कोरोना अपडेट: प्रदेश में हो रही है कोरोना की रफ़्तार कम आज 10144 ने जीती कोरोना से जंग, कुल 4888 नए मरीज मिले 144 मृत्यु भी, देखे जिलेवार आकड़े    |    आईसीएमआर अपडेट : राज्य में मिले 4166 कोरोना पॉजिटिव, 19 जिलों में सौ से अधिक मिले मरीज, देखे बाकी जिलों के आकड़े    |    उपभोक्‍ता कार्य, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय ने उचित मूल्य की दुकानों के खुला रखने को लेकर कही ये बात    |    पीएम मोदी ने दिए ऑडिट के आदेश, पढ़े पूरी खबर    |    कोरोना अपडेट: देश में 24 घंटे में 3.11 लाख लोग हुए संक्रमित, 4 हजार से ज्यादा मौत    |    कोरोना अपडेट: प्रदेश में हो रही है कोरोना की रफ़्तार कम आज 11475 ने जीती कोरोना से जंग, कुल 7664 नए मरीज मिले 129 मृत्यु भी, देखे जिलेवार आकड़े    |    आईसीएमआर अपडेट : राज्य में मिले 6918 कोरोना पॉजिटिव, आज रायगढ़ में सर्वाधिक, देखे बाकी जिलों के आकड़े    |    स्वास्थ्यकर्मियों को वैक्सीन की पहली खुराक देने में छत्तीसगढ़ बना नंबर वन, दूसरे नंबर पर ये प्रदेश    |    राहुल गांधी का पीएम पर तंज, कहा- आपने तो मां गंगा को रुला दिया    |    प्रधानमंत्री मोदी का राज्यों को सख्त आदेश, तुरंत इंस्टॉल किए जाएं स्टोरेज में पड़े वेंटिलेटर्स    |
 भारतीयों की प्राइवेसी से खिलवाड़: 60 लाख फेसबुक यूजर्स के मोबाइल नंबर्स की लगी सेल

भारतीयों की प्राइवेसी से खिलवाड़: 60 लाख फेसबुक यूजर्स के मोबाइल नंबर्स की लगी सेल

 नई दिल्ली। टेलिग्राम पर दुनियाभर के 50 करोड़ से ज्यादा फेसबुक यूजर्स के मोबाइल फोन नंबर की बिक्री की जा रही है। इसमें 60 लाख से ज्यादा इंडियन फेसबुक यूजर्स के फोन नंबर शामिल हैं। सिक्योरिटी रिसर्चर एलन गैल, यह सिक्योरिटी का बड़ा उल्लंघन है। इससे फेसबुक यूजर्स की प्राइवेसी खतरे में पड़ गई है। एलन गैल ने ट्विटर कर बताया, इस बोट को चला रहे व्यक्ति ने दावा किया है कि सोशल मीडिया कंपनी की एक खामी से 53.3 करोड़ फेसबुक यूजर्स की जानकारी आई है, जिसे कंपनी ने 2019 में छुपा दिया था।

'
20 डॉलर में बिक रही है एक फेसबुक आईडी और मोबाइल नंबर-
एलन गैल ने कहा कि इस खामी की वजह से दुनियाभर में फेसबुक अकाउंट से जुड़े नंबरों का एक्सेस सभी लोगों को मिल गया। इससे सोशल मीडिया यूजर अकाउंट्स का डाटाबेस बनाया गया और उनके नंबरों को अब बोट के जरिये बेचा जा रहा है। अगर किसी व्यक्ति के पास आपका फोन नंबर है तो वह फेसबुक यूजर आईडी को टेलिग्राम बोट के जरिये खोज सकता है। हालांकि, उस व्यक्ति को आपकी जानकारी तक पहुंचने के लिए कुछ पैसों का भुगतान करना होगा। बोट के जरिये एक फेसबुक यूजर की आईडी और मोबाइल नंबर 20 डॉलर में बिक रहा है। यही नहीं, डाटा के लिए बल्क प्राइसिंग भी रखी गई है। बोट के 10 हजार क्रेडिट के लिए 5,000 डॉलर कीमत तय की गई है।

बोट से बेचा जा रहा है 100 से ज्यादा देशों के यूजर्स का डाटा-
रिसर्चर के मुताबिक, टेलिग्राम का बोट 12 जनवरी 2021 से चलने की रिपोर्ट्स हैं, लेकिन दिया गया डाटा 2019 से है। हालांकि, डाटा सटीक हो सकता है, क्योंकि बहुत कम लोग ही अपने फोन नंबर बदलते हैं। सिक्योरिटी रिसर्चर के मुताबिक, 100 से ज्यादा देशों से यूजर्स का डाटा बोट के जरिये बिक्री पर है। उन्होंने कहा कि गंभीर प्राइवेसी की चिंता होने के बावजूद मामले के पहली बार उजागर होने पर ज्यादा तव्वजो नहीं दी जा रही है
खिलौना क्षेत्र के लिए नीति की घोषणा कर सकती है सरकार

खिलौना क्षेत्र के लिए नीति की घोषणा कर सकती है सरकार

नईदिल्ली । केंद्र सरकार आगामी आम बजट में घरेलू विनिर्माण को प्रोत्साहन देने के लिए खिलौना क्षेत्र के लिए एक प्रतिबद्ध नीति की घोषणा कर सकती है. इस नीति से देश में उद्योग के लिए एक मजबूत पारिस्थितिकी तंत्र बनाने और स्टार्टअप को आकर्षित करने में मदद मिलेगी. वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय पहले ही खिलौनों के घरेलू विनिर्माण को प्रोत्साहन देने हेतु कदम उठा रहा है. मंत्रालय ने क्षेत्र के लिए गुणवत्ता नियंत्रक आदेश जारी किया है और साथ ही पिछले साल खिलौनों पर आयात शुल्क बढ़ाया है. गुणवत्ता नियंत्रण आदेश से घरेलू बाजार में सस्ते कम गुणवत्ता वाले खिलौनों के प्रवाह को रोका जा सकेगा.

प्रधानमंत्री ने क्या कहा?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मन की बात कार्यक्रम के जरिए देसी खिलौनों को बढ़ावा देने के बात कह चुके हैं. प्रधानमंत्री के मुताबिक ग्लोबल खिलौना बाजार सात लाख करोड़ रुपए से भी बड़ा है लेकिन भारत का हिस्सा उसमें बहुत ही कम है. इसे आगे बढ़ाने में देश को मिलकर मेहनत करनी है. प्रधानमंत्री पहले भी कई बार भारतीय खिलौना उद्योग को बढ़ावा देने हेतु इंडस्ट्री को आगे आने के लिए कह चुके हैं.

खिलौने के घरेलू उत्पादन को बढ़ावा देना

गुणवत्ता नियंत्रण आदेश से घरेलू बाजार में सस्ते कम गुणवत्ता वाले खिलौनों के प्रवाह को रोका जा सकेगा. अंतरराष्ट्रीय खिलौना उद्योग में भारत की हिस्सेदारी काफी कम है. वैश्विक मांग में भारत के निर्यात का हिस्सा 0.5 प्रतिशत से भी कम है. ऐसे में इस क्षेत्र में काफी अवसर हैं.

 

 

 5 दिन की तेजी के बाद फिसले सोना-चांदी, जाने कितने रुपये की आई गिरावट

5 दिन की तेजी के बाद फिसले सोना-चांदी, जाने कितने रुपये की आई गिरावट

नई दिल्ली। अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमती धातुओं के भाव में गिरावट से स्थानीय सर्राफा बाजार में भी शुक्रवार को सोना 263 रुपये की गिरावट के साथ 48,861 रुपये प्रति दस ग्राम पर आ गया। एचडीएफसी सिकयुरिटीज ने यह जानकारी दी। इससे पिछले दिन सोने का बंद भाव 49,124 रुपये प्रति दस ग्राम रहा था। चांदी में भी तेजी का रुख खत्म हो गया और शुक्रवार का यह 806 रुपये की गिरावट के साथ 66,032 रुपये प्रति किलो पर आ गई। इससे पिछले दिन यह 66,838 रुपये प्रति किलो पर थी। अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोना और चांदी दोनों में ही गिरावट रही। सोना गिरावट के साथ 1,861 डॉलर प्रति औंस पर पहुंच था वहीं चांदी भी 25.52 डॉलर प्रति औंस पर आ गई। कमजोर हाजिर मांग के कारण कारोबारियों ने अपने सौदों की कटान की जिससे वायदा कारोबार में सोना 0.29 प्रतिशत की हानि के साथ 49,304 रुपये प्रति 10 ग्राम रह गया। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में फरवरी महीने में डिलिवरी वाले सोना वायदा की कीमत 144 रुपये यानी 0.29 प्रतिशत की हानि के साथ 49,304 रुपये प्रति 10 ग्राम रह गई। इसमें 5,435 लॉट के लिये कारोबार किया गया। अंतरराष्ट्रीय बाजार, न्यूयॉर्क में सोना 0.37 प्रतिशत की हानि दर्शाता 1,862.30 डॉलर प्रति औंस चल रहा था। कमजोर हाजिर मांग के कारण कारोबारियों ने अपने सौदों के आकार को घटाया जिससे वायदा बाजार में चांदी वायदा कीमत 779 रुपये की हानि के साथ 66,521 रुपये प्रति किलो रह गयी। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में चांदी के मार्च महीने में डिलीवरी वाले अनुबंध की कीमत 779 रुपये यानी 1.16 प्रतिशत की हानि के साथ 66,521 रुपये प्रति किलो रह गयी जिसमें 11,901 लॉट के लिये कारोबार हुआ। वैश्विक स्तर पर, न्यूयार्क में चांदी 1.20 प्रतिशत की हानि के साथ 25.55 डॉलर प्रति औंस चल रहा था।
भारत की जीडीपी की वृद्धि दर सकारात्मक होने के करीब : रिजर्व बैंक

भारत की जीडीपी की वृद्धि दर सकारात्मक होने के करीब : रिजर्व बैंक

मुंबई । भारत का सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) सकारात्मक वृद्धि दर हासिल करने के करीब है। भारतीय रिजर्व बैंक ने यह अनुमान लगाया है। रिजर्व बैंक के जनवरी के बुलेटिन में अर्थव्यवस्था की स्थिति पर लेख में कहा गया है, 2021 कैसा होगा? सुधार का आकार वी-आकार का होगा। वी से तात्पर्य वैक्सीन से है। इन लेख को रिजर्व बैंक के डिप्टी गवर्नर माइकल देवव्रत पात्रा और अन्य ने लिखा है। लेख में कहा गया है कि दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान में भारत के साथ लाभ की स्थिति सबसे बड़ी टीका विनिर्माण क्षमता है। इसके अलावा भारत के पास पोलियो और चेचक के खिलाफ टीकाकरण का अनुभव भी है। केंद्रीय बैंक ने कहा कि यदि यह सफल रहता है, तो इससे जोखिम का संतुलन ऊपर की ओर झुक जाएगा। हालांकि, रिजर्व बैंक ने स्पष्ट किया है कि लेख में विचार लेखकों के हैं और आवश्यक रूप से इन्हें केंद्रीय बैंक की राय नहीं माना जाए। लेख में कहा गया है कि भारत की स्थिति को उबारने में ई-कॉमर्स और डिजिटल प्रौद्योगिकी की महत्वपूर्ण भूमिका होगी। हालांकि, महामारी से पूर्व का उत्पादन स्तर और रोजगार हासिल करने में अभी काफी समय लगेगा। लेख में कहा गया है कि वृहद आर्थिक क्षेत्र में हालिया बदलाव से कुल परिदृश्य चमकदार हुआ है और जीडीपी की वृद्धि दर सकारात्मक होने के करीब है। साथ ही मुद्रास्फीति भी घटकर लक्ष्य के पास आ रही है। सरकार के अनुमान के अनुसार चालू वित्त वर्ष 2020-21 में भारतीय अर्थव्यवस्था में 7.7 प्रतिशत की गिरावट आने का अनुमान है। चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही अप्रैल-जून में अर्थव्यवस्था में 23.9 प्रतिशत की जबर्दस्त गिरावट आई थी। वहीं दूसरी जुलाई-सितंबर की तिमाही में अर्थव्यवस्था 7.5 प्रतिशत नीचे आई थी। लेख में कहा गया है कि सीजन समाप्त होने से पहले रबी का बुवाई क्षेत्र सामान्य से अधिक हो गया है। ऐसे में 2021 में कृषि उत्पादन बंपर रहने की उम्मीद है। इसमें कहा गया है कि भारत वैक्सीन विनिर्माण की वैश्विक राजधानी है। ऐसे में वैश्विक स्तर पर टीकाकरण शुरू होने से भारत का फार्मास्युटिकल्स निर्यात तेजी से बढ़ेगा। उत्पादन से संबंधित (पीएलआई) योजना के तहत कृषि निर्यात जुझारू क्षमता दिखा रहा है। 

लगातार चौथे दिन भी सोने-चांदी की चमक बढ़ी, जाने सोने-चांदी में कितने रूपए का हुआ इज़ाफा

लगातार चौथे दिन भी सोने-चांदी की चमक बढ़ी, जाने सोने-चांदी में कितने रूपए का हुआ इज़ाफा

नई दिल्ली | अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमती धातुओं के भाव चढऩे से स्थानीय सर्राफा बाजार में भी सोना 347 रुपये बढ़कर 48,758 रुपये प्रति दस ग्राम हो गया। एचडीएफसी सिकयुरिटीज ने यह जानकारी दी। इससे पिछले दिन सोने का बंद भाव 48,411 रुपये प्रति दस ग्राम रहा था। चांदी में भी तेजी का रुख रहा और बुधवार को भाव 606 रुपये बढ़कर 65,814 रुपये प्रति किलो पर पहुंच गया। इससे पिछले दिन यह 65,208 रुपये प्रति किलो पर थी।

पढ़ें : BIG BREAKING : भारत में कोरोना वैक्सीन बनाने वाली कम्पनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया में लगी भीषण आग, पढ़ें पूरी खबर 

अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोना और चांदी दोनों में ही तेजी रही। सोना जहां बढ़कर 1,854 डॉलर प्रति औंस पर पहुंच गया वहीं चांदी भी 25.28 डॉलर प्रति औंस हो गई। मजबूत हाजिर मांग के कारण सटोरियों ने ताजा सौदों की लिवाली की जिससे वायदा कारोबार में बुधवार को सोना 230 रुपये की तेजी के साथ 49,213 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गया। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में फरवरी महीने में डिलिवरी वाले सोना वायदा की कीमत 230 रुपये यानी 0.47 प्रतिशत की तेजी के साथ 49,213 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गई। इसमें 6,639 लॉट के लिये कारोबार किया गया।

पढ़ें : होटल के कमरे में गंदा काम करते रंगे हाथ पकड़ा गया युवा क्रिकेटर, बोर्ड को भेजी गई शिकायत

बाजार विश्लेषकों ने कहा कि कारोबारियों द्वारा की गई ताजा सौदों की लिवाली से सोना वाायदा कीमतों में तेजी आई। अंतरराष्ट्रीय बाजार, न्यूयॉर्क में सोना 0.70 प्रतिशत की तेजी दर्शाता 1,853 डॉलर प्रति औंस चल रहा था। मजबूत हाजिर मांग के कारण कारोबारियों ने अपने सौदों के आकार को बढ़ाया जिससे वायदा बाजार में बुधवार को चांदी वायदा कीमत 453 रुपये की तेजी के साथ 66,489 रुपये प्रति किलो हो गयी। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में चांदी के मार्च महीने में डिलीवरी वाले अनुबंध की कीमत 453 रुपये यानी 0.69 प्रतिशत की तेजी के साथ 66,489 रुपये प्रति किलो हो गयी जिसमें 12,321 लॉट के लिये कारोबार हुआ।

पढ़ें : बड़ी खबर: मां की मौत से परेशान बेटी ने लगाई फांसी और फिर उसी फंदे से पिता ने भी की आत्महत्या

बाजार विश्लेषकों ने कहा कि चांदी कीमतों में तेजी आने का कारण घरेलू बाजार में तेजी के रुख की वजह से कारोबारियों द्वारा ताजा सौदों की लिवाली करना था। वैश्विक स्तर पर, न्यूयार्क में चांदी 0.91 प्रतिशत की तेजी के साथ 25.55 डॉलर प्रति औंस चल रहा था। पिछला साल सोने के लिए बहुत ही शानदार साबित हुआ है। बीते साल सोने की कीमत करीब 28 फीसदी तक बढ़ी। अगस्त के महीने में तो सोने-चांदी ने एक नया रेकॉर्ड ही बना दिया था और अपना ऑल टाइम हाई का स्तर छू लिया था। ऐसा नहीं है कि सिर्फ भारत में ही सोने की कीमत बढ़ी।

पढ़ें : नदी किनारे रेत में 6 फिट नीचे दबी मिली महिला की लाश, पुलिस ने किया हत्या का अपराध कायम

वैश्विक बाजार में भी सोना करीब 23 फीसदी महंगा हुआ। इससे पहले 2019 में भी सोने के दाम में बढ़ोतरी की दर डबल डिजिट में थी। भारत में सोने की कीमत ग्लोबल ट्रेंडस से प्रभावित होती हैं। वायरस के बढ़ते प्रकोप के कारण ग्लोबल इकनॉमिक रिकवरी के लिए मुश्किल हो गई है। इसके अलावा दुनियाभर में कम ब्याज दरों और यूएस डॉलर में कमजोरी सोने के लिए सकारात्मक हो सकती है। अभी गोल्ड स्पॉट 1900 डॉलर प्रति औंस के आसपास है। इस साल यह 1980 डॉलर और फिर 2050 डॉलर तक जा सकती है।

 

 
ग्राहकों को तत्काल नकदी की जरूरत है तो एसबीआई उन्हें घर पर ही नकदी डिलीवर करने को तैयार

ग्राहकों को तत्काल नकदी की जरूरत है तो एसबीआई उन्हें घर पर ही नकदी डिलीवर करने को तैयार

नई दिल्ली । कोरोना काल (Corona Period) में सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) को ध्यान में रखते हुए कई चीजें बदली हैं। बैंकिंग (Banking Sector) भी इसमें पीछे नहीं है। देश का सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (State Bank India) अपने ग्राहकों की घर बैठे कई तरह की बैंकिंग सुविधाएं दे रहा है। अगर ग्राहकों को तत्काल नकदी की जरूरत है तो एसबीआई (SBI) उन्हें घर पर ही नकदी डिलीवर (Cash Delivery) करने को तैयार है। एसबीआई अपने ग्राहकों को घर पर बैंकिंग सेवाएं उपलब्ध करा रहा है। एसबीआई ग्राहक कुछ सेलेक्टेड ब्रांचेज पर ही इस सुविधा का लाभ उठा सकते हैं। इसके लिए बैंक ने SBI Doorstep Banking शुरू की है। इसका लाभ लेने के लिए आपको रजिस्ट्रेशन करवाना पड़ेगा। एसबीआई ने ट्वीट कर अपनी डोर स्टेप सेवाओं के बारे में ग्राहकों को विस्तार से जानकारी दी है। अगर आप एसबीआई के ग्राहक हैं और इस सुविधा के बारे में अधिक जानना चाहते हैं, तो टोल फ्री नंबर 18001037188 या 18001213721 पर कॉल कर सकते हैं।


बैंक की Doorstep Banking से जुड़ी खास बातें..
1. इन सेवाओं में नकदी देने, नकदी लेने, चेक देने, ड्राफ्ट की डिलिवरी, टर्म डिपॉजिट एडवाइज की डिलिवरी, लाइफ सर्टिफिकेट और केवाईसी डॉक्यूमेंट्स देने जैसी सुविधाएं शामिल हैं।
2. कार्यकारी दिनों में सुबह 9 बजे से शाम 4 बजे तक 1800111103 नंबर पर कॉल कर सेवाओं के लिए रिक्वेस्ट की जा सकती है।
3. सर्विस रिक्वेस्ट के लिए रजिस्ट्रेशन होम ब्रांच पर होगा।
4. डोरस्टेप बैंकिंग सेवाएं केवल पूरी तरह केवाईसी हो चुके ग्राहकों के लिए ही उपलब्ध है।
5. नकदी निकासी और नकदी जमा के लिए प्रति दिन प्रति लेनदेन 20,000 रुपये की सीमा निर्धारित है।
6. इन सेवाओं के लिए खाताधारक को होम ब्रांच से 5 किमी के दायरे में रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर के साथ मौजूद रहना होगा।
7. ज्वाइंट अकाउंट वाले ग्राहक इन सेवाओं का लाभ नहीं उठा सकेंगे।
8. गैर-व्यक्तिगत और नाबालिग खाते भी इस सुविधा के योग्य नहीं होंगे।
9. निकासी चेक या फिर पासबुक द्वारा ही की जा सकेगी।


वित्तीय सेवाओं के लिए फीस
नकदी जमा- 75 रुपये+जीएसटी
नकदी भुगतान/निकासी- 75 रुपये+जीएसटी
चेक/इंस्ट्रूमेंट को पिक-अप करना- 75 रुपये+जीएसटी
चेक बुक रिक्वेस्ट की स्लिप को पिक-अप करना- 75 रुपये+जीएसटी

गैर वित्तीय सेवाओं के लिए फीस
टर्म डिपॉजिट सलाह और खाते का स्टेटमेंट (बचत बैंक खाता)- मुफ्त
चालू खाते का स्टेटमेंट (नकल)- 100 रुपये+जीएसटी 

 देश में फिर बढ़ा पेट्रोल और डीजल के दाम, जानिए कितने रुपये की हुई वृध्दि

देश में फिर बढ़ा पेट्रोल और डीजल के दाम, जानिए कितने रुपये की हुई वृध्दि

नई दिल्ली। देश में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कुछ दिनों के अंतराल पर बढ़ोतरी देखने को मिल रही है। कल पेट्रोल और डीजल के दाम 3 दिनों बाद फिर बढ़ गए, जिसके चलते कई राज्यों में ये रिकॉर्ड लेवल पर पहुंच चुकी है। दिल्ली में आज फिर पेट्रोल की कीमत में 26 पैसे प्रति लीटर तो डीजल की कीमत में 25 पैसे प्रति लीटर का इजाफा कर दिया गया जिससे राष्ट्रीय राजधानी में पेट्रोल का रेट 85 रुपए प्रति लीटर के पार हो गया, जबकि डीजल 75 रुपए के पार निकल चुका है, वहीं मुंबई में पेट्रोल का रेट 92 रुपए प्रति लीटर के करीब पहुंच गया। केंद्रीय पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने बताया कि कोरोना वायरस महामारी के दौरान तेल उत्पादक देशों की तरफ से कम उत्पादन करने के कारण पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़ी हैं। कम उत्पादन से तेल की मांग और आपूर्ति में असंतुलन हो गया है। उन्होंने कहा कि कुछ महीने पहले कच्चे तेल की कीमतें 35 से 38 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल थी, जो अब बढ़कर 54 से 55 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल हो गई हैं।
 
आपके शहर में इतने रुपए लीटर बिक रहा पेट्रोल-डीजल
- दिल्ली में पेट्रोल 85.20 रुपए और डीजल 75.38 रुपए प्रति लीटर है।
- मुंबई में पेट्रोल 91.80 रुपए और डीजल 82.13 रुपए प्रति लीटर है।
- कोलकाता में पेट्रोल 86.63 रुपए और डीजल 78.97 रुपए प्रति लीटर है।
- चेन्नई में पेट्रोल 87.85 रुपए और डीजल 80.19 रुपए प्रति लीटर है।
- बैंगलूरु में पेट्रोल 87.56 रुपए और डीजल 80.67 रुपए प्रति लीटर है।
- नोएडा में पेट्रोल 84.83 रुपए और डीजल 75.83 रुपए प्रति लीटर है।
- गुरुग्राम में पेट्रोल 83.36 रुपए और डीजल 75.98 रुपए प्रति लीटर है।
नहीं पसंद है Whatsapp पॉलिसी तो यूजर्स न करें इस्तेमाल: दिल्ली हाई कोर्ट

नहीं पसंद है Whatsapp पॉलिसी तो यूजर्स न करें इस्तेमाल: दिल्ली हाई कोर्ट

इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप WhatsApp की नई पॉलिसी को लेकर कंपनी परेशानियों में घिरी हुई है। कोर्ट में कंपनी की नई प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर याचिका दायर की गई थी जिस पर सोमवार को सुनवाई हुई। सुनवाई के दौरान दिल्ली उच्च न्यायालय ने WhatsApp और Facebook की नई नीति पर नोटिस जारी करने से मना कर दिया है। हालांकि, अदालत ने इस मामले पर 25 जनवरी को विस्तृत सुनवाई करने की बात कही है। कोर्ट में दी गई दलीलों के दौरान दिल्ली उच्च न्यायलय ने कहा है कि WhatsApp एक निजी ऐप था। लोग इसका इस्तेमाल न करने के लिए स्वतंत्र हैं।
इस याचिका पर सुनवाई की शुरुआत में ही जस्टिस संजीव सचदेवा ने याचिकाकर्ता से कहा कि अगर कंपनी की नई नीति यूजर की प्राइवेसी को प्रभावित करती है तो यूजर WhatsApp ऐप को इस्तेमाल करना छोड़ सकते हैं। यह एक निजी ऐप है। आपको बात दें कि WhatsApp की नई नीति के अनुसार, कंपनी ने कहा था कि यूजर्स का डाटा Facebook के साथ साझा किया जाएगा।

यूजर्स को कंपनी की नई नीति पर 8 फरवरी तक सहमति देनी होगी। अगर ऐसा नहीं होता है तो यूजर का अकाउंट बंद कर दिया जाएगा। हालांकि, WhatsApp ने अपने आधिकारिक पेज पर FAQ पोस्ट में और अब यूजर्स के स्टेटस के जरिए यह साफ किया है कि कंपनी यूजर्स के प्राइवेट मैसेज नहीं देख सकती है। कॉल्स भी नहीं सुन सकती है। यूजर किसे मैसेज और कॉल कर रहा है इसकी जानकारी भी नहीं होती है। लोकेशन जो आपके द्वारा भेजी जा रही है उसकी जानकार भी कंपनी के पास नहीं होती है।
कोर्ट ने यह भी कहा कि इसी तरह की प्राइवेसी पॉलिसी का इस्तेमाल मैप्स और ब्राउजर जैसी अन्य ऐप्स द्वारा किया जाता है। ऐसे में याचिकाकर्ता द्वारा किसी एक ऐप की बात करना तार्किक नहीं है। कोर्ट ने यह भी कहा है कि अगर यूजर्स अन्य एप्लीकेशन्स की नीतियों को पढ़ते हैं तो उन्हें ये WhatsApp जैसी ही नजर आएंगी।

WhatsApp ने हाल ही में अपनी प्राइवेसी पॉलिसी में बदलाव किया था जिसे यूजर्स को सहमति देनी थी। अगर यूजर्स उसे सहमति नहीं देते हैं तो उनका अकाउंट बंद कर दिया जाता। नई नीति WhatsApp को Facebook के साथ ज्यादा डाटा साझा करने की अनुमति देती है। जब यूजर्स ने WhatsApp को छोड़ Signal और Telegram जैसी ऐप्स का इस्तेमाल करना शुरू किया तो WhatsApp ने अपनी नीति के लागू करने की तारीख को तीन महीने आगे बढ़ा दिया।
WhatsApp की तरफ से कोर्ट में पेश हुए एडवोकेट मुकुल रोहतगी ने कोर्ट को बताया कि इस ऐप का इस्तेमाल करना सुरक्षित था। साथ ही यह भी कहा कि WhatsApp जो डाटा Facebook के साथ साझा करने वाला था वो बिजनेस अकाउंट्स के संबंधित था। नई नीति व्यक्तिगत चैट को प्रभावित नहीं करेगी।
 

नई ऊंचाई पर पेट्रोल के दाम: 3 दिनों के विराम के बाद फिर कीमतों में हुई बढ़ोतरी

नई ऊंचाई पर पेट्रोल के दाम: 3 दिनों के विराम के बाद फिर कीमतों में हुई बढ़ोतरी

मुंबई। पेट्रोल और डीजल के दाम में फिर वृद्धि दर्ज की गई। इस वृद्धि के बाद देश की राजधानी दिल्ली समेत सभी चार प्रमुख महानगरों में पेट्रोल का भाव नई उंचाई पर चला गया है। उधर, अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में नरमी देखी जा रही है। तेल विपणन कंपनियों ने तीन दिन के विराम के बाद फिर पेट्रोल और डीजल के दाम में 23 पैसे से लेकर 27 पैसे प्रति लीटर तक की बढ़ोतरी की है।  दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में पेट्रोल की कीमतें बढ़कर क्रमश: 84.95 रुपये, 86.39 रुपये, 91.56 रुपये और 87.63 रुपये प्रति लीटर हो गई हैं। डीजल की कीमतें भी बढ़कर दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में क्रमश: 75.13 रुपये, 78.72 रुपये, 81.27 रुपये और 80.43 रुपये प्रति लीटर हो गई हैं। पेट्रोल के दाम में सोमवार को दिल्ली में 25 पैसे, कोलकाता और मुंबई में 24 पैसे जबकि चेन्नई में 23 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई। वहीं, डीजल का भाव दिल्ली और कोलकाता में 25 पैसे जबकि मुंबई में 27 पैसे और चेन्नई में 24 पैसे प्रति लीटर बढ़ गया है। अंतर्राष्ट्रीय वायदा बाजार इंटरकांटिनेंटल एक्सचेंज (आईसीई) पर बेंचमार्क कच्चा तेल ब्रेंट क्रूड के मार्च डिलीवरी अनुबंध में बीते सत्र में 0.83 फीसदी की गिरावट के साथ 54.64 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार चल रहा था जबकि सप्ताह के दौरान भाव 57 डॉलर प्रति बैरल के उपर चला गया था। न्यूयार्क मर्केंटाइल एक्सचेंज (नायमैक्स) पर वेस्ट टेक्सस इंटरमीडिएट (डब्ल्यूटीआई) के फरवरी अनुबंध में 0.71 फीसदी की गिरावट के साथ 52.05 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार चल रहा था।
 भारी फजीहत के बाद व्हाट्सएप का यूटर्न: नई प्राइवेसी पॉलिसी अपडेट को किया स्थगित

भारी फजीहत के बाद व्हाट्सएप का यूटर्न: नई प्राइवेसी पॉलिसी अपडेट को किया स्थगित

वाशिंगटन। मैसेजिंग ऐप व्हाट्सएप ने हाल ही में अपनी प्राइवेसी पॉलिसी को अपडेट करने की घोषणा की, जिसके बाद यूजर्स में नाराजगी देखने को मिली। यहां तक कि लोगों ने व्हाट्सएप से दूरी भी बनानी शुरू कर दी। इसके बाद व्हाट्सएप ने कई माध्यमों से अपने यूजर्स को ये बताने की कोशिश की कि व्हाट्सअप आपकी प्राइवेसी को सुरक्षित रखता है। लेकिन अब इन सबके बाद व्हाट्सएप ने घोषणा की कि उसने अपनी प्राइवेसी अपडेट को स्थगित कर दिया है। कंपनी ने कहा कि लोगों के बीच गलत सूचना पहुंचने के कारण गोपनीयता अपडेट को स्थगित करने का निर्णय लिया गया है।

दी गई ये सफाई-
व्हाट्सएप ने कंपनी के ब्लॉग में कहा कि हमने इतने लोगों से सुना है कि हमारे हालिया अपडेट को लेकर कितना भ्रम है। चिंता पैदा करने के लिए बहुत सी गलत जानकारियां हैं। हम हर किसी को हमारे सिद्धांतों और तथ्यों को समझने में मदद करना चाहते हैं। व्हाट्सएप एक सरल विचार पर बनाया गया था: आप अपने दोस्तों और परिवार के साथ जो भी शेयर करते हैं वह आपके बीच रहता है। इसका मतलब है कि हम आपकी व्यक्तिगत बातचीत को हमेशा एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन से सुरक्षित रखेंगे, ताकि व्हाट्सएप या फेसबुक इन निजी संदेशों को न देख सकें। यही कारण है कि हम हर किसी के मैसेजिंग या कॉलिंग के लॉग नहीं रखते हैं। हम आपकी शेयर्ड लोकेशन भी नहीं देख सकते हैं और हम आपके कॉन्टैंक्ट्स फेसबुक से साझा नहीं करते हैं।

नई पॉसिली से दूसरे एप्स को फायदा-
इससे पहले नई पॉलिसी को लेकर व्हाट्सएप ने अपने ब्लॉग में लिखा कि 8 फरवरी को किसी को भी अपना अकाउंट सस्पेंड या डिलीट नहीं करना होगा। व्हाट्सएप पर प्राइवेसी और सिक्योरिटी कैसे काम करती है, इसके बारे में गलत जानकारी को सही करने के लिए हम बहुत कुछ करने जा रहे हैं। वहीं व्हाट्सएप की इस किरकिरी का फायदा सिग्नल एप को हुआ है। व्हाट्सएप की नई प्राइवेसी पॉलिसी का हल्ला होने के बाद सिग्नल एप को को धड़ल्ले से डाउनलोड किया जा रहा है। 

यही वजह है कि देखते ही देखते सिग्नल एप्पल एप स्टोर पर व्हाट्सएप को पछाड़ कर भारत में शीर्ष फ्री एप बन गया। भारत के अलावा यह जर्मनी, फ्रांस, आस्ट्रिया, फिनलैंड, हांगकांग और स्विट्जरलैंड में व्हाट्सएप को पछाड़ कर टॉप पर आ गया है। वहीं जर्मनी और हंगरी में सिग्नल गूगल प्ले स्टोर में भी टॉप फ्री एप में अपनी जगह बनाने में कामयाब हो गया है।
 अगर आप भी करते है ट्रेन में सफर तो जान लीजिए ये खबर: रेल्वे ने इस सेवा को फिर से किया बहाल

अगर आप भी करते है ट्रेन में सफर तो जान लीजिए ये खबर: रेल्वे ने इस सेवा को फिर से किया बहाल

नई दिल्ली। भारतीय रेलवे ने ट्रेनों में ई-कैटरिंग सेवा को फिर से बहाल कर दिया है। हालांकि यह सुविधा अभी कुछ चुनिंदा स्टेशनों पर ही शुरू की जाएगी। जिन स्टेशनों पर ई-कैटरिंग सेवा दी जाएगी, वहां केंद्र और संबंधित राज्य सरकारों के स्वास्थ्य संबंधी सभी नियमों का पालन किया जाएगा। गौरतलब है कि कोरोना महामारी को देखते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी गाइडलाइन्स को देखते हुए ट्रेनों में खाना बनाना, एसी बोगियों में कंबल, तकिया और चद्दर की सर्विस बंद कर दी गई थी, लेकिन अब भारतीय रेलवे ने ट्रेनों में ई-कैटरिंग सेवाओं को फिर से शुरू करने की अनुमति दे दी है।

इस सुविधा के माध्यम से यात्री ऑनलाइन ही पसंदीदा रेस्टोरेंट से अपना खाना ऑर्डर कर सकते हैं। ऑर्डर करने के समय यात्रियों को यह बता दिया जाएगा कि उनका खाना किस स्टेशन पर और कितनी देर में पहुंचेगा और यात्री को कहीं जाने की जरूरत नहीं होगी।

 रेल मंत्रालय से चुनिंदा रेलवे स्टेशनों पर ई-केटरिंग सेवा शुरू करने की अनुमति मांगी थी, जिसे रेल मंत्रालय ने स्वीकार कर लिया है। जनवरी 2021 के अंतिम सप्ताह से संचालित करने के लिए तैयार है। भारतीय रेलवे ने ट्वीट कर बात की जानकारी दी। रेलवे ने ट्वीट में कहा कि रेलवे ने चयनित रेलवे स्टेशनों पर ई-केटरिंग सेवाओं को फिर से शुरू करने की अनुमति दी है।

इसके लिए कंपनी ने सख्त दिशा-निर्देश दिए हैं, जिसमें परिचालन के दौरान कई बार रेस्तरां के कर्मचारियों और डिलीवरी कर्मियों की थर्मल स्कैनिंग, नियमित अंतराल पर रसोई की सफाई, रेस्तरां के कर्मचारियों और डिलीवरी कर्मियों द्वारा सुरक्षात्मक फेस मास्क या फेस शील्ड का उपयोग शामिल है। साथ ही यह भी कहा गया है कि भोजन तभी तैयार करें जब शरीर का तापमान 99 डिग्री स्न से कम हो।

दूसरी तरफ डिलीवरी स्टाफ के लिए दिशा-निर्देश भी अच्छी तरह से निर्धारित किए गए हैं और उनका पालन किया जाना है। इनमें हाथ धोने के बाद ही ऑर्डर लेना, डिलीवरी कर्मियों द्वारा आरोग्य सेतु ऐप का अनिवार्य इस्तेमाल, जीरो ह्यूमन कॉन्टैक्ट सुनिश्चित करने के लिए कॉन्टैक्टलेस डिलीवरी, प्रोटेक्टिव फेस मास्क या कवर का लगातार इस्तेमाल और डिलीवरी के बाद डिलीवरी बैग का सैनिटाइजेशन शामिल है।
 फिर आई सोने की कीमत में गिरावट, जाने कितना सस्ता हुआ सोना

फिर आई सोने की कीमत में गिरावट, जाने कितना सस्ता हुआ सोना

मुंबई। डिलीवरी वाला सोना 133 रुपये की गिरावट के साथ 49088 रुपये प्रति 10 ग्राम के भाव पर खुला। दोपहर 12 बजे यह 160 रुपये यानी 0.33 फीसदी की गिरावट के साथ 49061 रुपये पर ट्रेड कर रहा था। सुबह इसने 49010 रुपये का न्यूनतम और 49221 रुपये का उच्चतम स्तर छू लिया। अप्रैल डिलीवरी वाला सोना भी 154 रुपये की गिरावट के साथ 49075 रुपये पर ट्रेड कर रहा था। इससे पहले गुरुवार को सोने-चांदी की कीमतों में सर्राफा बाजार में गिरावट  देखने को मिली। सोने की कीमत 369 रुपये गिरी जिसके बाद अब सोना 48,388 रुपये प्रति 10 ग्राम  के स्तर पर पहुंच गया। एचडीएफसी सिक्योरिटीज ने यह जानकारी दी। इससे पहले के सत्र में सोना 48,757 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर पर बंद हुआ था। चांदी की कीमतों में भी गिरावट देखने को मिली। चांदी करीब 390 रुपये गिरकर 64,534 रुपये प्रति किलो  के स्तर पर पहुंच गई। इससे पिछले सत्र में चांदी 64,924 रुपये प्रति किलो के स्तर पर बंद हुई थी। पिछला साल सोने के लिए बहुत ही शानदार साबित हुआ है। बीते साल सोने की कीमत करीब 28 फीसदी तक बढ़ी। अगस्त के महीने में तो सोने-चांदी ने एक नया रेकॉर्ड ही बना दिया था और अपना ऑल टाइम हाई का स्तर छू लिया था। ऐसा नहीं है कि सिर्फ भारत में ही सोने की कीमत बढ़ी। वैश्विक बाजार में भी सोना करीब 23 फीसदी महंगा हुआ। इससे पहले 2019 में भी सोने के दाम में बढ़ोतरी की दर डबल डिजिट में थी। कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए वैक्सीन के मोर्चे पर सकारात्मक खबरों से सोने की कीमतों में गिरावट आ रही है। विशेषज्ञों का कहना है कि ग्लोबल इकनॉमी में सुधार और अमेरिका-चीन के बीच तनाव कम होने से निवेशक सोने को छोड़कर शेयर बाजार का रुख कर रहे हैं। यही वजह है कि निकट भविष्य में सोने की कीमतों में भारी उछाल की संभावना नहीं है। हालांकि, लंबी अवधि के लिए सोना अभी भी निवेश का अच्छा विकल्प माना जा रहा है। भारत में सोने की कीमत ग्लोबल ट्रेंडस से प्रभावित होती हैं। वायरस के बढ़ते प्रकोप के कारण ग्लोबल इकनॉमिक रिकवरी के लिए मुश्किल हो गई है। इसके अलावा दुनियाभर में कम ब्याज दरों और यूएस डॉलर में कमजोरी सोने के लिए सकारात्मक हो सकती है। अभी गोल्ड स्पॉट 1900 डॉलर प्रति औंस के आसपास है। इस साल यह 1980 डॉलर और फिर 2050 डॉलर तक जा सकती है। समय से ठहराव आ गया है। होम प्राइस इंडेक्स 2020-21 की दूसरी तिमाही में 1.1 फीसदी बढ़ा जबकि उससे पिछली तिमाही में यह 2.8 फीसदी और पिछले साल की समान तिमाही में 3.3 फीसदी बढ़ा था। 2020 में गोल्ड ने सभी एसेट क्लास में सबसे अच्छा रिटर्न दिया। इसने शेयर और रियल एस्टेट से अच्छा रिटर्न दिया। पिछले साल बीएसई सेंसेक्स ने 15.75 फीसदी रिटर्न दिया।

 गुगल ने प्ले स्टोर से साफ किये 100 से ज्यादा ऐप्स : सुरक्षा नीति का कर रहे थे उल्लंघन

गुगल ने प्ले स्टोर से साफ किये 100 से ज्यादा ऐप्स : सुरक्षा नीति का कर रहे थे उल्लंघन

नई दिल्ली। गूगल ने भारत में सैकड़ों की संख्या में व्यक्तिगत ऋण देने वाले ऐप की समीक्षा की है और इनमें से कई को अपने प्ले स्टोर से हटा दिया है। प्रयोगकर्ताओं और सरकारी एजेंसियों ने कंपनी से इन ऐप को लेकर चिंता जताई थी। गूगल ने बृहस्पतिवार कहा कि जो ऐप उपयोक्ता सुरक्षा नीतियों का उल्लंघन कर रहे थे, उन्हें तत्काल प्ले स्टोर से हटा दिया गया है। वहीं फिनटेक एक्सपर्ट श्रीकांत एल ने बताया है कि गूगल ने पिछले 10 दिनों में कम से कम 118 डिजिटल लोन ऐप हटा दिए हैं। त्रशशद्दद्यद्ग ने अपने ब्लॉग में लिखा है कि हमने अपने डेवलपर्स से नियमों का उल्लंघन करने वाले डिजिटल लोन ऐप के बारे में जानकारी हासिल की है। इसके साथ ही गूगल ऐसे ऐप्स की पहचान कर रहा है, जो लोकल लॉ और रेग्यूलेशन का उल्लंघन करके फ्रॉड डिजिटिल लेंडिंग करते हैं। ऐसा करने वाले ऐप्स के खिलाफ बिना नोटिस जारी किए कार्रवाई की जाएगी।

त्रशशद्दद्यद्ग की नई पॉलिसी के तहत पर्सनल लोन देने वाले ऐप के लिए भुगतान की न्यूनतम व अधिकतम समयसीमा और अधिकतम ब्याज दर के बारे में यूजर को स्पष्ट जानकारी देना जरूरी है। बता दें कि ये एक्शन इसलिए लिया जा रहा है क्योंकि पिछले कुछ महीनों से देश के कई हिस्सों से मोबाइल ऐप से लोन देने के कई फर्जीवाड़ों की सूचनाएं मिल रही हैं। ये ऐप पहले तो आसानी से 5000 से 50000 रुपये तक कर्ज दे देते हैं, और फिर इस पर 60 से 100 फीसद तक का ब्याज लेते हैं। इसके साथ ही कर्ज नहीं चुकाने वाले लोगों के साथ वसूली के नाम पर गलत तरीके से व्यवहार करते हैं। 

बता दें कि लोन ऐप के जरिये उत्पीडऩ की घटनाओं के बीच भारतीय रिजर्व बैंक ने एक वर्किंग ग्रुप का गठन किया है। वर्किंग ग्रुप से कहा गया है कि वे अनरेगुलेटेड लैंडिंग ऐप से कंज्यूमर को होने वाले खतरों की पहचान करें। आरबीआई ने हाल ही में जल्दी लोन अप्रूव करने और ऊंजी दरों पर लोन देने वाले ऑनलाइन ऐप से लोगों को आगाह किया था।
Signal App बेहतर सर्विस के लिए करेगा बड़े पैमाने पर भर्तियां, महज 7 दिन में हासिल की 62 गुना बढ़ोतरी

Signal App बेहतर सर्विस के लिए करेगा बड़े पैमाने पर भर्तियां, महज 7 दिन में हासिल की 62 गुना बढ़ोतरी

नई दिल्ली , इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप व्हाट्सऐप की प्राइवेसी पॉलिसी पर खड़े हुए विवाद से एक दूसरे मैसेजिंग ऐप सिगनल को अप्रत्या्शित ग्रोथ हासिल हुई है. सिगनल ऐप को पिछले एक सप्ताीह में 1.78 करोड़ बार डाउनलोड किया गया है. सिगनल ऐप की कंट्रोलिंग फाउंडेशन के प्रमुख ने कहा कि हम अपने ग्राहकों को बेहतर सुविधाएं उपलब्धै कराने के लिए बड़े पैमाने पर भर्तियां करने की योजना बना रहे हैं. बता दें कि व्हाट्सऐप ने अपनी प्राइवेसी पॉलिसी में कुछ बदलाव किए हैं. इनके मुताबिक, व्हा्ट्सऐप अपने यूजर्स का डाटा फेसबुक और इंस्टा ग्राम के साथ साझा करेगा.

सिगनल के संस्थानपक ने कहा, जल्द् करेंगे भर्तियां
व्हाट्सऐप की प्राइवेसी पॉलिसी पर विवाद का टेलीग्राम को भी फायदा मिला है. दुनियाभर में उसके एक्टिव यूजर्स की संख्याॉ 50 करोड़ को पार कर गई है. फेसबुक को बेचे जाने से पहले व्हाट्सऐप के सह-संस्थापक रह चुके और सिगनल ऐप के संस्थापक ब्रायन एक्टोन ने कहा कि पिछले कुछ दिन में हमने जबरदस्त ग्रोथ हासिल की है. हालांकि, अभी उन्होंने  कोई आंकड़ा सार्वजनिक नहीं किया है. उन्होंने कहा कि पिछले हफ्ते हमने अप्रत्याशित बढ़ोतरी दर्ज की है. यूजर्स की संख्या में रिकॉर्ड ग्रोथ के कारण हम बड़े पैमाने पर भर्तियां करने की तैयारी में हैं.


वीडियो-ग्रुप चैट फीचर को किया जा रहा बेहतर

ब्रायन ने कहा कि सिगनल अपने वीडियो और ग्रुप चैट फीचर्स को बेहतर बनाने की दिशा में काम कर रहा है. इससे हम दूसरे कॉन्फ्रेंसिंग ऐप्स को बेहतर अंदाज में टक्कर दे पाएंगे. सेंसर टावर के आंकड़ों के मुताबिक, बीते सात दिन में सिगनल को 1.78 करोड़ यूजर्स ने डाउनलोड किया है, जो इससे पिछले सप्ताॉह से 62 गुना ज्यादा है. इस दौरान व्हाट्सऐप को 1.06 करोड़ यूजर्स ने डाउनलोड किया, जो इससे पिछले सप्ताह से 17 फीसदी कम है. दरअसल, व्हासट्सऐप की ओर से किए गए बदलावों की प्राइवेसी की वकालत करने वाले लोगों ने जमकर आलोचना की इस दौरान उन्होंने फेसबुक के पिछले खराब रिकॉर्ड का भी जिक्र किया.


सिर्फ डोनेशन से चलता है सिगनल फाउंडेशन
सिलिकॉन वैली में मौजूद नॉन-प्रॉफिट सिगनल फाउंडेशन को फरवरी 2018 में शुरू किया गया था. ब्रायन एक्टन ने शुरुआत में इसमें 5 करोड़ डॉलर लगाए थे. तब से ये फाउंडेशन चंदे पर ही चल रहा हे. टेस्लाॉ के सीईओ इलॉन मस्क भी सिगनल को सपोर्ट करते हैं. एक्‍टन का कहना है कि सिगनल फाउंडेशन को चंदे के जरिये ही चलाया जाएगा. हमारी किसी दूसरे स्रोत से पैसे जुटाने की कोई योजना नहीं है. उन्होंने कहा कि करोड़ों लोग प्राइवेसी के लिए लड़ रहे हैं. हम ऐसे करोड़ों लोगों को विज्ञापन आधारित कारोबारी मॉडल से अलग और बेहतर विकल्प मुहैया कराने के लिए काम कर रहे हैं.
 

 सोने और चांदी के कीमतों में आई गिरावट, जाने कितना सस्ता हुआ सोना और चांदी

सोने और चांदी के कीमतों में आई गिरावट, जाने कितना सस्ता हुआ सोना और चांदी

नई दिल्ली।  गुरुवार को भारतीय बाजारों में 14 जनवरी 2021 को गोल्‍ड के भाव में गिरावट दर्ज की गई। दिल्ली सर्राफा बाजार में आज सोने के भाव में 369 रुपये प्रति 10 ग्राम की कमी हुई। वहीं, चांदी के दाम में भी 390 रुपये प्रति किग्रा की मामूली गिरावट आई. पिछले कारोबारी सत्र के दौरान दिल्ली सर्राफा बाजार में सोना 48,757 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था। वहीं, चांदी 64,924 रुपये प्रति किग्रा पर थी. अंतरराष्‍ट्रीय बाजारों में भी गोल्‍ड का भाव आज गिरा, जबकि चांदी की कीमत जस की तस रही।

दिल्ली सर्राफा बाजार में बृहस्‍पतिवार को सोने का भाव 369 रुपये प्रति 10 ग्राम घट गया। राजधानी दिल्ली में 99.9 ग्राम शुद्धता वाले सोने का नया भाव अब 48,388 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गया है। इससे पहले कारोबारी सत्र में सोने का भाव 48,757 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था। वहीं, अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोने का भाव आज घटकर 1,842 डॉलर प्रति औंस पर पहुंच गया।

चांदी की बात करें तो बृहस्‍पतिवार को इसकी कीमतों में भी मामूली कमी दर्ज की गई। दिल्ली सर्राफा बाजार में आज चांदी की कीमतों में 390 रुपये प्रति किलोग्राम की गिरावट आई अब इसके दाम 64,534 रुपये प्रति किलोग्राम पर पहुंच गए हैं। अंतरराष्‍ट्रीय बाजार में आज चांदी का भाव 25.21 डॉलर प्रति औंस पर जस का तस रहा।
 
 व्हाट्सएप प्राइवेसी मामले पर अब सरकार की पैनी नजर: डेटा से लेकर कंपनी की हर हरकत पर हो रही निगरानी

व्हाट्सएप प्राइवेसी मामले पर अब सरकार की पैनी नजर: डेटा से लेकर कंपनी की हर हरकत पर हो रही निगरानी

नई दिल्ली। व्हाट्सएप की प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर लगातार बातें हो रही हैं और लोग इसका विरोध कर रहे हैं। अब खबर आ रही है कि सरकार व्हाट्सएप के इस नए नियमों की जांच करने जा रही है। सरकार इस मामले पर नजर रखे हुए है। इसके साथ व्हाट्सएप के नए अपडेट में प्राइवेसी के उल्लंघन की भी जांच कर रही है जिसमें यूजर्स से उनके कुछ बिजनेस और ट्राजेक्शन डिटेल्स मांगे गए हैं। व्हाट्सएप की नई प्राइवेसी पॉलिसी कंपनी को यूजर्स का डेटा, लोकेशन, फोन नंबर, कॉन्टैक्ट लिस्ट और यूसेज पैटर्न को फेसबुक और इसके अन्य ऐप इंस्टाग्राम और मैसेंजर से शेयर करने का अधिकार देता है। इस नई प्राइवेसी पॉलिसी के आने के बाद से यूजर्स, एडवोकेट्स और कुछ सरकारी एजेंसियां इसपर लगातार सवाल उठा रही हैं।

सूत्रों ने बताया कि सरकार कई तरीकों से इस मामले को लेकर चिंता में है जिसमें डेटा सुरक्षा कानून का अभाव भी शामिल है। एक डेटा कानून के लिए एक बिल संसद में है, लेकिन कानून आने में अभी समय लगेगा।

व्हाट्सएप के इस प्राइवेसी मुद्दे पर आईटी मंत्रालय में उच्चतम स्तर पर चर्चा की जा रही है, और मामले पर कोई कार्रवाई या कदम उसके बाद ही उठाया जाएगा। इसके अलावा सरकार व्हाट्सएप द्वारा किए गए इस बदलाव को लेकर सवाल-जवाब भी कर सकती है।

दरअसल व्हाट्सएप ने जनवरी के पहले हफ्ते में अपने नए प्राइवेसी पॉलिसी को इंट्रोड्यूस किया है जिसे सभी यूजर्स को 8 फरवरी तक एक्सेप्ट करना होगा। ऐसा न करने पर कंपनी यूजर्स के अकाउंट को डिलीट कर देगी। कंपनी की नई पॉलिसी के अनुसार वह यूजर का नाम, पता, फोन नंबर, लोकेशन समेत कई जानकारी को इक_ा करेगी और उसे फेसबुक, इंस्टाग्राम और मैसेंजर के साथ साझा करेगी जिससे यूजर्स को उनकी इंट्रेस्ट के अनुसार एडवर्टाइजमेंट दिखाया जा सके। इसका मतलब यह है कि कंपनी यूजर्स के डेटा का इस्तेमाल अपने फायदे के लिए करेगी और इसी लिए इसका विरोध किया जा रहा है।
मात्र 48 घंटे में Signal ने Apple के App Store पर बनाया यह अनोखा रिकॉर्ड

मात्र 48 घंटे में Signal ने Apple के App Store पर बनाया यह अनोखा रिकॉर्ड

इंस्टेंट मैसेजिंग एप व्हाट्सएप (WhatsApp) की पॉपुलैरिटी में इन दिनों कमी आ रही है। इसकी वजह है WhatsApp की नई पॉलिसी, जो जल्द ही लागू होने जा रही है। इस पॉलिसी की वजह से व्हाट्सएप का विरोध हो रहा है। इसका फायदा मैसेजिंग एप सिग्नल (Signal App) को मिल रहा है। व्हाट्सएप के विरोध के बीच Signal एप अचानक से चर्चा में आ गई है। इसके यूजर्स बेस में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है। लोग व्हाट्सएप से दूरी बना रहे हैं और सिग्नल एप डाउनलोड कर रहे हैं। हाल ही सिग्नल एप फ्री एप्स कैटेगिरी में कई देशों में नंबर 1 एप बन गई। अब इसने एक और रिकॉर्ड बनाया है। सिग्नल एप Apple के App Store पर भी व्हाट्सएप को पछाड़कर नंबर 1 एप बन गई है।


मात्र 48 घंटे में हासिल की यह उपलब्धि
सिग्नल एप की पॉपुलैरिटी का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि एप्पल के एप स्टोर पर सिग्नल एप ने टॉप पोजिशन हासिल कर ली है। सिग्नल ने यह उपलब्धि महज 48 घंटे में हासिल कर ली। इससे साफ पता चलता है कि लोग व्हाट्सएप की नई पॉलिसी से कितने नाराज हैं। नाराज यूजर्स व्हाट्सएप छोड़कर अब दूसरे विकल्प ढूंढ रहे हैं। वहीं दुनिया की कुछ बड़ी हस्तियों ने भी सिग्नल एप को बेहतर बताया है। इनमें एलन मस्क और आनंद महिंद्रा जैसे लोग भी हैं। इन्होंने सिग्नल एप की तारीफ की और खुद भी अपने मोबाइल में इसे इंस्टॉल किया और अपने फॉलोअर्स को भी ऐसा करने को कहा गया। इसके बाद से सिग्नल के यूजर्स की संख्या में तेजी से वृद्धि हुई है।
फ्री एप्स में भी बनी नंबर 1
क्रॉस-प्लेटफॉर्म एन्क्रिप्टेड मैसेजिंग सर्विस सिग्नल ने भारत सहित दुनिया के कई देशों में एप स्टोर के फ्री एप्स कैटेगरी में पहला स्थान हासिल किया है। हाल ही सिग्नल के आधिकारिक ट्विटर हैंडल ने एक स्क्रीनशॉट को साझा किया, जिसमें भारत में इसे व्हाट्सएप से ऊपर पहले स्थान पर दिखाया गया है। इसे ट्वीट करते हुए लिखा गया है, देखिए आप लोगों ने क्या किया है। भारत के अलावा जर्मनी,फ्रांस, ऑस्ट्रिया, फिनलैंड, हॉन्ग कॉन्ग, स्विटजरलैंड में भी सबसे ज्यादा डाउनलोड किए गए एप्स में यह अव्वल रहा है।
डाटा शेयर नहीं करती सिग्नल
व्हाट्सएप की इस नई घोषणा के बाद टेस्ला के सीईओ एलन मस्क ने भी लोगों को सिग्नल के इस्तेमाल का सुझाव देते हुए इसे सुरक्षित बताया। इसके बाद से यूजर्स द्वारा इसे डाउनलोड करने का सिलसिला शुरू हुआ, जो अब भी जारी है। सिग्नल के यूजर्स बेस में अचानक से काफी वृद्धि हुई है। वहीं सिग्नल एप का दावा है कि वह अपना डाटा किसी अन्य कंपनी के साथ शेयर नहीं करती। हालांकि कंपनी की प्राइवेसी पॉलिसी में इसका जिक्र नहीं है।
ये जानकारी एक्सेस करती है सिग्नल
वहीं गूगल प्ले-स्टोर एप पर दी गई जानकारी के मुताबिक सिग्नल आपके मैसेज का एक्सेस लेता है। इसमें मैसेज पढ़ने से लेकर मैसेज भेजने और उसे एडिट करना भी शामिल हैं। इसके अलावा कॉलिंग, कैलेंडर, फोन के मॉडल, लोकेशन, फोटो-मीडिया फाइल, कैमरा, माइक्रोफोन, स्टोरेज, वाई-फाई और इंटरनेट कनेक्शन का भी एक्सेस सिग्नल एप लेता है।
डाउनलोडिंग में 36 फीसदी इजाफा
रिपोर्ट के अनुसार, सिर्फ भारत में ही पिछले एक सप्ताह में सिग्नल की डाउनलोडिंग में 36 फीसदी का इजाफा देखने को मिला है। बता दें कि सिग्नल एप की चर्चा सबसे ज्यादा इसकी प्राइवेसी और सिक्योरिटी को लेकर हो रही है। बता दें कि एलन मस्क ने अपने फॉलोअर्स से व्हाट्सएप की जगह सिग्नल एप यूज करने की सलाह दी थी। इसके बाद से इस एप के यूजर्स की संख्या में अचानक से बढ़ोतरी हुई है।
 

WhatsApp की सफाई: प्राइवेट चैट रहेंगे सुरक्षित, बदलाव सिर्फ इस अकाउंट के लिए

WhatsApp की सफाई: प्राइवेट चैट रहेंगे सुरक्षित, बदलाव सिर्फ इस अकाउंट के लिए

नई पॉलिसी को लेकर चहुंओर किरकिरी होने के बाद फेसबुक के स्वामित्व वाले व्हाट्सएप ने अपनी सफाई दी है। WhatsApp ने नई प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर कहा है कि इससे दोस्तों और परिवार के लोगों के साथ होने वाली निजी चैटिंग प्रभावित नहीं होगी। नई पॉलिसी सिर्फ बिजनेस अकाउंट के लिए है। WhatsApp ने ट्वीट करते हुए कहा है कि यूजर्स के चैट पहले की तरह एंड-टू-एंड एंक्रिप्शन के साथ पूरी तरह से सुरक्षित हैं।
WhatsApp ने ट्वीट में कहा, "हम अफवाहों को शत प्रतिशत दूर करना चाहते हैं और साथ ही यह बताना चाहते हैं कि हम आपके निजी संदेशों को एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन के साथ सुरक्षित रखना जारी रखेंगे। प्राइवेसी पॉलिसी में अपडेट से आपके दोस्तों या परिवार के साथ किए गए संचार पर असर नहीं पड़ेगा।"


WhatsApp ने अपनी सफाई में क्या कहा?
WhatsApp ने ट्वीट के साथ अपने ब्लॉग का भी लिंक शेयर किया है। नई पॉलिसी पर हो रहे विवाद को लेकर WhatsApp का कहना है कि यह सिर्फ बिजनेस अकाउंट के लिए है। निजी चैट पर इसका असर नहीं होगा। ब्लॉग में साफतौर पर लिखा गया है कि व्हाट्सएप की पैरेंट कंपनी फेसबुक यूजर्स के चैट को नहीं पढ़ेगी और ना ही यूजर्स की कॉन्टेक्ट लिस्ट फेसबुक के साथ शेयर की जाएगी।
WhatsApp आपके निजी मैसेज को नहीं पढ़ता है और ना ही कॉल को सुनता है और ना ही फेसबुक को ऐसा करने देता है।
WhatsApp आपके मैसेज और कॉल की हिस्ट्री स्टोर नहीं करता है।
WhatsApp आपके द्वारा शेयर की गई लोकेशन को नहीं देखता है और ना ही फेसबुक के साथ साझा करता है।
WhatsApp आपकी कॉन्टेक्ट लिस्ट को फेसबुक के साथ साझा नहीं करता है।
WhatsApp ग्रुप अभी भी पूरी तरह से प्राइवेट हैं।
आप मैसेज को अपने आप डिलीट होने के लिए सेट कर सकते हैं।
आप अपने WhatsApp डाटा को डाउनलोड कर सकते हैं।
 

 लगातार तीसरे दिन गिरावट के साथ खुला सोना, जानिए कितने रुपये की आई गिरावट

लगातार तीसरे दिन गिरावट के साथ खुला सोना, जानिए कितने रुपये की आई गिरावट

नई दिल्ली। मंगलवार को 21 रुपये की गिरावट के साथ 49320 रुपये प्रति 10 ग्राम के भाव पर खुला। सुबह 10 बजे यह 38 रुपये यानी 0.08 फीसदी की गिरावट के साथ 49303 रुपये पर ट्रेड कर रहा था। सुबह इसने 49282 रुपये का न्यूनतम और 49375 रुपये का उच्चतम स्तर छू लिया। अप्रैल डिलीवरी वाला सोना भी 38 रुपये की गिरावट के साथ 49285 रुपये पर ट्रेड कर रहा था। 
 

दिल्ली सर्राफा बाजार में सोमवार को सोना 389 रुपये बढ़कर 48,866 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ। एचडीएफसी सिक्योरिटीज ने यह जानकारी दी है। इससे पिछले कारोबारी सत्र में सोना 48,477 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था। चांदी की कीमत भी इस दौरान 1,137 रुपये की तेजी के साथ 64,726 रुपये प्रति किलोग्राम पर बंद हुई जो इससे पिछले कारोबारी सत्र में 63,589 रुपये प्रति किलोग्राम पर बंद हुई थी। 
 
 
सोमवार के शुरुआती कारोबार में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपये में 24 पैसे की गिरावट देखी गई और मूल्य घटकर 73.48 रुपये प्रति डॉलर रह गया। पिछला साल सोने के लिए बहुत ही शानदार साबित हुआ है। इस साल अब तक सोने की कीमत करीब 28 फीसदी तक बढ़ी है। अगस्त के महीने में तो सोने-चांदी ने एक नया रेकॉर्ड ही बना दिया था और अपना ऑल टाइम हाई का स्तर छू लिया था। ऐसा नहीं है कि सिर्फ भारत में ही सोने की कीमत बढ़ी है।
 
 
इस साल वैश्विक बाजार में भी सोना करीब 23 फीसदी महंगा हुआ है। इससे पहले 2019 में भी सोने के दाम में बढ़ोतरी की दर डबल डिजिट में थी, इस बार भी सोने दाम में बढ़ोतरी की दर डबल डिजिट में है। सोना गहरे संकट में काम आने वाली संपत्ति है, मौजूदा कठिन वैश्विक परिस्थितियों में यह धारणा एक बार फिर सही साबित हो रही है। कोविड-19 महामारी और भू-राजनीतिक संकट के बीच सोना एक बार फिर रिकॉर्ड बना रहा है और अन्य संपत्तियों की तुलना में निवेशकों के लिए निवेश का बेहतर विकल्प साबित हुआ है।
 
 
विश्लेषकों का मानना है कि उतार-चढ़ाव के बीच सोना अभी कम से कम एक-डेढ़ साल तक ऊंचे स्तर पर बना रहेगा। दिल्ली बुलियन एंड ज्वेलर्स वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष विमल गोयल का मानना है कि कम एक साल तक सोना उच्चस्तर पर रही रहेगा। वह कहते हैं कि संकट के इस समय सोना निवेशकों के लिए 'वरदान है। गोयल मानते हैं कि दिवाली के आसपास सोने में 10 से 15 प्रतिशत तक का उछाल आ सकता है।
 हफ्ते के पहले दिन सस्ता हुआ सोना, जाने कितना सस्ता हुआ सोना

हफ्ते के पहले दिन सस्ता हुआ सोना, जाने कितना सस्ता हुआ सोना

नई दिल्ली। इससे पहले शुक्रवार को सोने में भारी गिरावट आई। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बहुमूल्य धातुओं में गिरावट इसकी वजह रही। यूएस बॉन्ड यील्ड बढऩे और अमेरिकी डॉलर के मजबूत होने से सोने और चांदी की चमक फीकी हो गई। शुक्रवार को एमसीएक्स पर फरवरी डिलीवरी वाला सोना 2086 रुपये यानी 4.10 फीसदी की गिरावट के साथ 48818 रुपये प्रति 10 ग्राम पर आ गया। मार्च डिलीवरी वाली चांदी भी 6112 फीसदी यानी 8.74 फीसदी की भारी गिरावट के साथ 63850 रुपये प्रति किलो के भाव पर आ गई। विशेषज्ञों का कहना है कि शुक्रवार को भारतीय बाजार में सोने में गिरावट की वजह डॉलर की कीमत में मजबूती रही। अमेरिकी में नई सरकार बनने और व्यापक स्टीम्युलस उपायों की उम्मीद में यूएस ट्रेजरी यील्ड में तेजी आई और साथ ही शेयर बाजारों में भी तेजी रही। इसका सोने की कीमत पर असर हुआ। सोने की शॉर्ट टर्म रेंज 52000 से 48500 रुपये रह सकती है। दिल्ली सर्राफा बाजार में शुक्रवार को सोना 614 रुपये गिरकर 49,763 रुपये प्रति 10 ग्राम रह गया। एचडीएफसी सिक्योरिटीज ने यह जानकारी दी है। इससे पिछले कारोबारी सत्र में सोना 50,377 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था। चांदी भी 1609 रुपये की भारी गिरावट के साथ 67,518 रुपये प्रति किलोग्राम पर बंद हुई जो इससे पिछले कारोबारी सत्र में 69,127 रुपये प्रति किलोग्राम पर बंद हुई थी। अंतरराष्ट्रीय बाजार में, सोना गिरावट दर्शाता 1,889 डॉलर प्रति औंस रह गया जबकि चांदी 26.68 डॉलर प्रति औंस पर अपरिवर्तित रही।