CG Corona Update: छत्तीसगढ़ में आज मिले कोरोना के इतने नए मरीज...देखें जिलेवार आंकड़े    |    CG Corona Update: छत्तीसगढ़ में आज मिले कोरोना के 213 नए मरीज...देखें जिलेवार आंकड़े    |    Corona update: प्रदेश में नहीं थम रहा कोरोना के बढ़ते मामले, आज फिर इतने नए मामले आए सामने…जानिए जिलेवार आकड़े    |    CG Corona Update: छत्तीसगढ़ में नहीं थम रहे कोरोना के मामले...आज मिले इतने नए मरीज... देखें जिलेवार आंकड़े    |    CG Corona Update: छत्तीसगढ़ में आज मिले कोरोना के इतने नए मरीज...देखें जिलेवार आंकड़े    |    CG Corona Update: छत्तीसगढ़ में आज मिले कोरोना के इतने नए मरीज...देखें जिलेवार आंकड़े    |    लगातार बढ़ रही है कोरोना की रफ्तार, 24 घंटे में आये इतने नए मामले... देखिए जिलेवार आंकड़े    |    नहीं थम रहे कोरोना के मामले, आज मिले इतने नए मरीज, देखें जिलेवार आंकड़े…    |    CG Corona Update: छत्तीसगढ़ में आज मिले कोरोना के इतने नए मरीज...देखें जिलेवार आंकड़े    |    CG Corona Update: छत्तीसगढ़ में नहीं थम रहे कोरोना के मामले...आज मिले इतने नए मरीज... देखें जिलेवार आंकड़े    |
Zomato ने भारत में इस कंपनी के कारोबार का किया अधिग्रहण, पढ़े पूरी खबर

Zomato ने भारत में इस कंपनी के कारोबार का किया अधिग्रहण, पढ़े पूरी खबर

नई दिल्ली। जोमैटो ने मंगलवार को कहा कि उसने ऊबर ईट्स के भारतीय कारोबार का अधिग्रहण किया है। यह सौदा पूरी तरह से शेयर पर आधारित है। सौदे के तहत, ऊबर को जोमैटो में 9.99 प्रतिशत हिस्सेदारी मिलेगी।
जोमैटो ने बयान में कहा कि ऊबर ईट्स भारत में परिचालन बंद करेगी और रेस्तरां, आपूर्ति भागीदारों और ऊबर ईट्स के ग्राहकों को मंगलवार से जोमैटो प्लेटफॉर्म से जोड़ा जा रहा है। ऊबर ईट्स के 41 शहरों में 26,000 रेस्तरां हैं। उसने भारत में 2017 में परिचालन शुरू किया था।

ये खबर भी पढ़े :- देश के इस अग्रणी बैंक ने शुरू की नई सुविधा, अब बिना एटीएम कार्ड के भी निकाल सकेंगे पैसे, जाने कौन सा है वो बैंक


इंफो एडज (इंडिया) ने बंबई शेयर बाजार को बताया कि लेनदेन पूरा होने पर उसकी जोमैटो में शेयर हिस्सेदारी घटकर 22.71 प्रतिशत रह जाएगी। इंफो एडज, जोमैटो में एक शेयरधारक है।
जोमैटो के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) दीपिंदर गोयल ने कहा, हमें भारत के 500 से ज्यादा शहरों में ऑनलाइन खाने की डिलिवरी करने वाला व्यवसाय बनाने पर गर्व है। यह अधिग्रहण इस श्रेणी में हमारी स्थिति को मजबूत करेगा।
 

Mobile यूजर्स को लग सकता है बड़ा झटका, 30 प्रतिशत तक बढ़ सकता है आपका बिल

Mobile यूजर्स को लग सकता है बड़ा झटका, 30 प्रतिशत तक बढ़ सकता है आपका बिल

नई दिल्ली। आने वाले दिनों में मोबाइल यूजर्स को बड़ा झटका लग सकता है। इकॉनॉमिक्स टाइम्स में छपी एक खबर के अनुसार टेलीकॉम कंपनियां मोबाइल टैरिफ में 25 से 30 प्रतिशत की बढ़ोतरी कर सकती है।
उद्योगों के अधिकारी और विशेषज्ञों का मानना है कि वोडाफोन-आइडिया और भारती एयरटेल को अजस्टेड ग्रॉस रेवेन्यू (AGR) की बकाया बड़ी रकम का भुगतान करना है। ऐसे में इनकी आर्थिक स्थिति में सुधार के लिए टैरिफ बढ़ाने होंगे।

भारत में टेलीकॉम सर्विसेज पर सब्सक्राइबर्स का कुल खर्च अन्य देशों की तुलना में काफी कम है। विशेषज्ञों का तो यह भी मानना है कि वोडाफोन-आइडिया के लिए मुश्किलें कई ज्यादा अधिक हैं।
कंपनी ने बिजनेस से बाहर होने की आशंका भी जताई है। अगर ऐसी परिस्थिति बनती है तो टेलीकॉम सेक्टर में भारती एयरटेल और रिलायंस जियो ही बचेंगे।
2019 के अंत में टेलीकॉम कंपनियों ने प्रीपेड टैरिफ में 14 से 33 प्रतिशत की बढ़ोतरी की थी। यह 3 वर्षों में पहली टैरिफ बढ़ोतरी थी।

अब टेलीकॉम कंपनियों की नजर सरकार पर भी है कि वह बकाया रकम पर राहत देती है या नहीं। अगर कोई राहत नहीं मिलती है तो टैरिफ बढ़ाना ही एकमात्र हल होगा।
वोडाफोन आइडिया जैसी कंपनियां बकाया रकम की राहत के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाने पर भी विचार कर रही हैं। जियो की इंट्री के बाद मोबाइल इंटरनेट के यूजर्स में काफी बढ़ोतरी हुई है। एक्सपर्ट्सी का मानना है कि अगर बढ़ोतरी होती भी है तो यूजर्स अधिक रुपया खर्च करने में भी नहीं हिचकेंगे।
 

अमेजन और फ्लिपकार्ट ऑनलाइन मार्केटप्लेस के विरूद्ध जांच के आदेश, जाने क्या है पूरी खबर

अमेजन और फ्लिपकार्ट ऑनलाइन मार्केटप्लेस के विरूद्ध जांच के आदेश, जाने क्या है पूरी खबर

ईदिल्ली । भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग ने ऑनलाइन मार्केटप्लेस अमेजन और फ्लिपकार्ट के विरूद्ध प्रतिस्पर्धा कानून के उल्लंघन के जांच का आदेश दिया है। आयोग ने सोमवार को यह आदेश दिया। उसने कहा कि ऑनलाइन मार्केटप्लेस और मोबाइल फोन कंपनियों के बीच एक्सक्लुसिव व्यवस्था और ई कॉर्मस कंपनियों द्वारा कुछ विक्रेताओं को विशेष वरीयता देने संबंधी आरोप जांच योग्य है।

खुदरा कारोबारियों के शीर्ष संगठन कैट ने इन दोनों ऑनलाइन मार्केटप्लेस पर लागत से भी कम दाम पर उत्पाद बेचने और भारी छूट देने का विरोध करता रहा है। उसका कहना है कि इससे खुदरा कारोबारी बुरी तरह प्रभावित हो रहे हैं। इसके साथ उसका कहना है कि इन दोनों प्रमुख ई कॉमर्स कंपनियां देश के विदेशी प्रत्यक्ष निवेश नियमों का भी उल्लंघन कर रही है।
 
मंदी की मार झेल रहा पूरा देश अब इस कंपनी ने भी नौकरी से निकाले अपने 100 से ज्यादा सीनियर कर्मचारियों को ,पढ़े पूरी खबर

मंदी की मार झेल रहा पूरा देश अब इस कंपनी ने भी नौकरी से निकाले अपने 100 से ज्यादा सीनियर कर्मचारियों को ,पढ़े पूरी खबर

नईदिल्ली, घाटे में चल रही अमेरिकी कंपनी वॉलमार्ट की भारतीय ईकाई वॉलमार्ट इंडिया अपने कैश एंड कैरी कारोबार को समेटने में जुट गई है। इसके लिए कंपनी ने गुरुग्राम हैडचर्टर में कार्यरत 100 से ज्यादा सीनियर एग्जीक्यूटिव को नौकरी से निकालने का फैसला किया है। इसमें कई डिवीजन वाइस प्रेसीडेंट्स जैसे सीनियर एग्जीक्यूटिव भी शामिल हैं। बताया जा रहा है कि छंटनी का दूसरा दौर अप्रैल में शुरू होगा। वॉलमार्ट दुनिया की सबसे बड़ी रीटेल कंपनी है।
वॉलमार्ट ने मुंबई स्थित अपना सबसे बड़ा वेयरहाउस बंद कर दिया है। उसने रीटेल स्टोर्स के विस्तार पर भी विराम लगा दिया है। माना जा रहा है कि कंपनी ऑफलाइन रीटेल ऑपरेशंस को बेच सकती है या फिर इसका विलय अपने ई कॉमर्स प्लेटफॉर्म फ्लिपकार्ट के साथ कर सकती है जिसे उसने 2018 में 16 अरब डॉलर में खरीदा था। अभी फ्लिपकार्ट भी घाटे में ही चल रही है। मार्च, 2019 में समाप्त वित्त वर्ष के दौरान उसे 17,231 करोड़ रुपए (2.42 अरब डॉलर) का घाटा हुआ था।
वॉलमार्ट ने करीब एक दशक पहले भारत में रीटेल ऑपरेशंस की शुरूआत की थी। लेकिन उसे काफी संघर्ष करना पड़ा। उसके इस संघर्ष की वजह रही किराना दुकानदारों के संरक्षण के लिए बनाई गई सरकारी नीतियां। भारत में एक करोड़ से भी ज्यादा किराना स्टोर्स हैं जिनके चलते सरकार पर लगातार विदेशी रीटेल कंपनियों पर लगाम लगाने का दबाव बना हुआ है। उधर, इस नए घटनाक्रम पर वॉलमार्ट का कहना है कि वह हमेशा से यह कोशिश करती रही है कि कारोबार चलाने के और भी ज्यादा प्रभावी तरीके खोजे जाएं। कंपनी के मुताबिक इसके तहत ही समय-समय पर उसे अपने कॉरपोरेट ढांचे की समीक्षा करते रहनी होती है। रिपोर्ट के अनुसार वॉलमार्ट ने बीते शुक्रवार को एक टाउनहॉल में सोर्सिंग, एग्री बिजनेस और एफएमसीजी डिवीजन से 100 से ज्यादा सीनियर एग्जीक्यूटिव्स को नौकरी से निकालने की जानकारी दी है।
 

क्रेडिट कार्ड रखने वाले  रखें इन 5 बातों का ध्यान, कभी नहीं होंगे परेशान

क्रेडिट कार्ड रखने वाले रखें इन 5 बातों का ध्यान, कभी नहीं होंगे परेशान

क्रेडिट कार्ड का सही ढंग से इस्तेमाल किया जाए तो यह वरदान है और अगर आप इसका सही ढंग से इस्तेमाल करना नहीं जानते तो यह अभिशाप भी साबित हो सकता है। अगर आप इसका सही ढंग से इस्तेमाल करते हैं तो इससे बेहतर आपके लिए कुछ भी नहीं है। अगर आप भी क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करते समय आपको इन पांच बातों का ध्यान जरूर रखना चाहिए।
अनावश्यक खरीदारी से बचें : क्रेडिट कार्ड से खरीदी करने से आपको भुगतान के लिए समय मिल जाता है। इसी वजह से आप कई बार वह वस्तुएं भी खरीद लेते हैं जिनकी आपको आवश्यकता कम पड़ती है। कई बार आप बजट से समझौता करते हुए महंगी वस्तुएं भी खरीद लेते हैं ऐसे में इसका बिल बढ़ जाता है और आप मिनिमम पेमेंट के चक्कर में उलझ जाते हैं। यह एक ऐसा मकड़जाल है जिससे आसानी से छुटकारा नहीं मिलता।
समय पर करें बिल का भुगतान : क्रेडिट कार्ड इस्तेमाल करने वालों को समय पर इसके बिल का भुगतान करना चाहिए। समय पर भुगतान नहीं करने की दशा पर कंपनियां भारी पेनल्टी लगाती है। जरा सी लापरवाही आपकी CIBIL report खराब कर सकती है। अगर आपका CIBIL खराब है तो आपको कोई भी अच्छी कंपनी Loan नहीं देती। अगर कोई कंपनी Loan देती भी है तो आपको इस पर ज्यादा ब्याज चुकाना पड़ सकता है।
जरूरत से ज्यादा लिमिट : क्रेडिट कार्ड कंपनियां अकसर आपको लिमिट बढ़ाने के लिए कई तरह के लुभावने ऑफर्स देती है। लोग भी भावुकतावश बगैर सोच विचार करें लिमिट बढ़वा लेते हैं। ध्यान रखें कार्ड की लिमिट आपकी जेब के हिसाब की ही होनी चाहिए।
निवेश के लिए नहीं करें क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल : कई बार लोग ज्यादा रिटर्न के चक्कर में क्रेडिट कार्ड से उधार लेकर शेयर बाजार या म्यूचुअल फंड निवेश कर देते हैं। इस स्थिति में अगर बाजार गिर गया तो निवेशक को बाजार में तो नुकसान होता ही है क्रेडिट कार्ड बिल के समय पर भुगतान का दबाव भी बढ़ जाता है।
क्रेडिट कार्ड से न करें मदद : मदद करना भारतीयों का स्वभाव है। कई बार हम अपनों की मदद के लिए किसी भी हद तक चले जाते हैं। कई लोग तो इसके लिए क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करना भी नहीं भूलते। क्रेडिट कार्ड भी एक तरह का उधार ही है। इससे किसी अन्य व्यक्ति की मदद करना आपको भारी पड़ सकता है। अत: इस तरह का जोखिमपूर्ण कार्य करने से बचें।
 

RuPay कार्ड से लेनदेन पर मिलेगा 16 हजार रुपए तक का कैशबैक, जाने कैसे करे लेनदेन

RuPay कार्ड से लेनदेन पर मिलेगा 16 हजार रुपए तक का कैशबैक, जाने कैसे करे लेनदेन

ई दिल्ली | घरेलू भुगतान प्रौद्योगिकी कंपनी रुपे अपने अंतरराष्ट्रीय कार्डधारकों को कुछ चुनिंदा देशों में लेनदेन पर 40 प्रतिशत तक कैशबैक देगी। भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम ने गुरुवार को यह जानकारी दी। एनपीसीआई ने बयान में कहा कि संयुक्त अरब अमीरात, सिंगापुर, श्रीलंका, ब्रिटेन, अमेरिका, स्पेन, स्विट्जरलैंड और थाइलैंड की यात्रा पर जाने वाले भारतीयों को रुपे इंटरनेशनल कार्ड को एक्टिवेट कराने पर मासिक 16,000 रुपये तक का कैशबैक मिलेगा।

रुपे इंटरनेशनल कार्ड, जेसीबी, डिस्कवर और डाइनर्स क्लब के साथ कई कार्डों का इस्तेमाल करने वाले ग्राहकों को रुपे ट्रैवल टेल्स अभियान के तहत अधिक कैशबैक मिल सकेगा। कैशबैक का लाभ लेने के लिए ग्राहकों को न्यूनतम 1,000 रुपये का लेनदेन करना होगा। एक लेनदेन पर अधिकतम 4,000 रुपये तक कैशबैक मिलेगा।
16,000 का कैशबैक पाने का अवसर
ग्राहक एक महीने में चार बार रुपे इंटरनैशनल कार्ड का इस्तेमाल कर इस पेशकश का लाभ ले सकते हैं। उनके पास एक महीने में 16,000 रुपये तक कैशबैक पाने का अवसर होगा।
 
जियो को टक्कर देने के लिए एयरटेल ने उतारे 2 नए प्लान, मिलेंगे बड़े फायदे

जियो को टक्कर देने के लिए एयरटेल ने उतारे 2 नए प्लान, मिलेंगे बड़े फायदे

ईदिल्ली । जियो को टक्कर देने के लिए भारती एयरटेल ने दो नए प्रीपेड रिचार्ज प्लान लॉन्च किए हैं। ये दो नए प्लान 279 और 379 रुपये के हैं। एयरटेल इन प्लान्स में ग्राहकों को फ्री डेटा के साथ एसएमएस दे रहा है। इसके अलावा विंक म्यूजिक और एक्सट्रीम ऐप्स को इस्तेमाल करने जैसे ऑफर दे रहा है। 279 रुपये के प्रीपेड प्लान में एचडीएफसी लाइफ की तरफ से 4 लाख रुपये का टर्म इंश्योरेंस भी ग्राहकों को दे रहा है।

279 रुपये का प्रीपेड प्लान

एयरटेल की वेबसाइट के मुताबिक 279 रुपये वाले प्रीपेड प्लान में ग्राहकों को अनलिमिटेड वॉयस कॉलिंग, रोजाना 1.5 जीबी हाई-स्पीड डेटा और 100 एसएमएम मिलेंगे। इस प्लान की वैलिडिटी 28 दिनों की है। इस प्रीपेड प्लान में ग्राहकों को एचडीएफसी लाइफ की तरफ से टर्म लाइफ इंश्योरेंस भी मिलेगा। इसके अलावा कुछ अन्य फायदे जैसे शॉ अकाडमी का चार हफ्तों का कोर्स, विंक म्यूजिक का ऐक्सेस और एयरटेल एक्सट्रीम के जरिए प्रीमियम कंटेंट भी ग्राहकों को दिया जाएगा। इस प्लान के तहत फास्टटैग खरीदने पर 100 रुपये का कैशबैक भी ग्राहकों को मिलेगा।
379 रुपये का प्लान
एयरटेल के 379 रुपये के प्लान में ग्राहकों को कुल 6 जीबी डेटा, 900 एसएमएस और अनलिमिटेड कॉलिंग का फायदा मिलेगा। इस प्लान की वैलिडिटी 84 दिन की है। इस प्लान के साथ शॉ अकाडमी का चार हफ्तों का कोर्स, विंक म्यूजिक का ऐक्सेस और एयरटेल एक्सट्रीम के जरिए प्रीमियम कंटेंट भी ग्राहकों को दिया जा रहा है। फास्टटैग खरीदने पर 100 रुपये का कैशबैक भी मिलेगा।

 

मार्च महीने से केबल टीवी ग्राहकों को मिलेंगे 130 रुपये में 200 चैनल, जाने पूरी खबर

मार्च महीने से केबल टीवी ग्राहकों को मिलेंगे 130 रुपये में 200 चैनल, जाने पूरी खबर

ईदिल्ली | भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) ने केबल टीवी ग्राहकों को बड़ी राहत देते हुए कीमतों में बड़ी कटौती की घोषणा कर दी है। अब आगामी एक मार्च, 2020 से ग्राहकों को 130 रुपये में 200 चैनल मिलेंगे। वहीं 12 रुपये से अधिक कीमत वाले सभी पे टीवी चैनल किसी भी बुके का हिस्सा नहीं होंगे। 

पहले केबल टीवी ग्राहकों को 130 रुपये में केवल 100 फ्री टू एयर चैनल मिलते थे। टैक्स मिलाकर के यह 154 रुपये के करीब बैठता है। इसमें से 26 चैनल्स केवल प्रसार भारती के होते थे। ट्राई ने नियमों को अपनी वेबसाइट पर अपलोड कर दिया है। कंपनियों को टैरिफ की जानकारी 15 जनवरी को वेबसाइट पर डालनी होगी। इसके अतिरिक्त अपने मनपसंद चैनल के देखने के लिए तय रकम का पेमेंट करना पड़ता है। सभी प्रमुख ब्रॉडकास्टर्स ने अपने पैकेज एनाउंस कर रखे हैं।
वहीं, एनएफसी इस बात पर निर्भर करता है कि यूजर्स कितने फ्री-टू-एयर चैनल्स देख रहे हैं। साथ ही ए-ला-कार्टे (अलग से चुने गए चैनल) चैनल पैक की कीमत महंगी हो गई हैं। मीडिया रिपोर्ट के आधार पर कहा जा सकता है कि ट्राई इस चैनल पैक के प्राइस को कम करने पर विचार कर रहा है, जिससे यूजर्स कम कीमत में ज्यादा चैनल देख सकें।
दूसरे कनेक्शन का किराया भी होगा कम
ट्राई ने एक ही घर या फिर ऑफिस में एक से अधिक कनेक्शन लेने पर 40 फीसदी छूट देने की बात कही है। अब केबल कंपनियों को ऐसा कनेक्शन देने पर कीमतों में कमी करनी होगी। अभी ऐसे कनेक्शन पर भी एनसीएफ पहले कनेक्शन के समान ही रहती है। 
ब्रॉडकास्टर 15 जनवरी तक अपने चैनल की दरों में बदलाव करेंगे। 30 जनवरी तक दोबारा सभी चैनल की रेट लिस्ट पब्लिश होगी। 1 मार्च 2020 से नई दरें लागू होंगी। ट्राई ने चैनल के लिए कैरिज फीस 4 लाख रुपये तय की है। 
कंटेंट चार्ज भी देना होगा 
इस समय यूजर्स को टीवी देखने के लिए दो तरह के बिल का भुगतान करना पड़ता है, जिसमें एनसीएफ और कंटेंट चार्ज शामिल है। यूजर्स की तरफ से दिया गया कंटेंट का चार्ज ब्रॉडकास्टर के अकाउंट में जाता है, तो दूसरी तरफ एनसीएफ चार्ज डीटीएच या केबल टीवी प्रदाता को दिया जाता है। इस चार्ज में यूजर्स को 100 चैनल के लिए 153 रुपये देने पड़ते हैं।
 
अमेजन और फ्लिपकार्ट को टक्कर देने की तैयारी में रिलायंस ने शुरू की खास सर्विस, जाने क्या है वो खास सर्विस

अमेजन और फ्लिपकार्ट को टक्कर देने की तैयारी में रिलायंस ने शुरू की खास सर्विस, जाने क्या है वो खास सर्विस

ईदिल्ली । देश में ऑनलाइन खरीदारी का चलन तेजी से बढ़ रहा है।अमेजन और फ्लिपकार्ट से जमकर लोगों द्वारा सामान की खरीदारी की जा रही है। साल 2020 में इन दिग्गज ई-कॉमर्स कंपनियों को चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है, क्योंकि भारत के सबसे अमीर व्यक्ति मुकेश अंबानी की रिलायंस रिटेल लिमिटेड ने जियो मार्ट की शुरुआत कर दी है। जियो मार्ट में रजिस्ट्रेशन के लिए कंपनी ने जियो टेलीकॉम यूजर्स को आमंत्रण भी भेजना शुरू कर दिया है। जियो मार्ट को कंपनी ने देश की नई दुकान कहा है। इसकी शुरुआत मुंबई के नवी मुंबई, ठाणे और कल्याण से होगी।

रिलायंस रिटेल ने आधिकारिक रूप से इसकी लॉन्चिंग की घोषणा कर दी है और कहा है कि आने वाले समय में इसका विस्तार किया जाएगा। इस संदर्भ में एक अधिकारी ने कहा है कि, हमने जियो मार्ट को लॉन्च कर दिया है। इसके लिए जियो यूजर्स को डिस्काउंट के लिए रजिस्टर करने के लिए आमंत्रित भी किया गया है। मौजूदा समय में यह तीन जगह पर ही उपलब्ध है, लेकिन जल्द ही इसका विस्तार किया जाएगा। जियो मार्ट एप भी जल्द ही लॉन्च की जाएगी।
इससे पहले 12 अगस्त को हुई एजीएम में मुकेश अंबानी ने कहा था कि रिलायंस जल्द ही किराना बाजार की सूरत बदलने जा रही है। रिलायंस की योजना है कि देश में दुनिया का सबसे बड़ा ऑनलाइन-टू-ऑफलाइन ई-कॉमर्स बाजार बनाया जाए। रिलायंस ने इसे न्यू कॉर्मस का नाम दिया है। रिलायंस के नए रिटेल प्लान के तहत हाई स्पीड डिजिटल प्लेटफॉर्म को किराना स्टोर्स से जोड़ा जाएगा, जिसका इस्तेमाल ग्राहकों को ऑर्डर सप्लाई के लिए भी किया जा सकेगा।
 
अदाणी फाउंडेशन ने 50,000 युवाओं के कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रम का जश्न मनाया, जाने पूरी खबर

अदाणी फाउंडेशन ने 50,000 युवाओं के कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रम का जश्न मनाया, जाने पूरी खबर

अदाणी फाउंडेशन ने अदाणी स्किल डेवलपमेंट सेंटर (एएसडीसी) द्वारा महत्वापूर्ण सफलता हासिल करने को लेकर जश्न मनाया। अपने साढ़े तीन साल के कार्यों में, इसने विभिन्न कौशल के लिए 50,000 लोगों को प्रशिक्षित किया है और 9 राज्यों में 45 पाठ्यक्रमों के माध्यम से 65 प्रतिशत आजीविका पैदा की है। कार्यक्रम बड़े धूम-धाम से मनाया गया।


कार्यक्रम में टीम को मार्गदर्शन और प्रेरित करने के लिए डॉ. प्रीति जी. अदाणी, चेयरपर्सन, अदाणी फाउंडेशन के साथ सुश्री शिलिन आर. अदाणी, ट्रस्टी और डॉ. मलय आर. महादेविया, डायरेक्टपर, अदाणी स्किल डेवलपमेंट सेन्टर भी उपस्थित थे। अदाणी स्किल डेवलपमेंट सेन्टर के प्रमुख जतिन त्रिवेदी ने ने अतिथियों का स्वागत किया। श्री वसंत गढ़वी, डायरेक्टअर (अदाणी फाउंडेशन) और एक्जिहक्यूाटिव डायरेक्टरर (स्किल डेवलपमेंट सेन्टर) ने मुख्य् भाषण दिया। कार्यक्रम के लाभार्थियों ने भी बताया कि सेन्ट र से प्रशिक्षण प्राप्तं करके निकलने के बाद उनके जीवन में कैसे बदलाव आया है।

इवेंट में नॉन-डोमेन एम्प्लॉयबिलिटी स्किल्स पर एक किताब भी लॉन्च की गई। इस अवसर पर डॉ. प्रीति जी. अदाणी ने कहा कि “अदाणी स्किल डेवलपमेंट सेंटर की यात्रा, सामान्य व्यक्तियों को बेहतर मानव में बदलने की यात्रा है। हमारी मजबूत और दोहराये जाने वाले मॉडल आज देश की सबसे बड़ी कौशल विकास कंपनियों में से एक है।”
 

 
गैर-लाभकारी कंपनी, एएसडीसी, भारत का पहला कौशल प्रशिक्षण केंद्र है जो संवर्धित वास्तविकता पर आधारित सिम्युलेटर के जरिये 3डी प्रिंटिंग, सिम्युलेटर-आधारित क्रेन ऑपरेटर और वेल्डिंग जैसे पाठ्यक्रम संचालित करता है। एएसडीसी जिन शीर्ष पांच क्षेत्रों में प्रशिक्षण प्रदान करता है, उनमें आईटी, हेल्थकेयर, परिधान, ब्यूहटी एवं वेलनेस और निर्माण क्षेत्रों में डिजिटल साक्षरता, जनरल ड्यूटी सहायक (जीडीए), स्व-नियोजित टेलर एवं और सिलाई मशीन ऑपरेटर, ब्यूटी थेरेपिस्ट, पेडिक्यूरिस्ट और मैनिक्यूरिस्ट और सहायक इलेक्ट्रीशियन शामिल हैं।

गोड्डा में फूलो झानो सक्षम आजीविका सखी मंडल 17 जगहों पर संचालित होता है और झारखंड के गोड्डा की 1600 महिलाओं को लाभान्वित किया है, जिनको एएसडीसी के माध्यम से सिलाई का प्रशिक्षण दिया गया है। गोड्डा के जिला प्रशासन के सहयोग से अदाणी फाउंडेशन ने 3 मेगा गारमेंट उत्पादन केन्द्र् की स्थापना की है, जहां महिलाओं को विभिन्न वस्तुओं जैसे स्कूल यूनिफॉर्म और बैग आदि की सिलाई करने में शामिल किया जाता है। आजकल राज्य सरकार द्वारा आदिवासी महिलाओं के प्रति भरोसा जताया गया है और उनको अगले पांच वर्षों के लिए जिले के सभी सरकारी स्कूली बच्चों की स्कूल वर्दी का उत्पादन करने का काम सौंपा गया है। यह ऑर्डर 50 करोड़ रुपये से अधिक का है।

एएसडीसी क्षेत्र की संस्कृति को संरक्षित करने के लिए हस्तशिल्प को पुनर्जीवित कर रहा है। इसने समुदाय के महिलाओं के एक समूह को प्रशिक्षण देकर ‘आरम्भ’ कार्यक्रम के अंतर्गत गुजरात के मुंद्रा में एसयूएफ एवं नाम्दां हस्तशिल्प के पुनरुद्धार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। गुजरात के भुज में युवा विधवा महिलाओं जैसे हाशिए पर रहने वाले समूहों को रोगी देखभाल और सहायता (जनरल ड्यूटी असिस्टेंट कोर्स) में प्रशिक्षित किया जा रहा है और उन्हें विभिन्न प्रतिष्ठित अस्पतालों में सफलतापूर्वक नियुक्ता किया गया है। इसने विकलांग (दिव्यांग) और विधवाओं जैसे हाशिए के वर्गों को भी प्रशिक्षित किया है।
अदाणी इलेक्ट्रिसिटी मुंबई लिमिटेड में 3,200 करोड़ रुपये का निवेश करेगा कतर इन्‍वेस्‍टमेंट अथॉरिटी, जाने पूरी खबर

अदाणी इलेक्ट्रिसिटी मुंबई लिमिटेड में 3,200 करोड़ रुपये का निवेश करेगा कतर इन्‍वेस्‍टमेंट अथॉरिटी, जाने पूरी खबर

 मुंबई | अदाणी ट्रांसमिशन लिमिटेड (“एटीएल”), अदाणी इलेक्ट्रिसिटी मुंबई लिमिटेड (“एईएमएल”) और कतर इन्‍वेस्‍टमेंट अथॉरिटी (“क्‍यूआइए”) की अनुषंगी ने एईएमएल में 25.1 प्रतिशत हिस्‍सेदारी क्‍यूआइए को बेचने और एईएमएल में क्‍यूआइए द्वारा शेयरधारक सबऑर्डिनेटेड डेट निवेश के लिए एक निर्णायक अनुबंध पर हस्‍ताक्षर किये हैं। एईएमएल में क्‍यूआइए लगभग 3,200 करोड़ रुपये (लगभग 450 मिलियन डॉलर के बराबर) का निवेश करेगा।

 

एईएमएल एकीकृत बिजली वितरण, पारेषण और उत्‍पादन व्‍यावसाय के लिए लाइसेंसधारी है जोकि फिलहाल मुंबई शहर में लगभग 400 वर्ग किलोमीटर के लाइसेंस क्षेत्र में 3 मिलियन से अधिक उपभोक्‍ताओं को सेवायें देता है। मुंबई आबादी के लिहाज से दुनिया का सातवां सबसे बड़ा शहर है। एईएमएल की मुंबई में बाजार हिस्‍सेदारी लाइसेंस क्षेत्र के मामले में लगभग 87 प्रतिशत और सेवा पाने वाले उपभोक्‍ताओं के मामले में 67 प्रतिशत और बिजली आपूर्ति के मामले में 55 प्रतिशत है।

इस लेनदेन के हिस्‍से के तौर पर, एटीएल और क्‍यूआइए ने निर्णायक योजनाओं पर सहमति जताई है ताकि सुनिश्चित किया जा सके कि एईएमएल द्वारा आपूर्ति की जाने वाली 30 प्रतिशत से अधिक बिजली वर्ष 2023 तक सौर और पवन ऊर्जा संयंत्रों से मंगाई जाएगी। इसके अलावा, एटीएल एवं क्‍यूआइए कई अन्‍य हरित पहलों पर भी राजी हुए हैं ताकि जलवायु परिवर्तन से लड़ा जा सके और एक स्‍थायी, कम कार्बन वाली अर्थव्‍यवस्‍था का रुख किया जा सके।
 

यह लेनदेन भारत और कतर के बीच लगातार मजबूत हो रहे संबंधों और आने वाले सालों में उनके संबंधों को और विकसित करने के लिए दोनों देशों की प्रतिबद्धता को प्रदर्शित करता है।

अदाणी ग्रुप के चेयरमैन श्री गौतम अदाणी ने कहा, “हमें कतर इन्‍वेस्‍टमेंट अथॉरिटी के साथ इस साझेदारी पर आगे बढ़कर खुशी हो रही है। साथ मिलकर, हम मुंबई में एईएमएल के 3 मिलियन उपभोक्‍ताओं के लिए आपूर्ति की विश्‍वसनीयता एवं ग्राहक संतुष्टि को सुधारने की दिशा में काम करेंगे। हमें भरोसा है कि यह लेनदेन अदाणी ग्रुप की यात्रामें एक उल्‍लेखनीय कदम होगा, और यह क्‍यूआइए के साथ दीर्घकालिक साझेदारी की शुरुआत को दर्शाता है।”

क्‍यूआइए के चीफ एक्‍जीक्‍यूटिव ऑफिसर, श्री मंसूर अल महमूद ने कहा, ”हमारा मानना है कि अदाणी इलेक्ट्रिसिटी मुंबई लिमिटेड भारत में श्रेणी में सर्वोत्‍तम बिजली कंपनी है और इसमें वृद्धि करने का जबर्दस्‍त सामर्थ्‍य है। हम अदाणी ग्रुप के साथ लंबी साझेदारी के लेकर तत्‍पर हैं जिनके साथ हम निवेश पर अंतर-पीढ़ी परिदृश्‍य साझा करते हैं। साथ ही एईएमएल की निरंतर सफलता और स्‍थायी विकास के लिए हमारा विजन भी समान हैं।”

 श्री अल महमूद ने बताया, “यह निवेश भारत में हमारे भरोसे को दर्शाता है, जिसके साथ कतर काफी मजबूत गठबंधन और शानदार संबंधों को साझा करता है।”

यह लेनदेन निवेश की सीरीज में नया है जिसे क्‍यूआइए द्वारा वैश्विक स्‍तर पर भरोसेमंद साझीदारों के साथ विश्‍वस्‍तरीय आधारभूत संरचना परिसंपत्तियों में किया गया है।

यह लेनदेन 2020 की शुरुआत में पूरा होने की संभवना है और यह विनामकीय मंजूरियों की स्‍वीकृति एवं पूर्ववर्ती प्रथागत स्थितियों की संतुष्टि के के अधीन है।

इस लेनदेन के लिए एसकेएन एडवायजर्स लिमिटेड वित्‍तीय सलाहकार और साइरिल अमरचंद मंगलदास एटीएल और एईएमएल के कानूनी सलाहकार थे। 

इस लेनदेन में क्‍यूआइए के लिए जे.पी. मॉर्गन ने वित्‍तीय सलाहकार और क्लियरी गोट्टलिएब स्‍टीन एंड हैमिल्‍टन एलएलपी और एजेडबी एंड पार्टनर्स ने कानूनी सलाहकार की भूमिका निभाई।
कार एसेसरीज एसोसिएशन का निर्विरोध चुनाव संपन्न हरमिंदर सिंह सलूजा बने अध्यक्ष

कार एसेसरीज एसोसिएशन का निर्विरोध चुनाव संपन्न हरमिंदर सिंह सलूजा बने अध्यक्ष

रायपुर होटल  आदित्य में  कार एसेसरीज एसोसिएशन की कार्यकारिणी का निर्विरोध चुनाव संपन्न हुए 

जिसमें सर्वसम्मति प्रदेश कांग्रेस कमेटी व्यापार प्रकोष्ठ के अध्यक्ष एवं  चेंबर ऑफ कॉमर्स के वरिष्ठ उपाध्यक्ष राजेंद्र जग्गी जी को  पुनः संरक्षक  बनाया गया ये पिछले दस वर्षों से लगातार संरक्षक पद पर आसीन है एक बार फिर सभी ने उन्हें ये सम्मान दिया है

पूरी कार्यकारणी इस प्रकार है :-

 हरमिंदर सिंह सलूजा (अध्यक्ष ) [अमन मोटर्स]

 पुरषोत्तम  वाधवानी (सचिव) [परफेक्ट कार ]

 मनीष  शाह (उपाध्यक्ष) [ MBM CAR CARE ]

 संतोष जयसवाल (कोषाध्यक्ष) [MY CAR ]

बड़ी खबर, नवंबर में GST संग्रह एक लाख करोड़ के पार

बड़ी खबर, नवंबर में GST संग्रह एक लाख करोड़ के पार

नई दिल्ली। वस्तु एवं सेवा कर (GST) का संग्रह नवंबर 2019 में 3 महीने के बाद फिर से एक लाख करोड़ रुपए के पार 103492 करोड़ रुपए पर पहुंच गया, जो नवंबर 2018 में संग्रहित राजस्व से करीब 6 प्रतिशत अधिक है।

इस वर्ष जुलाई में 102083 करोड़ रुपए का राजस्व संग्रह हुआ था। इसके बाद अगस्त से लेकर अक्टूबर तक इसमें गिरावट का रुख बना रहा। अगस्त में 98202 करोड़ रुपए, सितंबर में 91916 करोड़ रुपए और अक्टूबर में 95380 करोड़ रुपए का राजस्व संग्रह हुआ था।

अब नवंबर में फिर से यह राशि एक लाख करोड़ रुपए को पार कर गई है। इस वर्ष अप्रैल, मई और जुलाई में यह राशि एक-एक लाख करोड़ रुपए से अधिक रही थी। जून में यह लगभग एक लाख करोड़ रुपए रहा था।

वित्त मंत्रालय ने रविवार को बताया कि नवंबर में संग्रहित जीएसटी में केंद्रीय जीएसटी संग्रह 19592 करोड़ रुपए, राज्य जीएसटी संग्रह 27144 करोड़ रुपए, एकीकृत जीएसटी संग्रह 49028 करोड़ रुपए और उपकर संग्रह 7727 करोड़ रुपए रहा।

एकीकृत जीएसटी में 20948 करोड़ रुपए और उपकर में 869 करोड़ रुपए आयात से प्राप्त हुए हैं। अक्टूबर महीने के लिए 30 नवंबर तक 77.83 लाख जीएसटीआर-3बी फॉर्म भरे गए। सरकार ने एकीकृत जीएसटी से 25150 करोड़ रुपए केंद्रीय जीएसटी और 17431 करोड़ रुपए राज्य जीएसटी के खाते में हस्तांतरित किया है।

नियमित आवंटन के बाद नवंबर में केंद्र सरकार का कुल जीएसटी राजस्व 44742 करोड़ रुपए और राज्यों की कुल राशि 44576 करोड़ रुपए रही है।

ऑटो डीलरों को SBI ने दी बड़ी राहत, कर्ज चुकाने के लिए 60 के बदले दी 90 दिनों तक की मोहलत

ऑटो डीलरों को SBI ने दी बड़ी राहत, कर्ज चुकाने के लिए 60 के बदले दी 90 दिनों तक की मोहलत

 नई दिल्ली। मंदी की मार झेल रहे ऑटो सेक्टर को बड़ी राहत देते हुए देश के सबसे बड़े कर्जदाता भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआइ) ने बड़ी राहत दी है। बैंक ने ऑटो डीलरों के कर्ज भुगतान के लिए दी अवधि को बढ़ा दिया है। हालांकि बैंक ने कहा है कि यह हर ऑटो डीलर की व्यक्तिगत परिस्थितियों और मामले की पूरी समीक्षा के हिसाब से होगा।

एमडी ने बताई इसकी वजह

SBI के एमडी (रिटेल व डिजिटल बैंकिंग) ने रविवार को कहा कि हम ऑटो डीलर्स के साथ लगातार बात कर रहे हैं। चूंकि यह सेक्टर अभी विषम परिस्थितियों से गुजर रहा है, इसलिए हमने ऑटो डीलर्स को उनके मामलों के आधार पर कर्ज चुकाने की अवधि में छूट देने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि सामान्य तौर पर कर्ज चुकाने की अवधि 60 दिनों की होती है। लेकिन हम इसे 75 से 90 दिनों तक के लिए बढ़ा रहे हैं।

शेयर बाजार में नजर आई तेजी, सेंसेक्स 300 अंक तक चढ़ा

शेयर बाजार में नजर आई तेजी, सेंसेक्स 300 अंक तक चढ़ा

 मुंबई। सप्ताह के पहले कारोबारी दिन भारतीय शेयर बाजार में तेजी नजर आई है। सुबह हरे निशान पर खुला प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स कुछ ही पलों में बढ़ते हुए 300 अंक तक चढ़ गया। खबर लिखे जाने तक सेंसेक्स जहां 286 अंकों की बढ़त के साथ 37, 636 के स्तर पर कारोबार कर रहा था वहीं निफ्टी 80 अंकों की बढ़त के साथ 11,128 के स्तर पर कारोबार करता नजर आया।

इससे पहले आज सुबह बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का संवेदी सूचकांक सेंसेक्स भी आज 135.59 अंकों की बढ़त के साथ 37,485.92 पर खुला। वहीं निफ्टी आज 47 अंकों की बढ़त के साथ 11,094.80 पर खुला। खबर लिखे जाने तक यह अधिकतम 11,122.65 अंकों तक गया।