर बुक किए गए टिकटों का खुलासा किया है। त्योहारी सीजन में एक ही नाम पर अलग अलग तारीखों में टिकट बुक होने पर कई टिकटों को ब्लॉक कर दिया गया है। माना जा रहा है कि ये टिकटें संदिग्ध सॉफ्टवेयर के माध्यम से अनधिकृत टिकट एजेंटों द्वारा बुक किए गए हैं।पश्चिम रेलवे मुख्‍य जनसम्‍पर्क अधिकारी ने बताया कि PRS प्रणाली में संदिग्ध बुकिंग ट्रान्जेक्शन के आधार पर पश्चिम रेलवे की सतर्कता टीम ने दीपावली छुट्टी के दौरान अलग-अलग तारीख को एक ही यात्री के नाम पर ट्रेन सं.22956 भुज-बांद्रा टर्मिनस कच्छ एक्सप्रेस में बुक किए गए ई-टिकटों का पता लगाया।


मुख्य सतर्कता निरीक्षक हिमांशु कपाडिया, सतर्कता निरीक्षक शेख मोहम्मद जुबेर तथा उपमुख्य यातायात निरीक्षक नीरज मेहता और साजी फिलिप सहित पूरी टीम द्वारा ट्रेन सं. 22956 भुज-बांद्रा टर्मिनस कच्छ एक्सप्रेस में एक नवंबर से 13 नवंबर में बुक किए इस प्रकार के ई-टिकटों की पूरी तरह से जांच की गई तथा 1692 यात्रियों के 282 संदिग्ध PNR तथा 719100/- रु मूल्य के संबंधित टिकटों को सतर्कता टीम द्वारा पीआरएस प्रणाली में ब्लॉक कर दिया गया।
 

एक नवंबर से 13 नवंबर तक के लिए ट्रेन सं. 22956 भुज-बांद्रा टर्मिनस कच्छ एक्सप्रेस ई-टिकट धारक यात्रियों के पश्चिम रेलवे द्वारा अनुरोध किया गया है कि वे अपने टिकट स्टेटस की जांच करें तथा ब्लॉक पाए जाने पर गांधीधाम, अहमदाबाद तथा मुंबई सेंट्रल स्टेशन के मुख्य आरक्षण पर्यवेक्षक से संपर्क करें तथा अपना पहचान पत्र प्रस्तुत करें।पी आर एस कार्यालय गांधीधाम, अहमदाबाद और मुंबई सेंट्रल को प्रस्तुत किए गए पहचान पत्र की झेरॉक्स प्रति का सत्यापन किया जाएगा तथा उसके बाद वैध यात्रियों की टिकटें अनब्लॉक करके रिलिज की जाएगी।
आबकारी विभाग ने जारी किया आदेश,मदिरा के लिए प्लास्टिक की बोतल और कैप प्रतिबंधित

आबकारी विभाग ने जारी किया आदेश,मदिरा के लिए प्लास्टिक की बोतल और कैप प्रतिबंधित

सिंगल यूज प्लास्टिक के उपयोग से होने वाले पर्यावरण प्रदूषण तथा फैलने वाले कचरे को देखते हुए राज्य शासन द्वारा निर्णय लिया गया कि प्लास्टिक बोतलों तथा प्लास्टिक कैप के उपयोग पर प्रतिबंध लगाया जाए। राज्य शासन द्वारा लिए गए निर्णय अनुसार आबकारी विभाग द्वारा 01 दिसंबर 2019 से देशी मदिरा में उपयोग होने वाली प्लास्टिक बोतलों तथा विदेशी मदिरा में लगने वाले प्लास्टिक सीलिंग कैप का उपयोग नहीं करने के संबंध में आदेश आज यहां मंत्रालय (महानदी भवन) से जारी किया गया है।  इस आदेश के पालन के लिए सभी आसवनियों, विदेशी मदिरा भराई करने वाली यूनिटों, ब्रेवरेज कारपोरेशन, मार्केटिंग कारपोरेशन, समस्त जिले के आबकारी अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं।

छत्तीसगढ़ राज्य के नए मुख्य सचिव होंगे आरपी मंडल

छत्तीसगढ़ राज्य के नए मुख्य सचिव होंगे आरपी मंडल

रायपुर | वरिष्ठ आईएएस अफसर आरपी मंडल राज्य के नए मुख्य सचिव होंगे।
वे सुनील कुजूर का स्थान लेंगे, जिन्हें केंद्र  सरकार ने एक्सटेंशन देने से इनकार कर दिया है।
मंडल का कार्यकाल 11 महीने का होगा। वे 1987 बैच के आईएएस हैं।
वर्तमान मुख्य सचिव सुनील कुजूर इस महीने रिटायर हो जाएंगे।
भूपेश सरकार इस कोशिश में लगी हुई थी कि कुजूर को किसी भी हालत में एक्सटेंशन मिल जाए।
मंडल को परफारमेंस देने वाले अफसरों की श्रेणी में शुमार किया जाता है।
वैसे कहा जा रहा था कि सीके खेतान और मंडल के बीच इस पद के लिए जबर्दस्त प्रतिस्पर्धा रही । 
पूर्व आईपीएस मुकेश गुप्ता की याचिका पर सुनवाई 4 को, राज्य सरकार से सुको ने मांगा जवाब

पूर्व आईपीएस मुकेश गुप्ता की याचिका पर सुनवाई 4 को, राज्य सरकार से सुको ने मांगा जवाब

रायपुर। पूर्व आईपीएस मुकेश गुप्ता ने सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की है। जिसमें उन्होंने पुलिस के खिलाफ राजनीतिक कारणों से प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है।

उन्होंने कोर्ट से कहा है कि उन्हें और उनके परिवार को परेशान किया जा रहा है। उनकी बेटियों के फोन टैप किए जा रहे हैं। शुक्रवार को इस याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने छत्‍तीसगढ़ सरकार से पूछा कि अफसर एवं परिवारवालों के फोन टेप क्यों हो रहे हैं? कोर्ट ने कहा कि उसे फोन टैप की ज्यादा चिंता है। इस संदर्भ में सुप्रीम कोर्ट ने राज्य सरकार से चार नवंबर तक जवाब मांगा है।

वैद्य सुषेण ने बचाए थे लक्ष्मण के प्राण, श्रीराम ने दिया था उन्हें अपने ननिहाल में स्थान....

वैद्य सुषेण ने बचाए थे लक्ष्मण के प्राण, श्रीराम ने दिया था उन्हें अपने ननिहाल में स्थान....

धनतेरस से दीपावली महापर्व की शुरूआत हो जाती है। पौराणिक कथाओं के अनुसार धनतेरह को ही समुद्र मंथन से भगवान धन्वन्तरि निकले थे। इन्‍हें आयुर्वेद की चिकित्सा करने वाले वैद्य आरोग्य का देवता कहते हैं। इन्होंने ही अमृतमय औषधियों की खोज की थी। धन्वन्तरि के प्राकट्य दिवस पर हम मृत संजीवनी विद्या के जानकार सुषेण वैद्य से जुड़ी कहानी बता रहे हैं। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से 27 किलोमीटर की दूरी पर चंदखुरी गांव है।

           माता कौशल्या जी

इसे भगवान राम की मां कौशिल्या का जन्म स्थान माना जाता है। इस गांव को औषधि ग्राम या वैद्य चंदखुरी भी कहा जाता है। इसके पीछे मान्यता है कि यहां सुषेण वैद्य का आश्रम था।

श्रीरामचरित मानस के लंका कांड में सुषेण वैद्य का जिक्र आता है। युद्ध में मेघनाद की शक्ति से श्रीराम के भाई लक्ष्मण अचेत हो गए थे। विभीषण ने राम को बताया कि लंका के राजवैद्य सुषेण लक्ष्मण को बचा सकते हैं। श्रीराम के कहने पर हनुमान जी सुषेण वैद्य को लंका से उनके भवन सहित ले आए थे। लक्ष्मण का परिक्षण करने के बाद सुषेण वैद्य ने उनका उपचार संजीवनी बूटी बताया था। सुषेण के बताए अनुसार हनुमान जी हिमालय से वह पर्वत उठा लाए थे, जिसमें बूटी थी।

सुषेण वैद्य ने संजीवनी बूटी से दवा बनाकर लक्ष्मण को पुन: चेतन्य किया था। इसके बाद रामायण में कहीं भी सुषेण वैद्य का जिक्र नहीं आता है। हालांकि उनकी कहानी यहीं खत्म नहीं हुई थी। रावण के वध के बाद सुषेन ने श्रीराम से भेंट की और खुद को अपनी शरण में लेने का अनुरोध किया था। श्रीराम सुषेण वैद्य के अनुरोध पर उन्हें अपने साथ ले आए और उन्हें अपनी ननिहाल कौशल राज्य में भेज दिया। सुषेण वैद्य ने अपना शेष जीवन यही बिताया।

रायपुर जिले के चंदखुरी गांव में सुषेन वैद्य का मंदिर बना है, जिसमें एक बड़ा पत्थर भी रखा है, ऐसा माना जाता है कि सुषेण वैद्य इसी पत्थर पर बैठा करते थे। मंदिर के पुजारी संतोष चौबे के अनुसार मान्यता है कि सुषेण वैद्य के मंदिर की मिट्‌टी या भभूत लगाने से कई लोगों की बीमारियां ठीक हो चुकी हैं।

 

 

 

 संस्कृति विभाग पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि पर कालीबाड़ी चौक प्रतिमा स्थल पर पुष्पांजलि करेगा

संस्कृति विभाग पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि पर कालीबाड़ी चौक प्रतिमा स्थल पर पुष्पांजलि करेगा

नगर पालिक निगम रायपुर के महापौर प्रमोद दुबे एवं संस्कृति विभाग अध्यक्ष राधेष्याम विभार ने जानकारी देते हुए बताया कि नगर निगम संस्कृति विभाग द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि 31 अक्टूबर 2019 गुरूवार को सुबह 10 बजे राजधानी शहर के कालीबाड़ी चौक में स्थित उनके प्रतिमा स्थल में उन्हें ससम्मान नमन करने पुष्पांजलि कार्यक्रम आयोछिठत किया गया है। नगर निगम संस्कृति विभाग द्वारा आयोछिठत कार्यक्रम में प्रतिमा स्थल में नियत दिवस को प्रतिमा स्थल का ससम्मान प्रतिमा की साफ-सफाई व्यवस्था, प्रतिमा स्थल के आसपास विषेष सफाई व्यवस्था, प्रतिमा की सादर पुष्प सज्जा कार्यक्रम स्थल में आवष्यकता के अनुरूप पेयजल की समुचित व्यवस्था की जायेगी। 
लोकवाणी में इस बार नगरीय विकास का नया दौर पर होगी बात

लोकवाणी में इस बार नगरीय विकास का नया दौर पर होगी बात

28 से 30 अक्टूबर तक रिकार्ड करा सकेंगे आमजन अपनी बात

मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल की मासिक रेडियोवार्ता लोकवाणी की चौथी कड़ी का प्रसारण आगामी 10 नवम्बर को होगा। लोकवाणी का प्रसारण छत्तीसगढ़ स्थित आकाशवाणी के सभी केन्द्रों, एफ.एम. रेडियो और क्षेत्रीय न्यूज चैनलों से सुबह 10.30 से 10.55 बजे तक होगा। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल ने समाज के हर वर्ग की भावनाओं, सवालों और सुझावों से अवगत होने तथा अपने विचार साझा करने के लिए लोकवाणी रेडियोवार्ता प्रारंभ की है। लोकवाणी में इस बार का विषय 'नगरीय विकास का नया दौर' रखा गया है। इस संबंध में कोई भी व्यक्ति आकाशवाणी रायपुर के दूरभाष नम्बर 0771-2430501, 2430502, 2430503 पर आगामी 28, 29 एवं 30 अक्टूबर को अपरान्ह 3 से 4 बजे के बीच फोन करके अपने सवाल रिकार्ड करा सकते हैं।
एक्ट्रेस बनने की चाह ने उसे पोर्न इंडस्ट्री तक पहुंचा दिया,कौन है वो

एक्ट्रेस बनने की चाह ने उसे पोर्न इंडस्ट्री तक पहुंचा दिया,कौन है वो

न्यूयॉर्क: एक पोर्न एक्ट्रेस ने बीते दिनों एक इंटव्यू में अपनी जिंदगी से जुड़े कई अहम खुलासे किए हैं। इस पोर्न एक्ट्रेस ने बताया कि उसका सपना एक्ट्रेस बनने का था, लेकिन पोर्न एक्ट्रेस बनना नहीं था। हाल ही में इस एक्ट्रेस को न्यूयॉर्क एक प्रसिद्ध मैग्जिन ने बीते दिनों एक बड़ा खिताब दिया था।

दरअसल इस एक्ट्रेस का नाम एड्डी एडम्स है। एड्डी एडम्स नाम की महिला 17 साल की उम्र में चर्च से जुड़ गई थीं। इंटरव्यू के दौरान एड्डी ने बताया कि वह शुरू में नौ सालों तक सेक्स से दूर रहने वालीं एक धार्मिक महिला थी, लेकिन एक्ट्रेस बनने की चाह ने उसे पोर्न इंडस्ट्री तक पहुंचा दिया। अब एड्डी का नाम टॉप पोर्न एकट्रेस में गिना जाता है। गौर करने वाली बात यह है एड्डी का परिवार एक धार्मिक परिवार है, लेकिन उन्हें उसके काम से कोई ऐतराज नहीं है।

एड्डी की परवरिश पैसिफिक नॉर्थवेस्ट में रहने वाले एक धार्मिक परिवार में हुई थी। चर्च से 9 साल तक जुड़े रहने के बाद उन्होंने लॉस एंजेलिस जाकर एक्ट्रेस बनने की कोशिश की। चर्च से निकलने के बाद एड्डी एक्ट्रेस बनने के लिए निकल पड़ी थी, लेकिन जब उनका यह प्लान फेल हो गया तो वह पोर्न इंडस्ट्री के दरवाजे तक जा पहुंची।

मौसम विभाग ने आज फिर जारी किया येलो अलर्ट, इन जगहों में हो सकती है भारी बारिश...

मौसम विभाग ने आज फिर जारी किया येलो अलर्ट, इन जगहों में हो सकती है भारी बारिश...

रायपुर। दक्षिण भारत के अरब सागर में बने सिस्टम के प्रभाव से एक बार फिर से प्रदेश में भारी बारिश हो सकती है। मौसम विभाग ने येलो अलर्ट जारी कर लोगों को सावधानी बरतने की चेतावनी दी है। प्रदेश में बने तगड़े सिस्टम की वजह से राजधानी रायपुर समेत कई जगहों में अगले 24 घंटे में झमाझम बारिश हो सकती है।

आज धनतेरस के दिन सुबह से ही आसमान में बदली छाएं हुए है। वहीं शाम को गरज चमक के साथ बारिश के छीटें पड़ सकते है। मौसम वैज्ञानिकों ने मध्य छ्त्तीसगढ़ में रायपुर, बिलासपुर, दुर्ग, कांकेर राजनांदगांव और बस्तर संभाग में बारिश की संभावना जताई है। पिछलें दिनों से लगातार हो रही बारिश के बाद से तापमान में भारी गिरावट दर्ज की गई है जिससे ठंडक भी महसूस की जा रही है।

उत्तरी तटीय आंध्रप्रदेश तथा उससे लगा दक्षिण उड़ीसा पर कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। इन चक्रवाती सिस्टम से आने वाले 2-3 दिनों तक हवा में नमी बनी रहेगी। जिससे बाऱिश होगी।

मुख्यमंत्री ने धनतेरस पर नवा रायपुर में राजभवन, मुख्यमंत्री निवास सहित अन्य आवासीय परिसरों का किया भूमिपूजन

मुख्यमंत्री ने धनतेरस पर नवा रायपुर में राजभवन, मुख्यमंत्री निवास सहित अन्य आवासीय परिसरों का किया भूमिपूजन

हजारों करोड़ के निवेश के बाद भी नवा रायपुर में नहीं बस पाया शहर : मुख्यमंत्री

 मंत्रीगण यहां रहेंगे तो बसेगा शहर:  भूपेश बघेल

 नवा रायपुर अटल नगर में 591.75 करोड़ रूपए की लागत से 24 माह में पूरी होगी यह परियोजना
 
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज धनतेरस के अवसर पर यहां नवा रायपुर अटल नगर के सेक्टर-24 में 591.75 करोड़ रूपए की लागत से बनने वाले राजभवन, मुख्यमंत्री निवास, विधानसभा अध्यक्ष निवास, मंत्रीगणों के आवास गृह एवं वरिष्ठ अधिकारियों के आवासीय परिसर का भूमिपूजन किया। समारोह में छत्तीसगढ़ विधानसभा के अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत और मंत्री परिषद् के सदस्यों एवं विशिष्ट अतिथियों की गरिमामय उपस्थिति में सम्पन्न हुआ। 
 
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहां कि नई राजधानी का शिलान्यास सोनिया गांधी ने वर्ष 2001 में किया था, तब से लेकर अब तक यहां हजारों करोड़ रुपए का पूंजी निवेश हुआ। सड़कें बन गयी, बिजली पानी की व्यवस्था भी हो गई लेकिन शहर अब तक नहीं बस पाया है। उन्होंने कहा कि देश में कई राज्यों में नई विकसित की गई राजधानियों में भी अब तक बसाहट नहीं हो पाई है, इसी तथ्य को ध्यान में रखकर हमने यह फैसला किया है पहले यहां मुख्यमंत्री, विधानसभा अध्यक्ष, मंत्री परिषद के सदस्य और सभी वरिष्ठ अधिकारी रहेंगे, तो धीरे-धीरे शहर बसेगा। छोटे अधिकारी कर्मचारी भी यहां बसेंगे, तो बाजार और अस्पताल भी विकसित होंगे। बघेल ने इस अवसर पर प्रदेशवासियों को धनतेरस पर्व की बधाई और शुभकामनाएं दी। विधानसभा अध्यक्ष डॉ चरणदास महंत ने इस अवसर पर कहा कि हम सब मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के गढ़वो नवा छत्तीसगढ़ के संकल्प को पूरा करने की दिशा में काम कर रहे हैं । गांव से लेकर नवा रायपुर राजधानी तक गढऩे का काम हम पूरा करेंगे। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य बने 19 बरस हो गए हैं लेकिन अब तक यहां निवेश की गई राशि का कितना उपयोग हुआ है, यह हम सब जानते हैं, धनतेरस के पावन अवसर पर आज नवा रायपुर में लगभग 591 करोड़ रुपए की इस परियोजना का भूमि पूजन किया गया है, जिससे यहां शहर बसे। लोक निर्माण मंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा कि इस आवासीय परियोजना को पूरा करने के लिए अधिकारियों की एक टीम गठित की गई है। जिसे समय सीमा और निर्माण कार्य की गुणवत्ता का ध्यान रखने के निर्देश दिए गए हैं। इस टीम के अधिकारी परियोजना के शुरू होने से लेकर इसके पूरा होने तक का कार्य करेंगे, जिससे उनकी जिम्मेदारी भी तय की जा सकेगी। उन्होंने कहा कि यह परियोजना निर्धारित समय सीमा में पूरी की जाएगी। लोक निर्माण विभाग के अपर मुख्य सचिव  अमिताभ जैन ने इस आवासीय परियोजना की विस्तृत जानकारी दी। उल्लेखनीय है कि नवा रायपुर में राज्य स्तरीय प्रशासनिक व्यवस्थाएं एवं चहुंमुखी विकास हेतु नया रायपुर क्षेत्र विकसित किया जा रहा है। वर्तमान में यहां मंत्रालय, सचिवालय एवं विभिन्न विभागों के राज्य स्तरीय कार्यालयों का संचालन हो रहा है। नया रायपुर क्षेत्र की बसाहट में तेजी लाने एवं प्रशासनिक दृष्टिकोण से नवा रायपुर के सेक्टर-24 एवं सेक्टर-18 में राजभवन, मुख्यमंत्री आवास, मंत्रीगणों के आवास, वरिष्ठ अधिकारियों के लिए आवास निर्माण तथा परिसर के अधोसंरचना विकास कार्य किया जाएगा। राजभवन कुल 12.60 एकड़ में विकसित होगा। यहां दरबार हॉल और सचिवालय भवन सहित विभिन्न भवन होंगे। मुख्यमंत्री आवास एवं कार्यालय 7.50 एकड़ में होगा। विधानसभा अध्यक्ष आवास एवं कार्यालय के लिए 3.19 एकड़ भूमि आवंटित की गई है। इसी प्रकार मंत्रीगण व नेता प्रतिपक्ष आवास एवं कार्यालय 1.50 एकड़ में होगा। ऐसे 13 आवास बनाए जाएंगे। वरिष्ठ अधिकारियों हेतु 85 आवास बनाए जाएंगे। प्रत्येक आवास 0.45 एकड़ में निर्मित होगा। इन कार्यों के लिए सेक्टर-24 में 158 एकड़ पर तथा सेक्टर-18 में 64 एकड़ कुल 222 एकड़ भूमि आबंटित की गई है, निर्माण कार्य के लिए 24 माह की समयावधि तय की गई है। इस अवसर पर लोक निर्माण मंत्री ताम्रध्वज साहू, कृषि मंत्री रविंद्र चौबे, वन एवं पर्यावरण मंत्री मोहम्मद अकबर, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री  टी एस सिंहदेव, महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेंंिडय़ा, राजस्व मंत्री  जयसिंह अग्रवाल, उद्योग मंत्री  कवासी लखमा, संस्कृति मंत्री  अमरजीत भगत, स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ प्रेमसाय सिंह टेकाम, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री  गुरु रूद्र कुमार, उच्च शिक्षा मंत्री  उमेश पटेल, सांसद  दीपक बैज, छाया वर्मा और  सुनील सोनी, विधायक  मोहन मरकाम,  विकास उपाध्याय, रायपुर के महापौर  प्रमोद दुबे, जिला पंचायत रायपुर की अध्यक्ष श्रीमती शारदा देवी वर्मा, अपर मुख्य सचिव  सी.के. खेतान और  अमिताभ जैन सहित अनेक जनप्रतिनिधि और नागरिक तथा आसपास के गांवों के ग्रामीण बड़ी संख्या में इस अवसर पर उपस्थित है।
एक्टिवा सवार युवती का मोबाईल छीनकर दो युवक हुये फरार, मामला दर्ज

एक्टिवा सवार युवती का मोबाईल छीनकर दो युवक हुये फरार, मामला दर्ज

एक्टिवा सवार युवती का मोबाइल छीनकर स्कूटी सवार दो लड़के फरार हो गये। घटना की रिपोर्ट घटना की रिपोर्ट टिकरापारा थाने में दर्ज की गई है। मिली जानकारी के अनुसार प्रोफेसर कालोनी पुरानी बस्ती रायपुर निवासी लीपसा कोसरिया 22 वर्ष पिता ओमप्रकाश कोसरिया ने रिपोर्ट दर्ज करायी है कि 24 अक्टूबर को अपनी एक्टिवा से घर जा रही थी इसी दौरान पीछे से आ रहे स्कूटी सवार दो युवक राजधानी अस्पताल के आगे पचपेढ़ी नाका के पास प्रार्थियां के हाथ में रखे वन प्लस मोबाईल फोन एक नग कीमत 20 हजार रुपये को छीनकर फरार हो गये। घटना की रिपोर्ट पर पुलिस ने अज्ञात युवकों के खिलाफ धारा 379, 34 के तहत अपराध कायम कर मामला दर्ज कर लिया है। 
अधिक अपराध पर संबंधित थाना प्रभारी के खिलाफ होगी कार्रवाई : ताम्रध्वज

अधिक अपराध पर संबंधित थाना प्रभारी के खिलाफ होगी कार्रवाई : ताम्रध्वज

गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने पुलिस और लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों की ली संयुक्त बैठक

प्रदेश के गृह, जेल, लोक निर्माण मंत्री ताम्रध्वज साहू ने जिला पंचायत के सभाकक्ष में गृह विभाग सहित लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों की संयुक्त रूप से बैठक ली। गृहमंत्री साहू ने पुलिस विभाग के अधिकारियों से कहा कि आम नागरिकों को आसानी से पुलिस प्रशासन का सहयोग मिले इसके लिए जिले की पुलिस चौकी एवं थानों का परिसीमन करें। उन्होंने कहा कि जिन पुलिस चौकी का थाना के लिए उन्नयन किया जाना है, उसकी सूची उपलब्ध कराएं। इसके अलावा जहां नये थाने खोले जाने है, उनके भी प्रस्ताव प्रस्तुत करें। उन्होंने जिले में हो रहे अपराधों जैसे गांजा, अवैध शराब, नशा, सट्टा को कम करने के लिए कार्रवाई करने के निर्देश दिए। इस अवसर पर महासमुन्द विधायक विनोद चन्द्राकर, खल्लारी विधायक द्वारिकाधीश यादव एवं सरायपाली विधायक किस्मतलाल नन्द विशेष रूप से उपस्थित थे।

 गृहमंत्री साहू ने स्पष्ट तौर पर कहा है कि जिस थानों के अंतर्गत जुआ, सट्टा सहित नशा एवं अन्य अपराध अधिक होने की सूचना मिलेगी, वहां के संबंधित थाना प्रभारी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। थाना प्रभारी अपने क्षेत्रों में नशे पर प्रतिबंध लगाने के लिए कार्रवाई करें। उन्होंने पुलिस वालों के कार्यों की अधिकता को देखते हुए उनके शारीरिक एवं मानसिक तनाव को दूर करने तथा सेहत को ध्यान में रखकर उन्हें योगा एवं तनाव प्रबंधन के कोर्स कराने के लिए कहा, ताकि उनके मानसिक तनाव दूर हो सके। साथ ही पुलिस परिवार के महिलाओं तथा बच्चों के पढ़ाई-लिखाई, स्वास्थ्य का भी विशेष ध्यान रखें। महिलाओं के स्व-सहायता समूह बनाकर सिलाई-कढ़ाई, बुनाई इत्यादि का प्रशिक्षण भी दिलाया जाए। शहर में यातायात कन्ट्रोल के लिए यातायात पुलिस वालो के लिए चौक-चौराहों पर शेड निर्माण करे, जिससे कि वे सुरक्षित रहकर ड्यूटी कर सके। उन्होंने पुलिसकर्मियों के लिए पुलिस आवास की व्यवस्था के लिए नये आवास निर्माण हेतु प्रस्ताव बनाकर देने को कहा है। इसके अलावा मरम्मत योग्य पुराने आवासों का मरम्मत करने के निर्देश दिए हैं। पुलिस विभाग के कर्मचारियों के कल्याण के लिए विकासखण्डों में पुलिस पेट्रोल पम्प खोलने के लिए जगह का चिन्हांकन करें। थानों में महिलाओं के दहेज, टोनही, अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजातियों पर किए गए अत्याचार के संबंध में शिकायत आने पर उनकी अच्छी तरह से तस्दीक करें, फिर कार्रवाई करें।
 
सड़कों के गड्ढे का भराव प्राथमिकता से कराएं
 
बैठक में गृहमंत्री साहू ने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों के कार्यां की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि जिले में प्राथमिकता के अनुरूप सड़कों के गड्ढे भराव का कार्य कराएं। सड़क मरम्मत प्रारंभ कराएं तथा नये सड़कों एवं पुल-पुलियों के लिए प्रस्ताव बनाकर शीघ्र प्रेषित करें, ताकि उन्हें बजट में शामिल कर स्वीकृति दी जा सके। उन्होंने विभाग के अधिकारियों से कहा कि जिन सड़कों का मरम्मत या नये सड़क निर्माण कार्य करने की कार्रवाई की जा रही है, उनकी जानकारी संबंधित विधायकों को अनिवार्य रूप से उपलब्ध कराएं। जिले में हो रही सड़क दुर्घटनाओं को ध्यान में रखते हुए पुलिस एवं लोक निर्माण विभाग के अधिकारी ऐसे ब्लैक स्पॉट का चिन्हांकन कर दुर्घटना रोकने के लिए ठोस उपाय करें। इस संबंध में लोक निर्माण के अधिकारियों ने बताया कि सड़कों के गड्ढे भराने का कार्य कराए जा रहे है तथा मरम्मत के कार्य भी हो रहे है। इस अवसर पर कलेक्टर सुनील कुमार जैन, पुलिस अधीक्षक जितेन्द्र शुक्ला, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ.रवि मित्तल, लोक निर्माण विभाग रायपुर के अधीक्षण अभियंता  एम.एल.उइके सहित पुलिस एवं लोक निर्माण विभाग के अधिकारीगण उपस्थित थे। 
 आरोपी शिक्षक ने पीडि़ता से दुष्कर्म के बाद उसकी बहन से अनाचार करने की धमकी दी, मामला दर्ज

आरोपी शिक्षक ने पीडि़ता से दुष्कर्म के बाद उसकी बहन से अनाचार करने की धमकी दी, मामला दर्ज

शिक्षक जैसे पवित्र कार्य को करने वाले गुरु से ज्ञान का प्रकाश फैलाने की उम्मीद होती है लेकिन जब शिक्षक ही दुष्कर्म जैसे कर्मों का आरोपी हो तो समाज का विश्वास इस पवित्र कार्य को करने वाले व्यक्ति के प्रति नहीं रह जाता। ऐसा ही एक मामला आरंग थाना क्षेत्र से प्रकाश में आया है जहां 25 वर्षिया छात्रा के साथ आरोपी शिक्षक रमन शर्मा ने 11 अप्रैल 2018 को 12वीं के बच्चों को पढ़ाने के बहाने बुलाकर अपने किराये के मकान में पीडि़ता के साथ दुष्कर्म किया। अपमान से आहत पीडि़ता ने घर के पंखे में फंदा लगाकर आत्महत्या करने की कोशिश की जिसे घर वालों के प्रयास से बचाया गया। उक्त मामले में पीडि़ता द्वारा 11 अप्रेल को ही आरंग थाने में मामले की रिपोर्ट दर्ज करायी गई। पुलिस द्वारा आरोपी शिक्षक के खिलाफ धारा 376 के तहत अपराध दर्ज किया गया। आरोपी पुलिस की पकड़ से फरार होकर चार माह बाद 13 जुलाई 2018 को जमानत पर हाईकोर्ट से छूटा। हाईकोर्ट पहुंचकर जमानत के लिए आवेदन लगाया जिस पर न्यायालय द्वारा आरोपी को जमानत दी गई। जमानत पर छूटने के उपरांत आरोपी द्वारा तीन अगस्त 2018 को जब पीडि़ता सब्जी लेने गई थी खुलेआम रास्ता रोककर धमकी देते हुए पीडि़ता को केस वापस लेने के लिए दबाव बनाते हुए कहा कि केस वापस नहीं लेने पर अब तेरी बहन के साथ रेप करूंगा। उक्त मामले पर पीडि़ता ने पुन: थाने पहुंचकर आरोपी शिक्षक के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करायी। पुलिस ने धारा 294 एवं 506 के तहत अपराध दर्ज किया है। आरोपी रमन शर्मा ने पीडि़ता को खुलेआम धमकाते हुए कोर्ट से मामला वापस नहीं लेने पर बुरा अंजाम भुगतने की धमकी दी। आरंग थाना द्वारा उक्त मामले के संबंध में विवेचना जारी है।
 बस्तरवासियों के लिए कामधेनु से कम नहीं है महुआ वृक्ष

बस्तरवासियों के लिए कामधेनु से कम नहीं है महुआ वृक्ष

टोरा तेल के माध्यम से भी महुआ प्रदान करता है ग्रामीणों को रोजगार
 
बस्तर में महुआ का उत्पादन पिछले सैकड़ों वर्षों से हो रहा है और महुआ ऐसा वृक्ष है जो यहां के ग्रामीणों के लिए कामधेनु के समान है। महुआ से ग्रामीण खाद्य पदार्थ प्राप्त तो करते ही हैं। इसके अलावा बस्तर में इसका उपयोग मद्य बनाने के लिए करते हैं। वहीं सर्वाधिक महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि इसके बीजों से भी तेल निकालने से यहां के ग्रामीणों को अतिरिक्त रोजगार व आय की प्राप्ति हो जाती है। इस तेल का उपयोग दिपावली में मिट्टी के दीपों को प्रकाशवान करने के लिए किया जाता है। 

महुआ के बीजों को यहां टोरा कहा जाता है और यह टोरा या महुआ तेल को सबसे शुद्ध व प्राकृतिक रूप से उत्तम तेल के रूप में जाना जाता है। पिछले सैकड़ों वर्षों से बस्तर के ग्रामीण इस तेल से दिपावली के पर्व में भरे हुए तेल के दीप जला कर न केवल अपने घरों को प्रकाशवान करते हैं वरन लोगों के घरों को भी प्रकाशवान होने में सहायक हो रहे हैं। यह विडंबना है कि बस्तर में पूर्व में महुआ वृक्षों की संख्या अधिक थी और आसानी से यह टोरा तेल अल्प मूल्य में उपलब्ध हो जाता था, लेकिन बीते वर्षों में इस कामधेनु वर्ष पर ही ऐसी कुल्हाडिय़ां चली की आज इस टोरा तेल की भी कीमत बढ़ गई है। जिससे अब दूसरे तेलों का भी दिये जलाने में उपयोग होने लगा है। 
इस संबंध में यह भी विशेष तथ्य है कि स्थानीय मंडी सहित अन्य मंडियों में प्रतिवर्ष लगभग 75 हजार च्ंिटल महुआ तथा 45 हजार च्ंिटल से अधिक टोरा का कारोबार होता है। टोरा तेल का उपयोग ऊंची कीमत पर बिकने वाले साबुन बनाने के उद्योग में होता है और इस तेल का स्थानीय ग्रामीण खाद्य तेल के रूप में भी उपयोग करते हैं और इसे औषधी के रूप में भी प्रयुक्त किया जाता है। 
पिता की हैवानियत, अपने दो मासूम बच्चों की गला दबाकर की हत्या

पिता की हैवानियत, अपने दो मासूम बच्चों की गला दबाकर की हत्या

लाश को कुएं में फेंका

छत्तीसगढ़ के बिलासपुर जिले के पचेपडी क्षेत्र में एक हैवान पिता ने गहरी नींद में सो रहे अपने दो बच्चों को मौत के घाट उतार दिया। पिता ने गला दबाकर दोनों बच्चों की हत्या की, फिर शव को कुएं में फेंक दिया। पुलिस ने आरोपी पिता को गिरफ्तार कर लिया है। घटना से पूरे क्षेत्र में शोक की लहर है।

पचपेड़ी थाना क्षेत्र के सोनसरी गांव में रहने वाले दशरथ विश्वकर्मा ने पारिवारिक विवाद के चलते अपने 10 वर्षीय बेटे सुमित और 8 साल की बेटी आशा का गला दबा दिया, जिससे उनकी मौत हो गई, फिर उसने उनके शव को कुएँ में फेंक दिया। घटना की जानकारी पर पहुंची पुलिस ने दोनों बच्चों का शव कुएं से निकाल लिया है। शव का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। वही आरोपी दशरथ विश्वकर्मा को पुलिस ने गिरफ्तार कर पूछताछ कर रही है, आखिर ऐसा क्या हो गया था, कि उसने अपने दोनों मासूम बच्चो को मौत के घाट उतार दिया।
 बोलने वाली मैना के संवर्धन के सभी दावे खोखले साबित हुए

बोलने वाली मैना के संवर्धन के सभी दावे खोखले साबित हुए

स्थानीय वन विद्यालय स्थित बोलने वाली मैना के बड़े पिंजरे में इस समय एक मोरनी को रखा गया है और मैना के दो बच्चों को एक छोटे से पिंजरे में ही रखा गया है। इस प्रकार बोलने वाली मैना के संवर्धन के प्रति जितने दावे वन विभाग द्वारा किए गए थे वे सभी खोखले सिद्ध हो चुके हैं। जानकारी के अनुसार इन मैना के बच्चों को करीब दो वर्ष पूर्व जंगल से पकड़कर यहां लाया गया था और अब बच्चे व्यस्क हो चुके हैं, लेकिन सोनू-मोनू नाम के इन बच्चों को अभी तक बड़ा आवास उपलब्ध नहीं कराया जा सका है। 


उल्लेखनीय है कि इस संबंध में वन विभाग के अधिकारियों की उदासीनता स्पष्ट रूप से दिखाई पड़ रही है। स्थानीय वन विद्यालय में जो गीदम मार्ग पर स्थित है वहां ये मैना के बच्चे छोटे से आवास में ही निवास कर रहे हैं, जबकि इनके लिए बड़े आवास की आवश्यकता होती है। बड़ा पिंजरा इस समय वन विद्यालय परिसर में करीब 20 लाख रूपए की लागत से निर्मित हुआ था। वर्तमान में अभी एक मैना और एक मोरनी इस पिंजरे में रह रहे हैं। कोटोमसर के जंगलों से मैना के इन बच्चों को पकड़कर यहां रखा गया था। जिस छोटे पिंजरे में इन्हें रखा गया है आज भी वे इसी पिंजरे में निवास कर रहे हैं। अब यह उस समय के बच्चे बड़े हो चुके हैं और उन्हें बड़े पिंजरे में रखे जाने की आवश्यकता है, लेकिन कांगेर घाटी राष्ट्रीय उद्यान के संचालक ने इस संबंध में कोई सकारात्मक उत्तर नहीं दिया जिसके कारण स्पष्ट रूप से वन विभाग की लापरवाही और उदासीनता झलक रही है।
केबिनेट की बैठक में मंत्रिपरिषद के निर्णय, पार्षद के लिए  आयु सीमा 21 वर्ष

केबिनेट की बैठक में मंत्रिपरिषद के निर्णय, पार्षद के लिए आयु सीमा 21 वर्ष

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में गुरूवार को उनके निवास कार्यालय में आयोजित मंत्रिपरिषद की बैठक में निम्नानुसार निर्णय लिए गए हैं। 
 
निर्णयों में छत्तीसगढ़ नगर पालिक निगम (संशोधन) अध्यादेश, 2019 एवं छत्तीसगढ़ नगर पालिका (संशोधन) अध्यादेश, 2019 का अनुमोदन किया गया। जिसके तहत महापौर/अध्यक्षों का निर्वाचन अप्रत्यक्ष रीति से होगा। जिसमें निर्वाचित पार्षदों के द्वारा निर्वाचित पार्षदों में से महापौर/अध्यक्षों का निर्वाचन किया जाएगा। चुनाव दलीय आधार और मतपत्र से होगा। पार्षद निर्वाचन के लिए आयु सीमा न्यूनतम 21 वर्ष तय है। 
 
राज्य की नवीन औद्योगिक नीति 2019-24 का अनुमोदन किया गया। जो आगामी एक नवंबर से 31 अक्टूबर 2024 के लिए लागू होगी। आपसी सहमति से भूमि क्रय नीति, 2016 में संशोधन का अनुमोदन किया गया। जिसके तहत आपसी सहमति से ग्रामीण क्षेत्रों में अर्जित की जाने वाली भूमि एवं उस भूमि पर स्थित स्थावर परिसंपत्तियों के मूल्य की मुआवजा राशि को दो गुना से बढ़ाकर 4 गुना किया गया है। 
 
राज्य के शहरी क्षेत्रों में नगरीय निकायों द्वारा निर्मित दुकानों के किराए में कटौती का निर्णय लिया गया। जिससे करीब 3 हजार हितग्राही लाभान्वित होंगे। पूर्व में इन दुकानों का किराया स्वीकृत प्रीमियम राशि का 7.2 प्रतिशत अधिकतम था जिसे घटाकर ऑफसेट प्राइस के 2 प्रतिशत पर सीमित किया गया। इससे निकाय क्षेत्रों में खाली दुकानों की नीलामी उचित मूल्य पर संभव हो सकेगी साथ ही निकायों की आय में भी वृद्धि होगी। इससे स्थानीय युवाओं को रोजगार मिलेगा।
 
मध्य क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण के गठन आदेश की कंडिका-3(5) में संशोधन का अनुमोदन किया गया। जिला पंचायत अध्यक्ष कोरबा के अध्यक्ष को सदस्य के रूप में शामिल किया गया।
 
विशुद्ध रूप से राजनीतिक आंदोलनों से संबंधित 14 प्रकरणों को जनहित में न्यायालय से वापस लेने का निर्णय लिया गया।
 
वरिष्ठ नागरिकों एवं दिव्यांगजनों के लिए संचालित मुख्यमंत्री तीर्थयात्रा योजना के स्थान पर वर्ष 2019-20 में ''तीरथ बरत योजना''का संचालन करने एवं इसके लिए कोष में संचित 8.65 करोड़ रूपए तथा आगामी अनुपूरक बजट में 10 करोड़ रूपए के बजट प्रावधान का निर्णय लिया गया। भारतीय वन सेवा (संवर्ग) नियम 1966 के नियमों के तहत प्रधान मुख्य वन संरक्षक वेतनमान में दो अस्थायी संवर्गीय पदों का दो वर्ष के लिए सृजन का निर्णय लिया गया।  
 
छत्तीसगढ़ के रहने वाले तथा छत्तीसगढ़ में शहीद हुए सी.आर.पी.एफ. के आरक्षक  शहीद नीरज शर्मा के परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नही होने के कारण उनके छोटे भाई सूरज शर्मा को जिला बल में आरक्षक (सामान्य) पद पर विशेष नियुक्ति का निर्णय लिया गया।
 
सविता दास वैष्णव अनिवार्य सेवानिवृत्त निरीक्षक को पुन: सेवा में बहाल किए जाने का निर्णय लिया गया। राज्य शासन के विभिन्न विभागों में अपलेखित भण्डार को नीलाम करने हेतु ऑनलाईन आक्शन का विकल्प करने हेतु भारत सरकार के सार्वजनिक उपक्रम एमएसटीसी लिमिटेड को नामांकन के आधार पर अधिकृत करने का निर्णय लिया गया।