कोरोना अपडेट : छत्तीसगढ़ में जारी है कोरोना से मौत का तांडव, प्रदेश में आज 15 हजार के करीब मरीजों की हुई पहचान, राजधानी से मिले सर्वाधिक मरीज    |    बंगाल चुनाव: EC की नई गाइडलाइंस जारी, प्रचार का समय कम करने से लेकर आपराधिक मामला दर्ज करने तक का आदेश    |    BIG BREAKING : केंद्रीय मंत्री जावड़ेकर भी आये कोरोना की चपेट में, सोशल मीडिया में दी जानकारी    |    ICMR कोरोना अपडेट: राज्य में आज शाम तक 12079 कोरोना मरीजो की हुई पुष्टि, अकेले रायपुर से 2921 समेत बाकी इन जिलो से...    |    इस राज्य में सरकार ने लागू किया वीकेंड लॉकडाउन, मास्क नहीं पहनने पर लगेगा बड़ा जुर्माना    |    BIG BREAKING : नहीं होगी ऑक्सीजन की कमी, पीएम केयर्स फंड से अस्पतालों में लगेंगे प्लांट    |    कोरोना की चपेट में सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस शाह का पूरा स्टाफ...    |    कोरोना अपडेट : देश में 24 घंटे में सामने आए 2.16 लाख मामले, 1184 मौतें    |    BIG BREAKING : प्रदेश में कोरोना से मौत ने लगाई शतक, प्रदेश में आज 15 हजार से अधिक नए मरीजों की हुई पहचान, राजधानी से इतने    |    कोरोना अपडेट: ICMR के मुताबिक आज प्रदेश में शाम तक 11819 मरीज मिले, अकेले रायपुर जिले से 2870 समेत बाकी इन जिलो से    |
प्रदेश सरकार बंदी जवान की रिहाई के प्रयासों में तेज़ी लाकर बटालियन का मनोबल बढ़ाए और परिजनों को राहत दे : भाजपा

प्रदेश सरकार बंदी जवान की रिहाई के प्रयासों में तेज़ी लाकर बटालियन का मनोबल बढ़ाए और परिजनों को राहत दे : भाजपा

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने बीजापुर-सुकमा के सीमावर्ती इलाक़े तर्रेम में नक्सली हिंसा के दौरान सीआरपीएफ की कोबरा बटालियन के लापता जवान राकेश्वर सिंह मनहास के नक्सलियों के पास बंदी होने पर चिंता व्यक्त है। श्री साय ने इस बात पर भी गहरा अफ़सोस जताया है कि सरकार की तरफ से नक्सलियों के पास बंदी जवान मनहास के बारे में कोई भी आधिकारिक बयान नहीं आया है। श्री साय ने कहा कि प्रदेश सरकार को बंदी जवान की यथाशीघ्र सुरक्षित रिहाई के हरसंभव उपायों पर तेज़ी से काम करना चाहिए ताकि बटालियन का मनोबल बढ़े और बंदी जवान के परिजनों को राहत मिले।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री साय ने कहा कि प्रदेश की कांग्रेस सरकार की नक्सली मोर्चे पर कमज़ोर नीतियों का ही यह दुष्परिणाम है कि नक्सलियों ने प्रदेश में अपने ख़ूनी तांडव से दहशत क़ायम करने पर उतारू हो चले हैं और अब एक जवान को बंदी बनाकर सरकार के सामने मध्यस्थ नियुक्त करने के बाद जवान की रिहाई की शर्त रख रहे हैं। श्री साय ने ताज़ा नक्सली हिंसा के मद्देनज़र आक्रामक नक्सलरोधी कार्ययोजना को अमल में लाने के केंद्र सरकार के संकेत का स्वागत किया है। श्री साय ने कहा कि नक्सली आतंक के ख़िलाफ़ निर्णायक लड़ाई की ज़रूरत पर बल देकर इसे अंजाम तक पहुँचाने की केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की वचनबद्धता लाल आतंक के ख़िलाफ़ जारी लड़ाई में शहीद हुए जवानों को सच्ची श्रद्धांजलि होगी और इससे घायल जवानों का मनोबल बढ़ेगा।
 

भाजपा स्थापना दिवस के अवसर पर डॉ रमन सिंह ने एकात्म परिसर में ध्वजारोहण किया

भाजपा स्थापना दिवस के अवसर पर डॉ रमन सिंह ने एकात्म परिसर में ध्वजारोहण किया

रायपुर, आज भाजपा स्थापना दिवस के अवसर पर एकात्म परिसर, भारतीय जनता पार्टी कार्यालय में भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने पार्टी के वरिष्ठ नेता गण पवन साय, गौरीशंकर अग्रवाल ,बृजमोहन अग्रवाल ,सुनील सोनी, श्रीचंद सुंदरानी,सुभाष राव, छगन मूंदड़ा, संजय श्रीवास्तव ,मोतीलाल साहू ,अमित साहू की उपस्थिति में ध्वजारोहण किया।

bjp sthapna diwas raipur
इस अवसर पर उन्होंने कहा कि सेवा का संकल्प ही भाजपा का उद्देश्य है। विपक्ष की कोख से जन्मी पार्टी आज दो सांसदों से तीन सौ तीन सांसदों के साथ देश में जनता की सेवा कर रही है । बीजेपी ने दुनिया को अटल व मोदी जैसा सर्वश्रेष्ठ नेतृत्व दिया । उन्होंने कहा कि भाजपा के चरित्र में सदैव राष्ट्र प्रथम रहा और राष्ट्र में रहने वाले अंतिम व्यक्ति तक शासन की योजनाओं का लाभ पहुंचाना और उनका जीवन स्तर ऊपर उठाना हमारा उद्देश्य रहा।
उन्होंने छत्तीसगढ़ की जनता को संदेश देते हुए कहा कि वर्तमान समय में कोरोना महामारी का मुकाबला हमे धैर्य के साथ करना है । इसके समूल निराकरण होते तक प्रदेश की भारतीय जनता पार्टी का एक भी कार्यकर्ता शांति के साथ नहीं बैठेगा और जनता की सेवा में रत रहेगा।
इस मौके पर भाजपा जिला अध्यक्ष श्रीचंद सुंदरानी जी ने कहा कि यह हमारा सौभाग्य है कि मैंने आज से 41 वर्ष पहले 1980 में मुंबई में भाजपा का स्थापना होते देखा है स्थापना के समय नेताओं का जो सपना था वह सपना आज साकार होते भी देख रहे हैं। आज दिन है इस सफलता के लिए जिन्होंने अपना जीवन और सर्वस्व निछावर कर दिया उन्हें याद कर , उनके दिखाए रास्ते पर चलने का।
ध्वजारोहण के पश्चात कोविड-19 नियमो का पालन करते हुए भाजपा के कार्यकर्ता व पदाधिकारी गणों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का उद्बोधन सुना।

bjp sthapna diwas raipur
भाजपा रायपुर जिला मीडिया प्रभारी अनुराग अग्रवाल ने बताया कि भाजपा कार्यालय के अलावा शहर के सभी मंडलों व वार्डो में स्थापना दिवस मनाया गया। फाफाडीह मंडल में अध्यक्ष गोरेलाल नायक के नेतृत्व में, पुरानी बस्ती मंडल में अध्यक्ष सालिक सिंह के नेतृत्व में ,सिविल लाइन मंडल में अध्यक्ष मुकेश पंजवानी के नेतृत्व में ,शंकर नगर मंडल में अध्यक्ष अनूप खेलकर के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने अपने अपने घरों में भाजपा के झंडे लगाएं। भारतीय जनता युवा मोर्चा के जिलाध्यक्ष राजेश पांडे व महामंत्री अमित मैसेरी के मार्गदर्शन में डीडी नगर मंडल में भाजपा मंडल अध्यक्ष अनिल सोनकर के नेतृत्व में व तत्यापारा मंडल में हर्षवर्धन शुक्ला व अशोक भल्ला के नेतृत्व में चीनी सेना को पीछे हटने के लिए बाध्य करने के लिए सैनिकों के सम्मान स्वरूप सैनिकों व पूर्व सैनिकों का साल , श्रीफल देकर सम्मान किया गया।
भाजपा कार्यालय एकात्म परिसर में स्थापना दिवस समारोह में पूर्व जिला अध्यक्ष राजीव अग्रवाल, भाजपा जिला महामंत्री ओंकार बैस, दीपक महसके, नगर निगम नेता प्रतिपक्ष मीनल चौबे, प्रफुल्ल विश्वकर्मा ,केदार गुप्ता सत्यम दुबा, अकबर अली,बजरंग खंडेलवाल, अमरजीत छाबड़ा, मनीषा चंद्राकर, श्यामा चक्रवर्ती, खेम सेन, सावित्री जगत, सुनील पिल्लई ,आदित्य कुरील, तोषण साहू, राहुल राव व भाजपा जिला मीडिया प्रभारी अनुराग अग्रवाल उपस्थित थे।
 

 सफलता का कोई शार्टकट नहीं, कठोर परिश्रम से अवश्य मिलेगी सफलता: सुश्री उइके

सफलता का कोई शार्टकट नहीं, कठोर परिश्रम से अवश्य मिलेगी सफलता: सुश्री उइके

दुर्ग। सफलता का कोई शार्टकट नहीं होता है। सफलता का मंत्र केवल ईमानदारी से कड़ी मेहनत करना है। जो छात्र-छात्राएं मेडल प्राप्त नहीं कर पाये हैं वे निराश न हों आप भी उतने ही काबिल हैं जितने अन्य हैं। आशावादी रहें और भविष्य में कठोर परिश्रम करें आपको भी मेडल और सफलता अवश्य ही मिलेगी। यह बात राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके ने हेमचंद यादव विश्वविद्यालय, दुर्ग द्वारा आयोजित ऑनलाईन स्वर्णपदक वितरण एवं सम्मान समारोह में कही। राज्यपाल ने हेमचंद यादव विश्वविद्यालय, दुर्ग की वर्ष 2017-18 तथा वर्ष 2018-19 की परीक्षाओं में प्रावीण्य सूची में सर्वप्रथम स्थान प्राप्त करने वाले समस्त छात्र-छात्राओं को ऑनलाईन स्वर्णपदक वितरित किया और उन्हें हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर राज्यपाल ने विश्वविद्यालय के कुलगीत का भी विमोचन किया।

राज्यपाल ने कहा कि मैं इन मेधावी छात्र-छात्राओं के समस्त पालकों को भी बधाई देती हूं कि उनके मार्गदर्शन में तथा सहयोग के कारण इन विद्यार्थियों ने विश्वविद्यालय की मेरिट सूची में प्रथम स्थान प्राप्त किया है। इन मेधावी छात्र-छात्राओं के मनोबल को बढ़ाने तथा प्रोत्साहित करने के लिए प्रदान किये जाने वाले स्वर्णपदक निर्माण हेतु जिन सम्माननीय दानदाताओं ने राशि प्रदान कर सहयोग किया है, वे सभी साधुवाद के पात्र है। मेरी बहुत इच्छा थी कि मैं इन सभी मेधावी छात्र-छात्राओं, उनके पालकों तथा दानदाताओं से प्रत्यक्ष रूप से मुलाकात कर सकूं परन्तु कोविड-19 प्रोटोकॉल के पालन के कारण वर्तमान में यह संभव नही हो पाया। मेरी शुभकामनाएं एवं आशीर्वाद आप सभी के साथ है।

राज्यपाल ने कहा कि आज सम्मानित होने वाले सभी मेधावी छात्र-छात्राओं को मैं यह बताना चाहती हूॅ कि स्वर्णपदक प्राप्त करना अपने आप में सम्पूर्ण जीवनकाल की सबसे महत्वपूर्ण उपलब्धि रहती है। यह स्वर्णपदक आपकी कड़ी मेहनत तथा लगन का परिणाम है। इस उपलब्धि के बाद आपकी जिम्मेदारी और भी बढ़ जाती है क्योंकि हमारा समाज आपसे आशा भरी नजरों से अनेक उपलब्धियों की आशा करता है। आपका यह दायित्व है कि आप समाज की इस कसौटी पर खरे उतरें। उन्होंने कहा कि खुशी की बात है कि लगभग 85 प्रतिशत से ज्यादा छात्राओं ने मेरिट सूची में सर्वप्रथम स्थान प्राप्त किया है। मैं आप सभी को शुभकामनाएं देती हूं और उज्ज्वल भविष्य की कामना करती हूं।
 
छत्तीसगढ़ कोरोना विस्फोट के मुहाने पर, तब मुख्यमंत्री बघेल को असम में नाचते-गाते क्या ज़रा भी शर्म महसूस नहीं हुई : भाजपा

छत्तीसगढ़ कोरोना विस्फोट के मुहाने पर, तब मुख्यमंत्री बघेल को असम में नाचते-गाते क्या ज़रा भी शर्म महसूस नहीं हुई : भाजपा

रायपुर । भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष ने प्रदेश में तेज़ी से हो रहे कोरोना संक्रमण के फैलाव को लेकर प्रदेश सरकार की घोर उदासीनता पर प्रदेशवासियों की चिंता करने पर भाजपा के ख़िलाफ़ अनर्गल प्रलाप करने वाले कांग्रेस नेताओं और प्रदेश सरकार के मंत्रियों को आड़े हाथों लिया है। विष्णुदेव साय ने कहा कि अपने सत्तावादी अहंकार में चूर कांग्रेस और प्रदेश सरकार को कोरोना संक्रमण के मद्देनज़र जनस्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ करने का अक्षम्य अपराध क़तई नहीं करने दिया जाएगा और भाजपा इस मसले पर प्रदेश सरकार को उसकी लापरवाही और ग़ल्तियों के लिए आगाह करती रहेगी। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री साय ने कहा कि यह बेहद शर्मनाक स्थिति है कि एक तरफ़ प्रदेश कोरोना संक्रमण की दूसरी घातक लहर से जूझ रहा है, संक्रमण के लिहाज से छत्तीसगढ़ देश में दूसरे और कोरोना से मौतों के मामले में देश में तीसरे स्थान पर है और प्रदेश के मुख्यमंत्री बघेल प्रदेशवासियों की फ़िक्र करने के बजाय असम के चुनाव के बहाने ‘परिवार-वंदना’ कर अपना नंबर बढ़ाने में मशगूल हैं। मुख्यमंत्री बघेल के असम में एक कार्यक्रम में नाचते हुए वायरल वीडियो का ज़िक्र करते हुए श्री साय ने सवाल किया कि जो प्रदेश कोरोना विस्फोट के मुहाने पर खड़ा है, उस छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री को असम में नाचते-गाते क्या ज़रा भी शर्म महसूस नहीं हुई? श्री साय ने कहा कि ज़िंदग़ी और मौत के बीच प्रदेशवासियों को भगवान भरोसे छोड़कर संवेदनहीनता की पराकाष्ठा कर रहे मुख्यमंत्री बघेल अपनी ज़िम्मेदारी से मुँह चुरा रहे हैं और कांग्रेस के लोग इस पर संज़ीदा होने के बजाय मुख्यमंत्री के कृत्यों पर पर्दा डाल रहे हैं। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री साय ने कहा कि कोरोना संक्रमण से राज्य को बचाने के लिए प्रदेश सरकार ने पिछले सालभर में बजाय पुख़्ता इंतज़ाम करने, स्वास्थ्य सुविधाओं को और बेहतर करने के अपना पूरा वक़्त सियासी नौटंकियों और केंद्र सरकार पर अपनी विफलताओं को ठीकरा फोड़ने तथा मिथ्या प्रलाप करने में जाया किया। कोरोना गाइडलाइन की धज्जियां उड़ाते प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से लेकर कांग्रेस जनप्रतिनिधि कोरोना के ख़िलाफ़ ज़ंग की रणनीतिक तैयारियों पर ध्यान देने के बजाय अब भी भाजपा को कोसने में लगे हैं। श्री साय ने कहा कि अपने इसी राजनीतिक अहंकार के चलते कांग्रेस और उसकी प्रदेश सरकार ने छत्तीसगढ़ को कोरोना महामारी के गर्त में धकेला है। कांग्रेस के नेता पहले आत्म-परीक्षण करें और अपनी सरकार की लचर कार्यप्रणाली पर पर्दा डालने के बजाय उसे कोरोना के मुक़ाबले के लिए दुरुस्त इंतज़ामात की नसीहतें दें।
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री साय ने कहा कि केवल राजनीतिक विरोध की पट्टी बांधे कांग्रेस नेता अपनी ज़िम्मेदारी का अहसास करते हुए प्रदेश सरकार को उसकी लापरवाहियों पर सचेत करें, केवल झूठी वाहवाही लूटने के लिए सत्य और तथ्य को अनदेखा करने से बाज आएँ। श्री साय ने कहा कि मुख्यमंत्री बघेल के अपने गृह ज़िले दुर्ग में कोरोना संक्रमण और उससे हो रही मौतें आशंकाओं की भयावहता को रेखांकित कर रही हैं और साथ ही प्रदेश सरकार की रीति-नीति पर सवाल खड़ा कर रही है। श्री साय ने कहा कि दुर्ग ज़िले में कोविड-19 की वज़ह से हालात बेक़ाबू हो गए हैं और लगातार हो रही मौतों के चलते अब तो कोरोना-मृतकों के शवों के दाह संस्कार के लिए ज़गह तक नहीं मिल रही है और मुख्यमंत्री बघेल नौकरशाहों के ज़िम्मे प्रदेश को सौंपकर दीग़र प्रदेश में जाकर सियासी नौटंकियाँ रचने और नाचने-गाने में मशगूल हैं, प्रदेश के लिए यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति है।
 

प्रदेश की जनता को आपदा में छोड़ भूपेश असम में मस्त : डॉ. रमन सिंह

प्रदेश की जनता को आपदा में छोड़ भूपेश असम में मस्त : डॉ. रमन सिंह

रायपुर । छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण के बढ़ते आंकड़े और लगातार मौत के हृदयविदारक आंकड़ों पर चिंता व्यक्त करते हुए प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने प्रदेश सरकार की गंभीरता और कार्यप्रणाली पर सवाल उठाया हैं। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ सब याद रखेगा देश जब कोरोना से लड़ने तैयारी कर रहा था भूपेश जी रोड सेफ्टी क्रिकेट मैच कराकर लोगों की जान से खिलवाड़ कर रहे थे। पूरे देश में वैक्सीनेशन हो रहा था भूपेश बघेल और उनका मंत्री मंडल राजनीति कर रहे थे। लोग अस्पतालों में बेड और दवाई के लिए रो रहे हैं, प्रदेश में लगातार कोरोना बेकाबू हो रहा हैं, मौत के आंकडों से प्रदेश की जनता भयभीत हैं और मुख्यमंत्री बघेल को असम चुनाव से फुरसत नहीं हैं। पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि प्रदेश में कोई सरकार हैं भी या नहीं क्योंकि कोरोना की विस्पोटक स्थिति के बावजूद भी प्रदेश सरकार हाथ पर हाथ धरे बैठी नज़र आ रहीं हैं। कांग्रेस के नेता या तो चुनाव प्रचार में व्यस्त हैं या फिर केंद्र सरकार पर मनगढंत झूठे आरोप मढ़ कर अपना पल्ला झाड़ने में लगे हैं। उन्होंने कहा प्रदेश सरकार को तत्काल ठोस निर्णय लेना चाहिए और कोरोना संक्रमण के विस्तार की रोकथाम के लिए ठोस कदम उठाने चाहिए। पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने प्रदेश सरकार पर लापरवाही व असंवेदनशील रवैय्या अख्तियार करने एवं प्रदेश की जनता को आपदा में छोड़ देने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि कोविड 19 को लेकर लगातार राजनीति करने वाले कांग्रेस के नेताओं ने कभी भी छत्तीसगढ़ की जनता की चिंता नहीं की। यदि प्रदेश सरकार और प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को छत्तीसगढ़ की जनता की चिंता होती तो वे असम की राजनीति और चुनाव में व्यस्त और मस्त नहीं होते। भूपेश यदि कोरोना की रोकथाम को लेकर चिंतित होते छत्तीसगढ़ की जनता के प्रति अपनी जिम्मेदारी समझते तो बीते एक वर्ष के कोरोना काल में स्वास्थ्य सुविधओं को कोविड 19 की दृष्टि से बेहतर करने का काम करते, छत्तीसगढ़ में टीकाकरण की गती बढ़ाने व केंद्र सरकार के दिशा निर्देशों का पालन करते ना कि वैक्सिनेशन और देश के वैज्ञानिकों पर सवाल उठाने का काम करते। पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से सवाल करते हुए कहा कि बघेल क्या इसी दिन के लिए जनता ने आपको चुना था कि आप उन्हें भगवान भरोसे छोड़ कर अपने आलाकमान को खुश करने में लगे रहें?
छत्तीसगढ़ प्रदेश में लगातार सामने आते मौत के आंकड़ों और दुर्ग जिले में कोरोना विस्पोट व बढ़ते मौत के मामलो पर पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि बढ़ते संक्रमण और मौत के आंकड़े हृदय विदारक हैं परंतु प्रदेश सरकार इसे भी छुपाने में लगी हैं। प्रदेश में मौत के आंकड़ों को प्रारम्भ से ही ऑडिट के नाम पर छुपाने वाली प्रदेश सरकार आखिर ऐसा कर स्वयं के आंखों में धूल झोंकना चाहती हैं। उन्होंने कहा कि सरकारी रिकॉर्ड में मौत के आंकड़े कम हैं और धरातल पर श्मशान के आंकड़े प्रशासन के आंकड़ों की पोल खोल रहे हैं। पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने प्रदेश सरकार पर जानबूझ कर मौत के आंकड़ों को कम बता कर अपनी नाकामी छुपाने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि कहीं सरकार के मुख्या के गृह जिलों में और प्रदेशभर में मौत का आंकड़ा इस लिए तो नहीं छुपाया जा रहा हैं कि मुख्यमंत्री बघेल चुनाव में व्यस्त हैं और छत्तीसगढ़ कोरोना विस्पोट से श्मशान बनता जा रहा हैं।
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से सवाल करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि कोरोना की विस्पोटक स्थिति से निपटने प्रदेश सरकार क्या कदम उठा रही हैं बघेल स्पष्ठ करें। राजधानी रायपुर, मुख्यमंत्री के गृह जिले सहित प्रदेशभर में हो रहीं मौत और बढ़ते मामलों को लेकर प्रदेश सरकार कितनी गंभीर हैं और अब तक कोई ठोस कदम क्यों नजर नहीं आ रहे हैं। डॉ. रमन सिंह ने भूपेश बघेल से पूछा हैं कि कोविड सेंटर्स की क्या स्थिति हैं? ऑक्सीजन वार्ड, आइसोलेशन सेंटर, और पर्याप्त बिस्तरों एवं बेहतर स्वास्थ्य सेवा को लेकर सरकार ने क्या कदम उठाए हैं और सरकार की क्या तैयारी हैं जबकि प्रदेशभर से स्वस्थ्य सुविधाओं को लेकर अव्यवस्था और बिस्तरों के आभाव की खबरें मिल रही हैं। उन्होंने टीकाकरण की गती तेज करने एवं युद्ध स्तर पर टीकाकरण के साथ साथ स्वस्थ्य सुविधाओं की उपलब्धता बढ़ाने की सलाह बघेल को देते हुए असम की नहीं छत्तीसगढ़ की जनता की सुध लेने कहा है।
 

पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के ट्वीट पर कांग्रेस हुई हमलावर, पढ़ें पूरी खबर

पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के ट्वीट पर कांग्रेस हुई हमलावर, पढ़ें पूरी खबर

रायपुर | पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह के ट्वीट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि कांग्रेस पर वादा खिलाफी का आरोप झूठ और गलत है। वादाखिलाफी तो भाजपा ने लगातार छत्तीसगढ़ और देश में मतदाताओं के साथ की है। रमन के ट्वीट पर कांग्रेस की प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये पीसीसी संचार प्रमुख शैलेष नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह के आरोप गलत झूठे और निराधार हैं। वादाखिलाफ़ी तो बीजेपी सरकार की फ़ितरत है ।

पढ़ें : बड़ी खबर: छत्तीसगढ़ में मिला कोरोना वायरस का नया वैरिएंट “N-440”

बीजेपी की वादाखिलाफ़ी ने ही उन्हें छत्तीसगढ़ में 15 सीटों तक पहुँचाया। रमन सरकार ने अपने वादे नहीं निभाये और कांग्रेस सरकार काम कर रही है तो पीड़ा हो रही है। 2003, 2008 और 2013 के चुनाव में भाजपा ने संकल्प पत्र और घोषणा पत्र के द्वारा छत्तीसगढ़ प्रदेश की जनता के साथ धोखाधड़ी ही तो की थी। छत्तीसगढ़ के किसानों को रमन सिंह बताये कि 2100 रू समर्थन मूल्य, 5 साल तक 300 रू बोनस, एक-एक दाना धान की खरीद का क्या हुआ था? भाजपा से 5 हॉर्स पावर पंप के मुफ्त बिजली कनेक्शन का हिसाब किसानों को भाजपा को देना चाहिये था।

पढ़ें :  राजधानी रायपुर का अब ये पूरा क्षेत्र हुआ कन्टेनमेंट जोन घोषित, जाने कहीं आपका इलाका तो नहीं 

हर आदिवासी परिवार को 10 लीटर दूध देने वाली जर्सी गाय और हर आदिवासी परिवार से एक-एक सदस्य को सरकारी नौकरी क्या रमन सिंह जी ने दी। रमन सिंह जी की वादाखिलाफी को बताते हुए भाजपा की केंद्र सरकार की वादाखिलाफी याद दिलाना चाहेंगे क्या हुआ हर साल 2 करोड़ रोजगार के अवसरों का? 15 लाख हर व्यक्ति के खाते में आने वाले थे क्या हुआ? किसानों की आय 2022 तक दुगनी करने के झूठे खोखले वादों का झूठ बोलने वाले धोखा देने वाले, मतदाताओं से छल करने वाली भाजपा कांग्रेस पर कोई आरोप लगाने का नैतिक अधिकार नहीं रखती है। भूपेश बघेल जी की सरकार बहुत अच्छा काम कर रही है।

पढ़ें : कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए मुख्य सचिव ले रहे सभी कलेक्टर-एसपी की बैठक, हो सकता है नया गाइडलाइन जारी 

प्रदेश कांग्रेस कमेटी संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि रमन सिंह काम करने वाली कांग्रेस सरकार पर मिथ्या आरोप लगाते हुये बड़ी-बड़ी बात न करें। वादाखिलाफी तो भाजपा की सरकारों की फितरत है। भाजपा केंद्र सरकार ने भी तो अच्छे दिन आयेंगे का वादा किया था लेकिन दिन नहीं आयें, विदेशों से कालाधान नही आया-एक पैसा नहीं आया। हर व्यक्ति के खाते में 15 लाख नहीं आये। जीरो टालरेंस अगेन्स्ट करप्शन भी झूठा वादा साबित हुआ। मजबूत लोकपाल भी नहीं आया। हर साल दो करोड़ युवाओं का रोजगार नहीं मिला लेकिन जीएसटी नोटबंदी से करोड़ो का रोजगार छिन गया। 5 वर्षो में 10 करोड़ लागो को रोजगार नहीं मिला।
 
 
महिला आरक्षण बिल भी पारित नहीं कराया जा सका। वन रैंक वन पेंशन भी झूठा वादा निकला। महंगाई पर लगाम लगाने में मोदी सरकार विफल रही। स्वामीनाथन कमीशन की रिपोर्ट लागू का फसल की लागत पर 50 प्रतिशत दे पाने में मोदी सरकार विफल रही। केंद्र सरकार के कृषि एवं लागत मूल्य आयोग की रिपोर्ट में धान की लागत 1484 रूपये प्रति क्विंटल दर्शाया गया उसके बाद डीजल के दाम 14-15 रूपयों की एवं खाद की कीमतें 24 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।
 
 
इन सबको देखते हुये किये गये वादों अनुरूप मोदी जी को 2500 रूपये एमएसपी की घोषणा करनी थी जो नहीं की गयी। मात्र 1750 रूपये की गयी। कांग्रेस शासित छत्तीसगढ़ राज्य 2500 रूपये में किसानों द्वारा उत्पादित धान की खरीदी की गई है। 
प्रदेश कांग्रेस कमेटी संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी नेछत्तीसगढ़ की भाजपा सरकारों की वादाखिलाफी पर कहा है कि रमन सिंह पहले इसे देख लें और उसके बाद कांग्रेस की सरकार पर वादाखिलाफी के झूठे आरोप लगाये।

 

बृजमोहन अग्रवाल ने लगाया आरोप, कोरोना के भयावह हालत के लिए राज्य सरकार का नाकारात्मक रवैय्या दोषी

बृजमोहन अग्रवाल ने लगाया आरोप, कोरोना के भयावह हालत के लिए राज्य सरकार का नाकारात्मक रवैय्या दोषी

रायपुर । भाजपा विधायक एवं पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने राजधानी रायपुर में कोरोना के भयावह हालत के लिए प्रदेश सरकार को पूर्णतः दोषी बताते हुए कहा कि प्रदेश की जनता कोरोना से त्रस्त है मुख्यमंत्री व मंत्रीगण छत्तीसगढ़ की जनता को राहत पहुंचाने के बजाय असम में व्यस्त है।
श्री अग्रवाल ने कहा कि शहर में कोरोना मरीज के लिए शासकीय व नीजि अस्पतालों में बेड नहीं मिल पा रहा है, लोग ईलाज के लिए दर दर भटक रहे हैं। उन्होंने आज कलेक्टर रायपुर से चर्चा कर कहा कि गरीब व बस्तियों में रहने वाले लोगों के लिए शहर के सभी धर्मशालाओं, विवाह घरों, छात्रावासों व सामुदायिक भवनों को तत्काल अधिग्रहित कर आईसोलेशन सेंटर प्रारंभ करे। गरीब लोगों को जिनके घरों में होम आईसोलेशन की पर्याप्त व्यवस्था नहीं है। ऐसे सभी लोगों को इन सेंटर में रखकर ईलाज उपलब्ध कराया जावे ताकि बस्तियों में विस्फोटक स्थिति से बचा जा सके। उन्होंने कलेक्टर से चर्चा कर इन सेंटरों में भोजन व अन्य व्यवस्थाओं के लिए अपने विधायक निधि से 10 लाख रूपये देने की भी सहमति दी।
श्री अग्रवाल ने राजधानी रायपुर सहित पूरे प्रदेश में कोरोना के भयावह स्थिति पर चिंता व्यक्त करते हुए शासन एवं प्रशासन को पूरी तरह फेल बताया है। पहले चरण में जहां छत्तीसगढ़ कोरोना के समाप्ति की ओर जा रहा था। एकाएक शासन एवं प्रशासन की लापरवाही व आयोजनों के चलते पूरा प्रदेश कोरोना विस्फोटक स्थिति में पहुंच गया है।
श्री अग्रवाल ने सरकार से मांग की है कि शहर के बड़े धर्मशालाओं, विवाह घर, छात्रावासों व सामुदायिक भवनों को तत्काल आईसोलेशन सेंटर के रूप में तब्दील किया जाना चाहिए जिससे बस्ती में रह रहे गरीबों को जिसके घरों में पर्याप्त कमरे नहीं है वे सब मरीज इन सेंटरों में रह सके व ईलाज करवा सके। जिससे संक्रमण को फैलने से रोका जा सकता है।
श्री अग्रवाल ने कहा कि प्रदेश में लाखों की संख्या में वैक्सीन आकर महीनों पड़ा रहा। प्रदेश के वैज्ञानिक स्वास्थ्य मंत्री के लापरवाहीपूर्ण बयानों व जनता को टीका न लगवाने की जिद के कारण यहां पर्याप्त संख्या में वैक्सीनेशन नहीं हो पाया और आज उसी का परिणाम है कि कोरोना का संक्रमण तेजी से बढ़ा है।
श्री अग्रवाल ने कहा है कि जनता कोरोना पीड़ित होकर ईलाज के लिए भटक रही है। अस्पतालों में जगह नहीं है। सरकार साल भर में एक भी अतिरिक्त बेड व एक भी नया अस्पताल की व्यवस्था नहीं कर पाई। मेकाहारा का वेंटिलेटर सेंटर भी एक साल में बन नहीं पाया, कांग्रेस सरकार ने जनता को उनके हालत पर छोड़ दिया है। पूरी सरकार असम में मस्त है।
 

केंद्र सरकार की योजनाओं पर पानी फेरने को आमादा निगम सरकार - श्रीचंद सुंदरानी

केंद्र सरकार की योजनाओं पर पानी फेरने को आमादा निगम सरकार - श्रीचंद सुंदरानी

रायपुर। केंद्र सरकार, राज्यों के शहरों को संवारने के लिए स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत करोड़ो रुपए दे रही है। जिससे शहर के सौंदर्यीकरण एवं स्वच्छता के कार्य होने हैं परंतु स्थानीय प्रशासन के लचर रवैया के कारण केंद्र सरकार की सारी योजनाएं गर्त में जाती दिख रही है। अभी कल ही विश्व के सातवें सबसे प्रदूषित शहर रायपुर को संवारने के लिए व हवा से धूल कण हटा के प्रदूषण कम करने के लिए केंद्र सरकार ने चैराहों पर स्मॉग टाॅवर और एयर प्यूरीफायर के लिए 100 करोड़ रुपए की योजना की पहली किस्त के तौर पर 50 करोड रुपए जारी कर दिए। इस पैसे से रायपुर शहर में स्मार्ट टाॅवर के साथ-साथ चैराहे पर एयर प्यूरीफायर और फौवहारा लगने हैं, परंतु स्थानीय प्रशासन इस मामले में पूर्णता विफल साबित हो रही है। भाजपा रायपुर शहर जिला अध्यक्ष श्रीचंद सुंदरानी ने आरोप लगाया है कि होली के मद्देनजर सड़कों को बचाने के लिए शहर में डेढ़ सौ से भी अधिक स्थानों पर मुरम बिछाया गया था लेकिन आज होली को बीते 4 दिन हो गया परंतु सड़कों से आज तक ना तो उस मुरम को उठाया गया है ना ही होलिका दहन के राख को ।
विगत 4 दिनों से इन स्थानों में गाड़ियों से व हवा से धूल और राख के कण फैल कर पूरे शहर को प्रदूषित कर रहा है और नगरी प्रशासन कुंभकरण की नींद में सोया हुआ है।
भाजपा जिलाध्यक्ष सुन्दरानी ने कहा कि पूर्व में भी केंद्र सरकार के स्मार्ट सिटी के पैसे से सायकल ट्रेक व चैराहों के सौन्दर्यीकरण आदि कार्यो पर फिजूलखर्ची की जा चुकी है। उन्होंने केंद्र सरकार की योजनाओं को धरातल पर क्रियान्वयन के लिए स्थानीय नगरी प्रशासन को पूर्णता विफल बताया है।
 

3 साल की बच्ची से दुष्कर्म के मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी में पुलिस की विफलता पर भाजपा प्रवक्ता सिंहदेव ने उठाया सवाल

3 साल की बच्ची से दुष्कर्म के मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी में पुलिस की विफलता पर भाजपा प्रवक्ता सिंहदेव ने उठाया सवाल

रायपुर । भाजपा प्रदेश प्रवक्ता अनुराग सिंहदेव ने रायपुर के खमतराई में इलाके में बलवा व हत्या के प्रयास की वारदात और सांकरा क्षेत्र में तीन साल की बच्ची के साथ दुष्कर्म के मुख्य आरोपी आकाश की गिरफ्तारी में पुलिस की विफलता को लेकर प्रदेश सरकार और पुलिस प्रशासन की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाया। साथ ही उन्होंने बच्ची की उपचार के लिए अच्छे अस्पताल में समुचित व्यवस्था करने के लिए प्रदेश सरकार से मांग की है। श्री सिंहदेव ने कहा कि एक तरफ हथियार लहराकर खून बहाकर दहशतगर्दी का माहौल कायम किया जा रहा है, वहीं दूसरी ओर मासूम बच्चियों के साथ दरिंदगी की वहशियाना हरकतों पर सरकार काबू नहीं पा रही है। श्री सिंहदेव ने प्रदेश, विशेषकर राजधानी रायपुर में सरकार की नाक के नीचे दम तोड़ती कानून-व्यवस्था को लेकर जमकर निशाना साधा है।
श्री सिंहदेव ने कहा कि प्रदेश में कांग्रेस के अब तक के शासनकाल में अपराधियों के बढ़ते दुस्साहस ने आम नागरिकों की सुरक्षित और शांतिपूर्ण जिंदगी को हर कदम पर खतरों से भर दिया है। कानून के राज का खौफ तो कायम कर पाने में यह सरकार पूरी तरह नाकाम साबित हुई है। स्मार्ट पुलिसिंग के जुमलों में मशगूल प्रदेश सरकार सत्तारूढ़ दल के अपराधियों को राजनीतिक संरक्षण ने छत्तीसगढ़ को अपराधगढ़ बना दिया है। मारपीट, अपहरण, दुष्कर्म, लूट, हत्या, डकैती, रंगदारी जैसे अपराधों पर अंकुश लगाने की जिम्मेदारी से दूर भागती प्रदेश सरकार सिर्फ सियासी नौटंकियाँ रच रही है और लगातार झूठे दावे करके अपनी वाहवाही करा रही है। श्री सिंहदेव ने कहा कि प्रदेश में लगातार दुष्कर्म की वारदातों का बढ़ता ग्राफ प्रदेश सरकार के नाकारापन को साबित करने के लिए पर्याप्त है, जिसके चलते मासूम बच्चियों से लेकर हर आयु वर्ग की महिलाओं की अस्मत और जान के लाले पड़े हुए हैं। राजधानी रायपुर के साँकरा क्षेत्र में तीन साल की बच्ची के साथ हुए दुष्कर्म के मुख्य आरोपी की अब तक गिरफ्तारी नहीं होना भी सरकार की कार्यप्रणाली और नीयत पर सवाल खड़ा करने के लिए काफी है। दुष्कर्म पीड़िता बच्ची से मिलने अब तक किसी भी प्रशासनिक अधिकारी के नहीं पहुँचने को शासन-प्रशासन की संवेदनहीनता की पराकाष्ठा बताते हुए श्री सिंहदेव ने कहा कि पीड़ित बच्ची के परिवार को अब तक सरकार की तरफ से कोई आर्थिक मदद नहीं मिलना प्रदेश सरकार के गैर-जिम्मेदाराना रवैए की तस्दीक करता है। श्री सिंहदेव ने खमतराई इलाके में हथियार लहराकर खून की होली खेलते अपराधियों और साँकरा दुष्कर्म मामले के मुख्य आरोपी के खिलाफ तत्काल कठोर कानूनी कार्रवाई करने की मांग की है।
 

छत्तीसगढ़ में लॉक डाउन को लेकर संसदीय सचिव विकास उपाध्याय ने सीएम बघेल से किया आग्रह, पढ़ें पूरी खबर

छत्तीसगढ़ में लॉक डाउन को लेकर संसदीय सचिव विकास उपाध्याय ने सीएम बघेल से किया आग्रह, पढ़ें पूरी खबर

रायपुर संसदीय सचिव ने कोरोना महामारी की दूसरी लहर और कोविड-19 के नए वैरिएंट्स को देखते हुए आज होने वाले मंत्रिमंडलीय बैठक से पहले मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से आग्रह किया ।

पढ़ें : लॉकडाउन : राजधानी में सोमवार के इतने बजे तक लॉक डाउन, सड़कों पर रहेगा सन्नाटा


छत्तीसगढ़ में बहुत जल्द लॉकडाउन लगाने जैसे कठोर निर्णय पर विचार किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा,होली के दौरान बरती गईं। असावधानियां कोरोना से निपटने में चुनौती बन सकती हैं। संसदीय सचिव विकास उपाध्याय ने लोगों से अपील की है कि वे अपने घरों में ही रहें और शांति से होली मनाएं।

पढ़ें : बड़ी खबर : छत्तीसगढ़ में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए सीएम बघेल ने बुलाई आपात बैठक, लॉकडाउन को ले कर आ सकती है बड़ी खबर


संसदीय सचिव विकास उपाध्याय ने छत्तीसगढ़ में बढ़ते कोरोना के मामलों को रोकने जल्द से जल्द लॉकडाउन लगाए जाने की वकालत की है। उन्होंने आज शाम आहूत मंत्रि मंडलीय बैठक से पहले मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से आग्रह किया है। छत्तीसगढ़ में लॉकडाउन लगाए जाने जैसे कठोर निर्णय पर प्रमुखता से विचार करने की जरूरत है।

पढ़ें : प्रतिबंधात्मक आदेशों का उल्लंघन किया तो दर्ज करें एफआईआर: कलेक्टर 

विकास ने कहा, बगैर लॉकडाउन के लोगों को रोका नहीं जा सकता। कितना भी कड़ाई से नियमों को पालन करने और सावधानी बरतने की अपील करें व्यवहारिक जीवन में ये नहीं हो सकता। हमें पुराने अनुभवों से सीखना चाहिए और समारोहों में जाकर सुपरस्प्रेडर बनने से बचना चाहिए पर ये सब हो नहीं रहा है।

पढ़ें : 29 किलोमीटर लंबे एक्सप्रेसवे फ्लाईओवर के दो स्लैब ढहा, जाने कहा


विकास उपाध्याय ने कहा,अक्सर देखा यह गया है कि जितने भी बड़े समारोह, त्योहार या सभाएं होती हैं उसके बाद कोविड के मामलों में बढ़ोतरी देखने को मिलती है, वहीं कोरोना वायरस के नए वैरिएंट्स भी सामने आ रहे हैं। हाल ही में डबल म्यूटेट वायरस भी मिला है। ये नए वैरिएंट्स ज्यादा संक्रामक हैं। होली में लोग मिलते-जुलते हैं, इकठ्ठा होते हैं और खाना-पीना होता है। ऐसे में सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क लगाने जैसे नियमों का पालन नहीं हो पाता और यही वजहें हैं जो कोरोना वायरस की रफ्घ्तार को तेज कर देंगे।विकास ने कहा,कोरोना वायरस की पहली लहर में 50 हजार के आंकड़े छूते-छूते चार से पांच महीने लग गए लेकिन दूसरी लहर में एक महीने के अंदर भारत में मामले नौ हजार से 50 हजार पर पहुंच गए हैं।
विकास ने कहा,छत्तीसगढ़ में लॉकडाउन लगा कर टीकाकरण अभियान को तेज किया जाना चाहिए।साथ ही मास्क व सोशल डिस्टेंसिंग जैसे नियमों के पालन के लिए भी जोर दिया जाना चाहिए।

कांग्रेस ने अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया, कौन सी बातें हैं वादों में शामिल

कांग्रेस ने अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया, कौन सी बातें हैं वादों में शामिल

पुडुचेरी की कुल 30 विधानसभा सीटों पर 6 अप्रैल को चुनाव होना है. इससे पहले कांग्रेस ने अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया है. इससे पहले शनिवार को बीजेपी ने पुडुचेरी में आगामी विधानसभा चुनाव के लिए घोषणा पत्र जारी किया था. पुडुचेरी एक केंद्र शासित प्रदेश है. पुडुचेरी में विधानसभा की कुल 30 सीटें हैं. इसी साल यहां कांग्रेस-डीएमके गठबंधन की सरकार गिर गई थी. पिछले चुनाव में कांग्रेस ने 21 सीटों पर चुनाव लड़ा था और 15 सीटें जीती थीं. ऑल इंडिया एन आर कांग्रेस ने 30 सीटों पर चुनाव लड़कर सिर्फ आठ सीटें जीती थीं. अन्य के खातों में सात सीटें गई. यहां बहुमत के लिए 16 सीटें चाहिए.


बीजेपी के घोषणा पत्र में महिलाओं को 50 फीसदी आरक्षण देने का वादा
बीजेपी ने अपने घोषणा पत्र में केजी से लेकर उच्च शिक्षा तक निशुल्क पढ़ाई, स्थानीय निकाय चुनाव में महिलाओं को 50 प्रतिशत आरक्षण, वस्त्र मीलों को दोबारा खोलने समेत विभिन्न वादे किए हैं. घोषणा पत्र में इसके अलावा तमिल कवि सुब्रह्मण्यम भारती की 150 फुट ऊंची प्रतिमा की स्थापना और औद्योगिक विकास के वास्ते निवेश आकर्षित करने के लिए वैश्विक निवेशकों का सम्मेलन आयोजित करने का वादा किया है. 

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के पहले चरण में कांग्रेस का कोई भी हाई-प्रोफाइल नेता प्रचार मे शामिल नहीं

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के पहले चरण में कांग्रेस का कोई भी हाई-प्रोफाइल नेता प्रचार मे शामिल नहीं

कोलकाता । पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के पहले चरण में कांग्रेस का कोई भी हाई-प्रोफाइल नेता प्रचार के लिए नहीं गया। पार्टी राज्य में वाम दलों के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ रही है। सूत्रों का कहना है कि राज्य की कांग्रेस इकाई के अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी और राज्य प्रभारी जितिन प्रसाद के बीच तालमेल की कमी है।चौधरी चुनावों को लेकर फैसले ले रहे हैं। दिल्ली से प्रचार के लिए बंगाल जाने वाले नेताओं को पूरी जानकारी नहीं दी जा रही है। इसलिए जितिन प्रसाद बंगाल से लौट आए हैं और करीबी सहयोगी कहते हैं कि चौधरी जिस तरह से चुनाव से जुड़े मामलों का प्रबंधन कर रहे हैं, उससे वह नाखुश हैं।
उल्लेखनीय है कि कांग्रेस राज्य में 92 सीटों पर चुनाव लड़ रही है। जितिन प्रसाद और अधीर रंजन चौधरी राज्य में प्रचार अभियान की अगुवाई करने वाले थे। जब राहुल गांधी और उनकी बहन प्रियंका गांधी वाड्रा सहित पार्टी के शीर्ष नेताओं के अभियान कार्यक्रम के बारे में जितिन प्रसाद से पूछा गया, तो उन्होंने कहा, `कार्यक्रम को अंतिम रूप देने के बाद, हम मीडिया को सूचित करेंगे`। जबकि अन्य नेताओं ने कहा, `अधीर से पूछिए`। सूत्रों के अनुसार, स्टार प्रचारक सूची में शामिल नेता भी चुनाव प्रचार के लिए बंगाल जाने के लिए तैयार नहीं हैं क्योंकि वहां से कोई सकारात्मक रुझान या संकेत नहीं मिल रहा है।
राज्य में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस का भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से सीधा मुकाबला है, जबकि वाम दल अपने ग्रामीण इलाकों में फिर से अपना आधार मजबूत करने की कोशिश में है। कांग्रेस 2016 के चुनाव में 44 सीटों पर जीत को बरकरार रखने की पूरी कोशिश कर रही है। टिकट वितरण के समय से ही पार्टी में नाराजगी बढ़ने लगी थी। एक तो इसमें देरी हुई और जब इसे अंतिम रूप दिया गया तब पार्टी के अंदर मतभेद खुल कर सामने आ गए।
कांग्रेस के लिए एक और चिंता की बात यह है कि जब तक केरल में चुनाव खत्म नहीं हो जाते, तब तक वह पश्चिम बंगाल में पूरी तरह वाम दलों के खिलाफ नहीं जा सकती, क्योंकि पार्टी के लिए बंगाल में वामपंथियों की प्रशंसा करना और केरल में आलोचना करना मुश्किल है। केरल में पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी वामदलों पर हमला करते रहे हैं।
कांग्रेस ने अपने घोषणापत्र में `न्याय` को प्रमुखता से स्थान दिया है। इसके तहत आर्थिक रूप से पिछड़े परिवारों को 5,700 रुपए प्रति महीना समर्थन का आश्वासन दिया गया है। घोषणापत्र में प्रवासी श्रमिकों के परिवारों को रोजगार मिलने तक अंतरिम राहत के रूप में 5,000 रुपये प्रति माह देने का भी वादा किया गया है। 2019 के आम चुनावों में कांग्रेस का वोट प्रतिशत घटकर 4 प्रतिशत रह गया था, लेकिन यह अभी भी कई जिलों -- जैसे कि पुरालिया, मालदा और मुर्शीदाबाद में एक महत्वपूर्ण फैक्टर बना हुआ है।
पश्चिम बंगाल में मतदान 29 अप्रैल तक आठ चरणों में होगा और मतों की गिनती 2 मई को होगी।
 

कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा विष्णुदेव साय की नक्सल मामले में चिंता मात्र दिखावटी

कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा विष्णुदेव साय की नक्सल मामले में चिंता मात्र दिखावटी

रायपुर, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय के बयान पर कांग्रेस ने प्रतिक्रिया व्यक्त की। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय नक्सल मामले में दिखावटी चिंता कर रहे है। छत्तीसगढ़ में बढ़े नक्सलवाद के लिए के पूर्व की रमन भाजपा की सरकार जिम्मेदार है। नक्सलवाद समस्या को जड़ से खत्म करने को लेकर पूर्व की सरकार कभी गंभीर नहीं थी, इच्छाशक्ति की कमी थी। जिसका ही परिणाम है कि दक्षिण बस्तर के 4 विकासखंड तक सीमित नक्सलवाद 14 जिलों तक पहुंच गया। जिस नक्सलवाद को दक्षिण बस्तर के 4 विकासखण्ड के भीतर कुचला जा सकता था, खत्म किया जा सकता था, उस नक्सलवाद से मुख्यमंत्री रहते डॉ. रमन सिंह अपने गृह जिला को भी नहीं बचा पाये। नक्सलवाद को लेकर पूर्व की भाजपा सरकार गंभीर होती तो झीरम, पेद्दागेल्लूर, सारकेगुड़ा, चिंतागुफा, मदनवाड़ा, एर्राबोर, दरभा, भेज्जी और ताड़मेटला जैसी घटनायें नही हुई होती। नक्सलवाद की आड़ में भाजपा सिर्फ कमीशनखोरी और भ्रष्टाचार करते रही है। भाजपा के वरिष्ठ नेता नक्सल मामले में कई बार सार्वजनिक मंचों से नक्सलवाद के प्रति नरम रुख अख्तियार करते हुए बयानबाजी भी करते रहें है।भाजपा नेताओं ने नोटबन्दी से आतंकवाद नक्सलवाद की कमर टूटने के बड़े बड़े दावा किये थे जिसकी पोल खुल गई है। भाजपा से जुड़े लोगो की नक्सलियों को समान पहुँचाने वाले सहयोगी के बतौर गिरफ्तारी हुई है।
प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार नक्सलवाद खात्मे को लेकर कड़े कदम उठा रही है, मजबूती के साथ नक्सलवाद के खिलाफ गोली का जवाब गोली से दिया जा रहा है। नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में विकास पहुँचाये जा रहे हैं। नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में बन्द स्कूलों को बच्चों के पढ़ाई के लिए खोला गया है। शिक्षा, स्वास्थ्य, सुरक्षा, रोजगार के तमाम प्रबंध किए जा रहे हैं। जागरूकता के माध्यम से नक्सलवाद के खिलाफ बडी लड़ाई लड़ी जा रही है। बीते 2 साल के कार्यकाल में बहुत हद तक नक्सली मामलों में कमी आई है, जहाँ पूर्ववर्ती सरकार में नक्सली घटनाएं तेजी से बढ़ी थी, वहीं मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी के सरकार में नक्सली मामले में कमी आई है। जवानों की शहादत और आम जनता के हत्याओं के मामले कम हुए हैं। नामी-गिरामी नक्सली पकड़े जा रहे हैं, घर वापसी कार्यक्रम के तहत नक्सली आत्मसमर्पण कर रहे हैं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सरकार नक्सलवाद को खत्म करने के लिए कटिबद्ध है एक ही लक्ष्य है छत्तीसगढ़ को नक्सल मुक्त बनाना।
 

श्रीचंद सुंदरानी ने कांग्रेस सरकार पर बोला हमला कहा प्रदर्शनी लगाकर करोना बेच रही है भूपेश सरकार

श्रीचंद सुंदरानी ने कांग्रेस सरकार पर बोला हमला कहा प्रदर्शनी लगाकर करोना बेच रही है भूपेश सरकार

रायपुर, रायपुर में लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमितों की संख्या पर चिंता जाहिर करते हुए भाजपा अध्यक्ष श्रीचंद सुंदरानी ने कहा कि कोरोना संक्रमण को लेकर सरकार कहीं से गंभीर नहीं दिखाई पड़ रही है। इस सरकार ने धारा 144 लगाकर सिर्फ खानापूर्ति कर दी है और मास्क पर ₹500 जुर्माना लगाकर कोरोना को कमाई का जरिया बना लिया है। जबकि भूपेश बघेल सरकार शराब पर कोरोना सेस लगाकर जो 600 करोड़ कमाई की थी। उस पैसे से समय रहते कोरेन्टीन सेंटर, स्वास्थ सुविधाओं की बढ़ोतरी, जन जागरण अभियान चलाकर कोरोना के रोकथाम के उपाय कर अपनी गंभीरता प्रदर्शित कर सकती थी। उसके बजाय वह मैच कराकर एक-एक दिन मे 30 -35 हजार की भीड़ एकत्र कर कोरोना की प्रदर्शनी लगाकर उसे बढ़ाने का कार्य करती रही । उसकी परिणति है कि रायपुर में आज 500 से ऊपर लोग रोज कोरोना से संक्रमित हो रहे हैं व मृत्यु दर में छत्तीसगढ़ पूरे देश में तीसरे नंबर पर पहुंच गई है। आज छत्तीसगढ़ में सबसे ज्यादा भीड़ शराब दुकानों में है, उस पर तुर्रा यह कि होली त्यौहार के पहले शराब भंडारण की सीमा 2 लीटर से बढ़ाकर 5 लीटर कर वह शराब के साथ कोरोना मुफ्त में बेच रही है।
सरकार की कार्यप्रणाली बताती है कि उसे व्यक्तिगत स्वार्थ के अलावा जनता के स्वास्थ्य सुविधाओं से कोई मतलब नहीं है। उन्होंने भुपेश सरकार से बयान बाजी और लापरवाही छोड़कर कोरोनावायरस संक्रमण रोकने की दिशा में गंभीरता से कार्य करने की मांग की है।
 

कौशिक ने कोरोना के कहर के लिए इसे बताया जिम्मेदार

कौशिक ने कोरोना के कहर के लिए इसे बताया जिम्मेदार

रायपुर। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने प्रदेश में बढ़ते कोरोना के मामलों पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार की असंवेदनशीलता के चलते कोरोना का कहर एक बार फिर से पूरे प्रदेश में बढ़ रहा है। इसके लिए प्रदेश की कांग्रेस सरकार की गैरजिम्मेदाराना नीति जिम्मेदार है। कौशिक ने कहा कि इस समय पूरे देश में एक्टिव केस के मामले में छत्तीसगढ़ का चौथा स्थान है जो भयभीत करने वाला है। कोरोना के कारण एक वर्ष में जिस तरह की दिक्कतें आम लोगों को हुई है, उसे दूर करने में प्रदेश की कांग्रेस सरकार असफल रही है। प्रदेश की सरकार को चाहिए कि इस एक वर्ष में जो परिस्थितियां थीं उससे सबक लेकर मजबूत रणनीति के साथ कोरोना पर अंकुश लगाने के लिए उचित कदम उठाया जाना चाहिए था लेकिन ऐसा नहीं हुआ क्योंकि पूरे मामले को लेकर प्रदेश सरकार गंभीरता नहीं दिखा रही है और यही कारण है कि कोरोना का विस्तार लगातार प्रदेश में हो रहा है।
नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने कहा कि एक्टिव केस के मामले में हमारा क्रम अन्य राज्यों से आगे है और हमारी तैयारी भी अधूरी होने के कारण आम जनों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। लगातार कोरोना से बढ़ती मौतों के मामलों ने सबको चिंतित किया है। आखिरकार एहतियातन तौर पर कांग्रेस की सरकार जो तैयारी का कोरोना को लेकर करनी थी, वह अभी तक नहीं हुई है और बढ़ते मामलों के बाद भी सरकार की प्राथमिकता में कोरोना से कहीं ज्यादा अधिक असम का चुनाव है जहां पूरी सरकार छत्तीसगढ़ को भगवान भरोसे छोड़कर व्यस्त है। उन्होंने कहा कि पूरे प्रदेश के सभी जिलों में कोरोना एक साथ फैल रहा है और सीमावर्ती राज्यों से आने-जाने वालों पर निगरानी के नाम पर कुछ भी नहीं किया जा रहा है। इसके कारण उन राज्यों से आने वालों लोगों की भी कोरोना जांच होनी चाहिए। कई सामाजिक संस्थाएं व धार्मिक संस्थाएं प्रदेश सरकार को मदद करना चाहती है लेकिन अब तक प्रदेश सरकार के तरफ से इन संस्थाओं की सेवाओं को लेकर कोई पहल नहीं की गई है वहीं लगातार निजी अस्पतालों में उपचार के नाम पर अधिक पैसे लेने की शिकायत मिल रही है। इस पर भी प्रदेश सरकार को कार्रवाई करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कुल केस 3,34,478 है वहीं 24 घंटे में 2,665 नए मरीजों की पुष्टि हुई है, सक्रिय केस 15,307 है। प्रदेश में अब तक कोरोना से 4,048 लोगों की मौत कोरोना से हो चुकी है। पिछले 24 घंटे में 22 लोगों की मौत कोरोना से हुई है वहीं दुर्ग व धरसींवा में एक ही परिवार के 4-4 लोगों की मौत की घटना ने सबको विचलित कर दिया है वहीं प्रदेश सरकार अपनी नाकामी छिपाने के लिए कोरोना पाॅजिटिव लोगों की वास्तविक संख्या व मृतकों की संख्या छिपा रही है। नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने कहा कि प्रदेश में क्वारेंटाइन सेंटर्स पूरी तरह से बंद कर दिए गए थे और जांच के नाम पर भी केवल औपचारिकता ही हो रही है। प्रदेश सरकार को हालात की समीक्षा करते हुए जल्द ही कोरोना के खिलाफ कारगर लड़ाई के लिए कार्य करना चाहिए।
 

पश्चिम बंगाल में पहले चरण के लिए 27 मार्च को विधानसभा की इतनी  सीटों पर वोटिंग

पश्चिम बंगाल में पहले चरण के लिए 27 मार्च को विधानसभा की इतनी सीटों पर वोटिंग

पश्चिम बंगाल , पश्चिम बंगाल में पहले चरण के लिए 27 मार्च को विधानसभा की 30 सीटों पर वोटिंग होगी. इधर, वोटिंग से एक दिन पहले शुक्रवार को टीएमसी दफ्तर में बम विस्फोट के चलते तीन लोग घायल हो गए हैं. यह विस्फोट कोटुलपुर विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले बांकुड़ा के जोयपुर के तृणमूल कांग्रेस दफ्तर में हुआ है. यहां पर दूसरे चरण में 1 अप्रैल को वोटिंग होनी है. स्थानीय लोगों को आरोप है कि देसी बम को पार्टी ऑफिस में लाकर जमा किया गया था, जिसके चलते यह विस्फोट हुआ है. जोयपुर की पुलिस मौके पर पहुंच चुकी है. पहले चरण की 30 सीटें आदिवासी बहुल पुरुलिया, बांकुरा, झारग्राम, पूर्वी मेदिनीपुर (भाग-1) और पूर्वी मेदिनीपुर (भाग-2) जिलों में फैली हुई हैं. इन क्षेत्रों को एक समय वाम दलों के प्रभाव वाला माना जाता था. इन सीटों पर चुनाव प्रचार के दौरान सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख प्रतिद्वंद्वी बनकर उभरती दिख रही भाजपा के बड़े नेताओं ने पुरुलिया, झारग्राम और बांकुड़ा जिलों में रैलियों को संबोधित किया और ‘सोनार बांग्ला’ बनाने के लिए वास्तविक बदलाव लाने का वादा किया.


बंगाल में कब-कहां चुनाव?
पहले चरण के तहत राज्य के पांच जिलों की 30 विधानसभा सीटों पर 27 मार्च को, दूसरे चरण के तहत चार जिलों की 30 विधानसभा सीटों पर एक अप्रैल, तीसरे चरण के तहत 31 विधानसभा सीटों पर छह अप्रैल, चौथे चरण के तहत पांच जिलों की 44 सीटों पर 10 अप्रैल वोटिंग होगी.


पांचवें चरण के तहत छह जिलों की 45 सीटों पर 17 अप्रैल, छठे चरण के तहत चार जिलों की 43 सीटों पर 22 अप्रैल, सातवें चरण के तहत पांच जिलों की 36 सीटों पर 26 अप्रैल और आठवें चरण के तहत चार जिलों की 35 सीटों पर 29 अप्रैल को मतदान होगा.


पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस पिछले 10 साल से सत्ता में है. इस बार भाजपा और अन्य विपक्षी दल उसे चुनौती दे रहे हैं. भाजपा ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को सत्ता से हटाने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा रखा है. पिछले विधानसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस को राज्य की 294 में से 211 सीटों पर विजय हासिल हुई थी जबकि भाजपा को महज तीन सीटों से संतोष करना पड़ा था. कांग्रेस को इस चुनाव में 44 सीट और माकपा को 26 सीट मिली थीं. 

छत्तीसगढ़ के ये बीजेपी नेता हुए  कोरोना पॉजिटिव

छत्तीसगढ़ के ये बीजेपी नेता हुए कोरोना पॉजिटिव

रायपुर। प्रदेश में कोरोना मरीजों की संख्या लगातार बढ़ते ही जा रही है। वही खबर है कि बीजेपी नेता सच्चिदान्द उपासने कोरोना संक्रमित पाए गये है। इस बात की जानकरी उन्होंने ने खुद दी है। रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उनका उपचार रायपुर एम्स में चल रहा है। स्वास्थ्य विभाग उनके परिजनों की कोरोना जांच करने की तैयारी कर रही है।

 

स्कूल प्रबंधन और पालकों के मध्य टकराव की स्थिति सरकार के ढुलमुल रवैया के कारण - श्रीचंद सुंदरानी

स्कूल प्रबंधन और पालकों के मध्य टकराव की स्थिति सरकार के ढुलमुल रवैया के कारण - श्रीचंद सुंदरानी

रायपुर! भारतीय जनता पार्टी जिला अध्यक्ष श्रीचंद सुंदरानी ने कहा है कि प्राइवेट स्कूल की मनमानियो से पालकों को डरने की कोई आवश्यकता नहीं है। उन्होंने कहा कि कल प्राइवेट स्कूल के संचालकों ने आपस में बैठकर एकतरफा निर्णय लिया कि वे शासन के आदेश को ना मानते हुए किसी को जनरल प्रमोशन नहीं देंगे और किसी छात्रों को टीसी भी नहीं देंगे । भाजपा जिला अध्यक्ष श्रीचंद सुंदरानी ने कहा कोई भी स्कूल ना तो छात्रों को पास करने से इंकार कर सकता है ,ना ही उन्हें टीसी देने से इंकार कर सकता है । अगर कोई स्कूल मनमानी पूर्ण ढंग से ऐसा करने का प्रयत्न करेगा तो भारतीय जनता पार्टी पालको के पक्ष में खड़े होकर इन फैसलों के खिलाफ आंदोलन करने को बाध्य होगी।
भाजपा जिला अध्यक्ष श्रीचंद सुंदरानी ने कहा कि स्कूल प्रबंधन और पालकों के बीच संघर्ष की स्थिति सरकार के ढुलमुल रवैया के कारण उत्पन्न हो रही है । उन्होंने स्कूल शिक्षा मंत्री से इस मामले में हस्तक्षेप करने की मांग करते हुए कहा कि कोर्ट के आदेश के परिप्रेक्ष में शासन को स्पष्ट करना चाहिए कि स्कूल कितनी फीस ले। क्योंकि कोरोना काल में विद्यार्थियों ने स्कूल की लाइब्रेरी, कंप्यूटर सहित अन्य संसाधनों का उपयोग नहीं किया है । इस सब के बावजूद भी अगर स्कूल प्रबंधन पूर्व वर्ष की भांति पूरा शुल्क जमा करने के लिए छात्रो पर दबाव डालता है तो यह अन्यायपूर्ण है और भारतीय जनता पार्टी इस अन्याय का हमेशा प्रतिकार करेगी।
साथ ही श्रीचंद सुंदरानी जी ने कोरोनावायरस काल ने स्कूल प्रबंधन की परेशानियों को देखते हुए यह सुझाव दिया है कि प्रत्येक स्कूल के पूर्व के फीस को मानक मानकर कोई समाधान पूर्वक फार्मूला बनाकर स्कूल प्रबंधक व पालकों को कोई शुल्क जमा करने का दिशा निर्देश जारी करें। ताकि टकराव की स्थिति निर्मित ना हो तथा पालक व स्कूल प्रबंधन दोनों की समस्याओं का निराकरण हो सके। जिन स्कूलों ने दबाव बनाकर पालकों से पूरी फीस वसूल की है भाजपा जिला अध्यक्ष श्रीचंद सुंदरानी ने उन्हें चेतावनी देते हुए कहा कि वह उन पालकों को भी न्याय पूर्ण राशि वापस करें अन्यथा भाजपा सक्षम अधिकारियों से मिलकर अपना विरोध दर्ज कराएगी। 

आम आदमी पार्टी ने निगम चुनाव के लिए चुनाव प्रभारी नियुक्त किये

आम आदमी पार्टी ने निगम चुनाव के लिए चुनाव प्रभारी नियुक्त किये

दुर्ग । संतोष देवांगन भिलाई व डॉ. एस. के.अग्रवाल रिसाली के चुनाव प्रभारी होंगे-कोमल हुपेंडी प्रदेश अध्यक्ष आप आम आदमी पार्टी ने दुर्ग जिले के अंतर्गत होने वाले निगम चुनाव भिलाई व रिसाली के लिए तैयारी कर ली है आपको बता दे कि पार्टी की प्रदेश कार्यकारिणी ने इन दोनों चुनाव के लिए प्रभारी नियुक्त करने को लेकर चर्चा हुई व आये हुए प्रस्तावित नामों को पार्टी के कोर कमेटी के समक्ष रखा गया कमेटी में प्रभारियों के प्रस्तावित नामों पर चर्चा हुई और संतोष देवांगन व डॉ. अग्रवाल के नाम पर सहमति बनी। प्रदेश अध्यक्ष कोमल हुपेंडी ने प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए कहा आज इन चुनाव प्रभारियों के नाम की घोषणा की उन्होंने कहा कि दुर्ग जिले के अंतर्गत दो निगम में चुनाव है इन निगमों में दोनों पार्टियों के चुने हुए जनप्रतिनिधियों के खिलाफ काफी जन आक्रोश है यह आम जन की मांग है कि आम आदमी पार्टी इस चुनाव में अपना प्रत्याशी खड़ा करें । सच्चे व ईमानदार जनप्रतिनिधियों से हमारी पार्टी लगातार संपर्क में है और एक अभियान के तहत हमारे लोग उनसे लगातार मिल रहे है। श्री हुपेंडी ने आगे कहा कि हम दोनों निगम में मजबूती के साथ चुनाव लड़ेंगे जिसके तहत आज चुनाव प्रभारियों की घोषणा की जा रही है भिलाई निगम के लिए संतोष देवांगन व रिसाली निगम के चुनाव प्रभारी डॉ. एस. के.अग्रवाल होंगे । पार्टी महासचिव उत्तम जायसवाल ने कहा कि संतोष देवांगन दल्ली राजहरा के नगर पालिका में उपाध्यक्ष है और उन्हें चुनाव का काफी अनुभव है उसी तरह डॉ. अग्रवाल भी अनुभवी व पार्टी के वरिष्ठ पदाधिकारियों में से एक है । इस चुनाव में प्रदेश स्तर के सभी पदाधिकारियों की जिम्मेदारी तय की जाएगी व चुनाव प्रभारियों की रणनीति के अनुसार कार्य किया जाएगा। आज के इस प्रेस वार्ता में प्रदेश अध्यक्ष कोमल हुपेंडी,प्रदेश महासचिव उत्तम जायसवाल, प्रदेश उपाध्यक्ष वदूद आलम,प्रदेश सहसंगठन मंत्री दुर्गा झा, प्रदेश सहसंयोजक सूरज उपाध्याय,जिला अध्यक्ष मेहरबान सिंग ,डॉ.एस. के.अग्रवाल,संतोष देवांगन मौजूद रहे।

सियासी नौटंकियाँ और अनर्गल प्रलाप कर कांग्रेस सरकार ने प्रदेश को कोरोना संक्रमण की खाई में धकेला अब कोरोना गाइडलाइन की सुध आ रही है - अनुराग सिंहदेव

सियासी नौटंकियाँ और अनर्गल प्रलाप कर कांग्रेस सरकार ने प्रदेश को कोरोना संक्रमण की खाई में धकेला अब कोरोना गाइडलाइन की सुध आ रही है - अनुराग सिंहदेव

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता अनुराग सिंहदेव ने प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव द्वारा कोरोना संक्रमण के मद्देनज़र मास्क पहनने पर ज़ोर देने और बड़े आयोजनों से परहेज़ करने की अपील किए जाने पर पलटवार कर यह सवाल किया है कि स्वास्थ्य मंत्री को एकाएक कोरोना संक्रमण की चिंता अब इतनी कैसे होने लगी? हज़ारों दर्शकों की भीड़ के साथ क्रिकेट मैच और ढेरों सरकारी महोत्सवों के आयोजनों कराते समय स्वास्थ्य मंत्री की चेतना को क्या लकवा मार गया था? श्री सिंहदेव ने कहा कि छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर को लेकर विशेषज्ञ लगातार प्रदेश सरकार को आगाह कर रहे थे, तब प्रदेश सरकार और उसके स्वास्थ्य मंत्री ने उसे अनसुना करके बिना मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियाँ उड़ाते तमाम आयोजनों को हरी झंडी दी थी।

भाजपा प्रदेश प्रवक्ता श्री सिंहदेव ने कहा कि छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण की दस्तक से लेकर अब उसकी इस ताज़ा दूसरी लहर तक प्रदेश सरकार ने अपने नाकारापन की जो मिसाल पेश की है, अपने उस पाप से कांग्रेस की यह सरकार कभी उबर नहीं सकेगी। श्री सिंहदेव ने कहा कि सिर्फ़ और सिर्फ़ सियासी नौटंकियाँ और अनर्गल प्रलाप कर-करके कांग्रेस और उसकी प्रदेश सरकार ने प्रदेश को कोरोना संक्रमण की खाई में धकेला है और लाखों ज़िंदगियों को कोरोना का दंश और हज़ारों परिवारों को कोरोना से मौत का तांडव दिखाया है और अब कोरोना गाइडलाइन की प्रदेश सरकार और उसके स्वास्थ्य मंत्री को सुध आ रही है! श्री सिंहदेव ने कहा कि पहले स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव यह बताने का नैतिक साहस दिखाएँ कि आख़िर कोरोना वैक्सीन के टीकाकरण को रोकने का तुग़लक़ी फ़रमान उन्होंने किस आधार पर सुनाया था? छत्तीसगढ़ में जब केंद्र सरकार ने कोरोना वैक्सीन की डोज भेजी तो उसकी प्रामाणिकता पर सवाल खड़ा कर भ्रम फैलाने, टीकाकरण नहीं कराने और केंद्र सरकार को वैक्सीन की डोज़ नहीं भेजने के लिए कहने वाले प्रदेश सरकार के स्वास्थ्य मंत्री थे।

भाजपा प्रदेश प्रवक्ता श्री सिंहदेव ने कहा कि अब प्रदेश सरकार ने मास्क नहीं पहनने पर 500 रुपए जुर्माने का फ़रमान सुनाया है और अब उसे लग रहा है कि बड़े आयोजनों से बचा जाए। जब क्रिकेट मैच के दौरान कोरोना पॉज़ीटिव मिले थे, तब इस प्रदेश सरकार को इस बात की चिंता क्यों नहीं हुई? श्री सिंहदेव ने कहा कि कोरोना को लेकर अपनी ग़ैर-ज़िम्मेदाराना सियासी फ़ितरत का शर्मनाक प्रदर्शन करने वाली प्रदेश सरकार और कोरोना वैक्सीन के टीकाकरण को लेकर गंदी और हठवादी राजनीति करने वाले स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव अब भी दोहरे मापदंडों से नहीं उबर रहे हैं। एक तरफ प्रदेश सरकार कोरोना गाइड लाइन के सख़्त पालन की बात कह रही है, वहीं दूसरी तरफ शराब दुकानें खुली रखी जा रही हैं जहाँ पहुंचने वाला न तो कोई मास्क को लेकर संजीदा होता है और न ही वहाँ सोशल डिस्टेंसिंग कोई मायने रखती है। प्रदेश सरकार के मंत्री-विधायक खुद मास्क पहनना और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने को लेकर गंभीर नहीं रहते, क्रिकेट मैच देखते मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और उनके साथ पहुँचे मंत्री-विधायकों की वायरल फोटो इसकी ग़वाही दे रही हैं। श्री सिंहदेव ने यह मांग भी की कि प्रदेश सरकार निजी अस्पतालों के लिए भी कोरोना जाँच, उसके आवश्यक उपचार और टीकाकरण की फीस तय करे ताकि ज़रूरतमंद आर्थिक तौर पर राहत पा सकें।