कोरोना अपडेट: प्रदेश में आज 12665 ने जीती कोरोना से जंग, कुल 6577 नए मरीज मिले 149 मृत्यु भी, देखे जिलेवार आकड़े    |    लॉन्च हुई 2डीजी दवा, कोरोना संक्रमण से जंग में कैसे करेगी मदद? जानिए सब कुछ    |    आईसीएमआर अपडेट : राज्य में मिले 5294 कोरोना पॉजिटिव, 21 जिलों में सौ से अधिक मिले मरीज, देखे जिलेवार आकड़े    |    सेक्स रैकेट : पुलिस ने छापा मारकर देह व्यपार का किया खुलासा, मौके से दो युवक और दो युवती गिरफ्तार    |    दो पक्षों के बीच विवाद में गोली लगने से एक महिला की मौत, तीन अन्य घायल    |    चक्रवाती तूफान तौकते हुआ विनाशकारी, 5 राज्यों में अब तक 11 लोगों की मौत    |    बड़ी खबर: जानिए आखिर किस मामले में सीबीआई ने 4 नेताओं को किया गिरफ्तार    |    ममता बनर्जी के मंत्रियों-नेताओं पर सीबीआई ने कसा शिंकजा, यहां जानें क्या है मामला    |    रक्षा मंत्री व केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने लॉन्च की कोरोना की स्वदेशी दवा 2DG    |    कोरोना अपडेट: देश में 24 घंटों में 2 लाख 81 हजार नए मामले आए, 4106 लोगों की हुई मौत    |
जनता के सपनों का हुआ बँटाधार, फिर जोर से पड़ी महँगाई की मार, जनता हार गयी, महँगाई मार गयी - वंदना राजपूत

जनता के सपनों का हुआ बँटाधार, फिर जोर से पड़ी महँगाई की मार, जनता हार गयी, महँगाई मार गयी - वंदना राजपूत

रायपुर। बजट के दो दिन बाद ही नरेन्द्र मोदी के सरकार ने देशवासियों को एक बार फिर से महंगाई का झटका दिया है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता वंदना राजपूत ने कहा कि केन्द्र में फेलवर सरकार होने के कारण प्रतिदिन महंगाई अत्यधिक ही बढ़ती जा रही है। यूपीए सरकार के समय गैस सिलेंडर का दाम लगभग 375 रूपए रहता था, इसमें मात्र 25 पैसे, 50 पैसे गैस सिलेंडर के महंगा होने पर भाजपा नेता एवं नेत्रियां सड़कों पर लकड़ी के चूल्हे से प्रदर्शन करते थे। आज वही रसोई गैस सिलेंडर 1100 रूपये, 1200 रुपये महंगा हो चुका है पर भाजपा नेत्रियां चुप्पी साधे हुए है। उस पर विडंबना यह है कि वित्त मंत्री के पद पर एक महिला आसीन है उसके बाद भी कमर तोड़ महंगाई से भारत की माताएँ परेशान है। हर एक घर से महिलाओं की आवाज आ रही है अब बस करो मोदी जी और कितना रूलाओगे? महंगाई पे गरजने वाले की नाक के नीचे से पेट्रोल-डीजल का दाम शतक पार कर रहा है मोदी जी यदि आप गृहस्थ होते तो समझ में आता कि आय तो बढ़ती है नहीं, मगर महंगाई ने तो पंख ही लगा लिये है। पेट्रोल-डीजल के दामों के वृद्धि होने से परिवहन लागत बढ़ने के साथ हर एक दैनिक जीवन की आवश्यकता की वस्तुओं के दाम भी बढ़ गये हैं। भाजपा के नेताओं से पूरा देश सवाल कर रहा है कि इस बेलगाम महंगाई के बावजूद अब सड़क पर प्रदर्शन क्यों नहीं ? जब से केन्द्र में भाजपा सत्ता में आई है तब से एक भी काम ऐसा नहीं किया गया जिससे लोगों को राहत मिली हो।
प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता वंदना राजपूत ने कहा कि यूपीए शासनकाल में बात-बात पर धरना प्रदर्शन करने वाले भाजपा के वरिष्ठ नेता आज अपनी सरकार के दौरान देश के लोगों की हो रही दुर्गति को देखकर भी क्यों आंखें बंद किए हुए हैं? प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता वंदना राजपूत ने कहा कि किसानों के हित की बात करने वाली भाजपा के राज में ही आज किसानों की अत्यधिक दुर्दशा हो रही है।
रसोई गैस के दामों में निरंतर की जा रही बढ़ोतरी को लेकर प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता वंदना राजपूत ने भाजपा सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि एक तरफ तो भाजपा उज्जवला योजना के तहत निःशुल्क रसोई गैस सिलेंडर गरीबों को देने की बात करती है, तो दूसरी तरफ आम लोगों के लिए रसोई गैस की कीमतों में लगातार धीरे-धीरे बढ़ोत्तरी करके लोगों के साथ धोखा कर रही है।
प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता वंदना राजपूत ने कहा कि जब कोरोना संकटकाल में फंसे मजबूर हताश, परेशान, लाचार गरीब किसान, मजदूर, महिलाओं को मदद करने की बारी आती है तब भाजपा सरकार वित्तीय अभाव होने का विधवा विलाप करती है। केन्द्र सरकार महंगाई नियंत्रित करने में विफल हो गई है।अगामी चुनाव में इस विफलता का प्रतिसाद जनता इस महंगाई बढ़ाने वाली सरकार को अवश्य देगी।
 

लोकतांत्रिक तरीके से ज्ञापन देने पहुंचे पूर्व सभापति प्रफुल्ल विश्वकर्मा को महापौर ने पुलिस  बुलवाकर गिरफ्तार करवाया

लोकतांत्रिक तरीके से ज्ञापन देने पहुंचे पूर्व सभापति प्रफुल्ल विश्वकर्मा को महापौर ने पुलिस बुलवाकर गिरफ्तार करवाया

रायपुर। आज तूहर सरकार तूहर द्वार कार्यक्रम में तात्यापारा वार्ड की विभिन्न समस्याओं को लेकर महापौर जी को ज्ञापन देने का कार्यक्रम था वार्ड की सैकड़ों जनता एवं भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ तात्यापारा वार्ड के पूर्व पार्षद एवं नगर निगम के पूर्व सभापति श्री प्रफुल्ल विश्वकर्मा जी ज्ञापन देने शिविर में पहुंचे थे ।परंतु जैसे ही महापौर एजाज ढेबर शिविर में पहुंचे तो उनके साथ आए बाउंसर जैसे कार्यकर्ताओं ने बदसलूकी करना चालू कर दिए। महिलाओं के साथ बदतमीजी की एवं धक्का-मुक्की की जिसके कारण कुछ देर के लिए विवाद की स्थिति उत्पन्न हो गई परंतु प्रफुल्ल विश्वकर्मा जी ने स्थिति को संभालते हुए शिविर में ही अपने ज्ञापन देने की मांग को लेकर जमीन पर बैठ गए। लेकिन महापौर जी अपने भाषण देने में मस्त रहे और कुछ देर नारेबाजी करने के बाद जब महापौर जी ज्ञापन लेने नहीं आए तो पुलिस प्रशासन ने बलपूर्वक एवं बदतमीजी के साथ ऐसा लग रहा था कि पुलिस कांग्रेस का बिल्ला लगाकर काम कर रही है भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं को एवं पूर्व सभापति प्रफुल्ल विश्वकर्मा को जबरदस्ती उठाकर थाने ले आई। जहां पर भारतीय जनता पार्टी के सैकड़ों कार्यकर्ता जिलाध्यक्ष श्रीचंद सुंदरानी जी के नेतृत्व में आजाद चौक थाने में धरने पर बैठ गए। भाजपा कार्यकर्ताओं के दबाव में कार्यपालक मजिस्ट्रेट ने थाना धरना स्थल पर ही आकर प्रफुल्ल विश्वकर्मा जी से ज्ञापन लिया । कार्यपालक मजिस्ट्रेट ने भरोसा दिलाया कि वह इस ज्ञापन को कलेक्टर के माध्यम से कमिश्नर तक पहुंचाएंगे एवं जो भी मांगे इस ज्ञापन के माध्यम से की गई है उसे जल्द से जल्द निराकरण किया जाएगा।


भाजपा जिला अध्यक्ष श्रीचंद सुंदरानी ने कहा कि विपक्ष के लोकतांत्रिक तरीके से विरोध करने के हकों को कांग्रेस सरकार नहीं छीन सकती है और भाजपा कार्यकर्ता कांग्रेस सरकार के इन दमनकारी रवैया से डरने वाले नहीं जनता के हित में जब जब और जहां जहां जरूरत पड़ेगी भाजपा के पदाधिकारी और कार्यकर्ता अपना विरोध प्रकट करेंगे चाहे इसके लिए कोई भी कीमत चुकानी पड़े।
 

BJP महिला मोर्चा पदाधिकारी एवं कार्यकारिणी की सूचि हुई जारी, देखे किनको मिली जगह

BJP महिला मोर्चा पदाधिकारी एवं कार्यकारिणी की सूचि हुई जारी, देखे किनको मिली जगह

रायपुर, भाजपा महिला मोर्चा की जंबो कार्यकारिणी गठित कर ली गयी है। प्रदेश अध्यक्ष शालिनी राजपूत ने अपनी टीम में 100 से ज्यादा लोगों को दी है। प्रदेश अध्यक्ष शालिनी ने अपनी टीम में पांच उपाध्यक्ष, दो प्रदेश महामंत्री, छह प्रदेश मंत्री सहित 20 सक्रिय नेत्रियों को जगह दी है। मीनल चौबे, ममता साहू, रेखा मेश्राम, सुषमा खलको, शीतल नायक को उपाध्यक्ष बनाया गया है। जबकि विभा अवस्थी और पूर्व विधायक चंपा देवी पावले को प्रदेश महामंत्री बनाया गया है। हेमलता शर्मा कोषाध्यक्ष बनायी गयी है। वहीं शैलेनेंद्र परगनिया, दीप्ति पांडेय, श्याम बाई साहू, माया बेलचंदन, संगीता शर्मा और भावना बेहरा प्रदेश मंत्री बनायी गयी है। बिंदु महेश्वरी प्रदेश कार्यालय मंत्री बनायी गयी है। मीडिया प्रभारी किरण बघेल और सोशल मीडिया प्रभारी कीर्तिका जैन को बनाया गया है।
प्रदेश कार्यसमिति सदस्यों की संख्या 69 है, जबकि प्रदेश स्थायी आमंत्रित सदस्य 19 और प्रदेश विशेष आमंत्रित सदस्यों की संख्या 36 है। जिलाध्यक्षों की भी सूची जारी की गयी है। रायपुर शहर की जिलाध्यक्ष सीमा संतोष साहू बनायी गयी है, वहीं रायपुर ग्रामीण की अध्यक्ष सोना वर्मा, बलौदाबाजार की जिलाध्यक्ष सुलोचना यादव, , गरियाबंद की अंजूनायक, महासमुंद की कौशल्या बंसल, धमतरी की विथिका विश्वास, बालोद की दीपा साहू, राजनांदगांव की किरण साहू, बेमेतरा की लता वर्मा, कवर्धा की मधु तिवारी, कांकेर की उमा शर्मा, कोंडगांव की अनिता नेतमा, बस्तर की रामकुमारी यादव, दंतेवाड़ा की ओजस्वी मंडावी, सुकमा की चंद्रिका गुप्ता, बीजापुर जया चिन्डम, बिलासपुर जयश्री चौकसे, मुगेली वर्षा ठाकुर, जशपुर में ममता कश्यप, सरगुजा फुलेश्वरी पैकरा, बलरामपुर शकुंतला पोर्ते, कोरिया उर्मिला नेताम और गौरेला पेड्रा मरवाही से विभा नरहेल को जिम्मेदारी दी गयी है।
देखे पूरी लिस्ट:-
 

आरएनए एक्स्ट्रेक्शन किट की ख़रीदी के टेंडर में भारी अनियमितता के ख़ुलासे के मद्देनज़र स्वास्थ्य मंत्री के स्पष्टीकरण पर भाजपा प्रवक्ता अनुराग ने कह दी ये बड़ी बात, पढ़े पूरी खबर

आरएनए एक्स्ट्रेक्शन किट की ख़रीदी के टेंडर में भारी अनियमितता के ख़ुलासे के मद्देनज़र स्वास्थ्य मंत्री के स्पष्टीकरण पर भाजपा प्रवक्ता अनुराग ने कह दी ये बड़ी बात, पढ़े पूरी खबर

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता अनुराग सिंहदेव ने कोविड-19 की जाँच के लिए आरएनए एक्स्ट्रेक्शन किट की ख़रीदी के टेंडर में भारी अनियमितता के ताज़ा ख़ुलासे के मद्देनज़र प्रदेश स्वास्थ्य मंत्री के स्पष्टीकरण को बेहद गंभीर संकेत करने वाला बताया है। श्री सिंहदेव ने सवाल किया कि विभागीय मंत्री की मनाही के बाद किसने उक्त आपूर्तिकर्ता कंपनी को उक्त किट की आपूर्ति करने के लिए कहा? इस बात की जाँच होनी चाहिए कि किट सप्लाई करने पर अवैध तरीक़े से टेंडर हथियाने का काम किसके इशारे पर हुआ? उन्होंने कहा कियह प्रकरण स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंहदेव की अक्षमता को भी दिखता है औऱ वे एक कमजोर शोषित पीड़ित मंत्री के रूप में जाने जाएंगे ।
भाजपा प्रदेश प्रवक्ता श्री सिंहदेव ने कहा कि कोविड-19 की जाँच के लिए आरएनए एक्स्ट्रेक्शन किट की ख़रीदी के टेंडर में भारी अनियमितता का ताज़ा ख़ुलासा प्रदेश सरकार की कमीशनखोरी और काली कमाई का भंडा फोड़ने के लिए पर्याप्त है जिसमें स्वैब सैंपल के ज़रिए कोरोना के आरएनए की जाँच के काम आने वाली किट की ख़रीदी 320 रुपए में की जा रही है जबकि उसकी वास्तविक क़ीमत सिर्फ़ 100 रुपए बताई गई है। आपूर्तिकर्ता कंपनी वही किट ओड़िशा और कर्नाटक में एक तिहाई दाम पर दे रही है। मंत्री सिंहदेव ने माना है कि आपूर्तिकर्ता ने 100 रुपए में किट देने के मामले को लेकर मुलाक़ात की थी। उस दिन सप्लायर ने मंत्री सिंहदेव से आपत्तिजनक ढंग से चर्चा करते हुए पेशकश की थी कि ‘कुछ ज़रूरत हो तो बताइएगा’, जिस पर मंत्री ने सप्लायर को नहीं आने को कह दिया था। भाजपा प्रवक्ता श्री सिंहदेव ने कहा कि जब नीतिगत तौर पर ख़रीद कमेटी के फैसले को मानने पर सिद्धांतत: सहमति बन गई थी तो फिर बिना विभागीय मंत्री की जानकारी के उक्त किट की आपूर्ति होना एक बड़े घोटाले की ओर इशारा कर रहा है। श्री सिंहदेव ने सवाल किया कि अपने किसी मंत्री के फैसले को पलटना मुख्यमंत्री का अधिकार माना जाए तो क्या मंत्री सिंहदेव का इशारा इस घोटाले के लिए मुख्यमंत्री की ओर है? इस मामले में अनियमितता सामने लाकर टेंडर में गड़बड़ी पकड़ने वाले अधिकारी को नोटिस दिए जाने पर प्रदेश सरकार को कठघरे में खड़ा करते हुए भाजपा प्रदेश प्रवक्ता नेअब इस पूरे मामले की उच्चस्तरीय जाँच कराए जाने की ज़रूरत बताई है।
 

ढोल पटाखे व कार्यकर्ताओं के भारी उत्साह के बीच भाजपा के विभिन्न प्रकोष्ठ के संयोजको ने पदभार ग्रहण किया

ढोल पटाखे व कार्यकर्ताओं के भारी उत्साह के बीच भाजपा के विभिन्न प्रकोष्ठ के संयोजको ने पदभार ग्रहण किया

रायपुर, भारतीय जनता पार्टी एकात्म परिसर में आज प्रदेश के सभी तरफ से आए कार्यकर्ताओं के मध्य 14 प्रकोष्ठ का पदभार ग्रहण समारोह आयोजित किया गया था ।
भाजपा अपनी राजनीतिक के साथ-साथ सामाजिक दायित्व का भी निर्वहन करती है हमारे प्रकोष्ठ इसकी कड़ी है - विष्णुदेव साय
पदाधिकारियों को संबोधित करते हुए भारतीय जनता पार्टी प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय जी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ना केवल एक राजनीतिक संगठन है। बल्कि अपने सामाजिक दायित्वों का निर्वहन बखूबी जानती है ।उन्होंने समाज के सभी अंगों को आगे लाने के लिए विभिन्न प्रकोष्ठओं का गठन किया है। जिसके माध्यम से हर वर्ग भारतीय जनता पार्टी के साथ अपने आपको जुड़ा महसूस करें। विशेषकर सांस्कृतिक प्रकोष्ठ ,सैनिक प्रकोष्ठ, शिक्षा प्रकोष्ठ, एनजीओ प्रकोष्ठ के संयोजकओ से आवाहन किया कि आप अपने कार्य से समाज के हृदय में स्थान बना सकते हैं उन्होंने सभी संयोजको को बधाई दिया।


प्रकोष्ठ सकारात्मक दृष्टिकोण अपनाते हुए वंचित वर्गों को सामने लाने का कार्य करें - बृजमोहन अग्रवाल
पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल जी ने कहा यह अवसर आपके कार्य दिखाने का है । सारे प्रकोष्ठ अपने अपने क्षेत्र में जनता को होने वाली परेशानियों के लिए जनता के साथ खड़े होकर संघर्ष करें और सकारात्मक दृष्टिकोण अपनाते हुए वंचित वर्ग को आगे लाने का प्रयत्न करें । नवनिर्मित सैनिक प्रकोष्ठ के संयोजक से उन्होंने आवाहन किया कि हमारे देश की सेवा करने वाले जवान के परिजन की चिंता व उनके भविष्य के उत्थान के लिए आप कार्य करें।


पदभार ग्रहण समारोह में भारतीय जनता पार्टी पूर्व मंत्री राजेश मूणत,रामप्रताप सिंह,अमित साहू, छगन मूंदड़ा,सरला कोसरिया,महासमुंद जिला अध्यक्ष रूपकुमारी चौधरी, डॉ सलीम राज की उपस्थिति में भाजपा के विभिन्न प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक सह संयोजक ने पदभार लिया।
समारोह में बड़ी संख्या में महासमुंद क्षेत्र के कार्यकर्ता ढोल पटाखे लेकर चिकित्सा प्रकोष्ठ डॉ. विमल चोपड़ा के साथ पहुचे। आज,विधि प्रकोष्ठ जयप्रकाश चंदवंशी, आर्थिक प्रकोष्ठ राजेश अग्रवाल,सह संयोजक अमित चिमनानी,एनजीओ प्रकोष्ठ सुरेन्द्र पाटनी, मछुवारा प्रकोष्ठ के नेहरू निषाद, शिक्षा प्रकोष्ठ विशेश्वर पटेल, सहकरिता प्रकोष्ठ संयोजक शिशकांत द्विवेदी,व्यापार प्रकोष्ठ लाभचंद बाफना,सह संयोजक सुभाष अग्रवाल,व्यवसायी प्रकोष्ठ प्रदीप सिंह, झुग्गी- झोपड़ी प्रकोष्ठ महेन्द्र पंडित, सांस्कृतिक प्रकोष्ठ राजेश अवस्थी, आरटीआई प्रकोष्ठ विजयशंकर मिश्रा, बुनकर प्रकोष्ठ पुरूषोत्तम देवांगन, पूर्व सैनिक प्रकोष्ठ सीताराम निषाद ने पदभार ग्रहण किया। कार्यक्रम का संचालन सांस्कृतिक प्रकोष्ठ संयोजक राजेश अवस्थी ने किया। आभार प्रदर्शन एनजीओ प्रकोष्ठ के सुरेंद्र पाटनी ने किया।
 

केन्द्र सरकार अपने जेब भरने के लिए आम आदमी के जेब मे डाका डाल रही है, बेलगाम महंगाई के बावजूद बीजेपी नेत्रियां भी खामोश क्यों - वंदना राजपूत

केन्द्र सरकार अपने जेब भरने के लिए आम आदमी के जेब मे डाका डाल रही है, बेलगाम महंगाई के बावजूद बीजेपी नेत्रियां भी खामोश क्यों - वंदना राजपूत

रायपुर। केन्द्र सरकार के गलत नीति के कारण पेट्रोल और डीजल की कीमतों में लगातार बढ़ोतरी होने से महंगाई प्रतिदिन बढ़ती जा रही हैं। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता वंदना राजपूत ने कहा कि बेलगाम महंगाई से आम आदमी की मुश्किलें बढ़ती ही जा रही है। पेट्रोल और डीजल के भाव अब गोल्ड जैसे महंगे हो रहे हैं। आज पेट्रोल में 24 पैसे वहीं डीजल में 27 पैसे की बढ़त दर्ज की गई है। इसी के साथ पेट्रोल 84.38 रुपए और डीजल 82.27 रुपए प्रति लीटर हो गया है, नरेंद्र मोदी की नेतृत्व वाली सरकार में अब वह दिन दूर नही कि पेट्रोल-डीजल दाम शतक पार हो जायेगें।
प्रदेश प्रवक्ता वंदना राजपूत ने कहा है कि पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी को लेकर आरोप लगाया कि सरकार लगातार पेट्रोलियम उत्पादों के दाम बढ़ा रही है क्योंकि उसके पास राजस्व का कोई दूसरा साधन नहीं है। जब से देश की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बने है तब से आम आदमी की जेब में डाका एवं सिर्फ डाका डाला जा रहा है। कमरतोड महंगाई से लोग परेशान है। आम लोगों को कोई राहत नहीं दे रही है। लगातार पेट्रोल-डीजल एवं गैस सिलेंडर महंगा होता जा रहा है।
प्रदेश प्रवक्ता वंदना राजपूत ने कहा कि सरकार अपना खजाना भर रही है, लेकिन बोझ आम लोगों पर डाल रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात के मुख्यमंत्री रहते हुए कहा था कि पेट्रोल और डीजल की कीमत में बढ़ोतरी हो रही है जिससे साफ जाहिर है कि केंद्र सरकार विफल और निकम्मी है।
उन्होंने कहा, कि फरवरी, 2015 में दिल्ली विधानसभा चुनाव के समय मोदी ने कहा था कि मैं किस्मत वाला हूं और इसका जनता को फायदा हुआ है, ऐसे किस्मत वाले को वोट दीजिए। मोदी जी से कहना चाहती हूं कि अब तो आप किस्मत वाले नहीं रहे क्योंकि जनता पर बोझ़ बढ़ रहा है। महिलाएं महंगाई से त्रस्त है। सरकार की किस्मत फूट रही है और वह जनता को लूट रही है। आप जवाब दीजिए कि ऐसा क्यों हो रहा है?’
प्रधानमंत्री और वित्त मंत्री को देश की आर्थिक स्थिति के बारे में सही जानकारी नहीं है, इसलिए पेट्रोल, डीजल एवं गैस सिलेंडर की कीमत लगातार बढ़ाई जा रही है। सरकार के पास राजस्व का कोई साधन नहीं है, इसलिए पेट्रोल, डीजल एवं गैस सिलेंडर की कीमत बढ़ा रही है। पेट्रोलियम पदार्थ के बढ़ती दामों ने लोगों का जीना मुश्किल कर दिया है। बेलगाम महंगाई ने भी भाजपा नेत्रियों को खामोश कर दिया है।
 

धान खरीदी के आंकड़ों को भाजपा फ़र्ज़ी साबित करें या माफ़ी मांगें - शैलेश नितिन त्रिवेदी

धान खरीदी के आंकड़ों को भाजपा फ़र्ज़ी साबित करें या माफ़ी मांगें - शैलेश नितिन त्रिवेदी

रायपुर | छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय को चुनौती दी है कि वे धान खरीदी के सरकारी आंकड़ों को या तो फर्जी साबित करें या माफी मांगे। कांग्रेस ने कहा है कि किसानों का मखौल उड़ाने वाले लोग किसानों के नाम पर अफवाह उड़ाने का खेल बंद करें। 

कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि छत्तीसगढ़ में हुई  रिकॉर्ड धान खरीदी से भाजपा बौखला गई है और झूठ फैलाने में लगी है। 15 साल तक औसत 50 लाख टन धान खरीदी करने वाली भाजपा रमन सिंह सरकार के किसान विरोधी चरित्र को छिपाने के लिए झूठ का सहारा ले रही है।
भाजपा का प्रदेशभर में किसान विरोधी भूपेश सरकार के खिलाफ जिला स्तरीय प्रदर्शन

भाजपा का प्रदेशभर में किसान विरोधी भूपेश सरकार के खिलाफ जिला स्तरीय प्रदर्शन

रायपुर | भरतीय जनता पार्टी प्रदेशभर में जिला स्तरीय धरना प्रदर्शन करने जा रही हैं। 22 जनवरी को भारतीय जनता पार्टी प्रदेश के सभी जिलों में छत्तीसगढ़ की किसान विरोधी भूपेश बघेल सरकार के खिलाफ उनकी किसान विरोधी नीतियों जिसमे लागातार छत्तीसगढ़ के किसानों को प्रताड़ित किया जा रहा हैं, धान खरीदी में विलंब से लेकर बारदाने की कमी का बहाना बनाने व अपनी जिम्मेदारियों से भागने वाली प्रदेश सरकार, नकली खाद, बीज के नाम पर छत्तीसगढ़ के किसानों को छलने वाली प्रदेश सरकार, राजीव गांधी न्याय योजना के नाम पर अन्याय कर भुगतान नहीं करने वाली प्रदेश सरकार, वर्तमान धान खरीदी का भुगतान नहीं करने वाली प्रदेश सरकार और लगातार झूठ बोलने, भ्रम फैलाने एवं छत्तीसगढ़ के किसानों का अहित करने वाली, किसानों का रकबा कम करने वाली छत्तीसगढ़ की सरकार के खिलाफ धरना प्रदर्शन करेगी व कलेक्टोरेट का घेराव करेगी।


भरतीय जनता पार्टी के धरना प्रदर्शन व कलेक्टोरेट घेराव में भाजपा प्रदेश प्रभारी डी. पुरंदेश्वरी व भाजपा प्रदेश सहप्रभारी नितिन नबीन विशेष रूप से शामिल होंगी। भाजपा प्रदेश प्रभारी डी. पुरंदेश्वरी, पूर्व मुख्यमंत्री व भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. रमन सिंह राजधानी रायपुर के धरना प्रदर्शन व घेराव में सम्मिलित होंगे। भाजपा प्रदेश सह प्रभारी नितिन नबीन बिलासपुर एवं भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय बस्तर के प्रदर्शन में शामिल होंगे। 

सांसद सुनील सोनी, पूर्व मंत्री व वरिष्ठ विधायक बृजमोहन अग्रवाल, पूर्व मंत्री राजेश मूणत, चन्द्रशेखर साहू, सुभाष राव, मोतीलाल साहू, संजय श्रीवास्तव, जिलाध्यक्ष श्रीचंद सुन्दरानी, पूर्व विधायक देवजी भाई पटेल, नन्दकुमार साहू, नवीन मार्कण्डेय, छगन मुंदड़ा राजधानी रायपुर के प्रदर्शन में शामिल होंगे।

इसी कड़ी में बिलासपुर के धरना प्रदर्शन व घेराव में भाजपा के सहप्रदेश प्रभारी नितिन नबीन विशेष रूप से सम्मिलित होंगे। बिलासपुर में नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक, पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष बद्रीधर दीवान, पूर्व मंत्री अमर अग्रवाल, भूपेन्द्र सवन्नी, विधायक डाॅ. कृष्णमूर्ति बांधी, रजनीश सिंह श्रीमती हर्षिता पाण्डेय बिलासपुर के प्रदर्शन में शामिल होंगे।

इसी कड़ी में बस्तर में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय, पूर्व मंत्री केदार कश्यप, किरण देव, संतोष बाफना, डाॅ. सुभाऊ कश्यप, श्रीनिवास राव मद्दी, लच्छूराम कश्यप, बैदूराम कश्यप, समुंद साय कच्छ।
दंतेवाड़ा में पूर्व सांसद दिनेश कश्यप, पूर्व मंत्री महेश गागड़ा, श्रीमती ओजस्वी मंडावी, नंदलाल मुड़ामी, श्रीमती कमला नाग। 
भिलाई दुर्ग में राज्यसभा सांसद सुश्री सरोज पाण्डेय, पूर्व मंत्री प्रेमप्रकाश पाण्डेय, विद्यारतन भसीन, श्रीमती उषा टावरी, श्रीमती रमशीला साहू, सांवला राम डाहरे। 
बलौदाबाजार में पूर्व विधानसभा अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल, विधायक शिवरतन शर्मा, डाॅ. सनम जांगड़े। 
गरियाबंद में पूर्व सांसद चंदूलाल साहू, विधायक डमरूधर पूजारी, गोवर्धन मांझी, संतोष उपाध्याय। 
महासमुंद में सांसद चुन्नीलाल साहू, श्रीमती सरला कोसरिया, पूनम चंद्राकर, विमल चोपड़ा, रामलाल चैहान, श्रीमती रूपकुमारी चैधरी। 
धमतरी में संदीप शर्मा, विधायक श्रीमती रंजना साहू, श्रवण मरकाम, इन्दर चोपड़ा, श्रीमती पिंकी शिवराज सिंह। 
बेमेतरा में पूर्व मंत्री दयालदास बघेल, लाभचंद बाफना, अवधेश चंदेल, श्रीमती संध्या परगनिया। 
बालोद में मोहन मंडावी, राकेश यादव, विरेन्द्र साहू, प्रीतम साहू, विकास मरकाम। 
राजनांदगांव में खूबचंद पारख, पूर्व सांसद अभिषेक सिंह, कोमल जंघेल, श्रीमती सरोजनी बंजारे, नीलू शर्मा। 
कवर्धा में सांसद संतोष पाण्डेय, मोतीराम चंद्रवंशी, विजय शर्मा, अशोक साहू। 
कांकेर में पूर्व सांसद विक्रम उसेंडी, श्रीमती सुमित्रा मारकोले, श्रीमती शालिनी राजपूत, भोजराज नाग। 
कोण्डागांव में सुश्री लता उसेंडी, सेवकराम नेताम, मनोज जैन। 
नारायणपुर में दिनेश कश्यप, भरत मटियारा। 
सुकमा में अरूण सिंह भदौरिया, मनोज देव, धनीराम बारसे। बीजापुर में महेश गागड़ा, जी. वेंकटेश्वर राव। 
गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही में सांसद अरूण साव, ज्योतिनंद दुबे। 
मुंगेली में विधायक पुन्नूलाल मोहले, लखनलाल साहू, ठा. भूपेन्द्र सिंह, तोखन साहू, श्रीमती अंजू सिंह राजपूत। 
जांजगीर-चांपा में सांसद गुहाराम अजगल्ले, विधायक नारायण चंदेल, निर्मल सिंहा, श्रीमती कमला पाटले, युध्दवीर सिंह जुदेव, सौरभ सिंह, खिलावन साहू, अंबेश जांगड़े। 
रायगढ़ में सांसद गोमती साय, गिरधर गुप्ता, ओपी चैधरी, रोशनलाल अग्रवाल, सत्यानंद राठिया, श्रीमती केराबाई मनहर। 
जशपुर में रणविजय सिंह जूदेव, कृष्णकुमार राय, गणेश राम भगत, शिवशंकर पैकरा, श्रीमती रायमुनी भगत, राजशरण भगत। 
सरगुजा में कमलभान सिंह, मेजर अनिल सिंह, अनुराग सिंहदेव, विजयनाथ सिंह, अखिलेश सोनी, भरत सिंह सिसोदिया। 
सूरजपुर में रामसेवक पैकरा, भीमसेन अग्रवाल, श्रीमती परमेश्वरी जांगड़े, श्रीमती रजनी त्रिपाठी। 
बलरामपुर में राज्यसभा सांसद रामविचार नेताम, सिध्दनाथ सिंह, श्रीमती उध्देश्वरी पैकरा। 
कोरिया में प्रबल प्रताप सिंह जूदेव, भैयालाल राजवाड़े, श्रीमती चम्पादेवी पावले, श्यामबिहारी जायसवाल प्रमुख रूप से शामिल होंगे।
भाजपा नेता स्वयं का धान बेचकर किसानों के नाम से राजनीति कर रहे- धनंजय सिंह ठाकुर

भाजपा नेता स्वयं का धान बेचकर किसानों के नाम से राजनीति कर रहे- धनंजय सिंह ठाकुर

रायपुर। भाजपा के किसान आंदोलन को कांग्रेस ने राजनीतिक स्टंट करार दिया। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार धान बेचने पंजीकृत 21 लाख 50 हजार किसानों से 90 लाख मीट्रिक टन धान खरीदी का लक्ष्य निर्धारित की है। 1 दिसम्बर से आज तक लगभग 85 प्रतिशत से अधिक किसानों से धान की खरीदी की जा चुकी है और किसानों के बैंक खाता में लगभग 12500 करोड़ से अधिक की राशि भुगतान कर दिया है। धान खरीदी के निर्धारित समय के पहले 90 लाख मीट्रिक टन धान खरीदी के लक्ष्य को पूरा कर लेगी।
प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि भाजपा के नेता स्वयं का धान बेचने के बाद फुर्सत मिलने पर अब किसानों के नाम से राजनीतिक स्टंट बाजी करने में लगे हुए है। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष से लेकर जिला एवं मंडल अध्यक्ष, भाजपा किसान मोर्चा के प्रमुख एवं पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह, नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक, भाजपा सांसद विजय बघेल, गोमती साय, भाजपा के विधायक रजनीश सिंह सहित भाजपा के पूर्व मंत्री, पूर्व विधायक, पूर्व सांसदों ने अपने धान को राज्य सरकार के उपार्जन केंद्रों में बेचकर धान का भुगतान खाता में प्राप्त कर लिया है।
प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह एवं भाजपा नेताओं को वास्तविक में किसानों की चिंता है तो उन्हें दिल्ली में आंदोलनरत किसानों के समर्थन में जेल भरो आंदोलन करना चाहिए। मोदी सरकार किसानों की समस्या सुनने के बजाय गूंगी बहरी बनकर बैठी सरकार को जगाना चाहिए।
प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि वादाखिलाफी भाजपा नेताओं का चरित्र हो गया है। सत्ता में रहे या सत्ता के बाहर रहे झूठ बोल कर गुमराह कर राजनीति करना इनकी नियति बन गई है। मोदी सरकार छत्तीसगढ़ से 60 लाख मीट्रिक टन चावल लेने का सैद्धांतिक सहमति प्रदान करने के बाद मात्र 24 लाख मीट्रिक टन चावल एफसीआई में जमा कराने की अनुमति देकर छत्तीसगढ़ के किसानों के साथ एक और धोखा किया है। इसके पहले भी किसान सम्मान निधि देने में छत्तीसगढ़ के किसानों के साथ भेदभाव किया गया। प्रधानमंत्री मजदूर कल्याण योजना से छत्तीसगढ़ के श्रमिक भाइयों को दूर रखा गया और किसानों को धान की कीमत एक मुश्त 2500 रू. क्विंटल देने में नियम शर्ते लगाई, राजीव गांधी किसान न्याय यासेजना में रोक लगाने का षड़यंत्र रचा गया, बारदाना आपूर्ति में रोक लगाई गई। छत्तीसगढ़ के भाजपा के सांसद छत्तीसगढ़ के साथ हो रहे भेदभाव पर मौन है।
प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह से पूछा कि 15 साल के शासन काल में कब 90 लाख मीट्रिक टन चावल राज्य के किसानों से खरीदे हैं? किसानों को धान की कीमत समर्थन मूल्य से ऊपर कब दिए है? कब छत्तीसगढ़ में 21 लाख 50 हजार किसानों से धान की खरीदी किए हैं? इसका जवाब डॉ रमन सिंह को देना चाहिए। डॉ रमन सिंह ने किसानों से किए वादों को पूरा नहीं किया। 2100 रू. प्रति क्विंटल की कीमत और ₹300 बोनस प्रति क्विंटल देने का वादा किया था और वादा खिलाफी किए हैं। रमन सिंह के 15 साल के शासनकाल में एवरेज 50 लाख मीट्रिक टन से अधिक की धान की खरीदी नहीं की गई। 6 से 7 लाख किसानों से ही धान की खरीदी होती रही है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार ने दो साल में एवरेज 85 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी की जा रही है। 15 साल के शासनकाल में छत्तीसगढ़ के किसान परेशान रहे हैं और भाजपा समर्थित बिचौलिया खुशहाल थे। अब छत्तीसगढ़ के किसान खुशहाल हो रहे हैं तो भाजपा नेताओं के पेट में दर्द हो रहा है। किसानों के नाम से राजनीति करने वाले डॉ. रमन सिंह को किसानों की वास्तविक चिंता है तो केंद्र में आंदोलन कर रहे किसानों के पक्ष में आवाज बुलंद करें।
 

22 जनवरी को सरकार के खिलाफ आंदोलन को सफल बनाने भाजपा की बैठक प्रदेश प्रभारी डी पुरंदेश्वरी और पूर्वमुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह करेंगे नेतृत्व

22 जनवरी को सरकार के खिलाफ आंदोलन को सफल बनाने भाजपा की बैठक प्रदेश प्रभारी डी पुरंदेश्वरी और पूर्वमुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह करेंगे नेतृत्व

रायपुर, प्रदेश भाजपा के आव्हान पर धान खरीदी में होने वाली अव्यवस्था, कॉन्ग्रेस सरकार की किसानों से वादाखिलाफी के विरोध व किसानों के समर्थन में 22 जनवरी के प्रदेशव्यापी गिरफ्तारी,धरना, प्रदर्शन के मद्देनजर भाजपा रायपुर जिला द्वारा कार्यक्रम को सफल बनाने बैठकों का दौर प्रारंभ हो गया है । आज भाजपा कार्यालय एकात्म परिसर रायपुर के प्रथम बैठक में जिला अध्यक्ष श्रीचंद सुंदरानी ने भाजपा रायपुर शहर के पार्षद दल व पार्षद प्रत्याशियों की बैठक ली।


कार्यक्रम के बारे में जानकारी देते हुए उन्होंने कहा के रायपुर के प्रदर्शन का नेतृत्व भाजपा छत्तीसगढ़ प्रभारी डी पुरंदेश्वरी जी व भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह करेंगे। उन्होंने कहा कि किसानों की आवाज को ताकत देने के लिए भारी संख्या में कार्यकर्ताओं सहित शामिल होकर कार्यक्रम को सफल बनाएं।
भाजपा जिला मीडिया प्रभारी अनुराग अग्रवाल ने बताया कि इसी परिपेक्ष में 19 जनवरी दोपहर 3:00 बजे महिला मोर्चा की व 4:00 बजे युवा मोर्चा की बैठक भी आहूत की गई है ।
किसान आंदोलन रायपुर जिला संयोजक छगन मूंदड़ा व सह संयोजक डॉ प्रमोद साहू को बनाया गया है।
बैठक को भाजपा प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव ने भी संबोधित किया । बैठक में मुख्य रूप से भाजपा जिला महामंत्री रमेश सिंह ठाकुर , ओंकार बैस ,वरिष्ठ पार्षद सूर्यकांत राठौर, मीनल चौबे , मृत्युंजय दुबे , भाजपा नेता सुभाष तिवारी, जिला मंत्री अकबर अली, जिला मीडिया प्रभारी अनुराग अग्रवाल , पार्षदगण सीमा साहू, तिलक पटेल, नारद कौशल, कामिनी देवगन, सरिता आकाश दुबे, विश्वादिनी पांडेय, सुमन राम प्रजापति, सावित्री जगत, योगेंद्र वर्मा, सुभाष तिवारी, सुनील चौधरी, सचिन मेघानी, रोहित साहू, भोला राम साहू, यूनुस कुरैशी, राजियांत ध्रुव, टेशू साहू, ललिता झा, शिल्पा राहुल गोलछा आदि उपस्थित थे।
 

प्रतिबंधित क्षेत्र में सैकड़ों लोगों का प्रवेश कर सत्ता बल का निर्लज्ज प्रदर्शन करना राजभवन और राज्यपाल पद की गरिमा और सम्मान से अक्षम्य खिलवाड़ : मूणत

प्रतिबंधित क्षेत्र में सैकड़ों लोगों का प्रवेश कर सत्ता बल का निर्लज्ज प्रदर्शन करना राजभवन और राज्यपाल पद की गरिमा और सम्मान से अक्षम्य खिलवाड़ : मूणत

रायपुरभारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता व पूर्व मंत्री राजेश मूणत ने प्रदेश कांग्रेस की राजधानी में आहूत रैली को अपने सत्ताबल और कपटपूर्ण राजनीतिक आचरण का बेहद शर्मनाक प्रदर्शन निरूपित करते हुए कहा है कि अपने राज्य के अन्नदाता किसानों के आँसुओं पर जिस प्रदेश सरकार और कांग्रेस की संवेदनाएँ नहीं जाग रही है, वह सरकार और कांग्रेस अपने नाकारापन पर पर्दा डालने के लिए उन कृषि क़ानूनों को लेकर विलाप करने में लगी है, जिसका वादा ख़ुद कांग्रेस ने 2019 के लोकसभा चुनाव में अपने घोषणापत्र में देश से किया था। श्री मूणत ने कहा कि वस्तुत: आज कांग्रेस का नेतृत्व बौना और दुविधाग्रस्त है और विचारशील नेतृत्व आइसोलेट हो गया है। प्रदेश में किसानों की तक़लीफ़ और कोरोना संक्रमण की चिंता करना छोड़ अब प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और कांग्रेस के तमाम नेता ‘परिवार’ की फसल बचाने की चिंता में लगे हैं!

पढ़ें : कपल्स के लिए सरकार की नई SEX गाइडलाइन जारी, अब सेक्स करते वक्त इन खास बातो का रखना होगा ध्यान 

भाजपा प्रदेश प्रवक्ता व पूर्व मंत्री श्री मूणत ने कहा कि प्रदेश कांग्रेस और सरकार के लोग इस तरह की सियासी नौटंकियाँ करके किसानों को बरगलाने के लाख जतन करें, पर प्रदेश में धान ख़रीदी के पूरे सिस्टम को चौपट करने और किसानों का पूरा धान ख़रीदने से बचने के अपने साजिशाना राजनीतिक एजेंडे पर चल रही प्रदेश सरकार को अपने कर्मों का फल तो भोगने के लिए तैयार रहना ही होगा। श्री मूणत ने कहा कि आज कांग्रेस न तो कोरोना संक्रमण के मद्देनज़र तय गाइडलाइन का पालन कर रही है और न ही राजभवन से जुड़े क़ायदों को मान रही है।

पढ़ें : शादी का झांसा देकर करते रहे दुष्कर्म, बिलासपुर में दो गिरफ्तार 

कांग्रेस ने शुक्रवार को प्रतिबंधित क्षेत्र होने के बावज़ूद राजभवन में सैकड़ों लोगों के साथ नारेबाजी और पुलिस के साथ झूमाझटकी करके कांग्रेस ने अपने सत्ता बल का निर्लज्ज प्रदर्शन किया। यह राजभवन और राज्यपाल पद की गरिमा और सम्मान से खिलवाड़ का अक्षम्य राजनीतिक आचरण है। प्रशासन भी कांग्रेस के सत्ता बल के आगे समर्पण की मुद्रा में रहा। श्री मूणत ने इस बात के लिए भी कांग्रेस नेताओं पर कटाक्ष किया कि कृषि क़ानूनों की मुख़ालफ़त के लिए ट्रैक्टर जलाने का घिनौना कृत्य कर चुकी कांग्रेस आज ट्रैक्टर रैली निकालकर अपनी जो जगहँसाई करा रही है, उसे प्रदेश का किसान बख़ूबी समझ रहा है।

पढ़ें : बड़ी खबर : कोरोना के बाद अब देश के इस क्षेत्र में आया तीव्र भूकंप, 34 लोगों की हुई मौत, 600 से अधिक लोग घायल

श्री मूणत ने तंज कसा कि एक तरफ़ कांग्रेस के लोग कृषि क़ानूनों के नाम पर झूठ और नफ़रत फैला रहे हैं, वहीं कांग्रेस शासित पंजाब की राज्य सरकार ने कृषि क़ानूनों को यथावत लागू करके कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ चल रहे आंदोलन को टाँय-टाँय फिस्स कर दिया है और अपनी पंजाब सरकार के इस क़दम के बाद अब कांग्रेस के सामने साँप-छुछुंदर वाली गति हो गई है। प्रदेश के कांग्रेस नेता अपनी नौटंकियों के वामपंथी स्क्रिप्ट राइटर्स  की कठपुतली बनने से बचें।

पढ़ें : अनोखा नज़ारा: मंदिर के बाहर कुत्ता दे रहा है आशीर्वाद, लाखों लोग देख चुके ये Video

भाजपा प्रदेश प्रवक्ता व पूर्व मंत्री श्री मूणत ने कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ कांग्रेस के आंदोलन को वैचारिक दरिद्रता से उपजी राजनीतिक कुंठा का विफल प्रदर्शन बताया और कहा कि कृषि विधेयकों का विरोध करके कांग्रेस ने एक बार फिर अपने दोहरे राजनीतिक और किसान विरोधी चरित्र का ही परिचय देते हुए यह साबित कर दिया है कि किसानों के नाम पर कांग्रेस केवल राजनीति करती आई है और किसानों के बेहतर भविष्य की बात तो न उसने कभी सोची और न ही वह किसानों का भला कर सकती है। श्री मूणत ने कांग्रेस के विरोध-प्रदर्शन पर तीखा कटाक्ष करते हुए कहा कि कांग्रेस इस मुद्दे पर केवल और केवल झूठ और भ्रम फैलाती ख़ुद ही झूठी और भ्रमित हो रही है और उसे यह सूझ ही नहीं रहा है कि कृषि विधेयकों पर आख़िर वह क्या रुख़ अपनाए? श्री मूणत ने कहा कि पंजाब में उसका नज़रिया इन विधेयकों को लेकर अलग है तो मध्यप्रदेश में वह मंडी टैक्स के मुद्दे पर आढ़तियों-दलालों के साथ खड़ी है, छत्तीसगढ़ में वह मंडी टैक्स ख़त्म करने को तैयार नहीं है और मुख्यमंत्री बघेल हर बार अपनी सरकार के किसान विरोधी होने का प्रमाण ख़ुद ही दे रहे हैं। श्री मूणत ने कहा कि कर्ज़माफ़ी और बकाया बोनस भुगतान के मामले में राजनीतिक कुटिलता का प्रदर्शन कर वादाख़िलाफ़ी करने वाली प्रदेश सरकार और कांग्रेस यह स्पष्ट करे कि विधानसभा चुनाव के समय राहुल गांधी ने जो वादे किए थे, उन पर क्या हो रहा है और यह भी कि राहुल गांधी सच्चे हैं या फिर मुख्यमंत्री बघेल की सियासी लफ़्फ़ाजियाँ? धान ख़रीदी के नाम पर किसानों के आत्म-सम्मान के साथ क्रूर खिलवाड़ करने वाली प्रदेश सरकार समर्थन मूल्य की राशि का किश्तों में भुगतान कर किसानों को खून के आँसू रुला रही है।

कांग्रेस के शैलेश नितिन त्रिवेदी का बड़ा आरोप :  भाजपा बताये श्री राम मंदिर निर्माण हेतु पहले एकत्रित चंदे के हजारो करोड़ किसके पास है ?

कांग्रेस के शैलेश नितिन त्रिवेदी का बड़ा आरोप : भाजपा बताये श्री राम मंदिर निर्माण हेतु पहले एकत्रित चंदे के हजारो करोड़ किसके पास है ?

रायपुर प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने पूछा है कि क्या रमन सिंह जी राम मंदिर के लिये एकत्रित चंदे का हिसाब नहीं देने को रामकाज समझते है? मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राम मंदिर के चंदे का हिसाब मांग लिया है तो रमन सिंह जी को क्यों तकलीफ हो रही है? रमन सिंह जी अब यह कम से कम यह तो न कहे कि चंदे का हिसाब न देना भी रामकाज है। भाजपा को आगे बढ़ाने के लिये राम नाम और राम नाम से एकत्रित चंदे की धनराशि का उपयोग बंद होना चाहिये। यह तो स्तरहीन राजनीति की इंतिहा है। अयोध्या में भगवान राम के मंदिर का निर्माण सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद हो रहा है। मंदिर निर्माण के लिए उच्चतम न्यायालय के निर्देश पर कमेटी बनी है। मंदिर निर्माण उसी कमेटी की देख रेख में होगा। कमेटी ने मंदिर निर्माण में सहयोग के लिए अपना बैंक खाता भी सार्वजनिक किया है जिस किसी श्रद्धालु को मंदिर निर्माण में सहयोग करना होगा, इसी खाते में सीधे सहयोग कर सकता है। अब आरएसएस किस हैसियत से मंदिर के नाम पर चंदा एकत्रित करने जा रहा है? उसे चंदा एकत्रित करने के लिए किसने अधिकृत किया है ?

 रामकाज में विघ्न डालना, कांग्रेस का इतिहास रहा है- रमन सिंह

रामकाज में विघ्न डालना, कांग्रेस का इतिहास रहा है- रमन सिंह

रायपुर। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डा. रमन सिंह ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा राम मंदिर के पैसों का हिसाब को लेकर दिए बयान पर पलटवार किया है। 
 
 
डा. सिंह ने ट्वीट कर कहा कि रामकाज में विघ्न डालना का तो कांग्रेस का इतिहास रहा है। पहले पूछते थे कि प्रभु श्रीराम का अस्तित्व है क्या, फिर पूछने लगे मंदिर की तारीख कब बताओगे, अब मंदिर निर्माण होने लगा तो पूछते है कि चंदे का हिसाब कब दोगे। 

विदित हो कि मुख्यमंत्री श्री बघेल ने राम मंदिर के पैसों के हिसाब को लेकर केन्द्र सरकार पर निशाना साधा था। उन्होंने कहा था कि मंदिर के पैसो का हिसाब भाजपा नहीं दे पायी, छुपाने का क्या कारण है।

 

मुख्यमंत्री के बाद अब मंत्री लखमा के भाजपा को बेशर्म और डॉ. रमन व कार्यकर्ताओं को प्रदर्शन करने पर चुल्लूभर पानी में डूब मरने की बात कहे जाने पर प्रदेश महामंत्री देव का तीखा हमला

मुख्यमंत्री के बाद अब मंत्री लखमा के भाजपा को बेशर्म और डॉ. रमन व कार्यकर्ताओं को प्रदर्शन करने पर चुल्लूभर पानी में डूब मरने की बात कहे जाने पर प्रदेश महामंत्री देव का तीखा हमला

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश महामंत्री किरण देव ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के बाद अब उनके एक मंत्री कवासी लखमा द्वारा भाजपा को बेशर्म कहे जाने और पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह व भाजपा कार्यकर्ताओं को प्रदेश सरकार के ख़िलाफ़ प्रदर्शन करने पर चुल्लूभर पानी में डूब मरने की बात कहे जाने पर तीखी नाराज़गी जताई है। श्री देव ने इसे अपनी ही विफलताओं पर प्रदेश सरकार की खिसियाहट पर खंभा नोचने वाला कृत्य बताया है और कहा है कि अब तो मुख्यमंत्री समेत पूरी प्रदेश सरकार को अपनी बददिमाग़ी और बदज़ुबानी के लिए न केवल भाजपा नेताओं व कार्यकर्ताओं से, अपितु पूरे प्रदेश से बिना शर्त माफ़ी मांगकर अपने मानसिक अवसाद और असंतुलन का तुरंत इलाज कराना चाहिए।

भाजपा प्रदेश महामंत्री श्री देव ने कहा कि एक स्वस्थ लोकतंत्र में शासन के ग़लत कामों का विरोध करने पर इस तरह की निम्नस्तरीय भाषा का प्रयोग करना सत्तारूढ़ दल के अहंकार और घोर अलोकतांत्रिक मानसिकता का परिचायक है। धान ख़रीदी के नाम पर किसानों को प्रताड़ित करने पर उतारू प्रदेश सरकार अपने किसान-विरोधी चरित्र के बेनक़ाब होने पर अब बौखला रही है और अपनी विफलताओं, वादाख़िलाफ़ी और धान ख़रीदी में सियासी नौटंकियाँ करने वाले कांग्रेस के सत्ताधीश दो साल में ही अपना मानसिक संतुलन खोकर अनुचित शब्दों का प्रयोग करने लगे हैं। श्री देव ने कहा कि यह भाषा कांग्रेस के राजनीतिक संस्कारों का शर्मनाक प्रदर्शन है और इससे साफ़ हो जाता है कि कांग्रेस पहले भी लोकतंत्र के नाम पर देश की राजनीति पर एक बदनुमा धब्बा थी और आज भी वह आपातकाल की मानसिकता से उबरने को तैयार नहीं है। अपने विरोध में उठने वाली हर आवाज़ पर अपनी भाषायी कृपणता का परिचय देकर प्रदेश सरकार के मुख्यमंत्री समेत मंत्री जिस तरह झूठ और नफ़रत की सियासत कर रहे हैं, उसका क़रारा ज़वाब तो प्रदेश की जनता अगले विधानसभा चुनाव में उन्हें यक़ीनन देगी ही।

भाजपा प्रदेश महामंत्री श्री किरण देव ने कहा कि नीति, नीयत और नेतृत्व के संकट से जूझती कांग्रेस वैचारिक दरिद्रता की प्रतीक तो बन ही चुकी है, अब भाषा की दरिद्रता भी कांग्रेस की पहचान बन चुकी है। अपनी राजनीतिक हैसियत पर लगातार पड़ रहे पाले के बावज़ूद कांग्रेस नेतृत्व न तो ख़ुद राष्ट्रीय स्तर पर झूठ और नफ़रत फैलाने से बाज आ रहा है और न ही अपने नेताओं, मुख्यमंत्री और मंत्रियों को ऐसा करने से रोक रहा है। श्री देव ने कहा कि कांग्रेस के अलोकतांत्रिक चरित्र के चलते ही कांग्रेसमुक्त भारत का जनादेश पिछले दो लोकसभा चुनावों में देश ने इस तरह दिया है कि कांग्रेस की अपना नेता प्रतिपक्ष तक बनाने की राजनीतिक हैसियत नहीं रह गई और निश्चित रूप से कांग्रेस का इससे भी बुरा राजनीतिक हश्र छत्तीसगढ़ के हर वर्ग के लोग करेंगे। श्री देव ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री-मंत्री से लेकर पार्षद-कार्यकर्ता तक सब सत्ता के नशे में चूर होकर जैसी कथनी-करनी का परिचय दे रहे हैं, उससे भाजपा का किसानों और प्रदेशवासियों के हक़ व इंसाफ़ के लिए लड़ाई लड़ने का जज़्बा बिल्कुल कम नहीं होगा और सत्तावादी अहंकार से जूझने में भाजपा कार्यकर्ता दुगुने पुरुषार्थ और पराक्रम का परिचय देंगे।
 

सुन्दरानी ने दागा सवाल: क्या आरोपी पार्षद की महापौर और मुख्यमंत्री से नजदीकी होने की वजह से आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं की जा रही है?

सुन्दरानी ने दागा सवाल: क्या आरोपी पार्षद की महापौर और मुख्यमंत्री से नजदीकी होने की वजह से आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं की जा रही है?

रायपुर। भाजपा जिलाध्यक्ष श्रीचंद सुन्दरानी ने सोमवार को राजधानी के एक कांग्रेस पार्षद कामरान अंसारी द्वारा आदिवासी युवक व उसकी माँ के साथ की गई बेरहम मारपीट व बदसलूकी की घटना पर प्रदेश सरकार पर फिर निशाना साधा और कहा है कि आरोपी पार्षद के खिलाफ केवल एफआईआर दर्ज करके प्रदेश सरकार अपने दायित्व की इतिश्री न माने, बल्कि आरोपी पार्षद की तत्काल गिरफ्तारी सुनिश्चित की जाए। श्री सुन्दरानी ने पूछा कि एफआईआर दर्ज करने के बाद आरोपी पार्षद और अन्य आरोपियों को गिरफ्तार क्यों नहीं किया गया है? क्या सत्ताधारी कांग्रेस पार्टी के जनप्रतिनिधियों को किसी के भी साथ बेरहम मारपीट और अपराध करने की छूट है?
जिलाध्यक्ष श्री सुन्दरानी ने कहा कि प्रदेश सरकार के राजनीतिक संरक्षण में सत्तारूढ़ कांग्रेस के नेता, जनप्रतिनिधि और उनके परिजन हिंसक अराजकता का उत्सव मना रहे हैं और कानून का उन्हें कोई खौफ नहीं रह गया है। सोमवार को अपनी माँ के साथ अपने वार्ड पार्षद के पास पहुँचे एक आदिवासी युवक व उसकी मां को सत्ता के नशे में चूर पार्षद अंसारी और उनके लोगों ने बेरहमी से सरेआम पीटकर संवेदनहीनता का जो शर्मनाक प्रदर्शन किया है, भाजपा उसकी भर्त्सना करती है और पीड़ित आदिवासी युवक व उसकी माँ को इंसाफ दिलाने की अपनी प्रतिबद्धता दुहराती है। श्री सुन्दरानी ने जानना चाहा कि क्या आरोपी पार्षद अंसारी की महापौर एजाज ढेबर और महापौर की मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से नजदीकी होने की वजह से आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं की जा रही है? सत्ता के नशे में चूर कांग्रेस के नेताओं और जनप्रतिनिधियों के आपराधिक आचरण की कई शर्मनाक वारदातें प्रदेश इन दो वर्षों के कांग्रेस शासनकाल में देख चुका है। भाजपा अपने कार्यकर्ताओं के ऐसे किसी भी आचरण पर तत्काल कार्रवाई कर संबंधित आरोपी को पार्टी से निलंबित करके राजनीति में आपराधिक तत्वों की घुसपैठ रोकने के प्रति सदैव सचेष्ट रही है, जबकि कांग्रेस ने ऐसी एक भी मिसाल पेश नहीं की है उल्टे आरोपी पार्षद अंसारी को राजनीतिक संरक्षण देकर उसे सिरमौर बनाया जा रहा है।
भाजपा जिलाध्यक्ष श्री सुन्दरानी ने कहा कि प्रदेश इस बात का साक्षी है कि अमूमन सभी अपराधों में कांग्रेस नेताओं, जनप्रतिनिधियों और उनके परिजनों की संलिप्तता उजागर होने के बावजूद उन पर न तो कोई कानूनन और न ही संगठन के स्तर पर कार्रवाई की गई, उल्टे आरोपियों को पुलिस की मौजूदगी में सत्ता की धौंस दिखाकर कांग्रेस के नेता अपने साथ लेकर जाने जैसा शर्मनाक उदाहरण पेश कर चुके हैं। श्री सुन्दरानी ने करारा कटाक्ष करते हुए कहा कि कांग्रेस के नेता गांधीगिरी सीखने वर्धा जाने की नौटंकी करके अपना वक्त जाया ही कर रहे हैं क्योंकि एक तरफ गांधी की दुहाई देते मुख्यमंत्री बघेल वर्धा गए हैं तो दूसरी तरफ उनकी ही पार्टी का एक जनप्रतिनिधि हिंसा करके अराजकता फैलाने में लगा है! इससे यह साफ हो चला है कि आपातकाल की दुर्दांत मानसिकता में साँसे ले रही कांग्रेस के आपराधिक प्रवृत्ति के लोग गांधीवाद की वारिस तो कतई नहीं हो सकती। श्री सुन्दरानी ने दुहराया कि जनजातीय समाज के साथ इस प्रकार का अन्याय सहन नहीं किया जाएगा। प्रदेश सरकार दोषियों के खिलाफ कड़ी-से-कड़ी कार्रवाई करे। प्रदेश में कांग्रेस के शासनकाल में आदिवासियों के साथ प्रताड़ना का नित-नया काला अध्याय लिखा जा रहा है, जिसका माकूल जवाब समय आने पर प्रदेश का आदिवासी समाज जरूर देगा।
 

डॉ. रमन पर टिप्पणी सत्तावादी अहंकार की पराकाष्ठा, नितांत असंसदीय और संवैधानिक मर्यादा के सर्वथा प्रतिकूल, बघेल नि:शर्त क्षमायाचना करें: भाजपा

डॉ. रमन पर टिप्पणी सत्तावादी अहंकार की पराकाष्ठा, नितांत असंसदीय और संवैधानिक मर्यादा के सर्वथा प्रतिकूल, बघेल नि:शर्त क्षमायाचना करें: भाजपा

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा बस्तर प्रवास से लौटने के बाद पत्रकारों से चर्चा के दौरान धान ख़रीदी को लेकर भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह पर की गई टिप्पणी को उनके सत्तावादी अहंकार की पराकाष्ठा, नितांत असंसदीय और संवैधानिक मर्यादा के सर्वथा प्रतिकूल बताकर नि:शर्त क्षमायाचना करने की मांग की है। श्री साय ने कहा कि मुख्यमंत्री बघेल अपने दिमाग़ में यह बात अच्छी तरह बिठा लें कि भाजपा आज सत्ता में भले न हो, लेकिन लोगों के दिलों में पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. सिंह आज भी राज करते हैं और मुख्यमंत्री बघेल यह भी न भूलें कि कुछ महीनों पहले हुए एक सर्वेक्षण में डॉ. सिंह की लोकप्रियता के ग्राफ़ के सामने मुख्यमंत्री बघेल ने ख़ुद को बेहद बौना पाया था।

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष श्री साय ने सवाल किया कि मुख्यमंत्री बघेल को किस बात की खीझ सता रही है, जो वे इस तरह की गरिमाहीन, असंसदीय टिप्पणियाँ करके दिन-रात खंभा नोचते नज़र आ रहे हैं? हर मोर्चे पर विफलता प्रदेश सरकार के अपने कर्मों का नतीजा है तो फिर मुख्यमंत्री बघेल अपने से वरिष्ठ विपक्षी राजनेता और पूर्व मुख्यमंत्री के लिए ऐसी निम्नस्तरीय भाषा का इस्तेमाल करके क्या अपने दिमाग़ी दीवालिएपन का परिचय नहीं दे रहे हैं? यह भाषा हर तरफ़ से मात खाने वाले एक अहंकारी मुख्यमंत्री के मानसिक असंतुलन के तुरंत इलाज की ज़रूरत को रेखांकित कर रही है। श्री साय ने कहा कि पिछले दो साल के अपने शासनकाल में मुख्यमंत्री बघेल किसानों के साथ केवल धोखाधड़ी, छलावा और लफ़्फ़ाजी ही करते रहे हैं और धान ख़रीदी के बारे में उनकी विफलताओं पर जब सवाल उठता है तो वे खंभा नोचते केंद्र सरकार और प्रदेश के भाजपा नेताओं के ख़िलाफ़ रूदाली-रोदन करने लगते हैं। श्री साय ने कहा कि कांग्रेस की इस प्रदेश सरकार के झूठ का रायता अब सड़ांध मारने लगा है और मुख्यमंत्री बघेल को अपने राजनीतिक चरित्र का खोखलापन इतना विचलित कर रहा है कि न तो उनका अपनी सरकार, न प्रशासन और न ही अपनी शिष्ट राजनीतिक समझ पर भरोसा रह गया है।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री साय ने कहा कि प्रदेश में बारदाना संकट प्रदेश सरकार के नाकारापन का प्रमाण है जिसका ठीकरा वे हर बार केंद्र सरकार पर फोड़कर अपने दिमाग़ी फ़ितूर का परिचय देते रहते हैं। जब देश के पंजाब जैसे राज्य में छत्तीसगढ़ से लगभग चार गुना ज़्यादा धान वहाँ की सरकार ख़रीदने के लिए बारदानों की व्यवस्था कर लेती है तो फिर छत्तीसगढ़ के लिए बारदानों का इंतज़ाम करने से मुख्यमंत्री बघेल को रोका किसने था? धान ख़रीदी के लिए बारदाने का इंतज़ाम करना राज्य सरकार की ज़िम्मेदारी होती है और मुख्यमंत्री बघेल बताएँ कि पिछले 10 वर्षों में केंद्र सरकार ने धान ख़रीदी के लिए राज्य सरकार कब और कितने बारदाने मुहैया कराए? श्री साय ने कहा कि झूठ का रायता फैला रही प्रदेश सरकार धान ख़रीदी के पुख़्ता इंतज़ाम करने के बजाय पूरा वक़्त केवल सियासी नौटंकियों और प्रलाप में जाया किया और किसानों का धान ख़रीदने से बचने के षड्यंत्रों के अपने ही बनाए मकड़जाल में उलझकर यह सरकार अब छटपटा रही है। प्रदेश की धान ख़रीदी की पूरी व्यवस्था चौपट करके भाजपा से केंद्र सरकार को पत्र लिखने को कहना मुख्यमंत्री की राजनीतिक समझ पर एक बड़ा प्रश्नचिह्न खड़ा करने को पर्याप्त है। ये चिठ्ठीबाजी की कपटभरी सियासत मुख्यमंत्री बघेल को ही मुबारक़ हो, भाजपा तो ज़मीनी स्तर पर ठोस और सकारात्मक काम करके हर प्रदेशवासी के कल्याण और सुख के लिए प्रतिबद्ध होकर काम करती है और 15 वर्षों का भाजपा शासन इस बात का प्रमाण है।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री साय ने पिछले वर्ष का लगभग पाँच लाख मीटरिक टन धान संग्रहण केंद्रों में सड़ने के लिए कोरोना काल और लॉकडाउन को वज़ह बताने के मुख्यमंत्री के तर्क को निरा बचकाना बताया और कहा कि लॉकडाउन को लेकर केंद्र सरकार के ख़िलाफ़ प्रलाप करते मुख्यमंत्री को अपनी शर्मनाक लापरवाहियों पर ज़रा भी शर्म महसूस नहीं होती जिनके तुग़लक़ी फैसलों ने छत्तीसगढ़ को कोरोना के गर्त में धकेलकर रख दिया। धान का उठाव कराने और कस्टम मिलिंग कराकर संग्रहण केंद्रों को नई ख़रीदी के लिए सुव्यवस्थित करने में मुख्यमंत्री लॉकडाउन का तर्क दे रहे हैं तो क्या शराब की कोचियागिरी और दलाली करती प्रदेश सरकार को तब लॉकडाउन और कोरोना की याद नहीं थी? मुख्यमंत्री के अपने ज़िले से लेकर प्रदेश के अमूमन सभी ज़िलों में तब शराब का गोरखधंधा और तस्करी का कारोबार प्रशासन और सरकार के राजनीतिक संरक्षण में फलता-फूलता रहा, तब लॉकडाउन और कोरोना का भय सरकार को नहीं था, लेकिन किसानों के धान को सड़ाकर राष्ट्रीय संपदा की क्षति का अपराध बोध सरकार को नहीं हो रहा है। श्री साय ने कहा कि सरकार लॉकडाउन हटने के बाद पिछले आठ महीनों में इस धान का उठाव कराके उसे सड़ने बचा सकती थी।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री साय ने कहा कि चावल जमा करने के कोटे में कटौती को लेकर मिथ्या प्रलाप कर रही कांग्रेस सरकार को तो यह पहले से ही मालूम था कि केंद्र सरकारों द्वारा शुरू से चावल जमा करने की नीति तय है। इसके लिए पहले जाकर प्रधानमंत्री और खाद्य मंत्री से मिलकर चर्चा के माध्यम से कोई समाधान निकालने का प्रयास करना प्रदेश सरकार का दायित्व था। डॉ. सिंह ने तंज कसा कि सिर्फ़ चिठ्ठी लिखने से और यहाँ बैठे-बैठे पेपरबाजी करने से केंद्र सरकार के नीतिगत फैसलों में बदलाव नहीं कराया जा सकता। प्रदेश सरकार पीडीएस के लिए ही यदि 22 लाख मीटरिक टन चावल का भंडारण कर ले तो समस्या हल हो सकती है। इसमें लगभग 35 लाख मीटरिक टन धान खप सकता है। 24 लाख मीटरिक टन चावल जमा करने अनुमति मिली है। धान संग्रहण केंद्रों में धान सड़ने के लिए भी प्रदेश सरकार की कुनीतियाँ ही ज़िम्मेदार हैं क्योंकि प्रदेश सरकार ने कस्टम मिलिंग की अनुमति नहीं दी और पैसों की बंदरबाँट में उलझी रही। कस्टम मिलिंग की अनुमति देकर प्रदेश सरकार को पिछले वर्ष का धान सड़ने से बचाना था। श्री साय ने कहा कि पिछले वर्ष का 24 लाख मीटरिक टन चावल प्रदेश सरकार एफसीआई में जमा नहीं कर पाई है। यह प्रदेश सरकार की विफलता है कि अब प्रदेश सरकार यह कह रही है कि मिलिंग नहीं करा पाए, पिछले साल का चावल एफसीआई में जमा नहीं करा पाई। प्रदेश सरकार को इस बारे में स्पष्टीकरण देना चाहिए।
 

भाजपा सांसद द्वारा किसान आंदोलन को नक्सलवादी, खालिस्तानी समर्थक बताया जाना आपत्तिजनक - सुशील आनंद शुक्ला

भाजपा सांसद द्वारा किसान आंदोलन को नक्सलवादी, खालिस्तानी समर्थक बताया जाना आपत्तिजनक - सुशील आनंद शुक्ला

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के सांसद संतोष पांडेय द्वारा देशभर में चल रहे किसान आंदोलनों को खालिस्तानी समर्थकों, नक्सलवादियों का आंदोलन बतायें जाने पर कांग्रेस ने कड़ी आपत्ति व्यक्त किया है। प्रदेश कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के सांसद अपने इस आपत्तिजनक बयान के लिये देश और प्रदेश के किसानों से माफी मांगे। कांग्रेस प्रदेश भारतीय जनता पार्टी से मांग करती है कि वह स्पष्ट करें कि अपने दल के सांसद के किसानों के बारे में दिये गये इस बयान से वह कितना इत्तफाक रखते है?
कांग्रेस प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि सासंद पांडे के द्वारा लगाये गये आरोप गंभीर है। संतोष पांडेय देश की सत्ता रूढ़ पार्टी के सांसद है यदि उनके पास ऐसा कोई पुख्ता प्रमाण है कि किसान आंदोलन नक्सलवादियों, खालिस्तान समर्थकों का आंदोलन है तो उन्होने इसकी जानकारी तथा सबूतों को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह को भी दिया है अथवा नहीं? यदि सांसद पांडेय ने प्रधानमंत्री और गृहमंत्री को यह जानकारी दे दी है तो अपने सांसद के द्वारा दी गयी इस संवेदनशील जानकारी के आधार पर केन्द्र सरकार ने क्या कार्यवाही किया है? यदि सांसद पांडेय ने किसान आंदोलन के बारे में गलत और भ्रामक बयान दिया है तो भाजपा का केन्द्रीय नेतृत्व और केन्द्र सरकार उनके खिलाफ कोई कार्यवाही क्यों नहीं कर रही है?
कांग्रेस प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि सांसद संतोष पांडेय इसके पहले भी किसान आंदोलन पर आपत्तिजनक बयान दे चुके है तक भारतीय जनता पार्टी और स्वयं सांसद संतोष पांडेय ने इस पर माफी मांगते हुये कहा उनके बयान को तोड़मरोड़ कर प्रस्तुत किया गया था। एक बार फिर से किसान आंदोलन को नक्सलियों और खालिस्तानियों का आंदोलन बता कर भाजपा सांसद ने भाजपा दल के अन्नदाताओं के प्रति घटिया मानसिकता को उजागर किया है। दिल्ली के किसान आंदोलन में हरियाणा, पंजाब के साथ देश के अन्य राज्यों से भी किसान समर्थन करने पहुंच रहे है। छत्तीसगढ़ से भी हजारों की संख्या में किसान दिल्ली समर्थन करने गये हैं तो क्या देश के ये सारे किसान साथी नक्सली और खालिस्तान समर्थक है? सरकार की चाटुकारिता में भाजपा सांसद जिन किसानों के वोट की बदौलत सांसद बने है, उन किसानों के हक की आवाज बनने के बजाय किसानों को ही देशद्रोही बताने पर तुले हुये है। सांसद पांडेय के इन बयानों का हिसाब किसान 2024 के लोकसभा चुनाव में लेंगे।
 

पुलिस के वाहवाही वाले आंकड़े कांग्रेस पार्टी के उस घोषणा पत्र से कम नहीं हैं जिसमें लिखा था "अब होगा न्याय"-राजेश मूणत

पुलिस के वाहवाही वाले आंकड़े कांग्रेस पार्टी के उस घोषणा पत्र से कम नहीं हैं जिसमें लिखा था "अब होगा न्याय"-राजेश मूणत

रायपुर। पूर्व मंत्री व भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता राजेश मूणत ने राजधानी पुलिस द्वारा जारी आपराधिक आकड़ो को कांग्रेस सरकार के रंग में रंगा और कांग्रेस सरकार की ही तरह सरकार के दबाव में वाहवाही लूटने वाले करार दिया हैं। श्री मूणत ने कहा कि प्रदेश सरकार की लापरवाही और पुलिस विभाग में तबादला उद्योग के चलते छत्तीसगढ़ अपराध का गढ़ बन गया हैं और राजधानी रायपुर अपराध की राजधानी ऐसे में सरकार के दबाव में काम कर रहे कानून के रखवालों के हाथ आंकड़े जारी करते वक्त कहीं ना कहीं बंधे मालूम पड़ते हैं।

पूर्व मंत्री व भाजपा प्रदेश प्रवक्ता राजेश मूणत ने कहा कि अपराध की राजधानी बन चुकी रायपुर की ही यदि हम बात कर ले तो हत्या, लुट, चोरी, बलात्कार, छेड़खानी,नशा, ड्रग्स तस्करी, गंजा तस्करी, शराब तस्करी, प्रतिबंधित दवा तस्करी, शराब का अवैध कारोबार, जुआ-सट्टा, फिरौती जैसे अपराध कांग्रेस की सरकार आने के बाद आम हो चुके हैं। कानून व्यवस्था चौपट हो चुकी हैं। राजधानी में लॉकडाउन के दरमियान दूसरे जिले के लोग गोली चला देते हैं, पार्टी करते हैं, राजधानी पुलिस और मुख्यमंत्री बघेल व ग्रहमंत्री के गृह जिले की पुलिस की पेट्रोलिंग बेरिकेटिंग एवं चौकसी की पोल खोलते हैं ऐसे में जब राजधानी पुलिस वाहवाही वाले आंकड़े जारी करे तो समझा जा सकता हैं कि छत्तीसगढ़ में कानून के हाथ सत्ताधारी दल के हाथों बंध चुके हैं।

पूर्व मंत्री व भाजपा प्रवक्ता राजेश मूणत ने कहा कि छत्तीसगढ़ में गृहमंत्री की मौजूदगी में सत्ताधारी दल के विधायक गृह विभाग को आईना दिखाते हैं और पुलिस द्वारा रेट लिस्ट जारी करने की बात करते हैं। जिस गृह विभाग को रेट लिस्ट जारी करने की बात करते हुए सत्तापक्ष के विधायक द्वारा आईना दिखाया गया हो उस विभाग द्वारा जारी आंकड़ों की सच्चाई पर कांग्रेस सरकार के कुशासन की काली छाया का सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता हैं। श्री मूणत ने कहा कि छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री की मौजूदगी में कांग्रेस के विधायकों को कांग्रेस के ही कार्यकर्ता पिट रहे हैं, विधायक का कॉलर पकड़ रहे हैं। छत्तीसगढ़ में सत्ताधारी दल के विधायक ही सुरक्षित नहीं हैं ऐसे में आम जनता अपने आपको कैसे सुरक्षित महसूस करे ऐसे में राजधानी पुलिस के वाहवाही वाले आंकड़े राजधानी के हालात के विपरीत आंकड़े कांग्रेस पार्टी के उस घोषणा पत्र से कम नहीं हैं जिसमें लिखा था "अब होगा न्याय"। दो वर्ष बीत जाने के बाद अब जनता पूछ रही हैं "कब होगा न्याय?"।
 

बैठक में प्रदेश प्रभारी पुरंदेश्वरी ने पूछा- कब आही नवा बिहान? कार्यकर्ताओं ने कहा- हम लाबो नवा बिहान

बैठक में प्रदेश प्रभारी पुरंदेश्वरी ने पूछा- कब आही नवा बिहान? कार्यकर्ताओं ने कहा- हम लाबो नवा बिहान

रायपुर/ महासमुंद। भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय महामंत्री व प्रदेश प्रभारी डी. पुरंदेश्वरी ने महासमुंद ज़िला भाजपा कार्यालय में पार्टी पदाधिकारियों की बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि भाजपा का प्रत्येक कार्यकर्ता जब कर्मयोग से जुट जाता है तो हर मोर्चे पर सफल होता है। आप सभी तनमयता से मिशन 2023 के लिए अभी से जुट जाएँ। कांग्रेस की असफलता को जनता के बीच अधिक से अधिक ले जाना होगा। इस समय देश के सामने कोरोना के साथ कांग्रेस भी एक समस्या की तरह है जिससे समाज को बचाने की जिम्मेदारी हमारी ही है। उन्होंने कार्यकर्ताओं से पूछा- कब आही नवा बिहान, तो इसके जवाब पर कार्यकर्ताओं ने कहा- हम सब मिलकर लाबो नवा बिहान, हम सबके एके हे अभियान।
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कहा कि संगठन की शक्ति ही हमारी पहचान है, जितना हमारा संगठन होगा हम समाज के उत्थान के लिए कार्य करते रहेंगे। पार्टी के हर मोर्चे, प्रकोष्ठ के पदाधिकारी सहित सभी कार्यकर्ताओं को विजय छत्तीसगढ़ के लिए जुटना होगा। उन्होंने कहा प्रदेश संगठन द्वारा भविष्य की कार्ययोजना तय की गई है, जिसमे आप सब की भूमिका अहम है। प्रदेश महामंत्री व संभागीय प्रभारी भूपेन्द्र सवन्नी ने कहा कि शक्तिकेन्द्र से लेकर बूथ तक हमें और कार्य करने की जरुरत है। हम जमीनी स्तर पर जितना मजबूत होंगे उतना लक्ष्य प्राप्ति की दिशा में हम अग्रसर हो सकेंगे। इस मौके पर भाजपा की ज़िला अध्यक्ष रूपकुमारी चौधरी व संभाग प्रभारी जगन्नाथ पाणीग्रही ने भी अपने विचार रखे। तुमगांव में प्रदेश प्रभारी ने मंडल पदाधिकारियों की बैठक ली गई। 

संपत्ति कर आधा न करने पर - नगरीय प्रशासन मंत्री के निवास पर नोटिस चिपकाएगी भाजपा - श्रीचंद सुन्दरनी

संपत्ति कर आधा न करने पर - नगरीय प्रशासन मंत्री के निवास पर नोटिस चिपकाएगी भाजपा - श्रीचंद सुन्दरनी

रायपुर, नगर निगम रायपुर संपत्ति कर वसूली के लिए जनता से कड़ाई की योजना बना रही है। जिसके लिए विभिन्न बहाने बना कर सम्पति कर न अदा करने वालो के नाम सार्वजनिक करने, उनके निवास में नोटिस चिपकाने का कार्य कर उन्हें अपमानित करने का प्रयास कर रही है। भाजपा अध्यक्ष श्रीचंद सुन्दरनी ने इसका विरोध करते हुए कहा है कि सबसे पहले नोटिस कांग्रेस के मुख्यमंत्री, जन घोषणा समिति के अध्यक्ष टी एस सिंहदेव और महापौर एजाज ढेबर के निवास पर चिपकाना चाहिए, जिन्होंने अपने घोषणा पत्र में जनता से सम्पत्ति कर आधा करने की घोषणा की थी । आज दो वर्ष हो गए कांग्रेस सम्पत्तिकर आधा न करके उसकी बसूली बाहरी एजेंसी से करवाने की साजिश कर रही है।
श्रीचंद सुन्दरनी ने कहा कि आज 2 वर्ष हो गए। जब से कांग्रेस की सरकार आयी है। जनता से किये अपने वादों को पूरा करने के बजाय जनता को प्रताड़ित करने का कोई मौका नही छोड़ रही है।
भारतीय जनता पार्टी रायपुर जिला यह साफ चेतावनी देती है कि अगर निगम ने किसी भी नागरिक के निवास पर अनैतिक ढंग से दबाव बना कर अपमानित करने के लिए नोटिस चिपकाती है । तो भाजपा नगरीय प्रशासन मंत्री के के निवास पर जनता की तरफ से आधा निगम टैक्स वसूली का नोटिस चस्पा करेगी। उपरोक्त जानकारी जिला मिडिया प्रभारी अनुराग अग्रवाल ने दी|