कोरोना अपडेट: प्रदेश में आज 12665 ने जीती कोरोना से जंग, कुल 6577 नए मरीज मिले 149 मृत्यु भी, देखे जिलेवार आकड़े    |    लॉन्च हुई 2डीजी दवा, कोरोना संक्रमण से जंग में कैसे करेगी मदद? जानिए सब कुछ    |    आईसीएमआर अपडेट : राज्य में मिले 5294 कोरोना पॉजिटिव, 21 जिलों में सौ से अधिक मिले मरीज, देखे जिलेवार आकड़े    |    सेक्स रैकेट : पुलिस ने छापा मारकर देह व्यपार का किया खुलासा, मौके से दो युवक और दो युवती गिरफ्तार    |    दो पक्षों के बीच विवाद में गोली लगने से एक महिला की मौत, तीन अन्य घायल    |    चक्रवाती तूफान तौकते हुआ विनाशकारी, 5 राज्यों में अब तक 11 लोगों की मौत    |    बड़ी खबर: जानिए आखिर किस मामले में सीबीआई ने 4 नेताओं को किया गिरफ्तार    |    ममता बनर्जी के मंत्रियों-नेताओं पर सीबीआई ने कसा शिंकजा, यहां जानें क्या है मामला    |    रक्षा मंत्री व केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने लॉन्च की कोरोना की स्वदेशी दवा 2DG    |    कोरोना अपडेट: देश में 24 घंटों में 2 लाख 81 हजार नए मामले आए, 4106 लोगों की हुई मौत    |
ठंड के दिनों में खाएं ये चीजें, हमेशा बने रहेंगे सेहतमंद

ठंड के दिनों में खाएं ये चीजें, हमेशा बने रहेंगे सेहतमंद

सर्दी के दिनों में खास तौर से कुछ विशेष चीजों का सेवन करना कई तरह से फायदेमंद साबित होता है। जानिए ऐसी ही 15 चीजें जिनका प्रयोग सर्दियों में रखेगा आपकी सेहत, सुंदरता और मस्तिष्क का विशेष ख्याल...
1 खसखस - यह दिमाग को तेज करने में सहायक होता है। ठंड के दौरान इसे खाने से प्रोटीन, कैल्शियम मिलता है। इसके चाहें तो रातभर पानी में रखकर सुबह खा लें या फिर इसका दूध या हलवा बनाएं।
2 काजू - इसमें कैलोरी ज्यादा रहती है। ठंड में शरीर का तापमान नियंत्रित रखने के लिए ज्यादा कैलोरी की आवश्यकता होती है। काजू से कैलोरी मिलती है जिससे शरीर स्वस्थ रहता है।
3 बादाम - भीगी हुई खसखस खाली पेट खाने से दिमाग में तरावट और दिनभर ऊर्जा बनी रहती है। आप चाहें तो खसखस वाला दूध या फिर खसखस और बादाम का हलवा खा सकते हैं।
4 अखरोट - कोलेस्ट्राल को कम करने में सहायक होता है। इसमें फायबर, विटामिन ए और प्रोटीन रहता है। जो कि शरीर को स्वस्थ रखने में सहायता प्रदान करता है।
5 अंजीर - इसमें आयरन होता है, जो खून बढ़ाने में सहायक होता है।
6 च्यवनप्राश - च्यवनप्राश प्रतिदिन खाने से शरीर का पाचनतंत्र सुदृढ़ होता है, स्फूर्ति बनी रहती है।
7 गजक - यह गुड़ और तिल से बनाई जाती है। गुड़ में आयरन, फास्फोरस अधिक मात्रा में पाया जाता है। तिल में कैल्शियम व वसा होता है। इसके कारण ठंड के समय शरीर को अधिक कैलोरी मिल जाती है और शरीर का तापमान भी नियंत्रित रहता है।
8 पिंड खजूर - इसमें आयरन के साथ मिनरल्स और विटामिन भी रहते हैं। इसे ठंड में 20 से 25 ग्राम प्रतिदिन लेना चाहिए।
9 दूध - रात को सोते समय केसर, अदरक, खजूर, अंजीर, हल्दी दूध में डालकर लेना चाहिए। सर्दी के मौसम में होने वाली सर्दी-खांसी से बचाव हो जाता है।
10 गोंद लड्डू - इस मौसम में ज्यादा अच्छे रहते हैं क्योंकि आसानी से पच जाते हैं। एक लड्डू में 300 से 350 कैलोरी होती है।
11 साबुत अनाज - चूं‍कि यह मौसम सेहत बनाने के लिए बढ़िया होता है अत: इस मौसम में साबुत अनाज लेना हमेशा फायदे का सौदा है। चाहे अंकुरित करके या फिर सभी प्रकार के अनाज का आटा बनाकर प्रयोग करें।
12 घी - ठंड में जोड़ों की समस्या, घुटनों व जोड़ों के दर्द, आर्थराइटिस आदि से बचाव के लिए शरीर में आवश्यक चिकनाई होना बेहद जरूरी है। घर शारीरिक और मानसिक सेहत के लिए फायदेमंद है।
13 शहद - शहद एक प्राकृतिक एंटीबायोटिक है जिसमें मौजूद औषधीय गुण आपको सर्दी की सेहत समस्याओं से बचाएंगे और प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मददगार साबित होंगे।
14मिक्स दाल के लड्डू - दाल में प्रोटीन होता है। यह बाल झड़ने को रोकता है और शरीर को स्फूर्ति प्रदान करता है।
15हरी सब्जियां - सर्दी में हरी सब्जियों की आवक खूब होती है अत: इनका भरपूर सेवन करें। हरी सब्जियां पर्याप्त पोषण के साथ-साथ शरीर को आंतरिक शक्ति प्रदान करती हैं।

 

क्या आपको भी ठण्ड के कारण शरीर में कपकपी होती है,जाने क्यों होता है ऐसा

क्या आपको भी ठण्ड के कारण शरीर में कपकपी होती है,जाने क्यों होता है ऐसा

सर्दी के मौसम में तो ठंडक का अहसास होगा ही। लेकिन अगर यह ठंड आपकी बॉडी पर हावी होने लगे या आपको हर समय इतनी ठंड महसूस हो कि डेली के काम भी ना कर सकें तो यह स्थिति सामान्य नहीं है। खासतौर पर जब आपको अपने रुटीन में ऐसा कुछ ना नजर आए, जो ठंड महसूस होने की वजह हो। जैसे, आपने काफी देर तक पानी में काम नहीं किया है या आपको फीवर भी नहीं है लेकिन ठंड से आपकी हालत खराब हो रही है। यहां जानें क्यों अधिक ठंड लगने पर आपको अपनी सेहत पर बहुत अधिक ध्यान देने की जरूरत है...

नींद पूरी ना हो पाना
किसी भी कारण से अगर आप पूरी 7 से 8 घंटे की नींद नहीं ले पाते हैं तो इस स्थिति में अधिक ठंड लगने का अहसास होता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि अगर बॉडी को प्रॉपर रेस्ट नहीं मिल पाता है तो वह अपना टेंप्रेचर मेंटेन नहीं रख पाती। नींद पूरी ना होने की स्थिति में मेटाबॉलिज़म स्लो काम करने लगता है, इससे शरीर में ऊर्जा का उत्पादन कम होता है और अधिक ठंड लगती है।

ब्लड सर्कुलेशन कम होना
शरीर में ब्ल्ड सर्कुलेशन ठीक से ना हो पाना भी हर समय ठंड महसूस होने की वजह होता है। यह स्थिति आमतौर पर डायटबीटीज और हार्ट पेशंट्स में देखने को मिलती है। इसके अलावा मसल्स का स्टिफ होना, जोड़ो में दर्द होना या पेट में क्रैंप्स के साथ दर्द होना भी ठंड लगने की निशानी होती है। इनका कारण भी शरीर में ब्लड सर्कुलेशन ठीक से ना हो पाना होता है। इस स्थिति की मुख्य वजह ब्लड की थिकनेस और सही डायट का अभाव होता है।

शरीर में खून की कमी होना
बहुत अधिक डायटिंग करने या फास्ट फूड पर निर्भर रहने के कारण शरीर को पूरा पोषण नहीं मिल पाता है। इस कारण ज्यादातर बच्चे और टीनेजर्स प्रॉपर न्यूट्रिशन की कमी के चलते एनिमिया के शिकार हो जाते हैं। यह स्थिति आमतौर पर गर्ल्स में अधिक देखने को मिलती है। शरीर में खून की कमी होने पर भी ठंड अधिक महसूस होती है।

अंडर वेट होना
जिन लोगों का वजन उनकी हाइट और उम्र के हिसाब से नहीं होता है, उन लोगों को भी ठंड अधिक महसूस होती है। इसकी वजह यह है कि बहुत अधिक पतले लोगों में या जो लोग वेट लॉस मिशन पर ऐक्टिव होते हैं उनकी बॉडी में स्टोर्ड फैट अमाउंट कम होता है, जिसे बॉडी एनर्जी और हीट जनरेट करने के लिए इस्तेमाल करती है। यह फैट ना मिलने पर बॉडी अपनी जरूरत के हिसाब से हीट नहीं जनरेट कर पाती और आपको अधिक ठंड महसूस होती है।

हाइपोथाइरॉइडिज़म 
शरीर में हॉर्मोन की गड़बड़ी के लिए जिम्मेदार होती है हाइपोथाइरॉइडिज़म की स्थिति। यह एक हॉर्मोनल डिसऑर्डर है। इस स्थिति में बॉडी में हॉर्मोन्स का उत्पादन उतनी मात्रा में नहीं हो पाता है, जितनी बॉडी को जरूरत होती है। इसके चलते मेटाबॉलिज़म बॉडी टेम्प्रेचर मेंटेन नहीं कर पाता है और आपको ज्यादा ठंड लगती है।
 

 

कमाल का है यह तेल, एलर्जी और ड्राईनेस रखता है दूर

कमाल का है यह तेल, एलर्जी और ड्राईनेस रखता है दूर

सरसों के तेल में बना खाना जितना फायदेमंद होता है, उतना ही फायदेमंद होता है इस तेल को स्किन पर लगाना। लेकिन कुछ लोग इसकी झाल या कहिए कि इससे आनेवाली तीखी महक के कारण इसके उपयोग से बचते हैं। लेकिन ये तीखी महक इस तेल को अधिक प्रभावी बनाती है। यहां जाने त्वचा पर सरसों के तेल की मसाज और इसे लगाने के फायदे... 

त्वचा को मॉइश्चराइज करे

सरसों का तेल बॉडी पर लगाने से यह स्किन मॉइश्चर को ब्लॉक करने का काम करता है। इससे त्वचा में रुखेपन की समस्या नहीं होती है। साथ ही सर्दियों में वुलन कपड़ों की वजह से होनेवाली ड्राईनेस को रोकता है। 
 
एलर्जी से बचाए 
सरसों का तेल ऐंटिऑक्सीडेंट्स की तरह काम करता है। बॉडी पर अगर डेली बेसिस पर सरसों तेल से मालिश की जाए तो यह फंगल इंफेक्शन, जलन और खुजली जैसी एलर्जी को पनपने नहीं देता है।
 
रंगत निखारने में मददगार 
बेसन और हल्दी के साथ सरसों तेल मिलाकर उबटन तैयार करके लगाया जाए तो यह त्वचा की सुंदरता को बढ़ाने का काम करता है। यही वजह है कि भारतीय समाज में शादी के वक्त होनेवाली दुल्हन और दूल्हे को सरसों तेल का उबटन लगाया जाता है। 
 
फटी एडिय़ों से निजात दिलाए 
सर्दियों में एडिय़ां फटने की समस्या बेहद आम है। लेकिन अगर आप हर रोज सरसों तेल से पैरों की मसाज करते हैं तो यह एडिय़ों को फटने से बचाता है। खास बात यह है कि यह थकान दूर कर मसल्स को रिलैक्स भी करता है, जिससे स्किन पर ग्लो बढ़ता है।
 
ठंड में पानी की कमी और वजन बढ़ने से बचाएंगी ये 5 लिक्विड डाइट

ठंड में पानी की कमी और वजन बढ़ने से बचाएंगी ये 5 लिक्विड डाइट

ठंडे मौसम प्रतिरोधक क्षमता में कमी से आप आसानी से बीमारियों की चपेट में आ जाते हैं। इन 5 प्रकार के पेय पदार्थों का सेवन आपको ठंड के मौसम में बीमारियों से भी बचाएगा, लिक्विड की कमी भी पूरा करेगा और वजन भी कंट्रोल करेगा जानिए -
1 गर्म पानी - सबसे आसान और सुलभ तरीका है गर्म पानी पीना, जो गर्म होने पर कीटाणु रहित भी होता है पाचन व इम्यून पावर को दुरुस्त करता है, जिसे आप बीमारियों से बच सकते हैं।
2 चाय - ग्रीन टी हो, ब्लैक टी या फिर अदरक और दालचीनी वाली गर्म चाय, आपको सर्द मौसम में बीमार पड़ने से जरूर बचा सकती हैं, इसलिए इनका सेवन करने से परहेज न करें।
3 सूप - सूप हमेशा से ही हेल्थ के लिए एक बेहतरीन विकल्प रहा है, इसलिए आप बेझिझक अपनी पसंद के गर्मागर्म सूप का सेवन करें, और सर्दियों में स्वस्थ रहें।
4 दालचीनी का पानी - दालचीनी को पानी के साथ उबालकर तैयार किए गए पानी का उपयोग मौसम की आपको बीमारियों से बचाता है, तो यह एक अच्छा विकल्प है।
5 तुलसी का काढ़ा - इस मौसम में तुलसी का काढ़ा आपको बीमार पड़ने से बचा सकता है। आप चाहें तो इसमें गुड़, अदरक या लौंग का इस्तेमाल कर सकते हैं, लेकिन मात्रा कम ही रखें।
 

सर्दी में क्यों झड़ते हैं बाल,जानें 10 कारण और 5 कारगर घरेलू उपाय

सर्दी में क्यों झड़ते हैं बाल,जानें 10 कारण और 5 कारगर घरेलू उपाय

र्दी के दिनों में सिर्फ त्वचा ही नहीं, बाल भी रूखे और बेजान हो जाते हैं, और बालों को अतिरिक्त पोषण की आवश्यकता होती है। सर्द मौसम में बालों का झडऩा एक बड़ी समस्या होती है, जिससे निजात पाना जरूरी है। जानें बाल झडऩे के कारण और 5 कारगर उपाय-

कारण - पोषण की कमी बालों के झडऩे की एक प्रमुख वजह है, लेकिन इसके अलावा भी कुछ कारण हैं जो बालों के झडऩे के लिए जिम्मेदार होते हैं।
यह रहे बाल झडऩे के कारण -
1 तनाव
2 एनीमिया
3 बालों के साथ एक्सपेरिमेंट
4 विटामिन बी की कमी
5 प्रोटीन की कमी
6 हाइपो थॉयरॉडिज्म
7 डैंड्रफ
8 बोरिंग के पानी से बाल धोना
9 अनुवांशिक
10 बालों की जड़ों में इंफेक्शन
 
बालों को झडऩे से बचाने के लिए उसके कारण को पहचानना और सही उपचार अपनाना बेहद जरूरी है। अब जानिए ऐसे 5 कारगर उपचार, जो बालों को झडऩे से रोकने के लिए बेहद फायदेमंद साबित होंगे -
1 नारियल - बालों को पोषण देने के लिए नारियल हर रूप में बेहद उपयोगी है। नारियल तेल को हल्का गर्म कर बालों की जड़ों में मसाज करने से जड़ों को पोषण मिलता है और बाल मजबूत होते हैं। इसे कम से कम 1 घंटा बालों में लगाए रखें। इसके अलावा नारियल का दूध बालों में लगाकर मसाल करने के 1 घंटे बाद बाल धोने से भी लाभ होता है।
2 गुड़हल - गुड़हल के लाल फूल बालों के लिए वरदान से कम नहीं है। गुड़हल के फूल को पीसकर नारियल तेल के साथ बालों में लगाएं और आधे से 1 घंटे तक बालों में रखें। इसके बाद बालों को धो लें। यह प्रयोग बालों को डैंड्रफ से बचाने के साथ ही मजबूत और चमकदार बनाता है।
3 अंडा - अंडा प्रोटीन से भरपूर होता है, साथ ही इसमें जिंक, मिनरल और सल्फर भी होता है। ये सभी पोषक तत्व मिलकर बालों को मजबूती प्रदान करते हैं और बालों का झडऩा रोकते हैं। अंडे के सफेद भाग को जैतून के तेल के साथ अच्छी तरह मिक्स करके बालों में मसाज करें। आधे घंटे के बाद बाल धो लें।
4 प्याज - प्याज का रस लगाने से न केवल बालों का झडऩा कम होता है, बल्कि बालों का फिर से उगना और लंबाई बढऩा भी शुरू हो जाता है। सप्ताह में दो बार प्याज के रस का बालों में लगाकर आधे घंटे बाद शैंपू कर लीजिए। यह बेहद कारगर उपाय है।
5 लहसुन - सल्फर की अधिकता के कारण लहसुन भी बालों के लिए बेहद फायदेमंद है। इसे नारियल तेल में पकाकर या फिर इसके जूस को नारियल तेल में मिलाकर लगाने से काफी फायदा होता है।
 
घर से कॉकरोच का करना है सफाया तो आजमाएं यह नुस्खा

घर से कॉकरोच का करना है सफाया तो आजमाएं यह नुस्खा

भी के घरों में पाई जाने वाली शकर के कुछ ऐसे जबरदस्त नुस्खे है, जो सभी को नहीं पता होते। अगर आप इन नुस्खों को जानकर इन्हें आजमाएंगे तो आपकी कई परेशानियां दूर हो सकती है, जिनमें घर से कॉकरोच का सफाया करना भी शामिल है। आइए, जानते हैं कैसे-

 

1 बादाम को खराब होने से बचाने के लिए कंटेनर में रखने से पहले उसमें तीन-चार चम्मच शक्कर डाल दें, इससे सालों-साल बादाम खराब नहीं होंगे।
2 यदि आप चाहते हैं कि फूलदान और गमलों का पानी जल्दी ना बदलना पड़ें तो लगभग 10-12 लीटर पानी में एक औंस हाइड्रोजन सल्फेट मिलाकर थोड़ी-सी चीनी डाल दें, इस घोल से फूल 15-20 दिनों तक ताजे बने रह सकते हैं।
3 फटे हाथ-पैरों के इलाज के लिए चीनी के शर्बत से उन्हें धोना चाहिए।
4 कॉकरोच कई बीमारियों के वाहक है, उनसे बचने के लिए दस ग्राम बोरिक एसिड पाउडर, एक बड़ा चम्मच चीनी, एक बड़ा चम्मच दही और एक बड़ा चम्मच गेहूं के आटे को मिलाकर गोलियां बनाएं, अब इन गोलियों को अलमारी या फ्रिज में रखें कॉक्रोच नहीं आएंगे।
 

 

सर्द मौसम में नहाने के बाद नारियल तेल लगाने के क्या है फायदे जानिए

सर्द मौसम में नहाने के बाद नारियल तेल लगाने के क्या है फायदे जानिए

नारियल तेल को बालों में लगाने के तो कई फायदे आप जानते ही होंगे, लेकिन क्या आपको पता हैं कि इसे आप मॉइश्चराइजर, बॉडी क्रीम या बॉडी लोशन की जगह पर भी इस्तेमाल कर सकते हैं। यदि आप अपनी त्वचा की नमी बनाए रखने के लिए मेहंगे उत्पाद खरीदते हैं, तो अब से इनके विकल्प के रूप में आप नारियल तेल भी त्वचा पर नहाने के बाद लगा सकते है।

सर्द मौसम में नहाने के बाद नारियल तेल लगाना कही ज्यादा फायदेमंद होता है। आइए, जानते हैं सर्द मौसम में नहाने के तुरंत बाद नारियल तेल लगाने के कई फायदे -
1 नहाने के बाद अगर आपको महंगे मॉइश्चराइजर, बॉडी क्रीम या बॉडी लोशन प्रयोग करने की आदत है, तो आपके लिए यह काम नारियल तेल भी कर सकता है, वह भी कम दामों पर। नारियल तेल आपकी त्वचा को चिकनाई प्रदान करेगा।
2 अगर आपको शरीर के किसी अंग में इंफेक्शन या खुजली की समस्या है, तो नारियल तेल के साथ कपूर मिलाकर अपने बाथरूम में जरूर रखें। हर दिन नहाने के बाद संबंधित स्थान पर इसे लगाना आपको त्वचा की समस्याओं से निजात दिलाएगा।
3 यदि आप अंर्तवस्त्रों के कारण होने वाले निशान, जलन, सूजन फिर खुजली से परेशान हैं, तब भी नारियल तेल और कपूर का यह मिश्रण आपके लिए बेहद फायदेमंद चीज है।
4 चेहरे की सफाई, खास तौर से मेकअप साफ करने के लिए नारियल का तेल किसी भी क्लिंजिंग मिल्क से ज्यादा बेहतर है। रुई के फाहे में थोड़ा नारियल तेल लेकर चेहरे की सफाई करें या फिर पहले चेहरे पर तेल लगा लें फिर रुई से साफ कर लें।
5 हेयर रिमूविंग के लिए नारियल का तेल एक बढिय़ा विकल्प है। हेयर रिमूव करने से पहले नारियल तेल से मसाज करने पर आपकी त्वचा नर्म, मुलायम और चिकनी हो सकती है। लेकिन वैक्सिंग पर यह प्रयोग कारगर नहीं होगा।
 
विंटर में स्टाइलिश दिखना है तो अपने विंटर कलेक्शन में ये शामिल करे

विंटर में स्टाइलिश दिखना है तो अपने विंटर कलेक्शन में ये शामिल करे

स्टाइल को लेकर आप विंटर में भी बोरियत फील नहीं करेंगी। बस आपको जरूरत है अपने वार्डरोब में कुछ कलर्स ऐड करने की। अगर आपने अभी तक ऐसा नहीं किया है तो बिल्कुल देर ना करें। क्योंकि सर्दियों को बोरियत में कोई नहीं बिताना चाहता। तो अपने वार्डरोब के लिए सबसे सही आइडिया होगा कि इस सीजन में प्रिंटेड ब्लेजर खरीदे जाएं। ताकि आप इन्हें पैन्ट्स, ट्राउजर,डेनिम या लॉन्ग स्कर्ट्स के साथ कैरी कर सकें। 

प्रिंटेड ब्लेजर बहुत ही कूल और क्यूट लुक देते हैं। खासबात यह है कि ये ऐज को रियल ऐज से कहीं कम दिखाते हैं, मतलब आपको यंग दिखना है तो कलरफुल प्रिंटेड ब्लेजर खरीद लें। ये ब्लेजर आपको अलग-अलग प्राइज और वरायटी में ऑनलाइन और रिटेल आउटलेट्स पर मिल जाएंगे। हां, इनकी कीमत में इनकी क्वालिटी और ब्रैंड के हिसाब से काफी अंतर देखने को मिलेगा।
अगर आप कुछ दिनों की सर्दी मानकर अपना बजट नहीं बिगाडऩा चाहती हैं लेकिन प्रिंटेड ब्लेजर पहनना भी चाहती हैं तो इसका भी सलूशन है। आप ऑनलाइन सेल और डिसकाउंट में इसे खरीद सकती हैं। बस खरीदारी करते वक्त इस बात का ध्यान रखें कि इसका कलर कॉम्बिनेशन ऐसा हो, जिसे आप अधिक से अधिक ड्रेसेज के साथ टीमअप कर सकें।
 
फूल गोभी खाने से हो सकते है ये फायदे, जानिए पूरी खबर

फूल गोभी खाने से हो सकते है ये फायदे, जानिए पूरी खबर

फूलगोभी आम तौर पर सबसे सुलभ उपलब्ध होने वाली सब्जी है, जिसका प्रयोग न केवल सब्जी बनाने बल्कि अलग-अलग स्वादिष्ट व्यंजन बनाने के लिए भी किया जाता है। यह सब्जी भले ही बेहद आम हो, लेकिन इससे मिलने वाले फायदे बहुत खास और अनमोल हैं। जानिए फूलगोभी के यह फायदे -

1 फूलगोभी में  कैल्शियम, फास्फोरस, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और लौह तत्व के अलावा विटामिन ए, बी, सी, आयोडीन, और पोटैशियम तथा थोड़ी सी मात्रा में तांबा भी मौजूद होता है। गोभी आपको इतने सारे पोषक तत्व एक साथ प्रदान करती है।

2 खून साफ करने और चर्म रोगों से बचाने में गोभी बेहद फायदेमंद होती है। इसके लिए आप चाहें तो कच्ची गोभी या फिर इसका जूस बनाकर सेवन कर सकते हैं। यह दोनों ही तरीके कारगर होंगे।

3 जोड़ों का दर्द, गठिया और हड्डियों में दर्द की समस्या होने पर गोभी और गाजर का रस बराबर मात्रा में मिलाकर पीने से काफी लाभ होता है। लगातार तीन महीने इसका सेवन बेहद लाभप्रद है।

4 कोलायटिस, पेट दर्द या पेट से संबंधित अन्य समस्याओं में गोभी कारगर है। चावल के पानी में इसके हरे भाग को पाकर इसका सेवन करने से पेट की समस्याओं से निजात मिलती है।

 

 

5 लिवर में मौजूद एंजाइम्स को सक्रिय करने में गोभी का सेवन मददगार होता है। इसके सेवन से लिवर सही तरीके से काम करता है और शरीर से विषैले तत्वों को बाहर कर देता है। 

 

 

 

6 गले की समस्याएं, जैसे गले में दर्द, सूजन आदि होने पर गोभी के पत्तों को पीसकर उसका रस निकालें और इसका सेवन करें। गोभी का रस गले की समस्याओं में लाभकारी साबित होगा। 

 

7 मसूड़ों में दर्द, सूजन या मसूड़ों से खून आने की समस्या होने पर गोभी के पत्तों के रस से कुल्ला करना फायदेमंद होगा। यह पैराथायरॉइड ग्रंथि के सही कार्या

कार्यान्वयन में भी मददगार होती है।

8 गर्भावस्था के दौरान गोभी काफी फायदेमंद होती है। यह फोलेट, विटामिन ए और विटामिन बी से भी भरपूर होती है और कोशिकाओं के विकास के साथ ही इससे गर्भ में पल रहे भ्रूण को काफी लाभ होता है। गोभी विटामिन सी का भी उत्तम स्रोत है।

9 वजन कम करने में गोभी काफी फायदेमंद है। इसमें मौजूद विटामिन सी अतिरिक्त वसा को कम करने में मदद करता है। इसमें फोलेट की मौजूदगी भी मोटापे से निजात दिलाने में मददगार है। और इसमें स्टार्च भी नहीं होता।

10 यह एंटी ऑक्सीडेंट के साथ-साथ कैल्शियम मात्रा से भरपूर है, जो तंत्रिका तंत्र को मजबूत बनाता है। कैल्शियम हमारे दांतों और हड्डियों को मजबूत बनाता है। और शरीर के सही क्रियान्वयन में मदद करता है।

मोटापे और कब्ज से राहत पाना चाहते हैं तो खाने में ये अपनाएं

मोटापे और कब्ज से राहत पाना चाहते हैं तो खाने में ये अपनाएं

गर आप सोचते हैं कि घी खाने से मोटापा बढ़ेगा, तो आपको ये जानकर जरूर हैरानी होगी कि आयुर्वेद के अनुसार डाइट में घी शामिल करने से मोटापा और कब्ज जैसी कई अन्य समस्याओं से राहत पाया जा सकता है। आइए जानते हैं डाइट में घी शामिल करने के 5 फायदे-

1 मोटापा से दिलाता है राहत-

ऐसा भी माना जाता है कि घी का सेवन मोटापे से निजात दिलाने में मदद करता है। कहते है कि देसी घी में मौजूद सीएलए मेटाबॉल्जिम को सही रखता है, जिससे वजन कंट्रोल होने में मदद मिलती है। गाय के घी में कोलेस्ट्रॉल नहीं पाया जाता है जो शरीर में जमे, जिद्दी फैट को पिघलाकर मेटाबोलिज्म बढ़ाने में मदद करता है।

कब्ज से दिलाता है राहत - 
घी के सेवन से कब्ज जैसी समस्या से राहत मिलने में फायदा होता है। आयुर्वेद के अनुसार देसी घी पित्त का शमन करता है, साथ ही शरीर से विषाक्त पदार्थ को भी बाहर निकलने में मदद करता हैं।

हार्मोन को करता है संतुलित -
देसी घी में विटामिन ए, विटामिन के2, विटामिन ई, विटामिन ई के अलावा कई पोषक तत्व मौजूद होते है। इसका सेवन अन्य लोगों के अलावा गर्भवती स्त्री और स्तनपान कराने वाली मातालाओं के लिए बेहद फायदेमंद माना गया है।

हड्डियां करें मजबूत -
घी में भरपूर मात्रा में विटामिन के2 पाया जाता है, जो हड्डियों के लिए जरूरी तरल पदार्थ का निर्माण करने में मदद करता हैं। इसलिए घी के सेवन से हड्डियां भी मजबूत होती हैं।

त्वचा और बालों के लिए फायदेमंद -
घी से चेहरे की मसाज करने पर त्वचा की ड्रायनेस कम होती है और चेहरे की खोई नमी वापस आने में मदद मिलती है। इसके अलावा सिर पर भी घी की मसाज करना बालों के लिए फायदेमंद होता है। सिर पर घी की मसाज करने से बाल घने और चमकदार बनाने में मदद मिलती है।
 
आपके लिए हींग का पानी है कितना फायदेमंद , जरूर जानें

आपके लिए हींग का पानी है कितना फायदेमंद , जरूर जानें

 खाने में स्वाद और महक के लिए हींग का प्रयोग विशेष तौर पर किया जाता है और पेट के लिए भी इसे काफी फायदेमंद माना जाता है। वैसे सेहत के लिए हींग के एक नहीं बल्कि कई फायदे हैं। यकीन नहीं होता तो, जानिए यह 5 खास फायदे -

1) कब्ज की शिकायत होने पर हींग का प्रयोग लाभ देगा। रात को सोने से पहले हींग के चूर्ण को पानी में मिलाकर पिएं और सुबह देखें असर। सुबह पेट पूरी तरह से साफ हो जाएगा।  

2)  अगर भूख नहीं लगती या भूख लगना कम हो गया है, तो भोजन करने से पहले हींग को घी में भूनकर अदरक और मक्खन के साथ लेने से फायदा होगा और भूख खुलकर लगेगी।

3 त्वचा में कांच, कांटा या कोई नुकीली चीज चुभ जाए और निकालने में परेशानी आ रही हो, तो उस स्थान पर हींग का पानी या लेप लगाएं। चुभी हुई चीज अपने आप ही बाहर निकल आएगी।

 

4 अगर कान में दर्द हो रहा हो, तो तिल के तेल में हींग को गर्म करके, उस तेल की एक-दो बूंद कान में डालने से कान का दर्द पूरी तरह से ठीक हो जाएगा।

5 दांतों में कैविटी होने पर भी हींग आपके लिए काम की चीज साबित हो सकता है। अगर दांतों में कीड़े हैं, तो रात को दांतों में हींग लगाकर या दबार सो जाएं। कीड़े अपनेआप निकल आएंगे।

बिना साइड इफेक्ट्स के कैंसर के तेज दर्द को कम करता है ऐक्यूपंक्चर

बिना साइड इफेक्ट्स के कैंसर के तेज दर्द को कम करता है ऐक्यूपंक्चर

चिकित्सा की वैदिक पद्धतियां एक्यूप्रेश और ऐक्यूपंक्चर कैंसर के कारण होनेवाले भीषण दर्द की तीव्रता को कम करती हैं। इतना ही नहीं दर्द को दूर कर कैंसर में ओपिओइड की जरूरत को भी कम कर सकती हैं। यह स्टडी हाल ही जामा ऑन्कॉलजी जर्नल में प्रकाशित हुई है। 

कैंसर के मरीजों में करीब 70 प्रतिशत लोग भीषण तीव्रता वाला दर्द सहन करते हैं। इसे दवाओं के जरिए 50 प्रतिशत तक कम किया जा सकता है। हालांकि पेन मैनेजमेंट के दौरान पता चलता है कि दर्द को कंट्रोल करने के लिए दी जानेवाली दवाओं के भी पेशंट्स के शरीर पर हानिकारक प्रभाव होते हैं। इनमें दवाओं का अडिक्शन भी शामिल है। दवाइयों के इन दुष्प्रभावों से बचने के लिए ऐक्यूप्रेशर और ऐक्यूपंक्चर जैसी पद्धतियों का उपयोग तेजी से बढ़ रहा है।
आरएमआईटी यूनिवर्सिटी, मेलबर्न और विक्टोरिया ऑस्ट्रेलिया द्वारा भी कैंसर के पेशंट्स के दर्द को कम करने के लिए ऐक्यूप्रेशर और ऐक्यूपंक्चर के प्रभाव का मूल्यांकन किया गया। इस दौरान ऐक्यूप्रेशर और ऐक्यूपंक्चर को एनलजेसिक थेरपी के साथ अप्लाई किया गया। इस दौरान सामने आया कि इनके उपयोग से मरीज को दर्द में बड़ी राहत मिलती है और उसे पेनकिल्स की लत भी नहीं लगती है।
 
बढ़ते वजन से आप है परेशान, तो खाए ये फल जो आपको वजन घटाने में मदद करेगा

बढ़ते वजन से आप है परेशान, तो खाए ये फल जो आपको वजन घटाने में मदद करेगा

सर्दियों के मौसम का एक सबसे बेहतरीन, मौसमी और लोकल फल है संतरा यानी ऑरेंजेज। मीठा और खट्टा के कॉम्बिनेशन वाला यह फल विटमिन सी से भरपूर होता है और अगर आप वजन घटाने की सोच रहे हैं तो संतरे को अपनी डायट में जरूर शामिल करें। यह वेट लॉस करने में आपकी काफी मदद कर सकता है। और सिर्फ संतरा ही नहीं बल्कि इसका छिलका भी काफी फायदेमंद है, कैसे यहां जानें...

संतरे में होता है 87 प्रतिशत पानी
विटमिन सी और कई दूसरे पोषक तत्वों से भरपूर संतरे में कैलरीज की मात्रा बेहद कम होती है। साथ ही साथ संतरे में पानी की मात्रा अधिक होती है। एक संतरे में आमतौर पर करीब 87 प्रतिशत पानी होता है जिससे यह सर्दी के मौसम में आपको हाइड्रेटेड रखने में मदद करता है। इस वजह से भी संतरा वेट लॉस में मददगार है।
 
वेट मैनेज करने में मददगार
संतरे में फाइबर भी काफी होता है जिससे इसे खाने के बाद पेट भरा हुआ महसूस होता है, पाचन तंत्र भी सही बना रहता है, कब्ज की दिक्कत नहीं होती। 2014 की स्टडी के मुताबिक, संतरे में पाया जाने वाला वॉटर-सॉल्यूबल यानी पानी में घुलनशील विटमिन मोटापे से लडऩे और वेट को मैनेज करने में मदद करता है। साथ ही साथ शरीर के फैट बर्निंग प्रोसेस को भी तेज करता है।
 
मोटापा दूर करने में मददगार संतरे का छिलका
सिर्फ संतरा ही नहीं इसका छिलका भी है फायदेमंद। संतरे के छिलके में विटमिन बी6, कैल्शियम, प्रोविटमिन ए और फॉलेट के अलावा पॉलिफेनॉल्स भी पाया जाता है जो डायबीटीज के साथ-साथ अल्जाइमर्स और मोटापा जैसी दिक्कतों को भी दूर करने में मदद करता है।
 
छिलके में होता है संतरे से 4 गुना अधिक फाइबर
आपको जानकर हैरानी होगी कि संतरे के फल की तुलना में उसके छिलके में 4 गुना अधिक फाइबर होता है इसलिए इसके सेवन के बाद आपका पेट भरा हुआ महसूस होता है और देर तक भूख नहीं लगती। छिलके में मौजूद विटमिन सी फैट को बर्न करने में मदद करता है।

कैसे करें संतरे के छिलके को यूज
1. आप चाहें तो संतरे के छिलके की हर्बल चाय बनाकर भी पी सकते हैं।
2. संतरे के छिलके के छोटे-छोटे टुकड़े करके इसे सलाद, सूप या स्मूदी में डालकर खा सकते हैं।
3. छिलकों को सुखाकर उसका पाउडर बना लें और फिर उसे केक, मफिन या योगर्ट में डालकर खाएं।
 
क्या आप भी है सर्दियों में होठो के रूखेपन से परेशान, तो ऐसे करे होठों के रूखेपन को दूर

क्या आप भी है सर्दियों में होठो के रूखेपन से परेशान, तो ऐसे करे होठों के रूखेपन को दूर

सर्दियों का मौसम आते ही जहां पूरे शरीर में रूखापन आ जाता है, वहीं होंठों के ड्राई होने की समस्या आम हो जाती है। होंठों के ड्राईनेस के कारण ये बहुत ही बुरे नजर आते हैं। यदि आप भी होंठों के ड्राईनेस परेशान हैं तो कुछ टिप्स हम आपको बता रहे हैं और जिसके इस्तेमाल से आप पा सकते हैं सॉफ्ट लिप्स। 

तो आइए जानते हैं कि किस टिप्स को अपनाकर आप पा सकती हैं खूबसूरत होंठ।
 
यदि आप रेगुलर लिपस्टिक का इस्तेमाल करती हैं तो यह समस्या आपके होंठों की खूबसूरती को खराब कर सकती हैं। घर आने के बाद लिपस्टिक को साफ करें और अपने होंठो पर पेट्रोलियम जैली का इस्तेमाल करें।
 
देशी घी : यह आपके होंठों के रूखेपन की समस्या को कम करने में बहुत मददगार सिद्ध हो सकता है। बस, आपको सोने से पहले इसका इस्तेमाल करना है।
 
इस बात का अवश्य ध्यान रखें कि यदि आपको होंठों में ड्राईनेस है, आपके होंठ फट रहे हैं तो यह आपके शरीर के अंदर नमी की कमी भी हो सकती है, बाहरी तौर पर आप चाहे जो कर लें।
 
लेकिन अगर आप इसका इलाज जड़ से ही नहीं करेंगे तो यह समस्या कम नहीं होगी। इसलिए सबसे पहले 8 से 9 गिलास पानी पीने की आदत डालें जिससे कि आपको ऐसी समस्या का सामना करना ही नहीं पड़ेगा।
 
कई बार होंठों का फटना पोषक तत्वों की कमी की वजह से भी होता है। ऐसे में अपने खानपान का पूरा ख्याल रखें ताकि शरीर को किसी तत्व की कमी न होने पाए।
 
अपने होंठों पर बहुत कम लोग ही ध्यान देते हैं। अपनी स्कीन केयर रूटीन में इसे काफी नजरअंदाज किय़ा जाता है लेकिन ऐसा करना ठीक नहीं होता है। आप जब अपने चेहरे का स्क्रब करती हैं, तो होंठों पर भी इसका इस्तेमाल जरूर करें और इसके बाद ऑइल या घी का इस्तेमाल कर सकती हैं।
 
स्क्रब करने के लिए आप घरेलू स्क्रब का भी इस्तेमाल कर सकती हैं। इसके लिए आप शकर और ऑलिव ऑइल का भी इस्तेमाल कर सकती हैं।
 
सर्दियों की ठंडी हवा कर सकती है आपको बीमार, जानें क्या है कारण

सर्दियों की ठंडी हवा कर सकती है आपको बीमार, जानें क्या है कारण

सर्दियों के दिनों में लगातार गिरते तापमान की वजह से लोगों को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है. ठंडी हवाएं, सुबह और रात के समय कोहरा, दिन में हल्की धूप और कभी बारिश से ठंड बढऩे पर लोगों को सांस लेने में दिक्कत होने लगती है. हालांकि सुबह के समय ताजी हवा लेना सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद माना जाता है लेकिन सर्दियों में ऐसा करना थोड़ा मुश्किल होता है क्योंकि ठंड के कारण सांस लेने में तकलीफ होने लगती है.

आप सर्दियों की सुबह ठंडी हवा में टहलने के लिए घर से बाहर निकलते हैं और ठंडी हवा का लुत्फ उठाते हैं और टहलते समय आप सांस लेने में परेशानी महसूस करते हैं. सर्दियों के मौसम में ऐसा होना सामान्य है. कुछ लोगों को सांस में तकलीफ या सीने में जकडऩ भी महसूस होने लगती है. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि आखिर ऐसा क्यों होता है? आइए आपको बताते हैं इसके पीछे के कारणों के बारे में.

ठंडी और शुष्क हवाएं

वास्तव में ऐसा ठंडी और शुष्क हवाओं की वजह से होता है. इससे आपको सांस लेने में तकलीफ होती है और फेफड़ों में जलन होने लगती है. जब आप ठंडी हवा को सांस के द्वारा अपने फेफड़ों के अंदर लेते हैं, तो इससे श्वांसनली में सूजन आ जाती है, जिससे नली ब्लॉक हो जाती है. इससे आपको सांस लेने में दिक्कत होने लगती है. साथ ही इससे सीने में जकडऩ और सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्या भी हो सकती है.

नाक करती है ठंडी हवा को गर्म

वातावरण की ठंडी हवा को जब आप सांसों के जरिए अंदर खींचते हैं, तो नाक के रास्ते से इस हवा का तापमान शरीर बढ़ा देता है, ताकि फेफड़ों को कोई तकलीफ न हो. इसके साथ ही हवा की शुष्कता को कम करने के लिए नाक इसमें जरूरी नमी भी पैदा करती है. लेकिन अगर आप सर्द मौसम में देर तक बाहर रहते हैं, तो नाक इतनी हवा को गर्म करने में सक्षम नहीं हो पाती. जिसके कारण आपके फेफड़ों में ठंडी हवा पहुंचने लगती है और आपको तकलीफ होती है. फेफड़े गर्म हवा के निश्चित स्तर को संभालने का काम करते हैं. जब हवा के तापमान में मामूली सा बदलाव होता है, तो इससे सांस लेने के रास्ते में जलन और दर्द महसूस होता है.नाक से खून आना

सर्दियों में कई लोगों की नाक से खून भी आता है. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि ठंडी हवा की वजह से नाक से सांस लेने का रास्ता शुष्क हो जाता है. नमी की कमी के कारण कोशिकाएं फट जाती हैं और उनसे खून आने आने लगता है. ऐसे में आप अपने नाक के रास्ते की नमी को बनाए रखने के लिए मरहम का इस्तेमाल कर सकते हैं.

सर्दी की ठंडी हवा से बचने के उपाय

मुंह से सांस लेने की बजाए अपनी नाक से सांस लेने की कोशिश करें क्योंकि आपकी नाक हवा को आपके फेफड़ों तक पहुंचाने से पहले गर्म कर देती है, जिससे फेफड़ों को तकलीफ नहीं होती है.

सर्दियों में बाहर निकलने से पहले अपने मुंह और नाक को स्कार्फ की मदद से अच्छे से ढक लें. ऐसा करने से ठंडी हवा आपके नाक के संपर्क में आने से पहले ही थोड़ा गर्म हो जाएगी.

यदि आप ठंडे वातावरण या ठंडे तापमान के प्रति संवेदनशील हैं तो बाहर कसरत करने, घूमने या बाइक चलाने से बचें. ऐसे समय में आप जरूरी हो, तभी यात्रा करें और घर पर ही इनडोर एक्सरसाइज, योगासन कर सकते हैं. यदि आप अस्थमा या अन्य किसी सांस संबंधी बीमारी से पीडि़त हैं, तो आपको अधिक सावधान रहने की जरूरत है.

सर्द मौसम में नहाने के बाद नारियल तेल लगाने के 5 बेहतरीन फायदे

सर्द मौसम में नहाने के बाद नारियल तेल लगाने के 5 बेहतरीन फायदे

नारियल तेल को बालों में लगाने के तो कई फायदे आप जानते ही होंगे, लेकिन क्या आपको पता हैं कि इसे आप मॉइश्चराइजर, बॉडी क्रीम या बॉडी लोशन की जगह पर भी इस्तेमाल कर सकते हैं। यदि आप अपनी त्वचा की नमी बनाए रखने के लिए मेहंगे उत्पाद खरीदते हैं, तो अब से इनके विकल्प के रूप में आप नारियल तेल भी त्वचा पर नहाने के बाद लगा सकते है।

सर्द मौसम में नहाने के बाद नारियल तेल लगाना कही ज्यादा फायदेमंद होता है। आइए, जानते हैं सर्द मौसम में नहाने के तुरंत बाद नारियल तेल लगाने के कई फायदे -

1 नहाने के बाद अगर आपको महंगे मॉइश्चराइजर, बॉडी क्रीम या बॉडी लोशन प्रयोग करने की आदत है, तो आपके लिए यह काम नारियल तेल भी कर सकता है, वह भी कम दामों पर। नारियल तेल आपकी त्वचा को चि‍कनाई प्रदान करेगा।

2 अगर आपको शरीर के किसी अंग में इंफेक्शन या खुजली की समस्या है, तो नारियल तेल के साथ कपूर मिलाकर अपने बाथरूम में जरूर रखें। हर दिन नहाने के बाद संबंधि‍त स्थान पर इसे लगाना आपको त्वचा की समस्याओं से निजात दिलाएगा।

3 यदि आप अंर्तवस्त्रों के कारण होने वाले निशान, जलन, सूजन फिर खुजली से परेशान हैं, तब भी नारियल तेल और कपूर का यह मिश्रण आपके लिए बेहद फायदेमंद चीज है।

4 चेहरे की सफाई, खास तौर से मेकअप साफ करने के लिए नारियल का तेल किसी भी क्लिंजिंग मिल्क से ज्यादा बेहतर है। रुई के फाहे में थोड़ा नारियल तेल लेकर चेहरे की सफाई करें या फिर पहले चेहरे पर तेल लगा लें फिर रुई से साफ कर लें।

5 हेयर रिमूविंग के लिए नारियल का तेल एक बढ़ि‍या विकल्प है। हेयर रिमूव करने से पहले नारियल तेल से मसाज करने पर आपकी त्वचा नर्म, मुलायम और चिकनी हो सकती है। लेकिन वैक्सिंकग पर यह प्रयोग कारगर नहीं होगा।

 

योग करने से स्वस्थ रहेगा दिमाग, कौन से योग से क्या फायदा होगा जाने

योग करने से स्वस्थ रहेगा दिमाग, कौन से योग से क्या फायदा होगा जाने

योग करने से न सिर्फ आप शारीरिक रूप से स्वस्थ बनेंगे बल्कि मानसिक रूप से आपका दिमाग भी फिट और हेल्दी बना रहेगा। नई स्टडी की मानें तो योग इंसानी दिमाग के कई हिस्सों में नसों के आपसी जुड़ाव को मजबूत बनाता है। यह उतना ही प्रभावी है, जितना ऐरोबिक्स का एक्सर्साइज। हठ योग पर किए गए पिछले 11 शोधों के अध्ययन के बाद यह बात सामने आई है।

 

योग करने से याददाश्त भी होगी बेहतर 
यूएस में इलिनोइस यूनिवर्सिटी की स्टडी के मुताबिक, हठ योग करने वालों के मानसिक स्वास्थ्य की शुरू और अंत में तुलना की गई थी। स्टडी का एक दिलचस्प नतीजा यह था कि दिमाग का वह हिस्सा जिसे हिप्पोकैम्पस कहते हैं, वह उम्र के साथ सिकुडऩे लगता है। इस हिस्से का ताल्लुक इंसान की याददाश्त से है। हिप्पोकैम्पस बहुत ज्यादा सिकुडऩे पर लोगों को अल्जाइमर्स जैसी बीमारी हो जाती है, जिसमें याद करने की क्षमता बुरी तरह प्रभावित होती है। स्टडी बताती है कि योग करने वालों में हिप्पोकैम्पस का आकार सिकुड़ा नहीं। उसमें सामान्य वृद्धि बरकरार रही। 
 
बढ़ जाती है काम करने की क्षमता 
स्टडी में यह भी कहा गया है कि एमिग्डाला (एक दिमागी हिस्सा, जो भावनात्मक आदान-प्रदान में रोल अदा करता है), योग करने वालों में उन लोगों की तुलना में बड़ा होता है जो योग का अभ्यास नहीं करते हैं। अन्य मस्तिष्क क्षेत्रों जैसे प्रीफ्रंटल कॉर्टेक्स, सिंगुलेट कॉर्टेक्स भी बड़े हैं, या उन लोगों में अधिक क्षमता से काम करते हैं, जो नियमित रूप से योग का अभ्यास करते हैं। 
 
इन योगासनों से हेल्दी बनेगा ब्रेन 
भ्रामरी प्राणायाम 
नकारात्मक भावनाएं जैसे क्रोध, झुंझलाहट, निराशा और चिंता से मुक्त करता है। एकाग्रता और स्मृति को बढ़ाता है। आत्म विश्वास को बढ़ाता है। यह प्राणायाम चिंता-मुक्त होने का सबसे अच्छा विकल्प है। 
 
सेतुबंधासन 
योग का यह आसन मांसपेशियों को विश्राम देता है। मस्तिष्क में रक्त संचार बढ़ाता है। मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र को शांत करने में मदद करता है, जिससे चिंता, तनाव और अवसाद यानी डिप्रेशन को कम किया जा सकता है। 
 
सर्वांगासन 
ब्रेन के हाइपोथैलेमस ग्रंथियों में अधिक रक्त पहुंचाकर मस्तिष्क को हेल्दी बनाने में मदद करता है यह आसन। सभी संज्ञानात्मक कार्यप्रणाली में सुधार लाता है। 
 
हलासन 
मस्तिष्क में रक्त प्रवाह को बेहतर कर तंत्रिका तंत्र को शांत करता है। पीठ और गर्दन में खिंचाव से तनाव और थकावट को कम करता है।
 
तेजी से तोंद घटाती हैं ये 4 ऑर्गेनिक हॉट ड्रिंक्स, सभी हैं रसोई में मौजूद

तेजी से तोंद घटाती हैं ये 4 ऑर्गेनिक हॉट ड्रिंक्स, सभी हैं रसोई में मौजूद

ढ़ी हुई तोंद से ज्यादातर लोग परेशान हैं। कई घंटों तक एक जगह बैठकर काम करना और खाने-पीने का सही रुटीन ना बन पाना, ये कुछ ऐसी वजह हैं जिनके चलते आजकल बढ़ी हुई तोंद की परेशानी आम हो गई है। अगर आप ध्यान देंगे तो घर की रसोई में ही इसे घटाने की ऑर्गेनिक हॉट ड्रिंक्स मिल जाएंगी। जो बिना किसी साइड इफेक्ट के आपको सेक्सी टमी देंने का काम करेंगी...
 
जानते सब हैं करते कम ही लोग हैं
हम सभी जानते हैं कि सुबह के समय नींद से जागने के बाद गुनगुना पानी पीने से पेट साफ रहता है, पाचन तंत्र मजबूत बनता है और फैट कम होता है...लेकिन फिर भी हम लोग इसे अपने रुटीन में शामिल नहीं कर पाते। अगर शुरुआत से ही ऐसा किया होता तो टमी बढ़ती ही नहीं। लेकिन देर आए दुरुस्त आए की तर्ज पर रोज सुबह गुनगुने पानी का सेवन करें। यह टमी घटाने में बहुत मददगार है।

नींबू पानी का सेवन 
आमतौर पर नींबू पानी को गर्मियों की ड्रिंक माना जाता है। लेकिन ऐसा है नहीं। आप गुनगुने पानी में नींबू निचोड़कर और थोड़ा-सा शहद मिलाकर तैयार करिए और पूरी सर्दियों इसका मजा लीजिए। टेस्ट भी मिलेगा और टमी भी नहीं बढ़ेगी।
 
आयुर्वेदिक चाय 
ग्रीन टी, ब्लैक टी, काढ़ा और दालचीनी की चाय को आयुर्वेदिक चाय में शामिल किया जाता है। आप सर्दियों के मौसम में इनमें से किसी भी चाय का सेवन रोजाना कर सकते हैं और अपनी बढ़ती तोंद पर लगाम लगाकर फैट कम कर सकते हैं।
 
जीरे का पानी 
एक ग्लास ताजा पानी को में एक टी-स्पून जीरा डालें। अब इस पानी को 5 मिनट तक गैस पर उबालें। इसके बाद इसे छानकर गर्म-गर्म चाय की तरह पिएं। जरूरी लगे तो इसमें थोड़ा-सा हनी ऐड कर सकते हैं।
 
दिनभर ताजा पानी की मात्रा 
बढ़ी हुई तोंद को नियंत्रित रखने का सबसे अच्छा फॉर्म्यूला है कि आप अपने बॉडी वेट के अनुपात में सही मात्रा में पानी पिएं। डायटीशियन का कहना है कि हर व्यक्ति को प्रतिदिन कम से कम 8 ग्लास पानी पीना चाहिए ताकि बॉडी हाइड्रेट रहे। लेकिन अगर तोंद कम करनी है तो अपने शरीर के वजन को 30 से डिवाइड करें और जो मात्रा आए, उतने लीटर पानी को प्रतिदिन कंज्यूम करें। इससे शरीर में इकठ्ठा हुए फैट को दूर करने में मदद मिलेगी।
क्या आप भी सिरदर्द से परेशान रहते हैं इसके मुख्यत ये 6 कारण हो सकते है

क्या आप भी सिरदर्द से परेशान रहते हैं इसके मुख्यत ये 6 कारण हो सकते है

सिरदर्द बहुत की आम समस्या है। कब, कहां हमें यह परेशानी घेर ले कुछ नहीं कहा जा सकता। लेकिन आमतौर पर हम जानते हैं कि आखिर हमारे सिर में दर्द क्यों हो रहा है? जैसे, अगर हम रात को ठीक से नहीं सो पाए, सुबह बहुत जल्दी उठ गए, कई घंटों से कुछ नहीं खाया...ये कुछ ऐसी बाते हैं, जिन्हें हम सब जानते हैं। लेकिन कुछ बातें ऐसी भी हैं, जिन पर हम लोग गौर नहीं करते हैं कि ये भी हमारे सिर में दर्द की वजह बन सकती हैं। आइए, एक नजर डालते हैं...

कई बार कॉफी पीना

ऑफिस में काम करते हुए या दोस्तों को साथ गप्पे मारते हुए, चाय और कॉफी पीना आम बात है। लेकिन इनमें मौजूद कैफीन उस वक्त हमारे लिए सिरदर्द का कारण बन जाता है, जब हम अधिक मात्रा में चाय या कॉफी का सेवन कर लेते हैं।

कई घंटों से पानी ना पीना

अगर आपने लगातार कई घंटों से पानी नहीं पिया है या आप हर रोज शरीर की जरूरत के हिसाब से पानी नहीं पीते हैं तो शरीर में खुस्की हो जाती है। इस कारण भी सिरदर्द की समस्या होती है।

पेट में गैस

कभी-कभी सिर्फ चाय-कॉफी पीते रहने से भी पेट में गैस बन जाती है तो कभी कुछ भी ना खाने के कारण पेट में गैस बनती है। इतना ही नहीं कुछ खाद्य पदार्थ ऐसे हैं जो हमारी बॉडी में गैस बढ़ाने का काम करते हैं। इस गैस के कारण भी सिर में दर्द की समस्या होती है।

हॉर्मोनल चेंज

महिलाओं में पीएमएस यानी प्रीमेन्स्ट्रुअल सिंप्टम्स और पुरुषों में आईएमएस यानी इरिटेबल मेन्स सिंड्रोम के चलते हर महीने हॉर्मोनल चेज होते हैं। यह बदलाव कई बार अलग-अलग कारणों से सिरदर्द की वजह बन जाता है।

बैठने का गलत तरीका

अगर हम ऑफिस या कॉलेज में लंबे समय से गलत पॉश्चर में बैठे रहते हैं तो हमारा डायजेशन इफेक्ट होता है और अपच के कारण सिरदर्द की समस्या हो जाती है। या नसों में तनाव के कारण भी सिरदर्द की समस्या हो जाती है।

गैजेट्स का बहुत अधिक उपयोग

घंटों तक लगातार मोबाइल फोन, लैपटॉप या टीवी के साथ वक्त बिताने पर भी सिरदर्द की समस्या हो जाती है। इसलिए अगर आपके सिर में दर्द अक्सर हो जाता है तो सोचने की जरूरत है कि आप अपने साथ क्या गलत कर रहे हैं।

 

ठंड के मौसम में तिल जरूर खाएं, जानिए 7 बेहतरीन फायदे

ठंड के मौसम में तिल जरूर खाएं, जानिए 7 बेहतरीन फायदे

ठंड के मौसम में तिल के बने पकवान अधिकतर लोगों के घर में बनाए जाते है या बाजार से खरीद कर लाए जाते है, जैसे तिल की गजक व पट्टी आदि। दरअसल सर्दियों के मौसम में तिल को किसी भी रूप में खाने से सेहत को फायदा होता है, वहीं त्वचा पर भी इसका अच्छा प्रभाव होता है।

आइए, जानते हैं ठंड के मौसम में तिल का सेवन करने के बेहतरीन फायदे -

1. तिल में मोनो-सैचुरेटेड फैटी एसिड होता है जो शरीर से कोलेस्ट्रोल को कम करता है।

2. तिल खाना दिल से जुड़ी बीमारियों के लिए भी यह बेहद फायदेमंद है।

3. तिल में सेसमीन नाम का एन्टीऑक्सिडेंट पाया जाता है जो कैंसर कोशिकाओं को बढ़ने से रोकता है।

4. तिल में कुछ ऐसे तत्व और विटामिन पाए जाते हैं जो तनाव और डिप्रेशन को कम करने में मदद करते हैं।

5. तिल में कैल्शिेयम, आयरन, मैग्नीशियम, जिंक और सेलेनियम जैसे तत्व होते हैं, जो हृदय की मांसपेशि‍यों को   सक्रिय रूप से काम करने में मदद करते हैं।

 

6. तिल में डाइट्री प्रोटीन और एमिनो एसिड होता है जो बच्चों की हड्डियों के विकास में सहायक होता है।

7. तिल का तेल त्वचा के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। इसकी मदद से त्वचा को जरूरी पोषण मिलता है और इसमें नमी बरकरार रहती है।